Free Online JC PURE INSPIRATION to Attain NIBBĀNA the Eternal Bliss and for free birds 🐦 🦢 🦅 to grow fruits 🍍 🍊 🥑 🥭 🍇 🍌 🍎 🍉 🍒 🍑 🥝 vegetables 🥦 🥕 🥗 🥬 🥔 🍆 🥜 🪴 🌱 🎃 🫑 🍅🍜 🧅 🍄 🍝 🥗 🥒 🌽 🍏 🫑 🌳 🍓 🍊 🥥 🌵 🍈 🌰 🇧🇧 🫐 🍅 🍐 🫒 Youniversity
Kushinara NIBBĀNA Bhumi Pagoda White Home, Puniya Bhumi Bengaluru, Prabuddha Bharat International.
Categories:

Archives:
Meta:
June 2022
M T W T F S S
« May    
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930  
08/17/14
1237 LESSON 17814 SUNDAY FREE ONLINE E-Nālanda Research and Practice UNIVERSITY Please render correct translation in your own mother tongue
Filed under: General
Posted by: site admin @ 12:55 am
1237 LESSON 17814 SUNDAY FREE ONLINE E-Nālanda Research and Practice UNIVERSITY


Please render correct translation in your own mother tongue


73) Classical Tamil

தமிழ் செம்மொழி

இலவச ஆன்லைன் மின்னஞ்சல் நாலந்தா ஆராய்ச்சி மற்றும் பயிற்சி பல்கலைக்கழகம்
தயவு செய்து உங்கள் சொந்த தாய்மொழி யில் சரியாக மொழிபெயர்ப்பு செய்க

எப்போதும் மகிழ்ச்சியாக இருக்க, நலமுடன் மற்றும் பாதுகாப்பாக இருக்க! நீண்ட நாள் வாழக!அனைத்து புலனறிவாற்றலுள்ள மற்றும் புலனறிவாற்றலுள்ள-அல்லாத
உயரினங்கள் எப்போதும் சந்தோஷமாக இருக்க! அனை வரும் எப்போதும் அமைதியான, எச்சரிக்கையான, கவனத்துடன் மற்றும் நடு நிலையான மனதுடன், எல்லாம்

மாறுகிறது என்ற ஒரு தெளிவான புரிதலுடன் இருக்க! இறுதி இலக்காக நித்திய ஆனந்தம் அைட ய 1956 – நமது அரசியலமைப்பின் தந்தை, பாபா சாஹேப்
Dr.B.R அம்பேத்கர் புத்தமதத்தை புதுப்பித்தார். புத்த இயக்கம் வழிநடந்து வருகிறது!1959 – திபெத்தியர்கள் இந்த ஜம்புதிவ்ப அதாவது, பிரபுத்த பாரத த்தில்

தங்கள் வீடென கண்டுபிடித்தனர் .டூபா கோர் (மோசடி) EVM இயந்திரங்களை தில்லு முல்லு செய்ய முடியாத வாக்கு முறைமை வரும் வரை தற்போதைய
அரசாங்கத்தை கலைத்து விட்டு லோக் சபா தேர்தல்களுக்கான ஆணையத்தை CJI பிறப்பிக்கட்டும். ஜனநாயக கொலை தடுத்து நிறுத்தப்பட அரசியலமைப்பில்

பொறிக்கப்பட்டுள்ளது போல் சமத்துவம், சகோதரத்துவம், சுதந்திர த்தை பாது காக்க அனைவரும் கவனத்துடன் விழித்து கொண்டு1 %சித்பவான் RSS’சின் BJP
மனநல சிகிச்சை தேவைப்படும், ஆட்சி பேராசை யுடன் ஜாதி மத வெறுப்பு டன் , கோபம், பொறாமை யால் தாறுமாறாக பித்து பிடித்தலை வர்களுக்கு எதிராக 99%

அனைத்து சமூகங்களும் SARVJAN HITAYE SARVJAN SUKHAYE அதாவது அனைத்து மக்கள் எஸ்சி / எஸ்டி / பிற்படுத்தப்பட்ட / சிறுபான்மையினர் / ஏழை
சாதி பிராமணர்கள் உட்பட அனைவரும் நலன், அமைதி, மகிழ்ச்சி பெற ஒன்று பட வேண்டும். இந்தியர்களில் கலாச்சார அடையாளம் இந்துத்துவத்தில்  உள்ளது’

என்கிறார் RSS தலைவர் மோகன் பகவத். அதில் ஆன்மீகம் எதுவும் கிடை யாது வெறும் ஒரு அரசியல் வழிபாடு. இந்த 1% RSS சித்பாவன் பிராமணர்கள் பட்டியலில்
மட்டுமீறிய சிக்கனம், நம்பகமற்ற தன்மை (டூபா கோர்கள் ), சதிகாரத்தன்மை  கபம்  மட்டும் 20 ம் நூற்றாண்டின் விளக்கங்கள். ஜனநாயக படுகொலை. ஆனால் இந்த

நாட்டின் உண்மையான ஆன்மீகம் அல்ல.இந்த நாட்டில் உண்மையான கலாச்சார அடையாளம் அனைத்து இனத்தை சேர்ந்தவர்களுக்கும் புத்தர் குணத்துடன்
சமத்துவம், சகோதரத்துவம், சுதந்திரம் பயிற்சி உள்ளதால் ஜம்புதிவீப அதாவது  பிரபுத்த பாரத் ஆகிறது என தம்ம அடிப்படையாக கொண்ட அரசியல் சாசனத்தில்

பொதிந்துள்ளது. இப்போது இந்த   டூபா  கோர்  EVM களை அம்பலப்படுத்த வேண்டும்.  ஏனெனில் டூபா  கோர்  EVM  CJI சதாசிவம், ஒரு பிராமணர்  டூபா  கோர் 
EVM CEC சம்பத், மற்றொரு  பிராமணர் படிப்படியான முறையில் இயந்திரங்ககளை மாற்ற  வேண்டும் என்ற கோரிக்கை மோசடியால் ஜனநாயகத்தை

செதப்படுத்தகூடிய  பெரும்பான்மை  மோசடி டூபா கோர் மின்னணு வாக்குப்பதிவு எந்திரங்களை மக்களவை தேர்தலில் அனுமதி வழங்கினார். அது ஆர்எஸ்எஸ் இன்
பாஜகவுக்கு  MASTER KEY பெற உதவியது. தில்லு முல்லு செய்ய முடியாத வாக்களிப்பு முறை வரும் வரை  தற்போதைய CJI  தற்போ தைய  மக்களவை யை  

கலைத்து விட  உத்தரவிட வேண்டும் மற்றும்  சுதந்திரம், சகோதரத்துவம் மற்றும் சமத்துவ பாதுகாக்க SC / ST / OBC / சிறுபான்மையினர் அடங்கிய  நீதிபதிகள்
கொண்ட ஒரு collegium  அமைப்பு இருக்க வேண்டும்.மேலும் ஜனநாயக படுகொலையை தடுக்க CEC யும் சுதந்திரம், சகோதரத்துவம் மற்றும் சமத்துவ பாதுகாக்க

SC / ST / OBC / சிறுபான்மையினர் அடங்கிய நீதிபதிகள் கொண்ட ஒரு collegium  அமைப்பு இருக்க வேண்டும்.தில்லு முல்லு டூபா கோர்  மின்னணு வாக்குப்பதிவு
எந்திரங்களை மாற்றிய பிறகு தேர்தல்கள் நடத்த பட வேண்டும். அனைத்து  ஆர்யொ பார்ப்பனர் அல்லாதவரை நோக்கி  நடத்தும்  வெறுப்பு அரசியலை சித்பவான்

பார்ப்பனர்களை  முற்றிலும் ஓரங்கட்டி தடுக்க வேண்டும் என்றால், அனைத்து ஆர்யா பிராமணர்கள் அல்லாத வர்கள் சர்வஜன் நலன் சர்வஜன் சுகத்தை
கொள்கையுடைய பகுஜன் சமாஜ் கட்சி கீழ் அனைத்து சமூகங்கள் எஸ்சி /எஸ்டி, இதர பிற்படுத்தப்பட்ட,சிறுபான்மையினர் மற்றும் ஏழை மேல் சாதி உட்பட நாட்டின்

 செல்வத்தை சமமாக அரசியல் சாசனத்தில் பொதிந்துள்ளது போல் சமூகத்தின் அனைத்து பிரிவினருக்கும் மத்தியில் பகிர்ந்து   நலன் மற்றும் சந்தோஷத்தை பெற
ஐக்கியப்பட வேண்டும். சித்பாவன் நாதுராம்  கோட்சேவால் எம்.கே. காந்தி கொலை செய்யப்பட்ட பின் அற்ப சித்பாவன்களின்   கர்வம் நடத்தையால் மற்ற

சமூகங்களுடன் மோதல்கள் ஏற்பட்டு பார்ப்பனிய எதிர்ப்பு வடிவில் 1948பிற்பகுதியில் தங்களை வெளிப்படுத்தி கொண்டனர். பால கங்காதர திலகர்1818 மராட்டிய
பேரரசின் வீழ்ச்சிக்கு பின்னர், சித்பாவன்கள் தங்கள் அரசியல் ஆதிக்கத்தை பிரிட்டிஷர்களுக்கு இழந்து விட்டனர்.பிரிட்டிஷ்,தங்கள் கடந்த சாதி சக

பேஷ்வாக்கள் செய்த அதே அளவில் சித்பாவன்களுக்கு  மானியம் வழங்க வில்லை.சம்பாதனை மற்றும் சக்தி இப்போது கணிசமாக குறைக்கப்பட்டது. ஏழை
சித்பவன் மாணவர்கள் ஆங்கிலம் கற்று தொடங்கி மற்றும் தழுவி கொண்டனர். ஏனெனில் நல்ல வாய்ப்புகளை பிரிட்டிஷ் நிர்வாகம் அளித்ததால்.இதை மாற்ற சில

 வலுவான எதிர்ப்பை அதே சமூகத்தில் இருந்து வந்தது.பொறாமையுடன் தங்கள் பார்ப்பனர் அந்தஸ் த்தை காத்துக்கொண்டு  கட்டுப்பாடான சித்பாவங்கள் மத்தியில்
 சாஸ்திரங்கள் சவால் ஆவதை பார்க்க ஆவலாக இருக்கவில்லை அல்லது சுத்ரர்களின் நடத்தை பார்ப்பனர்களின்   நடத்தையுடன் பிரித்தறிய முடியாததாக

இருப்பதை. முன்னணிப்படை மற்றும்  பழைய தலைமுறை பல முறை மோதினர். சித்பவன் சமூகம் இரண்டு பிரதான தாக  அடங்கும் காந்திய பாரம்பரியத்தில்
அரசியல்வாதிகள்: கோபால கிருஷ்ண கோகலே அவரது ஒரு ஆசான் என ஒப்புகொண்டு மற்றும்  வினோபா பாவே, தலைசிறந்த  சீடர்ககளில் ஒருவர் என்றார்.காந்தி

அவரது சீடர்ககளில் பாவே இரத்தினம் என விவரித்தார் மற்றும் கோகலே அவரது அரசியல் குருவாக அங்கீகா ரித்தார்.எனினும்,காந்தி க்கு வலுவான எதிர்ப்பு
மேலும், சித்பவன் சமுதாயத்தில் இருந்து வந்தது. VD சாவர்கர், தேசியவாத அரசியல் சித்தாந்த இந்துத்துவ நிறுவனர். இனவாத சித்பவன் பார்பனர்கள்

அல்லாதவர்கள் மீது சித்பவன் பார்பனர்கள் கோப ம், காழ்ப்பு,ஆட்சி பேராசை ஜாதி  மற்றும் மத வெறி கொண்ட டூபா  கோர் போராளிகள் திருட்டுத்தனமாக அரசியல்
வழிபாட்டு பைத்தியங்கள்,பைத்தியகார ஆஸ்பத்திரியில் சேர்க்கப்படவேண்டியவர்கள்.பேஷ்வாக்கள் மற்றும் சாதி சக திலக் மரபு அவர்கள் நினைத்த சிந்தனை யாக

இருந்த  தால் சித்பவன் சமூகத்தின் பல உறுப்பினர்கள் இந்துத்துவத்தை ஏற்றுக்கொண்டனர். இந்த சித்பவன்கள்  மகாத்மா புலே என்ற ஜம்புத்விபன் சமூக சீர்திருத்த
இயக்கமும் Mr.MK காந்தி வெகுஜன அரசியல்.இடத்தின் வெளியே என உணர்தனர். இச் சமூகத்தின் ஏராளமானோர் சாவர்கர் பக்கம் பார்த்தனர். இந்து மதம்

மகாசபா மற்றும் இறுதியாக RSS. காந்தி யை படுகொலை செய்த நாராயண் ஆப்டே மற்றும் நாதுராம் கோட்சே இந்த  விளிம்பில்  இருந்து ஊக்கம் பெற்றனர். இது
பிற்போக்கு எண்ணம். எனவே RSS தலைவர் மோகன் பகவத் இந்தியர்களில் கலாச்சார அடையாளத்தை இந்துத்துவ’ என்று சொல்கிறார். நா ட்டின்  மேற்கு பகுதி

கொபரர்கள் (கொங்கணஸ்த சித்பவன் பிராம்மண சமூகம்) பற்றிய விவரங்கள். கொங்கனுக்கு  சொந்த மான சித்பவன் பார்ப்பனர்களுள் ஒரு கணிசமானவர்கள்
கிரிஸ்துவ பிராட்டஸ்டன்ட் களாக  இருக்கின்றர். 18 ஆம் நூற்றாண்டு வரை, சித்பவன்கள் சமூக தரவரிசையில் மதிப்பிற்குரியவர்களாக இருந்ததில்லை,  உண்மையில்

சித்பவன் பார்ப்பன பழங்குடியினர் ஒரு தாழ்ந்த சாதி என மற்ற பிராமணர்களால்  கருதப்பட்டனர். மகாராஷ்டிராவில் அதிக அளவில் இருக்கிறது ஆனால் அனைத்து
உலகின் பிற பகுதிகளில் மற்றும் அமெரிக்கா மற்றும் ஐக்கிய இங்கிலாந்து உட்பட நாடு முழுவதும் அந்த மக்கள்  தொகை  உள்ளது. பேனே  இஸ்ரேலிய புராணத்தின்

படி, சித்பவன் மற்றும் பேனே இஸ்ரேல், கொங்கன் கடற்கரை கப்பல் மூழ்கியதால் ஒரு 14 பேர் குழு வின் வம்சாவளியினர் ஆவர். பல புலம்பெயர்ந்த குழுக்கள்
பார்சிகள், பேனே இஸ்ரேலியர்கள், குடல்தேஷ்கர்  கவுட் பிராமணர்கள் மற்றும் கொங்கனி  சரஸ்வத் பிராமணர்கள் உட்பட மற்றும் சித்பவன் பிராமணர்கள்  இந்த

குடியேற்ற வருகை யின் கடைசியாக  இருந்தன. சட்டவஹனாக்கள் சமஸ்கிரிதர்களாக இருந்தனர். இது அவர்கள் நேரத்தில் புதிய சித்பவன் பார்ப்பனர்கள் குழு
அமைக்கப்பட்டு  இருக்க    சாத்தியமான தாக உள்ளது. மேலும், சித்பவன் குடும்ப கிசஸ் பற்றிய ஒரு குறிப்பு, ப்ரக்ருத் மராத்தியில், கொங்கனில் உள்ள திவீகரில்

காணப்படும் கிபி 1060 ஆண்டு, ராஜா ஷீலாஹரவின்  மம்ருணி இராச்சியம் சேர்ந்த ஒரு வெண்கல தக ட்டில்  (tamra-pat)  எழுதப்பட்டுள்ளது காணலாம்.
மராட்டிய கூட்டமைப்பு உச்ச அதிகாரத்தில் பாலாஜி பட் மற்றும் தனது குடும்பத்துடன் இணை ப்பிருந்ததால், கொங்கனிலிருந்து  புணேவிற்கு சித்பவன்

குடியேறியர்ககளுக்கு பேஷ்வா அவரது சக  சாதி ஆண்களுக்கு அனைத்து முக்கிய அலுவலகங்கள் வழங்கப்பட்டதால்  அங்கு  இருந்து ஒட்டுமொத்தமாக வர
தொடங்கினர். சித்பவன் உறவினர்களுக்கு வரி நிவாரணம் மற்றும் நிலத்தை மானியங்ககளாக வழங்கப்ப ட்டன. வரலாற்றாசிரியர்கள் 1818 மராட்டிய பேரரசின்

வீழ்ச்சிக்கு உறவினர்கள் மற்றும் ஊழல் காரணங்கள் என மேற்கோள் காட்டுகின்றனர். சித்பவன் களின் இந்த எழுச்சி  அரசியல் அதிர்ஷ்டத்துடன் சமூக சாதனை
பெருக ஒரு சிறந்த உதாரணம் ஆகும் என்று ரிச்சர்ட் மேக்ஸ்வெல் ஈட்டன் கூறுகிறார் . பாரம்பரியமாக, சித்பவன் பார்ப்பனர்கள் மற்ற சமூகங்களுக்கு மத

சேவைகளை வழங்க ஜோதிடர்கள் மற்றும் பூசாரிகளான ஒரு சமூகமாக இருந்தது. சித்பவன்களை 20 ம் நூற்றாண்டின் விளக்கங்கள், மட்டுமீறிய சிக்கனம், நம்பகமற்ற
 தன்மை, சதி தீட்டல், கபட புத்தியை  பட்டியலிட்டுள்ளது.விவசாயம், விளைநில யோருக்கு நடைமுறையில் சமூகத்தில் இரண்டாவது முக்கிய தொழிலாக  இருந்தது.

பின்னர், சித்பவன்கள் பல்வேறு வெள்ளை காலர் வேலைகள் மற்றும் வணிகத்தில்  முக்கிய மாகினர். மிக அதிக அளவான  மகாராஷ்டிரா சித்பவன் பார்ப்பனர்கள்
அவர்களின் மொழி மராத்திய ம் என ஏற்றுக்கொண் டனர். 1940 வரை, கொங்ககனில் உள்ள சித்பவன் கள்  அதிகமாக  தங்கள் வீடுகளில் சித்பவனி  கொங்கனி என்ற
 
ஒரு மொழி  பேசினார். அந்த நேரத்திலும், அறிக்கைகள் சித்பவனி வேகமாக மறைந்து வரும் மொழியாக பதிவு செய்துள்ளது. ஆனால் கர்நாடகாவின் தக்ஷின கன்னடா
மாவட்டத்தில் மற்றும் உடுப்பி மாவட்டங்களில், இந்த மொழி துர்கா மற்றும் கர்கலா தாலுக்காவில் மாலா  போன்ற இடங்களில் மேலும் சிசில   மற்றும் பெல்தங்கடி 

தாலுகா முண்டசே வில்   உள்ள இடங்களில் பேசப்பட்டது. உள்ளார்ந்தளவில்  மராத்தி சித்பவனியில்  நாசியான   உயிர் எழுத்து இல்லை அதேசமயம் நிலையான
மராத்தியில்  நாசியான   உயிர் எழுத்து  இயல்பாகவே உள்ளன. முன்னதாக, தேஷாஸ்தா பார்ப்பனர் அனைத்து  பார்ப்பனர்களுள்  மிக உயர்ந்தவர்கள் என்று

நம்பிக்கொண்டிருந்தனர் மற்றும் சித்பவன்களை  ஒரு புதிதாக செல்வம் படைத்த  ( சமூக பொருளாதார வர்க்கத்திற்கு  ஒரு புதுமுக உறவினர் ) என அஞ்சாமல்
வெளிப்படையாக  த்விஜஸ்  உயர்குடிப்பிறப் பினர்களுக்கு சமமாக கருதவில்லை. பேஷ்வாவுக்கு கூட நாசிக்கில் தேஷச்த்  குருக்களுக்கு ஒதுக்கப்பட்ட கோதாவரி

மலைவழியைப் பயன்படுத்த உரிமை மறுக்கப்பட்டது. தேஷாஸ்தா பிராமணர்களிடத்திலிருந்து சித்பவன்கள் அதிகாரம் பறித்ததிலிருந்து இரண்டு பிராமணர்கள் இடையே
ஆழ்ந்த போட்டியை ஏற்படுத்தியது. தாமதமாக குடியேறிய பிரிட்டிஷ் இந்தியாவிலும் இது தொடர்ந்தது. 19 ஆம் நூற்றாண்டின் பதிவுகளில் சித்பவன்கள்மற்றும் மற்ற

இரண்டு சமூகங்கள், அதாவது தைவஜ்னஸ், மற்றும் சந்த்ரசெனிய காயாஸ்தா பிரபுக்கள் இடையே கிராமணியக்கள் அல்லது கிராம அளவில் விவாதங்கள் பற்றி உள்ளது.
இது பத்து ஆண்டுகள் நீடித்தது. அரை நூற்றாண்டு முன்பு, டாக்டர் அம்பேத்கரால் தனது தீண்டத்தகாதவர்கள் புத்தகத்தில் பல்வேறு சாதிகளின் மானிடவியலில்

இருக்கும் தரவுகளை ஆராய்ந்துள்ளது. அவரால், சாதி, இன அடிப்படையில் கிடைத்த ஞான தரவிற்கு ஆதரவு இல்லை என்று கண்டறியப்பட்டது, உதாரணமாக:வங்க
அட்டவணை முன்னுரிமை திட்டமாக ஆறாவதாக  நிற்கும் சண்டால் சமூக தொடர்பான  மாசு,  பிராமணர் களுக்கும் மிகவும் வேறுபடுகிறது என்று  இல்லை. பம்பாயில்

தேஷாஸ்தா பார்ப்பனர், சண் -கோலி, ஒரு மீனவர் சாதி, தமது சொந்த ஒப்பீடான, சித்பவன் பிராம்மணரை விட  ஒரு நெருக்கமான பிணைப்பை கொண்டு இருந்தது.
மஹர், மராத்தா பகுதியின் தீண்ட படாதவர்கள் , குன்பி, விவசாயிகள் சேர்ந்து அடுத்ததாக வருகிறது. அவர்கள்  ஷேன்வி  பிராமணர், நகர் பிராமணர் மற்றும் உயர் சாதி

மராட்டிய பொருட்டு பின்பற்றி தொடர படுகின்றனர்.இந்த முடிவுகளால் பாம்பேயில் சமூக தரம் மற்றும் உடல் வேறுபாடு இடையே எந்த தொடர்பும் இல்லை என்று
அர்த்தமாகிறது. டாக்டர் அம்பேத்கர் குறிப்பிட்ட படி  மண்டை ஓடு மற்றும் மூக்கு குறியீடுகளும், ஒரு குறிப்பிடத்தக்க வேறுபாட்டை  உத்தரபிரதேச பிராமணர்

(தீண்டத்தகாதவர்கள்) சமார் இடையே இருப்பது கண்டறியப்பட்டுள்ளது. ஆனால் இந்த பார்ப்பனர் வெளிநாட்டவர்கள் என்று நிரூபிக்க முடியாது.உ.பி. பார்ப்பனர்
காட்டரீ மற்றும் பஞ்சாப் தீண்டபடாதவர் சுஹ்ர ஆகியோருக்கு மிக நெருக்கமாக இருக்கும் என தரவு களால் கண்டறியப்பட்டுள்ளது.உ.பி. பிராமணர் உ.பி. ற்கு 

உண்மையில் வெளிநாட்டவர் என்றால், மேலும், இந்த நாட்டி ற்கும் வெளிநாட்டவர்கள் ஆகிறனர்கள் அதாவது அவர் கள் பஞ்சாப் தீண்டத்தகாதவர்க ளை விட
குறைந்தவர்கள் அல்ல.இது வேத மற்றும் இதிஹாச புராண இலக்கியங்களில் இருந்து பெற முடியும் சூழ்நிலையில் உறுதிப்படுத்துகிறது: வேத பாரம்பரியம் அதன்

உச்சக்கட்டத்தில் பஞ்சாப், ஹரியானாவில் உள்ள மையப்பகுதி ஏற்றுமதி போது அங்கு சாதிகளில் இருந்து உடல் பிரித்தறிய இருந்த பிராமணர்கள், வேத
மையப்பகுதியில் இருந்து முழு அர்யவர்த்த  கலாச்சாரம் கிழக்கு கொண்டுவரப்பட்டது (ஒப்பிடக்கூடிய பார்ப்பனர்களின் வங்காளம் மற்றும் தெற்கு  திட்டமிட்ட

இறக்குமதி  கிரிஸ்துவர் சகாப்த த்தை  சுற்றி யதாகும்). பல இடையேயான -இந்திய குடியேற்றங்களுள்  இந்த இரண்டு சாதி குழுக்கள் இருந்தன.சமீபத்திய
ஆராய்ச்சி அம்பேத்கர் கருத்துக்களை மறுக்கவில்லை. குமார் சுரேஷ் சிங் தலைமையில் சமீபத்தில் ஒரு மானுடவியல் ஆய்வு ஒரு பத்திரிகை செய்தி விளக்குகிறது:

ஆங்கிலம் மானுடவியலாளர்கள் இந்திய மேல்சாதியினர் கெளகேசிய இனம் சேர்ந்தவர் மற்றும் ஆஸ்ட்ராலாய்ட் வகையிலிருந்து அவர்களின் தோற்றம் ஈர்த்தது என்று
வாதிட்டார். ஒரு கட்டுக்கதை என  இந்த கணக்கெடுப்பு வெளிப்படுத்தியுள்ளது. உயிரியல் மற்றும்  மொழி யால், நாம் மிகவும் கலப்பு உடையவர்கள் என சுரேஷ் சிங்

கூறுகிறார். இந்த நாட்டின் மக்களின்  அதிக அளவான  மரபணுக்கள் பொதுவான தாக உள்ளது , மேலும் உருவ பண்புகளை ஒரு பெரிய அளவு  பகிர்ந்து கொண்டுள்ளது
என்று அறிக்கை கூறு கிறது. பிராந்திய மட்டத்தில் உருவ மற்றும் மரபணு பண்புகள் அடிப்படையில் அதிகம் ஒரேமாதிரியாக உள்ளது என அறிக்கை கூறுகிறது.

உதாரணமாக, தமிழ்நாடு (குறிப்பாக Iyengarகள்)  பார்ப்பனர்கள் நாட்டின் மேற்கு அல்லது வடக்கு பகுதியில் உள்ள சக பார்ப்பனர்களை விட மாநிலத்தில் பார்ப்பனர்
அல்லாதவர்களுடன் அதிக  பண்புகளை பகிர்ந்து கொண்டுள்ளனர். மண்ணின் மைந்தர்கள் கோட்பாடு இடித்து நிற்கிறது. இந்திய மானுடவியல் சர்வே படி நாட்டின்

மற்ற பகுதிலிருந்து இடம்பெயராததை இந்த நாட்டில் எந்த சமூகத்தாலும் ஞாபகம் படுத்திக்கொள்ள இயலாது என்று கூறப்படுகிறது. மேல் சாதியினர் ஒரு தனி
அல்லது வெளிநாட்டு வம்சாவளி என்பதற்கு எந்த ஆதாரமும் இல்லை என்கிறபோது நாட்டின் சிக்கலான இன இடம்பெயர்வது மிகவும் இயற்கையானதாகும். உடல்
 
மானுடவியல் அடிப்படையில் இனம் சாதி (வர்ண) அடையாளம் நிராகரிக்கும் மற்ற விஞ்ஞானிகள் மத்தியில், நாம், கைலாஷ் சி மல்ஹோத்ராமேற்கோள் காட்டலாம்:
விரிவான ஆந்த்ரோபோமெட்ரிக் நடத்தப்பட்ட ஆய்வுகள் உத்தர பிரதேசம், குஜராத், மகாராஷ்டிரா, வங்காளம் மற்றும் தமிழக மக்கள் மத்தியில் ஒரு சாதிக்குள்

குறிப்பிடத்தக்க பிராந்திய வேறுபாடுகள் மற்றும் பல்வேறு பகுதிகளில் இருந்த வெவ்வேறு சாதிகள் மற்றும் வர்ணங்களின் துணை மக்களுக்கும் இடையேஉள்ள 
நெருக்கமான ஒற்றுமையை வெளிப்படுத்தினார்.அந்தஸ்தும், தலைக்குரிய மற்றும் நாசி குறியீட்டெண், எச்.கே.ரக் ஷித் (1966) பகுப்பாய்வு அடிப்படையில்  இந்த

நாட்டின் பார்ப்பனர் பலவகைப்பட்ட மற்றும் மக்கள் மேற்பட்ட இடம்பெயர்வு சம்பந்தப்பட்ட மேற்பட்ட உடல் வகை இணைத்ததை பரிந்துரைக்கும் என்கிறார்.
18 மெட்ரிக், 16 scopic மற்றும் 8 மரபியல் குறிப்பான்கள் ஆய்வு  மகாராஷ்டிரா வின் 8 பிராமணர் சாதிகளில் மேலும் விரிவான ஆய்வில், இரு உருவ மற்றும்

மரபணு பண்புகளில் மட்டும் ஒரு பெரிய வேறுபாடு தெரியவந்தது ஆனால் 3 பிராமண சாதியினர் பிராமணர் அல்லாத சாதியினர் நெருக்கமாக இருந்தனர் என்று
காட்டியது. P.P. மஜும்தார் மற்றும் கே.சி. (1974) மல்ஹோத்ரா 11 நாட்டின் மாநிலங்களில் பரவி 50 பிராமணர் மாதிரிகள் மத்தியில் OAB ரத்த குழு அமைப்பு

பொறுத்து வேறுபாட்டில் ஒரு பெரும் அனுசரிக்கப்பட்டது. இதனால் ஆதாரங்கள்  வர்ண ஓரின உயிரியல் நிறுவனம் மற்றும்  ஒரு சமூகவியல் அல்ல என்று கூறுகிறார்.

43) Classical Kannada

43) ಶಾಸ್ತ್ರೀಯ ಕನ್ನಡ

  ಉಚಿತ ಆನ್ಲೈನ್ ಇ-ನಳಂದಾ ಸಂಶೋಧನೆ ಮತ್ತು ಪ್ರಯೋಗ ವಿಶ್ವವಿದ್ಯಾಲಯ

ನಿಮ್ಮ ಸ್ವಂತ ಮಾತೃ ಭಾಷೆಯಲ್ಲಿ ಸರಿಯಾದ ಅನುವಾದ ನಿರೂಪಿಸಲು ದಯವಿಟ್ಟು

ಆರ್ಎಸ್ಎಸ್ ಮುಖ್ಯಸ್ಥ ಮೋಹನ್ ಭಾಗವತ್ spiritualism.It ಏನೂ ದೊರೆತಿದೆ ಭಾರತೀಯರು ಸಂಸ್ಕೃತಿಯನ್ನು ಹಿಂದುತ್ವ ಆಗಿದೆ ಕೇವಲ ರಾಜಕೀಯ ಆರಾಧನಾ ಹೇಳುತ್ತಾರೆ
1% ಮೇ ಚಿತ್ಪಾವನರು ಪಟ್ಟಿ ಅತಿಯಾದ ಮಿತವ್ಯಯ 20 ನೇ ಶತಮಾನದ ವಿವರಣೆಗಳು, ಅವಿಶ್ವಸನೀಯತೆ (Duba ಕೋರ್ಸ್), conspiratorialism,

phlegmatism ಕೊಲೆ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವದ ಆದರೆ ಈ ದೇಶದ ನಿಜವಾದ ಆಧ್ಯಾತ್ಮ ಮಾತ್ರ. ಈ ದೇಶದ ನಿಜವಾದ ಸಂಸ್ಕೃತಿಯನ್ನು ಹೊಂದಿದೆ
ಎಲ್ಲಾ ನಂತರ ಪ್ರಬುದ್ಧ ಭಾರತ್ ಎಂದು Jambudvipan ಸಮಾನತೆ, ಭ್ರಾತೃತ್ವ ಮತ್ತು ಸ್ವಾತಂತ್ರ್ಯ ಅಭ್ಯಾಸ ಬುದ್ಧ ಪ್ರಕೃತಿ ಅದೇ ಜನಾಂಗಕ್ಕೆ ಪ್ರಮುಖವಾಗಿ ಸೇರುತ್ತಾರೆ
 
ಸಂವಿಧಾನದಲ್ಲಿ ನೀಡಲಾಗಿದೆ ಎಂದು ಧಮ್ಮ ಆಧರಿಸಿ. ಈಗ Duba Kor ವಿ ಎಂ ಕಾರಣ ಬಹಿರಂಗ ಮಾಡಬೇಕು ಎಂದು ಫ್ರಾಡ್ Duba Kor ಮತಯಂತ್ರ ಆಗಿದೆ
ಸಿಜೆಐ Sadhasivam, ಬ್ರಾಹ್ಮಣ Duba Kor ವಿ ಎಂ CEC ಸಂಪತ್ ಆಫ್ therequest ನಲ್ಲಿ ಬಹುತೇಕ ವಂಚನೆ tamperable Duba Kor ಮತಯಂತ್ರ ಜೊತೆ ಲೋಕಸಭಾ ಅವಕಾಶ

ಮತ್ತೊಂದು ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಮಾಸ್ಟರ್ ಕೀಲಿ ಪಡೆಯಲು ಮೇ ಬಿಜೆಪಿ ನೆರವಾದ ಹಂತ ಹಂತವಾಗಿ Duba Kor ಮತಯಂತ್ರ ಬದಲಾಯಿಸಲು. ಎಲ್ಲಾ Duba Kor ಮತಯಂತ್ರ ಟಿಲ್
ಮೂರ್ಖನಾಗಿ ಪುರಾವೆ ಮತದಾನ ಪದ್ಧತಿ ಬದಲಾಯಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಪ್ರಸ್ತುತ ಸಿಜೆಐ ಪ್ರಸ್ತುತ ಲೋಕಸಭಾ ವಿವಾದವೂ ಆದೇಶ. & ಪಡೆದ ಒಂದು ಕಾಲೇಜು ವ್ಯವಸ್ಥೆಯನ್ನು ಹೊಂದಿರಬೇಕು

ಪ್ರತಿಷ್ಠಾಪನೆ ಎಂದು ಮೂರ್ಖನಾಗಿ ಪುರಾವೆ ಮತದಾನ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯನ್ನು ಹೊಂದಿರುವ SC / ST / ಒಬಿಸಿ / ಅಲ್ಪಸಂಖ್ಯಾತ ನ್ಯಾಯಾಧೀಶರ ಲಿಬರ್ಟಿ, ಭ್ರಾತೃತ್ವ ಮತ್ತು ಸಮಾನತೆ ಕಾಪಾಡುವುದು
ಸಂವಿಧಾನ. ಮತ್ತು ಮೂರ್ಖನಾಗಿ ಪುರಾವೆ ಮತಚಲಾಯಿಸುವ SC / ST / ಒಬಿಸಿ / ಅಲ್ಪಸಂಖ್ಯಾತ ಒಳಗೊಂಡಿರುವ ಮುಖ್ಯ ಚುನಾವಣಾ ಆಯೋಗ ಒಂದು ಕಾಲೇಜು ವ್ಯವಸ್ಥೆ

Duba Kor ಮತಯಂತ್ರ ನಂತರ ಪ್ರಜಾಸತ್ತೆಯ ಕೊಲೆ ತಡೆಗಟ್ಟಲು ಡಿ ಸಂವಿಧಾನದ .. ಪ್ರತಿಷ್ಠಾಪನೆ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯ ಲಿಬರ್ಟಿ, ಭ್ರಾತೃತ್ವ ಮತ್ತು ಸಮಾನತೆ ಕಾಪಾಡುವುದು
ಮೂರ್ಖನಾಗಿ ಪುರಾವೆ ಮತದಾನದ ವ್ಯವಸ್ಥೆ ಲೋಕಸಭಾ ಚುನಾವಣೆಯ ಬದಲಾಯಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ ನಡೆದ ಮಾಡಬೇಕು. Chitpawan ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಕಾರಣ ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಬದಿಗೆ ಎಂದು ಇದ್ದರೆ ತಮ್ಮ

ಎಲ್ಲಾ ಅಲ್ಲದ Ariyo ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಕಡೆಗೆ ದ್ವೇಷ ರಾಜಕಾರಣ ಎಲ್ಲಾ ಅಲ್ಲದ Ariyo ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಅಂದರೆ Sarvajan Hitay, Sarvajan Sukhay ಫಾರ್ ಬಿಎಸ್ಪಿ ಅಡಿಯಲ್ಲಿ ಒಂದುಗೂಡಿಸಬೇಕು
ದೇಶದ ಸಂಪತ್ತು ಹಂಚಿಕೊಳ್ಳುವ ಮೂಲಕ, ಎಸ್ಸಿ / ಎಸ್ಟಿ, ಒಬಿಸಿ, ಅಲ್ಪಸಂಖ್ಯಾತರು ಮತ್ತು ಬಡವರ ಮೇಲ್ಜಾತಿಗಳ ಸೇರಿದಂತೆ ಎಲ್ಲಾ ಸಮಾಜಗಳ ಕಲ್ಯಾಣ ಮತ್ತು ಸಂತೋಷಕ್ಕೆ

ಅಷ್ಟೇ ಸಂವಿಧಾನದಲ್ಲಿ ನೀಡಲಾಗಿದೆ ಎಂದು ಸಮಾಜದ ಎಲ್ಲಾ ವಿಭಾಗಗಳ ನಡುವೆ. ದಿಢೀರನೆ chitpvans ಮೂಲಕ ಅಹಂಕಾರದ ನಡವಳಿಕೆಯಿಂದ ಘರ್ಷಣೆಗಳು ಉಂಟಾಗುವ
ಎಂ.ಕೆ. ಕೊಂದ ನಂತರ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ-ವಿರೋಧಿ ರೂಪದಲ್ಲಿ 1948 ರಲ್ಲಿ ಎಂದು ಬಿಂಬಿತವಾಗಿದೆ ಇತರ ಸಮುದಾಯಗಳ ಮೂಲಕ ಗಾಂಧಿ

ನಾಥೂರಾಮ್ ಗೋಡ್ಸೆ, ಚಿತ್ಪಾವನ. ಬಾಲಗಂಗಾಧರ ತಿಲಕ್ 1818 ರಲ್ಲಿ ಮರಾಠಾ ಸಾಮ್ರಾಜ್ಯದ ಪತನದ ನಂತರ, ಚಿತ್ಪಾವನರು ತಮ್ಮ ರಾಜಕೀಯ ಪ್ರಾಬಲ್ಯವನ್ನು ಕಳೆದುಕೊಂಡಿತು
British.The ಬ್ರಿಟಿಷ್ ತಮ್ಮ ಜಾತಿ ಸಹವರ್ತಿ, ಪೆಷ್ವೆಗಳ ಹಿಂದೆ ಮಾಡಿದ ಅದೇ ಪ್ರಮಾಣದಲ್ಲಿ ಚಿತ್ಪಾವನರು ಸಹಾಯಧನ ಎಂದು. ಪೇ

ಮತ್ತು ವಿದ್ಯುತ್ ಈಗ ಗಮನಾರ್ಹವಾಗಿ ಕಡಿಮೆಯಾಯಿತು. ಬಡ ಚಿತ್ಪಾವನ ವಿದ್ಯಾರ್ಥಿಗಳು ಅಳವಡಿಸಿಕೊಂಡ ಮತ್ತು ಏಕೆಂದರೆ ಉತ್ತಮ ಅವಕಾಶಗಳ ಇಂಗ್ಲೀಷ್ ಕಲಿಕೆ ಆರಂಭಿಸಿದಾಗ
ಬ್ರಿಟಿಷ್ ಆಡಳಿತ. ಪ್ರಬಲ ಪ್ರತಿರೋಧ ಕೆಲವು ಬದಲಾಯಿಸಲು ಅದೇ ಸಮುದಾಯದಿಂದ ಬಂದ ಗೆ. ಅಸೂಯೆಯಿಂದ ತಮ್ಮ ಕಾವಲು

ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ನಿಲುವು, ಚಿತ್ಪಾವನರು ನಡುವೆ ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕ ಶಾಸ್ತ್ರಗಳನ್ನು ಸವಾಲು ನೋಡುವ ಅಪೇಕ್ಷೆಯಿಂದ ಇರಲಿಲ್ಲ, ಅಥವಾ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರ ನೀತಿ ಆಗುತ್ತಿದೆ
ಶೂದ್ರರು ಆ ಒಂದೇ. ವ್ಯಾನ್ಗಾರ್ಡ್ ಮತ್ತು ಹಳೆಯ ಸಿಬ್ಬಂದಿ ಅನೇಕ ಬಾರಿ ಸೆಣಸಾಡಿದರು. ಚಿತ್ಪಾವನ ಸಮುದಾಯದ ಪ್ರಮುಖ ಎರಡು ಒಳಗೊಂಡಿದೆ

ಗಾಂಧಿವಾದಿ ಸಂಪ್ರದಾಯದಲ್ಲಿ ರಾಜಕಾರಣಿಗಳು: ತನ್ನ ಮಹೋನ್ನತ ಅವರು ಶಿಕ್ಷಕ ಎಂದು ಒಪ್ಪಿಕೊಂಡಿದ್ದಾರೆ ಇವರಲ್ಲಿ ಗೋಪಾಲ ಕೃಷ್ಣ ಗೋಖಲೆ, ಮತ್ತು ವಿನೋಬಾ ಭಾವೆ, ಒಂದು
ಶಿಷ್ಯರು. ಗಾಂಧಿ ತನ್ನ ಶಿಷ್ಯರಲ್ಲಿ ಜ್ಯುವೆಲ್ ಭಾವೆ ವಿವರಿಸುತ್ತದೆ, ಮತ್ತು ತನ್ನ ರಾಜಕೀಯ guru.However, ಗಾಂಧಿ ತೀವ್ರ ವಿರೋಧ ಎಂದು ಗೋಖಲೆ ಮಾನ್ಯತೆ

ಸಹ ಚಿತ್ಪಾವನ community.VD ಸಾವರ್ಕರ್ ಒಳಗೆ ಬಂದ ಹಿಂದೂ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯವಾದಿ ರಾಜಕೀಯ ಸಿದ್ಧಾಂತ ಹಿಂದುತ್ವ ಸಂಸ್ಥಾಪಕ castiest ಮತ್ತು
ಅಗತ್ಯ ಹುಚ್ಚು ಎಂದು ಕೋಪ ಎಲ್ಲ ಚಿತ್ಪಾವನ brahimins ದ್ವೇಷಿಸುವುದು ಅಧಿಕಾರದ ಕೋಮು duba Kor ಉಗ್ರಗಾಮಿ ರಹಸ್ಯ ರಾಜಕೀಯ ಭಕ್ತ ದುರಾಶೆ

ಮಾನಸಿಕ ರಕ್ಷಣಾಲಯಗಳಲ್ಲಿ ಚಿಕಿತ್ಸೆ, ಚಿತ್ಪಾವನ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಆಗಿತ್ತು. ಚಿತ್ಪಾವನ ಸಮುದಾಯದ ಅನೇಕ ಸದಸ್ಯರು ನಡುವೆ ಡಿ ಹಿಂದುತ್ವ ಮೊದಲು ಒಪ್ಪಿಕೊಂಡರು
ಅವರು ಆದರೆ ಅದರಲ್ಲಿ ಸಿದ್ಧಾಂತ, ಪೆಷ್ವೆಗಳ ಮತ್ತು ಜಾತಿ ಸಹವರ್ತಿ ತಿಲಕ್ ಪರಂಪರೆಯ ಒಂದು ತಾರ್ಕಿಕ ವಿಸ್ತರಣೆ. ಚಿತ್ಪಾವನರು ಸ್ಥಳದಲ್ಲಿ ಹೊರಗೆ ಅಭಿಪ್ರಾಯ

ಮಹಾತ್ಮ ಪುಲೆ ಆಫ್ Jambudvipan ಸಾಮಾಜಿಕ ಸುಧಾರಣಾ ಚಳುವಳಿ ಮತ್ತು Mr.MK ಸಾಮೂಹಿಕ ರಾಜಕೀಯ ಗಾಂಧಿ. ಸಮುದಾಯ ದೊಡ್ಡ ಸಂಖ್ಯೆಯಲ್ಲಿ ಕಂಡಿದ್ದೇನೆ
ಸಾವರ್ಕರ್, ಹಿಂದೂ ಮಹಾಸಭಾ ಮತ್ತು ಅಂತಿಮವಾಗಿ ಮೇ. ಗಾಂಧಿ ಹಂತಕರು ನಾರಾಯಣ ಆಪ್ಟೆ ಮತ್ತು ನಾಥೂರಾಮ್ ಗೋಡ್ಸೆ, ಫ್ರಿಂಜ್ ತಮ್ಮ ಪ್ರೇರಣೆಯನ್ನು

ಪ್ರತಿಗಾಮಿ ಪ್ರವೃತ್ತಿ ಗುಂಪುಗಳು.

ಆದ್ದರಿಂದ, ಆರೆಸ್ಸೆಸ್ ಮುಖ್ಯಸ್ಥ ಮೋಹನ್ ಭಾಗವತ್ ಮೇಲಿನ ಸತ್ಯ ಒಳಗೊಂಡ ಭಾರತೀಯರು ಸಂಸ್ಕೃತಿಯನ್ನು ಹಿಂದುತ್ವ ಆಗಿದೆ‘ ಎಂದು ಇದೆ.

ದೇಶದ ಪಶ್ಚಿಮ ಆಫ್ kobras (ಕೊಂಕಣಸ್ಥ ಚಿತ್ಪಾವನ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಸಮುದಾಯ) ರಂದು.

ಚಿತ್ಪಾವನ ಅಥವಾ chitpawan, ಗಮನಾರ್ಹ ಕ್ರಿಶ್ಚಿಯನ್ ಪ್ರೊಟೆಸ್ಟಂಟ್ ಕೊಂಕಣ ಗೆ ಸ್ಥಳೀಯ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು.

18 ನೆಯ ಶತಮಾನದವರೆಗೆ, ಚಿತ್ಪಾವನರು ಸಾಮಾಜಿಕ ಶ್ರೇಯಾಂಕದಲ್ಲಿ ಗೌರವ ಇಲ್ಲ, ಮತ್ತು ವಾಸ್ತವವಾಗಿ ಒಂದು ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಕೀಳು ಜಾತಿ ಎಂದು ಇತರ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಬುಡಕಟ್ಟು ಪರಿಗಣಿಸಲಾಗಿತ್ತು.

ಇದು ಮಹಾರಾಷ್ಟ್ರದ ಕೇಂದ್ರೀಕೃತ ಉಳಿದಿದೆ ಆದರೆ ದೇಶಾದ್ಯಂತ ಜನಸಂಖ್ಯೆ ಎಲ್ಲಾ ಮತ್ತು ವಿಶ್ವದ ಉಳಿದ, ಹೊಂದಿದೆ (ಯುಎಸ್ಎ & ಯುಕೆ.)

ಗಮನಿಸು ಇಸ್ರೇಲಿ ಪುರಾಣದ ಪ್ರಕಾರ, ಚಿತ್ಪಾವನ ಮತ್ತು ಗಮನಿಸು ಇಸ್ರೇಲ್ ಕೊಂಕಣ ಕರಾವಳಿಯಲ್ಲಿ ನೌಕಾಘಾತಕ್ಕೆ 14 ಜನರ ಗುಂಪು ರಿಂದ ವಂಶಜರು. ಪಾರ್ಸಿಗಳು, ಗಮನಿಸು ಇಸ್ರೇಲಿಗಳು kudaldeshkar ಗೌಡ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಮತ್ತು ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಸಾರಸ್ವತ ಕೊಂಕಣಿ, ಮತ್ತು ಚಿತ್ಪಾವನ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಸೇರಿದಂತೆ ಹಲವಾರು ವಲಸೆ ಗುಂಪುಗಳು ವಲಸೆ ಬರುವವರಲ್ಲಿ ಕೊನೆಗೊಂಡಿತು.

ಶಾತವಾಹನರು sanskritisers ಇದ್ದರು.

ಇದು ಚಿತ್ಪಾವನ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರ ಹೊಸ ಗುಂಪನ್ನು ರಚಿಸಿದರು ಎಂದು ತಮ್ಮ ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಬಹುಶಃ ಇದು.

ಅಲ್ಲದೆ, Prakrut ಮರಾಠಿಯಲ್ಲಿ ಬರೆಯಲಾಗಿದೆ ಚಿತ್ಪಾವನ ಉಪನಾಮ ghaisas ಉಲ್ಲೇಖಿಸಿದೆ ರಾಜನಿಗೆ ವರ್ಷದ 1060 ADbelonging ಒಂದು tamra ಪ್ಯಾಟ್ (ಕಂಚಿನಲ್ಲಿ) ಕಾಣಬಹುದು
Shilahara ಕಿಂಗ್ಡಮ್ Mamruni, ಕೊಂಕಣದ Diveagar ಕಂಡುಬರುವ.

ಬಾಲಾಜಿ ಭಟ್ ಸೇರ್ಪಡೆಯ ಮತ್ತು ಮರಾಠರ ಕೂಟ ಸರ್ವೋಚ್ಚ ಅಧಿಕಾರವನ್ನು ತನ್ನ ಕುಟುಂಬದೊಂದಿಗೆ, ಚಿತ್ಪಾವನ ವಲಸೆಗಾರರು ಪೇಶ್ವೆ ಎಲ್ಲಾ ಪ್ರಮುಖ ಕಚೇರಿಗಳು ನೀಡಿತು ಅಲ್ಲಿ ಪುಣೆ ಕೊಂಕಣ ರಿಂದ ಸಾಮೂಹಿಕವಾಗಿ ಬರಲಾರಂಭಿಸಿದರು ತನ್ನ
ಸಹ castemen.

ಚಿತ್ಪಾವನ ಕಿನ್ ತೆರಿಗೆ ಪರಿಹಾರ ಹಾಗೂ ಭೂಮಿ ಅನುದಾನ ಬಹುಮಾನವಾಗಿ.

ಇತಿಹಾಸಕಾರರು 1818 ರಲ್ಲಿ ಮರಾಠಾ ಸಾಮ್ರಾಜ್ಯದ ಪತನದ ಕಾರಣಗಳು ಸ್ವಜನಪಕ್ಷಪಾತದ & ಭ್ರಷ್ಟಾಚಾರ ಉಲ್ಲೇಖ.

ರಿಚರ್ಡ್ ಮ್ಯಾಕ್ಸ್ವೆಲ್ ಈಟನ್ ಚಿತ್ಪಾವನರು ಏರಿಕೆ ರಾಜಕೀಯ ಸಂಪತ್ತಿನೊಂದಿಗೆ ಏರುತ್ತಿರುವ ಸಾಮಾಜಿಕ ಶ್ರೇಣಿಯನ್ನು ಒಂದು ಶಾಸ್ತ್ರೀಯ ಉದಾಹರಣೆ ಎಂದು ಹೇಳುತ್ತದೆ.

ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕವಾಗಿ, ಚಿತ್ಪಾವನ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಇತರ ಸಮುದಾಯಗಳಿಗೆ ಧಾರ್ಮಿಕ ಸೇವೆಗಳನ್ನು ಕೊಡುವ ಜ್ಯೋತಿಷಿಗಳು ಹಾಗೂ ಪಾದ್ರಿಗಳ ಒಂದು ಸಮುದಾಯ.

ಚಿತ್ಪಾವನರು 20 ನೇ ಶತಮಾನದ ವಿವರಣೆಗಳು ಅತಿಯಾದ ಮಿತವ್ಯಯ, ಅವಿಶ್ವಸನೀಯತೆ, conspiratorialism, phlegmatism ಪಟ್ಟಿ.

ಕೃಷಿ ಕೃಷಿಯೋಗ್ಯ ಭೂಮಿ ಹೊಂದಿರುವ ಆ ಆಚರಿಸುವ ಸಮುದಾಯದಲ್ಲಿ ಎರಡನೇ ಪ್ರಮುಖ ಉದ್ಯೋಗ, ಆಗಿತ್ತು.

ನಂತರ, ಚಿತ್ಪಾವನರು ವಿವಿಧ ಬಿಳಿ ಕಾಲರ್ ಹುದ್ದೆ ವ್ಯವಹಾರದಲ್ಲಿ ಪ್ರಸಿದ್ಧನಾದ.

ಮಹಾರಾಷ್ಟ್ರದ ಚಿತ್ಪಾವನ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರಲ್ಲಿ ತಮ್ಮ ಭಾಷೆಯಾಗಿ ಮರಾಠಿ ಅಳವಡಿಸಿಕೊಂಡಿವೆ.

1940 ರವರೆಗೂ, ಕೊಂಕಣದ ಚಿತ್ಪಾವನರು ಅತ್ಯಂತ ತಮ್ಮ ಮನೆಗಳಲ್ಲಿ chitpavani ಕೊಂಕಣಿ ಎಂಬ ಆಡುಭಾಷೆಯ ಮಾತನಾಡಿದರು.

ಆ ಸಮಯದಲ್ಲಿ, ವರದಿಗಳು ವೇಗದ ಕಣ್ಮರೆಯಾಗುತ್ತಿರುವ ಭಾಷೆಯಾಗಿ chitpavani ರೆಕಾರ್ಡ್.

ಆದರೆ ದಕ್ಷಿಣ ಕನ್ನಡ ಜಿಲ್ಲಾ ಮತ್ತು ಕರ್ನಾಟಕದ ಉಡುಪಿ ಜಿಲ್ಲೆಗಳಲ್ಲಿ, ಭಾಷೆ ದುರ್ಗಾ ಮತ್ತು ಕಾರ್ಕಳ ತಾಲೂಕು Maala ಹಾಗೆ ಮತ್ತು Shishila ಮತ್ತು ಬೆಳ್ತಂಗಡಿ ತಾಲೂಕಿನ Mundaje ಸ್ಥಳಗಳಲ್ಲಿರುವ ಸ್ಥಳಗಳಲ್ಲಿ ಮಾತನಾಡುವ ಮಾಡಲಾಗುತ್ತಿದೆ.

ಮರಾಠಿ chitpavani ಆಡುಭಾಷೆಯ nasalized ಸ್ವರಗಳು ಹೊಂದಿದೆ ಆದರೆ ಗುಣಮಟ್ಟದ ಮರಾಠಿ ಯಾವುದೇ ಅಂತರ್ಗತವಾಗಿ nasalized ಸ್ವರಗಳು ಇವೆ.

ಹಿಂದಿನ, ದೇಶಸ್ಥ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು dvijas ಆಫ್ ಶ್ರೇಷ್ಠ ಕೇವಲ ಸಮಾನ (ಒಂದು ಸಾಮಾಜಿಕ ಆರ್ಥಿಕ ವರ್ಗ ಸಂಬಂಧಿತ ಹೊಸಬ), ಅವರು ಎಲ್ಲಾ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರ ಅತ್ಯಧಿಕ ಎಂದು ನಂಬಿದ್ದೇನೆ & parvenus ಎಂದು ಚಿತ್ಪಾವನರು ಅಸಡ್ಡೆಯಿಂದ ನೋಡುತ್ತಿದ್ದುದು.

ಸಹ ಪೇಶ್ವೆ ಗೋದಾವರಿ ಮೇಲೆ ನಾಸಿಕ್ @ Deshasth ಪುರೋಹಿತರು ಕಾಯ್ದಿರಿಸಲಾಗಿದೆ ಘಟ್ಟಗಳು ಬಳಸುವ ಹಕ್ಕುಗಳನ್ನು ನಿರಾಕರಿಸಲಾಯಿತು.

ದೇಶಸ್ಥ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ರಿಂದ ಚಿತ್ಪಾವನರು ಅಧಿಕಾರದ ಅಲ್ಲಿನ ಕೊನೆಯಲ್ಲಿ ಬ್ರಿಟಿಷ್ ವಸಾಹತು ಭಾರತದ ಕಾಲದಲ್ಲಿ ಮುಂದುವರೆಯಿತು ಎರಡು ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಪಂಗಡಗಳೆಂದರೆ ನಡುವೆ ತೀವ್ರವಾದ ಪೈಪೋಟಿ ಕಾರಣವಾಯಿತು.

19 ನೇ ಶತಮಾನದ ದಾಖಲೆಗಳನ್ನು ಸಹ ಚಿತ್ಪಾವನರು, ಹಾಗೂ ಎರಡು ಸಮುದಾಯಗಳು ಅವುಗಳೆಂದರೆ Daivajnas, ಮತ್ತು ಚಂದ್ರಸೇನೀಯ ಕಾಯಸ್ಥ Prabhus ನಡುವೆ Gramanyas ಅಥವಾ ಗ್ರಾಮ ಮಟ್ಟದ ಚರ್ಚೆಗಳು ಬಗ್ಗೆ.

ಶತಮಾನದ ಹಿಂದೆ ಹತ್ತು years.Half ಕಾಲ, ಡಾ.ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ತಮ್ಮ ಪುಸ್ತಕ ದಿ ಅನ್ಟಚಬಲ್ಸ್ ವಿವಿಧ ಜಾತಿಗಳ ದೈಹಿಕ ಮಾನವಶಾಸ್ತ್ರವನ್ನು ಅಸ್ತಿತ್ವದಲ್ಲಿರುವ ದತ್ತಾಂಶದ ಸಮೀಕ್ಷೆ.

ಅವರು ಜಾತಿ ಜನಾಂಗದ ಆಧಾರದ ಸ್ವೀಕೃತ ಜ್ಞಾನವು ದಶಮಾಂಶ ಬೆಂಬಲಿತವಾಗಿಲ್ಲ ಎಂದು ಕಂಡು, ಉದಾ: ಬೆಂಗಾಲ್ ಟೇಬಲ್ ತೋರಿಸುವ ಆರನೇ ನಿಂತಿದೆ chandal
ಅದರ ಟಚ್ ಮಲಿನಗೊಂಡಿರುವ, ಹೆಚ್ಚು ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಬೇರ್ಪಡಿಸಬೇಕು ಇಲ್ಲ ಸಾಮಾಜಿಕ ಅಗ್ರಸ್ಥಾನವನ್ನು ಯೋಜನೆ ಮತ್ತು.

ಮುಂಬಯಿಯಲ್ಲಿ ದೇಶಸ್ಥ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಅಳಿಯ ಕೋಲಿ, ತನ್ನ compeer, ಚಿತ್ಪಾವನ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಹೆಚ್ಚು ಮೀನುಗಾರ ಜಾತಿ, ಗೆ ಹತ್ತಿರದ ಸಂಬಂಧ ಹೊಂದಿದೆ.

ಮಹಾರ್, ಮರಾಠಾ ಪ್ರದೇಶದ ಅಸ್ಪೃಶ್ಯ, ಕುಂಬಿ, ರೈತರ ಜೊತೆ ಮುಂದಿನ ಬರುತ್ತದೆ.

ಅವರು ಸಲುವಾಗಿ shenvi ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ನಾಗರ್ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಮತ್ತು ಮೇಲ್ಜಾತಿಯ ಮರಾಠಾ ಅನುಸರಿಸಿ.

ಈ ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ಸಾಮಾಜಿಕ ವ್ಯತ್ಯಯ ಮತ್ತು ಬಾಂಬೆ ದೈಹಿಕ ಭಿನ್ನತೆ ನಡುವೆ ಪತ್ರವ್ಯವಹಾರದಲ್ಲಿ ಇಲ್ಲ ಎಂದು ಅರ್ಥ.

ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಹೇಳಿದ್ದಾರೆ ತಲೆಬುರುಡೆ ಮತ್ತು ಮೂತಿ ಸೂಚಿಕೆಗಳನ್ನು, ಹೆಚ್ಚು ವ್ಯತ್ಯಾಸಗಳ ಗಮನಾರ್ಹ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ, ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಮತ್ತು ಉತ್ತರಪ್ರದೇಶದ (ಅಸ್ಪೃಶ್ಯ) ಚಮರ್ ನಡುವೆ ಇರುವ ಕಂಡುಬಂತು.

ಆದರೆ ಈ, ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ವಿದೇಶಿಯರು ಎಂದು ಸಾಬೀತು ಮಾಡುವುದಿಲ್ಲ ಯುಪಿ ದತ್ತಾಂಶ ಕಾರಣ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು Khattri ಮತ್ತು ಪಂಜಾಬ್ನ ಅಸ್ಪೃಶ್ಯ Chuhra ಹಂತದಲ್ಲಿದೆ ಎಂದು ಕಂಡುಬಂದಿಲ್ಲ.

ಯುಪಿ ವೇಳೆ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಯಾವುದೇ ಈ ದೇಶಕ್ಕೆ ವಿದೇಶಿ ಎಂದರೆ ಅದಕ್ಕೆ ಅವರು ಪಂಜಾಬ್ ಅಸ್ಪೃಶ್ಯರನ್ನು ಹೆಚ್ಚು ಕನಿಷ್ಠ ಹೆಚ್ಚು, ಇದು ಅಪ್ ವಾಸ್ತವವಾಗಿ ವಿದೇಶಿ ಆಗಿದೆ.

ನಾವು ವೈದಿಕ ಮತ್ತು ಇತಿಹಾಸದ ಕಥೆಗಳೆಂದು ಪುರಾಣ ಸಾಹಿತ್ಯ ಹುಟ್ಟಿಕೊಂಡ ಇದು ಸನ್ನಿವೇಶದಲ್ಲಿ ದೃಢೀಕರಿಸುತ್ತದೆ: ವೈದಿಕ ಸಂಪ್ರದಾಯದ ತನ್ನ ತುತ್ತತುದಿ ಪಂಜಾಬ್-ಹರಿಯಾಣದ ಹಾರ್ಟ್ಲ್ಯಾಂಡ್ ರಫ್ತು ಇಲ್ಲ ಕೆಳಜಾತಿಯ ನಿಂದ ದೈಹಿಕವಾಗಿ ವ್ಯತ್ಯಾಸವೇನಿಲ್ಲ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು, ಡಿ ವೈದಿಕ ಹಾರ್ಟ್ಲ್ಯಾಂಡ್ ಪೂರ್ವ ತರಲಾಯಿತು (ಬಂಗಾಳ ಮತ್ತು ಕ್ರಿಶ್ಚಿಯನ್ ಯುಗದ ತಿರುವಿನಲ್ಲಿ ದಕ್ಷಿಣ ಒಳಗೆ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರ ಯೋಜನೆ ಆಮದು ಹೋಲಿಸಬಹುದು) ಇಡೀ ಆರ್ಯಾವರ್ತ ತನ್ನ ಸಂಸ್ಕೃತಿ.

ಕೇವಲ ಎರಡು ಜಾತಿ ಗುಂಪುಗಳು ಹಲವಾರು ಆಂತರಿಕ ಭಾರತೀಯ ವಲಸೆ ಸೇರಿದವರು.

ಇತ್ತೀಚಿನ ಸಂಶೋಧನೆ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ವೀಕ್ಷಣೆಗಳು ಅಲ್ಲಗಳೆದ ಮಾಡಿಲ್ಲ.

ಕುಮಾರ್ ಸುರೇಶ್ ಸಿಂಗ್ ನೇತೃತ್ವದ ಇತ್ತೀಚಿನ ಮಾನವಶಾಸ್ತ್ರೀಯ ಸಮೀಕ್ಷೆಯ ಆಧಾರದ ಪತ್ರಿಕಾ ವರದಿ ವಿವರಿಸುತ್ತದೆ: ಇಂಗ್ಲೀಷ್ ಮಾನವಶಾಸ್ತ್ರಜ್ಞರು ಭಾರತದ ಮೇಲ್ಜಾತಿಯ ಕಾಕೇಸೀ಼ಯನ್ ಸೇರಿದ್ದ ಮತ್ತು ಉಳಿದ ಆಸ್ಟ್ರೋಲಾಯ್ಡ್ ರೀತಿಯ ತಮ್ಮ ಮೂಲ ಸೆಳೆಯಿತು ತರ್ಕಿಸುತ್ತಾರೆ.

ಸಮೀಕ್ಷೆ ದಂತಕಥೆ ಎಂದು ತಿಳಿದುಬಂದಿದೆ.

ಜೈವಿಕವಾಗಿ ಮತ್ತು ಭಾಷಿಕವಾಗಿ, ನಾವು ಬಹಳ ಮಿಶ್ರ, ಸುರೇಶ್ ಸಿಂಗ್ ಹೇಳುತ್ತಾರೆ.

ವರದಿ ಈ ದೇಶದ ಜನರು ಸಾಮಾನ್ಯ ಹೆಚ್ಚು ಜೀನ್ಗಳನ್ನು ಹೊಂದಿರುತ್ತದೆ, ಮತ್ತು ಸ್ವರೂಪದಲ್ಲಿನ ಲಕ್ಷಣಗಳನ್ನು ಒಂದು ದೊಡ್ಡ ಸಂಖ್ಯೆಯ ಷೇರು ಹೇಳುತ್ತಾರೆ.

ಪ್ರಾದೇಶಿಕ ಮಟ್ಟದಲ್ಲಿ ಸ್ವರೂಪದಲ್ಲಿನ ಮತ್ತು ಆನುವಂಶಿಕ ಲಕ್ಷಣಗಳು ವಿಷಯದಲ್ಲಿ ಹೆಚ್ಚು ಬೀರಬಹುದು ಇಲ್ಲ, ವರದಿ ಹೇಳುತ್ತದೆ.

ಉದಾಹರಣೆಗೆ, ತಮಿಳುನಾಡು (esp.Iyengars) ಬ್ರಾಹ್ಮಣರಿಗೆ ದೇಶದ ಪಶ್ಚಿಮ ಅಥವಾ ಉತ್ತರ ಭಾಗದಲ್ಲಿ ಸಹ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಹೆಚ್ಚಾಗಿ ರಾಜ್ಯದಲ್ಲಿ ಬ್ರಾಹ್ಮಣೇತರರಿಗೆ ಹೆಚ್ಚು ಲಕ್ಷಣಗಳನ್ನು.

ಮಕ್ಕಳು ಯಾ ಮಣ್ಣಿನ ಸಿದ್ಧಾಂತವನ್ನು ಡೆಮೊಲಿಶ್ಡ್ ನಿಂತಿದೆ.

ಭಾರತದ ಮಾನವಚರಿತ್ರೆಯ ಸಮೀಕ್ಷಾ ದೇಶದ ಕೆಲವು ಭಾಗವು ವಲಸೆ ಜ್ಞಾಪಿಸಿಕೊಳ್ಳುವುದು cant ಈ ದೇಶದಲ್ಲಿ ಯಾವುದೇ ಸಮುದಾಯ ಕಂಡುಹಿಡಿದಿದೆ.

ಮೇಲ್ಜಾತಿಗಳ ಪ್ರತ್ಯೇಕ ಅಥವಾ ವಿದೇಶಿ ಮೂಲದ ಯಾವುದೇ ಸಾಕ್ಷ್ಯಾಧಾರಗಳಿಲ್ಲ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ ಆಂತರಿಕ ವಲಸೆ, ದೇಶದ ಸಂಕೀರ್ಣ ಜನಾಂಗೀಯ ಹೆಚ್ಚು ಭೂದೃಶ್ಯದ ನಷ್ಟಿದೆ.

ದೈಹಿಕ-ಮಾನವಶಾಸ್ತ್ರೀಯ ಆಧಾರದ ಮೇಲೆ ಜನಾಂಗ ಜಾತಿ (ವರ್ಣ) ಗುರುತಿಸುವಿಕೆ ತಿರಸ್ಕರಿಸಲು ಇತರ ವಿಜ್ಞಾನಿಗಳ ನಡುವೆ, ನಾವು ಕೈಲಾಶ್ ಸಿ ಮಲ್ಹೋತ್ರಾ ಉಲ್ಲೇಖ ಇರಬಹುದು: ಉತ್ತರ ಪ್ರದೇಶ, ಗುಜರಾತ್, ಮಹಾರಾಷ್ಟ್ರ, ಬಂಗಾಳ ಮತ್ತು ತಮಿಳುನಾಡು ಜನರಲ್ಲಿ ನಡೆಸಿತು ವಿವರವಾದ anthropometric ಸಮೀಕ್ಷೆಗಳು ಗಮನಾರ್ಹ ಬಹಿರಂಗ ಜಾತಿ ಮತ್ತು ವಿವಿಧ ಪ್ರದೇಶಗಳಲ್ಲಿ ಜಾತಿ ಉಪ ಜನತೆ ನಡುವೆ ಹೆಚ್ಚು ಪ್ರದೇಶದಲ್ಲಿ ವಿವಿಧ ವರ್ಣಗಳ ಜಾತಿಗಳ ನಡುವೆ ಹತ್ತಿರದ ಹೋಲಿಕೆಯನ್ನು ಒಳಗೆ ಪ್ರಾದೇಶಿಕ.

ನಿಲುವು, ಶಿರ ಹಾಗೂ ನಾಸಿಕ ಸೂಚ್ಯಂಕ, ಎಚ್.ಕೆ. ವಿಶ್ಲೇಷಣೆಯ ಆಧಾರದ ಮೇಲೆ ರಕ್ಷಿತ್ (1966) ಈ ದೇಶದ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಭಿನ್ನಜಾತಿಯ & ಜನರು ಒಂದಕ್ಕಿಂತ ಹೆಚ್ಚು ವಲಸೆ ಒಳಗೊಂಡ ಒಂದಕ್ಕಿಂತ ಹೆಚ್ಚು ಭೌತಿಕ ರೀತಿಯ ಏಕೀಕರಣವನ್ನು ಸೂಚಿಸುತ್ತದೆ ಎಂದು ತೀರ್ಮಾನಿಸುತ್ತಾನೆ.

18 ಮೆಟ್ರಿಕ್, 16 ನೋಟದ ಮತ್ತು 8 ವಂಶವಾಹಿ ಗುರುತುಗಳು ಅಧ್ಯಯನ ಯಾರ ಮೇಲೆ ಮಹಾರಾಷ್ಟ್ರದ 8 ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಜಾತಿಗಳ ವರ್ಗಕ್ಕೆ ಹೆಚ್ಚು ವಿವರವಾದ ಅಧ್ಯಯನ, ಎರಡೂ ಸ್ವರೂಪದಲ್ಲಿ ಮತ್ತು ತಳೀಯ ಗುಣಲಕ್ಷಣಗಳು ರಲ್ಲಿ ಕೇವಲ ಒಂದು ದೊಡ್ಡ ವಿವಿಧತೆಗಳ ಬಹಿರಂಗ ಆದರೆ 3 ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಜಾತಿಯನ್ನು ಬ್ರಾಹ್ಮಣೇತರ ಜಾತಿಗಳಿಗೆ ಹತ್ತಿರ ಎಂದು ತೋರಿಸಿತು ಬೇರೆ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಜಾತಿಯನ್ನು [ಗೆ].

P.P. ಮಜುಂದಾರ್ ಮತ್ತು ಕೆ.ಸಿ. (1974) ಮಲ್ಹೋತ್ರಾ 11 ದೇಶದ ರಾಜ್ಯಗಳಲ್ಲಿ ವ್ಯಾಪಿಸಿರುವ 50 ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಮಾದರಿಗಳು ನಡುವೆ OAB ರಕ್ತದ ಗುಂಪಿನ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯನ್ನು ಸಂಬಂಧಿಸಿದಂತೆ ವಿವಿಧತೆಗಳ ಒಂದು ದೊಡ್ಡ ಆಚರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ. ಸಾಕ್ಷಿ ಹೀಗೆ ವರ್ಣ ಸದೃಶ ಜೈವಿಕ ಘಟಕದ ಸಾಮಾಜಿಕವಾಗಿ ಮತ್ತು ಎಂಬುದನ್ನು ಸೂಚಿಸುತ್ತದೆ.

74) Classical Telugu

74) క్లాసికల్ తెలుగు

  ఉచిత ఆన్లైన్ E-నలంద రీసెర్చ్ అండ్ ప్రాక్టీస్ UNIVERSITY

మీ మాతృభాషలోకి సరైన అనువాదం రెండర్ దయచేసి

RSS చీఫ్ మోహన్ భగవత్ spiritualism.It సంబంధం లేదు వచ్చింది ఇది ‘అన్ని భారతీయులు సాంస్కృతిక గుర్తింపు హిందుత్వ‘ జస్ట్ ఒక రాజకీయ ఆచారాన్ని చెబుతున్నారు
ఈ 1% RSS chitpavans జాబితా మితిమీరిన పొదుపు యొక్క 20 వ శతాబ్దం వివరణలు, untrustworthiness (Duba Kors), conspiratorialism,

phlegmatism హత్య ప్రజాస్వామ్యం కానీ కూడా ఈ దేశం యొక్క నిజమైన ఆధ్యాత్మికత మాత్రమే. ఈ దేశం యొక్క నిజమైన సాంస్కృతిక గుర్తింపు
అన్ని నుండి ప్రబుద్ధ భరత్ అని Jambudvipan సమానత్వం, సోదరభావం మరియు స్వేచ్ఛ సాధన బుద్ధ ప్రకృతి తో ఒకే జాతి చెందిన
 
రాజ్యాంగంలో పొందుపరచబడ్డాయి వంటి ధమ్మం ఆధారంగా. ఇప్పుడు అది Duba Kor EVM ఎందుకంటే లోనవుతారు ఉంది ఫ్రాడ్ Duba Kor EVM ల ఉంది
ది CJI Sadhasivam, ఒక బ్రాహ్మణ Duba Kor EVM సిఇసి సంపత్ యొక్క therequest వద్ద మెజారిటీ మోసం tamperable Duba Kor EVM ల లోక్ సభ అనుమతి

మరొక బ్రాహ్మణ మాస్టర్ కీ పొందేందుకు RSS బిజెపికి సహాయపడింది దశలవారీగా Duba Kor EVM ల స్థానంలో. అన్ని Duba Kor EVM ల వరకు
అవివేకిని ప్రూఫ్ ఓటింగ్ సిస్టమ్ స్థానంలో ప్రస్తుతం CJI ప్రస్తుతం లోక్ సభ ను చేయాలనుకోవడం. & తయారయ్యారు కొల్లేజియం వ్యవస్థ కలిగి ఉండాలి

పొందుపరచబడ్డాయి ఒక అవివేకిని ప్రూఫ్ ఓటింగ్ సిస్టమ్ కలిగి ఎస్సీ / ఎస్టీ / ఓబీసీ / మైనారిటీలు నుండి న్యాయమూర్తులు లిబర్టీ, ఫ్రాటెర్నెటీ మరియు సమానత్వం పరిరక్షించడానికి
రాజ్యాంగం. మరియు కూడా ఒక అవివేకిని ప్రూఫ్ ఓటింగ్ కలిగి ఎస్సీ / ఎస్టీ / ఓబీసీ / మైనారిటీలు కలిగి చీఫ్ ఎలక్షన్ కమిషన్ లో కొల్లేజియం వ్యవస్థ

Duba Kor EVM ల తరువాత డెమోక్రసీ మర్డర్ నిరోధించడానికి D రాజ్యాంగం .. పొందుపరచబడ్డాయి వ్యవస్థ లిబర్టీ, ఫ్రాటెర్నెటీ మరియు సమానత్వం పరిరక్షించడానికి
అవివేకిని ప్రూఫ్ ఓటింగ్ సిస్టమ్ లోక్ సభ ఎన్నికలలో స్థానంలో ఉంచాలి. Chitpawan బ్రాహ్మణులకు ఎందుకంటే పూర్తిగా పక్కన చేయడానికి కలిగి ఉంటే వారి

అన్ని కాని Ariyo బ్రాహ్మణులకు పట్ల ద్వేషాన్ని రాజకీయాలు అన్ని నాన్ ariyo బ్రాహ్మణులు, అంటే Sarvajan Hitay, Sarvajan Sukhay బి.ఎస్.పి కింద ఏకం చేశారు
దేశ సంపద పంచుకోవడం ద్వారా, ఎస్సీ / ఎస్టీలకు, ఒబిసిలు మైనార్టీలు, పేద అగ్రవర్ణాలు సహా అన్ని సంఘాలు సంక్షేమ మరియు ఆనందం కోసం

సమానంగా రాజ్యాంగంలో పొందుపరచబడ్డాయి వంటి సమాజంలోని అన్ని వర్గాలకు. కీర్తి chitpvans ద్వారా హాటీ ప్రవర్తన పోరాటాలకు దారితీసింది
ఎంకె మృతి వ్యతిరేక బ్రాహ్మణత్వం రూపంలో చివరలో 1948 లో కూడా వ్యక్తం ఇతర కమ్యూనిటీలు ద్వారా మహాత్మా గాంధీ

Nathuram గాడ్సే, ఒక chitpavan. బాలగంగాధర తిలక్ 1818 లో మరాఠా సామ్రాజ్య పతనం తరువాత, chitpavans వారి రాజకీయ ఆధిపత్యం కోల్పోయింది
British.The బ్రిటిష్ వారి కుల తోటి, పేష్వాలు గతంలో చేసిన అదే స్థాయిలో chitpavans ప్రోత్సహాకాలు కాదు. చెల్లించండి

మరియు శక్తి ఇప్పుడు గణనీయంగా తగ్గింది. పేద chitpavan విద్యార్థులు స్వీకరించారు మరియు ఎందుకంటే మెరుగైన అవకాశాలు ఇంగ్లీష్ నేర్చుకోవడం ప్రారంభించింది
బ్రిటిష్ పరిపాలన. బలమైన ప్రతిఘటన కొన్ని మార్చడానికి చాలా అదే కమ్యూనిటీ నుండి వచ్చింది. అసూయతో వారి కాపలా

బ్రాహ్మణ పొట్టితనాన్ని, chitpavans మధ్య సనాతన శాస్త్రాలు సవాలు ఆతృతగా కాదు, లేదా బ్రాహ్మణులు ప్రవర్తన మారుతోంది
శూద్రుల నుండి వేరుచేసి చెప్పలేరు. సేనా మరియు పాత గార్డు అనేక సార్లు తలపడింది. Chitpavan కమ్యూనిటీ రెండు భారీ ఇచ్చింది

గాంధేయవాద సంప్రదాయంలో రాజకీయ: తన అత్యుత్తమ అతను ఒక గురువైన గా తెలియజేసారు వీరిలో గోపాల్ క్రిష్ణ గోఖలే, & వినోబా భావే, ఒకటి
శిష్యులు. మహాత్మా గాంధీ తన శిష్యులు జ్యువెల్ వంటి భావే వివరిస్తుంది, మరియు అతని రాజకీయ guru.However, మహాత్మా గాంధీ బలమైన వ్యతిరేకత గోఖలే గుర్తింపు

కూడా chitpavan community.VD సావర్కర్ లోపల నుండి వచ్చింది, హిందూ మతం జాతీయవాద రాజకీయ భావజాలం హిందుత్వ స్థాపకుడు castiest మరియు
అవసరం పిచ్చి ఉందని చెప్పే కోపం అన్ని కాని chitpavan brahimins ద్వేషిస్తూ శక్తి మతతత్వవాది duba KOR తీవ్రవాద స్టీల్త్ రాజకీయ కల్ట్ దురాశ

మానసిక శరణాలయాల లో చికిత్స, ఒక chitpavan బ్రాహ్మిణ్. Chitpavan కమ్యూనిటీ యొక్క పలువురు సభ్యులు మధ్య D హిందుత్వ ఆదరించిన తొలి ఉన్నారు
వారు ఆలోచన ఇది భావజాలం, పేష్వాలు మరియు కుల-తోటి తిలక్ వారసత్వాన్ని తార్కిక పొడిగింపు ఉంది. chitpavans తో స్థానం నుంచి బయటకు భావించాడు

ఇతనూ ఫులే యొక్క Jambudvipan సామాజిక సంస్కరణ ఉద్యమం మరియు Mr.MK ద్రవ్యరాశి రాజకీయాలు మహాత్మా గాంధీ. కమ్యూనిటీ పెద్ద సంఖ్యలో చూసారు
సావర్కర్, హిందూ మతం మహాసభ, చివరకు RSS. మహాత్మా గాంధీ యొక్క హంతకులు నారాయణ్ ఆప్టే మరియు Nathuram గాడ్సే, అంచు నుండి వారి ప్రేరణ పొందింది

ఈ అభివృద్ధి నిరోధక ధోరణి లో సమూహాలు.

అందువలన, ఆర్ఎస్ఎస్ చీఫ్ మోహన్ భగవత్ పైన నిజాలు కవరింగ్ అన్ని భారతీయులు సాంస్కృతిక గుర్తింపు హిందుత్వ ఉంది అని.

దేశం యొక్క వెస్ట్ kobras (konkanastha chitpavan బ్రాహ్మణ కమ్యూనిటీ) .

Chitpavan లేదా chitpawan, అధిక క్రైస్తవ ప్రొటెస్టంట్ కొంకణ్ స్థానిక బ్రాహ్మణులుగా.

18 వ శతాబ్దం వరకు, chitpavans సామాజిక ర్యాంకింగ్ లో ఎంచిన లేదు, మరియు నిజానికి బ్రాహ్మణులు నాసిరకం కుల గా ఇతర బ్రాహ్మణ తెగలు పరిగణనలోకి తీసుకుంది.

ఇది మహారాష్ట్ర కేంద్రీకృతమై ఉంది కానీ కూడా దేశవ్యాప్తంగా జనాభా అన్ని మరియు ప్రపంచంలోని మిగిలిన ఉంది (USA & UK.)

బెనే ఇస్రేల్ పురాణం ప్రకారం, Chitpavan మరియు బెనె ఇజ్రాయెల్ కొంకణ్ తీరంలో shipwrecked 14 మంది సమూహం నుండి వారసులు. పార్సీలు, బెనే ఇజ్రాయిల్, kudaldeshkar గౌడ్ బ్రాహ్మణులు, మరియు బ్రాహ్మణులకు సరస్వత్ కొంకణి, మరియు chitpavan బ్రాహ్మణులకు సహా అనేక వలస వర్గాలకు వలసదారు వచ్చిన చివరి ఉన్నారు.

శాతవాహనులు sanskritisers ఉన్నాయి.

ఇది chitpavan బ్రాహ్మణులు కొత్త బృందాన్ని ఏర్పాటు చేశారు వారి సమయంలో బహుశా ఉంది.

అలాగే, తేనె మరాఠీలో రాసిన chitpavan ఇంటిపేరు ghaisas ఒక సూచన, రాజుకు ఇయర్ 1060 ADbelonging ఒక tamra పాట్ (కాంస్య ఫలకం) పై చూడవచ్చు
షిలాహార కింగ్డమ్ Mamruni, కొంకణ్ లో Diveagar వద్ద దొరకలేదు.

బాలాజీ భట్ పట్టాభిషేక మరాఠా సమాఖ్యను సుప్రీం అధికారం తన కుటుంబం తో, chitpavan వలసదారులు పేష్వా అన్ని ముఖ్యమైన కార్యాలయాలు అందించింది పూనే కొంకణ్ నుండి మూకుమ్మడిగా రావడం ప్రారంభమైంది తన
తోటి castemen.

Chitpavan కిన్ పన్ను ఉపశమనం & భూమి పట్టాలు దక్కించుకున్నారు.

చరిత్రకారులు 1818 లో మరాఠా సామ్రాజ్య పతనం కారణాలు బంధుప్రీతి & అవినీతి చేకూర్చాయి.

రిచర్డ్ మాక్స్వెల్ ఈటన్ chitpavans పెరుగుదల రాజకీయ అదృష్టాన్ని పెరుగుతున్న సామాజిక హోదాని ఒక మచ్చుతునక అని చెపుతుంది.

సాంప్రదాయకంగా, chitpavan బ్రాహ్మణులు ఇతర వర్గాలకు మతపరమైన సేవలు అందించే వారు జ్యోతిష్కులు మరియు పూజారులు సమాజం.

Chitpavans యొక్క 20 వ శతాబ్దం వివరణలు మితిమీరిన పొదుపు, untrustworthiness, conspiratorialism, phlegmatism జాబితా.

వ్యవసాయం సాగు భూమిగా కలిగి వారికి ఆచరించే కమ్యూనిటీ రెండవ ప్రధాన వృత్తి, ఉంది.

తరువాత, chitpavans వివిధ వైట్ కాలర్ జాబ్స్ మరియు వ్యాపార ప్రముఖ మారింది.

మహారాష్ట్ర లో chitpavan బ్రాహ్మణులలో వారి భాషగా మరాఠీ అనుసరిస్తున్నాయి.

1940 వరకు, కొంకణ్ లో chitpavans చాలా వారి ఇళ్లలో chitpavani కొంకణి అని పిలిచే ఒక మాండలికం మాట్లాడారు.

ఆ సమయంలో, నివేదికలు వేగంగా కనుమరుగవుతున్న భాషగా chitpavani రికార్డు.

కానీ దక్షిణ కన్నడ జిల్లా, కర్ణాటక లో ఉడిపి జిల్లాలు లో, ఈ భాష దుర్గ మరియు కర్కల తాలూకాలో మాల ఇష్టం కూడా Shishila మరియు Belthangady తాలూకా యొక్క Mundaje వంటి ప్రదేశాల్లో ప్రదేశాల్లో మాట్లాడే అవుతోంది.

మరాఠీ chitpavani మాండలికం nasalized అచ్చులు కలిగి చూపదు ప్రామాణిక మరాఠీ అంతర్గతంగా nasalized అచ్చులు ఉన్నాయి.

గతంలో, deshastha బ్రాహ్మణులకు dvijas ఉత్తమమైనది కేవలం సమాన (సాంఘిక ఆర్ధిక తరగతి సాపేక్ష నూతన), వారు అన్ని బ్రాహ్మణులకు అత్యధిక కూడా విశ్వసించాడు & parvenus వంటి chitpavans చూచుచున్నారు.

కూడా పేష్వా గోదావరి న నాసిక్లో @ Deshasth యాజకులు రిజర్వు కనుమలు ఉపయోగించుకునే హక్కులను తిరస్కరించబడింది.

Deshastha బ్రాహ్మణులకు నుండి chitpavans ద్వారా శక్తి ఈ ఆక్రమించుకుంటున్న ఆలస్యంగా కలోనియల్ బ్రిటిష్ భారతదేశం సార్లు కూడా కొనసాగింది రెండు బ్రాహ్మణ వర్గాల మధ్య తీవ్ర పోటీ ఫలితంగా.

19 వ శతాబ్ది రికార్డులలో కూడా Chitpavans, & రెండు ఇతర కమ్యూనిటీలు, అవి Daivajnas, మరియు Chandraseniya కాయస్థ Prabhus మధ్య Gramanyas లేదా గ్రామ స్థాయిలో చర్చలు చెప్పలేదు.

ఈ ఒక శతాబ్దం క్రితం పది years.Half కొనసాగింది, Dr. అంబేద్కర్ తన పుస్తకం ది అన్టచబుల్స్ లో వివిధ కులాల శారీరక మానవశాస్త్రం ఉన్న సమాచారం సర్వే.

అతను కుల జాతి ప్రాతిపదిక పొందింది వివేకం డేటా మద్దతు లేదు కనుగొన్నారు, ఉదా: బెంగాల్ కోసం పట్టిక చూపే లో ఆరవ నిలుస్తుంది ఎవరు chandal
దీని టచ్ కలుషితం, చాలా బ్రాహ్మణ నుండి వేరుగా సామాజిక ప్రాధాన్యత పథకం మరియు.

బాంబే deshastha బ్రాహ్మణ కుమారుడు కోలి, తన సొంత సహచరుడు, chitpavan బ్రాహ్మణ కంటే ఒక జాలరి కుల, ఒక దగ్గరగా ఆకర్షణకి వహించదు.

మహర్దశలో, మరాఠా ప్రాంతంలో అస్పృశ్య, కుంబి జాతి, రైతాంగ తో కలిసి తదుపరి వస్తుంది.

వారు క్రమంలో Shenvi బ్రాహ్మణ నగర్ బ్రాహ్మణుడు మరియు అధిక కుల మరాఠా అనుసరించండి.

ఫలితాలు సామాజిక క్రమము బొంబాయిలో భౌతిక భేదం మధ్య ఎటువంటి సుదూర ఉంది అని.

డాక్టర్ అంబేద్కర్ గుర్తించారు పుర్రె మరియు ముక్కు సూచికలు, తేడా ఒక చిరస్మరణీయ కేసు, బ్రాహ్మణ ఉత్తరప్రదేశ్ (అంటరాని) Chamar మధ్య ఉన్నాయి తేలింది.

కానీ ఈ బ్రాహ్మణులే విదేశీయులు నిరూపించడానికి లేదు యూపీ కోసం డేటా ఎందుకంటే బ్రాహ్మణ కత్తరి మరియు పంజాబ్ అంటరాని Chuhra కోసం వారికి చాలా దగ్గరగా ఉండాలి దొరకలేదు.

యు.పి. ఉంటే బ్రాహ్మణ సంఖ్య ఈ దేశానికి విదేశీ అంటే అతను పంజాబ్ అంటరానివారిని కంటే కనీసం కాదు, ఉంది, ఉత్తరప్రదేశ్ నిజానికి విదేశీ ఉంది.

ఈ మేము వేద మరియు ఇతిహాస-పురాణం సాహిత్యం నుండి ఉత్పాదించడానికి దీని దృష్టాంతంలో నిర్ధారిస్తుంది: వేద సంప్రదాయం దూర బిందువు వద్ద పంజాబ్-హర్యానా లో ముఖ్య ఎగుమతి ఉన్నప్పుడు అక్కడ దిగువ కులాల నుండి భౌతికంగా విడదీయలేం వీరు బ్రాహ్మణులు, d బై వేద ముఖ్య నుండి తూర్పున తీసుకురాబడింది (బెంగాల్ మరియు క్రిస్టియన్ శకం మలుపు చుట్టూ సౌత్ బ్రాహ్మణులు ప్రణాళిక దిగుమతి పోల్చదగినది) మొత్తం Aryavarta దాని సంస్కృతిని.

కేవలం రెండు కులాల సంఘాలు అనేక ఇంట్రా ఇండియన్ వలసలు ఉన్నాయి.

ఇటీవలి పరిశోధన అంబేద్కర్ అభిప్రాయాలు కీర్తించబడ్డాడు లేదు.

కుమార్ సురేష్ సింగ్ నేతృత్వంలో ఇటీవల మానవశాస్త్ర సర్వే విలేకరుల రిపోర్ట్ వివరిస్తుంది: ఆంగ్ల మానవశాస్త్రవేత్తలు భారతదేశం ఎగువ కులాల కాకేసియన్ జాతికి చెందిన మిగిలిన ఆస్ట్రాయిడ్ రకాల నుండి వారి మూలం మళ్లించిన పోటీపడింది.

సర్వే ఒక పురాణం అని ఈ వెల్లడించింది.

జీవశాస్త్ర & భాషాపరంగా, మేము చాలా మిశ్రమ ఉన్నాయి, సురేష్ సింగ్ చెప్పారు.

నివేదిక ఈ దేశ ప్రజలకు సాధారణ మరింత జన్యువులు కలిగి, మరియు కూడా పదనిర్మాణ లక్షణాలన్నీ పెద్ద సంఖ్యలో భాగస్వామ్యం చెప్పారు.

ప్రాంతీయ స్థాయిలో పదనిర్మాణం మరియు జన్యు పరంగా చాలా ఎక్కువ సజాతీయ ఉంది, నివేదిక చెప్పారు.

ఉదాహరణకు, తమిళనాడు (esp.Iyengars) బ్రాహ్మణులు దేశంలోని పడమటి లేదా ఉత్తర భాగంలో తోటి బ్రాహ్మణులతో కంటే రాష్ట్ర బ్రాహ్మినేతరులకు తో మరింత లక్షణాలు భాగస్వామ్యం.

కుమారులు ఆఫ్ మట్టి సిద్ధాంతం కూడా నేలమట్టం నిలుస్తుంది.

భారతదేశం ఆన్త్రోపోలజికల్ సర్వే దేశంలోని కొన్ని ఇతర భాగం నుండి వలస వచ్చిన గుర్తు CANT దేశంలో ఏ కమ్యూనిటీ కనుగొంది.

అగ్రవర్ణాల కోసం ఒక ప్రత్యేక లేదా విదేశీ మూలం ఎలాంటి ఆధారం ఉంది అంతర్గత వలస, దేశం యొక్క క్లిష్టమైన జాతి చాలా భూభాగం యొక్క వాటా.

భౌతిక-మానవశాస్త్ర కారణంతో రేసు కుల (వర్ణ) గుర్తించడాన్ని వ్యతిరేకిస్తాయి ఎవరు ఇతర శాస్త్రవేత్తలు మధ్య, మేము కైలాష్ సి మల్హోత్రా cite ఉండవచ్చు: ఉత్తర ప్రదేశ్, గుజరాత్, మహారాష్ట్ర, బెంగాల్, తమిళనాడు ప్రజలలో సంక్రమించిన వివరణాత్మక ఆంత్రపోమెట్రిక్ సర్వేలు ముఖ్యమైన వెల్లడించింది కుల మరియు వివిధ ప్రాంతాల నుండి కుల ఉప జనాభాల మధ్య కంటే ప్రాంతంలోనూ వివిధ వర్ణాలు కులాల మధ్య ఒక దగ్గరగా పోలిక ప్రాంతీయ విభేదాలు.

పొట్టితనాన్ని, కపాల మరియు నాసికా సూచిక, HK విశ్లేషణ ఆధారంగా రక్షిత్ (1966) ఈ దేశం బ్రాహ్మణులు విజాతీయ ఉంటాయి & ప్రజలు ఒకటి కంటే ఎక్కువ వలసలు పాల్గొన్న ఒకటి కంటే ఎక్కువ భౌతిక రకం విలీనానికి సూచిస్తున్నాయని తెలిపింది.

18 మెట్రిక్, 16 scopic మరియు 8 జన్యు మార్కర్ల అధ్యయనం వీరిలో మహారాష్ట్ర లో 8 బ్రాహ్మణ కులాల్లో మరింత వివరంగా అధ్యయనం, రెండు పదనిర్మాణం మరియు జన్యు లక్షణాలు లో మాత్రమే గొప్ప భిన్నత్వం వెల్లడించింది కానీ కూడా 3 బ్రాహ్మణ కులాలు బ్రాహ్మణేతర కులాలకు దగ్గరగా వారుగా కంటే ఇతర బ్రాహ్మణ కులాలు [కు].

P.P. మజుందార్ మరియు కె.సి. (1974) మల్హోత్రా 11 దేశం రాష్ట్రాలలో విస్తరించిన 50 బ్రాహ్మణ నమూనాలను మధ్య OAB రక్తవర్గ వ్యవస్థ సంబంధించి భిన్నత్వం యొక్క ఒక గొప్ప ఒప్పందానికి గమనించారు. సాక్ష్యం విధంగా వర్ణ ఒక విధమైన జీవ పరిధి సామాజికమైన మరియు లేదని సూచించారు.

10) Classical Bengali

10) ইসলাম বাংলা

  বিনামূল্যে অনলাইন ই নালন্দা গবেষণা এবং প্র্যাকটিস বিশ্ববিদ্যালয়

আপনার নিজস্ব মাতৃভাষায় সঠিক অনুবাদ রেন্ডার করুন

আরএসএস প্রধান মোহন ভেতরে spiritualism.It সঙ্গে কিছুই করার আছে, যা সব ভারতীয়দের সাংস্কৃতিক পরিচয় হিন্দুত্ব ‘শুধু একটি রাজনৈতিক অর্চনা বলছে না
এই 1% আরএসএস chitpavans তালিকা অতিরিক্ত সংযম এর 20 শতকের বিবরণ, বিশ্বস্ততাও (Duba Kors), conspiratorialism,

phlegmatism হত্যা গণতন্ত্র কিন্তু এই জাতির বাস্তব আধ্যাত্মিকতা না. এই দেশের সত্য সাংস্কৃতিক পরিচয়
সব থেকে Prabuddha ভারত যে Jambudvipan সমতা, ভ্রাতৃত্ব এবং স্বাধীনতা অনুশীলন বুদ্ধ প্রকৃতি সঙ্গে একই জাতি অন্তর্গত
 
সংবিধানে সন্নিবেশিত হিসাবে ধর্ম উপর ভিত্তি করে. এখন এটা Duba কোর ‘ইভিএম কারণ উন্মুক্ত করা হয়েছে যে প্রতারণা Duba কোর’ ইভিএম হয়
CJI Sadhasivam, একটি ব্রাহ্মণ Duba কোর ‘ইভিএম সিইসি Sampath এর therequest অধিকাংশ জালিয়াতি tamperable Duba কোর’ ইভিএম সঙ্গে লোকসভা অনুমতি

অন্য ব্রাহ্মণ মাস্টার কী অর্জন আরএসএস এর বিজেপি যে সাহায্য বিকাশ পদ্ধতিতে Duba কোর ‘ইভিএম প্রতিস্থাপন. সব Duba কোর ‘ইভিএম পর্যন্ত
বোকা প্রমাণ ভোটিং সিস্টেমের সাথে প্রতিস্থাপিত হয় বর্তমান CJI বর্তমান লোকসভা স্ক্র্যাপ অর্ডার. অবচয় একটি কলেজ সিস্টেম থাকতে হবে

সন্নিবেশিত হিসাবে বোকা প্রমাণ ভোটিং সিস্টেম না থাকার জন্য এসসি / এসটি / ওবিসি / সংখ্যালঘু থেকে বিচারক লিবার্টি, সমধর্মিতা এবং সমতা রক্ষা
সংবিধান. এবং একটি বোকা প্রমাণ ভোটিং থাকার জন্য এসসি / এসটি / ওবিসি / সংখ্যালঘু গঠিত প্রধান নির্বাচন কমিশন একটি কলেজ সিস্টেম

Duba কোর ‘ইভিএম পর গণতন্ত্র হত্যা প্রতিরোধ সংবিধান .. সন্নিবেশিত সিস্টেম লিবার্টি, সমধর্মিতা এবং সমতা রক্ষা
বোকা প্রমাণ ভোটিং সিস্টেম লোকসভা নির্বাচনের সঙ্গে প্রতিস্থাপিত হয় অনুষ্ঠিত হবে. Chitpawan ব্রাহ্মণ কারণ সম্পূর্ণ sidelined করা থাকে, তাহলে তাদের

সব অ Ariyo ব্রাহ্মণদের প্রতি ঘৃণা রাজনীতি, সব Ariyo ব্রাহ্মণ, অর্থাত্ Sarvajan Hitay, Sarvajan Sukhay জন্য বিএসপি অধীনে ঐক্যবদ্ধ করা আছে
দেশের সম্পদ ভাগ করে, এসসি / মধ্যেও যারা অতিমাত্রায়, ওবিসি-দের, সংখ্যালঘু ও দরিদ্র উপরের জাতি সহ সমস্ত সমাজের কল্যাণ ও সুখের জন্য

সমানভাবে সংবিধানে সন্নিবেশিত হিসাবে সমাজের সব অংশের মধ্যে. ভুঁইফোঁড় chitpvans দ্বারা উদ্ধত আচরণ সঙ্গে দ্বন্দ্ব সৃষ্টি
এম কে হত্যার পর বিরোধী ব্রাক্ষ্মণ্যধর্ম আকারে হিসাবে দেরী 1948 সালে হিসাবে নিজেকে উদ্ভাসিত, যা অন্য সম্প্রদায়ের দ্বারা গান্ধী

নাথুরাম গডসে, একটি chitpavan. বাল গঙ্গাধর তিলক 1818 সালে মারাঠা সাম্রাজ্যের পতনের পর, chitpavans তাদের রাজনৈতিক কর্তৃত্ব হারিয়ে
British.The ব্রিটিশ তাদের বর্ণ-সহকর্মী, পেশোয়াদের অতীতে কাজ ছিল একই স্কেলে chitpavans ভর্তুকি না. অর্থ প্রদান

এবং ক্ষমতা এখন উল্লেখযোগ্যভাবে কমে যায়. দরিদ্র chitpavan ছাত্র অভিযোজিত এবং কারণ ভাল সুযোগ ইংরেজি শেখার শুরু
ব্রিটিশ প্রশাসন. শক্তিশালী প্রতিরোধের কিছু পরিবর্তন একই সম্প্রদায় থেকে এসেছিলেন. Jealously তাদের গুপ্তি

ব্রাহ্মণ মর্যাদা, chitpavans মধ্যে সনাতন শাস্ত্র চ্যালেঞ্জ দেখতে আগ্রহী ছিল না, কিংবা ব্রাহ্মণদের আচার হয়ে উঠছে
sudras যা থেকে আলাদা করা যায় না. অগ্রদূত এবং পুরাতন পাহারা অনেক বার সংঘর্ষে লিপ্ত হয়. Chitpavan সম্প্রদায় প্রধান দুই অন্তর্ভুক্ত

গান্ধীবাদী ঐতিহ্য রাজনীতিবিদ: তার অসামান্য তিনি একটি গুরু হিসাবে স্বীকৃত, যাকে গোপাল কৃষ্ণ গোখলে, ও বিনোবা ভাবে, এক
শিষ্যদের. গান্ধী তাঁর শিষ্যদের মধ্যে জুয়েল হিসাবে বাক্স বর্ণনা করে, এবং তার রাজনৈতিক guru.However, গান্ধী শক্তিশালী বিরোধী দল হিসাবে গোখলে স্বীকৃত

এছাড়াও chitpavan community.VD সাভারকর মধ্যে থেকে এসেছেন, হিন্দু জাতীয়তাবাদী রাজনৈতিক মতাদর্শ হিন্দুত্ব প্রতিষ্ঠাতা castiest এবং
প্রয়োজন উন্মাদ যে যা রাগ সব অ chitpavan brahimins ঘৃণা ক্ষমতার সাম্প্রদায়িক duba Kor জঙ্গি চৌর্য রাজনৈতিক অর্চনা লোভ

মানসিক asylums চিকিত্সা, একটি chitpavan ব্রাহ্মণ ছিল. Chitpavan সম্প্রদায়ের বিভিন্ন সদস্যদের মধ্যে হিন্দুত্ব আলিঙ্গন প্রথম
তারা চিন্তা যা মতাদর্শ, পেশোয়াদের এবং বর্ণ-সহকর্মী তিলক উত্তরাধিকার এর একটি লজিক্যাল এক্সটেনশন ছিল. এই chitpavans সঙ্গে জায়গা খুঁজে অনুভূত

Mahatama ফুলে এর Jambudvipan সামাজিক সংস্কার আন্দোলন এবং Mr.MK ভর রাজনীতি গান্ধী. সম্প্রদায়ের বৃহৎ সংখ্যক লাগছিল
সাভারকর, হিন্দু মহাসভা এবং পরিশেষে আরএসএস. গান্ধীর হত্যাকারীরা নারায়ণ apté এবং নাথুরাম গডসে, পাড় থেকে তাদের অনুপ্রেরণা সৃষ্টি

এই প্রতিক্রিয়াশীল প্রবণতা গ্রুপ.

অতএব, আরএসএস প্রধান মোহন ভেতরে উপরে ঘটনা আচ্ছাদন সব ভারতীয়দের সাংস্কৃতিক পরিচয় হিন্দুত্ব হয় ‘বলছে না.

দেশ এর পশ্চিম kobras (konkanastha chitpavan ব্রাহ্মণ কমিউনিটি) উপর.

Chitpavan বা chitpawan, একটি sizeable খৃস্টান প্রোটেস্ট্যান্ট সঙ্গে কোঙ্কন স্থানীয় ব্রাহ্মণ হয়.

18 শতক পর্যন্ত, chitpavans সামাজিক র্যাংকিং esteemed ছিল না, এবং প্রকৃতপক্ষে ব্রাহ্মণ একটি নিকৃষ্ট জাতি হিসেবে অন্যান্য ব্রাহ্মণ উপজাতিদের দ্বারা বিবেচিত হয়.

এটা মহারাষ্ট্রের ঘনীভূত অবশেষ কিন্তু দেশ উপর জনসংখ্যার সব এবং বিশ্বের বাকি আছে (মার্কিন যুক্তরাষ্ট্র ও গ্রেট ব্রিটেন.)

বিকল্প ইসরায়েলি কিংবদন্তি অনুযায়ী, Chitpavan এবং বিকল্প ইস্রায়েল কোঙ্কন উপকূলে shipwrecked 14 জনের একটি গ্রুপ থেকে বংশধর. পার্সি, বিকল্প ইজরায়েলের, kudaldeshkar উত্সব ব্রাহ্মণ, এবং ব্রাহ্মণ সারস্বত কোঙ্কানি, এবং chitpavan ব্রাহ্মণ সহ বিভিন্ন অভিবাসী গ্রুপ এই অভিবাসী আগমন শেষ.

Satavahanas sanskritisers ছিল.

এটা chitpavan ব্রাহ্মণ নতুন গ্রুপ গঠিত হয় যে তাদের সময় সম্ভবত হয়.

এছাড়াও, Prakrut মারাঠি লেখা chitpavan উপাধি ghaisas একটি রেফারেন্স, রাজা বছর 1060 ADbelonging একটি tamra চাপড়ান (ব্রোঞ্জ প্লেক) দেখা যাবে
Shilahara কিংডম Mamruni, কোঙ্কন মধ্যে Diveagar পাওয়া.

Balaji ভাট এর সংযোজন এবং মারাঠা জোট সুপ্রিম কর্তৃপক্ষ তার পরিবারের সঙ্গে, chitpavan অভিবাসীদের পেশোয়া সব গুরুত্বপূর্ণ অফিস দেওয়া যেখানে পুনে থেকে কোঙ্কন থেকে সার্বজনীনভাবে পৌঁছে তার
সহকর্মী castemen.

Chitpavan আত্মীয় ট্যাক্স ত্রাণ জমি অনুদান দিয়ে পুরস্কৃত করা হয়.

ঐতিহাসিক 1818 সালে মারাঠা সাম্রাজ্যের পতনের কারণ হিসাবে স্বজনপোষণ দুর্নীতির cite.

রিচার্ড ম্যাক্সওয়েল Eaton chitpavans এই বৃদ্ধি রাজনৈতিক ভাগ্য সঙ্গে ক্রমবর্ধমান সামাজিক পদে ধ্রুপদী উদাহরণ যে.

প্রথাগতভাবে, chitpavan ব্রাহ্মণদের অন্যান্য সম্প্রদায়ের ধর্মীয় সেবা প্রস্তাব যারা জ্যোতিষীদের এবং যাজকদের এক সম্প্রদায় ছিল.

Chitpavans এর 20 শতকের বিবরণ অতিরিক্ত সংযম, বিশ্বস্ততাও, conspiratorialism, phlegmatism তালিকা দেখাবে.

কৃষি আবাদী জমি ভোগদখল যারা ​​চর্চা সম্প্রদায়ের মধ্যে দ্বিতীয় প্রধান পেশা ছিল.

পরে chitpavans বিভিন্ন সাদা মণ্ডল কাজ এবং ব্যবসা বিশিষ্ট হয়ে ওঠে.

মহারাষ্ট্রে chitpavan ব্রাহ্মণ অধিকাংশ তাদের ভাষা হিসাবে মারাঠি গ্রহণ করেছে.

1940 পর্যন্ত, কোঙ্কন মধ্যে chitpavans অধিকাংশ তাদের বাড়িতে chitpavani কোঙ্কানি নামক একটি উপভাষা বক্তব্য রাখেন.

এমনকি যে সময়ে, রিপোর্ট একটি দ্রুত অন্তর্ধান ভাষা হিসাবে chitpavani রেকর্ড.

কিন্তু দক্ষিণা কন্নড জেলা ও কর্ণাটক উদুপি জেলা, এই ভাষা দুর্গা এবং Karkala তালুক এর Maala মত এবং Shishila এবং Belthangady তালুক এর Mundaje মত জায়গায় জায়গায় উচ্চারিত হচ্ছে.

মারাঠি এর chitpavani উপভাষা nasalized স্বরবর্ণ আছে, যেহেতু মান মারাঠি কোন মজ্জাগতভাবে nasalized স্বরবর্ণ আছে.

এর আগে, deshastha ব্রাহ্মণ dvijas সম্ভ্রান্ত সবে সমান (একটি আর্থসামাজিক বর্গ একটি আপেক্ষিক আগন্তুক), তারা সব ব্রাহ্মণদের সর্বোচ্চ বিশ্বাস করেন যে, ও parvenus হিসাবে chitpavans উপর নিচে তাকিয়ে.

এমনকি পেশোয়া গোদাবরী উপর নাশিক @ Deshasth পুরোহিত জন্য সংরক্ষিত ঘাট ব্যবহার করার অধিকার থেকে বঞ্চিত করা হয়.

Deshastha ব্রাহ্মণ থেকে chitpavans দ্বারা শক্তি এই খর্ব দেরী ঔপনিবেশিক ব্রিটিশ ভারত বার অব্যাহত, যা দুই ব্রাহ্মণ সম্প্রদায়ের মধ্যে তীব্র দ্বন্দ্ব দেখা দেয়.

19 শতকের রেকর্ড এছাড়াও Chitpavans, ও দুই অন্যান্য সম্প্রদায়, যেমন Daivajnas, এবং Chandraseniya কায়স্থ Prabhus মধ্যে Gramanyas বা গ্রামে পর্যায়ের বিতর্ক উল্লেখ.

এই শতাব্দী আগে প্রায় দশ years.Half ধরে চলে, Dr.Ambedkar তার বই অস্পৃশ্যদের বিভিন্ন জাতি শারীরিক নৃতত্ত্ব উপর বিদ্যমান তথ্য মাপা.

তিনি জাতি একটি জাতিগত ভিত্তিতে প্রাপ্ত জ্ঞান তথ্য দ্বারা সমর্থিত ছিল না পাওয়া যায়, যেমন: বাংলার জন্য টেবিল দেখায় যে ষষ্ঠ যারা ​​দাঁড়িয়েছে চন্ডালের
যার স্পর্শ দূষিত, অনেক ব্রাহ্মণ থেকে পৃথকীকৃত হয় না সামাজিক প্রাধান্য প্রকল্প এবং.

বম্বে deshastha ব্রাহ্মণ পুত্র-কলি, তার নিজের বয়স্য, chitpavan ব্রাহ্মণ আর একটি জেলে বর্ণ, একটি ঘনিষ্ঠ সম্বন্ধ বহন করে.

Mahar, মারাঠা অঞ্চলের অস্পৃশ্য, কুনবি, চাষী সঙ্গে একসঙ্গে আসে পরের.

তারা যাতে shenvi ব্রাহ্মণ, নগর ব্রাহ্মণ এবং উচ্চ বর্ণ মারাঠা অনুসরণ করুন.

এই ফলাফল সামাজিক ক্রমবিন্যাস এবং বম্বে শারীরিক বিভেদ মধ্যে কোন সাদৃশ্য আছে মানে.

ডঃ আম্বেদকর দ্বারা উল্লিখিত মস্তক এবং নাক সূচী, মধ্যে বিভেদ একটি অসাধারণ ক্ষেত্রে, ব্রাহ্মণ উত্তর প্রদেশ (অস্পৃশ্য) Chamar মধ্যে বিদ্যমান পাওয়া যায় নি.

কিন্তু এই ব্রাহ্মণ বিদেশীদের প্রমাণ না ইউপি জন্য তথ্য কারণ ব্রাহ্মণ Khattri পাঞ্জাব অস্পৃশ্য Chuhra জন্য যারা খুব ঘনিষ্ঠ হতে পাওয়া যায়নি.

U.P. যদি ব্রাহ্মণ কোন এই দেশে বিদেশী মানে তিনি পাঞ্জাব অস্পৃশ্য চেয়ে অন্তত আরো হয়, ইউপি প্রকৃতপক্ষে বিদেশী হয়.

এই আমরা বৈদিক এবং ItihAsa-পুরানা সাহিত্য থেকে আহরণ করা যেতে পারে, যা দৃশ্যকল্প নিশ্চিত করে: বৈদিক ঐতিহ্য তার অপভূ পাঞ্জাব-হরিয়ানার এলাকায় এক্সপোর্ট যখন নিম্ন জাতি থেকে শারীরিকভাবে আলাদা ছিল ব্রাহ্মণদের দ্বারা বৈদিক heartland থেকে পূর্ব আনা হয় (বাংলা ও খ্রিস্টান যুগের পালা প্রায় দক্ষিণ মধ্যে ব্রাহ্মণ পরিকল্পিত আমদানি সঙ্গে তুলনীয়) পুরো আর্যাবর্ত তার সংস্কৃতি.

এই মাত্র দুটি বর্ণ দলের অনেক ভিতরে ভারতীয় মাইগ্রেশন ছিল.

সাম্প্রতিক গবেষণায় আম্বেদকর, এর মতামত প্রত্যাখান করেনি.

কুমার সুরেশ সিং এর নেতৃত্বে একটি সাম্প্রতিক নৃতাত্ত্বিক জরিপ উপর একটি প্রেস রিপোর্ট ব্যাখ্যা করেছেন: ইংরেজি নৃবিজ্ঞানী ভারত উপরের জাতি ককেশীয় জাতি থেকে belonged এবং বাকি অস্ট্রালয়েড ধরনের থেকে তাদের মূল সৃষ্টি যে তর্ক.

জরিপ একটি শ্রুতি হতে এই প্রকাশ করেনি.

Biologically ভাষাগত, আমরা খুব মিশ্র, সুরেশ সিং বলেছেন.

রিপোর্ট এই দেশের মানুষ সাধারণ আরো জিন আছে, এবং এছাড়াও অঙ্গসংস্থানসংক্রান্ত বৈশিষ্ট একটি বড় সংখ্যা ভাগ করে.

আঞ্চলিক পর্যায়ে অঙ্গসংস্থানসংক্রান্ত এবং জেনেটিক বৈশিষ্ট পদ অনেক বড় Homogenization আছে, রিপোর্ট সেস.

উদাহরণস্বরূপ, তামিলনাড়ু (esp.Iyengars) এর ব্রাহ্মণদের দেশের পশ্চিম বা উত্তর অংশে সহকর্মী ব্রাহ্মণদের সঙ্গে আর রাজ্যের ব্রাহ্মণদের সঙ্গে আরো বৈশিষ্ট্য ভাগ.

পুত্র-এর মাটি তত্ত্ব ধ্বংস দাঁড়িয়েছে.

ভারতের গন্ডগোল সার্ভে দেশের কিছু অন্যান্য অংশ থেকে মাইগ্রেট জমিদারি মনে নাকিসুরে কথা যে এই দেশে কোন সম্প্রদায় পাওয়া গেছে.

উপরের জাতি জন্য পৃথক বা বিদেশী মূল কোন প্রমাণ আছে, যখন অভ্যন্তরীণ অভিবাসন, দেশের জটিল জাতিগত আড়াআড়ি অনেক জন্য অ্যাকাউন্ট.

শারীরিক-নৃতাত্ত্বিক ভিত্তিতে জাতি বর্ণ (Varna) সনাক্তকরণ প্রত্যাখ্যান যারা ​​অন্যান্য বিজ্ঞানীদের মধ্যে, আমরা কৈলাশ সি মালহোত্রা উদ্ধৃত করতে পারেন: উত্তর প্রদেশ, গুজরাট, মহারাষ্ট্র, বাংলা ও তামিল নাড়ুর মানুষের মধ্যে সম্পন্ন বিস্তারিত anthropometric সার্ভে গুরুত্বপূর্ণ প্রকাশ একটি জাতি এবং বিভিন্ন অঞ্চল থেকে জাত সাব জনসংখ্যার মধ্যে একটি অঞ্চলের বিভিন্ন বর্ণের জাতি মধ্যে একটি ঘনিষ্ঠ প্রতিচ্ছায়া মধ্যে আঞ্চলিক পার্থক্য.

মর্যাদা, সেফালিক এবং অনুনাসিক সূচক, খরচ বিশ্লেষণ ভিত্তিতে রক্ষিত (1966) এই দেশের ব্রাহ্মণ ভিন্নধর্মী হয় মানুষ একাধিক মাইগ্রেশন জড়িত একাধিক শারীরিক ধরনের নিগম সুপারিশ যে শেষ করছেন এই বলে.

18 মেট্রিক, 16 scopic এবং 8 জেনেটিক মার্কার গবেষণা করা হয়েছে, যাদের উপর মহারাষ্ট্রের 8 ব্রাহ্মণ জাতি মধ্যে আরো একটি বিস্তারিত সমীক্ষা, উভয় অঙ্গসংস্থানসংক্রান্ত এবং জেনেটিক বৈশিষ্ট্য শুধুমাত্র একটি মহান বিষমসত্ত্বতা প্রকাশ কিন্তু 3 ব্রাহ্মণ জাতি ব্রাহ্মণ জাতি কাছাকাছি ছিল দেখিয়েছেন যে, আর অন্য ব্রাহ্মণ জাতি [আপনি].

P.P. মজুমদার এবং K.C. (1974) মালহোত্রা 11 দেশ: মার্কিন যুক্তরাষ্ট্র উপর ছড়িয়ে 50 ব্রাহ্মণ নমুনার মধ্যে OAB রক্তের গ্রুপ সিস্টেম থেকে সম্মান সঙ্গে বিষমসত্ত্বতা একটি মহান চুক্তি হয়েছে. প্রমাণ এইভাবে Varna একটি সজাতি জৈব সত্তা একটি সমাজতাত্ত্বিক না যে প্রস্তাব দেওয়া হয়.

31) Classical Gujarati

31) ક્લાસિકલ ગુજરાતી

  નિઃશુલ્ક ઑનલાઇન નાલંદા સંશોધન અને અભ્યાસ યુનિવર્સિટી

તમારા પોતાના માતૃભાષા માં યોગ્ય અનુવાદ રેન્ડર કરો

આરએસએસ મુખ્ય મોહન ભાગવત spiritualism.It સાથે કરવાનું કંઈ મળ્યું છે, જે બધા ભારતીયો સાંસ્કૃતિક ઓળખ હિંદુત્વની છે માત્ર એક રાજકીય સંપ્રદાય છે કહી રહ્યાં છે
1% આરએસએસ chitpavans યાદી અત્યંત ત્રેવડપૂર્ણ અભિગમ ની 20 મી સદીના વર્ણનો, untrustworthiness (Duba Kors), conspiratorialism,

phlegmatism હત્યા લોકશાહી પણ આ દેશના વાસ્તવિક આધ્યાત્મિકતા માત્ર. આ દેશના સાચા સાંસ્કૃતિક ઓળખ છે
બધા કારણ કે પ્રબુદ્ધ ભારત કે Jambudvipan સમાનતા, બંધુત્વ અને સ્વાતંત્ર્ય પ્રેક્ટિસ બુદ્ધ કુદરત સાથે જ રેસ સંબંધ
 
બંધારણ માં સ્થાપિત થઇ ગયો તરીકે ધમ્મા પરનું પર આધારિત છે. હવે તે Duba ઉંમર EVM કારણ કે ખુલ્લા કરી શકાય છે કે જે છેતરપિંડી Duba ઉંમર EVMs છે
સીજેઆઇ Sadhasivam, એક બ્રાહ્મણ Duba ઉંમર EVM સીઇસી સંપત ના therequest પર ભાગના છેતરપિંડી tamperable Duba ઉંમર EVMs સાથે લોકસભામાં મંજૂરી

અન્ય બ્રાહ્મણ માસ્ટર કી હસ્તગત આરએસએસ માતાનો ભાજપના મદદ કરી તબક્કાવાર રીતે Duba ઉંમર EVMs બદલો. તમામ Duba ઉંમર EVMs સુધી
ફૂલ સાબિતી મતદાન સિસ્ટમ સાથે બદલાઈ રહ્યા છે હાલમાં સીજેઆઇ હાજર લોકસભામાં સ્ક્રેપ ઓર્ડર. અને ચૂંટવું એક Collegium સિસ્ટમ હોવી જ જોઈએ

માં સ્થાપિત થઇ ગયો તરીકે એક ફૂલ સાબિતી મતદાન સિસ્ટમ હોવા માટે SC / ST / OBC / લઘુમતીઓ થી ન્યાયમૂર્તિઓ લિબર્ટી, મંડળ અને સમાનતા રક્ષણ
બંધારણ. અને પણ એક ફૂલ સાબિતી મતદાન કર્યા માટે SC / ST / OBC / લઘુમતીઓ સમાવેશ મુખ્ય ચૂંટણી પંચ એક Collegium સિસ્ટમ

Duba ઉંમર EVMs પછી લોકશાહી ના મર્ડર અટકાવવા ડી બંધારણ .. માં સ્થાપિત થઇ ગયો તરીકે સિસ્ટમ લિબર્ટી, મંડળ અને સમાનતા રક્ષણ
ફૂલ સાબિતી મતદાન સિસ્ટમ લોકસભાની ચૂંટણી સાથે બદલાઈ રહ્યા છે રાખવામાં હોવી જ જોઈએ. Chitpawan બ્રાહ્મણો કારણે તદ્દન હાંસિયામાં હોય તો તેમના

બધા બિન Ariyo બ્રાહ્મણો તરફ તિરસ્કાર રાજકારણ, બધા બિન ariyo બ્રાહ્મણો, એટલે Sarvajan Hitay, Sarvajan Sukhay માટે બીએસપી હેઠળ એક થવું છે
દેશના સંપત્તિ શેર કરીને, એસસી / એસટીએસ, ઓબીસી, લઘુમતીઓ અને ગરીબ ઉચ્ચ જાતિ સહિત તમામ સમાજ કલ્યાણ અને સુખ માટે

સમાન બંધારણના માં સ્થાપિત થઇ ગયો તરીકે સમાજના તમામ વિભાગો વચ્ચે. લેભાગુ માણસ chitpvans દ્વારા અભિમાની વર્તન સાથે તકરાર થાય
એમ હત્યા પછી વિરોધી બ્રાહ્મણનાં સ્વરૂપમાં છેક 1948 માં પોતે જેની સ્પષ્ટ અભિવ્યક્તિ છે, કે જે અન્ય સમુદાયો દ્વારા ગાંધી

બલૂચી ગોડસે, એક chitpavan. બાલ ગંગાધર તિલક 1818 માં મરાઠા સામ્રાજ્યના પતન બાદ, chitpavans તેમના રાજકીય પ્રભુત્વ ગુમાવી
British.The બ્રિટિશ તેમના જાતિ-સાથી, પેશ્વાની ભૂતકાળમાં કર્યું હતું તે જ સ્કેલ પર chitpavans સબસિડી નથી. પે

અને સત્તા હવે નોંધપાત્ર રીતે ઘટાડો થયો હતો. વધારે ગરીબ chitpavan વિદ્યાર્થીઓ અનુકૂળ અને કારણ કે વધુ સારી તકો ઇંગલિશ શીખવા શરૂ
બ્રિટિશ વહીવટ. મજબૂત પ્રતિકાર કેટલાક પણ બદલી ખૂબ જ સમુદાય આવ્યાં છે. ઈર્ષાપૂર્વક તેમના રક્ષણ

બ્રાહ્મણ મહત્તા, chitpavans વચ્ચે રૂઢિચુસ્ત શાસ્ત્રો પડકાર જોવા માટે આતુર ન હતા, કે બ્રાહ્મણો ની વર્તણૂક બની
sudras કે અસ્પષ્ટતા. વાનગાર્ડ અને જૂના રક્ષક ઘણી વખત સામસામે આવી ગઈ. chitpavan સમુદાય મુખ્ય બે સમાવેશ થાય છે

ગાંધીજીના પરંપરા રાજકારણીઓ: તેના બાકી ના તેઓ એક preceptor તરીકે સ્વીકાર જેમને ગોપાલ કૃષ્ણ ગોખલે, અને વિનોબા ભાવે, એક
શિષ્યો. ગાંધી પોતાના શિષ્યોને ના રત્ન તરીકે ભાવે વર્ણવે છે, અને તેમના રાજકીય guru.However, ગાંધી માટે મજબૂત વિરોધ તરીકે ગોખલે માન્ય

પણ chitpavan community.VD સાવરકર અંદર આવ્યાં, હિન્દૂ રાષ્ટ્રવાદી રાજકીય વિચારધારા હિંદુત્વની સ્થાપક castiest છે અને
જરૂરી ગાંડપણ કે જે ગુસ્સો તમામ બિન chitpavan brahimins નફરત કરનારા શક્તિ કોમી duba ઉંમર આતંકવાદી સ્ટીલ્થ રાજકીય સંપ્રદાય લોભ

માનસિક અનાથાશ્રમ માં સારવાર, એક chitpavan બ્રાહ્મણ હતો. chitpavan સમુદાય કેટલાક સભ્યો વચ્ચે ડી હિંદુત્વની આલિંગવું પ્રથમ હતા
તેઓ વિચાર્યું જે વિચારધારા, પેશ્વાની અને જાતિ-સાથી તિલક ના વારસો લોજિકલ વિસ્તરણ હતી. chitpavans સાથે સ્થળ બહાર લાગ્યું

Mahatama ફુલે ના Jambudvipan સામાજિક સુધારણા ચળવળ અને Mr.MK દળ રાજકારણ ગાંધી. સમુદાય મોટી સંખ્યામાં જોવામાં
સાવરકર, હિન્દૂ મહાસભા અને છેલ્લે આરએસએસ. ગાંધીના હત્યા નારાયણ આપ્ટે અને બલૂચી ગોડસે, ફ્રિન્જ તેમના પ્રેરણા આપી હતી

પ્રત્યાઘાતી વલણ માં જૂથો.

તેથી, આરએસએસ મુખ્ય મોહન ભાગવત ઉપર તથ્યો આવરી બધા ભારતીયો સાંસ્કૃતિક ઓળખ હિંદુત્વની છે કહે છે.

દેશ ના પશ્ચિમ kobras ( konkanastha chitpavan બ્રાહ્મણ સમુદાય) પર.

chitpavan અથવા chitpawan, એક નોંધપાત્ર ખ્રિસ્તી પ્રોટેસ્ટન્ટ સાથે કોંકણ વતની બ્રાહ્મણો છે.

18 મી સદી સુધી, chitpavans સામાજિક રેન્કિંગ માં esteemed ન હતા, અને ખરેખર બ્રાહ્મણો એક કક્ષાના જાતિ હોવાથી અન્ય બ્રાહ્મણ જાતિઓ દ્વારા ગણવામાં આવતા હતા.

તે મહારાષ્ટ્રમાં સંકેન્દ્રિત રહે પણ દેશ પર વસતી તમામ અને વિશ્વના બાકીના છે (યુએસએ અને યુકે.)

બેને ઇઝરાયેલી દંતકથા અનુસાર, Chitpavan અને બેને ઇઝરાયેલ કોંકણ દરિયાકિનારે shipwrecked 14 લોકો એક જૂથ માંથી વંશજો છે. પારસીઓ, બેને ઇઝરાયેલીઓ, kudaldeshkar આભૂષણ શણગાર બ્રાહ્મણો, અને બ્રાહ્મણો સારસ્વત કોંકણી, અને chitpavan બ્રાહ્મણો સહિત અનેક ઇમિગ્રન્ટ જૂથો ઇમિગ્રન્ટ આવતા ના છેલ્લા હતા.

સતવાહન sanskritisers હતા.

તે chitpavan બ્રાહ્મણો ની નવી જૂથ કરવામાં આવી હતી કે તેમના સમયે કદાચ છે.

પણ, પ્રાકૃત મરાઠી માં લખાયેલ chitpavan અટક ghaisas સંદર્ભ, રાજા માટે વર્ષ 1060 ADbelonging એક Tamra-ખુશીથી (બ્રોન્ઝ તકતી) પર જોઈ શકાય છે
Shilahara કિંગડમ Mamruni, કોંકણ માં Diveagar પર જોવા મળે છે.

બાલાજી ભટ ના પ્રવેશ અને મરાઠા સંઘે સર્વોચ્ચ સત્તા માટે તેના કુટુંબ સાથે, chitpavan ઇમિગ્રન્ટ્સ પેશ્વા બધા મહત્વપૂર્ણ કચેરીઓ ઓફર જ્યાં પુણે માટે કોંકણ થી યુનાઇટેડ masse આવવા લાગ્યા તેના
સાથી castemen.

chitpavan કિન કર રાહત અને જમીન અનુદાન સાથે મળ્યા હતા.

ઇતિહાસકારો 1818 માં મરાઠા સામ્રાજ્યના પતન કારણો તરીકે સગાવાદ અને ભ્રષ્ટાચાર દાખવી.

રિચાર્ડ મેક્સવેલ ઈટન chitpavans વધારો રાજકીય નસીબ સાથે વધતા સામાજિક ક્રમ એક ઉત્તમ ઉદાહરણ છે કે કહે છે.

પરંપરાગત રીતે, chitpavan બ્રાહ્મણો અન્ય સમુદાયો માટે ધાર્મિક સેવાઓ આપે છે જે જ્યોતિષીઓ અને પાદરીઓ એક સમુદાય હતા.

chitpavans ની 20 મી સદીના વર્ણન અત્યંત ત્રેવડપૂર્ણ અભિગમ, untrustworthiness, conspiratorialism, phlegmatism યાદી.

કૃષિ ખેતીલાયક જમીન ધરાવે જે તે દ્વારા પ્રેક્ટિસ સમુદાયમાં બીજા મુખ્ય વ્યવસાય હતા.

બાદમાં, chitpavans વિવિધ સફેદ કોલર નોકરી અને બિઝનેસ અગ્રણી બની હતી.

મહારાષ્ટ્ર માં chitpavan બ્રાહ્મણો મોટા ભાગના તેમની ભાષા તરીકે મરાઠી અપનાવ્યા છે.

1940 સુધી, કોંકણ માં chitpavans મોટા ભાગના તેમના ઘરો માં chitpavani કોંકણી કહેવાય બોલી વાત કરી હતી.

પણ તે સમયે, અહેવાલો ઝડપી અદ્રશ્ય થઈ ભાષા તરીકે chitpavani રેકોર્ડ.

પરંતુ દક્ષિણ કન્નડા જિલ્લા અને કર્ણાટકના ઉડુપી જિલ્લા માં, આ ભાષા દુર્ગા અને Karkala તાલુકાના ની Maala જેવા અને Shishila અને Belthangady તાલુકાના ની Mundaje જેવા સ્થળોએ સ્થળોએ બોલાય કરવામાં આવી રહી છે.

મરાઠી ના chitpavani બોલી nasalized સ્વરો હોય છે, જ્યારે ધોરણ મરાઠી કોઈ સ્વાભાવિક રીતે nasalized સ્વરો છે.

અગાઉ, deshastha બ્રાહ્મણો dvijas ના noblest માટે ભાગ્યે જ સમાન (એક સામાજિક આર્થિક વર્ગ માટે એક સંબંધિત નવા આવેલા), તેઓ બધા બ્રાહ્મણો સૌથી વધુ માનતા હતા કે, અને parvenus તરીકે chitpavans પર નીચે હતા.

પણ પેશ્વા ગોદાવરી પર નાસિક @ Deshasth પાદરીઓ માટે આરક્ષિત ઘાટ વાપરવા માટે અધિકારો નકારી હતી.

deshastha બ્રાહ્મણો થી chitpavans દ્વારા સત્તા usurping અંતમાં કોલોનિયલ બ્રિટિશ ભારત સમયમાં ચાલુ જે બે બ્રાહ્મણ સમુદાયો વચ્ચે તીવ્ર દુશ્મનાવટ પરિણમી હતી.

19 મી સદીના રેકોર્ડ પણ Chitpavans, અને અન્ય બે સમુદાયો છે, નામ અનુસાર Daivajnas, અને Chandraseniya કાયસ્થ Prabhus વચ્ચે Gramanyas અથવા ગામ લેવલ ચર્ચાઓ ઉલ્લેખ.

આ એક સદી પહેલા દસ years.Half સુધી, આંબેડકર તેમના પુસ્તક ધ અનટચેબલ્સ માં વિવિધ જાતિના ભૌતિક માનવશાસ્ત્ર પર હાલની માહિતી સર્વેક્ષણ.

તેમણે જાતિ એક વંશીય આધાર ના પ્રાપ્ત શાણપણ ડેટા દ્વારા આધારભૂત ન હતી કે જોવા મળે છે, જેમ કે: બંગાળ માટે કોષ્ટક બતાવે છે કે છઠ્ઠા રહે જે chandal
જેના સંપર્કમાં pollutes, ખૂબ બ્રાહ્મણ થી અલગ નથી સામાજિક અગ્રતા યોજના અને.

બોમ્બે માં deshastha બ્રાહ્મણ પુત્ર-કોળી પોતાના compeer, chitpavan બ્રાહ્મણ માટે કરતાં માછીમાર જાતિ, માટે નજીકથી આકર્ષણ ધરાવે છે.

મહાર, મરાઠા પ્રદેશના અનટચેબલ, Kunbi, ખેડૂત સાથે આગામી આવે છે.

તેઓ ક્રમમાં shenvi બ્રાહ્મણ, નગર બ્રાહ્મણ અને ઉચ્ચ જાતિ મરાઠા અનુસરો.

આ પરિણામો સામાજિક ક્રમ અને બોમ્બે ભૌતિક તફાવત વચ્ચે કોઈ પત્રવ્યવહાર છે કે થાય છે.

ડો આંબેડકર દ્વારા નોંધવામાં ખોપરી અને નાક નિર્દેશિકાઓની, માં તફાવત એક નોંધપાત્ર કિસ્સામાં, બ્રાહ્મણ અને ઉત્તર પ્રદેશ ના (અસ્પૃશ્ય) Chamar વચ્ચે અસ્તિત્વમાં હતી.

પરંતુ આ બ્રાહ્મણો વિદેશીઓ છે તે સાબિત નથી યુપી માટે ડેટા કારણ કે બ્રાહ્મણ ખાત્રી અને પંજાબ ના અસ્પૃશ્ય Chuhra માટે તે ખૂબ જ નજીક મળી આવ્યા હતા.

U.P. તો બ્રાહ્મણ કોઈ આ દેશમાં વિદેશી થાય તે પંજાબ અછૂત કરતાં ઓછામાં ઓછા વધુ છે, યુપી માટે ખરેખર વિદેશી છે.

આ અમે વૈદિક અને ItihAsa-પુરાણ સાહિત્ય પરથી લેવામાં શકે છે, જે દૃશ્ય ખાતરી: વૈદિક પરંપરા તેના ભૂમ્યુચ્ચ પર પંજાબ-હરિયાણા માં હાર્ટલેન્ડ નિકાસ જ્યારે ત્યાં નીચલા જાતિ થી શારીરિક અસ્પષ્ટતા હતા બ્રાહ્મણો દ્વારા ડી વૈદિક હાર્ટલેન્ડ પૂર્વ લાવવામાં આવી હતી (બંગાળ અને ખ્રિસ્તી યુગના વળાંક આસપાસ દક્ષિણ માં બ્રાહ્મણો આયોજિત આયાત માટે તુલનાત્મક) સમગ્ર Aryavarta તેની સંસ્કૃતિ.

માત્ર બે જાતિ જૂથોની અસંખ્ય ઇન્ટ્રા ભારતીય સ્થળાંતર હતા.

તાજેતરના સંશોધનો આંબેડકર, દૃશ્યો નકારી કાઢ્યા છે.

કુમાર સુરેશ સિંહ આગેવાની તાજેતરમાં માનવશાસ્ત્રનાં મોજણી પર એક પ્રેસ અહેવાલ જણાવે છે: ઇંગલિશ નૃવંશશાસ્ત્રીઓ ભારતના ઉચ્ચ જાતિના કોકેશિયન રેસ સાથે સંકળાયેલ છે અને બાકીના Australoid પ્રકારના તેમના મૂળ હતી કે દલીલ.

આ મોજણી એક પૌરાણિક કથા હોઈ જાહેર છે.

જૈવિક અને ભાષાકીય, અમે ખૂબ જ મિશ્ર છે, સુરેશ સિંહ કહે છે.

આ અહેવાલમાં આ દેશના લોકો સામાન્ય વધુ જનીનો હોય છે, અને પણ મોર્ફોલોજિકલ લક્ષણો મોટી સંખ્યામાં શેર છે.

પ્રાદેશિક સ્તરે મોર્ફોલોજિકલ અને આનુવંશિક લક્ષણો દ્રષ્ટિએ ઘણી મોટી સમાંગીકરણ છે, અહેવાલ કહે છે.

ઉદાહરણ તરીકે, તામિલનાડુ (esp.Iyengars) ના બ્રાહ્મણો દેશના પશ્ચિમ અથવા ઉત્તર ભાગમાં સાથી બ્રાહ્મણો સાથે કરતાં રાજ્યમાં બિન બ્રાહ્મણો સાથે વધુ લક્ષણો શેર કરો.

પુત્રો ઓફ માટી સિદ્ધાંત પણ તોડી પાડવામાં રહે છે.

ભારત એંથ્રોપોલોજિકલ સર્વે દેશના કેટલાક અન્ય ભાગ સ્થળાંતર કર્યા યાદ પોકળ વાણી કે આ દેશમાં કોઈ સમુદાય મળ્યાં છે.

ઉપલા જાતિ માટે અલગ અથવા વિદેશી મૂળના કોઈ પુરાવા છે, જ્યારે આંતરિક સ્થળાંતર, દેશના જટિલ વંશીય લેન્ડસ્કેપ ખૂબ હિસ્સો ધરાવે છે.

શારીરિક-એન્થ્રોપોલોજીકલ મેદાન પર રેસ સાથે જાતિ (વર્ણ) ની ઓળખ અસ્વીકાર જે અન્ય વૈજ્ઞાનિકો વચ્ચે, અમે કૈલાસ સી મલ્હોત્રા દાખવી શકે છે: ઉત્તર પ્રદેશ, ગુજરાત, મહારાષ્ટ્ર, બંગાળ અને તામિલનાડુ ના લોકોમાં કરવામાં વિગતવાર anthropometric સર્વેક્ષણ નોંધપાત્ર જાહેર એક જાતિ અને વિવિધ પ્રદેશોમાં માંથી જાતિ ની પેટા વસ્તી વચ્ચે કરતાં પ્રદેશમાં અંદર વિવિધ વર્ણ જાતિ વચ્ચે નજીકથી સામ્યતા અંદર પ્રાદેશિક તફાવત.

કદ, મસ્તકીય અને અનુનાસિક ઇન્ડેક્સ, એચ.કે. વિશ્લેષણ આધારે Rakshit (1966) આ દેશના બ્રાહ્મણો વિજાતીય છે અને લોકો કરતાં વધુ સ્થળાંતર સંડોવતા એક કરતાં વધુ ભૌતિક પ્રકારના સંસ્થાપન સૂચવે છે કે પૂર્ણ થાય છે.

18 મેટ્રિક, 16 scopic અને 8 આનુવંશિક માર્કર્સ અભ્યાસ કરવામાં આવી હતી જેની પર મહારાષ્ટ્રમાં 8 બ્રાહ્મણ જાતિ વચ્ચે એક વધુ વિગતવાર અભ્યાસ, બંને મોર્ફોલોજિકલ અને આનુવંશિક લક્ષણો માં માત્ર એક મહાન વૈવિધ્યનો જાહેર પણ 3 બ્રાહ્મણ જાતિ બિન બ્રાહ્મણ જાતિ નજીક હતા કરતાં અન્ય બ્રાહ્મણ જાતિ [માટે].

P.P. મજુમદાર અને K.C. (1974) મલ્હોત્રા 11 દેશમાં રાજ્યો ફેલાયેલો 50 બ્રાહ્મણ નમૂનાઓ વચ્ચે OAB રક્ત જૂથ સિસ્ટમ માટે આદર સાથે વૈવિધ્યનો એક મહાન સોદો જણાયું હતું. પુરાવા આમ વર્ણ એક સમાન જૈવિક એન્ટિટી એક સામાજિક અને નથી કે જે સૂચવે છે.

35) Classical Hindi


35) शास्त्रीय हिन्दी

  मुफ्त ऑनलाइन ई नालंदा अनुसंधान और अभ्यास विश्वविद्यालय

अपनी खुद की मातृभाषा में सही अनुवाद प्रस्तुत करना कृपया

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत spiritualism.It के साथ कुछ नहीं मिला है जो सभी भारतीयों की सांस्कृतिक पहचान हिंदुत्व है सिर्फ एक राजनीतिक पंथ है कह रहा है
इस 1% आरएसएस chitpavans सूची अत्यधिक मितव्ययिता की 20 वीं सदी वर्णन, untrustworthiness (Duba Kors), conspiratorialism,

phlegmatism हत्या लोकतंत्र भी है लेकिन इस देश का असली आध्यात्मिकता न केवल. इस देश की सच्ची सांस्कृतिक पहचान है
सब के बाद प्रबुद्ध भारथ है कि Jambudvipan समानता, भाईचारा और स्वतंत्रता का अभ्यास बुद्ध प्रकृति के साथ एक ही जाति के हैं
 
संविधान में निहित के रूप में धम्म के आधार पर. अब यह Duba कोर ईवीएम क्योंकि उजागर हो गया है कि धोखाधड़ी Duba कोर ईवीएम है
मुख्य न्यायाधीश Sadhasivam, एक ब्राह्मण Duba कोर ईवीएम सीईसी संपत की therequest में बहुमत धोखाधड़ी tamperable Duba कोर ईवीएम मशीनों के साथ लोकसभा की अनुमति दी

एक और ब्राह्मण मास्टर कुंजी प्राप्त करने के लिए आरएसएस का भाजपा में मदद मिली है कि चरणबद्ध तरीके से Duba कोर ईवीएम मशीनों को बदलने के लिए. सभी Duba कोर ईवीएम तक
मूर्ख सबूत वोटिंग प्रणाली के साथ प्रतिस्थापित कर रहे हैं वर्तमान मुख्य न्यायाधीश वर्तमान लोकसभा स्क्रैप आदेश. और उठा के एक कॉलेजियम प्रणाली होनी चाहिए

में निहित के रूप में एक मूर्ख सबूत मतदान प्रणाली होने के लिए अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग / अल्पसंख्यक से न्यायाधीशों लिबर्टी, भाईचारे और समानता की रक्षा के लिए
संविधान. और यह भी एक मूर्ख सबूत मतदान होने के लिए अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग / अल्पसंख्यक मिलकर मुख्य चुनाव आयोग में एक कॉलेजियम प्रणाली

Duba कोर ईवीएम के बाद लोकतंत्र की हत्या को रोकने के लिए डी संविधान .. में निहित के रूप में सिस्टम लिबर्टी, भाईचारे और समानता की रक्षा के लिए
मूर्ख सबूत मतदान प्रणाली के लोकसभा चुनाव के साथ प्रतिस्थापित कर रहे हैं आयोजित किया जाना चाहिए. Chitpawan ब्राह्मणों की वजह से पूरी तरह से दरकिनार किया जाना है तो उनके

सभी गैर Ariyo ब्राह्मणों के प्रति नफरत की राजनीति, सभी गैर ariyo ब्राह्मणों, यानी Sarvajan Hitay, Sarvajan Sukhay के लिए बसपा के तहत एकजुट करने के लिए है
देश के धन को साझा करके, अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजातियों, अन्य पिछड़े वर्गों, अल्पसंख्यकों और गरीब सवर्णों सहित सभी समाजों के कल्याण और खुशी के लिए

समान रूप से संविधान में निहित के रूप में समाज के सभी वर्गों के बीच में. कल का नवाब chitpvans द्वारा अभिमानी व्यवहार के साथ संघर्ष के कारण
एम.के. की हत्या के बाद विरोधी Brahminism के रूप में के रूप में देर से 1948 में के रूप में ही प्रकट जो अन्य समुदायों द्वारा गांधी

नाथूराम गोडसे, एक chitpavan. बाल गंगाधर तिलक 1818 में मराठा साम्राज्य के पतन के बाद, chitpavans उनके राजनीतिक प्रभुत्व खो दिया
British.The अंग्रेजों को उनकी जाति साथी, पेशवाओं अतीत में किया था कि एक ही पैमाने पर chitpavans घूस नहीं होगा. वेतन

और सत्ता अब काफी कम हो गया था. गरीब chitpavan छात्रों अनुकूलित और क्योंकि में बेहतर अवसरों की अंग्रेजी सीखने की शुरुआत की
ब्रिटिश प्रशासन. मजबूत प्रतिरोध से कुछ भी बदलने के लिए बहुत ही समुदाय से आया है. Jealously उनकी रखवाली

ब्राह्मण कद, chitpavans बीच रूढ़िवादी शास्त्रों चुनौती दी देखने के लिए उत्सुक नहीं थे, न ही ब्राह्मणों का आचरण बनने
sudras के उस से अप्रभेद्य. मोहरा और पुराने गार्ड कई बार भिड़ गए. Chitpavan समुदाय प्रमुख दो शामिल

गांधीवादी परंपरा में राजनेताओं: अपने बकाया की वह एक गुरु के रूप में स्वीकार किया जिसे गोपाल कृष्ण गोखले, और विनोबा भावे, एक
शिष्यों. गांधी ने अपने चेलों के गहना के रूप में भावे का वर्णन है, और अपने राजनीतिक guru.However, गांधी के लिए मजबूत विपक्ष के रूप में गोखले को मान्यता दी

भी chitpavan community.VD सावरकर के भीतर से आया है, हिंदू राष्ट्रवादी राजनीतिक विचारधारा हिंदुत्व के संस्थापक castiest है और
आवश्यकता के पागलपन है कि जो क्रोध सभी गैर chitpavan brahimins नफरत बिजली की सांप्रदायिक Duba ने कोर उग्रवादी चुपके राजनीतिक पंथ लालच

मानसिक asylums में इलाज, एक chitpavan ब्राह्मण था. Chitpavan समुदाय के कई सदस्यों के बीच डी हिंदुत्व गले लगाने के लिए पहले किए गए
उन्होंने सोचा जो विचारधारा, पेशवाओं और जाति साथी तिलक की विरासत का एक तार्किक विस्तार था. ये chitpavans साथ जगह से बाहर महसूस किया

महात्मा फुले के Jambudvipan समाज सुधार आंदोलन और Mr.MK की जन राजनीति गांधी. समुदाय की बड़ी संख्या को देखा
सावरकर, हिंदू महासभा और अंत में आरएसएस. गांधी के हत्यारों नारायण आप्टे और नाथूराम गोडसे, फ्रिंज से उनकी प्रेरणा आकर्षित किया

इस प्रतिक्रियावादी रुझान में समूहों.

इसलिए, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत उपरोक्त तथ्यों को कवर सभी भारतीयों की सांस्कृतिक पहचान हिंदुत्व है कह रहा है.

देश के पश्चिम की kobras (konkanastha chitpavan ब्राह्मण समुदाय) पर.

Chitpavan या chitpawan, एक बड़ा ईसाई प्रोटेस्टेंट साथ कोंकण का निवासी ब्राह्मण हैं.

18 वीं सदी तक, chitpavans सामाजिक रैंकिंग में सम्मानित नहीं किया गया है, और वास्तव में ब्राह्मणों के एक अवर जाति होने के रूप में अन्य ब्राह्मण जनजातियों द्वारा विचार किया गया.

यह महाराष्ट्र में केंद्रित रहता है बल्कि देश भर में आबादी सब और दुनिया के बाकी है (संयुक्त राज्य अमेरिका और ब्रिटेन.)

बेने इस्राइली पौराणिक कथा के अनुसार, Chitpavan और बेने इज़राइल कोंकण तट पर shipwrecked 14 लोगों के एक समूह से वंशज हैं. पारसी, बेने इजरायल, kudaldeshkar गौड़ ब्राह्मण, और ब्राह्मणों सारस्वत कोंकणी, और chitpavan ब्राह्मणों सहित कई आप्रवासी समूहों इन आप्रवासी पहुँचने के अंतिम थे.

सातवाहन sanskritisers थे.

यह chitpavan ब्राह्मणों के नए समूह का गठन किया गया है कि उनके समय में संभवतः है.

इसके अलावा, Prakrut मराठी में लिखा chitpavan उपनाम ghaisas के लिए एक संदर्भ, राजा को वर्ष 1060 ADbelonging के Tamra-पैट (कांस्य पट्टिका) पर देखा जा सकता है
Shilahara किंगडम के Mamruni, कोंकण में Diveagar में पाया.

बालाजी भट्ट के परिग्रहण और मराठा महासंघ के सर्वोच्च अधिकार के लिए अपने परिवार के साथ, chitpavan आप्रवासियों पेशवा सभी महत्वपूर्ण कार्यालयों की पेशकश की है, जहां से पुणे कोंकण से सामूहिक रूप से पहुंचने लगे अपने
साथी castemen.

Chitpavan परिजन कर राहत एवं भूमि के अनुदान के साथ पुरस्कृत किया गया.

इतिहासकारों 1818 में मराठा साम्राज्य के पतन के कारणों के रूप में भाई भतीजावाद और भ्रष्टाचार का हवाला देते हैं.

रिचर्ड मैक्सवेल इटन chitpavans की इस वृद्धि के राजनीतिक भाग्य के साथ बढ़ती सामाजिक रैंक के एक क्लासिक उदाहरण है जो बताता है.

परंपरागत रूप से, chitpavan ब्राह्मणों अन्य समुदायों के धार्मिक सेवाओं की पेशकश जो ज्योतिषियों और पुजारियों के एक समुदाय के थे.

Chitpavans की 20 वीं सदी वर्णन अत्यधिक मितव्ययिता, untrustworthiness, conspiratorialism, phlegmatism सूची.

कृषि योग्य भूमि के अधिकारी जो उन द्वारा अभ्यास समुदाय में दूसरा प्रमुख व्यवसाय था.

बाद में, chitpavans विभिन्न सफेद कॉलर नौकरियों और व्यापार में प्रमुख बने.

महाराष्ट्र में chitpavan ब्राह्मणों के अधिकांश उनकी भाषा के रूप में मराठी अपनाया है.

1940 के दशक तक, कोंकण में chitpavans से ज्यादातर ने अपने घरों में chitpavani कोंकणी नामक एक बोली में बात की थी.

उस समय भी, रिपोर्ट एक तेजी से गायब भाषा के रूप में chitpavani दर्ज की गई.

लेकिन दक्षिण कन्नड़ जिले और कर्नाटक के उडुपी जिले में, इस भाषा दुर्गा और करकला तालुक के Maala की तरह और भी Shishila और Belthangady तालुक के Mundaje जैसी जगहों में स्थानों में बात की जा रही है.

मराठी के chitpavani बोली nasalized स्वरों है जबकि मानक मराठी में कोई स्वाभाविक nasalized स्वरों कर रहे हैं.

इससे पहले, deshastha ब्राह्मणों dvijas के noblest के लिए मुश्किल से बराबर (एक सामाजिक आर्थिक वर्ग के लिए एक रिश्तेदार नवागंतुक), वे सभी ब्राह्मणों के उच्चतम मानना ​​था कि, और parvenus रूप chitpavans पर नीचे देखा.

यहां तक ​​कि पेशवा गोदावरी पर नासिक @ Deshasth पुजारियों के लिए आरक्षित घाट का उपयोग करने के अधिकार से इनकार किया था.

Deshastha ब्राह्मणों से chitpavans द्वारा शक्ति का यह usurping देर औपनिवेशिक ब्रिटिश भारत के समय में जारी रखा जो दो ब्राह्मण समुदाय के बीच तीव्र प्रतिद्वंद्विता में हुई.

19 वीं सदी के रिकॉर्ड भी Chitpavans, और दो ​​अन्य समुदायों, अर्थात् Daivajnas, और Chandraseniya कायस्थ Prabhus बीच Gramanyas या गांव स्तर की बहस का उल्लेख है.

यह एक सदी पहले के बारे में दस years.Half के लिए चली, अम्बेडकर ने अपनी पुस्तक अछूत में विभिन्न जातियों की शारीरिक नृविज्ञान पर मौजूदा डेटा का सर्वेक्षण किया.

उन्होंने कहा कि जाति का एक जातीय आधार के प्राप्त ज्ञान डेटा द्वारा समर्थित नहीं किया गया था कि पाया, जैसे: बंगाल के लिए तालिका से पता चलता है कि में छठे खड़ा जो चांडाल
जिसका स्पर्श pollutes, ज्यादा ब्राह्मण से भेदभाव नहीं है सामाजिक पूर्वता की योजना और.

बंबई में deshastha ब्राह्मण दामाद कोली, अपने ही साथी, chitpavan ब्राह्मण की तुलना में एक मछुआरे जाति को करीब समानता भालू.

महार, मराठा क्षेत्र के अछूत, Kunbi, किसान के साथ मिलकर अगले आता है.

वे क्रम में shenvi ब्राह्मण, नगर ब्राह्मण और उच्च जाति मराठा का पालन करें.

इन परिणामों के सामाजिक उन्नयन और बंबई में शारीरिक भिन्नता के बीच कोई पत्राचार नहीं है कि मतलब है.

डॉ अम्बेडकर ने कहा है खोपड़ी और नाक अनुक्रमित, में भेदभाव का एक उल्लेखनीय मामला, ब्राह्मण और उत्तर प्रदेश की (अछूत) चमार के बीच मौजूद पाया गया.

लेकिन यह ब्राह्मण विदेशी हैं कि साबित नहीं करता है के लिए डेटा क्योंकि ब्राह्मण Khattri और पंजाब के अछूत Chuhra के लिए उन लोगों के लिए बहुत करीब होना पाया गया है.

उप्र हैं ब्राह्मण कोई इस देश को विदेशी तरह से वह पंजाब अछूतों की तुलना में कम से कम नहीं अधिक है, अप करने के लिए वास्तव में विदेशी है.

यह हम वैदिक और ItihAsa-पुराण साहित्य से प्राप्त कर सकते हैं जो परिदृश्य की पुष्टि: वैदिक परंपरा अपने APOGEE पर पंजाब हरियाणा में गढ़ निर्यात जब वहाँ निचली जातियों से शारीरिक रूप से पृथक किया गया है जो ब्राह्मणों ने डी वैदिक गढ़ से पूर्व लाया गया था (बंगाल और ईसाई युग के अंत के आसपास दक्षिण में ब्राह्मणों की योजना बनाई आयात की तुलना में) पूरे Aryavarta को अपनी संस्कृति.

ये सिर्फ दो जाति समूहों के कई इंट्रा भारतीय माइग्रेशन के थे.

हाल के शोध अम्बेडकर, विचारों का खंडन नहीं किया है.

सुरेश कुमार सिंह के नेतृत्व में हाल ही में एक मानव विज्ञान सर्वेक्षण पर एक प्रेस रिपोर्ट बताते हैं: अंग्रेजी मानवविज्ञानी भारत की ऊंची जातियों कोकेशियान जाति के थे और बाकी ऑस्ट्रेलियाड प्रकार से उनके मूल आकर्षित किया है कि तर्क.

सर्वेक्षण एक मिथक होने के लिए यह पता चला है.

Biologically और भाषायी, हम बहुत मिश्रित कर रहे हैं, सुरेश सिंह कहते हैं.

रिपोर्ट में इस देश के लोगों को आम में अधिक जीन है, और भी रूपात्मक लक्षण की एक बड़ी संख्या है कि शेयर कहते हैं.

क्षेत्रीय स्तर पर रूपात्मक और आनुवंशिक लक्षण के मामले में बहुत अधिक homogenization है, रिपोर्ट कहती है.

उदाहरण के लिए, तमिलनाडु (esp.Iyengars) के ब्राह्मणों देश के पश्चिमी या उत्तरी भाग में साथी ब्राह्मणों के साथ तुलना में राज्य में गैर ब्राह्मणों के साथ और अधिक लक्षण साझा.

बेटों को मिट्टी सिद्धांत भी ध्वस्त खड़ा है.

भारत के मानव विज्ञान सर्वेक्षण देश के किसी अन्य भाग से माइग्रेट होने याद नहीं कर सकते कि इस देश में कोई समुदाय में पाया गया है.

ऊंची जातियों के लिए एक अलग या विदेशी मूल का कोई सबूत नहीं है, जबकि आंतरिक प्रवास, देश की जटिल जातीय परिदृश्य के अधिक के लिए खातों.

भौतिक, मानवविज्ञान मैदान में दौड़ के साथ जाति (वर्ना) की पहचान को अस्वीकार जो अन्य वैज्ञानिकों के अलावा, हम कैलाश सी मल्होत्रा ​​का हवाला देते हैं हो सकता है: उत्तर प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, बंगाल और तमिलनाडु के लोगों के बीच से बाहर किया विस्तृत मानवशास्त्रीय सर्वेक्षण महत्वपूर्ण पता चला एक जाति और विभिन्न क्षेत्रों से जाति की उप आबादी के बीच से एक क्षेत्र के अंतर्गत विभिन्न वर्णों की जातियों के बीच करीब एक समानता के भीतर क्षेत्रीय मतभेद.

कद, मस्तक और नाक सूचकांक, एच के विश्लेषण के आधार पर रक्षित (1966) इस देश के ब्राह्मणों विषम हैं और लोगों के एक से अधिक प्रवास से जुड़े एक से अधिक शारीरिक प्रकार के समावेश का सुझाव है कि निष्कर्ष निकाला है.

18 मीट्रिक, 16 scopic और 8 आनुवंशिक मार्करों अध्ययन किया गया है जिस पर महाराष्ट्र में 8 ब्राह्मण जातियों में एक अधिक विस्तृत अध्ययन, दोनों रूपात्मक और आनुवंशिक विशेषताओं में न केवल एक महान विविधता का पता चला, लेकिन यह भी 3 ब्राह्मण जाति गैर ब्राह्मण जाति के करीब थे कि पता चला अन्य की तुलना में ब्राह्मण जाति [करने के लिए].

पी.पी. मजूमदार और के.सी. (1974) मल्होत्रा ​​11 देश राज्यों में फैले 50 ब्राह्मण नमूनों के बीच OAB रक्त समूह प्रणाली के संबंध में विविधता का एक बड़ा सौदा मनाया. सबूत इस प्रकार वर्ना एक सजातीय जैविक इकाई एक समाजशास्त्रीय और नहीं है कि पता चलता है.


Leave a Reply