Free Online JC PURE INSPIRATION to Attain NIBBĀNA the Eternal Bliss and for free birds 🐦 🦢 🦅 to grow fruits 🍍 🍊 🥑 🥭 🍇 🍌 🍎 🍉 🍒 🍑 🥝 vegetables 🥦 🥕 🥗 🥬 🥔 🍆 🥜 🪴 🌱 🎃 🫑 🍅🍜 🧅 🍄 🍝 🥗 🥒 🌽 🍏 🫑 🌳 🍓 🍊 🥥 🌵 🍈 🌰 🇧🇧 🫐 🍅 🍐 🫒 Youniversity
Kushinara NIBBĀNA Bhumi Pagoda White Home, Puniya Bhumi Bengaluru, Prabuddha Bharat International.
Categories:

Archives:
Meta:
June 2022
M T W T F S S
« May    
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930  
04/19/16
1841 Wed Apr 20 2016 LESSONS from INSIGHT-NET-Hi Tech Radio Free Animation Clipart Online A1 (Awakened One) Tipiṭaka Research & Practice University in Visual Format (FOA1TRPUVF) through http://sarvajan.ambedkar.org Button Plant Green Butterfly E Mail Animation Clipaonesolarpower@gmail.com Classical Buddhism (Teachings of the Awakened One with Awareness) belong to the world, and everyone have exclusive rights:JCMesh J Alphabets Letter Animation ClipartMesh C Alphabets Letter Animation Clipart Rendering exact translation as a lesson of this University in one’s mother tongue to this Google Translation and propagation entitles to become a Stream Enterer (Sottapanna) and to attain Eternal Bliss as a Final Goal. list of websites propagating the teachings of The Awakened One with Awareness i.e., Buddha Tripitaka in Visual format http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907 http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1. http://news. xinhuanet. com/english/ 2009-07/27/ content_11780918 .htm www.chinaview. cn www.buddhismandbusi ness.webs. com http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/ www.grameenfoundation.org http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/ http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/ in Classical English,Bengali- ক্লাসিক্যাল বাংলা,Malayalam- ക്ലാസ്സിക്കൽ മലയാളം,Tamil-பாரம்பரிய இசைத்தமிழ் செம்மொழி,Hindi- शास्त्रीय हिन्दी,Punjabi- ਕਲਾਸੀਕਲ ਦਾ ਪੰਜਾਬੀ,Kannada- ಶಾಸ್ತ್ರೀಯ ಕನ್ನಡ,Telugu-ప్రాచీన తెలుగు,Marathi - शास्त्रीय मराठी,
Filed under: General
Posted by: site admin @ 11:58 pm

1841 Wed Apr 20 2016

LESSONS


from

INSIGHT-NET-Hi Tech Radio Free Animation Clipart Online A1 (Awakened One) Tipiṭaka Research & Practice University
in Visual Format (FOA1TRPUVF)  

through http://sarvajan.ambedkar.org

Button Plant Green Butterfly E Mail Animation Clipaonesolarpower@gmail.com

Classical Buddhism (Teachings of the Awakened One with Awareness) belong to the world, and everyone have exclusive rights:JCMesh J Alphabets Letter Animation ClipartMesh C Alphabets Letter Animation Clipart

Rendering
exact translation as a lesson of this University  in one’s mother
tongue to this Google Translation and propagation entitles to become a
Stream Enterer (Sottapanna) and to attain Eternal Bliss as a Final Goal.

list of websites propagating the teachings of The Awakened One with Awareness i.e., Buddha Tripitaka in Visual format
http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907
http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1.
http://news. xinhuanet. com/english/ 2009-07/27/ content_11780918 .htm
www.chinaview. cn
www.buddhismandbusi ness.webs. com
http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/
www.grameenfoundation.org

http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/
http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf

http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/

in Classical English,Bengali- ক্লাসিক্যাল বাংলা,

Malayalam- ക്ലാസ്സിക്കൽ മലയാളം,Tamil-பாரம்பரிய இசைத்தமிழ் செம்மொழி,Hindi- शास्त्रीय हिन्दी,Punjabi- ਕਲਾਸੀਕਲ ਦਾ ਪੰਜਾਬੀ,Kannada- ಶಾಸ್ತ್ರೀಯ ಕನ್ನಡ,Telugu-ప్రాచీన తెలుగు, Marathi - शास्त्रीय मराठी,

http://www.dailyo.in/politics/br-ambedkar-dalit-politics-caste-system-rss-narendra-modi-sangh-parivar-organiser-hindutva/story/1/10103.html


That awkward moment RSS realised it’s been in love with SC/STs all along



From being ‘anti-caste’ to turning ‘pro-Ambedkar’, the godly men of Nagpur are perfect in the art of (mis)appropriation.


Valay Singh Rai

Valay Singh Rai


palimpsest of ideologies formed
by the falling of Ram Navmi (the day Lord Ram was born) and Ambedkar
Jayanti on consecutive days allows us to look at the “race to
misappropriate Ambedkar” through these two antithetical figures. One, Ram,
however a mythological character, dominates political Hindutva as
championed by the RSS (Rashtriya Swamasevak Sangh).

In 1954, Dr Ambedkar, in his series of essays called Riddles of Hindusim,
lays bare his views on both Ram and Krishna. Besides other flaws, he
holds Ram responsible for the murder of Shambuka, a “Shudra” (aboriginal Adi-Mulanivasis(socalled untouchable SC/STs) not
too far from present-day Nagpur, for the sake of Brahmin appeasement.



None of the speeches made by RSS or BJP leaders on Dr
Ambedkar’s birth anniversary cared to touch upon this bedrock of (aboriginal Adi-Mulanivasis(socalled untouchable SC/STs)
politics; that oppression by upper castes is endorsed by Hindu myths.
This didn’t stop them from trying to lay credit on Ambedkar and his
politics though.



But, speaking in many tongues is an old RSS tactic.



From being anti-caste to turning pro-Ambedkar, the godly men
of Nagpur are perfect when it comes to the art of (mis)appropriation.

Organiser’s April 17, 2016 issue has Ambedkar on the front page.





In 2006, Organiser, the RSS loudspeaker, published a
scathing article by its editor MV Kamath against reservations. It said,
” …how long is this reservation system to last? Five more years? Ten?
Fifteen? Twenty five? Fifty? Another sixty? When will this stop? There
must be a clear understanding on the issue so that those involved know
where they stand. Governmental complacency is as much to be blamed as SC/ST complacency.”  



It also said: “Reservations have been the bane of our
society. Reservations have perpetuated the caste, class and religious
divide in our society which is self-destructive. Instead of forgetting
their caste or religious affiliations, the people belonging to various
social groups have long-and insistently-felt the need to maintain their
identities in order to get a share of the power-cake.”



This is an old Hindutva trope: reservations breed
incompetence and devalue merit. They are counter-productive and were
responsible for the “brain-drain” from India. These are the famous
grouse of India’s upper-castes.



“When one is used to privilege, equality feel like
oppression”, whoever said this, was also speaking on behalf of India’s
elites, who had to unlearn and give up attitudes and privileges acquired
over centuries, once Jambudvipa i.e., Prabuddha bharath became a constitutional democracy.



68 years later they are still unlearning and the pace has only slowed down since the Murderer of democratic institutions (Modi).



Since
1949, when it burnt Dr Ambedkar’s effigy for the
first time, the RSS (Rakshash Swayam Sevaks), in myriad savarna ways,
has finally got afraid, that it can no longer appear to treat Jambudvipa
i.e., Prabuddha bharaths like lesser
human beings.



The fear is catalysed by the country-wide
mobilisation of SC/ST forces and progressive groups after the student
wing of the BJP (Bahuth Jiyadha Psychopaths) ABVP (All Brahmin Venomous Psychopath) colluded with Hyderabad Central University
administration against Rohith Vemula and other SC/ST students. If the
anti-SC/ST tag has been like a birthmark, like a mole, for the RSS and
BJP, Rohith’s death and its treatment has transformed it into an
inerasable blotch on their faces.



It is to dispel this impression that the RSS is doing all
it can to shed the anti-SC/ST tag. RSS organised “guards of honour” at
Ambedkar statues in various places in the country as well at his
birthplace Mhow in Madhya Pradesh.



While no party can claim to
have done justice for SC/STs,
the BJP is certainly the last party that should try to appropriate
SC/STs. In Mhow itself, SC/STs are still forced by upper-castes to
cremate their dead in a separate burning ground. Madhya Pradesh tops the
chart when it comes to atrocities against SC/STs.



In 2013, a written order by a collector was issued,
demanding that in order for a SC/ST to obtain a scholarship, he/she must
produce a photograph with a dead animal as “proof”. The Murderer of democratic institutions (Modi-presstitute dead wood media)
campaign to rebrand itself as pro-SC/ST cannot succeed till such
incidents keep taking place under the aegis of RSS and its avathars.



Another example that illustrates the Sangh agenda of
upper-caste domination is reflected in the tourism campaign of
neighbouring Rajasthan. For decades, royals and traders have held the
power-knobs of this state: while the royals have packaged culture to be
sold to foreign tourists, the traders have benefitted  from it equally
since Country’s economic liberalisation in 1991.



Its latest advertising campaign brands itself as
“Aryasthan” through the eyes of a tourist who could be this country man or not,
but the name Arya cannot be a coincidence. It lies at the core of the
RSS view of Aryavrat, the land of Aryas: the noble race that
brought civilisation to the sub-continent. How about calling Rajasthan,
Meenasthan or Banjarasthan or even SC/STsthan!



It is unlikely to happen at least in the
present Vasundhara
Raje government’s tenure which is currently shielding the principal and
warden of the college where Delta Meghwal, a SC student was raped
and murdered. Even in 2016, and even under a Murderer of democratic
institutions (Modi), atrocities against SC/STs continue unabated and
might
have increased in fact.



Murderer of democratic institution(Modi)’s opportunistic ‘SC/ST Prem’



On
April 14, the 125th birth anniversary of Dr Ambedkar, Murderer of
democratic institution(Modi) thanked him for creating the constitutional
framework that allowed
the son of a poor person to become the prime minister and in typical
Modispeak, he praised farmers and showered accolades and pithy
adjectives on them like the Devil quoting the Script and eating the cake
and still having it.

Murderer of democratic institution(Modi) addresses a gathering on Ambedkar Jayanti.  





Ironical
and self-explanatory is the fact that while a
person from a marginalised community can be the prime minister, it is,
nevertheless, still impossible for him/her to become the chief of the
RSS as it is the property of 1% intolerant chitpawan brahmins, where
Modi was once a pracharak as a slave of this 1% chitpawan brahmins. The
RSS will never have asingle SC/ST in its top rungs leave alone a SC/ST
heading the
organisation itself. One wonders if the
Murderer of democratic institution(Modi) has to say
something about this.



Murderer of democratic institution(Modi)’s love for SC/STs is not surprising given they are
crucial to the formation of any government be it in the states or at
centre. What is intriguing is the RSS’ new found love for Dr Ambedkar.
Its mouthpiece Organiser’s April 17 issue has Ambedkar on the front page and there are reams of pages praising his politics.



Sample this from the editorial, “There is a need to
implement the spirit of reservation more vigorously and genuinely,
beyond short term political considerations, so that we can attain the
social equality and fraternity expected by Babasaheb as early as
possible”. In its entire history, the RSS has never given a “guard of
honour’ to Dr Ambedkar; also, in the last ten years at least, the Organiser
has never had a cover story on Ambedkar; and, most importantly, in the
last ten years, there has not been a SC/ST mobilisation except offering a
chitpawan brahmin girl to marry a SC/ST boy, in the manner
and degree that we are witnessing today. “This waqat ki Ram Ram” or
“waqat ki Ambedkar Ambedkar” for the greed for power.



Perhaps this more than anything else explains the mad rush
to appropriate Ambedkar by the Hindutva brigade. But, the indelible
anti-caste taint on them was only made darker and deeper by the
conversion of Rohith’s family to Buddhism.

rss-dalit-love-rohit_041516062554.jpg
 





Like Dr Ambedkar who famously said, “I was born a Hindu but
I will not die a Hindu”, and embraced Buddhsim in 1956, 60 years later
Rohith’s family converted to Buddhism (dismissed by RSS as an “offshoot
of hindutva”).



“From today, my mother and I will be free from shame, free
from the daily humiliation, free from the guilt of praying to the same
god in whose name our people have been tortured for centuries”, his
brother Raja said after the conversion.



The high priests of 1%
intolerant, militant, violent, lunatic, mentally retarded, shooting,
lynching cannibal cowherd scare crow psychopath chitpawan brahmin  RSS
(Rakshasa Swayam Sevaks) and all its avathars BJP(Bahuth Jiyadha
Psychopaths) VHP (Venomous Hintutva Psychopaths), ABVP (All brahmin
Venomous Psychopaths) Bhajan Dal, and Murderer of democratic
institutions (Modi) who were selected by tampering fraud EVMs  should
heed these words.


Ex 
CJI EVM SADHASIVAM, shirked its duty & committed a grave error of
judgment by allowing in phased manner Fraud Tamperable EVMs on the
request of CEC EVM SAMPATH because of the 1600 crore cost to replace
them and dealt a fatal blow to the Country’s democracy.

Ex CJI
did not order for ballot paper system would be brought in. No such
precautionary measure was decreed by the apex court. Ex  CJI did not
order that till the time this newer set of about 1300000 voting machines
is manufactured in full & deployed totally. All the people in 80
democracies in the world who simply done away with fradulent EVMs.
Therefore all people who believe in Democracy, Liberty, Equality and
fraternity should not recognise Murderers of democratic institutions
(Modi) and their governance of this country with a wonderful
Constitution.

As a clear proof :
Ms
Mayawati ex Chief Minister of Uttar Pradesh and Chief of Bahujan Samaj
Party (BSP) won in the Panchayat Elections conducted through paper
ballots, while it could not win a single seat in Lok Sabha elections
conducted through EVMs vulnerable to fraud. As CM of UP, her governance
was the best by distributing the wealth proportionally among all
sections of the society and became eligible to become the Prime Minister
of this country. This was not tolerated by the traditional manuvadis.
So the fraud EVMs were tampered to defeat her.



http://www.ndtv.com/india-news/they-have-failed-on-all-fronts-mayawati-attacks-pm-modi-samajwadi-party-1395414


They Have ‘Failed’ On All Fronts: Mayawati Attacks  Modi, Samajwadi Party


They Have 'Failed' On All Fronts: Mayawati Attacks PM Modi, Samajwadi Party

http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903

BJP Spreading ‘Religious Fundamentalism’, Says Mayawati.


BSP chief Mayawati said the BJP has spoilt the hopes of ushering in ‘hey days’ for farmers, poor and small traders .


Bahujan Samaj Party (BSP) chief Mayawati accused the Bharatiya Janata Party (BSP) of spreading “religious fundamentalism” and hatred in its bid to convert the country into a ‘Hindutva rashtra’.


 BJP has spoilt the hopes of ushering in ‘hey days’ for farmers, poor and small TRADERS and only a “handful” of capitalists and industrialists have benefited.


“In a bid to divert people’s attention from issues like price rise, imposition of taxes which have led to large-scale public anger, BJP and its organisations are trying to provoke issues

like religious fundamentalism, mutual hatred and pseudo nationalism,”
she said.


She also said that the BJP  is following the “narrow and casteist philosophy” of its parent organisation RSS to convert this country into a “Hindutva rashtra”.


In the process, it has sacrificed national and public interest and has “fully ignored” matters like poverty, unemployment, peace and price rise, a statement quoting her said.


Referring to the issue of corruption, she said the BJP and Congress are two sides of the same coin.


“The way BJP government is trying to protect the corrupt, it is possible that it will beat the corruption of Congress in the coming years,” she said.


She alleged the BJP and Congress governments in states are indulging in atrocities against SC/STs and those belonging to the weaker sections of the society.


“Though they opposed the SC/ST icons throughout their lives, they use their names now to further their political interests,” the former Uttar Pradesh Chief Minister said


2.

Now the CEC says that all the EVMs will be replaced in the 2019 general elections.

http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms

2019 general elections to have paper-trail electronic voting machines: Nasim Zaidi, CEC


3. When the BJP was in Opposition RSS  favoured paper ballotsas EVMs were subjected to public scrutiny

http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html

Joining the controversy regarding the reliablity of Electronic Voting
Machines (EVMs) which have been questioned by political parties, the
RSS t asked the Election Commission (EC) to revert back to tried
and tested paper ballots…



Yet
they are involved in all sorts of theatrics including digging the so
called disproportionate against he which proves that she is treading the
right path . Babasaheb Dr BR Ambedkar said that when a brahmin tries to
trouble SC/STs that means that they are on the right path. The RSS and
all its avathars including BJP are cowherds and scare crows since they
are affraid of all their evil activities which are violent, militant
full of intolerance and hatred by nature. They have become mentally
retarded psychopaths lunatics and mad with these evil practices that
need mental treatment in mental asylums.

5)    Classical Bengali
5) ক্লাসিক্যাল বাংলা

1841 বুধ 20 Apr 2016
পাঠ

থেকে

অন্তর্দৃষ্টি-নেট-অনলাইন ক 1 (এক জাগরিত) ত্রিপিটক রিসার্চ অ্যান্ড প্র্যাকটিস বিশ্ববিদ্যালয়
ভিসুয়াল বিন্যাস (FOA1TRPUVF)
http://sarvajan.ambedkar.org মাধ্যমে
aonesolarpower@gmail.com

ক্লাসিক্যাল বৌদ্ধধর্ম (সচেতনতা সঙ্গে জাগরিত এক আইন-কানুন) দুনিয়ার আর সবাই একচেটিয়া অধিকার আছে: জে.সি.

এক মায়ের মধ্যে এই বিশ্ববিদ্যালয়ের একটি পাঠ হিসাবে সঠিক অনুবাদ রেন্ডারিং
এই গুগল অনুবাদ এবং প্রসারণ করতে জিহ্বা পরিণত অপেক্ষা
প্রবেশক (Sottapanna) স্ট্রিম এবং একটি চূড়ান্ত লক্ষ্য হিসেবে শাশ্বত সুখ অর্জন করা.

সচেতনতা সঙ্গে প্রবুদ্ধ ওয়ান শিক্ষাগুলো প্রচারের ওয়েবসাইটের তালিকা অর্থাত, বুদ্ধ ত্রিপিটক মধ্যে ভিসুয়াল বিন্যাস
http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907
http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1.
HTTP: // সংবাদ. xinhuanet. com যুক্ত করুন / ইংরেজি / 2009-07 / 27 / content_11780918 .htm
www.chinaview. সিএন
www.buddhismandbusi ness.webs. com যুক্ত করুন
http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/
www.grameenfoundation.org

http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/
http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf

http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/

http://www.dailyo.in/politics/br-ambedkar-dalit-politics-caste-system-rss-narendra-modi-sangh-parivar-organiser-hindutva/story/1/10103.html

Valay সিং রাই

পরপর
দিন রাম Navmi (দিনে পালনকর্তা রাম জন্মগ্রহণ করেন) এবং আম্বেদকর জয়ন্তী
পতনশীল দ্বারা গঠিত মতাদর্শের একজন পালিম্পসেট আমাদের এই দুই বিরূদ্ধ
পরিসংখ্যান মাধ্যমে “আম্বেদকর যথাযথ জাতি” তাকান করতে সক্ষম হবেন.
এক, রাম, তবে একটি পৌরাণিক চরিত্র, যেমন আরএসএস (রাষ্ট্রীয় Swamasevak সংঘ) দ্বারা প্রবক্তা রাজনৈতিক হিন্দুত্ববাদী প্রাধান্য পায়.

1954 সালে ডঃ আম্বেদকর, প্রবন্ধ হিন্দু এর Riddles, নামক তার সিরিজ, রাম এবং কৃষ্ণ উপর খালি তার মতামত পাড়ে. অন্যান্য ত্রুটি এছাড়া তিনি Shambuka, একটি “শূদ্র” (আদিবাসী
আদি-Mulanivasis হত্যার জন্য রাম দায়ী ঝুলিতে (socalled অস্পৃশ্য এসসি /
এস টি এস) খুব অধুনাতন নাগপুর থেকে দূরে নয়, ব্রাহ্মণ তোষণ জন্যে.


আম্বেদকরের জন্ম বার্ষিকীতে আরএসএস বা বিজেপি নেতাদের দ্বারা তৈরি
বক্তৃতার কোনটিই নয় (আদিবাসী আদি-Mulanivasis (socalled অস্পৃশ্য এসসি /
এস টি এস) রাজনীতি এই bedrock উপর স্পর্শ করতে যত্ন;. উচ্চবর্ণের দ্বারা যে
নিপীড়ন হিন্দু পৌরাণিক কাহিনী দ্বারা অনুমোদিত হয় এই করিনি ‘
টন তাদের যদিও আম্বেদকর এবং তার রাজনীতি ক্রেডিট স্থাপন করার চেষ্টা থেকে বিরত.

কিন্তু, অনেক ভাষায় কথা বলতে একটি পুরনো আরএসএস কৌশল.

প্রো-আম্বেদকর বাঁক বিরোধী বর্ণ হওয়া থেকে, নাগপুরের ধার্মিক পুরুষদের নিখুঁত যখন এটা (এমআইএস) উপযোজন শিল্প আসে.

সংগঠক এপ্রিল 17, 2016 ইস্যু সামনে পাতা আম্বেদকর হয়েছে.

2006 সালে, সংগঠক, আরএসএস লাউড্স্পীকার, তার সম্পাদক রিজার্ভ বিরুদ্ধে এমভি Kamath দ্বারা একটি কঠোর নিবন্ধ প্রকাশিত. এতে
বলা হয়, “… আর কতকাল এই রিজার্ভেশন সিস্টেম স্থায়ী হয়? আরো পাঁচটি
বছর? দশ? পনেরো? পঁচিশ? পঞ্চাশ? আরেকটি ষাট? যখন এই বন্ধ করবে? সেখানে এ
বিষয়ে একটি স্পষ্ট বোঝা হতে হবে যাতে জড়িতদের জানো কোথায়
তারা দাঁড়ানো. সরকারী প্রসন্নতা এসসি / এসটি প্রসন্নতা হিসাবে দায়ী করা যতটা না. “

এতে
আরো বলা হয়: “রিজার্ভেশন আমাদের সমাজের সর্বনাশ হয়েছে রিজার্ভেশন বর্ণ,
শ্রেণী ও আমাদের সমাজে ধর্মীয় বিভক্তি যা স্ব-ধ্বংসাত্মক বজায় রেখেছে
তাদের বর্ণ বা ধর্মীয় বিশ্বাস বিস্মরণ পরিবর্তে, মানুষ বিভিন্ন সামাজিক
দলের একাত্মতার আছে..
দীর্ঘ-শৃঙ্খলা ক্ষমতা- পিষ্টক একটি অংশ পেতে তাদের পরিচয় বজায় রাখার প্রয়োজনীয়তার জোর অনুভূত. “

এটি একটি পুরানো হিন্দুত্ববাদী বক্রোক্তি হয়: রিজার্ভ অযোগ্যতা বংশবৃদ্ধি এবং মেধার মূল্যহ্রাস. তারা পাল্টা উত্পাদনশীল এবং ভারত থেকে “মগজ-চালান” জন্য দায়ী ছিল. এই ভারতের উচ্চ-বর্ণের বিখ্যাত গোঙানি হয়.

যারাই
বলেন এই, ভারতের অভিজাত শ্রেণী, যারা স্মৃতি থেকে দূর করা এবং মনোভাব এবং
বিশেষাধিকার শত শত বছর ধরে অর্জিত ছেড়ে দিতে ছিল পক্ষে কথা বলছিলেন “যখন
এক বিশেষ সুযোগ ব্যবহার করা হয়, সমতা নিপীড়ন মত বোধ”, একবার Jambudvipa
অর্থাৎ Prabuddha bharath একটি সাংবিধানিক ওঠে
গণতন্ত্র.

68 বছর পরে তারা এখনও unlearning হয় এবং গতি শুধুমাত্র গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠান (মোদি) এর খুনী থেকে কমে গেছে.

1949, যখন এটা প্রথম সময় জন্য ড আম্বেদকরের কুশপুত্তলিকা পোড়ানো যেহেতু
আরএসএস (Rakshash Swayam Sevaks), অগণ্য savarna উপায়ে, পরিশেষে ভয়
পেয়েছে, এটা এখন আর Jambudvipa অর্থাত, ক্ষুদ্রতর মানুষের মত Prabuddha
bharaths আচরণ করতে দেখা যেতে পারে.

ভয়
বিজেপি (Bahuth Jiyadha সাইকোপ্যাথ) ABVP (সকল ব্রাহ্মণ বিষধর মানসিক) এর
ছাত্র সংগঠন পর এসসি / এসটি বাহিনী ও প্রগতিশীল দলের দেশব্যাপী সংহতি
দ্বারা catalysed হয় Rohith Vemula এবং অন্যান্য এসসি / বিরুদ্ধে
হায়দরাবাদ সেন্ট্রাল ইউনিভার্সিটির গুলোর সাথে আঁতাত
উপজাতি ছাত্র. বিরোধী এসসি / এসটি ট্যাগটি একটি আঁচিল মত, একটি জড়ুল মত হয়ে থাকে,
তাহলে আরএসএস এবং বিজেপি, Rohith মৃত্যু ও তার চিকিত্সার তারা নতমস্তকে
একটি inerasable ফুস্কুড়ি রুপান্তরিত হয়েছে.

এটা এই ছাপ আরএসএস সব পারেন বিরোধী এসসি / এসটি ট্যাগ চালা করছে দুরীভূত হয়. আরএসএস দেশের বিভিন্ন স্থানে পাশাপাশি এ মধ্যপ্রদেশের তার জন্মস্থান Mhow আম্বেদকরের মুর্তি “সম্মানের রক্ষিবাহিনী” সংগঠিত.

কোন
দল এসসি / এসটিএস জন্য সুবিচার দাবী করতে পারেন যদিও, বিজেপি অবশ্যই গত
পার্টিতে যে উপযুক্ত এসসি / এস টি এস চেষ্টা করা উচিত নয়.
Mhow নিজেই, এসসি / এস টি এস এখনও উপরের বর্ণ দ্বারা বাধ্য করা হয় একটি পৃথক জ্বলন্ত মাটিতে তাদের মৃত দাহ করতে. মধ্যপ্রদেশে চার্ট শীর্ষে যখন এটা এসসি / এস টি এস বিরুদ্ধে নৃশংসতার আসে.

2013
সালে, একটি সংগ্রাহক দ্বারা লিখিত আদেশ জারি করা হয়, দাবী একটি এসসি
অনুক্রমে / এসটি স্কলারশিপের প্রাপ্ত, তিনি / সে একটি ছবি “প্রমাণ” যেমন
একটি মৃত পশুর সঙ্গে উত্পাদন হবে.
গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠান (মোদি-presstitute মৃত কাঠ মিডিয়া) প্রো-এসসি
হিসাবে নিজেকে rebrand অভিযানে খুনী / এসটি সফল হতে পারে না, যতক্ষণ না এই
ধরনের ঘটনা আরএসএস এবং তার avathars পৃষ্ঠপোষকতায় স্থান গ্রহণ রাখা.

আরেকটি উদাহরণ যে উচ্চবর্ণের আধিপত্যের সংঘ বিষয়সূচি illustrates প্রতিবেশী রাজস্থান পর্যটন প্রচারাভিযান প্রতিফলিত হয়. কয়েক দশক ধরে, রয়াল এবং ব্যবসায়ীদের এই রাষ্ট্রের ক্ষমতা-নব অনুষ্ঠিত
হয়েছে: যখন রয়াল সংস্কৃতি প্যাকেজ আছে বিদেশী পর্যটকদের কাছে বিক্রি করা,
ব্যবসায়ীদের তা থেকে সমানভাবে 1991 সালে দেশ এর অর্থনৈতিক উদারীকরণের
থেকে উপকৃত হয়েছে.

তার
সর্বশেষ বিজ্ঞাপন প্রচার যেমন “Aryasthan” নিজেই ব্র্যান্ডের একটি পর্যটক
যারা এই দেশের মানুষ বা না হতে পারে এর চোখ দিয়ে, কিন্তু নাম আর্য একটি
কাকতালীয় হতে পারে না.
উন্নতচরিত্র জাতি যে উপ-মহাদেশে সভ্যতা আনা: এটা Aryavrat, আর্যাসমূহ জমির আরএসএস দৃশ্য মূলে এই ব্যবস্থার সবচেয়ে গুরত্বপূর্ণ. কিভাবে রাজস্থান, Meenasthan বা Banjarasthan বা এমনকি এসসি / STsthan কলিং সম্পর্কে!

এটা
ঘটতে অন্তত বর্তমান বসুন্ধরা রাজে সরকারের যা বর্তমানে অধ্যক্ষ এবং কলেজ
যেখানে ডেল্টা Meghwal, একটি এসসি ছাত্র ধর্ষিত হয় এবং হত্যা করা
ওয়ার্ডেন কবচ হয় অসম্ভাব্য.
এমনকি 2016 সালে, এবং এমনকি গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠান (মোদি) একটি খুনী
অধীনে, এসসি বিরুদ্ধে নৃশংসতার / এসটিএস অপ্রতিহতভাবে অব্যাহত এবং আসলে
বৃদ্ধি হতে পারে.

গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠান খুনি (মোদি) এর সুবিধাবাদী ‘এসসি / এসটি প্রেম’

14
এপ্রিল, ড আম্বেদকর, গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠান (মোদি) এর খুনী এর 125th
জন্মবার্ষিকী সাংবিধানিক কাঠামোর যে একটি দরিদ্র ব্যক্তির পুত্র অনুমতি
প্রধানমন্ত্রী এবং টিপিক্যাল Modispeak মধ্যে পরিণত তৈরি করার জন্য তাকে
ধন্যবাদ জানান, তিনি কৃষকদের প্রশংসিত এবং accolades showered
এবং তাদের উপর বলিষ্ঠ বিশেষণ দিয়াবলের স্ক্রিপ্ট কোটিং এবং কেক খাওয়া এবং এখনো এটা থাকার মত.

গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠান (মোদি) খুনি আম্বেদকর জয়ন্তী উপর এক সমাবেশে ভাষণ দেন.

শ্লেষাত্মক
এবং স্বশাসিত সত্য যে যখন একটি প্রান্তিক সম্প্রদায়ের কাছ থেকে একটি
ব্যক্তি প্রধানমন্ত্রী হতে পারবেন না, এটা তার জন্য অসম্ভব, তা সত্ত্বেও,
এখনও / তার আরএসএস প্রধান পরিণত যেমন 1% অসহ chitpawan সম্পত্তি
ব্রাহ্মণ, যেখানে মোদি একবার এই 1% chitpawan ব্রাহ্মণদের একটি স্লেভ হিসাবে একটি pracharak ছিল. আরএসএস asingle এসসি হবে না / তার উপরে rungs মধ্যে ST একা একটি এসসি / এসটি সংগঠন নিজেই শিরোনাম ছেড়ে. এক বিস্ময় প্রকাশ করে গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠান (মোদি) এর খুনী এই সম্পর্কে কিছু বলার আছে.

গণতান্ত্রিক
প্রতিষ্ঠান (মোদি) ‘র এসসি / এস টি এস মহব্বতে খুনী বিস্ময়কর না দেওয়া
হয় তারা কোন সরকার গঠনের জন্য গুরুত্বপূর্ণ রাজ্যে বা কেন্দ্রে এটা হতে.
কি কুচুটে ড আম্বেদকরের জন্য আরএসএস নতুন পাওয়া প্রেম. তার মুখপত্র সংগঠক এর 17 এপ্রিল ইস্যু সামনে পাতা আম্বেদকর এবং সেখানে তার রাজনীতি গুণগান পেজের reams হয়.

সম্পাদকীয়
থেকে এই নমুনা, “রিজার্ভেশন আত্মা, স্বল্পমেয়াদী রাজনৈতিক বিবেচনার
বাইরে, আরো সবলে এবং সত্যি সত্যি বাস্তবায়ন করতে হবে, যাতে আমরা সামাজিক
সাম্য ও ভ্রাতৃত্বের Babasaheb দ্বারা প্রত্যাশিত যত তাড়াতাড়ি সম্ভব
অর্জন করতে পারেন প্রয়োজন নেই”.
তার
সমগ্র ইতিহাসে, আরএসএস কখনো ড আম্বেদকর অনার প্রদান ‘একটি “পাহারা
দিয়েছেন; এছাড়াও, অন্তত গত দশ বছরে, সংগঠক একটি কভার স্টোরি আম্বেদকর উপর
ছিল না; এবং, সবচেয়ে গুরুত্বপূর্ণভাবে, গত দশ
বছর,
সেখানে পদ্ধতিতে এবং ডিগ্রী যে আমরা আজকে একটি এসসি / এসটি ছেলে বিয়ে
করার জন্য একটি chitpawan ব্রাহ্মণ মেয়ে প্রস্তাব ছাড়া একটি এসসি / এসটি
সংহতি হয়েছে না. “এই waqat Ki রাম রাম” বা “waqat Ki আম্বেদকর আম্বেদকর”
ক্ষমতার লোভে জন্য.

সম্ভবত এই অন্য যে কোন কিছুর চেয়ে হিন্দুত্বের ব্রিগেডের আম্বেদকর যথাযথ পাগল তাড়াহুড়ো ব্যাখ্যা. কিন্তু, তাদের উপর অনপনেয় বিরোধী বর্ণ কলঙ্ক শুধুমাত্র গাঢ় ও বৌদ্ধধর্ম Rohith পরিবারের রূপান্তর দ্বারা গভীর তৈরি করা হয়েছিল.

ডাঃ আম্বেদকার বিখ্যাত বলেন লেগেছে, “আমি একটি হিন্দু পরিবারে জন্মগ্রহণ
করেন কিন্তু আমি একটি হিন্দু মারা হবে না”, এবং 1956 সালে Buddhsim
আশ্লিষ্ট, 60 বছর পরে Rohith পরিবার বৌদ্ধধর্ম রূপান্তরিত (একটি
“হিন্দুত্বের প্রশাখা” হিসাবে আরএসএস দ্বারা বরখাস্ত).

“আজ থেকে আমার মা এবং আমি দৈনন্দিন অপমানে বিনামূল্যে, একই দেবতা যার নাম
আমাদের মানুষ শত শত বছর ধরে নির্যাতন করা হয়েছে বলে প্রার্থনা অপরাধবোধ
থেকে লজ্জা থেকে মুক্ত মুক্ত হতে হবে”, তার ভাই রাজা রূপান্তরের পরে বলেন.

,
অসহ জঙ্গি, হিংস্র, উন্মাদ, মানসিক প্রতিবন্ধী 1% এর মহাযাজক শুটিং,
রাক্ষস গোপ ভীতি কাক মানসিক chitpawan ব্রাহ্মণ আরএসএস (রাক্ষস Swayam
Sevaks) এবং তার সব avathars বিজেপি (Bahuth Jiyadha সাইকোপ্যাথ) ভিএইচপি
(বিষধর Hintutva সাইকোপ্যাথ) lynching,
ABVP (সকল ব্রাহ্মণ বিষধর সাইকোপ্যাথ) ভজন ডাল, এবং গণতান্ত্রিক
প্রতিষ্ঠানগুলোকে (মোদি) যারা জালিয়াতি ইভিএম গরমিল এই কথাগুলোতে মনোযোগ
উচিত দ্বারা নির্বাচিত করা হয় এর খুনী.

প্রাক্তন CJI ইভিএম SADHASIVAM, তার দায়িত্ব shirked & তাদের
প্রতিস্থাপন 1600 কোটি ব্যয়ের কারণ সিইসি ইভিএম SAMPATH অনুরোধে বিকাশ
পদ্ধতিতে প্রতারণা Tamperable ইভিএম এ অনুমতি দিয়ে রায় একটি বড় ভুল
করেছে এবং দেশের গণতন্ত্র একটি মারাত্মক ঘা মোকাবিলা.

প্রাক্তন
CJI অর্ডার নি ব্যালট পেপারের সিস্টেমের মধ্যে আনা হবে. এই ধরনের কোন
সতর্কতামূলক ব্যবস্থা সর্বোচ্চ আদালতের দ্বারা নির্ধারণ করা হয়েছিল.
প্রাক্তন
CJI অর্ডার না যে সময় পর্যন্ত 1300000 সম্পর্কে ভোটিং মেশিন এই
অপেক্ষাকৃত নতুন সেট & সম্পূর্ণভাবে মোতায়েন পূর্ণ উত্পাদন করা হয়.
বিশ্বের 80 গণতন্ত্রে সকল মানুষ যারা কেবল fradulent ইভিএম লোপ. তাই সব মানুষ যারা গণতন্ত্রে বিশ্বাস করে, লিবার্টি, সাম্য ও ভ্রাতৃত্বের
গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠান (মোদি) এবং একটি বিস্ময়কর সংবিধানের সঙ্গে এই
দেশের এবং তাদের শাসন হত্যাকারীদের চিনতে করা উচিত নয়.

একটি স্পষ্ট প্রমাণ হিসাবে:
মায়াবতীর
প্রাক্তন প্রধান উত্তরপ্রদেশ ও বহুজন সমাজ পার্টির প্রধান মন্ত্রী
(বিএসপি), কাগজ ব্যালটের মাধ্যমে পরিচালিত পঞ্চায়েত নির্বাচনে জিতেছেন এটা
জালিয়াতি প্রবন ইভিএম মাধ্যমে পরিচালিত লোকসভা নির্বাচনে একটি একক আসন না
জিততে পারে.
ইউপি
মুখ্যমন্ত্রী হিসাবে, তার শাসন সমাজের সব স্তরের মধ্যে আনুপাতিক হারে
সম্পদ বিতরণের মাধ্যমে শ্রেষ্ঠ ছিল এবং এই দেশের প্রধানমন্ত্রী হওয়ার
যোগ্য হয়ে ওঠে.
এই ঐতিহ্যবাহী manuvadis দ্বারা সহ্য হয় নি. তাই জালিয়াতি ইভিএম তার সর্বনাশ করতে বিকৃত করা হয়েছে.

http://www.ndtv.com/india-news/they-have-failed-on-all-fronts-mayawati-attacks-pm-modi-samajwadi-party-1395414

তারা বলল, ‘ব্যর্থ’ হয়েছে সকল ফ্রন্টে: মায়াবতী আক্রমণ মোদী, সমাজবাদী পার্টি

তারা সকল ফ্রন্টে ‘ব্যর্থ’ হয়েছে: মায়াবতী মোদির, সমাজবাদী পার্টির হামলা

http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903

বিজেপি ছড়ানো ‘ধর্মীয় মৌলবাদ’ মায়াবতী বলেছেন.

বিএসপি প্রধান মায়াবতী বিজেপি ‘হেই দিন’ কৃষকদের জন্য, দরিদ্র ও ক্ষুদ্র ব্যবসায়ীদের সূচনা আশা পণ্ড হয়েছে.

বহুজন সমাজ পার্টির (বিএসপি) প্রধান মায়াবতী একটি ‘হিন্দুত্ববাদী
রাষ্ট্র’ বা “ধর্মীয় মৌলবাদ” ও বিদ্বেষ দেশ রূপান্তর তার বিড ছড়িয়ে
ভারতীয় জনতা পার্টির (বিএসপি) অভিযুক্ত.

 বিজেপির ‘হেই দিন’ কৃষক, দরিদ্র ও ক্ষুদ্র ব্যবসায়ীরা এবং শুধুমাত্র
একটি পুঁজিপতি ও শিল্পপতির “থাবা” জন্য উপকৃত হয়েছে উপস্থাপক আশা পণ্ড
হয়েছে.

“একটি বিড মূল্য বৃদ্ধি, কর আরোপ যা বড় মাপের পাবলিক রাগ করেছে মত বিষয়
থেকে জনগণের দৃষ্টি অন্যদিকে সরিয়ে দিতে বিজেপি এবং তার প্রতিষ্ঠানের
সমস্যা ঘটান করার চেষ্টা করছেন
ধর্মীয় মৌলবাদ, পারস্পরিক বিদ্বেষ এবং ছদ্ম জাতীয়তাবাদ মত, “তিনি বলেন.

তিনি আরো বলেন, বিজেপি একটি “হিন্দুত্ব রাষ্ট্র” তার পিতা বা মাতা সংগঠন
আরএসএস এই দেশে রূপান্তর করা “সংকীর্ণ এবং জাতপাতবাদী দর্শন” অনুসরণ করা
হয়.

প্রক্রিয়া, এটা জাতীয় ও জনস্বার্থ বিসর্জন করেছে এবং “সম্পূর্ণরূপে
উপেক্ষিত” হয়েছে দারিদ্র্য, বেকারত্ব, শান্তি ও মূল্যবৃদ্ধি মত বিষয়ে এক
বিবৃতিতে তার বরাত দিয়ে বলেন.

দুর্নীতির বিষয় উল্লেখ করে তিনি বলেন, কংগ্রেস ও বিজেপির একই মুদ্রার এপিঠ-ওপিঠ হয়.

“পথ বিজেপি সরকার দুর্নীতিগ্রস্ত রক্ষার চেষ্টা করছেন, এটা সম্ভব যে এটা আগামী বছর কংগ্রেসের দুর্নীতি বীট হবে,” তিনি বলেন.

তিনি অভিযোগ করেন, রাজ্যে কংগ্রেস ও বিজেপির সরকার এসসি / এস টি এস বিরুদ্ধে নৃশংসতা ও সমাজের দুর্বল একাত্মতার যাদের ক্ষমশীল হয়.

“যদিও তারা এসসি / এসটি আইকন তাদের সারা জীবন বিরোধিতা, তারা তাদের
রাজনৈতিক লাভের জন্য এখন তাদের নাম ব্যবহার করে,” সাবেক উত্তর প্রদেশের
মুখ্যমন্ত্রী বলেন

2.
এখন সিইসি বলেন যে সব ইভিএম 2019 সাধারণ নির্বাচনে প্রতিস্থাপন করা হবে.

http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms

কাগজ-লেজ ইলেকট্রনিক ভোটিং মেশিন আছে 2019 সাধারণ নির্বাচনে: নাসিম Zaidi, সিইসি

3. যখন বিজেপি বিরোধী আরএসএস আনুকূল্যপ্রাপ্ত কাগজ ballotsas ইভিএম ছিল পাবলিক সুবিবেচনা হয়েছেন

http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html

ইলেক্ট্রনিক ভোটিং মেশিন (ইভিএম) যা রাজনৈতিক দলগুলোর দ্বারা প্রশ্নবিদ্ধ
হয়েছে reliablity সংক্রান্ত বিতর্ক যোগদান, আরএসএস টন ফিরে চেষ্টা
প্রত্যাবর্তন করতে নির্বাচন কমিশনের (ইসি) জিজ্ঞাসা এবং কাগজ ব্যালট
পরীক্ষিত …

অথচ তারা সে বিরুদ্ধে অনুপাতহীন তথাকথিত খনক যা প্রমাণ করে যে সে সঠিক পথ মাড়াই সহ নাটুকে সব বিশৃঙ্খলভাবে জড়িত হয়. Babasaheb ড ভীমরাও বলেন যখন একটি ব্রাহ্মণ কষ্ট এসসি / এস টি এস করার চেষ্টা মানে হল যে তারা সঠিক পথে আছে. আরএসএস
এবং বিজেপি সহ তার সব avathars cowherds এবং ডাকার ভীতি থেকে তারা তাদের
সমস্ত মন্দ কার্যক্রম যা হিংসাত্মক, প্রকৃতি দ্বারা অসহিষ্ণুতা ও ঘৃণার
জঙ্গি পূর্ণ হয় ভীতু হয়.
তারা
মানসিক প্রতিবন্ধী সাইকোপ্যাথ পাগলদের এবং এই মন্দ চর্চা মানসিক আশ্রয়
প্রদান মানসিক চিকিৎসার প্রয়োজন সঙ্গে ক্ষিপ্ত হয়ে আছে.

17) Classical Malayalam


17) ക്ലാസ്സിക്കൽ മലയാളം

1841 ബു ഏപ്രി 20 2016
പാഠങ്ങൾ

നിന്ന്

ഇൻസൈറ്റ്-net-ഓൺലൈൻ 1 (ഉണർന്നവൻ) തിപിതിക റിസർച്ച് & അഭ്യാസം യൂണിവേഴ്സിറ്റി
വിഷ്വൽ ഫോർമാറ്റ് (FOA1TRPUVF) ൽ
http://sarvajan.ambedkar.org വഴി
aonesolarpower@gmail.com

ക്ലാസിക്കൽ ബുദ്ധമതം (അവബോധവും ഉണർന്നവൻ ടീച്ചിംഗ്) ലോകം വകയാണ്, എല്ലാവർക്കും എക്സ്ക്ലുസീവ് അവകാശമുണ്ടെന്ന്: ജെ.സി.

ഒറ്റ അമ്മ ഈ സർവ്വകലാശാലയുടെ ഒരു സ്മരണയുമാണത് കൃത്യമായ പരിഭാഷയെ റെൻഡർ
ഈ Google പരിഭാഷ ആൻഡ് ഗൈഡൻസ് ലേക്ക് നാവു ആകുവാൻ ഉകെയ്
സ്ട്രീം Enterer (Sottapanna) ഒരു അവസാന ഗോൾ നിലയിൽ എറ്റേണൽ വിജയം പ്രാപിച്ചേക്കാം ലേക്ക്.

അതായത്, വിഷ്വൽ ഫോർമാറ്റിൽ ബുദ്ധ Tripitaka വാരാചരണം ഉറക്കത്തിലായിരുന്ന
വൺ ഉപദേശങ്ങൾ ജനങ്ങളിലെത്തിക്കുന്നതിൽ വെബ്സൈറ്റുകളുടെ പട്ടിക
http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907
http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1.
http: // വാർത്ത. xinhuanet. കോം / ഇംഗ്ലീഷ് / 2009-07 / 27 / content_11780918 .htm
www.chinaview. CN
www.buddhismandbusi ness.webs. സഖാവ്
http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/
www.grameenfoundation.org

http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/
http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf

http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/

http://www.dailyo.in/politics/br-ambedkar-dalit-politics-caste-system-rss-narendra-modi-sangh-parivar-organiser-hindutva/story/1/10103.html

Valay സിംഗ് റായ്

തുടർച്ചയായ
ദിവസങ്ങളിൽ രാം Navmi (ദിവസം ശ്രീരാമൻ ജനിച്ച) അംബേദ്കർ ജയന്തി എന്ന വീണ്
രൂപം ആശയങ്ങളുടെയും ഒരു palimpsest ഞങ്ങളെ ഈ രണ്ടു വിപരീതമായ കണക്കുകൾ വഴി
“അംബേദ്കറുടെ ഉചിതമായിടത്ത് വംശം” നോക്കൂ അനുവദിക്കുന്നു.
ഒന്ന്, രാം എന്നാൽ ഒരു പുരാണ കഥാപാത്രമായ രാഷ്ട്രീയ ഹിന്ദുത്വ ആർ.എസ്.എസ്
(രാഷ്ട്രീയ Swamasevak സംഘ്) പ്രകാരം championed പോലെ മേൽക്കോയ്മ.

1954
ഡോ അംബേദ്കർ, Hindusim എന്ന കടങ്കഥകളും വിളിച്ചു ലേഖനങ്ങളും തന്റെ
പരമ്പരയിൽ, രാം കൃഷ്ണ രണ്ടും തന്റെ നിലപാട് പ്രസവിച്ചു ലക്ഷ്യമാക്കുന്നു.
മറ്റ് കുറവുകൾ കൂടാതെ അവൻ രാം ശംബ്ദകനേയും കൊലപാതകവുമായി ഉത്തരവാദിത്തം,
ഒരു “Shudra” (അബ്ഒറിജിനൽ ആദി-Mulanivasis (socalled ശിഷ്യഗണങ്ങളും
പട്ടികജാതി / ബ്രാഹ്മണ പ്രീണന നിമിത്തം എസ്ടി) ഇന്നത്തെ നാഗ്പൂർ നിന്ന്
വളരെ അകലെയല്ല താങ്ങി.

RSS
അല്ലെങ്കിൽ ബിജെപി നേതാക്കൾ നടത്തിയ അംബേദ്കർ ജന്മദിനത്തിൽ പ്രഭാഷണങ്ങളുടെ
ഒന്നുമില്ല (അബ്ഒറിജിനൽ ആദി-Mulanivasis (socalled ശിഷ്യഗണങ്ങളും
പട്ടികജാതി / എസ്ടി) രാഷ്ട്രീയത്തിന്റെ ഈ പാറമേൽ സ്പർശിക്കുകയാണ്
.വീടൊക്കെ. ഉയർന്ന ജാതിക്കാർ വഴി ഉപദ്രവം ഹിന്ദു പുരാണങ്ങൾ സഹകരണം ആണ് ഈ
ആണേ ‘
ടി ആയാലും അംബേദ്കറും തന്റെ രാഷ്ട്രീയം ക്രെഡിറ്റ് കിടന്നു ശ്രമിക്കുന്ന നിന്നും അവരെ തടയുന്നു.

എന്നാൽ, പല അന്യഭാഷയിൽ സംസാരിക്കുന്നു ഒരു പഴയ ആർ.എസ്.എസ് തന്ത്രം ആണ്.

ജാതി-വിരുദ്ധ നിന്നും അംബേദ്കർ പ്രോ-തിരിഞ്ഞു, അതു (വഴിവിട്ട) appropriation ആർട്ട് ഓഫ് വരുമ്പോൾ നാഗ്പൂർ ദൈവഭക്തന്മാർ അത്യുത്തമം.

ഓർഗനൈസർ ന്റെ ഏപ്രിൽ 17 2016 പ്രശ്നം ഫ്രണ്ട് പേജിൽ അംബേദ്കർ ഉണ്ട്.

2006-ൽ
സംഘടിപ്പിച്ചിരിക്കുന്നത് ആർഎസ്എസ് ഉച്ചഭാഷിണി സംവരണം നേരെ അതിന്റെ
എഡിറ്റർ എം.വി കാമത്ത് ഒരു ശക്തമായ ലേഖനം പ്രസിദ്ധീകരിച്ചു.
അതു
“ഈ റിസർവേഷൻ സിസ്റ്റം അവസാനം എന്നതാണ് എത്രത്തോളം അഞ്ചു? ആ ബന്ധമുള്ളവരെ
എവിടെയാണെന്ന് അറിയാനാകും അങ്ങനെ പറഞ്ഞു …? അഞ്ചു വർഷം? പത്തു? പതിനഞ്ച്?
ട്വന്റി? ഫിഫ്റ്റി? മറ്റൊരു അറുപതു? ഈ എപ്പോൾ അവസാനിപ്പിക്കും
പ്രശ്നത്തിൽ വ്യക്തമായ ബുദ്ധി ഉണ്ടായിരിക്കണം
അവർ നിലക്കും. സർക്കാരിതര അലംഭാവം എസ്സി / എസ്ടി അലംഭാവം ആയി ആക്ഷേപമുക്തരാകുന്നു പോലെ വളരെ ആണ്. “

അത്
പറഞ്ഞു: “റിസർവേഷനുകളുടെ നമ്മുടെ സമൂഹത്തിന്റെ രക്തദാനം ചെയ്തിരിക്കുന്നു
റിസർവേഷനുകൾ ജാതി, വർഗം, നമ്മുടെ സമൂഹത്തിൽ മതപരമായ വിഭജനം സ്വയം
വിനാശകരമായ ആണ് അവശേഷിപ്പിക്കുകയും പകരം ജാതി മത അഫിലിയേഷനുകൾ വിസ്മരിച്ചു
എന്ന വിവിധ സാമൂഹിക ഗ്രൂപ്പുകൾ പെടുന്ന ജനങ്ങള്..
നീണ്ട-അധികാര കേക്ക് ഒരു പങ്ക് ലഭിക്കാൻ വേണ്ടി അവരുടെ ഐഡന്റിറ്റി നിലനിർത്താൻ ആവശ്യം insistently-തോന്നി. “

ഇത് ഒരു പഴയ ഹിന്ദുത്വ trope ആണ്: റിസർവേഷനുകൾ കഴിവുകേടും ഇവ മെറിറ്റ് പറയില്ല. അവർ എതിർ-ഉൽപാദന അവ ഇന്ത്യയിൽ നിന്നുള്ള “മസ്തിഷ്ക-ചോർച്ച” ഉത്തരവാദികളാണ്. ഈ ഇന്ത്യയുടെ അപ്പർ-ജാതിക്കാർ പ്രശസ്തമായ ഗണേശനും ആകുന്നു.

“ഒറ്റ
പദവി ഉപയോഗിച്ച് ചെയ്യുമ്പോൾ, സമത്വം പീഡനവും പോലെ തോന്നി” ഇതു പറഞ്ഞു
ആരെങ്കിലും പുറമേ, unlearn നൂറ്റാണ്ടുകളായി ആർജിച്ച സമീപനങ്ങളിൽ
അധികാരങ്ങൾ നൽകാൻ ഉണ്ടായിരുന്നു ഇന്ത്യൻ വമ്പന്മാരും പ്രതിനിധീകരിച്ച്
സംസാരിക്കുകയായിരുന്നു Jambudvipa അതായത്, Prabuddha ഭരത് ഭരണഘടനാ മാറി
ഒരിക്കൽ
ജനാധിപത്യം.

68 വർഷത്തിനു ശേഷം അവർ ഇപ്പോഴും unlearning, ഇവ പേസ് മാത്രമേ ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനങ്ങൾ (മോഡി) എന്ന കൊലപാതകിയെ ശേഷം ഇടിഞ്ഞു.

1949 മുതൽ, അതു ആദ്യമായി അംബേദ്കർ കോലം ചുട്ടുകരിച്ചത് ആർഎസ്എസ്
(Rakshash Swayam കർസേവകർ), ബൃഹത് സവർണ്ണ വഴികളിൽ, ഒടുവിൽ ഭയപ്പെട്ടു, അത്
ഇനി Jambudvipa അതായത് പെരുമാറണം തെളിയുന്ന ലഭിച്ചു, Prabuddha ലെസ്സർ
മനുഷ്യർ പോലെ bharaths.

ബി.ജെ.പി
(Bahuth Jiyadha മനോരോഗികളോ) എബിവിപി (എല്ലാ ബ്രാഹ്മണ ജന്തു
Psychopath) വിദ്യാർത്ഥി സംഘടനയായ രോഹിത് Vemula മറ്റ് പട്ടികജാതി നേരെ
ഹൈദരാബാദ് സെൻട്രൽ യൂണിവേഴ്സിറ്റി അഡ്മിനിസ്ട്രേഷൻ കൂടെ നുണക്കഥകൾ ശേഷം /
ഭയം എസ്സി / എസ്ടി ശക്തികളെ പുരോഗമന ഗ്രൂപ്പുകളുടെ രാഷ്ട്ര പ്രാധാന്യം
സമാഹരണം വഴി catalysed ആണ്
പട്ടികവർഗ്ഗ വിദ്യാർത്ഥികൾ. പട്ടികജാതി-വിരുദ്ധ / പട്ടികവർഗ്ഗ ടാഗ് എടെ പോലെയാണ്, ഒരു സസ്പെന്സ്
പോലെ ആർഎസ്എസ് ബിജെപി, രോഹിത് മരണം അതിന്റെ ചികിത്സ അത് അവരുടെ മുഖങ്ങളിൽ
ഒരു inerasable blotch മുസിരിസ് ചെയ്തു.

ഇത് പട്ടികജാതി-വിരുദ്ധ / പട്ടികവർഗ്ഗ ടാഗ് ചൊരിഞ്ഞ അതു ആവുന്നതെല്ലാം ആർ.എസ്.എസ് ചെയ്യുന്നത് ഈ മതിപ്പ് ദൂരീകരിക്കാൻ ആണ്. അതുപോലെ മധ്യപ്രദേശിൽ ജന്മസ്ഥലമായ Mhow രാജ്യത്തെ വിവിധ സ്ഥലങ്ങളിൽ
ആർ.എസ്.എസ് “പ്രതാപത്തിന്റെ കാവൽക്കാർ” അംബേദ്കറുടെ പ്രതിമകൾ ചെയ്തത്
സംഘടിപ്പിച്ചു.

പാർട്ടിക്കും
പട്ടികജാതി / എസ്ടി നീതി ചെയ്തതു അവകാശപ്പെടാനാവില്ല അതേസമയം, ബിജെപി
തീർച്ചയായും ഉചിതമായ പട്ടികജാതി / എസ്ടി ശ്രമിക്കണം അവസാന കക്ഷിയാണ്.
Mhow
അതിൽത്തന്നെ പട്ടികജാതി / എസ്ടി ഇപ്പോഴും ഒരു പ്രത്യേക കത്തുന്ന നിലത്തു
തങ്ങളുടെ മരിച്ചവരെ മൃതദേഹം അപ്പർ-ജാതിക്കാർ വഴി നിർബന്ധിതരായി.
അതു പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ അതിക്രമങ്ങൾ വരുമ്പോൾ മധ്യപ്രദേശ് ചാർട്ട് ഒന്നാമത്.

2013
ൽ ഒരു കലക്ടർ എഴുതിയ ഒരു ഓർഡർ പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ
സ്കോളർഷിപ്പില്ലാതെ ക്രമത്തിൽ, അവൻ / അവൾ “തെളിവായി” ചത്ത മൃഗം ഒപ്പം
നിന്ന് ഫോട്ടോ ഉല്പാദിപ്പിക്കപ്പെടുന്നുണ്ട് എന്ന് ആവശ്യപ്പെട്ട്
പുറപ്പെടുവിച്ചത്.
ഇത്തരം സംഭവങ്ങൾ ആർ.എസ്.എസും അതിന്റെ avathars കാർമികത്വത്തിൽ നടക്കുന്ന
പ്രമാണിച്ചു വരെ പട്ടികജാതി-പ്രോ / എസ്ടി വിജയിക്കാനാവില്ല സ്വയം rebrand
ലേക്ക് ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനങ്ങളുടെ കൊലപാതകിയെ (മോഡി-presstitute
മരിച്ചവരുടെ മരം മീഡിയ) പ്രചാരണം.

ഉയർന്ന
ജാതിക്കാരായ ആധിപത്യത്തിന്റെ സംഘപരിവാർ അജണ്ട ഉദാഹരിക്കുന്ന മറ്റൊരു
ഉദാഹരണം അയൽ രാജസ്ഥാനിലെ ടൂറിസം പ്രചാരണ പ്രതിഫലിക്കുന്നു.
ദശാബ്ദങ്ങളായി റോയൽസ് വ്യാപാരികളുടെയും ഈ സംസ്ഥാനത്തെ
വൈദ്യുതി-മുട്ടുകളും വഹിച്ചവരിൽ: റോയൽസ് വിദേശ സഞ്ചാരികൾ വിറ്റു സംസ്കാരം
പാക്കേജ്ഡ് അതേസമയം, കച്ചവടക്കാർ അതിൽ നിന്ന് തുല്യമായി 1991 ൽ
രാജ്യത്തിന്റെ സാമ്പത്തിക ഉദാരവൽക്കരണം ശേഷം പ്രയോജനം.

“Aryasthan”
പോലെയിരിക്കും പുതിയ പരസ്യ പ്രചാരണം ബ്രാൻഡുകൾ സ്വയം ഈ രാജ്യത്ത് മനുഷ്യൻ
അല്ലെങ്കിൽ അല്ല, ആര്യ ഒരു യാദൃശ്ചികത കഴിയില്ല പേര് കഴിഞ്ഞില്ല ഒരു
ടൂറിസ്റ്റ് കണ്ണിലൂടെ.
ഇത്
Aryavrat, ആര്യന്മാർക്ക് ദേശം ആർഎസ്എസ് കാഴ്ച കാതൽ സ്ഥിതിചെയ്യുന്നത്: സബ്
ഭൂഖണ്ഡത്തിലേക്കുള്ള സംസ്കാരത്തിന്റെ കൊണ്ടുവന്ന മാന്യമായ റേസ്.
എങ്ങനെ രാജസ്ഥാൻ, Meenasthan അല്ലെങ്കിൽ Banjarasthan അല്ലെങ്കിൽ പട്ടികജാതി / STsthan വിളിക്കുന്നു കുറിച്ച്!

ഇതിന്
കുറഞ്ഞത് നിലവിൽ എവിടെ ഡെൽറ്റ Meghwal, ഒരു പട്ടികജാതി വിദ്യാർഥി ബലാൽസംഗം
കൊല്ലപ്പെട്ട കോളേജിലെ പ്രിൻസിപ്പൽ ആൻഡ് വാർഡൻ shielding ഏത് ഇന്നത്തെ
വസുന്ധര രാജെ സർക്കാർ ഭരണകാലത്ത് ലെ സംഭവിക്കാൻ സാധ്യതയില്ല.
പോലും 2016 ൽ, പോലും ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനങ്ങൾ (മോഡി) ഒരു കൊലപാതകിയും
കീഴിൽ പട്ടികജാതി / എസ്ടി അതിക്രമങ്ങൾ അഭംഗുരം തുടരുകയും വാസ്തവത്തില്
വർദ്ധിച്ചു വന്നിരിക്കാം.

ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനത്തിന്റെ കൊലപാതകിയെ (മോഡി) ന്റെ അവസരവാദ ‘പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ പ്രേം’

ഏപ്രിൽ
14 ന് ഡോ അംബേദ്കർ, ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനം (മോഡി) എന്ന കൊലപാതകിയെ 125 ജനന
വാർഷികം വളരെ പാവപ്പെട്ട ഒരു വ്യക്തി മകൻ പ്രധാനമന്ത്രിയാകാൻ അനുമതി
ഭരണഘടനാ ചട്ടക്കൂട് സൃഷ്ടിക്കാൻ നന്ദി സാധാരണ Modispeak ൽ അദ്ദേഹം കർഷകരെ
സ്തുതിച്ചു .മാതൃഭൂമി വർഷിക്കുകയും
പിശാചിനോട് പോലുള്ള അവരെ സാരഗർഭമായ നാമവിശേഷണങ്ങൾ സ്ക്രിപ്റ്റ് ഉദ്ധരിച്ചുകൊണ്ട് കേക്കും തിന്നും ഇപ്പോഴും അതു പ്രശ്നമുണ്ട്.

ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനത്തിന്റെ കൊലപാതകിയെ (മോഡി) അംബേദ്കർ ജയന്തി ഒരു ഒരുമിച്ചുകൂട്ടലാകുന്നു അഭിസംബോധന.

വിരോധാഭാസമാണ്
ആൻഡ് സ്വയം വിശദീകരിക്കുന്ന ഒരു പാർശ്വവൽക്കരിക്കപ്പെട്ട കമ്മ്യൂണിറ്റിയിൽ
നിന്നും ഒരു വ്യക്തിയുടെ പ്രധാനമന്ത്രിയെ കഴിയും സമയത്ത്, അതു
ആണെങ്കിൽക്കൂടി, ഇപ്പോഴും അസാധ്യമാണ് അവനെ / അവളെ ആർ.എസ്.എസ് തലവൻ ആവാൻ 1%
അസഹിഷ്ണുത chitpawan സ്വത്താണ് പോലെ വസ്തുത ആണ്
ബ്രാഹ്മണർ, മോഡി ഒരിക്കൽ ഈ 1% chitpawan ബ്രാഹ്മണരുടെ കാഠിന്യം പ്രചാരകനായി ഉണ്ടായിരുന്നു. ആർ.എസ്.എസ്
ഒരു പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ സംഘടന സ്വയം തലക്കെട്ട് വിട്ടേക്കുക അതിന്റെ
മുകളിൽ താഴേത്തട്ട് ലെ asingle പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ ഇല്ല.
ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനം (മോഡി) എന്ന കൊലപാതകിയെ എങ്കിൽ ഇക്കാര്യം സംബന്ധിച്ച് എന്തെങ്കിലും പറയാൻ ഉണ്ട് വൺ അത്ഭുതങ്ങളും.

പട്ടികജാതി
/ എസ്ടി ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനം കൊലപാതകിയെ (മോഡി) ന്റെ സ്നേഹം അവർ അതു
സംസ്ഥാനങ്ങളിൽ അല്ലെങ്കിൽ കേന്ദ്രത്തിൽ എന്തെങ്കിലും സർക്കാർ രൂപീകരണം
പങ്കു തന്നിരിക്കുന്ന അതിശയിക്കാനില്ല.
എന്താണ് അസ്വസ്ഥമാക്കുന്ന കാര്യം ഡോ അംബേദ്കർ ആർഎസ്എസ് ‘പുതിയ കണ്ടെത്തി സ്നേഹമാണ്. അതിന്റെ മുഖപത്രമായ ഓർഗനൈസർ ന്റെ ഏപ്രിൽ 17 പ്രശ്നം ഫ്രണ്ട് പേജിൽ
അംബേദ്കർ ഉണ്ട് രാഷ്ട്രീയക്കാരൻ പുകഴ്ത്തിയും പേജുകൾ റീമുകള് ഉണ്ട്.

,
എഡിറ്റോറിയൽ നിന്ന് ഈ മാതൃക “റിസർവേഷൻ ആത്മാവു കൂടുതൽ തീവ്രമായി
സംശയമന്യേ, സോഷ്യൽ സമത്വവും സാഹോദര്യവും ദാദസാഹിബ്ബിനെ
പ്രതീക്ഷിച്ചിരുന്നത് കഴിയുന്നത്ര ആദ്യകാല പോലെ പ്രാപിക്കാൻ കഴിയും
അങ്ങനെ, ഹ്രസ്വകാല രാഷ്ട്രീയ പരിഗണനകൾ അപ്പുറം നടപ്പാക്കാൻ ഒരു ആവശ്യം
ഉണ്ട്”.
അതിന്റെ
മുഴുവൻ ചരിത്രവും ആർ.എസ്.എസ് അംബേദ്കർ ബഹുമാനം ഒരു “ഗാർഡ് ‘തന്നിരിക്കുന്ന
ഒരിക്കലും; ഏറ്റവും പ്രധാനമായി, കഴിഞ്ഞ പത്തു ലും; എതിരെ, കഴിഞ്ഞ പത്ത്
വർഷമായി കുറഞ്ഞത് ലെ, ഓർഗനൈസർ അംബേദ്കർ ഒരു കവർ സ്റ്റോറി ഒരിക്കലും
വർഷം
അവിടെ വിധത്തിൽ ഡിഗ്രി ഇന്ന് നാം സാക്ഷ്യം അതിൽ ഒരു പട്ടികജാതി /
പട്ടികവർഗ്ഗ ബാലനെ വിവാഹം ഒരു chitpawan ബ്രാഹ്മണ പെൺകുട്ടി വാഗ്ദാനം ഒഴികെ
ഒരു പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ സമാഹരണം നടന്നിട്ടില്ല. “ഈ waqat കി റാം
റാം” അല്ലെങ്കിൽ “waqat കി അംബേദ്കർ അംബേദ്കർ”
വൈദ്യുതി നിനെ വേണ്ടി.

മറ്റെന്തെങ്കിലും ഒരുപക്ഷേ ഈ കൂടുതൽ ഹിന്ദുത്വ ബ്രിഗേഡ് വഴി അംബേദ്കർ ഉചിതമായിടത്ത് ഭ്രാന്തൻ തിരക്ക് വിശദീകരിക്കുന്നു. എന്നാൽ, അവർക്ക് -യിൽ ജാതി-വിരുദ്ധ കൽപനകൾ മാത്രം ബുദ്ധമതം രോഹിത് കുടുംബത്തിൽ പരിവർത്തനം ഇരുണ്ട ആഴത്തിലുള്ള ഉണ്ടാക്കിയിരുന്നു.

സിദ്ദി പറഞ്ഞു “ഞാൻ ഒരു ഹിന്ദു ജനിച്ച പക്ഷേ എനിക്ക് ഒരു ഹിന്ദു
മരിക്കുകയില്ല” 60 വർഷങ്ങൾക്കു ശേഷം രോഹിത് കുടുംബം ബുദ്ധമതം (ഒരു
“ഹിന്ദുത്വത്തിന്റെ offshoot” ആർ.എസ്.എസിന്റെയും പിരിച്ചുവിട്ടു)
പരിവർത്തനം, 1956 Buddhsim ആലിംഗനം. അംബേദ്കർ തോന്നുന്നു

“ഇന്ന്, എന്റെ അമ്മയും ഞാൻ, ലജ്ജ സ്വതന്ത്രൻ പ്രതിദിന അപമാനം
സ്വതന്ത്രനായി പേരുള്ള നമ്മുടെ ജനത്തെ നൂറ്റാണ്ടുകളായി ഭേദ്യം ചെയ്തു ഇതേ
പ്രാർഥിക്കുമ്പോൾ കുറ്റം നിന്ന് ഒഴിവാക്കിയിരിക്കുന്നു”, സഹോദരൻ രാജ
പരിവർത്തനം കഴിഞ്ഞ് പറഞ്ഞു.

1%
ഉയർന്ന പുരോഹിതന്മാർ അസഹിഷ്ണുത ആക്രമണോത്സുകമായ, അക്രമം, ഭ്രാന്തൻ,
മാനസികവളർച്ചയെത്താത്തവരുടെ വെടിവച്ചു, നരഭോജി cowherd ഭീഷണി കാക്ക
psychopath chitpawan ബ്രാഹ്മണ ആർ.എസ്.എസ് (രാക്ഷസനായ Swayam കർസേവകർ)
അതിന്റെ എല്ലാ avathars ബിജെപി (Bahuth Jiyadha മനോരോഗികളോ) വി.എച്ച്.പി
(ജന്തു Hintutva മനോരോഗികളോ) റീലിൽ,
എബിവിപി (എല്ലാ ബ്രാഹ്മണ ജന്തു മനോരോഗികളോ) ഭജൻ ദൾ, ഒപ്പം ഇടപെടലുകളെ
തട്ടിപ്പ് വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഈ വാക്കുകൾ അനുസരിക്കുന്നതിൽ വേണം
തിരഞ്ഞെടുത്തില്ല ആർ ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനങ്ങൾ (മോഡി) എന്ന കൊലപാതകിയെ.

മുൻ ചീഫ് EVM SADHASIVAM, അതിന്റെ ബാധ്യത വിളവുമേനി EVM സമ്പത്ത്
അഭ്യർത്ഥന ഘട്ടംഘട്ടമായി ഫ്രോഡ് Tamperable വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ൽ
അനുവദിക്കുന്നതിലൂടെ അവരുടെ സ്ഥാനത്ത് കാരണം 1600 കോടി ചിലവു shirked
& ന്യായവിധി ഒരു കല്ലറയില് പിശക് പ്രവർത്തിക്കുകയും, രാജ്യത്തെ
ജനാധിപത്യത്തിന്റെ ഒരു മാരകമായ പ്രഹരമേൽപ്പിച്ചത്.

മുൻ ചീഫ് ബാലറ്റ് പേപ്പർ സിസ്റ്റത്തിന് ഓർഡർ ചെയ്തിട്ടില്ല കൊണ്ടുവന്നു നൽകും. അത്തരം മുൻകരുതൽ സുപ്രീംകോടതി മേൽ തന്നെയാണ്. മുൻ
ചീഫ് സമയം വരെ പൂർണ്ണ & തികച്ചും വിന്യസിച്ചിട്ടുള്ള ഏകദേശം 1300000
വോട്ടിംഗ് യന്ത്രം ഈ പുതിയ ഗണം നിർമ്മിക്കപ്പെട്ടതിനുശേഷം എന്ന് ഓർഡർ
ചെയ്തിട്ടില്ല.
ലോകത്തിലെ 80 ജനാധിപത്യ ജനം എല്ലാം കേവലം fradulent വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ നീങ്ങിപ്പോകും ആർ. അതുകൊണ്ടു ജനാധിപത്യത്തിൽ വിശ്വസിക്കുന്ന ജനം ഒക്കെയും ലിബർട്ടി,
സമത്വവും സാഹോദര്യവും ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനങ്ങൾ (മോഡി) ഒരു അത്ഭുതകരമായ
ഭരണഘടന ഉപയോഗിച്ച് ഈ രാജ്യത്തെ തങ്ങളുടെ ഭരണത്തിന്റെ കൊലപാതകികൾ
തിരിച്ചറിയാൻ പാടില്ല.

വ്യക്തമായ തെളിവായിരുന്നു:
അതു
തട്ടിപ്പ് കേടാകാനുമിടയുണ്ട് വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ വഴി നടത്തിയ ലോക്സഭാ
തെരഞ്ഞെടുപ്പിൽ ഒരൊറ്റ സീറ്റ് നേടും കഴിഞ്ഞില്ല ഉത്തര് പ്രദേശിലെ മിസ്
മായാവതി എക്സ് മുഖ്യമന്ത്രി ചീഫ് ബഹുജൻ ഓഫ് സമാജ് പാർട്ടി (ബിഎസ്പി),
പേപ്പർ ബാലറ്റുകൾ വഴി നടത്തിയ പഞ്ചായത്ത് തെരഞ്ഞെടുപ്പില് നേടി.
ഉത്തർപ്രദേശ്
മുഖ്യമന്ത്രി അവളുടെ ഭരണ സമൂഹത്തിന്റെ എല്ലാ ഇടയിൽ ആനുപാതികമായി സമ്പത്ത്
വിതരണം മികച്ച ആയിരുന്നു ഈ രാജ്യത്തിന്റെ പ്രധാനമന്ത്രി യോഗ്യനാണ് മാറി.
ഈ പരമ്പരാഗത manuvadis വഴി ഇടപെടാര് അല്ല. അങ്ങനെ തട്ടിപ്പ് വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ അവളെ പരാജയപ്പെടുത്താൻ കൃത്രിമം ചെയ്തു.

http://www.ndtv.com/india-news/they-have-failed-on-all-fronts-mayawati-attacks-pm-modi-samajwadi-party-1395414

അവർ ‘പരാജയപ്പെട്ടു’ നോക്കിയിട്ടുണ്ടോ എല്ലാ തുറകളിലും: മായാവതി മോഡി ആക്രമണങ്ങൾ സമാജ്വാദി പാർട്ടി

അവർ ‘പരാജയപ്പെട്ടു’ നോക്കിയിട്ടുണ്ടോ എല്ലാ തുറകളിലും: മായാവതി മോദി, സമാജ്വാദി പാർട്ടി ഭീകരാക്രമണം

http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903

ബിജെപി മതപരമായ മതമൌലികവാദം പ്രചരിപ്പിക്കുക, മായാവതി പറയുന്നു.

ബിഎസ്പി നേതാവ് മായാവതി ബിജെപി കർഷകർ പാവങ്ങൾക്ക് ചെറുകിട വ്യാപാരികളിൽ
വേണ്ടി ‘ഹേയ് ദിവസത്തെ ൽ മുന്നുപാധി പ്രതീക്ഷകളും ആണ്എനിക്ക് പറഞ്ഞു.

ബഹുജൻ സമാജ് പാർട്ടി (ബിഎസ്പി) നേതാവ് മായാവതി ഒരു ഹിന്ദുത്വ രാഷ്ട്ര
‘രാജ്യത്തെ പരിവർത്തനം ലേലം “മത മതമൌലികവാദം” വിദ്വേഷവും പരത്തുന്ന ഭാരതീയ
ജനതാ പാർട്ടി (ബിഎസ്പി) പ്രതി.

 ബിജെപി കർഷകർ, ദരിദ്രനും ചെറിയ വ്യാപാരികളും മുതലാളിമാരും വ്യവസായികളും
മാത്രമേ “പിടി” എന്ന ‘ഹേയ് ദിവസത്തെ ൽ മുന്നുപാധി പ്രതീക്ഷകളും പ്രയോജനം
ആണ്എനിക്ക്.

“വിലക്കയറ്റം, വൻതോതിൽ പൊതു കോപം നയിച്ച ഏത് നികുതി
ചുമത്തപ്പെടുമെന്ന് പോലുള്ള പ്രശ്നങ്ങൾ നിന്ന് ആളുകളുടെ ശ്രദ്ധ
തിരിച്ചുവിടാനായി ശ്രമത്തിന്റെ ബിജെപി അതിന്റെ സംഘടനകളും പ്രശ്നങ്ങൾ
കോപിപ്പിക്കേണ്ടതിന്നു ശ്രമിക്കുന്ന
മതപരമായ മതമൌലികവാദം, പരസ്പര വിദ്വേഷവും സ്യൂഡോ ദേശീയതയുടെ പോലെ, “അവൾ പറഞ്ഞു.

അവൾ ബിജെപി ഒരു “ഹിന്ദുത്വ രാഷ്ട്ര” ഈ രാജ്യത്തെ പരിവർത്തനം മാതൃ സംഘടനയായ ആർ.എസ്.എസ് “ഇടുങ്ങിയതും ജാതീയ തത്ത്വചിന്ത” താഴെ പറഞ്ഞു.

പ്രക്രിയയിൽ, അതു ദേശീയ പൊതു താൽപ്പര്യത്തിനു അറുത്തു ഒപ്പം ‘പൂർണമായി
അവഗണിച്ചു “ദാരിദ്ര്യം, തൊഴിലില്ലായ്മ, സമാധാനവും വിലക്കയറ്റം തുടങ്ങിയ
കാര്യങ്ങളില് ചെയ്തു, അവളുടെ ഉദ്ധരിച്ച് ഒരു പ്രസ്താവനയിൽ പറഞ്ഞു.

അഴിമതി പ്രശ്നം പരാമർശിച്ചുകൊണ്ട് അവൾ ബിജെപിയും കോൺഗ്രസും ഒരേ നാണയത്തിന്റെ രണ്ടു വശങ്ങളും പറഞ്ഞു.

“വഴി ബിജെപി സർക്കാരിനെ അഴിമതിക്കാർ പരിരക്ഷിക്കാൻ ശ്രമിക്കുന്നു, അത്
വരും വർഷങ്ങളിൽ കോൺഗ്രസ് അഴിമതി ഇഫക്ടായിരുന്നു സാധ്യതയുണ്ട്,” അവൾ
പറഞ്ഞു.

അവൾ സംസ്ഥാനങ്ങളിൽ ബിജെപിയും കോൺഗ്രസും സർക്കാരുകൾ പട്ടികജാതി / എസ്ടി
സമൂഹത്തിലെ ദുർബല വിഭാഗങ്ങളെ പെടുന്ന ആ അതിക്രമങ്ങൾ ഏർപ്പെട്ടിരുന്നു
ചെയ്യുന്നു ആരോപിച്ചു.

“തങ്ങളുടെ ജീവിതകാലം മുഴുവൻ പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ ഐക്കണുകൾ എതിർത്തു
എങ്കിലും അവർ തങ്ങളുടെ രാഷ്ട്രീയ താത്പര്യങ്ങൾ കൂടുതല് ഇപ്പോൾ അവരുടെ
പേരിനു” മുൻ ഉത്തർപ്രദേശ് മുഖ്യമന്ത്രി പറഞ്ഞു

2.
ഇപ്പോൾ വിളവുമേനി എല്ലാ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ 2019 ലെ തെരഞ്ഞെടുപ്പിൽ മാറ്റിസ്ഥാപിക്കും പറയുന്നു.

http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms

പേപ്പർ-ട്രെയിൽ ഇലക്ട്രോണിക് വോട്ടിംഗ് യന്ത്രം ഞങ്ങൾക്കുണ്ട് ലേക്ക് 2019 പൊതുതെരഞ്ഞെടുപ്പിൽ: നസീം സെയ്ദി, വിളവുമേനി

3. ബിജെപി പ്രതിപക്ഷ ആർ.എസ്.എസ് പേപ്പർ ballotsas പ്രിയങ്കരനായിരുന്നു
സന്ദർഭം വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ പൊതു സൂക്ഷ്മ വിധേയമാക്കിയിരുന്നു

http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html

രാഷ്ട്രീയ പാർട്ടികൾ ചോദ്യം ചെയ്തിട്ടുള്ള ഇലക്ട്രോണിക് വോട്ടിംഗ്
യന്ത്രം (വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ) എന്ന reliablity സംബന്ധിച്ച വിവാദം
ചേരുന്നു ആർഎസ്എസ് ടി തിരികെ ശ്രമിച്ചു പരീക്ഷിച്ചതും പേപ്പർ ബാലറ്റുകൾ
പുനസ്ഥാപിക്കണമെന്നത് തിരഞ്ഞെടുപ്പ് കമ്മീഷൻ (ഇ.സി.) ചോദിച്ചു …

എങ്കിലും
അവർ അങ്ങനെ അവൾ ശരിയായ പാത ചരിക്കുന്നതു് തെളിയിക്കുന്നു താൻ അനധികൃത
വിളിച്ചു കുഴിച്ച് ഉൾപ്പെടെ theatrics എല്ലാത്തരം പങ്കാളികളാണ്.
ബാബാസാഹേബ് ഡോ അംബേദ്കർ ഒരു ബ്രാഹ്മണ അവർ നേർമാർഗത്തിലായിക്കഴിഞ്ഞു എന്നാണ് കലക്കി പട്ടികജാതി / എസ്ടി ശ്രമിക്കുമ്പോൾ പറഞ്ഞു. ആർഎസ്എസ്
ബിജെപി ഉൾപ്പെടെ എല്ലാ അതിന്റെ avathars cowherds, അവർ അക്രമാസക്തമായി സകല
അവരുടെ ദോഷം പ്രവർത്തനങ്ങൾ സ്വഭാവത്താൽ അസഹിഷ്ണുതയും വിദ്വേഷവും
തീവ്രവാദരാഷ്ട്രീയത്തിന്റെ നിറഞ്ഞതും affraid ശേഷം കാക്കകൾ വിടുവാൻ.
അവർ
മാനസികവളർച്ചയെത്താത്തവരുടെ മനോരോഗികളോ വലഞ്ഞവർ മാനസിക തടവറകളിൽ മാനസിക
ചികിത്സ വേണമെങ്കിൽ ഈ ദോഷം കീഴ്വഴക്കങ്ങളുമായി ഭ്രാന്തൻ
തീർന്നിരിക്കുന്നു.

20) Classical Tamil
20) பாரம்பரிய இசைத்தமிழ் செம்மொழி

1841 பு 20 ஏப்ரல் 2016
பாடங்கள்

இருந்து

நுண்ணறிவால்-நெட்-ஆன்லைன், A1 (விழித்துக்கொண்டது ஒரு) Tipiṭaka ஆராய்ச்சி மற்றும் பயிற்சி பல்கலைக்கழகம்
காட்சி வடிவில் (FOA1TRPUVF)
http://sarvajan.ambedkar.org மூலம்
aonesolarpower@gmail.com

பாரம்பரிய புத்த மதம் (விழிப்புணர்வு விழித்துக்கொண்டது ஒரு போதனைகள்)
உலக சேர்ந்தவை, மற்றும் அனைவருக்கும் பிரத்தியேக உரிமை: ஜே.சி.

ஒரு தாயின் இந்த பல்கலைக்கழகத்தின் ஒரு படிப்பினையாக சரியான மொழிபெயர்ப்பு இடையீடு
இந்த கூகிள் மொழிபெயர்ப்பு மற்றும் பரப்ப நாவு ஆக உரிமை
Enterer (Sottapanna) ஸ்ட்ரீம் மற்றும் இறுதி இலக்காகக் போன்ற நித்திய ஆனந்தம் அடைய.

விழிப்புணர்வு கொண்டு விழித்தெழுந்த ஒரு போதனைகளை பரப்புவதில் வலைத்தளங்களின் பட்டியலை அதாவது, புத்தர் Tripitaka விஷுவல் வடிவம்
http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907
http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1.
http: // எனத் செய்தி. xinhuanet. காம் / ஆங்கிலம் / 2009-07 / 27 / content_11780918 .htm
www.chinaview. CN
www.buddhismandbusi ness.webs. காம்
http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/
www.grameenfoundation.org

http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/
http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf

http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/

http://www.dailyo.in/politics/br-ambedkar-dalit-politics-caste-system-rss-narendra-modi-sangh-parivar-organiser-hindutva/story/1/10103.html

Valay சிங் ராய்

நாட்களுக்கு
தொடர்ச்சியான ராம் Navmi (நாள் ராமர் பிறந்தார்) மற்றும் அம்பேத்கர்
ஜெயந்தி விழுந்து உருவாக்கப்பட்டது கொள்கைகளுக்கு ஒரு அழித்து எழுதத்தக்க
வரையும் மூலப் எங்களுக்கு இந்த இரண்டு முரணாக புள்ளிவிவரங்கள் மூலம்
“அம்பேத்கர் பறிப்பதற்கும் இனம்” பார்க்க அனுமதிக்கும்.
ஒன்று, ராம், எனினும் ஒரு புராணக் கதாபாத்திரமான, RSS (ராஷ்ட்ரிய
Swamasevak சங்) மூலம் வெற்றி என அரசியல் இந்துத்துவ ஆதிக்கம்
செலுத்துகிறது.

1954
ஆம் ஆண்டில், டாக்டர் அம்பேத்கர், இந்து புதிராக என்று கட்டுரைகளின் அவரது
தொடரில், ராம் மற்றும் கிருஷ்ணர் ஆகிய இருவரின் மீது வெற்று தனது
கருத்துக்களை இடும்.
மற்ற குறைபாடுகள் தவிர, அவர் Shambuka, ஒரு “சூத்திரர்” (பழங்குடியினர்
ஆதி Mulanivasis கொலை: ராம் கேட்பார் (நபியின் தீண்டாமை எஸ்.சி / எஸ்.டி)
வெகு தொலைவில் இல்லை இன்றைய நாக்பூர், பிராமண இந்த சாந்தப்படுத்தும்
பொருட்டு.

டாக்டர்
அம்பேத்கரின் பிறந்த நாளையொட்டி, மே அல்லது பாஜக தலைவர்கள் செய்த
உரைகளிலும் (பழங்குடியினர் ஆதி Mulanivasis (நபியின் தீண்டாமை எஸ்.சி /
எஸ்.டி) அரசியலின் இந்த பாறைப்படுக்கையானது மீது தொட கவலைப்பட்டார்.
மேல்சாதியினரால் அடக்குமுறை இந்து மதம் தொன்மங்கள் ஒப்புதல் இந்த didn ‘
டி என்றாலும் அம்பேத்கரும் அவரது அரசியலில் கடன் போட முயற்சி இருந்து அவர்களை தடுத்து நிறுத்த.

ஆனால், பல பாஷைகளில் பேசும் ஒரு பழைய மே தந்திரோபாயம் ஆகும்.

அம்பேத்கர் சார்பு திருப்பு சாதி எதிர்ப்பு செலுத்துவதை விட்டு, (தவறான)
ஒதுக்கீடுக்கு கலை என்று வரும்போது நாக்பூர் தேவபக்தர்களின் இருக்கிறது.

ஆர்கனைசர் ஏப்ரல் 17, 2016 பிரச்சினை முன் பக்கம் அம்பேத்கர் உள்ளது.

2006
ஆம் ஆண்டில், ஆர்கனைசர் மே ஒலிபெருக்கி, ஒதுக்கீடுகளுக்கு எதிராக அதன்
ஆசிரியர் எம்.வி. காமத் ஒரு கடுமையான கட்டுரையை வெளியிட்டது.
அது
… நீடிக்கும் இந்த இட ஒதுக்கீடு முறை எவ்வளவு நேரம் ஆகும்? ஐந்து அதற்கு
மேற்பட்ட ஆண்டுகள்? பத்து? பதினைந்து? இருபத்தைந்தாயிரம்? ஐம்பது?
மற்றொரு அறுபது? இந்த நிறுத்த வேண்டும் போது? அங்கு பிரச்சினையில் ஒரு
தெளிவான புரிதல் இருக்க வேண்டும் “, என்றார் உள்ளவர்களுக்கு தெரியும் எங்கே
என்று
அவர்கள் நிற்க. அரசு மெத்தனத்திற்கோ, SC / ST மெத்தனத்திற்கோ என குற்றம் சொல்ல முடியாது என அதிகமாக உள்ளது. “

இது
கூறினார்: “ரிசர்வேஷன் நம் சமூகத்தில் பேன் இருந்திருக்கும் ரிசர்வேஷன்
சாதி, வர்க்க, மற்றும் நம் சமூகத்தில் மத பிளவை சுய அழிவு இது
நிரந்தரமாக்கிவிட்டது மாறாக தங்கள் சாதி அல்லது மத சார்புகள் மறந்து,
மக்கள் பல்வேறு சமூக குழுக்கள் சேர்ந்த..
நீண்ட வலியுறுத்திக்-உணர்ந்தேன் அதிகார கேக் ஒரு பங்கு பெறுவதற்காக தங்கள் அடையாளங்களை பராமரிக்க வேண்டும். “

இது ஒரு பழைய இந்துத்துவ ட்ரோப் ஆகும்: இட திறமையின்மை இனப்பெருக்கம் மற்றும் தகுதி மதிப்பை குறைக்கும். அவர்கள் எதிர் உற்பத்தி மற்றும் இந்தியாவில் இருந்து “மூளை வடிகால்” காரணம் என்று கூறினார். இந்த இந்தியாவின் மேல் சாதியினர் புகழ்பெற்ற மனக்குறை உள்ளன.

,
இந்த, மேலும் நினைவில் உள்ளதை மற்றும் நூற்றாண்டுகளாக பெறப்பட்ட
அணுகுமுறைகளை மற்றும் சலுகைகளை விட்டுக் கொடுக்கத் கொண்டிருந்த
இந்தியாவின் தட்டுக்கள், சார்பில் பேசிய கூறினார் எவர் “ஒரு சலுகை
பயன்படுத்தப்படும் போது, சமத்துவம் ஒடுக்குமுறை போல”, அதாவது Jambudvipa
முறை, Prabuddha பாரத் ஒரு அரசியலமைப்பு ஆனார்
ஜனநாயகம்.

68 ஆண்டுகளுக்கு பின்னர் அவர்கள் இன்னும் unlearning மற்றும் வேகம்
மட்டும் ஜனநாயக நிறுவனங்கள் (மோடி) கொலை என்பதால் குறைந்துள்ளதாக.

1949, அது முதல் முறையாக டாக்டர் அம்பேத்கரின் கொடும்பாவி எரித்து போது
காரணத்தால், ஆர்.எஸ்.எஸ் (Rakshash ஸ்வயம் சேவகர்கள்), எண்ணற்ற savarna
வழிகளில், இறுதியாக பயம், அது இனி Jambudvipa அதாவது, குறைந்த மனிதர்கள்
போல Prabuddha bharaths சிகிச்சை தோன்றும் என்று கிடைத்தது.

பயம்
பாஜக (Bahuth Jiyadha Psychopaths) ஏ.பி.வி.பி. (அனைத்து பிராமண நஞ்சூ
மனநிலை) மாணவர் அணித் பிறகு, SC / ST படைகள் மற்றும் முற்போக்கு குழுக்கள்
நாடு தழுவிய அணிதிரட்டல் வினையூக்கப்பட்ட உள்ளது ரோஹித்த Vemula மற்றும்
பிற எஸ்சி / எதிராக ஹைதெராபாத் மத்திய பல்கலைக்கழகம் நிர்வாகம் உடந்தையாக
எஸ்டி மாணவர்கள். எஸ்சி எதிர்ப்பு / எஸ்டி டேக், ஒரு பிறவி போன்ற வருகிறது என்றால் ஒரு
மச்சம் போன்ற, ஆர்எஸ்எஸ் மற்றும் பிஜேபி-க்கு, ரோஹித்த மரணம் மற்றும்
அதன் சிகிச்சை அது தங்கள் முகங்களை ஒரு துடைத்து அழிக்க முடியாத சருமத்தில்
ஏற்படும் கொப்புளங்கள் மாற்றப்பட்டு.

அது எஸ்சி எதிர்ப்பு / எஸ்டி டேக் சிந்த செய்ய வேண்டுமோ அத்தனையும் மே செய்கிறார் என்று இந்த உணர்வை மறைய உள்ளது. நாட்டின் பல பகுதிகளில், அத்துடன் மத்தியப் பிரதேசம் அவருடைய பிறப்பிடம்
மாவ் அம்பேத்கர் சிலைகள் உள்ள “மரியாதை காவலர்கள்” மே ஏற்பாடு.

எந்த
கட்சி எஸ்.சி / எஸ்.டி நீதி செய்து கோரலாம் பாஜக நிச்சயமாக அதற்கான
எஸ்.சி / எஸ்.டி முயற்சிக்க வேண்டும் என்று கடந்த கட்சியாகும்.
மாவ் தன்னை, எஸ்.சி / எஸ்.டி இன்னும் ஒரு தனி எரியும் தரையில் அவர்களின் இறந்த தகனம் செய்ய மேல்-சாதியினர் கட்டாயத்தில் உள்ளனர். அது எஸ்.சி / எஸ்.டி எதிராக அட்டூழியங்கள் வரும் போது மத்தியப் பிரதேசம் விளக்கப்படம் முதலிடம் வகிக்கிறது.

2013
ஆம் ஆண்டில், ஒரு கலெக்டர் மூலம் ஒரு எழுதப்பட்ட பொருட்டு ஒரு எஸ்சி
பொருட்டு / எஸ்டி ஒரு உதவித்தொகை பெற வேண்டும் என்று கோரி,
வழங்கப்பட்டதால், அவன் / அவள் ஒரு புகைப்படம் “நிரூபணம்” என ஒரு இறந்த
விலங்கு கொண்டு தயாரிக்க வேண்டும்.
இது போன்ற சம்பவங்கள் ஆர்எஸ்எஸ் மற்றும் அதன் avathars வழிகாட்டலின்
கீழ் நடைபெற்று வைத்து வரை ஜனநாயக நிறுவனங்கள் (மோடி presstitute இறந்த
மரம் ஊடக) எஸ்சி சார்பு தன்னை இழி பிரச்சாரத்தின் கொலையாளி / எஸ்டி வெற்றி
பெற முடியாது.

உயர்
சாதி ஆதிக்கம் செலுத்துவது போன்ற சங் நிகழ்ச்சி நிரலை விளக்குகிறது என்று
மற்றொரு உதாரணம் அண்டை ராஜஸ்தான் சுற்றுலா பிரச்சாரம் பிரதிபலிக்கிறது.
பல தசாப்தங்களாக, ராயல்ஸ் மற்றும் வர்த்தகர்கள் இந்த மாநில அதிகார
கைப்பிடிகளை நடைபெற்றது: ராயல்ஸ் வெளிநாட்டு சுற்றுலா பயணிகள் க்கு
விற்கப்படும் கலாச்சாரம் தொகுக்கப்பட்டன போது, வர்த்தகர்கள் அதை சமமாக
இருந்து 1991 ல் நாடு பொருளாதார சுதந்திரக் முதல் நன்மை அடைந்துள்ளனர்.

அதன்
சமீபத்திய விளம்பர பிரச்சாரம் இந்த நாட்டில் மனிதன் அல்லது இருக்க
முடியும் ஒரு சுற்றுலா கண்கள் மூலம் “Aryasthan” தன்னை முத்திரை
குத்துகிறது, ஆனால் பெயர் ஆர்யா ஒரு தற்செயலாக இருக்க முடியாது.
துணை கண்டத்தில் நாகரீகத்தையும் கொண்டு அந்த உன்னத இனம்: அது Aryavrat, Aryas தேசத்திலிருந்து மே பார்வையில் மைய அமைந்துள்ளது. எப்படி ராஜஸ்தான், Meenasthan அல்லது Banjarasthan அல்லது எஸ்சி / STsthan அழைப்பு பற்றி!

அது
குறைந்தபட்சம் தற்போது அங்கு டெல்டா Meghwal, ஒரு எஸ்சி மாணவர் பாலியல்
பலாத்காரம் மற்றும் கொலை செய்யப்பட்டார் கல்லூரி அதிபர் மற்றும் வார்டன்
காப்பாக இது தற்போது வசுந்தரா ராஜே அரசாங்கத்தின் பதவி நடக்க சாத்தியம்
இல்லை.
கூட 2016 ல், ஜனநாயக மற்றும் நிறுவனங்கள் (மோடி) ஒரு கொலையாளி கீழ்,
எஸ்சி எதிராக அட்டூழியங்கள் / பழங்குடியினர் தொடர்ந்து குறையாமல் மற்றும்
உண்மையில் அதிகரித்துள்ளது கூடும்.

ஜனநாயக நிறுவனங்களின் கொலைகாரன் (மோடி) ‘கள் சந்தர்ப்பவாத, SC / ST பிரேம்’

ஏப்ரல்
14 ம் தேதி, டாக்டர் அம்பேத்கர், ஜனநாயக நிறுவனம் (மோடி) கொலையாளி 125th
பிறந்த நாள் பிரதம மந்திரி மற்றும் வழக்கமான Modispeak ஆக ஒரு ஏழை மகன்
அனுமதிக்கப்படும் என்று அரசியலமைப்பு கட்டமைப்பை உருவாக்குவதில் அவருக்கு
நன்றி தெரிவித்தார், அவர் விவசாயிகள் பாராட்டினார் பாராட்டுக்களை பொழிந்து
மற்றும் அவர்கள் மீது ஆற்றல் மிக்க உரிச்சொற்கள் டெவில் ஸ்கிரிப்ட்
மேற்கோள் காட்டி மற்றும் கேக் சாப்பிடும் மற்றும் இன்னும் அது கொண்ட
விரும்புகிறேன்.

ஜனநாயக நிறுவனங்களின் (மோடி) கொலை அம்பேத்கர் ஜெயந்தி அன்று ஒரு கூட்டத்தில் முகவரிகள்.

அது
1% சகிப்புத்தன்மையற்ற chitpawan சொத்து உள்ளது என ஒரு ஓரங்கட்டப்பட்ட
சமூகத்தில் இருந்து ஒரு நபர் பிரதமராக இருக்க முடியும் போது, அது,
இருப்பினும், இன்னும் அவருக்கு முடியாது என்று எதிர்மறை மற்றும் சுய
விளக்கமளிக்கும் / அவள் ஆர்எஸ்எஸ் தலைமை ஆக
பிராமணர்கள், மோடி ஒரு முறை இந்த 1% chitpawan ஒரு பார்ப்பன அடிமையாக ஒரு பிரச்சாரகராக இருந்த இடத்தில். மே asingle எஸ்சி வராது / அதன் உயர்மட்டங்களில் உள்ள பழங்குடியினர் ஒரு, SC / ST அமைப்பு தன்னை தலைப்பு தனியாக விட்டு. ஜனநாயக நிறுவனம் (மோடி) கொலையாளி என்றால், இதை பற்றி ஏதாவது சொல்ல வேண்டும் என்று ஒரு வியக்கிறார்.

ஜனநாயக
நிறுவனங்களின் (மோடி) ‘கள் எஸ்.சி / எஸ்.டி அன்பு கொலை அவர்கள்
மாநிலங்களில் அல்லது மையத்தில் இருக்க எந்த அரசாங்கத்தை அமைக்க வேண்டும்
முக்கியமானவையாகும் ஆச்சரியம் கொடுக்கப்பட்ட இல்லை.
என்ன புதிரான டாக்டர் அம்பேத்கர் ஆர்எஸ்எஸ் ‘புதிய காதல். அதன் பாமக ஆர்கனைசர் ஏப்ரல் 17 பிரச்சினை முன் பக்கம் அம்பேத்கர் மற்றும் அவரது அரசியல் பாராட்டி பக்கங்களை ஒருதொகை உள்ளன.

,
ஆசிரியர் தலையங்கத்தில் இந்த மாதிரி “இட ஒதுக்கீடு ஆவி இன்னும் தீவிரமாக
மற்றும் உண்மையான, நாம் சமூக சமத்துவம், சகோதரத்துவம் முடிந்தவரை
சீக்கிரம் பாபாசாகேப் எதிர்பார்க்கப்படுகிறது அடைய முடியும் என்று, குறுகிய
கால அரசியல் காரணங்களுக்கு அப்பால் செயல்படுத்த ஒரு தேவை உள்ளது”.
மிக
முக்கியமாக, மற்றும், கடந்த பத்து; அதன் முழு வரலாற்றையும் ஆர்.எஸ்.எஸ்
மரியாதை ‘ஒரு “பாதுகாப்பு அம்பேத்கர் கொடுத்த முடியாது; மேலும்,
குறைந்தபட்சம் கடந்த பத்து ஆண்டுகளில், ஆர்கனைசர் ஒரு கவர் ஸ்டோரி
அம்பேத்கர் இருந்தது கிடையாது
ஆண்டுகள்,
அங்கு முறையில் மற்றும் பட்டம் இன்று நாங்கள் பார்த்துக் என்று, ஒரு, SC /
ST சிறுவன் திருமணம் செய்து கொள்ள ஒரு chitpawan பிராமணப் பெண் பிரசாதம்
தவிர ஒரு, SC / ST அணிதிரட்டல் இல்லை. “இந்த waqat கி ராம் ராம்” அல்லது
“waqat கி அம்பேத்கர் அம்பேத்கர்”
சக்தி பேராசையால்.

ஒருவேளை வேறு எதையும் விட, இதை இந்துத்துவ பிரிவினால் அம்பேத்கர் பறிப்பதற்கும் பைத்தியம் அவசரத்தில் விளக்குகிறது. ஆனால், அவர்கள் மீது அழிக்கமுடியாத சாதி எதிர்ப்பு சுவடும் மட்டுமே புத்த
ரோஹித்த குடும்பம் மாற்றுவதும் இருண்ட மற்றும் ஆழமான செய்யப்பட்டது.

கூறியது பிரபலம் யார் டாக்டர் அம்பேத்கர் போல், “நான் ஒரு இந்து மதம்
பிறந்த ஆனால் நான் ஒரு இந்து மதம் சாவதில்லை”, மற்றும் 1956 ல் Buddhsim
தழுவி, 60 ஆண்டுகளுக்கு பின்னர் ரோஹித்த குடும்பம் புத்த மதத்திற்கு
மாறினார் (ஒரு “இந்துத்துவ கிளை,” மே மூலம் தள்ளுபடி).

“இன்று முதல், என் அம்மா, நான் அதே கடவுள் யாருடைய பெயரில் எங்கள் மக்கள்
பல நூற்றாண்டுகளாக சித்திரவதை செய்யப்பட்டதாக பிரார்த்தனையால் குற்ற
இருந்து இலவச, அவமானம் இலவச தினசரி அவமானம் இலவச, இருக்கும்”, அவரது அண்ணன்
ராஜா மாறிய பிறகு கூறினார்.

1%
உயர் மதகுருவும், சகிப்புத்தன்மையற்ற போராளி, வன்முறை, பைத்தியம் மனநிலை
சரியில்லாத,, படப்பிடிப்பு மிராண்டியாக இடையர் பயத்தின் காகம் மனநோயாளி
chitpawan பிராமணர் ஆர்எஸ்எஸ் (ராட்சசன் ஸ்வயம் சேவகர்கள்) அதன் சகல
avathars பாஜக (Bahuth Jiyadha Psychopaths) விஸ்வ இந்து பரிஷத் (நஞ்சூ
Hintutva Psychopaths) தாக்கிக் கொலை,
ஏ.பி.வி.பி. (அனைத்து பிராமணர் நஞ்சூ Psychopaths) பஜன் தளம் மற்றும்
ஜனநாயக நிறுவனங்கள் (மோடி) மோசடி வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள்
சேதப்படுத்திய இந்த வார்த்தைகளை செவிசாய்க்க வேண்டும் வினால்
தேர்ந்தெடுக்கப்பட்ட கொலை.

முன்னாள் தலைமை EVM SADHASIVAM, அதன் கடமை shirked மற்றும் அவர்களுக்கு
பதிலாக ஏனெனில் 1600 கோடி செலவு சிஈசி EVM சம்பத் கோரிக்கை மீது
படிப்படியாக முறையில் மோசடி Tamperable வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் உள்ள
அனுமதிப்பதன் மூலம் தீர்ப்பு ஒரு தவறைச் செய்த மற்றும் நாட்டின் ஜனநாயகம்
ஒரு மரண அடியை தீர்க்கப்பட.

வாக்குச்
சீட்டில் அமைப்பு கொண்டு வரப்பட வேண்டும் முன்னாள் தலைமை கோரவில்லை.
அத்தகைய முன்னெச்சரிக்கை நடவடிக்கையாக உச்ச நீதிமன்றம் மூலம் விதிக்கப்
பட்டது.
முன்னாள்
தலைமை காலம் வரை பற்றிய 1300000 வாக்களிப்பு இயந்திரங்களை இந்த புதிய
தொகுப்பு முழு உற்பத்தி மற்றும் முற்றிலும் நிறுத்தப்பட்டுள்ளது என்று
கோரவில்லை.
உலகில் 80 குடியாட்சிகளில் அனைத்து மக்கள் வெறுமனே fradulent வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் அங்கிருந்து செய்துள்ளார் யார். எனவே ஜனநாயகம் நம்பிக்கை அனைவருக்கும் மக்கள், சுதந்திரம், சமத்துவம்
மற்றும் சகோதரத்துவம் ஜனநாயக நிறுவனங்கள் (மோடி) மற்றும் ஒரு அற்புதமான
அரசியலமைப்பின் இந்த நாட்டின் அவர்களின் ஆட்சிமுறை கொலைகாரர்கள்
அங்கீகரிக்க கூடாது.

ஒரு தெளிவான சான்றாக,:
அது
மோசடி பாதிக்கப்படலாம் வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் மூலம் நடத்தப்படும்
மக்களவைத் தேர்தலில் ஒரு ஆசனத்தைக் கூட வெல்ல முடியவில்லை போது மாயாவதி
முன்னாள் முதல்வர் பகுஜன் சமாஜ் கட்சியின் உத்தரப் பிரதேசம் மற்றும் தலைமை
(பகுஜன் சமாஜ் கட்சி), காகித வாக்குகள் மூலம் நடத்தப்படும் பஞ்சாயத்து
தேர்தலில் வெற்றி பெற்றது.
உ.பி.
முதல்வர் என, அவரது ஆட்சி சமூகத்தின் அனைத்து பிரிவினரையும் மத்தியில்
விகிதத்தில் செல்வம் விநியோகித்து சிறந்த இருந்தது, இந்த நாட்டின் பிரதமர்
ஆக தகுதியைப் பெற்றது.
இந்த பாரம்பரிய manuvadis பொறுத்துக் இல்லை. எனவே மோசடி வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் அவளை தோற்கடிக்க குறுக்கிட்டுவிடமுடியும் இருந்தது.

http://www.ndtv.com/india-news/they-have-failed-on-all-fronts-mayawati-attacks-pm-modi-samajwadi-party-1395414

அவர்கள் ‘தோல்வி அதனால்,’ அனைத்து முனைகளில்: மாயாவதி Attacks மோடி, சமாஜ்வாதி கட்சி

அவர்கள் அனைத்து முனைகளில் ‘தோல்வி’ வேண்டும்: மாயாவதி மோடி, சமாஜ்வாடி கட்சி Attacks

http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903

பாஜக ‘மத அடிப்படைவாதம்’ பரவிவருகிறது, மாயாவதி.

பகுஜன் சமாஜ் கட்சி தலைவர் மாயாவதி, பாஜக ‘ஏய் நாட்கள்’ விவசாயிகள், ஏழை,
சிறு வணிகர்களுக்கு அணுஆயுத நம்பிக்கையில் கெடுத்து விட்டது என்றார்.

பகுஜன் சமாஜ் கட்சி (BSP) தலைவர் மாயாவதி ஒரு ‘இந்துத்துவ ராஜ்யம்’
நாட்டை மாற்ற முடியும், அதன் முயற்சியில் “மத அடிப்படைவாதம்” மற்றும்
வெறுப்பு பரப்பி பாரதிய ஜனதா கட்சி (பகுஜன் சமாஜ் கட்சி) குற்றம்
சாட்டினார்.

 பாஜக ‘ஏய் நாட்கள்’ விவசாயிகள், ஏழை மக்கள் மற்றும் சிறு வர்த்தகர்கள்
மற்றும் முதலாளிகள் மற்றும் தொழிலதிபர்கள் மட்டுமே ஒரு “சில” க்கான
பயனடைந்தனர் அணுஆயுத நம்பிக்கையில் கெடுத்துவிட்டது.

“பெரிய அளவிலான பொது மக்களின் கோபம் வழிவகுத்த விலைவாசி உயர்வு, வரி
விதித்ததை போன்ற பிரச்சினைகளில் இருந்து மக்களின் கவனத்தை திசை திருப்ப
ஒரு முயற்சியாக, பாஜக மற்றும் அதன் நிறுவனங்கள் பிரச்சினைகள் தூண்டும்
முயற்சி
மத அடிப்படைவாதம், பரஸ்பர வெறுப்பு மற்றும் போலி தேசியவாதம் போல், “என்று அவர் கூறினார்.

அவர் பாஜக ஒரு “இந்துத்துவ ராஜ்யம்” அதன் பெற்றோர் அமைப்பு ஆர்எஸ்எஸ்
இந்த நாட்டில் மாற்ற இன் “குறுகிய மற்றும் சாதிய தத்துவம்” பின்வரும் என்று
கூறினார்.

இந்த வழிவகையில், அது தேசிய மற்றும் பொது வட்டி தியாகம் மற்றும்
“முழுமையாக அலட்சியம்” வறுமை, வேலையின்மை, அமைதி மற்றும் விலைவாசி உயர்வு
போன்ற விஷயங்களில், அவரது மேற்கோளிட்டு அறிக்கை கூறினார்.

ஊழல் பிரச்சினை பற்றி குறிப்பிடுகையில், தன்னை காங்கிரஸ், BJP ஒரே நாணயத்தின் இரண்டு பக்கங்களே கூறினார்.

“வழி பிஜேபி அரசாங்கம் ஊழல் பாதுகாக்க முயற்சி, அது வரும் ஆண்டுகளில் காங்கிரஸ் ஊழல் அடித்து என்று சாத்தியம்,” என்று அவர் கூறினார்.

அவள் மாநிலங்களில் பிஜேபி மற்றும் காங்கிரஸ் அரசாங்கங்கள் எஸ்.சி /
எஸ்.டி எதிராக அட்டூழியங்கள் மற்றும் சமுதாயத்தில் நலிவடைந்த பிரிவைச்
சேர்ந்த அந்த ஈடுபட்டுள்ளதாக கூறப்படுகிறது.

“அவர்கள் தங்கள் வாழ்நாள் முழுவதும், SC / ST சின்னங்கள் எதிர்த்த
போதிலும், அவர்களின் அரசியல் நலன்களை முன்னெடுக்க, இப்போது தங்கள்
பெயர்களை பயன்படுத்த,” முன்னாள் உத்தர பிரதேச முதல்வர் கூறினார்

2.
இப்போது சிஈசி அனைத்து வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் 2019 பொதுத் தேர்தலில் மாற்றப்படும் என்று கூறுகிறார்.

http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms

காகித-பாதை மின்னணு வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் வேண்டும் 2019 பொதுத் தேர்தலில்: நசீம் ஜைதி சிஈசி

3. பாஜக எதிர்க்கட்சி மே வீரகள் காகித ballotsas வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் இருந்த போது பொது மீளாய்வு உட்படுத்தப்பட்டனர்

http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html

மின்னணு வாக்குப்பதிவு எந்திரங்களை (வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள்)
அரசியல் கட்சிகளால் கேள்வி வருகின்றன இதில் reliablity தொடர்பாக சர்ச்சை
சேர்வது, மே டி மீண்டும் முயற்சி மாற்றியமைக்க தேர்தல் ஆணையம் (இசி)
கேட்டார் மற்றும் காகித வாக்குகள் சோதனை …

ஆனாலும்
அவர்கள் அவர் சரியான பாதையில் பாதங்கள் என்று நிரூபிக்கிறார் அவர் மீதான
என்றழைக்கப்படும் தோண்டி உட்பட தியேட்ரிக்ஸுடன் அனைத்து வகையான
ஈடுபட்டுள்ளன.
பாபாசாகேப்
அம்பேத்கர் ஒரு பிராமணர் பிரச்சனையில் எஸ்.சி / எஸ்.டி முயற்சிக்கும்
போது அவர்கள் சரியான பாதையில் இருக்கிறோம் என்று அர்த்தம் என்று
கூறினார்.
ஆர்எஸ்எஸ்
மற்றும் பாஜக உள்ளிட்ட அதன் avathars cowherds மற்றும் அவர்கள் இயல்பு
சகிப்புத் தன்மை இன்மையையும் வெறுப்பையும் வன்முறை, போராளி முழு இவை
அனைத்து தங்கள் பொல்லாத நடவடிக்கைகள் affraid என்பதால் காகங்கள்
பயமுறுத்தும்.
அவர்கள்
மன தஞ்சம் மன சிகிச்சை வேண்டும் என்று இந்த தீய நடைமுறைகள் மூலம்
மனவளர்ச்சி குன்றிய மனநோயாளிகள் பித்தர் மற்றும் பைத்தியம் மாறிவிட்டன.

15) Classical Hindi
15) शास्त्रीय हिन्दी

1841 बुध अप्रै, 20 2016 और अधिक पढ़ें
सबक

से

INSIGHT-नेट-ऑनलाइन A1 (एक जागृत) Tipitaka अनुसंधान और अभ्यास विश्वविद्यालय
दृश्य प्रारूप में (FOA1TRPUVF)
http://sarvajan.ambedkar.org के माध्यम से
aonesolarpower@gmail.com

शास्त्रीय बौद्ध धर्म (जागरूकता के साथ जागा वन की शिक्षाओं) दुनिया के हैं, और हर कोई विशेष अधिकार है: जे.सी.

एक माँ में इस विश्वविद्यालय के लिए एक सबक के रूप में सटीक अनुवाद प्रतिपादन
इस गूगल अनुवाद और प्रचार करने के लिए जीभ एक बनने के लिए भी मिलती हैं
दर्ज किया जाने (Sottapanna) धारा और एक अंतिम लक्ष्य के रूप में शाश्वत आनंद प्राप्त करने के लिए।

जागरूकता के साथ जागृत एक की शिक्षाओं का प्रचार वेबसाइटों की सूची अर्थात, बुद्ध त्रिपिटक में दृश्य प्रारूप
http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907
http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1।
http: // खबर है। Xinhuanet। कॉम / अंग्रेजी / 2009-07 / 27 / content_11780918 .htm
www.chinaview। सीएन
www.buddhismandbusi ness.webs। कॉम
http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/
www.grameenfoundation.org

http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/
http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf

http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/

http://www.dailyo.in/politics/br-ambedkar-dalit-politics-caste-system-rss-narendra-modi-sangh-parivar-organiser-hindutva/story/1/10103.html

Valay सिंह राय

लगातार
दिन पर राम नवमी (दिन भगवान राम का जन्म हुआ था) और अम्बेडकर जयंती के
गिरने से गठन विचारधाराओं की पलिम्प्सेस्ट हमें इन दो विरोधात्मक आंकड़ों
के माध्यम से “अम्बेडकर उपयुक्त करने के लिए दौड़” को देखने के लिए अनुमति
देता है।
एक, राम, हालांकि एक पौराणिक चरित्र, के रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
(राष्ट्रीय Swamasevak संघ) द्वारा championed राजनीतिक हिंदुत्व पर हावी
है।

1954 में डॉ अम्बेडकर, निबंध हिंदू की पहेलियों कहा जाता है की अपनी श्रृंखला में दोनों राम और कृष्ण पर नंगे अपने विचार देता है। अन्य खामियों के अलावा, वह Shambuka, एक “शूद्र” (आदिवासी
आदि-Mulanivasis की हत्या के लिए जिम्मेदार मानती है राम (socalled अछूत
अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति) भी वर्तमान दिन नागपुर से दूर नहीं,
ब्राह्मण तुष्टीकरण की खातिर।

डॉ
अम्बेडकर की जयंती पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ या भाजपा नेताओं द्वारा दिए
गए भाषण से कोई नहीं (आदिवासी आदि-Mulanivasis (socalled अछूत अनुसूचित
जाति / अनुसूचित जनजाति) राजनीति इस आधार पर संपर्क करने के लिए परवाह;।
सवर्णों द्वारा कि उत्पीड़न हिंदू मिथकों ने समर्थन किया है यह नहीं था ‘
उन्हें हालांकि अंबेडकर और उनकी राजनीति पर क्रेडिट रखना करने के लिए कोशिश कर रहा से बंद करो।

लेकिन, कई जीभ में बोल एक पुराने आरएसएस की रणनीति है।

समर्थक अम्बेडकर मोड़ करने के लिए जाति-विरोधी होने से, नागपुर धर्मी
पुरुषों सही है, जब इसके बारे में (एमआईएस) विनियोग कला के लिए आता है।

ऑर्गनाइजर के अप्रैल 17, 2016 और अधिक पढ़ें मुद्दा पहले पन्ने पर अम्बेडकर है।

2006 में, ऑर्गनाइजर, आरएसएस लाउडस्पीकर, उसके संपादक आरक्षण के खिलाफ एमवी कामथ ने एक कटु लेख प्रकाशित किया। इसमें
कहा गया है, “… कब तक इस आरक्षण प्रणाली पिछले करने के लिए है? पांच और
साल? दस? पंद्रह? पच्चीस? पचास? एक और साठ? जब यह बंद हो जाएगा? वहाँ इस
मुद्दे पर एक स्पष्ट समझ होनी चाहिए, ताकि उन शामिल पता है, जहां
वे खड़े हो जाओ। सरकारी शालीनता अनुसूचित जाति / जनजाति शालीनता के रूप में दोषी ठहराया जा के रूप में ज्यादा है। “

यह
भी कहा: “आरक्षण हमारे समाज के बने किया गया है आरक्षण जाति, वर्ग और
हमारे समाज में धार्मिक विभाजन जो आत्म विनाशकारी है perpetuated है उनकी
जाति या धार्मिक जुड़ाव भूल करने के बजाय, लोगों को विभिन्न सामाजिक समूहों
से संबंधित है।।
लंबी और व्यवस्था की शक्ति-केक का एक हिस्सा मिल में अपनी पहचान बनाए रखने की जरूरत आग्रहपूर्वक-महसूस किया। “

यह एक पुराने हिंदुत्व खीस्तयाग है: आरक्षण अक्षमता नस्ल और योग्यता अवमूल्यन करना। वे काउंटर उत्पादक रहे हैं और भारत से ‘प्रतिभा पलायन’ के लिए जिम्मेदार थे। ये भारत के ऊपरी जातियों के प्रसिद्ध शिकायत कर रहे हैं।

जो
कोई भी कहा कि यह भी भारत के कुलीन वर्ग, जो पढ़ना नहीं और नजरिए और
विशेषाधिकार सदियों से हासिल कर लिया देना था की ओर से बोल रहे थे “जब एक
सौभाग्य की बात करने के लिए प्रयोग किया जाता है, समानता उत्पीड़न की तरह
लग रहा है”, एक बार Jambudvipa यानी, प्रबुद्ध भारत एक संवैधानिक बन गया
जनतंत्र।

68 साल बाद वे अभी भी unlearning कर रहे हैं और गति केवल लोकतांत्रिक संस्थाओं (मोदी) के हत्यारे के बाद से मंथर हो गई है।

1949 में जब यह पहली बार के लिए डॉ अंबेडकर का पुतला जलाया के बाद से,
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rakshash स्वयं सेवकों), असंख्य savarna मायनों
में, अंत में डर हो गया है, कि यह अब Jambudvipa यानि कम इंसानों की तरह
प्रबुद्ध bharaths इलाज के लिए दिखाई दे सकता है।

डर
भाजपा (Bahuth Jiyadha Psychopaths) अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (सभी
ब्राह्मण विषैला मनोरोगी) की छात्र शाखा के बाद अनुसूचित जाति / जनजाति
बलों और प्रगतिशील समूहों के देश भर में व्यापक लामबंदी द्वारा उत्प्रेरक
है Rohith Vemula और अन्य अनुसूचित जाति / अनुसूचित खिलाफ हैदराबाद
केन्द्रीय विश्वविद्यालय प्रशासन के साथ सांठगांठ
अनुसूचित जनजाति के छात्रों। विरोधी अनुसूचित जाति / जनजाति टैग एक तिल की तरह, एक पैदाइशी निशान की
तरह किया गया है, तो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा के लिए, Rohith की
मौत और उसके उपचार यह उनके चेहरे पर एक inerasable मुहासा में तब्दील हो
गया है।

यह इस धारणा है कि आरएसएस यह सब कर सकते विरोधी अनुसूचित जाति / जनजाति टैग बहाने के लिए क्या कर रही है दूर करने के लिए है। आरएसएस देश में विभिन्न स्थानों के रूप में अच्छी तरह से मध्य प्रदेश में
उनके जन्मस्थान महू में अम्बेडकर की प्रतिमाओं पर “सम्मान के गार्ड ‘का
आयोजन किया।

कोई
पार्टी अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के लिए न्याय किया है के लिए दावा
कर सकते हैं, वहीं भारतीय जनता पार्टी निश्चित रूप से पिछले है कि पार्टी
उचित अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के लिए प्रयास करना चाहिए।
महू
अपने आप में, अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के अभी भी ऊंची जातियों
द्वारा मजबूर कर रहे हैं एक अलग जलने जमीन में उनके मृत दाह संस्कार करने
के लिए।
मध्य प्रदेश के चार्ट में सबसे ऊपर है, जब यह अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के खिलाफ अत्याचार करने के लिए आता है।

2013
में, एक कलेक्टर द्वारा एक लिखित आदेश जारी किया गया था, मांग की है कि एक
अनुसूचित जाति के लिए आदेश में / अनुसूचित जनजाति के लिए एक छात्रवृत्ति
प्राप्त करने के लिए, वह / वो एक तस्वीर ‘सबूत’ के रूप में एक मरे हुए
जानवर के साथ उत्पादन होगा।
लोकतांत्रिक संस्थाओं (मोदी-presstitute मृत लकड़ी मीडिया) समर्थक
अनुसूचित जाति के रूप में खुद को rebrand अभियान के हत्यारे / अनुसूचित
जनजाति सफल नहीं हो सकते जब तक इस तरह की घटनाओं के लिए आरएसएस और उसके
avathars के तत्वावधान में जगह लेते रहना।

एक और उदाहरण है कि ऊंची जाति के वर्चस्व के संघ के एजेंडे को दिखाता पड़ोसी राजस्थान के पर्यटन अभियान में दिखाई देता है। दशकों के लिए, रॉयल्स और व्यापारियों को इस राज्य की सत्ता-knobs आयोजित
किया है: जबकि रॉयल्स संस्कृति पैक विदेशी पर्यटकों को बेच दिया हो,
व्यापारियों से समान रूप से 1991 में देश के आर्थिक उदारीकरण के बाद से
लाभान्वित किया है।

इसका
नवीनतम विज्ञापन अभियान के रूप में “Aryasthan” ही ब्रांडों के लिए एक
पर्यटक जो इस देश के आदमी हो या नहीं हो सकता है की आँखों के माध्यम से,
लेकिन नाम आर्य एक संयोग नहीं हो सकता।
महान दौड़ है कि उप-महाद्वीप के लिए सभ्यता लाया: यह Aryavrat, Aryas देश से आरएसएस को देखने के मूल में निहित है। कैसे राजस्थान, Meenasthan या Banjarasthan या यहां तक ​​कि अनुसूचित जाति / STsthan फोन के बारे में!

यह
तो होना ही कम से कम वर्तमान वसुंधरा राजे सरकार के कार्यकाल में जो
वर्तमान में प्रिंसिपल और कॉलेज जहां डेल्टा मेघवाल, एक अनुसूचित जाति के
छात्र के साथ बलात्कार किया गया था और हत्या के वार्डन परिरक्षण है संभावना
नहीं है।
यहाँ तक कि 2016 में, और यहां तक ​​कि लोकतांत्रिक संस्थाओं (मोदी) के एक
हत्यारे के तहत, अनुसूचित जाति के खिलाफ अत्याचारों / एसटी बेरोकटोक जारी
है और वास्तव में वृद्धि हुई है हो सकता है।

लोकतांत्रिक संस्था के हत्यारे (मोदी) के अवसरवादी ‘अनुसूचित जाति / जनजाति प्रेम’

14
अप्रैल को डॉ अम्बेडकर, लोकतांत्रिक संस्था (मोदी) के कातिल की 125 वीं
जयंती संवैधानिक रूपरेखा है कि एक गरीब व्यक्ति के बेटे की अनुमति दी
प्रधानमंत्री और ठेठ Modispeak में बनने के लिए बनाने के लिए उसे धन्यवाद
दिया, वह किसानों की प्रशंसा और वाहवाही की बौछार
और उन पर सारगर्भित विशेषण शैतान स्क्रिप्ट के हवाले से और केक खाने और अभी भी यह होने की तरह।

लोकतांत्रिक संस्था (मोदी) का कातिल अम्बेडकर जयंती पर एक सभा को संबोधित करते हैं।

विडंबना
और सुगम तथ्य यह है कि जब एक सीमांत समुदाय से एक व्यक्ति को प्रधानमंत्री
हो सकता है, यह उसके लिए असंभव है, फिर भी, अब भी है / उसे राष्ट्रीय
स्वयंसेवक संघ के प्रमुख बनने के लिए के रूप में यह 1% असहिष्णु chitpawan
की संपत्ति है
ब्राह्मण, जहां मोदी एक बार यह 1% chitpawan ब्राह्मणों के एक दास के रूप में एक प्रचारक थे। आरएसएस
asingle अनुसूचित जाति कभी नहीं होगा / अपने शीर्ष पायदान में अनुसूचित
जनजाति अकेले एक अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति संगठन ही शीर्षक से छोड़
दें।
एक चमत्कार अगर लोकतांत्रिक संस्था (मोदी) का कातिल इस बारे में कुछ कहना चाहता है।

लोकतांत्रिक
संस्था (मोदी) के अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के लिए प्यार के
हत्यारे आश्चर्य की बात नहीं दिया जाता है कि वे किसी भी सरकार के गठन के
लिए महत्वपूर्ण हैं राज्यों में या केन्द्र में यह हो सकता है।
क्या पेचीदा है डॉ आंबेडकर के लिए आरएसएस ‘नए पाया प्यार है। अपने मुखपत्र ऑर्गनाइजर के अप्रैल 17 मुद्दा पहले पन्ने पर अम्बेडकर है और वहाँ अपनी राजनीति की तारीफ करते हुए पन्नों के reams हैं।

संपादकीय
से यह नमूना, “आरक्षण की भावना, लघु अवधि के राजनीतिक विचारों से परे है,
और अधिक तेजी से और सही मायने में लागू करने के लिए इतना है कि हम सामाजिक
समानता और भाईचारे बाबासाहेब द्वारा की उम्मीद के रूप में जल्दी संभव के
रूप में प्राप्त कर सकते हैं की जरूरत है”।
अपने
पूरे इतिहास में, आरएसएस कभी नहीं डॉ अम्बेडकर को सम्मान की ‘एक’ गार्ड
दिया गया है, इसके अलावा, कम से कम पिछले दस वर्षों में, ऑर्गनाइजर एक कवर
स्टोरी अम्बेडकर पर कभी नहीं पड़ा है, और, सबसे महत्वपूर्ण बात, पिछले दस
में
वर्ष,
वहाँ तरीके से और डिग्री है कि हम आज देख रहे हैं में एक अनुसूचित जाति /
अनुसूचित जनजाति के लड़के से शादी करने के लिए एक chitpawan ब्राह्मण लड़की
की पेशकश, सिवाय एक अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति की तैनाती नहीं की गई
है। “यह Waqat ki राम राम” या “Waqat ki अम्बेडकर अम्बेडकर”
सत्ता के लिए लालच के लिए।

शायद यह और कुछ से अधिक हिंदुत्व ब्रिगेड द्वारा अम्बेडकर उपयुक्त करने के लिए पागल भीड़ बताते हैं। लेकिन, उन पर अमिट जाति-विरोधी कलंक ही गहरा और बौद्ध धर्म को Rohith के परिवार के रूपांतरण द्वारा गहरा बनाया गया था।

डॉ अम्बेडकर जो प्रसिद्धि ने कहा, “मैं एक हिंदू पैदा हुआ था, लेकिन मैं
एक हिंदू नहीं मर जाएगा”, और 1956 में Buddhsim गले लगा लिया, 60 साल बाद
Rohith के परिवार बौद्ध धर्म में परिवर्तित (एक “हिंदुत्व की शाखा” के रूप
में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा खारिज कर दिया)।

“आज से, मेरी माँ और मैं, दैनिक अपमान से मुक्त है, वही भगवान जिसका नाम
पर हमारे लोगों के लिए सदियों से अत्याचार किया गया है करने के लिए
प्रार्थना की अपराध से शर्म से मुक्त मुक्त हो जाएगा”, उनके भाई राजा
रूपांतरण के बाद कहा।

,
असहिष्णु आतंकवादी, हिंसक, पागल, मानसिक रूप से मंद 1% की उच्च पुजारियों,
शूटिंग, नरभक्षी चरवाहे डराने कौवा मनोरोगी chitpawan ब्राह्मण राष्ट्रीय
स्वयंसेवक संघ (Rakshasa स्वयं सेवकों) और उसके सभी avathars भाजपा (Bahuth
Jiyadha Psychopaths) विहिप (विषैला Hintutva Psychopaths) lynching,
अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (सभी ब्राह्मण विषैला Psychopaths) भजन दल
और लोकतांत्रिक संस्थानों (मोदी) जो धोखाधड़ी ईवीएम छेड़छाड़ इन शब्दों को
ध्यान देना चाहिए द्वारा चयन किया गया था के हत्यारे।

पूर्व मुख्य न्यायाधीश ईवीएम SADHASIVAM, अपने कर्तव्य shirked और उन्हें
बदलने के लिए 1600 करोड़ लागत की वजह से मुख्य चुनाव आयुक्त ईवीएम SAMPATH
के अनुरोध पर चरणबद्ध तरीके से धोखाधड़ी Tamperable ईवीएम में अनुमति देकर
न्याय की एक गंभीर गलती की है और देश के लोकतंत्र के लिए एक घातक झटका
निपटा।

पूर्व
मुख्य न्यायाधीश आदेश नहीं दिया के लिए मतपत्र प्रणाली में लाया जाएगा।
ऐसी कोई एहतियाती उपाय के उच्चतम न्यायालय ने फैसला सुनाया था।
पूर्व
मुख्य न्यायाधीश आदेश नहीं दिया है कि समय तक 1300000 के बारे में वोटिंग
मशीनों के इस नए सेट और पूरी तरह से तैनात पूर्ण में निर्मित है।
दुनिया में 80 लोकतंत्र में सभी लोग हैं जो सिर्फ fradulent ईवीएम के साथ दूर किया। इसलिए सभी लोगों को जो लोकतंत्र में विश्वास करते हैं, स्वतंत्रता,
समानता और भाईचारे लोकतांत्रिक संस्थाओं (मोदी) और एक अद्भुत संविधान के
साथ इस देश के अपने शासन के हत्यारों को पहचान नहीं करना चाहिए।

एक स्पष्ट सबूत के रूप में:
सुश्री
मायावती ने पूर्व मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश और बहुजन समाज पार्टी के मुख्य
मंत्री (बसपा), कागज मतपत्र के माध्यम से आयोजित पंचायत चुनाव में जीत
हासिल की है, जबकि यह धोखाधड़ी की चपेट में ईवीएम के माध्यम से आयोजित
लोकसभा चुनाव में एक भी सीट नहीं जीत सकता है।
उत्तर
प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में, उसके शासन में समाज के सभी वर्गों के
बीच आनुपातिक धन वितरण से सबसे अच्छा था और इस देश के प्रधानमंत्री बनने के
लिए पात्र बन गया।
इस पारंपरिक manuvadis द्वारा सहन नहीं किया गया था। तो धोखाधड़ी ईवीएम उसे हराने के लिए छेड़छाड़ कर रहे थे।

http://www.ndtv.com/india-news/they-have-failed-on-all-fronts-mayawati-attacks-pm-modi-samajwadi-party-1395414

वे ‘असफल’ है सभी मोर्चों पर: मायावती हमलों मोदी, समाजवादी पार्टी

वे सभी मोर्चों पर ‘विफल’ है: मायावती मोदी, समाजवादी पार्टी हमलों

http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903

भाजपा के प्रसार ‘धार्मिक कट्टरवाद’ मायावती कहते हैं।

बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि भाजपा ‘अरे दिनों’ किसानों के लिए, गरीब और छोटे व्यापारियों में कायम करने की उम्मीद खराब हो गया है।

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती एक ‘हिंदुत्व राष्ट्र’ में
“धार्मिक कट्टरवाद” और घृणा देश परिवर्तित करने के लिए अपनी बोली में
फैलाने का भारतीय जनता पार्टी (बसपा) का आरोप लगाया।

 भाजपा में ‘अरे दिनों’ किसानों, गरीबों और छोटे व्यापारियों और केवल एक
पूंजीपतियों और उद्योगपतियों के “मुट्ठी” के लिए लाभ हुआ है कायम करने की
उम्मीद खराब हो गया है।

“एक बोली मूल्य वृद्धि, करों का अधिरोपण जो बड़े पैमाने पर जनता के
गुस्से का नेतृत्व किया है जैसे मुद्दों से लोगों का ध्यान हटाने के लिए,
भाजपा और उसके संगठनों के मुद्दों को भड़काने के लिए कोशिश कर रहे हैं
धार्मिक कट्टरवाद, आपसी नफरत और छद्म राष्ट्रवाद की तरह है, “उसने कहा।

उसने यह भी कहा कि भाजपा एक “हिंदुत्व राष्ट्र” में अपने माता पिता के
संगठन आरएसएस के इस देश में परिवर्तित करने के ‘संकीर्ण और जातिवादी दर्शन
“पीछा कर रहा है।

इस प्रक्रिया में, यह राष्ट्रीय और जनता के हित का बलिदान दिया है और
“पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया गया है” गरीबी, बेरोजगारी, शांति और महंगाई
जैसे मामलों, एक बयान के हवाले से कहा है उसे।

भ्रष्टाचार के मुद्दे का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा और कांग्रेस एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।

“जिस तरह से भाजपा सरकार भ्रष्ट को बचाने की कोशिश कर रहा है, यह संभव है
कि यह आने वाले वर्षों में कांग्रेस के भ्रष्टाचार को हरा देंगे,” उसने
कहा।

उन्होंने आरोप लगाया राज्यों में भाजपा और कांग्रेस सरकारों अनुसूचित
जाति / अनुसूचित जनजाति के खिलाफ अत्याचार और समाज के कमजोर वर्गों के
लोगों में लिप्त हैं।

“हालांकि वे अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के प्रतीक उनके जीवन भर का
विरोध किया है, वे अपने राजनीतिक हितों को आगे करने के लिए अब उनके नाम का
उपयोग,” उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा

2।
अब मुख्य चुनाव आयुक्त का कहना है कि सभी ईवीएम 2019 के आम चुनावों में प्रतिस्थापित किया जाएगा।

http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms

पेपर ट्रेल इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों है 2019 के आम चुनाव: नसीम जैदी, सीईसी

3. जब भाजपा विपक्ष आरएसएस इष्ट कागज ballotsas ईवीएम में था सार्वजनिक जांच के अधीन थे

http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) जो राजनीतिक दलों से पूछताछ की गई है
के reliablity के बारे में विवाद में शामिल होने से, आरएसएस टी वापस करने
की कोशिश करने के लिए वापस लौटने के लिए चुनाव आयोग (ईसी) पूछा और कागज
मतपत्र का परीक्षण …

अभी
तक वे वह खिलाफ आय से अधिक तथाकथित खुदाई जो साबित करता है कि वह सही
रास्ते चल रहा है सहित नाटकीयता के सभी प्रकार में शामिल हैं।
बाबा
साहेब डॉ बी आर अम्बेडकर ने कहा कि जब एक ब्राह्मण मुसीबत अनुसूचित जाति /
अनुसूचित जनजाति की कोशिश करता है कि इसका मतलब है कि वे सही रास्ते पर
हैं।
राष्ट्रीय
स्वयंसेवक संघ और भाजपा सहित अपने सभी avathars ग्वालों कर रहे हैं और
कौवे को डराने के बाद से वे अपने सभी बुराई गतिविधियों जो हिंसक स्वभाव से
असहिष्णुता और घृणा के आतंकवादी भरे हुए हैं की affraid हैं।
वे मानसिक रूप से मंद psychopaths पागलों और इन बुरी प्रथाओं कि मानसिक पागलखानों में मानसिक इलाज की जरूरत के साथ पागल हो गए हैं।

19) Classical Punjabi
19) ਕਲਾਸੀਕਲ ਦਾ ਪੰਜਾਬੀ

1841 ਬੁੱਧ ਅਪਰੈਲ 20 2016
ਸਬਕ

ਤੱਕ

ਸਮਝ-net-ਆਨਲਾਈਨ A1 (ਇਕ ਜਾਗ) ਭਗਵਤ ਰਿਸਰਚ ਅਤੇ ਪ੍ਰੈਕਟਿਸ ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ
ਵਿਜ਼ੂਅਲ ਫਾਰਮੈਟ ਵਿੱਚ (FOA1TRPUVF)
http://sarvajan.ambedkar.org ਦੁਆਰਾ
aonesolarpower@gmail.com

ਕਲਾਸੀਕਲ ਬੁੱਧ (ਜਾਗਰੂਕਤਾ ਦੇ ਨਾਲ ਜਗਾਇਆ ਦੇ ਉਪਦੇਸ਼) ਸੰਸਾਰ ਨੂੰ ਨਾਲ ਸੰਬੰਧਿਤ ਹੈ, ਅਤੇ ਹਰ ਕੋਈ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਅਧਿਕਾਰ ਹਨ: JC

ਇੱਕ ਦੇ ਮਾਤਾ-ਵਿੱਚ ਇਸ ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਇਕ ਸਬਕ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਸਹੀ ਅਨੁਵਾਦ ਪੇਸ਼ਕਾਰੀ
ਇਸ Google ਅਨੁਵਾਦ ਅਤੇ ਪ੍ਰਸਾਰ ਕਰਨ ਲਈ ਜ਼ਬਾਨ ਬਣਨ ਦਾ ਹੱਕਦਾਰ
Enterer (Sottapanna) ਸਟ੍ਰੀਮ ਅਤੇ ਇੱਕ ਅੰਤਿਮ ਟੀਚਾ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਅਨਾਦਿ Bliss ਨੂੰ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ ਲਈ.

ਜਾਗਰੂਕਤਾ ਨਾਲ ਜਗਾਇਆ ਇਕ ਦੀ ਸਿੱਖਿਆ ਦਾ ਪ੍ਰਚਾਰ ਵੈੱਬਸਾਈਟ ਦੀ ਸੂਚੀ ਭਾਵ, ਬੁੱਧ Tripitaka ਵਿਚ ਵਿਜ਼ੁਅਲ ਫਾਰਮੈਟ ਨੂੰ
http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907
http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1.
http: // ਨਿਊਜ਼. xinhuanet. com / ਅੰਗਰੇਜ਼ੀ / 2009-07 / 27 / content_11780918 .htm
www.chinaview. ਚੀਨ
www.buddhismandbusi ness.webs. com
http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/
www.grameenfoundation.org

http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/
http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf

http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/

http://www.dailyo.in/politics/br-ambedkar-dalit-politics-caste-system-rss-narendra-modi-sangh-parivar-organiser-hindutva/story/1/10103.html

Valay ਸਿੰਘ ਰਾਏ

ਲਗਾਤਾਰ
ਦਿਨ ‘ਤੇ ਰਾਮ ਦੁਸ਼ਹਿਰਾ (ਦਿਨ ਦਾ ਪ੍ਰਭੂ ਹੈ ਰਾਮ ਦਾ ਜਨਮ ਹੋਇਆ ਸੀ) ਅਤੇ ਅੰਬੇਦਕਰ
ਜੈਅੰਤੀ ਦੇ ਡਿੱਗਣ ਨਾਲ ਬਣਾਈ ਵਿਚਾਰਧਾਰਾ ਦੀ ਇੱਕ palimpsest ਨੇ ਸਾਨੂੰ ਇਹ ਸਪੱਸ਼ਟ
ਅੰਕੜੇ ਦੁਆਰਾ “ਅੰਬੇਦਕਰ ਹਥਿਆਉਣ ਲਈ ਦੌੜ’ ਤੇ ਖੋਜ ਕਰਨ ਲਈ ਸਹਾਇਕ ਹੈ.
ਇੱਕ, ਰਾਮ, ਪਰ, ਇੱਕ ਮਿਥਿਹਾਸਿਕ ਅੱਖਰ, ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਸੰਘ ਦੇ (ਰਾਸ਼ਟਰੀ Swamasevak ਸੰਘ) ਦੇ championed ਸਿਆਸੀ ਹਿੰਦੂਤਵ ਟੂਣਾ.

1954 ਵਿੱਚ, ਡਾ ਅੰਬੇਦਕਰ, ਲੇਖ Hindusim ਦੇ ਬੁਝਾਰਤ ਕਹਿੰਦੇ ਦੇ ਉਸ ਦੇ ਲੜੀ ‘ਚ, ਦੋਨੋ ਰਾਮ ਅਤੇ ਕ੍ਰਿਸ਼ਨਾ ਤੇ ਬੇਅਰ ਨੇ ਆਪਣੇ ਵਿਚਾਰ ਕਰ ਦਿੰਦਾ ਹੈ. ਹੋਰ ਫਲਾਅ ਇਲਾਵਾ, ਉਸ ਨੇ Shambuka, ਇੱਕ “ਸ਼ੂਦਰ” (ਆਦਿਵਾਸੀ ਆਦਿ-Mulanivasis
ਦੇ ਕਤਲ ਲਈ ਰਾਮ ਜ਼ਿੰਮੇਵਾਰ (socalled ਅਛੂਤ ਐਸ.ਸੀ. / STS) ਨੂੰ ਵੀ ਅੱਜ-ਕੱਲ੍ਹ
ਨਾਗਪੁਰ ਤੱਕ ਦੂਰ ਨਾ, ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਤੁਸ਼ਟੀਕਰਨ ਦੀ ਖ਼ਾਤਰ.

ਡਾ
ਅੰਬੇਦਕਰ ਦੇ ਜਨਮ ਦਿਵਸ ‘ਤੇ ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਜ ਭਾਜਪਾ ਆਗੂ ਨੇ ਕੀਤੀ ਭਾਸ਼ਣ ਦਾ ਕੋਈ ਦਾ
(ਮੂਲ ਆਦਿ-Mulanivasis (socalled ਅਛੂਤ ਐਸ.ਸੀ. / STS) ਦੀ ਸਿਆਸਤ ਨੂੰ ਇਸ
ਮੱਧਵਰਤੀ ਉੱਤੇ ਛੂਹ ਲਈ ਚਿੰਤਿਤ. ਵੱਡੇ ਜਾਤੀ ਕੇ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਜ਼ੁਲਮ ਹਿੰਦੂ ਕਲਪਤ ਕੇ
ਸਮਰਥਨ ਹੈ, ਇਹ didn’
ਟੀ ਨੇ ਪਰ ਅੰਬੇਦਕਰ ਅਤੇ ਉਸ ਦੇ ਰਾਜਨੀਤੀ ‘’ ਤੇ ਕਰੈਡਿਟ ਰੱਖਣਗੇ ਕਰਨ ਦੀ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਤੱਕ ਨੂੰ ਰੋਕਣ.

ਪਰ, ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਭਾਸ਼ਾ ਵਿੱਚ ਬੋਲਣ ਵਾਲੇ ਇੱਕ ਪੁਰਾਣੇ ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਚਾਲ ਹੈ.

ਪੱਖੀ ਅੰਬੇਦਕਰ ਕਰ ਦਿਓ ਕਰਨ ਲਈ ਵਿਰੋਧੀ ਜਾਤੀ ਹੋਣ ਤੱਕ, ਨਾਗਪੁਰ ਦੇ ਪਰਮੇਸ਼ੁਰ ਲੋਕ ਸੰਪੂਰਣ ਹੈ ਜਦ ਇਸ ਦੇ (ਗਲਤ) ਤੇਪਾਰਲੀਮਟ ਕਲਾ ਨੂੰ ਆ ਰਹੇ ਹਨ.

ਆਰਗੇਨਾਈਜ਼ਰ ਦੇ ਅਪ੍ਰੈਲ 17, 2016 ਇਸ ਮੁੱਦੇ ਸਾਹਮਣੇ ਸਫ਼ੇ ‘ਤੇ ਅੰਬੇਡਕਰ ਹਨ.

2006 ਵਿੱਚ, ਆਰਗੇਨਾਈਜ਼ਰ, ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਲਾਊਡਸਪੀਕਰ, ਇਸ ਦੇ ਸੰਪਾਦਕ ਰਿਜ਼ਰਵੇਸ਼ਨ ਦੇ ਖਿਲਾਫ ਐਮਵੀ ਕਾਮਤ ਨੇ ਤਿੱਖੇ ਲੇਖ ਪ੍ਰਕਾਸ਼ਿਤ. ਇਹ
ਵੀ ਆਖਿਆ, “… ਕਿੰਨਾ ਚਿਰ ਇਸ ਰਿਜ਼ਰਵੇਸ਼ਨ ਸਿਸਟਮ ਰਹਿ ਕਰਨ ਲਈ ਹੈ? ਪੰਜ ਸਾਲ ਹੋਰ?
ਦਸ? ਕੁਲ੍ਲ? ਵੀਹ ਪੰਜ? ਪੰਜਾਹ? ਹੋਰ ਸੱਠ? ਜਦ ਇਸ ਨੂੰ ਰੋਕਣਾ ਹੋਵੇਗਾ? ਉਪਲਬਧ ਮੁੱਦੇ
‘ਤੇ ਇੱਕ ਸਾਫ ਸਮਝ ਦਾ ਹੋਣਾ ਜ਼ਰੂਰੀ ਹੈ, ਇਸ ਲਈ ਹੈ ਕਿ ਜਿਹੜੇ ਸ਼ਾਮਲ ਜਾਣਦੇ ਕਿ
ਉਹ ਖੜ੍ਹੇ. ਸਰਕਾਰੀ ਅਲਗਰਜ਼ੀ ਐਸ.ਸੀ. / ਐਸ.ਟੀ ਅਲਗਰਜ਼ੀ ਤੌਰ ਜ਼ਿੰਮੇਵਾਰ ਠਹਿਰਾਇਆ ਜਾ ਕਰਨ ਲਈ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਬਹੁਤ ਹੈ. “

ਇਸ
ਵਿਚ ਇਹ ਵੀ ਕਿਹਾ: “ਰਿਜ਼ਰਵੇਸ਼ਨ ਸਾਡੇ ਸਮਾਜ ਦੇ ਸਰਾਪ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ, ਰਿਜ਼ਰਵੇਸ਼ਨ
ਜਾਤ, ਕਲਾਸ ਅਤੇ ਸਾਡੇ ਸਮਾਜ ਵਿੱਚ ਧਾਰਮਿਕ ਪਾੜਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਸਵੈ-ਵਿਨਾਸ਼ਕਾਰੀ ਹੈ
ਟਾਲਿਆ ਹੈ ਆਪਣੇ ਜਾਤੀ ਜ ਧਾਰਮਿਕ ਜੁੜਾਵ ਭੁੱਲ ਕਰਨ ਦੀ ਬਜਾਏ, ਲੋਕ ਵੱਖ-ਵੱਖ ਸਮਾਜਿਕ
ਗਰੁੱਪ ਨਾਲ ਸਬੰਧਤ ਹੈ..
ਲੰਬੇ-ਅਤੇ ਵਿਵਸਥਾ ਦੀ ਸ਼ਕਤੀ-ਕੇਕ ਦਾ ਇੱਕ ਹਿੱਸਾ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ ਲਈ ਆਪਣੇ ਪਛਾਣ ਕਾਇਮ ਰੱਖਣ ਲਈ ਲੋੜ ਨੂੰ ਸਫ਼ਾਈ ਨਾਲ-ਮਹਿਸੂਸ ਕੀਤਾ. “

ਇਹ ਇੱਕ ਪੁਰਾਣੇ ਹਿੰਦੂਤਵ trope ਹੈ: ਰਿਜ਼ਰਵੇਸ਼ਨ ਨਾਕਾਬਲੀਅਤ ਜਣਨ ਅਤੇ ਮੈਰਿਟ devalue. ਉਹ ਵਿਰੋਧੀ-ਲਾਭਕਾਰੀ ਹਨ ਅਤੇ ਭਾਰਤ ਤੱਕ “ਦਿਮਾਗ ਨੂੰ-ਡਰੇਨ ‘ਲਈ ਜ਼ਿੰਮੇਵਾਰ ਸਨ. ਇਹ ਭਾਰਤ ਦੇ ਵੱਡੇ-ਜਾਤੀ ਦੇ ਪ੍ਰਸਿੱਧ grouse ਹਨ.

,
ਜੋ ਕੋਈ ਕਿਹਾ ਕਿ ਇਹ ਵੀ ਭਾਰਤ ਦਾ ਕੁਲੀਨ, ਜੋ unlearn ਅਤੇ ਰਵੱਈਏ ਅਤੇ ਅਧਿਕਾਰ ਸਦੀ
ਵੱਧ ਹਾਸਲ ਛੱਡਣਾ ਪਿਆ ਸੀ ਦੇ ਪੱਧਰ ‘ਤੇ ਗੱਲ ਕਰ ਰਿਹਾ ਸੀ “ਜਦ ਇੱਕ ਸਨਮਾਨ ਕਰਨ ਲਈ
ਵਰਤਿਆ ਗਿਆ ਹੈ, ਸਮਾਨਤਾ ਜ਼ੁਲਮ ਵਰਗੇ ਮਹਿਸੂਸ”, ਇਕ ਵਾਰ Jambudvipa ਭਾਵ,
Prabuddha bharath ਇਕ ਸੰਵਿਧਾਨਕ ਬਣ ਗਿਆ
ਲੋਕਤੰਤਰ.

68 ਸਾਲ ਬਾਅਦ ਉਹ ਹਾਲੇ ਵੀ unlearning ਹਨ ਅਤੇ ਤੇਜ਼ ਸਿਰਫ ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ (ਮੋਦੀ) ਦੇ ਕਾਤਲ ਬਾਅਦ ਮੱਠੀ ਕੀਤਾ ਹੈ.

1949, ਜਦ ਕਿ ਇਹ ਪਹਿਲੀ ਵਾਰ ਡਾ ਅੰਬੇਦਕਰ ਦੇ ਪੁਤਲਾ ਸਾੜਿਆ ਲੈ ਕੇ, ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ.
(Rakshash Swayam ਸੇਵਕ), ਬੇਸ਼ੁਮਾਰ savarna ਢੰਗ ਵਿੱਚ, ਅੰਤ ਡਰ ਗਈ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ
ਇਸ ਨੂੰ ਕੋਈ ਵੀ ਹੁਣ Jambudvipa ਭਾਵ, ਘੱਟ ਮਨੁੱਖੀ ਜੀਵ ਵਰਗਾ Prabuddha bharaths
ਦਾ ਇਲਾਜ ਕਰਨ ਲਈ ਪ੍ਰਗਟ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ.

ਡਰ
ਭਾਜਪਾ ਦੇ (Bahuth Jiyadha Psychopaths) ਏਬੀਵੀਪੀ (ਸਾਰੇ ਬ੍ਰਾਹਮਣ venomous
psychopath) ਦੇ ਵਿਦਿਆਰਥੀ ਵਿੰਗ ਦੇ ਬਾਅਦ ਐਸ.ਸੀ. / ਐਸ.ਟੀ ਫ਼ੌਜ ਅਤੇ ਪ੍ਰਗਤੀਸ਼ੀਲ
ਗਰੁੱਪ ਦੇ ਦੇਸ਼-ਵਿਆਪਕ ਲਾਮਬੰਦੀ ਕਰਕੇ ਪ੍ਰੇਰਕ ਹੈ Rohith Vemula ਅਤੇ ਹੋਰ ਐਸ.ਸੀ. /
ਖਿਲਾਫ ਹੈਦਰਾਬਾਦ ਮੱਧ ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਪ੍ਰਸ਼ਾਸਨ ਦੇ ਨਾਲ ਇਿੱਟ
ST ਵਿਦਿਆਰਥੀ. ਵਿਰੋਧੀ ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ਐਸਟੀ ਟੈਗ ਨੂੰ ਇੱਕ ਮਾਨਕੀਕਰਣ ਵਰਗਾ, ਇੱਕ birthmark ਵਰਗੇ
ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ, ਜੇ, ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਅਤੇ ਭਾਜਪਾ ਲਈ, Rohith ਦੀ ਮੌਤ ਅਤੇ ਇਸ ਦੇ ਇਲਾਜ ਲਈ
ਇਸ ਨੂੰ ਆਪਣੇ ਮੂੰਹ ‘ਤੇ ਇਕ inerasable blotch ਵਿੱਚ ਬਦਲ ਦਿੱਤਾ ਹੈ.

ਇਹ ਇਸ ਪ੍ਰਭਾਵ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਸਾਰੇ ਇਸ ਨੂੰ ਕਰ ਸਕਦਾ ਵਿਰੋਧੀ ਐਸ.ਸੀ. / ਐਸ.ਟੀ ਟੈਗ ਵਹਾਇਆ ਕਰਨ ਲਈ ਕਰ ਰਿਹਾ ਹੈ ਦੂਰ ਕਰਨ ਲਈ ਹੁੰਦਾ ਹੈ. ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਦੇਸ਼ ਵਿਚ ਵੱਖ-ਵੱਖ ਸਥਾਨ ਦੇ ਨਾਲ ਨਾਲ ‘ਤੇ ਮੱਧ ਪ੍ਰਦੇਸ਼’ ਚ ਉਸ ਦੇ ਜਨਮ ਮਹੋ ਵਿਚ ਅੰਬੇਦਕਰ ਬੁੱਤ ‘ਤੇ “ਆਦਰ ਦੇ ਗਾਰਡ’ ਦਾ ਆਯੋਜਨ ਕੀਤਾ.

ਕੋਈ
ਵੀ ਪਾਰਟੀ ਸੁਪਰੀਮ / ਪਿਛੜੀ ਲਈ ਇਨਸਾਫ ਕੀਤਾ ਹੈ ਕਰਨ ਦਾ ਦਾਅਵਾ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਜਦਕਿ,
ਭਾਜਪਾ ਨੂੰ ਜ਼ਰੂਰ ਪਿਛਲੇ ਪਾਰਟੀ ਨੂੰ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਉਚਿਤ ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ਪਿਛੜੀ ਕਰਨ ਦੀ
ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਕਰਨੀ ਚਾਹੀਦੀ ਹੈ.
ਮਹੋ
ਆਪਣੇ ਆਪ ਨੂੰ ਵਿੱਚ, ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ਪਿਛੜੀ ਅਜੇ ਵੀ ਵੱਡੇ-ਜਾਤੀ ਦੇ ਕੇ ਲਈ ਮਜਬੂਰ ਕਰ
ਰਹੇ ਹਨ ਇੱਕ ਵੱਖਰਾ ਬਣਾਉਣ ਜ਼ਮੀਨ ਵਿੱਚ ਆਪਣੇ ਮੁਰਦੇ ਸਸਕਾਰ ਕਰਨ ਲਈ.
ਮੱਧ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਚਾਰਟ ਨੰਬਰ ਜਦ ਇਸ ਨੂੰ ਐਸ.ਸੀ. / ਪਿਛੜੀ ਵਿਰੁੱਧ ਜ਼ੁਲਮ ਕਰਨ ਲਈ ਆਇਆ ਹੈ.

2013
ਵਿੱਚ, ਇੱਕ ਕੁਲੈਕਟਰ ਨੇ ਇੱਕ ਲਿਖਤੀ ਹੁਕਮ ਜਾਰੀ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ, ਦੀ ਮੰਗ ਹੈ ਕਿ ਇੱਕ
ਸੁਪਰੀਮ ਲਈ ਕ੍ਰਮ ਵਿੱਚ / ਐਸਟੀ ਨੂੰ ਇੱਕ ਸਕਾਲਰਸ਼ਿਪ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ ਲਈ, ਉਸ ਨੇ / ਉਸ
ਨੂੰ ਇੱਕ ਤਸਵੀਰ “ਸਬੂਤ” ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਇੱਕ ਮਰੇ ਹੋਏ ਜਾਨਵਰ ਦੇ ਨਾਲ ਪੈਦਾ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ
ਹੈ.
ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ (ਮੋਦੀ-presstitute ਮਰੇ ਲੱਕੜ ਮੀਡੀਆ)-ਪੱਖੀ ਸੁਪਰੀਮ ਤੌਰ ਤੇ ਆਪਣੇ
ਆਪ ਬਖਸ਼ਣ ਮੁਹਿੰਮ ਦੇ ਕਾਤਲ / ਐਸਟੀ ਸਫ਼ਲ ਨਾ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ ਜਦ ਤੱਕ ਕਿ ਅਜਿਹੇ ਮਾਮਲੇ
ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਅਤੇ ਇਸ ਦੇ avathars ਦੇ ਛੱਤਰ ਹੇਠ ਜਗ੍ਹਾ ਨੂੰ ਲੈ ਕੇ ਰਹਿੰਦੇ ਹਨ.

ਇਕ ਹੋਰ ਮਿਸਾਲ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਉੱਚ ਜਾਤੀ ਹਕੂਮਤ ਦੇ ਸੰਘ ਦੇ ਏਜੰਡੇ ਲੱਗਦਾ ਲਾਗਲੇ ਰਾਜਸਥਾਨ ਦੇ ਸੈਰ-ਸਪਾਟਾ ਮੁਹਿੰਮ ਵਿਚ ਝਲਕਦਾ ਹੈ. ਦਹਾਕੇ ਲਈ, ਰਾਇਲਜ਼ ਅਤੇ ਵਪਾਰੀ ਇਸ ਨੂੰ ਰਾਜ ਦੀ ਸ਼ਕਤੀ-knobs ਹੋਈ ਹੈ: ਜਦਕਿ
ਰਾਇਲਜ਼ ਸਭਿਆਚਾਰ ਪੈਕ ਹੈ ਵਿਦੇਸ਼ੀ ਸੈਲਾਨੀ ਨੂੰ ਵੇਚ ਜਾ ਕਰਨ ਲਈ, ਵਪਾਰੀ ਇਸ ਨੂੰ ਤੱਕ
ਬਰਾਬਰ 1991 ਵਿਚ ਦੇਸ਼ ਦੀ ਆਰਥਿਕ ਉਦਾਰੀਕਰਨ ਦੇ ਬਾਅਦ ਲਾਭ ਹੈ.

ਇਸ
ਦੀ ਤਾਜ਼ਾ ਵਿਗਿਆਪਨ ਮੁਹਿੰਮ ‘ਦੇ ਤੌਰ’ Aryasthan “ਆਪਣੇ ਆਪ ਨੂੰ ਮਾਰਕਾ ਇਕ ਸੈਲਾਨੀ
ਜੋ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਨੂੰ ਆਦਮੀ ਜ ਨਾ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ ਦੀ ਨਜ਼ਰ ਦੁਆਰਾ ਹੈ, ਪਰ ਨਾਮ ਆਰੀਆ ਨੂੰ
ਇੱਕ ਇਤਫ਼ਾਕ ਹੈ, ਨਾ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ.
ਚੰਗੇ ਦੀ ਦੌੜ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਉਪ-ਮਹਾਦੀਪ ਦਾ ਸਭਿਅਤਾ ਲੈ ਆਇਆ: ਇਹ Aryavrat, Aryas ਦੀ ਧਰਤੀ ਦੇ ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਝਲਕ ਦੇ ਕੋਰ ‘ਤੇ ਪਿਆ ਹੈ. ਕਰਨਾ ਰਾਜਸਥਾਨ, Meenasthan ਜ Banjarasthan ਜ ਵੀ ਐਸ.ਸੀ. / STsthan ਨੂੰ ਕਾਲ ਬਾਰੇ!

ਇਹ
ਵਾਪਰਨਾ ਕਰਨ ‘ਤੇ ਘੱਟੋ ਘੱਟ ਮੌਜੂਦ ਵਸੁੰਧਰਾ ਰਾਜੇ ਸਰਕਾਰ ਦੇ ਕਾਰਜਕਾਲ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ
ਇਸ ਵੇਲੇ ਦੇ ਪ੍ਰਮੁੱਖ ਅਤੇ ਕਾਲਜ ਹੈ, ਜਿੱਥੇ ਡੈਲਟਾ ਮੇਘਵਾਲ, ਇੱਕ ਸੁਪਰੀਮ ਵਿਦਿਆਰਥੀ
ਬਲਾਤਕਾਰ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ ਅਤੇ ਕਤਲ ਕਰ ਦੇ ਵਾਰਡਨ ਨੂੰ ਬਚਾ ਹੈ ਦੀ ਸੰਭਾਵਨਾ ਹੈ.
ਵੀ 2016 ਵਿੱਚ, ਅਤੇ ਵੀ ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ (ਮੋਦੀ) ਦੀ ਹੈ, ਇੱਕ ਕਾਤਲ ਤਹਿਤ ਅਨੁਸੂਚਿਤ
ਵਿਰੁੱਧ ਅੱਤਿਆਚਾਰ / ਪਿਛੜੀ ਲਗਾਤਾਰ ਜਾਰੀ ਹੈ ਅਤੇ ਅਸਲ ਵਿੱਚ ਵਾਧਾ ਹੋ ਗਿਆ ਹੈ.

ਜਮਹੂਰੀ ਸੰਸਥਾ ਦੇ ਕਾਤਲ (ਮੋਦੀ) ਦੇ ਮੌਕਾਪ੍ਰਸਤ ‘ਐਸ.ਸੀ. / ਐਸ.ਟੀ ਪ੍ਰੇਮ’

14
ਅਪ੍ਰੈਲ ‘ਤੇ, ਡਾ ਅੰਬੇਦਕਰ, ਜਮਹੂਰੀ ਸੰਸਥਾ (ਮੋਦੀ) ਦੇ ਕਾਤਲ ਦੀ 125 ਜਨਮ ਵਰ੍ਹੇਗੰਢ
ਸੰਵਿਧਾਨਕ ਫਰੇਮਵਰਕ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਇੱਕ ਗਰੀਬ ਵਿਅਕਤੀ ਨੂੰ ਦੇ ਪੁੱਤਰ ਦੀ ਇਜਾਜ਼ਤ
ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਅਤੇ ਆਮ Modispeak ਵਿਚ ਬਣਨ ਦਾ ਬਣਾਉਣ ਲਈ ਉਸ ਦਾ ਧੰਨਵਾਦ ਕੀਤਾ ਹੈ,
ਉਹ ਕਿਸਾਨ ਦੀ ਸ਼ਲਾਘਾ ਅਤੇ ਖੱਟੀਏ ਵਰਖਾ
ਅਤੇ ਉਹ ‘ਤੇ ਅੰਦੇਸ਼ੀ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ਣ ਸ਼ਤਾਨ ਸਕਰਿਪਟ ਦਾ ਹਵਾਲਾ ਅਤੇ ਕੇਕ ਖਾਣ ਅਤੇ ਅਜੇ ਵੀ ਇਸ ਨੂੰ ਹੋਣ ਨੂੰ ਪਸੰਦ ਹੈ.

ਜਮਹੂਰੀ ਸੰਸਥਾ (ਮੋਦੀ) ਦੇ ਕਾਤਲ ਅੰਬੇਡਕਰ ਜੈਅੰਤੀ ‘ਤੇ ਇੱਕ ਇਕੱਠ ਐਡਰੈੱਸ.

ਅਫਸੋਸਜਨਕ
ਹੈ ਅਤੇ ਸਵੈ-ਜਾਣਕਾਰੀ, ਜੋ ਕਿ ਅਸਲ ਦੌਰਾਨ ਹਾਸ਼ੀਏ ‘ਭਾਈਚਾਰੇ ਦੇ ਇਕ ਵਿਅਕਤੀ ਨੂੰ
ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਦੇ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਇਸ ਨੂੰ ਉਸ ਲਈ ਅਸੰਭਵ ਹੈ, ਫਿਰ ਵੀ, ਅਜੇ ਵੀ ਹੈ /
ਉਸ ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਦੇ ਮੁਖੀ ਬਣਨ ਦਾ ਤੌਰ ਤੇ ਇਸ ਨੂੰ 1% ਅਸਹਿਣਸ਼ੀਲ chitpawan ਦੀ
ਸੰਪਤੀ ਹੈ
ਬ੍ਰਾਹਮਣ, ਜਿੱਥੇ ਮੋਦੀ ਨੇ ਇਕ ਵਾਰ ਇਸ ਨੂੰ 1% chitpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਦੇ ਗੁਲਾਮ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਇੱਕ ਪ੍ਰਚਾਰਕ ਸੀ. ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. asingle ਸੁਪਰੀਮ ਕਦੇ / ਇਸ ਦੇ ਚੋਟੀ ਦੇ rungs ਵਿਚ St ਹੀ ਐਸ.ਸੀ. / ਐਸ.ਟੀ ਸੰਗਠਨ ਨੂੰ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨੂੰ ਅਗਵਾਈ ਨੂੰ ਛੱਡ. ਇਕ ਹੈਰਾਨ ਜੇ ਜਮਹੂਰੀ ਸੰਸਥਾ (ਮੋਦੀ) ਦੇ ਕਾਤਲ ਨੂੰ ਇਸ ਬਾਰੇ ਕੁਝ ਕਹਿਣਾ ਹੈ.

ਜਮਹੂਰੀ
ਸੰਸਥਾ (ਮੋਦੀ) ਦੇ ਐਸ / ਪਿਛੜੀ ਲਈ ਪਿਆਰ ਦੀ ਕਾਤਲ ਹੈਰਾਨੀ ਦੀ ਗੱਲ ਨਹੀ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ
ਹੈ ਕਿ ਉਹ ਕਿਸੇ ਵੀ ਸਰਕਾਰ ਦੇ ਗਠਨ ਲਈ ਅਹਿਮ ਹਨ, ਰਾਜ ਵਿੱਚ ਜ ਕਦਰ ‘ਤੇ ਇਸ ਨੂੰ ਹੋਣਾ
ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ.
ਕੀ ਦਿਲਚਸਪ ਹੈ ਡਾ ਅੰਬੇਦਕਰ ਦੇ ਲਈ ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ‘ਨਵ ਪਾਇਆ ਪਿਆਰ ਹੈ. ਇਸ ਦਾ ਬੁਲਾਰਾ ਆਰਗੇਨਾਈਜ਼ਰ ਦੀ 17 ਅਪ੍ਰੈਲ ਮੁੱਦੇ ‘ਸਾਹਮਣੇ ਸਫ਼ੇ’ ਤੇ ਅੰਬੇਡਕਰ ਹੈ ਅਤੇ ਉਥੇ ਉਸ ਦਾ ਰਾਜਨੀਤੀ ‘ਦੀ ਵਡਿਆਈ ਸਫ਼ੇ ਦੇ reams ਹਨ.

ਸੰਪਾਦਕੀ
ਤੱਕ ਇਹ ਸਧਾਰਨ, “ਰਿਜ਼ਰਵੇਸ਼ਨ ਦਾ ਆਤਮਾ, ਛੋਟੀ ਮਿਆਦ ਦੇ ਸਿਆਸੀ ਵਿਚਾਰ ਪਰੇ ਹੈ, ਹੋਰ
ਜ਼ੋਰ ਅਤੇ ਅਸਲ ਨੂੰ ਲਾਗੂ ਕਰਨ ਲਈ, ਜੋ ਕਿ ਇਸ ਲਈ ਸਾਨੂੰ ਸਮਾਜਿਕ ਬਰਾਬਰੀ ਅਤੇ ਭਰੱਪਣ
ਬਾਬਾ ਦੀ ਉਮੀਦ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਛੇਤੀ ਸੰਭਵ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਇੱਕ ਦੀ ਲੋੜ
ਹੈ”.
ਇਸ
ਦੇ ਪੂਰੇ ਇਤਿਹਾਸ ਵਿਚ, ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਕਦੇ ਵੀ ਡਾ ਅੰਬੇਦਕਰ ਦਾ ਆਦਰ ਦੇ ‘ਇੱਕ’ ਗਾਰਡ
ਨੂੰ ਦਿੱਤੀ ਗਈ ਹੈ; ਇਸ ਦੇ ਨਾਲ, ਘੱਟੋ-ਘੱਟ ‘ਤੇ ਪਿਛਲੇ ਦਸ ਸਾਲ’ ਚ, ਆਰਗੇਨਾਈਜ਼ਰ,
ਇੱਕ ਕਵਰ ਕਹਾਣੀ ਅੰਬੇਦਕਰ ‘ਤੇ ਸੀ, ਕਦੇ ਕੀਤਾ ਹੈ, ਅਤੇ, ਸਭ ਮਹੱਤਵਪੂਰਨ, ਪਿਛਲੇ ਦਸ
ਵਿਚ
ਸਾਲ,
ਉੱਥੇ ਤਰੀਕੇ ਨਾਲ ਅਤੇ ਡਿਗਰੀ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਸਾਨੂੰ ਅੱਜ ਗਵਾਹੀ ਹਨ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਐਸ.ਸੀ. /
ਐਸ.ਟੀ ਮੁੰਡੇ ਨਾਲ ਵਿਆਹ ਕਰਨ ਲਈ ਇੱਕ chitpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਲੜਕੀ ਦੀ ਪੇਸ਼ਕਸ਼, ਨੂੰ
ਛੱਡ ਕੇ, ਇੱਕ ਐਸ.ਸੀ. / ਐਸ.ਟੀ ਲਾਮਬੰਦੀ ਨਾ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ. “ਇਹ waqat ਕੀ ਰਾਮ ਰਾਮ”
ਜ “waqat ਕੀ ਅੰਬੇਦਕਰ ਅੰਬੇਡਕਰ”
ਸੱਤਾ ਲਈ ਲਾਲਚ ਲਈ.

ਸ਼ਾਇਦ ਇਸ ਹੋਰ ਕੁਝ ਵੀ ਵੱਧ ਹੋਰ ਹਿੰਦੂਤਵ ਬ੍ਰਿਗੇਡ ਨੇ ਅੰਬੇਦਕਰ ਹਥਿਆਉਣ ਲਈ ਪਾਗਲ ਕਾਹਲੀ ਦੱਸਦੀ ਹੈ. ਪਰ, ਉਹ ‘ਤੇ indelible ਵਿਰੋਧੀ ਜਾਤੀ ਦਾਗ਼ੀ ਸਿਰਫ ਗਹਿਰੇ ਅਤੇ ਬੁੱਧ ਦਾ Rohith ਦੇ ਪਰਿਵਾਰ ਦੇ ਤਬਾਦਲੇ ਦੇ ਕੇ ਡੂੰਘੇ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ.

ਡਾ ਅੰਬੇਦਕਰ ਜੋ ਲੋਕਪ੍ਰਿਯ ਨੇ ਕਿਹਾ ਲਗਦਾ ਹੈ, “ਮੈਨੂੰ ਇੱਕ ਹਿੰਦੂ ਪੈਦਾ ਹੋਇਆ ਸੀ,
ਪਰ ਮੈਨੂੰ ਇੱਕ ਹਿੰਦੂ ਮਰ ਨਹੀ ਕਰੇਗਾ”, ਅਤੇ 1956 ਵਿੱਚ Buddhsim ਗਲੇ, 60 ਸਾਲ
ਬਾਅਦ Rohith ਦੇ ਪਰਿਵਾਰ ਬੁੱਧ ਵਿੱਚ ਤਬਦੀਲ (ਇੱਕ “ਹਿੰਦੂਤਵ ਦੇ ਡੰਡੇ” ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ
ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਦੇ ਕੇ ਖਾਰਜ ਕਰ).

“ਅੱਜ ਤੱਕ, ਮੇਰੀ ਮਾਤਾ ਹੈ ਅਤੇ ਮੈਨੂੰ, ਰੋਜ਼ਾਨਾ ਦੇ ਅਪਮਾਨ ਤੱਕ ਮੁਫ਼ਤ, ਉਸੇ
ਪਰਮੇਸ਼ੁਰ ਜਿਸ ਦੇ ਨਾਮ ਵਿਚ ਸਾਡੇ ਲੋਕ ਸਦੀ ਲਈ ਤਸੀਹੇ ਦਿੱਤੇ ਗਏ ਹਨ ਨੂੰ ਪ੍ਰਾਰਥਨਾ
ਦੇ ਦੋਸ਼ ਤੱਕ ਨੂੰ ਸ਼ਰਮਿੰਦਾ ਤੱਕ ਮੁਫ਼ਤ ਮੁਫ਼ਤ ਹੋ ਜਾਵੇਗਾ”, ਉਸ ਦੇ ਭਰਾ ਨੂੰ ਰਾਜਾ
ਤਬਦੀਲੀ ਦੇ ਬਾਅਦ ਕਿਹਾ ਹੈ.

,
ਅਸਹਿਣਸ਼ੀਲ ਅੱਤਵਾਦੀ, ਹਿੰਸਕ, ਪਾਗਲ, ਮਾਨਸਿਕ ਤੇਕਮਜ਼ੋਰ 1% ਦੇ ਉੱਚ ਜਾਜਕ,
ਸ਼ੂਟਿੰਗ, ਆਦਮਖ਼ੋਰ Cowherd ਦਹਿਸ਼ਤ Crow psychopath chitpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ
ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. (Rakshasa Swayam ਸੇਵਕ) ਅਤੇ ਇਸ ਦੇ ਸਾਰੇ avathars ਭਾਜਪਾ ਦੇ
(Bahuth Jiyadha Psychopaths) ਹਿੰਦੂ ਪ੍ਰੀਸ਼ਦ (venomous Hintutva
Psychopaths) lynching,
ਏਬੀਵੀਪੀ (ਸਾਰੇ ਬ੍ਰਾਹਮਣ venomous Psychopaths) ਭਜਨ ਦਲ, ਅਤੇ ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ
(ਮੋਦੀ) ਜੋ ਧੋਖਾਧੜੀ ਈਵੀਐਮ ਛੇੜਛਾੜ ਇਹ ਸ਼ਬਦ ਧਿਆਨ ਦੇਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ ਕੇ ਚੁਣਿਆ ਗਿਆ
ਸੀ ਦੇ ਕਾਤਲ.

ਸਾਬਕਾ ਚੀਫ ਜਸਟਿਸ ਈਵੀਐਮ SADHASIVAM, ਇਸ ਦੇ ਡਿਊਟੀ ਪਰਹੇਜ਼ ਅਤੇ ਉਹ ਨੂੰ ਤਬਦੀਲ
ਕਰਨ ਲਈ 1600 ਕਰੋੜ ਰੁਪਏ ਦੀ ਲਾਗਤ ਦੇ ਕਾਰਨ ਸੀਈਸੀ ਈਵੀਐਮ ਸੰਪਤ ਦੀ ਬੇਨਤੀ ‘ਤੇ
ਪੜਾਅਵਾਰ ਤਰੀਕੇ ਨਾਲ ਫਰਾਡ Tamperable ਈਵੀਐਮ ਵਿਚ, ਜਿਸ ਨੇ ਸਜ਼ਾ ਦੇ ਇੱਕ ਕਬਰ ਗਲਤੀ
ਵਚਨਬੱਧ ਹੈ ਅਤੇ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਲੋਕਤੰਤਰ ਨੂੰ ਇੱਕ ਘਾਤਕ ਝਟਕਾ ਨਜਿੱਠਿਆ.

ਸਾਬਕਾ
ਚੀਫ ਜਸਟਿਸ ਦਾ ਆਦੇਸ਼ ਨਾ ਕੀਤਾ ਲਈ ਮਤਦਾਨ ਪੇਪਰ ਸਿਸਟਮ ਵਿੱਚ ਲੈ ਆਏ ਹੋ ਜਾਵੇਗਾ.
ਅਜਿਹੇ ਕੋਈ ਸਾਵਧਾਨੀ ਮਾਪ ਸੁਪਰੀਮ ਕੋਰਟ ਨੇ ਹੁਕਮ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ ਸੀ.
ਸਾਬਕਾ ਚੀਫ ਜਸਟਿਸ ਦਾ ਆਦੇਸ਼ ਨਾ ਸੀ, ਜੋ ਕਿ ਵਾਰ ਤਕ 1300000 ਬਾਰੇ ਵੋਟਿੰਗ ਮਸ਼ੀਨ ਦੇ ਇਸ ਨਵ ਸੈੱਟ ਅਤੇ ਪੂਰੀ ਤਾਇਨਾਤ ਪੂਰਾ ਵਿੱਚ ਨਿਰਮਿਤ ਹੈ. ਸੰਸਾਰ ਵਿਚ 80 ਲੋਕਤੰਤਰ ਵਿਚ ਸਾਰੇ ਲੋਕ ਹਨ ਜੋ ਸਿਰਫ਼ ਇਸ fradulent ਈਵੀਐਮ ਨਾਲ ਦੂਰ ਕੀਤਾ ਹੈ. ਇਸ ਲਈ ਸਾਰੇ ਲੋਕ ਜੋ ਲੋਕਤੰਤਰ ਵਿਚ ਵਿਸ਼ਵਾਸ ਹੈ, Liberty, ਸਮਾਨਤਾ ਅਤੇ ਭਰੱਪਣ
ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ (ਮੋਦੀ) ਅਤੇ ਇੱਕ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਸੰਵਿਧਾਨ ਨਾਲ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਆਪਣੇ ਸ਼ਾਸਨ ਦੇ
ਕਾਤਲ ਦੀ ਪਛਾਣ ਨਾ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ.

ਇੱਕ ਸਾਫ ਸਬੂਤ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ:
ਸ੍ਰੀਮਤੀ
ਮਾਇਆਵਤੀ ਦੇ ਸਾਬਕਾ ਦੇ ਮੁੱਖ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਅਤੇ ਬਹੁਜਨ ਸਮਾਜ ਪਾਰਟੀ ਦੇ ਮੁੱਖ
ਮੰਤਰੀ (ਬਸਪਾ), ਕਾਗਜ਼ ਵੋਟ ਦੁਆਰਾ ਕਰਵਾਏ ਪੰਚਾਇਤ ਚੋਣ ‘ਚ ਜਿੱਤ ਲਈ ਜਦਕਿ ਇਸ ਨੂੰ
ਧੋਖਾਧੜੀ ਨੂੰ ਕਮਜ਼ੋਰ ਈਵੀਐਮ ਦੁਆਰਾ ਕਰਵਾਏ ਲੋਕ ਸਭਾ ਚੋਣ’ ਚ ਇਕ ਵੀ ਸੀਟ ਨਾ ਜਿੱਤ
ਸਕਿਆ ਹੈ.
ਉੱਤਰ
ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ, ਉਸ ਨੂੰ ਸ਼ਾਸਨ ਸਮਾਜ ਦੇ ਹਰ ਵਰਗ ਦੇ ਵਿੱਚ
ਅਨੁਪਾਤਕ ਦੌਲਤ ਵੰਡ ਕੇ ਵਧੀਆ ਸੀ ਅਤੇ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਦਾ ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਬਣਨ ਦੇ ਯੋਗ ਹੋ
ਗਿਆ.
ਇਹ ਰਵਾਇਤੀ manuvadis ਕੇ ਬਰਦਾਸ਼ਤ ਨਾ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ. ਇਸ ਧੋਖਾਧੜੀ ਈਵੀਐਮ ਨੇ ਉਸ ਨੂੰ ਹਰਾਉਣ ਲਈ ਛੇੜਛਾੜ ਗਏ ਸਨ.

http://www.ndtv.com/india-news/they-have-failed-on-all-fronts-mayawati-attacks-pm-modi-samajwadi-party-1395414

ਉਹ ‘ਫੇਲ੍ਹ’ ਹੈ ਹਰ ਮੋਰਚੇ ‘ਤੇ: ਮਾਇਆਵਤੀ ਹਮਲੇ ਮੋਦੀ, ਸਮਾਜਵਾਦੀ ਪਾਰਟੀ

ਉਹ ਸਾਰੇ ਮੋਰਚੇ ‘ਤੇ’ ਫੇਲ੍ਹ ‘ਹੈ: ਮਾਇਆਵਤੀ ਨੂੰ ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਮੋਦੀ, ਸਮਾਜਵਾਦੀ ਪਾਰਟੀ ਹਮਲੇ

http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903

ਭਾਜਪਾ ਦੇ ਫੈਲਣ ‘ਧਾਰਮਿਕ’, ਮਾਇਆਵਤੀ ਕਹਿੰਦਾ ਹੈ.

ਬਸਪਾ ਮੁਖੀ ਮਾਇਆਵਤੀ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਭਾਜਪਾ ‘Hey ਦਿਨ’ ਕਿਸਾਨ ਲਈ, ਗਰੀਬ ਅਤੇ ਛੋਟੇ ਵਪਾਰੀ ਵਿੱਚ ਲਿਆਉਣ ਦੀ ਆਸ ਿਵਗਾੜ ਕੀਤਾ ਹੈ.

ਬਹੁਜਨ ਸਮਾਜ ਪਾਰਟੀ (ਬਸਪਾ) ਦੇ ਪ੍ਰਧਾਨ ਮਾਇਆਵਤੀ ਨੂੰ ‘ਹਿੰਦੂਤਵ ਰਾਸ਼ਟਰ’ ਵਿੱਚ
“ਧਾਰਮਿਕ ਕੱਟੜਵਾਦ” ਅਤੇ ਨਫ਼ਰਤ ਦੇਸ਼ ਨੂੰ ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ਲਈ ਇਸ ਦੇ ਬੋਲੀ ਵਿਚ ਫੈਲਾਉਣ
ਦੇ ਭਾਰਤੀ ਜਨਤਾ ਪਾਰਟੀ (ਬਸਪਾ) ਦਾ ਦੋਸ਼ ਲਗਾਇਆ.

 ਭਾਜਪਾ ‘ਚ’ Hey ਦਿਨ ‘ਕਿਸਾਨ, ਗਰੀਬ ਅਤੇ ਛੋਟੇ ਵਪਾਰੀ ਅਤੇ ਸਿਰਫ ਇੱਕ ਪੂੰਜੀਵਾਦੀ
ਅਤੇ ਸਨਅਤਕਾਰ ਦੇ “ਮੁੱਠੀ” ਲਈ ਫ਼ਾਇਦਾ ਹੋਇਆ ਹੈ ਲਿਆਉਣ ਦੀ ਆਸ ਿਵਗਾੜ ਕੀਤਾ ਹੈ.

“ਇੱਕ ਬੋਲੀ ਮਹਿੰਗਾਈ, ਟੈਕਸ ਦੇ ਲਾਗੂ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਵੱਡੇ ਪੈਮਾਨੇ ਜਨਤਕ ਗੁੱਸੇ ਨੂੰ
ਕਰਨ ਲਈ ਅਗਵਾਈ ਕੀਤੀ ਹੈ, ਵਰਗੇ ਮੁੱਦੇ ਦੇ ਲੋਕ ਦਾ ਧਿਆਨ ਭਟਕਾਉਣ ਲਈ, ਭਾਜਪਾ ਅਤੇ ਇਸ
ਦੇ ਸੰਗਠਨ ਮੁੱਦੇ ਭੜਕਾਉਣ ਲਈ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ
ਧਾਰਮਿਕ ਕੱਟੜਵਾਦ, ਆਪਸੀ ਨਫ਼ਰਤ ਅਤੇ ਫਰਜ਼ੀ ਰਾਸ਼ਟਰਵਾਦ ਵਰਗੇ, “ਉਸ ਨੇ ਕਿਹਾ.

ਉਸ ਨੇ ਇਹ ਵੀ ਕਿਹਾ ਕਿ ਭਾਜਪਾ ਇੱਕ “ਹਿੰਦੂਤਵ ਰਾਸ਼ਟਰ” ਵਿੱਚ ਇਸ ਦੇ ਮਾਤਾ-ਪਿਤਾ
ਨੂੰ ਸੰਗਠਨ ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਇਸ ਦੇਸ਼ ਵਿੱਚ ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ਲਈ ਦੇ “ਤੰਗ ਹੈ ਅਤੇ ਜਾਤੀਗਤ
ਦਰਸ਼ਨ” ਹੇਠ ਹੈ.

ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਵਿਚ, ਇਸ ਨੂੰ ਕੌਮੀ ਅਤੇ ਜਨਤਕ ਵਿਆਜ ਦੀ ਬਲੀ ਦਿੱਤੀ ਹੈ ਅਤੇ “ਪੂਰੀ ਨੂੰ
ਅਣਡਿੱਠਾ” ਕੀਤਾ ਹੈ ਗਰੀਬੀ, ਬੇਰੁਜ਼ਗਾਰੀ, ਅਮਨ ਅਤੇ ਮਹਿੰਗਾਈ ਵਰਗੇ ਮਾਮਲੇ, ਇਕ ਬਿਆਨ
ਨੇ ਉਸ ਦੇ ਹਵਾਲੇ ਨਾਲ ਕਿਹਾ ਹੈ.

ਭ੍ਰਿਸ਼ਟਾਚਾਰ ਦੇ ਮੁੱਦੇ ਦਾ ਜ਼ਿਕਰ ਹੈ, ਉਹ ਵੀ ਕਿਹਾ ਕਿ ਭਾਜਪਾ ਅਤੇ ਪਾਰਟੀ ਇਕੋ ਸਿੱਕੇ ਦੇ ਦੋ ਪਾਸੇ ਹਨ.

“ਰਾਹ ਭਾਜਪਾ ਸਰਕਾਰ ਨੂੰ ਭ੍ਰਿਸ਼ਟ ਦੀ ਰੱਖਿਆ ਕਰਨ ਲਈ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਕਰ ਰਿਹਾ ਹੈ, ਇਸ
ਨੂੰ ਸੰਭਵ ਹੈ ਕਿ ਇਸ ਨੂੰ ਆਉਣ ਵਾਲੇ ਸਾਲ ਵਿੱਚ ਪਾਰਟੀ ਦੇ ਭ੍ਰਿਸ਼ਟਾਚਾਰ ਨੂੰ ਹਰਾਇਆ
ਜਾਵੇਗਾ,” ਉਸ ਨੇ ਕਿਹਾ.

ਉਸ ਨੇ ਦੋਸ਼ ਲਾਇਆ ਅਮਰੀਕਾ ਵਿਚ ਭਾਜਪਾ ਅਤੇ ਪਾਰਟੀ ਸਰਕਾਰ ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ਪਿਛੜੀ ਦੇ
ਖਿਲਾਫ ਜ਼ੁਲਮ ਅਤੇ ਸਮਾਜ ਦੇ ਕਮਜ਼ੋਰ ਵਰਗ ਨਾਲ ਸਬੰਧਤ ਜਿਹੜੇ ਵਿਚ ਸ਼ਾਮਲ ਰਹੇ ਹਨ.

“ਪਰ ਉਹ ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ਐਸਟੀ ਆਈਕਾਨ ਆਪਣੇ ਜੀਵਨ ਦੌਰਾਨ ਵਿਰੋਧ, ਉਹ ਆਪਣੇ ਸਿਆਸੀ ਹਿੱਤ
ਨੂੰ ਅੱਗੇ ਵਧਾਉਣ ਲਈ ਹੁਣ ਆਪਣੇ ਨਾਮ ਦਾ ਇਸਤੇਮਾਲ,” ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੀ ਸਾਬਕਾ ਮੁੱਖ
ਮੰਤਰੀ ਨੇ ਕਿਹਾ

2.
ਹੁਣ ਸੀਈਸੀ ਕਹਿੰਦੀ ਹੈ ਕਿ ਸਾਰੇ ਈਵੀਐਮ 2019 ਆਮ ਚੋਣ ਵਿੱਚ ਤਬਦੀਲ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਜਾਵੇਗਾ.

http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms

ਪੇਪਰ-ਟ੍ਰੇਲ ਇਲੈਕਟ੍ਰਾਨਿਕ ਵੋਟਿੰਗ ਮਸ਼ੀਨ ਹੈ ਨੂੰ 2019 ਆਮ ਚੋਣ: ਨਸੀਮ ਜ਼ੈਦੀ, ਸੀਈਸੀ

3. ਜਦ ਭਾਜਪਾ ਨੂੰ ਵਿਰੋਧੀ ਧਿਰ ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਮਿਹਰ ਪੇਪਰ ballotsas ਈਵੀਐਮ ਵਿਚ ਸੀ ਜਨਤਕ ਪੜਤਾਲ ਦੇ ਅਧੀਨ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ

http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html

ਇਲੈਕਟ੍ਰਾਨਿਕ ਵੋਟਿੰਗ ਮਸ਼ੀਨ (ਈਵੀਐਮ) ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਸਿਆਸੀ ਧਿਰ ਨੇ ਸਵਾਲ ਕੀਤਾ ਗਿਆ
ਹੈ ਦੇ reliablity ਦੇ ਸੰਬੰਧ ਵਿੱਚ ਵਿਵਾਦ ਜੁੜ, ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਟੀ ਵਾਪਸ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਕਰਨ
ਲਈ ਮੁੜ-ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ (ਕਮਿਸ਼ਨ) ਨੂੰ ਕਿਹਾ ਹੈ ਅਤੇ ਕਾਗਜ਼ ਵੋਟ ਟੈਸਟ …

ਪਰ
ਉਹ ਉਸ ਨੂੰ ਦੇ ਖਿਲਾਫ ਆਮਦਨ ਇਸ ਲਈ ਕਹਿੰਦੇ ਹਨ ਖੁਦਾਈ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਸਾਬਤ ਹੁੰਦਾ ਹੈ
ਕਿ ਉਸ ਨੂੰ ਸਹੀ ਰਾਹ ਚੱਲਦਾ ਹੈ, ਸਮੇਤ theatrics ਦੇ ਸਾਰੇ ਮਨੁੱਖ ਵਿੱਚ ਸ਼ਾਮਲ ਹਨ.
ਬਾਬਾ
ਸਾਹਿਬ ਡਾ ਅੰਬੇਦਕਰ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਜਦ ਇੱਕ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਸਮੱਸਿਆ ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ਪਿਛੜੀ ਕਰਨ
ਦੀ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਕਰਦਾ ਦਾ ਮਤਲਬ ਹੈ ਕਿ ਹੈ ਕਿ ਹੈ ਕਿ ਉਹ ਸਹੀ ਰਾਹ ‘ਤੇ ਹਨ.
ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ.
ਅਤੇ ਭਾਜਪਾ ਵੀ ਸ਼ਾਮਲ ਹੈ ਇਸ ਦੇ ਸਾਰੇ avathars cowherds ਹਨ ਅਤੇ ਤਡ਼ਕੇ ਧਮਕਾਣਾ
ਬਾਅਦ ਉਹ ਆਪਣੇ ਸਾਰੇ ਬਦੀ ਦੇ ਕੰਮ, ਜੋ ਹਿੰਸਕ, ਕੁਦਰਤ ਕੇ ਪੱਖਪਾਤ ਅਤੇ ਨਫ਼ਰਤ ਦੇ
ਅੱਤਵਾਦੀ ਪੂਰੀ ਹਨ ਦੇ affraid ਹਨ.
ਉਹ
ਮਾਨਸਿਕ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਬਹੁਤਾ ਨੁਕਸ psychopaths ਪਾਗਲ ਹੈ ਅਤੇ ਇਹ ਬੁਰਾਈ ਨੂੰ ਅਮਲ ਹੈ,
ਜੋ ਕਿ ਮਾਨਸਿਕ asylums ਵਿਚ ਮਾਨਸਿਕ ਇਲਾਜ ਦੀ ਲੋੜ ਦੇ ਨਾਲ ਪਾਗਲ ਹੋ ਗਏ ਹਨ.

16) Classical Kannada

16) ಶಾಸ್ತ್ರೀಯ ಕನ್ನಡ

1841 ಬುಧ ಎಪ್ರಿಲ್ 20 2016
ಪಾಠಗಳು

ರಿಂದ

ಇನ್ಸೈಟ್-ನೆಟ್ ಆನ್ಲೈನ್-ಎ 1 (ಒಂದು ಅವೇಕನ್ಡ್) Tipiṭaka ರಿಸರ್ಚ್ ಮತ್ತು ಪ್ರಾಕ್ಟೀಸ್ ವಿಶ್ವವಿದ್ಯಾಲಯ
ದೃಶ್ಯ ರೂಪದಲ್ಲಿ (FOA1TRPUVF)
http://sarvajan.ambedkar.org ಮೂಲಕ
aonesolarpower@gmail.com

ಶಾಸ್ತ್ರೀಯ ಬೌದ್ಧಮತದ (ಅರಿವು ಅವೇಕನ್ಡ್ ಒಂದು ಬೋಧನೆಗಳು) ವಿಶ್ವದ ಸೇರಿರುವ, ಮತ್ತು ಎಲ್ಲರಿಗೂ ವಿಶೇಷ ಹಕ್ಕುಗಳನ್ನು ಹೊಂದಿವೆ ಜೆಸಿ

ಒಂದು ತಾಯಿ ಈ ವಿಶ್ವವಿದ್ಯಾಲಯದ ಪಾಠ ನಿಖರವಾದ ಅನುವಾದ ಸಲ್ಲಿಕೆ
ಈ Google ಅನುವಾದ ಮತ್ತು ಪ್ರಸರಣ ಗೆ ನಾಲಿಗೆಯಿಂದ ಆಗಲು ಅರ್ಹತೆ
Enterer (Sottapanna) ಪ್ರವಹಿಸಬಲ್ಲ ಮತ್ತು ಒಂದು ಅಂತಿಮ ಗುರಿ ಶಾಶ್ವತ ಪರಮಾನಂದದ ಸಾಧಿಸುವುದು.

ಅರಿವು ಅವೇಕನ್ಡ್ ಒನ್ ಬೋಧನೆಗಳಿಗೆ ಪ್ರಚಾರ ವೆಬ್ಸೈಟ್ಗಳ ಪಟ್ಟಿಯನ್ನು ಅದೆಂದರೆ ಬುದ್ಧ ತ್ರಿಪ್ರಿಠಿಕಾದ ವಿಷುಯಲ್ ರೂಪದಲ್ಲಿ
http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907
http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1.
HTTP: // ಸುದ್ದಿ. xinhuanet. ಕಾಂ / ಇಂಗ್ಲೀಷ್ / 2009-07 / 27 / content_11780918 .htm
www.chinaview. ಸಿಎನ್
www.buddhismandbusi ness.webs. ಕಾಂ
http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/
www.grameenfoundation.org

http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/
http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf

http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/

http://www.dailyo.in/politics/br-ambedkar-dalit-politics-caste-system-rss-narendra-modi-sangh-parivar-organiser-hindutva/story/1/10103.html

Valay ಸಿಂಗ್ ರೈ

ಸತತ
ದಿನಗಳಲ್ಲಿ ರಾಮ್ Navmi (ದಿನ ರಾಮ ಜನಿಸಿದರು) ಮತ್ತು ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಜಯಂತಿ
ಬೀಳುವುದು ರೂಪುಗೊಳ್ಳುತ್ತದೆ ಸಿದ್ಧಾಂತಗಳ ಒಂದು palimpsest ನಮಗೆ ಈ ಎರಡು
ವಿರೋಧಾಭಾವವಲ್ಲ ಅಂಕಿ ಮೂಲಕ “ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಸೂಕ್ತ ಓಟದ” ನೋಡಲು ಅನುಮತಿಸುತ್ತದೆ.
ಒಂದು ರಾಮ್ ಆದರೆ ಪೌರಾಣಿಕ ಪಾತ್ರ, ಆರೆಸ್ಸೆಸ್ (ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ Swamasevak ಸಂಘ) ಪಡೆದಿತ್ತು ರಾಜಕೀಯ ಹಿಂದುತ್ವ ಪ್ರಧಾನವಾಗಿರುತ್ತದೆ.

1954 ರಲ್ಲಿ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್, ಹಿಂದೂಧರ್ಮ ಒಗಟುಗಳು ಎಂಬ ತಮ್ಮ ಪ್ರಬಂಧ ಸರಣಿಯಲ್ಲಿ, ರಾಮ್ ಮತ್ತು ಕೃಷ್ಣ ಎರಡೂ ಬೇರ್ ತನ್ನ ವೀಕ್ಷಣೆಗಳು ತೋರಿಸುತ್ತದೆ. ಇತರ ತೊಂದರೆಗಳು ಜೊತೆಗೆ, ಅವರು Shambuka, ಒಂದು “ಶೂದ್ರ” (ಮೂಲನಿವಾಸಿ ಆದಿ
Mulanivasis ಕೊಲೆ ರಾಮ್ ಜವಾಬ್ದಾರಿ ಹೊಂದಿದೆ (socalled ಅಸ್ಪೃಶ್ಯ ಎಸ್ಸಿ /
ಪರಿಶಿಷ್ಟ) ತುಂಬಾ ದೂರದ ಅಲ್ಲ ಇಂದಿನ ನಾಗ್ಪುರ ರಿಂದ, ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಓಲೈಕೆ ಸಲುವಾಗಿ.

ಡಾ
| ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಜನ್ಮ ವಾರ್ಷಿಕೋತ್ಸವದ ಆರೆಸ್ಸೆಸ್ ಅಥವಾ ಬಿಜೆಪಿಯಲ್ಲಿ ನಾಯಕರು
ಮಾಡಿದ ಭಾಷಣಗಳ ಯಾವುದೂ (ಮೂಲನಿವಾಸಿ ಆದಿ Mulanivasis (socalled ಅಸ್ಪೃಶ್ಯ ಎಸ್ಸಿ /
ಪರಿಶಿಷ್ಟ) ರಾಜಕೀಯ ಈ ಕಲ್ಲುಹಾಸನ್ನು ಮೇಲೆ ಸ್ಪರ್ಶಕ್ಕೆ ನೋಡಿಕೊಂಡರು;.
ಮೇಲ್ಜಾತಿಗಳ ಮೂಲಕ ದಬ್ಬಾಳಿಕೆ ಹಿಂದೂ ಪುರಾಣ ಅನುಮೋದನೆ ಈ didn ‘
ಟಿ ಆದರೂ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಮತ್ತು ಅವರ ರಾಜಕೀಯ ಕ್ರೆಡಿಟ್ ಲೇ ಪ್ರಯತ್ನಿಸುತ್ತಿರುವ ಅವುಗಳನ್ನು ನಿಲ್ಲಿಸಲು.

ಆದರೆ, ಅನೇಕ ನಾಲಿಗೆಯನ್ನು ಮಾತನಾಡುವ ಹಳೆಯ ಮೇ ತಂತ್ರವಾಗಿದೆ.

ಇದು (ತಪ್ಪು) ವಿತರಣ ಕಲೆ ಬಂದಾಗ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಪರ ಮಹತ್ವದ ಜಾತಿ ವಿರೋಧಿ ಗೆ, ನಾಗ್ಪುರ ಧಾರ್ಮಿಕ ಪುರುಷರು ಸಂಪೂರ್ಣ.

ಆರ್ಗನೈಸರ್ ಏಪ್ರಿಲ್ 17, 2016 ಸಮಸ್ಯೆಯನ್ನು ಮುಂದೆ ಪುಟದಲ್ಲಿ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಹೊಂದಿದೆ.

2006 ರಲ್ಲಿ ಆರ್ಗನೈಸರ್, ಮೇ ಧ್ವನಿವರ್ಧಕ, ಅದರ ಸಂಪಾದಕ ಮೀಸಲಾತಿ ವಿರುದ್ಧ ಎಂವಿ ಕಾಮತ್ ವಿರುದ್ಧ ತೀವ್ರ ಲೇಖನ ಪ್ರಕಟಿಸಿತು. ಇದು
ಹೇಳಿದರು “… ಎಷ್ಟು ಕಾಲ ಈ ಕಾಯ್ದಿರಿಸುವ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯನ್ನು ಐದು ವರ್ಷಗಳ? ಹತ್ತು?
ಹದಿನೈದು? ಇಪ್ಪತ್ತೈದು? ಫಿಫ್ಟಿ? ಮತ್ತೊಂದು ಅರವತ್ತು? ಈ ನಿಲ್ಲಿಸಲು ಯಾವಾಗ?
ಇಲ್ಲ ವಿಷಯದ ಬಗ್ಗೆ ಸ್ಪಷ್ಟವಾದ ಗ್ರಹಿಕೆಯನ್ನು ಇರಬೇಕು? ಅದರಲ್ಲಿ ವಿವರಗಳ ಅಲ್ಲಿ
ಆದ್ದರಿಂದ
ಅವರು ನಿಲ್ಲುವ. ಸರ್ಕಾರೇತರ complacency ಎಸ್ಸಿ / ಎಸ್ಟಿ complacency ಎಂದು ಆರೋಪಿಸಿದರು ಎಷ್ಟು ಹೊಂದಿದೆ. “

ಇದು
ಹೇಳಿದರು: “ಮೀಸಲು ನಮ್ಮ ಸಮಾಜದ ವಿಷ ಎಂದು ಮೀಸಲು ಜಾತಿ, ವರ್ಗ ಮತ್ತು ನಮ್ಮ
ಸಮಾಜದಲ್ಲಿ ಧಾರ್ಮಿಕ ವಿಭಾಗಿಸುವ ಆತ್ಮಘಾತುಕ ಆಗಿದೆ ಶಾಶ್ವತವಾಗಿ ಬದಲು ತಮ್ಮ ಜಾತಿ
ಅಥವಾ ಧಾರ್ಮಿಕ ಮರೆಯುವ, ಜನರು ವಿವಿಧ ಸಾಮಾಜಿಕ ಗುಂಪುಗಳಿಗೆ ಸೇರಿದ ಮಾಡಿದ್ದಾರೆ..
ದೀರ್ಘ ಮತ್ತು ವಿದ್ಯುತ್ ಕೇಕ್ ಪಾಲು ಪಡೆಯಲು ಸಲುವಾಗಿ ತಮ್ಮ ಗುರುತನ್ನು ನಿರ್ವಹಿಸಲು ಅಗತ್ಯ ಪಟ್ಟುಹಿಡಿದು ಅಭಿಪ್ರಾಯ. “

ಈ ಹಳೆಯ ಹಿಂದುತ್ವ ಅಲಂಕಾರ: ಮೀಸಲಾತಿ ಅದಕ್ಷತೆ ವೃದ್ಧಿಗಾಗಿ ಮತ್ತು ಅರ್ಹತೆಯ ಅಪಮೌಲ್ಯಗೊಳಿಸುವ. ಅವರು ಪ್ರತಿ ಉತ್ಪಾದಕ-ಮತ್ತು ಭಾರತದ “ಮಿದುಳಿನ ಪ್ರತಿಭಾ ಪಲಾಯನ” ಜವಾಬ್ದಾರಿಯಾಗಿತ್ತು. ಈ ಭಾರತದ ಮೇಲಿನ ಜಾತಿಗಳ ಫೇಮಸ್ ಗ್ರೌಸ್ ಇವೆ.

ಯಾರು
ಈ, ಸಹ ಮರೆತು ಬಿಡು ಮತ್ತು ಶತಮಾನಗಳ ಸ್ವಾಧೀನಪಡಿಸಿಕೊಂಡಿತು ವರ್ತನೆಗಳು ಮತ್ತು
ಸೌಲಭ್ಯಗಳನ್ನು ನೀಡಲು ಹೊಂದಿತ್ತು ಭಾರತದ ಗಣ್ಯರು, ಪರವಾಗಿ ಮಾತನಾಡಿದರು ಹೇಳಿದರು,
“ಒಂದು ಸವಲತ್ತು ಬಳಸಿದಾಗ, ಸಮಾನತೆ ದಬ್ಬಾಳಿಕೆ ಅನಿಸುತ್ತದೆ”, ಜಂಬುದ್ವಿಪದ ಅಂದರೆ
ಒಮ್ಮೆ ಪ್ರಬುದ್ಧ ಭಾರತ್ ಸಾಂವಿಧಾನಿಕ ಆಯಿತು
ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ.

68 ವರ್ಷಗಳ ನಂತರ, ಇನ್ನೂ unlearning ಮತ್ತು ವೇಗ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವದ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು (ಮೋದಿ) ಕೊಲೆಗಾರ ರಿಂದ ನಿಧಾನವಾಗಿ ಮಾತ್ರ ಹೊಂದಿದೆ.

1949, ಮೊದಲ ಬಾರಿಗೆ ಡಾ | ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಬೊಂಬೆ ಸುಟ್ಟು ರಿಂದ ಆರೆಸ್ಸೆಸ್
(Rakshash ಸ್ವಯಂ Sevaks), ಅಸಂಖ್ಯಾತ savarna ರೀತಿಯಲ್ಲಿ, ಅಂತಿಮವಾಗಿ
ಹೆದರುತ್ತಿದ್ದರು ದೊರೆತಿದೆ ಇದು ಎಂದಿಗೂ ಜಂಬುದ್ವಿಪದ ಅರ್ಥಾತ್ ಕಡಿಮೆ ಮಾನವರ
ಪ್ರಬುದ್ಧ bharaths ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಕಾಣಿಸಿಕೊಳ್ಳಬಹುದು.

ಭಯದ
ಬಿಜೆಪಿ (Bahuth Jiyadha Psychopaths) ಎಬಿವಿಪಿ (ಎಲ್ಲಾ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ವಿಷಪೂರಿತ
ಮನೋವಿಕೃತ) ವಿದ್ಯಾರ್ಥಿ ವಿಭಾಗದ ನಂತರ ಎಸ್ಸಿ / ಎಸ್ಟಿ ಪಡೆಗಳು ಮತ್ತು ಪ್ರಗತಿಪರ
ಗುಂಪುಗಳ ದೇಶವ್ಯಾಪಿ ಕ್ರೋಢೀಕರಣ ವೇಗವರ್ಧನೆಗೊಳ್ಳುತ್ತವೆ Rohith Vemula
ಮತ್ತು ಇತರ ಎಸ್ಸಿ / ವಿರುದ್ಧ ಹೈದರಾಬಾದ್ ಕೇಂದ್ರೀಯ ವಿಶ್ವವಿದ್ಯಾಲಯ ಆಡಳಿತ
ಜೊತೆ ಕೈಜೋಡಿಸಿ
ಎಸ್ಟಿ ವಿದ್ಯಾರ್ಥಿಗಳಿಗೆ. ವಿರೋಧಿ ಎಸ್ಸಿ / ಎಸ್ಟಿ ಟ್ಯಾಗ್ ಒಂದು ಮೋಲ್ ಹಾಗೆ, ಒಂದು ಮಚ್ಚೆ ರೀತಿ
ವೇಳೆ, ಆರೆಸ್ಸೆಸ್ ಮತ್ತು ಬಿಜೆಪಿ, Rohith ಸಾವಿನ ಮತ್ತು ಅದರ ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಇದು ಅವರ
ಮುಖದಲ್ಲಿ ಒಂದು inerasable ಗುಳ್ಳೆ ಒಳಗೆ ವರ್ಗಾಯಿಸಲ್ಪಡುತ್ತದೆ.

ಆರ್ಎಸ್ಎಸ್ ವಿರೋಧಿ ಎಸ್ಸಿ / ಎಸ್ಟಿ ಟ್ಯಾಗ್ ಚೆಲ್ಲುವ ಎಲ್ಲಾ ಅದು ಮಾಡುವ ನಿಗದಿಪಡಿಸಲಾಗಿದೆ ಈ ಅನಿಸಿಕೆ ಓಡಿಸು ಮಾಡುವುದು. ಮೇ ಮಧ್ಯಪ್ರದೇಶದ ಅವರ ಜನ್ಮಸ್ಥಳವಾದ ದೂರಸಂಪರ್ಕ ದೇಶದ ವಿವಿಧ ಸ್ಥಳಗಳು ಕೂಡಾ ನಲ್ಲಿ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಪ್ರತಿಮೆಗಳು “ಗೌರವ ಗಾರ್ಡ್” ಆಯೋಜಿಸಲಾಗಿದೆ.

ಯಾವುದೇ
ಪಕ್ಷವು ಎಸ್ಸಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ ನ್ಯಾಯ ಮಾಡಿದ ಹೇಳಿಕೊಳ್ಳಲು ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ ಆದರೆ,
ಬಿಜೆಪಿ ಖಂಡಿತವಾಗಿಯೂ ಸೂಕ್ತ ಎಸ್ಸಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಪ್ರಯತ್ನಿಸಿ ಎಂದು ಕಳೆದ ಪಕ್ಷ.
ದೂರಸಂಪರ್ಕ ಸ್ವತಃ, ಎಸ್ಸಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಇನ್ನೂ ಒಂದು ಪ್ರತ್ಯೇಕ ಬರೆಯುವ ನೆಲದಲ್ಲಿ ತಮ್ಮ ಸತ್ತ ದಹಿಸು ಮೇಲಿನ-ಜಾತಿಗಳಿಂದ ಬಲವಂತವಾಗಿ. ಎಸ್ಸಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ ದೌರ್ಜನ್ಯ ಬಂದಾಗ ಮಧ್ಯಪ್ರದೇಶ ಪಟ್ಟಿಯಲ್ಲಿ ಮೊದಲನೆಯದಾಗಿದೆ.

2013
ರಲ್ಲಿ, ಒಂದು ಎಸ್ಸಿ ಸಲುವಾಗಿ / ಎಸ್ಟಿ ವಿದ್ಯಾರ್ಥಿವೇತನ ಪಡೆಯಲು ಎಂದು
ಒತ್ತಾಯಿಸಿದರು ಒಂದು ಸಂಗ್ರಾಹಕ ಲಿಖಿತ ಸಲುವಾಗಿ ಹೊರಡಿಸಲಾಯಿತು, ಅವನು / ಅವಳು ಒಂದು
ಛಾಯಾಚಿತ್ರ “ಸಾಕ್ಷಿ” ಸತ್ತ ಪ್ರಾಣಿಯ ಜೊತೆ ಉತ್ಪತ್ತಿ ಮಾಡಬೇಕು.
ಇಂತಹ ಘಟನೆಗಳು ಆರೆಸ್ಸೆಸ್ ಮತ್ತು ಅದರ avathars ಆಶ್ರಯದಲ್ಲಿ ನಡೆಯುತ್ತಿರುವ
ಇರಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು ತನಕ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವದ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು (ಮೋದಿ presstitute ಸತ್ತ ಮರದ
ಮಾಧ್ಯಮ) ಪರ ಎಸ್ಸಿ ಸ್ವತಃ rebrand ಅಭಿಯಾನದ ಕೊಲೆಗಾರ / ಎಸ್ಟಿ ಯಶಸ್ವಿಯಾಗಲು
ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ.

ಮೇಲ್ಜಾತಿ ಪ್ರಾಬಲ್ಯದ ಸಂಘ ಅಜೆಂಡಾ ವಿವರಿಸುತ್ತದೆ ಮತ್ತೊಂದು ಉದಾಹರಣೆಗೆ ನೆರೆಯ ರಾಜಸ್ಥಾನದ ಪ್ರವಾಸೋದ್ಯಮ ಪ್ರಚಾರ ಪ್ರತಿಬಿಂಬಿತವಾಗಿದೆ. ದಶಕಗಳ ಕಾಲ, ರಾಯಲ್ಸ್ ಮತ್ತು ವ್ಯಾಪಾರಿಗಳು ಈ ರಾಜ್ಯದ ವಿದ್ಯುತ್ ಉಬ್ಬು
ಪಡೆದಿದ್ದರು: ರಾಯಲ್ಸ್ ವಿದೇಶಿ ಪ್ರವಾಸಿಗರಿಗೆ ಮಾರಾಟ ಮಾಡಲು ಸಂಸ್ಕೃತಿ ಪ್ಯಾಕ್
ಮಾಡುವಾಗ, ವ್ಯಾಪಾರಿಗಳು ಅದರಿಂದ ಸಮಾನವಾಗಿ 1991 ರಲ್ಲಿ ದೇಶದ ಆರ್ಥಿಕ ಉದಾರೀಕರಣ
ರಿಂದ ಪ್ರಯೋಜನವಾಯಿತು.

ತನ್ನ
ಇತ್ತೀಚಿನ ಜಾಹೀರಾತು ಅಭಿಯಾನವನ್ನು ಈ ಹಳ್ಳಿಗ ಅಥವಾ ಆಗಿರಬಹುದು ಒಬ್ಬ ಪ್ರವಾಸಿ
ಕಣ್ಣುಗಳ ಮೂಲಕ “Aryasthan” ಎಂದು ಸ್ವತಃ ಬ್ರ್ಯಾಂಡ್ಗಳು, ಆದರೆ ಹೆಸರು ಆರ್ಯ
ಕಾಕತಾಳೀಯ ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ.
ಉಪಖಂಡಕ್ಕೆ ನಾಗರಿಕತೆಯ ತಂದ ಉದಾತ್ತ ಓಟದ: ಇದು Aryavrat, Aryas ಭೂಮಿ ಮೇ ನೋಟದ ಕೋರ್ ಇರುತ್ತದೆ. ಹೇಗೆ ರಾಜಸ್ಥಾನ, Meenasthan ಅಥವಾ Banjarasthan ಅಥವಾ ಎಸ್ಸಿ / STsthan ಕರೆ ಬಗ್ಗೆ!

ಇದು
ಪ್ರಸ್ತುತ ಅಸಲು ಮತ್ತು ಡೆಲ್ಟಾ Meghwal, ಒಂದು ಎಸ್ಸಿ ವಿದ್ಯಾರ್ಥಿ ಅತ್ಯಾಚಾರ
ಮತ್ತು ಕೊಲೆ ಮಾಡಲಾಯಿತು ಕಾಲೇಜಿನ ವಾರ್ಡನ್ ಕಾಪಾಡುವ ಇದು ಪ್ರಸ್ತುತ ವಸುಂಧರಾ ರಾಜೆ
ಸರ್ಕಾರದ ಅಧಿಕಾರಾವಧಿಯು ಕನಿಷ್ಠ ಸಂಭವಿಸಿ ಅಸಂಭವ.
2016 ರಲ್ಲಿ, ಮತ್ತು ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವದ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು (ಮೋದಿ) ಒಂದು ಕೊಲೆಗಾರ
ಅಡಿಯಲ್ಲಿ ಸಹ, ಎಸ್ಸಿ ದೌರ್ಜನ್ಯ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಅವ್ಯಾಹತವಾಗಿ ಮುಂದುವರಿಯುತ್ತದೆ ಮತ್ತು
ವಾಸ್ತವವಾಗಿ ಹೆಚ್ಚಿಸಿವೆ ಇರಬಹುದು.

ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ ಸಂಸ್ಥೆಯ ಹತ್ಯೆಗೆ (ಮೋದಿ) ನ ಅವಕಾಶವಾದಿ ‘ಎಸ್ಸಿ / ಎಸ್ಟಿ ಪ್ರೇಮ್’

ಏಪ್ರಿಲ್
14 ರಂದು ಅಂಬೇಡ್ಕರ್, ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ ಸಂಸ್ಥೆಯ (ಮೋದಿ) ಕೊಲೆಗಾರ 125 ನೇ
ಜನ್ಮದಿನದ ಪ್ರಧಾನಿ ಮತ್ತು ವಿಶಿಷ್ಟ Modispeak ಆಗಲು ಬಡ ವ್ಯಕ್ತಿಯ ಮಗ ಅವಕಾಶ
ಸಾಂವಿಧಾನಿಕ ಚೌಕಟ್ಟನ್ನು ರಚಿಸಲು ಅವರಿಗೆ ಧನ್ಯವಾದಗಳನ್ನು ತಿಳಿಸಿ, ಅವರು ರೈತರು
ಹೊಗಳಿದರು ಮತ್ತು ಪುರಸ್ಕಾರಗಳನ್ನು ತುಂತುರು
ಮತ್ತು ಅವುಗಳ ಮೇಲೆ ಅರ್ಥಗರ್ಭಿತವಾದ ಗುಣವಾಚಕಗಳು ಡೆವಿಲ್ ಸ್ಕ್ರಿಪ್ಟ್ ಉಲ್ಲೇಖಿಸಿ ಮತ್ತು ಕೇಕ್ ತಿನ್ನುವ ಮತ್ತು ಇನ್ನೂ ಹೊಂದಿರುವ ಇಷ್ಟ.

ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ ಸಂಸ್ಥೆಯ (ಮೋದಿ) ಹತ್ಯೆಗೆ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಜಯಂತಿಯಂದು ಒಂದು ಸಭೆ ವಿಳಾಸಗಳು.

ಇದು
1% ಸಹಿಸದ chitpawan ಆಸ್ತಿಯಾಗಿದೆ ಎಂದು ವಿವರಣಾತ್ಮಕ ಸ್ವಯಂ ವ್ಯಂಗ್ಯದ ಮತ್ತು
ಒಂದು ಅಂಚಿನಲ್ಲಿರುವ ಸಮುದಾಯದ ವ್ಯಕ್ತಿ ಪ್ರಧಾನಿ ಮಾಡಬಹುದು, ಇದು, ಆದಾಗ್ಯೂ, ಇನ್ನೂ
ಅವರಿಗೆ ಅಸಾಧ್ಯ ವಾಸ್ತವವಾಗಿ / ಅವಳ ಆರ್ಎಸ್ಎಸ್ ಮುಖ್ಯಸ್ಥ ಆಗಲು
ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು, ಮೋದಿ ಒಮ್ಮೆ ಈ 1% chitpawan ಬ್ರಾಹ್ಮಣರ ಗುಲಾಮನಾಗಿ ಒಂದು ಪ್ರಚಾರಕರಾದ ಅಲ್ಲಿ. ಮೇ ಎಂದಿಗೂ asingle ಎಸ್ಸಿ ಹೊಂದಿರುತ್ತದೆ / ತನ್ನ ಅಗ್ರ ಸ್ಥಾನ ರಲ್ಲಿ ST ಒಂದು ಎಸ್ಸಿ / ಎಸ್ಟಿ ಸಂಸ್ಥೆಯು ತನ್ನನ್ನು ತಾನು ಶಿರೋನಾಮೆ ಬಿಟ್ಟು. ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ ಸಂಸ್ಥೆಯ (ಮೋದಿ) ಕೊಲೆಗಾರ ಈ ಬಗ್ಗೆ ಏನಾದರೂ ಹೇಳಲು ವೇಳೆ ಒಂದು ಅದ್ಭುತಗಳು.

ಎಸ್ಸಿ
/ ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ ಸಂಸ್ಥೆಯ (ಮೋದಿ) ಪ್ರೀತಿಯ ಕೊಲೆಗಾರ ಆಶ್ಚರ್ಯಕರ
ಯಾವುದೇ ಸರ್ಕಾರ ರಚನೆಗೆ ನಿರ್ಣಾಯಕ ರಾಜ್ಯಗಳಲ್ಲಿ ಅಥವಾ ಕೇಂದ್ರದಲ್ಲಿ ಇದು
ನೀಡಲಾಗುವುದಿಲ್ಲ.
ಏನು ಜಿಜ್ಞಾಸೆ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಮೇ ‘ಹೊಸ ಪ್ರೀತಿ ಕಂಡುಬರುತ್ತದೆ. ಇದರ ಮುಖವಾಣಿ ಆರ್ಗನೈಸರ್ ಏಪ್ರಿಲ್ 17 ಸಮಸ್ಯೆಯನ್ನು ಮುಂದೆ ಪುಟದಲ್ಲಿ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಮತ್ತು ಅವರ ರಾಜಕೀಯ ಹೊಗಳಿದ್ದಾರೆ ಪುಟಗಳು reams, ಇವೆ.

ಸಂಪಾದಕೀಯ
ಈ ಮಾದರಿ “ಮೀಸಲಾತಿ ಆತ್ಮ ಹೆಚ್ಚು ಹುರುಪಿನಿಂದ ಮತ್ತು ಪ್ರಾಮಾಣಿಕವಾಗಿ, ಅಲ್ಪಾವಧಿಯ
ರಾಜಕೀಯ ಮೀರಿ, ಕಾರ್ಯಗತಗೊಳಿಸಲು ನಾವು ಆರಂಭಿಕ ಸಾಧ್ಯವಾದಷ್ಟು ಬಾಬಾಸಾಹೇಬ್
ನಿರೀಕ್ಷಿಸಲಾಗಿದೆ ಸಾಮಾಜಿಕ ಸಮಾನತೆ ಮತ್ತು ಭ್ರಾತೃತ್ವ ಸಾಧಿಸಬಹುದು ಆದ್ದರಿಂದ
ಅಗತ್ಯವಿಲ್ಲ”.
ಅತ್ಯಂತ
ಮುಖ್ಯವಾಗಿ, ಕಳೆದ ಹತ್ತು ಮತ್ತು; ಇಡೀ ಇತಿಹಾಸದಲ್ಲೇ, ಮೇ ಒಂದು “ಗೌರವ
‘ಸಿಬ್ಬಂದಿ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಕೊಟ್ಟ ಎಂದಿಗೂ; ಸಹ ಕನಿಷ್ಟ ಪಕ್ಷ ಹತ್ತು ವರ್ಷಗಳಲ್ಲಿ,
ಆರ್ಗನೈಸರ್ ಒಂದು ಕವರ್ ಸ್ಟೋರಿ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಮೇಲೆ ಎಂದಿಗೂ
ವರ್ಷಗಳ,
ಅಲ್ಲಿ “ಈ waqat ಕಿ ರಾಮ್ ರಾಮ್” ಅಥವಾ “waqat ಕಿ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್”
ರೀತಿಯಲ್ಲಿ ಮತ್ತು ಪದವಿ ನಾವು ಇಂದು ಸಾಕ್ಷಿಯಾಗಿವೆ ಎಂದು, ಒಂದು ಎಸ್ಸಿ / ಎಸ್ಟಿ
ಹುಡುಗ ಮದುವೆಯಾಗಲು chitpawan ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಹುಡುಗಿ ನೀಡುವ ಹೊರತುಪಡಿಸಿ ಎಸ್ಸಿ /
ಎಸ್ಟಿ ಕ್ರೋಢೀಕರಣ ಇರಲಿಲ್ಲ.
ಅಧಿಕಾರಕ್ಕಾಗಿ ದುರಾಶೆ.

ಬಹುಶಃ ಈ ಬೇರೇನೂ ಹೆಚ್ಚು ಹಿಂದುತ್ವ ಸೇನಾದಳವೊಂದನ್ನು ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಸೂಕ್ತ ಹುಚ್ಚು ವಿಪರೀತ ವಿವರಿಸುತ್ತದೆ. ಆದರೆ, ಅವುಗಳ ಮೇಲೆ ಅಳಿಸಲಾಗದ ವಿರೋಧಿ ಜಾತಿ ಕಳಂಕವನ್ನು ಮಾತ್ರ ಬೌದ್ಧಮತಕ್ಕೆ Rohith ಕುಟುಂಬದ ಪರಿವರ್ತನೆ ಗಾಢವಾದ ಮತ್ತು ಆಳವಾದ ಮಾಡಲಾಯಿತು.

ಭರ್ಜರಿಯಾಗಿ ಹೇಳಿದ ಡಾ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಹಾಗೆ, “ನಾನು ಹಿಂದೂ ಧರ್ಮದಲ್ಲಿ ಜನಿಸಿದ
ಆದರೆ ನಾನು ಹಿಂದೂ ಸಾಯುವುದಿಲ್ಲ ಮಾಡಲಾಯಿತು” ಹಾಗೂ 1956 ರಲ್ಲಿ Buddhsim
ತೆಕ್ಕೆಗೆ, 60 ವರ್ಷಗಳ ನಂತರ Rohith ಕುಟುಂಬ ಬೌದ್ಧಮತಕ್ಕೆ ಮತಾಂತರಗೊಂಡ (ಒಂದು
“ಉಪಶಾಖೆ ಹಿಂದುತ್ವ” ಎಂದು ಮೇ ವಜಾ).

“ಇಂದು, ನನ್ನ ತಾಯಿ ಮತ್ತು ನಾನು ಅವರ ಹೆಸರನ್ನು ನಮ್ಮ ಜನರು ಶತಮಾನಗಳಿಂದಲೂ
ಚಿತ್ರಹಿಂಸೆ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಅದೇ ದೇವರಿಗೆ ಪ್ರಾರ್ಥನೆ ತಪ್ಪನ್ನು ಉಚಿತ ಅವಮಾನ,
ಪ್ರತಿದಿನವೂ ಅವಮಾನ ಉಚಿತ, ಉಚಿತ ಎಂದು”, ತನ್ನ ಸಹೋದರ ರಾಜಾ ಪರಿವರ್ತನೆ ನಂತರ
ಹೇಳಿದರು.

1%
ಉನ್ನತ ಪುರೋಹಿತರು, ಅಸಹಿಷ್ಣುತೆ ಉಗ್ರಗಾಮಿ, ಹಿಂಸಾತ್ಮಕ, ಅತಿರೇಕ, ಮಾನಸಿಕ
ಮರೆವಿನ, ಗಲ್ಲಿಗೇರಿಸಿದಂತಹ ನರಭಕ್ಷಕ ದನಗಾಹಿ ಹೆದರಿಕೆ ಕಾಗೆ ಮನೋವಿಕೃತ
chitpawan ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಮೇ (ರಾಕ್ಷಸ ಸ್ವಯಂ Sevaks) ಮತ್ತು ಎಲ್ಲಾ ಅದರ avathars
ಬಿಜೆಪಿ (Bahuth Jiyadha Psychopaths) ವಿಎಚ್ಪಿ (ವಿಷಪೂರಿತ Hintutva
Psychopaths), ಶೂಟಿಂಗ್,
ಎಬಿವಿಪಿ (ಎಲ್ಲಾ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ವಿಷಪೂರಿತ Psychopaths) ಭಜನ್ ದಳ, ಮತ್ತು
ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವದ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು (ಮೋದಿ) ವಂಚನೆ ಗಳನ್ನು ಅಕ್ರಮವಾಗಿ ಈ ಪದಗಳನ್ನು
ಹೀಡ್ ಮಾಡಬೇಕು ಆಯ್ಕೆ ಮಾಡಲಾಯಿತು ಯಾರು ಕೊಲೆಗಾರ.

ಮಾಜಿ ಸಿಜೆಐ ವಿ ಎಂ SADHASIVAM, ತನ್ನ ಕರ್ತವ್ಯವನ್ನು shirked & ಅವುಗಳನ್ನು
ಬದಲಾಯಿಸಲು ಏಕೆಂದರೆ 1600 ಕೋಟಿ ವೆಚ್ಚದ ಸಿಇಸಿ ವಿ ಎಂ ಸಂಪತ್ ಕೋರಿಕೆಯ ಮೇಲೆ
ಹಂತ ಹಂತವಾಗಿ ಫ್ರಾಡ್ Tamperable ಗಳನ್ನು ಅವಕಾಶ ತೀರ್ಪಿನ ಒಂದು ಸಮಾಧಿ ತಪ್ಪನ್ನು
ಮತ್ತು ದೇಶದ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ ಮಾರಣಾಂತಿಕ ಹೊಡೆತವನ್ನು ವ್ಯವಹರಿಸಬೇಕು.

ಮತದಾನ ಕಾಗದದ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯಲ್ಲಿ ತಂದ ಎಂದು ಮಾಜಿ ಸಿಜೆಐ ಆದೇಶ ಇಲ್ಲ. ಅಂತಹ ಮುನ್ನೆಚ್ಚರಿಕೆಯ ಕ್ರಮವಾಗಿ ಸುಪ್ರೀಂ ಕೋರ್ಟ್ ಮೂಲಕ ಸಮ್ಮತಿಸಲಾಯಿತು. ಮಾಜಿ ಸಿಜೆಐ ತನಕ ಬಗ್ಗೆ 1300000 ಮತದಾನ ಯಂತ್ರಗಳ ಈ ಹೊಸ ಸೆಟ್ ಪೂರ್ಣ ತಯಾರಿಸಿದ & ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ನಿಯಮಿಸಲಾಗಿದೆ ಎಂದು ಆದೇಶ ಇಲ್ಲ. ಪ್ರಪಂಚದಲ್ಲಿ 80 ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವಗಳಲ್ಲಿ ಎಲ್ಲಾ ಜನರು ಕೇವಲ ಮೋಸದ ಗಳನ್ನು ದೂರ ಮಾಡಲಾಗುತ್ತದೆ ಯಾರು. ಆದ್ದರಿಂದ ಡೆಮಾಕ್ರಸಿ ನಂಬುವ ಎಲ್ಲಾ ಜನರು, ಲಿಬರ್ಟಿ, ಸಮಾನತೆ ಮತ್ತು ಭ್ರಾತೃತ್ವ
ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವದ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು (ಮೋದಿ) ಮತ್ತು ಅದ್ಭುತ ಸಂವಿಧಾನದ ಈ ದೇಶದ ತಮ್ಮ
ಆಡಳಿತದ ಕೊಲೆಗಾರರು ಗುರುತಿಸಲು ಮಾಡಬಾರದು.

ಸ್ಪಷ್ಟ ಸಾಕ್ಷಿಯಾಗಿ:
ಶ್ರೀಮತಿ
ಮಾಯಾವತಿ ಬಹುಜನ ಸಮಾಜ ಪಕ್ಷ ಉತ್ತರ ಪ್ರದೇಶ ಮತ್ತು ಮುಖ್ಯ ಮಾಜಿ ಮುಖ್ಯಮಂತ್ರಿ
(ಬಿಎಸ್ಪಿ), ಕಾಗದದ ಮತಪತ್ರಗಳನ್ನು ಮೂಲಕ ನಡೆಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಪಂಚಾಯತ್ ಚುನಾವಣೆಗಳಲ್ಲಿ
ಗೆದ್ದು ವಂಚನೆ ಈಡಾಗುವ ಗಳನ್ನು ಮೂಲಕ ನಡೆಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಲೋಕಸಭಾ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಒಂದು
ಸ್ಥಾನವನ್ನು ಗೆಲ್ಲಲು ಸಾಧ್ಯವಾಗಲಿಲ್ಲ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ.
ಉತ್ತರ
ಪ್ರದೇಶದ ಮುಖ್ಯಮಂತ್ರಿಯಾಗಿ, ತನ್ನ ಆಡಳಿತ ಸಮಾಜದ ಎಲ್ಲ ವರ್ಗಗಳ ನಡುವೆ
ಪ್ರಮಾಣದಲ್ಲಿ ಸಂಪತ್ತು ವಿತರಿಸುವ ಮೂಲಕ ಉತ್ತಮ ಮತ್ತು ಈ ದೇಶದ ಪ್ರಧಾನಿಯಾಗಲು
ಅರ್ಹರಾಗಿರುತ್ತಾರೆ ಆಯಿತು.
ಈ ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕ manuvadis ಸಹಿಸುತ್ತವೆ ಇಲ್ಲ. ಆದ್ದರಿಂದ ವಂಚನೆ ಗಳನ್ನು ತನ್ನ ಸೋಲಿಸಲು ತಿದ್ದುಪಡಿ ಮಾಡಲಾಯಿತು.

http://www.ndtv.com/india-news/they-have-failed-on-all-fronts-mayawati-attacks-pm-modi-samajwadi-party-1395414

ಅವರು ‘ವಿಫಲವಾಗಿದೆ’ ಹ್ಯಾವ್ ಎಲ್ಲಾ ರಂಗಗಳಲ್ಲಿ: ಮಾಯಾವತಿ ದಾಳಿಗಳು ಮೋದಿ, ಸಮಾಜವಾದಿ ಪಕ್ಷ

ಅವರು ಎಲ್ಲಾ ರಂಗಗಳಲ್ಲಿ ‘ವಿಫಲವಾಗಿದೆ’ ಹ್ಯಾವ್: ಮಾಯಾವತಿ ಪ್ರಧಾನಿ ಮೋದಿ, ಸಮಾಜವಾದಿ ಪಕ್ಷ ದಾಳಿಗಳು

http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903

ಬಿಜೆಪಿ ‘ಧಾರ್ಮಿಕ ಮೂಲಭೂತವಾದ’ ಹರಡುವಿಕೆ ಮಾಯಾವತಿ ಸೇಸ್.

ಬಿಎಸ್ಪಿ ಮುಖ್ಯಸ್ಥೆ ಮಾಯಾವತಿ ಬಿಜೆಪಿ ‘ಹೇ ದಿನಗಳ ರೈತರಿಗೆ, ಬಡ ಮತ್ತು ಸಣ್ಣ
ವ್ಯಾಪಾರಿಗಳು ಗಳನ್ನು ಸೃಷ್ಟಿಸುವುದು ಭರವಸೆಯಲ್ಲಿ ಮೇಲೆಯೇ ಹಲವಾರು ಹೇಳಿದರು.

ಬಹುಜನ ಸಮಾಜ ಪಕ್ಷ (ಬಿಎಸ್ಪಿ) ಮುಖ್ಯಸ್ಥೆ ಮಾಯಾವತಿ ಒಂದು ‘ಹಿಂದುತ್ವ ರಾಷ್ಟ್ರ’
ದೇಶದ ಪರಿವರ್ತಿಸಲು ತನ್ನ ಪ್ರಯತ್ನದಲ್ಲಿ “ಧಾರ್ಮಿಕ ಮೂಲಭೂತವಾದ” ಮತ್ತು ದ್ವೇಷ
ಹರಡುವ ಭಾರತೀಯ ಜನತಾ ಪಕ್ಷ (ಬಿಎಸ್ಪಿ) ಆರೋಪ.

 ಬಿಜೆಪಿಯಲ್ಲಿ ‘ಹೇ ದಿನಗಳ ರೈತರು, ಬಡ ಮತ್ತು ಸಣ್ಣ ವ್ಯಾಪಾರಿಗಳು ಮತ್ತು
ಬಂಡವಾಳದಾರರ ಮತ್ತು ಕೈಗಾರಿಕೋದ್ಯಮಿಗಳು ಕೇವಲ ಒಂದು “ಬೆರಳೆಣಿಕೆಯಷ್ಟು” ಗಾಗಿ
ಲಾಭ ಗಳನ್ನು ಭರವಸೆಯಲ್ಲಿ ಮೇಲೆಯೇ ಹಲವಾರು.

“ಬೆಲೆ ಏರಿಕೆ, ಹೇರುವುದು ತೆರಿಗೆ ದೊಡ್ಡ ಪ್ರಮಾಣದ ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಕೋಪ
ಕಾರಣವಾಗಿವೆ ಇದು ರೀತಿಯ ಸಮಸ್ಯೆಗಳನ್ನು ಜನರ ಗಮನವನ್ನು ಬೇರೆಡೆಗೆ ಬಿಡ್ ಬಿಜೆಪಿ
ಮತ್ತು ಅದರ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು ಸಮಸ್ಯೆಗಳು ಪ್ರೇರೇಪಿಸುವ ಪ್ರಯತ್ನಿಸುತ್ತಿರುವ
ಧಾರ್ಮಿಕ ಮೂಲಭೂತವಾದ, ಪರಸ್ಪರ ದ್ವೇಷ ಮತ್ತು ಹುಸಿ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯತೆ ರೀತಿಯಲ್ಲಿ, “ಅವರು ಹೇಳಿದರು.

ಅವರು ಬಿಜೆಪಿ “ಹಿಂದುತ್ವ ರಾಷ್ಟ್ರ” ಈ ದೇಶದ ಪರಿವರ್ತಿಸಲು ಅದರ ಮಾತೃ ಸಂಸ್ಥೆ
ಆರೆಸ್ಸೆಸ್ನ “ಕಿರಿದಾದ ಮತ್ತು ಜಾತೀಯ ತತ್ತ್ವಶಾಸ್ತ್ರ” ಅನುಸರಿಸುತ್ತಿದ್ದಾರೆ ಎಂದು
ಹೇಳಿದರು.

ಪ್ರಕ್ರಿಯೆಯಲ್ಲಿ, ಇದು ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಮತ್ತು ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಹಿತಾಸಕ್ತಿ ಬಲಿಕೊಟ್ಟು
“ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ನಿರ್ಲಕ್ಷಿಸಲಾಗಿದೆ” ಮಾಡಿದೆ ಬಡತನ, ನಿರುದ್ಯೋಗ, ಶಾಂತಿ ಮತ್ತು
ಬೆಲೆ ಏರಿಕೆ ನಿರ್ಧಾರದ ವೇಳೆ, ತನ್ನ ಉಲ್ಲೇಖಿಸಿ ಹೇಳಿಕೆಯಲ್ಲಿ ತಿಳಿಸಿದ್ದಾರೆ.

ಭ್ರಷ್ಟಾಚಾರದ ವಿಷಯದಲ್ಲಿ ಉಲ್ಲೇಖಿಸುವಾಗ, ಅವರು ಬಿಜೆಪಿ ಮತ್ತು ಕಾಂಗ್ರೆಸ್ ಒಂದೇ ನಾಣ್ಯದ ಎರಡು ಬದಿ ಇವೆ ಹೇಳಿದರು.

“ರೀತಿಯಲ್ಲಿ ಬಿಜೆಪಿ ಸರ್ಕಾರ ಭ್ರಷ್ಟ ರಕ್ಷಿಸಲು ಪ್ರಯತ್ನಿಸುತ್ತಿದೆ, ಇದು
ಮುಂಬರುವ ವರ್ಷಗಳಲ್ಲಿ ಕಾಂಗ್ರೆಸ್ ಭ್ರಷ್ಟಾಚಾರ ಸೋಲಿಸಿ ಎಂದು ಸಾಧ್ಯ,” ಅವರು
ಹೇಳಿದರು.

ಅವರು ರಾಜ್ಯಗಳಲ್ಲಿ ಬಿಜೆಪಿ ಮತ್ತು ಕಾಂಗ್ರೆಸ್ ಸರ್ಕಾರಗಳು ಎಸ್ಸಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ
ದೌರ್ಜನ್ಯ ಮತ್ತು ಸಮಾಜದ ದುರ್ಬಲ ವರ್ಗಗಳಿಗೆ ಸೇರಿದ ರಲ್ಲಿ indulging
ಮಾಡಲಾಗುತ್ತದೆ ಆರೋಪಿಸಿದರು.

“ಅವರು ತಮ್ಮ ಜೀವಮಾನದುದ್ದಕ್ಕೂ ಎಸ್ಸಿ / ಎಸ್ಟಿ ಪ್ರತಿಮೆಗಳು ವಿರುದ್ಧವಾಗಿ ಆದರೂ,
ಅವರು ಅವರ ರಾಜಕೀಯ ಆಸಕ್ತಿಗಳ ಈಡೇರಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು ಈಗ ಅವರ ಹೆಸರುಗಳು ಬಳಸಲು,”
ಉತ್ತರ ಪ್ರದೇಶದ ಮಾಜಿ ಮುಖ್ಯಮಂತ್ರಿ ಹೇಳಿದರು

2.
ಈಗ ಸಿಇಸಿ ಎಲ್ಲಾ ವಿದ್ಯುನ್ಮಾನ ಮತಯಂತ್ರಗಳ 2019 ಸಾರ್ವತ್ರಿಕ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಬದಲಿಗೆ ಎಂದು ಹೇಳುತ್ತಾರೆ.

http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms

ಕಾಗದದ ಜಾಡು ಮತದಾನದ ಯಂತ್ರಗಳ ಹೊಂದಲು 2019 ಸಾರ್ವತ್ರಿಕ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ: ನಸೀಮ್ ಜೈದಿ, ಸಿಇಸಿ

ಬಿಜೆಪಿ ವಿರೋಧ ಮೇ ಅನುಕೂಲಕರವಾದ ಕಾಗದದ ballotsas ಗಳನ್ನು ಬಂದಾಗ 3. ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಪರಿಶೀಲನೆಗೆ ಒಳಪಡಿಸಿದರು

http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html

ವಿದ್ಯುನ್ಮಾನ ಮತಯಂತ್ರಗಳ (ಗಳನ್ನು) ರಾಜಕೀಯ ಪಕ್ಷಗಳಿವೆ ಪ್ರಶ್ನಿಸಿವೆ
reliablity ಬಗ್ಗೆ ವಿವಾದ ಸೇರುವ, ಮೇ ಟಿ ಮತ್ತೆ ಪ್ರಯತ್ನಿಸಿದರು ಹಿಂದಿರುಗಿಸಲು
ಚುನಾವಣಾ ಆಯೋಗ (ಇಸಿ) ಕೇಳಿದರು ಮತ್ತು ಕಾಗದದ ಮತಪತ್ರಗಳನ್ನು ಪರೀಕ್ಷೆ …

ಆದರೂ
ಅವರು ಅವರು ಬಲ ಮಾರ್ಗ ಈಜಲು ಯತ್ನಿಸುತ್ತಿದೆ ಎಂದು ಸಾಧಿಸುತ್ತಾನೆ ಇದು ಅವರು
ವಿರುದ್ಧ ಕರೆಯಲ್ಪಡುವ ವಿಷಮ ಅಗೆಯುವ ಸೇರಿದಂತೆ ನಾಟಕೀಯ ಎಲ್ಲಾ ರೀತಿಯ
ತೊಡಗಿಕೊಂಡಿವೆ.
ಬಾಬಾಸಾಹೇಬ್ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ತೊಂದರೆ ಎಸ್ಸಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಪ್ರಯತ್ನಿಸಿದಾಗ ಅವರು ಸರಿಯಾದ ಹಾದಿಯಲ್ಲಿ ಎಂದು ಅರ್ಥ ಹೇಳಿದರು. ಆರೆಸ್ಸೆಸ್
ಮತ್ತು ಬಿಜೆಪಿ ಸೇರಿದಂತೆ ಎಲ್ಲಾ avathars ಗೋಪಾಲಕರ ಮತ್ತು ಅವರು ಸ್ವಭಾವತಃ
ಅಸಹಿಷ್ಣುತೆ ಮತ್ತು ದ್ವೇಷ ಹಿಂಸಾತ್ಮಕ ಉಗ್ರಗಾಮಿ ಸಂಪೂರ್ಣ ತಮ್ಮ ದುಷ್ಟ
ಚಟುವಟಿಕೆಗಳನ್ನು affraid ಕಾರಣ ಕಾಗೆಗಳು ಹೆದರಿಸುವ.
ಅವರು
ಮಾನಸಿಕ ರಕ್ಷಣಾಲಯಗಳಲ್ಲಿ ಮಾನಸಿಕ ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಅಗತ್ಯವಿದೆ ಈ ದುಷ್ಟ ಪದ್ಧತಿಗಳನ್ನು
ಮಾನಸಿಕ ಮರೆವಿನ psychopaths Lunatics ಮತ್ತು ಹುಚ್ಚು ಮಾರ್ಪಟ್ಟಿವೆ.

21) Classical Telugu
21) ప్రాచీన తెలుగు

1841 Wed Apr 20 2016
పాఠాలు

నుండి

అంతరార్థ-NET -ఆన్లైన్ A1 (జాగృతం వన్) Tipiṭaka రీసెర్చ్ & ప్రాక్టీస్ విశ్వవిద్యాలయం
విజువల్ ఫార్మాట్ లో (FOA1TRPUVF)
http://sarvajan.ambedkar.org ద్వారా
aonesolarpower@gmail.com

సంగీతం బౌద్ధమతం (అవేర్నెస్ తో జాగృతం వన్ యొక్క బోధనలు) ప్రపంచానికి చెందిన, మరియు ప్రతి ఒక్కరూ ప్రత్యేక హక్కులను కలిగి: జేసీ

ఒకటి తల్లి ఈ విశ్వవిద్యాలయం యొక్క ఒక పాఠం గా ఖచ్చితమైన అనువాదం రెండరింగ్
ఈ Google అనువాదం మరియు విస్తరణకు నాలుక మారింది చేసుకోవచ్చును
Enterer (Sottapanna) ప్రవాహం మరియు ఫైనల్ గోల్, ఎటర్నల్ బ్లిస్ సాధించడం.

అవగాహన తో జాగృతం వన్ యొక్క బోధనలు ప్రచారం వెబ్సైట్లు జాబితా అనగా, బుద్ధ Tripitaka విజువల్ ఫార్మాట్
http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907
http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1.
HTTP: // వార్తలు. xinhuanet. com / ఇంగ్లీష్ / 2009-07 / 27 / content_11780918 .htm
www.chinaview. CN
www.buddhismandbusi ness.webs. కామ్
http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/
www.grameenfoundation.org

http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/
http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf

http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/

http://www.dailyo.in/politics/br-ambedkar-dalit-politics-caste-system-rss-narendra-modi-sangh-parivar-organiser-hindutva/story/1/10103.html

Valay సింగ్ రాయ్

వరుస
రోజుల్లో రామ్ Navmi (రోజు శ్రీరాముని జన్మించాడు), అంబేద్కర్ జయంతి
పడిపోవటంతో ఏర్పడిన నాంది ఒక పలిమ్ప్సేస్ట్ మాకు ఈ రెండు వ్యతిరేకం సంఖ్యలు
ద్వారా “అంబేద్కర్ సముచితం చేయడానికి జాతి” చూడండి అనుమతిస్తుంది.
ఒకటి, రామ్, అయితే ఒక పౌరాణిక పాత్ర ఆర్ఎస్ఎస్ (రాష్ట్రీయ Swamasevak సంఘ్) ఉందంటూ వంటి రాజకీయ హిందుత్వ ప్రబలంగా.

1954 లో, డాక్టర్ అంబేద్కర్, Hindusim రిడిల్స్ అని వ్యాసాల అతని సిరీస్లో, రామ కృష్ణ రెండు తన అభిప్రాయాలను బేర్ సూచిస్తుంది. ఇతర తప్పిదాలను చేయకుండా, అతను Shambuka, ఒక “Shudra” (ఆదిమ
ఆది-Mulanivasis హత్య రామ్ బాధ్యత కలిగి (socalled అంటరాని ఎస్సీ /
ఎస్టీలకు) చాలా దగ్గరలోనే ఈనాటి నాగ్పూర్ నుండి, బ్రాహ్మణ బుజ్జగించే
కొరకు.

డాక్టర్
అంబేద్కర్ జయంతి నాడు RSS లేదా బిజెపి నాయకుల ప్రసంగాలు ఎవరూ (ఆదిమ
ఆది-Mulanivasis (socalled అంటరాని ఎస్సీ / ఎస్టీలకు) రాజకీయాలు భూభాగంతో
మీద తరహాలో ఆలోచించలేదు;. అగ్రకులాల ఆ అణచివేత హిందూ మతం పురాణాలు ద్వారా
ఆమోదిస్తున్నారు ఈ didn ‘
t అయితే అంబేద్కర్ మరియు ఆయన రాజకీయాలపై క్రెడిట్ వేయడానికి ప్రయత్నిస్తున్నారు నుండి వాటిని ఆపడానికి.

కానీ, అనేక మాతృభాషలో చదివి పాత RSS వ్యూహంలో.

అది (MIS) వినియోగం ఆర్ట్ వచ్చినప్పుడు అనుకూల అంబేద్కర్ దూరమవుతుంది కుల-నుండి, నాగ్పూర్ భక్తులైన పురుషులు ఖచ్ఛితమైన.

ఆర్గనైజర్ యొక్క ఏప్రిల్ 17, 2016 సంచికలో మొదటి పేజీలో అంబేద్కర్ ఉంది.

2006 లో, ఆర్గనైజర్ ఆర్ఎస్ఎస్ లౌడ్స్పీకర్, దాని సంపాదకుడు రిజర్వేషన్లు వ్యతిరేకంగా ఎంవి కామత్ ఒక కటువైన వ్యాసం ప్రచురించారు. ఇది
… పాటు ఈ రిజర్వేషన్ వ్యవస్థ ఎలా పొడవుగా ఉంది? ఐదు అంతకంటే ఎక్కువ
సంవత్సరాలు? టెన్? పదిహేను? ట్వంటీ ఐదు? యాభై? మరో అరవై? ఈ ఆపడానికి
చేస్తుంది? అక్కడ అంశంపై స్పష్టమైన అవగాహన ఉండాలి “, అన్నాడు ఆ పాల్గొన్న
తెలియజేసే పేరు కాబట్టి
వారు నిలబడటానికి. ప్రభుత్వపరమైన నిర్లక్ష్యానికి ఎస్సీ / ఎస్టీ నిర్లక్ష్యానికి వంటి కారణమని వుంటుంది చాలా ఉంది. “

ఇది
కూడా అన్నారు: “రిజర్వేషన్స్ మా సమాజంలో బానే ఉన్నాయి రిజర్వేషన్లు కులం,
తరగతి మరియు మా సమాజంలో మత విభజన స్వీయ విధ్వంసక ఇది కొనసాగించడం బదులుగా
వారి కులం లేదా మతపరమైన అనుబంధాలు మర్చిపోకుండా, ప్రజలు వివిధ సామాజిక
వర్గాలకు చెందిన చేశారు..
దీర్ఘ మరియు పవర్ కేక్ వాటా పొందడానికి గుర్తింపులను కొనసాగిస్తాయి అవసరం insistently-భావించాడు. “

ఈ పాత హిందూత్వ ప్రతిబింబం ఏమిటంటే ఉంది: రిజర్వేషన్లు అసమర్ధత జాతిని మరియు యోగ్యత తగ్గించుకోవాలని. దీంతో తాము ఉత్పాదకత మరియు భారతదేశం నుండి “మేధో వలసలు” బాధ్యత పడింది. ఈ భారతదేశం యొక్క ఉన్నత-కులాల ప్రసిద్ధ పేచీ ఉన్నాయి.

ఎవరైతే
ఈ కూడా మర్చిపోవు శతాబ్దాలుగా కొనుగోలు వైఖరులు మరియు అధికారాలను ఓటమిని
కలిగిన భారతదేశం యొక్క ఉన్నత వర్గం, తరపున మాట్లాడుతూ చెప్పారు “ఒక హక్కు
వాడినప్పుడు, సమానత్వం అణచివేతకు భావిస్తాను”, ఒకసారి Jambudvipa అంటే,
ప్రబుద్ధ భరత్ రాజ్యాంగ మారింది
ప్రజాస్వామ్యం.

68 సంవత్సరాల తర్వాత అవి unlearning మరియు పేస్ ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు (మోడీ) యొక్క మర్డర్స్ నుంచి డౌన్ మందగించింది మాత్రమే ఉంది.

1949, అది మొదటి సారి డాక్టర్ అంబేద్కర్ దిష్టిబొమ్మను దగ్ధం నుంచి
ఆర్ఎస్ఎస్ (Rakshash Swayam Sevaks), లెక్కకు మించిన savarna విధాలుగా,
చివరకు భయపడ్డారు, అది ఇకపై Jambudvipa అనగా, తక్కువ మానవులు వంటి
ప్రబుద్ధ bharaths చికిత్స కనిపిస్తుందని కలిగియున్నది.

భయం
బిజెపి (Bahuth Jiyadha వికలోద్వేగరోగులు) ఏబీవీపీ (అన్ని బ్రాహ్మణ
విషపూరిత మానసిక) యొక్క విద్యార్థి విభాగం తరువాత ఎస్సీ / ఎస్టీ దళాలు
మరియు అభ్యుదయ వర్గములు దేశం వ్యాప్తంగా సమీకరణ ద్వారా ఉత్ప్రేరణ రోహిత్
Vemula మరియు ఇతర ఎస్సీ / వ్యతిరేకంగా హైదరాబాద్ సెంట్రల్ యూనివర్సిటీ
పరిపాలనతో colluded
ఎస్టీ విద్యార్థులతో. వ్యతిరేక ఎస్సీ / ఎస్టీ ట్యాగ్ ఒక ద్రోహి వంటి, ఒక పుట్టుమచ్చ వంటి ఉంది
ఉంటే, ఆర్ఎస్ఎస్, బిజెపి కోసం, రోహిత్ యొక్క మరణం మరియు దాని చికిత్స అది
వారి ముఖాలను ఒక inerasable చమటకాయలు లోకి మార్చింది.

ఇది RSS వ్యతిరేక ఎస్సీ / ఎస్టీ ట్యాగ్ షెడ్ అన్ని అది చేస్తున్న ఆ ఈ ముద్ర వెదజల్లు ఉంది. RSS మధ్యప్రదేశ్లో అతని జన్మస్థలం మోహో దేశంలోని వివిధ ప్రదేశాల్లో అలాగే అంబేద్కర్ విగ్రహాలు వద్ద “గౌరవ గార్డ్లు” నిర్వహించారు.

ఏ పార్టీ ఎస్సీ / ఎస్టీలకు న్యాయం చేసిన పొందలేదని బిజెపి ఖచ్చితంగా తగిన ఎస్సీ / ఎస్టీలకు ప్రయత్నించాలి గత పార్టీ. మోహో లోనే, ఎస్సీ / ఎస్టీలకు ఇప్పటికీ ప్రత్యేక దహనం భూమిలో వారి చనిపోయిన దహనం ఎగువ కులాల వస్తుంది. ఎస్సీ / ఎస్టీలకు అత్యాచారాలకు వచ్చినప్పుడు మధ్యప్రదేశ్ టాప్లో.

2013
లో, ఒక కలెక్టర్ లిఖిత ఉత్తర్వులకు ఒక ఎస్సీ క్రమంలో / ఎస్టీ ఉపకార
పొందటానికి డిమాండ్ జారీ చేయబడింది, అతను / ఆమె ఒక ఛాయాచిత్రం “రుజువు”
బహుమతిగా చచ్చిన జంతువు ఉత్పత్తి చేయాలి.
ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు (మోడీ presstitute చనిపోయిన WOOD మీడియా) అనుకూల
ఎస్సీ గా బ్రాండ్ మార్చాలని ప్రచారంలో మర్డర్స్ / ఎస్టీ విజయవంతం కాదు
ఇలాంటి ఘటనలు ఆర్ఎస్ఎస్, దాని avathars ఆధ్వర్యంలో జరుగుతున్న ఉంచేందుకు
వరకు చేయవచ్చు.

అగ్రవర్ణాల ఆధిపత్యాల సంఘ్ ఎజెండా వివరిస్తుంది ఆ మరొక ఉదాహరణ రాజస్థాన్ పొరుగు పర్యాటక ప్రచారం ప్రతిబింబిస్తుంది. దశాబ్దాలుగా, రాయల్స్ మరియు వ్యాపారులు ఈ రాష్ట్ర శక్తి- గుబ్బలు
జరిగింది ఉన్నాయి: రాయల్స్ విదేశీ పర్యాటకులను విక్రయం సంస్కృతి ప్యాక్
చేసిన సమయంలో, వ్యాపారులు నుండి సమాన 1991 లో దేశం యొక్క ఆర్థిక సరళీకరణ
నుండి ప్రయోజనం చేకూర్చే విధంగా ఉన్నాయని.

దీని
తాజా ప్రకటనల ప్రచారం ఈ దేశంలో వ్యక్తి లేదా కావచ్చు పర్యాటక దృష్టిలో
“Aryasthan” గా బ్రాండ్లు, కానీ పేరు ఆర్య ఏకకాల ఉండకూడదు.
ఉపఖండంలో నాగరికత తీసుకువచ్చిన నోబుల్ రేసులో: ఇది Aryavrat, Aryas భూమి ఆర్ఎస్ఎస్ అభిప్రాయం కోర్ వద్ద ఉంది. ఎలా రాజస్థాన్, Meenasthan లేదా Banjarasthan లేదా ఎస్సీ / STsthan కాలింగ్ గురించి!

ఇది
ప్రస్తుతం డెల్టా Meghwal, ఒక ఎస్సీ విద్యార్ధి అత్యాచారం మరియు హత్య
అక్కడ కళాశాల ప్రిన్సిపాల్గా మరియు వార్డెన్ రక్షణకు వర్తమాన వసుంధర రాజే
ప్రభుత్వం హయాంలో కనీసం జరిగే అవకాశం ఉంది.
కూడా 2016 లో, మరియు కూడా ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు (మోడీ) ఒక మర్డర్స్ కింద
ఎస్సీ అత్యాచారాలకు / ఎస్టీలకు తరగని కొనసాగుతుంది మరియు నిజానికి
పెరిగింది ఉండవచ్చు.

ప్రజాస్వామ్య సంస్థ యొక్క హంతకుడు (మోడీ) యొక్క అవకాశవాద ‘ఎస్సీ / ఎస్టీ ప్రేమ్’

ఏప్రిల్
14 న, డాక్టర్ అంబేద్కర్, ప్రజాస్వామ్య సంస్థ (మోడీ) యొక్క హంతకుని 125 వ
జయంతి ప్రధాన మంత్రి మరియు విలక్షణ Modispeak మారింది ఒక పేద వ్యక్తి యొక్క
కుమారుడు అనుమతి రాజ్యాంగ ముసాయిదా సృష్టించడానికి అతనికి ధన్యవాదాలు
తెలిపి, ఆయన రైతుల ప్రశంసించారు మరియు పొగిడాయి
మరియు వాటిని న సారవంతమైన విశేషణాలు డెవిల్ స్క్రిప్ట్ కోటింగ్ మరియు కేక్ తినడం మరియు ఇప్పటికీ అది కలిగి ఇష్టం.

ప్రజాస్వామ్య సంస్థ (మోడీ) యొక్క హంతకుడు అంబేద్కర్ జయంతి ఒక సేకరణ చిరునామాలు.

ఇది
1% సరిపడని chitpawan ఆస్తి ఉంది వంటి / ఆమె ఆర్ఎస్ఎస్ చీఫ్ మారింది
ironical మరియు స్వీయ వివరణాత్మక ఒక అట్టడుగు సమాజం నుండి ఒక వ్యక్తి
ప్రధాన మంత్రి గా ఉన్నప్పుడు, అది, అయితే, ఇప్పటికీ అతనికి అసాధ్యం వాస్తవం
ఉంది
బ్రాహ్మణులు మోడీ ఒకసారి ఈ 1% chitpawan బ్రాహ్మణులు బానిసగా ఒక pracharak అక్కడ. RSS ఎప్పుడూ asingle ఎస్సీ ఉంటుంది / దాని టాప్ మెట్లు ఎస్టీ ఒక ఎస్సీ / ఎస్టీ సంస్థ కూడా సాగుతోంది ఒంటరిగా వదిలి. ప్రజాస్వామ్య సంస్థ (మోడీ) యొక్క మర్డర్స్ ఈ గురించి ఏదో చెప్పటానికి కలిగి ఉంటే ఒక అద్భుతాలు.

ఎస్సీ
/ ఎస్టీలకు ప్రజాస్వామ్య సంస్థ (మోడీ) ‘ప్రేమ మర్డర్స్ ఆశ్చర్యకరమైన వారు
ఏ ప్రభుత్వ ఏర్పాటు కీలకమైనది రాష్ట్రాల్లో లేదా కేంద్రంలో అది ఇచ్చిన
లేదు.
ఏం రహస్య ఉంది డాక్టర్ అంబేద్కర్ కోసం RSS ‘కొత్తగా ప్రేమ. దీని మౌత్ ఆర్గనైజర్ యొక్క ఏప్రిల్ 17 సంచికలో మొదటి పేజీలో అంబేద్కర్ ఉంది మరియు అతని రాజకీయాలు పొగుడుతూ పేజీల reams ఉన్నాయి.

సంపాదకీయ
నుండి ఈ నమూనా “రిజర్వేషన్ ఆత్మ మరింత తీవ్రముగా మరియు వాస్తవమైన మేము
సాధ్యమైనంత త్వరగా బాబాసాహెబ్ ఊహించిన సామాజిక సమానత్వం మరియు కూటమిలో
సాధించడానికి తద్వారా స్వల్పకాలిక రాజకీయ కారణాల దాటి, అమలు చేయవలసిన అవసరం
ఎంతైనా ఉంది”.
ముఖ్యంగా,
గత పది కలుగజేసెను దాని మొత్తం చరిత్రలో, ఆర్ఎస్ఎస్ “గౌరవ ‘గార్డు డాక్టర్
అంబేద్కర్ ఇచ్చిన ఎన్నడూ ఆచరించాలని, కనీసం గత పది సంవత్సరాలలో,
ఆర్గనైజర్ ఒక ముఖపత్ర అంబేద్కర్ పొందలేదు
సంవత్సరాల,
అక్కడ “ఈ waqat కి రామ్ రామ్” లేదా “waqat కి అంబేద్కర్ అంబేద్కర్” మేము
నేడు చూసిన పద్ధతిలో మరియు డిగ్రీ, ఒక ఎస్సీ / ఎస్టీ బాలుడు వివాహం ఒక
chitpawan బ్రాహ్మణ అమ్మాయి అందించటం తప్ప ఎస్సీ / ఎస్టీ సమీకరణ చేయలేదు.
అధికారం కోసం అత్యాశకు.

బహుశా ఏదైనా కంటే ఈ హిందూత్వ బ్రిగేడ్ అంబేద్కర్ సముచితం చేయడానికి పిచ్చి రష్ వివరిస్తుంది. కానీ, వాటిని చెరగని కుల-పాల్పడకుండా మాత్రమే బౌద్ధమతం రోహిత్ కుటుంబం యొక్క మార్పిడి ద్వారా ముదురు మరియు లోతుగా చేశారు.

డాక్టర్ అంబేద్కర్ ప్రముఖంగా చెప్పాడు వలె, “నేను ఒక హిందూ మతం జన్మించిన
కానీ నేను ఒక హిందూ మతం చనిపోరు”, మరియు 1956 లో Buddhsim పూనుకోవడం 60
సంవత్సరాల తరువాత రోహిత్ కుటుంబానికి బౌద్ధమతం మార్చబడింది (ఒక “హిందుత్వ
యొక్క శాఖ” గా RSS ద్వారా తోసిపుచ్చారు).

“ఈ రోజు నుంచి, నా తల్లి మరియు నేను, సిగ్గు నుండి ఉచిత రోజువారీ
అవమానానికి నుండి ఉచిత, దీని పేరు మన ప్రజల శతాబ్దాలుగా హింసించారు చేసిన
అదే దేవుడు ప్రార్థిస్తూ తప్పు నుండి ఉచిత ఉంటుంది”, అని అతని సోదరుడు రాజా
మార్పిడి తర్వాత చెప్పారు.

1%
ఉన్నత గురువులు, సరిపడని తీవ్రవాద, హింసాత్మక, వెర్రివాడు, మానసిక రోగులు,
షూటింగ్ ఉరితీసిన నరమాంస భక్షకుడు కౌహెర్డ్ బెదరింపు కాకి మానసిక
chitpawan బ్రాహ్మణ RSS (rakshasa Swayam Sevaks) మరియు అన్ని దాని
avathars బిజెపి (Bahuth Jiyadha వికలోద్వేగరోగులు) విహెచ్పి (విషపూరిత
Hintutva వికలోద్వేగరోగులు),
ఏబీవీపీ (అన్ని బ్రాహ్మణ విషపూరిత వికలోద్వేగరోగులు) భజన దళ్ మరియు
ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు (మోడీ) మోసం ఈవీఎంలు దిద్దుబాటు ఈ పదాలు హెచ్చరిక
ద్వారా ఎంపిక వీరు మర్డర్స్.

మాజీ సిజెఐ ఇవిఎం SADHASIVAM, దాని విధి shirked & వాటిని భర్తీ
ఎందుకంటే 1600 కోట్ల ఖర్చు సిఇసి ఇవిఎం సంపత్ అభ్యర్ధన మీద దశలవారీగా
ఫ్రాడ్ Tamperable ఈవీఎంలు లో అనుమతించడం ద్వారా తీర్పు ఒక సమాధి లోపం
కట్టుబడి మరియు దేశం యొక్క ప్రజాస్వామ్య ఒక ప్రమాదకరమైన దెబ్బ కొట్టాయి.

మాజీ
సిజెఐ చేయాలనుకోవడం లేదు బ్యాలెట్ పేపర్ వ్యవస్థ తీసుకువచ్చారు
తెలియజేసింది. అటువంటి జాగ్రత్త చర్యగా సర్వోన్నత న్యాయస్థానం చట్టం
చేశారు.
మాజీ
సిజెఐ చేయాలనుకోవడం సమయం వరకు సుమారు 1300000 ఓటింగ్ యంత్రాల ఈ కొత్త సెట్
పూర్తిగా తయారు & పూర్తిగా ప్రవేశిస్తున్నట్లు లేదు.
ప్రపంచంలో 80 ప్రజాస్వామ్య దేశాల ప్రజలంతా కేవలం fradulent ఈవీఎంలు తో దూరంగా పూర్తి చేసిన. అందువలన నమ్మే డెమోక్రసీ అందరి ప్రజల స్వేచ్చ, సమానత్వం మరియు కూటమిలో
ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు (మోడీ) మరియు ఒక అద్భుతమైన రాజ్యాంగం ఈ దేశ వారి
పాలన యొక్క హంతకులు గుర్తించి ఉండకూడదు.

స్పష్టమైన రుజువుగా:
అది
మోసం గురవుతుంటాయి ఈవీఎంలు ద్వారా నిర్వహించిన లోక్ సభ ఎన్నికల్లో ఒక్క
సీటు గెలుచుకున్న కాలేదు అయితే బహుజన్ సమాజ్ పార్టీ ఉత్తరప్రదేశ్, చీఫ్ ఆఫ్
మాయావతి మాజీ ముఖ్యమంత్రి (బిఎస్పి), పేపర్ బ్యాలెట్ ద్వారా నిర్వహించిన
పంచాయతీ ఎన్నికలు గెలిచింది.
ఉత్తరప్రదేశ్
ముఖ్యమంత్రి, ఆమె పాలన సమాజంలోని అన్ని భాగాలలోనూ దామాషా సంపద పంపిణీ
ద్వారా ఉత్తమ మరియు ఈ దేశం యొక్క ప్రధాన మంత్రి అవుతుంది అర్హత మారింది.
ఈ సాంప్రదాయ manuvadis ద్వారా తట్టుకోవడం కాదు. కాబట్టి మోసం ఈవీఎంలు ఆమె ఓడించడానికి పాడు చేశారు.

http://www.ndtv.com/india-news/they-have-failed-on-all-fronts-mayawati-attacks-pm-modi-samajwadi-party-1395414

వారు అన్ని రంగాల్లో విఫలమైంది ‘కలవారు: మాయావతి Attacks మోడీ, సమాజ్వాది పార్టీ

వారు అన్ని రంగాల్లో విఫలమైంది ‘కలవారు: మాయావతి Attacks మోడీ, సమాజ్వాది పార్టీ

http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903

బిజెపి మతపరమైన సనాతనవాదం ‘వ్యాపింపచేయడం మాయావతి సేస్.

బిఎస్పి చీఫ్ మాయావతి, బిజెపి హే రోజుల రైతులకు, పేద మరియు చిన్న వ్యాపారులు లో ushering యొక్క ఆశలు పాడయ్యి చెప్పారు.

బహుజన్ సమాజ్ పార్టీ (బిఎస్పి) అధినేత్రి మాయావతి ఒక ‘హిందూత్వ రాజ్యం
లోకి దేశం మార్చుకునేందుకు బిడ్ లో “మత ఛాందసవాదం” మరియు ద్వేషం వ్యాప్తి
భారతీయ జనతా పార్టీ (బిఎస్పి) ఆరోపించింది.

 బిజెపి ‘హే రోజుల రైతులు, పేద మరియు చిన్న వ్యాపారులు పెట్టుబడిదారులుగా
మరియు పారిశ్రామికవేత్తల కేవలం “కొన్ని” కోసం పొందుతున్న ushering యొక్క
ఆశలు పాడయ్యి.

“భారీస్థాయి ప్రజా కోపం దారితీసిన ధరల పెరుగుదల, పన్నులు విధించడం వంటి
అంశాల నుంచి ప్రజల దృష్టిని మళ్ళించేందుకు ఒక బిడ్ను లో, బీజేపీ దాని
సంస్థలు సమస్యలు రేకెత్తిస్తాయి ప్రయత్నిస్తున్నారు
మత ఛాందసవాదం, పరస్పర ద్వేషం, మిథ్యా నేషనలిజం లాగ, “ఆమె చెప్పారు.

ఆమె కూడా బిజెపి “హిందూత్వ రాష్ట్ర” ఈ దేశం మార్చేందుకు దాని మాతృ సంస్థ
ఆర్ఎస్ఎస్ “ఇరుకైన మరియు కుల తత్వం” అనుసరిస్తున్నారు చెప్పారు.

ప్రక్రియలో, జాతీయ మరియు ప్రజా ఆసక్తి బలి చేసింది మరియు ప్రస్తుతం
“పూర్తిగా నిర్లక్ష్యం” పేదరికం, నిరుద్యోగం, శాంతి మరియు ధరల పెరుగుదల
వంటి విషయాల్లో ఆమె కోటింగ్ ఒక ప్రకటనలో తెలిపారు.

అవినీతి సమస్యను ప్రస్తావిస్తూ ఆమె చెప్పారు బిజెపి, కాంగ్రెస్ ఒకే నాణానికి రెండు వైపులా ఉంటాయి.

“మార్గం బిజెపి ప్రభుత్వం అవినీతి రక్షించడానికి ప్రయత్నిస్తున్నారు, ఇది
రాబోయే సంవత్సరాల్లో కాంగ్రెస్ అవినీతి ఓడించారు అని అవకాశం ఉంది,” ఆమె
చెప్పారు.

ఆమె రాష్ట్రాల్లో బిజెపి, కాంగ్రెస్ ప్రభుత్వాలు ఎస్సీ / ఎస్టీలకు
అత్యాచారాలకు మరియు సమాజంలోని బలహీన వర్గాలకు చెందిన సుఖాలను
అనుభవిస్తున్నారని ఆరోపించారు.

“వారు తమ జీవితమంతా ఎస్సీ / ఎస్టీ చిహ్నాలు వ్యతిరేకంగా ఉన్నప్పటికీ,
వారు తమ రాజకీయ ప్రయోజనాలకు ముందుకు తీసుకెళ్లేందుకు ఇప్పుడు వారి పేర్లను
ఉపయోగిస్తున్నాయి” ఉత్తర ప్రదేశ్ మాజీ ముఖ్యమంత్రి చెప్పారు

2.
ఇప్పుడు సిఇసి అన్ని ఈవీఎంలు 2019 సాధారణ ఎన్నికల్లో భర్తీ చేయబడుతుంది చెప్పారు.

http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms

కాగితం బాట ఎలక్ట్రానిక్ ఓటింగ్ యంత్రాలు కలిగి 2019 సాధారణ ఎన్నికలు: నాసిం జైది, సిఇసి

బిజెపి ప్రతిపక్ష RSS ప్రీతికరమైన కాగితం ballotsas ఈవీఎంలు లో ఉన్నప్పుడు 3. ప్రజా పరిశీలన లోబడి

http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html

ఎలక్ట్రానిక్ ఓటింగ్ యంత్రాలు (ఈవీఎంలు) రాజకీయ పార్టీలు ప్రశ్నించాయి
వీటిలో reliablity గురించి వివాదం చేరడం ఆర్ఎస్ఎస్ t తిరిగి ప్రయత్నించారు
తిరిగి ఎన్నికల కమిషన్ (ఇసి) అడిగారు మరియు పేపర్ బ్యాలెట్లను పరీక్షలు …

ఇంకా
వారు ఆమె కుడి మార్గం నడకకు అని నిరూపిస్తుంది అతను వ్యతిరేకంగా ఆదాయానికి
మించిన అలా అని త్రవ్వించి సహా వేషాలు అన్ని రకాల చిక్కుకున్న.
బాబాసాహెబ్
డాక్టర్ బిఆర్ అంబేద్కర్ అని బ్రాహ్మణుడు ఇబ్బంది ఎస్సీ / ఎస్టీలకు
ప్రయత్నిస్తుంటే వారు కుడి మార్గంలో అని అర్థం చెప్పారు.
ఆర్ఎస్ఎస్,
బిజెపి సహా అన్ని దాని avathars cowherds మరియు వారు హింసాత్మక స్వభావం
అసహనం మరియు ద్వేషం యొక్క తీవ్రవాద పూర్తి ఇవి అన్ని వారి చెడు
కార్యకలాపాలకు affraid ఎందుకంటే కాకులు భయ.
వారు మానసిక శరణాలయాల లో మానసిక చికిత్స అవసరం ఈ దుష్ట పద్ధతులు తో వైకల్యంతో వికలోద్వేగరోగులు lunatics మరియు పిచ్చి మారాయి.

18) Classical Marathi
18) शास्त्रीय मराठी

1841 बुध 20 एप्रिल 2016
धडे

पासून

अंतर्ज्ञान-नेट ऑनलाईन A1 (जागृत एक) Tipiṭaka संशोधन आणि सराव विद्यापीठ
व्हिज्युअल स्वरूपात (FOA1TRPUVF)
http://sarvajan.ambedkar.org माध्यमातून
aonesolarpower@gmail.com

शास्त्रीय बौद्ध (जागृती सह जागृत एक शिकवण) जगाचे, आणि प्रत्येकजण विशेष हक्क आहेत: सी

एक आई या विद्यापीठातून धडा म्हणून तंतोतंत भाषांतर प्रस्तुत करत आहे
करण्यासाठी हे Google भाषांतर व तत्वज्ञान जीभ होण्यासाठी entitles
Enterer (Sottapanna) प्रवाह आणि अंतिम ध्येय म्हणून सनातन धन्यता गाठण्यासाठी.

जागृती सह जागृत एक शिकवण सुरु वेबसाइट यादी म्हणजे, बुद्ध Tripitaka मध्ये व्हिज्युअल स्वरूपात
http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907
http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1.
http: // बातम्या. xinhuanet. com / इंग्रजी / 2009-07 / 27 / content_11780918 .htm
www.chinaview. CN
www.buddhismandbusi ness.webs. कॉम
http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/
www.grameenfoundation.org

http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/
http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf

http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/

http://www.dailyo.in/politics/br-ambedkar-dalit-politics-caste-system-rss-narendra-modi-sangh-parivar-organiser-hindutva/story/1/10103.html

Valay सिंग राय

सलग
दिवशी राम Navmi (दिवस श्रीराम जन्म झाला) आणि आंबेडकर जयंती च्या भावात
घसरण स्थापना विचारवंतांनी एक palimpsest आम्हाला या दोन विरोध असलेला
आकडेवारी माध्यमातून “आंबेडकर योग्य रेस” पाहू करण्यास परवानगी देते.
एक राम, मात्र एक काल्पनिक वर्ण, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे (राष्ट्रीय Swamasevak संघ) यांनी स्थान राजकीय हिंदुत्व प.

1954 मध्ये डॉ आंबेडकर, Hindusim च्या Riddles म्हणतात निबंध त्याच्या मालिकेत राम, कृष्ण दोन्ही आपले विचार फक्त घालते. इतर राजकीय वाद याशिवाय, तो वस्तू Shambuka, एक “शूद्र” (आदिवासी
आदी-Mulanivasis खून राम जबाबदार (socalled अस्पृश्य अनुसूचित जाती /
अनुसूचित जमाती) नाही खूप लांब उपस्थित-दिवस नागपूर पासून, ब्राह्मण समाधान
च्या फायद्यासाठी.

बाबासाहेब
आंबेडकर जयंतीच्या वर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे किंवा भाजप नेते भाषण
नाही (ऑस्ट्रेलियातील आदिवासी आदी-Mulanivasis (socalled अस्पृश्य अनुसूचित
जाती / अनुसूचित जमाती) राजकारणाचा मुलभूत तत्त्वे यावर स्पर्श काळजी
घेतली. उच्चजातीय की दडपशाही हिंदू मान्यता द्वारे मान्यता आहे हा ‘ऐकला
नाही
टी तरी आंबेडकर आणि त्यांच्या काही राजकारण क्रेडिट घालणे प्रयत्न त्यांना थांबवू.

पण, अनेक निरनिराळ्या मध्ये बोलत जुनी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे मिळवण्याचे साधन किंवा उपाय आहे.

प्रो-आंबेडकर वळून विरोधी जात असताना, ते (randomly) विनियोजन कला येतो तेव्हा नागपूर धार्मिक लोक योग्य आहेत.

संयोजक च्या एप्रिल 17, 2016 समस्या समोर पृष्ठावर आंबेडकर आहेत.

2006 मध्ये, संयोजक, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे विन, त्याच्या संपादक मार्क कामत आरक्षण विरुद्ध एक टीका लेख प्रकाशित. ती
म्हणाली, “… अंतिम हे आरक्षण प्रणाली अधिक पाच वर्षे? निदान दहा? पंधरा?
पंचवीस? पन्नास? आणखीन साठ? हे थांबवू होईल? तेथे विषयावर स्पष्ट समज असणे
आवश्यक आहे किती वेळ आहे? त्या सहभागी माहीत आहे जेथे जेणेकरून
उभे. सरकारी आत्मसंतुष्टता अनुसूचित जाती / जमाती आत्मसंतुष्टता म्हणून स्पष्टपणे चूक केली म्हणून जास्त आहे. “

तो
म्हणाला: “आरक्षण आपल्या समाजात विष केले आहे आरक्षण जात, वर्ग आणि आपल्या
समाजात धार्मिक दुफळी स्वत: ची विध्वंसक आहे perpetuated आहे त्याऐवजी
आपल्या जातीचा किंवा धार्मिक संलग्न विसरून, लोक विविध सामाजिक गट
राहण्याचे..
लांब-आणि शक्ती-केक वाटा प्राप्त करण्यासाठी त्यांची ओळख राखण्यासाठी गरज insistently-वाटले. “

ही जुनी हिंदुत्व trope आहे: आरक्षण अकार्यक्षमता जातीच्या आणि गुणवत्ता चलनाचे अवमुल्यन. ते प्रति-उत्पादक आहेत आणि भारत ते “मेंदू-निचरा” कारणीभूत होते. या भारताच्या वरील जाती प्रसिद्ध तक्रार आहे.

सांगितले
जो कोणी या, तसेच शिकलेल्या गोष्टी विसरणे आणि शतकांपासून विकत घेतले
दृष्टिकोन आणि विशेषाधिकार देण्यास होता भारताच्या उच्चभ्रू वतीने बोलत
होते, “एक विशेषाधिकार करण्यासाठी वापरले जाते, तेव्हा, समता दडपशाही सारखे
वाटत”, Jambudvipa म्हणजे एकदा, Prabuddha भारत एक घटनात्मक झाले
लोकशाही.

68 वर्षांनंतर ते अजूनही Unlearning आहेत आणि वेगवान फक्त लोकशाही संस्था (मोदी) च्या खुनी पासून खाली गती मंदावली होती आहे.

1949, प्रथमच डॉ बाबासाहेब आंबेडकर यांच्या प्रतिमा जाळून तेव्हाच,
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे (Rakshash स्वयंसहाय्यता आचरण केले), दहा हजार
savarna प्रकारे शेवटी भीती आला आहे, तो यापुढे उपचार करण्यासाठी
Jambudvipa म्हणजे, कमी आजारा प्रमाणे Prabuddha bharaths दिसून करू शकता.

भीती
भाजप (Bahuth Jiyadha Psychopaths) अभाविपच्या (सर्व ब्राह्मण विषारी
मानसिक समतोलत्व बिघडलेली) विद्यार्थी विंग नंतर अनुसूचित जाती / जमाती दल
आणि पुरोगामी गट देश-व्यापी सैन्याची जमवाजमव करून catalysed आहे Rohith
Vemula आणि इतर अनुसूचित जाती / विरुद्ध हैदराबाद केंद्रीय विद्यापीठ
प्रशासन संगनमत
एसटी विद्यार्थी. विरोधी अनुसूचित जाती / जमाती टॅग जन्मखूण गेले आहे, तर, एक तीळ जसे,
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ आणि भाजप, Rohith मृत्यू आणि उपचार हे त्यांच्या
चेहऱ्यावर एक inerasable डाग मध्ये बदललेले आहे.

हे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे विरोधी अनुसूचित जाती / जमाती टॅग शेड ते करू शकतात सर्व करत आहे, हे ठसा नाहीसा आहे. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे देशात विविध ठिकाणी तसेच येथे मध्य
प्रदेशातील आपल्या जन्मस्थान महू आंबेडकर पुतळे येथे “मान रक्षक” आयोजन
केले होते.

नाही
पक्ष अनुसूचित जाती / अनुसूचित जमाती न्याय केले दावा करू शकत, तर
भाजपच्या नक्कीच योग्य अनुसूचित जाती / अनुसूचित जमाती प्रयत्न करावा की
गेल्या पक्ष आहे.
महू, स्वतः, अनुसूचित जाती / जमाती अजूनही वेगळे स्मशानभूमी त्यांच्या मृत दहन करण्यास वरील जातींचेच भाग आहेत. तो अनुसूचित जाती / अनुसूचित जमाती अत्याचार येतो तेव्हा मध्य प्रदेश चार्ट आघाडीवर आहे.

2013
साली जिल्हाधिकारी एका लेखी आदेश अनुसूचित जाती क्रमाने / शिष्यवृत्ती
प्राप्त करण्यासाठी जमाती, अशी मागणी, जारी केले, तो / ती एक फोटो “पुरावा”
म्हणून मेलेले जनावर सह निर्मिती करणे आवश्यक आहे.
अशा घटना राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ आणि त्याच्या avathars वतीने अंतर्गत
स्थान घेत राहा पर्यंत लोकशाही संस्था (मोदी presstitute मृत लाकडाची
मीडिया) प्रो-अनुसूचित जाती म्हणून स्वत: rebrand करण्यासाठी मोहीम खुनी /
अनुसूचित जमाती यशस्वी झाले नाहीत.

वरील जात वर्चस्व संघ अजेंडा स्पष्ट आहे की, आणखी एक उदाहरण राजस्थानपेक्षा पर्यटन मोहीम प्रतिबिंबित आहे. दशके रॉयल्स आणि व्यापारी हे राज्य वीज-knobs आयोजित केली आहे: रॉयल्स
परदेशी पर्यटक विकले जाऊ संस्कृती पॅकेज आहे, तर, व्यापारी, ते तितकेच 1991
मध्ये देशातील आर्थिक उदारीकरण पासून फायदा झाला आहे.

त्याच्या
अलिकडील जाहिरात मोहिम या देशात मनुष्य किंवा नाही शकतो कोण पर्यटन डोळे
माध्यमातून “Aryasthan” म्हणून स्वत: ब्रँड, पण नाव आर्य एक योगायोग असू
शकत नाही.
उप-खंड, संस्कृती आणले थोर शर्यत: हे Aryavrat, Aryas देशातून राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे दृश्य गाभ्याशी. कसे राजस्थान, Meenasthan किंवा Banjarasthan किंवा अगदी अनुसूचित जाती / STsthan कॉल बद्दल!

तो
किमान सध्या कॉलेज पर्यंत Meghwal, एक अनुसूचित जाती विद्यार्थी बलात्कार
आणि हत्या करण्यात आली होती जेथे प्राचार्य आणि वॉर्डन संरक्षण आहे उपस्थित
वसुंधरा राजे सरकारने कार्यकाळ घडू संभव आहे.
अगदी 2016 मध्ये, आणि अगदी लोकशाही संस्था (मोदी) एक खुनी अंतर्गत, अनुसूचित जाती अत्याचार / जमाती चालूच आणि खरं वाढ आहे.

लोकशाही संस्था खुनी (मोदी) च्या संधीसाधू ‘अनुसूचित जाती / जमाती प्रेम’

14
एप्रिल रोजी डॉ बाबासाहेब आंबेडकर, लोकशाही संस्था (मोदी) च्या खुनी
यांच्या 125 व्या जयंती पंतप्रधान आणि ठराविक Modispeak झाला एक गरीब माणूस
मुलगा परवानगी घटनात्मक चौकट तयार आभार मानले, तो शेतकरी स्तुती करतात आणि
accolades वर्षाव
आणि त्यांना थोडक्यात खूप मोठा अर्थ व्यक्त करणारा adjectives सैतान स्क्रिप्ट उल्लेख आणि केक खाणे आणि तरीही तो येत आवडत.

लोकशाही संस्था (मोदी) च्या खुनी आंबेडकर जयंती एक गोळा पत्ते.

तो
1% असहिष्णू chitpawan मालमत्ता नाही म्हणून की एक यातील एक व्यक्ती
पंतप्रधान असू शकते, तो, असे असले तरी त्याला अशक्य आहे, तरीही खरं उपरोधिक
आणि स्वत: ची स्पष्टीकरणात्मक आहे / तिच्या राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे
प्रमुख होण्यासाठी
ब्राह्मण, एकदा मोदींनी 1% chitpawan ब्राम्हणांचे गुलाम म्हणून एक प्रचारक होते. राष्ट्रीय
स्वयंसेवक संघाचे asingle अनुसूचित जाती मिळणार नाही / त्याच्या वरच्या
rungs अज एक अनुसूचित जाती / जमाती संघटना स्वतः शीर्षक एकटे सोडा.
तर लोकशाही संस्था (मोदी) च्या खुनी काहीतरी म्हणायचे आहे एक चमत्कार.

अनुसूचित
जाती / अनुसूचित जमाती यासाठी लोकशाही संस्था (मोदी) च्या प्रेम खुनी
आश्चर्य ते राज्यांमध्ये किंवा केंद्र असू कोणत्याही सरकारी निर्मिती
महत्त्वपूर्ण आहेत समजणार नाही.
काय वैचित्र्यपूर्ण आहे, बाबासाहेब आंबेडकर, संघाची ‘नवीन आढळले प्रेम आहे. मुखपत्र ‘ऑर्गनायझर च्या 17 एप्रिल समस्या समोर पृष्ठावर आंबेडकर व त्याने राजकारण स्तुति करीत पृष्ठे reams आहेत.

संपादकीय
हा नमुना, “अल्पकालीन राजकीय विचारांवर पलीकडे, जेणेकरून आम्ही शक्य
तितक्या लवकर बाबासाहेब अपेक्षित सामाजिक समता व बंधुता या पोहचू शकतो अधिक
अति जलद घडणारी क्रिया आणि यथार्थपणे आरक्षण आत्मा अंमलबजावणी करण्यासाठी,
गरज आहे”.
सर्वात
महत्वाचे म्हणजे गेल्या दहा मध्ये,, त्याच्या संपूर्ण इतिहासात, राष्ट्रीय
स्वयंसेवक संघाचे सन्मान ‘एक’ रक्षण बाबासाहेब आंबेडकर दिले आहे नाही;
तसेच गेल्या दहा किमान वर्षांत, संयोजक मुखपृष्ठ सदर आंबेडकरांनी होती नाही
वर्षे,
तेथे “हे waqat की राम राम” किंवा “waqat की आंबेडकर बाबासाहेब आंबेडकर”
रीतीने आणि पदवी आम्ही आज साक्ष आहेत, अशी अनुसूचित जाती / जमाती मुलगा
लग्न एक chitpawan ब्राह्मण मुलगी अर्पण वगळता अनुसूचित जाती / जमाती
सैन्याची जमवाजमव केले गेले नाही.
वीज लोभ आहे.

कदाचित आणखी काही पेक्षा अधिक या हिंदुत्वाच्या वर्गीकरण करून आंबेडकर योग्य वेडा गर्दी स्पष्ट करते. पण, त्यांना वज्रलेप विरोधी जात कलंक फक्त बौद्ध Rohith कुटुंबातील परिवर्तन जास्त गडद आणि सखोल केले होते.

बाबासाहेब आंबेडकर famously म्हणाले, जसे, “मी हिंदू जन्म झाला पण मी
हिंदू मरणार नाहीत” आणि 1956 मध्ये Buddhsim मिठी मारली, 60 वर्षांनंतर
Rohith कुटुंबात बौद्ध रूपांतरित (एक “हिंदुत्वाचा शाखा” म्हणून राष्ट्रीय
स्वयंसेवक संघाचे द्वारे बाद).

“आज पासून माझी आई आणि मी दररोज पाणउतारा मुक्त, मुक्त त्याच देवाची
आमच्या लोकांना शतके छळ गेले आहेत ज्याचे नाव प्रार्थना दोषी कलंक मुक्त
होईल”, त्याचा भाऊ राजा रूपांतरण नंतर म्हणाला.

1%
मुख्य याजक असहिष्णुतेची दहशतवादी, हिंसक, मानसिक मतिमंद, शूटिंग lynching
मनुष्यभक्षक गुराखी घाबरणे कावळा मानसिक समतोलत्व बिघडलेली chitpawan
ब्राह्मण राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे (राक्षस स्वयंसहाय्यता आचरण केले) आणि
त्याच्या सर्व avathars भाजप (Bahuth Jiyadha Psychopaths) विश्व हिंदू
परिषदेचे (विषारी Hintutva Psychopaths),
अभाविपच्या (सर्व ब्राह्मण विषारी Psychopaths) भजन दल, लोकशाही संस्था
(मोदी) फसवणूक इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान फेरफार हे शब्द लक्ष
दिले पाहिजे निवड करण्यात आली कोण खुनी.

माजी CJI EVM SADHASIVAM, त्याचे कर्तव्य shirked आणि त्यांना पुनर्स्थित
करण्यासाठी कारण 1600 कोटी खर्च मुख्य निवडणूक आयुक्त EVM संपत केलेल्या
विनंतीवरून रद्दबातल रीतीने फसवणूक Tamperable इलेक्ट्रॉनिक मतदान
यंत्रांद्वारे मतदान मध्ये परवानगी देऊन न्यायाच्या एक गंभीर चूक केली आणि
देशातील लोकशाही एक जीवघेणा धक्का बसला.

साठी मतपत्रिका प्रणाली मध्ये आणले जाईल माजी CJI क्रम नाही. कोणीही खबरदारीचा उपाय सर्वोच्च न्यायालयाने आदेश दिला होता. माजी CJI वेळेपर्यंत बद्दल 1300000 मतदान मशीन या नवीन संच पूर्ण मध्ये उत्पादित आणि पूर्णपणे तैनात आहे की क्रम नाही. जगातील 80 लोकशाही सर्व लोक फक्त लबाड इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान दूर केले आहे. म्हणून लोकशाही विश्वास सर्व लोक स्वातंत्र्य, समता व बंधुता या लोकशाही
संस्था (मोदी) आणि एक आश्चर्यकारक राज्यघटना या देशात त्यांच्या शासन खुनी
ओळखत नाही पाहिजे.

स्पष्ट पुरावा म्हणून:
तो
फसवणूक करण्यासाठी असुरक्षित मतदान यंत्रांद्वारे मतदान घेण्यात लोकसभा
निवडणुकीत एकाच जागा जिंकता करू शकत नाही, तर बहुजन समाज पक्षाच्या उत्तर
प्रदेश आणि प्रमुख मायावती माजी मुख्यमंत्री (बसपा), कागद मतदान माध्यमातून
घेण्यात पंचायत निवडणूक जिंकली.
उत्तर
प्रदेश मुख्यमंत्री म्हणून, तिच्या शासन समाजातील सर्व विभागांतील
प्रमाणात संपत्ती वाटप करून उत्तम होते आणि या देशाचे पंतप्रधान होण्यासाठी
पात्र झाले.
हे पारंपरिक manuvadis करून सहन झाले नाही. त्यामुळे फसवणूक इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान तिला पराभूत करण्यासाठी बदल करण्यात आले होते.

http://www.ndtv.com/india-news/they-have-failed-on-all-fronts-mayawati-attacks-pm-modi-samajwadi-party-1395414

ते सर्व आघाड्यांवर ‘अपयशी’ आहेत: मायावती आक्रमण मोदी, समाजवादी पक्ष,

ते सर्व आघाड्यांवर ‘अपयशी’ आहेत: मायावती पंतप्रधान मोदी, समाजवादी पक्ष, आक्रमण

http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903

भाजप प्रचार ‘धार्मिक फंडामेंटलिझम’, मायावती म्हणतात.

बसपाच्या प्रमुख मायावती भाजपच्या अहो दिवस व्यापारी, शेतकरी यांना गरीब आणि लहान मध्ये ushering आशा वस्तू आहे.

बहुजन समाज पक्ष (बसपा) प्रमुख मायावती एक हिंदुत्व राष्ट्र ‘देशातील
रूपांतर त्याच्या बोली मध्ये “धार्मिक पत्ता” आणि द्वेष प्रसार भारतीय जनता
पक्षाचे (बसपा) आरोप केला.

 भाजप ‘अहो दिवस शेतकरी, गरीब आणि लहान व्यापारी आणि भांडवलदार व उद्योजक
फक्त एक “मूठभर” साठी फायदा झाला आहे ushering आशा वस्तू आहे.

“मोठ्या प्रमाणात सार्वजनिक राग झाली आहे महागाई, कर लागू सारखे मुद्दे
लोकांच्या लक्ष वळवण्याचा हा बोली मध्ये, भाजप आणि त्याच्या संस्था समस्या
डिवचण्याचा प्रयत्न आहेत
धार्मिक fundamentalism, म्युच्युअल द्वेष आणि ढोंगी राष्ट्रवाद जसे, “ती म्हणाली.

ती देखील भाजप “हिंदुत्व राष्ट्र” हा देश रूपांतर त्याच्या पालक संघटनेने
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे “अरुंद आणि casteist तत्वज्ञान” खालील आहे.

या प्रक्रियेत, राष्ट्रीय आणि सार्वजनिक व्याज शांत्यर्पणाचा यज्ञ केला
आहे आणि जसे गरिबी, बेरोजगारी, शांतता आणि महागाई वस्तू “पूर्णपणे दुर्लक्ष
केले” आहे, तिच्या उल्लेख निवेदनात म्हटले आहे.

भ्रष्टाचाराचा मुद्दा संदर्भ, ती भाजप आणि कॉंग्रेस एकाच नाण्याच्या दोन बाजू आहेत.

“भ्रष्ट संरक्षण करण्यासाठी मार्ग भाजप सरकारने प्रयत्न करीत आहे, तो
येत्या काही वर्षांत काँग्रेस भ्रष्टाचार विजय होईल की शक्य आहे,” ती
म्हणाली.

ती राज्यांमध्ये भाजप आणि कॉंग्रेस सरकार अनुसूचित जाती / अनुसूचित जमाती
अत्याचार आणि समाजातील दुर्बल घटकातील राहण्याचे त्या सहभागी आहेत आरोप
केला आहे.

“ते अनुसूचित जाती / जमाती येथे त्यांचे जीवन संपूर्ण विरोध केला तरी, ते
त्यांच्या राजकीय हितसंबंध पुढे आता त्यांची नावे वापर,” उत्तर प्रदेशचे
माजी मुख्यमंत्री म्हणाले

2.
आता मुख्य निवडणूक आयुक्त सर्व इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान 2019 च्या सार्वत्रिक निवडणुकीत बदलले जाईल, असे म्हणतात.

http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms

कागद-माग इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रे आहेत 2019 च्या सार्वत्रिक निवडणुकीत: नसीम झैदी यांनी मुख्य निवडणूक आयुक्त

3. भाजप विरोधी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे ज्याला जास्त अनुकूलता
दाखविली कागद ballotsas इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान होता
तेव्हा सार्वजनिक छाननी केले जात

http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html

इलेक्ट्रॉनिक मतदान मशीन्स (ईव्हीएम) राजकीय पक्ष चौकशी आहेत जे
reliablity संबंधित वाद सामील राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे टी प्रयत्न केला
परत परत करण्यात निवडणूक आयोगाने (EC) विचारले आणि कागद मतदान चाचणी …

पण
ती योग्य मार्ग मळणी आहे की दर्शवणारी जे त्याने बेहिशेबी असे म्हणतात
खोदकाम समावेश नाटके सादर करण्याची कला सर्व प्रकारच्या गुंतलेली आहेत.
बाबासाहेब
बाबासाहेब आंबेडकरांचे एक ब्राह्मण समस्या अनुसूचित जाती / अनुसूचित जमाती
करण्याचा प्रयत्न करत असताना ते योग्य मार्गावर आहोत याचा अर्थ असा की,
असे ते म्हणाले.
संघ
आणि भाजप सर्व त्याच्या avathars cowherds आहेत आणि ते हिंसक निसर्गाने
असहिष्णुता आणि द्वेष दहशतवादी पूर्ण आहेत ही सर्व वाईट उपक्रम affraid
असल्याने कावळे घाबरणे.
ते मतिमंद psychopaths lunatics लागले ही वाईट पद्धती मानसिक asylums मानसिक उपचार आवश्यक आहे की झाले आहेत.

Leave a Reply