Analytic Insight Net - FREE Online Tipiṭaka Research and Practice University and related NEWS through 
http://sarvajan.ambedkar.org 
in
 105 CLASSICAL LANGUAGES
Paṭisambhidā Jāla-Abaddha Paripanti Tipiṭaka Anvesanā ca Paricaya Nikhilavijjālaya ca ñātibhūta Pavatti Nissāya 
http://sarvajan.ambedkar.org anto 105 Seṭṭhaganthāyatta Bhāsā
Categories:

Archives:
Meta:
May 2014
M T W T F S S
« Apr   Jun »
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293031  
05/10/14
1192 LESSON 11514 SUNDAYFREE ONLINE E-Nālanda Research and Practice UNIVERSITY KINDLY TRANSLATE THIS “APPEAL” IN YOUR CLASSICAL MOTHER TONGUE AND ALL THE OTHER LANGUAGES YOU KNOW AND PUBLISH. Please send a copy to awakenmedia.prabandhak@gmail.com chandrasekhara.tipitaka@gmail.com Visit: http://sarvajan.ambedkar.org -Even Astrologers Don’t See Bahuth Jiyadha Paapi As Prime Minister in future-11th May 2014 Sunday 3 pm Venue: KR Hospital, Mysore PATIENTS SERVICE DAY Led by Venerable Dhammaloka Bhanteji Director, Mahabodhi Center Mysore 6pm Venue: Mahabodhi Centre, Mahabodhi Marga, Saraswatipuram, Mysore Seminar on Relevance of Buddha’s Teachings Today Speakers : Prof. H.S.Umesh, Principal Rtd., Sharda Vilas B.Ed College, Mysore. Prof. C.K.Maheshwarappa Regional Joint Director, Dpt of College Education, Mysore Blessings by Venerable Ananda Bhanteji General Secretary, MBS
Filed under: General
Posted by: @ 7:12 pm







india flag



1192 LESSON 11514 SUNDAYFREE ONLINE E-Nālanda Research and Practice UNIVERSITY


KINDLY TRANSLATE THIS “APPEAL” IN YOUR

CLASSICAL MOTHER TONGUE AND ALL THE OTHER LANGUAGES YOU KNOW AND


PUBLISH. Please send a copy to

awakenmedia.prabandhak@gmail.com
chandrasekhara.tipitaka@gmail.com
Visit:
http://sarvajan.ambedkar.org

http://www.tehelka.com/assam-violence-the-killings-never-stop-bodoland/

Tehelka.com

http://indianexpress.com/article/india/politics/via-kashi/

Indian Express

http://www.dnaindia.com/india/video-mamta-banerjee-and-mayawati-would-not-support-narendra-modi-led-government-1986817

DNA logo

http://www.business-standard.com/article/elections-2014/rahul-hits-back-at-modi-holds-roadshow-in-varanasi-114051000602_1.html

Logo

http://zeenews.india.com/news/general-elections-2014/lok-sabha-polls-2014-campaigning-ends-for-final-phase-41-seats-to-vote-on-may-12_931192.html

Zeenews Home
GENERAL ELECTIONS 2014
http://www.ndtv.com/elections/article/election-2014/mr-modi-give-women-respect-rahul-gandhi-in-varanasi-after-payback-roadshow-521704?pfrom=home-election2014
Lok Sabha Elections 2014
http://www.idahoednews.org/the-edge-blog/idaho-elections-the-money-race/
IJNet -

http://ijnet.org/blog/journalists-can-use-hosting-service-izitru-help-verify-images#comment-34873

11th May 2014                 Sunday                           3 pm
Venue: KR Hospital, Mysore

PATIENTS SERVICE DAY

Led by
Venerable Dhammaloka Bhanteji
Director, Mahabodhi Center Mysore

6pm
Venue: Mahabodhi Centre, Mahabodhi Marga, Saraswatipuram, Mysore

Seminar on
Relevance of Buddha’s Teachings Today 

Speakers :
Prof. H.S.Umesh, 
Principal Rtd., Sharda Vilas B.Ed College, Mysore.

Prof. C.K.Maheshwarappa
Regional Joint Director, Dpt of College Education, Mysore

Blessings by
Venerable Ananda Bhanteji
General Secretary, MBS

Even
Astrologers Don’t See Bahuth Jiyadha Paapi As Prime Minister in future
May10, 2014
 
My friends asked me about
chances of Narendra Modi getting majority and becoming Prime Minister of India
and my confident response is ‘No Chance’, cant win making a fool of voters,
using derogatory language and funded by corporate.
 
All lies and media publicity
worth Rs.20,000 crores needs just few lines of truth to change public
opinion like darkness in a room is gone by lighting a single candle.


Questions We Should Be
Asking Are –
 
1.  Can a party which lost 170 deposits in 2009
Elections, win  this time?
 
It did nothing positive to
change its pro Trader Moneylender, Exploiter Agenda as Core Ideology and
instead
 
Ø     
People of this country has come to know that  Madi’s Rs.20,000 crore publicity over a
year was funded by Adani & Ambani – top Robbers in the World
though Opposition didn’t emphasize the fact that Public Has No Equity In Their
Companies and through them no share in natural resources sold to them cheaply,
Workers Just 1% of Revenue and are not generating wealth for India but
simply enriching themselves.
  
 
Ø     
Professionally managed
campaign would have reduced Bahuth Jiyadha Paapi  to under 40 seats this 2014 election irrespective
of all the publicity.
 
2.  Can a Party win Elections by Switching
Strategy from Development to Staelth Militant Hindutva Cult to Caste to Class etc and deceiving
people each time?
 
Ø     
When every
action of Madi is televised extensively Strategy of Shifting
Priorities and Strategy
in every speech indicates Non Serious &
Fraudulent Character which is negative.
 
Ø    Madi
meeting and appealing to every segment of society seeking votes don’t please
any, his OBC Claim also fails to impress any Caste as so far he has not mentioned which caste he belongs to.
 
Ø     Madi
was FULLY exposed, in spite of daily doze of and obvious support and
funding by Adani & Ambani, Urged them to be less Greedy, doesn’t
impress Farmers – who knows
Bahuth Jiyadha Paapi is supporter of Traders & Factories Owners.
 
3. Can this country Progress Without Just &
Fair distribution of National Wealth?
 
Ø     
Justifying Rs.1
per sq,mt land allotment to Adani and Rs.10,000 crores to Tata Nano

repeatedly and on top of that ‘Claiming It Was Done Under Official Policy’ actually
Confirms Opposition Charge Crony Capitalism.
 
4.  Can Corruption & Local Issues over ride
Conduct of Adani & Ambani?
 
Ø     
People in UP,
Bihar and other poor states Understand Exploitation of Labor in Gujarat, and Lowest Wages in
Bahuth Jiyadha Paapi states. Glamorous
Campaign in Adani Jet & Helicopters would actually ERODE voter confidence in
Bahuth Jiyadha Paapi Strongholds.
 

MAJORITY

of the VOTERS  have voted and will Vote for the change to create a
BHARATH of AWAKENED ONE WITH AWARENESS for SARVAJAN HITAYE SARVAJAN
SUKHAYE i.e., for the WELFARE, HAPPINESS and HARMONY of ALL
SOCIETIES.Just as the people of US decided with their broad mindedness
to elect Obama as President for the second time, Broad minded people of
this country too will elect Ms Mayawati as the next prime Minister.

But
the EC with its fraud EVMs, for the benefit of SAVARNAJAN HITAYE
SAVARNAJAN SUKHAYE will tamper it to create a MADIYA with hatred, angry,
intolerant, jealousy, delusion madis.

In Varanasi, Mayawati says Congress, BJP have anti-SC/ST mindsets

Flaying Congress and BJP for their “anti-SC/ST mindsets”, BSP supremo
Mayawati today appealed to the people to vote for her Bahujan Samaj
party in the ongoing Lok Sabha elections, so that even the daughter of a Scheduled Caste can become the Prime Minister.


Addressing a rally at Gaurakala village on the outskirts of Varanasi,
Mayawati questioned Congress chief Sonia Gandhi and BJP’s  nominee Narendra Modi’s “silence” on anti-SC/ST remarks of
yoga guru Baba Ramadev.


Referring to Ramdev’s remarks that Congress leader Rahul Gandhi “goes
to SC/STs’ house for honeymoon and picnic”, the BSP supremo said it was
an “insult” to the SC/ST community and the silence shows that “Congress
and BJP have anti-SC/ST mindsets”.


While Congress and BJP remained silent, “our party in Uttar Pradesh
had taken care of the people belonging to all communities and had given
equal respect on the basis of mankind in its previous four regime”, she
said.


“In this condition you all have to make efforts to bring BSP to power
at the Centre, so that even the daughter of SC can become the Prime
Minister of this country,” she said.


Mayawati said
she had written many times to the Centre for carving out a separate
state out of Uttar Pradesh, but Congress did not let the formation of
separate Purvanchal.


She said the people here must stop BJP and Congress from coming to power as “both the parties are same”.


She said the sizable number of Muslim voters would play a major role
in Varanasi, and urged them not to let their votes get divided between
Congress, SP and other parties.


Mayawati appealed to the Muslims to vote for BSP, claiming that her
party has the support of nearly two lakh fifty thousand SC/ST
electorates of Varanasi, along with other backward and upper caste
voters, which makes her party nominee the strongest contender.


Uttar Pradesh: ‘Development’ is the biggest poll issue for voters


BSP supremo Mayawati, who is hoping to come back to power in Uttar
Pradesh, has said that price rise and corruption are major issues that
affect not only middle classes but just about everyone.

During a rally in Agra last month, she said, “Uttar Pradesh was in a
mess with rising crimes against women, loot, arson, murders and communal
strifes, as in Muzaffarnagar and Shamli. Even the apex court has held
the Samajwadi Party responsible for the tension in western Uttar
Pradesh. The alarming law and order situation has halted developmental
activities in the state.”

Last year, UP Chief Minister Akhilesh Yadav had said that he hopes that
the state would get the support of World Bank so that development and
infrastructure projects can move forward.

BSP won’t support Modi in government formation: Mayawati

Lucknow, May 9:  BSP chief Mayawati declared Friday
that under no circumstances will her party support a possible BJP
government after the Lok Sabha election.Addressing a hurriedly convened
press conference here, she referred to BJP’s candidate
Narendra Modi‘s
remarks that everybody including Mayawati were potential allies.”Modi
has in his latest televised interview said that in case he does not get a
majority on his own, he is open to seeking the support of 
Mayawati the former Uttar Pradesh chief minister
said.She said that while she cannot speak on behalf of other parties,
she was clear that she would not support Modi or the BJP in government
formation.


Trashing the claims by the BJP of a “Modi wave”, she accused the BJP of attempting to finish off the SC/ST movement.


Later, addressing an election meeting in Varanasi, she returned to
the theme, asking Muslims not to believe in “rumours” of a possible tie
up of the BSP and the BJP.

BJP States
Slipped in Ranks BOGUS Montek Singh Reports


May09, 2014

 

This is the Ultimate Tragedy
of UPA that Montek Singh churned out BOGUS Reports giving 280 Plus bogus (PAID)
awards when actually
Gujarat performed worst in Converting Capital into NVA,
Jobs, Wages, Share to Investors etc.

 

Instead of hiring Deloitte
Touche Tohmatsu India
Pvt. Ltd Planning Commission Should have refined STATS –

 

Like giving more refined
data – NVA per Employee, NVA as Percent of Capital Investment, Wages as Per
Cent of Capital Investment of Each State etc.

 

Further more PC ought to
have also data regarding Price and Availability of Water and Power, Education
& Skill Standards.

 

BJP states are POOR in
EDUCATION & SKILLS.

 

When Gujarat lost one Rank
in
Net Value Addition and its share in Factory value additions fell from
12% in 2001-02 to 10% in 2011-12, how can we consider Gujarat
as No.1 in Investment Destination when over 51000 Dud MoU were signed at VG
events?

 

Even more shocking – All
BJP ruled states for two terms lost ranks

Factory Sector Ranks


Rank States 2012
Rank 2001
NVA 2001-02
NVA 2011-12
3. Gujarat
2
12%
10%
13. MP
9
4%
2.4%
15. Jharkhand
13
2.2%
2.28%
16. Chhatisgarh
14
1.6%
1.5%

 

Performance of MSME of
BJP states is far worse also is given here as per latest AR of MSME 2012-13.

 

http://msme.gov.in/WriteReadData/DocumentFile/ANNUALREPORT-MSME-2012-13P.pdf

Gujarat
1st in Fixed Assets, 7th in Enterprises, 7th in Jobs, 9th in Production Value. P-32


Sl.
No.
State/UT
Enterprises
(lakh)
Employment
(lakh
Market Value of Fixed Assets (Rs. Crore)
Gross Output
(Rs. Crore)
3
Punjab
10.14
18.31
37126
81625
24
Gujarat
15.32
34.42
166753
55306
 
INDIA
214.38
501.93
689954
1077212

Maharashtra, UP, TN, Punjab, West
Bengal, Kerala, AP, Karnataka are ahead of Gujarat
in MSME production value.


Only the EC knows as to who has to win with its EVMs that could be tampered.

ON 16-05-2014 THE WORLD WILL SEE THE WAVE OF AWAKEN ONE WITH AWARENESS

BAHUJAN SAMAJ PARTY - A SILENT INTEGRATOR

Bahujan Samaj Party
“APPEAL”
To Vote for
“Sarvajan Hitaye & Sarvajan Sukhaye”
In General Elections -2014
Being Held In the Country
For the 16th Lok Sabha

Kumari Mayawati
National President
Bahujan Samaj Party



O, the poor, SC/STs, backwards, exploited, oppressed and the
people of other neglected classes, rise and become rulers on the
strength of your votes and yourselves achieve your cherished goal
of “Social Transformation and Economic Emancipation”.
National President of BSP movement and Icon of social
 transformation in the country Behen Ms. Mayawati Ji, who has been
consistently advancing the caravan of the epoch-making person,
who gave an epoch-making call of this kind, the architect of the 
Constitution, hart Ratna and most revered Baba Saheb Dr.
Bhimrao Ambedkar, offering glowing tributes to Baba saheb.

Jai Bhim !                                                                           Jai Bharat !!

Bahujan Samaj Party “APPEAL”
To Vote for
“Sarvajan Hitaye & Sarvajan Sukhaye”
In General Elections -2014
Being Held In the Country
For the 16th Lok Sabha


Dear Friends,
             As is now known to everyone, Bahujan
Samaj Party” (BSP) is the only party in our
country which “does not believe merely
promises, allurement or announcement etc.,
but in demonstrating abundant volume of work
in public interest and for public welfare.” In other
words, BSP believes in mantra of “deeds and
not merely words.”Therefore, our party,
unlike other political parties, does not issue any
“Election Manifesto” of its in any election, rather
issues only an “APPEAL” to vote for the BSP
for completing the incomplete work of the
humanistic movement of the great Sants, Gurus
and Mahapurush (great men) born from time
to time in the “Bahujan Samaj” here in our
country, especially Mahatma Jyotiba Phule,
Chhatrapati Shahuji Maharaj, Shri Narayana
Guru, Baba Saheb Dr. Bhimrao Ambedkar and
Manyawar Shri Kanshi Ram Ji etc., by following
the paths shown by them so that our party by
showing a good result in elections can occupy
the seat of power and then through the “Master
Key” of political power can make the life of the
poor people from the Sarva Samaj (all sections
of society), as also others unhappy and
oppressed by a castiest  order “just happy,
prosperous and dignifies”, because about the
importance of the “Master Key of political
power” Baba Saheb Dr. Bhimrao Abedkar
used to often say that “political power is that
one Master Key through which all the problems
can be solved, in other words, through this
Master Key all the closed doors to your progress
and prosperity can be opened.”

    By following this very thinking of
Parampujya Bab Saheb Dr.Bhimrao Ambedkar,
our party is contesting these general elections
to 16th Lok Sabha on all the seats in most of
the states of the country with full preparation
on its own, in other words, our party has not in
this Lok Sabha elections entered into
any electoral alliance or understanding of
any kind with any party.

    But now the main question that arises
here is why is it necessary for the general public
of the country not to vote for the “Congress”
and the “BJP” and their allies, but to vote only
for the “BSP” and strengthen this party of theirs
all over the country? This main and essential
thing will have to be understood carefully.

    In this regard, it is our conviction that
the BSP is the only political party in the country
the “ideology, principles and policies” besides
“work style” of which are in the greater interest
of and for the full welfare of Sarva Samaj,
in other words, the people of all the religions
and all castes; and, at the same time, it does
well within time  whatever it says in the interest
of and for the welfare of the Sarva Samaj (all
sections of society), whereas other political
parties give a lot of assurances and do very
little work to translate them into realities, in
other words, most of their work is confined to
planning on paper and is seldom seen or is at
the best seen incomplete at the ground level, a
proper benefit of which is not able to reach the
common people in a right manner.

    This is the main reason why as a result
of wrong policies of the government of the
parties having a cattiest mindset no significant
change has come about even now, 66 years
after independence in “social, educational and
economic” condition of the ” Bahujan Samaj”,
which comprises the Scheduled Castes (SCs),
Scheduled Tribes (STs), other backward classes
(OBCs) and the people of different communities
and religions like the Sikhs, Muslims, Christians,
Parsis and Buddhists etc., belonging to the
religious minority society, whose population is
altogether about 85 percent of the country.

    And, I have spoken about wrong policies
of the governments of these opposition parties
here because in our country, in the centre and
most of the states, governments of whichever
parties have been formed till date have been
mostly formed with financial assistance of big
capitalists and super-rich (dhannaseth) , because
of which these parties after coming to power,
frame each and every “economic policy” of their
respective government in accordance with the
interests of those very super-rich, in other words;
they do not frame their economic policies with a
view to removing sufferings and hardships of
the poor and the general public here.

    Thus all these opposition parties,
despite maintaining their separate identities ,
foster and promote only a particular kind of
belief that is bases on “pro-capitalist” and they
have common masters, who are big capitalists
and super-rich persons and industrialist, in
other words, all these opposition parties and
big capitalists  have been always complimenting
each other and they both  take pride in helping
and serving interests of each other, which is not
at all pro-poor and pro-people. Their interest in
removing sorrows and sufferings of the poor
people and the general public is mostly a
“sham and hypocrisy”.

     Not only this, rather because of these
very reasons “prices and unemployment”
skyrocketing and have been continuously
increasing here as a result of which the vast
population of the poor and the middle income
class in the country for the teason of being the
hardest hit are highly unhappy and stressed.
This is the main reason why the economic
condition of the people of the “Bahujan Samaj”
here along with that of particularly the poor
people from the “avarna (Upper/High carte)
Samaj” continues to be very bad even now.

    Keeping all these matters in view, we
then by following the paths shown by Parampujya
Baba Saheb Dr. Bhimrao Ambedkar had to form
a separate political party of ours by the name
of the “Bahujan Samaj party” (BSP) under the
leadership of “Manyawar Shri Kanshi Ram Ji”
on April 14, 1984, and now this party with
limitless love, sacrifices and cooperation of the
Sarva Samaj has become a prominent and
important party at the “national level”.

    And as it is known to all, the Bhaujan
Samaj Party (BSP) does not at all follow in the
footsteps of the anti-poor and pro-capitalists
parties like the congress and the BJP, and
rather than take money from capitalists and
super-rich like other parties and work at their
bidding, it is running its “humanistic
movement” all over the country by taking
donation and membership subscription from
its cadre, followers and supporters.

    By following the same principle, our
party has also got an auspicious opportunity of
forming its own government several times in
the most populous state of the country, Uttar
Pradesh, and it has been the first and the only
government in the country every policy of which
has been framed by keeping in view the moto
of “Sarvajan Hitaye and sarvajan Sukhaye”
(Progress and Prosperity For All), which clearly
and perfectly reflects “Pro-sarvajan and pro-
Sarva Samaj ideology and policies” of the BSP.

    Not only this, rather this party of ours
by gradually expanding its mass-base in the
entire countrys now ensured victory of many
of its nominees and sent them as MPs to
Parliament and as Legislators in several state
assemblies. besides, government has been
formed under the leadership of our party in Uttar
Pradesh four times, ( first three times in the years
of 1995, 1997, and 2002 for short periods but
in the year of 2007 with an absolute majority
for five years), and , all the four times the
government of our party has in the matter of
ensuring “development and justice” in the state
taken full care of interests and welfare of the
Sarva samaj, but we have also given first
priority to those people of the “Bahujan samaj”,
who under the past governments have been
neglect here on a big scale particularly in the
“social, educational and economic” field.

    And it is by taking serious note of this
that the government of our (BSP) part in Uttar
Pradesh in order to bring about judicious
improvement in “social, educational and
economic” condition of the people of the
Bahujan Samaj constituted for the first time in
the country separate “Welfare Department” for
each of their segments and by selecting
particularly SC/ST majority villages in the state
on a priority basis under the Dr. ambedkar Gram
Vikas Yojana ( Village Development Scheme) has
done the work of covering them with necessary
basic amenities of every kind and other works
of development also in a phased manner and
then with a view to making this scheme still
more beneficial has made available a lot of funds
under this ssheme and changes its name to
“Baba Saheb Dr.Ambedkat Uttar Pradesh Gram
Sabha Samagra Vikas Yojana” for all round
development of gramsabhas.

    Similarly in the name of Manyawar Shri
Kanshi Ram Ji, who advanced the stalled
humanistic self-respect caravan of Baba sahib
Dr. Bhimrao Ambedkar by imparting momentum
to it, “Shahari Samagra Vika Yojana” (Urban all
round development scheme) was devised and
through this scheme, cities, towns and villages,
big and small, of Uttar Pradesh were developed
in a phased manner. But momentum could be
imparted to all these works only by keeping in
view limited economic resources of the state, and
had our government got adequate cooperation
from the Central Government for all these welfare
works, still more and speedier benefit could have
been made available to the deprived people.

    Besides by giving priority to particularly
“SC/STs, exploited, other backward classes (OBCs)
and religious minorities” from the Sarva samaj
in Uttar pradesh,”two-room pucca houses”
were given to the poor homeless from among
them and by “allotting vacant government
land” to helpless people for “farming”;
possession has also been ensured to them by
the BSP government, which has directly
benefitted lakhs of poor people in Uttar pradesh.

    For promoting “Education”also, our
BSP government has for the first time in the country
granted “scholarships” to children belonging to
the Scheduled Castes/Scheduled Tribes and like
them to the poor children of the other backward
classes (OBCs) and of Muslim samaj in particular
from the religious minorities and in accordance
with increase in prices has “doubled” the rates
of the scholarships and also made arrangements
for distributing these to students immediately
after their admission. And  at the same time, to
help qualifying “poor students from these
classes for high ranking jobs”, our government
has also made arrangements for giving them
“free government coaching”.

    Besides, for poor children from the
“Savarna (Upper Caste) Samaj, along with
these classes in Uttar Pradesh, dawn of a new
age in the field of higher and technical education
has been ushered in under which an historic work
has been done for the first time to send such
children to other countries for higher education
at government expenditure to the newly
established world class “Gautam Buddha
University” in newly created Gautam Buddha
Nagar District (Greater Noida near New Delhi).

    At the same time, giving priority to the
development of people of Scheduled
castes and Scheduled Tribes, a provision was
mad for the first time for separate “25 per
cent fund” from the budget of the Uttar
Pradesh government for them. Similarly, for
creating a sense of security among the people
of the “Bahujan samaj” in every district of Uttar
Pradesh, a provision of “reservation” was made
for the first time in the country for making
officers of the “police department” from their
society as Station House Officers (SHO).

    Similarly, full care has been taken of
particularly the people of the “Muslim Society”
the largest segment of the religious minority
society, in Uttar Pradesh in every field. their
educational and economic development and also
full security of their life and property and religion
were ensured. in addition, by including
economically backward people from the Muslim
society in the list of the backward class, our party’s
government for the first time made available
to them “facility of reservation in government
jobs and other fields” in Uttar Pradesh.

    A new initiative in the matter of
 ”reservation” : In the matter of “reservation”
also, we during all our terms in office i Uttar
Pradesh have got cleared the backlog of
“reservation” quota of people of the
Scheduled castes(SCs)/Scheduled Tribes (STs)
and the other backward classes (OBCs) pending
for years in government services and other areas
by conducting a spacial recruitment drive as a
result of which the people of these classes got
“permanent employment on a big scale”
and a new kind of confidence was generated
among the people of these classes.

    Besides, for making available the facility
of “reservation” in the areas like ” hon’ble
Judiciaary, council of ministers, Rajya Sabha,
Legislative Councils and private sectors” etc., in
the country where it is not yet been made
available to the people of the Scheduled castes/
Scheduled Tribes and the other backward
classes by the Central Government, our party’s
struggle with the Central Government is
relentlessly continuing. At the same time,
relentless effort is being made by our party for
securing the benefit of reservation in an
additional way, keeping intact the provision of
reservation as fixed at present, to those people
of the Scheduled Castes/Scheduled Tribes in the
country who through religious conversion have
become Christians or Muslims, by taking up with
the Central Government their inclusion also into
the list of Scheduled castes/Scheduled Tribes.

    Moreover, the governments of the
Congress Party, BJP and other opposition parties
under a well thought out conspiracy are engaged
in an attempt to gradually finish the facility of
reservation, which the people of the Scheduled
Castes (SCs)/ Scheduled Tribes (STs) and the
other backward classes (OBCs) are getting in
government services in “government
departments” and “institutions” at central and
state levels in the country becausee of tireless
efforts of most revered Bba Saheb Dr. Bhimrao
Ambedkar, by handing these over to the “private
sector” on a big scale, when the facility of
reservation is not yet available to these
classes in jobs at the central and state levels in
the private sector. And in such a situation, a day
will come when the entire constitutional facility
of reservation for these classes will automatically
come to an end. Our party is very “serious and
worried” over this matter and in this regard the
people of these classes all over the country also
need to be very “alert and vigilant”.

    In this context, it is the believe of our party
that this constitutional facility of reservation of
the people of SCs/STs and OBCs can remain
secure and this facility can be secured for them
in the areas where it is not yet available only
when these people form a government of their
own party, BSP, in the country, in the Centre
also along with that in the states and an
“incontrovertible proof” of this is the formation
of our party’s government in Uttar Pradesh as
the BSP’s is the first and the only government
in the country to have ensured “full guarantee”
of keeping intact the existing facility of
reservation even after the handing over of any
“government department” and “institution” in
Uttar Pradesh to the private sector.

    At the same time, our party in the matter
of reservation has for the first time made a
provision that if the works of government
departments are given to any “private
institution” or “individual” on contract, then the
same percentage of reservation would continue
to be given to the people of the SCs, Sts and
the OBCs classes as they have been getting in
government departments.

    At the same time, our party in the  matter
of “reservation” all over the country is a votary
of providing separate reservation to the poor
people from the Savarna (Upper caste)
society on an economic basis, which would
have to be implemented only by the “Central
Government” by amending the Country’s
Constitution. Therefore, several times letters
have been written by the government of our
party to the Government for giving separate
reservation to these classes on an
economic basis, but this suggestion of ours
has not so far been accepted by the Central
Government of any party.

    But in this regard, I wish to assure the
people of the “Savarna Society” that when a
government of our party is formed, then our
party’s government would make a meaningful
attempt to remove their poverty and
unemployment also by certainly making
available the facility of reservation to them
without being asked by them to do so. And even
otherwise it is known to you people about the
work style of our party that our party does what
it says, in other words, there is no difference
between assertions and deeds of our party, this
is known to all by now.

    My party’s government has also been
fully sensitive and serious over “Social
Security”  benefits to the people along with
Constitutional facility of “reservation”. Therefore,
we have increased the amount of old age/farmer
pension from Rs.150 to Rs.300. At the same
time, may party’s government promptly
increased the daily wages of “labourers” from
Rs.58 to Rs. 100 as they are the most poor
and weaker section and mostly come in the
category of “agricultural “labourers” and to whom
no attention had ever been paid earlier  because
of their having been not organized.

    At the same time, our BSP government
in Uttar Pradesh has instead of giving
“unemployment allowance” provided the youths
with an opportunity to live with self-respect and
self-reliance by providing them with
“opportunity of permanent employment”.
In addition to these, my part’s government has
taken full care of interests of the poor and
unemployed people from the Sarva samaj as
also “farmers”, “workers”, “traders” and the
people engaged in other occupations and has
taken many important decisions in their interests.

    Along with these works, our party’s
government in Uttar pradesh has given full
respect and honor to great Sants, Gurus and
Mahapurush ( great men) born from time to
time in the Bahujan Samaj by creating several
“new  districts, universities, hospitals and
museums and many other important
places” were named after them.

    Here, I also wish to say it that the
peole of SCs/STs, backward and other
neglected samaj (classes) have been victims
of excesses and atrocities of various kinds
perpetrated  by the people having a cattiest
mindset since independence till date and they
are “not getting full justice” in time and in a
proper and satisfactory manner. But our party
on coming to power in the Centre would not at
all allow “injustice and exploitation” of any kind
to any class of the society and would do
” Justice to all” and by fully establishing a
“Rule of Law By Law” in the entire country.
like in Uttar Pradesh and would thereby create
an “atmosphere free from injustice, crime,
exploitation and fear”

    At the same time, because of absence of
adequate development and rampant injustice,
exploitation, poverty and wretched condition
across the regions in our country, the people are
adopting the path of “Naxalism”, and Centre
and the state governments have not yet given
proper attention towards them, but our party
immediately on assuming power in the Centre
would make every possible effort to find a “lasting
solution” to all their problems and will also make
fullest effort to bring them into the mainstream
of development process by providing them the
opportunity of “permanent employment”.

    Besides, “terrorism” has grown to be
big challenge before our country over the past
few years, the main reason of which are
weaknesses of the Central Government and also
whichever party is in power also has to some
extent a vested political interest in it. But our
party on coming to power in the Centre would
pay full attention towards this also.

    As far the question of the National
Rural Employment Guarantee Scheme is
concerned, there is a provision of providing
employment for only 100 out of 365 days in a
year under the scheme and that too for only
one unemployed member of a family. But on
coming to power in then Centre, we will run such
a scheme for the poor and needy people living
in rural areas all over the country as would
ensure for them “employment throughout the
year, i.e., all the 365 days of a year” by
restructuring/rationalising various existing
welfare schemes.

    At the same time, it is also no secret to
anyone that during the long rule of over 63 years
of the Congress and the BJP and their supporting
parties, “farm, farming and farmers” have
been neglected in a big way; in other words, in
the process of encouraging big/heavy industries
under the governments of these parties serious
negligence has been shown towards interests
and welfare of “farming sector and farmers”.

    Not only this, rather persisting in this
cattiest and feudal mindset even now, the
Central Government led by the Congress party
announced only a few concessions in the budget
for 2007-08 to benefit a handful of big farmers.
Such announcements are generally made before
elections because of which their real benefit
does accrue to the people.

    At the same time, no concern is shown
for crores of such farmers in the country who are
groaning under loan at exorbitant rates of
interests from money lenders. They constitute
about 46 per cent of total number of farmers and
need government assistance to the maximum so
that they could be prevented from committing
suicides. But the Central and the state
governments have done nothing to improve the
wretched lots of crores of families and farmers.

    Another bitter truth in this process is that
the land of the poor and helpless people have
been acquired for setting up big/heavy
industries, but they have not been given jobs
of even the lowest order in those industries
because of which the life of the people of the
“Adivasi (Scheduled Tribe) Samaj” in
particular has become still more difficult. During
the rule of the Congress and the BJP, this is the
height of exploitation, but our party wants to
make “farming a dignified occupation”.

    Not only that, our path wants to see
the life of farmers as happy and prosperous.
Our BSP government in its very first year had
began work on an extremely ambitious “Ganga
Express-Way” , from NOIDA (New Delhi) to
Ballia, bordering Bihar which could have turned
around the face and fortunes of about half the
’state and at the same time could have improved
the fate of farmers on a big scale, but it did not
get adequate cooperation from the Central
Government for this high ambitious project.

    Besides, a proper use would be made of
“Natural Resources” in the country for
improvement in the economic condition of the
people.”Good and proper use of natural
resources” in the full and honest natural
interest  can play big role in improving the
standard of life of the people here. We are in
favor of providing solution to the problem of
unemployment at the local level by making
“optimum use small resources” of the area itself.

    At the same time, of the land fit for cultivation
and lying vacant with the government
in the entire country, which is not being used,
such “fallow land” at the rate of “3 acres would
be distributed free” on the pattern of Uttar
Pradesh for cultivation to the people of the Sarva
Samaj by giving priority to the poor and
unemployed peole of the SC/s/STs and backward
classes. Not only this, rather villages, kasbas,
towns and big cities in the entire country would
be developed on the pattern of the “Dr.
Ambedkar Gram Vikas Yojana”  and the
“Manyawar Kanshi Ram Ji Shahari Samagra
Vikas Yojana” devised in Uttar Pradesh.

    Thus, our party after coming to power
in the Centre would frame the “Economic
Policy” of the country in every field by keeping
in view interests of the Sarva Samaj for then
only can our party’s dream of “Sarvajan Hitaye
and Sarvajan Sukhaye” be realized. At the same
time, our every economic policy would be
designed to reach “proper benefit to the general
public”, and it will not be of a kind that makes
the “rich richer and the poor poorer” as has
been happening during the rule of the Congress,
the BJP and their supporting parties so far.

    Besides, on coming to power in the
Centre, our government’s  “Foreign Policy” in
every respect would be absolutely in the full
interest of Sarva samajand the country; in
other words, while framing foreign policy and
reaching international agreements special care
would be taken of the security of the country
as also of the country’s honour,self-respect and
sovereignty, it would not be mortgaged the way
it was done by the Congress-led UPA
Government while entering into the Indo-
American Nuclear Deal in the year of 2008.

    In brief, it is the contention of our party
that if the people of the “Bahujan Samaj and
 the Upper Caste Samaj” wish to create all over
the country an atmosphere akin to that ensures
by the BSP government of Uttar Pradesh by
securing for the people a “life of self-respect”,
they would have to take the”Master Key of
political power” into their own hands by
showing a good result in the Lok Sabha general
elections being held in the country now.

    But for achieving success in this, they
would certainly have to be alert against “many
tactics like “Saam, Daam, Dand, Bhedh”
(cajolery, inducement, coercion, divisive
politics) etc., of opposition parties because
opposition parties can go to any extent to harm
our party and its electoral prospect.

    And in this regard, opposition parties
would make fullest efforts to see to it that our
party cannot at any cost get the votes of the
people of Upper caste society , and for this,
opposition parties may also try to present a
distorted picture about our party’s “ideology and
policies”, whereas the ideologies and policies of
our party are not against any caste and religion,
rather the “BSP wishes to unite in a spirit of
brotherhood the people fragmented in this
country on the basis of caste and vans in order
to establish here a ‘humanity-based Equalitarian
Social Order’, which is in fullest interest of the
Sarva samaj and the country an in which all
the people are equal and share mutual fraternal
feelings, then only the inequitable social
order prevalent in the country be uprooted.

    And if in this missionary work of “Social
Transformation”, the people of the “Upper
caste society” also along with the “Bahujan
Samaj” extend their cooperation, doors would
be found open for such people for admission to
and advancement in the Bahujan Samaj Party.

    In this regard, I also wish to make it, clear
here that had the “ideology and policies” of our
party been against the “Upper Caste Samaj”, why
would our party have kept the people of these
class at the national and state levels in its
organizations? Also, why would it have fielded
them in the Lok sabha and Assembly elections
on its tickets and given them respectable position
of ministers on formation of its government in Uttar
Pradesh? In other words, the ideology and all
the policies of our party are pro-Sarva Samaj
and based on the ideal humanistic principle of
“Sarvajan Hitaye and Sarvajan Sukhaye”.

    Besides,  also wish to make it clear, here
about the “ideology and policies” of that BSP that
an “Equalitarian Social Order” is not going to be
established in the country by organizing only the
people of  the “Bahujan Samaj” alone. For this,
we would also have to take along the Upper caste
Hindus on the basis of “social brothrhood” by
changing their cattiest mindset, then only an
“Equalitarian Social Order” in a real sense, in
accordance with the thinking of the architect of
Country’s Constitution Baba Saheb Dr. Bhimrao
Ambedkar, can be established in our country, and
it is only after this that the Sarva Samaj can  be
fully united and divisions of “high” and “low” and
caste and creed can come to an end in the society
here for ever and then only the people can get
full opportunity of advancing in every walk of life.

    But the BSP people would have to bear
this in mind that the Congress, BJP and their
supporting parties will not allow our party to
come to power so easily here in the Centre and
to prevent our party from com in to power in
the Centre all the opposition parties will use
“tactics of every kind like cajolery,
inducement, coercion, divisive politics
etc.,” and the party people would have to be
very alert against it at every step.

    What is meant is that at the time of the
Lok Sabha general elections being held in the
country, all the opposition parties can influence
your votes by misleading you with “inducements
and assurances” of various kinds. For this reason,
it is my advice to BSP supporters and well wishers
that you have to be fully alert against all kinds
of tactics employed by the Congress, BJP and
their allies during the elections.

    And in this regard, what merits particular
attention here is that whenever these opposition
parties have there governments in the Centre and
the states, then for the first 3-4 years they do
not bother even a little bit about the interests of
the Scheduled Castes, Scheduled Tribes, other
backward classes (OBCs), religious minorities and
the poor and unemployed people from the Upper
castes and farmers, workers, traders, employees
and the people engaged in other occupations, but
when the time of elections comes close the
interests of these classes suddenly come to the
mind of these opposition parties and then these
parties start using “electoral tactics” of different
kinds such as making many populist laws and
rules in their interests, distributing scholarships,
cheap wheat and rice and other populist relief
acts of various kinds. But once the elections are
over, these opposition parties treat these laws
and rules as garbage and discard them in the
garbage bin and the work of relief etc., then
comes to an end until the next elections.

    Besides, attempts could also be made by
thé opposition par ties during the elections to garners
your votes by spreading rumors of different
kinds against which also our party people need
to be extremely vigilant. At the same time, it is
also my “APPEAL” to the people and
sympathisers  of BSP that “you remain fully alert ,
your vote is invaluable, ensure that none of your
votes can be purchased nor could be looted.
Neither it is left uncast nor it is misused by any
selfish element ensnare you in the name of caste
and creed, by using money power or by inciting
feelings over the issue of temple and mosque,
in other words, you have to defend democracy
with all your might.

    Therefore, in the interest of Sarva
Samaj, your respective state and country,
you have to entrust power in the centre into
the hands of the right party, that is Bahujan Samaj
Party (BSP) so that the party’s government
through this power can frame each one of its
policies in every walk of life in accordance with
the principle of “Sarvajan Hitaye and
Sarvajan Sukhaye i.e., Progress and
Prosperity For All” and thereby make the life
of the “Bahujan Samaj and poor and unemployed
people from Upper/high caste society happy and
prosperous in a dignified manner.”

In the end keeping all these matters in
view, I make this “APPEAL” to all the supporters,
followers  and well wishers of the BSP that they
should not be misled by any populist promises
made in the “election manifestos” of opposition
parties, in other words, they should act only on
this “APPEAL” of their own party and must
make all the BSP candidates in this general
elections being held for the Lok Sabha victorious

by pressing the button facing the B.S.P. election
symbol “Elephant”of their party. I fully have
this expectation from the people of my party,
its supporters and well wishers.

Jai Bhim, Jai Bharat

Appeal by (Kumari Mayawati)
National President,
Bahujan Samaj Party (BSP)



Dr. Bhimrao Ambedkar Samajik Parivarthan Sthal,
an architectural marvel built
by Behen Mayawati Ji
government of Uttar Pradesh
at the Bank of river Gomti in
respect and honour of Sants,
Gurus and Mahapurush
(Great men) born in SC/ST and
Other Backward Classes (OBC) samaj
Manyawar Shri Kanshi
Ram Ji  Smarak Sthal,
Lucknow at the VVIP
Road is dedicated to Shri
Kanshi ram Ji, who
devoted his life and
sacrificed a lot to give
momentum to humanistic
‘Self-Respect’ movement
which was stalled after
the demise of Babasaheb
Dr. Bhimrao Ambedkar.

Gautam Buddha
University, NOIDA,
Gautam Buddha Nagar
district near national
capital New Delhi is an
institution of high and
advance learning where
poor students of SC/ST,
OBCs, religious minorities
and upper caste samaj
were given opportunity to
go for higher studies in
Europe and America.


Manyawar Shri Kanshi Ram Ji  Urban Poor Housing Scheme

Lakhs of urban poor
families belonging to
Sarva samaj were
given their own pucca
home under highly
ambitious
“Manyawar
Shri Kanshi Ram Ji 
Urban Poor Housing
Scheme
” by Behen
Mayawati Ji Govt. in
Uttar Pradesh.

    Ideology and policies of B.S.P. are
genuinely pro-people and in the full interest
of Sarva Samaj, all sections of the society as
it is based upon cherished humanistic goal
of “Sarvajan Hitaye and Sarvajan Sukhaye
(Progress and Prosperity For All)”


Ensure victory of B.S.P. candidates
by pressing the button facing the
B.S.P. election symbol “Elephant”
in Electronic Voting Machines (EVMs)

Identity of B.S.P. is the
Blue Flag and elephant Symbol

Thank you

FOR YOUR WISE DECISION
TO
VOTE FOR BSP

 

14anim.gif


35) Classical Hindi
http://tehelkahindi.com/sabha-elections-2014newsno-easy-win-in-azamgarh-for-mulaym-singh/#comment-384
Tehelka Hindi

http://www.haribhoomi.com/
Haribhoomi
http://www.dainiknavajyoti.com/hindi/news_details.php?newsid=133492

http://www.deshbandhu.co.in/newsdetail/212685/1/19

http://www.amarujala.com/feature/samachar/international/europe/don-t-treat-to-people-of-india-like-garbage/
Breaking News in Hindi
http://www.prabhatkhabar.com/news/113764-news_lallu-adwani-modi.html
Prabhat Khabar


35 ) शास्त्रीय हिन्दी

मुफ़्त ऑनलाइन ई नालंदा अनुसंधान और अभ्यास विश्वविद्यालय

कृपया इस ” अपील” अनुवाद आपका
शास्त्रीय मातृभाषा और आप सभी जानते हैं कि अन्य भाषाओं और
प्रकाशित करें. करने के लिए एक प्रतिलिपि भेजें
awakenmedia.prabandhak @ gmail.com
chandrasekhara.tipitaka @ gmail.com
पर जाएँ :
http://sarvajan.ambedkar.org
11 मई 2014 रविवार 3:00
स्थान: के.आर. अस्पताल , मैसूर

रोगियों सेवा दिवस

के नेतृत्व में
आदरणीय Dhammaloka Bhanteji
निदेशक , महाबोधि केंद्र मैसूर

6:00
स्थान: महाबोधि केंद्र , महाबोधि मार्ग , Saraswatipuram , मैसूर

पर संगोष्ठी
बुद्ध के उपदेशों की प्रासंगिकता आज

वक्ताओं:
प्रो H.S.Umesh ,
प्रधानाचार्य सेवानिवृत्त . , शारदा विलास बी.एड. कॉलेज , मैसूर .

प्रो C.K.Maheshwarappa
क्षेत्रीय संयुक्त निदेशक , कॉलेज शिक्षा की डीपीटी, मैसूर

आशीर्वाद से
आदरणीय आनंद Bhanteji
महासचिव , एमबीएस

यहां तक ​​कि ज्योतिषी भविष्य में प्रधानमंत्री के रूप में Bahuth Jiyadha पापी नहीं दिख रहा है
May10 , 2014
 
मेरे दोस्त नरेंद्र मोदी बहुमत मिल रहा है और भारत के प्रधानमंत्री बनने
और मेरा विश्वास है प्रतिक्रिया , अपमानजनक भाषा का प्रयोग और कॉर्पोरेट
द्वारा वित्त पोषित , मतदाताओं को मूर्ख बना रही जीत नहीं कर सकते ‘ कोई
मौका ‘ है की संभावना के बारे में पूछा .
 
सभी झूठ और मीडिया प्रचार लायक 20 , 000 करोड़ रुपये के एक कमरे में
अंधेरे की तरह जनता की राय बदलने के लिए सच्चाई का सिर्फ कुछ लाइनों की
जरूरत है एक मोमबत्ती जलाकर चला गया है .

हम पूछना चाहिए सवाल कर रहे हैं -
 
1 . 2009 के चुनाव में 170 जब्त हो गई जो एक पार्टी है, इस बार जीत सकते हैं?
 
यह बजाय उसके समर्थक व्यापारी साहूकार , कोर विचारधारा के रूप में शोषक एजेंडा और बदलने के लिए सकारात्मक कुछ नहीं किया
 
विपक्ष
लोक अपनी कंपनियों में और के माध्यम से कोई इक्विटी है कि इस बात पर जोर
नहीं था - दुनिया में शीर्ष लुटेरे - इस देश के हे लोग Madi के 20 , एक
वर्ष से अधिक 000 करोड़ प्रचार अदानी और अंबानी द्वारा वित्त पोषित किया
गया है कि पता करने के लिए आ गया है
उन्हें सस्ते में उन्हें बेचा प्राकृतिक संसाधनों में कोई शेयर , श्रमिक
बस 1 राजस्व % और भारत के लिए धन पैदा लेकिन नहीं कर रहे हैं बस खुद को
समृद्ध .
 
Ø व्यावसायिक रूप से सफल अभियान से प्रभावित हुए बिना सभी प्रचार के 40
के तहत सीटें 2014 के चुनाव के लिए Bahuth Jiyadha पापी को कम कर दिया
जाएगा .
 
2 . एक पार्टी क्लास आदि और धोखा दे लोगों को हर बार जाति के उग्रवादी
हिन्दुत्व पंथ Staelth को विकास से रणनीति स्विच करके चुनाव जीत सकते हैं?
 
Ø Madi की हर कार्रवाई के हर भाषण में बड़े पैमाने पर स्थानांतरण
प्राथमिकताओं की रणनीति और रणनीति टेलीविजन पर प्रसारित किया जाता है तो
गैर गंभीर और नकारात्मक है जो फर्जी चरित्र को दर्शाता है.
 
Ø Madi बैठक और समाज की मांग वोट के हर वर्ग के लिए अपील किसी भी कृपया
नहीं है , उसकी ओबीसी दावा भी अब तक वह वह के अंतर्गत आता है जो जाति का
उल्लेख नहीं किया गया है के रूप में किसी भी जाति को प्रभावित करने में
विफल रहता है.
 
Ø Madi पूरी तरह से दैनिक झपकी लेना और अदानी और अंबानी ने स्पष्ट समर्थन
और वित्त पोषण के बावजूद , संपर्क में था , कम लालची हो उन से आग्रह किया ,
किसानों को प्रभावित नहीं करता है - जो Bahuth Jiyadha पापी व्यापारी और
कारखानों मालिकों का समर्थक है जानता है .
 
3 . कर सकते हैं बस और राष्ट्रीय धन का उचित वितरण के बिना इस देश प्रगति हुई है?
 
Ø न्यायोचित ठहरा रू 1 प्रति वर्ग , अदानी और 10 रुपये, टाटा नैनो के लिए
000 करोड़ रुपए की बार बार और कहा कि यह सरकारी नीति के तहत किया गया था
दावा ‘ के शीर्ष पर करने के लिए मीट्रिक टन भूमि आवंटन वास्तव में विपक्ष
का शुल्क crony पूंजीवाद पुष्टि करता है.
 
4 . कर सकते हैं भ्रष्टाचार एवं स्थानीय अदानी और अंबानी की सवारी आचरण से अधिक मुद्दों?
 
उत्तर
प्रदेश , बिहार और अन्य गरीब राज्यों में हे लोगों गुजरात में श्रम के
शोषण , और Bahuth Jiyadha पापी राज्यों में न्यूनतम मजदूरी को समझें .
अदानी जेट और हेलीकाप्टर में ग्लैमरस अभियान वास्तव में Bahuth Jiyadha पापी गढ़ों में मतदाता विश्वास इरोड होगा .
 

मतदाताओं
के बहुमत वोट दिया है और SARVAJAN HITAYE SARVAJAN SUKHAYE IE के लिए
जागरूकता के साथ जागा एक की एक भारथ बनाने के लिए बदलाव के लिए वोट देंगे ,
कल्याण, खुशी और सभी SOCIETIES.Just के सद्भाव के लिए अमेरिका के लोगों को
अपने व्यापक उदारता के साथ निर्णय के अनुसार
दूसरी बार राष्ट्रपति के रूप में ओबामा का चुनाव करने के लिए , इस देश के
ब्रॉड मानसिकता के लोग भी अगले प्रधानमंत्री के रूप में सुश्री मायावती का
चुनाव करेंगे .

लेकिन इसके धोखाधड़ी ईवीएम मशीनों के साथ चुनाव आयोग, SAVARNAJAN HITAYE
SAVARNAJAN SUKHAYE के लाभ के लिए नफरत , गुस्सा , असहिष्णु , ईर्ष्या ,
भ्रम तेज के साथ एक MADIYA बनाने के लिए यह छेड़छाड़ जाएगा .
वाराणसी में मायावती ने कांग्रेस , भाजपा anti-SC/ST मानसिकता है कहते हैं

एक
अनुसूचित जाति की भी बेटी प्रधानमंत्री बन सकता है तो उनके ” anti-SC/ST
मानसिकता ” के लिए कांग्रेस और भाजपा flaying , बीएसपी सुप्रीमो मायावती आज
, चल रहे लोकसभा चुनाव में उसे बहुजन समाज पार्टी के लिए वोट करने के लिए
लोगों से अपील की
मंत्री .

वाराणसी के बाहरी इलाके में Gaurakala गांव में एक रैली को संबोधित करते
हुए मायावती ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और योग गुरु बाबा Ramadev की
anti-SC/ST टिप्पणी पर भाजपा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की ‘ चुप्पी ‘ पर
सवाल उठाया .

कांग्रेस
नेता राहुल गांधी ” हनीमून और पिकनिक के लिए अनुसूचित जाति / अनुसूचित
जनजाति के घर के लिए चला जाता है कि” रामदेव की टिप्पणी का जिक्र करते हुए
बसपा सुप्रीमो ने कांग्रेस और भाजपा विरोधी है ” पता चलता है कि यह
अनुसूचित जाति / जनजाति समुदाय और चुप्पी को एक ” अपमान “था
-SC/ST मानसिकता ” .

कांग्रेस और भाजपा खामोश बने रहे, ” उत्तर प्रदेश में हमारी पार्टी के
सभी समुदायों के लोगों का ध्यान रखा था और अपने पिछले चार शासन में मानव
जाति के आधार पर बराबर सम्मान दिया था ,” उसने कहा.

” इस स्थिति में सभी अनुसूचित जाति की भी बेटी इस देश का प्रधानमंत्री बन
सकता है , केंद्र में सत्ता में बसपा लाने के लिए प्रयास करने के लिए है ,
” उसने कहा .

मायावती उत्तर प्रदेश के बाहर एक अलग राज्य से बाहर नक्काशी के लिए
केंद्र सरकार को कई बार लिखा था , लेकिन कांग्रेस अलग पूर्वांचल के गठन
नहीं होने दिया था.

वह यहाँ के लोग ” पार्टियों वही कर रहे हैं दोनों ” के रूप में सत्ता में आने से भाजपा और कांग्रेस को रोकना चाहिए था.

वह मुस्लिम मतदाताओं की बड़ी संख्या वाराणसी में एक प्रमुख भूमिका अदा कर
सकता है , और कहा कि उनके वोट कांग्रेस , सपा और अन्य दलों के बीच विभाजित
हो जाओ करने के लिए नहीं उन्हें भी आग्रह किया.

मायावती ने अपनी पार्टी उसे पार्टी के उम्मीदवार सबसे मजबूत दावेदार
बनाता है जो अन्य पिछड़े और सवर्ण मतदाताओं के साथ वाराणसी के लगभग दो लाख
पचास हजार अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के मतदाताओं , का समर्थन किया
है का दावा है कि बसपा के लिए वोट करने के लिए मुसलमानों से अपील की .

उत्तर प्रदेश : ‘ विकास ‘ मतदाताओं के लिए सबसे बड़ा चुनावी मुद्दा है

उत्तर
प्रदेश में सत्ता में वापस आने के लिए उम्मीद कर रहा है जो बसपा सुप्रीमो
मायावती , महंगाई और भ्रष्टाचार मध्यवर्ग लेकिन हर कोई बस के बारे में न
केवल प्रभावित करने वाले प्रमुख मुद्दे हैं कि कहा गया है.
आगरा
में एक रैली में पिछले महीने के दौरान, वह मुजफ्फरनगर और शामली में . यहां
तक ​​कि सुप्रीम कोर्ट के लिए समाजवादी पार्टी के जिम्मेदार आयोजित किया
गया है के रूप में उत्तर प्रदेश , महिलाओं , लूट , आगजनी , हत्या और
सांप्रदायिक strifes के खिलाफ बढ़ती अपराधों के साथ एक मुसीबत में था ने
कहा, ”
पश्चिमी उत्तर प्रदेश में तनाव . खतरनाक कानून और व्यवस्था की स्थिति राज्य में विकास कार्य रुक गया है . ” पिछले साल उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि वह विकास
और बुनियादी परियोजनाओं को आगे ले जा सकते हैं , इसलिए है कि राज्य विश्व
बैंक के सहयोग मिलेगा उम्मीद है कि ने कहा था कि .
बसपा सरकार के गठन में मोदी का समर्थन नहीं करेंगे : मायावती

लखनऊ
, 9 मई : बसपा प्रमुख मायावती ने किसी भी परिस्थिति में उनकी पार्टी
लोकसभा यहाँ एक हड़बड़ी में बुलाई प्रेस कॉन्फ्रेंस election.Addressing के
बाद , वह भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की टिप्पणी के लिए
भेजा एक संभव भाजपा सरकार का समर्थन करेंगे कि शुक्रवार घोषित कि मायावती
सहित सबको
संभावित
सहयोगी थे . ” मोदी अपने नवीनतम टीवी पर साक्षात्कार में मामले में वह
अपने दम पर बहुमत नहीं मिलता है कि ने कहा है , वह मायावती said.She कहा
उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री के समर्थन की मांग के लिए खुला है कि वह
बात नहीं कर सकते , जबकि
अन्य दलों की ओर से , वह सरकार गठन में मोदी या भाजपा का समर्थन नहीं करेंगे कि स्पष्ट था .

एक ” मोदी लहर ” भाजपा के इस दावे trashing, वह अनुसूचित जाति / अनुसूचित
जनजाति आंदोलन खत्म करने के लिए प्रयास करने का भाजपा का आरोप लगाया.

बाद में, वाराणसी में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए वह बसपा और
भाजपा के संभावित गठबंधन की ” अफवाहें ” में विश्वास नहीं मुसलमानों पूछ ,
विषय को लौट गया.
भाजपा राज्य खेमे में फर्जी मोंटेक सिंह रिपोर्टें फिसल
May09 , 2014
 
इस मोंटेक सिंह वास्तव में गुजरात आदि निवेशकों को NVA , नौकरियां ,
मजदूरी, शेयर में पूंजी में परिवर्तित करने में सबसे खराब प्रदर्शन किया जब
प्लस फर्जी (भुगतान) पुरस्कार 280 देकर फर्जी रिपोर्ट बाहर मंथन किया कि
संप्रग के अंतिम त्रासदी है
 
इसके बजाय Deloitte ट्च Tohmatsu इंडिया प्राइवेट भर्ती की . लिमिटेड योजना आयोग परिष्कृत आँकड़े होना चाहिए -
 
अधिक परिष्कृत डेटा देने की तरह - पूंजी निवेश के प्रतिशत के रूप में
कर्मचारी , NVA प्रति NVA , आदि प्रत्येक राज्य के पूंजी निवेश के प्रतिशत
के रूप में मजदूरी
 
इसके अलावा अधिक पीसी भी जल और ऊर्जा, शिक्षा और कौशल मानकों की कीमत और उपलब्धता के बारे में जानकारी है चाहिए .
 
भाजपा राज्य अमेरिका शिक्षा और कौशल में गरीब हैं .
 
गुजरात
शुद्ध मूल्य संवर्द्धन में एक रैंक खो दिया है और फैक्टरी मूल्य परिवर्धन
में अपना हिस्सा 2011-12 में 10 % करने के लिए 2001-02 में 12 % से गिर गया
जब 51000 से अधिक व्यर्थ सहमति पत्र पर थे , जब हम कैसे निवेश गंतव्य में
नंबर 1 के रूप में गुजरात पर विचार कर सकते हैं
वी.जी. घटनाओं पर हस्ताक्षर किए ?
 
इससे भी अधिक चौंकाने वाला - सभी भाजपा दो शब्दों खो रैंकों के लिए शासित राज्यों
फैक्टरी सेक्टर रैंक
कल राज्य अमेरिका 2012

कल 2001

NVA 2001-02

NVA 2011-12
3 . गुजरात

2

12 %

10 %
13 . सांसद

9

4 %

2.4%
15 . झारखंड

13

2.2%

2.28 %
16 . छत्तीसगढ़

14

1.6%

1.5%
 
भाजपा राज्यों के एमएसएमई का प्रदर्शन भी अभी तक खराब है एमएसएमई 2012-13 के नवीनतम एआर के अनुसार यहाँ दी गई है .
 
http://msme.gov.in/WriteReadData/DocumentFile/ANNUALREPORT-MSME-2012-13P.pdf
अचल संपत्ति में गुजरात 1st , उद्यम में 7 वीं , नौकरियां 7th , उत्पादन मूल्य में 9 . पी -32
क्र .
नहीं.

राज्य / केन्द्र शासित प्रदेशों

उद्यम
( लाख )

रोजगार
( लाख

बाजार अचल संपत्ति (करोड़ ) का मूल्य

कुल उत्पादन
(करोड़ )
3

पंजाब

10.14

18.31

37,126

81,625
24

गुजरात

15.32

34.42

166,753

55,306
 

भारत

214.38

501.93

689,954

1077212
महाराष्ट्र , उत्तर प्रदेश , तमिलनाडु, पंजाब , पश्चिम बंगाल , केरल ,
आंध्र प्रदेश , कर्नाटक एमएसएमई उत्पादन मूल्य में आगे गुजरात की हैं .

महाबोधि सोसाइटी , बेंगलुरु , भारत

21558 पवित्र बुद्ध जयंती

समारोह 2014

VESAKHA बुद्ध पूर्णिमा

ಪವಿತ್ರ ವ್ಯೆಶಾಖ ಬುದ್ಧ ಪೂರ್ಣಿಮಾ

14-05-2014

के लिए Pabbajja पाठ्यक्रम

बच्चे: 27-04-2015 04-05-2010 को

15-05-2014 को 2014/07/05 : पुरुषों और महिलाओं
सभी का स्वागत है

तीन बड़ी घटनाओं की स्मृति में
जन्म , Awakenment और mahaparinibbana की

भगवान बुद्ध
2558 पवित्र बुद्ध जयंती

बोधी SAPTAHA के रूप में मनाया जाएगा
गुरुवार 8 मई 2014 से बुधवार 14 मई 2014

14-05-2014 Vesakha पूर्णिमा दिवस के अवसर पर मुख्य funcion साथ

हम cordially आप सभी कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए आमंत्रित
परिवार और दोस्तों के साथ .

तुम्हारा है,
राष्ट्रपति और सदस्य ,

महाबोधि सोसायटी , महाबोधि मैत्री मंडला ,

Theravada बौद्ध अध्ययन के लिए महाबोधि केंद्र ,

महाबोधि फाउंडेशन , Baghavan बुद्ध विश्वविद्यालय ,

महाबोधि रिसर्च सेंटर ,
बुद्ध Vachana ट्रस्ट , नालंदा Vijjayatana
और मैसूर , अरुणाचल प्रदेश , त्रिपुरा में महाबोधि शाखाओं

पत्राचार और दान के लिए पता;
महाबोधि सोसाइटी
14 , कालिदास रोड , गांधीनगर , बंगलौर 560009 , भारत
टेलीफोन: 080-22250684 , 09343158020 , फैक्स: 080-41148440
ईमेल: वेब साइट info@mahabodhi.info : www.mahabodhi.info

उदारता से दान और गुण का हिस्सा

16-05-2014 विश्व जागरूकता के साथ जगाने से एक की लहर देखेंगे

बहुजन समाज पार्टी - एक मूक करनेवाला

बहुजन समाज पार्टी
” अपील”
के लिए मतदान की
” Sarvajan Hitaye और Sarvajan Sukhaye “
आम चुनावों में -2014
देश में आयोजित किया जा रहा
16 वीं लोकसभा के लिए

कुमारी मायावती
राष्ट्रीय अध्यक्ष
बहुजन समाज पार्टी

हे , गरीब , अनुसूचित जाति / जनजाति , पीछे की ओर , शोषित , पीड़ित और
अन्य उपेक्षित वर्गों के लोगों , वृद्धि और पर शासकों बन
अपने वोट और अपने आप की शक्ति अपने पोषित लक्ष्य को प्राप्त
“सामाजिक परिवर्तन और आर्थिक मुक्ति ” की .
राष्ट्रीय बसपा आंदोलन के अध्यक्ष और सामाजिक का चिह्न
 
किया गया है जो देश में परिवर्तन बहन सुश्री मायावती जी ,
लगातार युगांतरकारी व्यक्ति के कारवां को आगे बढ़ाने ,
जो इस तरह के एक युगांतरकारी कॉल के वास्तुकार दिया
संविधान , हार्ट रत्न और सबसे श्रद्धेय बाबा साहेब डॉ.
भीमराव अंबेडकर , बाबा साहेब को चमक अर्पित की पेशकश की.

जय भीम ! जय भारत !

बहुजन समाज पार्टी ” अपील”
के लिए मतदान की
” Sarvajan Hitaye और Sarvajan Sukhaye “
आम चुनावों में -2014
देश में आयोजित किया जा रहा
16 वीं लोकसभा के लिए

प्रिय दोस्तो ,
             
अब हर कोई , बहुजन लिए जाना जाता है
समाज पार्टी ” (बसपा ) में ही पार्टी है हमारे
केवल विश्वास नहीं करता है जो ” देश
वादे , प्रलोभन या आदि घोषणा
लेकिन काम की प्रचुर मात्रा में प्रदर्शन
जनता के हित में और जनता के कल्याण के लिए . ” अन्य में
शब्द , बसपा कर्मों ” के मंत्र में विश्वास करता है और
न केवल शब्दों . “इसलिए, हमारी पार्टी ,
अन्य राजनीतिक पार्टियों के विपरीत किसी भी मुद्दे नहीं है
किसी भी चुनाव में अपनी की ” चुनाव घोषणा पत्र ” , बल्कि
बसपा के लिए वोट करने के लिए मुद्दों केवल एक ” अपील”
के अधूरे काम को पूरा करने के लिए
महान संतों , गुरुओं के मानवतावादी आंदोलन
और Mahapurush ( महान पुरुषों ) समय से पैदा हुआ
यहां ” बहुजन समाज ” में समय के लिए हमारे
देश , विशेष रूप से महात्मा ज्योतिबा फुले ,
छत्रपति शाहूजी महाराज , श्री नारायणा
गुरू , बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर और
Manyawar श्री कांशीराम जी आदि का पालन करके
उनके द्वारा दिखाए गए रास्तों इतना है कि हमारी पार्टी द्वारा
चुनाव में एक अच्छा परिणाम दिखा पर कब्जा कर सकते हैं
बिजली की सीट और फिर ” मास्टर के माध्यम से
राजनीतिक सत्ता की कुंजी ” का जीवन बना सकते हैं
सर्व समाज से गरीब लोगों ( सभी वर्गों
समाज की ) , के रूप में भी दूसरों को दुखी और
एक castiest आदेश ” बस खुश द्वारा दीन ,
” समृद्ध और dignifies , क्योंकि के बारे में
राजनीतिक के ” मास्टर कुंजी का महत्व
सत्ता ” बाबा साहेब डॉ. भीमराव Abedkar
करने के लिए इस्तेमाल अक्सर राजनीतिक शक्ति है कि ” का कहना है कि
एक मास्टर कुंजी है जिसके माध्यम से सभी समस्याओं
इस माध्यम से, दूसरे शब्दों में , हल किया जा सकता है
मास्टर कुंजी अपनी प्रगति के लिए सभी बंद दरवाजों
और समृद्धि खोला जा सकता है . “

    के इस बहुत ही सोच का अनुसरण करके
Parampujya बाब साहेब Dr.Bhimrao अम्बेडकर ,
हमारी पार्टी इन आम चुनावों में चुनाव लड़ रहा है
के अधिकांश में सभी सीटों पर 16 वीं लोकसभा के लिए
पूरी तैयारी के साथ देश के राज्यों
अपने दम पर , दूसरे शब्दों में , हमारी पार्टी में नहीं है
इस लोकसभा चुनाव में प्रवेश किया
के किसी भी चुनावी गठबंधन या समझ
किसी भी पार्टी के साथ किसी भी तरह .

    लेकिन अब उठता है कि मुख्य सवाल
यहाँ क्यों यह आम जनता के लिए आवश्यक है
देश की ” कांग्रेस ” के लिए वोट करने के लिए नहीं
और ” भाजपा ” और उनके सहयोगियों , लेकिन केवल वोट करने के लिए
” बसपा ” के लिए और उनकी इस पार्टी को मजबूत
पूरे देश में ? यह मुख्य और आवश्यक
बात ध्यान से समझ में आ जाना होगा .

    इस संबंध में, यह हमारा दृढ़ विश्वास है कि
बसपा देश में केवल राजनीतिक पार्टी है
” विचारधारा , सिद्धांतों और नीतियों ” के अलावा
अधिक से अधिक हित में हैं , जिनमें से ” काम शैली “
के और सर्व समाज का पूर्ण कल्याण के लिए ,
दूसरे शब्दों में , सभी धर्मों के लोग
और सब जातियों ; और , एक ही समय में , यह करता है
यह अच्छी तरह से ब्याज में कहते हैं, जो कुछ समय के भीतर
( की और सर्व समाज के कल्याण के लिए सभी
समाज के वर्गों ) , जबकि अन्य राजनीतिक
पार्टियों आश्वासनों का एक बहुत कुछ दे सकता है और करना बहुत
में , वास्तविकताओं में अनुवाद करने के लिए थोड़ा काम
दूसरे शब्दों में, अपने काम के सबसे तक ही सीमित है
कागज पर योजना बना रहा है और शायद ही कभी देखा या कम है
सबसे अच्छा , जमीनी स्तर पर अधूरा देखा एक
जिनमें से उचित लाभ तक पहुँचने में सक्षम नहीं है
एक सही ढंग से आम लोगों को .

    यही कारण है कि एक परिणाम के रूप में मुख्य कारण है
सरकार की गलत नीतियों
पार्टियों कोई महत्वपूर्ण एक cattiest मानसिकता होने
परिवर्तन 66 साल , भी के बारे में अब आ गया है
” , सामाजिक, शैक्षणिक और में आजादी के बाद
बहुजन समाज ” आर्थिक ” की हालत “
जो अनुसूचित जातियों (एससी) शामिल हैं ,
अनुसूचित जनजाति (अजजा ) , अन्य पिछड़ा वर्ग
(ओबीसी) और विभिन्न समुदायों के लोग
और सिखों की तरह धर्मों , मुस्लिम, ईसाई ,
से संबंधित पारसी और आदि बौद्ध,
जिनकी आबादी है धार्मिक अल्पसंख्यक समाज ,
कुल मिलाकर देश की लगभग 85 प्रतिशत .

    और, मैं गलत नीतियों के बारे में बात की है
इन विपक्षी दलों की सरकारों के
यहाँ क्योंकि हमारे देश में , केंद्र में और
अधिकांश राज्यों , सरकारों के जो भी
पार्टियों किया गया है आज तक का गठन कर दिया गया है
ज्यादातर बड़े की वित्तीय सहायता के साथ बनाई
पूंजीपतियों और सुपर अमीर ( dhannaseth ) , क्योंकि
जिनमें से इन दलों के सत्ता में आने के बाद ,
प्रत्येक और हर ” आर्थिक नीति ” फ्रेम उनके
के अनुसार संबंधित सरकार
दूसरे शब्दों में , बहुत सुपर अमीर लोगों के हितों ;
वे एक साथ उनकी आर्थिक नीतियों फ्रेम नहीं है
कष्टों और कठिनाइयों को दूर करने के लिए देखने
गरीब और यहां आम जनता .

    इस प्रकार इन सभी विपक्षी दलों ,
उनकी अलग पहचान बनाए रखने के बावजूद ,
पालक और केवल एक खास तरह का बढ़ावा देने के
” समर्थक पूंजीवादी ” पर कुर्सियां ​​है और वे विश्वास है कि
बड़े पूंजीपतियों हैं जो आम स्वामी है,
और सुपर अमीर व्यक्तियों और उद्योगपति , में
दूसरे शब्दों में, इन सभी विपक्षी दलों और
बड़े पूंजीपतियों हमेशा बधाई दिया गया है
एक दूसरे के और वे दोनों की मदद करने में गर्व ले
और जो नहीं है , एक दूसरे के हितों की सेवा
सब पर गरीब समर्थक और समर्थक लोग . में उनकी रुचि
हटाने के दुखों और गरीब की पीड़ा
लोगों और आम जनता ज्यादातर एक
“नकली और पाखंड ” .

     इतना ही नहीं , बल्कि इसलिए कि इन की
बहुत कारणों “कीमतों और बेरोजगारी “
आसमान छू और लगातार कर दिया गया है
नतीजतन यहां बढ़ती विशाल जिनमें से
गरीब और मध्यम आय की आबादी
होने का teason के लिए देश में वर्ग
मुश्किल हिट अत्यधिक दुखी हैं और जोर दिया .
यही कारण है कि आर्थिक मुख्य कारण है
” बहुजन समाज ” के लोगों की हालत
यहां विशेष रूप से गरीब के साथ के साथ
” avarna (ऊपरी / उच्च कार्टे ) से लोग
समाज ” अब भी बहुत बुरा हो रहा है.

    इन सभी मामलों को ध्यान में रखते हुए , हम
फिर Parampujya द्वारा दिखाए गए रास्तों का पालन करके
बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर के लिए फार्म का था
नाम से हमारा एक अलग राजनीतिक दल
के तहत ” बहुजन समाज पार्टी ‘ (बसपा ) की
” Manyawar श्री कांशीराम जी ” का नेतृत्व
14 अप्रैल 1984 , और अब इस पार्टी के साथ पर
असीम प्रेम, बलिदान और का सहयोग
सर्व समाज एक प्रमुख बन गया है
” राष्ट्रीय स्तर ” पर महत्वपूर्ण पार्टी .

    और यह सब करने के लिए जाना जाता है, Bhaujan
समाज पार्टी (बसपा ) पर सभी में पालन नहीं करता
गरीब विरोधी और समर्थक पूंजीपतियों के नक्शेकदम पर
कांग्रेस और भाजपा जैसी पार्टियों , और
पूंजीपतियों से पैसा लेने के लिए और के बजाय
उनके पर अन्य दलों और काम की तरह सुपर अमीर
बोली , यह अपने ‘ मानवतावादी चल रहा है
लेकर पूरे देश में आंदोलन “
से दान और सदस्यता सदस्यता
अपने काडर , अनुयायियों और समर्थकों .

    इसी सिद्धांत का पालन करके, हमारे
पार्टी भी एक शुभ अवसर का हो गया है
में अपनी ही सरकार को कई बार गठन
देश , उत्तर के सर्वाधिक आबादी वाले राज्य
प्रदेश , और यह पहली और एकमात्र कर दिया गया है
देश में सरकार की हर नीति
देखने में Moto रखकर तैयार की गई है
” Sarvajan Hitaye और sarvajan Sukhaye ” की
(सभी के लिए प्रगति और समृद्धि ) , जो स्पष्ट रूप से
और पूरी तरह से समर्थक sarvajan और समर्थक ” को दर्शाता है
बसपा की सर्व समाज की विचारधारा और नीतियों ” .

    हमारे इस , बल्कि इस पार्टी न केवल
धीरे - धीरे में इसकी बड़े पैमाने पर आधार के विस्तार से
पूरे देश में अब कई की जीत सुनिश्चित की
अपने प्रत्याशियों की और सांसदों के रूप में उन्हें भेजा
संसद और कई राज्य में विधायक के रूप में
असेंबलियों . इसके अलावा , सरकार कर दिया गया है
उत्तर में हमारी पार्टी के नेतृत्व में गठित
साल में प्रदेश में चार बार ( पहले तीन बार
1995, 1997 , और 2002 संक्षिप्त अवधि के लिए , लेकिन के
पूर्ण बहुमत के साथ 2007 के वर्ष में
पांच साल के लिए ) , और सभी चार बार
हमारी पार्टी की सरकार की बात में है
राज्य में ” विकास और न्याय ” यह सुनिश्चित करना
पूर्ण हितों की देखभाल और का कल्याण लिया
सर्व समाज , लेकिन हम भी पहले दे दिया है
प्राथमिकता ” बहुजन समाज ” के उन लोगों के लिए ,
अतीत की सरकारों के तहत किया गया है , जो
विशेष रूप में एक बड़े पैमाने पर यहां उपेक्षा
” , सामाजिक, शैक्षणिक और आर्थिक ” क्षेत्र .

    और यह इस को गंभीरता से लेने के द्वारा है
कि उत्तर में हमारे (बसपा) के हिस्से की सरकार
प्रदेश विवेकपूर्ण के बारे में लाने के लिए
” , सामाजिक, शैक्षणिक और में सुधार
के लोगों की आर्थिक ” हालत
बहुजन समाज में पहली बार गठित
देश के लिए ” कल्याण विभाग ” अलग
अपने क्षेत्र के प्रत्येक और चयन करके
राज्य में विशेष रूप से अनुसूचित जाति / जनजाति बहुमत गांवों
डा. अम्बेडकर ग्राम के तहत प्राथमिकता के आधार पर
विकास योजना ( ग्राम विकास योजना ) है
आवश्यक के साथ उन्हें कवर का काम किया
हर तरह के और अन्य निर्माण के बुनियादी सुविधाएं
चरणबद्ध तरीके से भी विकास और की
तो अब भी इस योजना बनाने के लिए एक दृश्य के साथ
अधिक लाभकारी धन की उपलब्ध एक बहुत कुछ किया गया है
इस ssheme तहत और करने के लिए अपने नाम में परिवर्तन
” बाबा साहेब Dr.Ambedkat उत्तर प्रदेश ग्राम
सभी दौर के लिए सभा समग्र विकास योजना “
gramsabhas का विकास .

    इसी Manyawar श्री के नाम
ठप उन्नत जो कांशीराम जी ,
बाबा साहिब का मानवीय आत्मसम्मान कारवां
डॉ. भीमराव अम्बेडकर गति प्रदान करके
यह करने के लिए , ” शहरी समग्र Vika योजना ‘ (अर्बन सब
सर्वांगीण विकास योजना ) तैयार कर लिया गया था और
इस योजना के माध्यम से , शहरों, कस्बों और गांवों ,
बड़े और छोटे , उत्तर प्रदेश के विकसित किए गए
चरणबद्ध तरीके से . लेकिन गति हो सकता है
केवल में रखने के द्वारा इन सभी कार्यों के लिए प्रदान किया
राज्य के सीमित आर्थिक संसाधनों को देखने , और
हमारी सरकार पर्याप्त सहयोग मिला था
इन सभी के कल्याण के लिए केन्द्र सरकार से
निर्माण , अभी भी अधिक है और तेजी से लाभ हो सकता है
वंचित लोगों को उपलब्ध कराया गया .

    विशेष रूप से करने के लिए प्राथमिकता देकर इसके अलावा
“अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजातियों, शोषण , अन्य पिछड़ा वर्ग ( ओबीसी )
सर्व समाज से और धार्मिक अल्पसंख्यकों “
उत्तर प्रदेश में , ” दो कमरे पक्के मकानों “
बीच में से गरीब बेघर करने के लिए दिए गए थे
उन्हें और ” आवंटित खाली सरकार द्वारा
खेती ” ” के लिए लोगों को मजबूर करने के लिए ” भूमि ;
कब्जे भी द्वारा उन्हें यह सुनिश्चित किया गया है
सीधे है जो बसपा सरकार ,
उत्तर प्रदेश में गरीब लोगों के लाख लाभान्वित .

    भी “शिक्षा ” को बढ़ावा देने के लिए, हमारी
बसपा सरकार ने देश में पहली बार
से संबंधित बच्चों को दी गई ” छात्रवृत्ति “
अनुसूचित जातियों / अनुसूचित जनजातियों और पसंद
उन्हें अन्य पिछड़े के गरीब बच्चों के लिए
वर्गों (ओबीसी) और विशेष रूप से मुस्लिम समाज की
धार्मिक अल्पसंख्यकों से है और अनुसार
कीमतों में वृद्धि के साथ दरों ” दोगुनी है”
छात्रवृत्ति और भी की गई व्यवस्थाओं की
तुरंत छात्रों को इन वितरण के लिए
उनके प्रवेश के बाद . और एक ही समय में , करने के लिए
इन से ” गरीब छात्रों को योग्यता मदद
उच्च रैंकिंग जॉब , ” हमारी सरकार के लिए कक्षाएं
उन्हें भी देने के लिए इंतजाम किए हैं
“मुक्त सरकार कोचिंग ” .

    इसके अलावा , से गरीब बच्चों के लिए
के साथ ” Savarna ( सवर्ण ) समाज ,
उत्तर प्रदेश , एक नया की भोर में इन वर्गों
उच्च और तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में उम्र
में ले जाया गया है , जिसके तहत एक ऐतिहासिक काम
ऐसे भेजने के लिए पहली बार किया गया है
उच्च शिक्षा के लिए अन्य देशों के लिए बच्चों को
हाल में करने के लिए सरकारी खर्च पर
स्थापित विश्व स्तरीय ” गौतम बुद्ध
नव निर्मित गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय “
नगर जिला ( नई दिल्ली के पास ग्रेटर नोएडा) .

    इसी समय, को प्राथमिकता दे रही है
अनुसूचित के लोगों का विकास
जाति और अनुसूचित जनजाति , एक प्रावधान था
अलग “25 प्रति के लिए पहली बार के लिए पागल
उत्तर के बजट से प्रतिशत निधि “
उनके लिए प्रदेश सरकार . इसी तरह, के लिए
लोगों के बीच सुरक्षा की भावना पैदा करने
उत्तर के हर जिले में ” बहुजन समाज ” की
प्रदेश , ” आरक्षण ” का प्रावधान किया गया था
बनाने के लिए देश में पहली बार
उनके से ” पुलिस विभाग ” के अधिकारियों
स्टेशन हाउस ऑफिसर्स ( एसएचओ ) के रूप में समाज .

    इसी तरह, पूर्ण देखभाल के लिए लिया गया है
” मुस्लिम सोसायटी ” का विशेष रूप से लोगों को
धार्मिक अल्पसंख्यक का सबसे बड़ा वर्ग
समाज , हर क्षेत्र में उत्तर प्रदेश में . उनके
यह भी शैक्षिक और आर्थिक विकास और
उनके जीवन और संपत्ति और धर्म की पूर्ण सुरक्षा
यह सुनिश्चित किया गया . इसके अलावा, सहित द्वारा
मुसलमान से आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों को
समाज पिछड़े वर्ग की सूची में , हमारी पार्टी के
उपलब्ध कराया पहली बार सरकार
सरकार में आरक्षण की उन्हें ” सुविधा
नौकरी और उत्तर प्रदेश में अन्य क्षेत्रों ” .

    के मामले में एक नई पहल
 
” आरक्षण ” : ” आरक्षण ” के मामले में
इसके अलावा, कार्यालय में सब हमारे नियमों दौरान हम मैं उत्तर
प्रदेश बैकलॉग की मंजूरी दे दी हो गया है
के लोगों की ” आरक्षण ” कोटा
अनुसूचित जाति ( एससी) / अनुसूचित जनजाति (अजजा )
और अन्य पिछड़े वर्गों (ओबीसी) के लिए लंबित
सरकारी सेवाओं और अन्य क्षेत्रों में साल के लिए
एक के रूप में एक spacial भर्ती अभियान के संचालन से
परिणाम इन वर्गों के लोगों को मिला है जो की
” एक बड़े पैमाने पर स्थायी रोजगार “
और विश्वास की एक नई तरह की उत्पन्न किया गया
इन वर्गों के लोगों के बीच .

    इसके अलावा , सुविधा उपलब्ध कराने के लिए
” माननीय जैसे क्षेत्रों में ” आरक्षण ” की
Judiciaary , मंत्रियों , राज्य सभा की परिषद
विधान परिषदों और निजी क्षेत्रों ” आदि में
यह अभी तक नहीं किया गया है , जहां देश
अनुसूचित जाति के लोगों के लिए उपलब्ध /
अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़े
केन्द्र सरकार द्वारा कक्षाएं, हमारी पार्टी के
केन्द्र सरकार के साथ संघर्ष है
लगातार जारी है. इसी समय,
अथक प्रयास हमारी पार्टी के लिए द्वारा बनाया जा रहा है
एक में आरक्षण का लाभ हासिल
अतिरिक्त रास्ता , प्रावधान के बरकरार रखते हुए
उन लोगों के लिए , वर्तमान में तय आरक्षण के रूप में
में अनुसूचित जातियों / अनुसूचित जनजातियों की
धार्मिक रूपांतरण के माध्यम से है जो देश
साथ लेकर , ईसाई या मुसलमान बनने
भी में केन्द्र सरकार उनके समावेश
अनुसूचित जातियों / अनुसूचित जनजातियों की सूची .

    इसके अलावा , की सरकारों
कांग्रेस पार्टी , भाजपा और अन्य विपक्षी दलों
एक सुविचारित षड्यंत्र के तहत लगे हुए हैं
धीरे - धीरे की सुविधा खत्म करने की कोशिश में
के लोगों को अनुसूचित जो आरक्षण ,
जाति (एससी) / जनजाति (अजजा ) अनुसूचित और
अन्य पिछड़ा वर्ग ( ओबीसी ) में हो रही है
” सरकार में सरकारी सेवाओं
विभागों ” और ” केंद्रीय संस्थानों ” और
अथक की becausee देश में राज्य स्तर
सबसे श्रद्धेय बीबीए साहेब डॉ. भीमराव के प्रयासों
अम्बेडकर , ” निजी खत्म करने के लिए इन सौंपने से
एक बड़े पैमाने पर क्षेत्र ” जब की सुविधा
आरक्षण इन करने के लिए अभी तक उपलब्ध नहीं है
में केंद्रीय और राज्य स्तर पर नौकरियों में कक्षाएं
निजी क्षेत्र की. और ऐसी स्थिति में , एक दिन
आएगा जब पूरी संवैधानिक सुविधा
इन कक्षाओं में स्वचालित रूप से करेंगे के लिए आरक्षण की
एक को समाप्त करने के लिए आते हैं. हमारी पार्टी बहुत ” गंभीर और है
इस मामले पर और इस संबंध में “चिंतित
इन वर्गों के लोगों को देश भर में भी
बहुत ” सतर्क और जागरूक ” होने की जरूरत है .

    इस संदर्भ में , यह हमारी पार्टी का मानना ​​है
उस के आरक्षण के इस संवैधानिक सुविधा
अनुसूचित जातियों / अनुसूचित जनजातियों और अन्य पिछड़े वर्गों के लोग रह सकते हैं
सुरक्षित और यह सुविधा उनके लिए सुरक्षित किया जा सकता है
यह अभी तक उपलब्ध नहीं है उन क्षेत्रों में जहाँ केवल
इन लोगों की सरकार बनाने के लिए जब उनके
केंद्र में अपनी पार्टी , बसपा , देश में ,
यह भी अमेरिका में है कि और एक के साथ
इस के ” मुंहतोड़ सबूत ‘ गठन है
के रूप में उत्तर प्रदेश में हमारी पार्टी की सरकार की
बसपा का पहला और एकमात्र सरकार है
देश ” पूरी गारंटी ” यह सुनिश्चित किया है करने में
की मौजूदा सुविधा बरकरार रखने की
यहां तक ​​कि किसी भी सौंपे जाने के बाद आरक्षण
” सरकारी विभाग ” और ” संस्था “
निजी क्षेत्र के लिए उत्तर प्रदेश .

    इसी समय, इस मामले में हमारी पार्टी
आरक्षण के लिए पहली बार बनाया गया है एक
प्रावधान है कि अगर सरकार का काम करता है
विभागों किसी भी ” निजी करने के लिए दिया जाता है
संस्था ” या ” तो , अनुबंध पर ” व्यक्तिगत
आरक्षण की इसी प्रतिशत जारी रहेगा
अनुसूचित जातियों , अनुसूचित जनजातियों और के लोगों को दिए जाने की
वे में मिल रहा है के रूप में ओबीसी वर्गों
सरकारी विभागों .

    इसी समय, इस मामले में हमारी पार्टी
पूरे देश में ” आरक्षण ” के समर्थक है
गरीबों को अलग आरक्षण देने की
Savarna ( सवर्ण ) से लोग
आर्थिक आधार पर समाज , जो होगा
केवल “सेंट्रल से कार्यान्वित किया जाना है
संशोधन करके सरकार “देश के
संविधान . इसलिए, कई बार पत्र
हमारी सरकार द्वारा लिखा गया है
अलग देने के लिए सरकार को पार्टी
एक पर इन वर्गों के लिए आरक्षण
हमारा आर्थिक आधार , लेकिन इस सुझाव
अब तक केन्द्रीय द्वारा स्वीकार नहीं किया गया है
किसी भी पार्टी की सरकार .

    लेकिन इस संबंध में , मैं आश्वस्त करना चाहते
” Savarna सोसायटी ” के लोगों कि जब एक
हमारी पार्टी की सरकार बनी है , तब हमारी
पार्टी की सरकार एक सार्थक बनाना होगा
उनकी गरीबी और दूर करने का प्रयास
बेरोजगारी भी निश्चित रूप से बनाने के द्वारा
उन्हें आरक्षण की सुविधा उपलब्ध
ऐसा करने के लिए उनके द्वारा कहा जा रहा है बिना . और भी
अन्यथा इसके बारे में आप लोगों के लिए जाना जाता है
हमारी पार्टी करता है कि हमारी पार्टी की कार्य शैली क्या
यह दूसरे शब्दों में , कोई अंतर नहीं है , कहते हैं
दावे और हमारी पार्टी के कामों , इस बीच
अब तक सभी के लिए जाना जाता है.

    अपनी पार्टी की सरकार ने भी कर दिया गया है
सामाजिक “पर पूरी तरह से संवेदनशील और गंभीर
साथ साथ लोगों को सुरक्षा “लाभ
” आरक्षण ” की संवैधानिक सुविधा . इसलिए,
हम वृद्धावस्था / किसान की राशि में वृद्धि हुई है
300 को 150 से पेंशन . वही पर
समय , तुरंत सरकार द्वारा राष्ट्रों
से ” मजदूर ” की दैनिक मजदूरी में वृद्धि हुई
रुपये के लिए 58 . 100 वे सबसे गरीब हैं के रूप में
और कमजोर वर्ग और ज्यादातर में आते हैं
“कृषि ” मजदूर ” की श्रेणी और किसके लिए
कोई ध्यान भी पहले हो , क्योंकि भुगतान किया गया था
के अपने आयोजन नहीं किया गया है.

    एक ही समय में, हमारी बसपा सरकार
उत्तर प्रदेश में है बजाय देने की
” बेरोजगारी भत्ता ” युवाओं को प्रदान की
आत्म - सम्मान और साथ जीने के लिए एक अवसर के साथ
साथ प्रदान करके आत्मनिर्भरता
” स्थायी रोजगार के अवसर ” .
इन के अलावा, मेरे हिस्से की सरकार है
गरीबों के हितों का पूरा ख्याल रखा और
सर्व समाज के रूप से बेरोजगार लोगों को
भी “किसान ” , “श्रमिकों ” , ” व्यापारियों ” और
लोग अन्य व्यवसायों में लगे हुए है और है
उनके हित में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिया .

    इन कार्यों , हमारी पार्टी के साथ साथ
उत्तर प्रदेश में सरकार पूरी दिया गया है
महान संतों , गुरुओं और के लिए आदर और सम्मान
Mahapurush ( महान पुरुषों ) समय से करने के लिए पैदा हुआ
कई बनाकर बहुजन समाज में समय
” नए जिलों , विश्वविद्यालयों , अस्पतालों और
संग्रहालयों और कई अन्य महत्वपूर्ण
स्थान ” के बाद उन्हें निकाला गया था.

    यहाँ, मैं भी यह कहना चाहते हैं कि
peole अनुसूचित जातियों के / अनुसूचित जनजातियों, पिछड़े और अन्य
उपेक्षित समाज ( वर्ग) शिकार हो गया है
ज्यादतियों और विभिन्न प्रकार के अत्याचारों की
एक cattiest वाले लोगों द्वारा बढ़ावा
आज तक आजादी के बाद से मानसिकता और वे
समय में और एक में ” पूर्ण न्याय नहीं मिल रहा है कर रहे हैं”
उचित और संतोषजनक ढंग से . लेकिन हमारी पार्टी
नहीं होगा पर केंद्र में सत्ता में आने पर
सभी की अनुमति ” अन्याय और शोषण ” किसी भी प्रकार की
समाज के किसी भी वर्ग के लिए और क्या करना होगा
” सभी के लिए न्याय ” और पूरी तरह से स्थापित करने से एक
पूरे देश में “कानून द्वारा कानून का शासन” .
जैसे उत्तर प्रदेश में और इस तरह से पैदा होगा
अन्याय , अपराध से मुक्त एक वातावरण ” ,
शोषण और डर ‘

    एक ही समय में , क्योंकि के अभाव की
पर्याप्त विकास और बड़े पैमाने पर अन्याय ,
शोषण , गरीबी और मनहूस हालत
हमारे देश में विभिन्न क्षेत्रों में , लोग हैं
” नक्सलवाद ” का पथ , और केंद्र अपनाने
और राज्य सरकारों को अभी तक नहीं दिया है
उन्हें , लेकिन हमारी पार्टी की ओर उचित ध्यान
तुरंत केंद्र में सत्ता संभालने पर
एक ” स्थायी लगाने के लिए हर संभव प्रयास करना होगा
अपने सभी समस्याओं का हल ” और भी कर देगा
मुख्य धारा में लाने के लिए उन्हें पूरा प्रयास
उन्हें प्रदान करके विकास प्रक्रिया का
” स्थायी रोजगार ” के अवसर .

    इसके अलावा , ” आतंकवाद ” हो गया है
बड़ी चुनौती अतीत में हमारे देश पहले
कुछ साल , जिनमें से मुख्य कारण हैं
भी केन्द्र सरकार की कमजोरियों और
पार्टी सत्ता में है , जो भी भी कुछ करना है
हद उस में एक निहित राजनीतिक हित . लेकिन हमारी
पार्टी केंद्र में सत्ता में आने पर होगा
भी इस ओर पूरा ध्यान दे .

    राष्ट्रीय की जहां तक ​​सवाल
ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना है
चिंतित , उपलब्ध कराने का प्रावधान है
एक में केवल 100 365 से बाहर दिनों के लिए रोजगार
वर्ष योजना के तहत है और वह भी केवल के लिए
एक परिवार के एक बेरोजगार सदस्य है. लेकिन पर
तब केंद्र में सत्ता में आने के , हम ऐसे चलेंगे
रहने वाले गरीब और जरूरतमंद लोगों के लिए एक योजना
सभी के रूप में होगा देश भर में ग्रामीण क्षेत्रों में
भर में उन्हें ” रोजगार के लिए सुनिश्चित
वर्ष , यानी , एक वर्ष के सभी 365 दिन ” से
पुनर्गठन / मौजूदा विभिन्न युक्तिसंगत
कल्याणकारी योजनाओं .

    उसी समय, यह भी कोई रहस्य है
किसी को भी है कि 63 से अधिक वर्षों के लंबे शासन के दौरान
कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी और उनके समर्थन की
पार्टियों , ” खेत , खेती और किसानों ” है
एक बड़े पैमाने पर उपेक्षा की गई ; दूसरे शब्दों में, में
बड़े / भारी उद्योगों को प्रोत्साहित करने की प्रक्रिया
गंभीर इन दलों की सरकारों के तहत
लापरवाही हितों की दिशा में दिखाया गया है
और ” कृषि क्षेत्र और किसानों ” का कल्याण .

    यही नहीं, बल्कि इस में बने न केवल
cattiest और सामंती मानसिकता अब भी,
केन्द्र सरकार ने कांग्रेस पार्टी के नेतृत्व में
बजट में घोषणा की केवल कुछ रियायतें
वर्ष 2007-08 के बड़े किसानों का एक मुट्ठी भर लाभ के लिए .
इस तरह की घोषणाओं आम तौर पर पहले से बना रहे हैं
चुनावों जिसकी वजह से उनके वास्तविक लाभ
लोगों को जमा करता है .

    इसी समय, कोई चिंता नहीं दिखाया गया है
कौन हैं देश में ऐसे किसानों के करोड़ों के लिए
के अत्यधिक दरों पर ऋण के तहत कराहना
साहूकारों से हितों . वे का गठन
के बारे में 46 प्रति किसानों की कुल संख्या का प्रतिशत और
अधिकतम करने के लिए सरकारी सहायता की जरूरत है तो
वे करने से रोका जा सकता है
आत्महत्या . लेकिन केंद्र और राज्य
सरकारों को सुधारने के लिए कुछ नहीं किया है
परिवारों और किसानों के करोड़ों के नीच बहुत सारे .

    इस प्रक्रिया में एक और कड़वा सच तो यह है कि
गरीब और असहाय लोगों की भूमि है
बड़े / भारी स्थापित करने के लिए अधिग्रहण किया गया
उद्योगों , लेकिन उन्हें रोजगार नहीं दिया गया है
उन उद्योगों में से भी न्यूनतम आदेश
जिसकी वजह से लोगों का जीवन
” आदिवासी ( अनुसूचित जनजाति) समाज ” में
विशेष अभी भी अधिक मुश्किल हो गया है . दौरान
कांग्रेस और भाजपा का शासन है, यह है
शोषण की ऊंचाई , लेकिन हमारी पार्टी के लिए चाहता है
” एक सम्मानजनक पेशा खेती” बनाते हैं.

    इतना ही नहीं, हमारे पथ देखना चाहता है
किसानों के जीवन में खुश और समृद्ध .
अपने पहले ही साल में हमारा बसपा सरकार पड़ा
एक अत्यंत महत्वाकांक्षी ” गंगा पर काम शुरू किया
नोएडा (दिल्ली ) से , ” तरीका एक्सप्रेस
बलिया , बिहार की सीमा से बदल सकता है जो
के बारे में आधे के चेहरे और भाग्य के आसपास
‘ राज्य और एक ही समय में सुधार हो सकता था
एक बड़े पैमाने पर किसानों के भाग्य का है, लेकिन यह नहीं था
सेंट्रल से पर्याप्त सहयोग मिल
इस उच्च महत्वाकांक्षी परियोजना के लिए सरकार .

    इसके अलावा , एक उचित उपयोग का बनाया जाएगा
देश में ” प्राकृतिक संसाधन ” के लिए
की आर्थिक हालत में सुधार
प्राकृतिक के लोग हैं. “अच्छा और उचित उपयोग
पूर्ण और ईमानदार प्राकृतिक संसाधनों में “
ब्याज में सुधार लाने में बड़ी भूमिका निभा सकते हैं
यहां के लोगों के जीवन के मानक . हम में हैं
की समस्या का हल प्रदान करने के पक्ष
बनाकर स्थानीय स्तर पर बेरोजगारी
क्षेत्र के ही ” इष्टतम उपयोग छोटे संसाधनों ” .

    इसी समय, खेती के लिए भूमि फिट की
और सरकार के साथ खाली पड़े
नहीं किया जा रहा है जो पूरे देश में
3 एकड़ जमीन ” की दर पर इस तरह के” परती भूमि ” होगा
उत्तर की तर्ज पर ” फ्री वितरित किया
सर्व के लोगों को खेती के लिए प्रदेश
गरीब और को प्राथमिकता देकर समाज
अनुसूचित जाति / एस / अनुसूचित जनजातियों और पिछड़े के बेरोजगार peole
कक्षाओं . इतना ही नहीं , बल्कि गांवों , kasbas ,
कस्बों और पूरे देश में बड़े शहरों होगा
की तर्ज पर विकसित किया जा “डॉ.
अम्बेडकर ग्राम विकास योजना ” और
” Manyawar कांशीराम जी शहरी समग्र
विकास योजना ” उत्तर प्रदेश में तैयार कर लिया .

    इस प्रकार, हमारी पार्टी सत्ता में आने के बाद
केंद्र में “आर्थिक फ्रेम होगा
रखने के द्वारा हर क्षेत्र में देश की नीति “
तब के लिए सर्व समाज के मद्देनजर हित में
केवल ” Sarvajan Hitaye के बारे में हमारी पार्टी की सपना देख सकते हैं
और Sarvajan Sukhaye ” महसूस किया जा . वही पर
समय , हमारे हर आर्थिक नीति होगी
सामान्य करने के लिए ” उचित लाभ तक पहुँचने के लिए बनाया गया
” सार्वजनिक , और यह बनाता है एक तरह की नहीं होगी
के रूप में ” गरीब और अमीर अमीर और गरीब ” है
कांग्रेस के शासन के दौरान हो गई
अब तक भाजपा और उनके समर्थन पार्टियों .

    इसके अलावा , में सत्ता में आने पर
केंद्र , हमारी सरकार की “विदेश नीति ” में
हर मामले में पूर्ण बिल्कुल होगा
सर्व की ब्याज देश samajand ; में
दूसरे शब्दों में, विदेश नीति बनाते समय और
अंतरराष्ट्रीय समझौतों विशेष देखभाल तक पहुँचने
देश की सुरक्षा का लिया जाएगा
के रूप में भी देश के सम्मान , स्वाभिमान की और
संप्रभुता , यह जिस तरह से गिरवी नहीं होगा
यह कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन द्वारा किया गया था
में भारत में प्रवेश करने के सरकार , जबकि
2008 के वर्ष में अमेरिकी न्यूक्लियर डील .

    संक्षेप में , यह हमारी पार्टी का विवाद है
कि अगर ” बहुजन समाज के लोगों और
 
सवर्ण समाज ” सब कुछ खत्म बनाना चाहते हैं
कि जैसा माहौल सुनिश्चित करता है देश
बसपा उत्तर प्रदेश की सरकार द्वारा द्वारा
एक “आत्म सम्मान का जीवन ” लोगों के लिए सुरक्षित,
वे के ” मास्टर कुंजी लेना होगा
अपने ही हाथों से में राजनीतिक शक्ति “
लोकसभा सामान्य रूप में एक अच्छा परिणाम दिखा
चुनाव अब देश में आयोजित किया जा रहा है .

    लेकिन इस में सफलता , वे प्राप्त करने के लिए
निश्चित रूप से कई ” के खिलाफ सावधान रहना होगा
” Saam , Daam , Dand , Bhedh ” की तरह रणनीति
( ख़ुशामद , प्रलोभन , बलात्कार , विभाजनकारी
राजनीति ) आदि , विपक्षी दलों की वजह
विपक्षी दलों को नुकसान करने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं
हमारी पार्टी और अपनी चुनावी संभावना .

    और इस संबंध में विपक्षी दलों में
यह देखना पूरा प्रयास करने होंगे कि हमारी
पार्टी किसी भी कीमत पर की वोट प्राप्त नहीं कर सकते
सवर्ण समाज के लोगों को , और इस के लिए ,
विपक्षी दलों को भी पेश करने के लिए कोशिश कर सकते हैं एक
हमारी पार्टी की ” विचारधारा और के बारे में विकृत चित्र
नीतियों ” , जबकि की विचारधारा और नीतियों
हमारी पार्टी किसी भी जाति और धर्म के खिलाफ नहीं हैं ,
बल्कि ” बसपा की भावना में एकजुट करना चाहती है
ब्रदरहुड लोग इस में खंडित
आदेश में जाति और वैन के आधार पर देश
यहां एक ‘ मानवता के आधार पर equalitarian स्थापित करने के लिए
की पूरी हित में है , जो सामाजिक व्यवस्था ‘ ,
सर्व समाज और देश एक जिसमें सभी
लोग बराबर हैं और आपसी भाईचारे का साझा
भावनाओं , तब ही अन्यायी सामाजिक
उखाड़ा जा देश में प्रचलित आदेश.

    और सामाजिक “के इस मिशनरी काम में अगर
परिवर्तन ” , के लोगों को ” ऊपरी
बहुजन ” भी साथ साथ ” जाति समाज
समाज ” उनके सहयोग , दरवाजे का विस्तार होगा
में प्रवेश के लिए ऐसे लोगों के लिए खुला पाया जा
और बहुजन समाज पार्टी में उन्नति .

    इस संबंध में, मैं भी स्पष्ट है, यह सुनिश्चित करने के लिए इच्छा
यहाँ कि हमारे की ” विचारधारा और नीतियों था”
पार्टी ” सवर्ण समाज ” , के खिलाफ की गई क्यों
हमारी पार्टी इन के लोगों को रखा गया होता
अपने में राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर वर्ग
संगठनों ? इसके अलावा , यह क्यों उतारा गया होता
लोकसभा और विधानसभा चुनावों में उन्हें
अपने टिकट और उन्हें दिया सम्मानजनक स्थिति पर
उत्तर में अपनी सरकार के गठन पर मंत्रियों की
प्रदेश ? दूसरे शब्दों में , विचारधारा और सभी
हमारी पार्टी की नीतियों समर्थक सर्व समाज हैं
और आदर्श मानवतावादी सिद्धांत के आधार पर
” Sarvajan Hitaye और Sarvajan Sukhaye ” .

    इसके अलावा , यह भी स्पष्ट है, यहाँ करना चाहते हैं
कि बसपा की ” विचारधारा और नीतियों ” के बारे में कि
एक ” equalitarian सामाजिक व्यवस्था ” होने के लिए नहीं जा रहा है
केवल आयोजन से देश में स्थापित
अकेले ” बहुजन समाज ” के लोग . इस के लिए,
हम भी उच्च जाति के साथ ले जाना होगा
” सामाजिक brothrhood ” द्वारा के आधार पर हिंदुओं
उनके cattiest मानसिकता बदल रहा है , तो केवल एक
एक वास्तविक अर्थों में ” equalitarian सामाजिक व्यवस्था ” , में
के वास्तुकार की सोच के अनुसार
देश का संविधान बाबा साहेब डॉ. भीमराव
अम्बेडकर , हमारे देश में स्थापित है, और किया जा सकता है
यह सर्व समाज हो सकता है कि केवल इस के बाद है
पूरी तरह से एकजुट है और ” उच्च ” और “कम” के विभाजन और
जाति और धर्म समाज में समाप्त हो सकता है
यहां कभी और तब के लिए ही लोगों को मिल सकता है
जीवन के हर क्षेत्र में आगे बढ़ाने का पूरा मौका .

    लेकिन बसपा के लोगों को सहन करना होगा
इस मन में है कि कांग्रेस , भाजपा और उनके
समर्थन पार्टियों हमारी पार्टी के लिए अनुमति नहीं दी जाएगी
केंद्र में यहाँ इतनी आसानी से सत्ता में आई और
में सत्ता में कॉम से हमारी पार्टी को रोकने के लिए
केंद्र सभी विपक्षी दलों का प्रयोग करेंगे
चापलूसी की तरह हर तरह के “रणनीति ,
प्रलोभन , बलात्कार , विभाजनकारी राजनीति
आदि , ” और पार्टी के लोगों को करना होगा
हर कदम पर इसके खिलाफ बहुत सतर्क .

    क्या मतलब है इस बात का समय है
में आयोजित किया जा रहा लोकसभा आम चुनाव
देश , सभी विपक्षी दलों को प्रभावित कर सकते हैं
” प्रलोभन के साथ आपको गुमराह करके अपने वोट
और विभिन्न प्रकार के आश्वासनों ” . इस कारण से,
यह बसपा समर्थकों और शुभचिंतकों को मेरी सलाह है
आप सभी प्रकार के खिलाफ पूरी तरह से सतर्क रहना होगा कि
कांग्रेस , भाजपा और द्वारा नियोजित रणनीति की
चुनाव के दौरान उनके सहयोगियों .

    और इस संबंध में क्या गुण विशेष
यहां ध्यान देने की है कि जब भी इन विरोध
पार्टियों केंद्र में वहां की सरकारों की है और
राज्यों , तो पहले 3-4 साल के लिए वे करते हैं
के हितों के बारे में भी थोड़ा परेशान नहीं
अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति , अन्य
पिछड़ा वर्ग ( ओबीसी ) , धार्मिक अल्पसंख्यकों और
अपर से गरीब और बेरोजगार लोगों
जाति और किसानों , मजदूरों, व्यापारियों , कर्मचारियों
और लोगों को अन्य व्यवसायों में लगे हुए है, लेकिन
चुनाव का समय करीब आता है जब
इन वर्गों के हितों के अचानक लिए आते हैं
ये तो इन विपक्षी दलों के मन और
पार्टियों अलग से ” चुनावी रणनीति ” का उपयोग शुरू
ऐसे कई लोकलुभावन कानून बनाने के रूप में सभी प्रकार के और
छात्रवृत्ति का वितरण उनके हित में नियमों , ,
सस्ता गेहूं और चावल और अन्य लोकलुभावन राहत
विभिन्न प्रकार के कार्य करता है. लेकिन चुनाव कर रहे हैं एक बार
पर, इन विपक्षी दलों को इन कानूनों का इलाज
और नियमों कचरा के रूप में और में उन्हें त्यागने
कचरा बिन और आदि राहत का काम करते हैं, तो
अगले चुनाव तक समाप्त हो जाता है .

    इसके अलावा , प्रयास भी किया जा सकता है
garners को चुनाव के दौरानविपक्ष के बराबर संबंधों
अलग की अफवाहें फैलाने से अपने वोट
प्रकार भी हमारी पार्टी के लोगों की जरूरत है जो के खिलाफ
बेहद सतर्क रहने के लिए . उसी समय, यह है
मेरी भी लोगों को ” अपील” और
आप पूरी तरह से सतर्क रहना ” कि बसपा के समर्थकों ,
आपका वोट अमूल्य है , अपने की है कि कोई भी सुनिश्चित
वोट खरीदा जा सकता है और न ही लूट लिया जा सकता है.
यह uncast रह गया है और न ही यह किसी भी दुरुपयोग के न
स्वार्थी तत्व जाति के नाम पर आप फुसलाना
और धर्म, धन बल का या उकसाने से
मंदिर और मस्जिद के मुद्दे पर भावनाओं को ,
दूसरे शब्दों में , आपको लोकतंत्र की रक्षा के लिए है
सब आपके साथ हो .

    इसलिए, सर्व के हित में
समाज , अपने अपने राज्य और देश ,
आप में केंद्र में सत्ता सौंपना है
सही पार्टी के हाथ , कि बहुजन समाज है
पार्टी (बसपा) इतना है कि पार्टी की सरकार
इस शक्ति से हर एक फ्रेम कर सकते हैं के माध्यम से अपने
के अनुसार जीवन के हर क्षेत्र में नीतियों
” Sarvajan Hitaye और का सिद्धांत
Sarvajan Sukhaye यानी , प्रगति और
सभी ” के लिए समृद्धि और इस तरह जीवन बनाने
” बहुजन समाज और गरीब और बेरोजगारों की
ऊपरी / उच्च जाति समाज के लोग खुश और
एक सम्मानजनक तरीके से समृद्ध . “

इन सभी मामलों में रखते हुए अंत में
देखें , मैं सभी समर्थकों को इस ” अपील” बनाने
बसपा के अनुयायियों और शुभचिंतकों कि वे
किसी भी लोकलुभावन वादों से भ्रमित नहीं होना चाहिए
विपक्ष की ” चुनाव घोषणापत्र ” में किए गए
पार्टियों , दूसरे शब्दों में , वे केवल पर कार्य करना चाहिए
उनकी ही पार्टी और चाहिए की इस ” अपील”
यह सामान्य में सभी बसपा उम्मीदवारों बनाने
चुनाव लोकसभा विजयी के लिए आयोजित किया जा रहा

B.S.P. का सामना करना पड़ बटन दबाने से चुनाव
उनकी पार्टी का प्रतीक ‘हाथी’ . मैं पूरी तरह से है
मेरी पार्टी के लोगों से यह अपेक्षा ,
अपने समर्थकों और शुभचिंतकों .

जय भीम , जय भारत

( कुमारी मायावती ) से अपील
राष्ट्रीय अध्यक्ष ,
बहुजन समाज पार्टी (बसपा )

डॉ. भीमराव अम्बेडकर सामाजिक Parivarthan स्थल ,
निर्मित एक वास्तुशिल्प चमत्कार
बहन मायावती जी ने
उत्तर प्रदेश की सरकार
में नदी गोमती के बैंक में
सम्मान और संतों का सम्मान ,
गुरुओं और Mahapurush
अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति में पैदा (ग्रेट पुरुष) और
अन्य पिछड़ा वर्ग ( ओबीसी ) समाज
Manyawar श्री Kanshi
राम जी स्मारक स्थल ,
वीवीआईपी पर लखनऊ
रोड श्री के लिए समर्पित है
कांशीराम जी , जो
अपना जीवन समर्पित और
देने के लिए एक बहुत बलिदान किया
मानवतावादी को गति
‘ स्वाभिमान ‘ आंदोलन
बाद में हंगामा हो गया , जो
बाबा साहेब का निधन
डा. भीमराव अम्बेडकर .

गौतम बुद्ध
युनिवर्सिटी, नोएडा ,
गौतम बुद्ध नगर
राष्ट्रीय निकट जिला
राजधानी नई दिल्ली में एक है
उच्च की संस्था और
जहां सीखने अग्रिम
अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के गरीब छात्रों को ,
ओबीसी , धार्मिक अल्पसंख्यकों
और सवर्ण समाज
करने का अवसर दिया गया
में उच्च शिक्षा के लिए जाना
यूरोप और अमेरिका .

Manyawar श्री कांशीराम जी शहरी गरीब आवास योजना

शहरी गरीबों के लाखो
से संबंधित परिवारों
सर्व समाज थे
अपने स्वयं के पक्के दी
अत्यधिक तहत घर
महत्वाकांक्षी ” Manyawar
श्री कांशीराम जी
शहरी गरीब आवास
बहन द्वारा योजना “
मायावती जी सरकार. में
उत्तर प्रदेश .

    विचारधारा और B.S.P. की नीतियों हैं
सही मायने में समर्थक लोगों और पूर्ण हित में
सर्व समाज की , समाज के सभी वर्गों के रूप में
यह पोषित मानवीय लक्ष्य पर आधारित है
” Sarvajan Hitaye और Sarvajan Sukhaye की
(सभी के लिए प्रगति और समृद्धि ) “

B.S.P. की जीत सुनिश्चित उम्मीदवारों
का सामना करना पड़ बटन दबाने से
B.S.P. चुनाव चिन्ह ‘हाथी’
इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों में ( ईवीएम )

B.S.P. की पहचान है
ब्लू फ्लैग और हाथी प्रतीक
 
14anim.gif



comments (0)