Analytic Insight Net - FREE Online Tipiṭaka Research & Practice Universitu 
in
 112 CLASSICAL LANGUAGES
Paṭisambhidā Jāla-Abaddha Paripanti Tipiṭaka Anvesanā ca Paricaya Nikhilavijjālaya ca ñātibhūta Pavatti Nissāya 
http://sarvajan.ambedkar.org anto 105 Seṭṭhaganthāyatta Bhāsā
Categories:

Archives:
Meta:
April 2014
M T W T F S S
« Mar   May »
 123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
282930  
04/07/14
india flag 1163 LESSON 8414 TUESDAY FREE ONLINE E-Nālanda Research and Practice UNIVERSITY Email me at awakenmedia.prabandhak@gmail.com chandrasekhara.tipitka@gmail.com RESEARCH on Misuse of EVM machines: An appeal to the Honourable Chief Justice
Filed under: General
Posted by: site admin @ 6:16 pm








india flag


1163 LESSON 8414 TUESDAY  FREE ONLINE E-Nālanda Research and Practice UNIVERSITY


Email me at
awakenmedia.prabandhak@gmail.com
chandrasekhara.tipitka@gmail.com

Behan ji ka raj chalega! Sarvsamaj sath chalega!!

RESEARCH on Misuse of EVM machines:

An appeal to the
Honourable Chief Justice

21) Classical English

http://www.business-standard.com/article/elections-2014/bjp-manifesto-comprehensive-but-implementation-is-key-analysts-114040700370_1.html


Logo

http://www.theindianrepublic.com/featured/narendra-modi-addresses-rallies-bijor-aligarh-uttar-pradesh-100031654.html
The Indian Republic



This most fearful 58″ chested barbarian “culprit of Godhra” who belong to the stealth cult RSS;s Bahuth Jiyadha Paapi scare the voters with their intolerance, hatred, anger, jealousy all defilement of mind which is nothing but a mental disease and required treatment in mental asylum and not in parliament. To day many leaders of different parties agree with this for this country belongs to all as a single race. There is a shadow boxing going on between this 58″ chested barbarian culprit and the original owners of the cult. The country is
not afraid of this cult.

Only the non tamper proof EVMs could help them because the Election Commission does not have members belonging to sarvasamaj as The Election Commission has failed to implement the Superior Courts order to replace all the EVMs. Instead 385 of the 543 Lok Sabha constituencies have been replaced by VVPT  machines.

New voter verifiable paper trail (VVPT) machines to replace the EVMs, following doubts that it could be tampered which means
that ever since the EVMs came into existence free and fair elections were not taking place and results were to the whims and fancies of the
Election Commission. Voting Machines are “Calculators which can be manipulated by computer softwares”. New Machines are ordered by EC, where a paper slip will come out with EVM voting which will be then deposited in a box. What is the use? Paper Slip will show that voter has casted vote for “Party A”, but calculator software will add vote to “Party B”! The Computers are programmable. No use for such fake paper slips. In Superior Courts it has been demonstrated how these computers can be manipulated and how it can be pre-programmed to make sure victoryto one candidate during election. The EVM machines have killed Democracy and have all the potentials to do so.

Under such circumstances the following exposure by media will have no relevance in the forth coming General Elections until the Superior Court and the upholders of Democracy including the free and fair media awaken the voters.

A Chip can be inserted that “Party A” should get +1 more vote than “Party B” no matter what may be the actual voting.

These are called “Overwriting Commands”. Computers are computers. They can be programmed and re-programmed.

Ruling Party and Election Commission of India disregards truth and insisted on use of EVM machines in Elections. They are source of discriminative Caste bias. Ms Mayawati became Chief Minister of Uttar Pradesh for the fourth time with her policy of Sarvajan Hithay Sarvajan Sukhay. with thesupport of sarvasamaj i.e., all societies. But in the last assembly elections she lost because the CEC ordered for draping all the ELEPHANT  symbols of BSP and statues of SC/ST/OBC icons were also draped. There is an apprehension that the EVMs were also tampered to defeat her. Where  as many states went for elections after the UP elections. But the CEC
never ordered for draping the symbols of Congress, BJP, SP, AIADMK  etc.,including the 2014 Lok Sabha elections. The statues of upper caste leaders’ have not been ordered to be draped. Hon’ble Chief Justice may be pleased to include all sections of the society to represent in the Election Commission for level playing ground and till such order implemented the elections may be postponed.

People and Other Election Candidates have some Constitutional Rights which are being violated by use of EVM machines. Open Source Code is not being made public. People have right under Art 21 to live a life of Dignity. You cannot live a life of Dignity without free and fair elections.

The Courts have to be further convinced that they have jurisdiction to pass orders which are being asked, and it is practicable and desirable to  issue such prohibitory orders. It is DUTY of Court to uphold Constitution by passing such prohibitory orders. ElectionCommission is a Government body and hence if it acts arbitrarily it violates Art.14.

If Election Commission does not ADMIT that machines are capable of manipulation, it acts arbitrarily and its Decision Process is vitiated. The Decision is Liable to be struck down on ground that the important components are kept out from decision making process.

It is Duty of Court to protect Basic Structure of Constitution. If Fair Elections are replaced with Manipulatable Elections, the Basic Structure of Constitution is DESTROYED. So it is Duty of Court to ban EVM machines. The Superior Courts of Most democratic countries have already banned such use.

The Court can strike down such arbitrary policy and decisions of EC.

ECmust first of all ADMIT that EVMs can be manipulated… Only thereafter it should further satisfy courts about what steps are taken by it to prevent manipulations.

Apart from Rights of People, there are Rights of Other Contesting Candidates to be considered. Where will they
appeal for a re-count? How can it be done on same manipulated EVM  machines?

Original method of ballot paper voting and counting in presence of representatives of Candidates, is still the best method as  recognized by US, UK, Germany etc countries.

Are our Courts powerful enough to take call and ban EVM machines which are already banned in other countries?

We have to see. Laws of other countries not applicable to India.

Our courts and our democracy are passing through a process.

It is hoped supporters succeed in their efforts to liberate country from Manipulative EVM machines.

OPEN SOURCE CODE OF EVM/VVPT MUST BE MADE PUBLIC for LEVEL PLAYING FIELD.

Appearing for the Centre, Attorney General GE Vahanvati informed a Bench of  Justices P Sathasivam and Ranjan Gogoi that the process of amendment was“underway”. In response to a letter written by EC on March 28, 2013, the Legislative Department of the Law Ministry had begun the work of preparing amendments to the Rules, which would be placed before the Parliament.

The Bench exclaimed, “We are happy that it has finally materialised. Now what remains is when we are to implement it.” All parties were in support of introducing the VVPT machines.

Despite all these

IN THIS WORLD OF GODS AND MEN, TOGETHER WITH MAARAS, BRAHMAS AND THE COMMUNITY OF RECLUSES AND BRAHMINS I DO NOT SEE ANYONE COULD CONFUSEVOTERS MIND, OR SPLIT THEIR HEART, OR TAKEN BY THEIR FEET COULD THROWTHEM TO THE OTHER BANK OF THE RIVER.

Maya ‘cautions’ Muslims over Modi

By Piyush Srivastava in Lucknow

BSP supremo Mayawati

BSP supremo Mayawati


With only five days left for
the first phase of polling on 10 seats of West UP, BSP supremo Mayawati
on Sunday called upon the Muslim voters to polarise against the BJP’s
prime ministerial candidate Narendra Modi.


Addressing a rally in Meerut on Sunday, she said they would pave the
way for the “culprit of Godhra” and face the music if they didn’t vote
for the BSP.

“Modi had
engineered Godhra and subsequent incidents in his own state in 2002. If
he becomes the PM by your mistake, then he will push the entire country
into communal fire,” she claimed.

“There
is every possibility that the BJP will win if you divided your vote
between the Congress, SP and BSP. Your vote to the Congress and SP will
go waste because they are not going to win. In that case, nobody can
stop the communal forces. But the BJP can be stopped if the Muslim
community doesn’t divide its vote and supports the BSP only,” she said.

Mayawati
claimed that Modi would do exactly what had happened in Gujarat in
2002. The fact remains that Mayawati had campaigned for Modi in assembly
elections after the 2002 riots in Gujarat.


Although the BSP supremo delivered a highly surcharged speech and
alleged that BJP’s in-charge of UP Amit Shah has already started working
to communally destabilise the state, it also became apparent that the
BSP would put the development issues on the backburner and focus on
creating fear psychosis in the minority community.

Meanwhile
a day before, BSP leader Wahab Chaudhary said that he would shorten
Modi’s chest from 56-inch to 22-inch. Chaudhary, an MLA from Muradnagar,
had said this on Saturday in a public meeting in Ghaziabad in presence
of Mayawati.

“The Gujarat
CM says he has a chest of 56 inches. But I want to say you come to UP
and I promise to make it smaller. This soldier of behen Mayawati will
slash it to 22 inches,” he had said.

Earlier
on Friday, Narendra Kashyap, Rajya Sabha member of the BSP, had
compared Modi with Gabbar Singh, a villainous character from Hindi film
Sholay, and dubbed both of them as equally cruel.

Before that, Moradabad candidate of the BSP, Haji Yaqub Qureshi, had called Modi a “barbarian.”

10) Classical Bengali

http://www.banglalive.com/News/Detail/8018/ec-may-cancel-polls-in-parts-of-bengal-if-mamata-banerjee-defies-transfer-order-sources


10) বাংলাদেশী বাংলা

গুলি
Bahuth Jiyadha Paapi তাদের অসহিষ্ণুতা , ঘৃণা , ক্রোধ , ঈর্ষা একটি
মানসিক রোগ কিছুই কিন্তু যা মনের সকল অপবিত্রতা সাথে ভোটারদের ভীতি ও
চিকিত্সার প্রয়োজন ; এটা হল সবচেয়ে ভীতিজনক 58 চৌর্য অর্চনা আরএসএস
অন্তর্গত যারা ​​Godhra হাজার অপরাধী ” ” অসভ্য chested ”
এই
দেশে একটি একক জাতি হিসেবে সব জন্যে জন্য মানসিক এসাইলাম মধ্যে এবং না
সংসদে . দিন বিভিন্ন দলের অনেক নেতা এই সাথে একমত . একটি ছায়া এই 58 এর
মধ্যে যাওয়া বক্সিং ” chested অসভ্য অভিযুক্ত ব্যক্তি ও অর্চনা মূল
মালিকদের নেই
. দেশ
এই অর্চনা ভয় পায় না .

নির্বাচন
কমিশন নির্বাচন কমিশন সব ইভিএম প্রতিস্থাপন সুপেরিয়র আদালতের আদেশ
বাস্তবায়ন করতে ব্যর্থ হয়েছে হিসেবে sarvasamaj একাত্মতার সদস্যদের তা
নয় , কারণ শুধু অ অবৈধ প্রভাব বিস্তার প্রমাণ ইভিএম তাদের সাহায্য করতে
পারে .
পরিবর্তে 543 লোকসভা নির্বাচনী হাজার 385 VVPT মেশিন দ্বারা প্রতিস্থাপন করা হয়েছে .

নতুন ভোটার যাচাইযোগ্য কাগজ লেজ এটি ক্ষতিগ্রস্ত হতে পারে সন্দেহ নিম্নলিখিত ইভিএম প্রতিস্থাপন ( VVPT ) মেশিন, যার মানে
ইভিএম অস্তিত্ব মধ্যে পরিপ্রেক্ষিতে যে বরাবর অবাধ ও সুষ্ঠু নির্বাচনের স্থান গ্রহণ করা হয় নি এবং ফলাফল whims এবং fancies ছিল
নির্বাচন কমিশন . ভোটিং মেশিন ” কম্পিউটার সফটওয়্যার দ্বারা কাজে ব্যবহৃত হতে পারে , যা ক্যালকুলেটর ” হয় . নতুন মেশিন একটি কাগজ স্লিপ তারপর একটি বাক্সে জমা হবে যা ইভিএম ভোটিং সঙ্গে আসা আউট হবে যেখানে ইসি , দ্বারা আদেশ হয় . ব্যবহার কি? কাগজ
স্লিপ ভোটার ” পার্টি একটি” জন্য ভোট casted করেনি , কিন্তু ক্যালকুলেটর
সফটওয়্যার ” পার্টি বি” করতে ভোট যোগ হবে যে দেখাতে হবে !
কম্পিউটার প্রোগ্রামযোগ্য হয় . যেমন জাল কাগজ slips জন্য কোন ব্যবহার . সুপেরিয়র
আদালত এটি এটা নির্বাচনের সময় এক প্রার্থী victoryto নিশ্চিত প্রাক
প্রোগ্রাম করা যাবে , কিভাবে এই কম্পিউটারের কাজে ব্যবহৃত হতে পারে এবং
কিভাবে প্রদর্শিত হয়েছে .
ইভিএম মেশিন গণতন্ত্র হত্যা ও তা করার সব সম্ভাবনা আছে আছে .

সুপেরিয়র কোর্টের এবং অবাধ ও সুষ্ঠু মিডিয়া সহ গণতন্ত্র এর সকল ডাকাত
ভোটার জাগ্রত না হওয়া পর্যন্ত এই ধরনের পরিস্থিতিতে মিডিয়া দ্বারা
নিম্নলিখিত এক্সপোজার ঘোষণা আসছে সাধারন নির্বাচন কোন প্রাসঙ্গিকতা থাকবে.

একটি চিপ ” পার্টি একটি” কোন ব্যাপার প্রকৃত ভোটিং হতে পারে কি ” পার্টি বি” আর ফোন: +1 বেশি ভোট পাওয়া উচিত যে ঢোকানো যেতে পারে.

এই ” মুছে কমান্ড ” বলা হয়. কম্পিউটার কম্পিউটারের হয় . তারা প্রোগ্রাম এবং পুনরায় প্রোগ্রাম করা যেতে পারে .

ভারতের ক্ষমতাসীন দল ও নির্বাচন কমিশন সত্য disregards এবং নির্বাচন মধ্যে ইভিএম মেশিন ব্যবহার উপর জোর দেন . তারা পক্ষপাত মূলক বর্ন পক্ষপাত এর উৎস. Ms মায়াবতী Sarvajan Hithay Sarvajan Sukhay তার নীতির সঙ্গে চতুর্থ বারের জন্য উত্তর প্রদেশের মুখ্যমন্ত্রী হন. sarvasamaj অর্থাত্ এর thesupport সাথে , সব সমাজে . সব
হাতি বিএসপি চিহ্ন এবং এসসি / এসটি / ওবিসি আইকন এর মূর্তি draping জন্য
আদেশ দেন সিইসি এছাড়াও draped কারণ কিন্তু গত বিধানসভা নির্বাচনে তিনি
হারিয়ে গেছে.
ইভিএম তার সর্বনাশ ক্ষতিগ্রস্ত হয়েছে এমন একটি আশঙ্কা নেই. অনেক রাজ্যের ইউপি নির্বাচনের পর নির্বাচনের জন্য গিয়েছিলাম কোথায় . কিন্তু সিইসি
2014 লোকসভা নির্বাচনে সহ এআইএডিএমকে ইত্যাদি কংগ্রেস , বিজেপি , এস পি , চিহ্ন , draping জন্য আদেশ দেন না . উপরের বর্ণ নেতাদের ‘ র মূর্তি draped করা আদেশ করা হয় নি . মাননীয় প্রধান বিচারপতি লেভেল প্লেয়িং গ্রাউন্ড জন্য নির্বাচন কমিশনের
মধ্যে প্রতিনিধিত্ব করতে এবং এই ধরনের আদেশ বাস্তবায়িত পর্যন্ত নির্বাচন
স্থগিত করা হতে পারে সমাজের সকল বিভাগে অন্তর্ভুক্ত করা হতে পারে.

মানুষ ও অন্যান্য নির্বাচন প্রার্থীদের ইভিএম মেশিন ব্যবহার দ্বারা লঙ্ঘিত হচ্ছে যা কিছু সাংবিধানিক অধিকার আছে . ওপেন সোর্স কোড জনসম্মুখে প্রকাশ করা হচ্ছে না . মানুষ সঠিক মর্যাদার একটি জীবন কলা 21 অধীনে আছে. আপনি অবাধ ও সুষ্ঠু নির্বাচনের ছাড়া মর্যাদার একটি জীবন যাপন করতে পারে না.

আদালত তাদের বলা হচ্ছে যা আদেশ পাস এখতিয়ার আছে আরও প্রতীত হতে হবে , এবং এটা যেমন নিষেধাজ্ঞা আদেশ জারি করার সাধ্য এবং কমনীয়. এটা যেমন নিষেধাজ্ঞা আদেশ ক্ষণস্থায়ী দ্বারা সংবিধান সমর্থন আদালতের কর্তব্য. ElectionCommission একটি সরকার শরীরের এবং এটা ইচ্ছামত কাজ করে যদি তাই এটা Art.14 লঙ্ঘন .

নির্বাচন কমিশন মেশিনে ম্যানিপুলেশন করতে সক্ষম মানা না হয়, তা ইচ্ছামত কাজ করে এবং এর ডিসিশন প্রক্রিয়া কলুষিত হয়. ডিসিশন গুরুত্বপূর্ণ উপাদান সিদ্ধান্ত প্রক্রিয়া থেকে বাইরে রাখা হয় যে মাটিতে নিচে আঘাত করা দায়ী নয় .

এটি সংবিধানের মৌলিক কাঠামো রক্ষা কোর্টের কর্তব্য. ফেয়ার নির্বাচন Manipulatable নির্বাচন দিয়ে প্রতিস্থাপিত করা হয়, সংবিধানের মৌলিক কাঠামো ধ্বংস হয় . সুতরাং ইভিএম মেশিন নিষিদ্ধ আদালতের কর্তব্য. বেশিরভাগ গণতান্ত্রিক দেশের সুপেরিয়র আদালত ইতিমধ্যে যেমন ব্যবহার নিষিদ্ধ করেছে.

কোর্ট ইসি যেমন নির্বিচারে নীতি ও সিদ্ধান্ত নিচে ধর্মঘট করতে পারেন .

ECmust প্রথম সব ইভিএম শুধু তারপরে এটি আরও পদক্ষেপ হেরফেরের প্রতিরোধ
এটি দ্বারা গৃহীত হয় সে সম্পর্কে আদালত সন্তুষ্ট উচিত … কাজে ব্যবহৃত
হতে পারে মানা .

এছাড়া মানুষের অধিকার থেকে , বিবেচনা করা অন্য প্রার্থী অধিকার আছে. কোথায় তারা
একটি পুনরায় গণনা আপীল ? কিভাবে এটি একই থাকাই এখানে ইভিএম মেশিনে এটি করা যাবে ?

ব্যালট পেপার ভোটিং ও প্রার্থীদের প্রতিনিধিদের উপস্থিতিতে কাউন্টিং এর
মৌলিক পদ্ধতি, এখনও মার্কিন যুক্তরাষ্ট্র, গ্রেট ব্রিটেন , জার্মানি
ইত্যাদি দেশ কর্তৃক স্বীকৃত হিসেবে সবচেয়ে ভালো পদ্ধতি.

আমাদের আদালত কল গ্রহণ করা এবং ইতিমধ্যে অন্যান্য দেশে নিষিদ্ধ করা হয় ইভিএম মেশিন নিষিদ্ধ যথেষ্ট শক্তিশালী হয়?

আমরা দেখতে আছে . ভারতের জন্য প্রযোজ্য না অন্যান্য দেশের আইন .

আমাদের আদালত এবং আমাদের গণতন্ত্র একটি প্রক্রিয়ার মধ্য দিয়ে পার হয় .

এটা সমর্থকদের অনিয়ম এখন ইভিএম মেশিন থেকে দেশ মুক্ত করা তাদের প্রচেষ্টা সফল আশা করা হয়.

ইভিএম / VVPT এর ওপেন সোর্স কোড স্তর মাঠ জন্য পাবলিক তৈরি করা আবশ্যক .

সেন্টার
জন্য প্রকাশমান , বিচারপতি আলতামাস কবীরের বেঞ্চ সংশোধনী প্রক্রিয়ার ”
চলছে ” ছিল বিচারপতি পি Sathasivam ও রঞ্জন Gogoi একটি বেঞ্চ অবগত .
মার্চ 28 , 2013 ইসি দ্বারা লিখিত একটি চিঠি জবাবে, আইন মন্ত্রণালয়ের
লেজিসলেটিভ বিভাগ সংসদ পূর্বে স্থাপন করা হবে, যা নিয়ম , সংশোধনী
প্রস্তুতির কাজ শুরু করে .

বেঞ্চ আমরা এটা অবশেষে রূপায়িত হয়েছে যে খুশি ” , exclaimed . আমরা এটি বাস্তবায়ন হলে এখন কি থাকবে না. “সমস্ত দলগুলোর VVPT মেশিন পরিচায়ক সমর্থনে ছিল .

এই সব সত্ত্বেও

দেবতাদের এবং একসঙ্গে MAARAS ব্রহ্মা ও recluses ও ব্রাহ্মণদের এর
সম্প্রদায়ের সাথে পুরুষ, এই বিশ্বের আমি কেউ CONFUSEVOTERS মন পারে SEE ,
বা তাদের হৃদয় বিভক্ত , বা তাদের ফুট কর্তৃক গৃহীত নদীর অন্য ব্যাংক
THROWTHEM পারে না .
মোদি উপর মায়া ‘ সাবধানী ‘ মুসলিম

লক্ষ্ণৌ মধ্যে পিযুষ শ্রীবাস্তব দ্বারা
বিএসপি supremo মায়াবতী
? +4

বিএসপি supremo মায়াবতী

বিজেপি এর প্রধানমন্ত্রী প্রার্থী নরেন্দ্র মোদি বিরুদ্ধে সমবর্তিত করা
মুসলিম ভোটারদের প্রতি আহ্বান রোববার পশ্চিম ইউপি , বিএসপি supremo
মায়াবতী থেকে 10 টি আসন নেভিগেশন পোলিং প্রথম পর্যায়ের জন্য বাকি মাত্র
পাঁচ দিন দিয়ে .

রোববার Meerut একটি সমাবেশে অ্যাড্রেসিং , তিনি তারা ” Godhra এর
অভিযুক্ত ব্যক্তি ” জন্য পথ প্রস্তুত এবং তারা বিএসপি জন্য ভোট না সঙ্গীত
মুখোমুখি হবে.

” মোদী 2002 সালে তার নিজের রাজ্যে গোধরা এবং পরবর্তী ঘটনা engineered
ছিল . তিনি আপনার ভুল করে প্রধানমন্ত্রী হয়ে থাকেন, তাহলে তিনি
সাম্প্রদায়িক আগুন মধ্যে সমগ্র দেশ ধাক্কা হবে ,” তিনি দাবি করেন .

“আপনি
যদি কংগ্রেস , এসপি এবং বিএসপি মধ্যে আপনার ভোট বিভক্ত হলে বিজেপি জিতবে
যে প্রত্যেক সম্ভাবনা নেই. তারা জয় করতে যাচ্ছি না , কারণ কংগ্রেস এবং এস
পি আপনার ভোট বর্জ্য যেতে হবে. সেই ক্ষেত্রে, কেউ সাম্প্রদায়িক বন্ধ করতে
পারবেন
বাহিনী . কিন্তু বিজেপি মুসলমান সম্প্রদায় তার ভোট বিভক্ত করা না হয়,
তাহলে থামানো এবং বিএসপি শুধুমাত্র সমর্থন করা যেতে পারে , “তিনি বলেন.

মায়াবতী মোদি 2002 সালে গুজরাটে ঘটেছিল ঠিক কি কি করতে হবে বলে দাবি করেন . আসলে মায়াবতী গুজরাটে 2002 দাঙ্গার পরে সমাবেশ নির্বাচনে মোদী জন্য প্রচার শুরু করে যে অবশেষ .

বিএসপি
supremo একটি অত্যন্ত Surcharged বক্তৃতা বিতরণ এবং বিজেপি এর ইন চার্জ
ইউপি অমিত শাহ ইতিমধ্যে রাষ্ট্র অস্থিতিশীল সাম্প্রদায়িকভাবে করার জন্য
কাজ শুরু করেছে বলে অভিযোগ হলেও, এটা এমন একটা বিএসপি আমির মতামত গৌণ
উন্নয়নের বিষয় রাখা এবং ভয় তৈরি মনোনিবেশ করবে আপাত ওঠে
সংখ্যালঘু সম্প্রদায়ের মধ্যে মনোব্যাধি .

এদিকে একটি দিন আগে , বিএসপি নেতা ওয়াহাব চৌধুরী তিনি 22 ইঞ্চি থেকে 56 ইঞ্চি থেকে মোদি এর বুকে কমান হবে. চৌধুরী , মুরাদনগর থেকে একটি এমএলএ , মায়াবতী উপস্থিতিতে গাজিয়াবাদ একটি পাবলিক সভায় শনিবার এই বলেছিলেন.

” গুজরাটের মুখ্যমন্ত্রী তিনি 56 ইঞ্চি একটি বুকে আছে বলছেন. কিন্তু আমি
আপনাকে ইউপি আসে এবং আমি এটা ছোট . Behen মায়াবতী এই সৈনিক 22 ইঞ্চি থেকে
এটি কাট হবে , করতে অঙ্গীকার বলতে চাই ” তিনি বলেছিলেন.

এর আগে শুক্রবার , নরেন্দ্র Kashyap , বিএসপি র রাজ্যসভা সদস্য, অটিজম
সম্মেলনে ‘ , হিন্দি ফিল্ম শোলে থেকে একটি দুর্বৃত্ত চরিত্রের সঙ্গে মোদি
তুলনায় এবং হিসাবে সমানভাবে নিষ্ঠুর দুইটাই শহরটিতে ছিল .

যে আগে, বিএসপি এর মোরাদাবাদ প্রার্থী , হাজি ইয়াকুব কোরেশী , একটি ” অসভ্য . ” মোদী বলা ছিল

31) Classical Gujarati


Avatar




Hold on, this is waiting to be approved by Sandesh Leading News paper.


31) ક્લાસિકલ ગુજરાતી

તમારી માતૃભાષા આ ભાષાંતર કરો

EVM મશીનો વજન પર સંશોધન :

આ માટે એક અપીલ
ઓનરેબલ મુખ્ય ન્યાયાધીશ

supremecourt@nic.in

Cc
vs.sampath @ eci.gov.in , hs.brahma @ eci.gov.in , nasimzaidi@eci.gov.in , vinodzutshi@eci.gov.in ,
bala@eci.gov.in , dralokshukla@eci.gov.in , akshaykrout@gmail.com , tkumar@eci.gov.in ,
sram@eci.gov.in , kakumar@eci.gov.in , rksrivastava@eci.gov.in , kfwilfred@eci.gov.in , bjohn@eci.gov.in ,
ystandhope@eci.gov.in , skrudola@eci.gov.in , varinderkr@eci.gov.in , knbhar@eci.gov.in ,
anuj@eci.gov.in , narendranb@eci.gov.in , ashish@eci.gov.in , smukherjee@eci.gov.in ,
mendiratta.sk @ eci.gov.in , andas@eci.gov.in , jkrao@eci.gov.in , pramod@eci.gov.in ,
darsuo.thang @ eci.gov.in , malaymallick@rediffmail.com , feedbackeci@gmail.com ,

પેટા : ચૂંટણી પંચે તમામ EVMs બદલવા માટે સુપિરિયર કોર્ટ માટે અમલ કરવા
માટે નિષ્ફળ ગઈ છે. તેના બદલે 543 લોકસભા બેઠકો 385 VVPT મશીનો દ્વારા બદલી
કરવામાં આવી છે .

નવી
મતદાર ચકાસી કાગળ પગેરું તે EVMs મુક્ત અસ્તિત્વમાં આવ્યું અને વાજબી
ચૂંટણી સ્થળ અને પરિણામો ન લેવા આવી હતી ત્યારથી ચૂંટણીનાં લાલસા પાછળ
ધકેલી દેવામાં અને fancies હતા જેનો અર્થ છે કે ચેડા થઈ શકે છે શંકા બાદ
EVMs
બદલો ( VVPT ) મશીન, કમિશન. મતદાન મશીનો ” કમ્પ્યુટર સોફ્ટવેર દ્વારા
આયોજિત કરી શકે છે કેલ્ક્યુલેટર્સ ” છે. નવા મશીનો એક પેપર સ્લિપ પછી બોક્સ
જમા કરવામાં આવશે EVM મતદાન સાથે આવશે જ્યાં ઇસી દ્વારા આદેશ આપ્યો છે.
ઉપયોગ શું છે? કાગળ કાપલી મતદાર ” પક્ષ ” માટે મત casted છે , પરંતુ
કેલ્ક્યુલેટર સોફ્ટવેર ” પાર્ટી બી” માટે મત ઉમેરશે કે બતાવશે ! આ
કોમ્પ્યુટર્સ પ્રોગ્રામ છે. આવા નકલી કાગળ સ્લિપ માટે કોઈ ઉપયોગ. સુપિરિયર
કોર્ટમાં તે ચૂંટણી દરમિયાન એક ઉમેદવાર માટે ખાતરી વિજય બનાવવા માટે પૂર્વ
પ્રોગ્રામ કરી શકે છે કેવી રીતે આ કોમ્પ્યુટર્સ આયોજિત કરી શકે છે અને
કેવી રીતે દર્શાવવામાં આવ્યું છે . આ EVM મશીનો લોકશાહી માર્યા ગયા હતા અને આમ કરવા માટે તમામ સ્થિતિમાન છે છે .

આ સુપિરિયર કોર્ટ અને મુક્ત અને વ્યાજબી મીડિયા સહિત લોકશાહી ના ટેકો
આપનારાઓ મતદારો જાગૃત સુધી આવા સંજોગોમાં મીડિયા દ્વારા નીચેના લાગ્યા આ
આગળ આવતા સામાન્ય ચૂંટણી કોઈ યોગ્યતા હશે.

એક ચિપ ” પાર્ટી એ” કોઈ બાબત વાસ્તવિક મતદાન કરી શકે છે , “પાર્ટી બી” કરતાં +1 વધુ મત મળે છે જોઈએ કે દાખલ કરી શકાય છે .

આ ” ફરીથી લખી આદેશો” કહેવામાં આવે છે. કોમ્પ્યુટર્સ કોમ્પ્યુટર્સ છે. તેઓ પ્રોગ્રામ અને ફરીથી પ્રોગ્રામ કરી શકાય.

ભારતના શાસક પક્ષ અને ચૂંટણી પંચ સત્ય disregards અને ચૂંટણી માં EVM
મશીનો ઉપયોગ પર ભાર મુકતા હતા. તેઓ discriminative જાતિ પૂર્વગ્રહ સ્ત્રોત
છે. એમએસ માયાવતી Sarvajan Hithay Sarvajan Sukhay તેના નીતિ સાથે ચોથી વખત
ઉત્તર પ્રદેશના મુખ્ય પ્રધાન બન્યા હતા. sarvasamaj એટલે કે, તમામ સમાજો
ના આધાર સાથે . બધા
હાથી બીએસપી પ્રતિક , અને / એસસી / ઓબીસી ચિહ્નો મૂર્તિઓ draping માટે
આદેશ આપ્યો સીઇસી પણ draped હતી કારણ કે, પરંતુ છેલ્લા વિધાનસભા ચૂંટણીમાં
તેણે
ગુમાવી હતી. પાંચ EVMs પણ તેના હરાવવા ચેડા કરવામાં આવ્યા હતા કે એવી
ચિંતા છે. ઘણા રાજ્યોમાં યુપી ચૂંટણી બાદ ચૂંટણી માટે ગયા છે. પરંતુ
સીઇસી 2014 લોકસભા ચૂંટણી સહિત વગેરે કોંગ્રેસ , ભાજપ , સમાજવાદી પક્ષ ,
અન્નાદ્રમુક
ના પ્રતિકો, draping માટે આદેશ આપ્યો નથી. ઉચ્ચ જ્ઞાતિ નેતાઓ ‘ ની મૂર્તિઓ
draped કરી દેવા માટે આદેશ અપાયા નથી. માનનીય મુખ્ય ન્યાયમૂર્તિ સ્તર રમતા
જમીન માટે ચૂંટણી પંચ માં
પ્રતિનિધિત્વ અને આવા માટે અમલમાં સુધી ચૂંટણીમાં મોકૂફ રાખવામાં આવી શકે
છે સમાજના તમામ વિભાગો સમાવેશ કરી શકે છે.

લોકો અને અન્ય ચૂંટણી ઉમેદવારો EVM મશીનો ઉપયોગ દ્વારા ઉલ્લંઘન કરવામાં
આવી રહી છે જે કેટલાક બંધારણીય અધિકારો છે. ઓપન સોર્સ કોડ જાહેર કરવામાં
આવી નથી . લોકો અધિકાર ગૌરવ એક જીવન જીવી કલા 21 હેઠળ છે. તમે મુક્ત અને
વ્યાજબી ચુટણીઓ વગર ગૌરવ એક જીવન જીવી ન શકે .


કોર્ટ તેઓ કહેવામાં આવી રહી છે જે ઓર્ડર પસાર અધિકારક્ષેત્ર ધરાવે છે કે
વધુ કંઈ જ હોય છે, અને તે આવી નિષેધાત્મક આદેશો બહાર પાડવાની વ્યવહારુ અને
ઇચ્છનીય
છે. તે નિષેધાત્મક હુકમ પસાર કરીને બંધારણ જાળવવાના કોર્ટના ફરજ છે.
ચૂંટણી પંચ સરકાર સંસ્થા છે અને તે આપખુદ કામ કરે છે જો તેથી તે Art.14
ઉલ્લંઘન કરે છે.

ચૂંટણી
પંચ મશીનો મેનીપ્યુલેશન માટે સક્ષમ હોય છે તેમ સ્વીકાર્યું નથી , તે આપખુદ
કામ કરે છે અને તેના નિર્ણય પ્રક્રિયા vitiated છે. આ નિર્ણય કે અગત્યના
ઘટકો નિર્ણય પ્રક્રિયામાંથી બહાર રાખવામાં આવે છે કે જમીન પર નીચે કાઢવું
​​આ માટે જવાબદાર રહી છે .

તે બંધારણની મૂળભૂત માળખું રક્ષણ કોર્ટના ફરજ છે. ફેર ચૂંટણી
Manipulatable ચૂંટણી સાથે બદલી કરવામાં આવે છે, બંધારણના મૂળભૂત માળખા નાશ
થઈ જાય છે . તેથી તે EVM મશીનો પર પ્રતિબંધ કોર્ટના ફરજ છે. સૌથી લોકશાહી
દેશોમાં શ્રેષ્ઠતમ કોર્ટ પહેલેથી જ આવા ઉપયોગ પર પ્રતિબંધ લાદ્યો છે .

કોર્ટે ઈસી જેમ મનસ્વી નીતિ અને નિર્ણયો નીચે પ્રહાર કરી શકે છે .

ઇસી સૌ પ્રથમ EVMs માત્ર પછી તે વધુ પગલાં મેનિપ્યુલેશન્સ ન થાય તે
દ્વારા લેવામાં આવે છે તે વિશે કોર્ટ સંતુષ્ટ જોઈએ … આયોજિત કરી શકે છે
કબૂલ કરવું જ જોઈએ .

ની લોકો અધિકારો , અન્ય ગણવામાં આવે છે ચૂંટણી લડતા ઉમેદવારો ના અધિકાર
છે. જ્યાં તેઓ એક ફરીથી ગણતરી માટે અપીલ કરશે ? કેવી રીતે તે જ આયોજિત EVM
મશીનો પર કરી શકાય છે ?

મતદાન કાગળ મતદાન અને ઉમેદવારો પ્રતિનિધિઓ હાજરીમાં ગણતરી મૂળ પદ્ધતિ ,
હજુ પણ અમેરિકા, યુકે, જર્મની, વગેરે દેશોમાં દ્વારા માન્ય તરીકે શ્રેષ્ઠ
પદ્ધતિ છે.

અમારા કોર્ટ કોલ લેવા અને પહેલાથી જ અન્ય દેશોમાં પ્રતિબંધ છે જે EVM મશીનો પર પ્રતિબંધ માટે પૂરતી શક્તિશાળી છે?

અમે જોવા માટે હોય છે. ભારત લાગુ નથી અન્ય દેશોના કાયદા .

આપણા ન્યાયાલયો અને અમારા લોકશાહી પ્રક્રિયા દ્વારા પસાર કરવામાં આવે છે.

તે ટેકેદારો છળકપટ EVM મશીનો થી દેશ વિમુક્ત તેમના પ્રયાસો સફળ આશા રાખવામાં આવે છે .

EVM / VVPT ઓપન સોર્સ કોડ સ્તર રમતા ક્ષેત્ર માટે જાહેર કરવી જ જોઇએ.

સેન્ટર
માટે દેખાય છે, એટર્ની જનરલ જી.ઇ. વહાણવટી સુધારો પ્રક્રિયા ” ચાલી રહી ”
હતું કે ન્યાયમૂર્તિઓ સતશિવમ્ અને રંજન Gogoi બેન્ચે માહિતી. માર્ચ 28, 2013 ઇસી દ્વારા લખવામાં પત્ર જવાબમાં, કાયદા મંત્રાલય ના
વિધાન વિભાગ સંસદ પહેલાં મૂકવામાં આવશે જે નિયમો, માટે સુધારા તૈયાર કામ
શરૂ કર્યું હતું.

આ બેન્ચ અમે તે છેલ્લે ભૌતિક છે કે ખુશ છે ” , કહ્યું . અમે તે અમલમાં
છે ત્યારે હવે શું રહે છે. ” બધા પક્ષો VVPT મશીનો દાખલ ટેકો હતા.

35) Classical Hindi

http://www.dainiknavajyoti.com/hindi/news_details.php?newsid=133299



http://tehelkahindi.com/%E0%A4%89%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%A4%E0%A4%B0-%E0%A4%AA%E0%A5%82%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%B5-%E0%A4%AE%E0%A5%81%E0%A4%82%E0%A4%AC%E0%A4%88-%E0%A4%AE%E0%A5%81%E0%A4%82%E0%A4%AC%E0%A4%88/#comment-300

Tehelka Hindi
http://www.seemasandesh.com/new/NewsDetail.aspx?NewsID=25819


http://www.deshbandhu.co.in/newsdetail/210064/1/19

http://www.haribhoomi.com/news/7146-ajay-rai-contest-against-modi-in-varanasi.html


Haribhoomihttp://www.amarujala.com/feature/samachar/national/rahul-gandhi-says-bjp-made-advani-small-leader/

Breaking News in Hindi
http://www.prabhatkhabar.com/news/104740-West-Bengal-Election-Commission-removed-officers-duty-Mamata-Bdkin.html
Prabhat Khabar




35 ) शास्त्रीय हिन्दी

अपनी मातृभाषा में इस अनुवाद कृपया

मुफ़्त ऑनलाइन ई नालंदा अनुसंधान और अभ्यास विश्वविद्यालय

पर मुझे ईमेल
awakenmedia.prabandhak @ gmail.com
chandrasekhara.tipitka @ gmail.com

ईवीएम मशीनों के दुरुपयोग पर अनुसंधान :

के लिए एक अपील
माननीय मुख्य न्यायाधीश

http://www.business-standard.c…

http://www.theindianrepublic.c…

भारतीय गणतंत्र

अवतार
Jagatheesan चंद्रशेखरन • कुछ सेकंड पहले

एस
Bahuth Jiyadha पापी उनके असहिष्णुता , घृणा , क्रोध , ईर्ष्या एक मानसिक
बीमारी है लेकिन कुछ भी नहीं है जो मन के सभी कलंक के साथ मतदाताओं को
डराने और इलाज की जरूरत है, यह सबसे भयावह 58 चुपके पंथ आरएसएस से संबंध
रखते हैं जो गोधरा के अपराधी ” ” जंगली chested ” इस
देश में एक ही जाति के रूप में सभी के अंतर्गत आता है के लिए पागलखाने में
और संसद में नहीं . दिन के लिए विभिन्न दलों के कई नेताओं ने इस बात से
सहमत हैं. एक छाया इस 58 के बीच चल रहा मुक्केबाजी ” chested जंगली अपराधी
और पंथ के मूल मालिकों है . देश में इस पंथ का डर नहीं है .

चुनाव
आयोग ने चुनाव आयोग ने सभी ईवीएम मशीनों को बदलने के लिए सुपीरियर
न्यायालयों के आदेश को लागू करने में विफल रहा है के रूप में sarvasamaj से
संबंधित सदस्यों के पास नहीं है , क्योंकि केवल गैर छेड़छाड़ सबूत ईवीएम
उन्हें मदद कर सकता है . इसके बजाय 543 लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों के 385 VVPT मशीन द्वारा प्रतिस्थापित किया गया है .

தேர்தல்
ஆணையம் தேர்தல் ஆணையம் அனைத்து இயந்திரங்களில் பதிலாக உயர் நீதிமன்றங்கள்
பொருட்டு செயல்படுத்தவில்லை என sarvasamaj சேர்ந்த உறுப்பினர்கள் இல்லை
என்பதால்
தான் அல்லாத மாற்ற இயலா தேர்தலில் அவர்களுக்கு உதவ முடியும் . அதற்கு
பதிலாக 543 மக்களவை தொகுதிகளில் 385 VVPT இயந்திரங்கள் மூலம்
மாற்றப்பட்டுள்ளது .

नई
मतदाता प्रमाण कागज निशान यह ईवीएम मुक्त अस्तित्व में आया और निष्पक्ष
चुनाव जगह और परिणाम ले जा रहे थे जब से चुनाव की सनक और fancies लिए थे
जिसका मतलब है कि छेड़छाड़ की जा सकती है कि संदेह निम्नलिखित ईवीएम मशीनों
को बदलने के लिए ( VVPT ) मशीनों , आयोग . वोटिंग मशीनों ” कंप्यूटर
सॉफ्टवेयर द्वारा चालाकी से किया जा सकता है, जो आईपीओ ” हैं . नई मशीनों
एक कागज की पर्ची तो एक बॉक्स में जमा किए जाएंगे जो ईवीएम मतदान के साथ
बाहर आ जाएगा जहां चुनाव आयोग ने आदेश दिए हैं . क्या उपयोग है? कागज
पर्ची मतदाता ” पार्टी के एक ” के लिए वोट casted गया है , लेकिन
कैलकुलेटर
सॉफ्टवेयर ” पार्टी बी ‘ को वोट दें जोड़ना होगा कि शो होगा! कंप्यूटर
प्रोग्राम कर रहे हैं . इस तरह के फर्जी कागज फिसल जाता है के लिए कोई
फायदा नहीं . सुपीरियर
न्यायालयों में यह चुनाव के दौरान एक उम्मीदवार victoryto बनाना पूर्व
प्रोग्राम किया जा सकता है कि कैसे इन कंप्यूटरों चालाकी से किया जा सकता
है और कैसे प्रदर्शन किया गया है . ईवीएम मशीनों लोकतंत्र मारे गए हैं और ऐसा करने के लिए सभी क्षमता है है .

सुपीरियर कोर्ट और स्वतंत्र और निष्पक्ष मीडिया सहित लोकतंत्र के रक्षक
मतदाताओं को जगाने जब ​​तक ऐसी परिस्थितियों में मीडिया से निम्न जोखिम आगे
आने वाले आम चुनाव में कोई प्रासंगिकता होगा .

एक चिप ” पार्टी के एक ” कोई बात नहीं वास्तविक मतदान हो सकता है क्या ” पार्टी बी” से 1 अधिक वोट मिलना चाहिए कि डाला जा सकता है .

ये ” अधिलेखन कमानों ” कहा जाता है. कंप्यूटर कंप्यूटर रहे हैं. वे बनाया है और आप फिर से प्रोग्राम किया जा सकता है .

भारत
की सत्तारूढ़ पार्टी और चुनाव आयोग सच्चाई disregards और चुनाव में ईवीएम
मशीनों के उपयोग पर जोर दिया. वे विवेकशील जाति पूर्वाग्रह के स्रोत हैं .
सुश्री मायावती Sarvajan Hithay Sarvajan Sukhay की उसकी नीति के साथ चौथी
बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने . sarvasamaj यानी की thesupport साथ ,
सभी समाजों . सभी
हाथी बसपा का चिह्न और अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / अन्य पिछड़ा
वर्ग माउस की प्रतिमाओं draping के लिए आदेश दिया सीईसी भी लिपटी थे बल्कि
इसलिए
कि पिछले विधानसभा चुनाव में वह हार गए. ईवीएम भी उसे हराने के लिए छेड़ा
गया है कि एक आशंका है . कई राज्यों को उत्तर प्रदेश चुनाव के बाद चुनाव के
लिए कहाँ चला गया . लेकिन मुख्य चुनाव आयुक्त
2014 के लोकसभा चुनाव
सहित अन्नाद्रमुक आदि कांग्रेस , भाजपा , सपा , के प्रतीकों , draping के
लिए आदेश दिया है कभी नहीं . ऊंची जाति के नेताओं की प्रतिमाओं लिपटी होने
का आदेश दिया नहीं किया गया है . माननीय मुख्य न्यायाधीश स्तर के खेल मैदान
के लिए निर्वाचन आयोग में
प्रतिनिधित्व करने के लिए और इस तरह के आदेश कार्यान्वित तक चुनाव स्थगित
हो सकता है समाज के सभी वर्गों को शामिल करने के लिए खुश हो सकते हैं .

लोगों
को और अन्य चुनाव के उम्मीदवारों ईवीएम मशीनों के प्रयोग के द्वारा
उल्लंघन किया जा रहा है जो कुछ संवैधानिक अधिकार है. ओपन सोर्स कोड को
सार्वजनिक किया जा रहा है. लोग सही सम्मान की जिंदगी जीने की कला 21 के तहत
है . आप स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव के बिना जीवन में एक गरिमा नहीं रह
सकते हैं .

न्यायालयों
वे कहा जा रहा है , जो आदेश पारित करने के लिए अधिकार क्षेत्र है कि आगे
आश्वस्त किया है , और यह ऐसी निषेधाज्ञा जारी करने के लिए साध्य और वांछनीय
है . यह ऐसी निषेधाज्ञा पारित करके संविधान को बनाए रखने के लिए न्यायालय
का कर्तव्य है . ElectionCommission एक सरकारी निकाय है और यह मनमाने ढंग
से कार्य करता है , इसलिए यह Art.14 का उल्लंघन करती है .

चुनाव
आयोग ने मशीनों में गड़बड़ी करने में सक्षम हैं कि स्वीकार नहीं करता है,
तो यह मनमाने ढंग से काम करता है और अपने निर्णय लेने की प्रक्रिया बिगड़
जाता है . निर्णय महत्वपूर्ण घटक निर्णय लेने की प्रक्रिया से बाहर रखा जाता है कि जमीन पर गिराए तो किया जा सकता है .

यह
संविधान के मूल ढांचे की रक्षा के लिए कोर्ट का कर्तव्य है . निष्पक्ष
चुनाव manipulatable चुनावों के साथ प्रतिस्थापित कर रहे हैं, तो संविधान
के मूल ढांचे नष्ट हो जाता है . तो यह ईवीएम मशीनों पर प्रतिबंध लगाने के
लिए न्यायालय का कर्तव्य है . सबसे लोकतांत्रिक देशों की सुपीरियर
न्यायालयों पहले से ही इस तरह के प्रयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है .

कोर्ट ने चुनाव आयोग के इस तरह के मनमाने ढंग से नीति और निर्णय नीचे हड़ताल कर सकते हैं .

चुनाव आयोग सब से पहले ईवीएम केवल उसके बाद इसे आगे कदम जोड़तोड़ रोकने
के लिए यह द्वारा लिया जाता है के बारे में अदालतों को संतुष्ट करना चाहिए
… हेरफेर किया जा सकता है कि मानती हूं .

इसके
अलावा लोगों के अधिकारों से विचार किया जाना अन्य उम्मीदवारों के अधिकार
होते हैं . जहां वे एक फिर से गिनती के लिए अपील करेंगे ? यह कैसे एक ही
चालाकी ईवीएम मशीनों पर किया जा सकता है?

मतपत्र मतदान और उम्मीदवारों के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में गिनती की
मूल विधि , अभी भी अमेरिका , ब्रिटेन , जर्मनी आदि देशों द्वारा मान्यता के
रूप में सबसे अच्छा तरीका है.

हमारे न्यायालयों कॉल ले और पहले से ही अन्य देशों में प्रतिबंधित कर रहे
हैं जो ईवीएम मशीनों पर प्रतिबंध लगाने के लिए पर्याप्त शक्तिशाली हैं ?

हम देखना है. भारत के लिए लागू नहीं अन्य देशों के कानूनों .

हमारी अदालतों और हमारे लोकतंत्र एक प्रक्रिया से गुजर रहे हैं .

यह समर्थकों जोड़ तोड़ ईवीएम मशीनों से देश को आजाद कराने के लिए अपने प्रयासों में सफल होने की आशा व्यक्त की है .

ईवीएम / VVPT के खुले स्रोत कोड के स्तर के खेल मैदान के लिए सार्वजनिक किया जाना चाहिए .

केंद्र
के लिए प्रदर्शित होने , अटार्नी जनरल जी ई वाहनवती संशोधन की प्रक्रिया “
चल ” था कि न्यायमूर्ति पी सदाशिवम और रंजन गोगोई की खंडपीठ को सूचित
किया. 28 मार्च 2013 पर चुनाव आयोग द्वारा लिखे गए एक पत्र के जवाब में कानून
मंत्रालय के विधायी विभाग को संसद के समक्ष रखा जाएगा जो नियम में संशोधन
की तैयारी का काम शुरू हो गया था .

खंडपीठ
हम यह अंत में materialized है कि खुश हैं , ” कहा . हम इसे लागू करने के
लिए कर रहे हैं जब अब क्या रहता है . “सभी पार्टियों VVPT मशीनों को शुरू
करने के समर्थन में थे .

इन सब के बावजूद

देवताओं और साथ में MAARAS , BRAHMAS और recluses और ब्राह्मणों के
समुदाय के साथ पुरुषों की इस दुनिया में मैं किसी CONFUSEVOTERS मन सके
देखते हैं, या उनके दिल विभाजन , या अपने पैरों से लिया नदी के दूसरी बैंक
THROWTHEM सकता है नहीं है.

मोदी के ऊपर माया ‘ चेतावनी देते हैं ‘ मुसलमानों

बसपा सुप्रीमो मायावती

भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के खिलाफ फूट डालना
मुस्लिम मतदाताओं से आह्वान किया कि रविवार को पश्चिम उत्तर प्रदेश में
बसपा सुप्रीमो मायावती की 10 सीटों पर मतदान के पहले चरण के लिए छोड़ दिया
केवल पांच दिन के साथ.

रविवार को मेरठ में एक रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि वे ”
गोधरा के अपराधी ” के लिए मार्ग प्रशस्त और वे बसपा के लिए वोट नहीं दिया ,
तो संगीत का सामना करेगी.

” मोदी ने 2002 में अपने ही राज्य में गोधरा और बाद की घटनाओं इंजीनियर
था . वह अपनी गलती से प्रधानमंत्री बन जाता है, तो वह सांप्रदायिक आग में
पूरे देश को धक्का होगा , ” उसने दावा किया .


आप कांग्रेस , सपा और बसपा के बीच अपने वोट विभाजित अगर भाजपा की जीत होगी
कि पूरी संभावना है . वे जीतने के लिए नहीं जा रहे हैं , क्योंकि कांग्रेस
और सपा को अपने वोट बेकार हो जाएगी . उस मामले में , कोई भी सांप्रदायिक
नहीं रोक सकता बलों . लेकिन भाजपा मुस्लिम समुदाय अपने वोट को विभाजित नहीं करता है ,
तो बंद कर दिया और बसपा ही समर्थन किया जा सकता है , “उसने कहा .

मायावती
मोदी ने 2002 में गुजरात में जो कुछ हुआ था कि क्या वास्तव में ऐसा होगा
कि दावा किया . तथ्य यह है कि मायावती ने गुजरात में 2002 के दंगों के बाद
विधानसभा चुनाव में मोदी के लिए अभियान चलाया था कि बनी हुई है.

बसपा
सुप्रीमो एक अत्यधिक अधिभारित भाषण दिया और भाजपा के प्रभारी यूपी अमित
शाह के पहले से ही राज्य को अस्थिर सांप्रदायिक करने के लिए काम शुरू कर
दिया गया है कि कथित तौर पर हालांकि , यह भी बसपा ठंडे बस्ते में विकास के
मुद्दों डाल दिया है और डर पैदा करने पर ध्यान दिया जाएगा कि स्पष्ट हो गया
अल्पसंख्यक समुदाय में मनोविकृति .

इस
बीच एक दिन पहले , बसपा नेता वहाब चौधरी वह 22 इंच से 56 इंच से मोदी के
सीने में छोटा होता है. चौधरी , मुरादनगर से विधायक , मायावती की उपस्थिति
में गाजियाबाद में एक जनसभा में शनिवार को यह बात कही थी .

” गुजरात के मुख्यमंत्री वह 56 इंच का एक छाती का कहना है . लेकिन मैं
तुम्हें करने के लिए आते हैं और मैं इसे छोटे . बहन मायावती का यह सैनिक 22
इंच तक यह स्लेश जाएगा , बनाने के वादे कहना चाहता हूँ ” उन्होंने कहा था .

इससे पहले शुक्रवार को , नरेंद्र कश्यप , बसपा के राज्यसभा सदस्य , गब्बर
सिंह , हिंदी फिल्म शोले से एक खलनायक चरित्र , साथ मोदी की तुलना में और
के रूप में समान रूप से क्रूर उन दोनों करार दिया था .

इससे पहले, बसपा के मुरादाबाद उम्मीदवार , हाजी याकूब कुरैशी , एक ” जंगली . ” मोदी बुलाया था

43) Classical Kannada

http://www.kannadaprabha.com/latest-news/%E0%B2%AE%E0%B3%8B%E0%B2%A6%E0%B2%BF%E0%B2%97%E0%B3%8D%E0%B2%AF%E0%B2%BE%E0%B2%95%E0%B3%86-%E0%B2%AE%E0%B2%A4-%E0%B2%8E%E0%B2%9A%E0%B3%8D%E2%80%8C%E0%B2%A1%E0%B2%BF%E0%B2%95%E0%B3%86-%E0%B2%AA%E0%B3%8D%E0%B2%B0%E0%B2%B6%E0%B3%8D%E0%B2%A8%E0%B3%86/197111.html


Kannadaprabha

http://kannada.oneindia.in/news/india/narendra-modi-address-bharat-vijay-rally-kasaragod-kerala-lse-083103.html


Oneindia Kannada

http://www.prajavani.net/article/%E0%B2%AE%E0%B2%A4%E0%B3%8D%E0%B2%A4%E0%B3%86-%E0%B2%B0%E0%B2%BE%E0%B2%AE-%E0%B2%AE%E0%B2%82%E0%B2%A6%E0%B2%BF%E0%B2%B0-%E0%B2%9C%E0%B2%AA-0


http://www.sahilonline.org/kannada/north_canara_dist_news/bhatkal/19782.html

http://www.udayavani.com/news/457458L15-%E0%B2%9A–%E0%B2%86%E0%B2%AF-%E0%B2%95-%E0%B2%A4%E0%B2%B0-%E0%B2%B5-%E0%B2%B0-%E0%B2%A6-%E0%B2%A7-%E0%B2%AE%E0%B2%AE%E0%B2%A4–%E0%B2%97%E0%B2%B0—.html

Avatar



a few seconds ago


Avatar



43 ) ಶಾಸ್ತ್ರೀಯ ಕನ್ನಡ

ನಿಮ್ಮ ಮಾತೃ ಈ ಭಾಷಾಂತರಿಸಲು ದಯವಿಟ್ಟು

ಉಚಿತ ಆನ್ಲೈನ್ ಇ ನಳಂದಾ ಸಂಶೋಧನೆ ಮತ್ತು ಪ್ರಯೋಗ ವಿಶ್ವವಿದ್ಯಾಲಯ

ನನಗೆ ಇಮೇಲ್
awakenmedia.prabandhak @ gmail.com
chandrasekhara.tipitka @ gmail.com

ವಿ ಎಂ ಯಂತ್ರಗಳ ದುರುಪಯೋಗ ಮೇಲೆ ಸಂಶೋಧನೆ :

ಒಂದು ಮನವಿ
ಗೌರವಾನ್ವಿತ ಮುಖ್ಯ ನ್ಯಾಯಾಧಿಪತಿಯ

http://www.business-standard.c…

http://www.theindianrepublic.c…

ಭಾರತೀಯ ಗಣರಾಜ್ಯ

ಅವತಾರ
Jagatheesan ಚಂದ್ರಶೇಖರನ್ • ಕೆಲವು ಸೆಕೆಂಡುಗಳ ಹಿಂದೆ

ರು
Bahuth Jiyadha ಪಾಪಿ ತಮ್ಮ ಅಸಹಿಷ್ಣುತೆ , ದ್ವೇಷ, ಕೋಪ , ಅಸೂಯೆ ಮಾನಸಿಕ
ರೋಗ ಆದರೆ ಏನೂ ಇದು ಮನಸ್ಸಿನ ಎಲ್ಲಾ ಶೀಲಭಂಗ ಮತದಾರರಿಗೆ ಹೆದರಿಸುವ ಮತ್ತು
ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಅಗತ್ಯವಿದೆ ; ಈ ಅತ್ಯಂತ ಘೋರ 58 ರಹಸ್ಯ ಭಕ್ತ ಮೇ ಸೇರಿರುವ ಗೋಧ್ರಾ
ಅಪರಾಧಿ ” ” ಅನಾಗರಿಕ ಎದೆಯ ” ಈ
ದೇಶದ ಒಂದು ಓಟದ ಎಲ್ಲಾ ಸೇರಿದೆ ಮಾನಸಿಕ ಆಶ್ರಯ ಮತ್ತು ಸಂಸತ್ತಿನಲ್ಲಿ . ದಿನ
ವಿವಿಧ ಪಕ್ಷಗಳ ಅನೇಕ ನಾಯಕರು ಈ ಒಪ್ಪುತ್ತೇನೆ . ನೆರಳು ಈ 58 ನಡುವೆ ನಡೆಯುತ್ತಿರುವ
ಬಾಕ್ಸಿಂಗ್ ” ಎದೆಯ ಅನಾಗರಿಕ ಅಪರಾಧಿ ಮತ್ತು ಭಕ್ತ ಮೂಲ ಮಾಲೀಕರು ಇಲ್ಲ . ದೇಶದ ಈ ಭಕ್ತ ಹೆದರುತ್ತಾರೆ .

ಚುನಾವಣಾ
ಆಯೋಗ ಚುನಾವಣಾ ಆಯೋಗ ಎಲ್ಲಾ ಇ ವಿ ಎಂ ಗಳನ್ನು ಬದಲಾಯಿಸಲು ಸುಪೀರಿಯರ್
ಕೋರ್ಟ್ ಆದೇಶ ಕಾರ್ಯಗತಗೊಳಿಸಲು ವಿಫಲವಾಗಿದೆ ಎಂದು sarvasamaj ಸೇರಿದ ಸದಸ್ಯರು
ಹೊಂದಿಲ್ಲ ಏಕೆಂದರೆ ಕೇವಲ ಅಲ್ಲದ ತಿದ್ದುಪಡಿ ಇ ವಿ ಎಂ ಗಳನ್ನು ಅವುಗಳನ್ನು ಸಹಾಯ.
ಬದಲಿಗೆ ಲೋಕಸಭೆಯ 543 ಕ್ಷೇತ್ರಗಳಲ್ಲಿ 385 VVPT ಯಂತ್ರಗಳು ಬದಲಿಗೆ .

தேர்தல்
ஆணையம் தேர்தல் ஆணையம் அனைத்து இயந்திரங்களில் பதிலாக உயர் நீதிமன்றங்கள்
பொருட்டு செயல்படுத்தவில்லை என sarvasamaj சேர்ந்த உறுப்பினர்கள் இல்லை
என்பதால்
தான் அல்லாத மாற்ற இயலா தேர்தலில் அவர்களுக்கு உதவ முடியும் . அதற்கு
பதிலாக 543 மக்களவை தொகுதிகளில் 385 VVPT இயந்திரங்கள் மூலம்
மாற்றப்பட்டுள்ளது .

ಹೊಸ
ಮತದಾರರ ಸರಿ ಕಾಗದದ ಟ್ರಯಲ್ ಇದು ಇ ವಿ ಎಂ ಗಳನ್ನು ಉಚಿತ ಅಸ್ತಿತ್ವಕ್ಕೆ ಬಂದಿತು
ಹಾಗೂ ನ್ಯಾಯಸಮ್ಮತ ಚುನಾವಣೆ ಸ್ಥಾನ ಮತ್ತು ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ತೆಗೆದುಕೊಳ್ಳುತ್ತಿರಲಿಲ್ಲ
ಅಂದಿನಿಂದಲೂ ಎಲೆಕ್ಷನ್ whims ಮತ್ತು ಅಪೇಕ್ಷೆಗೆ ಎಂದು ಅಂದರೆ ತಿದ್ದುಪಡಿ ಎಂದು
ಅನುಮಾನಗಳನ್ನು
ಕೆಳಗಿನ ಇ ವಿ ಎಂ ಗಳನ್ನು ಬದಲಾಯಿಸಲು ( VVPT ) ಯಂತ್ರಗಳು , ಆಯೋಗ . ಮತದಾನ
ಯಂತ್ರಗಳು ” ಕಂಪ್ಯೂಟರ್ ಸಾಫ್ಟ್ವೇರ್ಗಳು ಕುಶಲತೆಯಿಂದ ಮಾಡಬಹುದು ಗಣಕಯಂತ್ರ ” ಇವೆ .
ಹೊಸ ಯಂತ್ರಗಳು ಒಂದು ಕಾಗದ ಚೀಟಿಯನ್ನು ನಂತರ ಒಂದು ಬಾಕ್ಸ್ ಸಂಗ್ರಹವಾದ ಇದರಲ್ಲಿ
ವಿ ಎಂ ಮತದಾನ ಜೊತೆ ಬರುತ್ತದೆ ಅಲ್ಲಿ ಇಸಿ , ಆದೇಶಿಸಲಾದ . ಬಳಕೆ ಎಂದರೇನು? ಕಾಗದ
ಚೀಟಿಯನ್ನು ಮತದಾರ ” ಪಕ್ಷವು ಒಂದು” ಮತ casted , ಆದರೆ ಕ್ಯಾಲ್ಕುಲೇಟರ್ ತಂತ್ರಾಂಶ
“ಪಾರ್ಟಿ B” ಮತ ಸೇರಿಸಿ ಎಂದು ತೋರಿಸುತ್ತದೆ ! ಕಂಪ್ಯೂಟರ್ ಪ್ರೊಗ್ರಾಮೆಬಲ್ .
ನಕಲಿ ಕಾಗದ ಚೂರುಗಳನ್ನು ಯಾವುದೇ ಬಳಕೆ . ಸುಪೀರಿಯರ್
ನ್ಯಾಯಾಲಯಗಳಲ್ಲಿ ಇದು ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಒಂದು ಅಭ್ಯರ್ಥಿ victoryto
ಖಚಿತಪಡಿಸಿಕೊಳ್ಳಿ ಪೂರ್ವ ಪ್ರೋಗ್ರಾಮ್ಡ್ ಹೇಗೆ ಈ ಕಂಪ್ಯೂಟರ್ಗಳು ಕುಶಲತೆಯಿಂದ
ಮತ್ತು ಹೇಗೆ ಪ್ರದರ್ಶಿಸಿದ್ದಾರೆ. ವಿ ಎಂ ಯಂತ್ರಗಳು ಡೆಮಾಕ್ರಸಿ ಕೊಂದು ಹಾಗೆ ಎಲ್ಲಾ ವಿಭವವು ಹೊಂದಿರುವುದಿಲ್ಲ .

ಉಚ್ಚ ನ್ಯಾಯಾಲಯದ ಮತ್ತು ಉಚಿತ ಮತ್ತು ನ್ಯಾಯಯುತ ಮಾಧ್ಯಮ ಸೇರಿದಂತೆ ಡೆಮಾಕ್ರಸಿ
ಎತ್ತಿಹಿಡಿಯುವವರು ಮತದಾರರು ಜಾಗೃತಗೊಳಿಸುವ ತನಕ ಇಂತಹ ಸಂದರ್ಭಗಳಲ್ಲಿ ಮಾಧ್ಯಮಗಳು
ಕೆಳಗಿನ ಮಾನ್ಯತೆ ಮುಂದಕ್ಕೆ ಬರುವ ಸಾರ್ವತ್ರಿಕ ಚುನಾವಣೆಗಳಲ್ಲಿ ಯಾವುದೇ ಪ್ರಸ್ತುತತೆ
ಹೊಂದಿರುತ್ತದೆ .

ಒಂದು ಚಿಪ್ ” ಪಕ್ಷವು ಒಂದು” ಯಾವುದೇ ನಿಜವಾದ ಮತದಾನದ ಎಂಬುದರ “ಪಾರ್ಟಿ ಬಿ ” ಹೆಚ್ಚು 1 ಹೆಚ್ಚು ಮತ ಪಡೆಯಬೇಕು ಸೇರಿಸಬಹುದು.

ಈ ” ಮೇಲೆಯೆ ಆಜ್ಞೆಗಳು” ಎಂದು ಕರೆಯಲಾಗುತ್ತದೆ . ಕಂಪ್ಯೂಟರ್ ಕಂಪ್ಯೂಟರ್ಗಳಾಗಿದ್ದು. ಅವರು ಪ್ರೋಗ್ರಾಮ್ ಮತ್ತು ಮರು ಪ್ರೋಗ್ರಾಮ್ ಮಾಡಬಹುದಾಗಿದೆ .

ಭಾರತದ
ಆಡಳಿತ ಪಕ್ಷ ಮತ್ತು ಚುನಾವಣಾ ಆಯೋಗದ ಸತ್ಯ ನಿಯಮವನ್ನು ತಿರಸ್ಕರಿಸುತ್ತದೆ
ಚುನಾವಣೆಗಳಲ್ಲಿ ವಿ ಎಂ ಯಂತ್ರಗಳ ಬಳಕೆ ಒತ್ತಾಯಿಸಿದರು . ಅವರು ಭೇದಾತ್ಮಕ ಜಾತಿ
ಪಕ್ಷಪಾತ ಮೂಲವಾಗಿದೆ. ಮಾಯಾವತಿ Sarvajan Hithay Sarvajan Sukhay ತನ್ನ ನೀತಿ
ನಾಲ್ಕನೇ ಬಾರಿ ಉತ್ತರ ಪ್ರದೇಶದ ಮುಖ್ಯಮಂತ್ರಿಯಾದರು . sarvasamaj ಅಂದರೆ
thesupport ಜೊತೆ , ಎಲ್ಲಾ ಸಮಾಜಗಳು . ಎಲ್ಲಾ
ಆನೆ ಬಿಎಸ್ಪಿ ಚಿಹ್ನೆಗಳನ್ನು ಮತ್ತು ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಜಾತಿ / / ಒಬಿಸಿ ಶ್ರೇಷ್ಠರ
ಪ್ರತಿಮೆಗಳು draping ಆದೇಶ CEC ಸಹ ವಸ್ತ್ರಧಾರಿ ಕಾರಣ ಆದರೆ ಕಳೆದ ವಿಧಾನಸಭಾ
ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ
ಅವರು ಸೋತರು . ಇ ವಿ ಎಂ ಗಳನ್ನು ತನ್ನ ಸೋಲಿಸಲು ತಿದ್ದುಪಡಿ ಎಂದು ಶಂಕೆ ಇದೆ .
ಅನೇಕ ಸ್ಟೇಟ್ಸ್ ಚುನಾವಣೆಯ ನಂತರ ಚುನಾವಣೆ ಹೋದರು ಅಲ್ಲಿ . ಆದರೆ CEC
2014
ಲೋಕಸಭಾ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಸೇರಿದಂತೆ ಎಐಎಡಿಎಂಕೆ ಇತ್ಯಾದಿ ಕಾಂಗ್ರೆಸ್, ಬಿಜೆಪಿ ,
ಎಸ್ಪಿ , ಚಿಹ್ನೆಗಳು , draping ಆದೇಶ ಎಂದಿಗೂ . ಮೇಲ್ಜಾತಿಯ ನಾಯಕರ
ಪ್ರತಿಮೆಗಳನ್ನು ವಸ್ತ್ರಧಾರಿ ಆದೇಶ ಮಾಡಿಲ್ಲ . ಮಾನ್ಯ ಮುಖ್ಯ ನ್ಯಾಯಮೂರ್ತಿ ಮಟ್ಟದ
ಆಟದ ಮೈದಾನವನ್ನು ಚುನಾವಣಾ ಆಯೋಗ ರಲ್ಲಿ
ಪ್ರತಿನಿಧಿಸಲು ಮತ್ತು ಸಲುವಾಗಿ ಜಾರಿಗೆ ತನಕ ಚುನಾವಣೆ ಮುಂದೂಡಲಾಗಿದೆ ಮಾಡಬಹುದು
ಸಮಾಜದ ಎಲ್ಲಾ ವಿಭಾಗಗಳ ಸೇರಿವೆ ಸಂತೋಷ ಮಾಡಬಹುದು .

ಜನರು
ಮತ್ತು ಇತರ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಅಭ್ಯರ್ಥಿಗಳ ವಿ ಎಂ ಯಂತ್ರಗಳ ಬಳಕೆ ಅದಕ್ಕೆ ಉಲ್ಲಂಘಿಸಿದೆ
ಎಂದು ಕೆಲವು ಸಾಂವಿಧಾನಿಕ ಹಕ್ಕುಗಳನ್ನು ಹೊಂದಿವೆ. ಓಪನ್ ಸೋರ್ಸ್ ಕೋಡ್
ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಮಾಡಿದ ಇಲ್ಲ . ಜನರು ಸರಿಯಾದ ಘನತೆಯ ಒಂದು ಜೀವನವನ್ನು ಕಲೆ 21 ಅಡಿಯಲ್ಲಿ
ಹೊಂದಿವೆ . ನೀವು ಮುಕ್ತ ಹಾಗೂ ನ್ಯಾಯಸಮ್ಮತ ಚುನಾವಣೆ ಇಲ್ಲದೆ ಡಿಗ್ನಿಟಿ
ಜೀವನವನ್ನು ಬದುಕಲು ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ .

ಕೋರ್ಟ್ಸ್
ಅವರು ಕೇಳಲಾಗುತ್ತಿದೆ ಬೇಡಿಕೆಗಳನ್ನು ರವಾನಿಸಲು ವ್ಯಾಪ್ತಿಯನ್ನು ಹೊಂದಿದ
ಮತ್ತಷ್ಟು ಮನವರಿಕೆ ಮಾಡಬೇಕು , ಮತ್ತು ಇದು ನಿಷೇಧಿತ ಆದೇಶಗಳನ್ನು ನೀಡಿ
ಕಾರ್ಯಸಾಧ್ಯವಾದ
ಮತ್ತು ಅಪೇಕ್ಷಣೀಯ . ಇದು ನಿಷೇಧಿತ ಆದೇಶಗಳನ್ನು ಸಾಗಿಸುವುದರಿಂದ ಸಂವಿಧಾನ
ಎತ್ತಿಹಿಡಿಯಲು ಕೋರ್ಟ್ ಕರ್ತವ್ಯ. ElectionCommission ಒಂದು ಸರ್ಕಾರ ಕಾಯ ಮತ್ತು
ಕ್ರಮವಿಲ್ಲದ ವರ್ತಿಸಿದರೆ ಹೀಗಾಗಿ Art.14 ಉಲ್ಲಂಘಿಸುತ್ತದೆ .

ಚುನಾವಣಾ
ಆಯೋಗ ಯಂತ್ರಗಳು ಕುಶಲ ಸಾಮರ್ಥ್ಯವನ್ನು ಒಪ್ಪಿಕೊಳ್ಳುತ್ತಾನೆ ಇದ್ದಲ್ಲಿ,
ಕ್ರಮವಿಲ್ಲದ ವರ್ತಿಸುತ್ತದೆ ಮತ್ತು ಅದರ ನಿರ್ಣಯ ಪ್ರಕ್ರಿಯೆಯ ಕಲುಷಿತಕೊಂಡಿದ್ದು ಇದೆ
. ನಿರ್ಧಾರ ಘಟಕಗಳನ್ನು ನಿರ್ಧಾರ ಪ್ರಕ್ರಿಯೆಯಿಂದ ಬರದಂತೆ ನೆಲದ ಮೇಲೆ ತಳ್ಳಿಹಾಕಿತು ಹೊಣೆಗಾರನಾಗಿರುತ್ತಾನೆ .

ಇದು
ಸಂವಿಧಾನದ ಮೂಲಭೂತ ರಕ್ಷಿಸಲು ನ್ಯಾಯಾಲಯದ ಕರ್ತವ್ಯ. ನ್ಯಾಯಸಮ್ಮತ ಚುನಾವಣೆ
ಕುಶಲತೆಯಿಂದ ನಡೆಸಬಹುದಾದ ಚುನಾವಣೆಗಳು ಬದಲಾಯಿಸಿದರೆ , ಸಂವಿಧಾನದ ಮೂಲಭೂತ
ನಾಶವಾಗುತ್ತದೆ . ಆದ್ದರಿಂದ ವಿ ಎಂ ಯಂತ್ರಗಳು ನಿಷೇಧಿಸುವ ನ್ಯಾಯಾಲಯದ ಕರ್ತವ್ಯ.
ಅತ್ಯಂತ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ ದೇಶಗಳ ಸುಪೀರಿಯರ್ ಕೋರ್ಟ್ ಈಗಾಗಲೇ ಬಳಕೆ
ನಿಷೇಧಿಸಿವೆ.

ಕೋರ್ಟ್ ಇಸಿ ಇಂತಹ ನಿರಂಕುಶ ನೀತಿ ಮತ್ತು ನಿರ್ಧಾರಗಳನ್ನು ಅದನ್ನು ರದ್ದುಪಡಿಸಬಹುದು .

ಇಸಿ ಎಲ್ಲಾ ಮೊದಲ ಇ ವಿ ಎಂ ಗಳನ್ನು ಮಾತ್ರ ನಂತರ ಇದು ಮತ್ತಷ್ಟು ಹಂತಗಳನ್ನು
ಬದಲಾವಣೆಗಳು ತಡೆಯಲು ಅದನ್ನು ತೆಗೆದ ಬಗ್ಗೆ ನ್ಯಾಯಾಲಯಗಳು ಪೂರೈಸಲು ಬೇಕು …
ಕುಶಲತೆಯಿಂದ ಎಂದು ಪ್ರವೇಶ ಮಾಡಬೇಕು .

ಹೊರತಾಗಿ
ಜನರ ಹಕ್ಕುಗಳನ್ನು ರಿಂದ , ಪರಿಗಣಿಸುವ ಇತರ ಕಣಕ್ಕಿಳಿಸಿದೆ ಅಭ್ಯರ್ಥಿಗಳು ಹಕ್ಕುಗಳ
ಇವೆ . ಅಲ್ಲಿ ಅವರು ಒಂದು ಮರು ಎಣಿಕೆ ಮನವಿ ? ಹೇಗೆ ಅದೇ ಕುಶಲತೆಯಿಂದ ವಿ ಎಂ
ಗಣಕಗಳಲ್ಲಿ ಮಾಡಬಹುದು ?

ಮತಪತ್ರವನ್ನು ಮತದಾನದ ಮತ್ತು ಅಭ್ಯರ್ಥಿಗಳ ಪ್ರತಿನಿಧಿಗಳ ಸಮ್ಮುಖದಲ್ಲಿ ಎಣಿಕೆಯ ಮೂಲ
ವಿಧಾನವನ್ನು , ಇನ್ನೂ ಅಮೇರಿಕಾದ , ಬ್ರಿಟನ್, ಜರ್ಮನಿ ಇತ್ಯಾದಿ ರಾಷ್ಟ್ರಗಳು
ಮಾನ್ಯತೆ ಅತ್ಯುತ್ತಮ ವಿಧಾನವಾಗಿದೆ.

ನಮ್ಮ ನ್ಯಾಯಾಲಯಗಳು ಕರೆ ತೆಗೆದುಕೊಂಡು ಈಗಾಗಲೇ ಇತರ ದೇಶಗಳಲ್ಲಿ ನಿಷೇಧಿಸಲಾಗಿದೆ ಇದು ವಿ ಎಂ ಯಂತ್ರಗಳು ನಿಷೇಧಿಸುವ ಸಾಕಷ್ಟು ಪ್ರಬಲ ಬಯಸುವಿರಾ?

ನಾವು ನೋಡಲು ಹೊಂದಿವೆ. ಭಾರತ ಅನ್ವಯಿಸುವುದಿಲ್ಲ ಇತರ ದೇಶಗಳ ಕಾನೂನುಗಳು .

ನಮ್ಮ ನ್ಯಾಯಾಲಯಗಳು ಮತ್ತು ನಮ್ಮ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ ಪ್ರಕ್ರಿಯೆಯ ಮೂಲಕ ಸಾಗಿ .

ಇದು ಬೆಂಬಲಿಗರು ಯುಕ್ತಿಪೂರ್ಣ ವಿ ಎಂ ಯಂತ್ರಗಳಿಂದ ದೇಶದ ಸ್ವತಂತ್ರಗೊಳಿಸುವುದಕ್ಕೆ ತಮ್ಮ ಪ್ರಯತ್ನಗಳಲ್ಲಿ ಯಶಸ್ಸು ಭರವಸೆಯಿದೆ.

ವಿ ಎಂ / VVPT ಮುಕ್ತ ಮೂಲ ಕೋಡ್ ಮಟ್ಟದ ತಂಡಗಳ ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಮಾಡಬೇಕು .

ಕೇಂದ್ರ
ಪರವಾಗಿ ಅಟಾರ್ನಿ ಜನರಲ್ ಜಿಇ ವಹಾನ್ವತಿ ತಿದ್ದುಪಡಿ ಪ್ರಕ್ರಿಯೆ ” ನಡೆಯುತ್ತಿದೆ ”
ಎಂದು ನ್ಯಾಯಮೂರ್ತಿಗಳು ಪಿ Sathasivam ಮತ್ತು ರಂಜನ್ ಗೊಗೋಯ್ ಒಂದು ಬೆಂಚ್
ಮಾಹಿತಿ. ಮಾರ್ಚ್ 28, 2013 ಇಸಿ ಬರೆದ ಅಕ್ಷರದ ಪ್ರತಿಕ್ರಿಯೆಯಾಗಿ , ಕಾನೂನು ಸಚಿವಾಲಯ
ಶಾಸಕಾಂಗ ಇಲಾಖೆ ಸಂಸತ್ತಿನ ಮೊದಲು ಅಡಕವಾಗಿವೆ ಇದು ರೂಲ್ಸ್ , ತಿದ್ದುಪಡಿಗಳನ್ನು
ತಯಾರಿ ಕೆಲಸ ಆರಂಭಿಸಿದ್ದರು .

ಬೆಂಚ್
ನಾವು ಅಂತಿಮವಾಗಿ ಕೈಗೂಡಲಿಲ್ಲ ಎಂದು ಸಂತೋಷದಿಂದ ” , ಉದ್ಗರಿಸಿದ . ನಾವು ಅದನ್ನು
ಕಾರ್ಯಗತಗೊಳಿಸಲು ಆಗ ಈಗ ಏನು ಉಳಿದಿದೆ. ” ಎಲ್ಲಾ ಪಕ್ಷಗಳು VVPT ಯಂತ್ರಗಳು
ಪರಿಚಯಿಸುವ ಬೆಂಬಲ ಇತ್ತು .

ಈ ಎಲ್ಲಾ ಹೊರತಾಗಿಯೂ

ದೇವರು ಮತ್ತು ಒಟ್ಟಿಗೆ MAARAS , Brahmas ಮತ್ತು RECLUSES ಮತ್ತು ಬ್ರಾಹ್ಮಣರ
ಸಮುದಾಯ ಪುರುಷರು, ಈ ಜಗತ್ತಿನಲ್ಲಿ ಯಾರಾದರೂ CONFUSEVOTERS ಮನಸ್ಸನ್ನು
ಸಾಧ್ಯವಾಗಲಿಲ್ಲ ನೋಡಿ, ಅಥವಾ ಅವರ ಹೃದಯ ಒಡೆದ , ಅಥವಾ ತಮ್ಮ ಪಾದಗಳನ್ನು ತೆಗೆದ
ನದಿಯ ಬ್ಯಾಂಕ್ THROWTHEM ಸಾಧ್ಯವಾಗಲಿಲ್ಲ ನೀಡಬೇಡಿ.

ಮೋದಿ ಮೇಲೆ ಮಾಯಾ ‘ ಮುಂಜಾಗ್ರತೆಗಳು ‘ ಮುಸ್ಲಿಮರು

ಬಿಎಸ್ಪಿ ನಾಯಕಿ ಮಾಯಾವತಿ

ಬಿಜೆಪಿಯ ಪ್ರಧಾನಿ ಅಭ್ಯರ್ಥಿ ನರೇಂದ್ರ ಮೋದಿ ವಿರುದ್ಧ ಧ್ರುವೀಕರಣದ ಮುಸ್ಲಿಂ
ಮತದಾರರು ಕರೆ ಭಾನುವಾರ ವೆಸ್ಟ್ ಯುಪಿ , ಬಿಎಸ್ಪಿ ನಾಯಕಿ ಮಾಯಾವತಿ 10
ಕ್ಷೇತ್ರಗಳಲ್ಲಿ ಮತದಾನ ಮೊದಲ ಹಂತದಲ್ಲಿ ಕೇವಲ ಐದು ದಿನಗಳಲ್ಲಿ .

ಭಾನುವಾರ ಮೀರತ್ ರಲ್ಲಿ ರ್ಯಾಲಿಯೊಂದನ್ನು ಅವರು ” ಗೋಧ್ರಾ ಅಪರಾಧಿ ” ದಾರಿ
ಮತ್ತು ಅವರು ಬಿಎಸ್ಪಿ ಮತ ಮಾಡದಿದ್ದಲ್ಲಿ ಸಂಗೀತ ಎದುರಿಸಬೇಕಾಗುತ್ತದೆ ಎಂದು
ಹೇಳಿದರು .

” ಮೋದಿ 2002 ರಲ್ಲಿ ತನ್ನ ರಾಜ್ಯದಲ್ಲೇ ಗೋಧ್ರಾ ಮತ್ತು ನಂತರದ ಘಟನೆಗಳು
ವಿನ್ಯಾಸ . ಅವರು ನಿಮ್ಮ ತಪ್ಪಾಗಿ PM ಆಗುತ್ತದೆ ವೇಳೆ, ನಂತರ ಅವರು ಕೋಮು ಬೆಂಕಿ
ಒಳಗೆ ಇಡೀ ದೇಶದ ತಳ್ಳುತ್ತದೆ , ” ಅವರು ಹೇಳಿದರು .


ನೀವು ಕಾಂಗ್ರೆಸ್ , ಎಸ್ಪಿ, ಬಿಎಸ್ಪಿ ನಡುವೆ ನಿಮ್ಮ ಮತ ಭಾಗಿಸಿ ವೇಳೆ ಬಿಜೆಪಿ
ಗೆಲ್ಲಲು ಎಂದು ಪ್ರತಿ ಸಾಧ್ಯತೆ ಇರುತ್ತದೆ . ಅವರು ಗೆಲ್ಲಲು ಹೋಗುವ ಏಕೆಂದರೆ
ಕಾಂಗ್ರೆಸ್ ಮತ್ತು ಎಸ್ಪಿ ನಿಮ್ಮ ಮತ ತ್ಯಾಜ್ಯ ಹೋಗುತ್ತದೆ . ಆ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ, ಯಾರೂ
ಕೋಮು ನಿಲ್ಲಿಸಬಹುದು ಪಡೆಗಳು . ಆದರೆ ಬಿಜೆಪಿ ಮುಸ್ಲಿಂ ಸಮುದಾಯದ ತನ್ನ ಮತ ವಿಭಜನೆಯನ್ನು ಇದ್ದಲ್ಲಿ
ನಿಲ್ಲಿಸಿತು ಮತ್ತು ಬಿಎಸ್ಪಿ ಮಾತ್ರ ಬೆಂಬಲಿಸುತ್ತದೆ , “ಅವರು ಹೇಳಿದರು .

ಮಾಯಾವತಿ
ಮೋದಿ 2002 ರಲ್ಲಿ ಗುಜರಾತ್ ಘಟನೆಯ ನಿಖರವಾಗಿ ಏನು ಎಂದು. ವಾಸ್ತವವಾಗಿ ಮಾಯಾವತಿ
ಗುಜರಾತ್ 2002 ಗಲಭೆ ನಂತರ ವಿಧಾನಸಭಾ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಮೋದಿ ಪ್ರಚಾರ ಎಂದು ಉಳಿದಿದೆ .

ಮಾಯಾವತಿಗೆ
ಹೆಚ್ಚು surcharged ಮಾತುಗಳನ್ನಾಡಿದರು ಮತ್ತು ಬಿಜೆಪಿ ಪ್ರದೇಶದ ಹೊಣೆ ಅಮಿತ್ ಶಾ
ಈಗಾಗಲೇ ರಾಜ್ಯದ ಅಸ್ಥಿರಗೊಳಿಸುವ ಸಾಮುದಾಯಿಕವಾಗಿ ಕೆಲಸ ಆರಂಭಿಸಿದೆ ಎಂದು
ಆರೋಪಿಸಿ , ಇದು ಬಿಎಸ್ಪಿ backburner ಮೇಲೆ ಅಭಿವೃದ್ಧಿ ವಿಷಯಗಳನ್ನು ಪುಟ್ ಮತ್ತು
ಭಯ ರಚಿಸಲು ಗಮನ ಮನಗಾಣಲಾಯಿತು ಅಲ್ಪಸಂಖ್ಯಾತ ಸಮುದಾಯದಲ್ಲಿ ಬುದ್ಧಿವಿಕಲ್ಪ .

ಏತನ್ಮಧ್ಯೆ
ಒಂದು ದಿನ ಮೊದಲು , ಬಿಎಸ್ಪಿ ಮುಖಂಡ ವಹಾಬ್ ಚೌಧರಿ ಅವರು 22 ಇಂಚಿನ 56 ಇಂಚಿನ ನಿಂದ
ಮೋದಿ ಎದೆ ಕಡಿಮೆ ಎಂದು ಹೇಳಿದರು . ಚೌಧರಿ , Muradnagar ರಿಂದ ಶಾಸಕರಾಗಿ
ಮಾಯಾವತಿ ಉಪಸ್ಥಿತಿಯಲ್ಲಿ ಘಾಜಿಯಾಬಾದ್ ನಲ್ಲಿ ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಸಭೆಯಲ್ಲಿ ಶನಿವಾರ ಈ
ಹೇಳಿದ್ದಾರೆ .

” ಗುಜರಾತ್ ಮುಖ್ಯಮಂತ್ರಿ ಅವರು 56 ಇಂಚುಗಳು ಎದೆಯ ಹೊಂದಿದೆ ಹೇಳುತ್ತಾರೆ . ಆದರೆ
ನಾನು ನೀವು ಬಂದು ನಾನು ಸಣ್ಣ . Behen ಮಾಯಾವತಿ ಈ ಸೈನಿಕ 22 ಇಂಚು ಅದನ್ನು ಕಡಿದು
ಕಾಣಿಸುತ್ತದೆ , ಮಾಡಲು ಭರವಸೆ ಹೇಳಲು ಬಯಸುವ ” ಅವರು ಹೇಳಿದ್ದಾರೆ .

ಹಿಂದಿನ ಶುಕ್ರವಾರ , ನರೇಂದ್ರ ಕಶ್ಯಪ್ , ಬಿಎಸ್ಪಿ ರಾಜ್ಯಸಭಾ ಸದಸ್ಯ , ಗಬ್ಬರ್
ಸಿಂಗ್ , ಹಿಂದಿ ಚಿತ್ರ ಶೋಲೆ ಒಂದು ಖಳನಾಯಕ ಪಾತ್ರ ಮೋದಿ ಹೋಲಿಸಿದರೆ ಮತ್ತು
ಸಮನಾಗಿ ಕ್ರೂರ ಇಬ್ಬರೂ ಎಂಬ .

ಮೊದಲು, ಬಿಎಸ್ಪಿ ಮೊರದಾಬಾದ್ ಅಭ್ಯರ್ಥಿ ಹಾಜಿ ಯಾಕುಬ್ ಖುರೇಶಿ , ಒಂದು ” ಅನಾಗರಿಕ . ” ಮೋದಿ ಕರೆ

56) Classical Marathi

http://ibnlive.in.com/news/ec-deadline-to-mamata-says-transfer-officials-by-230-pm-today/463404-81.html









56 ) अभिजात मराठी

आपल्या मातृभाषेत हा अनुवाद करा

विनामूल्य ऑनलाइन ई नालंदा संशोधन आणि सराव विद्यापीठ

मला ईमेल करा
awakenmedia.prabandhak @ gmail.com
chandrasekhara.tipitka @ gmail.com

EVM मशीन दुरुपयोग संशोधन :

अपील
नामदार सरन्यायाधीश

http://www.business-standard.c…

http://www.theindianrepublic.c…

भारतीय प्रजासत्ताक

अवतार
Jagatheesan Chandrasekharan • काही सेकंद पूर्वी

चे
Bahuth Jiyadha Paapi त्यांच्या असहिष्णुता , द्वेष , राग , मत्सर एक
मानसिक रोग पण काहीही आहे मन सर्व defilement सह मतदार घाबरणे आणि उपचार
आवश्यक; हे सर्वात भयंकर 58 चोरी निष्ठा आरएसएस संबंधित कोण Godhra च्या
गुन्हेगार ” ” रानटी chested ” या
देशात एकच वंश म्हणून सर्व मालकीचे साठी पागलखाना आणि नाही संसदेत . दिवशी
विविध पक्षांच्या अनेक नेते या सहमत . सावली या 58 दरम्यान चालू बॉक्सिंग “
chested आडदांड गुन्हेगार आणि निष्ठा मूळ मालक आहे . देशातील या निष्ठा घाबरत नाही आहे .

निवडणूक
आयोगाने निवडणूक आयोगाने सर्व EVMs पुनर्स्थित उत्कृष्ट न्यायालय ऑर्डर
अंमलबजावणी करण्यास अयशस्वी म्हणून sarvasamaj राहण्याचे सदस्य नाही कारण
फक्त विना फाटणार्यास EVMs त्यांना मदत करू . त्याऐवजी 543 लोकसभा मतदारसंघांमध्ये च्या 385 VVPT मशीन बदलले गेले आहेत .

தேர்தல்
ஆணையம் தேர்தல் ஆணையம் அனைத்து இயந்திரங்களில் பதிலாக உயர் நீதிமன்றங்கள்
பொருட்டு செயல்படுத்தவில்லை என sarvasamaj சேர்ந்த உறுப்பினர்கள் இல்லை
என்பதால்
தான் அல்லாத மாற்ற இயலா தேர்தலில் அவர்களுக்கு உதவ முடியும் . அதற்கு
பதிலாக 543 மக்களவை தொகுதிகளில் 385 VVPT இயந்திரங்கள் மூலம்
மாற்றப்பட்டுள்ளது .

नवीन
मतदार तपासले कागद खुणेसाठी तो EVMs मोफत अस्तित्वात आली आणि वाजवी
निवडणुकीत स्थान आणि परिणाम घेत नाहीत कधीही पासून निवडणूक च्या whims आणि
fancies होते म्हणजेच बदल होऊ शंका खालील EVMs पुनर्स्थित ( VVPT ) यंत्रे,
आयोग . मतदान मशीन्स ” संगणक softwares द्वारे फेरफार केले जाऊ शकते जे
कॅलक्युलेटर्स ” आहेत . नवीन मशीन्स पेपर स्लिप नंतर बॉक्स मध्ये जमा केली
जाईल EVM मतदान बाहेर येतील जेथे EC , क्रमबद्ध आहेत . वापर काय आहे ? पेपर
स्लीप मतदार ” पार्टी अ ” साठी मत casted आहे , परंतु कॅल्क्युलेटर
सॉफ्टवेअर ” पार्टी ब ” ला मत जोडेल की दर्शवेल ! इंजिनियरिंग
प्रोग्राम्मेबल आहेत . अशा बनावट कागद स्लिपची नाही वापर . उत्कृष्ट
न्यायालय ते निवडणूक काळात एक उमेदवार victoryto सुनिश्चित करण्यासाठी
पूर्व प्रोग्राम जाऊ शकते कसे हे संगणक फेरफार केला जाऊ शकतो आणि कसे
दाखवून दिले गेले आहे . EVM मशीन लोकशाही ठार आणि तसे करण्यास सर्व potentials आहे आहेत .

उत्कृष्ट न्यायालय व मोफत आणी गोरा मीडिया समावेश लोकशाहीचे upholders
मतदार जागृत होईपर्यंत अशा परिस्थितीत मीडिया खालील प्रदर्शनासह बाहेर येत
सामान्य निवडणुकांमध्ये नाही प्रासंगिकता लागेल .

एक चिप ” पार्टी अ ” नाही बाब प्रत्यक्ष मतदान असू शकते काय ” पार्टी बी ” पेक्षा 1 अधिक मत मिळणे आवश्यक आहे की घातले जाऊ शकते .

हे ” Overwriting आदेश” म्हटले जाते . संगणक संगणक आहेत . ते प्रोग्राम आणि पुन्हा प्रोग्राम जाऊ शकते .

भारत
सत्ताधारी पक्ष व निवडणूक आयोगाने सत्य disregards आणि निवडणुकीत EVM मशीन
उपयोग insisted . ते discriminative जात बायस स्त्रोत आहेत . महेंद्रसिंग
मायावती Sarvajan Hithay Sarvajan Sukhay तिच्या धोरण चौथ्या काळ उत्तर
प्रदेश मुख्यमंत्री बनले . sarvasamaj म्हणजे thesupport सह , सर्व संस्था .
सर्व
हत्ती बसपाच्या च्या प्रतीकृती व अनुसूचित जाती / जमाती / ओबीसी चिन्हांचा
statues draping साठी क्रमबद्ध CEC देखील draped होते कारण पण गेल्या
विधानसभा
निवडणुकीत ती गमावले . EVMs देखील तिच्या चोरणे बदल होते की एक धास्ती आहे
. म्हणून अनेक राज्यांमध्ये उत्तरप्रदेश निवडणूक नंतर निवडणुकीच्या गेला
कुठे . पण CEC
2014 लोकसभा निवडणुकीत समावेश AIADMK इ कॉंग्रेस , भाजपचे
, एसपी , च्या प्रतीके draping साठी क्रमबद्ध कधीही . वरच्या जाती नेते ‘
च्या statues draped करणे देण्यात आली नाहीत . मा सरन्यायाधीश स्तर
खेळण्याच्या ग्राउंड साठी निवडणूक आयोगाने मध्ये
प्रतिनिधित्व व असा आदेश अंमलबजावणी पर्यंत निवडणुकीत पुढे ढकलण्यात जाऊ
शकते समाजाच्या सर्व विभाग समाविष्ट खूश असू शकते .

लोक
आणि इतर निवडणूक उमेदवार EVM मशीन वापर करून उल्लंघन जात असलेल्या काही
कायदेशीर अधिकार आहेत . मुक्त स्रोत कोड सार्वजनिक केला जात नाही . लोक
योग्य स्त्वाशभमान एक जीवन जगणे कला 21 अंतर्गत करा . आपण मुक्त आणि गोरा
निवडणुकीत न स्त्वाशभमान एक जीवन जगू शकत नाही .

न्यायालय
ते विचारले जात आहेत जे ऑर्डर पास कार्यक्षेत्र आहे की पुढील सहमत असणे ,
आणि
अशा प्रतिबंधक ऑर्डर जारी करण्याची व्यवहार्य आणि इष्ट आहे . अशा
प्रतिबंधक ऑर्डर करुन संविधानाने मान्य न्यायालयाने कर्तव्य आहे .
ElectionCommission सरकारी संस्था आहे आणि तो स्वैरपणे क्रिया तर त्यामुळे
तो Art.14 उल्लंघन .

निवडणूक
आयोगाच्या मशीन कुशलतेने हाताळणी करण्यास सक्षम आहे की देणे नाही , तर तो
स्वैरपणे
कार्य करते आणि त्याचे निर्णय घेण्याची प्रक्रिया vitiated आहे . निर्णय
महत्वाचे घटक निर्णय प्रक्रियेमध्ये बाहेर ठेवले आहेत की जमिनीवर खाली
मारले जाऊ उत्तरदायित्व आहे .

तो संविधानाच्या मूलभूत रचना संरक्षण
करण्यासाठी न्यायालयाने कर्तव्य आहे . सामान्य निवडणूक Manipulatable
निवडणूक बदलले आहेत तर , संविधानाच्या मूलभूत रचना नष्ट होतो . त्यामुळे
EVM मशीन बंदी न्यायालयाने कर्तव्य आहे . सर्वाधिक लोकशाही राष्ट्र
उत्कृष्ट न्यायालय आधीच अशा वापरासाठी बंदी घातली आहे .

न्यायालयाने EC अशा अनियंत्रित धोरण व निर्णय खाली तडाखा शकता .

EC प्रथम सर्व EVMs केवळ त्यानंतर तो पुढील पावले manipulations
टाळण्यासाठी ते करून घेतले आहेत काय न्यायालये समाधान पाहिजे … फेरफार
केले जाऊ शकतात देणे आवश्यक आहे .

आमच्या
लोक अधिकार पासून , समझले इतर Contesting उमेदवार अधिकार आहेत . कोठे ते
पुनर्मोजणी आकर्षणे होईल ? कसे ते समान फेरफार EVM मशीनवर केले जाऊ शकते ?

मतपत्रिका मतदान आणि उमेदवारांची प्रतिनिधी उपस्थित मोजणी चालू मूळ पद्धत
, तरीही अमेरिका , ब्रिटन , जर्मनी इत्यादी देशांच्या मान्यता म्हणून
उत्तम पद्धत आहे .

आमच्या न्यायालये कॉल घेणे आणि आधीच इतर देशांमध्ये बंदी असलेल्या EVM मशीन बंदी इतके शक्तिशाली आहे ?

आम्ही पाहण्यासाठी आहेत . भारत लागू नाही इतर देशांच्या कायदे .

आमच्या न्यायालये आणि आमच्या लोकशाही कार्यपध्दती द्वारे पडत आहेत .

तो समर्थक Manipulative EVM मशीनच्या देश मुक्त करण्यासाठी त्यांच्या प्रयत्नांत यशस्वी राबविली जाते .

EVM / VVPT उघडा स्रोत कोडमध्ये स्तर खेळताना क्षेत्रासाठी सार्वजनिक करणे आवश्यक आहे.

केंद्र
साठी दिसणार्या , ऍटर्नी जनरल जीई Vahanvati दुरुस्ती प्रक्रिया ” चालू ”
होता की Justices पी Sathasivam आणि रंजन Gogoi एक बेंच माहिती दिली. मार्च 28 , 2013 रोजी EC लिहिलेले एक पत्र प्रतिसादात , कायदा
मंत्रालयाच्या विधान विभाग संसदेत आधी ठेवण्यात येतील जे नियम , ते
सुधारणांचे तयार करण्याचे काम सुरु होते .

बेंच
आम्ही शेवटी materialized आहे की आनंदी आहेत ” , exclaimed . आम्ही ती
अंमलात असताना आता काय राहते आहे . ” सर्व पक्षांनी VVPT मशीन ओळख च्या
समर्थनार्थ होते .

या सर्व असूनही

देव एकत्र MAARAS , BRAHMAS आणि RECLUSES आणि ब्राह्मण ऑफ समुदायाशी
पुरुष, हा जगातील मी कोणालाही CONFUSEVOTERS लक्षात शक्य पहा , किंवा
त्यांच्या हृदय स्प्लिट , किंवा त्यांचे पाय घेतलेल्या नदी इतर बॅंक
THROWTHEM शक्य नाहीत .

मोदी प्रती माया ‘ cautions ‘ मुस्लिम

बसपाच्या सर्वंकष सत्ता हाती मायावती

भाजप च्या अविभाज्य मंत्रालयांचा उमेदवार नरेंद्र मोदी यांच्या विरोधात
(विचार मते तत्वे) परस्परांविरोधी बिंदूशी केद्रींत किंवा निगडीत करणे
करण्यासाठी मुस्लिम मतदारांनी यावर म्हणतात रविवारी पश्चिम उत्तरप्रदेश ,
बसपाच्या सर्वंकष सत्ता हाती मायावती 10 जागांसाठी वर मतदान पहिल्या
टप्प्यातील बाकी फक्त पाच दिवस .

रविवार मेरठ येथे एक मेळावा पत्ता , ती त्यांनी ” Godhra च्या गुन्हेगार “
मार्ग फरसबंदी आणि ते बसपाच्या मत नसेल तर संगीत सामोरे सांगितले .

” मोदी 2002 मध्ये त्यांनी स्वत: राज्यात Godhra आणि त्यानंतरच्या घटना
engineered होती . त्याला आपल्या चुकुन म.नं. ठरले तर मग तो जातीय आग मध्ये
संपूर्ण देशात ढकलणे होईल , ” ती हक्क सांगितला .


आपण काँग्रेस , सपा आणि बसपाच्या दरम्यान आपले मत वाटून तर भाजप विजय होईल
की प्रत्येक शक्यता आहे . ते जिंकण्यासाठी जात नाहीत कारण काँग्रेस आणि
सपा
आपले मत कचरा जाईल . त्या प्रकरणात , कोणीही जातीय थांबवू शकता सैन्याने .
पण भाजप मुस्लिम समुदाय त्याच्या मत विभाजीत नाही तर थांबले आणि बसपाच्या
केवळ समर्थन केले जाऊ शकते , ” ती म्हणाली .

मायावती मोदी 2002 मध्ये
गुजरात मध्ये घडले नक्की काय कराल की हक्क सांगितला . खरं मायावती
गुजरातमध्ये 2002 दंगली नंतर विधानसभा निवडणुकीत मोदी साठी campaigned होती
की राहते .

बसपाच्या
सर्वंकष सत्ता हाती असलेली एक अत्यंत surcharged भाषण वितरित आणि भाजप
च्या प्रभारी उत्तरप्रदेश अमित शहा आधीच राज्य उलथून पाडणे communally काम
सुरु आहे की आरोप तरी तो देखील बसपाच्या backburner विकास समस्या ठेवले आणि
भय निर्माण भर असे उघड झाले अल्पसंख्याक समाजातील विकृत मनथस्थिती .

दरम्यान
एक दिवस आधी , बसपाच्या नेते वहाब चौधरी त्याने 22 - इंच 56 - इंच पासून
मोदी छाती लहान असे सांगितले . चौधरी , Muradnagar पासून एक आमदार ,
मायावती उपस्थित गाझियाबाद सार्वजनिक सभेत शनिवारी हे सांगितले होते .

” गुजरात सीएम त्याने 56 इंच एक छाती आहे म्हणते . पण मी तुम्हाला पर्यंत
येऊन मी ते लहान . Behen मायावती या लढवय्या 22 इंच ते वार होईल , करणे
वचन सांगायचं ” तो म्हणाला होता .

तत्पूर्वी शुक्रवारी , नरेंद्र Kashyap , बसपाच्या च्या राज्यसभेचे सदस्य
, Gabbar सिंग , हिंदी चित्रपट Sholay पासून एक खराब वर्ण , सह मोदी
तुलनेत आणि म्हणून तितकेच क्रूर त्यांना दोन्ही डब होती .

त्या आधी , बसपाच्या च्या मुरादाबाद उमेदवार , हाजी Yaqub कुरेशी , एक ” आडदांड . ” मोदी म्हणतात होती


58) Classical Nepali

http://www.opendemocracy.net/opensecurity/ivan-briscoe/venezuela-taking-counter-out-of-revolution
Site Logo




58 ) शास्त्रीय नेपाली

आफ्नो मातृभाषा यो अनुवाद गर्नुहोस्

निःशुल्क अनलाइन ई - NALANDA अनुसन्धान र अभ्यास UNIVERSITY

मा मलाई इमेल
awakenmedia.prabandhak @ gmail.com
chandrasekhara.tipitka @ gmail.com

EVM मिसिन दुरुपयोगः अनुसन्धान :

को लागि अपिल
माननीय मुख्य न्यायाधीश

http://www.business-standard.com/article/elections-2014/bjp-manifesto-comprehensive-but-implementation-is-key-analysts-114040700370_1.html

http://www.theindianrepublic.com/featured/narendra-modi-addresses-rallies-bijor-aligarh-uttar-pradesh-100031654.html

भारतीय गणतन्त्र

अवतार
Jagatheesan Chandrasekharan • एक केहि सेकेन्ड पहिले

को
Bahuth Jiyadha Paapi आफ्नो पचाउन , घृणा , रीस , डाहा एक मानसिक रोग तर
केही छ जो मन को सबै बिटुलो संग मतदाता तर्साउन र उपचार आवश्यक ; यो भन्दा
डरलाग्दा 58 को चुपके गुट आरएसएस हौं गोधरा को अपराधी ” ” असभ्य chested ”
यो
देश एक जाति भएकोले सबै बस्नेछ लागि मानसिक शरण मा र छैन संसद मा । आज
विभिन्न दलका धेरै नेताहरू सहमत । छाया यो 58 बीच भइरहेको मुक्केबाजी ”
chested असभ्य अपराधी र गुट को मूल मालिक छ
देश यो गुट को डर छैन ।

निर्वाचन
आयोग निर्वाचन आयोग सबै EVMs प्रतिस्थापन गर्न उच्च अदालतको आदेश
कार्यान्वयन गर्न असफल भयो रूपमा sarvasamaj अङ्ग छैन किनभने केवल गैर
छेडछाड EVMs उनलाई मदद गर्न सक्छ ।
बरु 543 लोकसभा जमातको 385 VVPT मिसिन द्वारा प्रतिस्थापित गरिएको छ ।

தேர்தல்
ஆணையம் தேர்தல் ஆணையம் அனைத்து இயந்திரங்களில் பதிலாக உயர் நீதிமன்றங்கள்
பொருட்டு செயல்படுத்தவில்லை என sarvasamaj சேர்ந்த உறுப்பினர்கள் இல்லை
என்பதால் தான் அல்லாத மாற்ற இயலா தேர்தலில் அவர்களுக்கு உதவ முடியும் ।
அதற்கு பதிலாக 543 மக்களவை தொகுதிகளில் 385 VVPT இயந்திரங்கள் மூலம் மாற்றப்பட்டுள்ளது ।

नयाँ
मतदाता प्रमाणित पेपर निशान यो EVMs निःशुल्क अस्तित्वमा आयो र निष्पक्ष
चुनाव ठाउँ र परिणाम ले थिएनन् अहिलेसम्म निर्वाचन को सनक र fancies थियो
जसको अर्थ छ कि फेरबदल गर्न सकिएन शंका निम्न को EVMs प्रतिस्थापन गर्न (
VVPT ) मिसिन ,
आयोग । भोट हाल्नु मिसिन ” कम्प्युटर सफ्टवेयर को द्वारा छेडछाड गर्न जो आईपीओ ” हो । नयाँ मिसिन एक कागज रसिद त्यसपछि एक बक्स मा जम्मा हुनेछ जो EVM मतदान गरेको हो जहाँ आयोग , ले दिए हो । के कुरा गर्ने ? कागज
स् मतदाता ” पार्टी एक ” को लागि मतदान casted छ , तर कैलकुलेटर सफ्टवेयर ”
पार्टी बी ” को मतदान थप्न भन्ने कुरा देखाउँछ हुनेछ !
कम्प्यूटर प्रोग्राम गर्दै छन् । यस्तो नक्कली कागज चिप्लछ लागि कुनै उपयोग । उच्च
अदालतमा यो निर्वाचनका बेला एक उम्मेदवार victoryto बनाउन पूर्व -
प्रोग्राम कसरी गर्न सकिन्छ, यी कम्प्यूटर छेडछाड गर्न र कसरी प्रदर्शन
गरिएको छ ।
यस EVM मिसिन लोकतन्त्र हत्या र त्यसो गर्न सबै क्षमता छ छ ।

उच्च अदालत र निःशुल्क र निष्पक्ष मिडिया सहित लोकतन्त्रको समर्थन गर्ने
व्यक्ति मतदाता जगाउन सम्म यस्तो परिस्थितिमा मिडियाले निम्न जोखिम को
निस्केको सामान्य निर्वाचन मा कुनै उपयुक्त हुनेछ ।

एक चिप ” पार्टी एक ” कुनै कुरा वास्तविक मतदान के हुन सक्छ ” पार्टी बी ”
भन्दा 1 बढी मत प्राप्त गर्नुपर्छ भनेर सम्मिलित गर्न सकिन्छ ।

यी ” Overwriting आदेशहरू ” भनिन्छ । कम्प्युटर कम्प्यूटर हो । तिनीहरूले प्रोग्राम र पुन: प्रोग्राम गर्न सकिन्छ ।

भारत को सत्तारूढ दल र निर्वाचन आयोग सत्य उल्लंघन र निर्वाचन मा EVM मिसिन को प्रयोग मा जोर । तिनीहरूले discriminative जाति पूर्वाग्रह स्रोत हो । सुश्री मायावती Sarvajan Hithay Sarvajan Sukhay उनको नीति चौथो पटक उत्तर प्रदेश को मुख्य मन्त्री भए । sarvasamaj अर्थात thesupport संग , सबै समाजमा । सबै
हात्ती बसपा प्रतीक र अनुसूचित जाति / जनजाति / पिछडा वर्ग प्रतिमा
प्रतिमा draping लागि आदेश दिए सीईसी पनि draped थिए किनभने तर पछिल्लो
विधानसभा चुनाव मा त्यो गुमाए ।
को EVMs पनि उनको पराजित गर्न फेरबदल थिए कि एक आशंका छ । धेरै राज्यहरु उत्तर प्रदेश निर्वाचन पछि चुनाव को लागि गए कहाँ । तर सीईसी
सन् 2014 को लोकसभा निर्वाचनमा सहित अन्नाद्रमुक आदि कांग्रेस , भाजपा , सपा , को प्रतीक , draping लागि आदेश कहिल्यै । माथिल्लो जातका नेता ‘ को मूर्तिहरू draped गर्न आदेश दिइएको छैन । माननीय मुख्य न्यायाधीश तह खेल मैदान लागि निर्वाचन आयोग मा प्रतिनिधित्व
गर्न र यस्तो आदेश कार्यान्वयन सम्म चुनाव स्थगित हुन सक्छन् समाज को सबै
वर्गहरु समावेश गर्न खुसी हुन सक्छ ।

मानिसहरू र अन्य निर्वाचन उम्मेदवारहरु EVM मिसिन को प्रयोग गरेर उल्लङ्घन भइरहेको छ , जो केही संवैधानिक अधिकार छ । खुला स्रोत कोड सार्वजनिक गरिएको छैन । मानिसहरू सही मर्यादित जीवन बिताउन कला 21 को तहत छ । तपाईं स्वतन्त्र र निष्पक्ष चुनाव बिना मर्यादित जीवन जिउन सक्दैनौं ।

अदालतको
तिनीहरूले भन्यो जा रहेको छ , जो आदेश पारित गर्न अधिकार क्षेत्र कि स्थान
विश्वस्त हुनुपर्छ , र त्यस्तो निषेधाज्ञाको आदेश जारी गर्न व्यावहारिक र
मनमोहक छ ।
यो यस्तो निषेधाज्ञाको आदेश पारित गरेर संविधान समर्थन गर्न अदालतको कर्तव्य हो । ElectionCommission एक सरकार निकाय हो र यो मनपरी गर्दछ भने यसैले यो Art.14 उल्लङ्घन ।

निर्वाचन आयोग मिसिन हेरफेर गर्न सक्षम छन् भनी महशूस गर्दैन भने , यो मनपरी गर्दछ र आफ्नो निर्णय प्रक्रिया vitiated छ । निर्णय महत्वपूर्ण घटक निर्णय प्रक्रिया देखि बाहिर राखिएको छ कि भुइँमा प्रहार उत्तरदायी छ ।

यो संविधानको आधारभूत संरचना रक्षा गर्न अदालतको कर्तव्य हो । निष्पक्ष चुनाव Manipulatable निर्वाचन संग प्रतिस्थापित गर्दै छन् भने , संविधानको आधारभूत संरचना नष्ट छ । त्यसैले यो EVM मिसिन प्रतिबन्ध लगाउन अदालतको कर्तव्य हो । हाल प्रजातान्त्रिक देशहरू को उच्च अदालतहरूको पहिले नै यस्तो उपयोग प्रतिबन्धित छ ।

अदालतले आयोग त्यस्तो स्वेच्छाचारी नीति र निर्णय तल हडताल गर्न सक्छन् ।

आयोग सर्वप्रथम EVMs केवल त्यसपछि यो कदम अगाडी जोडतोड रोक्न यो लिएको छ
के अदालतमा पूरा गर्नुपर्छ … छेडछाड गर्न भनेर स्वीकार्नैपर्छ ।

वाहेक मान्छे को अधिकार देखि , विचार गर्न अन्य लडने उम्मेदवारको अधिकार हो । कहाँ तिनीहरू पुन: गणना लागि अपील गर्नेछन् ? कसरी यो त्यसै चालाकी EVM मिसिन के गर्न सकिन्छ ?

मतपत्र कागज मतदान र उम्मेदवारहरु को प्रतिनिधि उपस्थिति मा गणना को मूल
विधि , अझै पनि अमेरिका, बेलायत , जर्मनी आदि देशहरू मान्यता जस्तै सबै
भन्दा राम्रो विधि हो ।

हाम्रो अदालतहरूको कल लिन र पहिले देखि नै अन्य देशमा प्रतिबन्ध लगाइएको
हो जो EVM मिसिन प्रतिबन्ध लगाउन पर्याप्त शक्तिशाली हुनुहुन्छ ?

हामी देख्न छ । भारत मा लागू छैन अन्य देशहरूमा कानून ।

हाम्रो अदालत र हाम्रो लोकतन्त्र एक प्रक्रिया बीचैमा छन् ।

यो समर्थकहरू Manipulative EVM मिसिनबाट देशलाई स्वतन्त्र गर्ने आफ्नो प्रयासमा सफल आशा छ ।

EVM / VVPT खुला स्रोत कोड स्तर खेल्नेस्थानकोसाइज लागि जनता गरिनु पर्छ ।

केन्द्र
को लागि देखापर्दा , महान्यायाधिवक्ता जीई Vahanvati संशोधनको प्रक्रिया ”
अभियुक्तहरू ” थियो कि न्यायाधीशहरुको पी Sathasivam र रञ्जन गोगोइ को एक
पीठ सूचित ।
मार्च 28 , 2013 मा आयोग द्वारा लिखित पत्र प्रतिक्रिया मा, कानुन
मन्त्रालय को विधान विभागको संसद पहिले राखयो हुनेछ जो नियम , संशोधन तयारी
को काम सुरु भइसकेको थियो ।

पीठ हामी यो अन्त धारण छ कि खुसी छन् ” , यस्तो उद्गार । हामी यसलाई लागू गर्न हुँदा अब के रहन्छ छ । ” सबै दलका VVPT मिसिन शुरू समर्थन थिए ।

यी सबै बावजुद

देवता र सँगसँगै MAARAS , BRAHMAS र RECLUSES र बाहुनको समुदायमा पुरुष ,
को यस संसारमा म कुनै CONFUSEVOTERS मन सक्नुभयो देख्न , या उनको हृदय
विभाजित , या तिनीहरूको खुट्टा लिएको नदीको अन्य बैंक THROWTHEM सकिएन
लाग्छ ।

मोदी मा माया ‘ यस्तो चेतावनी ‘ मुस्लिम

बसपा सुप्रीमो मायावती

भाजपा ूधानमन्ीको उम्मेदवार नरेन्द्र मोदी विरुद्ध polarize लागि मुस्लिम
मतदाता आह्वान आइतबार पश्चिम उत्तर प्रदेश , बसपा सुप्रीमो मायावती को 10
सिट मा मतदान को पहिलो चरण बाँकी पाँच दिन मात्र संग ।

आइतबार मेरठ को र् सम्बोधन , त्यो तिनीहरूले ” गोधरा को अपराधी ” को लागि
मार्ग प्रशस्त र तिनीहरूले बीएसपी लागि मतदान गरेनन् भने संगीत को सामना
बताए ।

” मोदी 2002 मा आफ्नो राज्य गोधरा र तदनुरूप घटनामा ईन्जिनियर थियो ।
उहाँले आफ्नो गल्ती गरेर PM हुन्छ भने , त्यसपछि उहाँले साम्प्रदायिक आगोमा
सम्पूर्ण देश धक्का हुनेछ , ” उनले दाबी गरे ।


तपाईं कांग्रेस , सपा र बसपा को बीच आफ्नो मत विभाजित यदि भाजपा जित्छ कि
हरेक संभावना छ । तिनीहरू विजयी हुने छैन किनभने कांग्रेस र एसपी तपाईंको
मत फोहोर जानेछन् । यस्तो अवस्थामा , कसैले पनि साम्प्रदायिक रोक्न सक्दैन
सेना । तर भाजपा मुस्लिम समुदायले आफ्नो मत विभाजन छैन भने रोकियो र बीएसपी मात्र समर्थन गर्न सकिन्छ , ” उनले भने ।

मायावती मोदी 2002 मा गुजरात मा भयो थियो ठीक के दावी गरे । साँच्चै भन्ने हो भने , मायावती गुजरात मा 2002 हूलदङ्गा पछि सभा चुनाव मा मोदी लागि अभियान थियो कि रहन्छ ।

बीएसपी
सुप्रीमो एक अत्यधिक Surcharged भाषण र भाजपा को दशकमा - चार्ज अमित शाह
को पहिले नै गर्दछन् सांप्रदायिक लागि काम सुरु गरेको छ कि आरोप तापनि , यो
पनि बीएसपी को backburner मा विकास नाम दिइएको र भय सृजना भनेर स्पष्ट भयो
अल्पसंख्यक समुदायका मानसिकता ।

यसैबीच एक दिन अगाडि , बसपा नेता वाहब चौधरी उहाँले 22 इन्चको 56 इन्चको देखि मोदी गर्नुपर्छ छाती छोट्याउन बताए । चौधरी , Muradnagar देखि एक विधायक , मायावती को उपस्थिति मा गाजियाबाद मा एक सार्वजनिक सभामा शनिबार यो भन्नुभएको थियो ।

” गुजरात मुख्यमंत्री उहाँले 56 इन्च छाती छ भन्छन् । तर म तपाईंलाई
प्रदेश आउन र म सानो । Behen मायावती यो सिपाही 22 इन्च यो slash हुनेछ ,
गर्न प्रतिज्ञा भन्न चाहन्छु ” उहाँले भन्नुभएको थियो ।

यसअघि शुक्रबार , नरेन्द्र कश्यप , बीएसपी को राज्य सभा सदस्य , Gabbar
सिंह , हिन्दी फिल्म Sholay देखि एक villainous चरित्र , संग मोदी तुलना र
रूप उत्तिकै निर्दयी दुवै संज्ञा थियो ।

त्यो अघि , बीएसपी को मोरादाबाद उम्मेदवार , हाजी Yaqub Qureshi , एक ” असभ्य । ” मोदी भनिन्छ थियो

63) Classical Punjabi


http://www.opendemocracy.net/5050/andrea-cornwall/reclaiming-feminist-visions-of-empowerment

New free e-book: Democratic Wealth

Site Logo









63 ) ਕਲਾਸੀਕਲ ਵਿੱਚ ਪੰਜਾਬੀ

ਤੁਹਾਡੇ ਮਾਤਾ ਜੀਭ ਵਿੱਚ ਇਸ ਦਾ ਅਨੁਵਾਦ ਕਰੋ ਜੀ

ਮੁਫ਼ਤ ਆਨਲਾਇਨ E- ਨਾਲੰਦਾ ਰਿਸਰਚ ਅਤੇ ਪ੍ਰੈਕਟਿਸ ਯੂਨੀਵਰਿਸਟੀ

‘ਤੇ ਈਮੇਲ ਕਰੋ
awakenmedia.prabandhak @ gmail.com
chandrasekhara.tipitka @ gmail.com

EVM ਮਸ਼ੀਨ ਦੀ ਦੁਰਵਰਤ ਤੇ ਖੋਜ :

ਨੂੰ ਇੱਕ ਅਪੀਲ
ਮਾਨਯੋਗ ਮੁੱਖ ਜੱਜ

http://www.business-standard.c…

http://www.theindianrepublic.c…

ਭਾਰਤੀ ਗਣਤੰਤਰ

ਅਵਤਾਰ
Jagatheesan Chandrasekharan • ਕੁਝ ਕੁ ਸਕਿੰਟ ਜ਼ਿਆਦਾ

ਹਵਾਈਅੱਡੇ
Bahuth Jiyadha ਪਾਪੀ ਨੂੰ ਆਪਣੇ ਅਸਹਿਣਸ਼ੀਲਤਾ , ਨਫ਼ਰਤ , ਗੁੱਸੇ , ਈਰਖਾ , ਇੱਕ
ਮਾਨਸਿਕ ਰੋਗ ਹੈ, ਪਰ ਕੁਝ ਵੀ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਮਨ ਦੀ ਸਭ defilement ਨਾਲ ਵੋਟਰ ਧਮਕਾਣਾ
ਅਤੇ ਇਲਾਜ ਦੀ ਲੋੜ ; ਇਹ ਸਭ ਡਰ 58 ਬਣਾਉਦੀ ਮਤ ਮਈ ਨੂੰ ਨਾਲ ਸੰਬੰਧਿਤ ਹਨ , ਜੋ ਗੋਧਰਾ
ਦੇ ਦੋਸ਼ੀ “” ਅਜੀਬ chested ” ਇਸ
ਦੇਸ਼ ਨੂੰ ਇੱਕ ਸਿੰਗਲ ਦੀ ਦੌੜ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਸਭ ਨਾਲ ਸਬੰਧਿਤ ਲਈ ਮਾਨਸਿਕ ਸ਼ਰਣ ਵਿੱਚ
ਹੈ ਅਤੇ ਨਾ ਸੰਸਦ ਵਿੱਚ . ਦਿਨ ਕਰਨ ਲਈ ਵੱਖ ਵੱਖ ਪੱਖ ਦੇ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਆਗੂ ਨੂੰ ਇਸ ਨਾਲ
ਸਹਿਮਤ ਹਨ. ਇੱਕ ਸ਼ੈਡੋ , ਇਸ 58 ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਹੈ ਤੇ ਜਾ ਰਿਹਾ ਮੁੱਕੇਬਾਜ਼ੀ ”
chested ਅਜੀਬ ਦੋਸ਼ੀ ਹੈ ਅਤੇ ਮਤ ਦਾ ਅਸਲੀ ਮਾਲਕ ਦੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ . ਦੇਸ਼ ਨੂੰ ਇਸ ਦੀ ਮਤ ਦਾ ਡਰ ਨਹੀ ਹੈ .

ਚੋਣ
ਕਮਿਸ਼ਨ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਸਭ ਇਮਪਲਾਈਜ਼ ਨੂੰ ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ਲਈ ਸੁਪੀਰੀਅਰ ਕੋਰਟ ਦੇ
ਹੁਕਮ ਨੂੰ ਲਾਗੂ ਕਰਨ ਵਿੱਚ ਫੇਲ ਹੋ ਗਈ ਹੈ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ sarvasamaj ਨਾਲ ਸਬੰਧਤ ਮਬਰ
ਨਹ ਹੈ , ਕਿਉਕਿ ਕੇਵਲ ਗੈਰ ਵਸਾਤੇ ਸਬੂਤ ਇਮਪਲਾਈਜ਼ ਮਦਦ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ . ਇਸ ਦੀ ਬਜਾਏ
543 ਲੋਕ ਸਭਾ ਹਲਕੇ ਦੇ 385 VVPT ਮਸ਼ੀਨ ਨਾਲ ਤਬਦੀਲ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ .

தேர்தல்
ஆணையம் தேர்தல் ஆணையம் அனைத்து இயந்திரங்களில் பதிலாக உயர் நீதிமன்றங்கள்
பொருட்டு செயல்படுத்தவில்லை என sarvasamaj சேர்ந்த உறுப்பினர்கள் இல்லை
என்பதால்
தான் அல்லாத மாற்ற இயலா தேர்தலில் அவர்களுக்கு உதவ முடியும் . அதற்கு
பதிலாக 543 மக்களவை தொகுதிகளில் 385 VVPT இயந்திரங்கள் மூலம்
மாற்றப்பட்டுள்ளது .

ਨਿਊ
ਵੋਟਰ ਅਤੇਤਸਦੀਕ ਪੇਪਰ ਟਰੇਲ ਇਸ ਨੂੰ ਇਮਪਲਾਈਜ਼ ਮੁਫ਼ਤ ਮੌਜੂਦਗੀ ਵਿੱਚ ਆਇਆ ਹੈ ਅਤੇ
ਨਿਰਪੱਖ ਚੋਣ ਜਗ੍ਹਾ ਹੈ ਅਤੇ ਨਤੀਜੇ ਨੂੰ ਲੈ ਕੇ ਨਾ ਰਹੇ ਸਨ, ਕਦੇ ਲੈ ਕੇ ਇਲੈਕਸ਼ਨ ਦੇ
ਸਨਕ ਅਤੇ ਖਬਤ ਨੂੰ ਸਨ ਦਾ ਮਤਲਬ ਹੈ ਕਿ , ਜਿਸ ਨੂੰ ਛੇੜਛਾੜ ਕੀਤੀ ਜਾ ਸਕਦੀ ਹੈ , ਜੋ
ਕਿ
ਸ਼ੱਕ ਹੇਠ ਦਿੱਤੇ ਇਮਪਲਾਈਜ਼ ਨੂੰ ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ਲਈ ( VVPT ) ਮਸ਼ੀਨ , ਕਮਿਸ਼ਨ .
ਵੋਟਿੰਗ ਮਸ਼ੀਨ “ਕੰਪਿਊਟਰ ਸਾਫਟਵੇਅਰ ਕੇ ਹੇਰਾਫੇਰੀ ਕੀਤੀ ਜਾ ਸਕਦੀ ਹੈ , ਜੋ ਕਿ
Calculators ” ਹਨ . ਨਿਊ
ਮਸ਼ੀਨ ਇੱਕ ਪੇਪਰ ਤਿਲਕ ਫਿਰ ਇੱਕ ਬਾਕਸ ਵਿੱਚ ਰੱਖਿਆ ਜਾਵੇਗਾ, ਜੋ ਕਿ EVM ਵੋਟਿੰਗ ਦੇ
ਨਾਲ ਬਾਹਰ ਆ ਜਾਵੇਗਾ , ਜਿੱਥੇ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ , ਕੇ ਦੇ ਹੁਕਮ ਦਿੱਤੇ ਹਨ . ਵਰਤਣ ਕੀ ਹੈ ? ਪੇਪਰ
ਤਿਲਕ ਵੋਟਰ ” ਪਾਰਟੀ ਇੱਕ ” ਲਈ ਵੋਟ ਸਿਰ੍ਹਾਣੇ ਕੀਤਾ ਹੈ , ਪਰ ਕੈਲਕੂਲੇਟਰ ਸਾਫਟਵੇਅਰ
ਨੂੰ ” ਪਾਰਟੀ B” ਨੂੰ ਵੋਟ ਸ਼ਾਮਿਲ ਕਰੇਗਾ , ਜੋ ਕਿ ਵੇਖਾਏਗਾ ! ਕੰਪਿਊਟਰ ਪਰੋਗਰਾਮੇਬਲ ਹਨ . ਅਜਿਹੇ ਫਰਜ਼ੀ ਕਾਗਜ਼ ਉਖੇੜੇ ਲਈ ਕੋਈ ਵਰਤਣ . ਸੁਪੀਰੀਅਰ
ਕੋਰਟ ‘ਚ ਇਸ ਨੂੰ ਇਸ ਨੂੰ ਚੋਣ ਦੇ ਦੌਰਾਨ ਇੱਕ ਉਮੀਦਵਾਰ victoryto ਇਹ ਯਕੀਨੀ ਬਣਾਉਣ
ਲਈ pre- programmed ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ ਕਿਸ ਇਹ ਕੰਪਿਊਟਰ ਹੇਰਾਫੇਰੀ ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ
ਹੈ ਅਤੇ ਇਸ ਨੂੰ ਕਿੰਨਾ ਦਿਖਾਇਆ ਗਿਆ ਹੈ. EVM ਮਸ਼ੀਨ ਲੋਕਤੰਤਰ ਨੂੰ ਮਾਰ ਦਿੱਤਾ ਹੈ ਅਤੇ ਅਜਿਹਾ ਕਰਨ ਲਈ ਸਾਰੇ ਸਮਰੱਥਾ ਹੈ ਹੈ .

ਸੁਪੀਰੀਅਰ ਕੋਰਟ ਅਤੇ ਮੁਫ਼ਤ ਹੈ ਅਤੇ ਨਿਰਪੱਖ ਮੀਡੀਆ ਨੂੰ ਵੀ ਸ਼ਾਮਲ ਹਨ ਲੋਕਤੰਤਰ ਦਾ
upholders ਵੋਟਰ ਨੂੰ ਜਗਾ , ਜਦ ਤੱਕ ਅਜਿਹੇ ਹਾਲਾਤ ਦੇ ਤਹਿਤ ਮੀਡੀਆ ਨੂੰ ਦੇ ਕੇ ,
ਹੇਠਲੇ ਪੱਧਰ ਲਈ ਬਾਹਰ ਆਉਣ ਜਨਰਲ ਇਲੈਕਸ਼ਨਜ਼ ਵਿੱਚ ਕੋਈ ਸਾਰਥਕ ਹੋਵੇਗੀ .

ਇੱਕ ਚਿੱਪ ” ਪਾਰਟੀ ਦੇ ਇੱਕ ” ਕੋਈ ਵੀ ਇਸ ਮਾਮਲੇ ਨੂੰ ਅਸਲ ਵੋਟਿੰਗ ਹੋ ਸਕਦੀ ਹੈ ਕਿ
ਕੀ ” ਪਾਰਟੀ B ” ਵੱਧ 1 ਹੋਰ ਵੋਟ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨੀ ਚਾਹੀਦੀ ਹੈ , ਜੋ ਕਿ ਪਾਈ ਜਾ ਸਕਦੀ
ਹੈ.

ਇਹ ” ਉੱਪਰ ਲਿਖਣਾ Commands ” ਕਹਿੰਦੇ ਹਨ. ਕੰਪਿਊਟਰ ਕੰਪਿਊਟਰ ਹੁੰਦੇ ਹਨ . ਉਹ programmed ਅਤੇ ਮੁੜ - programmed ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ .

ਭਾਰਤ
ਦੇ ਸੱਤਾਧਾਰੀ ਪਾਰਟੀ ਅਤੇ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਸੱਚਾਈ ਇਨਕਾਰੀ ਹੈ ਅਤੇ ਇਲੈਕਸ਼ਨਜ਼ ਵਿੱਚ
EVM ਮਸ਼ੀਨ ਦੀ ਵਰਤੋ ‘ਤੇ ਜ਼ੋਰ . ਉਹ discriminative ਜਾਤੀ ਪੱਖਪਾਤ ਦਾ ਸਰੋਤ ਹਨ .
ਸ੍ਰੀਮਤੀ ਮਾਇਆਵਤੀ Sarvajan Hithay Sarvajan Sukhay ਦੀ ਉਸ ਦੀ ਨੀਤੀ ਨੂੰ ਨਾਲ
ਚੌਥੀ ਵਾਰ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਬਣ ਗਏ. sarvasamaj ਭਾਵ ਦੇ thesupport
ਨਾਲ , ਸਾਰੇ ਸਮਾਜ . ਸਾਰੇ
ਹਾਥੀ ਬਸਪਾ ਦਾ ਚਿੰਨ੍ਹ ਹੈ ਅਤੇ ਐਸ.ਸੀ. / ST / ਓ ਆਈਕਾਨ ਦਾ ਬੁੱਤ draping ਲਈ
ਆਦੇਸ਼ ਦਿੱਤਾ ਸੀ.ਈ.ਸੀ. ਵੀ ਪਹਿਨਾਈ ਸੀ, ਪਰ ਪਿਛਲੇ ਵਿਧਾਨ ਸਭਾ ਚੋਣ ‘ਚ ਉਸ ਨੂੰ ਹਾਰ
ਗਏ
. ਇਮਪਲਾਈਜ਼ ਵੀ ਉਸ ਨੂੰ ਹਰਾਉਣ ਲਈ ਛੱਡਿਆ ਗਿਆ ਸੀ , ਜੋ ਕਿ ਇੱਕ ਚਿੰਤਾ ਨਹੀ ਹੈ. ਦੇ
ਤੌਰ ਤੇ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਰਾਜ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਚੋਣਾ ਦੇ ਬਾਅਦ ਚੋਣ ਲਈ ਚਲਾ ਗਿਆ , ਜਿੱਥੇ .
ਪਰ ਤਜਰਬਾ
2014 ਲੋਕ ਸਭਾ ਚੋਣ ਵੀ ਸ਼ਾਮਲ ਹਨ ਅੰਨਾ ਡੀ ਆਦਿ ਕਾਗਰਸ , ਭਾਜਪਾ ,
ਸਮਾਜਵਾਦੀ , ਦੇ ਚਿੰਨ , draping ਲਈ ਹੁਕਮ ਦਿੱਤੇ ਕਦੇ . ਵੱਡੇ ਜਾਤੀ ਆਗੂ ‘ ਦੇ ਬੁੱਤ
ਪਹਿਨਾਈ ਜਾਣ ਲਈ ਹੁਕਮ ਕੀਤਾ ਗਿਆ , ਨਾ ਹੈ . ਮਾਨਯੋਗ ਮੁੱਖ ਜੱਜ ਪੱਧਰ ਦੇ ਖੇਡਣ ਨੂੰ
ਜ਼ਮੀਨ ਲਈ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ‘ਚ ਪੇਸ਼ ਕਰਨ ਲਈ ਹੈ
ਅਤੇ ਅਜਿਹੇ ਆਰਡਰ ਲਾਗੂ ਕੀਤਾ ਤਕ ਚੁਣਾਵ ਨੂੰ ਟਾਲਿਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ ਸਮਾਜ ਦੇ ਹਰ ਵਰਗ
ਨੂੰ ਸ਼ਾਮਿਲ ਕਰਨ ਲਈ ਖੁਸ਼ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ .

ਲੋਕ
ਅਤੇ ਹੋਰ ਇਲੈਕਸ਼ਨ ਉਮੀਦਵਾਰ EVM ਮਸ਼ੀਨ ਵਰਤਣ ਦੀ ਦੁਆਰਾ ਦੀ ਉਲੰਘਣਾ ਕੀਤੀ ਜਾ ਰਹੀ
ਹਨ , ਜੋ ਕਿ ਕੁਝ ਸੰਵਿਧਾਨਿਕ ਹੱਕ ਹੈ . ਓਪਨ ਸਰੋਤ ਕੋਡ ਜਨਤਕ ਕੀਤੀ ਜਾ ਰਹੀ ਹੈ . ਲੋਕ
ਦਾ ਹੱਕ ਤੇ ਆਦਰਯੋਗ ਦੀ ਇੱਕ ਨੂੰ ਜੀਵਨ ਜੀਉਣ ਨੂੰ ਆਰਟ 21 ਅਧੀਨ ਹੈ . ਤੁਹਾਨੂੰ
ਮੁਫ਼ਤ ਹੈ ਅਤੇ ਨਿਰਪੱਖ ਚੋਣ ਬਿਨਾ ਆਦਰਯੋਗ ਦੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਨੂੰ ਨਹੀ ਰਹਿ ਸਕਦੇ ਹਨ .

ਕੋਰਟ
ਉਹ ਨੂੰ ਪੁੱਛਿਆ ਜਾ ਰਹੇ ਹਨ , ਜੋ ਕਿ ਆਦੇਸ਼ ਪਾਸ ਕਰਨ ਲਈ ਅਧਿਕਾਰ ਖੇਤਰ ਹੈ , ਜੋ ਕਿ
ਹੋਰ ਵਧੇਰੇ ਯਕੀਨ ਹੋਣਾ ਹੈ , ਅਤੇ ਇਸ ਨੂੰ ਅਜਿਹੇ prohibitory ਆਦੇਸ਼ ਜਾਰੀ ਕਰਨ ਲਈ
ਿਵਹਾਰਕ ਅਤੇ ਫਾਇਦੇਮੰਦ ਹੁੰਦਾ ਹੈ . ਇਹ ਅਜਿਹੇ prohibitory ਦੇ ਹੁਕਮ ਪਾਸ ਕਰਨ ਨਾਲ
ਸੰਵਿਧਾਨ ਨੂੰ ਬਹਾਲ ਕਰਨ ਲਈ ਕੋਰਟ ਦਾ ਫਰਜ਼ ਹੁੰਦਾ ਹੈ . ElectionCommission ਇੱਕ
ਸਰਕਾਰ ਦੇ ਸਰੀਰ ਨੂੰ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਇਸ ਨੂੰ ਆਪਹੁਦਰੇ ਤੇ ਕੰਮ ਕਰਦਾ ਹੈ , ਜੇ ਇਸ ਲਈ
ਇਸ ਨੂੰ Art.14 ਦੀ ਉਲੰਘਣਾ .

ਚੋਣ
ਕਮਿਸ਼ਨ ਮਸ਼ੀਨ ਹੇਰਾਫੇਰੀ ਕਰਨ ਦੇ ਸਮਰੱਥ ਹਨ, ਜੋ ਕਿ ਸਵੀਕਾਰ ਨਹ ਹੈ, ਇਸ ਨੂੰ ਬੱਧ
ਕੰਮ
ਕਰਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਇਸ ਦੇ ਫੈਸਲੇ ਲਈ ਕਾਰਵਾਈ ਵਿਗੜਨ ਦੀ ਰਹੀ ਹੈ. ਫੈਸਲੇ ਖਾਸ ਭਾਗ ਨੂੰ
ਫੈਸਲੇ ਲੈਣ ਦੇ ਕਾਰਜ ਨੂੰ ਤੱਕ ਬਾਹਰ ਰੱਖਿਆ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਜ਼ਮੀਨ ਤੇ ਮਾਰਿਆ ਜਾ ਕਰਨ ਲਈ
ਜਵਾਬਦੇਹ ਹੈ .

ਇਹ ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਮੁੱਢਲੀ ਸ੍ਤ੍ਰੁਕ੍ਤੁਰੇ ਦੀ ਰੱਖਿਆ ਕਰਨ ਲਈ
ਕੋਰਟ ਦਾ ਫਰਜ਼ ਬਣਦਾ ਹੈ . ਫੇਅਰ ਇਲੈਕਸ਼ਨਜ਼ Manipulatable ਇਲੈਕਸ਼ਨਜ਼ ਨਾਲ ਤਬਦੀਲ
ਕੀਤਾ ਰਹੇ ਹੋ, ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੇ ਮੁਢਲੇ ਸ੍ਤ੍ਰੁਕ੍ਤੁਰੇ ਨਸ਼ਟ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ . ਇਸ ਲਈ ਇਸ
ਨੂੰ EVM ਮਸ਼ੀਨ ਪਾਬੰਦੀ ਨੂੰ ਕੋਰਟ ਦਾ ਫਰਜ਼ ਬਣਦਾ ਹੈ . ਜ਼ਿਆਦਾਤਰ ਜਮਹੂਰੀ ਦੇਸ਼ ਦੇ
ਸੁਪੀਰੀਅਰ ਕੋਰਟ ਹੀ ਅਜਿਹੇ ਵਰਤਣ ਤੇ ਪਾਬੰਦੀ ਹੈ .

ਕੋਰਟ EC ਦੇ ਅਜਿਹੇ ਆਪਹੁਦਰੇ ਨੀਤੀ ਅਤੇ ਫ਼ੈਸਲੇ ਕੇ ਆ ਸਕਦੇ ਹਨ .

EC ਪਹਿਲੇ ਸਾਰੇ ਦਾ ਇਮਪਲਾਈਜ਼ ਕੇਵਲ ਬਾਅਦ ਇਸ ਨੂੰ ਹੋਰ ਕਦਮ ਛਲ ਨੂੰ ਰੋਕਣ ਲਈ ਇਸ
ਨੂੰ ਕੇ ਲਿਆ ਰਹੇ ਹਨ , ਉਸ ਬਾਰੇ ਅਦਾਲਤ ਨੂੰ ਸੰਤੁਸ਼ਟ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ …
ਹੇਰਾਫੇਰੀ ਕੀਤੀ ਜਾ ਸਕਦੀ ਹੈ , ਜੋ ਕਿ ਸਵੀਕਾਰ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ.

ਇਲਾਵਾ
ਲੋਕ ਦੇ ਹੱਕ ਤੱਕ , ਤੇ ਵਿਚਾਰ ਕਰਨ ਦੀ ਹੋਰ ਲਡ਼ਨ ਉਮੀਦਵਾਰ ਦੇ ਹੱਕ ਹਨ . ਕਿੱਥੇ ਹੈ
ਉਹ ਇੱਕ ਮੁੜ - ਗਿਣਤੀ ਲਈ ਅਪੀਲ ਕਰੇਗਾ ? ਕਿਸ ਨੂੰ ਇਹ ਵੀ ਇਹੀ ਹੇਰਾਫੇਰੀ EVM ਮਸ਼ੀਨ
‘ਤੇ ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ ?

ਬੈਲਟ ਪੇਪਰ ਵੋਟਿੰਗ ਅਤੇ ਉਮੀਦਵਾਰ ਦੇ ਨੁਮਾਇੰਦੇ ਦੀ ਹਾਜ਼ਰੀ ‘ਚ ਗਿਣਤੀ ਦੀ ਅਸਲੀ
ਢੰਗ ਹੈ , ਹਾਲੇ ਵੀ ਅਮਰੀਕਾ, ਯੂ ਕੇ , ਜਰਮਨੀ ਆਦਿ ਦੇਸ਼ ਕੇ ਮਾਨਤਾ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਵਧੀਆ
ਢੰਗ ਹੈ .

ਸਾਡੇ ਕੋਰਟ ਕਾਲ ਦਾ ਲੈ ਅਤੇ ਹੀ ਦੂਜੇ ਦੇਸ਼ ਵਿੱਚ ਪਾਬੰਦੀ ਲਾਈ ਹਨ , ਜੋ ਕਿ EVM ਮਸ਼ੀਨ ਪਾਬੰਦੀ ਲਈ ਕਾਫ਼ੀ ਸ਼ਕਤੀਸ਼ਾਲੀ ਹੋ ?

ਸਾਨੂੰ ਦੇਖਣ ਲਈ ਹੈ . ਭਾਰਤ ਨੂੰ ਲਾਗੂ ਨਾ ਕਿ ਹੋਰ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਕਾਨੂੰਨ .

ਸਾਡਾ ਅਦਾਲਤ ਅਤੇ ਸਾਡੀ ਲੋਕਤੰਤਰ ਨੂੰ ਇੱਕ ਕਾਰਜ ਦੁਆਰਾ ਪਾਸ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ.

ਇਹ ਸਮਰਥਕ Manipulative EVM ਮਸ਼ੀਨ ਤੱਕ ਦੇਸ਼ ਨੂੰ ਆਜ਼ਾਦ ਕਰਨ ਲਈ ਆਪਣੇ ਯਤਨ ਵਿੱਚ ਸਫਲ ਉਮੀਦ ਹੁੰਦੀ ਹੈ.

EVM / VVPT ਦਾ ਓਪਨ ਸਰੋਤ ਕੋਡ LEVEL ਖੇਡਣ ਖੇਤਰ ਲਈ ਜਨਤਕ ਕੀਤਾ ਜਾਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ .

ਸਟਰ
ਲਈ ਪੇਸ਼ , ਅਟਾਰਨੀ ਜਨਰਲ ਵਾਹਨਵਤੀ ਸੋਧ ਕਰਨ ਦੀ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ , ” ਚੱਲ ,” ਸੀ , ਜੋ ਕਿ
ਜਸਟਿਸ ਪੀ ਸਤਸ਼ਿਵਮ ਅਤੇ ਰੰਜਨ ਗੋਗੋਈ ਦੀ ਇੱਕ ਜਨਹਿੱਤ ਨੂੰ ਦੱਸਿਆ . ਮਾਰਚ 28 , 2013 ‘ਤੇ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੇ ਲਿਖਿਆ ਇਕ ਪੱਤਰ ਦੇ ਜਵਾਬ ਵਿੱਚ, ਕਾਨੂੰਨ
ਮੰਤਰਾਲੇ ਦੀ ਵਿਧਾਨਕ ਵਿਭਾਗ ਸੰਸਦ ਸਾਹਮਣੇ ਰੱਖਿਆ ਜਾਵੇਗਾ, ਜੋ ਕਿ ਨਿਯਮ , ਨੂੰ ਸੋਧ
ਦੀ ਤਿਆਰੀ ਦਾ ਕੰਮ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਸੀ .

ਬਚ
ਸਾਨੂੰ ਇਸ ਨੂੰ ਅੰਤ ਵਿੱਚ materialized ਕੀਤਾ ਹੈ , ਜੋ ਕਿ ਖੁਸ਼ ਹਨ , ” ਕਿਹਾ .
ਸਾਨੂੰ ਇਸ ਨੂੰ ਲਾਗੂ ਕਰਨ ਲਈ ਹੁੰਦੇ ਹਨ , ਜਦ ਹੁਣ ਕੀ ਹੈ ਰਹਿੰਦਾ ਹੈ ਹੈ . “ਸਾਰੇ
ਪੱਖ VVPT ਮਸ਼ੀਨ ਸ਼ੁਰੂ ਦੇ ਸਹਿਯੋਗ ਵਿੱਚ ਸਨ .

ਇਹ ਸਭ ਦੇ ਬਾਵਜੂਦ

ਦੇਵਤੇ ਅਤੇ ਇਕੱਠੇ MAARAS , BRAHMAS ਅਤੇ RECLUSES ਅਤੇ ਬਾਹਮਣ ਦੀ ਕਮਿਊਨਿਟੀ
ਨਾਲ MEN , ਦੇ ਇਸ ਸੰਸਾਰ ਵਿੱਚ ਮੈਨੂੰ ਕਿਸੇ CONFUSEVOTERS ਮਨ ਨੂੰ ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਿਆ
ਹੈ ਦੇਖੋ , OR, ਦਿਲ ਨੂੰ ਸ੍ਪ੍ਲਿਟ , OR, ਆਪਣੇ ਪੈਰ ਲਿਆ ਦਰਿਆ ਦੇ ਕੰਢੇ THROWTHEM
ਸਕਦੀ ਨਾ .

ਮੋਦੀ ਉੱਤੇ ਮਾਇਆ ਨੂੰ ‘ ਖ਼ਬਰਦਾਰ ‘ ਮੁਸਲਮਾਨ

ਬਸਪਾ ਸੁਪਰੀਮੋ ਮਾਇਆਵਤੀ

ਭਾਜਪਾ ਦੇ ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਦੇ ਉਮੀਦਵਾਰ ਨਰਿੰਦਰ ਮੋਦੀ ਦੇ ਖਿਲਾਫ polarize ਨੂੰ
ਮੁਸਲਿਮ ਵੋਟਰ ਉੱਤੇ ਬੁਲਾਇਆ ਐਤਵਾਰ ਨੂੰ ਵੈਸਟ ਯੂ.ਪੀ. , ਬਸਪਾ ਸੁਪਰੀਮੋ ਮਾਇਆਵਤੀ ਦੇ
10 ਸੰਸਦੀ ਤੇ ਪੋਲਿੰਗ ਦੇ ਪਹਿਲੇ ਪੜਾਅ ਦੇ ਲਈ ਛੱਡ ਦਿੱਤਾ , ਸਿਰਫ ਪੰਜ ਦਿਨ ਨਾਲ .

ਐਤਵਾਰ ਨੂੰ ਮੇਰਠ ‘ਚ ਇਕ ਰੈਲੀ ਨੂੰ ਸੰਬੋਧਨ , ਉਸ ਨੇ ਉਹ , ” ਗੋਧਰਾ ਦੇ ਦੋਸ਼ੀ ”
ਲਈ ਰਾਹ ਪੱਧਰਾ ਅਤੇ ਉਹ ਬਸਪਾ ਨੂੰ ਵੋਟ ਨਾ ਕੀਤਾ , ਜੇ ਸੰਗੀਤ ਦਾ ਸਾਹਮਣਾ ਕਰਨਾ
ਹੋਵੇਗਾ ਨੇ ਕਿਹਾ .

” ਮੋਦੀ 2002 ਵਿੱਚ ਉਸ ਦੇ ਆਪਣੇ ਰਾਜ ਵਿੱਚ ਗੋਧਰਾ ਵਿੱਚ ਅਤੇ ਅਗਲੇ ਆਉਣ ਘਟਨਾ
ਇੰਜੀਨੀਅਰਿੰਗ ਨਾਲ ਕੀਤਾ ਸੀ . ਉਹ ਤੁਹਾਡੀ ਗਲਤੀ ਨਾਲ ਸ਼ਾਮ ਬਣ ਜੇ , ਫਿਰ ਉਹ ਫਿਰਕੂ
ਅੱਗ ਵਿੱਚ , ਸਾਰੇ ਦੇਸ਼ ਨੂੰ push ਕਰੇਗਾ , ” ਉਸ ਨੇ ਦਾਅਵਾ ਕੀਤਾ .

“ਜੇਕਰ
ਤੁਹਾਨੂੰ ਕਾਗਰਸ , ਐਸ.ਪੀ. ਅਤੇ ਬਸਪਾ ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਹੀ ਤੁਹਾਡੇ ਵੋਟ ਵੰਡਿਆ , ਜੇ
ਭਾਜਪਾ ਨੇ ਜਿੱਤ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰੇਗਾ , ਜੋ ਕਿ ਪੂਰੀ ਸੰਭਾਵਨਾ ਹੈ . ਉਹ ਜਿੱਤ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ
ਲਈ ਜਾ ਰਹੇ ਨਾ ਰਹੇ ਹਨ , ਕਿਉਕਿ ਕਾਗਰਸ ਅਤੇ ਐਸ.ਪੀ. ਨੂੰ ਤੁਹਾਡਾ ਵੋਟ ਕਰਕਟ ਤੇ ਜਾਣ
ਜਾਵੇਗਾ . ਹੈ ਕਿ ਇਸ ਕੇਸ ਵਿੱਚ, ਕੋਈ ਵੀ ਫਿਰਕੂ ਨੂੰ ਰੋਕ ਸਕਦੇ ਹਨ ਫ਼ੌਜ . ਪਰ ਭਾਜਪਾ ਨੇ ਮੁਸਲਿਮ ਭਾਈਚਾਰੇ ਨੂੰ ਇਸ ਦੇ ਵੋਟ ਵੰਡ ਨਾ ਕਰਦਾ , ਜੇ ਬੰਦ
ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਅਤੇ ਬਸਪਾ ਸਿਰਫ ਨੂੰ ਸਹਿਯੋਗ ਦਿੰਦਾ ਹੈ ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ , ” ਉਸ ਨੇ
ਕਿਹਾ.

ਮਾਇਆਵਤੀ
ਮੋਦੀ 2002 ਵਿੱਚ ਗੁਜਰਾਤ ‘ਚ ਕੀ ਹੋਇਆ ਸੀ, ਕਿ ਕੀ ਕਰਨਾ ਹੈ ਸੀ ਕਿ ਦਾਅਵਾ ਕੀਤਾ .
ਅਸਲ ‘ ਮਾਇਆਵਤੀ ਗੁਜਰਾਤ ਵਿਚ 2002 ਦੇ ਦੰਗੇ ਦੇ ਬਾਅਦ ਵਿਧਾਨ ਸਭਾ ਚੋਣ ‘ ਚ ਮੋਦੀ ਲਈ
ਪ੍ਰਚਾਰ ਕੀਤਾ ਸੀ , ਜੋ ਕਿ ਰਹਿੰਦਾ ਹੈ .

ਬਸਪਾ
ਸੁਪਰੀਮੋ ਨੂੰ ਇੱਕ ਬਹੁਤ ਹੀ surcharged ਭਾਸ਼ਣ ਦੇ ਹਵਾਲੇ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਹੈ ਅਤੇ ਭਾਜਪਾ
ਦੇ ਵਿਚ ਇੰਚਾਰਜ ਯੂ.ਪੀ. ਅਮਿਤ ਸ਼ਾਹ ਦੀ ਹੀ ਸੂਬੇ ‘ ਅਸਖਥਰ communally ਕਰਨ ਲਈ ਕੰਮ
ਕਰਨਾ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਹੈ , ਜੋ ਕਿ ਦੋਸ਼ ਲਾਇਆ , ਪਰ ਇਸ ਨੂੰ ਵੀ ਬਸਪਾ backburner
‘ ਤੇ ਵਿਕਾਸ ਦੇ ਮੁੱਦੇ ਨੂੰ ਪਹਿਲ ਅਤੇ ਡਰ ਬਣਾਉਣ ‘ਤੇ ਧਿਆਨ ਹੋਵੇਗਾ , ਜੋ ਕਿ ਜ਼ਾਹਰ
ਹੋ ਗਿਆ ਘੱਟ ਗਿਣਤੀ ਭਾਈਚਾਰੇ ਵਿੱਚ psychosis .

ਇਸ
ਦੌਰਾਨ ਇੱਕ ਦਿਨ ਅੱਗੇ , ਬਸਪਾ ਨੇਤਾ ਵਾਹਬ ਚੌਧਰੀ ਉਹ 22 - ਇੰਚ ਕਰਨ ਲਈ 56 - ਇੰਚ
ਤੱਕ ਮੋਦੀ ਦੀ ਛਾਤੀ ਛੋਟੇ ਨੇ ਕਿਹਾ ਸੀ ਕਿ . ਚੌਧਰੀ , ਮੁਰਾਦਨਗਰ ਤੱਕ ਇੱਕ ਵਿਧਾਇਕ ,
ਮਾਇਆਵਤੀ ਦੀ ਮੌਜੂਦਗੀ ਵਿੱਚ ਗਾਜ਼ੀਆਬਾਦ ‘ਚ ਇਕ ਜਨਤਕ ਮੀਟਿੰਗ ਵਿੱਚ ਸ਼ਨੀਵਾਰ ਨੂੰ ਇਸ
ਨੂੰ ਕਿਹਾ ਸੀ .

” ਗੁਜਰਾਤ ਦੇ ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਉਹ 56 ਇੰਚ ਦੀ ਇੱਕ ਨੂੰ ਛਾਤੀ ਹੈ ਕਹਿੰਦਾ ਹੈ . ਪਰ
ਮੈਨੂੰ ਤੁਹਾਡੇ ਯੂ.ਪੀ. ਨੂੰ ਆ ਅਤੇ ਮੈਨੂੰ ਇਸ ਨੂੰ ਛੋਟਾ . Behen ਮਾਇਆਵਤੀ ਦਾ ਇਹ
ਸਿਪਾਹੀ 22 ਇੰਚ ਕਰਨ ਲਈ ਇਸ ਨੂੰ ਸਲੈਸ਼ ਕਰੇਗਾ , ਬਣਾਉਣ ਦਾ ਵਾਅਦਾ ਕਹਿਣਾ ਚਾਹੁੰਦੇ
ਹੋ ,” ਉਸ ਨੇ ਕਿਹਾ ਸੀ ਕਿ .

ਪਿਛਲੇ ਸ਼ੁੱਕਰਵਾਰ ਨੂੰ , ਨਰਿੰਦਰ ਕਸ਼ਿਅਪ , ਬਸਪਾ ਦੇ ਰਾਜ ਸਭਾ ਦਾ ਸਦੱਸ , Gabbar
ਸਿੰਘ , ਹਿੰਦੀ ਫਿਲਮ Sholay ਤੱਕ ਲੁੱਚਾ ਅੱਖਰ ਨੂੰ , ਨਾਲ ਮੋਦੀ ਦੀ ਤੁਲਨਾ ਅਤੇ ਦੇ
ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਬਰਾਬਰ ਜ਼ਾਲਮ ਦੇ ਦੋਨੋ ਗਰਦਾਨਿਆ ਗਿਆ ਸੀ.

, ਜੋ ਕਿ ਅੱਗੇ , ਬਸਪਾ ਦੇ ਮੁਰਾਦਾਬਾਦ ਦੇ ਉਮੀਦਵਾਰ , ਹਾਜੀ Yaqub ਕੁਰੈਸ਼ੀ , ਇੱਕ ” ਸੋਚਦਾ . ” ਮੋਦੀ ਕਹਿੰਦੇ ਹਨ ਸੀ,


73) Classical Tamil

தயவுசெய்து உங்கள் தாய் மொழியில் இதனை மொழிபெயர்க்க

ஒரு வேண்டுகோள்
முதன்மை நீதிபதிக்கு

http://tamil.webdunia.com/article/regional-tamil-news/%E0%AE%AA%E0%AE%BE%E0%AE%AE%E0%AE%95-%E0%AE%A4%E0%AF%87%E0%AE%B0%E0%AF%8D%E0%AE%A4%E0%AE%B2%E0%AF%8D-%E0%AE%A4%E0%AF%81%E0%AE%B1%E0%AF%88-%E0%AE%85%E0%AE%99%E0%AF%8D%E0%AE%95%E0%AF%80%E0%AE%95%E0%AE%BE%E0%AE%B0%E0%AE%AE%E0%AF%8D-%E0%AE%AA%E0%AF%86%E0%AE%B1%E0%AE%BE%E0%AE%A4-%E0%AE%95%E0%AE%9F%E0%AF%8D%E0%AE%9A%E0%AE%BF%E0%AE%AF%E0%AE%BE%E0%AE%95%E0%AF%81%E0%AE%AE%E0%AF%8D-%E0%AE%B5%E0%AF%87%E0%AE%9F%E0%AF%8D%E0%AE%AA%E0%AF%81%E0%AE%AE%E0%AE%A9%E0%AF%81-%E0%AE%A4%E0%AE%B3%E0%AF%8D%E0%AE%B3%E0%AF%81%E0%AE%AA%E0%AE%9F%E0%AE%BF-114040700014_1.html


Logo

http://tamil.oneindia.in/news/india/can-cancel-national-polls-west-bengal-if-mamata-defies-us-lse-197567.html
Oneindia Tamil

Avatar


http://www.koodal.com/news/india.asp?id=74213&title=collector-abduction-second-round-of-talks-on-maoists-explain-kidnapping-india-news-headlines-in-tamil

Download Tamil Font

http://www.tamilcnnlk.com/archives/270230.html



http://tamil.thehindu.com/tamilnadu/%E0%AE%B5%E0%AE%BF%E0%AE%B2%E0%AF%88-%E0%AE%AA%E0%AF%8B%E0%AE%A9%E0%AE%BE%E0%AE%B0%E0%AE%BE-%E0%AE%AA%E0%AE%BE%E0%AE%9C%E0%AE%95-%E0%AE%B5%E0%AF%87%E0%AE%9F%E0%AF%8D%E0%AE%AA%E0%AE%BE%E0%AE%B3%E0%AE%B0%E0%AF%8D-%E0%AE%95%E0%AF%81%E0%AE%B0%E0%AF%81%E0%AE%AE%E0%AF%82%E0%AE%B0%E0%AF%8D%E0%AE%A4%E0%AF%8D%E0%AE%A4%E0%AE%BF-%E0%AE%A8%E0%AE%BF%E0%AE%B0%E0%AF%8D%E0%AE%B5%E0%AE%BE%E0%AE%95%E0%AE%BF%E0%AE%95%E0%AE%B3%E0%AF%8D-%E0%AE%A4%E0%AE%B2%E0%AF%88%E0%AE%AE%E0%AE%B1%E0%AF%88%E0%AE%B5%E0%AF%81-%E0%AE%AA%E0%AE%BE%E0%AE%AE%E0%AE%95-%E0%AE%95%E0%AF%8A%E0%AE%A4%E0%AE%BF%E0%AE%AA%E0%AF%8D%E0%AE%AA%E0%AF%81-%E0%AE%AA%E0%AE%BE%E0%AE%9C%E0%AE%95-%E0%AE%85%E0%AE%B2%E0%AF%81%E0%AE%B5%E0%AE%B2%E0%AE%95%E0%AE%AE%E0%AF%8D-%E0%AE%89%E0%AE%9F%E0%AF%88%E0%AE%AA%E0%AF%8D%E0%AE%AA%E0%AF%81/article5884549.ece?homepage=true

Return to frontpage

http://www.dinamani.com/india/2014/04/08/%E0%AE%B5%E0%AE%B3%E0%AE%B0%E0%AF%8D%E0%AE%9A%E0%AF%8D%E0%AE%9A%E0%AE%BF-%E0%AE%A8%E0%AE%B2%E0%AF%8D%E0%AE%B2%E0%AE%BE%E0%AE%9F%E0%AF%8D%E0%AE%9A%E0%AE%BF-%E0%AE%B0%E0%AE%BE%E0%AE%AE%E0%AE%B0%E0%AF%8D%E0%AE%95%E0%AF%8B/article2155983.ece?pageNumber=1#commentsList

Dinamani


http://www.maalaimalar.com/2014/04/08055218/BJP-has-lost-peoples-support-i.html

Logo

73 ) தமிழ் செம்மொழி

தயவுசெய்து உங்கள் தாய் மொழியில் இதனை மொழிபெயர்க்க

ஒரு வேண்டுகோள்
முதன்மை நீதிபதிக்கு

உச்ச நீதிமன்றங்கள் பொருட்டு தேர்தல் ஆணையம் அனைத்து
இயந்திரங்களையும் மாற்ற செயல்படுத்தவில்லை . அதற்கு பதிலாக 543 மக்களவை
தொகுதிகளில் 385 VVPT இயந்திரங்கள் மாற்றப்பட்டுள்ளது .

இலவச ஆன்லைன் மின் நாலந்தா ஆராய்ச்சி மற்றும் பயிற்சி பல்கலைக்கழகம்

எனக்கு மின்னஞ்சல்
awakenmedia.prabandhak @ gmail.com
chandrasekhara.tipitka @ gmail.com

தவறான  EVM இயந்திரங்கள் ஆய்வு :


http://www.business-standard.com/article/elections-2014/bjp-manifesto-comprehensive-but-implementation-is-key-analysts-114040700370_1.html

http://www.theindianrepublic.com/featured/narendra-modi-addresses-rallies-bijor-aligarh-uttar-pradesh-100031654.html

அவதார் Jagatheesan சந்திரசேகரன் • ஒரு சில விநாடிகள் முன்பு

திருட்டுத்தனமாக சமய வழிபாட்டு RSS இன் பஹுத்  ஜியாத  பாவி  மிகவும் பயத்துடன் 58″ ” காட்டுமிராண்டி மார்புடன் கோத்ரா குற்றவாளி ” தன்   வெறுப்பு, கோபம் , பொறாமை மனதின் எல்லா அசுத்தமான இந்த  ஒரு சிகிச்சை தேவையான  மன நோயால்   வாக்காளர்களை பயமுறுத்துகிரார். இவருடைய  தஞ்சம் பாராளுமன்றத்தில்  அல்ல மன நோய் மருத்துவ மனையில். இந்த நாட்டில் அனைவரும் ஒரு இனம் அனைவருக்கும்  சொந்தமானது  மற்றும்  . பல்வேறு கட்சிகள் பல தலைவர்கள் இதை ஒப்புக்கொண்டுள்ளனர். மிகவும் பயத்துடன் 58″ ” காட்டுமிராண்டி மார்புடன் கோத்ரா குற்றவாளி ” மற்றும் திருட்டுத்தனமாக சமய வழிபாட்டு உண்மையான உரிமையாளர்கள் இடையே ஒரு நிழல்குத்துச்சண்டை   நாட்டின் மக்கள்  இந்த சமய வழிபாட்டு உரிமையாளர்கள் இடத்தே பயப்படவில்லை .

தில்லு முள்ளு EVMஅவர்களுக்கு உதவ முடியும்.காரணம் தேர்தல் ஆணையத்தில் சர்வசமாஜ் அணைத்து சமூகத்தை  சேர்ந்த உறுப்பினர்கள் இல்லை என்பதால் தான். தேர்தல் ஆணையம் உச்ச  நீதிமன்றங்கள் பொருட்டு அனைத்துEVM இயந்திரங்களை   VVPT இயந்திரங்களாக மாற்ற செயல்படுத்தவில்லை. 543 மக்களவை தொகுதிகள்  பதிலாக 385  மூலம் மட்டும் செயல்படுத்தப்பட்டுள்ளது .

EVM க்கு பதிலாக புதிய வாக்காளர் சரிபார்க்க காகித சோதனை ( VVPT ) இத்
தேர்தலில் நடைமுறைக்கு வந்தது , அதில் தில்லு முள்ளு செய்ய முடியும்
என்பதால். நியாயமான முடிவுகளை தேர்தல்களில் வரவில்லை அதனால் ஆணைக்குழு
.இச்சை படி நடை பெற்று வந்தது. எப்போதும் தேர்தல் ஆசைகளையும் என்று
பொருள் வசம் முடியும் என்று சந்தேகம் பின்வரும் மெஷினில் பதிலாக
இயந்திரங்கள் , வாக்குப்பதிவு இயந்திரங்கள் “கணினி மென்பொருள் மோசடியாக
முடியும் கால்குலேட்டர்கள் ” ஆக இருக்கின்றன . தேர்தல் ஆணையம் ,
உத்தரவிட்டது படி புதிய இயந்திரங்கள் ஒரு வாக்குப்பதிவு பின்னர் ஒரு காகித
சீட்டு வெளியே வந்து ஒரு பெட்டியில் டெபாசிட் செய்யப்படும் . அது என்ன
பயன்? காகித ஸ்லிப் வாக்காளர் ” கட்சி A” வாக்கு அளித்தால் ,
கால்குலேட்டர் மென்பொருள் ” கட்சி B” வாக்கு சேர்ந்து விடும் என்று
காண்பிக்கும் கணினி நிரல். இது போன்ற போலி காகித சீட்டுகள் எந்த பயனும் .
சுப்பீரியர் நீதி மன்றங்களில் முன் திட்டமிடப்பட்ட உறுதி வெற்றி செய்ய
முடியும் அதை தேர்தலின் போது ஒரு வேட்பாளர் என்பதை இந்த கணினிகள் கையாள
முடியும் யெனநிரூபிக்கப்பட்டது . EVM இயந்திரங்கள் ஜனநாயகம் கொலை செய்ய
அனைத்து ஆற்றல்களும் உண்டு.

இந்த சூழ்நிலையில் உச்ச நீதிமன்றத்தில் மற்றும் சுதந்திரமான மற்றும்
நியாயமான ஊடகங்கள் உட்பட ஜனநாயக நிலைநிறுத்த வாக்காளர்களை எழுப்ப ஊடகங்கள்
பின்வரும் பொது தேர்தலில் முன் வர வேண்டும்.

” கட்சி B” விட ” கட்சிA”+1 வாக்கு பெற ஒரு சிப் சேர்க்கப்பட்டால்
உண்மையான வாக்கு எதுவாக இருந்தாலும் அக்கட்சிக்கு சேர்ந்து விடும்.

இந்த ” எழுதுதல் கட்டளைகள்” என்று அழைக்கப்படுகின்றன. கணினி கணினிகள்
இருக்கின்றன . அவர்கள் திட்டமிடப்பட்ட மற்றும் மறு திட்டமிடப்பட்டது
முடியும் .

இந்திய ஆளும் கட்சி , தேர்தல் ஆணையம் உண்மையை புறக்கணிக்கிறது மற்றும்
தேர்தலில் EVM இயந்திரங்கள் பயன்பாடு வலியுறுத்தினார் . அவர்கள் பாரபட்சமான
ஜாதி சார்பு ஆதாரமாக இருக்கிறது . திருமதி மாயாவதி இலாபம் ஆனது Hithay
இலாபம் ஆனது Sukhay தனது கொள்கை நான்காவது முறையாக உத்தர பிரதேச முதல்வர்
ஆனார். sarvasamaj அதாவது , அனைத்து சங்கங்களின் ஆதரவுடன் . அனைத்து யானை
பகுஜன் சமாஜ் கட்சி குறியீடுகள் மற்றும் , SC / ST / OBC சின்னங்கள்
சிலைகள் வைத்ததற்காக உத்தரவிட்டது CEC மேலும் தொங்கவிடப்பட்ட ஏனெனில்
ஆனால் கடந்த சட்டமன்ற தேர்தலில் அவர் இழந்தது . தேர்தலில் தனது தோற்கடிக்க
வசம் இருந்தது என்று ஒரு அச்சம் உள்ளது . பல மாநிலங்களில் உ.பி.
தேர்தலுக்கு பின் தேர்தலில் எங்கே . அதுகுறித்து 2014 மக்களவை தேர்தலில்
உட்பட பல காங்கிரஸ், பாஜக, சமாஜவாதி கட்சி, அதிமுக குறியீடுகள்,
வைத்ததற்காக, க்கு உத்தரவிட்டார். மேல் சாதி தலைவர்களை ‘ சிலைகள்
போர்த்தப்பட்ட உத்தரவிட்டார் இல்லை . மாண்புமிகு தலைமை நீதிபதி நிலை
விளையாடி தரையில் தேர்தல் ஆணையம் குறிப்பதற்கு மற்றும் பொருட்டு
செயல்படுத்தப்படும் வரை தேர்தலை ஒத்தி இருக்கலாம் சமூகத்தின் அனைத்து
பிரிவுகளையும் சேர்க்க மகிழ்ச்சி இருக்கலாம் .

மக்கள் மற்றும் பிற தேர்தல் வேட்பாளர்கள் EVM இயந்திரங்கள் பயன்பாடு
மீறி கொண்டிருக்கின்றன சில அரசியலமைப்பு உரிமைகள் இருக்கின்றன . திறந்த
மூல குறியீடு பொது தயாரிக்கப்படுகிறது இல்லை . மக்கள் உரிமை வாழ்வை வாழ
கலை 21 கீழ் உள்ளது. நீங்கள் சுதந்திரமான மற்றும் நியாயமான தேர்தல்
இல்லாமல் வாழ்வை வாழ முடியாது .

நீதிமன்றங்கள் அவர்கள் கேட்டு வருகின்றன ஆர்டர்கள் அனுப்ப அதிகார என்று
மேலும் நம்பிக்கை இருக்க வேண்டும் , மற்றும் அது போன்ற தடை ஆணைகளை வழங்க
நடைமுறைக்கேற்ற மற்றும் விரும்பத்தக்கதாக உள்ளது. இது போன்ற கலவரம் கடந்து
துரோகம் நீதிமன்றத்தின் கடமை. தேர்தல் ஆணையம் ஒரு அரசு உடலில் அது
தன்னிச்சையாக செயல்படுகிறது என்றால் அதனால் Art.14 மீறுகிறது .

தேர்தல் ஆணையம் இயந்திரங்கள் கையாளுதல் திறன் என்று ஒப்பு இல்லை
என்றால், அது தன்னிச்சையாக செயல்படுகிறது மற்றும் அதன் முடிவு செயல்முறை
சிதைக்கப்பட்டு வருகிறது . முடிவு முக்கிய கூறுகள் முடிவெடுக்கும்
செயல்முறை இருந்து வெளியே வைக்கப்படுகின்றன என்று தரையில் அடித்து
செய்யப்படுவார் .

இது அரசியலமைப்பின் அடிப்படை கட்டமைப்பு பாதுகாக்க நீதிமன்றம் கடமை
ஆகும். தேர்தலுக்கான இரவீந்திரன் தேர்தல் மூலம் மாற்றப்படுகிறது என்றால்,
செய்யிறவங்க அழிக்கப்படுகின்றது. எனவே அது ஒரு EVM இயந்திரங்கள் தடை
செய்யும் நீதிமன்ற கடமை ஆகும். பெரும்பாலான ஜனநாயக நாடுகளில் சுப்பீரியர்
நீதிமன்றங்கள் ஏற்கனவே பயன்படுத்துவதை தடை .

நீதிமன்றம் , தேர்தல் ஆணையம் போன்ற தன்னிச்சையான கொள்கை முடிவுகளை கீழே வேலை நிறுத்தம் செய்ய முடியாது .

தேர்தல் ஆணையம் அனைத்து முதல் தேர்தலில் அதன் பின்னரே அது மேலும்
நடவடிக்கைகளை கையாளுதல் தடுக்க அதை எடுத்து பற்றி நீதிமன்றங்கள் பூர்த்தி
வேண்டும் … மோசடியாக முடியும் என்று ஒப்பு கொள்ள வேண்டும் .

தவிர மக்களின் உரிமைகளை இருந்து , கருதப்படலாம் மற்ற வேட்பாளர்கள்
போட்டியிடுகின்றனர் உரிமைகள் உள்ளன . அவர்கள் எங்கே ஒரு மறு எண்ணிக்கை
முறையிடுவேன் ? எப்படி அது அதே மோசடியாக EVM இயந்திரங்கள் செய்ய முடியும்?

வாக்குச்சீட்டில் வாக்களிக்கும் மற்றும் வேட்பாளர்கள் பிரதிநிதிகள்
முன்னிலையில் எண்ணும் அசல் முறை , இன்னும் அமெரிக்கா, இங்கிலாந்து ,
ஜெர்மனி போன்ற நாடுகளில் அங்கீகரிக்கப்பட்ட சிறந்த முறையாகும்.

நம் நீதிமன்றங்கள் அழைப்பு எடுக்க ஏற்கனவே மற்ற நாடுகளில் தடை
செய்யப்பட்ட ஒரு EVM இயந்திரங்கள் தடை செய்ய போதுமான சக்திவாய்ந்த
இருக்கிறீர்களா?

நாம் பார்க்க வேண்டும் . இந்தியா பொருந்தாது மற்ற நாடுகளின் சட்டங்கள் .

நம் நீதிமன்றங்கள் மற்றும் நமது ஜனநாயகத்தின் ஒரு செயல்முறை வழியாக செல்லும் .

இது ஆதரவாளர்கள் சூழ்ச்சி EVM இயந்திரங்கள் இருந்து நாட்டை விடுவிக்க தங்கள் முயற்சிகளில் வெற்றி நம்பப்படுகிறது.

EVM / VVPT திறந்த மூல குறியீடு நிலை விளையாட்டு துறையில் பொது செய்யப்பட வேண்டும்.

மையம் என்பதும், சட்டமா அதிபர் மீண்டும் பதற்றம் திருத்தத்தை செயல்முறை ”
நடந்து ” என்று நீதிபதிகள் பி சதாசிவம் மற்றும் ரஞ்சன் கோகோய் பெஞ்ச்
தெரிவித்தது . மார்ச் 28 , 2013 அன்று தேர்தல் ஆணையம் எழுதிய ஒரு கடிதம்
பதிலளிக்கையில் , சட்டம் அமைச்சின் சட்ட துறை நாடாளுமன்றத்தில் முன்
வைக்கப்படும் என்று விதிகள் , திருத்தங்களை தயார் செய்ய தொடங்கி .

பென்ச் நாம் அதை இறுதியில் நடைமுறைக்கு வருகிறது என்று மகிழ்ச்சியாக
இருக்கிறது ” , என்று உரத்து கூறினார். நாம் அதை செயல்படுத்த இருக்கும்
போது இப்போது என்ன உள்ளது என்று . ” அனைத்து கட்சிகளும் VVPT
இயந்திரங்கள் அறிமுகம் ஆதரவாக இருந்தன.

இந்த போதிலும்

இந்த உலகத்தில் உள்ள கடவுளர்கள் சமூகத்தில் ஆண்கள்,மற்று மராக்களுடன் ,இல்லை துறவிகள்   மற்றும் பார்ப்பனர்கள் ஒன்றாக,  அவர்கள்
மனதில் குழப்பம் அல்லது தங்கள் இதயத்தை பிளக்க செய்து, அல்லது தங்கள் கால்களை எடுத்து அவற்றை ஆற்றின் மறு கரைக்கு  தூக்கி ஏறிய முடியாது.

முஸ்லிம்களுக்கு மோடி மீதான  மாயா ‘ எச்சரிக்கைகள் ‘ 

ஞாயிறன்று மேற்கு உ.பி. ,10 இடங்களில்  தேர்தல் முதல் கட்டம்  ஐந்து
நாட்கள் மட்டும் இருப்பதால்  பகுஜன் சமாஜ் கட்சி தலைவருமான மாயாவதி பிஜேபி யின்  வேட்பாளர் நரேந்திர மோடிக்கு எதிராக  துருவப்படுத்துவதற்காக முஸ்லீம் வாக்காளர்களுக்கு  அழைப்பு விடுத்தார்.  .


ஞாயிறன்று மீரட்  பேரணியில் உரையாற்றிய அவர் , அவர்கள் “கோத்ரா குற்றவாளி ” வெற்றி பெற வழி வகுக்கும் வகையில் அவர்கள் பகுஜன் சமாஜ் வாக்களிக்க வில்லை என்றால் அதற்கேற்ற இசை எதிர்கொள்ள வேண்டும் என்றார் .


” நீங்கள் காங்கிரஸ், சமாஜவாதி கட்சி மற்றும் பகுஜன் சமாஜ் கட்சி இடையே உங்கள் வாக்கு பிரித்து பிஜேபி வெற்றி பெற்றால்  யாரும் இனவாத படைகளை தடுத்து நிறுத்த முடியும் என்றால் காங்கிரஸ் மற்றும் சமாஜ்வாடி உங்கள் வாக்கு வீணாகி விடாமல் பகுஜன் சமாஜ் கட்சி ஆதரிக்கிறதால்  முடியும் .


மாயாவதி மோடி குஜராத்தில் 2002 ல் நடந்தது என்று சரியாக என்ன செய்ய வேண்டும் என்று கூறினார் . உண்மையில் மாயாவதி குஜராத்தில் 2002 கலவரங்களுக்கு பின்னர் சட்டசபை தேர்தலில் மோடி பிரச்சாரம் என்று இருக்கிறது .

பிஎஸ்பி தலைவர் மிகவும் நிலவும் உரையாற்றிய பாஜக பொறுப்பாளர் உ.பி. அமித் ஷா ஏற்கனவே மாநில சீர்குலைக்கும் இனவாதத்தை வேலை தொடங்கியது என்று கூறப்படும் என்றாலும், இது பகுஜன் சமாஜ் கட்சி ஏங்க வளர்ச்சி பிரச்சினைகள் வைத்து பயம் உருவாக்குவதில் கவனம் செலுத்த வேண்டும் என்று வெளிப்படையாக தெரிந்தது சிறுபான்மை சமூகத்தில் மனநோய் .

இதற்கிடையில் ஒரு நாள் முன்னதாக , பகுஜன் சமாஜ் கட்சி தலைவர் வஹாப் சவுத்ரி அவர் 22 அங்குல 56 அங்குல இருந்து மோடி மார்பு சுருக்கவும் என்று கூறினார் . சவுத்ரி , Muradnagar இருந்து ஒரு எம்.எல்.ஏ. , மாயாவதி முன்னிலையில் காசியாபாத்தில் உள்ள ஒரு பொது கூட்டத்தில் சனிக்கிழமை இந்த கூறினார் .

” குஜராத் முதல்வர் அவர் 56 அங்குல ஒரு மார்பு உள்ளது என்கிறார் . ஆனால் நீ வந்து நான் அது சிறிய . பெஹேன் மாயாவதி இந்த சிப்பாய் 22 அங்குல அதை குறைக்க வேண்டும் , செய்ய சத்தியம் சொல்ல வேண்டும் ” என்று அவர் கூறினார் .

முன்னதாக வெள்ளிக்கிழமை , நரேந்திர காஷ்யப் , பகுஜன் சமாஜ் கட்சி ஒரு ராஜ்ய சபா உறுப்பினராக , கப்பார் சிங் இந்தி படம் ஷோலே இருந்து ஒரு வில்லத்தனமான கதாப்பாத்திரம் மோடி ஒப்பிடுகையில் சமமாக கொடுமையான அவர்கள் இருவரும் டப் செய்தார்.

அதற்கு முன், பகுஜன் சமாஜ் கட்சி என்ற மொராதாபாத் வேட்பாளர் ஹாஜி யாகூப் குரேஷி , “காட்டுமிராண்டி . ” மோடி அழைத்தார்

74) Classical Telugu

http://www.indiapress.org/gen/news.php/Praja_Shakti/400×60/0

74 ) తెలుగుమాట్లాడేచోటుకీ

మీ మాతృభాష లో ఈ అనువాదం దయచేసి

ఉచిత ఆన్లైన్ E- నలంద పరిశోధన మరియు అవలంబన UNIVERSITY

వద్ద నాకు ఇమెయిల్
awakenmedia.prabandhak @ gmail.com
chandrasekhara.tipitka @ gmail.com

EVM యంత్రాలు యొక్క దుర్వినియోగం న RESEARCH :

ఒక విజ్ఞప్తి
గౌరవప్రదమైన చీఫ్ జస్టిస్

http://www.business-standard.com/article/elections-2014/bjp-manifesto-comprehensive-but-implementation-is-key-analysts-114040700370_1.html

http://www.theindianrepublic.com/featured/narendra-modi-addresses-rallies-bijor-aligarh-uttar-pradesh-100031654.html

భారత రిపబ్లిక్

అవతారము
Jagatheesan Chandrasekharan • కొన్ని సెకన్ల క్రితం

లు
Bahuth Jiyadha పాపి వారి అసహనం , ద్వేషం , కోపం , అసూయ ఒక మానసిక వ్యాధి
కానీ ఏమీ ఇది మనస్సు యొక్క అన్ని అపవిత్రత తో ఓటర్లు భయపెట్టేందుకు మరియు
చికిత్స అవసరం ; ఇది చాలా ఆందోళన 58 స్టీల్త్ కల్ట్ RSS చెందిన గోధ్రా
నేరస్థుడు ” ” బార్బేరియన్ ఛాతీ ”

దేశంలో ఒక్క రేసు వంటి అన్ని చెందుతుంది కోసం మానసిక ఆశ్రయం మరియు
పార్లమెంట్ లో . రోజు వివిధ పార్టీలు చాలా నాయకులు ఈ అంగీకరిస్తున్నారు .
నీడ ఈ 58 మధ్య జరగబోతోంది బాక్సింగ్ ” ​​ఛాతీ బార్బేరియన్ దోషిగా మరియు
సంస్కృతి యొక్క అసలు యజమానులు ఉంది
. దేశంలో ఈ సంస్కృతి యొక్క భయపడ్డారు కాదు .

ఎన్నికల
కమిషన్ ఎన్నికల కమిషన్ అన్ని ఈవీఎంలు స్థానంలో సుపీరియర్ కోర్టులు క్రమంలో
అమలు చేయడానికి విఫలమైంది వంటి sarvasamaj చెందిన సభ్యులు లేదు ఎందుకంటే
మాత్రమే కాని సురక్షితమైన ఈవీఎంలు సహాయం కాలేదు .
బదులుగా 543 లోక్సభ నియోజకవర్గాల్లో 385 VVPT యంత్రాలు భర్తీ చేయబడ్డాయి .

న్యూ
ఓటరు పరిశీలనా పేపర్ ట్రయిల్ ఇది ఈవీఎంలు ఉచిత మాత్రం ప్రశాంత ఎన్నికలు
స్థానంలో మరియు ఫలితాలు తీసుకోకుండా అప్పటి నుండి ఎన్నికల పిచ్చిపనులకు
మరియు ఫాన్సీస్ అని అంటే పాడు అని సందేహాలు క్రింది ఈవీఎంలు స్థానంలో (
VVPT ) యంత్రాలు ,
కమిషన్ . ఓటింగ్ యంత్రాలు “కంప్యూటర్ సాఫ్ట్వేర్పై అవకతవకలు ఇది కాలిక్యులేటర్లు ” ఉన్నాయి . న్యూ యంత్రాలు ఒక కాగితం స్లిప్ అప్పుడు ఒక బాక్స్ లో జమ ఏ EVM ఓటింగ్ తో వస్తారు పేరు EC , అనుసరించిఉంటాయి . ఉపయోగం ఏమిటి? పేపర్
స్లిప్ ఓటరు ” పార్టీ ఒక ” కోసం ఓటు casted ఉంది , కానీ కాలిక్యులేటర్
సాఫ్ట్వేర్ ” పార్టీ B ” ఓటు జోడిస్తుంది ఆ చూపిస్తుంది !
కంప్యూటర్లు క్రమణిక . నకిలీ కాగితం స్లిప్స్ కోసం ఏ ఉపయోగం. సుపీరియర్
కోర్టులు లో అది ఎన్నికల సమయంలో ఒక అభ్యర్థికి victoryto నిర్ధారించడానికి
ముందు పోగ్రామ్ చేయవచ్చు ఎలా ఈ కంప్యూటర్లను అవకతవకలు చేయవచ్చు మరియు ఎలా
ప్రదర్శించింది.
EVM యంత్రాలు డెమోక్రసీ హత్య మరియు అలా అన్ని సామర్థ్యాలు కలిగి .

సుపీరియర్ కోర్ట్ ఉచిత మరియు తెలుపు మీడియా సహా ప్రజాస్వామ్య పరిరక్షక
ఓటర్లు మేలుకొల్పగలతాయనీ వరకు అటువంటి పరిస్థితుల్లో మీడియా ద్వారా క్రింది
స్పందన ముందుకు వచ్చే సాధారణ ఎన్నికల్లో ఎటువంటి సంబంధం కలిగి ఉంటుంది .

ఒక చిప్ ” పార్టీ ఒక ” ఉన్నా అసలు ఓటింగ్ ఉండవచ్చు ఏమి ” పార్టీ B ” కంటే +1 ఓటు కావాలి చొప్పించడానికి .

ఈ ” కొట్టివేతలు ఆదేశాలు” అంటారు . కంప్యూటర్లు కంప్యూటర్లు. వారు ప్రోగ్రామ్ మరియు తిరిగి క్రమణిక చేయవచ్చు .

భారతదేశం యొక్క పాలక పార్టీ మరియు ఎన్నికల కమిషన్ సత్యం disregards మరియు ఎన్నికలు లో EVM యంత్రాలు పట్టుపట్టారు . వారు విచక్షణా కులం బయాస్ మూలం . Ms మాయావతి Sarvajan Hithay Sarvajan Sukhay ఆమె విధానం నాలుగవసారి ఉత్తరప్రదేశ్ ముఖ్యమంత్రి అయ్యారు . sarvasamaj అంటే thesupport తో , అన్ని సంఘాలు . అన్ని
ఏనుగు బీఎస్పీ యొక్క చిహ్నాలు మరియు SC / ST / OBC ప్రతిమలు విగ్రహాలు
draping కోసం ఆదేశించింది CEC కూడా కట్టుకునేవారు ఎందుకంటే అయితే గత
అసెంబ్లీ ఎన్నికల్లో ఆమె కోల్పోయింది .
ఈవీఎంలు కూడా ఆమె ఓడించడానికి పాడు చేశారు ఒక దిగులు ఉంది . అనేక రాజ్యాలు ఎన్నికల తరువాత ఎన్నికలకు వెళ్లి అక్కడ . కానీ CEC
2014 లోక్సభ ఎన్నికల్లో సహా ఎఐఎడిఎంకె మొదలైనవి కాంగ్రెస్ , బిజెపి, ఎస్పి , చిహ్నాలు , draping కోసం ఆర్డర్ ఎప్పుడూ . అగ్రకుల నాయకులు ‘ విగ్రహాలు కట్టుకునేవారు ఆదేశించడం కాలేదు . అందుకే చీఫ్ జస్టిస్ స్థాయి ఆట భూమి కోసం ఎన్నికల సంఘం లో ప్రాతినిధ్యం
మరియు ఈ క్రమంలో అమలు వరకు ఎన్నికలు వాయిదా ఉండవచ్చు సమాజంలోని అన్ని
విభాగాలను కలిగి గర్వంగా ఉండవచ్చు .

ప్రజలు మరియు ఇతర ఎన్నికల అభ్యర్థులు EVM యంత్రాలు ద్వారా ఉల్లంఘించిన ఇవి కొన్ని రాజ్యాంగ హక్కులు . ఓపెన్ సోర్స్ కోడ్ ప్రజలకు లేదు . ప్రజలు కుడి డిగ్నిటీ ఒక జీవించడానికి ఆర్ట్ 21 కింద కలిగి . మీరు ఎన్నికలు స్వేచ్ఛ లేకుండా డిగ్నిటీ ఒక జీవించడానికి కాదు .

కోర్టులు
వారు అడిగినప్పుడు ఉన్నాయి ఆదేశాలు పాస్ అధికార కలిగి మరింత ఒప్పించాడు
ఉండాలి , మరియు ఇది నిషేధాజ్ఞలు జారీ ఆచరణ మరియు కావాల్సిన .
ఇది నిషేధాజ్ఞలు ప్రయాణిస్తున్న రాజ్యాంగపు సమర్థించేలా కోర్టు కర్తవ్యం. ElectionCommission ఒక ప్రభుత్వ సంస్థ మరియు కక్ష్య పనిచేస్తుంది ఉంటే అందుకే ఇది Art.14 ఉల్లంఘించే .

ఎన్నికల
కమిషన్ యంత్రాలు తారుమారు సామర్థ్యం ఒప్పుకుంటున్నాను లేదు, కక్ష్య
పనిచేస్తుంది మరియు తన నిర్ణయాన్ని ప్రక్రియను దెబ్బతీయడం ఉంది .
డెసిషన్ ముఖ్యమైన భాగాలు నిర్ణయం తీసుకొనే ప్రక్రియ నుండి దూరంగా వుంచాలి మైదానంలో కొట్టివేసింది కట్టవలసి ఉంటుంది .

ఇది రాజ్యాంగ ప్రాథమిక నిర్మాణం రక్షించడానికి కోర్టు కర్తవ్యం. ఫెయిర్ ఎన్నికలు Manipulatable ఎన్నికలు స్థానంలో ఉంటే , రాజ్యాంగ ప్రాథమిక నిర్మాణం నాశనమవుతుంది . కనుక ఇది EVM యంత్రాలు నిషేధించాలని కోర్టు కర్తవ్యం. చాలా ప్రజాస్వామ్య దేశాల సుపీరియర్ కోర్టులు ఇప్పటికే ఉపయోగించడాన్ని నిషేధించాయి .

కోర్ట్ EC యొక్క అనియత విధానం మరియు నిర్ణయాలు డౌన్ సమ్మె .

ECmust మొదటి అన్ని యొక్క ఈవీఎంలు మాత్రమే ఆ తర్వాత తదుపరి చర్యలు
సర్దుబాట్లు నిరోధించడానికి ఇది తీసుకుంటారు ఏమి గురించి కోర్టులు సంతృప్తి
చేయాలి … అవకతవకలు చేయవచ్చు అంగీకరించాడు .

కాకుండా ప్రజలు హక్కుల నుండి భావించడాన్ని ఇతర అభ్యర్థులు హక్కుల ఉన్నాయి . వారు అవుతుంది
ఒక పునః లెక్కింపు కోసం విజ్ఞప్తి ? ఎలా అదే అవకతవకలు EVM కంప్యూటర్లలో చేయవచ్చు ?

బ్యాలెట్ పేపర్ ఓటింగ్ మరియు అభ్యర్థులు ప్రతినిధులు సమక్షంలో లెక్కింపు
అసలు పద్ధతి , ఇప్పటికీ సంయుక్త , UK , జర్మనీ etc దేశాల చేత గుర్తింపు
వంటి ఉత్తమ పద్ధతి .

నాకూ కాల్ తీసుకొని ఇప్పటికే ఇతర దేశాలలో నిషేధించబడ్డాయి ఇది EVM యంత్రాలు నిషేధం తగినంత శక్తివంతమైనవి ?

మేము చూడటానికి . భారతదేశం వర్తించే ఇతర దేశాల చట్టాలు.

వెలువడ్డాయి మరియు మా ప్రజాస్వామ్యం ఒక ప్రక్రియ గుండా .

ఇది మద్దతుదారులు చేతితో ఒత్తే EVM యంత్రాలు దేశం విముక్తి వారి ప్రయత్నాలు విజయవంతం భావిస్తున్నారు .

EVM / VVPT ఓపెన్ మూలాలు స్థాయిని కోసం PUBLIC చేయాలి .

సెంటర్
కనిపించేలా, అటార్నీ జనరల్ GE వాహన్వతి సవరణ ప్రక్రియ ” ఆచరణలో ” అని
న్యాయమూర్తులు పి సదాశివం , రంజన్ గొగోయ్ ఒక బెంచ్ సమాచారం .
మార్చి 28 , 2013 న EC రాసిన ఒక లేఖ ప్రతిస్పందనగా , ప్రభుత్వ వర్గాలు
శాసన శాఖ పార్లమెంట్ ఉంచుతారు ఇది నియమాలు , సవరణలు తయారు పని ఆరంభించారు .

బెంచ్ మేము ఎట్టకేలకు ఫలవంతం ఆ సంతోషంగా ఉన్నారు ” మృత్యువును . మేము అది అమలు ఉన్నప్పుడు ఇప్పుడు ఏమి ఉంది ఉంది . ” అన్ని పార్టీలు VVPT యంత్రాలు పరిచయం మద్దతుగా ఉన్నాయి .

ఈ ఉన్నప్పటికీ

దేవతలు మరియు కలిసి MAARAS , Brahmas మరియు recluses మరియు బ్రాహ్మణ
సమాజంతో పురుషులు, ఈ ప్రపంచంలో ఎవరైనా CONFUSEVOTERS మనస్సు చేయలేకపోయింది
చూడండి , లేదా గుండె చీల్చి వారి అడుగుల తీసుకున్న నది బ్యాంకు THROWTHEM
కాలేదు లేదు .

మోడీ పైగా మాయ ‘ హెచ్చరికలు ‘ ముస్లింలు

బిఎస్పి అధినేత్రి మాయావతి

బిజెపి ప్రధాన మంత్రి అభ్యర్థిగా నరేంద్ర మోడీ వ్యతిరేకంగా ఏర్పడజేయు
ముస్లిం మతం ఓటర్లు మీద అని ఆదివారం పశ్చిమ యుపి , బిఎస్పి అధినేత్రి
మాయావతి 10 సీట్లు పోలింగ్ తొలి దశ వదిలి కేవలం ఐదు రోజుల తో .

ఆదివారం మీరట్ లో ఒక ర్యాలీలో ఆమె వారు ” గోధ్రా నేరస్థుడు ” బాటలు మరియు వారు బిఎస్పి ఓటు పొతే నేపథ్యంలో చెప్పారు .

” మోడీ 2002 లో తన సొంత రాష్ట్రంలో గోధ్రా మరియు తరువాత సంఘటనలు
ఇంజనీరింగ్ చేసింది . అతను మీ పొరపాటున PM అవుతుంది, అప్పుడు అతను మత
మంటల్లో మొత్తం దేశం తోస్తుంది , ” ఆమె పేర్కొన్నారు .


మీరు కాంగ్రెస్ , ఎస్పి, బిఎస్పి మధ్య మీ ఓటు విభజించబడింది బిజెపి
గెలుచుకున్న అవకాశాలున్నాయన్నారు . వారు గెలుచుకున్న వెళ్ళడం లేదు ఎందుకంటే
కాంగ్రెస్ , ఎస్పీ మీ ఓటు వ్యర్థాలు వెళ్తుంది . ఆ సందర్భంలో , ఎవరూ మత
మానివేయవచ్చు
దళాలు . బిజెపిని ముస్లిం మతం కమ్యూనిటీ దాని ఓటు విభజించి లేదు ఉంటే
ఆగిపోయింది , బిఎస్పి మాత్రమే మద్దతు చేయవచ్చు , ” ఆమె చెప్పారు .

మాయావతి మోడి 2002 లో గుజరాత్ లో జరిగిన ఖచ్చితంగా ఏమి అని పేర్కొన్నారు . నిజానికి మాయావతి గుజరాత్లో 2002 అల్లర్లలో అసెంబ్లీ ఎన్నికల్లో మోడీ ప్రచారం అని ఉంది .

బిఎస్పి
అధినేత్రి అత్యంత ఉద్రిక్తంగా ప్రసంగాన్ని చేశారు మరియు బిజెపి వ్యవహారాల
ఇన్చార్జి UP అమిత్ షా ఇప్పటికే రాష్ట్ర అస్థిరం మతపరంగా పని ప్రారంభించారు
ఆరోపించారు దీన్ని బిఎస్పి backburner న అభివృద్ధి సమస్యలు చాలు మరియు భయం
సృష్టించడంపై దృష్టి అని స్పష్టమైన మారింది
మైనారిటీ లో సైకోసిస్ .

ఇంతలో ఒక రోజు ముందు , బిఎస్పీ వాహబ్ చౌదరి అతను 22 అంగుళాల వరకు 56 అంగుళాల నుండి మోడీ ఛాతీ చిన్నదిగా చెప్పారు . చౌదరి , Muradnagar నుండి ఎమ్మెల్యేగా , మాయావతి సమక్షంలో ఘజియాబాద్ లో ఒక ప్రజా సమావేశంలో శనివారం ఈ చెప్పారు .

” గుజరాత్ CM అతను 56 అంగుళాలు ఒక ఛాతీ చెప్పారు . కానీ నేను మీరు వచ్చి
నేను చిన్న . Behen మాయావతి ఈ సైనికుడు 22 అంగుళాలు దానిని స్లాష్ ఉంటుంది
, చేయడానికి హామీ చెప్పాలనుకోవడం ” అతను చెప్పాడు .

గతంలో శుక్రవారం , నరేంద్ర కశ్యప్ బిఎస్పి కాంగ్రెసులోని , గబ్బర్ సింగ్ ,
హిందీ షోలే చిత్రం నుండి ప్రతినాయక పాత్ర , మోడీ పోలిస్తే మరియు సమాన
నిర్దయ వాటిని రెండు గా అభివర్ణించబడిన .

ఆ ముందు , బిఎస్పి మోరాడాబాద్ అభ్యర్థి హాజీ యాకుబ్ ఖురేషీ , ఒక ” బార్బేరియన్ . ” మోడీ పిలుపునిచ్చారు


78) Classical Urdu

http://dailyaag.com/phase2/%D8%AF%DA%AF-%D9%88%D8%AC%DB%92-%D9%86%DB%92-%D8%A7%D9%85%D8%AA-%D8%B4%D8%A7%DB%81-%D9%BE%D8%B1-%D8%A8%D9%88%D9%84%D8%A7-%D8%AD%D9%85%D9%84%DB%81-%D8%8C-%D8%A7%D9%B9%DA%BE%D8%A7%DB%8C%D8%A7-%DB%8C/#comment-141711


Awakenmedia





78) کلاسیکی اردو

آپ کی مادری زبان میں اس کا ترجمہ کریں براہ مہربانی

مفت آن لائن ای نالندا تحقیق اور پریکٹس یونیورسٹی

پر مجھے ای میل
awakenmedia.prabandhak @ gmail.com پر
chandrasekhara.tipitka @ gmail.com پر

EVM مشینوں کے غلط استعمال پر تحقیق :

اپیل
فاضل چیف جسٹس

http://www.business-standard.com/article/elections-2014/bjp-manifesto-comprehensive-but-implementation-is-key-analysts-114040700370_1.html

http://www.theindianrepublic.com/featured/narendra-modi-addresses-rallies-bijor-aligarh-uttar-pradesh-100031654.html

بھارتی جمہوریہ

اوتار
Jagatheesan چندرشیشرن • چند سیکنڈ پہلے

ے Bahuth Jiyadha پاپی ان کی عدم برداشت ، نفرت ، غصہ ، حسد ایک ذہنی
بیماری کے سوا کچھ نہیں ہے جس میں دماغ کی تمام کلنک کے ساتھ ووٹروں کو
ڈرانے اور علاج کی ضرورت ہے؛ یہ سب سے زیادہ خوفزدہ 58 چپکے پنت آر ایس ایس
سے تعلق رکھتے ہیں جو گودھرا کے مجرم “” جنگلی chested ” اس ملک ایک ریس
کے طور پر تمام سے تعلق رکھتا ہے کے لئے پاگل خانے میں اور نہ پارلیمنٹ میں
دن کے لئے مختلف جماعتوں کے کئی رہنماؤں نے اس سے اتفاق کرتا ہوں . سائے
اس 58 کے درمیان چل رہا باکسنگ ” chested جنگلی مجرم اور فرقے کے اصل
مالکان موجود نہیں ہے . ملک اس فرقے کا ڈر نہیں ہے .

الیکشن کمیشن الیکشن کمیشن تمام EVMs تبدیل کرنے کے لئے اعلی عدالتوں کے
حکم پر عمل درآمد کرنے میں ناکام رہی ہے کے طور پر sarvasamaj سے تعلق
رکھنے والے اراکین کی ضرورت نہیں ہے کیونکہ صرف غیر چھیڑنا ثبوت EVMs ان کی
مدد کر سکتے ہیں . اس کے بجائے 543 لوک سبھا حلقوں میں 385 VVPT مشینوں کی
طرف سے تبدیل کر دیا گیا ہے .

نئی ووٹر قابل کاغذ پگڈنڈی اس EVMs مفت وجود میں آیا اور منصفانہ
انتخابات کی جگہ اور نتائج نہیں لے گیا تھا تب سے الیکشن کی خواہشات اور
پسند کرنے کے لئے تھے جس کا مطلب ہے گڑبڑ کیا جا سکتا ہے شک مندرجہ ذیل
EVMs تبدیل کرنے کے لئے ( VVPT ) مشینیں ، کمیشن . ووٹنگ مشینوں “کمپیوٹر
سافٹ ویئر کی طرف سے توڑ کیا جا سکتا ہے Calculators کے ” ہیں . نئی مشین
ایک کاغذ کی پرچی تو ایک باکس میں جمع کیا جائے گا جس EVM ووٹنگ کے ساتھ
باہر آ جائے گی جہاں الیکشن کمیشن ، کی طرف سے حکم دیا ہیں . استعمال کیا
ہے؟ کاغذ پرچی ووٹر ” پارٹی ” کے لئے ووٹ casted ہے، لیکن کیلکولیٹر سافٹ
ویئر “پارٹی B” ووٹ کا اضافہ کریں گے ہے دکھایا جائے گا! کمپیوٹر پروگرام
ہیں . اس طرح کے جعلی کاغذ تخم لئے کوئی فائدہ نہیں . اعلی عدالتوں میں یہ
انتخابات کے دوران ایک امیدوار victoryto یقینی بنانے کے لئے پہلے سے
پروگرام کیا جا سکتا ہے کہ کس طرح ان کے کمپیوٹر توڑ کیا جا سکتا ہے اور کس
طرح مظاہرہ کیا گیا ہے . EVM مشینوں جمہوریت ہلاک اور ایسا کرنے کے لئے
تمام امکانات ہے ہے .

سپیریئر کورٹ اور آزاد اور منصفانہ میڈیا سمیت جمہوریت کے حمایتی ووٹروں
زگانے جب تک اس طرح کے حالات کے تحت میڈیا کی طرف سے مندرجہ ذیل نمائش آگے
آنے والے عام انتخابات میں کوئی تعلق نہیں ہوگا .

ایک چپ ” پارٹی ” کوئی بات نہیں اصل ووٹنگ ہو سکتا ہے “پارٹی بی ” سے +1 زیادہ ووٹ حاصل کرنا چاہئے کہ داخل کیا جا سکتا .

یہ ” overwriting کی کمانڈ ” کہا جاتا ہے . کمپیوٹر کمپیوٹر ہیں . وہ پروگرام اور دوبارہ پروگرام کیا جا سکتا .

بھارت کی حکمران جماعت اور الیکشن کمیشن حقیقت نظرانداز اور انتخابات
میں EVM مشینوں کے استعمال پر اصرار کیا . وہ discriminative ذات تعصب کا
ذریعہ ہیں . محترمہ مایاوتی Sarvajan Hithay Sarvajan Sukhay کی اس کی
پالیسی کے ساتھ چوتھی بار اتر پردیش کے وزیر اعلی بن گئے . sarvasamaj یعنی
thesupport کے ساتھ ، تمام معاشروں . تمام ہاتھی بی ایس پی کی علامتوں اور
تخسوچت ذات / جنجاتی / او بی سی شبیہیں کے مجسموں draping کے لئے حکم دیا
سی ای سی بھی لپٹی کیونکہ لیکن گزشتہ اسمبلی انتخابات میں وہ ہار گئے. EVMs
بھی اس کو شکست دینے میں گڑبڑ کر رہے تھے کہ ایک خدشہ نہیں ہے . کئی کے
طور پر امریکا میں انتخابات کے بعد انتخابات کے لئے کہاں گئے . لیکن چیف
الیکشن کمشنر
2014 کے لوک سبھا انتخابات سمیت اننادرمک وغیرہ کانگریس ، بی جے پی ، ایس
پی ، کی علامتوں ، draping کے لئے حکم دیا کبھی نہیں . اونچی ذات کے
رہنماؤں کے مجسمے لپٹی کرنے کا حکم دیا نہیں کیا گیا ہے . عزت مآب چیف جسٹس
کھیل کی سطح زمین کے لئے الیکشن کمیشن میں نمائندگی کرنے اور اس طرح کے
حکم پر عمل درآمد تک انتخابات ملتوی کیا جا سکتا ہے سماج کے تمام طبقوں کو
شامل کرنے کے لئے خوش ہو سکتا ہے .

اور دیگر امیدواروں EVM مشینوں کے استعمال کی طرف سے خلاف ورزی کی جا
رہی ہیں جس میں کچھ آئینی حقوق حاصل ہیں . اوپن سورس کوڈ عوامی بنایا جا
رہا ہے . لوگ صحیح وقار کی زندگی گزارنے کے فن 21 کے تحت ہے . آپ آزادانہ
اور منصفانہ انتخابات کے بغیر وقار کی زندگی نہیں رہ سکتا .

عدالتوں انہوں نے پوچھا کیا جا رہا ہے جس کے احکامات کو منتقل کرنے کے
دائرہ اختیار ہے کہ مزید اس بات پر یقین کرنے کے لئے ہے، اور یہ اس طرح کے
حکم امتناعی جاری کرنے کے عمل اور ضروری ہے . یہ اس طرح کے حکم امتناعی
گزرنے کی طرف سے آئین کی بالادستی کے لئے عدالت کی ذمہ داری ہے .
ElectionCommission حکومت جسم ہے اور یہ منمانے کام کرتا ہے تو اس وجہ سے
یہ Art.14 کی خلاف ورزی ہے .

الیکشن کمیشن مشینیں ہیرا پھیری کی صلاحیت رکھتے ہیں یہ تسلیم نہیں کرتی
ہے تو ، یہ منمانے کام کرتا ہے اور اپنے فیصلے عمل vitiated ہے . فیصلہ
اہم اجزاء فیصلہ سازی کے عمل سے باہر رکھا جاتا ہے کہ زمین پر مارا جائے
کرنے کی ذمہ دار ہے .

یہ آئین کے بنیادی ڈھانچے کی حفاظت کے لئے عدالت کی ذمہ داری ہے .
منصفانہ انتخابات Manipulatable انتخابات کے ساتھ تبدیل کر رہے ہیں ، آئین
کے بنیادی ڈھانچے تباہ کر دیا ہے . تو یہ EVM مشینوں پر پابندی عائد کرنے
کورٹ کی ذمہ داری ہے . سب سے زیادہ جمہوری ممالک کی اعلی عدالتوں نے پہلے
ہی اس طرح کے استعمال پر پابندی لگا دی ہے .

کورٹ کے الیکشن کمیشن کے اس طرح کے صوابدیدی پالیسی اور فیصلے کو ختم کر سکتے ہیں .

ECmust سب سے پہلے EVMs صرف اس کے بعد یہ مزید اقدامات پھیری کو روکنے
کے لئے اس کی طرف سے لے جایا جاتا ہے کے بارے میں عدالتوں کو مطمئن کرنا
چاہئے … توڑ کیا جا سکتا ہے کہ تسلیم کرتے ہیں .

اس کے علاوہ لوگوں کے حقوق سے ، پر غور کیا جائے دیگر امیدوار کے حقوق ہیں . وہ کہاں جائے گا
دوبارہ شمار کے لئے اپیل کریں ؟ یہ کس طرح ایک ہی ہیرا پھیری EVM مشینوں پر کیا جا سکتا ہے ؟

بیلٹ پیپر ووٹنگ اور امیدواروں کے نمائندوں کی موجودگی میں گنتی کے اصل
طریقہ ، اب بھی امریکہ، برطانیہ ، جرمنی وغیرہ ممالک کی طرف سے تسلیم شدہ
کے طور پر سب سے بہترین طریقہ ہے .

ہماری عدالتوں میں کال لے اور پہلے ہی دوسرے ممالک میں پابندی عائد کر
رہے ہیں جس EVM مشینوں پر پابندی عائد کرنے کے لئے کافی طاقتور ہیں ؟

ہمیں دیکھنا پڑے . بھارت پر لاگو نہیں دیگر ممالک کے قوانین .

ہماری عدالتوں اور ہماری جمہوریت ایک عمل سے گزر رہے ہیں .

یہ حامیوں جوڑ توڑ EVM مشینوں سے ملک کو آزاد کرانے کی کوششوں میں کامیاب امید کی جاتی ہے .

EVM / VVPT کھلا ماخذ کوڈ سطح کھیل کا میدان کے لئے عوام کیا جانا چاہئے .

سینٹر کے لئے ظاہر ، اٹارنی جنرل جی ای واہنوتی ترمیم کے عمل کو ” جاری ”
تھا کہ جسٹس P Sathasivam اور رنجن گوگوئ کے بنچ کو بتایا . 28 مارچ ،
2013 کو الیکشن کمیشن کی طرف سے لکھے گئے ایک خط کے جواب میں ، وزارت قانون
کی قانون ساز محکمہ پارلیمنٹ کے سامنے رکھا جائے گا جس کے قواعد ، میں
ترامیم کی تیاری کا کام شروع ہو گیا تھا .

بنچ ہم اس کو آخر متجسم ہے کہ خوش ہیں ، ” کہا . ہم اس کو لاگو کرنے کے
لئے ہیں جب اب کیا رہتا ہے. “تمام جماعتوں VVPT مشینیں متعارف کرانے کی
حمایت میں تھے .

ان تمام کے باوجود

دیوتاوں اور ساتھ MAARAS ، BRAHMAS اور RECLUSES اور برہمن کی کمیونٹی
کے ساتھ مردوں کی اس دنیا میں میں نے کسی CONFUSEVOTERS دماغ سکتا ہے
دیکھتے ہیں، یا ان کے دل سپلٹ ، یا ان کے پاؤں کی طرف سے اٹھائے دریا کے
دوسری بینک THROWTHEM سکتا ہے نہیں .

مودی کے دوران مایا ‘ انتباہ ‘ مسلمانوں

بی ایس پی سپریمو مایاوتی

بی جے پی کے وزیر اعظم کے عہدے کے امیدوار نریندر مودی کے خلاف polarize
مسلم ووٹروں پر زور دیا کہ اتوار کو مغربی اتر پردیش ، بی ایس پی سپریمو
مایاوتی کی 10 نشستوں پر پولنگ کے پہلے مرحلے کے لئے صرف پانچ دن کے ساتھ .

اتوار کو میرٹھ میں ایک ریلی سے خطاب کرتے ہوئے ، وہ ” گودھرا کے مجرم ”
کے لئے راہ ہموار اور وہ بی ایس پی کے لئے ووٹ نہیں کیا تو موسیقی کا
سامنا کریں گے .

” مودی 2002 میں ان کی اپنی ریاست میں گودھرا اور اس کے بعد کے واقعات
انجنیئر تھا . وہ آپ کی غلطی سے شام ہو جاتا ہے ، تو وہ فرقہ وارانہ آگ میں
پورے ملک کو دھکا گا ، ” انہوں نے دعوی کیا ہے .

“اگر آپ کانگریس ، ایس پی اور بی ایس پی کے درمیان آپ کا ووٹ تقسیم تو
بی جے پی کی جیت جائے گا کہ ہر امکان ہے . وہ حاصل کرنے کے لئے نہیں کر رہے
ہیں کیونکہ کانگریس اور ایس پی کے لئے آپ کا ووٹ بیکار ہو جائے گی . اس
صورت میں ، کوئی فرقہ روک سکتے ہیں فورسز . لیکن بی جے پی کی مسلم کمیونٹی
کے ووٹ تقسیم نہیں کرتا تو بند کر دیا اور بی ایس پی صرف کی حمایت کرتا ہے
کر سکتے ہیں ، “انہوں نے کہا .

مایاوتی مودی 2002 میں گجرات میں ہوا تھا بالکل وہی کروں گا کہ دعوی کیا
ہے . حقیقت یہ ہے کہ مایاوتی گجرات میں 2002 کے فسادات کے بعد اسمبلی
انتخابات میں مودی کے لیے مہم چلائی تھی کہ رہتا ہے .

بی ایس پی سربراہ ایک انتہائی surcharged تقریر کی اور بی جے پی کے
انچارج یوپی امیت شاہ پہلے ہی ریاست کو غیر مستحکم سامپرداییک کرنے کے لئے
کام شروع کر دیا ہے نے الزام لگایا کہ اگرچہ ، یہ بھی بسپا backburner پر
ترقی کے معاملات ڈال دیا اور خوف بنانے پر توجہ مرکوز کریں گے کہ واضح ہو
گیا اقلیتی برادری میں سائیکوسس .

دریں اثناء ایک دن پہلے ، بی ایس پی کے رہنما وہاب چوہدری انہوں نے 22
انچ سے 56 انچ سے مودی کے سینے قصر گی . چوہدری ، Muradnagar سے ایک ایم
ایل اے ، مایاوتی کی موجودگی میں غازی آباد میں ایک عوامی اجلاس میں ہفتہ
کے روز اس نے کہا تھا .

” گجرات کے وزیراعلی انہوں نے 56 انچ کے سینے کا کہنا ہے کہ . لیکن میں
آپ کے پاس آیا اور میں نے اس کے چھوٹے . behen مایاوتی کا یہ فوجی 22 انچ
کرنے کے لئے اس میں کمی کرے گا ، کرنے کے لئے وعدہ کہنا چاہتا ہوں ” انہوں
نے کہا تھا .

اس سے قبل جمعہ کے روز ، نریندر کشیپ ، بی ایس پی کے ریاستی اسمبلی کے
رکن ، Gabbar سنگھ ، ہندی فلم شعلے کی طرف سے ایک ھلنایک کردار ، کے ساتھ
مودی کے مقابلے میں اور کے طور پر یکساں طور پر ظالمانہ ان دونوں کا نام
دیا تھا .

اس سے پہلے ، بی ایس پی کی مراداباد امیدوار ، حاجی یعقوب قریشی ، ایک ” جنگلی ” مودی نے بلایا تھا



Thank you

FOR YOUR WISE DECISION
TO
VOTE FOR BSP

 

14anim.gif


ALIGARH/MEERUT/MUZAFFARNAGAR/SHAMLI:
THE anguish over September 2013 riots in Muzaffarnagar continues to
haunt the political players in western Uttar Pradesh, where the Muslim
voter continues to hold its card to the chest but for one certainty—
that they shall not vote for either the BJP or a candidate from Jat
community.

A miniscule of young, educated urbanized Muslim
voter in education hubs like Meerut and Aligarh does find a ray of hope
in Aam Admi Party, but this sliver is unlikely ..

Bahujan Samaj Party emerges as preferred choice for Muslims in western Uttar Pradesh

Bahujan Samaj Party emerges as preferred choice for Muslims in western Uttar Pradesh

Bahujan Samaj Party emerges as preferred choice for Muslims in western Uttar Pradesh

comments (0)