Free Online JC PURE INSPIRATION for free birds 🐦 🦢 🦅 to grow fruits 🍍 🍊 🥑 🥭 🍇 🍌 🍎 🍉 🍒 🍑 🥝 vegetables 🥦 🥕 🥗 🥬 🥔 🍆 🥜 🪴 🌱 🎃 🫑 🍅🍜 🧅 🍄 🍝 🥗 🥒 🌽 🍏 🫑 🌳 🍓 🍊 🥥 🌵 🍈 🌰 🇧🇧 🫐 🍅 🍐 🫒 Youniversity
Kushinara NIBBĀNA Bhumi Pagoda White Home, Puniya Bhumi Bengaluru, Prabuddha Bharat International.
Categories:

Archives:
Meta:
04/20/16
1842 Thu Apr 21 2016 LESSONS from INSIGHT-NET-Hi Tech Radio Free Animation Clipart Online A1 (Awakened One) Tipiṭaka Research & Practice University in Visual Format (FOA1TRPUVF) through http://sarvajan.ambedkar.org Button Plant Green Butterfly E Mail Animation Clipaonesolarpower@gmail.com Classical Buddhism (Teachings of the Awakened One with Awareness) belong to the world, and everyone have exclusive rights:JCMesh J Alphabets Letter Animation ClipartMesh C Alphabets Letter Animation Clipart Rendering exact translation as a lesson of this University in one’s mother tongue to this Google Translation and propagation entitles to become a Stream Enterer (Sottapanna) and to attain Eternal Bliss as a Final Goal. list of websites propagating the teachings of The Awakened One with Awareness i.e., Buddha Tripitaka in Visual format http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907 http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1. http://news. xinhuanet. com/english/ 2009-07/27/ content_11780918 .htm www.chinaview. cn www.buddhismandbusi ness.webs. com http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/ www.grameenfoundation.org http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/ http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/ http://scroll.in/article/806815/in-sounding-the-bugle-for-2017-polls-in-uttar-pradesh-mayawati-did-not-spare-anyone In sounding the bugle for 2017 polls in Uttar Pradesh, Mayawati did not spare anyone Her priorities are clear: Reaching out to Muslims, safeguarding her SC/ST vote, with some choice words for anyone laying claims to Ambedkar’s legacy. How Can SC/STs Come Out Of the Elite Controlled Victimhood Narrative in Classical English,Bengali- ক্লাসিক্যাল বাংলা,,Malayalam- ക്ലാസ്സിക്കൽ മലയാളം,Tamil- பாரம்பரிய இசைத்தமிழ் செம்மொழி,,Punjabi-ਕਲਾਸੀਕਲ ਦਾ ਪੰਜਾਬੀ,Hindi-शास्त्रीय हिन्दी,
Filed under: General
Posted by: site admin @ 4:04 pm

1842 Thu Apr 21 2016

LESSONS


from

INSIGHT-NET-Hi Tech Radio Free Animation Clipart Online A1 (Awakened One) Tipiṭaka Research & Practice University
in Visual Format (FOA1TRPUVF)  

through http://sarvajan.ambedkar.org

Button Plant Green Butterfly E Mail Animation Clipaonesolarpower@gmail.com

Classical Buddhism (Teachings of the Awakened One with Awareness) belong to the world, and everyone have exclusive rights:JCMesh J Alphabets Letter Animation ClipartMesh C Alphabets Letter Animation Clipart

Rendering exact translation as a lesson of this University  in one’s mother tongue to this Google Translation and propagation entitles to become a Stream Enterer (Sottapanna) and to attain Eternal Bliss as a Final Goal.

list of websites propagating the teachings of The Awakened One with Awareness i.e., Buddha Tripitaka in Visual format

http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907
http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1.
http://news. xinhuanet. com/english/ 2009-07/27/ content_11780918 .htm
www.chinaview. cn
www.buddhismandbusi ness.webs. com
http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/
www.grameenfoundation.org

http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/
http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf

http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/

http://scroll.in/article/806815/in-sounding-the-bugle-for-2017-polls-in-uttar-pradesh-mayawati-did-not-spare-anyone

In sounding the bugle for 2017 polls in Uttar Pradesh, Mayawati did not spare anyone


Her priorities are clear:
Reaching out to Muslims, safeguarding her SC/ST vote, with some choice
words for anyone laying claims to Ambedkar’s legacy.


How Can SC/STs Come Out Of the Elite Controlled Victimhood Narrative

in Classical English,
Bengali- ক্লাসিক্যাল বাংলা,Malayalam- ക്ലാസ്സിക്കൽ മലയാളം,Tamil- பாரம்பரிய இசைத்தமிழ் செம்மொழி,Punjabi-ਕਲਾਸੀਕਲ ਦਾ ਪੰਜਾਬੀ,Hindi-शास्त्रीय हिन्दी,

Mayawati
has made it clear that she will be making a solo run to regain power in
Uttar Pradesh in next year’s Assembly polls. She has also warned her
opponents to stay off her core SC/ST vote bank while indicating the
importance to her of wooing a new growing support base among the Muslim
minority in the state.

The Bahujan Samaj Party chief sent out
these and several other key political signals at the vast public rally
organised last week by her party to celebrate Babasaheb Bhimrao
Ambedkar’s 125th birth anniversary in the state capital Lucknow in
perhaps her most significant speech since the BSP’s Lok Sabha poll
debacle in 2014.

A giant placard held up by her supporters showed
Mayawati in an overcoat and sari flanked by Babasaheb and Kanshi Ram on
either side. They were standing in front of the giant memorial built by
her government when in power a decade ago to honour icons of the SC/ST/OBCs
movement as elephants frolicked on the grass below while a small replica
of Buddha smiled benignly from the sky above. Across the placard was
scrawled in capital letters “NEXT CM”.

Campaign 2017

The
symbolism at the rally and the import of Mayawati’s speech underlined
that this was indeed the launch of her campaign for the state Assembly
polls still one year away. Interestingly much of the speech was devoted
to the perfidy of other political parties in laying false claims to the
legacy of Babasaheb Ambedkar and their devious attempts to steal the SC/ST vote. She spared nobody.

Unleashing a scathing attack on the Murderer of democratic institutions( Modi ) and the Sangh Parivar, Mayawati pointedly
described him and those Bharatiya Janata Party leaders who are backward
castes or SC/STs as “bonded labourers” of the Rashtriya Swayamsevak
Sangh and its upper caste agenda. She was particularly harsh on Keshav
Prasad Maurya, the newly appointed backward caste BJP chief in Uttar
Pradesh accusing him of having a “criminal and communal” record. She
also debunked the BJP’s efforts to revive the Ram Mandir issue,
describing it as a trap to fool the SC/STs.

“Our messiah is
Babasaheb Ambedkar not Lord Rama,” Mayawati asserted

Yet
if the BSP leader’s biting criticism of the Murderer of democratic institutions( Modi ) and his
party scotched speculation about a secret deal between her and the BJP
before or after the state elections, she did the same to any possible
collaboration with the Congress for the coming polls. Indeed, Mayawati
spent even more time in lambasting the Congress recalling the
humiliation of Ambedkar by its past leaders as well as listing the
disastrous record of successive Congress governments in redressing SC/ST
grievances and addressing their demands. She openly ridiculed the
Congress Vice President Rahul Gandhi for his “immaturity” in comparing
Rohith Vemula, the Hyderabad University SC research scholar who
recently committed suicide, with Babasaheb
.

Nor did the BSP leader
appear impressed with the Left’s new inclination towards Ambedkar and
SC/ST politics. Jawaharlal Nehru University Students Union President
Kanhaiya Kumar, who has been advocating an alliance between left wing
and
Ambedkarite politics, got short shrift from Mayawati who pointed out
that he belonged to an upper caste and subscribed to the communist
ideology that radically differed from that espoused by Ambedkar.

Even
Rohith Vemula was not spared. Mayawati, while expressing her respect
for his commitment to Ambedkarite politics, maintained that he should
not have taken his life and instead followed the example of Ambedkar who
too was humiliated and hounded but continued to fight to get justice
for the SC/STs.

Snub to Left

By criticising
leftists like Kanhaiya Kumar who are looking to engage with Ambedkarite
politics, Mayawati has made it clear that she is not going to take
kindly to others poaching into what she consider her own turf of SC/ST
politics. Similarly her annoyance with the adulation of Vemula as a new
SC/ST icon, even if sympathetic to the circumstances of his tragic
demise, reveals her reluctance to accept a new addition to the already
established SC/ST pantheon. She maintained, with perhaps some
justification, that there was a big difference between Ambedkar, Kanshi
Ram and herself who have fought against adversaries and atrocities to
take the SC/ST cause forward and Vemula who ended his life implying that
SC/ST politics was not about victimhood but empowerment.

Another
vital aspect of Mayawati’s speech was her espousal of Muslim minority
issues including a fierce criticism of Murderer of democratic institutions( Modi )’s efforts to
change the minority status of the Aligarh Muslim University and the
Jamia Millia Islamia. Her growing outreach to the Muslim minority was
emphasised by her special thanks for organising the public rally to her
close Muslim aide Naseemuddin Siddiqui, even as she appreciated long
trusted Brahmin lieutenant Satish Mishra for his media management.

Muslims
will also be happy with Mayawati’s unequivocal repudiation of recent
communal campaigns like love jihad and beef ban, which she said was a
way of diverting public attention from the Murderer of democratic institutions( Modi )’s failures.
As for the “Bharat Mata Ki Jai” controversy, Mayawati was even
more categorical. “People of my party say Jai Bhim and Jai Bharat.
Others say Jai Hind,” making it clear that she was not going to be
bulldozed by nationalism.

The other big message delivered by
Mayawati at the rally was that while she was committed to the SC/ST
cause and sympathetic to the grievances of the Muslim minority she was
now looking beyond the politics of identity. “ I can promise you that
after coming back to power I shall focus on
work”.

Murderer of democratic institutions( Modi ) and the The high priests of 1%
intolerant, militant, violent, lunatic, mentally retarded, shooting,
lynching cannibal cowherd scare crow psychopath chitpawan brahmin  RSS
(Rakshasa Swayam Sevaks) and all its avathars BJP(Bahuth Jiyadha
Psychopaths) VHP (Venomous Hintutva Psychopaths), ABVP (All brahmin
Venomous Psychopaths) Bhajan Dal, and Murderer of democratic
institutions (Modi) who were selected by tampering fraud EVMs,and
therefore he and those BJP leaders who are backward
castes or SC/STs as “bonded labourers” of the RSS and its 1% chitpawan
brahmin caste agenda who are just scape goats who are for bali dhan and
curry leaves that use and throw leaves and more appropriately their own
mothers’ flesh eaters.


Keshav
Prasad Maurya, the newly appointed backward caste BJP chief in Uttar
Pradesh is having a “criminal and communal” record.


BJP’s
efforts to revive the Ram Mandir issue is like a snake charmer
announcing that he will let the snake and the mongoose fight till he
gathers money and finally packs off without making them fight. Once the
elections are over this agenda of Ram Mandir will be packed off.


“Our
messiah is
Babasaheb Ambedkar who fathered the Constitution of our country not Lord
Rama who was created by Valmiki a, non-chitpawan brahmin being used for
hindutva vote bank politics for greed of power,”


Appropriation of
Our
messiah is
Babasaheb Ambedkar by the Congress, the BJP and the Communists which are
brahminical parties is, out of fear of Ms Mayawati leading the
Techno-Politico-Socio Transformation and Economic Emancipation Movement
which is definite to acquire the Master key.


Ex 
CJI EVM SADHASIVAM, shirked its duty & committed a grave error of
judgment by allowing in phased manner Fraud Tamperable EVMs on the
request of CEC EVM SAMPATH because of the 1600 crore cost to replace
them and dealt a fatal blow to the Country’s democracy.

Ex CJI
did not order for ballot paper system would be brought in. No such
precautionary measure was decreed by the apex court. Ex  CJI did not
order that till the time this newer set of about 1300000 voting machines
is manufactured in full & deployed totally. All the people in 80
democracies in the world who simply done away with fradulent EVMs.
Therefore all people who believe in Democracy, Liberty, Equality and
fraternity should not recognise Murderers of democratic institutions
(Modi) and their governance of this country with a wonderful
Constitution.

As a clear proof :
Ms
Mayawati ex Chief Minister of Uttar Pradesh and Chief of Bahujan Samaj
Party (BSP) won in the Panchayat Elections conducted through paper
ballots, while it could not win a single seat in Lok Sabha elections
conducted through EVMs vulnerable to fraud. As CM of UP, her governance
was the best by distributing the wealth proportionally among all
sections of the society and became eligible to become the Prime Minister
of this country. This was not tolerated by the traditional manuvadis.
So the fraud EVMs were tampered to defeat her.

http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903

BJP Spreading ‘Religious Fundamentalism’, Says Mayawati.


BSP chief Mayawati said the BJP has spoilt the hopes of ushering in ‘hey days’ for farmers, poor and small traders .


Bahujan Samaj Party (BSP) chief Mayawati accused the Bharatiya Janata Party (BJP) of spreading “religious fundamentalism” and hatred in its bid to convert the country into a ‘Hindutva rashtra’.


 BJP has spoilt the hopes of ushering in ‘hey days’ for farmers, poor and small TRADERS and only a “handful” of capitalists and industrialists have benefited.


“In a bid to divert people’s attention from issues like price rise, imposition of taxes which have led to large-scale public anger, BJP and its organisations are trying to provoke issues like religious fundamentalism, mutual hatred and pseudo nationalism,” she said.


She also said that the BJP  is following the “narrow and casteist philosophy” of its parent organisation RSS to convert this country into a “Hindutva rashtra”.


In the process, it has sacrificed national and public interest and has “fully ignored” matters like poverty, unemployment, peace and price rise, a statement quoting her said.


Referring to the issue of corruption, she said the BJP and Congress are two sides of the same coin.


“The way BJP government is trying to protect the corrupt, it is possible that it will beat the corruption of Congress in the coming years,” she said.


She alleged the BJP and Congress governments in states are indulging in atrocities against SC/STs and those belonging to the weaker sections of the society.


“Though they opposed the SC/ST icons throughout their lives, they use their names now to further their political interests,” the former Uttar Pradesh Chief Minister said


2.

Now the CEC says that all the EVMs will be replaced in the 2019 general elections.

http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms

2019 general elections to have paper-trail electronic voting machines: Nasim Zaidi, CEC


3. When the BJP was in Opposition RSS  favoured paper ballots as EVMs were subjected to public scrutiny

http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html

Joining the controversy regarding the reliablity of Electronic Voting
Machines (EVMs) which have been questioned by political parties, the
RSS t asked the Election Commission (EC) to revert back to tried
and tested paper ballots…



Yet
they are involved in all sorts of theatrics including digging the so
called disproportionate against he which proves that she is treading the
right path . Babasaheb Dr BR Ambedkar said that when a brahmin tries to
trouble SC/STs that means that they are on the right path. The RSS and
all its avathars including BJP are cowherds and scare crows since they
are affraid of all their evil activities which are violent, militant
full of intolerance and hatred by nature. They have become mentally
retarded psychopaths lunatics and mad with these evil practices that
need mental treatment in mental asylums.

http://swarajyamag.com/politics/how-can-dalits-come-out-of-the-elite-controlled-victimhood-narrative




Communists are another side of the same 1% chitpawan brahmin caste pyramid other two sides being the Bahuth Jiyadha Psychopaths and the Congress


  • They can no longer appropriate the parts of Ambedkar they liked while
    conveniently ignoring the their real plight.




  • Away from the politics of permanent victim-hood, Murderer of democratic insitutions(
    Modi)’s mantra of aspiration and economic liberalisation has not struck any
    chord among the common SC/STs which Left-Congress eco-system is too finding
    hard to swallow.


Why
is Ambedkarism selling like hot cakes
in the country? Everyone wants to have a slice of Ambedkar cake. It all
because of the fear that they could not cheat the SC/STs for ever
because their dominating attitude got exposed.

The Congress, the left parties  made a hue and cry over the attempts of BJP to
impose its cultural agenda on the country, tamper with the constitutional
provisions and curb the freedom of dissent.SC/ST
elites/activists never believed these parties because they sprung up on their feet to showcase their love for Ambedkar
and in a matter of no time, the social sites were flooded with acrimonious
remarks against Manuwad, Hindu gods & goddesses and Hindu religious scriptures.

This is the standard modus operandi
employed by the left leaning subaltern groups since long to secure their
political designs. Until and unless they play the victim card and shed
crocodile tears, no one is going to take them seriously. They are also incensed
over the fact that of late, some voices have been raised calling for review of
reservation and quite rightly so.

They were fooling the lower layers of the SC/ST population by misleading them that the educated middle class SC/STs as having
cornered all the reservation benefits. As far as untouchability is concerned there is nothing like middle class or lower caste or landless untouchables. All are ill-treated alike by these dominating chitpawan brahmin parties, always greedy of power. They always keep trying to set one caste against another for their divide and rule policies. The BJP was always trying to say that the chithpawan brahmins
were the most intelligent people in the world and all others are ragi
balls.The communists never wanted the workers belonging to SC/STs to
become officers. Once when an SC/ST worker became the fifth grade as
worker he was eligible to become an officer. But the communist trade unions created 10 grades so that no SC/ST worker can ever become an officer. They wanted a worker to be always a worker. Later they never opposed privatisation 
because
it encouraged daily wagers even though they were involved in work that
of permanent nature. Though the Communists like the BJP and Congress
ruled some states and part of Central government they never bothered to
uplift the downtrodden and they are adamant not to let the
benefits trickle down to the  most of whom
are  languishing in the rural hinterlands of the country. By resorting
to shrill rhetoric, they are sowing seeds of discord in the society and
compelling the majority SC/ST masses to lead a ghettoised life.
Obviously, they
will resort to Ambedkarism because this is the tool that they have been
using shamelessly
to further their nefarious designs.

The SC/ST intellectuals want to be on prime
time TV shows and other media including Internet; Ambedkar is bread and butter issue for them. They think that
only they have the right to decipher Ambedkar as Ambedkar is their property. Till
long, they have used Ambedkar to the hilt. Ambedkar’s contribution to the
passing of progressive labour legislations, his vision for gender empowerment
and his pioneering efforts in drafting the constitution hardly get a nod from
the SC/ST activists who think as if Ambedkar was all about SC/STs, reservation
and acrimony with upper castes.

Now they are with Ms mayawati’s Techno-Politico-Socio Transformation and Economic Emancipation Movement which is for Sarvajan Hithaye Sarvajan Sukhaye i.e., for the peace, welafre and happiness of all societies including SC/STRs/OBCs/Minorities and the poor brahmins and baniyas which worked well in Uttar Pradesh. All societies were happy under Mayawati’s best governance. Hence the chitpawan brahmin parties are scared
that she will become the Prime Minister to save democracy, liberty,
equality and fraternity as enshrined in our Constitution and prevent manusmriti being implemented by the 1% chitpawan brahmins.



5)    Classical Bengali


5) ক্লাসিক্যাল বাংলা




1842 বৃহঃ এপ্রিল 21 2016


পাঠ




থেকে




অন্তর্দৃষ্টি-নেট-অনলাইন ক 1 (এক জাগরিত) ত্রিপিটক রিসার্চ অ্যান্ড প্র্যাকটিস বিশ্ববিদ্যালয়


ভিসুয়াল বিন্যাস (FOA1TRPUVF)


http://sarvajan.ambedkar.org মাধ্যমে


aonesolarpower@gmail.com




ক্লাসিক্যাল বৌদ্ধধর্ম (সচেতনতা সঙ্গে জাগরিত এক আইন-কানুন) দুনিয়ার আর সবাই একচেটিয়া অধিকার আছে: জে.সি.




এই গুগল অনুবাদ এবং প্রসারণ করতে এক এর মাতৃভাষায় এই বিশ্ববিদ্যালয়ের
একটি পাঠ হিসাবে সঠিক অনুবাদ রেন্ডারিং একটি স্ট্রিম প্রবেশক (Sottapanna)
পরিণত এবং একটি চূড়ান্ত লক্ষ্য হিসেবে শাশ্বত সুখ অর্জন করা অপেক্ষা.




সচেতনতা সঙ্গে জাগরিত এক শিক্ষাগুলো প্রচারের ওয়েবসাইটের তালিকা অর্থাত, বুদ্ধ ত্রিপিটক মধ্যে ভিসুয়াল বিন্যাস




http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907


http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1.


HTTP: // সংবাদ. xinhuanet. com যুক্ত করুন / ইংরেজি / 2009-07 / 27 / content_11780918 .htm


www.chinaview. সিএন


www.buddhismandbusi ness.webs. com যুক্ত করুন


http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/


www.grameenfoundation.org




http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/


http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf




http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/




http://scroll.in/article/806815/in-sounding-the-bugle-for-2017-polls-in-uttar-pradesh-mayawati-did-not-spare-anyone




উত্তরপ্রদেশের 2017 নির্বাচনের জন্য শিঙ্গা বাদন মধ্যে মায়াবতী কাউকে রেহাই দেন নি


তার অগ্রাধিকার স্পষ্ট: মুসলমানদের কাছে পৌঁছানোর আম্বেদকরের উত্তরাধিকার
দাবি ডিম্বপ্রসর কেউ তার এসসি / এসটি ভোট রক্ষা, কিছু পছন্দ শব্দের সাথে.




কিভাবে এসসি / এস টি এস এলিট নিয়ন্ত্রিত Victimhood আখ্যান বাইরে আসতে পারেন






মায়াবতী
এটা স্পষ্ট যে তিনি আগামী বছর বিধানসভা নির্বাচনে উত্তরপ্রদেশে ক্ষমতা
ফিরে পাওয়ার জন্য একটি একাকী রান তৈরি করা হবে করেছে.
তিনি তার বিরোধীদের তার কোর এসসি / এসটি ভোট ব্যাংক বন্ধ থাকার সময়
রাজ্যের সংখ্যালঘু মুসলমানদের মধ্যে একটি নতুন ক্রমবর্ধমান সমর্থন বেস
যুক্ত হচ্ছেন তার গুরুত্ব ইঙ্গিত সতর্ক করেনি.




বহুজন
সমাজ পার্টির প্রধান তার দল গত সপ্তাহে সংগঠিত সুবিশাল প্রকাশ্য সমাবেশে
এই এবং বিভিন্ন অন্যান্য গুরুত্বপূর্ণ রাজনৈতিক সংকেত পাঠানো আউট রাজ্যের
রাজধানী লক্ষ্ণৌতে Babasaheb ভীমরাও আম্বেদকর 125th জন্মবার্ষিকী উদযাপন
বিএসপির লোকসভা পোল থেকে সম্ভবত তার সবচেয়ে গুরুত্বপূর্ণ বক্তৃতায়
2014 সালে ছত্রভঙ্গ.




তার
সমর্থকদের দ্বারা আপ অনুষ্ঠিত একটি দৈত্য প্ল্যাকার্ড একটি ওভারকোট এবং
শাড়ি দুপাশে Babasaheb এবং Kanshi রাম দুপাশে মায়াবতীর দেখিয়েছেন.
তারা
তাঁর সরকার কর্তৃক নির্মিত দৈত্য স্মারক সামনে দাঁড়িয়ে ছিল যখন ক্ষমতায়
এক দশক আগে এসসি আইকন প্রতি সম্মান প্রদর্শনের জন্য / এসটি / OBCs আন্দোলন
হিসেবে হাতির নিচে যখন উপরে আকাশ থেকে benignly smiled বুদ্ধের ছোট
প্রতিরূপ ঘাসের উপর কৌতুক.
প্ল্যাকার্ড জুড়ে অক্ষরে “পরবর্তী মুখ্যমন্ত্রী” মধ্যে scrawled হয়.




ক্যাম্পেইন 2017




সমাবেশে
প্রতীকীবাদ এবং মায়াবতীর বাক আমদানি আন্ডারলাইন যে এই প্রকৃতপক্ষে
রাষ্ট্র বিধানসভা নির্বাচনের জন্য তার প্রচারাভিযানের আরম্ভ এখনও এক বছর
দূরে ছিল.
মজার
ব্যাপার হলো বাক অনেক Babasaheb আম্বেদকর এবং তাদের প্রতারণাপূর্ণ এসসি /
এসটি ভোট চুরি করার প্রচেষ্টা উত্তরদানে মিথ্যা দাবী পাড়ার অন্যান্য
রাজনৈতিক দলগুলোর বিশ্বাসভঙ্গ অনুগত ছিল.
তিনি কেউ আঁচ.




গণতান্ত্রিক
প্রতিষ্ঠানগুলোর খুনী (মোদি) এবং সঙ্ঘ উপর কঠোর আক্রমণ Unleashing,
মায়াবতী স্পষ্টতই তাকে এবং সেই ভারতীয় জনতা পার্টির নেতা যারা অনগ্রসর
জাতি বা রাষ্ট্রীয় স্বয়ংসেবক সংঘের এর “শুল্কাধীন শ্রমিক” এবং তার
উচ্চবর্ণের এসসি / এসটিএস হয় বর্ণনা
এজেন্ডা. তিনি
কেশব প্রসাদ মৌর্য, নবনিযুক্ত উত্তরপ্রদেশ অনগ্রসর বর্ণ বিজেপি নেতারা
তাঁকে একটি “অপরাধী এবং সাম্প্রদায়িক” রেকর্ড থাকার অভিযোগে বিশেষ করে
কঠোর ছিলেন.
তিনি রাম মন্দির বিষয়টি পুনরুজ্জীবিত করার বিজেপির প্রচেষ্টা debunked, এসসি মূর্খ একটি ফাঁদ / এসটিএস যেমন বর্ণনা.




“আমাদের যীশুখ্রীষ্ট Babasaheb আম্বেদকর না ভগবান রাম হয়,” মায়াবতী জাহির




তবুও
যদি বিএসপি নেতা গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠান (মোদি) এবং তাঁর দলের খুনির
ব্যঙ্গাত্মক সমালোচনা করার আগে বা রাষ্ট্র নির্বাচনের পর তার ও বিজেপির
মধ্যে একটি গোপন চুক্তি সম্পর্কে ফটকা scotched, সে জন্য কংগ্রেসের সঙ্গে
কোনো সম্ভাব্য সহযোগিতা একই করেনি
আসছে নির্বাচনে. প্রকৃতপক্ষে,
মায়াবতী কংগ্রেস তার অতীত নেতারা আম্বেদকরের নাকাল recalling lambasting
সেইসাথে এসসি / এসটি ক্ষোভ ত্রুটি বিচ্যুতি দূর ধারাবাহিক কংগ্রেস সরকারের
সর্বনাশা রেকর্ড তালিকা এবং তাদের দাবি অ্যাড্রেসিং মধ্যে আরও বেশি সময়
অতিবাহিত.
তিনি প্রকাশ্যে Rohith Vemula, হায়দারাবাদ বিশ্ববিদ্যালয়ের এসসি গবেষক
সম্প্রতি আত্মহত্যা Babasaheb সঙ্গে তুলনা তার “অপরিপক্কতা” জন্য কংগ্রেসের
সহ-সভাপতি রাহুল গান্ধি উপহাস করেছিল.




তাছাড়াও বিএসপি নেতা আম্বেদকর এবং এসসি / এসটি রাজনীতির প্রতি বাম নতুন বাঁক সঙ্গে অঙ্কিত প্রদর্শিত হয়নি. জওয়াহারলাল
নেহেরু বিশ্ববিদ্যালয়ের স্টুডেন্টস ইউনিয়নের সভাপতি Kanhaiya কুমার,
যারা বাম গরূৎ এবং Ambedkarite রাজনীতির মধ্যে একটি জোট সমর্থনে হয়েছে,
মায়াবতী যারা যে, তিনি একজন উচ্চবর্ণের থেকে belonged উল্লেখ এবং
কমিউনিস্ট মতাদর্শ যে আমূল যে দ্বারা espoused একেকরকম সাবস্ক্রাইব করা
থেকে সংক্ষিপ্ত পাপমোচন পেয়েছিলাম
আম্বেদকর.




এমনকি Rohith Vemula আঁচ করা হয়নি. মায়াবতী, যখন Ambedkarite রাজনীতি তার প্রতিশ্রুতি জন্য তার সম্মান
প্রকাশ, রক্ষণাবেক্ষণ যে তিনি তার জীবন নিয়ে যাওয়া উচিত নয় এবং পরিবর্তে
আম্বেদকর যারা খুব অপমানিত হয় এবং কর্মীদের জ্বালাতনের শিকার কিন্তু এসসি
/ এসটিএস জন্য ন্যায়বিচার পেতে সংগ্রাম অব্যাহত উদাহরণ অনুসরণ.




বাম থেকে তিরস্কার




Kanhaiya
কুমার মত বামপন্থী যারা Ambedkarite রাজনীতির সঙ্গে নিয়োজিত করতে খুঁজছি
হয় সমালোচনা করে মায়াবতী এটা স্পষ্ট তিনি এসসি / এসটি রাজনীতি তার নিজস্ব
ছুড়িয়া কী বিবেচনা মধ্যে চোরাশিকার অন্যদের কল্যাণকামী নিতে যাচ্ছে না
যে করেছে.
একইভাবে
একটি নতুন এসসি / এসটি আইকন হিসেবে Vemula এর তোষণ সঙ্গে তার বিরক্তি,
এমনকি তার মর্মান্তিক মৃত্যুতে পরিস্থিতিতে প্রতি সহানুভূতিশীল হলে,
ইতিমধ্যে প্রতিষ্ঠিত এসসি / এসটি প্যান্থিয়ন একটি নতুন সংযোজন গ্রহণ করতে
তার অনিচ্ছা প্রকাশ করে.
তিনি
সম্ভবত কিছু যুক্তি দিয়ে রক্ষণাবেক্ষণ, যারা বিরোধিতা করছে এবং নৃশংসতার
বিরুদ্ধে লড়েছি এসসি নিতে / এসটি এগিয়ে কারণ এবং Vemula যিনি তার জীবনের
যে এসসি implying শেষ করতে আম্বেদকর, Kanshi রাম এবং নিজেকে মধ্যে একটি বড়
পার্থক্য ছিল না যে / এসটি রাজনীতি ছিল না
victimhood কিন্তু ক্ষমতায়ন সম্পর্কে.




মায়াবতী
ভাষণ আরেকটি গুরুত্বপূর্ণ দিক গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠানগুলোর খুনীর হিংস্র
সমালোচনা সহ মুসলিম সংখ্যালঘু বিষয় তার বাগ্দান ছিল (মোদি) ‘র আলীগড়
মুসলিম বিশ্ববিদ্যালয় ও জামিয়া মিলিয়া ইসলামিয়া সংখ্যালঘু অবস্থা
পরিবর্তন করার প্রচেষ্টা.
মুসলিম সংখ্যালঘু তার ক্রমবর্ধমান প্রসার, তার ঘনিষ্ঠ মুসলিম সহায়তাকারী
Naseemuddin সিদ্দিকীর প্রতি জনসভায় সাংগঠনিক য়েমন তিনি দীর্ঘ তার
মিডিয়া ম্যানেজমেন্ট জন্য ব্রাহ্মণ লেফটেন্যান্ট সতীশ মিশ্র বিশ্বস্ত
প্রশংসা তার বিশেষ ধন্যবাদ ওপর জোর ছিল.




মুসলমানরাও
প্রেম জিহাদ এবং গরুর মাংস নিষিদ্ধ মত সাম্প্রদায়িক প্রচারণা মায়াবতীর
দ্ব্যর্থহীন অস্বীকৃতি, যা তিনি বলেন, গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠানগুলোকে (মোদি)
‘র ব্যর্থতা খুনী থেকে জনগণের মনোযোগ সরিয়ে একটি উপায় ছিল খুশি হবে.
“ভারতমাতা কি জয়” বিতর্কের জন্য যেমন, মায়াবতী আরও খুলাখুলি ছিল. “আমার দলের লোকেরা বলে জয় ভীম এবং Jai থেকে ভারত. অন্যরা বলে জয় হিন্দ, “এটা পরিষ্কার তিনি জাতীয়তাবাদ দ্বারা মিশিয়ে করা যাচ্ছে না যে উপার্জন.




অন্যান্য
বড় জনসভায় মায়াবতী দ্বারা বিতরিত বার্তা যে যখন তিনি মুসলিম সংখ্যালঘু
অভিযোগের থেকে এসসি / এসটি কারণ প্রতিশ্রুতিবদ্ধ এবং সহানুভূতিশীল হয়েছিল
সে এখন পরিচয়ের রাজনীতি পরলোক খুঁজছেন ছিল.
“আমি কি তোমাদেরকে এই ওয়াদা করতে পারে ক্ষমতায় ফিরে আসার পর আমি কাজ নিয়ে আলোচনা করা যাক”.


গণতান্ত্রিক
প্রতিষ্ঠান (মোদি) এবং 1% অসহ, জঙ্গি, হিংস্র, উন্মাদ, মানসিক প্রতিবন্ধী,
শুটিং মহাযাজক মানুষখেকো গোপ ভীতি কাক মানসিক chitpawan ব্রাহ্মণ আরএসএস
(রাক্ষস Swayam Sevaks) এবং তার সব avathars বিজেপি (Bahuth Jiyadha
lynching এর খুনী
সাইকোপ্যাথ)
ভিএইচপি (বিষধর Hintutva সাইকোপ্যাথ), ABVP (সকল ব্রাহ্মণ বিষধর
সাইকোপ্যাথ) ভজন ডাল, এবং গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠানগুলোকে (মোদি) যারা
জালিয়াতি ইভিএম গরমিল দ্বারা নির্বাচিত করা হয় এর খুনী, এবং তাই তিনি এবং
সেই বিজেপি নেতাদের যারা অনগ্রসর জাতি বা এসসি হয় / এসটিএস
যেমন আরএসএস “শুল্কাধীন শ্রমিক” এবং তার 1% chitpawan ব্রাহ্মণ বর্ণ
বিষয়সূচি যারা শুধু স্কেপ ছাগল যারা বালি ধান এবং তরকারি জন্য হয় যে
ব্যবহার ছেড়ে পাতা এবং আরো উপযুক্তভাবে তাদের নিজের মায়ের মাংস ইটার
নিক্ষেপ.




কেশব প্রসাদ মৌর্য, নবনিযুক্ত উত্তরপ্রদেশ অনগ্রসর বর্ণ বিজেপি প্রধান একটি “অপরাধী এবং সাম্প্রদায়িক” রেকর্ড হচ্ছে.




রাম
মন্দির বিষয়টি পুনরুজ্জীবিত করার বিজেপির প্রচেষ্টা একটি ব্যাল যাদুকর
ঘোষণা যে তিনি সাপ এবং নকুল যুদ্ধ পর্যন্ত তিনি টাকা জমা করে এবং পরিশেষে
তাদের সাথে যুদ্ধ করা ছাড়া বন্ধ প্যাকগুলি দেবেন মত ​​হল.
একবার নির্বাচনে রাম মন্দির এই এজেন্ডা বেশি হয় বন্ধ বস্তাবন্দী করা হবে.






“আমাদের যীশুখ্রীষ্ট Babasaheb আম্বেদকর যারা আমাদের দেশ না ভগবান রাম কে
বাল্মীকি দ্বারা তৈরি করা হয়েছে একটি, অ chitpawan ব্রাহ্মণ ক্ষমতার লোভে
হিন্দুত্ব ভোট ব্যাংক রাজনীতির জন্য ব্যবহার করা হচ্ছে সংবিধান পিতা হয়,”




আমাদের যীশুখ্রীষ্ট উপযোজন কংগ্রেস, বিজেপি এবং কমিউনিস্টরা যা
ব্রাহ্মণ্যবাদী দল মায়াবতীর নেতৃস্থানীয় টেকনো-রাজনৈতিক-সামাজিক
ট্রান্সফরমেসন এবং অর্থনৈতিক মুক্তি আন্দোলনের ভয় যা মাস্টার কী অর্জন
করতে নির্দিষ্ট হয় আউট, হয় Babasaheb আম্বেদকর.






প্রাক্তন CJI ইভিএম SADHASIVAM, তার দায়িত্ব shirked & তাদের
প্রতিস্থাপন 1600 কোটি ব্যয়ের কারণ সিইসি ইভিএম SAMPATH অনুরোধে বিকাশ
পদ্ধতিতে প্রতারণা Tamperable ইভিএম এ অনুমতি দিয়ে রায় একটি বড় ভুল
করেছে এবং দেশের গণতন্ত্র একটি মারাত্মক ঘা মোকাবিলা.




প্রাক্তন
CJI অর্ডার নি ব্যালট পেপারের সিস্টেমের মধ্যে আনা হবে. এই ধরনের কোন
সতর্কতামূলক ব্যবস্থা সর্বোচ্চ আদালতের দ্বারা নির্ধারণ করা হয়েছিল.
প্রাক্তন
CJI অর্ডার না যে সময় পর্যন্ত 1300000 সম্পর্কে ভোটিং মেশিন এই
অপেক্ষাকৃত নতুন সেট & সম্পূর্ণভাবে মোতায়েন পূর্ণ উত্পাদন করা হয়.
বিশ্বের 80 গণতন্ত্রে সকল মানুষ যারা কেবল fradulent ইভিএম লোপ. তাই সব মানুষ যারা গণতন্ত্রে বিশ্বাস করে, লিবার্টি, সাম্য ও ভ্রাতৃত্বের
গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠান (মোদি) এবং একটি বিস্ময়কর সংবিধানের সঙ্গে এই
দেশের এবং তাদের শাসন হত্যাকারীদের চিনতে করা উচিত নয়.




একটি স্পষ্ট প্রমাণ হিসাবে:


মায়াবতীর
প্রাক্তন প্রধান উত্তরপ্রদেশ ও বহুজন সমাজ পার্টির প্রধান মন্ত্রী
(বিএসপি), কাগজ ব্যালটের মাধ্যমে পরিচালিত পঞ্চায়েত নির্বাচনে জিতেছেন এটা
জালিয়াতি প্রবন ইভিএম মাধ্যমে পরিচালিত লোকসভা নির্বাচনে একটি একক আসন না
জিততে পারে.
ইউপি
মুখ্যমন্ত্রী হিসাবে, তার শাসন সমাজের সব স্তরের মধ্যে আনুপাতিক হারে
সম্পদ বিতরণের মাধ্যমে শ্রেষ্ঠ ছিল এবং এই দেশের প্রধানমন্ত্রী হওয়ার
যোগ্য হয়ে ওঠে.
এই ঐতিহ্যবাহী manuvadis দ্বারা সহ্য হয় নি. তাই জালিয়াতি ইভিএম তার সর্বনাশ করতে বিকৃত করা হয়েছে.




http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903




বিজেপি ছড়ানো ‘ধর্মীয় মৌলবাদ’ মায়াবতী বলেছেন.




বিএসপি প্রধান মায়াবতী বিজেপি ‘হেই দিন’ কৃষকদের জন্য, দরিদ্র ও ক্ষুদ্র ব্যবসায়ীদের সূচনা আশা পণ্ড হয়েছে.




বহুজন সমাজ পার্টির (বিএসপি) প্রধান মায়াবতী একটি ‘হিন্দুত্ববাদী
রাষ্ট্র’ বা “ধর্মীয় মৌলবাদ” ও বিদ্বেষ দেশ রূপান্তর তার বিড ছড়িয়ে
ভারতীয় জনতা পার্টির (বিজেপি) অভিযুক্ত.




 বিজেপির ‘হেই দিন’ কৃষক, দরিদ্র ও ক্ষুদ্র ব্যবসায়ীরা এবং শুধুমাত্র
একটি পুঁজিপতি ও শিল্পপতির “থাবা” জন্য উপকৃত হয়েছে উপস্থাপক আশা পণ্ড
হয়েছে.




“একটি বিড মূল্য বৃদ্ধি, কর যা বড় মাপের পাবলিক রাগ, বিজেপি ও তার সংগঠন
ধর্মীয় মৌলবাদ, পারস্পরিক বিদ্বেষ এবং ছদ্ম জাতীয়তাবাদ মত বিষয় ঘটান
করার চেষ্টা করছেন নেতৃত্বে আরোপের মত বিষয় থেকে জনগণের দৃষ্টি অন্যদিকে
সরিয়ে দিতে,” তিনি বলেন.




তিনি আরো বলেন, বিজেপি একটি “হিন্দুত্ব রাষ্ট্র” তার পিতা বা মাতা সংগঠন
আরএসএস এই দেশে রূপান্তর করা “সংকীর্ণ এবং জাতপাতবাদী দর্শন” অনুসরণ করা
হয়.




প্রক্রিয়া, এটা জাতীয় ও জনস্বার্থ বিসর্জন করেছে এবং “সম্পূর্ণরূপে
উপেক্ষিত” হয়েছে দারিদ্র্য, বেকারত্ব, শান্তি ও মূল্যবৃদ্ধি মত বিষয়ে এক
বিবৃতিতে তার বরাত দিয়ে বলেন.




দুর্নীতির বিষয় উল্লেখ করে তিনি বলেন, কংগ্রেস ও বিজেপির একই মুদ্রার এপিঠ-ওপিঠ হয়.




“পথ বিজেপি সরকার দুর্নীতিগ্রস্ত রক্ষার চেষ্টা করছেন, এটা সম্ভব যে এটা আগামী বছর কংগ্রেসের দুর্নীতি বীট হবে,” তিনি বলেন.




তিনি অভিযোগ করেন, রাজ্যে কংগ্রেস ও বিজেপির সরকার এসসি / এস টি এস বিরুদ্ধে নৃশংসতা ও সমাজের দুর্বল একাত্মতার যাদের ক্ষমশীল হয়.




“যদিও তারা এসসি / এসটি আইকন তাদের সারা জীবন বিরোধিতা, তারা তাদের
রাজনৈতিক লাভের জন্য এখন তাদের নাম ব্যবহার করে,” সাবেক উত্তর প্রদেশের
মুখ্যমন্ত্রী বলেন




2.


এখন সিইসি বলেন যে সব ইভিএম 2019 সাধারণ নির্বাচনে প্রতিস্থাপন করা হবে.




http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms




কাগজ-লেজ ইলেকট্রনিক ভোটিং মেশিন আছে 2019 সাধারণ নির্বাচনে: নাসিম Zaidi, সিইসি






3. যখন বিজেপি বিরোধী আরএসএস আনুকূল্যপ্রাপ্ত কাগজ ব্যালট ছিল যেমন ইভিএম পাবলিক সুবিবেচনা হয়েছেন




http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html




ইলেক্ট্রনিক ভোটিং মেশিন (ইভিএম) যা রাজনৈতিক দলগুলোর দ্বারা প্রশ্নবিদ্ধ
হয়েছে reliablity সংক্রান্ত বিতর্ক যোগদান, আরএসএস টন ফিরে চেষ্টা
প্রত্যাবর্তন করতে নির্বাচন কমিশনের (ইসি) জিজ্ঞাসা এবং কাগজ ব্যালট
পরীক্ষিত …




অথচ তারা সে বিরুদ্ধে অনুপাতহীন তথাকথিত খনক যা প্রমাণ করে যে সে সঠিক পথ মাড়াই সহ নাটুকে সব বিশৃঙ্খলভাবে জড়িত হয়. Babasaheb ড ভীমরাও বলেন যখন একটি ব্রাহ্মণ কষ্ট এসসি / এস টি এস করার চেষ্টা মানে হল যে তারা সঠিক পথে আছে. আরএসএস
এবং বিজেপি সহ তার সব avathars cowherds এবং ডাকার ভীতি থেকে তারা তাদের
সমস্ত মন্দ কার্যক্রম যা হিংসাত্মক, প্রকৃতি দ্বারা অসহিষ্ণুতা ও ঘৃণার
জঙ্গি পূর্ণ হয় ভীতু হয়.
তারা মানসিক প্রতিবন্ধী সাইকোপ্যাথ পাগলদের এবং এই মন্দ চর্চা মানসিক
আশ্রয় প্রদান মানসিক চিকিৎসার প্রয়োজন সঙ্গে ক্ষিপ্ত হয়ে আছে.






http://swarajyamag.com/politics/how-can-dalits-come-out-of-the-elite-controlled-victimhood-narrative




কমিউনিস্টরা একই 1% chitpawan ব্রাহ্মণ বর্ণ পিরামিডের অন্য পাশ Bahuth Jiyadha সাইকোপ্যাথ এবং কংগ্রেস হচ্ছে অন্য দুই পক্ষই




    তারা এখন আর আম্বেদকর অংশ তারা পছন্দ যখন সুবিধামত তাদের বাস্তব দুর্দশার উপেক্ষা যথোচিত পারেন.




    দূরে স্থায়ী শিকার-ফণা, গণতান্ত্রিক insitutions খুনি (মোদি) এর
শ্বাসাঘাত এবং অর্থনৈতিক উদারীকরণের মন্ত্রোচ্চারণের মাধ্যমে রাজনীতি থেকে
সাধারণ এসসি / এস টি এস বাম-কংগ্রেস ইকো সিস্টেম খুব কঠিন খুঁজে বের করা
হয় গেলা মধ্যে কোনো জ্যা তাড়িত করেননি.




কেন Ambedkarism দেশে গরম কেক মত বিক্রি হয়? সবাই আম্বেদকর পিষ্টক একটি ফালি আছে চায়. ভয় করে যে, তারা কারণ তাদের জাহাঁবাজ মনোভাব প্রকাশ হয়ে পড়ে চিরকাল এসসি / এস টি এস ঠকাই না পারে এর কারণ এটা সব.




/
কর্মীরা এই দলগুলোর বিশ্বাস কারণ তারা সঁজাত কখনও কংগ্রেস, বাম দলগুলোর
একটি রঙ তৈরি এবং দেশের উপর তার সাংস্কৃতিক এজেন্ডা আরোপ সাংবিধানিক বিধান
অবৈধ প্রভাব বিস্তার এবং dissent.SC/ST অভিজাত স্বাধীনতা প্রতিবন্ধক
বিজেপির প্রচেষ্টা উপর কান্নাকাটি
আম্বেদকরের জন্য এবং কোন সময় একটি ব্যাপার তাদের প্রেম শোকেস তাদের
পায়ের উপর উঠে, সামাজিক সাইট Manuwad বিরুদ্ধে কটু মন্তব্য, হিন্দু দেবতা ও
দেবী ও হিন্দু ধর্মগ্রন্থসমূহ সঙ্গে প্লাবিত হয়.




এই প্রমিত মোড বাম দীর্ঘ তাদের রাজনৈতিক ডিজাইন অভেদ্য যেহেতু সমাজের নিু গ্রুপ পক্ষপাতী দ্বারা নিযুক্ত অপারেটিং হয়. যতক্ষণ না তারা শিকার কার্ড খেলা এবং কুমির কান্দা, কেউ তাঁদের গুরুত্ব নিতে যাচ্ছে. তারা আসলে যে ইদানীং, কিছু কণ্ঠ রিজার্ভেশন পর্যালোচনার জন্য কলিং উত্থাপিত হয়েছে এবং সেটাই স্বাভাবিক উপর রেগে যাই.




তারা
তাদের বিভ্রান্তিকর দ্বারা এসসি / এসটি জনসংখ্যার কম স্তর বোকা বানাচ্ছে
যে শিক্ষিত মধ্যবিত্ত এসসি / সব সংরক্ষণ সুবিধা কোণঠাসা থাকার হিসাবে
এসটিএস.
যতদুর অস্পৃশ্যতা উদ্বিগ্ন হয় সেখানে মধ্যবিত্ত বা নিম্নবর্ণের বা ভূমিহীন অস্পৃশ্যদের মত কিছুই নেই. এই সমস্ত উপর প্রভুত্ব বিস্তার chitpawan ব্রাহ্মণ দলগুলোর দ্বারা সমভাবে দুর্ব্যবহার করা হয়, সবসময় ক্ষমতার লোভী. তারা সবসময় তাদের ডিভাইড অ্যান্ড রুল নীতি জন্য আরেকটি বিরুদ্ধে এক বর্ণ নির্ধারণ করার চেষ্টা চালিয়ে. বিজেপি
সবসময় বলে যে chithpawan ব্রাহ্মণ বিশ্বের সবচেয়ে বুদ্ধিমান লোক ছিল
চেষ্টা করা হয় এবং সকল অন্যদের রাগি balls.The কমিউনিস্টরা কখনোই চাননি
শ্রমিকদের এসসি / এস টি এস একাত্মতার কর্মকর্তা পরিণত হয়.
একবার যখন একটি এসসি / এসটি কর্মী কর্মী হিসেবে পঞ্চম গ্রেড ওঠে তিনি একজন কর্মকর্তা হয়ে যোগ্য ছিল. যাতে কোন এসসি / এসটি কর্মী কি একজন অফিসার হতে পারে কিন্তু কমিউনিস্ট ট্রেড ইউনিয়ন 10 বাংলাদেশের সৃষ্টি. তারা একটি কর্মী সবসময় একটি কর্মী হতে চেয়েছিলেন. পরবর্তীতে তারা কখনোই বেসরকারিকরণ বিরোধিতা কারণ এটা যদিও তারা কাজে জড়িত ছিল স্থায়ী প্রকৃতির যে দৈনন্দিন ওয়েজারগুলির উৎসাহিত. যদিও
কংগ্রেস ও বিজেপির মত কমিউনিস্টরা কয়েকটি রাজ্যে এবং কেন্দ্রীয় সরকারের
অংশ শাসিত তারা নিপীড়িত উত্তোলন বিরক্ত না এবং তারা সুবিধা যাদের অধিকাংশই
দেশের গ্রামীণ পশ্চাৎভূমির মধ্যে languishing হয় নিচে চুয়ানো যাক না
হীরক হয়.
উগ্র
অলঙ্কারশাস্ত্র অবলম্বী কসম, তারা সমাজ এবং আকর্ষক সংখ্যাগরিষ্ঠ এসসি /
এসটি জনসাধারণ মধ্যে অনৈক্য বীজ বপন করা হয় একটি ghettoised জীবনযাপনে.
একথাও ঠিক যে, তারা Ambedkarism অবলম্বন করবে না কেননা এই টুলটি যে তারা নির্লজ্জভাবে তাদের বদমাইশ ডিজাইন আরও ব্যবহার করা হয়েছে.




এসসি / এসটি বুদ্ধিজীবী প্রাইমটাইম টিভি শো এবং ইন্টারনেট সহ অন্যান্য মিডিয়াতে হতে চাই; আম্বেদকর তাদের জন্য রুটি এবং মাখন ইস্যু. তারা মনে করে যে তারা শুধু আমার আম্বেদকর পাঠোদ্ধার হিসাবে আম্বেদকর তাদের সম্পত্তি অধিকার আছে. দীর্ঘ গোড়া পর্যন্ত তারা সম্পূর্ণভাবে আম্বেদকর ব্যবহার করেছেন. খসড়া
সংবিধান কমই এসসি থেকে একটি নড়া পেতে প্রগতিশীল শ্রম আইন, লিঙ্গ
ক্ষমতায়নের জন্য তার দৃষ্টি এবং তাঁর অগ্রণী প্রচেষ্টা পাশ থেকে
আম্বেদকরের অবদান / এসটি কর্মী যারা মনে করে আম্বেদকর সব সম্পর্কে এসসি /
এস টি এস, রিজার্ভেশন এবং উপরের সঙ্গে মেজাজের রুক্ষতা ছিল
জাতি.




এখন
তারা মায়াবতীর এর টেকনো-রাজনৈতিক-সামাজিক ট্রান্সফরমেসন এবং অর্থনৈতিক
মুক্তির আন্দোলন যা, Sarvajan Hithaye Sarvajan Sukhaye অর্থাত্ জন্য এসসি /
STRs / OBCs / সংখ্যালঘু ও দরিদ্র ব্রাহ্মণ এবং Baniyas যা সহ শান্তি,
welafre এবং সব সমাজে সুখের জন্য সঙ্গে আছে
উত্তরপ্রদেশে ভাল কাজ. সকল সমাজে মায়াবতীর সেরা গভর্নেন্সের আওতায় খুশি ছিল. অত:
পর chitpawan ব্রাহ্মণ দলগুলোর ভয় হচ্ছিল যে সে হিসাবে আমাদের সংবিধানে
সন্নিবেশিত গণতন্ত্র, স্বাধীনতা, সাম্য ও ভ্রাতৃত্বের সংরক্ষণ এবং
মনুস্মৃতি হচ্ছে 1% chitpawan ব্রাহ্মণ দ্বারা বাস্তবায়িত প্রতিরোধ
প্রধানমন্ত্রী হতে হবে.

17) Classical Malayalam


17) ക്ലാസ്സിക്കൽ മലയാളം

1842 വ്യാ ഏപ്രി 21 2016
പാഠങ്ങൾ

നിന്ന്

ഇൻസൈറ്റ്-net-ഓൺലൈൻ 1 (ഉണർന്നവൻ) തിപിതിക റിസർച്ച് & അഭ്യാസം യൂണിവേഴ്സിറ്റി
വിഷ്വൽ ഫോർമാറ്റ് (FOA1TRPUVF) ൽ
http://sarvajan.ambedkar.org വഴി
aonesolarpower@gmail.com

ക്ലാസിക്കൽ ബുദ്ധമതം (അവബോധവും ഉണർന്നവൻ ടീച്ചിംഗ്) ലോകം വകയാണ്, എല്ലാവർക്കും എക്സ്ക്ലുസീവ് അവകാശമുണ്ടെന്ന്: ജെ.സി.

ഈ Google പരിഭാഷ ആൻഡ് ഗൈഡൻസ് ലേക്ക് ഒരുവൻറെ മാതൃഭാഷയിൽ ഈ
സർവ്വകലാശാലയുടെ ഒരു സ്മരണയുമാണത് കൃത്യമായ പരിഭാഷയെ റെൻഡർ ഒരു സ്ട്രീം
Enterer (Sottapanna) ആകുവാൻ അന്തിമ ലക്ഷ്യം എറ്റേണൽ വിജയം പ്രാപിച്ചേക്കാം
ലേക്ക് ഉകെയ്.

അതായത്, വിഷ്വൽ ഫോർമാറ്റിൽ ബുദ്ധ Tripitaka വാരാചരണം ഉറക്കത്തിലായിരുന്ന
വൺ ഉപദേശങ്ങൾ ജനങ്ങളിലെത്തിക്കുന്നതിൽ വെബ്സൈറ്റുകളുടെ പട്ടിക

http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907
http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1.
http: // വാർത്ത. xinhuanet. കോം / ഇംഗ്ലീഷ് / 2009-07 / 27 / content_11780918 .htm
www.chinaview. CN
www.buddhismandbusi ness.webs. സഖാവ്
http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/
www.grameenfoundation.org

http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/
http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf

http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/

http://scroll.in/article/806815/in-sounding-the-bugle-for-2017-polls-in-uttar-pradesh-mayawati-did-not-spare-anyone

ഉത്തർപ്രദേശിൽ 2017 തിരഞ്ഞെടുപ്പിന് Bugle മുഴങ്ങുന്ന എന്നും മായാവതി ആരെയും ആദരിക്കാതെ ചെയ്തില്ല
അവളുടെ ക്രമങ്ങളുമായി വ്യക്തമാണ്: അംബേദ്കറുടെ ലെഗസി വാദങ്ങൾ
മുട്ടയിടുന്ന ആർക്കും ചില നിര വാക്കു കൂടെ അവളുടെ എസ്സി / എസ്ടി വോട്ട്
സംരക്ഷിക്കുന്നതിൽ മുസ്ലിംകൾ എത്തിച്ചേരുന്നതും.

എങ്ങനെ പട്ടികജാതി / എസ്ടി എലൈറ്റ് നിയന്ത്രിത ഇരകളുടെ ആഖ്യാനത്തിലെ പുറത്ത് കടക്കാനാകാത്ത വിധം

മായാവതി
വ്യക്തമാക്കുകയാണ് അവൾ അടുത്ത വർഷം നിയമസഭാ തിരഞ്ഞെടുപ്പിൽ ഉത്തർപ്രദേശിൽ
അധികാരം വീണ്ടെടുക്കാനും ഒരു ഏകാംഗ റൺ ചെയ്യും ചെയ്യുന്നത്.
അവൾ സംസ്ഥാനത്തെ മുസ്ലിം ന്യൂനപക്ഷ ഇടയിൽ ഒരു പുതിയ വളരുന്ന പിന്തുണ
wooing അവളുടെ പ്രാധാന്യം സൂചിപ്പിക്കുന്ന അവളുടെ കോർ എസ്സി / എസ്ടി
വോട്ട് ബാങ്ക് ഓഫ് താമസിക്കാൻ അവളുടെ എതിരാളികളെ മുന്നറിയിപ്പ് നൽകുന്നു.

ബഹുജൻ
സമാജ് പാർട്ടി നേതാവ് ബിഎസ്പിയുടെ ലോക്സഭാ സർവേയിലും ഒരുപക്ഷേ അവളുടെ
ഏറ്റവും പ്രധാനപ്പെട്ട പ്രസംഗത്തിൽ സംസ്ഥാന ലക്നൗവിൽ സാഹേബ് ഭീംറാവു
അംബേദ്കർ 125 ജന്മദിനം ആഘോഷിക്കാൻ ഈ അവളുടെ കക്ഷി കഴിഞ്ഞ ആഴ്ച
സംഘടിപ്പിച്ച വിശാലമായ പൊതു റാലിയിൽ നിരവധി കീ രാഷ്ട്രീയ സിഗ്നലുകൾ അയച്ചു
2014 തോൽവിക്ക്.

അവളുടെ
പിന്തുണച്ചവരും താങ്ങി ഒരു ഭീമൻ കപടനാടകം ഒരു പുറംകുപ്പായം ആൻഡ് സാരി
ദാദസാഹിബ്ബിനെ ആൻഡ് Kanshi റാം നഗരജീവിതത്തിന്റെ ഇരുവശത്തും മായാവതി
കാണിച്ചു.
അവർ
ആനകൾ ബുദ്ധന്റെ ഒരു ചെറിയ ശരിപ്പകർപ്പ് മുകളിൽ ആകാശത്ത് നിന്ന് benignly
പുഞ്ചിരിച്ചു സമയത്ത് താഴെ വേനൽച്ചൂടിൽ കളിച്ചുരസിക്കുന്ന പോലെ എസ്സി /
എസ്ടി / ഒബിസി പ്രസ്ഥാനത്തിന്റെ ഐക്കണുകൾ ബഹുമാനിപ്പാൻ അധികാരത്തിൽ ഒരു
ദശാബ്ദം വരുമ്പോൾ മുൻപ് സർക്കാർ പണികഴിപ്പിച്ച ഭീമൻ അനുസ്മരണ മുന്നിൽ
നിന്നിരുന്നു.
കപടനാടകം മൂലധനമോ അക്ഷരങ്ങൾ “അടുത്ത മുഖ്യമന്ത്രി” ൽ കടലാസു ചെയ്തു.

കാമ്പെയ്ൻ 2017

റാലിയിൽ
പ്രതീകാത്മകത മായാവതിയും പ്രസംഗം ഇറക്കുമതിക്ക് ഈ ഇപ്പോഴും ഒരു വർഷം അകലെ
തീർച്ചയായും നിയമസഭ തെരഞ്ഞെടുപ്പ് അവളുടെ പ്രചാരണം വിക്ഷേപണം എന്നു
അടിവരയിടുന്നു.
പ്രസംഗത്തെ
രസകരമായ വളരെ സാഹേബ് അംബേദ്കർ എസ്സി / എസ്ടി വോട്ട് മോഷ്ടിക്കാൻ അവരുടെ
വളഞ്ഞവഴിക്കു ശ്രമങ്ങളുടെ ചരിത്രനായകനുള്ള തെറ്റായ ക്ലെയിമുകൾ മുട്ടയിടുന്ന
മറ്റ് രാഷ്ട്രീയ പാർട്ടികളുടെ മഹാവഞ്ചകനും വിചിന്തനം നടന്നു.
അവൾ ആരും ഒഴിച്ചു.

ജനാധിപത്യ
സ്ഥാപനങ്ങൾ (മോഡി) എന്ന കൊലപാതകിയെ ഒരു ആക്രമണമായിരുന്നു ആൻഡ് സംഘപരിവാർ
അഴിച്ചുവിട്ടു മായാവതി നിശിതമായി രാഷ്ട്രീയ സ്വയംസേവക സംഘം അതിന്റെ സവർണ
എന്ന “അടിമജോലിക്കാര്” അവനെയും പിന്നോക്ക ജാതിക്കാർ അല്ലെങ്കിൽ
പട്ടികജാതി / എസ്ടി ചെയ്തവർക്ക് ഭാരതീയ ജനതാ പാർട്ടി നേതാക്കൾ വിവരിച്ച
അജണ്ട. അവൾ
കേശവ് പ്രസാദ് മൗര്യ, ഉത്തർപ്രദേശിലെ നിയമിതനായ പിന്നോക്ക ജാതി ബി.ജെ.പി
നേതാവ് ഒരു “ക്രിമിനൽ വർഗീയ” റെക്കോർഡ് അദ്ദേഹത്തെ കാണാന് ന്
പ്രത്യേകിച്ച് പരുഷമായ ആയിരുന്നു.
അവൾ പട്ടികജാതി / എസ്ടി കഷ്ടപ്പെടുന്ന ഒരു കെണിയിൽ എന്നാണ് അതിന്റെ രാം
മന്ദിർ പ്രശ്നം പുനരുജ്ജീവിപ്പിക്കാൻ ബിജെപി ശ്രമങ്ങളെ മിഥ്യയാണെന്ന്.

“ഞങ്ങളുടെ മിശിഹ സാഹേബ് അംബേദ്കർ കർത്താവിന്റെ രാമ,” എന്ന് മായാവതി തറപ്പിച്ചു

എന്നാൽ
ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനങ്ങൾ (മോഡി) എന്ന പ്രതിയുടെ ബിഎസ്പി നേതാവിന്റെ കഠിനമാണ്
വിമർശനവും പാർട്ടി മുമ്പും സംസ്ഥാന നിയമസഭാ അവളെ ബി.ജെ.പി തമ്മിലുള്ള ഒരു
രഹസ്യ കുറിച്ച് ഊഹാപോഹങ്ങൾ scotched എങ്കിൽ അവൾ കോൺഗ്രസ് സാധ്യമായ
ഏതെങ്കിലും സഹകരണം അതേ ചെയ്തു
വരുന്ന തിരഞ്ഞെടുപ്പിൽ. തീർച്ചയായും
മായാവതി അതിന്റെ കഴിഞ്ഞ നേതാക്കൾ അംബേദ്കർ നാണക്കേട് അനുസ്മരിച്ച്
അതുപോലെ എസ്സി / എസ്ടി അവശതകൾ പരിഹരിക്കണമെന്ന് അവരുടെ ആവശ്യങ്ങൾ
അഭിസംബോധന തുടർച്ചയായി കോൺഗ്രസ് സർക്കാരുകൾ വിനാശകരമായ റെക്കോർഡ്
ലിസ്റ്റിംഗ് കോൺഗ്രസ് lambasting കൂടുതൽ സമയം ചെലവഴിച്ചത്.
അവൾ പരസ്യമായി ബാബാസാഹേബ് കൂടെ രോഹിത് Vemula, അടുത്തിടെ ആത്മഹത്യ ചെയ്ത
ഹൈദരാബാദ് യൂണിവേഴ്സിറ്റി പട്ടികജാതി ഗവേഷണം തട്ടിച്ചു തന്റെ “അപകത”
കോൺഗ്രസ് വൈസ് പ്രസിഡന്റ് രാഹുൽ ഗാന്ധി പരിഹസിച്ചു.

അന്ധൻമാരെ
ബിഎസ്പി നേതാവ് അംബേദ്കറും പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ
രാഷ്ട്രീയത്തിലേക്കുള്ള ഇടതുപക്ഷത്തിന്റെ പുതിയ ചെരിവ് മതിപ്പ്
പ്രത്യക്ഷനായി.
ഇടത്
ചിറക് അംബേദ്ക്കറുടെ രാഷ്ട്രീയവും തമ്മിലുള്ള സഖ്യം വാദിക്കുന്ന ചെയ്ത
ജവഹർലാൽ നെഹ്റു സർവ്വകലാശാലയിലെ വിദ്യാർത്ഥി യൂണിയൻ പ്രസിഡന്റ് Kanhaiya
കുമാർ, അവൻ ഒരു ഉന്നതജാതി പീഠവും ചൂണ്ടിക്കാട്ടി ഒപ്പം സമൂലമായി വഴി
വിവാഹനിശ്ചയം ആ നിന്ന് വിഭിന്നമാണ് കമ്മ്യൂണിസ്റ്റ് ആശയങ്ങളിൽ
സബ്സ്ക്രൈബുചെയ്തു ആർ മായാവതി നിന്നുള്ള ഹ്രസ്വ shrift ലഭിച്ചു
അംബേദ്കർ.

പോലും രോഹിത് Vemula ആക്രമിക്കാതിരുന്നിട്ടില്ല ആയിരുന്നു. മായാവതി, അംബേദ്ക്കറുടെ രാഷ്ട്രീയത്തിൽ തന്റെ പ്രതിബദ്ധത അവളുടെ ആദരവു
പ്രകടിപ്പിച്ചു സമയത്ത്, വളരെ അധിക്ഷേപിക്കുകയാണ് ഒപ്പം വേട്ടയാടുകയും
എന്നാൽ പട്ടികജാതി / എസ്ടി നീതി ലഭിക്കാൻ യുദ്ധം തുടർന്നു ആർ അംബേദ്കർ
മാതൃക പിന്തുടർന്നു അവൻ തന്റെ ജീവനെ എടുത്ത എന്നു ചിലർ പരിപാലിക്കുന്നത്
പകരം.

ഇടത്തേക്ക് അവഹേളനം

അംബേദ്ക്കറുടെ
രാഷ്ട്രീയവുമായി ഇടപഴകാൻ തിരയുന്ന ആർ Kanhaiya കുമാര് ഇടതുപക്ഷക്കാർ
വിമർശിച്ച് മായാവതി വ്യക്തമാക്കുകയാണ് അവൾ പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ
രാഷ്ട്രീയത്തിന്റെ അവളുടെ സ്വന്തം ടർഫ് പരിഗണിക്കുക കാര്യങ്ങൾ
ആഗോളതാപനത്തിന്റെ മറ്റുള്ളവരെ ആദരവായി എടുത്തു പോകുന്നില്ല എന്ന്
ചെയ്തിരിക്കുന്നു.
അതുപോലെ
ഒരു പുതിയ പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ ഐക്കണായി Vemula എന്ന മൂടാൻ അവളുടെ
ശല്യമല്ലാതെ പോലും തന്റെ ദാരുണമായ മരണത്തിനു സാഹചര്യങ്ങൾ ലേക്ക്
അനുഭാവമുള്ള, ഇതിനകം സ്ഥാപിച്ച എസ്സി / എസ്ടി ദേവതകളേയും എന്ന പുതിയ
സ്വീകരിക്കാൻ അവളുടെ വിമുഖത വെളിപ്പെടുത്തുന്നു.
അവൾ
പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ രാഷ്ട്രീയമല്ല ആയിരുന്നു ധനികാരാകും തന്റെ ജീവനെ
പൂനയുടെ അംബേദ്കർ, Kanshi റാം തന്നെ മുന്നോട്ട് പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ
വ്യവഹാരം എടുക്കാൻ വൈരികൾ ആൻഡ് ക്രൂരതകൾ യുദ്ധം ചെയ്തവരെ Vemula തമ്മിൽ
വലിയ വ്യത്യാസമുണ്ട് എന്നു ഒരുപക്ഷേ ചില കൊണ്ട്, കാത്തുസൂക്ഷിച്ചു
കുറിച്ച് ഇരകളുടെ എന്നാൽ ശാക്തീകരണം.

മായാവതിയുടെ
പ്രസംഗം മറ്റൊരു സുപ്രധാന വശം അലിഗഡ് മുസ്ലിം യൂണിവേഴ്സിറ്റി ജാമിയ
മില്ലിയ ഇസ്ലാമിയ ന്യൂനപക്ഷ നില മാറ്റാൻ ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനങ്ങൾ (മോഡി) ന്റെ
പ്രയത്നങ്ങളുടെ കൊലപാതകിയെ ഒരു വിമർശനം ഉൾപ്പെടെ മുസ്ലിം ന്യൂനപക്ഷ
പ്രശ്നങ്ങൾ അവളുടെ espousal ആയിരുന്നു.
മുസ്ലിം ന്യൂനപക്ഷമായി അവളുടെ വളരുന്ന എത്താനും അവൾ തന്റെ മീഡിയ
മാനേജ്മെന്റ് നീണ്ട വിശ്വസനീയ ബ്രാഹ്മണ ലഫ്റ്റ് സതീഷ് മിശ്ര
സ്വീകരിക്കപ്പെടും പോലെ അവളുടെ അടയ്ക്കൂ മുസ്ലിം അനുയായി Naseemuddin
സിദ്ദിഖി പൊതു റാലി സംഘടിപ്പിക്കുന്നതിന് അവളുടെ പ്രത്യേക നന്ദി വഴി ഊന്നൽ
നൽകിയത്.

മുസ്ലിം
അവൾ ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനങ്ങൾ (മോഡി) എന്ന കൊലപാതകിയെ നിന്ന് ജനശ്രദ്ധ
diverting ഒരു മാർഗ്ഗമായിരുന്നു പറഞ്ഞ ലൗ ജിഹാദ് ആൻഡ് ബീഫ് നിരോധനം
അടുത്തിടെയുണ്ടായ വർഗീയ കാമ്പെയ്നുകളുടെ മായാവതിയുടെ
മതേതരത്വത്തെക്കുറിച്ച് തള്ളിപ്പറഞ്ഞു, സന്തുഷ്ടവാൻ ആയിരിക്കും എന്നയാളുടെ
പരാജയങ്ങൾ.
“ഭാരത് മാതാ കി ജയ് ‘വിവാദം പോലെ, മായാവതി കൂടുതൽ categorical ആയിരുന്നു. “എന്റെ പാർട്ടിയുടെ ആളുകൾ ജയ് ഭീം ജയ് ഭാരത് പറയുന്നു. മറ്റുള്ളവ വ്യക്തമാക്കുകയാണ് അവൾ ദേശീയതയുടെ വഴി ബുൾഡോസർ പോകുന്നില്ല എന്നു making, ജയ് ഹിന്ദ് പറയുന്നു “.

റാലിയിൽ
മായാവതി രക്ഷപ്പെടുത്തി മറ്റ് വലിയ സന്ദേശം അവൾ പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ
മാർഗത്തിൽ അവൾ ഇപ്പോൾ സ്വത്വ രാഷ്ട്രീയം അപ്പുറം നോക്കി മുസ്ലിം
ന്യൂനപക്ഷ പരാതികൾക്ക് അനുഭാവമുള്ള പ്രതിജ്ഞാബദ്ധമാണ്
നടത്തിക്കൊണ്ടിരിക്കെ ആയിരുന്നു.
“ഞാൻ അധികാരത്തിൽ തിരിച്ചു വരുന്നു ശേഷം ഞാൻ പണി ശ്രദ്ധ എന്നു നിങ്ങൾക്ക് വാഗ്ദാനം കഴിയും”.
ജനാധിപത്യ
സ്ഥാപനങ്ങൾ (മോഡി) ഉം അസഹിഷ്ണുത 1% ഉയർന്ന പുരോഹിതന്മാർ
ആക്രമണോത്സുകമായ, അക്രമം, ഭ്രാന്തൻ, മാനസികവളർച്ചയെത്താത്തവരുടെ വെടിവച്ചു
എന്ന കൊലപാതകിയെ, നരഭോജി cowherd ഭീഷണി കാക്ക psychopath chitpawan
ബ്രാഹ്മണ ആർ.എസ്.എസ് (രാക്ഷസനായ Swayam കർസേവകർ) അതിന്റെ എല്ലാ avathars
ബിജെപി (Bahuth Jiyadha റീലിൽ
മനോരോഗികളോ)
വിഎച്ച്പി (ജന്തു Hintutva മനോരോഗികളോ), എബിവിപി (എല്ലാ ബ്രാഹ്മണ ജന്തു
മനോരോഗികളോ) ഭജൻ ദൾ, വഞ്ചന വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ കൃത്രിമം
തിരഞ്ഞെടുത്തില്ല ആർ ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനങ്ങൾ (മോഡി) എന്ന കൊലപാതകിയെ,
അതുകൊണ്ടു അവൻ പിന്നോക്ക ജാതിക്കാർ അല്ലെങ്കിൽ പട്ടികജാതി / എസ്ടി
ചെയ്തവർക്ക് ബിജെപി നേതാക്കൾ
ആ ഉപയോഗം വിട്ടുപോകുകയും ഇല എറിഞ്ഞു കൂടുതൽ ഉചിതമായി സ്വന്തം
അമ്മമാരുടെ എസ് ആർ.എസ്.എസും അതിന്റെ 1% chitpawan ബ്രാഹ്മണ ജാതി അജണ്ട ബാലീ
ധൻ വേണ്ടി ആർ വെറും ബലിയാടാണ് കോലാട്ടുകൊറ്റൻ ആർ ആൻഡ് കറി
“അടിമജോലിക്കാര്” ആയി.

കേശവ് പ്രസാദ് മൗര്യ, ഉത്തർപ്രദേശിലെ നിയമിതനായ പിന്നോക്ക ജാതി ബി.ജെ.പി നേതാവ് ഒരു “ക്രിമിനൽ വർഗീയ” റെക്കോർഡ് പ്രശ്നമുണ്ട്.

രാമക്ഷേത്രം
പ്രശ്നം പുനരുജ്ജീവിപ്പിക്കാൻ ബിജെപി ശ്രമങ്ങൾ പാമ്പ് മന്ത്രവാദി അവൻ പണം
സമ്പാദിക്കുകയും അന്തിമമായി അവരെ യുദ്ധം കൂടാതെ ഓഫ് പായ്ക്കുകൾക്കായി വരെ
അവൻ സ്നേക്ക് ആന്റ് കീരി പോരാടാം എന്നു വിളിച്ചറിയിക്കുന്ന പോലെയാണ്.
ഒരിക്കൽ തിരഞ്ഞെടുപ്പിൽ രാമക്ഷേത്രം ഈ അജണ്ട മീതെയുള്ള ഓഫ് ചിലരാകട്ടെ ചെയ്യും.

“ഞങ്ങളുടെ മസീഹ് വാത്മീകി ഒരു, നോൺ-chitpawan ബ്രാഹ്മണ ശക്തിയുടെ
അത്യാഗ്രഹവും ഹിന്ദുത്വ വോട്ട് ബാങ്ക് രാഷ്ട്രീയം ഉപയോഗിക്കുന്നു
സൃഷ്ടിക്കപ്പെട്ടിരിക്കുന്നു ചെയ്ത നമ്മുടെ ഭരണഘടന കർത്താവിന്റെ രാമ
ജനിപ്പിച്ച സാഹേബ് അംബേദ്കർ ആണ്”

നമ്മുടെ മിശിഹായുടെ Appropriation കോൺഗ്രസ് സാഹേബ് അംബേദ്കർ ആണ്,
ബ്രാഹ്മണ കക്ഷികൾ ആയ ബിജെപി കമ്മ്യൂണിസത്തിന്റെ മിസ് മായാവതി ഭയം പ്രമുഖ
ടെക്നോ-രാഷ്ട്രീയ-സാമൂഹിക ട്രാൻസ്ഫോർമേഷൻ ഇക്കണോമിക് ഇമാൻസിപ്പേഷൻ
മൂവ്മെന്റ് മാസ്റ്റർ കീ സ്വന്തമാക്കുന്നതിന് കൃത്യമായ ആണ് ഇതിൽ ആകുന്നു.

മുൻ ചീഫ് EVM SADHASIVAM, അതിന്റെ ബാധ്യത വിളവുമേനി EVM സമ്പത്ത്
അഭ്യർത്ഥന ഘട്ടംഘട്ടമായി ഫ്രോഡ് Tamperable വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ൽ
അനുവദിക്കുന്നതിലൂടെ അവരുടെ സ്ഥാനത്ത് കാരണം 1600 കോടി ചിലവു shirked
& ന്യായവിധി ഒരു കല്ലറയില് പിശക് പ്രവർത്തിക്കുകയും, രാജ്യത്തെ
ജനാധിപത്യത്തിന്റെ ഒരു മാരകമായ പ്രഹരമേൽപ്പിച്ചത്.

മുൻ ചീഫ് ബാലറ്റ് പേപ്പർ സിസ്റ്റത്തിന് ഓർഡർ ചെയ്തിട്ടില്ല കൊണ്ടുവന്നു നൽകും. അത്തരം മുൻകരുതൽ സുപ്രീംകോടതി മേൽ തന്നെയാണ്. മുൻ
ചീഫ് സമയം വരെ പൂർണ്ണ & തികച്ചും വിന്യസിച്ചിട്ടുള്ള ഏകദേശം 1300000
വോട്ടിംഗ് യന്ത്രം ഈ പുതിയ ഗണം നിർമ്മിക്കപ്പെട്ടതിനുശേഷം എന്ന് ഓർഡർ
ചെയ്തിട്ടില്ല.
ലോകത്തിലെ 80 ജനാധിപത്യ ജനം എല്ലാം കേവലം fradulent വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ നീങ്ങിപ്പോകും ആർ. അതുകൊണ്ടു ജനാധിപത്യത്തിൽ വിശ്വസിക്കുന്ന ജനം ഒക്കെയും ലിബർട്ടി,
സമത്വവും സാഹോദര്യവും ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനങ്ങൾ (മോഡി) ഒരു അത്ഭുതകരമായ
ഭരണഘടന ഉപയോഗിച്ച് ഈ രാജ്യത്തെ തങ്ങളുടെ ഭരണത്തിന്റെ കൊലപാതകികൾ
തിരിച്ചറിയാൻ പാടില്ല.

വ്യക്തമായ തെളിവായിരുന്നു:
അതു
തട്ടിപ്പ് കേടാകാനുമിടയുണ്ട് വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ വഴി നടത്തിയ ലോക്സഭാ
തെരഞ്ഞെടുപ്പിൽ ഒരൊറ്റ സീറ്റ് നേടും കഴിഞ്ഞില്ല ഉത്തര് പ്രദേശിലെ മിസ്
മായാവതി എക്സ് മുഖ്യമന്ത്രി ചീഫ് ബഹുജൻ ഓഫ് സമാജ് പാർട്ടി (ബിഎസ്പി),
പേപ്പർ ബാലറ്റുകൾ വഴി നടത്തിയ പഞ്ചായത്ത് തെരഞ്ഞെടുപ്പില് നേടി.
ഉത്തർപ്രദേശ്
മുഖ്യമന്ത്രി അവളുടെ ഭരണ സമൂഹത്തിന്റെ എല്ലാ ഇടയിൽ ആനുപാതികമായി സമ്പത്ത്
വിതരണം മികച്ച ആയിരുന്നു ഈ രാജ്യത്തിന്റെ പ്രധാനമന്ത്രി യോഗ്യനാണ് മാറി.
ഈ പരമ്പരാഗത manuvadis വഴി ഇടപെടാര് അല്ല. അങ്ങനെ തട്ടിപ്പ് വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ അവളെ പരാജയപ്പെടുത്താൻ കൃത്രിമം ചെയ്തു.

http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903

ബിജെപി മതപരമായ മതമൌലികവാദം പ്രചരിപ്പിക്കുക, മായാവതി പറയുന്നു.

ബിഎസ്പി നേതാവ് മായാവതി ബിജെപി കർഷകർ പാവങ്ങൾക്ക് ചെറുകിട വ്യാപാരികളിൽ
വേണ്ടി ‘ഹേയ് ദിവസത്തെ ൽ മുന്നുപാധി പ്രതീക്ഷകളും ആണ്എനിക്ക് പറഞ്ഞു.

ബഹുജൻ സമാജ് പാർട്ടി (ബിഎസ്പി) നേതാവ് മായാവതി ഒരു ഹിന്ദുത്വ രാഷ്ട്ര
‘രാജ്യത്തെ പരിവർത്തനം ലേലം “മത മതമൌലികവാദം” വിദ്വേഷവും പരത്തുന്ന ഭാരതീയ
ജനതാ പാർട്ടി (ബി.ജെ.പി.) പ്രതി.

 ബിജെപി കർഷകർ, ദരിദ്രനും ചെറിയ വ്യാപാരികളും മുതലാളിമാരും വ്യവസായികളും
മാത്രമേ “പിടി” എന്ന ‘ഹേയ് ദിവസത്തെ ൽ മുന്നുപാധി പ്രതീക്ഷകളും പ്രയോജനം
ആണ്എനിക്ക്.

“വിലക്കയറ്റം, വൻതോതിൽ പൊതു കോപം നയിച്ച ഏത് നികുതി
ചുമത്തപ്പെടുമെന്ന് പോലുള്ള പ്രശ്നങ്ങൾ നിന്ന് ആളുകളുടെ ശ്രദ്ധ
തിരിച്ചുവിടാനായി ശ്രമത്തിന്റെ ബിജെപി അതിന്റെ സംഘടനകളും മത മതമൌലികവാദം,
പരസ്പര വിദ്വേഷവും സ്യൂഡോ ദേശീയത പോലുള്ള പ്രശ്നങ്ങൾ
കോപിപ്പിക്കേണ്ടതിന്നു ശ്രമിക്കുന്ന,” അവൾ പറഞ്ഞു.

അവൾ ബിജെപി ഒരു “ഹിന്ദുത്വ രാഷ്ട്ര” ഈ രാജ്യത്തെ പരിവർത്തനം മാതൃ സംഘടനയായ ആർ.എസ്.എസ് “ഇടുങ്ങിയതും ജാതീയ തത്ത്വചിന്ത” താഴെ പറഞ്ഞു.

പ്രക്രിയയിൽ, അതു ദേശീയ പൊതു താൽപ്പര്യത്തിനു അറുത്തു ഒപ്പം ‘പൂർണമായി
അവഗണിച്ചു “ദാരിദ്ര്യം, തൊഴിലില്ലായ്മ, സമാധാനവും വിലക്കയറ്റം തുടങ്ങിയ
കാര്യങ്ങളില് ചെയ്തു, അവളുടെ ഉദ്ധരിച്ച് ഒരു പ്രസ്താവനയിൽ പറഞ്ഞു.

അഴിമതി പ്രശ്നം പരാമർശിച്ചുകൊണ്ട് അവൾ ബിജെപിയും കോൺഗ്രസും ഒരേ നാണയത്തിന്റെ രണ്ടു വശങ്ങളും പറഞ്ഞു.

“വഴി ബിജെപി സർക്കാരിനെ അഴിമതിക്കാർ പരിരക്ഷിക്കാൻ ശ്രമിക്കുന്നു, അത്
വരും വർഷങ്ങളിൽ കോൺഗ്രസ് അഴിമതി ഇഫക്ടായിരുന്നു സാധ്യതയുണ്ട്,” അവൾ
പറഞ്ഞു.

അവൾ സംസ്ഥാനങ്ങളിൽ ബിജെപിയും കോൺഗ്രസും സർക്കാരുകൾ പട്ടികജാതി / എസ്ടി
സമൂഹത്തിലെ ദുർബല വിഭാഗങ്ങളെ പെടുന്ന ആ അതിക്രമങ്ങൾ ഏർപ്പെട്ടിരുന്നു
ചെയ്യുന്നു ആരോപിച്ചു.

“തങ്ങളുടെ ജീവിതകാലം മുഴുവൻ പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ ഐക്കണുകൾ എതിർത്തു
എങ്കിലും അവർ തങ്ങളുടെ രാഷ്ട്രീയ താത്പര്യങ്ങൾ കൂടുതല് ഇപ്പോൾ അവരുടെ
പേരിനു” മുൻ ഉത്തർപ്രദേശ് മുഖ്യമന്ത്രി പറഞ്ഞു

2.
ഇപ്പോൾ വിളവുമേനി എല്ലാ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ 2019 ലെ തെരഞ്ഞെടുപ്പിൽ മാറ്റിസ്ഥാപിക്കും പറയുന്നു.

http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms

പേപ്പർ-ട്രെയിൽ ഇലക്ട്രോണിക് വോട്ടിംഗ് യന്ത്രം ഞങ്ങൾക്കുണ്ട് ലേക്ക് 2019 പൊതുതെരഞ്ഞെടുപ്പിൽ: നസീം സെയ്ദി, വിളവുമേനി

3. ബിജെപി പ്രതിപക്ഷ ആർ.എസ്.എസ് പേപ്പർ ബാലറ്റുകൾ പ്രിയങ്കരനായിരുന്നു പോലെ നാമനിര്ദേശം പൊതു സൂക്ഷ്മ വിധേയമാക്കിയിരുന്നു

http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html

രാഷ്ട്രീയ പാർട്ടികൾ ചോദ്യം ചെയ്തിട്ടുള്ള ഇലക്ട്രോണിക് വോട്ടിംഗ്
യന്ത്രം (വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ) എന്ന reliablity സംബന്ധിച്ച വിവാദം
ചേരുന്നു ആർഎസ്എസ് ടി തിരികെ ശ്രമിച്ചു പരീക്ഷിച്ചതും പേപ്പർ ബാലറ്റുകൾ
പുനസ്ഥാപിക്കണമെന്നത് തിരഞ്ഞെടുപ്പ് കമ്മീഷൻ (ഇ.സി.) ചോദിച്ചു …

എങ്കിലും
അവർ അങ്ങനെ അവൾ ശരിയായ പാത ചരിക്കുന്നതു് തെളിയിക്കുന്നു താൻ അനധികൃത
വിളിച്ചു കുഴിച്ച് ഉൾപ്പെടെ theatrics എല്ലാത്തരം പങ്കാളികളാണ്.
ബാബാസാഹേബ് ഡോ അംബേദ്കർ ഒരു ബ്രാഹ്മണ അവർ നേർമാർഗത്തിലായിക്കഴിഞ്ഞു എന്നാണ് കലക്കി പട്ടികജാതി / എസ്ടി ശ്രമിക്കുമ്പോൾ പറഞ്ഞു. ആർഎസ്എസ്
ബിജെപി ഉൾപ്പെടെ എല്ലാ അതിന്റെ avathars cowherds, അവർ അക്രമാസക്തമായി സകല
അവരുടെ ദോഷം പ്രവർത്തനങ്ങൾ സ്വഭാവത്താൽ അസഹിഷ്ണുതയും വിദ്വേഷവും
തീവ്രവാദരാഷ്ട്രീയത്തിന്റെ നിറഞ്ഞതും affraid ശേഷം കാക്കകൾ വിടുവാൻ.
അവർ മാനസികവളർച്ചയെത്താത്തവരുടെ മനോരോഗികളോ വലഞ്ഞവർ മാനസിക തടവറകളിൽ
മാനസിക ചികിത്സ വേണമെങ്കിൽ ഈ ദോഷം കീഴ്വഴക്കങ്ങളുമായി ഭ്രാന്തൻ
തീർന്നിരിക്കുന്നു.

http://swarajyamag.com/politics/how-can-dalits-come-out-of-the-elite-controlled-victimhood-narrative

കമ്യൂണിസ്റ്റുകാർ ഒരേ 1% chitpawan ബ്രാഹ്മണ ജാതി പിരമിഡ് മറ്റ്
രണ്ട് ഭാഗത്തും Bahuth Jiyadha മനോരോഗികളോ കോൺഗ്രസ് എന്ന മറ്റൊരു
വശത്ത് ആകുന്നു

    അവ ഇനി സൗകര്യമുള്ള അവരുടെ യഥാർത്ഥ ശോച്യാവസ്ഥയ്ക്ക് അവഗണിക്കുന്ന അവർ ഇഷ്ടപ്പെട്ടു അംബേദ്കർ ഭാഗങ്ങൾ ഉചിതമായിരിക്കുന്നത് കഴിയും.

    പടയാളികൾ സ്ഥിരമായ പെൺകുട്ടിയുടെ-വികസിതമായ രാഷ്ട്രീയം, ജനാധിപത്യ
insitutions (മോഡി) ന്റെ കൊലപാതകിയെ ന്റെ നിന്ന് കൈപ്പിടിയിലാക്കാൻ
സാമ്പത്തിക ഉദാരവൽക്കരണ മന്ത്രം ഇടതുപക്ഷ-കോൺഗ്രസ് ഇക്കോ സിസ്റ്റം വളരെ
വിഴുങ്ങാൻ ഹാർഡ് കണ്ടെത്തുന്നു സാധാരണ പട്ടികജാതി / എസ്ടി ഇടയിൽ യാതൊരു
വൈറലായിട്ടുണ്ട് ചെയ്തിട്ടില്ല.

എന്തുകൊണ്ട് Ambedkarism രാജ്യത്തെ ചൂടപ്പം പോലെ വിളിക്കും? എല്ലാവരും അംബേദ്കർ പിണ്ണാക്ക് ഒരു സ്ഥലമാണ് ആഗ്രഹിക്കുന്നു. കാരണം അവരുടെ മേധാവിത്വം മനോഭാവം ആക്ഷേപം ചെയ്തതിനാൽ അവർ എന്നേക്കും പട്ടികജാതി / എസ്ടി ചതിക്കുക കഴിഞ്ഞില്ല ഭയത്തിന്റെ ഇതെല്ലാം.

അവിടങ്ങളിൽ
കാരണം കോൺഗ്രസ്, ഇടതു പാർട്ടികൾ ഇവൻമാരാണ് ഉണ്ടാക്കി രാജ്യത്തെ അതിന്റെ
സാംസ്കാരിക അജണ്ട ചുമത്തുന്നതു ഭരണഘടനാ വ്യവസ്ഥകൾ അതിക്രമങ്ങള്ക്കും ഒപ്പം
dissent.SC/ST വരേണ്യ / പ്രവർത്തകർ സ്വാതന്ത്ര്യം തടയാൻ ബി.ജെ.പി ശ്രമങ്ങൾ
വിലപിക്കുന്നത് ഈ കക്ഷികൾ വിശ്വസിച്ചു ഒരിക്കലും
അംബേദ്ക്കറുടെ ആരും സമയം ഒരു കാര്യത്തിൽ അവരുടെ സ്നേഹം പ്രകടിപ്പിക്കാൻ
അവരുടെ കാൽ കയറി, സോഷ്യൽ സൈറ്റുകൾ Manuwad, ഹിന്ദു ദൈവങ്ങളുടെ & ദേവീ
ഹിന്ദു ഗ്രന്ഥങ്ങളിൽ നേരെ റോഡീസിൻറെ പ്രസ്താവന ചാകരയാണ് ചെയ്തു.

ഇതു
രാഷ്ട്രീയ ഡിസൈനുകൾ സുരക്ഷിതമാക്കാൻ നീണ്ട ശേഷം ഇടത് സബാൾട്ടേൺ ഗ്രൂപ്പുകൾ
ചാരിക്കൊണ്ടു ജോലി സാധാരണ മയക്കുമരുന്നുകൾ കലർത്തിയ ആണ്.
അവ യുവതിയെ കാർഡ് പ്ലേ മുതല കരയാതിരിക്കാൻ അല്ലാതെ ആരോടും ഗൗരവത്തോടെ അവരെ എടുത്തു പോകുന്നു. അവർ വൈകി ചില ശബ്ദങ്ങൾ സംവരണം അവലോകനം പാടെ ഉചിതമായിരുന്നു വിളിക്കാതെ വർധിപ്പിച്ചു വസ്തുത മേൽവിചാരകൻ കോപിച്ചിരിക്കുന്ന ആകുന്നു.

അവരെല്ലാം
റിസർവേഷൻ ആനുകൂല്യങ്ങൾ ധനികന് കരുതിയിരുന്നു ആയി വിദ്യാസമ്പന്നരായ മധ്യവർഗ
പട്ടികജാതി / എസ്ടി അവരെ തെറ്റിദ്ധരിപ്പിക്കുന്ന വഴി പട്ടികജാതി /
പട്ടികവർഗ്ഗ ജനസംഖ്യയുടെ താഴത്തെ പാളികൾ കരിയില ചെയ്തു.
ഉദയം തൊട്ടുകൂടായ്മ സംബന്ധിച്ചിടത്തോളം ഇടത്തരം അല്ലെങ്കിൽ താഴത്തെ ജാതി അല്ലെങ്കിൽ ഭൂരഹിതരായ അസ്പൃശ്യർക്ക് പോലെ ഒന്നും ഇല്ല. എല്ലാ ഉള്ളിലെ ചികിത്സ ഈ ആധിപത്യമുള്ള chitpawan ബ്രാഹ്മണൻ പാർടികൾ ഒരുപോലെ എപ്പോഴും അധികാര പിശുക്ക്. അവർ എപ്പോഴും വിഘടിപ്പിച്ച് ഭരിക്കുക നയങ്ങളുടെ അന്യോന്യം ജാതി സജ്ജമാക്കാൻ കടത്താൻ. പട്ടികജാതി
/ പട്ടികവർഗ്ഗ പെടുന്ന തൊഴിലാളികൾക്ക് ഓഫീസർമാരെ ആകാൻ ബിജെപി എപ്പോഴും
chithpawan ബ്രാഹ്മണർ ലോകത്തെ ഏറ്റവും ബുദ്ധിയുള്ള ആളുകൾ
മറ്റെല്ലാവരുടെയും റാഗി balls.The കമ്യൂണിസ്റ്റുകൾ ഉണ്ട് എന്ന് പറയുന്നത്
ശ്രമിച്ചിരുന്നു ഒരിക്കലും ആഗ്രഹിച്ചു.
ഒരിക്കൽ ഒരു പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ തൊഴിലാളിക്ക് അവൻ ഒരു ഉദ്യോഗസ്ഥനെ യോഗ്യനാണ് ജോലിക്കാരിയിൽനിന്ന് പോലെ അഞ്ചാം ഗ്രേഡ് മാറി. യാതൊരു
പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ തൊഴിലാളിക്ക് എന്നെങ്കിലും ഒരു ഉദ്യോഗസ്ഥനെ
കഴിയുമെന്നും അങ്ങനെ മറിച്ച് കമ്യൂണിസ്റ്റ് ട്രേഡ് യൂണിയനുകളും 10
ഗ്രേഡുകളും സൃഷ്ടിച്ചു.
അവർ എപ്പോഴും ഒരു തൊഴിലാളിയുടെ ഒരു തൊഴിലാളിക്ക് ആഗ്രഹിച്ചു. അവർ
സ്ഥിരമായ പ്രകൃതിയുടെ പ്രവൃത്തിയും ഉൾപ്പെട്ട പോലും ദൈനംദിന wagers
പ്രോത്സാഹിപ്പിച്ചു കാരണം പിന്നീട് അവർ സ്വകാര്യവൽക്കരണം എതിർത്തു
ഒരിക്കലും.
ബിജെപിയും
കോൺഗ്രസും തുടങ്ങിയ കമ്മ്യൂണിസ്റ്റുകാർ പല സംസ്ഥാനങ്ങളിലും കേന്ദ്ര
സർക്കാരിന്റെ ഭാഗം ഭരിച്ചിരുന്ന എങ്കിലും അവർ അടിച്ചമത്തപ്പെട്ടവർക്ക്
ഉന്നമനത്തിനായി പൗഡറിട്ടോ അവർ ആനുകൂല്യങ്ങൾ അവരിൽ മിക്കവരും രാജ്യത്തിന്റെ
ഗ്രാമീണ hinterlands ൽ കൈകാലിട്ടടിക്കുകയാണ് ചെയ്യുന്നു ലേക്ക്
കിനിഞ്ഞിറങ്ങല് ഉറപ്പാക്കാൻ ഇനിയുമൊരിക്കല് ​​ആകുന്നു ഒരിക്കലും.
മണി
വാചാടോപം പ്പതനത്തിനു വഴി, അവർ ghettoised ജീവിതം നയിക്കാൻ സമൂഹത്തിൽ
ദുർവ്യാഖ്യാനം വിത്തുകൾ ശ്രദ്ധപിടിച്ചുപറ്റുന്നതുമായ ഭൂരിപക്ഷം എസ്സി /
എസ്ടി ബഹുജനങ്ങളെ വിതയ്ക്കുന്നതു.
വ്യക്തമായും അവർ Ambedkarism ബന്ധപ്പെടേണ്ടതാണ് ഈ തങ്ങളുടെ ഹീനമാണെന്നും
ഡിസൈനുകൾ കൂടുതല് ദാസികൾ ഉപയോഗിക്കുന്നത് എന്ന് ഉപകരണമാണ് കാരണം.

പട്ടികജാതി / പട്ടികവർഗ്ഗ ബുദ്ധിജീവികളെ ഇന്റർനെറ്റ് ഉൾപ്പെടെ പ്രധാന സമയം ടിവി ഷോകൾ, മറ്റ് മീഡിയയിൽ ആഗ്രഹിക്കുന്നുവെന്നും; അംബേദ്കർ അവർക്ക് അപ്പവും വെണ്ണ പ്രശ്നമാണ്. അവർ അംബേദ്കർ അവരുടെ പ്രോപ്പർട്ടി പോലെ അവർ അംബേദ്കർ ഇ.ഇ.ജി. അവകാശമുണ്ട് എന്ന് കരുതുന്നു. നീണ്ട വരെ അവർ ഡിറ്റർമിനേഷനിൽ ലേക്ക് അംബേദ്കർ ഉപയോഗിച്ചു. പുരോഗമന
ലേബർ നിയമങ്ങൾ ചലിക്കുന്നത് ലേക്ക് അംബേദ്കറുടെ സംഭാവനക്കുള്ള ലിംഗ
ശാക്തീകരണം തന്റെ ദർശനവും ഭരണഘടന തന്റെ ആദ്യമായുള്ള ശ്രമങ്ങൾ പ്രയാസം
അംബേദ്കർ ഉയർന്ന എസ്സി / എസ്ടി, സംവരണം എന്നിവ തീക്ഷ്ണമാവുകയും കുറിച്ച്
ആയിരുന്നു പോലെ കരുതുന്ന എസ്സി / എസ്ടി പ്രവർത്തകർ നിന്ന് ഒരു അനുമതി
നേടുകയും
ജാതിക്കാർ.

ഇപ്പോൾ
അവർ പട്ടികജാതി / STRs / ഒബിസി / ന്യൂനപക്ഷ, പാവപ്പെട്ട ബ്രാഹ്മണരും
Baniyas ഏത് ഉൾപ്പെടെ എല്ലാ സമൂഹങ്ങളിലും സമാധാനം welafre സന്തോഷവും
വേണ്ടി എംഎസ് മായാവതിയുടെ ടെക്നോ-രാഷ്ട്രീയ-സാമൂഹിക ട്രാൻസ്ഫോർമേഷൻ ആൻഡ്
Sarvajan Hithaye Sarvajan Sukhaye അതായത് വേണ്ടിയുള്ള ഇക്കണോമിക്
ഇമാൻസിപ്പേഷൻ പ്രസ്ഥാനവുമായി ആകുന്നു
ഉത്തർപ്രദേശിൽ നന്നായി ജോലി. എല്ലാ സമൂഹങ്ങളിലും മായാവതിയുടെ മികച്ച ഭരണം കീഴിൽ ആഹ്ലാദിച്ചു. അതുകൊണ്ട്
chitpawan ബ്രാഹ്മണൻ പാർട്ടികൾ അവൾ ഞങ്ങളുടെ ഭരണഘടന നിഷ്ഠമായ പോലെ
ജനാധിപത്യം, സ്വാതന്ത്ര്യം, സമത്വം, സാഹോദര്യം സംരക്ഷിക്കാൻ പ്രധാനമന്ത്രി
സ്വീകരിക്കുമെന്നും പെടിച്ചു 1% chitpawan ബ്രാഹ്മണർക്ക് നടപ്പിലാക്കി
തടയാൻ ഭയപ്പെടുന്നുവെന്ന.

20) Classical Tamil

20) பாரம்பரிய இசைத்தமிழ் செம்மொழி

1842 வி 21 April 2016
பாடங்கள்

இருந்து

நுண்ணறிவால்-நெட்-ஆன்லைன், A1 (விழித்துக்கொண்டது ஒரு) Tipiṭaka ஆராய்ச்சி மற்றும் பயிற்சி பல்கலைக்கழகம்
காட்சி வடிவில் (FOA1TRPUVF)
http://sarvajan.ambedkar.org மூலம்
aonesolarpower@gmail.com

பாரம்பரிய புத்த மதம் (விழிப்புணர்வு விழித்துக்கொண்டது ஒரு போதனைகள்)
உலக சேர்ந்தவை, மற்றும் அனைவருக்கும் பிரத்தியேக உரிமை: ஜே.சி.

இந்த கூகிள் மொழிபெயர்ப்பு மற்றும் பரவல் ஒருவரின் தாய்மொழியை இந்த
பல்கலைக்கழகத்தின் ஒரு படிப்பினையாக சரியான மொழிபெயர்ப்பு இடையீடு ஒரு
நீரோடை Enterer (Sottapanna) ஆக மற்றும் இறுதி இலக்காகக் போன்ற நித்திய
ஆனந்தம் அடைய உரிமை.

விழிப்புணர்வு கொண்டு விழித்துக்கொண்டது ஒரு போதனைகளை பரப்புவதில்
வலைத்தளங்களின் பட்டியல் அதாவது, புத்தர் Tripitaka விஷுவல் வடிவம்

http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907
http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1.
http: // எனத் செய்தி. xinhuanet. காம் / ஆங்கிலம் / 2009-07 / 27 / content_11780918 .htm
www.chinaview. CN
www.buddhismandbusi ness.webs. காம்
http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/
www.grameenfoundation.org

http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/
http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf

http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/

http://scroll.in/article/806815/in-sounding-the-bugle-for-2017-polls-in-uttar-pradesh-mayawati-did-not-spare-anyone

உத்தர பிரதேசத்தில் 2017 தேர்தல் ஊதல் ஒலி மாயாவதி யாரையும் விட்டுவைக்கவில்லை
அவரது முன்னுரிமைகள் தெளிவாக உள்ளன:, முஸ்லிம்கள் வெளியே வந்து
அம்பேத்கர் மரபு கூற்றுக்கள் முட்டை யாருக்கும் சில தேர்வு வார்த்தைகள்,
அவரது, SC / ST வாக்கு பாதுகாத்தல்.

எப்படி எஸ்.சி / எஸ்.டி எலைட் கட்டுப்படுத்தப்பட்ட victimhood விவரணை வெளியே வர முடியும்

மாயாவதி
அதை தெளிவாக அவர் அடுத்த ஆண்டு தேர்தலில் உத்தர பிரதேசத்தில் அதிகாரத்தை
மீண்டும் ஒரு தனி ஓட்டங்கள் மேற்கொள்வார்கள் என்று செய்துள்ளது.
அவர் மாநிலத்தில் முஸ்லீம் சிறுபான்மையினருக்கு மத்தியில் ஒரு புதிய
வளர்ந்து வரும் ஆதரவு தளத்தை இழுக்கிறார் அவளை முக்கியத்துவத்தை அறியலாம்
போது அவரது எதிரிகளை அவருடைய மையக், SC / ST வாக்கு வங்கி ஆஃப் தங்க
எச்சரிக்கை விடுத்துள்ளது.

பகுஜன்
சமாஜ் கட்சி தலைவர் பகுஜன் சமாஜ் கட்சியின் மக்களவை தேர்தல் முடிவடைந்து
ஒருவேளை அவரது மிக முக்கியமான உரையில் மாநில தலைநகர் லக்னோவில் உள்ள
பாபாசாஹேப் பீம்ராவ் அம்பேத்கர் 125-வது பிறந்த நாள் கொண்டாட அவரது கட்சி
கடந்த வாரம் ஏற்பாடு பரந்த பொதுப் பேரணியில் இந்த மற்றும் பல முக்கிய
அரசியல் சமிக்ஞைகளை வெளியே அனுப்பி
2014 படுதோல்வி.

தனது
ஆதரவாளர்கள் மூலம் நடைபெறும் ஒரு மாபெரும் தட்டி ஒரு அங்கி மற்றும் சேலை
பாபாசாகேப் மற்றும் Kanshi ராம் புடைசூழ இருபுறங்களிலும் உள்ள மாயாவதி
காட்டியது.
அவர்கள்
எஸ்சி சின்னங்கள் புகழ ஒரு தசாப்தத்திற்கு முன்பு அதிகாரத்தில் போது
அவரது அரசாங்கத்தால் கட்டப்பட்டுள்ளன மாபெரும் நினைவு முன் நின்று / எஸ்டி /
இதர பிற்படுத்தப்பட்ட வகுப்பினருக்கு இயக்கம் யானைகள் புத்தர் ஒரு சிறிய
பிரதி மேலே வானத்தில் இருந்து benignly சிரிக்கும் போது கீழே புல் மீது
frolicked என.
கோஷ முழுவதும் மூலதன கடிதங்கள் “அடுத்து முதல்வர்” உள்ள scrawled இருந்தது.

பிரச்சாரத்தின் 2017

பேரணியில்
அடையாளமும் மாயாவதி பேச்சு இறக்குமதி இந்த இன்னும் ஒரு வருடம் விட்டு
உண்மையில் மாநில சட்டசபை தேர்தலில் தனது பிரச்சாரம் அறிமுகமான என்று
கோடிட்ட.
சுவாரஸ்யமாக
பேச்சு மிகவும் அம்பேத்கர் மற்றும், SC / ST வாக்கு திருட தங்கள் தீய
முயற்சிகள் மரபு பொய்யான கூற்றுக்களை முட்டை மற்ற அரசியல் கட்சிகள்
துரோகச் அர்ப்பணித்து.
அவள் யாரும் தப்பிச்சேன்.

ஜனநாயக
நிறுவனங்கள் கொலையாளி (மோடி) மற்றும் சங் பரிவார் பற்றி கடுமையாக தாக்கி
கட்டவிழ்த்து, மாயாவதி அவரை இவ்வாறு மற்றும் ராஷ்ட்ரீய ஸ்வயம் சேவக் சங்
“கொத்தடிமைகளாக” மற்றும் அதன் மேல் சாதி என பிற்படுத்தப்பட்ட அல்லது
எஸ்.சி / எஸ்.டி யார் அந்த பாரதிய ஜனதா கட்சி தலைவர்கள் விவரித்தார்
நிகழ்ச்சி நிரல். அவள்
கேஷவ் பிரசாத் மவுரியா, உத்தரப் பிரதேசம் இல் புதிதாக நியமிக்கப்பட்ட
பின்தங்கிய சாதி பாஜக தலைவர் ஒரு “குற்றவியல் மற்றும் வகுப்புவாத” சாதனை
கொண்ட அவரை குற்றஞ்சாட்டி மோசமாக இருந்தது.
அவர் எஸ்சி முட்டாளாக்க ஒரு பொறி / பழங்குடியினர் என விவரித்து ராம்
மந்திர் பிரச்சினை புதுப்பிக்க பாஜக எடுத்த முயற்சிகள் விலக்கப்பட்டது.

“எங்கள் மெஸையா அம்பேத்கர் இல்லை ராமர்,” என்று மாயாவதி வலியுறுத்தினார்

ஆயினும்
ஜனநாயக நிறுவனங்கள் (மோடி) மற்றும் அவருடைய கட்சியின் கொலையாளி பகுஜன்
சமாஜ் கட்சி தலைவர் கடிக்கும் விமர்சனம் முன் அல்லது மாநிலத் தேர்தல்
முடிந்ததும் அவளை மற்றும் பாஜக இடையே ஒரு இரகசிய ஒப்பந்தம் பற்றி ஊகங்கள்
முட்டுக்கட்டையாக என்றால், அவர் காங்கிரஸ் எந்த ஒத்துழைப்பின் சாத்தியம்
அப்படியே செய்தார்கள்
வரும் தேர்தல். உண்மையில்,
மாயாவதி காங்கிரஸ், அதன் கடந்த கால தலைவர்கள் அம்பேத்கர் அவமானம்
நினைவுகூர்ந்து lambasting அத்துடன், SC / ST திறத்தோடும் அடுத்தடுத்த
காங்கிரஸ் அரசாங்கங்கள் பேரழிவு சாதனை பட்டியல் தங்கள் கோரிக்கைகளுக்கு
உரையாற்றும் கூட அதிக நேரம் செலவிட்டார்.
அவர் வெளிப்படையாக ரோஹித்த Vemula, சமீபத்தில் பாபாசாகேப் கொண்டு,
தற்கொலை செய்து கொண்ட ஹைதெராபாத் பல்கலைக்கழகம் எஸ்சி ஆராய்ச்சி அறிஞர்
ஒப்பிட்டு அவரது “நிறைவடையாமல்” காங்கிரஸ் துணைத் தலைவர் ராகுல் காந்தி
கேலி செய்தனர்.

அதேபோல் பகுஜன் சமாஜ் கட்சி தலைவர் அம்பேத்கர், SC / ST அரசியலை நோக்கி இடது புதிய சாய்வு ஈர்க்கப்பட்டார் தோன்றினர். ஜவகர்லால்
நேரு பல்கலைக்கழக மாணவர்கள் ஒன்றியத்தின் ஜனாதிபதி கன்ஹையா குமார்,
இடதுசாரி மற்றும் அம்பேத்கரிய அரசியலை இடையே உடன்பாடு வாதிட்டு வருகிறார்
யார், மாயாவதி அவர் ஒரு மேல் ஜாதியைச் சேர்ந்தவர் என்று சுட்டிக்காட்டினார்
மற்றும் தீவிரமாக என்று தழுவிக்கொண்ட வேறுபட்ட கம்யூனிச சித்தாந்தம்
சந்தா ஆதரவைப் கிடைத்தது
அம்பேத்கர்.

கூட ரோஹித்த Vemula தப்பவில்லை இருந்தது. மாயாவதி, அம்பேத்கரிய அரசியலில் அவரது அர்ப்பணிப்பு அவள் மதிப்புக்
வெளிப்படுத்தும் அதேவேளை, அவர் தற்கொலை செய்து கொள்ள வேண்டும் என்று
இல்லை, அதற்கு பதிலாக மிகவும் அவமானப்படுத்தினார் மற்றும்
வேட்டையாடப்படுகின்றனர் ஆனால் எஸ்.சி / எஸ்.டி நீதி பெற போராட தொடர்ந்து
யார் அம்பேத்கர் எடுத்துக்காட்டாக தொடர்ந்து பராமரிக்கப்படும்.

இடது ஸ்னப்பாக

அம்பேத்கரிய
அரசியலில் ஈடுபட தேடும் கன்ஹையா குமார் போன்ற இடது சாரிகள் விமர்சனம்
செய்வதன் மூலம், மாயாவதி அதை தெளிவாக அவள், SC / ST அரசியல் குறித்து
சொந்த தரை கருத்தில் என்ன ஒரு வேட்டை மற்றவர்களுக்கு தயவுசெய்து எடுக்க
போவதில்லை என்று கூறியுள்ளார்.
இதேபோல்
ஒரு புதிய, SC / ST சின்னத்தை Vemula தத்தெடுத்தது தனது எரிச்சலை, கூட
அவரது துக்ககரமான மறைவின் சூழ்நிலைகள் அனுதாபம் இருந்தால், ஏற்கனவே
நிறுவப்பட்ட, SC / ST பலதெய்வ ஒரு புதிய கூடுதலாக ஏற்க தயக்கம்
காட்டுவதற்குக் வெளிப்படுத்துகிறது.
அவள்
எஸ்சி எடுத்து என்று எஸ்சி இதன் உட்குறிப்பு அவரது வாழ்க்கை முடிவுக்கு
வந்தது யார் முன்னோக்கி / எஸ்டி காரணம் மற்றும் Vemula விரோதிக்கிறவர்கள்
மற்றும் கொடுமைக்கு எதிராக போராடி வரும் அம்பேத்கர், Kanshi ராம்
மற்றும் தன்னை இடையில் ஒரு பெரிய வித்தியாசம் இல்லை என்றும், ஒருவேளை ஓரளவு
நியாயத்துடன், பராமரிக்கப்படுகிறது / எஸ்டி அரசியலில் இல்லை
victimhood ஆனால் அதிகாரமளித்தல் பற்றியது.

மாயாவதி
பேச்சு மற்றொரு முக்கிய அம்சம் ஜனநாயக நிறுவனங்கள் கொலையாளி ஒரு
கடுமையான விமர்சனத்தால் உட்பட முஸ்லீம் சிறுபான்மையினர் பிரச்சினைகள் அவர்
தழுவிக் இருந்தது, அலிகார் முஸ்லீம் பல்கலைக்கழகத்தில் மற்றும் ஜாமியா
மிலியா இஸ்லாமியா சிறுபான்மை நிலையை மாற்ற (மோடி) ‘கள் முயற்சிகள்.
முஸ்லீம் சிறுபான்மையினருக்கு தனது வளரும் எல்லை, அவரது நெருங்கிய
முஸ்லீம் உதவியாளர் Naseemuddin சித்திக் செய்ய பொதுக்கூட்டத்தில் ஏற்பாடு
அவர் நீண்ட அவரது ஊடக மேலாண்மை நம்பகமான பாராட்டப்பட்டது கூட பிராமணர்
லெப்டினன்ட் சதீஷ் மிஸ்ரா தனது சிறப்பு நன்றி வலியுறுத்தப்பட்டன.

முஸ்லிம்கள்
கூட அவர் ஜனநாயக நிறுவனங்கள் (மோடி) ‘கள் தோல்விகளை கொலையாளி மக்களது
கவனத்தை திசை திருப்புவதற்காக ஒரு வழி என்றார் இது லவ் ஜிஹாத் மற்றும்
மாட்டிறைச்சி தடை போன்ற சமீபத்திய இனவாத பிரச்சாரங்களில் மாயாவதி
சந்தேகமற்ற நிராகரிப்பதும் மகிழ்ச்சியாக இருக்கும்.
“பாரத் மாதா கி ஜே” சர்ச்சை பொறுத்தவரை, மாயாவதி இன்னும் ஆணித்தரமான இருந்தது. “என் கட்சி மக்கள் ஜெய் பீம் மற்றும் ஜெய் பாரத் சொல்ல. மற்றவர்கள் அதை தெளிவாக அவர் தேசியவாதம் புல்டோசர்கள் போவதில்லை என்று செய்து, ஜெய் ஹிந்த் என்று கூறுகின்றனர். “

பேரணியில்
மாயாவதி மூலம் வழங்கப்படுகிறது மற்ற பெரிய செய்தி அவர் இப்போது அடையாள
அரசியலில் அப்பால் தேடும் முஸ்லீம் சிறுபான்மையினரின் துன்பங்களுக்கு அவர்,
SC / ST காரணம் உறுதி மற்றும் அனுதாபம் போது என்று இருந்தது.
“நான் மீண்டும் ஆட்சிக்கு பிறகு நான் வேலையில் கவனம் வேண்டும் என்று உங்களுக்கு உறுதியளிக்கிறேன் முடியும்”.
ஜனநாயக
நிறுவனங்கள் (மோடி) மற்றும் 1% சகிப்புத்தன்மையற்ற, போராளி, வன்முறை,
பைத்தியம் மனநிலை சரியில்லாத, படப்பிடிப்பு உயர் மதகுருவும், மிராண்டியாக
இடையர் பயத்தின் காகம் மனநோயாளி chitpawan பிராமணர் ஆர்எஸ்எஸ் (ராட்சசன்
ஸ்வயம் சேவகர்கள்) அதன் சகல avathars பாஜக (Bahuth Jiyadha கொடுமையாக
தாக்கப்பட்ட கொலைகாரன்
மனநோயாளிகள்)
விஸ்வ இந்து பரிஷத் (நஞ்சூ Hintutva மனநோயாளிகள்), ஏ.பி.வி.பி (அனைத்து
பிராமணர் நஞ்சூ மனநோயாளிகள்) பஜன் தளம் மற்றும் ஜனநாயக நிறுவனங்கள்
(மோடி) மோசடி வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் சேதப்படுத்திய வினால்
தேர்ந்தெடுக்கப்பட்ட கொலை, எனவே அவர், பிற்படுத்தப்பட்ட வகுப்பினர் அல்லது
எஸ்சி யார் அந்த பாஜக தலைவர்கள் / எஸ்.டி
என்று பயன்படுத்த விட்டு மற்றும் இலைகள் மற்றும் இன்னும் சரியான தங்கள்
சொந்த தாய்மார்கள் ‘சதை உண்கின்றன தூக்கி பாலி தண் மற்றும் கர்ரிக்கு யார்
தான் இயற்கைக் ஆடுகள் யார், ஆர்எஸ்எஸ்-”கொத்தடிமைகளாக” மற்றும் அதன் 1%
chitpawan பிராமணர் சாதி நிகழ்ச்சி.

கேஷவ் பிரசாத் மவுரியா, உத்தரப் பிரதேசம் இல் புதிதாக நியமிக்கப்பட்ட
பின்தங்கிய சாதி பாஜக தலைவர் ஒரு “குற்றவியல் மற்றும் வகுப்புவாத” சாதனை
உள்ளது.

ராம்
மந்திர் பிரச்சினை புதுப்பிக்க பாஜக முயற்சிகள் ஒரு பாம்பாட்டி அவர் பணம்
சேகரித்து இறுதியாக அவர்கள் போராட செய்யும் இல்லாமல் ஆஃப் அடைக்கிறது வரை
அவர் பாம்பு மற்றும் கீரி சண்டை விடமாட்டேன் என்று அறிவித்த போல் உள்ளது.
ஒருமுறை தேர்தலில் ராம் மந்திர் இந்த திட்டத்தின் மீது கைவிடப்பட்டது பேக் வேண்டும்.

“எங்கள் மேசியா, நம் நாட்டில் மட்டும் ராமர் ஒரு, அல்லாத chitpawan
பிராமணர் சக்தி மீதுள்ள பேராசையால் இந்துத்துவ வாக்கு வங்கி அரசியலை
பயன்படுத்தப்படுகிறது வால்மீகி, உருவாக்கப்பட்ட யார் அரசியலமைப்பின் தந்தை
யார் அம்பேத்கர் ஆகும்”

எங்கள் மெஸையா ஒதுக்கீட்டுச் காங்கிரஸ், பாஜக மற்றும் பிராமணீயமனம்
கட்சிகள் மாஸ்டர் முக்கிய பெறுவதற்கு திட்டவட்டமான இது மாயாவதி முன்னணி
டெக்னோ-அரசியல்-சமூக மாற்றம் மற்றும் பொருளாதார விடுதலை இயக்கம் என்ற
அச்சம் உள்ளது கம்யூனிஸ்ட்டுகள் அம்பேத்கர் உள்ளது.

முன்னாள் தலைமை EVM SADHASIVAM, அதன் கடமை shirked மற்றும் அவர்களுக்கு
பதிலாக ஏனெனில் 1600 கோடி செலவு சிஈசி EVM சம்பத் கோரிக்கை மீது
படிப்படியாக முறையில் மோசடி Tamperable வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் உள்ள
அனுமதிப்பதன் மூலம் தீர்ப்பு ஒரு தவறைச் செய்த மற்றும் நாட்டின் ஜனநாயகம்
ஒரு மரண அடியை தீர்க்கப்பட.

வாக்குச்
சீட்டில் அமைப்பு கொண்டு வரப்பட வேண்டும் முன்னாள் தலைமை கோரவில்லை.
அத்தகைய முன்னெச்சரிக்கை நடவடிக்கையாக உச்ச நீதிமன்றம் மூலம் விதிக்கப்
பட்டது.
முன்னாள்
தலைமை காலம் வரை பற்றிய 1300000 வாக்களிப்பு இயந்திரங்களை இந்த புதிய
தொகுப்பு முழு உற்பத்தி மற்றும் முற்றிலும் நிறுத்தப்பட்டுள்ளது என்று
கோரவில்லை.
உலகில் 80 குடியாட்சிகளில் அனைத்து மக்கள் வெறுமனே fradulent வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் அங்கிருந்து செய்துள்ளார் யார். எனவே ஜனநாயகம் நம்பிக்கை அனைவருக்கும் மக்கள், சுதந்திரம், சமத்துவம்
மற்றும் சகோதரத்துவம் ஜனநாயக நிறுவனங்கள் (மோடி) மற்றும் ஒரு அற்புதமான
அரசியலமைப்பின் இந்த நாட்டின் அவர்களின் ஆட்சிமுறை கொலைகாரர்கள்
அங்கீகரிக்க கூடாது.

ஒரு தெளிவான சான்றாக,:
அது
மோசடி பாதிக்கப்படலாம் வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் மூலம் நடத்தப்படும்
மக்களவைத் தேர்தலில் ஒரு ஆசனத்தைக் கூட வெல்ல முடியவில்லை போது மாயாவதி
முன்னாள் முதல்வர் பகுஜன் சமாஜ் கட்சியின் உத்தரப் பிரதேசம் மற்றும் தலைமை
(பகுஜன் சமாஜ் கட்சி), காகித வாக்குகள் மூலம் நடத்தப்படும் பஞ்சாயத்து
தேர்தலில் வெற்றி பெற்றது.
உ.பி.
முதல்வர் என, அவரது ஆட்சி சமூகத்தின் அனைத்து பிரிவினரையும் மத்தியில்
விகிதத்தில் செல்வம் விநியோகித்து சிறந்த இருந்தது, இந்த நாட்டின் பிரதமர்
ஆக தகுதியைப் பெற்றது.
இந்த பாரம்பரிய manuvadis பொறுத்துக் இல்லை. எனவே மோசடி வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் அவளை தோற்கடிக்க குறுக்கிட்டுவிடமுடியும் இருந்தது.

http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903

பாஜக ‘மத அடிப்படைவாதம்’ பரவிவருகிறது, மாயாவதி.

பகுஜன் சமாஜ் கட்சி தலைவர் மாயாவதி, பாஜக ‘ஏய் நாட்கள்’ விவசாயிகள், ஏழை,
சிறு வணிகர்களுக்கு அணுஆயுத நம்பிக்கையில் கெடுத்து விட்டது என்றார்.

பகுஜன் சமாஜ் கட்சி (BSP) தலைவர் மாயாவதி ஒரு ‘இந்துத்துவ ராஜ்யம்’
நாட்டை மாற்ற முடியும், அதன் முயற்சியில் “மத அடிப்படைவாதம்” மற்றும்
வெறுப்பை பரவலாக்கும் பாரதிய ஜனதா கட்சி (BJP) குற்றம் சாட்டினார்.

 பாஜக ‘ஏய் நாட்கள்’ விவசாயிகள், ஏழை மக்கள் மற்றும் சிறு வர்த்தகர்கள்
மற்றும் முதலாளிகள் மற்றும் தொழிலதிபர்கள் மட்டுமே ஒரு “சில” க்கான
பயனடைந்தனர் அணுஆயுத நம்பிக்கையில் கெடுத்துவிட்டது.

“ஒரு முயற்சியாக விலைவாசி உயர்வு, பெரிய அளவிலான பொது மக்களின் கோபம்,
பாஜக மற்றும் அதன் நிறுவனங்கள் மத அடிப்படைவாதம், பரஸ்பர வெறுப்பு மற்றும்
போலி தேசியவாதம் போன்ற பிரச்சினைகள் தூண்டும் முயற்சி வழிவகுத்த வரி
விதித்ததை போன்ற பிரச்சினைகளில் இருந்து மக்களின் கவனத்தை திசை
திருப்புவதற்காக,” என்று அவர் கூறினார்.

அவர் பாஜக ஒரு “இந்துத்துவ ராஜ்யம்” அதன் பெற்றோர் அமைப்பு ஆர்எஸ்எஸ்
இந்த நாட்டில் மாற்ற இன் “குறுகிய மற்றும் சாதிய தத்துவம்” பின்வரும் என்று
கூறினார்.

இந்த வழிவகையில், அது தேசிய மற்றும் பொது வட்டி தியாகம் மற்றும்
“முழுமையாக அலட்சியம்” வறுமை, வேலையின்மை, அமைதி மற்றும் விலைவாசி உயர்வு
போன்ற விஷயங்களில், அவரது மேற்கோளிட்டு அறிக்கை கூறினார்.

ஊழல் பிரச்சினை பற்றி குறிப்பிடுகையில், தன்னை காங்கிரஸ், BJP ஒரே நாணயத்தின் இரண்டு பக்கங்களே கூறினார்.

“வழி பிஜேபி அரசாங்கம் ஊழல் பாதுகாக்க முயற்சி, அது வரும் ஆண்டுகளில் காங்கிரஸ் ஊழல் அடித்து என்று சாத்தியம்,” என்று அவர் கூறினார்.

அவள் மாநிலங்களில் பிஜேபி மற்றும் காங்கிரஸ் அரசாங்கங்கள் எஸ்.சி /
எஸ்.டி எதிராக அட்டூழியங்கள் மற்றும் சமுதாயத்தில் நலிவடைந்த பிரிவைச்
சேர்ந்த அந்த ஈடுபட்டுள்ளதாக கூறப்படுகிறது.

“அவர்கள் தங்கள் வாழ்நாள் முழுவதும், SC / ST சின்னங்கள் எதிர்த்த
போதிலும், அவர்களின் அரசியல் நலன்களை முன்னெடுக்க, இப்போது தங்கள்
பெயர்களை பயன்படுத்த,” முன்னாள் உத்தர பிரதேச முதல்வர் கூறினார்

2.
இப்போது சிஈசி அனைத்து வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் 2019 பொதுத் தேர்தலில் மாற்றப்படும் என்று கூறுகிறார்.

http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms

காகித-பாதை மின்னணு வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் வேண்டும் 2019 பொதுத் தேர்தலில்: நசீம் ஜைதி சிஈசி

3. பாஜக எதிர்க்கட்சி மே வீரகள் பேப்பர் வாக்குச்சீட்டுக்களை இருந்த
போது வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் பொது மீளாய்வு உட்படுத்தப்பட்டனர் என

http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html

மின்னணு வாக்குப்பதிவு எந்திரங்களை (வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள்)
அரசியல் கட்சிகளால் கேள்வி வருகின்றன இதில் reliablity தொடர்பாக சர்ச்சை
சேர்வது, மே டி மீண்டும் முயற்சி மாற்றியமைக்க தேர்தல் ஆணையம் (இசி)
கேட்டார் மற்றும் காகித வாக்குகள் சோதனை …

ஆனாலும்
அவர்கள் அவர் சரியான பாதையில் பாதங்கள் என்று நிரூபிக்கிறார் அவர் மீதான
என்றழைக்கப்படும் தோண்டி உட்பட தியேட்ரிக்ஸுடன் அனைத்து வகையான
ஈடுபட்டுள்ளன.
பாபாசாகேப்
அம்பேத்கர் ஒரு பிராமணர் பிரச்சனையில் எஸ்.சி / எஸ்.டி முயற்சிக்கும்
போது அவர்கள் சரியான பாதையில் இருக்கிறோம் என்று அர்த்தம் என்று
கூறினார்.
ஆர்எஸ்எஸ்
மற்றும் பாஜக உள்ளிட்ட அதன் avathars cowherds மற்றும் அவர்கள் இயல்பு
சகிப்புத் தன்மை இன்மையையும் வெறுப்பையும் வன்முறை, போராளி முழு இவை
அனைத்து தங்கள் பொல்லாத நடவடிக்கைகள் affraid என்பதால் காகங்கள்
பயமுறுத்தும்.
அவர்கள் மன தஞ்சம் மன சிகிச்சை வேண்டும் என்று இந்த தீய நடைமுறைகள் மூலம்
மனவளர்ச்சி குன்றிய மனநோயாளிகள் பித்தர் மற்றும் பைத்தியம் மாறிவிட்டன.

http://swarajyamag.com/politics/how-can-dalits-come-out-of-the-elite-controlled-victimhood-narrative

கம்யூனிஸ்டுகள் அதே 1% chitpawan பிராமணர் சாதி பிரமிடு மற்றொரு
பக்கத்தில் மற்ற இரு பக்கங்களின் Bahuth Jiyadha Psychopaths மற்றும்
காங்கிரஸ் இருப்பது

    அவர்கள் இனி வசதியாக தங்கள் உண்மையான அவல நிலை புறக்கணிக்கும் போது அவர்கள் விரும்பிய அம்பேத்கர் பாகங்கள் ஒதுக்குமாறு முடியும்.

    அவே நிரந்தர பாதிக்கப்பட்ட-பேட்டை, ஜனநாயக insitutions கொலை (மோடி)
‘கள் அவா பொருளாதார தாராளமயமாக்கல் என்ற மந்திரத்தை அரசியலில் இருந்து
பொதுவான, SC / இடது-காங்கிரஸ் சூழல் அமைப்பு கூட விழுங்க கடினமாக
கண்டுபிடித்து உள்ளது எஸ்.டீ.க்களில் மத்தியில் எந்த நரம்பாகியது இல்லை.

ஏன் அம்பேத்கரியம் நாட்டில் ஹாட் கேக் போன்ற விற்பனை? அனைவரும் அம்பேத்கர் கேக் ஒரு துண்டு வேண்டுமாம். ஏனெனில் அவர்களின் ஆதிக்கம் செலுத்தும் அணுகுமுறை வெளிப்படும் நடந்தது
ஏனெனில் அவர்கள் என்றென்றும் எஸ்.சி / எஸ்.டி ஏமாற்ற முடியாது என்று பயம்
அது.

அவர்கள்
முளைத்தது ஏனெனில் காங்கிரஸ், இடதுசாரிக் கட்சிகள் தைக் கண்டித்து மற்றும்
நாட்டின் மீது கலாச்சார நிகழ்ச்சி நிரலைத் திணிக்க அரசியல் சாசன மோசடி
மற்றும் dissent.SC/ST தட்டுக்கள் சுதந்திரம் கட்டுப்படுத்தும் நோக்கில்,
பாரதிய ஜனதா கட்சியின் முயற்சிகள் குறித்த அழ / ஆர்வலர்கள் இந்த கட்சிகள்
நம்பிக்கை இல்லை
அம்பேத்கர் மற்றும் எந்த நேரத்தில் ஒரு விஷயத்தை தங்கள் காதல்
வெளிப்படுத்தவும் அவர்களின் காலில் வரை, சமூக தளங்களில் Manuwad எதிராக
எரிச்சலோடு கருத்துக்கள், இந்து மதம் கடவுளர்கள் மற்றும் பெண்
கடவுளர்களின் மற்றும் இந்து மதம் மத வேதங்களையும் வெள்ளம்.

இந்த
இடது தங்கள் அரசியல் வடிவமைப்புகளை பாதுகாக்க, நீண்ட நாட்களாக,
தலைவருக்கும் கீழ்ப்பட்டவர் குழுக்கள் சார்பு மூலம் வேலை நிலையான வழக்கமான
ஒன்று தான்.
வரை மற்றும் அவர்கள் பாதிக்கப்பட்ட அட்டை விளையாட மற்றும் முதலைக் கண்ணீர் வடிக்கும் வரை, அவற்றை எவரும் தீவிரமாக எடுக்க போகிறது. அவர்கள் பிற்பகுதியில், சில குரல்கள் மிகவும் சரியாக எனவே இட ஒதுக்கீடு
பரிசீலனைக்கு அழைப்பு உயர்த்தி வருகின்றன என்ற உண்மை மீது எரிச்சல்.

அவர்கள்
தவறாக வழிநடத்துவதன் மூலம், SC / ST மக்கள் தொகையில் கீழ் அடுக்குகளில்
முட்டாளாக்கி செய்யப்பட்டனர் படித்த மத்தியதர வர்க்கம், SC / அனைத்து
ஒதுக்கீடு நன்மைகள் மூலைகள் கொண்டிருந்தவர் என எஸ்.டீ.க்களில் என்று.
இதுவரை தீண்டாமை பொறுத்தவரை நடுத்தர வர்க்கம் அல்லது கீழ் சாதி அல்லது நிலமற்ற தீண்டத்தகாதவர்கள் அப்படி ஒன்றும் இல்லை. அனைத்து, இந்த ஆதிக்கம் செலுத்தும் chitpawan பிராமணர் கட்சிகள் ஒரே அவமானப்படுத்தி சக்தி எப்போதும் பேராசை. அவர்கள் எப்போதும் தங்கள் பிரித்தாளும் கொள்கைகளுக்கு ஒன்றுக்கொன்று எதிராக சாதி அமைக்க முயற்சி. பாஜக
எப்போதும் chithpawan பிராமணர்கள் உலகின் மிக அறிவார்ந்த மக்கள் என்று
சொல்ல முயற்சி மற்றும் அனைத்து மற்றவர்கள் கேழ்வரகு balls.The
கம்யூனிஸ்டுகள் தொழிலாளர்கள் அதிகாரிகள் ஆக எஸ்.சி / எஸ்.டி சேர்ந்த
ஒருபோதும் விரும்பவில்லை உள்ளன.
ஒரு, SC / ST தொழிலாளி தொழிலாளியாக ஐந்தாவது தர மாறியது போது ஒருமுறை அவர் ஒரு அதிகாரி ஆக தகுதி பெற்றவராக இருந்தார். எந்த, SC / ST தொழிலாளி எப்போதும் ஒரு அதிகாரி ஆக முடியும் என்று ஆனால் கம்யூனிச தொழிற்சங்கங்கள் 10 தரங்களாக உருவாக்கப்பட்ட. அவர்கள் ஒரு தொழிலாளி எப்போதும் ஒரு தொழிலாளி இருக்க வேண்டும். அதை
அவர்கள் வேலையில் ஈடுபட்டார்கள் கூட நிரந்தர இயற்கையின் என்று தினக்
கூலிகள் ஊக்கம் ஏனெனில் பின்னர் அவர்கள் ஒருபோதும் தனியார்மயமாக்கலை
எதிர்த்து.
பாஜக
மற்றும் காங்கிரஸ் போன்ற கம்யூனிஸ்டுகள் சில மாநிலங்களிலும் மத்திய
அரசாங்கத்தின் ஒரு பகுதியாக ஆட்சி என்றாலும் அவர்கள் கீழ்த்தரமான
மேல்நோக்கி கவலை இல்லை மற்றும் அவர்கள் நன்மைகளை இவர்களில் பலரும்
நாட்டின் கிராமப்புறப் பகுதிகளுக்கும் பரவியது துன்பப்படுகின்றனர் சென்று
சேரும் அனுமதிக்க முடியாது பிடிவாதமாக உள்ளனர்.
உரத்த
குரலில் சொல்லாட்சி நாடுவதன் மூலம், அவர்கள் ஒரு ghettoised வாழ்க்கை வாழ
சமூகம் மற்றும் நிர்ப்பந்திக்கும் பெரும்பான்மை, SC / ST வெகுஜனங்களை
வேற்றுமை விதைகளை விதைத்துக் கொண்டிருக்கிறார்கள்.
வெளிப்படையாக, அவர்கள் அம்பேத்கரியம் நாட வேண்டும் இந்த அவர்கள்
அவர்களுடைய தீய வடிவமைப்புக்கள் பெருகுகின்றன வெட்கமின்றி பயன்படுத்தி
வருகின்றனர் என்று கருவி உள்ளது, ஏனெனில்.

SC
/ ST பிரிவினருக்கு புத்திஜீவிகள் பிரதம நேரம் தொலைக்காட்சி நிகழ்ச்சிகள்
மற்றும் இணைய உள்ளிட்ட பிற ஊடகங்களின் இருக்க வேண்டும்;
அம்பேத்கர் அவர்களுக்கு ரொட்டி மற்றும் வெண்ணெய் பிரச்சினை. அவர்கள்
மட்டுமே அவர்கள் அம்பேத்கர் ஆராய்வதற்காகவும் அம்பேத்கர் அவர்களின்
சொத்து உள்ளது என உரிமை வேண்டும் என்று நான் நினைக்கிறேன்.
நீண்ட வரை அவர்கள் உச்சிவரை அம்பேத்கர் பயன்படுத்த வேண்டும். வரைவு
அரசியலமைப்பு அரிதாகத்தான் எஸ்சி இருந்து ஒரு விருதினை பெற முற்போக்கு
தொழிலாளர் சட்டங்களும், பாலினம் அதிகாரமளித்தல் அவரது பார்வை மற்றும்
அவரது முன்னோடி முயற்சிகளில் கடத்தலுக்கு அம்பேத்கரின் பங்களிப்பு /
அம்பேத்கர் அனைத்து மேல் கொண்டு எஸ்.சி / எஸ்.டி, இட ஒதுக்கீடு மற்றும்
கருத்து வேறுபாடுகளை பற்றி போல் நினைக்கிறேன், ST ஆர்வலர்கள் யார்
சாதிகள்.

இப்போது
அவர்கள் மாயாவதி தான் டெக்னோ-அரசியல்-சமூக மாற்றம் மற்றும் பொருளாதார
விடுதலை இயக்கம் அமைதி, எஸ்சி / STRs / இதர பிற்படுத்தப்பட்ட
வகுப்பினருக்கு / சிறுபான்மையினர் மற்றும் ஏழை பிராமணர்கள் மற்றும் Baniyas
இது உட்பட அனைத்து சமூகங்களின் welafre மற்றும் சந்தோஷத்தை, Sarvajan
Hithaye Sarvajan Sukhaye அதாவது இது இருக்கிறது
உத்தரப் பிரதேசம் நன்றாக வேலை. அனைத்து சங்கங்களின் மாயாவதி சிறந்த ஆட்சியின் கீழ் சந்தோஷமாக இருந்தோம். எனவே
chitpawan பிராமணர் கட்சிகள் அவள் எங்கள் அரசியல் சாசனத்தில்
பொதிந்துள்ளது ஜனநாயகம், சுதந்திரம், சமத்துவம் மற்றும் சகோதரத்துவம்
சேமிக்க மற்றும் 1% chitpawan பிராமணர்கள் மூலம் செயல்படுத்தப்படும்
மநுஸ்மிருதி தடுக்க பிரதமர் ஆக வேண்டும் என்று பயமாக இருக்கிறது.

19) Classical Punjabi
19) ਕਲਾਸੀਕਲ ਦਾ ਪੰਜਾਬੀ

1842 Thu 21 ਅਪਰੈਲ 2016
ਸਬਕ

ਤੱਕ

ਸਮਝ-net-ਆਨਲਾਈਨ A1 (ਇਕ ਜਾਗ) ਭਗਵਤ ਰਿਸਰਚ ਅਤੇ ਪ੍ਰੈਕਟਿਸ ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ
ਵਿਜ਼ੂਅਲ ਫਾਰਮੈਟ ਵਿੱਚ (FOA1TRPUVF)
http://sarvajan.ambedkar.org ਦੁਆਰਾ
aonesolarpower@gmail.com

ਕਲਾਸੀਕਲ ਬੁੱਧ (ਜਾਗਰੂਕਤਾ ਦੇ ਨਾਲ ਜਗਾਇਆ ਦੇ ਉਪਦੇਸ਼) ਸੰਸਾਰ ਨੂੰ ਨਾਲ ਸੰਬੰਧਿਤ ਹੈ, ਅਤੇ ਹਰ ਕੋਈ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਅਧਿਕਾਰ ਹਨ: JC

ਇਸ Google ਅਨੁਵਾਦ ਅਤੇ ਪ੍ਰਸਾਰ ਕਰਨ ਲਈ ਇੱਕ ਦੇ ਮਾਤਾ-ਬੋਲੀ ਵਿਚ ਇਸ ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ
ਦੇ ਇਕ ਸਬਕ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਸਹੀ ਅਨੁਵਾਦ ਪੇਸ਼ਕਾਰੀ ਇੱਕ ਧਾਰਾ ਨੂੰ Enterer
(Sottapanna) ਬਣਨ ਲਈ ਅਤੇ ਇੱਕ ਫਾਈਨਲ ਟੀਚਾ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਅਨਾਦਿ Bliss ਨੂੰ ਪ੍ਰਾਪਤ
ਕਰਨ ਲਈ ਹੱਕਦਾਰ.

ਜਾਗਰੂਕਤਾ ਨਾਲ ਜਗਾਇਆ ਇਕ ਦੀ ਸਿੱਖਿਆ ਦਾ ਪ੍ਰਚਾਰ ਵੈੱਬਸਾਈਟ ਦੀ ਸੂਚੀ ਭਾਵ, ਬੁੱਧ Tripitaka ਵਿਚ ਵਿਜ਼ੁਅਲ ਫਾਰਮੈਟ ਨੂੰ

http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907
http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1.
http: // ਨਿਊਜ਼. xinhuanet. com / ਅੰਗਰੇਜ਼ੀ / 2009-07 / 27 / content_11780918 .htm
www.chinaview. ਚੀਨ
www.buddhismandbusi ness.webs. com
http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/
www.grameenfoundation.org

http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/
http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf

http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/

http://scroll.in/article/806815/in-sounding-the-bugle-for-2017-polls-in-uttar-pradesh-mayawati-did-not-spare-anyone

ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ‘ਚ 2017′ ਚ ਲਈ ਬਿਗਲ ਗੂੰਜਣ ਵਿੱਚ, ਮਾਇਆਵਤੀ ਕਿਸੇ ਵੀ ਵਿਅਕਤੀ ਨੂੰ ਬਖਸ਼ਿਆ ਨਾ ਕੀਤਾ
ਉਸ ਨੂੰ ਪਹਿਲ ਸਾਫ ਹਨ:, ਮੁਸਲਮਾਨ ਨੂੰ ਬਾਹਰ ਪਹੁੰਚਣਾ ਅੰਬੇਦਕਰ ਦੀ ਵਿਰਾਸਤ ਦਾ
ਦਾਅਵਾ ਰੱਖਣ ਕਿਸੇ ਵੀ ਵਿਅਕਤੀ ਨੂੰ ਲਈ ਉਸ ਨੂੰ ਐਸਸੀ / ਐਸਟੀ ਵੋਟ ਦੀ ਰਾਖੀ, ਕੁਝ
ਪਸੰਦ ਸ਼ਬਦ ਦੇ ਨਾਲ.

ਕਰਨਾ ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ਪਿਛੜੀ Elite ਨਿਯੰਤਰਿਤ Victimhood ਵਾਰਤਾ ਦੇ ਬਾਹਰ ਆ ਸਕਦਾ ਹੈ

ਮਾਇਆਵਤੀ
ਇਸ ਨੂੰ ਸਾਫ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਉਸ ਨੂੰ ਅਗਲੇ ਸਾਲ ਦੇ ਵਿਧਾਨ ਸਭਾ ਚੋਣ ਵਿਚ ਉਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼
ਵਿਚ ਬਿਜਲੀ ਹਾਸਲ ਕਰਨ ਲਈ ਇੱਕ ਸੋਲੋ ਰਨ ਬਣਾਉਣ ਕੀਤਾ ਜਾਵੇਗਾ ਕੀਤਾ ਹੈ.
ਉਸ ਨੇ ਇਹ ਵੀ ਉਸ ਦੇ ਵਿਰੋਧੀ ਉਸ ਨੂੰ ਕੋਰ ਐਸ.ਸੀ. / ਐਸ.ਟੀ ਵੋਟ ਬਕ ਬੰਦ ਰਹਿਣ ਲਈ,
ਜਦਕਿ ਰਾਜ ਵਿਚ ਮੁਸਲਿਮ ਘੱਟ ਗਿਣਤੀ ਦੇ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਨਵ ਵਧ ਰਹੀ ਸਹਿਯੋਗ ਨੂੰ ਅਧਾਰ ਨੂੰ
ਆਕਰਸ਼ਿਤ ਦੀ ਉਸ ਨੂੰ ਕਰਨ ਲਈ ਮਹੱਤਤਾ ਦਾ ਸੰਕੇਤ ਨੂੰ ਚੇਤਾਵਨੀ ਦਿੱਤੀ ਗਈ ਹੈ.

ਬਹੁਜਨ
ਸਮਾਜ ਪਾਰਟੀ ਦੇ ਮੁਖੀ ਨੇ ਉਸ ਨੂੰ ਪਾਰਟੀ ਦੁਆਰਾ ਪਿਛਲੇ ਹਫਤੇ ਆਯੋਜਿਤ ਵਿਸ਼ਾਲ ਪਬਲਿਕ
ਰੈਲੀ ‘ਤੇ ਇਹ ਅਤੇ ਕਈ ਹੋਰ ਮੁੱਖ ਸਿਆਸੀ ਸੰਕੇਤ ਬਾਹਰ ਭੇਜਿਆ ਰਾਜ ਦੀ ਰਾਜਧਾਨੀ ਲਖਨਊ
ਵਿਚ ਬਾਬਾ ਸਾਹਿਬ ਭੀਮ ਰਾਓ ਅੰਬੇਦਕਰ ਦੇ 125 ਜਨਮ ਵਰ੍ਹੇਗੰਢ ਮਨਾਉਣ ਲਈ ਬਸਪਾ ਦੇ ਲੋਕ
ਸਭਾ ਚੋਣ ਦੇ ਬਾਅਦ ਸ਼ਾਇਦ ਉਸ ਨੂੰ ਸਭ ਮਹੱਤਵਪੂਰਨ ਭਾਸ਼ਣ ਵਿਚ
2014 ਵਿੱਚ ਹਾਰ.

ਉਸ ਦੇ ਸਮਰਥਕ ਕੇ ਆਯੋਜਿਤ ਇਕ ਵੱਡੀ ਲਟਕਾ ਇੱਕ ਕੋਟ ਅਤੇ Sari ਕਿਸੇ ਵੀ ਪਾਸੇ ‘ਤੇ ਬਾਬਾ ਅਤੇ ਕਾਸ਼ੀ ਰਾਮ ਨੇ ਆਪਣਾ ਰਵੱਈਆ ਵਿਚ ਮਾਇਆਵਤੀ ਸੀ. ਉਹ
ਉਸ ਨੂੰ ਸਰਕਾਰ ਨੇ ਬਣਾਇਆ ਅਲੋਕਿਕ ਯਾਦਗਾਰ ਦੇ ਸਾਹਮਣੇ ਖੜ੍ਹੇ ਸਨ, ਜਦ ਸੱਤਾ ਵਿਚ ਇੱਕ
ਦਹਾਕੇ ago ਅਨੁਸੂਚਿਤ ਦੇ ਆਈਕਾਨ ਦਾ ਸਨਮਾਨ / ਸ੍ਟ੍ਰੀਟ / ਓ ਲਹਿਰ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਹਾਥੀ
ਹੇਠ ਜਦਕਿ ਅਸਮਾਨ ਤੱਕ ਝੋਲੀ ਮੁਸਕਰਾਇਆ ਬੁੱਧ ਦੇ ਇੱਕ ਛੋਟੇ ਪ੍ਰਤੀਕ੍ਰਿਤੀ ਘਾਹ ‘ਤੇ
frolicked.
ਲਟਕਾ ਭਰ ਰਾਜਧਾਨੀ ਅੱਖਰ “ਅੱਗੇ ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ‘ਵਿਚ ਗ੍ਰੰਥੀ ਗਿਆ ਸੀ.

ਮੁਹਿੰਮ 2017

ਰੈਲੀ
‘ਚ symbolism ਅਤੇ ਮਾਇਆਵਤੀ ਦੇ ਭਾਸ਼ਣ ਦੀ ਦਰਾਮਦ’ ਤੇ ਜ਼ੋਰ ਦਿੱਤਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਇਸ
ਨੂੰ ਸੱਚਮੁੱਚ ਰਾਜ ਵਿਧਾਨ ਸਭਾ ਚੋਣ ਲਈ ਆਪਣੀ ਮੁਹਿੰਮ ਦੀ ਸ਼ੁਰੂਆਤ ਅਜੇ ਵੀ ਇੱਕ ਸਾਲ
ਦੂਰ ਸੀ.
ਦਿਲਚਸਪੀ
ਦੀ ਗੱਲ ਹੈ ਬੋਲਣ ਦੀ ਬਹੁਤ ਕੁਝ ਬਾਬਾ ਸਾਹਿਬ ਅੰਬੇਦਕਰ ਅਤੇ ਆਪਣੇ ਮਨਸੂਬੇ ਐਸ.ਸੀ. /
ਐਸ.ਟੀ ਵੋਟ ਚੋਰੀ ਕਰਨ ਦੀ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਦੀ ਵਿਰਾਸਤ ਨੂੰ ਝੂਠੇ ਦਾਅਵੇ ਰੱਖਣ ਵਿਚ ਹੋਰ
ਸਿਆਸੀ ਧਿਰ ਦੀ ਜ਼ੁਬਾਨ ਨੂੰ ਸਮਰਪਿਤ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ.
ਉਸ ਨੇ ਕੋਈ ਵੀ ਬਖਸ਼ਿਆ.

ਜਮਹੂਰੀ
ਅਦਾਰੇ ਦੇ ਕਾਤਲ (ਮੋਦੀ) ਅਤੇ ਸੰਘ ਪਰਿਵਾਰ ‘ਤੇ ਤਿੱਖੇ ਹਮਲੇ Unleashing, ਮਾਇਆਵਤੀ
ਸਾਫ਼ ਉਸ ਨੂੰ ਅਤੇ ਜਿਹੜੇ ਭਾਰਤੀ ਜਨਤਾ ਪਾਰਟੀ ਦੇ ਆਗੂ ਜੋ ਪਿੱਛੇ ਜਾਤੀ ਜ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ
ਰਾਸ਼ਟਰੀ ਸੋਇਮ ਸੰਘ ਦੇ “ਬੰਧੂਆ ਮਜ਼ਦੂਰ” ਅਤੇ ਇਸ ਦੇ ਵੱਡੇ ਜਾਤੀ ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ਪਿਛੜੀ
ਹਨ ਦੱਸਿਆ ਗਿਆ ਹੈ
ਏਜੰਡਾ. ਉਸ
ਨੇ ਕੇਸ਼ਵ ਪ੍ਰਸਾਦ ਮੌਰਿਆ, ਨਵੇ ਨਿਯੁਕਤ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ‘ਚ ਪਿੱਛੇ ਜਾਤੀ ਭਾਜਪਾ ਦੇ
ਪ੍ਰਧਾਨ ਨੇ ਉਸ ਨੂੰ ਇਕ “ਅਪਰਾਧੀ ਅਤੇ ਫਿਰਕੂ” ਦਾ ਰਿਕਾਰਡ ਹੋਣ ਦੇ ਦੋਸ਼’ ਤੇ ਖਾਸ ਤੌਰ
‘ਤੇ ਸਖ਼ਤ ਸੀ.
ਉਸ ਨੇ ਇਹ ਵੀ ਰਾਮ ਮੰਦਰ ਮੁੱਦੇ ਨੂੰ ਮੁੜ ਸੁਰਜੀਤ ਕਰਨ ਲਈ ਭਾਜਪਾ ਦੇ ਯਤਨ
debunked, ਸੁਪਰੀਮ ਮੂਰਖ ਨੂੰ ਇੱਕ ਜਾਲ / ਪਿਛੜੀ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਇਸ ਦੀ ਜਾਣਕਾਰੀ ਲਈ.

“ਸਾਡਾ ਮਸੀਹਾ ਨੂੰ ਬਾਬਾ ਸਾਹਿਬ ਅੰਬੇਡਕਰ, ਨਾ, ਪ੍ਰਭੂ ਰਾਮ ਹੈ,” ਮਾਇਆਵਤੀ ਨੇ ਕਿਹਾ

ਪਰ
ਜੇ ਬਸਪਾ ਨੇਤਾ ਦੀ ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ (ਮੋਦੀ) ਅਤੇ ਉਸ ਦੀ ਪਾਰਟੀ ਦੇ ਕਾਤਲ ਦੀ ਦਰਗਾਹ ਦੇ
ਆਲੋਚਨਾ ਦੇ ਅੱਗੇ ਜ ਰਾਜ ਦੇ ਚੋਣ ਦੇ ਬਾਅਦ ਉਸ ਨੂੰ ਅਤੇ ਭਾਜਪਾ ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਇੱਕ ਗੁਪਤ
ਸੌਦਾ ਦੇ ਬਾਰੇ ਕਿਆਸ scotched, ਉਸ ਲਈ ਪਾਰਟੀ ਦੇ ਨਾਲ ਕਿਸੇ ਵੀ ਸੰਭਵ ਸਹਿਯੋਗ ਕਰਨ
ਲਈ ਵੀ ਇਸੇ ਕੀਤਾ ਹੈ
ਆਉਣ ਚੋਣ. ਦਰਅਸਲ,
ਮਾਇਆਵਤੀ ਪਾਰਟੀ ਨੂੰ ਇਸ ਦੇ ਪਿਛਲੇ ਆਗੂ ਨੇ ਅੰਬੇਦਕਰ ਦੇ ਅਪਮਾਨ ਨੂੰ ਯਾਦ ਤਿੱਖੀ
ਅਲੋਚਨਾ ਦੇ ਨਾਲ ਨਾਲ ਐਸ.ਸੀ. / ਐਸ.ਟੀ ਨਿਵਾਰਨ redressing ਵਿਚ ਲਗਾਤਾਰ ਪਾਰਟੀ
ਸਰਕਾਰ ਦੇ ਵਿਨਾਸ਼ਕਾਰੀ ਦਾ ਰਿਕਾਰਡ ਨੂੰ ਸੂਚੀ ਵਿੱਚ ਹੈ ਅਤੇ ਆਪਣੇ ਮੰਗ ਨੂੰ ਸੰਬੋਧਨ
ਵਿਚ ਹੋਰ ਵੀ ਵਾਰ ਖਰਚ.
ਉਸ ਨੇ ਖੁੱਲ੍ਹ ਕੇ Rohith Vemula, ਹੈਦਰਾਬਾਦ ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਸੁਪਰੀਮ ਖੋਜ ਵਿਦਵਾਨ
ਹੈ ਜੋ ਹਾਲ ਹੀ ਵਿਚ ਖੁਦਕੁਸ਼ੀ, ਬਾਬਾ ਨਾਲ ਤੁਲਨਾ ਵਿਚ ਉਸ ਦੇ “ਵਸਆਣਿ” ਲਈ ਪਾਰਟੀ ਦੇ
ਉਪ ਪ੍ਰਧਾਨ ਰਾਹੁਲ ਉਡਾਇਆ.

ਨਾ ਹੀ ਬਸਪਾ ਨੇਤਾ ਅੰਬੇਦਕਰ ਅਤੇ ਐਸ.ਸੀ. / ਐਸ.ਟੀ ਦੀ ਸਿਆਸਤ ਵੱਲ ਖੱਬੇ ਦੇ ਨਵ ਭਾਵਨਾ ਨਾਲ ਪ੍ਰਭਾਵਿਤ ਵਿਖਾਈ ਸੀ. ਜਵਾਹਰ
ਲਾਲ ਨਹਿਰੂ ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਵਿਦਿਆਰਥੀ ਯੂਨੀਅਨ ਦੇ ਪ੍ਰਧਾਨ ਕਨ੍ਹਈਆ ਕੁਮਾਰ, ਜੋ ਖੱਬੇ
ਪੱਖੀ ਅਤੇ ਅੰਬੇਡਕਰੀ ਦੀ ਰਾਜਨੀਤੀ ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਗੱਠਜੋੜ ਦੀ ਵਕਾਲਤ ਕੀਤੀ ਗਈ ਹੈ,
ਮਾਇਆਵਤੀ, ਜੋ ਕਿ ਉਸ ਨੇ ਇੱਕ ਉੱਚ ਜਾਤੀ ਨਾਲ ਸਬੰਧਤ ਬਾਹਰ ਇਸ਼ਾਰਾ ਹੈ ਅਤੇ ਕਮਿਊਨਿਸਟ
ਵਿਚਾਰਧਾਰਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਸੁਧਾਰੀ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਕੇ ਕੁੜਮਾਈ ਤੱਕ ਵੱਖਰੇ ਲਈ ਗਾਹਕ ਤੱਕ ਬਣਾ
ਮਿਲੀ
ਅੰਬੇਦਕਰ.

ਵੀ Rohith Vemula ਬਖਸ਼ਿਆ ਨਾ ਗਿਆ ਸੀ. ਮਾਇਆਵਤੀ, ਜਦਕਿ ਅੰਬੇਡਕਰੀ ਦੀ ਰਾਜਨੀਤੀ ਕਰਨ ਲਈ ਉਸ ਦੇ ਵਚਨਬੱਧਤਾ ਲਈ ਉਸ ਦਾ ਆਦਰ
ਜ਼ਾਹਰ, ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਉਸ ਨੇ ਉਸ ਦੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਨੂੰ ਲਿਆ ਹੈ, ਨਾ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ ਅਤੇ
ਇਸ ਦੀ ਬਜਾਏ ਅੰਬੇਡਕਰ ਜੋ ਵੀ ਅਪਮਾਨ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ ਅਤੇ ਕੱਢਿਆ ਹੈ ਪਰ ਐਸ / ਪਿਛੜੀ ਲਈ
ਇਨਸਾਫ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ ਲਈ ਲੜਨ ਲਈ ਜਾਰੀ ਹੈ ਦੀ ਮਿਸਾਲ ਦਾ ਪਿਛਾ ਕੀਤਾ.

ਖੱਬੇ ਕਰਨ ਲਈ ਆਹਤ ਹੈ

ਕਨ੍ਹਈਆ
ਕੁਮਾਰ ਵਰਗੇ ਵਿੱਖੇ ਜੋ ਅੰਬੇਡਕਰੀ ਰਾਜਨੀਤੀ ਨਾਲ ਸ਼ਾਮਲ ਕਰਨ ਦੀ ਤਲਾਸ਼ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ
ਦੀ ਆਲੋਚਨਾ ਕਰ ਕੇ, ਮਾਇਆਵਤੀ ਇਸ ਨੂੰ ਸਾਫ ਉਸ ਨੇ ਉਸ ਨੂੰ ਐਸਸੀ / ਐਸਟੀ ਸਿਆਸਤ ਦੇ ਉਸ
ਦੇ ਆਪਣੇ ਹੀ ਮੈਦਾਨ ਵਿੱਚ ਕੀ ਤੇ ਵਿਚਾਰ ਵਿੱਚ ਹਥਿਆਉਣ ਹੋਰ ਨੂੰ ਪਿਆਰ ਨਾਲ ਲੈਣ ਲਈ
ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਬਣਾਇਆ ਗਿਆ ਹੈ.
ਇਸੇ
ਇੱਕ ਨਵ ਐਸ.ਸੀ. / ਐਸ.ਟੀ ਆਈਕਾਨ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ Vemula ਦੇ adulation ਨਾਲ ਉਸ
ਪਰੇਸ਼ਾਨੀ, ਵੀ ਉਸ ਦੇ ਦੁਖਦਾਈ ਮੌਤ ਦੇ ਹਾਲਾਤ ਨੂੰ ਹਮਦਰਦੀ ਹੈ, ਜੇ, ਹੀ ਸਥਾਪਤ ਕੀਤਾ
ਐਸ.ਸੀ. / ਐਸ.ਟੀ ਨੂੰ ਪੂਜਿਆ ਕਰਨ ਲਈ ਇੱਕ ਨਵ ਇਸ ਦੇ ਨਾਲ ਸਵੀਕਾਰ ਕਰਨ ਲਈ ਉਸ ਨੂੰ
ਰਾਜ਼ੀ ਪਤਾ ਲੱਗਦਾ ਹੈ.
ਉਹ
ਸ਼ਾਇਦ ਕੁਝ ਧਰਮੀ ਦੇ ਨਾਲ ਬਣਾਈ, ਜਿਸ ਨੇ ਵਿਰੋਧੀ ਅਤੇ ਅੱਤਿਆਚਾਰ ਦੇ ਵਿਰੁੱਧ ਲੜਿਆ
ਹੈ ਐਸ ਲੈ / ਐਸਟੀ ਅੱਗੇ ਕਾਰਨ ਅਤੇ Vemula ਜੋ ਉਸ ਦੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਸੁਪਰੀਮ
ਕੋਰਟ ਭਾਵ ਨੂੰ ਖਤਮ ਕਰਨ ਲਈ ਅੰਬੇਦਕਰ, ਕਾਸ਼ੀ ਰਾਮ ਅਤੇ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨੂੰ ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਇੱਕ
ਵੱਡਾ ਫਰਕ ਸੀ ਕਿ / ਐਸਟੀ ਨੂੰ ਰਾਜਨੀਤੀ ਨਾ ਸੀ
victimhood ਪਰ ਸਸ਼ਕਤੀਕਰਨ ਬਾਰੇ.

ਮਾਇਆਵਤੀ
ਦੇ ਭਾਸ਼ਣ ਦਾ ਇਕ ਹੋਰ ਜ਼ਰੂਰੀ ਪਹਿਲੂ ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ ਦੇ ਕਾਤਲ ਦੀ ਇੱਕ ਕਰੜੇ ਆਲੋਚਨਾ
ਵੀ ਸ਼ਾਮਲ ਹੈ ਕਿ ਮੁਸਲਿਮ ਘੱਟ ਗਿਣਤੀ ਦੇ ਮੁੱਦੇ ਦੇ ਉਸ ਦੇ espousal ਸੀ (ਮੋਦੀ) ਦੇ
ਅਲੀਗੜ੍ਹ ਮੁਸਲਿਮ ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਅਤੇ ਜਾਮੀਆ ਮਿਲੀਆ ਇਸਲਾਮੀਆ ਦੇ ਘੱਟ ਗਿਣਤੀ ਦੀ ਸਥਿਤੀ
ਨੂੰ ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ਲਈ ਯਤਨ.
ਮੁਸਲਿਮ ਘੱਟ ਗਿਣਤੀ ਨੂੰ ਉਸ ਵਧ ਰਹੀ ਆਊਟਰੀਚ, ਉਸ ਦੇ ਨੇੜੇ ਮੁਸਲਿਮ ਸਹਿਯੋਗੀ
ਨਸੀਮੂਦੀਨ ਸਿਦੀਕੀ ਨੂੰ ਜਨਤਕ ਰੈਲੀ ਦਾ ਆਯੋਜਨ ਵੀ ਉਸ ਨੂੰ ਲੰਬੇ ਉਸ ਦੇ ਮੀਡੀਆ
ਪ੍ਰਬੰਧਨ ਲਈ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਉਪ ਸਤੀਸ਼ ਮਿਸ਼ਰਾ ਭਰੋਸੇਯੋਗ ਮਾਣਿਆ ਲਈ ਉਸ ਦਾ ਸਾਥ ਦਾ ਧੰਨਵਾਦ
ਕਰ ਕੇ ਜ਼ੋਰ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ ਸੀ.

ਮੁਸਲਮਾਨ
ਨੂੰ ਵੀ ਪਿਆਰ ਦਾ ਜੇਹਾਦ ਅਤੇ ਬੀਫ ਪਾਬੰਦੀ ਵਰਗੇ ਹਾਲ ਹੀ ਫਿਰਕੂ ਮੁਹਿੰਮ ਦੀ ਮਾਇਆਵਤੀ
ਦਾ ਸਪਸ਼ਟ ਖੰਡਨ ਹੈ, ਜੋ ਉਸ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ (ਮੋਦੀ) ਦੀ ਅਸਫਲਤਾ ਦੇ
ਕਾਤਲ ਤੱਕ ਜਨਤਕ ਦਾ ਧਿਆਨ ਮੋੜ ਲਈ ਇੱਕ ਢੰਗ ਦੇ ਨਾਲ ਖੁਸ਼ ਹੋ ਜਾਵੇਗਾ.
“ਭਾਰਤ ਮਾਤਾ ਕੀ ਜੈ ‘ਵਿਵਾਦ ਦੇ ਲਈ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ, ਮਾਇਆਵਤੀ ਨੂੰ ਹੋਰ ਵੀ ਕਹੀ ਸੀ. “ਮੇਰੇ ਪਾਰਟੀ ਦੇ ਲੋਕ ਕਹਿੰਦੇ ਜੈ ਭੀਮ ਅਤੇ ਜੈ ਭਾਰਤ. ਦੂਸਰੇ ਕਹਿੰਦੇ ਹਨ ਜੈ ਹਿੰਦ, “ਇਸ ਨੂੰ ਸਾਫ ਉਸ ਨੂੰ ਰਾਸ਼ਟਰਵਾਦ ਨਾਲ bulldozed ਹੋਣ ਲਈ ਜਾ ਰਿਹਾ ਸੀ, ਜੋ ਵਿਅਕਤੀ ਹੈ.

ਹੋਰ
ਵੱਡੇ ਰੈਲੀ ‘ਚ ਮਾਇਆਵਤੀ ਨੇ ਦੇ ਦਿੱਤਾ ਜੋ ਕਿ ਸੁਨੇਹੇ, ਜਦਕਿ ਉਸ ਨੂੰ ਮੁਸਲਿਮ ਘੱਟ
ਗਿਣਤੀ ਦੀ ਸ਼ਿਕਾਇਤ ਨੂੰ ਐਸਸੀ / ਐਸਟੀ ਕਾਰਨ ਲਈ ਵਚਨਬੱਧ ਹੈ ਅਤੇ ਹਮਦਰਦੀ ਸੀ, ਉਸ ਨੂੰ
ਹੁਣ ਪਛਾਣ ਦੀ ਰਾਜਨੀਤੀ ਦੇ ਪਾਰ ਦੀ ਤਲਾਸ਼ ਸੀ.
“ਮੈਨੂੰ ਤੁਹਾਡੇ ਵਾਅਦਾ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਬਿਜਲੀ ਦੀ ਨੂੰ ਵਾਪਸ ਆਉਣ ਦੇ ਬਾਅਦ ਮੈਨੂੰ ਕੰਮ ‘ਤੇ ਧਿਆਨ ਦੇਵੇਗਾ”.
ਜਮਹੂਰੀ
ਅਦਾਰੇ (ਮੋਦੀ) ਅਤੇ 1% ਅਸਹਿਣਸ਼ੀਲ, ਅੱਤਵਾਦੀ, ਹਿੰਸਕ, ਪਾਗਲ, ਮਾਨਸਿਕ ਤੇਕਮਜ਼ੋਰ,
ਸ਼ੂਟਿੰਗ ਦੇ ਉੱਚ ਜਾਜਕ, ਆਦਮਖ਼ੋਰ Cowherd ਦਹਿਸ਼ਤ Crow psychopath chitpawan
ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. (Rakshasa Swayam ਸੇਵਕ) ਅਤੇ ਇਸ ਦੇ ਸਾਰੇ avathars ਭਾਜਪਾ
ਦੇ (Bahuth Jiyadha lynching ਦੇ ਕਾਤਲ
Psychopaths)
ਹਿੰਦੂ ਪ੍ਰੀਸ਼ਦ (venomous Hintutva Psychopaths), ਏਬੀਵੀਪੀ (ਸਾਰੇ ਬ੍ਰਾਹਮਣ
venomous Psychopaths) ਭਜਨ ਦਲ, ਅਤੇ ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ (ਮੋਦੀ) ਜੋ ਧੋਖਾਧੜੀ ਈਵੀਐਮ
ਛੇੜਛਾੜ ਦੇ ਕੇ ਚੁਣਿਆ ਗਿਆ ਸੀ ਦੇ ਕਾਤਲ ਹੈ, ਅਤੇ ਇਸ ਲਈ ਉਹ ਅਤੇ ਉਹ ਭਾਜਪਾ ਦੇ ਆਗੂ
ਹਨ ਜੋ ਪਿੱਛੇ ਜਾਤੀ ਜ ਅਨੁਸੂਚਿਤ ਹਨ / ਪਿਛੜੀ
ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਸੰਘ ਦੇ ‘ਬੰਧੂਆ ਮਜ਼ਦੂਰ’ ਅਤੇ ਇਸ ਦੇ 1% chitpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਜਾਤੀ ਦਾ
ਏਜੰਡਾ ਹੈ ਜੋ ਹੁਣੇ Scape ਬੱਕਰੀ, ਜੋ ਬਲੀ ਦਾ ਧੰਨ ਅਤੇ ਕਰੀ ਲਈ ਹਨ ਹਨ, ਜੋ ਕਿ
ਵਰਤਣ ਨੂੰ ਛੱਡਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਪੱਤੇ ਅਤੇ ਹੋਰ ਸਹੀ ਆਪਣੇ ਹੀ ਮਾਤਾ ‘ਦਾ ਮਾਸ eaters ਸੁੱਟ.

ਕੇਸ਼ਵ ਪ੍ਰਸਾਦ ਮੌਰਿਆ, ਨਵੇ ਨਿਯੁਕਤ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ‘ਚ ਪਿੱਛੇ ਜਾਤੀ ਭਾਜਪਾ ਪ੍ਰਧਾਨ ਨੂੰ ਇਕ “ਅਪਰਾਧੀ ਅਤੇ ਫਿਰਕੂ” ਦਾ ਰਿਕਾਰਡ ਹੈ.

ਰਾਮ
ਮੰਦਰ ਮੁੱਦੇ ‘ਨੂੰ ਮੁੜ ਸੁਰਜੀਤ ਕਰਨ ਲਈ ਭਾਜਪਾ ਦੇ ਯਤਨ ਦਾ ਇੱਕ ਸੱਪ charmer ਦਾ
ਐਲਾਨ ਹੈ ਕਿ ਉਹ ਸੱਪ ਅਤੇ mongoose ਲੜਾਈ ਤੱਕ ਉਹ ਪੈਸੇ ਨੂੰ ਇਕੱਠਾ ਕਰੋ ਅਤੇ ਅੰਤ
ਵਿੱਚ ਉਹ ਲੜਨ ਬਣਾਉਣ ਬਿਨਾ ਬੰਦ ਪੈਕਸ ਦਿਉ ਜਾਵੇਗਾ ਵਰਗਾ ਹੈ.
ਇੱਕ ਵਾਰ ਚੋਣ ਰਾਮ ਮੰਦਰ ਦੇ ਇਸ ਏਜੰਡੇ ‘ਤੇ ਹਨ ਨੂੰ ਬੰਦ ਪੈਕ ਕੀਤਾ ਜਾਵੇਗਾ.

“ਸਾਡਾ ਮਸੀਹਾ ਨੂੰ ਬਾਬਾ ਸਾਹਿਬ ਅੰਬੇਡਕਰ, ਜੋ ਸਾਡੇ ਦੇਸ਼ ਹੈ, ਨਾ ਪ੍ਰਭੂ ਨੂੰ ਰਾਮ
ਜੋ ਵਾਲਮੀਕਿ ਦੁਆਰਾ ਬਣਾਇਆ ਗਿਆ ਸੀ, ਇੱਕ, ਗੈਰ-chitpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਦੀ ਸ਼ਕਤੀ ਦੇ
ਲਾਲਚ ਲਈ ਹਿੰਦੂਤਵ ਵੋਟ ਬਕ ਦੀ ਰਾਜਨੀਤੀ ਲਈ ਵਰਤਿਆ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ ਦੇ ਸੰਵਿਧਾਨ ਦਾ ਪਿਤਾ
ਹੈ,”

ਸਾਡੇ ਮਸੀਹ ਦੇ ਤੇਪਾਰਲੀਮਟ ਪਾਰਟੀ, ਭਾਜਪਾ ਅਤੇ ਕਮਿਊਨਿਸਟ, ਜੋ ਕਿ ਬ੍ਰਾਹਮਣੀ ਧਿਰ
ਹਨ ਸ੍ਰੀਮਤੀ ਮਾਇਆਵਤੀ ਦੀ ਅਗਵਾਈ ਟੈਕਨੋ-ਸਿਆਸੀ-ਸਮਾਜਿਕ ਤਬਦੀਲੀ ਅਤੇ ਆਰਥਿਕ ਮੁਕਤੀ
ਅੰਦੋਲਨ ਦੇ ਡਰ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਮਾਸਟਰ ਦੀ ਕੁੰਜੀ ਨੂੰ ਹਾਸਲ ਕਰਨ ਲਈ ਨਿਸ਼ਚਿਤ ਹੈ ਦੇ ਬਾਹਰ
ਹੈ, ਨੇ ਬਾਬਾ ਸਾਹਿਬ ਅੰਬੇਦਕਰ ਹੈ.

ਸਾਬਕਾ ਚੀਫ ਜਸਟਿਸ ਈਵੀਐਮ SADHASIVAM, ਇਸ ਦੇ ਡਿਊਟੀ ਪਰਹੇਜ਼ ਅਤੇ ਉਹ ਨੂੰ ਤਬਦੀਲ
ਕਰਨ ਲਈ 1600 ਕਰੋੜ ਰੁਪਏ ਦੀ ਲਾਗਤ ਦੇ ਕਾਰਨ ਸੀਈਸੀ ਈਵੀਐਮ ਸੰਪਤ ਦੀ ਬੇਨਤੀ ‘ਤੇ
ਪੜਾਅਵਾਰ ਤਰੀਕੇ ਨਾਲ ਫਰਾਡ Tamperable ਈਵੀਐਮ ਵਿਚ, ਜਿਸ ਨੇ ਸਜ਼ਾ ਦੇ ਇੱਕ ਕਬਰ ਗਲਤੀ
ਵਚਨਬੱਧ ਹੈ ਅਤੇ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਲੋਕਤੰਤਰ ਨੂੰ ਇੱਕ ਘਾਤਕ ਝਟਕਾ ਨਜਿੱਠਿਆ.

ਸਾਬਕਾ
ਚੀਫ ਜਸਟਿਸ ਦਾ ਆਦੇਸ਼ ਨਾ ਕੀਤਾ ਲਈ ਮਤਦਾਨ ਪੇਪਰ ਸਿਸਟਮ ਵਿੱਚ ਲੈ ਆਏ ਹੋ ਜਾਵੇਗਾ.
ਅਜਿਹੇ ਕੋਈ ਸਾਵਧਾਨੀ ਮਾਪ ਸੁਪਰੀਮ ਕੋਰਟ ਨੇ ਹੁਕਮ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ ਸੀ.
ਸਾਬਕਾ ਚੀਫ ਜਸਟਿਸ ਦਾ ਆਦੇਸ਼ ਨਾ ਸੀ, ਜੋ ਕਿ ਵਾਰ ਤਕ 1300000 ਬਾਰੇ ਵੋਟਿੰਗ ਮਸ਼ੀਨ ਦੇ ਇਸ ਨਵ ਸੈੱਟ ਅਤੇ ਪੂਰੀ ਤਾਇਨਾਤ ਪੂਰਾ ਵਿੱਚ ਨਿਰਮਿਤ ਹੈ. ਸੰਸਾਰ ਵਿਚ 80 ਲੋਕਤੰਤਰ ਵਿਚ ਸਾਰੇ ਲੋਕ ਹਨ ਜੋ ਸਿਰਫ਼ ਇਸ fradulent ਈਵੀਐਮ ਨਾਲ ਦੂਰ ਕੀਤਾ ਹੈ. ਇਸ ਲਈ ਸਾਰੇ ਲੋਕ ਜੋ ਲੋਕਤੰਤਰ ਵਿਚ ਵਿਸ਼ਵਾਸ ਹੈ, Liberty, ਸਮਾਨਤਾ ਅਤੇ ਭਰੱਪਣ
ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ (ਮੋਦੀ) ਅਤੇ ਇੱਕ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਸੰਵਿਧਾਨ ਨਾਲ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਆਪਣੇ ਸ਼ਾਸਨ ਦੇ
ਕਾਤਲ ਦੀ ਪਛਾਣ ਨਾ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ.

ਇੱਕ ਸਾਫ ਸਬੂਤ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ:
ਸ੍ਰੀਮਤੀ
ਮਾਇਆਵਤੀ ਦੇ ਸਾਬਕਾ ਦੇ ਮੁੱਖ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਅਤੇ ਬਹੁਜਨ ਸਮਾਜ ਪਾਰਟੀ ਦੇ ਮੁੱਖ
ਮੰਤਰੀ (ਬਸਪਾ), ਕਾਗਜ਼ ਵੋਟ ਦੁਆਰਾ ਕਰਵਾਏ ਪੰਚਾਇਤ ਚੋਣ ‘ਚ ਜਿੱਤ ਲਈ ਜਦਕਿ ਇਸ ਨੂੰ
ਧੋਖਾਧੜੀ ਨੂੰ ਕਮਜ਼ੋਰ ਈਵੀਐਮ ਦੁਆਰਾ ਕਰਵਾਏ ਲੋਕ ਸਭਾ ਚੋਣ’ ਚ ਇਕ ਵੀ ਸੀਟ ਨਾ ਜਿੱਤ
ਸਕਿਆ ਹੈ.
ਉੱਤਰ
ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ, ਉਸ ਨੂੰ ਸ਼ਾਸਨ ਸਮਾਜ ਦੇ ਹਰ ਵਰਗ ਦੇ ਵਿੱਚ
ਅਨੁਪਾਤਕ ਦੌਲਤ ਵੰਡ ਕੇ ਵਧੀਆ ਸੀ ਅਤੇ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਦਾ ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਬਣਨ ਦੇ ਯੋਗ ਹੋ
ਗਿਆ.
ਇਹ ਰਵਾਇਤੀ manuvadis ਕੇ ਬਰਦਾਸ਼ਤ ਨਾ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ. ਇਸ ਧੋਖਾਧੜੀ ਈਵੀਐਮ ਨੇ ਉਸ ਨੂੰ ਹਰਾਉਣ ਲਈ ਛੇੜਛਾੜ ਗਏ ਸਨ.

http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903

ਭਾਜਪਾ ਦੇ ਫੈਲਣ ‘ਧਾਰਮਿਕ’, ਮਾਇਆਵਤੀ ਕਹਿੰਦਾ ਹੈ.

ਬਸਪਾ ਮੁਖੀ ਮਾਇਆਵਤੀ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਭਾਜਪਾ ‘Hey ਦਿਨ’ ਕਿਸਾਨ ਲਈ, ਗਰੀਬ ਅਤੇ ਛੋਟੇ ਵਪਾਰੀ ਵਿੱਚ ਲਿਆਉਣ ਦੀ ਆਸ ਿਵਗਾੜ ਕੀਤਾ ਹੈ.

ਬਹੁਜਨ ਸਮਾਜ ਪਾਰਟੀ (ਬਸਪਾ) ਦੇ ਪ੍ਰਧਾਨ ਮਾਇਆਵਤੀ ਨੂੰ ‘ਹਿੰਦੂਤਵ ਰਾਸ਼ਟਰ’ ਵਿੱਚ
“ਧਾਰਮਿਕ ਕੱਟੜਵਾਦ” ਅਤੇ ਨਫ਼ਰਤ ਦੇਸ਼ ਨੂੰ ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ਲਈ ਇਸ ਦੇ ਬੋਲੀ ਵਿਚ ਫੈਲਾਉਣ
ਦੇ ਭਾਰਤੀ ਜਨਤਾ ਪਾਰਟੀ (ਭਾਜਪਾ) ਦਾ ਦੋਸ਼ ਲਗਾਇਆ.

 ਭਾਜਪਾ ‘ਚ’ Hey ਦਿਨ ‘ਕਿਸਾਨ, ਗਰੀਬ ਅਤੇ ਛੋਟੇ ਵਪਾਰੀ ਅਤੇ ਸਿਰਫ ਇੱਕ ਪੂੰਜੀਵਾਦੀ
ਅਤੇ ਸਨਅਤਕਾਰ ਦੇ “ਮੁੱਠੀ” ਲਈ ਫ਼ਾਇਦਾ ਹੋਇਆ ਹੈ ਲਿਆਉਣ ਦੀ ਆਸ ਿਵਗਾੜ ਕੀਤਾ ਹੈ.

“ਇੱਕ ਬੋਲੀ ਵਿੱਚ ਮਹਿੰਗਾਈ, ਟੈਕਸ, ਜੋ ਕਿ ਵੱਡੇ ਪੈਮਾਨੇ ਜਨਤਕ ਕ੍ਰੋਧ, ਭਾਜਪਾ ਅਤੇ
ਇਸ ਦੇ ਸੰਗਠਨ ਧਾਰਮਿਕ ਕੱਟੜਵਾਦ, ਆਪਸੀ ਨਫ਼ਰਤ ਅਤੇ ਫਰਜ਼ੀ ਰਾਸ਼ਟਰਵਾਦ ਵਰਗੇ ਮੁੱਦੇ
ਭੜਕਾਉਣ ਦੀ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਕਰ ਰਹੇ ਕਰਨ ਦੀ ਅਗਵਾਈ ਕੀਤੀ ਹੈ ਦੇ ਲਾਗੂ ਵਰਗੇ ਮੁੱਦੇ ਦੇ ਲੋਕ
ਦਾ ਧਿਆਨ ਭਟਕਾਉਣ ਲਈ,” ਉਸ ਨੇ ਕਿਹਾ.

ਉਸ ਨੇ ਇਹ ਵੀ ਕਿਹਾ ਕਿ ਭਾਜਪਾ ਇੱਕ “ਹਿੰਦੂਤਵ ਰਾਸ਼ਟਰ” ਵਿੱਚ ਇਸ ਦੇ ਮਾਤਾ-ਪਿਤਾ
ਨੂੰ ਸੰਗਠਨ ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਇਸ ਦੇਸ਼ ਵਿੱਚ ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ਲਈ ਦੇ “ਤੰਗ ਹੈ ਅਤੇ ਜਾਤੀਗਤ
ਦਰਸ਼ਨ” ਹੇਠ ਹੈ.

ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਵਿਚ, ਇਸ ਨੂੰ ਕੌਮੀ ਅਤੇ ਜਨਤਕ ਵਿਆਜ ਦੀ ਬਲੀ ਦਿੱਤੀ ਹੈ ਅਤੇ “ਪੂਰੀ ਨੂੰ
ਅਣਡਿੱਠਾ” ਕੀਤਾ ਹੈ ਗਰੀਬੀ, ਬੇਰੁਜ਼ਗਾਰੀ, ਅਮਨ ਅਤੇ ਮਹਿੰਗਾਈ ਵਰਗੇ ਮਾਮਲੇ, ਇਕ ਬਿਆਨ
ਨੇ ਉਸ ਦੇ ਹਵਾਲੇ ਨਾਲ ਕਿਹਾ ਹੈ.

ਭ੍ਰਿਸ਼ਟਾਚਾਰ ਦੇ ਮੁੱਦੇ ਦਾ ਜ਼ਿਕਰ ਹੈ, ਉਹ ਵੀ ਕਿਹਾ ਕਿ ਭਾਜਪਾ ਅਤੇ ਪਾਰਟੀ ਇਕੋ ਸਿੱਕੇ ਦੇ ਦੋ ਪਾਸੇ ਹਨ.

“ਰਾਹ ਭਾਜਪਾ ਸਰਕਾਰ ਨੂੰ ਭ੍ਰਿਸ਼ਟ ਦੀ ਰੱਖਿਆ ਕਰਨ ਲਈ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਕਰ ਰਿਹਾ ਹੈ, ਇਸ
ਨੂੰ ਸੰਭਵ ਹੈ ਕਿ ਇਸ ਨੂੰ ਆਉਣ ਵਾਲੇ ਸਾਲ ਵਿੱਚ ਪਾਰਟੀ ਦੇ ਭ੍ਰਿਸ਼ਟਾਚਾਰ ਨੂੰ ਹਰਾਇਆ
ਜਾਵੇਗਾ,” ਉਸ ਨੇ ਕਿਹਾ.

ਉਸ ਨੇ ਦੋਸ਼ ਲਾਇਆ ਅਮਰੀਕਾ ਵਿਚ ਭਾਜਪਾ ਅਤੇ ਪਾਰਟੀ ਸਰਕਾਰ ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ਪਿਛੜੀ ਦੇ
ਖਿਲਾਫ ਜ਼ੁਲਮ ਅਤੇ ਸਮਾਜ ਦੇ ਕਮਜ਼ੋਰ ਵਰਗ ਨਾਲ ਸਬੰਧਤ ਜਿਹੜੇ ਵਿਚ ਸ਼ਾਮਲ ਰਹੇ ਹਨ.

“ਪਰ ਉਹ ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ਐਸਟੀ ਆਈਕਾਨ ਆਪਣੇ ਜੀਵਨ ਦੌਰਾਨ ਵਿਰੋਧ, ਉਹ ਆਪਣੇ ਸਿਆਸੀ ਹਿੱਤ
ਨੂੰ ਅੱਗੇ ਵਧਾਉਣ ਲਈ ਹੁਣ ਆਪਣੇ ਨਾਮ ਦਾ ਇਸਤੇਮਾਲ,” ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੀ ਸਾਬਕਾ ਮੁੱਖ
ਮੰਤਰੀ ਨੇ ਕਿਹਾ

2.
ਹੁਣ ਸੀਈਸੀ ਕਹਿੰਦੀ ਹੈ ਕਿ ਸਾਰੇ ਈਵੀਐਮ 2019 ਆਮ ਚੋਣ ਵਿੱਚ ਤਬਦੀਲ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਜਾਵੇਗਾ.

http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms

ਪੇਪਰ-ਟ੍ਰੇਲ ਇਲੈਕਟ੍ਰਾਨਿਕ ਵੋਟਿੰਗ ਮਸ਼ੀਨ ਹੈ ਨੂੰ 2019 ਆਮ ਚੋਣ: ਨਸੀਮ ਜ਼ੈਦੀ, ਸੀਈਸੀ

3. ਜਦ ਭਾਜਪਾ ਨੂੰ ਵਿਰੋਧੀ ਧਿਰ ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਮਿਹਰ ਕਾਗਜ਼ ਵੋਟ ਵਿਚ ਸੀ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਈਵੀਐਮ ਜਨਤਕ ਪੜਤਾਲ ਦੇ ਅਧੀਨ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ

http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html

ਇਲੈਕਟ੍ਰਾਨਿਕ ਵੋਟਿੰਗ ਮਸ਼ੀਨ (ਈਵੀਐਮ) ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਸਿਆਸੀ ਧਿਰ ਨੇ ਸਵਾਲ ਕੀਤਾ ਗਿਆ
ਹੈ ਦੇ reliablity ਦੇ ਸੰਬੰਧ ਵਿੱਚ ਵਿਵਾਦ ਜੁੜ, ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਟੀ ਵਾਪਸ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਕਰਨ
ਲਈ ਮੁੜ-ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ (ਕਮਿਸ਼ਨ) ਨੂੰ ਕਿਹਾ ਹੈ ਅਤੇ ਕਾਗਜ਼ ਵੋਟ ਟੈਸਟ …

ਪਰ
ਉਹ ਉਸ ਨੂੰ ਦੇ ਖਿਲਾਫ ਆਮਦਨ ਇਸ ਲਈ ਕਹਿੰਦੇ ਹਨ ਖੁਦਾਈ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਸਾਬਤ ਹੁੰਦਾ ਹੈ
ਕਿ ਉਸ ਨੂੰ ਸਹੀ ਰਾਹ ਚੱਲਦਾ ਹੈ, ਸਮੇਤ theatrics ਦੇ ਸਾਰੇ ਮਨੁੱਖ ਵਿੱਚ ਸ਼ਾਮਲ ਹਨ.
ਬਾਬਾ
ਸਾਹਿਬ ਡਾ ਅੰਬੇਦਕਰ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਜਦ ਇੱਕ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਸਮੱਸਿਆ ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ਪਿਛੜੀ ਕਰਨ
ਦੀ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਕਰਦਾ ਦਾ ਮਤਲਬ ਹੈ ਕਿ ਹੈ ਕਿ ਹੈ ਕਿ ਉਹ ਸਹੀ ਰਾਹ ‘ਤੇ ਹਨ.
ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ.
ਅਤੇ ਭਾਜਪਾ ਵੀ ਸ਼ਾਮਲ ਹੈ ਇਸ ਦੇ ਸਾਰੇ avathars cowherds ਹਨ ਅਤੇ ਤਡ਼ਕੇ ਧਮਕਾਣਾ
ਬਾਅਦ ਉਹ ਆਪਣੇ ਸਾਰੇ ਬਦੀ ਦੇ ਕੰਮ, ਜੋ ਹਿੰਸਕ, ਕੁਦਰਤ ਕੇ ਪੱਖਪਾਤ ਅਤੇ ਨਫ਼ਰਤ ਦੇ
ਅੱਤਵਾਦੀ ਪੂਰੀ ਹਨ ਦੇ affraid ਹਨ.
ਉਹ ਮਾਨਸਿਕ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਬਹੁਤਾ ਨੁਕਸ psychopaths ਪਾਗਲ ਹੈ ਅਤੇ ਇਹ ਬੁਰਾਈ ਨੂੰ ਅਮਲ
ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਮਾਨਸਿਕ asylums ਵਿਚ ਮਾਨਸਿਕ ਇਲਾਜ ਦੀ ਲੋੜ ਦੇ ਨਾਲ ਪਾਗਲ ਹੋ ਗਏ ਹਨ.

http://swarajyamag.com/politics/how-can-dalits-come-out-of-the-elite-controlled-victimhood-narrative

ਕਮਿਊਨਿਸਟ ਉਸੇ ਹੀ 1% chitpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਜਾਤੀ ਪਿਰਾਮਿਡ ਦੇ ਇਕ ਹੋਰ ਪਾਸੇ Bahuth Jiyadha Psychopaths ਅਤੇ ਪਾਰਟੀ ਹੋਣ ਦੇ ਹੋਰ ਦੋ ਪਾਸੇ ਹਨ

    ਉਹ ਕੋਈ ਵੀ ਹੁਣ ਅੰਬੇਦਕਰ ਦੇ ਹਿੱਸੇ ਉਹ ਨੂੰ ਪਸੰਦ ਹੈ, ਜਦਕਿ ਸੁਵਿਧਾਜਨਕ ਆਪਣੇ ਅਸਲੀ ਹਾਲਤ ਨੂੰ ਨਜ਼ਰਅੰਦਾਜ਼ ਹਥਿਆਉਣ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ.

    ਦੂਰ ਸਥਾਈ ਪੀੜਤ-ਹੁੱਡ, ਜਮਹੂਰੀ insitutions ਦੇ ਕਾਤਲ (ਮੋਦੀ) ਦੀ ਇੱਛਾ ਹੈ ਅਤੇ
ਆਰਥਿਕ ਉਦਾਰੀਕਰਨ ਦੇ ਮੰਤਰ ਦੀ ਸਿਆਸਤ ਤੱਕ ਆਮ ਐਸ.ਸੀ. / ਪਿਛੜੀ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ
ਖੱਬੇ-ਪਾਰਟੀ ਈਕੋ-ਸਿਸਟਮ ਨੂੰ ਵੀ ਸਖ਼ਤ ਲੱਭਣ ਹੈ ਨਿਗਲ ਲਈ ਆਪਸ ਵਿੱਚ ਕੋਈ ਵੀ ਭਾਵਪੂਰਤ
ਮਾਰਿਆ ਨਾ ਗਿਆ ਹੈ.

ਇਸੇ ਅੰਬੇਡਕਰਵਾਦ ਦੇਸ਼ ਵਿੱਚ ਤਾਜ਼ਾ ਕੇਕ ਵਰਗਾ ਵੇਚ ਰਿਹਾ ਹੈ? ਹਰ ਕੋਈ ਅੰਬੇਦਕਰ ਕੇਕ ਦਾ ਇੱਕ ਟੁਕੜਾ ਹੈ ਨੂੰ ਚਾਹੁੰਦਾ ਹੈ. ਡਰ ਹੈ ਕਿ ਉਹ ਹੈ, ਕਿਉਕਿ ਆਪਣੇ ਦਬਦਬਾ ਰਵੱਈਏ ਦਾ ਸਾਹਮਣਾ ਲਿਆ ਸਦਾ ਲਈ ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ਪਿਛੜੀ ਧੋਖਾ ਨਾ ਕਰ ਸਕਿਆ ਹੈ, ਕਿਉਕਿ ਇਸ ਨੂੰ ਸਾਰੇ.

/
ਕਾਰਕੁੰਨ ਇਹ ਪੱਖ ਵਿੱਚ ਵਿਸ਼ਵਾਸ ਹੈ, ਕਿਉਕਿ ਉਹ ਵਧੀ ਕਦੇ ਵੀ ਪਾਰਟੀ, ਖੱਬੇ ਪੱਖ ਨੂੰ
ਇੱਕ ਆਭਾ ਕੀਤੀ ਅਤੇ, ਦੇਸ਼ ‘ਤੇ ਇਸ ਦੇ ਸਭਿਆਚਾਰਕ ਏਜੰਡਾ ਲਗਾ ਸੰਵਿਧਾਨਕ ਪ੍ਰਬੰਧ ਨਾਲ
ਛੇੜਛਾੜ ਅਤੇ dissent.SC/ST ਮੰਨੋਰੰਜਨ ਦੀ ਆਜ਼ਾਦੀ ਨੂੰ ਰੋਕਣ ਲਈ ਭਾਜਪਾ ਦੇ
ਕੋਸ਼ਿਸ਼’ ਤੇ ਰੋਣ
ਅੰਬੇਦਕਰ ਲਈ ਹੈ ਅਤੇ ਕੋਈ ਵੀ ਵਾਰ ਦੇ ਇੱਕ ਮਾਮਲੇ ਵਿਚ ਆਪਣੇ ਪਿਆਰ ਪੇਸ਼ ਕਰਨ ਲਈ
ਆਪਣੇ ਪੈਰ ‘ਤੇ ਅਪ, ਸਮਾਜਿਕ ਸਾਈਟ Manuwad ਵਿਰੁੱਧ ਤਿੱਖੀ ਟਿੱਪਣੀ, ਹਿੰਦੂ ਦੇਵਤੇ
ਅਤੇ ਦੇਵੀ ਅਤੇ ਹਿੰਦੂ ਧਾਰਮਿਕ ਸ਼ਾਸਤਰ ਦੇ ਨਾਲ ਹੜ੍ਹ ਗਿਆ ਸੀ.

ਇਹ ਮਿਆਰੀ ਸਜਾਉਣਾ, ਖੱਬੇ ਲੰਬੇ ਆਪਣੇ ਸਿਆਸੀ ਡਿਜ਼ਾਈਨ ਨੂੰ ਸੁਰੱਖਿਅਤ ਕਰਨ ਲਈ ਹੈ, ਕਿਉਕਿ ਸਿਰਜਣ ਗਰੁੱਪ ਮੀਨਾਰ ਕੇ ਨੌਕਰੀ ਦੀ ਕਾਰਜਸ਼ੈਲੀ ਹੈ. ਜਦ ਤੱਕ ਹੈ ਅਤੇ ਜਦ ਤੱਕ ਉਹ ਪੀੜਤ ਕਾਰਡ ਖੇਡਣ ਅਤੇ ਮਗਰਮੱਛ ਦੇ ਹੰਝੂ ਵਹਾਏ, ਕੋਈ ਵੀ ਇੱਕ ਨੂੰ ਗੰਭੀਰਤਾ ਨਾਲ ਲੈਣ ਲਈ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ. ਉਹ ਇਹ ਵੀ ਤੱਥ ਹੈ ਕਿ ਦੇਰ ਦੀ, ਕੁਝ ਆਵਾਜ਼ ਰਿਜ਼ਰਵੇਸ਼ਨ ਦੀ ਸਮੀਖਿਆ ਲਈ ਕਾਲ ਉਭਾਰਿਆ ਗਿਆ ਹੈ ਅਤੇ ਕਾਫ਼ੀ ਠੀਕ ਇਸ ਨੂੰ ਵੱਧ ਗੁੱਸੇ ਹਨ.

ਉਹ
ਗੁੰਮਰਾਹ ਕਰਕੇ ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ਐਸਟੀ ਆਬਾਦੀ ਦੇ ਹੇਠਲੇ ਲੇਅਰ ਧੋਖਾ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ, ਜੋ
ਕਿ ਪੜ੍ਹੇ ਮੱਧ ਵਰਗ ਐਸ.ਸੀ. / ਸਾਰੇ ਰਿਜ਼ਰਵੇਸ਼ਨ ਲਾਭ ਘੇਰ ਸੀ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਪਿਛੜੀ.
ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਦੂਰ ਛਾਤ ਸਬੰਧਤ ਹੈ ਉਥੇ ਮੱਧ ਵਰਗ ਜ ਘੱਟ ਜਾਤੀ ਜ ਬੇਜ਼ਮੀਨੇ ਅਛੂਤ ਵਰਗਾ ਕੁਝ ਵੀ ਹੁੰਦਾ ਹੈ. ਇਹ ਸਾਰੇ ਦਬਦਬਾ chitpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਧਿਰ ਦੁਆਰਾ ਸਮਾਨ ਬੀਮਾਰ-ਇਲਾਜ ਕੀਤਾ ਰਹੇ ਹਨ, ਹਮੇਸ਼ਾ ਸੱਤਾ ਦੇ ਲਾਲਚੀ. ਉਹ ਹਮੇਸ਼ਾ ਆਪਣੇ ਵੰਡੋ ਤੇ ਰਾਜ ਕਰੋ ਨੀਤੀ ਲਈ ਇਕ ਹੋਰ ਦੇ ਖਿਲਾਫ ਇੱਕ ਜਾਤ ਨੂੰ ਸੈੱਟ ਕਰਨ ਦੀ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਕਰ ਰੱਖਣ. ਭਾਜਪਾ
ਦੇ ਲਈ ਹਮੇਸ਼ਾ ਦਾ ਕਹਿਣਾ ਹੈ ਕਿ chithpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਸੰਸਾਰ ਵਿੱਚ ਸਭ ਬੁੱਧੀਮਾਨ
ਲੋਕ ਸਨ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਕਰ ਰਿਹਾ ਸੀ ਅਤੇ ਸਾਰੇ ਹੋਰ ਰਾਗੀ balls.The ਕਮਿਊਨਿਸਟ ਕਦੇ ਵੀ
ਚਾਹੁੰਦਾ ਸੀ ਵਰਕਰ ਐਸ.ਸੀ. / ਪਿਛੜੀ ਨਾਲ ਸਬੰਧਤ ਅਧਿਕਾਰੀ ਬਣਨ ਲਈ ਹੁੰਦੇ ਹਨ.
ਇੱਕ ਵਾਰ ਜਦ ਇੱਕ ਐਸ.ਸੀ. / ਐਸ.ਟੀ ਵਰਕਰ ਵਰਕਰ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਪੰਜਵ ਗਰੇਡ ਬਣ ਗਿਆ ਉਸ ਨੇ ਇੱਕ ਅਧਿਕਾਰੀ ਬਣਨ ਦੇ ਯੋਗ ਸੀ. ਜੋ ਕਿ ਇਸ ਲਈ ਕੋਈ ਵੀ ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ਐਸਟੀ ਵਰਕਰ ਕਦੇ ਇੱਕ ਅਧਿਕਾਰੀ ਬਣ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਪਰ ਕਮਿਊਨਿਸਟ ਟਰੇਡ ਯੂਨੀਅਨ 10 ਗ੍ਰੇਡ ਬਣਾਇਆ ਹੈ. ਉਹ ਇੱਕ ਵਰਕਰ ਹਮੇਸ਼ਾ ਇੱਕ ਵਰਕਰ ਹੋਣਾ ਚਾਹੁੰਦਾ ਸੀ. ਬਾਅਦ
ਵਿਚ ਉਹ ਕਦੇ ਵੀ ਨਿੱਜੀਕਰਨ ਦਾ ਵਿਰੋਧ ਹੈ, ਕਿਉਕਿ ਇਸ ਨੂੰ ਵੀ, ਪਰ ਉਹ ਇਸ ਕੰਮ ਵਿਚ
ਸ਼ਾਮਲ ਸਨ ਸਥਾਈ ਕੁਦਰਤ ਦੇ, ਜੋ ਕਿ ਰੋਜ਼ਾਨਾ ਦੀ ਦਿਹਾੜੀਦਾਰ ਉਤਸ਼ਾਹਿਤ ਕੀਤਾ.
ਪਰ
ਭਾਜਪਾ ਅਤੇ ਪਾਰਟੀ ਵਰਗੇ ਕਮਿਊਨਿਸਟ ਕੁਝ ਰਾਜ ਅਤੇ ਮੱਧ ਸਰਕਾਰ ਦਾ ਹਿੱਸਾ ਰਾਜ ਕੀਤਾ
ਉਹ ਕੁਚਲੇ ਦੇ ਵਿਕਾਸ ਲਈ ਪਰੇਸ਼ਾਨ ਕਦੇ ਵੀ ਹੈ ਅਤੇ ਉਹ ਲਾਭ ਜਿਸ ਨੂੰ ਦੇ ਸਭ ਦੇਸ਼ ਦੇ
ਦਿਹਾਤੀ ਇਲਾਕੇ ਵਿੱਚ ਬੰਦ ਹਨ ਨੂੰ ਥੱਲੇ ਟ੍ਰਿਕਲ ਦਿਉ ਨੂੰ ਨਾ ਤੁਲੀ ਹਨ.
ਤਿੱਖੇ
ਅਡੰਬਰ ਦਾ ਸਹਾਰਾ ਦੇ ਕੇ, ਉਹ ਸਮਾਜ ਅਤੇ ਮਜਬੂਰ ਬਹੁਮਤ ਐਸ.ਸੀ. / ਐਸ.ਟੀ ਜਨਤਾ ਵਿੱਚ
ਇਹ ਨਿਸ਼ਚਿਤ ਦੇ ਬੀਜ ਬੀਜ ਰਹੇ ਹਨ, ਇੱਕ ghettoised ਦੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਦੀ ਅਗਵਾਈ ਕਰਨ ਲਈ.
ਸਪੱਸ਼ਟ ਹੈ, ਉਹ ਅੰਬੇਡਕਰਵਾਦ ਦਾ ਸਹਾਰਾ ਦੇਵੇਗਾ, ਕਿਉਕਿ ਇਹ ਸੰਦ ਹੈ ਕਿ ਉਹ ਬੇਸ਼ਰਮੀ ਮੰਦਭਾਵਨਾ ਨੂੰ ਅੱਗੇ ਵਧਾਉਣ ਲਈ ਵਰਤ ਗਿਆ ਹੈ.

ਐਸਸੀ / ਐਸਟੀ ਬੁੱਧੀਜੀਵੀ ਪ੍ਰਧਾਨ ਵਾਰ ਟੀ.ਵੀ. ਸ਼ੋਅ ਅਤੇ ਇੰਟਰਨੈੱਟ ਸਮੇਤ ਹੋਰ ਮੀਡੀਆ ‘ਤੇ ਹੋਣਾ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹੋ; ਅੰਬੇਦਕਰ ਲਈ ਰੋਟੀ ਅਤੇ ਮੱਖਣ ਮੁੱਦਾ ਹੈ. ਉਹ ਸੋਚਦੇ ਹਨ ਕਿ ਉਹ ਅੰਬੇਦਕਰ ਲੇਖਣ ਨੂੰ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਅੰਬੇਦਕਰ ਨੇ ਆਪਣੇ ਸੰਪਤੀ ਹੈ ਦਾ ਹੱਕ ਹੈ. ਲੰਬੇ ਤੱਕ, ਉਹ ਸੰਵਾਰੇ ਅੰਬੇਦਕਰ ਵਰਤਿਆ ਹੈ. ਖਰੜਾ
ਤਿਆਰ ਸੰਵਿਧਾਨ ਮੁਸ਼ਕਿਲ ਸੁਪਰੀਮ ਤੱਕ ਇੱਕ ਪ੍ਰਵਾਨਗੀ ਪ੍ਰਾਪਤ ਵਿਚ ਲਗਾਤਾਰ ਲੇਬਰ
ਕਾਨੂੰਨ, ਲਿੰਗ ਸ਼ਕਤੀਕਰਨ ਲਈ ਉਸ ਦੇ ਦਰਸ਼ਣ ਅਤੇ ਉਸ ਦੇ ਪਾਇਨੀਅਰਿੰਗ ਯਤਨ ਦੇ ਬੀਤਣ ਦਾ
ਅੰਬੇਦਕਰ ਦਾ ਯੋਗਦਾਨ / ਐਸਟੀ ਕਾਰਕੁੰਨ ਜੋ ਸੋਚਦੇ ਜੇ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਅੰਬੇਦਕਰ ਸਭ ਦੇ
ਬਾਰੇ ਐਸ.ਸੀ. / ਪਿਛੜੀ, ਰਿਜ਼ਰਵੇਸ਼ਨ ਅਤੇ ਵੱਡੇ ਨਾਲ acrimony ਸੀ
ਜਾਤੀ.

ਹੁਣ
ਉਹ ਸ੍ਰੀਮਤੀ ਮਾਇਆਵਤੀ ਦੇ ਟੈਕਨੋ-ਸਿਆਸੀ-ਸਮਾਜਿਕ ਤਬਦੀਲੀ ਅਤੇ ਆਰਥਿਕ ਮੁਕਤੀ ਅੰਦੋਲਨ,
ਜੋ ਕਿ, Sarvajan Hithaye Sarvajan Sukhaye ਭਾਵ ਲਈ ਹੈ ਐਸ.ਸੀ. / STRs / ਓ /
ਘੱਟ ਗਿਣਤੀ ਅਤੇ ਗਰੀਬ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਅਤੇ Baniyas, ਜੋ ਵੀ ਸ਼ਾਮਲ ਹੈ ਅਮਨ, welafre ਅਤੇ
ਸਾਰੇ ਸਮਾਜ ਦੀ ਖ਼ੁਸ਼ੀ ਲਈ ਨਾਲ ਹਨ
ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ‘ਚ ਨਾਲ ਨਾਲ ਕੰਮ ਕੀਤਾ. ਸਾਰੇ ਸਮਾਜ ਮਾਇਆਵਤੀ ਦੇ ਵਧੀਆ ਸ਼ਾਸਨ ਦੇ ਅਧੀਨ ਖੁਸ਼ ਸਨ. ਇਸ
chitpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਧਿਰ ਡਰ ਹੈ ਕਿ ਉਹ ਸਾਡੇ ਸੰਵਿਧਾਨ ਵਿਚ ਦਰਜ ਇਹ ਲੋਕਤੰਤਰ,
ਆਜ਼ਾਦੀ, ਸਮਾਨਤਾ ਅਤੇ ਭਰੱਪਣ ਨੂੰ ਬਚਾਉਣ ਅਤੇ manusmriti ਜੀਵ 1% chitpawan
ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਦੁਆਰਾ ਲਾਗੂ ਰੋਕਣ ਲਈ ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਬਣ ਜਾਵੇਗਾ ਹਨ.

15) Classical Hindi

15) शास्त्रीय हिन्दी

1842 गुरु अप्रै, 21 2016 और अधिक पढ़ें
सबक

से

INSIGHT-नेट-ऑनलाइन A1 (एक जागृत) Tipitaka अनुसंधान और अभ्यास विश्वविद्यालय
दृश्य प्रारूप में (FOA1TRPUVF)
http://sarvajan.ambedkar.org के माध्यम से
aonesolarpower@gmail.com

शास्त्रीय बौद्ध धर्म (जागरूकता के साथ जागा वन की शिक्षाओं) दुनिया के हैं, और हर कोई विशेष अधिकार है: जे.सी.

इस गूगल अनुवाद और प्रचार करने के लिए एक मातृभाषा में इस विश्वविद्यालय
के लिए एक सबक के रूप में सटीक अनुवाद प्रतिपादन एक स्ट्रीम दर्ज करने वाले
(Sottapanna) बनने के लिए और एक अंतिम लक्ष्य के रूप में अनन्त परमानंद की
प्राप्ति के लिए मिलती है।

जागरूकता के साथ जागृत एक की शिक्षाओं का प्रचार वेबसाइटों की सूची अर्थात, बुद्ध त्रिपिटक में दृश्य प्रारूप

http://sarvajan.ambedkar.org/?m=200907
http://wapedia.mobi/en/Buddhahood#1।
http: // खबर है। Xinhuanet। कॉम / अंग्रेजी / 2009-07 / 27 / content_11780918 .htm
www.chinaview। सीएन
www.buddhismandbusi ness.webs। कॉम
http://www.grameenfoundation.org/welcome/google_psa/
www.grameenfoundation.org

http://plato.stanford.edu/entries/abhidharma/
http://www.taosinstitute.net/Websites/taos/images/PublicationsWorldShare/BuddhaAsTherapistMeditations_2015.pdf

http://www.audiodharma.org/series/1/talk/1839/

http://scroll.in/article/806815/in-sounding-the-bugle-for-2017-polls-in-uttar-pradesh-mayawati-did-not-spare-anyone

उत्तर प्रदेश में 2017 के चुनाव के लिए बिगुल बजने में मायावती किसी को भी नहीं छोड़ा
उसकी प्राथमिकताओं में स्पष्ट कर रहे हैं: मुसलमानों को बाहर पहुँचना
अंबेडकर की विरासत के लिए दावा बिछाने किसी को भी उसके लिए अनुसूचित जाति /
अनुसूचित जनजाति के वोट की सुरक्षा, कुछ पसंद शब्दों के साथ।

कैसे अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के एलीट नियंत्रित उत्पीड़न कथा के बाहर आ सकते हैं

मायावती
ने यह स्पष्ट कर दिया है कि वह अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में
उत्तर प्रदेश में सत्ता हासिल करने के लिए एक एकल रन बनाने होंगे बना दिया
है।
वह भी उसके विरोधियों को उसकी मूल अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के
वोट बैंक बंद रहने के लिए है, जबकि राज्य में मुस्लिम अल्पसंख्यकों के बीच
एक नई बढ़ रहा जनाधार को आकर्षित करने के उसके महत्व को दर्शाते हुए
चेतावनी दी है।

बहुजन
समाज पार्टी के प्रमुख उनकी पार्टी द्वारा पिछले सप्ताह का आयोजन विशाल
जनसभा में इन और कई अन्य प्रमुख राजनीतिक संकेतों बाहर भेजा राज्य की
राजधानी लखनऊ में बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर की 125 वीं जयंती मनाने के
लिए बसपा के लोकसभा चुनाव के बाद से शायद उसकी सबसे महत्वपूर्ण भाषण में
2014 में पराजय।

उनके समर्थकों द्वारा आयोजित एक विशाल घोषणापत्र एक ओवरकोट और साड़ी दोनों तरफ बाबा साहेब और कांशीराम से घिरे में मायावती दिखाया। वे
उसे सरकार द्वारा बनाया गया विशाल स्मारक के सामने खड़े थे जब सत्ता में
एक दशक पहले अनुसूचित जाति के प्रतीक सम्मानित करने के लिए / अनुसूचित
जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग आंदोलन के रूप में हाथियों के नीचे है, जबकि ऊपर
आसमान से benignly मुस्कराए बुद्ध की एक छोटी प्रतिकृति घास पर frolicked।
घोषणापत्र के उस पार राजधानी पत्र “अगले मुख्यमंत्री” में लिखे गया था।

अभियान 2017

रैली
में प्रतीकों और मायावती के भाषण के आयात को रेखांकित किया कि यह वास्तव
में राज्य विधानसभा चुनाव के लिए अपने अभियान के शुभारंभ अभी भी एक वर्ष की
दूरी पर था।
दिलचस्प
बात यह है भाषण की बहुत बाबासाहेब अंबेडकर और उनके कुटिल अनुसूचित जाति /
अनुसूचित जनजाति के वोट चोरी करने के प्रयास की विरासत को झूठे दावों
बिछाने में अन्य राजनीतिक दलों के नमकहरामी के लिए समर्पित था।
वह कोई भी नहीं बख्शा।

लोकतांत्रिक
संस्थाओं के हत्यारे (मोदी) और संघ परिवार पर तीखा हमला उन्मुक्त मायावती
चुभते उसे और उन भारतीय जनता पार्टी के नेताओं को जो पिछड़ी जातियों या के
रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के “बंधुआ मजदूरों” और इसके ऊपरी जाति
अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के हैं वर्णित
एजेंडा। वह
केशव प्रसाद मौर्य, नवनियुक्त उत्तर प्रदेश में पिछड़ी जाति के भाजपा
अध्यक्ष ने उन्हें ‘आपराधिक और सांप्रदायिक’ रिकॉर्ड होने का आरोप लगाते
हुए पर विशेष रूप से कठोर था।
वह भी राम मंदिर मुद्दे को पुनर्जीवित करने के लिए भाजपा के प्रयासों को
खारिज, अनुसूचित जाति को बेवकूफ बनाने की एक जाल / अनुसूचित जनजाति के रूप
में वर्णन।

“हमारा मसीहा बाबा साहेब अम्बेडकर नहीं भगवान राम है,” मायावती ने इस बात पर जोर

फिर
भी अगर बसपा नेता की लोकतांत्रिक संस्थानों (मोदी) और उनकी पार्टी के
हत्यारे के काटने आलोचना से पहले या राज्य में हुए चुनावों के बाद उसे और
भाजपा के बीच एक गुप्त समझौते के बारे में अटकलें खारिज, वह कांग्रेस के
साथ किसी भी संभव सहयोग करने के लिए ही किया था
आने वाले चुनावों। दरअसल,
मायावती कांग्रेस अपने अतीत के नेताओं द्वारा अम्बेडकर के अपमान को वापस
बुलाने के lambasting के साथ ही अनुसूचित जाति / जनजाति शिकायतें दूर करने
में कांग्रेस सरकारों के विनाशकारी रिकॉर्ड लिस्टिंग और उनकी मांगों के
समाधान में भी अधिक समय बिताया।
वह खुले तौर पर Rohith Vemula, हैदराबाद विश्वविद्यालय के अनुसूचित जाति
अनुसंधान विद्वान जो हाल ही में आत्महत्या कर ली थी, बाबासाहेब के साथ
तुलना में अपने ‘अपरिपक्वता “के लिए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने
उपहास किया।

न ही बसपा नेता अंबेडकर और अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति की राजनीति की दिशा में वाम के नए झुकाव के साथ प्रभावित प्रकट किया। जवाहर
लाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने वामपंथी
और अम्बेडकरवादी राजनीति के बीच गठबंधन की वकालत की गई है, जो मायावती कि
वह एक ऊपरी जाति के थे ओर इशारा किया और कम्युनिस्ट विचारधारा है कि मौलिक
है कि द्वारा समर्थन से मतभेद के लिए सदस्यता से कम shrift मिला
अंबेडकर।

यहाँ तक कि Rohith Vemula नहीं बख्शा गया। मायावती, जबकि अम्बेडकरवादी राजनीति के प्रति उनकी प्रतिबद्धता के लिए
उसके सम्मान व्यक्त करते हुए कहा कि वह अपने जीवन ले लिया है नहीं करना
चाहिए और इसके बजाय अम्बेडकर जो भी अपमानित किया गया था और पीछा लेकिन
अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के लिए न्याय पाने के लिए लड़ने के लिए
जारी रखा के उदाहरण का पालन किया।

वाम को चपटी

कन्हैया
कुमार जैसे वामपंथियों जो अम्बेडकरवादी राजनीति के साथ संलग्न करने के लिए
देख रहे हैं की आलोचना करके, मायावती यह स्पष्ट है कि वह वह अनुसूचित जाति
/ जनजाति राजनीति की उसके ही मैदान क्या विचार में अवैध शिकार दूसरों के
लिए कृपया लेने के लिए नहीं जा रहा है कि बना दिया है।
इसी
तरह एक नया अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के प्रतीक के रूप में Vemula
की मनुहार के साथ उसकी झुंझलाहट, यहां तक ​​कि उनके दुखद निधन की
परिस्थितियों के प्रति सहानुभूति रखते हैं, तो पहले से ही स्थापित अनुसूचित
जाति / अनुसूचित जनजाति के सब देवताओं का मंदिर के लिए एक नया इसके
अतिरिक्त स्वीकार करने के लिए उसकी अनिच्छा का पता चलता है।
वह
शायद कुछ औचित्य के साथ बनाए रखा, जो विरोधियों और अत्याचार के खिलाफ
लड़ाई लड़ी है अनुसूचित जाति ले / अनुसूचित जनजाति के आगे कारण और Vemula
जो अपने जीवन है कि अनुसूचित जाति जिसका अर्थ समाप्त करने के लिए अम्बेडकर,
कांशीराम और खुद के बीच एक बड़ा अंतर था कि वहाँ / अनुसूचित जनजाति
राजनीति नहीं था
उत्पीड़न लेकिन सशक्तिकरण के बारे में।

मायावती
के भाषण का एक अन्य महत्वपूर्ण पहलू लोकतांत्रिक संस्थाओं के हत्यारे का
एक भयंकर आलोचना सहित मुस्लिम अल्पसंख्यक मुद्दों की उसकी परिणय था (मोदी)
के अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और जामिया मिलिया इस्लामिया के अल्पसंख्यक
का दर्जा बदलने के प्रयासों।
मुस्लिम अल्पसंख्यकों को उसकी बढ़ती आउटरीच, उसके करीबी सहयोगी
नसीमुद्दीन सिद्दीकी मुस्लिम सार्वजनिक रैली के आयोजन के रूप में भी वह
लंबे समय से अपने मीडिया प्रबंधन के लिए ब्राह्मण लेफ्टिनेंट सतीश मिश्रा
भरोसा सराहना के लिए उसे विशेष धन्यवाद द्वारा पर बल दिया गया।

मुसलमानों
को भी लव जिहाद और मांस प्रतिबंध तरह हाल ही में सांप्रदायिक अभियान की
मायावती की स्पष्ट परित्याग, जो उसने कहा लोकतांत्रिक संस्थाओं (मोदी) की
विफलताओं के हत्यारे से जनता का ध्यान हटाने के लिए एक रास्ता था के साथ
खुश हो जाएगा।
“भारत माता की जय” विवाद के रूप में, मायावती और भी अधिक स्पष्ट किया गया था। “मेरी पार्टी के लोग कहते हैं कि जय भीम और जय भारत। अन्य लोगों का कहना जय हिंद, “यह स्पष्ट है कि वह राष्ट्रवाद से bulldozed जा करने के लिए नहीं जा रहा था कि कर रही है।

अन्य
बड़ी रैली में मायावती द्वारा दिया संदेश है कि जबकि वह मुस्लिम
अल्पसंख्यकों की शिकायतों के लिए अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के कारण
करने के लिए प्रतिबद्ध है और सहानुभूति थी वह अब पहचान की राजनीति से परे
देख रहा था।
“मैं तुमसे वादा कर सकते हैं कि सत्ता में वापस आने के बाद मैं काम पर ध्यान केंद्रित करेगा”।
लोकतांत्रिक
संस्थाओं (मोदी) और 1% असहिष्णु, उग्रवादी, हिंसक, पागल, मानसिक रूप से
मंद, शूटिंग के उच्च पुजारियों, नरभक्षी चरवाहे डराने कौवा मनोरोगी
chitpawan ब्राह्मण राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rakshasa स्वयं सेवकों) और
उसके सभी avathars भाजपा (Bahuth Jiyadha lynching के हत्यारे
psychopaths)
विहिप (विषैला Hintutva psychopaths), अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (सभी
ब्राह्मण विषैला psychopaths) भजन दल और लोकतांत्रिक संस्थानों (मोदी) जो
धोखाधड़ी ईवीएम छेड़छाड़ द्वारा चयन किया गया था का कातिल है, और इसलिए वह
और उन भाजपा नेताओं को जो पिछड़ी जातियों या अनुसूचित जाति हैं / एसटी
के रूप में आरएसएस के ‘बंधुआ मजदूर’ और इसके 1% chitpawan ब्राह्मण जाति
एजेंडा है जो सिर्फ भगदड़ बकरियों जो बाली धन और करी के लिए कर रहे हैं कि
उपयोग छोड़ देता है और पत्तियों और अधिक उचित रूप से अपने खुद के ‘मां मांस
भक्षण फेंक देते हैं।

केशव प्रसाद मौर्य, नवनियुक्त उत्तर प्रदेश में पिछड़ी जाति के भाजपा अध्यक्ष को एक “आपराधिक और सांप्रदायिक” रिकॉर्ड हो रही है।

राम
मंदिर मुद्दे को पुनर्जीवित करने के लिए भाजपा के प्रयासों को एक सपेरा
घोषणा की कि वह सांप और नेवला लड़ाई जब तक वह पैसा बटोरता और अंत में
उन्हें लड़ने बनाने के बिना बंद पैक दूँगी की तरह है।
एक बार चुनाव राम मंदिर के इस एजेंडे को खत्म हो गई हैं बंद पैक किया जाएगा।

“हमारा मसीहा बाबा साहेब अम्बेडकर जो हमारे देश नहीं है जो भगवान राम
वाल्मीकि द्वारा बनाया गया था एक, गैर chitpawan ब्राह्मण सत्ता के लालच के
लिए हिंदुत्व वोट बैंक की राजनीति के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है की
संविधान जन्मा है,”

हमारा मसीहा का विनियोग कांग्रेस, भाजपा और कम्युनिस्टों जो ब्राह्मणवादी
पार्टियों रहे हैं मायावती अग्रणी तकनीकी-राजनीतिक-सामाजिक परिवर्तन और
आर्थिक मुक्ति आंदोलन के डर से जो मास्टर चाबी हासिल करने के लिए निश्चित
है से बाहर है, द्वारा बाबा साहेब अम्बेडकर है।

पूर्व मुख्य न्यायाधीश ईवीएम SADHASIVAM, अपने कर्तव्य shirked और उन्हें
बदलने के लिए 1600 करोड़ लागत की वजह से मुख्य चुनाव आयुक्त ईवीएम SAMPATH
के अनुरोध पर चरणबद्ध तरीके से धोखाधड़ी Tamperable ईवीएम में अनुमति देकर
न्याय की एक गंभीर गलती की है और देश के लोकतंत्र के लिए एक घातक झटका
निपटा।

पूर्व
मुख्य न्यायाधीश आदेश नहीं दिया के लिए मतपत्र प्रणाली में लाया जाएगा।
ऐसी कोई एहतियाती उपाय के उच्चतम न्यायालय ने फैसला सुनाया था।
पूर्व
मुख्य न्यायाधीश आदेश नहीं दिया है कि समय तक 1300000 के बारे में वोटिंग
मशीनों के इस नए सेट और पूरी तरह से तैनात पूर्ण में निर्मित है।
दुनिया में 80 लोकतंत्र में सभी लोग हैं जो सिर्फ fradulent ईवीएम के साथ दूर किया। इसलिए सभी लोगों को जो लोकतंत्र में विश्वास करते हैं, स्वतंत्रता,
समानता और भाईचारे लोकतांत्रिक संस्थाओं (मोदी) और एक अद्भुत संविधान के
साथ इस देश के अपने शासन के हत्यारों को पहचान नहीं करना चाहिए।

एक स्पष्ट सबूत के रूप में:
सुश्री
मायावती ने पूर्व मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश और बहुजन समाज पार्टी के मुख्य
मंत्री (बसपा), कागज मतपत्र के माध्यम से आयोजित पंचायत चुनाव में जीत
हासिल की है, जबकि यह धोखाधड़ी की चपेट में ईवीएम के माध्यम से आयोजित
लोकसभा चुनाव में एक भी सीट नहीं जीत सकता है।
उत्तर
प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में, उसके शासन में समाज के सभी वर्गों के
बीच आनुपातिक धन वितरण से सबसे अच्छा था और इस देश के प्रधानमंत्री बनने के
लिए पात्र बन गया।
इस पारंपरिक manuvadis द्वारा सहन नहीं किया गया था। तो धोखाधड़ी ईवीएम उसे हराने के लिए छेड़छाड़ कर रहे थे।

http://www.ndtv.com/india-news/bjp-spreading-religious-fundamentalism-says-mayawati-1288903

भाजपा के प्रसार ‘धार्मिक कट्टरवाद’ मायावती कहते हैं।

बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि भाजपा ‘अरे दिनों’ किसानों के लिए, गरीब और छोटे व्यापारियों में कायम करने की उम्मीद खराब हो गया है।

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती एक ‘हिंदुत्व राष्ट्र’ में
“धार्मिक कट्टरवाद” और घृणा देश परिवर्तित करने के लिए अपनी बोली में
फैलाने का भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने आरोप लगाया था।

 भाजपा में ‘अरे दिनों’ किसानों, गरीबों और छोटे व्यापारियों और केवल एक
पूंजीपतियों और उद्योगपतियों के “मुट्ठी” के लिए लाभ हुआ है कायम करने की
उम्मीद खराब हो गया है।

“एक बोली में महंगाई, करों जो बड़े पैमाने पर जनता के गुस्से, भाजपा और
उसके संगठनों धार्मिक कट्टरवाद, आपसी नफरत और छद्म राष्ट्रवाद जैसे मुद्दों
भड़काने की कोशिश कर रहे करने के लिए मार्ग प्रशस्त किया है का अधिरोपण
जैसे मुद्दों से लोगों का ध्यान हटाने के लिए,” उसने कहा।

उसने यह भी कहा कि भाजपा एक “हिंदुत्व राष्ट्र” में अपने माता पिता के
संगठन आरएसएस के इस देश में परिवर्तित करने के ‘संकीर्ण और जातिवादी दर्शन
“पीछा कर रहा है।

इस प्रक्रिया में, यह राष्ट्रीय और जनता के हित का बलिदान दिया है और
“पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया गया है” गरीबी, बेरोजगारी, शांति और महंगाई
जैसे मामलों, एक बयान के हवाले से कहा है उसे।

भ्रष्टाचार के मुद्दे का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा और कांग्रेस एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।

“जिस तरह से भाजपा सरकार भ्रष्ट को बचाने की कोशिश कर रहा है, यह संभव है
कि यह आने वाले वर्षों में कांग्रेस के भ्रष्टाचार को हरा देंगे,” उसने
कहा।

उन्होंने आरोप लगाया राज्यों में भाजपा और कांग्रेस सरकारों अनुसूचित
जाति / अनुसूचित जनजाति के खिलाफ अत्याचार और समाज के कमजोर वर्गों के
लोगों में लिप्त हैं।

“हालांकि वे अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के प्रतीक उनके जीवन भर का
विरोध किया है, वे अपने राजनीतिक हितों को आगे करने के लिए अब उनके नाम का
उपयोग,” उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा

2।
अब मुख्य चुनाव आयुक्त का कहना है कि सभी ईवीएम 2019 के आम चुनावों में प्रतिस्थापित किया जाएगा।

http://economictimes.indiatimes.com/…/articles…/51106327.cms

पेपर ट्रेल इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों है 2019 के आम चुनाव: नसीम जैदी, सीईसी

3. जब भाजपा विपक्ष आरएसएस इष्ट कागज मतपत्र में किया गया था के रूप में ईवीएम सार्वजनिक जांच के अधीन थे

http://news.webindia123.com/news/Articles/India/20100828/1575461.html

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) जो राजनीतिक दलों से पूछताछ की गई है
के reliablity के बारे में विवाद में शामिल होने से, आरएसएस टी वापस करने
की कोशिश करने के लिए वापस लौटने के लिए चुनाव आयोग (ईसी) पूछा और कागज
मतपत्र का परीक्षण …

अभी
तक वे वह खिलाफ आय से अधिक तथाकथित खुदाई जो साबित करता है कि वह सही
रास्ते चल रहा है सहित नाटकीयता के सभी प्रकार में शामिल हैं।
बाबा
साहेब डॉ बी आर अम्बेडकर ने कहा कि जब एक ब्राह्मण मुसीबत अनुसूचित जाति /
अनुसूचित जनजाति की कोशिश करता है कि इसका मतलब है कि वे सही रास्ते पर
हैं।
राष्ट्रीय
स्वयंसेवक संघ और भाजपा सहित अपने सभी avathars ग्वालों कर रहे हैं और
कौवे को डराने के बाद से वे अपने सभी बुराई गतिविधियों जो हिंसक स्वभाव से
असहिष्णुता और घृणा के आतंकवादी भरे हुए हैं की affraid हैं।
वे मानसिक रूप से मंद psychopaths पागलों और इन बुरी प्रथाओं कि मानसिक पागलखानों में मानसिक इलाज की जरूरत के साथ पागल हो गए हैं।

http://swarajyamag.com/politics/how-can-dalits-come-out-of-the-elite-controlled-victimhood-narrative

कम्युनिस्टों ही 1% chitpawan ब्राह्मण जाति पिरामिड का एक और पक्ष
Bahuth Jiyadha Psychopaths और कांग्रेस की जा रही अन्य दो पहलू हैं

    वे अब अम्बेडकर के कुछ हिस्सों को वे पसंद है, जबकि आसानी से अपने वास्तविक दुर्दशा की अनदेखी उचित सकते हैं।

    दूर स्थायी शिकार-डाकू, लोकतांत्रिक insitutions के हत्यारे (मोदी) की
आकांक्षा और आर्थिक उदारीकरण का मंत्र की राजनीति से आम अनुसूचित जाति /
अनुसूचित जनजाति जो वाम-कांग्रेस पारिस्थितिकी तंत्र भी मुश्किल लग रहा है
निगल करने के लिए के बीच में किसी भी राग अलापा नहीं किया है।

क्यों अम्बेडकरवाद देश में हॉट केक की तरह बेच रही है? हर कोई अम्बेडकर केक का एक टुकड़ा है चाहता है। डर है कि वे क्योंकि उनके हावी रवैया उजागर हो गया हमेशा के लिए अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति धोखा नहीं कर सकता क्योंकि यह सब।

/
कार्यकर्ताओं इन दलों का मानना ​​था क्योंकि वे कभी नहीं उछला कांग्रेस,
वाम दल एक रंग बना दिया है और, देश पर अपनी सांस्कृतिक एजेंडा लागू
संवैधानिक प्रावधानों के साथ छेड़छाड़ और dissent.SC/ST कुलीन वर्ग की
स्वतंत्रता पर अंकुश लगाने के लिए भाजपा के प्रयासों पर रोना
अम्बेडकर के लिए और कुछ ही समय के एक मामले में अपने प्यार को दिखाने के
लिए अपने पैरों पर, सामाजिक साइटों Manuwad के खिलाफ उग्र टिप्पणी, हिंदू
देवताओं और देवी और हिंदू धार्मिक ग्रंथों के साथ पानी भर गया।

यह मानक ढंग बाईं लंबे समय से उनके राजनीतिक डिजाइनों को सुरक्षित करने के बाद मातहत समूहों झुकाव द्वारा नियोजित ढंग है। जब तक वे शिकार कार्ड खेलते हैं और मगरमच्छ के आँसू बहाए, कोई भी उन्हें गंभीरता से नहीं ले रहा है। उन्होंने यह भी तथ्य है कि देर से की, कुछ आवाजें आरक्षण की समीक्षा के लिए बुला उठाया गया है और काफी ठीक ही तो खत्म नाराज हैं।

वे
उन्हें गुमराह द्वारा अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या के
निचले स्तर को बेवकूफ बना रहे थे कि शिक्षित मध्यम वर्ग अनुसूचित जाति /
सभी आरक्षण के लाभ पर कब्जा होने के रूप में अनुसूचित जनजातियों के।
जहां तक ​​अस्पृश्यता का संबंध है, वहाँ के रूप में मध्यम वर्ग या निम्न जाति या भूमिहीन अछूत की तरह कुछ भी नहीं है। इन सभी पर हावी chitpawan ब्राह्मण दलों द्वारा समान रूप से बीमार का इलाज कर रहे हैं, हमेशा सत्ता के लालची। वे हमेशा अपने फूट डालो और राज की नीतियों के लिए अन्य के खिलाफ एक जाति स्थापित करने के लिए प्रयास जारी रखें। भाजपा
हमेशा कहते थे कि chithpawan ब्राह्मणों दुनिया में सबसे बुद्धिमान लोग थे
कोशिश कर रहा था और सभी दूसरों रागी balls.The कम्युनिस्टों कभी नहीं
चाहते थे कि कार्यकर्ताओं को अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति से संबंधित
अधिकारियों बनने के लिए कर रहे हैं।
एक
बार जब एक अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के कार्यकर्ता कार्यकर्ता के
रूप में पांचवीं कक्षा बन गया है कि वह एक अधिकारी बनने के लिए पात्र था।
ताकि
कोई अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के कार्यकर्ता कभी एक अधिकारी बन
सकता है लेकिन कम्युनिस्ट ट्रेड यूनियनों 10 ग्रेड बनाया।
वे एक कार्यकर्ता हमेशा एक कार्यकर्ता बनना चाहता था। बाद
में वे कभी नहीं निजीकरण का विरोध किया है क्योंकि यह भले ही वे काम में
शामिल थे स्थायी प्रकृति की है कि दैनिक वेतनभोगियों को प्रोत्साहित किया।
हालांकि
भाजपा और कांग्रेस जैसे कम्युनिस्टों कुछ राज्यों और केंद्र सरकार का
हिस्सा खारिज कर दिया है कि वे दलितों के उत्थान के लिए परेशान नहीं है और
वे लाभ जिनमें से ज्यादातर देश के ग्रामीण इलाकों में सड़ रहे हैं को मिलने
के लिए नहीं जाने अड़े हुए हैं।
तीखी
बयानबाजी का सहारा द्वारा, वे समाज और सम्मोहक बहुमत अनुसूचित जाति /
जनजाति जनता में कलह के बीज बुवाई कर रहे हैं एक ghettoised जीवन व्यतीत
करने के लिए।
जाहिर है, वे अम्बेडकरवाद का सहारा लेना होगा क्योंकि इस उपकरण है कि वे
बेशर्मी से उनकी नापाक इरादों को आगे करने के लिए प्रयोग किया गया है।

अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के बुद्धिजीवियों प्राइम टाइम टीवी शो और इंटरनेट सहित अन्य मीडिया पर होना चाहते हैं; अम्बेडकर उनके लिए रोजी-रोटी का मुद्दा है। उन्हें लगता है कि केवल वे अम्बेडकर समझने के रूप में अम्बेडकर उनकी संपत्ति है अधिकार है। लंबे समय तक वे विस्तारपूर्वक अम्बेडकर का इस्तेमाल किया है। मसौदा
तैयार संविधान शायद ही अनुसूचित जाति से मंजूरी मिल में प्रगतिशील श्रम
कानूनों, लिंग सशक्तिकरण के लिए अपनी दृष्टि और उनके अग्रणी प्रयासों के
गुजरने के लिए अम्बेडकर के योगदान / अनुसूचित जनजाति के कार्यकर्ताओं, जो
लगता है, जैसे कि अम्बेडकर सब के बारे में अनुसूचित जाति / अनुसूचित
जनजाति, आरक्षण और ऊपरी के साथ कटुता था
जाति।

अब
वे सुश्री मायावती की टेक्नो-राजनीतिक-सामाजिक परिवर्तन और आर्थिक मुक्ति
आंदोलन है, जो Sarvajan Hithaye Sarvajan Sukhaye IE के लिए है अनुसूचित
जाति / एसटीआर / ओबीसी / अल्पसंख्यक और गरीब ब्राह्मण और बनिया जो सहित
शांति, welafre और सभी समाजों की खुशी के लिए साथ हैं
उत्तर प्रदेश में अच्छी तरह से काम किया। सभी समाजों मायावती के सबसे अच्छे शासन के तहत खुश थे। इसलिए
chitpawan ब्राह्मण दलों डर लगता है कि वह के रूप में हमारे संविधान में
निहित लोकतंत्र, स्वतंत्रता, समानता और भाईचारे को बचाने और मनुस्मृति किया
जा रहा है 1% chitpawan ब्राह्मणों द्वारा कार्यान्वित को रोकने के लिए
प्रधानमंत्री बन जाएगा रहे हैं।








flowersplaatje




comments (0)