Free Online JC PURE INSPIRATION for free birds 🐦 🦢 🦅 to grow fruits 🍍 🍊 🥑 🥭 🍇 🍌 🍎 🍉 🍒 🍑 🥝 vegetables 🥦 🥕 🥗 🥬 🥔 🍆 🥜 🪴 🌱 🎃 🫑 🍅🍜 🧅 🍄 🍝 🥗 🥒 🌽 🍏 🫑 🌳 🍓 🍊 🥥 🌵 🍈 🌰 🇧🇧 🫐 🍅 🍐 🫒 Youniversity
Kushinara NIBBĀNA Bhumi Pagoda White Home, Puniya Bhumi Bengaluru, Prabuddha Bharat International.
Categories:

Archives:
Meta:
June 2021
M T W T F S S
« May   Jul »
 123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
282930  
06/12/21
LESSON 3999 Sun 13 Jun 2021 30) Classical English,Roman, With kind regards and respect to Most Ven. Dr. Sunanda Putuwar, Ph. D. List of all International organizations striving hard to PLANT VEGETABLES & DWARF FRUIT BEARING TREES IN POTS ALL OVER THE WORLD AS PRACTICED BY SAMRAT ASHOKA as Said by an Awakened One with Awareness “Hunger is the worst illness, where 4 times Chief Minister Ms Mayawati who became eligible to be the Prime Minister with her excellent governance of Uttar Pradesh promised to reestablish Ashokan rule along with the farmers compounded existence the worst suffering or aliment (dukkha) with ending of ailments ( dukkha Nirodha)And
Filed under: General
Posted by: site admin @ 3:22 pm

LESSON 3999 Sun 13 Jun 2021

30) Classical English,Roman,

With kind regards and respect to Most Ven. Dr. Sunanda Putuwar, Ph. D.

List of all International organizations striving hard to
PLANT VEGETABLES & DWARF FRUIT BEARING TREES IN POTS ALL OVER THE WORLD AS PRACTICED BY SAMRAT ASHOKA as

Said by an Awakened One with Awareness
“Hunger is the worst illness, where 4 times Chief Minister Ms Mayawati who became eligible to be the Prime Minister with her excellent governance of Uttar Pradesh promised to reestablish Ashokan rule along with the farmers

compounded existence the worst suffering or aliment (dukkha) with ending of ailments ( dukkha Nirodha)

If you are ill, one or more medications may effect a cure and keep one healthy for a period of time.

The discomfort of hunger frequently returns in a few hours, no matte or r how much and what kind of food and drink is taken.

To survive, one must continually fin nourishment.

The illness of hunger will come back over and over again until the time of death.

We are always only one or two meals away from the discomfort of hunger.

This may be the main reason that the Awakened One remarked that hunger is the worst illness.

When a person is in an advanced stage of starvation, the body begins to consume itself.

It is said by medical authorities (experts) that hunger is the most severe pain.

The necessity to replenish our body with food due to fulfilling hunger is a problem.

All other illness can be cured in time, but hunger is incurable.

The Awakened One als said,

“Due to insufficient food,
change of weather,
unfit dwelling place,
not having a good friend (or staying with those whose way of thinking (and ways of living) are different and bad economical situation etc., man becomes victim of disease)”.
Wisdom or knowledge is the main antidote for mental disease.
Wisdom can be a remedy of physical disease as well.

Mindful Swimming on breathing in-and-out is a direct remedy for certain mental disease (i. e. agitated, distracted nature or symptom(vitakkacarita), Indirectly, it can help cure physical diseases. Physical aliments arise due to poor and insufficient diet, mal-nutrition, lack of sleep and exercise, unbalanced work, weather and many other causes.

The Awakened One said that a person contributes to illness when one does not treat oneself well with what is proper (sappaya); he/she metes thing (sappaya) out without knowledge; eats unripe things which should be eaten only after becoming ripe, one is without virtue or does not practice celibacy (abrahma-cari); goes about at unseemly times or remains in the company of bad friends.

Endowing one with the opposite qualities will cause health to spring forth.
Pointing out the importance of health, the Awareness One said,

“Health is the highest gain (arogyaparama labha).
Freedom from all illness (sabba-rogavinimutto),
freedom from all heart-burning, with lamentation (sabbha-santapavujjito), absence of illness (nirogi), or good health is appreciated and applauded, everywhere in the awakened one with awareness texts.

Though health fluctuates all one’s life, the pride of health (arogyamada) is one of the greatest concerns in life.
The wish of longevity and health (ayuarogyasampatti) is daily chanted by Arahants as a part of blessings bestowed to people.
Some of the popular terms frequently pronounced in the ancient awakened one with awareness texts for good health are: Sukhibhaveyan nidukkho (may you be happy free from suffering), nidukkho (absence of suffering), aro gay (good health or freedom from illness), nirogananda (happiness derived from the absence of illness), khamaniyam yapaniyam (at ease or bearable, indicating good health).

The lost of health is the supreme lost (of happiness).
The aggregates of human being is the home of illness.

The Awakened One said,
Some of the popular disease prevalent in Magadha (Northern India in the time of the Awakened One were: leprosy (kuttham), ulceration (gandho), eczema (kilaso), consumption (soso) and epilepsy (apamaro). Malaria (ahivatakaroga or “snake-wind disease”) and diabetes (madhuragu) were also commonly known diseases.

In the time of the Awakened One , the most famous physician was Jivaka Komarabhacca who was the private physician of King Pasenadi Kosala, as physician to the Awakened One and his Sangha. Jivaka cured the king of his hemorrhoids (fistula) with a single application of ointment.

Once when the Lord Awakened One was sick, the physician Jivaka made him a concoction from three fragrant lotus flowers mixed with other medicine to release his bowels. Jivaka gave the Awakened One this medicine in a inhalation compound.
After his recovering Jivaka offered the Awakened One excellent food like ambrosia.
History records that Jivaka performed a brain surgery on a patient, a merchant of Rajagaha, who suffered with serve headaches for seven years.

He was close to death from this affliction.
Jivaka cut open the scalp and removed two living creatures (panakas) and closed the skill with sutures.

He applied an ointment and cured the man.

He also performed abdominal surgery on a man from Banaras, who suffered a twisted bowel and saved his life.
Many disease and problems occur through improper attitude with regard to the sexual impulse.
The proper attitude towards allowable sexual conduct or chastity for the Sangha of monks and nuns was emphasized by the Awakened One .

With intention, a Arahant cannot emit semen except in dreams. A Arahant or nun may not indulge in sexual intercourse.

With a view to preventing disease that would arise from contaminated water (as well as to save living creatures which may be present in the water), the Awakened One advised Arahantd to filter properly with a piece of cloth before drinking Arahants are advised to wash their begging bowls before and after eating.

Keeping the body is enjoined, the nails are to be trimmed neatly so that no soil can remain on fingertips and carelessly eaten with food (In Prabuddha Bharat, food is eaten with one’s hands).

The ears, teeth and sexual organs are to be kept clean.
Regulations advise the washing of feet before entering their residence. (For only open sandals are worn).
Robes should be spread out and dried in the sun, although the germ theory was unknown in these days.
Extra robes must be dried in the sun from time to time.
Everyday, after one’s meal a monk’s bowl is to be washed out properly and dried in the sun.
The lavatory and latrine must be kept washed out properly.
One’s residence must always be clean and neat.
The windows should be kept open during the night in summer or in the hot season, and be kept closed during the day vice versa in the cold season so that external weather contributions would not effect one badly:

With a view to maintaining on hygienic atmosphere, the Awakened One laid down rules for Arahants not to spit, urinate, etc, in water or on grass.

In The Mahavagga, Vatthakkhandaka says that one should dry bed sheets and clothes everyday.
Arahants should sweep and clean their dwelling places.
It is a violation of a Sangha rule to keep an untidy residence.
The Awakened One said that one should live in a suitable location or environment (patirupadesa vasa) for good health and peace of mind.

To preserve good health one should take moderate amount of nutrition food at regular times. Moderate meals are soon digested making one feel comfortable, and protects the life-span (ayupalayamti).
With regard to moderation at mealtimes, one still wishes to continue eating two or three more mouthfuls, but then stops eating and drinks some water to fill the rest of the stomach.
It is always beneficial to all people or to patient to have some idea of the matters and actions profitable or unprofitable to one’s health.

Many diseases arise due to careless actions, bad food and drinks. To cure many disease, good diet, medicine and loving care are important.

The awakened one with awareness scriptures describes, oil of sesame or mustard, granulated sugar or molasses,as medicine.
It seems that Arahants and nuns used these items mixed together as well as separately.
Catumadhura is a mixture of four sweets:sugar and sesame oil which a arahant or nun is permitted to take if one so desires.
Some of most popular medicines often mentioned in the awakened one with awareness texts for the Sangha are four irregular things (maha-vikatani), viz. (a decoction of) dung or excrement (gutha), urine (mutta), aches (charika) and clay or earth (matika) applied against snakebite.

To cure a Arahant who drank poison, the Awakened One advised other Arahants to make him drink (a concoction of) dung probably advised as an emetic.

He also advised monks to make a patient drink mud up by the plough as medicine against a poison substance.
A drink of raw lye was prescribed against constipation.

A compound of cow’s urine and yellow myrobalan was used medically against jaundice.
To recover from sickness it is essential to have good medical treatment, a suitable medicine, a skillful physician, a hospital or suitable hygienic place to live, kind attentive nurses or attendants.
According to the Awakened One , a patient should posses healthy attitudes with respect to recovery. Negative qualities in a patient impede recovery.

A patient with an unwholesome attitude does not treat himself with proper things (sappaya), does not known the measure of proper things (Sappaya mattan) in the course of treatment, does not apply medicaments; does not inform the extent of the illness to one who compassionately tends him/her; nor is the discomfort of illness borne patiently; nor described the onset of bodily aches and pains as shooting, stabbing and so on.

The patient developing the opposite qualities is sure of gaining help.
A patient hoping or speedy recovery of health ought always follow the principles of healthy living.
To make easy reading the ideas of the above passage can be re-arranged in the following ways:

1. It is advised to live in a healthy surrounding, Good weather is, of course, important for general health. Living with amiable friendly persons is of great advantages. Taking hygienic good food and drink and doing only those things beneficial to health is enjoined as a correct way to live. Carefully using exercise (byayama) or postures that conduce to health, such as, stretching, etc, is proper. Abandoning practices deemed as unhealthy is advised:

2. To know, make use of and take only moderate amounts of food and drink which are known to be beneficial to health. In other words, excess or deprivation should be avoided in all things.

3. The patient must follow the advice of a god doctor, to confidently take accurate dosages of any given medicine and medical treatment as prescribed by a physician.

4. To clearly, completely and directly disclose or intimate all details about one’s sickness to the patients, physician or attendant. It is important to let the attendant know the condition of the disease, whether it is bring aggravated, diminishing, or does not abate but rather remains steady.

5. The patient should try not to get disappointed and perturbed when experiencing any kind of painful or disagreeable symptom, but rather try to endure the condition when it is possible to do so.

Not following all these considerations result in lessening the chances of curing one’s
disease, or withholds recovering it. Therefore, the patient who is being attendee should try to observe them, or be thoughtful so as not to worry his attendant. The above recommendations are enjoined by the Buddha to speed recovery. It is essential for any attendant, not to speak of a physician to whom a patient entrusts his/her life, to bear in mind these ethical principles. Though liable to manifest negative qualities at times, one attending a patient, who repeatedly demonstrates anger and impatient, is not fit to wait upon the sick. These unwholesome qualities manifest as inability to prepare medicines; not discerning proper things (sappaya) from what is not proper, giving or offering what is not proper, not giving what is not proper; hoping to gain (expecting-gifts) from one when waits on the sick, but not freely from goodwill; loathing to remove faces, urine, vomit and spittle; inability to instruct, rouse, gladden, and satisfy the sick with spiritual, matter or dhamma talk. One possessing the opposite qualities is fit to help patient. These unwholesome qualities will not contribute toward health. According to the Buddha, ayusa is that which leads to health or vitality. Health springs forth from the following qualities:

1. To arrange and provide sound medical products.
One must be expert in offering medicine and treatment.

2. The attendant knows what is beneficial and what is harmful, keeping aloof from unbeneficial things but providing the patient only with beneficial things, whether medicine, diet, etc.

3. To attend a patient with affection, tenderness and concerns.

4. The attendant must keep the patient in a clean and hygienic environment.
One should perform necessary tasks, such as the removal of vomit and urine with a neutral mind.
Everything around the patient must be kept properly and neatly.

5. The attendant should be able to console, give good consel and instruct the patient on spiritual matters (dhamma) (if requested or desired ) and rouse, fill with enthusiasm (hope) gladden and delight the patient from time to time to the degree that is appropriate.
The attendant must try to let the patient become unhappy, dejected and disappointed.

According to the Awakened One’s advice an attendant or nurse should possess the above five qualities while attending the patient. Persons going to serve a patient must be endowed with all these necessary wholesome qualities.
They must always be conscientious when helping or dealing with patient, treating.
An immature and unskillful physician is prohibited from giving surgical procedures.
If an unskillful Arahant or nun gives medical treatment to a patient or performs surgery of any kind, one is charged with violating a rule.

One should attend patient properly and attentively.
In rendering any service to a patient, the Awakened One said, expressing a religious view that anyone serving a patient is serving the Awakened One himself.

Of course, is does not mean that a patient is the Awakened One or equal to the Awakened One . The Shangha should ill monks or nuns with kind consideration.

A physician must necessarily be skillful and expert in turned chosen field of work, knowing why and how any disease incur, how it makes a patient, feel pain etc, and why it vanishes.
In other words, a physician must know the cause and origin of disease, its existence and duration, severity and its positive and negative reactions. This aids in determining what treatment will be profitable (beneficial) or what will lead to inertia (or worse).

A physician must be patient and kind and treat the patient well.

From

KUSHINARA NIBBANAj BHUMI PAGODA Free Online Analytical Research and Practice University for “Discovery of the Awakened One with Awareness Universe” in 117 Classical Languages.

3D 360 Degree Circle Vision Meditation Lab.

White Home,

668, 5A Main Road,
8th Cross HAL III Stage,
Punya Bhumi Bengaluru,
Magadhi karnataka State,
Prabuddha Bharat International

http://sarvajan.ambedkar.org

buddhasaid2us@gmail.com
jcs4ever@outlook.com
jchandrasekharan@yahoo.com.

Of course with kind thanks and regards to

Leading grocery firm Hopcoms the Karnataka state co-operative that sells fruit and vegetables through nearly 300 outlets in Bengaluru must launch its e-commerce portal to serve the entire national if not the whole world through thousands of outlets.

Farmers and all humans will be benefitted from this venture, and there need not be any employment opportunity as we are all going to be more personnel for this effort,The world needs more and more Kadire Gowda, Managing Directors, Hopcoms.

The software must be finalized E-commerce portals may not necessarily be the best way as it is not for increasing profit in the grocery sector.

The world needs more and more Arvind K Singhal,,like chairmen and managing directors of Technoparks management consulting firms telling ET that physical retailers could have a brighter future by expanding their delivery services instead.”E-commerce portals need more investment in supply-chain development, especially in sourcing, delivery and customer acquisition. In the near future, Reliance and Flipkart may also come up with their own online grocery stores, giving more competition. So when local retailers do the same, they might be biting off more than they can chew as Profit making is not its concern.
by Keonics and and others to be functional at the earliest, with initial investment crores of Rupees, Pounds, Dollars Etc.

Hopcoms and other co-operatives that encourage producing fruit and vegetables and dwarf fruit bearing plants and trees most must also extend their activities,”Everybody must be ready to have more Hopcoms outlets in the world; with enough financial and personnel strength for it. The BBMP and all other people must and should start giving land for the purpose,” as said by Gowda.

E-commerce portals may not necessarily be the best way as it is not for increasing profit in the grocery sector.

The world needs more and more Arvind K Singhal,,like chairmen and managing directors of Technoparks management consulting firms telling ET that physical retailers could have a brighter future by expanding their delivery services instead.”E-commerce portals need more investment in supply-chain development, especially in sourcing, delivery and customer acquisition. In the near future, Reliance and Flipkart may also come up with their own online grocery stores, giving more competition. So when local retailers do the same, they might be biting off more than they can chew as Profit making is not its concern.

About the crores of Rupees, Dollars, Pounds investment, Singhal says : “If they use that money to get their website listed at the top in a Google search, and in marketing via social media, they might make more benefit to the hungry humans.”

However, Mukesh Singh, CEO of Zopnow, an online grocery store based in Bangalore, need it feel that his company makes any revenue at all through fruits and vegetables alone as it’s hunger but not profit.

More and more Zopnow, like online groceries must start their projects all over the world to start providing vegetables and fruits through their websites.

3/12-2021 Peace, Happiness, Wellness, Calmity, Calmness, Attention, Attention, and All Mindfulness and Mindless Beings all have a mind of equanimity with a clear understanding of Changing.

https://www.winterwatch.net/2020/11/maker-of-covid-tests-says-pandemic-is-biggest-hoax-ever-perpetrated/
https://www.winterwatch.net/2020/11/maker-of-covid-tests-says-pandemic-is-biggest-hoax-ever-perpetrated/

Maker of COVID Tests Says Pandemic is Biggest Hoax Ever Perpetrated

By G. Edward Griffin | 21 November 2020

RED PILL UNIVERSITY — Top pathologist Dr. Roger Hodkinson told Canadian government officials in Alberta during a phone conference that the coronavirus pandemic is “the greatest hoax ever perpetrated on an unsuspecting public.” Hodkinson, who is the CEO of a biotech company that makes COVID tests, says “There is utterly unfounded public hysteria driven by the media and politicians.” We are seeing “politics playing medicine, and that’s a very dangerous game.”

Positive test results do not mean a clinical infection, he says. All testing should stop because the false numbers they produce are “driving public hysteria.” Hodkinson says the risk of death for people under the age of 65 is “one in three-hundred thousand” and it is “outrageous” to shut down society for what is merely “just another bad flu.” […]

06) ClassicalDevanagari,Classical Hindi-Devanagari- शास्त्रीय हिंदी,

पाठ 3999 सूर्य 13 जून 2021

मोस्ट वेन को विनम्र और सम्मान के साथ। डॉ सुनंदा पुटुवार, पीएच.डी.

प्रयास करने वाले सभी अंतर्राष्ट्रीय संगठनों की सूची

दुनिया भर में गमलों में सब्जियां और बौने फलदार पेड़ लगाने के लिए जैसा कि सम्राट अशोक ने किया था और जैसा कि

एक जागृत व्यक्ति ने जागरूकता के साथ कहा
“भूख सबसे बड़ी बीमारी है,

जटिल अस्तित्व सबसे खराब पीड़ा या आहार (दुक्ख) बीमारियों के अंत के साथ (दुक्खा निरोध)

यदि आप बीमार हैं, तो एक या अधिक दवाएं इलाज को प्रभावित कर सकती हैं और कुछ समय के लिए स्वस्थ रख सकती हैं।

भूख की बेचैनी अक्सर कुछ घंटों में लौट आती है, चाहे कितना भी और किस तरह का खाना-पीना हो।

जीवित रहने के लिए, व्यक्ति को लगातार पोषण प्राप्त करना चाहिए।

भूख की बीमारी मृत्यु के समय तक बार-बार वापस आएगी।

भूख की बेचैनी से हम हमेशा एक या दो बार ही दूर रहते हैं।

यह मुख्य कारण हो सकता है कि जागृत व्यक्ति ने टिप्पणी की कि भूख सबसे खराब बीमारी है।

जब कोई व्यक्ति भुखमरी के एक उन्नत चरण में होता है, तो शरीर स्वयं उपभोग करना शुरू कर देता है।

चिकित्सा अधिकारियों (विशेषज्ञों) द्वारा कहा जाता है कि भूख सबसे गंभीर दर्द है।

भूख की पूर्ति के लिए हमारे शरीर को भोजन से भरने की आवश्यकता एक समस्या है।

अन्य सभी रोग समय पर ठीक हो सकते हैं, लेकिन भूख लाइलाज है।

जागृत व्यक्ति ने कहा,

“अपर्याप्त भोजन के कारण,
मौसम का परिवर्तन,
अनुपयुक्त निवास स्थान,
एक अच्छा दोस्त न होना (या उनके साथ रहना जिनके सोचने का तरीका (और जीने के तरीके) अलग और खराब आर्थिक स्थिति आदि हैं, आदमी बीमारी का शिकार हो जाता है)”।

बुद्धि या ज्ञान मानसिक रोग के लिए मुख्य मारक है।

बुद्धि शारीरिक रोग का भी उपाय हो सकती है।

कुछ मानसिक रोगों (अर्थात् उत्तेजित, विचलित प्रकृति या
लक्षण (विटककारिता), अप्रत्यक्ष रूप से, यह शारीरिक रोगों को ठीक करने में मदद कर सकता है।

खराब और अपर्याप्त आहार, कुपोषण, नींद और व्यायाम की कमी, असंतुलित काम, मौसम और कई अन्य कारणों से शारीरिक रोग उत्पन्न होते हैं।

जागृत व्यक्ति ने कहा कि एक व्यक्ति बीमारी में योगदान देता है जब वह उचित (सप्पय) के साथ स्वयं के साथ अच्छा व्यवहार नहीं करता है; वह / वह ज्ञान के बिना बाहर (सपया) मिलता है; कच्ची चीजें खाता है जो पके होने के बाद ही खाना चाहिए, कोई गुणहीन है या ब्रह्मचर्य का अभ्यास नहीं करता है (अब्रह्म-कारी); अनुचित समय पर चला जाता है या बुरे मित्रों की संगति में रहता है।

किसी को विपरीत गुणों से संपन्न करने से स्वास्थ्य का उदय होगा।

स्वास्थ्य के महत्व की ओर इशारा करते हुए अवेयरनेंड वन ने कहा,

“स्वास्थ्य सर्वोच्च लाभ है (आरोग्यपरम लाभ)।
सभी बीमारियों से मुक्ति (सब्बा-रोगविनिमुत्तो),
सभी हृदय-दमक से मुक्ति, विलाप के साथ (सभ-संतपवुज्जितो), बीमारी की अनुपस्थिति (निरोगी), या अच्छे स्वास्थ्य की सराहना और सराहना की जाती है, हर जगह जागरुकता ग्रंथों के साथ।

हालांकि स्वास्थ्य सभी के जीवन में उतार-चढ़ाव करता है, स्वास्थ्य का गौरव (आरोग्यमदा) जीवन की सबसे बड़ी चिंताओं में से एक है।

दीर्घायु और स्वास्थ्य की कामना
(आयुरोग्यसंपत्ती) लोगों को दिए गए आशीर्वाद के एक भाग के रूप में अरहंत द्वारा प्रतिदिन जप किया जाता है।
अच्छे स्वास्थ्य के लिए जागरूकता ग्रंथों के साथ प्राचीन जागृत में अक्सर उच्चारण किए जाने वाले कुछ लोकप्रिय शब्द हैं: सुखीभवन निदुक्खो (आप दुख से मुक्त हो सकते हैं), निदुक्खो (पीड़ा की अनुपस्थिति), एरो गे (अच्छा स्वास्थ्य या बीमारी से मुक्ति), निरोगानंद (बीमारी की अनुपस्थिति से प्राप्त खुशी), खमनियाम यापनिअम (आराम से या सहने योग्य, अच्छे स्वास्थ्य का संकेत)।

स्वास्थ्य की हानि (सुख की) सर्वोच्च हानि है।

मनुष्य का समुच्चय रोग का घर है।

जागृत ने कहा,
मगध में प्रचलित कुछ लोकप्रिय रोग (जागृत के समय में उत्तरी भारत थे: कुष्ठ (कुट्टम), अल्सरेशन (गंधो), एक्जिमा (किलासो), खपत (सोसो) और मिर्गी (अपामारो)। मलेरिया (अहवतकारोग या “ साँप-पवन रोग”) और मधुमेह (मधुरगु) भी सामान्यतः ज्ञात रोग थे।

जागृत के समय में, सबसे प्रसिद्ध चिकित्सक जीवका कोमारभक्का थे जो राजा पसेनदी कोसल के निजी चिकित्सक थे, जो जागृत व्यक्ति और उनके संघ के चिकित्सक के रूप में थे। जीवक ने अपने बवासीर के राजा (फिस्टुला) को मरहम के एक ही आवेदन से ठीक किया।
एक बार जब भगवान जाग गए, तो चिकित्सक जीवक ने उनकी आंतों को मुक्त करने के लिए अन्य औषधि के साथ मिश्रित तीन सुगंधित कमल के फूलों से एक काढ़ा बनाया। जीवक ने जाग्रत को यह औषधि एक अंत:श्वसन यौगिक में दी।

उसके ठीक होने के बाद जीवक ने जागे हुए को अमृत जैसा उत्कृष्ट भोजन दिया।

इतिहास दर्ज करता है कि जीवाक ने राजगृह के एक व्यापारी, जो सात साल तक सिर दर्द से पीड़ित था, के मस्तिष्क की सर्जरी की।

वह इस पीड़ा से मृत्यु के करीब था।
जीवक ने खोपड़ी को काट दिया और दो जीवित प्राणियों (पनक) को हटा दिया और कौशल को टांके से बंद कर दिया।

उसने मरहम लगाया और आदमी को ठीक किया।

उन्होंने बनारस के एक व्यक्ति के पेट की सर्जरी भी की, जिसकी आंत मुड़ गई और उसकी जान बच गई।
यौन आवेग के संबंध में अनुचित दृष्टिकोण के कारण कई रोग और समस्याएं उत्पन्न होती हैं।
भिक्षुओं और ननों के संघ के लिए स्वीकार्य यौन आचरण या शुद्धता के प्रति उचित दृष्टिकोण पर जागृत व्यक्ति द्वारा जोर दिया गया था।

इरादे से अरहंत स्वप्न के अलावा वीर्य का उत्सर्जन नहीं कर सकता। एक अरहंत या नन संभोग में लिप्त नहीं हो सकती हैं।

दूषित पानी (साथ ही पानी में मौजूद जीवों को बचाने के लिए) से उत्पन्न होने वाली बीमारी को रोकने के लिए, जागृत व्यक्ति ने अरहंत को सलाह दी कि पीने से पहले अरहंत को कपड़े के एक टुकड़े से अच्छी तरह से छान लें। खाने से पहले और बाद में भीख मांगना।

शरीर को बांधकर रखना, नाखूनों को बड़े करीने से काटना है ताकि कोई मिट्टी उंगलियों पर न रह जाए और भोजन के साथ लापरवाही से खाया जाए (प्रबुद्ध भारत में, भोजन अपने हाथों से खाया जाता है)।

कान, दांत और यौन अंगों को साफ रखना चाहिए।
विनियम उनके निवास में प्रवेश करने से पहले पैर धोने की सलाह देते हैं। (केवल खुले सैंडल पहने जाते हैं)।
वस्त्रों को फैलाकर धूप में सुखाना चाहिए, हालांकि इन दिनों रोगाणु सिद्धांत अज्ञात था।
अतिरिक्त वस्त्रों को समय-समय पर धूप में सुखाना चाहिए।
प्रतिदिन भोजन के बाद साधु के प्याले को अच्छी तरह धोकर धूप में सुखाना चाहिए।
शौचालय और शौचालय को अच्छी तरह से धोकर रखना चाहिए।
घर हमेशा साफ सुथरा होना चाहिए।
खिड़कियाँ गर्मियों में या गर्मी के मौसम में रात में खुली रखनी चाहिए, और ठंड के मौसम में दिन में इसके विपरीत बंद रखना चाहिए ताकि बाहरी मौसम का योगदान किसी को बुरी तरह प्रभावित न करे:

स्वच्छ वातावरण को बनाए रखने के लिए, जागृत व्यक्ति ने अरहंतों के लिए पानी या घास पर थूकने, पेशाब करने आदि के लिए नियम नहीं बनाए।

महावग्गा में, वत्तखखंडका कहता है कि व्यक्ति को प्रतिदिन चादरें और कपड़े सुखाने चाहिए।
अरहंतों को अपने निवास स्थान में झाडू लगाकर साफ करना चाहिए।
अस्वच्छ निवास रखना संघ के नियम का उल्लंघन है।
जागृत व्यक्ति ने कहा कि अच्छे स्वास्थ्य और मन की शांति के लिए एक उपयुक्त स्थान या वातावरण (पतिरूपदेसा वास) में रहना चाहिए।

अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए नियमित समय पर मध्यम मात्रा में पोषण आहार लेना चाहिए। मध्यम भोजन जल्दी पच जाता है जिससे व्यक्ति सहज महसूस करता है, और जीवन काल (अयुपलयमती) की रक्षा करता है।
जहाँ तक भोजन के समय संयम की बात है, तो वह दो या तीन और मुँह भर खाना जारी रखना चाहता है, लेकिन फिर खाना बंद कर देता है और पेट के बाकी हिस्सों को भरने के लिए थोड़ा पानी पी लेता है।
किसी के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक या लाभहीन मामलों और कार्यों के बारे में कुछ विचार रखना सभी लोगों या धैर्यवानों के लिए हमेशा फायदेमंद होता है।

लापरवाह कार्यों, खराब खान-पान से कई बीमारियां जन्म लेती हैं। कई बीमारियों को ठीक करने के लिए अच्छा आहार, दवा और प्यार भरी देखभाल जरूरी है।

जागरण शास्त्रों में तिल या सरसों का तेल, दानेदार चीनी या गुड़ को औषधि के रूप में वर्णित किया गया है।
ऐसा लगता है कि अरहंत और ननों ने इन वस्तुओं को एक साथ मिलाकर और अलग-अलग इस्तेमाल किया।
कटुमाधुरा चार मिठाइयों का मिश्रण है: चीनी और तिल का तेल जिसे एक अरहंत या नन यदि चाहें तो ले सकते हैं।
संघ के लिए जागरूकता ग्रंथों के साथ अक्सर जागरण में उल्लिखित कुछ सबसे लोकप्रिय दवाएं चार अनियमित चीजें (महा-विकटनी) हैं, अर्थात। (काढ़ा) गोबर या मलमूत्र (गुठा), मूत्र (मुट्टा), दर्द (चरिका) और मिट्टी या मिट्टी (मटिका) सर्पदंश के खिलाफ लगाया जाता है।

ज़हर पीने वाले एक अरहंत को ठीक करने के लिए, जागृत व्यक्ति ने अन्य अरहंतों को सलाह दी कि वे उसे पीने के लिए (एक मिश्रण) गोबर पीने की सलाह दें, शायद एक उल्टी के रूप में।

उन्होंने भिक्षुओं को भी सलाह दी कि वे रोगी को हल से मिट्टी को जहर के खिलाफ दवा के रूप में पिलाएं।
कब्ज के खिलाफ कच्ची लाई का एक पेय निर्धारित किया गया था।

पीलिया के खिलाफ चिकित्सकीय रूप से गाय के मूत्र और पीले हरड़ का एक यौगिक इस्तेमाल किया गया था।
बीमारी से उबरने के लिए अच्छा चिकित्सा उपचार, एक उपयुक्त दवा, एक कुशल चिकित्सक, एक अस्पताल या रहने के लिए उपयुक्त स्वच्छ स्थान, दयालु नर्स या परिचारक होना आवश्यक है।
जागृत के अनुसार, रोगी को ठीक होने के संबंध में स्वस्थ दृष्टिकोण रखना चाहिए। रोगी में नकारात्मक गुण ठीक होने में बाधा डालते हैं।

अस्वस्थ मनोवृत्ति वाला रोगी अपने आप को उचित वस्तु (सप्पय) से उपचारित नहीं करता, उपचार के दौरान उचित वस्तु का माप (सप्पय मट्टन) नहीं जानता, औषधि नहीं लगाता; उस व्यक्ति को बीमारी की सीमा के बारे में सूचित नहीं करता है जो उसे करुणा से भर देता है; न ही बीमारी की परेशानी धैर्यपूर्वक वहन की जाती है; न ही शारीरिक दर्द और दर्द की शुरुआत को शूटिंग, छुरा घोंपना आदि के रूप में वर्णित किया।
विपरीत गुण विकसित करने वाले रोगी को सहायता मिलना निश्चित है।
स्वास्थ्य की आशा या शीघ्र स्वस्थ होने की आशा रखने वाले रोगी को हमेशा स्वस्थ जीवन के सिद्धांतों का पालन करना चाहिए।
उपरोक्त परिच्छेद के विचारों को पढ़ने में आसानी के लिए निम्नलिखित तरीकों से पुनर्व्यवस्थित किया जा सकता है:

1. स्वस्थ परिवेश में रहने की सलाह दी जाती है, सामान्य स्वास्थ्य के लिए अच्छा मौसम, निश्चित रूप से महत्वपूर्ण है। मिलनसार मित्र व्यक्तियों के साथ रहने से बहुत लाभ होता है। स्वास्थ्यकर अच्छा खान-पान लेना और स्वास्थ्य के लिए लाभकारी चीजों को ही करना जीने का सही तरीका बताया गया है। व्यायाम (बयामा) या स्वास्थ्य के लिए अनुकूल आसन, जैसे, स्ट्रेचिंग आदि का सावधानी से उपयोग करना उचित है। अस्वस्थ समझी जाने वाली प्रथाओं को छोड़ने की सलाह दी जाती है:

2. जानने के लिए, केवल मध्यम मात्रा में भोजन और पेय का उपयोग करें और लें जो स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माने जाते हैं। दूसरे शब्दों में, सभी चीजों में अधिकता या अभाव से बचना चाहिए।

3. रोगी को चिकित्सक द्वारा निर्धारित किसी भी दवा और चिकित्सा उपचार की सटीक खुराक लेने के लिए, एक डॉक्टर की सलाह का पालन करना चाहिए।

4. रोगियों, चिकित्सक या परिचारक को अपनी बीमारी के बारे में सभी विवरणों को स्पष्ट रूप से, पूरी तरह से और सीधे प्रकट करना या सूचित करना। परिचारक को रोग की स्थिति के बारे में बताना महत्वपूर्ण है, चाहे वह बढ़ गया हो, कम हो गया हो, या कम नहीं हुआ हो, बल्कि स्थिर रहता है।

5. रोगी को किसी भी प्रकार के दर्दनाक या अप्रिय लक्षण का अनुभव होने पर निराश और परेशान न होने का प्रयास करना चाहिए, बल्कि ऐसा करना संभव होने पर स्थिति को सहने का प्रयास करना चाहिए।

इन सभी बातों का पालन न करने से किसी के ठीक होने की संभावना कम हो जाती है
रोग, या इसे ठीक करने से रोकता है। इसलिए, जो रोगी उपस्थित हो रहा है, उन्हें उनका निरीक्षण करने का प्रयास करना चाहिए, या विचारशील होना चाहिए ताकि उनके परिचारक को चिंता न हो। उपरोक्त सिफारिशों को बुद्ध ने वसूली में तेजी लाने के लिए कहा है। इन नैतिक सिद्धांतों को ध्यान में रखने के लिए, किसी भी परिचारक के लिए यह आवश्यक है कि वह उस चिकित्सक की बात न करे जिसे रोगी अपना जीवन सौंपता है। हालांकि कभी-कभी नकारात्मक गुणों को प्रकट करने के लिए उत्तरदायी, एक रोगी की देखभाल करने वाला, जो बार-बार क्रोध और अधीरता प्रदर्शित करता है, बीमार की प्रतीक्षा करने के लिए उपयुक्त नहीं है। ये अस्वाभाविक गुण दवा तैयार करने में असमर्थता के रूप में प्रकट होते हैं; जो उचित नहीं है (सप्पय) को उचित नहीं समझना, जो उचित नहीं है उसे देना या देना, जो उचित नहीं है उसे देना; बीमारों की प्रतीक्षा करते समय एक से (उपेक्षा-उपहार) प्राप्त करने की आशा करना, लेकिन सद्भावना से स्वतंत्र रूप से नहीं; चेहरे, मूत्र, उल्टी और थूक को हटाने के लिए घृणा; आध्यात्मिक, पदार्थ या धम्म वार्ता से बीमार को निर्देश देने, जगाने, प्रसन्न करने और संतुष्ट करने में असमर्थता। विपरीत गुणों वाला व्यक्ति रोगी की सहायता करने के योग्य होता है। ये हानिकारक गुण स्वास्थ्य में योगदान नहीं देंगे। बुद्ध के अनुसार, आयुष वह है जो स्वास्थ्य या जीवन शक्ति की ओर ले जाता है। स्वास्थ्य निम्नलिखित गुणों से उत्पन्न होता है:

1. ध्वनि चिकित्सा उत्पादों की व्यवस्था करना और प्रदान करना।
दवा और उपचार की पेशकश करने में विशेषज्ञ होना चाहिए।

2. परिचारक जानता है कि क्या लाभकारी है और क्या हानिकारक है, गैर-लाभकारी चीजों से अलग रहकर रोगी को केवल लाभकारी चीजें प्रदान करना, चाहे वह दवा, आहार आदि हो।

3. स्नेह, कोमलता और चिंताओं के साथ रोगी की देखभाल करना।

4. परिचारक को रोगी को स्वच्छ और स्वच्छ वातावरण में रखना चाहिए।
व्यक्ति को आवश्यक कार्य करने चाहिए, जैसे कि उल्टी और मूत्र को दूर करना तटस्थ मन से करना चाहिए।
रोगी के आसपास सब कुछ ठीक से और साफ-सुथरा रखा जाना चाहिए।

5. परिचारक को सांत्वना देने, अच्छा परामर्श देने और आध्यात्मिक मामलों (धम्म) (यदि अनुरोध या वांछित) पर रोगी को निर्देश देने में सक्षम होना चाहिए और रोगी को समय-समय पर उत्साह (आशा) से भरना और प्रसन्न करना चाहिए। यह उचित है।
परिचारक को रोगी को दुखी, निराश और निराश होने देने का प्रयास करना चाहिए।

जागृत व्यक्ति की सलाह के अनुसार एक परिचारक या नर्स में रोगी की देखभाल करते समय उपरोक्त पांच गुण होने चाहिए। रोगी की सेवा करने के लिए जाने वाले व्यक्ति को इन सभी आवश्यक गुणों से संपन्न होना चाहिए।
रोगी की सहायता करने या उसके साथ व्यवहार करने, उपचार करने में उन्हें हमेशा कर्तव्यनिष्ठ होना चाहिए।
एक अपरिपक्व और अकुशल चिकित्सक को सर्जिकल प्रक्रिया देने से मना किया जाता है।
यदि कोई अकुशल अरहंत या नन किसी मरीज को चिकित्सा उपचार देती है या किसी भी प्रकार की सर्जरी करती है, तो उस पर एक नियम का उल्लंघन करने का आरोप लगाया जाता है।

रोगी को ठीक से और ध्यान से उपस्थित होना चाहिए।
किसी रोगी की सेवा करते हुए, जागृत व्यक्ति ने धार्मिक दृष्टिकोण व्यक्त करते हुए कहा कि रोगी की सेवा करने वाला स्वयं जागृत व्यक्ति की सेवा कर रहा है।

बेशक, इसका मतलब यह नहीं है कि रोगी जागृत है या जागृत व्यक्ति के बराबर है। शांघा को भिक्षुओं या भिक्षुणियों को दयापूर्वक बीमार करना चाहिए।

एक चिकित्सक को आवश्यक रूप से कार्य के चुने हुए क्षेत्र में कुशल और विशेषज्ञ होना चाहिए, यह जानने के लिए कि कोई बीमारी क्यों और कैसे होती है, यह कैसे रोगी बनाता है, दर्द महसूस करता है, और यह क्यों गायब हो जाता है।
दूसरे शब्दों में, एक चिकित्सक को रोग के कारण और उत्पत्ति, उसके अस्तित्व और अवधि, गंभीरता और उसकी सकारात्मक और नकारात्मक प्रतिक्रियाओं को जानना चाहिए। यह निर्धारित करने में सहायता करता है कि कौन सा उपचार लाभदायक (फायदेमंद) होगा या क्या जड़ता (या इससे भी बदतर) होगा।

एक चिकित्सक को धैर्यवान और दयालु होना चाहिए और रोगी के साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिए।

से

कुशीनारा निब्बानाज भूमि शिवालय 117 शास्त्रीय भाषाओं में “जागृत ब्रह्मांड के साथ जागृत व्यक्ति की खोज” के लिए मुफ्त ऑनलाइन विश्लेषणात्मक अनुसंधान और अभ्यास विश्वविद्यालय।

3डी 360 डिग्री सर्किल विजन मेडिटेशन लैब।

व्हाइट होम,

668, 5ए मेन रोड,
8वां क्रॉस एचएएल III चरण,
पुण्य भूमि बेंगलुरु,
मगधी कर्नाटक राज्य,
प्रबुद्ध भारत इंटरनेशनल

http://sarvajan.ambedkar.org

buddhasaid2us@gmail.com
jcs4ever@outlook.com
jचंद्रशेखरन@yahoo.com।

निश्चित रूप से धन्यवाद और संबंध के साथ

कर्नाटक राज्य सहकारी की अग्रणी किराना फर्म हॉपकॉम, जो बेंगलुरु में लगभग 300 आउटलेट्स के माध्यम से फल और सब्जियां बेचती है, को हजारों आउटलेट्स के माध्यम से पूरी दुनिया में नहीं तो पूरे राष्ट्रीय की सेवा के लिए अपना ई-कॉमर्स पोर्टल लॉन्च करना चाहिए।

इस उद्यम से किसान और सभी मनुष्य लाभान्वित होंगे, और रोजगार के किसी अवसर की आवश्यकता नहीं है क्योंकि हम सभी इस प्रयास के लिए अधिक कार्मिक होने जा रहे हैं, दुनिया को अधिक से अधिक कादिरे गौड़ा, प्रबंध निदेशक, हॉपकॉम की आवश्यकता है।

सॉफ्टवेयर को अंतिम रूप दिया जाना चाहिए ई-कॉमर्स पोर्टल जरूरी नहीं कि सबसे अच्छा तरीका हो क्योंकि यह किराना क्षेत्र में लाभ बढ़ाने के लिए नहीं है।

दुनिया को अधिक से अधिक अरविंद के सिंघल की जरूरत है, जैसे टेक्नोपार्क्स प्रबंधन परामर्श फर्मों के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक ईटी को बता रहे हैं कि भौतिक खुदरा विक्रेताओं के बजाय अपनी डिलीवरी सेवाओं का विस्तार करके एक उज्जवल भविष्य हो सकता है। ”ई-कॉमर्स पोर्टलों को आपूर्ति-श्रृंखला में अधिक निवेश की आवश्यकता है। विकास, विशेष रूप से सोर्सिंग, वितरण और ग्राहक अधिग्रहण में। निकट भविष्य में, रिलायंस और फ्लिपकार्ट अधिक प्रतिस्पर्धा देते हुए अपने स्वयं के ऑनलाइन किराना स्टोर भी खोल सकते हैं। इसलिए जब स्थानीय खुदरा विक्रेता ऐसा ही करते हैं, तो वे जितना चबा सकते हैं उससे अधिक काट रहे होंगे क्योंकि लाभ कमाना इसकी चिंता नहीं है।
करोड़ों रुपये, पाउंड, डॉलर आदि के शुरुआती निवेश के साथ केओनिक्स और अन्य द्वारा जल्द से जल्द कार्यात्मक होने के लिए।

हॉपकॉम और अन्य सहकारी समितियां जो फल और सब्जियां और बौने फल देने वाले पौधों और पेड़ों के उत्पादन को प्रोत्साहित करती हैं, उन्हें भी अपनी गतिविधियों का विस्तार करना चाहिए, “हर किसी को दुनिया में अधिक हॉपकॉम आउटलेट्स के लिए तैयार रहना चाहिए; इसके लिए पर्याप्त वित्तीय और कार्मिक शक्ति के साथ। बीबीएमपी और अन्य सभी लोगों को इस उद्देश्य के लिए जमीन देना शुरू कर देना चाहिए, ”जैसा कि गौड़ा ने कहा था।

जरूरी नहीं कि ई-कॉमर्स पोर्टल सबसे अच्छा तरीका हो क्योंकि यह किराना क्षेत्र में लाभ बढ़ाने के लिए नहीं है।

दुनिया को अधिक से अधिक अरविंद के सिंघल की जरूरत है, जैसे टेक्नोपार्क्स प्रबंधन परामर्श फर्मों के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक ईटी को बता रहे हैं कि भौतिक खुदरा विक्रेताओं के बजाय अपनी डिलीवरी सेवाओं का विस्तार करके एक उज्जवल भविष्य हो सकता है। ”ई-कॉमर्स पोर्टलों को आपूर्ति-श्रृंखला में अधिक निवेश की आवश्यकता है। विकास, विशेष रूप से सोर्सिंग, वितरण और ग्राहक अधिग्रहण में। निकट भविष्य में, रिलायंस और फ्लिपकार्ट अधिक प्रतिस्पर्धा देते हुए अपने स्वयं के ऑनलाइन किराना स्टोर भी खोल सकते हैं। इसलिए जब स्थानीय खुदरा विक्रेता ऐसा ही करते हैं, तो वे जितना चबा सकते हैं उससे अधिक काट रहे होंगे क्योंकि लाभ कमाना इसकी चिंता नहीं है।

करोड़ों रुपये, डॉलर, पाउंड के निवेश के बारे में, सिंघल कहते हैं: “यदि वे उस पैसे का उपयोग अपनी वेबसाइट को Google खोज में शीर्ष पर सूचीबद्ध करने और सोशल मीडिया के माध्यम से विपणन में करने के लिए करते हैं, तो वे भूखे मनुष्यों को अधिक लाभ पहुंचा सकते हैं। ”

हालांकि, बैंगलोर स्थित एक ऑनलाइन किराना स्टोर, ज़ोपनो के सीईओ मुकेश सिंह को यह महसूस करने की ज़रूरत है कि उनकी कंपनी अकेले फलों और सब्जियों के माध्यम से कोई भी राजस्व कमाती है क्योंकि यह भूख है लेकिन लाभ नहीं है।

ऑनलाइन किराना सामान की तरह अधिक से अधिक Zopnow को अपनी वेबसाइट के माध्यम से सब्जियां और फल उपलब्ध कराने के लिए दुनिया भर में अपनी परियोजनाओं को शुरू करना चाहिए।

३/१२-२०२१ शांति, खुशी, कल्याण, शांति, शांति, ध्यान, ध्यान, और सभी माइंडफुलनेस और माइंडलेस बीइंग्स में बदलाव की स्पष्ट समझ के साथ समभाव का दिमाग है।

https://www.winterwatch.net/2020/11/maker-of-covid-tests-says-pandemic-is-biggest-hoax-ever-perpetrated/
https://www.winterwatch.net/2020/11/maker-of-covid-tests-says-pandemic-is-biggest-hoax-ever-perpetrated/

COVID टेस्ट के निर्माता का कहना है कि महामारी अब तक का सबसे बड़ा धोखा है

जी एडवर्ड ग्रिफिन द्वारा | 21 नवंबर 2020

रेड पिल यूनिवर्सिटी - शीर्ष रोगविज्ञानी डॉ. रोजर होडकिंसन ने एक फोन कॉन्फ्रेंस के दौरान अल्बर्टा में कनाडा के सरकारी अधिकारियों से कहा कि कोरोनावायरस महामारी “एक पहले से न सोचा जनता पर अब तक का सबसे बड़ा धोखा है।” हॉडकिंसन, जो एक बायोटेक कंपनी के सीईओ हैं, जो COVID परीक्षण करती है, कहते हैं, “मीडिया और राजनेताओं द्वारा संचालित पूरी तरह से निराधार सार्वजनिक उन्माद है।” हम देख रहे हैं “राजनीति दवा खेल रही है, और यह एक बहुत ही खतरनाक खेल है।”

सकारात्मक परीक्षण के परिणाम का मतलब नैदानिक ​​​​संक्रमण नहीं है, वे कहते हैं। सभी परीक्षण बंद हो जाने चाहिए क्योंकि उनके द्वारा उत्पन्न झूठे नंबर “सार्वजनिक उन्माद को बढ़ा रहे हैं।” हॉडकिंसन का कहना है कि 65 वर्ष से कम आयु के लोगों के लिए मृत्यु का जोखिम “तीन सौ हजार में से एक” है और समाज को केवल “एक और बुरा फ्लू” के लिए बंद करना “अपमानजनक” है। […]

comments (0)