INSIGHT-NET - FREE Online Tipiṭaka Research & Practice University and related NEWS through 
http://sarvajan.ambedkar.org 
in
 105 CLASSICAL LANGUAGES
INSIGHT-NET -FREE Online Tipiṭaka Research & Practice University through http://sarvajan.ambedkar.org 
in
 105 CLASSICAL LANGUAGES

Categories:

Archives:
Meta:
July 2014
M T W T F S S
« Jun   Aug »
 123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031  
07/01/14
1211 LESSON 2714 WEDNESDAY revised from FREE ONLINE E-Nālanda Research and Practice UNIVERSITY TIPITAKA TIPITAKA AND TWELVE DIVISIONS Brief historical background Sutta Pitaka Vinaya Pitaka Abhidhamma Pitaka Twelve Divisions of Buddhist Canons Nine Divisions of Buddhist Canons
Filed under: General
Posted by: @ 8:09 pm

1211 LESSON 2714 WEDNESDAY revised from  FREE ONLINE E-Nālanda Research and Practice UNIVERSITY


TIPITAKA

TIPITAKA   AND   TWELVE   DIVISIONS
    Brief historical background
   Sutta Pitaka
   Vinaya Pitaka
   Abhidhamma Pitaka
     Twelve Divisions of Buddhist Canons
Nine Divisions of Buddhist Canons

TIPITAKA   AND   TWELVE   DIVISIONS  is the collection of the teachings
of the Buddha over 45 years. It consists of Sutta (the conventional
teaching), Vinaya (Disciplinary code) and Abhidhamma (commentaries).

The Tipitaka was compiled and arranged in its present form by the
disciples who had immediate contact with Shakyamuni Buddha. 
The Buddha
had passed away, but the sublime Dhamma which he unreservedly bequeathed
to humanity still exists in its pristine purity. 
Although the Buddha
had left no written records of his teachings, his distinguished
disciples preserved them by committing to memory and transmitting them
orally from generation to generation. 


     Brief historical background 


 
Immediately after the final passing away of the Buddha, 500
distinguished Arahats held a convention known as the First Buddhist
Council to rehearse the Doctrine taught by the Buddha. Venerable Ananda,
who was a faithful attendant of the Buddha and had the special
privilege of hearing all the discourses the Buddha ever uttered, recited
the Sutta, whilst the Venerable Upali recited the Vinaya, the rules of
conduct for the Sangha. 
One hundred years after the First Buddhist
Council, some disciples saw the need to change certain minor rules. The
orthodox Bhikkus said that nothing should be changed while the others
insisted on modifying some disciplinary rules (Vinaya). Finally, the
formation of different schools of Buddhism germinated after his council.
And in the Second Council, only matters pertaining to the Vinaya were
discussed and no controversy about the Dhamma was reported. 
In the 3rd
Century B.C. during the time of Emperor Asoka, the Third Council was
held to discuss the differences of opinion held by the Sangha community.
At this Council the differences were not confined to the Vinaya but
were also connected with the Dhamma. The Abhidhamma Pitaka was discussed
and included at this Council. The Council which was held in Sri Lanka
in 80 B.C. is known as the 4th Council under the patronage of the pious
King Vattagamini Abbaya. It was at this time in Sri Lanka that the
Tipitaka was first committed to writing in Pali language. 


The
Sutta Pitaka consists mainly of discourses delivered by the Buddha
himself on various occasions. There were also a few discourses delivered
by some of his distinguished disciples (e.g. Sariputta, Ananda,
Moggallana) included in it. It is like a book of prescriptions, as the
sermons embodied therein were expounded to suit the different occasions
and the temperaments of various persons. There may be seemingly
contradictory statements, but they should not be misconstrued as they
were opportunely uttered by the Buddha to suit a particular purpose.

This Pitaka is divided into five Nikayas or collections, viz.:-

 
Dīgha Nikāya
[dīgha:
long] The Dīgha Nikāya gathers 34 of the longest discourses given by
the Buddha. There are various hints that many of them are late additions
to the original corpus and of questionable authenticity.

Majjhima Nikāya
[majjhima:
medium] The Majjhima Nikāya gathers 152 discourses of the Buddha of
intermediate length, dealing with diverse matters.

Saṃyutta Nikāya
[samyutta:
group] The Saṃyutta Nikāya gathers the suttas according to their
subject in 56 sub-groups called saṃyuttas. It contains more than three
thousand discourses of variable length, but generally relatively short.

Aṅguttara Nikāya
[aṅg:
factor | uttara: additionnal] The Aṅguttara Nikāya is subdivized in
eleven sub-groups called nipātas, each of them gathering discourses
consisting of enumerations of one additional factor versus those of the
precedent nipāta. It contains thousands of suttas which are generally
short.

Khuddaka Nikāya
[khuddha: short,
small] The Khuddhaka Nikāya short texts and is considered as been
composed of two stratas: Dhammapada, Udāna, Itivuttaka, Sutta Nipāta,
Theragāthā-Therīgāthā and Jātaka form the ancient strata, while other
books are late additions and their authenticity is more questionable.

       The fifth is subdivided into fifteen books:- 


        Khuddaka Patha (Shorter Texts)

   Dhammapada (The Way of Truth)

     Udana (Heartfelt sayings or Paeons of Joy)

   Iti Vuttaka (’Thus said’ Discourses)

   Sutta Nipata (Collected Discourses)

   Vimana Vatthu (Stories of Celestial Mansions)

   Peta Vatthu (Stories of Petas)

      Theragatha (Psalms of the Brethren)

     Therigatha (Psalms of the Sisters)

Jataka (Birth Stories)

    Niddesa (Expositions)

      Patisambhida (Analytical Knowledge)

        Apadana (Lives of Saints)

    Buddhavamsa (The History of Buddha)
   

 Cariya Pitaka (Modes of Conduct)

Dīgha Nikāya
[dīgha:
long] The Dīgha Nikāya gathers 34 of the longest discourses given by
the Buddha. There are various hints that many of them are late additions
to the original corpus and of questionable authenticity.

Sutta Piṭaka

— The basket of discourses —
[ sutta: discourse ]
Dīgha Nikāya

DN 9 -
Poṭṭhapāda Sutta
{excerpt}

— The questions of Poṭṭhapāda —

Tree

Sutta Piṭaka


— The basket of discourses —
[ sutta: discourse ]


The Sutta Piṭaka contains the essence of the Buddha’s teaching
regarding the Dhamma. It contains more than ten thousand suttas. It is
divided in five collections called Nikāyas.




Dīgha Nikāya
[dīgha: long] The Dīgha Nikāya gathers 34 of the longest
discourses given by the Buddha. There are various hints that many of
them are late additions to the original corpus and of questionable
authenticity.

Tree Sutta Piṭaka >> Digha Nikāya


DN 9 -

Poṭṭhapāda Sutta

{excerpt}


— The questions of Poṭṭhapāda —


Now, lord, does perception arise first, and knowledge after; or does
knowledge arise first, and perception after; or do perception &
knowledge arise simultaneously?


Potthapada,
perception arises first, and knowledge after. And the
arising of knowledge comes from the arising of perception. One discerns,
‘It’s in dependence on this that my knowledge has arisen.’ Through this
line of reasoning one can realize how perception arises first, and
knowledge after, and how the arising of knowledge comes from the arising
of
perception


மிழில் திரிபி  மூன்று தொகுப்புள்
மற்றும்
பன்னிரண்டாகவுள்ள மண்டலங்கள்
சுருக்கமான வரலாற்று முன் வரலாறு
ஸுத்தபிடக
வினயபிடகே
அபிதம்மபிடக

புத்தசமய நெறி முறைகளின் பன்னிரண்டாகவுள்ள மண்டலங்கள்
புத்தசமய நெறி முறைகளின் ஒன்பது மண்டலங்கள் 


திரிபிட  மற்றும் பன்னிரண்டாகவுள்ள மண்டலங்கள் புத்தரின் 45 ஆண்டுகளுக்கும் மேலாக போதிக்கப்பட்ட கோட்பாடு தொகுப்பு. அது ஸுத்த (மரபொழுங்கு சார்ந்த போதனை),வினய (ஒழுங்கு சார்ந்த விதித் தொகுப்பு) மற்றும் அபிதம்ம (விளக்கவுரைகளின்) உள்ளடக்கு. திரிபிட
இப்பொழுதுள்ள படிவத்தில் தொகுத்து மற்றும் ஒழுங்கு படுத்தியது,
சாக்கியமுனி புத்தருடன் நேரடியான தொடர்பிருந்த சீடர்களால். புத்தர் இறந்து
போனார், ஆனால் அவர், மட்டுமழுப்பின்றி மரபுரிமையாக மனித இனத்திற்கு அளித்த உன்னத தம்மம் (தருமம்) இன்னும் அதனுடைய பண்டைய தூய்மையுடன் இருக்கிறது. புத்தர்
எழுத்து மூலமாய்த் தெரிவிக்கப்பட்டுள்ள பதிவுகள் யாவும் விட்டுச்
செல்லாபோதிலும், அவருடைய மேன்மைதங்கிய கெளரவம் நிறைந்த சீடர்கள் அவற்றை 
ஞாபக சக்தியால் ஒப்புவித்து,  பேணிக்காத்து மற்றும் அவற்றை வாய்மொழியாக தலைமுறை தலைமுறையாககைமாற்றிக் கொண்டுள்ளனர்.
சுருக்கமான வரலாற்று முன் வரலாறு

புத்தரின் இறுதி
சடங்கிற்கப்புறம் உடனே, 500  மேன்மைதங்கிய கெளரவம் நிறைந்த அறஹதர்கள்
(அருகதையுள்ளவர்கள்) முதலாவது பெளத்த சமயத்தினர் அவை என்றழைக்கப்பட்ட
புத்தர் போதித்த போதனைகளை மறுபடிமுற்றிலும் சொல் அவை கூட்டினர்.
புத்தருடன் திடப்பற்றுடன் உடனிருந்த மற்றும் புத்தரின் முழுமை போதனையுரைகளையும் கேட்டுணரும் வாய்ப்புப் பெற்ற பிரத்தியேகமான சிறப்புரிமை வாய்ந்த பூஜிக்கத்தக்க ஆனந்தா, ஸுத்த (மரபொழுங்கு சார்ந்த போதனை) நெட்டுருப்பண்ணி ஒப்புவிவித்தார், அதே சமயம் பூஜிக்கத்தக்க உபாலி, வினய (ஒழுங்கு
சார்ந்த விதித் தொகுப்பு) ஸங்கத்திற்கான நடத்தை விதிகளை நெட்டுருப்பண்ணி
ஒப்புவிவித்தார்.முதலாவது பெளத்த சமயத்தினர் அவையின் ஒரு நூற்றாண்டுக்குப்
பின், சில சீடர்கள்  ஒரு சில சிறுபகுதி விதிகளின்  மாற்றம் தேவை என
உணர்ந்தனர். பழமையிலிருந்து நழுவாத பிக்குக்கள் மாற்றங்கள் எதுவும்
தேவையில்லை எனக் கூறினர் அதே சமயம் மற்றவர்கள் சில ஒழுங்கு சார்ந்த விதிகளை
(வினய) (ஒழுங்கு
சார்ந்த விதித் தொகுப்பு)) சிறிது மாற்றியமைக்க வலியுருத்தினர்.முடிவில்
அவருடைய அவைக்குப் பிறகு வேறான தனி வேறான புத்தமத ஞானக்கூடங்கள்
உருவாக்குதல் வளரத் தொடங்கியது.  மற்றும் இரண்டாவது அவையில் (வினய) (ஒழுங்கு
சார்ந்த விதித் தொகுப்பு)) உரியதாயிருந்த விசயம் மட்டும்  தான் விவாதம்
செய்ப்பட்டது மற்றும் தம்மா பற்றிய கருத்து மாறுபாடு அறிவிக்கப் படவில்லை.
மூன்றாம் நூற்றாண்டு அசோக சக்கரவர்த்தி காலத்தில் மூன்றாவது அவையில் ஸங்க சமூகத்தின் வேறான தனி வேறான நடத்தை விதிகளின் அபிப்பிராயங்கள் விவாதம் செய்ப்பட்டது. இந்த அவையில் வேறான தனி வேறான(வினய) (ஒழுங்கு சார்ந்த விதித் தொகுப்பு)) உரியதாயிருந்த விசயம் மட்டும்  வரையறுக்கப்பபடவில்லை ஆனால் மேலும் தம்மா தொடர்பானதாகவும் இருந்தது. அபிதம்மபிடக  இந்த அவையில் விவாதம் செய்ப்பட்டது மற்றும் சேர்த்துக் கொள்ளப்பட்டது. ஸ்ரீலங்கா (இலங்கையில்) 80ம்
நூற்றாண்டு கூடிய, நான்காம் அவை என அழைக்கப்படும் இந்த அவை
சமயப்பணியார்வமுடைய வேந்தர் வட்டகாமினி அபைய கீழுள்ள ஆதரவுடன் கூடியது. அது
இந்த காலத்தில் தான் திரிபிட ஸ்ரீலங்காவில் முதன்முறையாக எழுத்து வடிவில் புத்தசமயத்தவரது புணித பாளி மொழியில் ஈடுபடுதலானது.





ஸுத்தபிடக, புத்தர்

பெரும் அளவு அவரே வெவ்வேறு
சந்தர்ப்பங்களில் வழங்கிய போதனைகள்  உளதாகும். ஒரு சில
போதனைகள் அவருடைய மேன்மைதங்கிய கெளரவம் நிறைந்த சீடர்களால்ல கூட
வழங்கப்பட்டுள்ளது (எடுத்துக்காட்டு.ஸாரிபுத்தா,ஆனந்தா,மொக்கல்லனா)
அவற்றில் உள்ளடங்கியுள்ளது.  விவரமாக எடுத்துக்கூறி வெவ்வேறு
சந்தர்ப்பங்களில் மற்றும் வெவ்வேறு நபர்கள்
மனப்போகிற்குப்  பொருந்தும் பிரகாரம் நீதிபோதனைகள் விவரமாக எடுத்துக்கூறி
அதில் உள்ளடக்கியதால் அது ஒரு மருந்துக் குறிப்பு புத்தகம்  போன்றதாகும்.
முரண்பாடானது  என்பது போன்று அறிக்கைகள் இருக்கக்கூடும், ஆனால் அவைகள்
தறுவாய்க்கு ஏற்ற புத்தர் கூற்று என்பதால் தவறாகத் தீர்மானி
வேண்டியதில்லை. இந்த பிடக ஐந்து நிகாய அல்லது திரட்டுகள் பாகங்களாகப் பிரிப்பட்டுள்ளது. அதாவது:-

திக்க (நீளமான) நிகாய (திரட்டுகள்)
புத்தரால் கொடுக்கப்பட்ட 34 நீளமான போதனையுரைகள் கொய்சகமாக்கப்பட்டது.

 மஜ்ஜிம (மத்திம) (நடுத்தரமான) நிகாய (திரட்டுகள்)

புத்தரால்
கொடுக்கப்பட்ட 152 மத்திம ( நடுத்தரமான நீட்சி ) பல்வேறு வகைப்பட்ட
விஷயங்கள் செயல் தொடர்பு உடன் போதனையுரைகள் கொய்சகமாக்கப்பட்டது.


ஸம்யுத்த (குவியல்) நிகாய (திரட்டுகள்)

குவியல்
நிகாய (திரட்டுகள்) என அழைக்கப்படும் நெறி முறைக் கட்டளை ஆணை அவற்றினுடைய
பொருளுக்கு ஏற்ப 56 பங்குவரி குவியலாக கொய்சகமாக்கப்பட்டது. அது மூவாயிரம்
விஞ்சி மிகுதியாக மாறும் தன்மையுள்ள நீளம் ஆனால் பெரும்பாலும் ஒப்பு
நோக்காக சுருக்கமான நெறி முறைக் கட்டளை ஆணை நிரம்பியது.



  
அங்குத்தர (கூடுதல் அங்கமான) (ஆக்கக்கூறு) நிகாய (திரட்டுகள்)

இறங்குதல்
காரணி, கருத்தைக் கவர்கிற, கீழ் நோக்கி அல்லது ஏறத்தாழ தற்போதைக்கு
உதவுகிற என அழைக்கப்படும் பதினொன்று பங்குவரி, ஒவ்வொன்று
கொய்சகமாக்கப்பட்டது நெறி முறைக் கட்டளை ஆணை கணக்கிடல் ஆக்கை ஒரு
குறிப்பிட்ட கூடுதல் ஆக்கக் கூறு எதிராக அவை முன்னோடி மாதிரி இறங்குதல்
காரணி. அது ஆயிரக்கணக்கான பெரும்பாலும் சுருக்கமான நெறி முறைக் கட்டளை ஆணை
நிரம்பியது. தன்னகம் கொண்டிரு


குத்தக (சுருக்கமான, சிறிய) நிகாய (திரட்டுகள்)

சுருக்கமான,
சிறிய நிகாய (திரட்டுகள்) வாசகம் மற்றும் ஆலோசனை மிக்க மாதிரி தணிந்த
இரண்டு படுகைகள் : தம்மபத (ஒரு சமய சம்பந்தமான முற்றுத் தொடர் வாக்கியம் ,
மூன்று கூடைகள் நூட்கள்  ஒன்றின் பெயர் , தம்மாவின் உடற்பகுதி அல்லது
பாகம்), உதான (வார்த்தைகளால்,

மேல்நோக்கிய பேரார்வம், ஆவல் கொண்ட அல்லது
மகிழ்ச்சி கூற்று, சொற்றொடர் , உணர்ச்சிமிக்க உறுதலுணர்ச்சி, மகிழ்ச்சி
அல்லது மனத்துயரம் இரண்டனுள் ஒன்று), இதிவுத்தக ( இது குத்தகனிகாய நான்காம்
புத்தகம் பெயர்), ஸுத்த ( ஒரு சரம், இழை ,: புத்தசமயம், சவுகதநூல் ஒரு
பாகம்; ஒரு விதி, நீதி வாக்கியம் இறங்குதல் காரணி),தேரகாத-தேரிகாத(
தேராக்களுக்கு உரியதானது), மற்றும் ஒரு சரடு ஜாதக ( பிறப்பு , பிறப்பிடம் ,
ஒரு பிறப்பு அல்லது : புத்தசமயம் விவேகம் வாழ்தல் , ஒரு ஜாதக, அல்லது
புத்தரின் முந்திய பிறப்பு கதைளில் ஒன்று.)

இந்த ஐந்தாவது பதினைந்து நூட்களாக பிரிக்கப்பட்டுள்ளது:-
 

சுருக்கமான பாதை (சமய விரிவுரை)

தம்மபத (மெய்ம்மை பாதை)

உதன (மனப்பூர்வமான முதுமொழி அல்லது ஓரசை நீண்ட நாலசைச்சீர்களான மகிழ்ச்சி)

இதி உத்தக (இவ்வாறாக அல்லது அவ்வாறாக கூறிய போதனைகள்)

ஸுத்த நிபட (சேர்த்த போதனைகள்)

விமான வத்து (வானியல் குடும்பங்கள் தனித்தனியாகத் தங்குதற்கேற்பப் பிரிக்கப்பட்ட பெரிய கட்டிட கதைகள்)

பேடா வத்து (இறந்து போன,மாண்டவர் கதைகள்)

தேராகாதா (சகோதரர்கள் வழிபாட்டுப் பாடல்கள்)
 

தேரிகாதா (சகோதரிகள் வழிபாட்டுப் பாடல்கள்)
 

    ஜாதகா (பிறப்பு கதைகள்)

நித்தேச (விளக்கிக்காட்டுதல்)

பதிசம்பித (பகுத்து ஆராய்கிற அறிவு)

அபதான (ஞானிகள் வாழ்க்கை)

புத்தவம்ஸ (புத்தரின் வரலாறு)

   

சாரிய பிடக (நடத்தை முறைகள்)


Tree
>> ஸுத்தபிடக-திக்க நிகாய Sutta Piṭaka >> Digha Nikāya


DN 9 -

பொத்தபாத ஸுத்த
Poṭṭhapāda Sutta

{excerpt}
பொத்தபாதாவின் கேள்விகள்


— The questions of Poṭṭhapāda —



பொத்தபாதா
புலனுணர்வு,விழிப்புணர்வுநிலை,மனத்தின் அறிவுத்திறம், சிந்தனா சக்தி,
ஆகியவற்றின் இயற்கை ஆற்றல் குறித்து பல்வேறு வகைப்பட்ட கேள்விகள்
வினவுகிறார்.

Poṭṭhapāda asks various questions reagrding the nature of Saññā.

தமிழ்


இப்பொழுது,
பந்த்தே, எது முதலாவது எழும்புவது புலனுணர்வா, அடுத்து ஞானமா? அல்லது
ஞானம் முதலாவது மற்றும் புலனுணர்வு அடுத்ததா? அல்லது ஒரே நேரத்தில்
புலனுணர்வும் ஞானமும் எழும்புகிறதா?


பொத்தபாதா,முதலாவது
புலனுணர்வும் பின்னால் ஞானம் எழும்புகிறது. மற்றும் புலனுணர்வு
எழும்புகிறபோது ஞானம் எழும்புகிறது. ஒரு பிரித்தறியும் நிலை சார்ந்துள்ள
என்னுடைய இந்த ஞானம் எழும்பியது. இவ்வழியான வரம்பின் காரண ஆய்வால் ஒருவர்
எப்படி முதலாவது புலனுணர்வு எழும்புகிறது மற்றும் ஞானம் அடுத்து என்று உணர
முடியும் மற்றும் எவ்வாறு புலனுணர்வு எழும்பியதால், ஞானம் எழும்பிமயது
என்றும்.

Classical Kannada

http://www.spectator.co.uk/features/9169081/why-i-wont-let-my-children-learn-french/

The Spectator


ಕನ್ನಡ tiripitaka ಮೂರು ಸೆಟ್

ಮತ್ತು

ವಲಯಗಳು pannirantaka

ಇತಿಹಾಸ ಮೊದಲು ಸಂಕ್ಷಿಪ್ತ ಇತಿಹಾಸ

Suttapitaka

Vinayapitake

Apitammapitaka

ಪ್ರದೇಶ ಬೌದ್ಧ ನೈತಿಕತೆಯ Pannirantaka

ಬೌದ್ಧ ನೈತಿಕತೆಯ ಒಂಬತ್ತು ವಲಯಗಳ

Tiripitaka
ಮತ್ತು ಬುದ್ಧ ಸೆಟ್ ಸಿದ್ಧಾಂತದ ಹೆಚ್ಚು 45 ವರ್ಷಗಳ ಕಲಿಸಿದ pannirantaka ವಲಯಗಳು.
ಇದು ಸುತ್ತ (ಬೋಧನೆ ಸಮಾವೇಶ), ವಿನಯ (ಶಿಸ್ತು ನಿರ್ದಿಷ್ಟ ನಿಯಮ ಸೆಟ್) ಮತ್ತು
apitamma (ವ್ಯಾಖ್ಯಾನಗಳು) ಸೇರಿವೆ. Tiripitaka

ಪ್ರಸ್ತುತ ರೂಪದಲ್ಲಿ ಆಸರೆ ನಿಯಂತ್ರಿಸುತ್ತ,

ಬುದ್ಧ ಶಕ್ಯಮುನಿ ಶಿಷ್ಯರು ನೇರ ಸಂಪರ್ಕ. ಬುದ್ಧ ಡೆಡ್

ಗಾನ್, ಆದರೆ mattumaluppinri ಮಾನವಕುಲದ ಉದಾತ್ತ ದಮ್ಮಾಮ್ (ಧರ್ಮ) ತನ್ನ ಪ್ರಾಚೀನ ಶುದ್ಧತೆ ಇನ್ನೂ ಆನುವಂಶಿಕವಾಗಿ. ಗೌತಮ ಬುದ್ಧ

ಪೋಸ್ಟ್ಗಳನ್ನು ರಜೆ ಮೂಲಕ ಬರೆಯಲಾಗಿದೆ

Cellapotilum, ಮತ್ತು ಹಿಸ್ ಮೆಜೆಸ್ಟಿಸ್ ಪ್ರತಿಷ್ಠಿತ ಅನುಯಾಯಿಗಳು

ಮೆಮೊರಿ ವಿಲೇವಾರಿ ವೇಳೆ, ನಿರ್ವಹಣೆ ಮತ್ತು ಮಾತಿನ ಅವುಗಳನ್ನು தலைமுறையாககைமாற்றி ಪೀಳಿಗೆಯ. ಇತಿಹಾಸ ಮೊದಲು ಸಂಕ್ಷಿಪ್ತ ಇತಿಹಾಸ

ಬುದ್ಧನ ಅಂತಿಮ

ಮತ್ತು catankirkappuram, 500 ಮೆಜೆಸ್ಟಿಸ್ ಪ್ರತಿಷ್ಠಿತ arahatarkal

(அருகதையுள்ளவர்கள்) ಬೌದ್ಧ ಧರ್ಮಗಳು, ಮೊದಲ ಕರೆಯಲ್ಪಡುವ

ಅವರು ಬುದ್ಧ ಬೋಧನೆಗಳು marupatimurrilum ಪದವನ್ನು ಬೋಧಿಸಿದ ಕೇಳಿದರು.

ಪ್ರಸ್ತುತ
ಮತ್ತು ಅನನ್ಯ ಅವಕಾಶ ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಸವಲತ್ತು போதனையுரைகளையும் kettunarum
ರೆವರೆಂಡ್ ಆನಂದ, ಸುಟ್ಟಾ (ಬೋಧನೆ ಸಭೆ) netturuppanni oppuvivittar ಬುದ್ಧ
ಬುದ್ಧನ Titappar ರೆವೆರೆಂಡ್ ಉಪಾಲಿ, ವಿನಯ (ಶಿಸ್ತು ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ

Netturuppanni sankatti ನಡವಳಿಕೆ ಆಧರಿಸಿ ನಿಯಮ ಸೆಟ್) ಕೋಡ್

ಮೊದಲ ಬೌದ್ಧ ಧರ್ಮಗಳ Oppuvivittar. Nurrantukkup

ನಂತರ, ಶಿಷ್ಯರಿಗೆ ಕೆಲವು ನಿರ್ದಿಷ್ಟ ಭಾಗವನ್ನು ನಿಯಮಗಳನ್ನು ಬದಲಾವಣೆ ಅಗತ್ಯವಿದೆ ಎಂದು

ಅರಿವಾಯಿತು. ಹಳೆಯ naluvata ಸನ್ಯಾಸಿಗಳು ಯಾವುದೇ ಬದಲಾವಣೆ

ನಿಯಮಗಳನ್ನು ಕೆಲವು ಇತರರು ಹೇಳಿದರು ಅವರು ಆದೇಶ ಇಲ್ಲ

(ವಿನಯ) (ಆರ್ಡರ್

ಆಧಾರಿತ ನಿಯಮ ಸೆಟ್)) ಸ್ವಲ್ಪ ರಾಗ ಒತ್ತಾಯಿಸಿತು. ಮುಕ್ತಾಯ

ಅವರು ತನ್ನ nanakkutankal ಪ್ರತ್ಯೇಕಿಸಲು ಒಂಬತ್ತು ವಿವಿಧ ವ್ಯಕ್ತಿಗಳು ನಂತರ

ರಚಿಸುವುದು ಬೆಳೆಯಲು ಪ್ರಾರಂಭಿಸಿತು. ಎರಡನೆಯದು (ವಿನಯ) ನ (ಆದೇಶ

ಆಧಾರಿತ ನಿಯಮ ಸೆಟ್)) ಚರ್ಚೆ uriyatayirunta ಕೇವಲ ಮ್ಯಾಟರ್

ಧಮ್ಮ ಪರಿಕಲ್ಪನೆಯನ್ನು ಸೇರಿದ್ದ ಮತ್ತು ವೇರಿಯಬಲ್ ಘೋಷಿಸಲು ಇಲ್ಲ.

ಮೂರನೇ
ಶತಮಾನದ BC ಚಕ್ರವರ್ತಿ ಅಶೋಕನು, ವ್ಯಕ್ತಿಗಳ ವಿವಿಧ ಅಭಿಪ್ರಾಯಗಳನ್ನು ಮೂರನೇ ಸಂಕ
ಸಮುದಾಯ ಚರ್ಚೆಯಲ್ಲಿ ವಿವಿಧ ನಡವಳಿಕೆಯ ನಿಯಮಗಳನ್ನು ಸೇರಿದ್ದ. ಈ)
ವಿವಿಧ ವ್ಯಕ್ತಿಗಳು (ವಿನಯ) ರಲ್ಲಿ (ನಿಯಮ ಸೆಟ್ ಆರ್ಡರ್) ಭಿನ್ನವಾಗಿರುತ್ತವೆ
uriyatayirunta
varaiyarukkappapat ಕೇವಲ ಮ್ಯಾಟರ್ ಆದರೆ ಧಮ್ಮ ಸಂಬಂಧಿಸಿದಂತೆ. ಈ
apitammapitaka ಅವರು ಸೇರಿದ್ದ ಮತ್ತು ಚರ್ಚೆ ಸೇರಿಸಲಾಯಿತು. 80 ರಂದು ಶ್ರೀಲಂಕಾ
(ಶ್ರೀಲಂಕಾ)

ನಾಲ್ಕನೇ ಎಂದು ಕರೆಯಲ್ಪಡುವ ಸೆಂಚುರಿ,

ಚಾನ್ಸಲರ್ camayappaniyarvam vattakamini apaiya ಅಡಿಯಲ್ಲಿ ಬೆಂಬಲಿತವಾಗಿದೆ. ಇದು

ಈ itupatutalanatu ಆಧ್ಯಾತ್ಮದ puttacamayattavaratu ಪಾಲಿ ಭಾಷೆಯಲ್ಲಿ ಬರೆದ ಶ್ರೀಲಂಕಾ tiripitaka ಮೊದಲ ಬಾರಿಗೆ.

Suttapitaka, ಬುದ್ಧನ

ಅವರು ವಿವಿಧ ಒಂದು ಬೃಹತ್ ಮೊತ್ತ

ಅಸ್ತಿತ್ವದಲ್ಲಿರುವ ಬೋಧನೆಗಳು ಒದಗಿಸಿದ ಸಂದರ್ಭಗಳಲ್ಲಿ. ಕೆಲವು

ಅವನ ಮೆಜೆಸ್ಟಿಸ್ ಪ್ರತಿಷ್ಠಿತ ಬೋಧನೆ citarkalalla

ನೀಡಿದ (எடுத்துக்காட்டு.ஸாரிபுத்தா,ஆனந்தா,மொக்கல்லனா)

ಅವುಗಳನ್ನು ಒಳಗೊಂಡಿರುವ. ವಿವರಗಳು ವಿವಿಧ ಹೈಲೈಟ್

ಸಂದರ್ಭಗಳಲ್ಲಿ ಮತ್ತು ವಿವಿಧ ಜನರು

ಜ manappokirku ಅನುಗುಣವಾಗಿ ವಿವರ ಹೈಲೈಟ್ ಸಾಮ್ಯಗಳನ್ನು ಉದಾಹರಿಸಿದರು

ಮುಖಪುಟದಲ್ಲಿ ಒಂದು ಔಷಧ ಉಲ್ಲೇಖ ಪುಸ್ತಕ ರೀತಿ.

ಅವರು ವಿವಾದಾತ್ಮಕ, ಆದರೆ ಆ ರೀತಿಯ ಹೇಳಿಕೆಗಳನ್ನು

ರಿಂದ ಬುದ್ಧ ಹಕ್ಕು ತಕ್ಕ ಅಪಾರ್ಥ

ಉಚಿತ. ನಿಕಾಯ ಅಥವಾ pitaka pirippattullatu ಸಂಗ್ರಹಣೆಗಳನ್ನು ಭಾಗಗಳು. ಅಂದರೆ: -

ಬಿಡಿ (ದೀರ್ಘ) ನಿಕಾಯ (ಸಂಗ್ರಹಗಳು)

ಬುದ್ಧ potanaiyuraikal கொய்சகமாக்கப்பட்டது 34 ಉದ್ದ ನೀಡಲಾಗಿದೆ.

ಅಸ್ಸಲಯನಾ (ಮಧ್ಯಮ) (ಮಧ್ಯಮ) ನಿಕಾಯ (ಸಂಗ್ರಹಗಳು)

ಗೌತಮ ಬುದ್ಧ

ವಿವಿಧ ರೀತಿಯ (ಮಧ್ಯಮ ಮತ್ತು ಹಿಗ್ಗಿಸುವ) 152 ಮಧ್ಯಮ

ಥಿಂಗ್ಸ್ ಸಕ್ರಿಯ ಪಾಲ್ಗೊಳ್ಳುವಿಕೆ ಜೊತೆ கொய்சகமாக்கப்பட்டது potanaiyuraikal.

ಸಂಯುತ್ತ (ರಾಶಿ) ನಿಕಾಯ (ಸಂಗ್ರಹಗಳು)

ಕುಪ್ಪೆ

ಕರೆಯಲ್ಪಡುವ ನೈತಿಕತೆಯ ನಿಕಾಯ (ಸಂಗ್ರಹಗಳು) ನಿರ್ದೇಶಿಸುತ್ತವೆ ತಮ್ಮ

ಐಟಂ 56 pankuvari கொய்சகமாக்கப்பட்டது ಸ್ಟಾಕ್ ಪ್ರಕಾರ. ಇದು ಮೂರು ಸಾವಿರ

ಸಂಪತ್ತಿನ ಕ್ರಿಯಾತ್ಮಕ ಪ್ರಕೃತಿ ಉದ್ದವು, ಆದರೆ ಹೆಚ್ಚಾಗಿ ಒಪ್ಪಿಗೆ

ಯಾವುದೇ ನೈತಿಕತೆ ಪೂರ್ಣ ಸಂಕ್ಷಿಪ್ತ ನಿರ್ದೇಶಿಸುತ್ತವೆ.

Ankuttara (ಹೆಚ್ಚುವರಿ ಘಟಕವನ್ನು) (ಘಟಕ) ನಿಕಾಯ (ಸಂಗ್ರಹಗಳು)

ಡೌನ್

ಫ್ಯಾಕ್ಟರ್, ಆ ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಅಥವಾ ಬಗ್ಗೆ, ಎದ್ದುಕಾಣುವ ಸೂಚಿಸುತ್ತದೆ

Pankuvari ಹೆಚ್ಚಾಗಿ ಹನ್ನೊಂದು ಅಸಿಸ್ಟ್ ಎಂಬ

ಒಂದು ಅಕೌಂಟಿಂಗ್ ನೈತಿಕತೆಯ ವಿಚಾರದಲ್ಲಿ ಮಾಡಿ கொய்சகமாக்கப்பட்டது

ಹಿಂದಿನ ಮಾದರಿ ಕೆಳಗೆ, ಹೆಚ್ಚುವರಿ ಘಟಕವನ್ನು

ಫ್ಯಾಕ್ಟರ್. ನೈತಿಕತೆಯ ಸಾವಿರಾರು ಇದನ್ನು ಸಂಕ್ಷಿಪ್ತ ಎಂದು ನಿರ್ದೇಶಿಸುತ್ತವೆ

ಪೂರ್ಣ. Tannakam ಕೀಪ್

Kuttaka (ಸಂಕ್ಷಿಪ್ತ, ಸಣ್ಣ) ನಿಕಾಯ (ಸಂಗ್ರಹಗಳು)

ಸಂಕ್ಷಿಪ್ತ,

ಹೆಚ್ಚು ಮಾತುಗಳು ಮತ್ತು ಸಲಹೆ ನಿಲುಗಡೆ ನಂತಹ ಸಣ್ಣ ನಿಕಾಯ (ಸಂಗ್ರಹಗಳು)

ಎರಡು ಮಹಡಿಗಳನ್ನು: tammapata (ಸರಣಿ ಕೊನೆಗೊಳ್ಳುವ ಒಂದು ಧಾರ್ಮಿಕ ನುಡಿಗಟ್ಟು,

ಗ್ರಂಥವನ್ನು ಮೂರು ಬುಟ್ಟಿಗಳು ಒಂದು, ಕಾಂಡದ ಧಮ್ಮ ಅಥವಾ ಹೆಸರು

ಭಾಗ), ಉಡಾನ (ಪದಗಳನ್ನು,

ಅಪ್ ಭಾವೋದ್ರೇಕ, ಹಂಬಲ ಅಥವಾ

ಹ್ಯಾಪಿ ಅಭಿವ್ಯಕ್ತಿ, ನುಡಿಗಟ್ಟು, ಭಾವನಾತ್ಮಕ urutalunarcci, ಸಂತೋಷ

ಅಥವಾ ಒಟ್ಟು ಮಾನಸಿಕ ಶಾಂತಿ irantanul ಒಂದು), ನಾಲ್ಕನೇ kuttakanikaya ಇದು itivuttaka (

ಪುಸ್ತಕದ ಹೆಸರು), ಸುಟ್ಟಾ (ಸ್ಟ್ರಿಂಗ್, ಥ್ರೆಡ್,: puttacamayam, cavukatanul ಒಂದು

ಭಾಗ; Terikata (- ಒಂದು ನಿಯಮ, ಭೂಮಿ ಗುರಿ ಅಂಶ), terakata ಎಂದು

ಫಾರ್ terakkal) ಮಾಲೀಕತ್ವದ ಮತ್ತು ಮೂಲದ ಜನ್ಮ (ಹುಟ್ಟು, ಸ್ಥಳದ ಸ್ಟ್ರಿಂಗ್,

ಜನ್ಮ ಅಥವಾ: ವಿವೇಕದ ದೇಶ, ಒಂದು ಜನನ, ಅಥವಾ puttacamayam

ಬುದ್ಧನ ಹಿಂದಿನ ಜನಿಸಿದವರು ಒಂದು Katail.)

ಐದನೇ ಹದಿನೈದು ನ್ಯೂಡ್ ವಿಂಗಡಿಸಲಾಗಿದೆ: -

ಸಂಕ್ಷಿಪ್ತ ಏರ್ಪೋರ್ಟ್ (ಧಾರ್ಮಿಕ ಉಪನ್ಯಾಸ)

Tammapata (ನಿಜವಾದ ಮಾರ್ಗವನ್ನು)

Utana (oracai ದೀರ್ಘ nalacaiccirkalana ಗಂಭೀರ ಬುದ್ಧಿವಂತಿಕೆಯ ಅಥವಾ ಸಂತೋಷ)

ನೆವರ್ uttaka (ಹೀಗೆ ಹೀಗಾಗಿ ಹೇಳಿದರು ಅಥವಾ ಬೋಧನೆಗಳು)

ಸುಟ್ಟಾ ನಿಪಾಟಾ (ಬೋಧನೆಗಳು ಸೇರಿಸಲು)

ವಿಮಾನ vattu (ಕುಟುಂಬಗಳು ಖಗೋಳಶಾಸ್ತ್ರ ಪ್ರಮುಖ ವಾಸ್ತುಶಿಲ್ಪೀಯ ಕಥೆಗಳು ಪ್ರತ್ಯೇಕವಾಗಿ tankutarkerpa ಪ್ರತ್ಯೇಕಿಸಿ)

ಪೆಟಾ vattu (ಸತ್ತ, ಡೆಡ್ ಕಥೆಗಳು)

Terakata (ಸಹೋದರರು ಹಾಡುಗಳನ್ನು ಪೂಜೆ)

Terikata (ಸಹೋದರಿಯರು ಹಾಡುಗಳನ್ನು ಪೂಜೆ)

ಜಾತಕದ (ಹುಟ್ಟಿದ ಕಥೆಗಳು)

Nitteca (விளக்கிக்காட்டுதல்)

Paticampita (ವಿಶ್ಲೇಷಕ ಜ್ಞಾನ ಪರಿಶೀಲಿಸುತ್ತದೆ)

Apatana (ಸಂತರು ಜೀವನದಲ್ಲಿ)

Puttavamsa (ಬುದ್ಧನ ಇತಿಹಾಸ)

Cariya pitaka (ವರ್ತನೆಯ ಮಾದರಿಗಳನ್ನು)

ಟ್ರೀ

>> Suttapitaka - ನಿಕಾಯ ಸುತ್ತದಲ್ಲಿ Piṭaka >> ದಿಘಾ ನಿಕಯಾ ಬಿಟ್ಟು

ಡಿ 9 -

Pottapata ಸುತ್ತದಲ್ಲಿ

Poṭṭhapāda ಸುತ್ತದಲ್ಲಿ

{ಭಾಗ}

Pottapata ಆಫ್ ಪ್ರಶ್ನೆಗಳು

- Poṭṭhapāda ಪ್ರಶ್ನೆಗಳನ್ನು -

Pottapata

புலனுணர்வு,விழிப்புணர்வுநிலை,மனத்தின் ಜಾಣ, ನಿರ್ಣಾಯಕ ಚಿಂತನೆಯ,

ನೈಸರ್ಗಿಕ ಶಕ್ತಿ ವಿವಿಧ ರೀತಿಯ ಬಗ್ಗೆ ಪ್ರಶ್ನೆಗಳು

ಕೇಳುತ್ತದೆ.

Poṭṭhapāda Saññā ಸ್ವರೂಪ reagrding ಹಲವಾರು ಪ್ರಶ್ನೆಗಳನ್ನು ಕೇಳುತ್ತಾನೆ.

ಏಪ್ರಿ

ಈಗ,

ಮೊದಲ, ಬುದ್ಧಿವಂತಿಕೆಯ ಬರುವ pulanunarva ಇದು Pantte,? ಅಥವಾ

ಮೊದಲ ಬುದ್ಧಿವಂತಿಕೆ ಮತ್ತು ಗ್ರಹಿಕೆ ಮುಂದಿನ? ಅದೇ ಸಮಯದಲ್ಲಿ, ಅಥವಾ

Elumpukirata ಜ್ಞಾನ ಮತ್ತು ಸಂವೇದನೆ?

Pottapata, ಮೊದಲ

ಈ ಸಂವೇದನೆ ಹಿಂದೆ ಬುದ್ಧಿವಂತಿಕೆಯ ಹುಟ್ಟುಹಾಕುತ್ತದೆ. ಮತ್ತು ಜ್ಞಾನಗ್ರಹಣದ

Elumpukirapotu ಬುದ್ಧಿವಂತಿಕೆಯ ಹೊರಹೊಮ್ಮುತ್ತವೆ. ಒಂದು ವಿಭಾಗವನ್ನು ಮಟ್ಟದ ಅವಲಂಬಿತ

ಈ ನನ್ನ ಬುದ್ಧಿವಂತಿಕೆ ಬೆಳೆದ. Ivvaliyana ಶ್ರೇಣಿಯ, ಸಾಂದರ್ಭಿಕ ವಿಶ್ಲೇಷಣೆಯ ಒಂದು

ಮತ್ತು ಬುದ್ಧಿವಂತಿಕೆಯ ಅರ್ಥ ಮೊದಲ ಆಶ್ಚರ್ಯ ಹೇಗೆ ಅರಿವಿನ

ಮತ್ತು ಹೇಗೆ ಅರಿವಿನ elumpiyat, ಬುದ್ಧಿವಂತಿಕೆಯ elumpimayatu

Classical Telugu


తమిళ్ tiripitaka మూడు సెట్లు
మరియు
మండలాలు pannirantaka
చరిత్ర ముందు బ్రీఫ్ హిస్టరీ
Suttapitaka
Vinayapitake
Apitammapitaka
ఏరియా లో బౌద్ధ నైతిక Pannirantaka
బుద్ధిస్ట్ ఎథిక్స్ తొమ్మిది మండలాలు

Tiripitaka మరియు బుద్ధ సిద్ధాంతం యొక్క కంటే ఎక్కువ 45 సంవత్సరాలు బోధించాడు పేరు pannirantaka మండలాలు. ఇది సుత్త (టీచింగ్ యొక్క కన్వెన్షన్), వినయ (ఎపిపిఎస్సి నిర్దిష్ట పాలన సమితి) మరియు apitamma (నిర్వచనాలు) ఉన్నాయి. Tiripitaka
ప్రస్తుత లంగరు మరియు నియంత్రిత,
బుద్ధ శాక్యముని శిష్యులు తో ప్రత్యక్ష పరిచయం. బుద్ధ మరణించాడా
పోయిన, కానీ అతను mattumaluppinri మానవజాతి యొక్క నోబెల్ దమ్మం (ధర్మ) దాని పురాతన స్వచ్ఛత ఉంది వారసత్వంగా. బుద్ధ
పోస్ట్ సెలవు ద్వారా వ్రాయబడిన
Cellapotilum మరియు అతని మెజెస్టి యొక్క ప్రతిష్టాత్మక అనుచరులు
మెమరీ డెలివరీ ఉంటే, నిర్వహించబడుతుంది మరియు మాటలతో వాటిని కలిగి தலைமுறையாககைமாற்றி తరం. చరిత్ర ముందు బ్రీఫ్ హిస్టరీ

బుద్ధుని చివరి
మరియు catankirkappuram, 500 మెజెస్టి యొక్క ప్రతిష్టాత్మక arahatarkal
(அருகதையுள்ளவர்கள்) బౌద్ధ మతాలు, మొదటి అని పిలవబడే
వారు బుద్ధ బోధనల marupatimurrilum పదం బోధించిన కోరారు.
ప్రస్తుతం మరియు ఏకైక అవకాశం పూర్తిగా విశేష போதனையுரைகளையும் kettunarum రెవరెండ్ ఆనంద, సుత్త (టీచింగ్ యొక్క కన్వెన్షన్) netturuppanni oppuvivittar బుద్ధ బుద్ధ Titappar, రెవరెండ్ Upali, వినయ (విభాగం అయితే
Netturuppanni sankatti ప్రవర్తనా ఆధారిత పాలన సమితి) కోడ్
మొదటి బౌద్ధ మతాల Oppuvivittar. Nurrantukkup
అప్పుడు, కొందరు శిష్యులు నిర్దిష్ట అంశం కోసం నియమాలు మార్చడానికి అవసరం
గ్రహించాడు. పాత naluvata సన్యాసులకు మార్పులేమీ
నియమాలు కొన్ని ఇతరులు మాట్లాడుతూ వారు ఆర్డర్ అవసరం లేదు
(వినయ) (ఆర్డర్
ఆధారిత పాలన సమితి)) కొద్దిగా ట్యూన్ డిమాండ్. ముగించు
వారు తన nanakkutankal నుండి వేరు తొమ్మిది వివిధ వ్యక్తులు తర్వాత
సృష్ఠి పెరగడం మొదలైంది. మరియు రెండవ ఇది (వినయ) యొక్క (ఆర్డర్
ఆధారిత పాలన సమితి)) చర్చ uriyatayirunta మాత్రమే విషయం ఉంది
ధమ్మం భావన చెందిన వేరియబుల్ డిక్లేర్ లేదు.
మూడవ శతాబ్దానికి అశోక చక్రవర్తిని, వ్యక్తుల వివిధ అభిప్రాయాల యొక్క మూడవ Sanka కమ్యూనిటీ చర్చ సమయంలో వివిధ ప్రవర్తనా నియమాలు చెందినవాడు. ) వివిధ వ్యక్తులు (వినయ) లో (పాలన సమితి ఆర్డర్) భిన్నంగా ఉంటాయి uriyatayirunta varaiyarukkappapat మాత్రమే విషయం కానీ ధమ్మం సంబంధించి. apitammapitaka వారు చెందిన చర్చ జోడించబడింది. 80 శ్రీలంక (శ్రీలంక)
నాలుగో పిలుస్తారు ఇది సెంచరీ,
ఛాన్సలర్ camayappaniyarvam vattakamini apaiya మద్దతివ్వడం ఉంది. అది
itupatutalanatu ఆధ్యాత్మికత puttacamayattavaratu పాలి భాషలో రాసిన శ్రీలంక tiripitaka మొదటిసారి.

Suttapitaka, బుద్ధ

అతను వివిధ యొక్క పెద్ద మొత్తం ఉంది
ఇప్పటికే ఉన్న బోధనలు అందించిన సందర్భాలలో. కొన్ని
కూడా అతని మెజెస్టి యొక్క ప్రతిష్టాత్మక టీచింగ్ citarkalalla
యిచ్చిన (எடுத்துக்காட்டு.ஸாரிபுத்தா,ஆனந்தா,மொக்கல்லனா)
వాటిని కలిగి ఉన్న. వివరాలు వివిధ లో హైలైట్
సందర్భాలలో మరియు వివిధ ప్రజలు
వర్తించే manappokirku అనుగుణంగా వివరాలు హైలైట్ ఉపమానరీతిగా ఉదహరించారు
కవర్ ఒక మాదకద్రవ్య సూచన పుస్తకం వంటిది ఉంటే.
వారు వివాదాస్పదమయ్యాయి, కానీ అలాంటి ప్రకటనలు
నుండి బుద్ధ యొక్క దావా అవకాశం misconstrue
ఉచిత. నికాయ లేదా pitaka pirippattullatu కోసం సేకరణలు భాగాలు. అంటే: -

లీవ్ (దీర్ఘ) నికాయ (సేకరణలు)
బుద్ధ potanaiyuraikal கொய்சகமாக்கப்பட்டது 34 యొక్క పొడవు ప్రకారం.

  Majjima (మీడియం) (మీడియం) నికాయ (సేకరణలు)

బుద్ధ
వివిధ రకాల (మీడియం మరియు సాగదీయడం) 152 మీడియం
థింగ్స్ ప్రమేయంతోనే கொய்சகமாக்கப்பட்டது potanaiyuraikal.

Samyutta (కుప్ప) నికాయ (సేకరణలు)

కుప్ప
అని పిలవబడే నైతిక నికాయ (సేకరణలు) ఖరారు వారి
అంశం 56 pankuvari கொய்சகமாக்கப்பட்டது స్టాక్ అనుగుణంగా. ఇది మూడు వేల ఉంది
సమృద్ధి దూకుడు స్వభావం పొడవు, కాని ఎక్కువగా అంగీకరించింది
నైతిక పూర్తి క్లుప్తంగా వివరించే.

  
Ankuttara (అదనపు భాగం) (భాగం) నికాయ (సేకరణలు)

డౌన్
ఫాక్టర్, ఆ సమయంలో లేదా గురించి, ప్రస్ఫుటమైన సూచిస్తూ
Pankuvari ఒక్కింటికి పదకొండు అసిస్ట్లు గా పిలుస్తారు
ఒక అకౌంటింగ్ నైతిక ఖరారు నిర్ధారించుకోండి கொய்சகமாக்கப்பட்டது
ముందు వచ్చిన మోడల్ డౌన్ అదనపు భాగం
ఫాక్టర్. నైతిక వేల తరచుగా క్లుప్తంగా అని ఖరారు
పూర్తి. tannakam ఉంచండి

Kuttaka (క్లుప్తంగా, చిన్న) నికాయ (సేకరణలు)

బ్రీఫ్,
చాలా పదాలు మరియు సలహా విరామాన్ని వంటి చిన్న నికాయ (సేకరణలు)
రెండు అంతస్తులు: tammapata (సిరీస్ ముగిసే మత పదబంధం,
ఇన్నయ్య మూడు బుట్టలను ఒకటి, ట్రంక్ ధమ్మం లేదా పేరు
పార్ట్), ఉదాన (పదాలు,
అప్ అభిరుచి, ఆత్రుతలో లేదా
సంతోషంగా వ్యక్తీకరణ, పదబంధం, భావోద్వేగ urutalunarcci, సంతోషంగా
లేదా మొత్తం మానసిక శాంతి irantanul ఒకటి), నాలుగో kuttakanikaya ఇది itivuttaka (
పుస్తకం పేరును), సుత్త (స్ట్రింగ్, థ్రెడ్,: puttacamayam, cavukatanul ఒక
పార్ట్; Terikata (- ఒక నియమం, భూమి నినాదం అంశం), terakata వంటి
కోసం terakkal) ఉండేవి, మరియు మూలం birth (పుట్టుక, స్థలం ఒక స్ట్రింగ్,
ఒక పుట్టిన లేదా: సేన్ దేశం, ఒక పుట్టిన, లేదా puttacamayam
బుద్ధుని మునుపటి జననాలు ఒకటి Katail.)

ఐదవ పదిహేను న్యూడ్ విభజించబడింది: -
 

బ్రీఫ్ విమానాశ్రయం (మత ఉపన్యాసం)

Tammapata (నిజమైన మార్గం)

Utana (oracai దీర్ఘ nalacaiccirkalana గంభీరమైన జ్ఞానం లేదా ఆనందం)

ఎప్పుడూ uttaka (అందువలన అందువలన చెప్పారు లేదా బోధనలు)

సుత్త నిపత (బోధనలు ఇన్సర్ట్)

ఫ్లైట్ vattu (కుటుంబాల ఖగోళశాస్త్రం ప్రధాన నిర్మాణ కథలు విడివిడిగా tankutarkerpa వేరు)

Peta vattu (డెడ్, డెడ్ కథలు)

Terakata (బ్రదర్స్ పాటలు పూజించే)
 

Terikata (సోదరీమణులు పాటలు పూజించే)
 

     జాతక (పుట్టిన స్టోరీస్)

Nitteca (விளக்கிக்காட்டுதல்)

Paticampita (విశ్లేషకుడు జ్ఞానం పరిశీలిస్తుంది)

Apatana (సెయింట్స్ జీవితాల్లో)

Puttavamsa (బుద్ధుని చరిత్ర)

   

Cariya pitaka (ప్రవర్తనాచిహ్నాలను)

ట్రీ
>> Suttapitaka - నికాయ సుత్త Piṭaka >> డిఘ నికాయ వదిలి

DN 9 -

Pottapata సుత్త
Poṭṭhapāda సుత్త

{ఎక్సెర్ప్ట్}
Pottapata ప్రశ్నలు

- Poṭṭhapāda ప్రశ్నలు -

Pottapata
புலனுணர்வு,விழிப்புணர்வுநிலை,மனத்தின் తెలివైన, క్లిష్టమైన ఆలోచనా,
సహజ శక్తి అనేక రకాల ప్రశ్నలు
అడుగుతుంది.

Poṭṭhapāda Sanna స్వభావం reagrding వివిధ ప్రశ్నలు అడుగుతుంది.

Apr

ఇప్పుడు,
మొదటి, జ్ఞానం వచ్చే pulanunarva ఇది Pantte,? లేక
మొదటి జ్ఞానం మరియు అవగాహన పక్కన ఉంది? అదే సమయంలో, లేదా
Elumpukirata జ్ఞానం స్పర్శ?

Pottapata, మొదటి
అనుభూతిని వెనుక జ్ఞానం పెంచుతుంది. మరియు అభిజ్ఞా
Elumpukirapotu జ్ఞానం బయటపడతాయి. ఒక విభజనను స్థాయి ఆధారిత
నా జ్ఞానం పెంచింది. Ivvaliyana పరిధి, కారణ విశ్లేషణ ఒకటి
మరియు జ్ఞానం గుర్తించడం మొదటి అద్భుతం ఎలా అభిజ్ఞా
మరియు ఎలా అభిజ్ఞా elumpiyat, జ్ఞానం elumpimayatu

.…………

10) Classical Bengali
http://www.banglalive.com/News/Detail/8508/amjad-ali-khan-gets-back-his-ganga#.U7NebkDCYSk
http://www.banglalive.com/Images/logo1.jpg

বিনামূল্যে অনলাইন নালন্দা রিসার্চ এবং প্র্যাকটিস UNIVERSITY

TIPITAKA

TIPITAKA এবং দ্বাদশ বিভাগ
     সংক্ষিপ্ত ঐতিহাসিক পটভূমি
    মিচ্ছাদিট্ঠি Pitaka
    Vinaya Pitaka
    Abhidhamma Pitaka
      বৌদ্ধ নীতি হাজার বারো বিভাগ
বৌদ্ধ নীতি নয়টি বিভাগ

TIPITAKA এবং দ্বাদশ বিভাগ 45 বছর ধরে বুদ্ধের শিক্ষার সংগ্রহ. এটা মিচ্ছাদিট্ঠি (প্রচলিত শিক্ষা), Vinaya (শৃঙ্খলা কোড) এবং Abhidhamma (আলোচনা) নিয়ে গঠিত. Tipitaka Shakyamuni বুদ্ধ সঙ্গে অবিলম্বে যোগাযোগ ছিল যারা ​​শিষ্যদের দ্বারা কম্পাইল এবং তার বর্তমান ফর্ম সাজানো ছিল. বুদ্ধ দূরে পাশ করেছিল, কিন্তু তিনি অকপটভাবে মানবতার bequeathed যা মহিমান্বিত Dhamma এখনও তার আদিম বিশুদ্ধতা বিদ্যমান. বুদ্ধ তার শিক্ষার কোন লিখিত রেকর্ড ছেড়ে চলে গেছে যদিও, তার বিশিষ্ট শিষ্য মেমরি সংগঠনের এবং প্রজন্ম থেকে প্রজন্মের মুখে মুখে তাদের প্রেরণ করে তাদের সংরক্ষিত.

      সংক্ষিপ্ত ঐতিহাসিক পটভূমি

   অবিলম্বে চূড়ান্ত বুদ্ধের দূরে পাশ করার পর, 500 বিশিষ্ট Arahats বুদ্ধ শেখানো মতবাদ পড়ান প্রথম বৌদ্ধ কাউন্সিল নামে পরিচিত একটি কনভেনশন অনুষ্ঠিত. পূজ্য Upali Vinaya, সংঘ জন্য আচার নিয়ম আবৃত্ত থাকাকালীন বুদ্ধ একটি বিশ্বস্ত চেড় এবং বুদ্ধ কি কখনো কথিত সব উপদেশ শ্রবণ বিশেষ বিশেষাধিকার ছিল পূজ্য আনন্দ,,, মিচ্ছাদিট্ঠি পাঠ করা. এক শত বছর প্রথম বৌদ্ধ কাউন্সিলের পর, কিছু শিষ্য নির্দিষ্ট ছোটখাট নিয়ম পরিবর্তন করার প্রয়োজন দেখেছি. গোঁড়া Bhikkus অন্যদের কিছু শাস্তিমূলক নিয়ম (Vinaya) পরিবর্তন উপর জোর দেন, যখন কিছুই পরিবর্তন করা উচিত. অবশেষে, বৌদ্ধ বিভিন্ন স্কুলের গঠনের তাঁর কাউন্সিলের পর অঙ্কুরিত. এবং দ্বিতীয় কাউন্সিল সালে Vinaya সংক্রান্ত একমাত্র বিষয়ে আলোচনা হয়েছে এবং Dhamma সম্পর্কে কোন বিতর্ক ছিল.3rd সেঞ্চুরি বি.সি. ইন সম্রাট অশোকা সময় সময়, তৃতীয় কাউন্সিল সংঘ সম্প্রদায় দ্বারা অনুষ্ঠিত মতামতের পার্থক্য আলোচনা অনুষ্ঠিত হয়. এই কাউন্সিল পার্থক্য Vinaya সীমাবদ্ধ ছিল না বরং Dhamma সঙ্গে সংযুক্ত করা হয়. Abhidhamma Pitaka এই পরিষদ আলোচনা এবং অন্তর্ভুক্ত ছিল. 80 খ্রিস্টপূর্ব সালে শ্রীলংকায় অনুষ্ঠিত হয় যা কাউন্সিল ধর্মগত রাজা Vattagamini Abbaya এর পৃষ্ঠপোষকতা অধীন 4 র্থ কাউন্সিল নামে পরিচিত. এটা Tipitaka প্রথম পালি ভাষায় লেখা প্রতিশ্রুতিবদ্ধ ছিল যে শ্রীলংকায় এই সময়ে ছিল.

মিচ্ছাদিট্ঠি Pitaka প্রধানত বিভিন্ন অনুষ্ঠান উপর বুদ্ধ নিজেকে দ্বারা বিতরিত উপদেশ নিয়ে গঠিত. তার বিশিষ্ট শিষ্য কিছু (যেমন সারিপুত্ত, আনন্দ, Moggallana) এটি অন্তর্ভুক্ত দ্বারা বিতরণ কয়েকটি উপদেশ এছাড়াও ছিল. তাহাতে শরীরী sermons বিভিন্ন অনুষ্ঠান এবং বিভিন্ন ব্যক্তির temperaments অনুসারে উদ্ভাসিত হয় হিসাবে এটি ব্যবস্থাপত্রের একটি বই ভালো হয়. এখন পর্যন্ত আপাতদৃষ্টিতে পরস্পরবিরোধী বক্তব্য হতে পারে, কিন্তু তারা কিন বিশেষ উদ্দেশ্যে অনুসারে বুদ্ধ দ্বারা কথিত হয় হিসাবে তারা misconstrued করা উচিত নয়. এই Pitaka পাঁচটি Nikayas বা স w, যেমন ভাগ করা হয়েছে:. -

  
 Dīgha দস্পারমিতপ্পত্তো
[dīgha: দীর্ঘ] Dīgha দস্পারমিতপ্পত্তো বুদ্ধ কর্তৃক প্রদত্ত দীর্ঘতম উপদেশ এর 34 ধরেছেন. বিভিন্ন নির্দেশ তাদের অনেক মূল কর্পাস এবং সন্দেহজনক সত্যতা দেরী সংযোজন যে আছে.

ইহাই উত্তম এবং পরিণামে দস্পারমিতপ্পত্তো
[ইহাই উত্তম এবং পরিণামে: মাঝারি] ইহাই উত্তম এবং পরিণামে দস্পারমিতপ্পত্তো বিচিত্র বিষয় সঙ্গে আচরণ, মধ্যবর্তী দৈর্ঘ্য বুদ্ধের 152 উপদেশ ধরেছেন.

Saṃyutta দস্পারমিতপ্পত্তো
[samyutta: গ্রুপ] Saṃyutta দস্পারমিতপ্পত্তো saṃyuttas নামক 56 সাব - গ্রুপ তাদের বিষয় অনুযায়ী Suttas ধরেছেন. এটা পরিবর্তনশীল দৈর্ঘ্য আরো তিন হাজার উপদেশ রয়েছে, কিন্তু সাধারণত অপেক্ষাকৃত ছোট.

Aṅguttara দস্পারমিতপ্পত্তো
[Ang: ফ্যাক্টর | উত্তরা: Additionnal] Aṅguttara দস্পারমিতপ্পত্তো nipātas বলা এগারো উপ - গ্রুপ, রূল Nipata যারা ​​বনাম এক অতিরিক্ত ফ্যাক্টর এর Enumerations গঠিত উপদেশ জমায়েত তাদের প্রতিটি মধ্যে subdivized হয়. সাধারণভাবে সংক্ষেপে যা Suttas হাজারের উপর রয়েছে.

Khuddaka দস্পারমিতপ্পত্তো
[khuddha: ছোট, ছোট] Khuddhaka দস্পারমিতপ্পত্তো সংক্ষিপ্ত গ্রন্থে এবং দুই stratas গঠিত হয়েছে হিসেবে বিবেচনা করা হয়: Dhammapada, Udāna, Itivuttaka, মিচ্ছাদিট্ঠি Nipata, Theragāthā-Therīgāthā এবং JATAKA অন্যান্য বই দেরী সংযোজন এবং তাদের সত্যতা যখন, প্রাচীন স্তর গঠন আরো সন্দেহজনক.

        পঞ্চম পনের বই উপবিভাজন হয়: -

         Khuddaka Patha (খাটো গ্রন্থে)

    Dhammapada (ট্রুথ ওয়ে)

      Udana (ফিষ্টি বাণী বা জয় এর Paeons)

    ITI Vuttaka (’সুতরাং বলেন Discourses)

    মিচ্ছাদিট্ঠি Nipata (Discourses সংগৃহীত)

    Vimana Vatthu (মহাজাগতিক Mansions এর খবর)

    পেটার Vatthu (Petas এর খবর)

       Theragatha (গুরুভাই এর সাম)

      Therigatha (ইসলাম এর সাম)

Jataka (জন্মের খবর)

     Niddesa (প্রদর্শনী)

       Patisambhida (বিশ্লেষণাত্নক জ্ঞান)

         Apadana (সাধুদের লাইভস)

     Buddhavamsa (বুদ্ধ ইতিহাস)
   

  Cariya Pitaka (অফ কন্ডাক্ট ধরন)

Dīgha দস্পারমিতপ্পত্তো
[dīgha: দীর্ঘ] Dīgha দস্পারমিতপ্পত্তো বুদ্ধ কর্তৃক প্রদত্ত দীর্ঘতম উপদেশ এর 34 ধরেছেন. বিভিন্ন নির্দেশ তাদের অনেক মূল কর্পাস এবং সন্দেহজনক সত্যতা দেরী সংযোজন যে আছে.
মিচ্ছাদিট্ঠি Piṭaka
- উপদেশ এর ঝুড়ি -
[মিচ্ছাদিট্ঠি: আলোচনা]
Dīgha দস্পারমিতপ্পত্তো

ডিএন 9 -
Poṭṭhapāda মিচ্ছাদিট্ঠি
{উদ্ধৃতাংশ}
- Poṭṭhapāda এর প্রশ্ন -
গাছ
মিচ্ছাদিট্ঠি Piṭaka
- উপদেশ এর ঝুড়ি -
[মিচ্ছাদিট্ঠি: আলোচনা]

মিচ্ছাদিট্ঠি Piṭaka Dhamma সংক্রান্ত বুদ্ধ এর শিক্ষার সারাংশ হল রয়েছে. এটা অধিক দশ হাজার Suttas রয়েছে. এটা Nikāyas নামক পাঁচটি সংগ্রহে ভাগ করা হয়েছে.

Dīgha দস্পারমিতপ্পত্তো
     [dīgha: দীর্ঘ] Dīgha দস্পারমিতপ্পত্তো বুদ্ধ কর্তৃক প্রদত্ত দীর্ঘতম উপদেশ এর 34 ধরেছেন. বিভিন্ন নির্দেশ তাদের অনেক মূল কর্পাস এবং সন্দেহজনক সত্যতা দেরী সংযোজন যে আছে.

বৃক্ষ মিচ্ছাদিট্ঠি Piṭaka >> Digha দস্পারমিতপ্পত্তো

ডিএন 9 -

Poṭṭhapāda মিচ্ছাদিট্ঠি
{উদ্ধৃতাংশ}

- Poṭṭhapāda এর প্রশ্ন -

এখন, প্রভু, উপলব্ধি প্রথম উঠা, এবং জ্ঞান পরে না; অথবা জ্ঞান প্রথম উঠা, এবং উপলব্ধি পরে না; অথবা উপলব্ধি জ্ঞান একযোগে উঠা হয়?

Potthapada, উপলব্ধি প্রথম দেখা দেয় দুটো কারণে, এবং জ্ঞান পরে. আর জ্ঞান উদ্ভূত উপলব্ধি উদ্ভূত থেকে আসে. ওয়ান ‘এটা আমার জ্ঞান উদিত হয়েছে এই উপর নির্ভরতা আছে.‘, এলিট পার্সন যুক্তি এই লাইন এর মাধ্যমে এক উপলব্ধি প্রথম দেখা দেয় দুটো কারণে কিভাবে বুঝতে, এবং জ্ঞান পরে, এবং কিভাবে জ্ঞান উদ্ভূত উপলব্ধি উদ্ভূত থেকে আসে পারেন



http://www.indiapress.org/gen/news.php/Sandesh/400×60/0






Avatar





Hold on, this is waiting to be approved by Sandesh Leading News paper.


31) ક્લાસિકલ ગુજરાતી

નિઃશુલ્ક ઇ નાલંદા સંશોધન અને અભ્યાસ યુનિવર્સિટી

TIPITAKA

TIPITAKA અને બાર વિભાગો
સંક્ષિપ્ત ઇતિહાસ
સુત્ત Pitaka
Vinaya Pitaka
Abhidhamma Pitaka
બૌદ્ધ નિયમો બાર વિભાગ
બૌદ્ધ નિયમો નવ વિભાગ

TIPITAKA
અને બાર વિભાગો 45 વર્ષ પર બુદ્ધ ના ઉપદેશો ના સંગ્રહ છે. તે સુત્ત
(પરંપરાગત શિક્ષણ), Vinaya (શિસ્તભંગનાં કોડ) અને Abhidhamma (ભાષ્યો)
સમાવેશ થાય છે. આ Tipitaka શક્યમુનિ બુદ્ધ સાથે તાત્કાલિક સંપર્ક થયો જે
શિષ્યો દ્વારા સંકલિત અને તેના હાલના સ્વરૂપમાં વ્યવસ્થા કરવામાં આવી હતી.
બુદ્ધ દૂર પસાર કરી હતી, પરંતુ તેમણે નિખાલસપણે માનવતાની વારસામાં જે
ઉત્કૃષ્ટ ધમ્મા હજુ પણ તેના નૈસર્ગિક શુદ્ધતા માં અસ્તિત્વમાં છે. બુદ્ધ
તેમના ઉપદેશો કોઈ લેખિત રેકોર્ડ છોડી હતી, તેમ છતાં તેમના અલગ શિષ્યો મેમરી
સંગ્રહવાથી અને પેઢીથી પેઢી મૌખિક તેમને વહન દ્વારા સચવાય.

સંક્ષિપ્ત ઇતિહાસ


તરત જ અંતિમ બુદ્ધના દૂર પસાર કર્યા પછી, 500 અલગ Arahats બુદ્ધ દ્વારા
શીખવવામાં આ સિદ્ધાંત રિહર્સલ કરવું પ્રથમ બૌદ્ધ કાઉન્સિલ તરીકે ઓળખાય
સંમેલન યોજાઇ હતી. આ આદરણીય Upali પાંચ Vinaya, આ સાંગા માટે આચાર નિયમો
પઠન વખતે બુદ્ધ એક વિશ્વાસુ સહાયક હતા અને બુદ્ધ ક્યારેય દેખાવ તમામ પ્રવચન
સાંભળ્યા ના ખાસ લહાવો મળ્યો જે આદરણીય આનંદ,,, આ સુત્ત પાઠ કરતા. એક સો
​​વર્ષ પ્રથમ બૌદ્ધ સભા પછી, કેટલાક શિષ્યો ચોક્કસ નાના નિયમો બદલવા માટે
જરૂર હતી. રૂઢિવાદી Bhikkus અન્ય કેટલાક શિસ્ત નિયમો (Vinaya) બદલવા પર ભાર
જ્યારે કશું બદલવા જોઈએ છે. છેલ્લે, બોદ્ધ ધર્મ વિવિધ શાળાઓ રચના તેમના
કાઉન્સિલ પછી germinated. અને બીજુ કાઉન્સિલ માં, Vinaya લગતી બાબતો જ
ચર્ચા કરવામાં આવી હતી અને ધમ્મા વિશે કોઈ વિવાદ અહેવાલ હતા. 
 3 જી સદી
બી.સી. માં સમ્રાટ અશોક ના સમય દરમિયાન, ત્રીજા કાઉન્સિલ સાંગા સમુદાય
દ્વારા યોજવામાં અભિપ્રાય તફાવત ચર્ચા માટે આયોજન કરવામાં આવ્યું છે. આ
કાઉન્સિલ પર તફાવતો Vinaya નથી મર્યાદિત હતી પણ ધમ્મા સાથે જોડાણ કર્યું. આ
Abhidhamma Pitaka આ કાઉન્સિલ પર ચર્ચા અને સમાવેશ કરવામાં આવ્યો હતો. 80
ઇ.સ. પૂર્વે શ્રિલંકા માં યોજાયેલી કાઉન્સિલ આ પવિત્ર રાજા Vattagamini
Abbaya ના ઉત્તેજન હેઠળ 4 થી કાઉન્સિલ તરીકે ઓળખાય છે. તે Tipitaka પ્રથમ
પાલી ભાષામાં લખવા માટે પ્રતિબદ્ધ છે કે શ્રિલંકા માં આ સમય હતો.


સુત્ત Pitaka મુખ્યત્વે ઘણા પ્રસંગોએ બુદ્ધ પોતે દ્વારા વિતરિત પ્રવચન છે.
તેમના અલગ શિષ્યો કેટલાક (દા.ત. Sariputta, આનંદ, Moggallana) તે સમાવવામાં
દ્વારા વિતરિત થોડા પ્રવચન પણ હતા. તેમાં રહેલ ઉપદેશોમાં વિવિધ પ્રસંગો
અને વિવિધ વ્યક્તિઓ પ્રકૃતિ અનુકૂળ સવિસ્તાર વ્યાખ્યા આપી હતી, કારણ કે
પ્રિસ્ક્રિપ્શનો એક પુસ્તક જેવી છે. ત્યાં મોટે ભાગે વિરોધાભાસી નિવેદનો
કરી શકે છે, પરંતુ તેઓ ખરી તકે કોઈ ચોક્કસ ઉદ્દેશ્યની અનુકૂળ બુદ્ધ દ્વારા
દેખાવ કરવામાં આવ્યા હતા કે તેઓ નથી misconstrued જોઈએ. આ Pitaka પાંચ
નીકાયસમાં અથવા સંગ્રહો જેવા વિભાજિત થાય છે:. -


 Dīgha નિકાય
[dīgha:
લાંબા] આ Dīgha નિકાય બુદ્ધ દ્વારા આપવામાં સૌથી લાંબો પ્રવચનની 34 એકઠું
થાય છે. વિવિધ સંકેતો તેમને ઘણા મૂળ કોર્પસ અને શંકાસ્પદ અધિકૃતતા અંતમાં
ઉમેરાઓ છે કે છે.

Majjhima નિકાય
[majjhima: મધ્યમ] આ Majjhima નિકાય વિવિધ બાબતો સાથે વ્યવહાર, વચગાળાના લંબાઈ બુદ્ધના 152 પ્રવચન ભેગી.

Saṃyutta નિકાય
[samyutta:
ગ્રુપ] આ Saṃyutta નિકાય saṃyuttas કહેવાય 56 પેટા જૂથો તેમના વિષય અનુસાર
suttas ભેગી. તે ચલ લંબાઈ કરતાં વધુ ત્રણ હજાર પ્રવચન છે, પરંતુ સામાન્ય
રીતે પ્રમાણમાં ટૂંકા.

Anguttara નિકાય
[આન્ગ: પરિબળ | ઉત્તરા:
Additionnal] આ Anguttara Chikaya nipātas કહેવાય અગિયાર પેટા જૂથો,
પૂર્વવર્તી nipāta તે વિરુદ્ધ એક વધારાની પરિબળ enumerations સમાવેશ પ્રવચન
ભેગી તેમને દરેક subdivized છે. તે સામાન્ય રીતે ટૂંકા હોય છે, suttas
હજારો છે.

Khuddaka નિકાય
[khuddha: લઘુ, નાના] આ Khuddhaka
નિકાય ટૂંકા ગ્રંથો અને બે Stratas બનેલા કરવામાં આવી તરીકે ઓળખવામાં આવે
છે: ધમ્મપદમાં, ઉદાના, Itivuttaka, સુત્ત Nipāta, Theragāthā-Therīgāthā
અને Jataka અન્ય પુસ્તકો અંતમાં ઉમેરાઓ અને તેમના અધિકૃતતા છે, પ્રાચીન
સ્તર રચના વધુ શંકાસ્પદ છે.

પાંચમી પંદર પુસ્તકો માં વિભાજિત થયેલ છે: -

Khuddaka Patha (શોર્ટર ટેક્સ્ટ્સ)

ધમ્મપદમાં (સત્યના માર્ગ)

ઉદાના (ખરા દિલથી કરેલી વાતો અથવા જોય ઓફ Paeons)

ઇતિ Vuttaka (’આમ જણાવ્યું હતું કે,’ ડીસોર્સીઝ)

સુત્ત Nipata (ડીસોર્સીઝ એકત્રિત)

Vimana Vatthu (આકાશી હવેલીઓ વાર્તાઓ)

પેટા Vatthu (Petas વાર્તાઓ)

Theragatha (પાંચ ભાઈઓ અને બહેનો ની ગીતશાસ્ત્ર)

Therigatha (સિસ્ટર્સની ગીતશાસ્ત્ર)

Jataka (જન્મ વાર્તાઓ)

Niddesa (expositions)

Patisambhida (એનાલિટીકલ જ્ઞાન)

Apadana (સંતો જીવન)

Buddhavamsa (બુદ્ધ ઇતિહાસ)

Cariya Pitaka (આચાર સ્થિતિઓ)

Dīgha નિકાય
[dīgha:
લાંબા] આ Dīgha નિકાય બુદ્ધ દ્વારા આપવામાં સૌથી લાંબો પ્રવચનની 34 એકઠું
થાય છે. વિવિધ સંકેતો તેમને ઘણા મૂળ કોર્પસ અને શંકાસ્પદ અધિકૃતતા અંતમાં
ઉમેરાઓ છે કે છે.
સુત્ત Piṭaka
- પ્રવચનની બાસ્કેટ -
[સુત્ત: પ્રવચન]
Dīgha નિકાય

ડી એન 9 -
Poṭṭhapāda સુત્ત
{ટૂંકસાર}
- Poṭṭhapāda ની પ્રશ્નો -
વૃક્ષ
સુત્ત Piṭaka
- પ્રવચનની બાસ્કેટ -
[સુત્ત: પ્રવચન]


સુત્ત Piṭaka પાંચ ધમ્મા સંબંધિત બુદ્ધના શિક્ષણ સાર છે. તે કરતાં વધુ દસ
હજાર suttas છે. તે નીકાયસમાં કહેવાય પાંચ સંગ્રહોમાં વહેંચાયેલ છે.

Dīgha નિકાય
[dīgha: લાંબા] આ Dīgha નિકાય બુદ્ધ દ્વારા આપવામાં સૌથી લાંબો
પ્રવચનની 34 એકઠું થાય છે. વિવિધ સંકેતો તેમને ઘણા મૂળ કોર્પસ અને શંકાસ્પદ
અધિકૃતતા અંતમાં ઉમેરાઓ છે કે છે.

ટ્રી સુત્ત Piṭaka >> Digha નિકાય

ડી એન 9 -

Poṭṭhapāda સુત્ત
{ટૂંકસાર}

- Poṭṭhapāda ની પ્રશ્નો -

હવે,
પ્રભુ, દ્રષ્ટિ પ્રથમ ઊભી થાય છે, અને જ્ઞાન પછી નથી; અથવા જ્ઞાન પ્રથમ
ઊભી થાય છે, અને પછી ખ્યાલ નથી; અથવા દ્રષ્ટિ અને જ્ઞાન એક સાથે પેદા થાય
છે?

Potthapada, દ્રષ્ટિ પ્રથમ ઊભી થાય છે, અને જ્ઞાન છે. અને જ્ઞાન
થતા ખ્યાલ ના થતા આવે છે. એક ‘તે મારા જ્ઞાન ઊભી થઈ છે કે આ પર અવલંબન છે.’
સ્પષ્ટ રીતે પારખે છે તર્ક આ વાક્ય દ્વારા એક દ્રષ્ટિ પ્રથમ ઊભી થાય છે
કેવી રીતે ખ્યાલ, અને જ્ઞાન પછી, અને કેવી રીતે જ્ઞાન થતા ખ્યાલ ના થતા આવે
છે શકે છે


35) शास्त्रीय हिन्दी

मुफ़्त ऑनलाइन ई नालंदा अनुसंधान और अभ्यास विश्वविद्यालय

TIPITAKA

TIPITAKA और बारह डिवीजनों
     संक्षिप्त ऐतिहासिक पृष्ठभूमि
    सुत्त Pitaka
    विनय Pitaka
    Abhidhamma Pitaka
      बौद्ध सिद्धांत के बारह प्रभागों
बौद्ध सिद्धांत के नौ मंडलों

TIPITAKA और बारह डिवीजनों 45 साल से अधिक बुद्ध के उपदेशों का संग्रह है. यह सुत्त (पारंपरिक शिक्षण), विनय (अनुशासन कोड) और Abhidhamma (टिप्पणियों) के होते हैं. Tipitaka Shakyamuni बुद्ध के साथ तत्काल संपर्क किया था, जो चेलों द्वारा संकलित और अपने वर्तमान स्वरूप में व्यवस्थित किया गया था. बुद्ध निधन हो गया था, लेकिन वह सादगी से मानवता को वसीयत जो उदात्त धम्म अभी भी अपनी प्राचीन पवित्रता में मौजूद है. बुद्ध ने अपने उपदेशों का कोई लिखित रिकॉर्ड छोड़ दिया था हालांकि, उसके प्रतिष्ठित चेलों स्मृति के लिए करने और पीढ़ी दर पीढ़ी मौखिक रूप से उन्हें संचारण द्वारा उन्हें संरक्षित.

      संक्षिप्त ऐतिहासिक पृष्ठभूमि

   इसके तत्काल बाद अंतिम बुद्ध के निधन के बाद, 500 प्रतिष्ठित Arahats बुद्ध द्वारा सिखाया सिद्धांत तैयार करने के लिए सबसे पहले बौद्ध परिषद के रूप में जाना एक सम्मेलन का आयोजन किया. आदरणीय Upali विनय, संघा के लिए आचरण के नियमों सुनाई है whilst बुद्ध के एक वफादार परिचर था और बुद्ध कभी बोला सभी प्रवचन सुनवाई की विशेष सौभाग्य प्राप्त हुआ था जो आदरणीय आनंद,,, सुत्त सुनाई. एक सौ साल पहले बौद्ध परिषद के बाद, कुछ चेलों कुछ मामूली नियमों को बदलने की जरूरत है देखा. रूढ़िवादी Bhikkus दूसरों को कुछ अनुशासनात्मक नियमों (विनय) को संशोधित करने पर जोर दिया है, जबकि कुछ भी नहीं बदला जाना चाहिए. अंत में, बौद्ध धर्म के विभिन्न स्कूलों के गठन उसका परिषद के बाद अंकुरित. और दूसरे परिषद में, विनय से संबंधित केवल मामलों पर चर्चा की गई और धम्म के बारे में कोई विवाद की सूचना मिली थी.3 सदी ईसा पूर्व में सम्राट अशोक के समय के दौरान, तीसरा परिषद संघा समुदाय द्वारा आयोजित की राय के मतभेदों पर चर्चा करने के लिए आयोजित की गई थी. इस परिषद में मतभेद विनय तक ही सीमित नहीं थे, बल्कि धम्म के साथ जुड़े हुए थे. Abhidhamma Pitaka इस परिषद में चर्चा की और शामिल किया गया था. 80 ईसा पूर्व में श्रीलंका में आयोजित किया गया था, जो परिषद धर्मपरायण राजा Vattagamini Abbaya के संरक्षण में 4 परिषद के रूप में जाना जाता है. यह Tipitaka पहली पाली भाषा में लिखने के लिए प्रतिबद्ध था कि श्रीलंका में इस समय था.

सुत्त Pitaka मुख्य रूप से विभिन्न अवसरों पर स्वयं बुद्ध ने दिया प्रवचन के होते हैं. उनके विशिष्ट चेलों से कुछ (जैसे सारिपुत्त, आनंद, मोग्गलन) इसमें शामिल द्वारा दिया कुछ प्रवचन भी थे. उसमें सन्निहित उपदेश विभिन्न अवसरों और विभिन्न व्यक्तियों के स्वभाव के अनुरूप करने के स्वेच्छाचार थे, क्योंकि यह नुस्खे की एक किताब की तरह है. वहाँ प्रतीत होता है विरोधाभासी बयान हो सकता है, लेकिन वे ठीक वक्त पर एक विशेष उद्देश्य के अनुरूप बुद्ध द्वारा बोला गया के रूप में वे गलत नहीं किया जाना चाहिए. इस Pitaka पाँच निकायों या संग्रह, अर्थात् में विभाजित है.: -

  
 दीघा निकाय
[दीघा: लंबे] दीघा निकाय बुद्ध द्वारा दिए गए सबसे लंबे समय तक प्रवचन की 34 बटोरता. विभिन्न संकेत उनमें से कई मूल कोष को और संदिग्ध प्रामाणिकता की देर जोड़ रहे हैं कि कर रहे हैं.

Majjhima निकाय
[majjhima: मध्यम] Majjhima निकाय विविध मामलों से निपटने, मध्यवर्ती लंबाई की बुद्ध की 152 प्रवचन बटोरता.

Saṃyutta निकाय
[samyutta: समूह] Saṃyutta निकाय saṃyuttas बुलाया 56 उप समूहों में उनके विषय के अनुसार suttas बटोरता. यह चर लंबाई के तीन हजार से अधिक प्रवचन होता है, लेकिन आम तौर पर अपेक्षाकृत कम.

Aṅguttara निकाय
[आंग: कारक | उत्तर: additionnal] Aṅguttara निकाय nipātas बुलाया ग्यारह उप समूहों, मिसाल nipāta के उन बनाम एक अतिरिक्त कारक के enumerations से मिलकर प्रवचन सभा उनमें से प्रत्येक में subdivized है. यह आम तौर पर कम कर रहे हैं जो suttas के हजारों शामिल हैं.

Khuddaka निकाय
[khuddha: छोटे, छोटे] Khuddhaka निकाय लघु ग्रंथों और दो ​​stratas की रचना की गई के रूप में माना जाता है: धम्मपद, Udāna, Itivuttaka, सुत्त Nipāta, Theragāthā-Therīgāthā और जातक अन्य पुस्तकों देर परिवर्धन और उनकी प्रामाणिकता हैं, जबकि प्राचीन तबके फार्म अधिक संदिग्ध है.

        पांचवें पंद्रह पुस्तकों में विभाजित है: -

         Khuddaka फ़रवरी (छोटे ग्रंथों)

    धम्मपद (सत्य के मार्ग)

      Udana (हार्दिक बातें या खुशी के Paeons)

    आईटीआई Vuttaka (’इस प्रकार कहा सत्संग)

    सुत्त Nipata (सत्संग एकत्र)

    Vimana Vatthu (स्वर्गीय मकान की कहानियां)

    पेटा Vatthu (Petas की कहानियां)

       Theragatha (भाइयों के भजन)

      Therigatha (बहनों का भजन)

जातक (जन्म कहानियां)

     Niddesa (प्रदर्शनियों)

       Patisambhida (विश्लेषणात्मक ज्ञान)

         अपादना (संतों के जीवन)

     Buddhavamsa (बुद्ध का इतिहास)
   

  Cariya Pitaka (आचरण की विधियां)

दीघा निकाय
[दीघा: लंबे] दीघा निकाय बुद्ध द्वारा दिए गए सबसे लंबे समय तक प्रवचन की 34 बटोरता. विभिन्न संकेत उनमें से कई मूल कोष को और संदिग्ध प्रामाणिकता की देर जोड़ रहे हैं कि कर रहे हैं.
सुत्त Piṭaka
- प्रवचन की टोकरी -
[सुत्त: प्रवचन]
दीघा निकाय

डी.एन. 9 -
Poṭṭhapāda सुत्त
{अंश}
- Poṭṭhapāda का सवाल -
पेड़
सुत्त Piṭaka
- प्रवचन की टोकरी -
[सुत्त: प्रवचन]

सुत्त Piṭaka धम्म के बारे में बुद्ध की शिक्षाओं का सार होता है. यह अधिक से अधिक दस हजार suttas होता है. यह निकायों बुलाया पाँच संग्रह में बांटा गया है.

दीघा निकाय
     [दीघा: लंबे] दीघा निकाय बुद्ध द्वारा दिए गए सबसे लंबे समय तक प्रवचन की 34 बटोरता. विभिन्न संकेत उनमें से कई मूल कोष को और संदिग्ध प्रामाणिकता की देर जोड़ रहे हैं कि कर रहे हैं.

ट्री सुत्त Piṭaka >> दीघा निकाय

डी.एन. 9 -

Poṭṭhapāda सुत्त
{अंश}

- Poṭṭhapāda का सवाल -

अब, भगवान, धारणा पहले उठता है, और ज्ञान के बाद करता है; या ज्ञान पहली उठता है, और धारणा के बाद करता है; या धारणा और ज्ञान एक साथ पैदा होती है?

Potthapada, धारणा पहले उठता है, और ज्ञान के बाद. और ज्ञान के उत्पन्न होने की धारणा के उत्पन्न होने से आता है. वन ‘यह मेरे ज्ञान उत्पन्न हो गई है कि इस पर निर्भरता में है., जो ये तर्क के इस लाइन के माध्यम से एक धारणा पहले उठता है कैसे एहसास, और ज्ञान के बाद, और कैसे ज्ञान के उत्पन्न होने की धारणा के उत्पन्न होने से आता है सकते हैं

Classical Marathi


https://indologygoa.wordpress.com/wp-comments-post.php



You are being asked to login because awakenmedia.prabandhak@gmail.com is used by an account you are not logged into now.


By logging in you’ll post the following comment to Lokmat Editor Raju Nayak “flexed muscle” against RTI activists:

अभिजात मराठी

विनामूल्य ऑनलाइन ई नालंदा संशोधन आणि सराव विद्यापीठ

TIPITAKA

TIPITAKA आणि बारा विभाग
संक्षिप्त ऐतिहासिक पार्श्वभूमी
Sutta Pitaka
Vinaya Pitaka
Abhidhamma Pitaka
बौद्ध Canons बारा विभाग
बौद्ध Canons नऊ विभाग

TIPITAKA आणि बारा विभाग 45 वर्षांमध्ये बुद्ध शिकवणी संग्रह आहे. तो
Sutta (परंपरागत अध्ययन), Vinaya (शिस्तीचा कोड) आणि Abhidhamma (समालोचने)
समावेश असतो. Tipitaka Shakyamuni बुद्ध सह तात्काळ संपर्क होता शिष्य
द्वारे संकलित आणि त्याच्या उपस्थित स्वरूपात व्यवस्था करण्यात आली. बुद्ध
दूर झाली होती, पण तो मोकळेपणाने माणुसकीच्या करण्यासाठी bequeathed जे
भव्य Dhamma अजूनही त्याच्या मुळ पवित्रता विद्यमान आहे. बुद्ध त्याच्या
शिकवणुकी नाही लेखी रेकॉर्ड बाकी होती तरी, त्याच्या प्रतिष्ठीत शिष्य
स्मृती करण्यासाठी committing आणि पिढ्यान्पिढ्या orally त्यांना संक्रमित
करुन त्यांना संरक्षित.

संक्षिप्त ऐतिहासिक पार्श्वभूमी

ताबडतोब अंतिम बुद्ध दूर पुरवणे केल्यानंतर, 500 प्रतिष्ठीत Arahats
बुद्ध यांनी शिकवले मत तालीम प्रथम बौद्ध परिषदेच्या म्हणून ओळखले एक परिषद
आयोजित. आदरणीय Upali Vinaya, Sangha साठी आचार च्या नियम recited जेव्हा
बुद्ध एक विश्वासू सेवक होते आणि बुद्ध कधी uttered सर्व प्रवचने सुनावणीचे
विशेष विशेषाधिकार होता आदरणीय आनंदा, Sutta recited. शंभर वर्षे प्रथम
बौद्ध परिषदेच्या नंतर, काही शिष्य विशिष्ट लघू नियम बदलणे आवश्यक पाहिले.
ऑर्थोडॉक्स Bhikkus इतर काही शिस्तीचा नियम (Vinaya) संपादीत वर insisted
करताना काहीही बदलला पाहिजे असे सांगितले. अखेरीस, बौद्ध विविध शाळा
निर्मिती त्याच्या परिषद नंतर germinated. आणि दुसरी परिषद मध्ये, Vinaya
संबंधित फक्त वस्तू चर्चा करण्यात आली आणि Dhamma बद्दल नाही वादंग नोंद
झाली. 
 3 शतक B.C. मध्ये सम्राट अशोक च्या वेळी, तृतीय कौन्सिल Sangha
समुदाय असलेल्या मताच्या फरकापेक्षा चर्चा करण्यासाठी आयोजित करण्यात आली
होती. या परिषदेच्या वेळी मतभेद Vinaya विखुरलेल्या नाहीत पण Dhamma सह
कनेक्ट होते. Abhidhamma Pitaka या कौन्सिल येथे चर्चा आणि उदयास आली. 80
इ.स.पू. मध्ये श्रीलंकेत आयोजित करण्यात आली होती जी परिषद धार्मिक
वृत्तीचा राजा Vattagamini Abbaya बगलेत 4 था कौन्सिल म्हणून ओळखले जाते.
हे Tipitaka प्रथम पाली भाषेत लिहित वचनबद्ध आले की श्रीलंका या वेळी होती.

Sutta Pitaka प्रामुख्याने विविध प्रसंगी बुद्ध स्वतः वितरित प्रवचने
असतात. त्याच्या प्रतिष्ठीत शिष्यांपैकी काही (उदा. Sariputta, आनंदा,
Moggallana) त्यात समावेश पाठवलेल्या काही प्रवचने देखील होते. त्यात
केलेल्या sermons विविध प्रसंगी विविध व्यक्तींच्या temperaments
भागविण्यासाठी expounded होते म्हणून, prescriptions एक पुस्तक सारखे आहे.
तेथे उशिर contradictory स्टेटमेन्ट असू शकते, पण ते opportunely विशिष्ट
उद्देश भागविण्यासाठी बुद्ध करून uttered होते म्हणून त्यांनी misconstrued
जाऊ नये. हे Pitaka पाच Nikayas किंवा संग्रह, उदा विभागली आहे:. -


 Dīgha Nikāya
[dīgha: लांब] Dīgha Nikāya बुद्ध दिलेल्या प्रदीर्घ विवेचन 34 प्राप्त
करते. विविध इशारे त्यांना अनेक मूळ कॉर्पस करण्यासाठी आणि शंकास्पद
अधिकृततेवर उशिरा समावेश असल्याची आहेत.

Majjhima Nikāya
[majjhima: मध्यम] Majjhima Nikāya वैविध्यपूर्ण वस्तू वागण्याचा, दरम्यानचे लांबीच्या बुद्ध 152 प्रवचने प्राप्त करते.

Saṃyutta Nikāya
[samyutta: गट] Saṃyutta Nikāya saṃyuttas म्हणतात 56 उप गटांमध्ये त्यांची
विषय त्यानुसार suttas प्राप्त करते. हे चल लांबी जास्त तीन हजार प्रवचने
आहे, परंतु सामान्यतः तुलनेने लहान.

Aṅguttara Nikāya
[aṅg: फॅक्टर | uttara: additionnal] Aṅguttara Nikāya nipātas म्हणतात
अकरा उप गट, मागील दाखला विशेषता न्यायालयीन निर्णय ज्याचा उपयोग नंतरच्या
खटल्याचा निर्णय देताना होऊ शकतो) nipāta त्या विरुद्ध एक अतिरिक्त घटकाचा
enumerations असणारे प्रवचने गोळा त्यांना प्रत्येक subdivized आहे. तो
लहान आहेत जे suttas हजारो समाविष्टीत आहे.

Khuddaka Nikāya
[khuddha: लहान, लहान] Khuddhaka Nikāya लहान ग्रंथ आणि दोन stratas बनलेला
गेले मानले जाते: Dhammapada, उदानाचा, Itivuttaka, Sutta Nipāta,
Theragāthā-Therīgāthā आणि Jātaka इतर पुस्तके उशीरा संकलने आणि त्यांच्या
अधिकृततेवर असताना, प्राचीन कमी खोलीवर तयार अधिक शंकास्पद आहे.

पाचव्या पंधरा पुस्तके मध्ये विभाजीत आहे: -

Khuddaka Patha (कमी ग्रंथ)

Dhammapada (सत्य वे)

उदानाचा (Heartfelt sayings किंवा आनंद Paeons)

आयटीआय Vuttaka (‘त्यामुळे म्हणाला’ प्रवचने)

Sutta Nipata (प्रवचने गोळा)

Vimana Vatthu (दिव्य Mansions कथा)

Peta Vatthu (Petas कथा)

Theragatha (भाऊ च्या Psalms)

Therigatha (बहिणींना च्या Psalms)

Jataka (जन्म कथा)

Niddesa (Expositions)

Patisambhida (पृथक्करण ज्ञान)

Apadana (संत जीवन)

Buddhavamsa (बुद्ध इतिहास)

Cariya Pitaka (वर्तनाने मोड्स)

Dīgha Nikāya
[dīgha: लांब] Dīgha Nikāya बुद्ध दिलेल्या प्रदीर्घ विवेचन 34 प्राप्त
करते. विविध इशारे त्यांना अनेक मूळ कॉर्पस करण्यासाठी आणि शंकास्पद
अधिकृततेवर उशिरा समावेश असल्याची आहेत.
Sutta Piṭaka
- प्रवचने टोपली -
[Sutta: संभाषण]
Dīgha Nikāya

DN 9 -
Poṭṭhapāda Sutta
{उतारा}
- Poṭṭhapāda प्रश्न -
झाड
Sutta Piṭaka
- प्रवचने टोपली -
[Sutta: संभाषण]

Sutta Piṭaka Dhamma संबंधित बुद्ध च्या अध्यापनाचे सार समाविष्टीत आहे.
तो जास्त दहा हजार suttas समाविष्टीत आहे. तो Nikāyas म्हणतात पाच
संग्रहात वाटून जाते.

Dīgha Nikāya
[dīgha: लांब] Dīgha Nikāya बुद्ध दिलेल्या प्रदीर्घ विवेचन 34
प्राप्त करते. विविध इशारे त्यांना अनेक मूळ कॉर्पस करण्यासाठी आणि
शंकास्पद अधिकृततेवर उशिरा समावेश असल्याची आहेत.

वृक्ष Sutta Piṭaka >> Digha Nikāya

DN 9 -

Poṭṭhapāda Sutta
{उतारा}

- Poṭṭhapāda प्रश्न -

आता, प्रभु, समज प्रथम उद्भवू, आणि ज्ञान नंतर नाही; किंवा ज्ञान प्रथम
उद्भवू, आणि समज नंतर नाही; किंवा समज आणि ज्ञान एकाच वेळी उद्भवू नाहीत?

Potthapada, समज प्रथम संबंधी वाद निर्माण, आणि ज्ञान नंतर. आणि ज्ञान
उद्भवणारे समज च्या उद्भवणारा येते. एक ‘हे माझे ज्ञान arisen आहे की या वर
विश्वास आहे.’, Discerns कारण हा लाईनद्वारे एक समज प्रथम संबंधी वाद
निर्माण कसे जाणतो, आणि ज्ञान नंतर, आणि कसे ज्ञान उद्भवणारे समज च्या
उद्भवणारा येते शकता

Classical Nepali

http://brtnepal.com/news.php?pid=5405#sthash.vzG3DlYX.dpbs


शास्त्रीय नेपाली

निःशुल्क अनलाइन ई-NALANDA अनुसन्धान अभ्यास UNIVERSITY

TIPITAKA

TIPITAKA बाह्रवटा विभाग
     संक्षिप्त ऐतिहासिक पृष्ठभूमि
    Sutta Pitaka
    Vinaya Pitaka
    Abhidhamma Pitaka
      बौद्ध Canons बाह्र प्रभाग
बौद्ध Canons नौ प्रभाग

TIPITAKA बाह्रवटा विभाग 45 वर्ष को बुद्ध को शिक्षा को संग्रह हो यो Sutta (पारंपरिक शिक्षा), Vinaya (अनुशासनको कोड) Abhidhamma (टिप्पणीहरू) को हुन्छन् यस Tipitaka Shakyamuni बुद्ध संग तत्काल सम्पर्क थियो जो चेलाहरूले संकलित यसको वर्तमान फर्म मिलाउन थियो बुद्धलाई बितिसकेका थिए, तर त्यो तनमनले मानवता को विरासत जो उदात्त Dhamma अझै पनि आफ्नो प्राचीन शुद्धता मा भेटिएन बुद्ध उहाँका शिक्षाहरू कुनै लिखित रेकर्ड बाँकी भए तापनि, उहाँको प्रतिष्ठित चेलाहरू स्मृति गन पुस्तौं पुस्तासम्म मौखिक तिनीहरूलाई प्रसारित तिनीहरूलाई संरक्षित

      संक्षिप्त ऐतिहासिक पृष्ठभूमि

   तुरुन्त अन्तिम बुद्ध को बितिजान्छ पछि, 500 प्रतिष्ठित Arahats बुद्ध सिकाउनुभएको सिद्धान्त पूर्वाभ्यास लागि पहिलो बौद्ध परिषद भनेर चिनिने अधिवेशन को आदरणीय Upali समानार्थी, को संघा लागि आचरण को नियम वाचन गर्नुभएको सिमित बुद्ध को एक विश्वासी नोकर थियो बुद्ध कहिल्यै छाडेनन् सबै भाषणहरू सुनवाई को विशेष सुअवसर पाएका आदरणीय आनन्दप्रसाद,,, को Sutta वाचन गर्नुभएको थियो। एक सय वर्ष प्रथम बौद्ध परिषद पछि, केही चेलाहरू सानातिना नियम परिवर्तन गर्नुपर्ने आवश्यकता देखे रूढिवादी Bhikkus अरु केही अनुशासनात्मक नियम (Vinaya) परिमार्जन मा जोर दिए केही परिवर्तन आवश्यक रहेको बताउनुभयो अन्तमा, बौद्ध धर्म को विभिन्न विद्यालयमा गठन आफ्नो परिषद पछि germinated अनि दोस्रो परिषद, समानार्थी जोडिएका मात्र विषयहरूमा छलफल गरिएको थियो Dhamma बारेमा कुनै विवाद चलेको थियो।3 शताब्दी ईस्वी मा सम्राट Asoka को समयमा, तेस्रो परिषद्ले संघा समुदाय द्वारा आयोजित विचार को विवादबारे छलफल आयोजना गरिएको थियो यस परिषद मा मतभेद समानार्थी सीमित थिएनन् तर पनि Dhamma संग जोडिएको थियो यस Abhidhamma Pitaka यस परिषद मा छलफल समावेश थियो 80 ई.पू. मा श्रीलंका मा सम्पन्न भएको थियो जो परिषद को धर्मपरायण राजा Vattagamini Abbaya को संरक्षण अन्तर्गत 4th परिषद भनिन्छ यो Tipitaka पहिलो पाली भाषामा गर्न प्रतिबद्ध रहेको श्रीलंका मा यस समय थियो

यस Sutta Pitaka मुख्य रूप देखि विभिन्न अवसरमा बुद्ध स्वयम्ले द्वारा वितरित भाषणहरू हुन्छन् आफ्नो प्रतिष्ठित केही चेला (जस्तै Sariputta, आनन्द, Moggallana) यो समावेश द्वारा वितरित केही भाषणहरू पनि त्यहाँ थिए त्यहाँ समेटेको प्रवचन विभिन्न अवसरहरूमा विभिन्न व्यक्ति को स्वभाव अनुरूप गर्न व्याख्या थिए रूपमा यो, औषधी एक किताब जस्तै त्यहाँ जस्तो देखिने विरोधाभासपूर्ण बयान हुन सक्छ, तर तिनीहरूले opportunely एक विशेष उद्देश्य अनुरूप बुद्ध भनेका थिए तिनीहरूले गलत हुँदैन यो Pitaka पाँच Nikayas वा संग्रह, अर्थात मा विभाजित छ: -

  
 दीघा Nikāya
[दीघा: लामो] The दीघा Nikāya बुद्ध दिइएको लामो भाषण 34 बटोरता विभिन्न सुझावहरू तिनीहरूलाई धेरै मूल कोष शंकास्पद विश्वसनीयताका लेट फाईल हो कि छन्

Majjhima Nikāya
[majjhima: मध्यम] The Majjhima Nikāya विविध मामिला, मध्यवर्ती लम्बाइ को बुद्ध को 152 भाषणहरू बटोरता

Saṃyutta Nikāya
[samyutta: समूह] Saṃyutta Nikāya saṃyuttas भनिन्छ 56 उपसमिति समूह मा आफ्नो विषयगत अनुसार suttas बटोरता यो चल लम्बाइ भन्दा बढी तीन हजार भाषणहरू हुन्छ, तर सामान्यतया अपेक्षाकृत कम

Aṅguttara Nikāya
[ANG: कारक | uttara: additionnal] The Aṅguttara Nikāya nipātas भनिन्छ एघार उपसमिति समूह, को मिसाल nipāta ती बनाम एक अतिरिक्त कारक को गणना मिलेर भाषणहरू जम्मा तिनीहरूलाई प्रत्येक subdivized सामान्यतया यो जो कम suttas हजारौं हुन्छ

Khuddaka Nikāya
[khuddha: छोटो, सानो] The Khuddhaka Nikāya छोटो पदहरू दुई stratas बनेको गरिएको रूप मानिन्छ: धम्मपदा, Udāna, Itivuttaka, Sutta Nipāta, Theragāthā-Therīgāthā Jataka अन्य पुस्तकहरु लेट फाईल आफ्नो प्रामाणिकता हो, जबकि, पुरातन तबके गठन थप शंकास्पद

        पाँचौं पन्ध्र पुस्तकहरु मा विभाजित : -

         Khuddaka Patha (Shorter पद)

    धम्मपदा (सत्यको मार्ग)

      Udana (हृदयदेखि वचनहरू वा आनन्दले Paeons)

    ITI Vuttaka (यसरी भन्नुभयो Discourses)

    Sutta Nipata (Discourses Collected)

    Vimana Vatthu (आकाशीय Mansions कथाहरू)

    मानचित्र Vatthu (Petas कथाहरू)

       Theragatha (दाज्यु को भजन)

      Therigatha (बहिनीहरूले को भजन)

Jataka (जन्म समाचार)

     Niddesa (प्रदर्शनी)

       Patisambhida (विश्लेषणात्मक ज्ञान)

         Apadana (सन्तहरुको जीवन)

     Buddhavamsa (बुद्ध इतिहास)
   

  Cariya Pitaka (आचार मोडहरू)

दीघा Nikāya
[दीघा: लामो] The दीघा Nikāya बुद्ध दिइएको लामो भाषण 34 बटोरता विभिन्न सुझावहरू तिनीहरूलाई धेरै मूल कोष शंकास्पद विश्वसनीयताका लेट फाईल हो कि छन्
Sutta Piṭaka
- भाषणहरू को बास्केट -
[Sutta: भाषण]
दीघा Nikāya

DN 9 -
Poṭṭhapāda Sutta
{अंश}
- Poṭṭhapāda को प्रश्न -
रूख
Sutta Piṭaka
- भाषणहरू को बास्केट -
[Sutta: भाषण]

यस Sutta Piṭaka को Dhamma सम्बन्धमा बुद्ध शिक्षाको सार हो यो भन्दा बढी दस हजार suttas हुन्छ यो Nikāyas भनिन्छ पाँच संग्रहमा विभाजित

दीघा Nikāya
     [दीघा: लामो] The दीघा Nikāya बुद्ध दिइएको लामो भाषण 34 बटोरता विभिन्न सुझावहरू तिनीहरूलाई धेरै मूल कोष शंकास्पद विश्वसनीयताका लेट फाईल हो कि छन्

रूख Sutta Piṭaka >> दीघा Nikāya

DN 9 -

Poṭṭhapāda Sutta
{अंश}

- Poṭṭhapāda को प्रश्न -

अब, प्रभु, धारणा पहिलो उत्पन्न, ज्ञान पछि के; वा ज्ञान पहिलो उत्पन्न, धारणा र पछि के; वा धारणा ज्ञान साथ खडा हुन सक्छ?

Potthapada, धारणा पहिलो उठ्छ, ज्ञान पछि ज्ञान उत्पन्न हुने धारणा को उत्पन्न आउँछ एउटा यो मेरो ज्ञान उत्पन्न भएको छ कि यो भर मा हो, बुझ्ने तर्क यो लाइन को माध्यम ले एक धारणा पहिलो उठ्छ कसरी महसुस, ज्ञान पछि, कसरी ज्ञान उत्पन्न हुने धारणा को उत्पन्न हुन बाट आउछ गर्न



Classical Punjabi

ਕਲਾਸੀਕਲ ਨੂੰ ਪੰਜਾਬੀ

ਮੁਫ਼ਤ ਆਨਲਾਇਨ E-ਨਾਲੰਦਾ ਰਿਸਰਚ ਅਤੇ ਪ੍ਰੈਕਟਿਸ ਯੂਨੀਵਰਿਸਟੀ

TIPITAKA

TIPITAKA ਅਤੇ ਬਾਰ੍ਹਾ ਵੰਡ ਦਾ
     ਸੰਖੇਪ ਇਤਿਹਾਸਕ ਪਿਛੋਕੜ ਦੀ
    Sutta Pitaka
    Vinaya Pitaka
    Abhidhamma Pitaka
      ਬੋਧੀ Canons ਦੇ ਬਾਰ੍ਹਾ ਡਵੀਜਨ
ਬੋਧੀ Canons ਦੇ ਨੌ ਡਵੀਜਨ

TIPITAKA ਅਤੇ ਬਾਰ੍ਹਾ ਵੰਡ ਸਿੱਖਿਆ ਦਾ ਭੰਡਾਰ ਹੈ
ਬੁੱਧ 45 ਸਾਲ ਦੇ. ਇਹ (Sutta ਦੇ ਰਵਾਇਤੀ ਸ਼ਾਮਿਲ ਹਨ
ਸਿੱਖਿਆ ਦੇਣ), Vinaya (ਅਨੁਸ਼ਾਸਨੀ ਕੋਡ ਨੂੰ) ਅਤੇ Abhidhamma (commentaries).
Tipitaka ਕੇ ਕੰਪਾਇਲ ਹੈ ਅਤੇ ਇਸ ਦੇ ਮੌਜੂਦ ਰੂਪ ਵਿਚ ਪ੍ਰਬੰਧ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ,
Shakyamuni ਬੁੱਧ ਨਾਲ ਤੁਰੰਤ ਸੰਪਰਕ ਨੂੰ ਸੀ, ਜਿਹੜੇ ਚੇਲੇ.ਬੁੱਧ
ਦੂਰ ਲੰਘ ਗਏ, ਪਰ ਸੀ, ਉਸ ਨੇ unreservedly bequeathed, ਜਿਸ ਨੂੰ ਸਫਲਾ Dhamma
ਮਨੁੱਖਤਾ ਨੂੰ ਅਜੇ ਵੀ ਇਸ ਦੇ ਮੁੱਢਲਾ ਭਾਸ਼ਣ ਵਿੱਚ ਮੌਜੂਦ ਹੈ., ਪਰ ਬੁੱਧ
ਉਸ ਦੀ ਸਿੱਖਿਆ ਦਾ ਕੋਈ ਲਿਖਿਆ ਰਿਕਾਰਡ ਦਾ ਛੱਡ ਦਿੱਤਾ ਸੀ, ਉਸ ਦੇ ਮਨਿ
ਚੇਲੇ ਮੈਮੋਰੀ ਨੂੰ ਪੱਕਾ ਕਰਨ ਅਤੇ ਭੇਜਿਆ ਕੇ ਨੂੰ ਸੁਰੱਖਿਅਤ ਰੱਖਿਆ
ਜ਼ਬਾਨੀ ਪੀੜ੍ਹੀ ਤੱਕ ਪੀੜ੍ਹੀ ਨੂੰ.

      ਸੰਖੇਪ ਇਤਿਹਾਸਕ ਪਿਛੋਕੜ ਦੀ

 
ਫਾਈਨਲ ਬੁੱਧ ਦੇ ਦੂਰ ਪਾਸ ਤੁਰੰਤ ਬਾਅਦ, 500
ਵੱਖਰਾ Arahats ਪਹਿਲੀ ਬੋਧੀ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਜਾਣਿਆ ਇਕ ਸੰਮੇਲਨ ਦਾ ਆਯੋਜਨ ਕੀਤਾ
ਬੁੱਧ ਦੁਆਰਾ ਨੂੰ ਸਿਖਾਇਆ ਦੇ ਉਪਦੇਸ਼ ਅਵਭਆਸ ਕਰਨ ਲਈ ਪ੍ਰੀਸ਼ਦ. ਪੂਜਯ Ananda,
ਜਿਹੜੇ ਬੁੱਧ ਦਾ ਇੱਕ ਵਫ਼ਾਦਾਰ ਸੇਵਕ ਸੀ ਅਤੇ ਸੀ, ਖਾਸ
ਸਾਰੇ ਭਾਸ਼ਣ ਸੁਣਨ ਦਾ ਸਨਮਾਨ ਬੁੱਧ ਕਦੇ ਜਾਪ, ਸਾਥੀ
ਪੂਜਯ Upali ਜਦਿਕ Sutta, Vinaya, ਦੇ ਨਿਯਮ ਦਾ ਪਾਠ
ਸੰਘਾ ਲਈ ਕਰਨ.ਇੱਕ ਸੌ ਸਾਲ ਬਾਅਦ ਪਹਿਲੀ ਬੋਧੀ
ਕਸਲ, ਕੁਝ ਚੇਲੇ ਕੁਝ ਖਾਸ ਛੋਟੇ ਨਿਯਮ ਨੂੰ ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ਦੀ ਲੋੜ ‘ਤੇ ਦੇਖਿਆ ਸੀ. , The
ਆਰਥੋਡਾਕਸ Bhikkus ਹੋਰ ਦੌਰਾਨ ਕੁਝ ਵੀ ਤਬਦੀਲ ਹੋ ਜਾਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ
ਕੁਝ ਅਨੁਸ਼ਾਸਨੀ ਨਿਯਮ (Vinaya) ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ‘ਤੇ ਜ਼ੋਰ. ਅੰਤ ਵਿੱਚ,
ਬੁੱਧ ਦੇ ਵੱਖ ਵੱਖ ਸਕੂਲ ਦੇ ਗਠਨ ਨੇ ਆਪਣੇ ਕਸਲ ਦੇ ਬਾਅਦ ਨੂੰ ਫ਼ਾਰਗ ਕਰਨ.
ਅਤੇ ਦੂਜੇ ਪ੍ਰੀਸ਼ਦ ਵਿੱਚ, Vinaya ਸੰਬੰਧੀ ਸਿਰਫ ਮਾਮਲੇ ਸਨ
ਬਾਰੇ ਚਰਚਾ ਕੀਤੀ ਅਤੇ Dhamma ਬਾਰੇ ਕੋਈ ਵੀ ਵਿਵਾਦ ਦੀ ਰਿਪੋਰਟ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ.3 ਵਿੱਚ
ਸਦੀ B.C. ਸਮਰਾਟ ਅਸ਼ੋਕਾ ਦੇ ਸਮ ਦੌਰਾਨ, ਤੀਜੀ ਪ੍ਰੀਸ਼ਦ ਸੀ
ਸੰਘਾ ਕਮਿਊਨਿਟੀ ਦੁਆਰਾ ਆਯੋਜਿਤ ਰਾਇ ਦੇ ਅੰਤਰ ਬਾਰੇ ਗੱਲਬਾਤ ਕਰਨ ਲਈ ਆਯੋਜਿਤ ਕੀਤੀ.
ਇਸ ਦਾ ਪ੍ਰੀਸ਼ਦ ਤੇ ਅੰਤਰ Vinaya ਨੂੰ ਹੀ ਸੀਮਤ ਹੈ, ਪਰ ਨਾ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ
ਵੀ Dhamma ਨਾਲ ਜੁੜਿਆ ਰਹੇ ਸਨ. Abhidhamma Pitaka ਚਰਚਾ ਕੀਤੀ ਗਈ ਸੀ
ਅਤੇ ਇਸ ਕਸਲ ‘ਤੇ ਸ਼ਾਮਿਲ ਕੀਤਾ. ਸ਼੍ਰੀ ਲੰਕਾ ਵਿੱਚ ਆਯੋਜਿਤ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ, ਜਿਸ ਨੂੰ ਪ੍ਰੀਸ਼ਦ
80 B.C. ਵਿੱਚ ਪਵਿੱਤਰ ਦੀ ਛੱਤਰ ਹੇਠ 4 ਦਾ ਪ੍ਰੀਸ਼ਦ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਜਾਣਿਆ ਗਿਆ ਹੈ
ਰਾਜਾ Vattagamini Abbaya. ਇਹ ਸ਼੍ਰੀ ਲੰਕਾ ਵਿੱਚ ਇਸ ਵੇਲੇ ਸੀ, ਜੋ ਕਿ
Tipitaka ਪਹਿਲੀ ਪਾਲੀ ਭਾਸ਼ਾ ਵਿੱਚ ਲਿਖਣ ਲਈ ਵਚਨਬੱਧ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ.

, The
Sutta Pitaka ਬੁੱਧ ਕੇ ਦੇ ਦਿੱਤਾ ਭਾਸ਼ਣ ਦੇ ਮੁੱਖ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਸ਼ਾਮਿਲ ਹਨ
ਆਪਣੇ ਆਪ ਨੂੰ ਵੱਖ ਵੱਖ ਮੌਕੇ ‘ਤੇ. ਦੇ ਹਵਾਲੇ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਤੇ ਕੁਝ ਭਾਸ਼ਣ ਵੀ ਹੁੰਦੇ ਸਨ,
ਉਸ ਦੇ ਵੱਖਰਾ ਦੇ ਕੁਝ ਚੇਲੇ (ਉਦਾਹਰਨ ਲਈ Sariputta, Ananda, ਕੇ
Moggallana) ਇਸ ਵਿਚ ਸ਼ਾਮਲ ਕੀਤਾ. ਇਹ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਨੁਸਖੇ ਦੀ ਇੱਕ ਕਿਤਾਬ, ਵਰਗਾ ਹੈ,
ਉਸ ਵਿੱਚ ਮੂਰਤੀਮਾਨ ਛਪਵਾਇਆ ਵੱਖ ਮੌਕੇ ਨੂੰ ਪੂਰਾ ਕਰਨ ਲਈ ਮਨਾਉਣ ਦੀ ਸੀ,
ਅਤੇ ਵੱਖ ਵੱਖ ਵਿਅਕਤੀ ਦੇ ਮਿਜਾਜ਼ਾ. ਪ੍ਰਤੀਤ ਹੁੰਦਾ ਹੋ ਸਕਦੇ ਹਨ
ਵਿਰੋਧੀ ਬਿਆਨ ਹੈ, ਪਰ ਉਹ ਉਹ ਦੇ ਤੌਰ misconstrued ਜਾ ਨਹੀ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ
opportunely ਕਿਸੇ ਖਾਸ ਮਕਸਦ ਨੂੰ ਪੂਰਾ ਕਰਨ ਲਈ ਬੁੱਧ ਕੇ ਸਾਥੀ ਰਹੇ ਸਨ.
ਇਹ Pitaka ਪੰਜ Nikayas ਸੰਗ੍ਰਹਿ, ਤੁੱਛਤਾ ਵਿੱਚ ਵੰਡਿਆ ਗਿਆ ਹੈ:. -

  
 Digha Nikāya
[Digha:
ਲੰਬੇ] Digha Nikāya ਦੁਆਰਾ ਦਿੱਤੀ ਲੰਬਾ ਭਾਸ਼ਣ ਦੇ 34 ਇਕੱਠੀ
ਬੁੱਧ. ਵੱਖ ਹਿੰਟ ਦੇ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਦੇਰ ਹੋਰ ਹਨ, ਜੋ ਕਿ ਕਈ ਵਿਕਲਪ ਉਪਲਬਧ ਹਨ
ਅਸਲੀ ਕਾਰ੍ਪਸ ਕਰਨ ਅਤੇ ਸਵਾਲ ਪ੍ਰਮਾਣਿਕਤਾ ਦਾ.

Majjhima Nikāya
[majjhima:
ਮੀਡੀਅਮ] Majjhima Nikāya ਦੇ ਬੁੱਧ ਦੇ 152 ਭਾਸ਼ਣ ਇਕੱਠੀ
ਮੱਧਵਰਤੀ ਲੰਬਾਈ, ਵੰਨ ਮਾਮਲੇ ਨਾਲ ਨਜਿੱਠਣ.

Saṃyutta Nikāya
[samyutta:
ਗਰੁੱਪ ਨੂੰ] Saṃyutta Nikāya ਅਨੁਸਾਰ suttas ਇਕੱਠੀ ਆਪਣੇ
56 ਉਪ ਗਰੁੱਪ ਵਿੱਚ ਵਿਸ਼ੇ saṃyuttas ਬੁਲਾਇਆ. ਇਹ ਹੋਰ ਵੱਧ ਤਿੰਨ ਰੱਖਦਾ ਹੈ
ਹਜ਼ਾਰ ਵੇਰੀਏਬਲ ਦੀ ਲੰਬਾਈ ਦੇ ਭਾਸ਼ਣ, ਪਰ ਆਮ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਮੁਕਾਬਲਤਨ ਛੋਟਾ.

Aṅguttara Nikāya
[Ang:
ਫੈਕਟਰ | ਉਤਰਾਖੰਡ: additionnal] Aṅguttara Nikāya ਵਿੱਚ subdivized ਹੈ,
Eleven ਉਪ ਗਰੁੱਪ ਨਾਲ ਹਰੇਕ ਭਾਸ਼ਣ ਇਕੱਠੇ, nipātas ਕਹਿੰਦੇ ਹਨ
ਦੇ ਜਿਹੜੇ ਬਨਾਮ ਇੱਕ ਵਾਧੂ ਕਾਰਕ ਦੇ enumerations ਰੱਖਦਾ
ਮਿਸਾਲ nipāta. ਇਹ ਆਮ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਹੁੰਦੇ ਹਨ, ਜੋ ਕਿ suttas ਹਜ਼ਾਰ ਸ਼ਾਮਿਲ ਹਨ
ਛੋਟਾ.

Khuddaka Nikāya
[khuddha: ਛੋਟਾ,
ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਦੇ ਰੂਪ] Khuddhaka Nikāya ਛੋਟਾ ਟੈਕਸਟ ਛੋਟੇ ਅਤੇ ਮੰਨਿਆ ਗਿਆ ਹੈ
ਦੋ stratas ਦਾ ਬਣੀ: Dhammapada, ਉਦਾਨਾ, Itivuttaka, Sutta Nipāta,
Theragāthā-Therīgāthā ਅਤੇ Jātaka ਪ੍ਰਾਚੀਨ ਨਸ਼ਾਖੋਰੀ ਬਣਦੇ, ਜਦਕਿ ਦੂਜੇ ਨੂੰ
ਿਕਤਾਬ ਦੇਰ ਹੋਰ ਸ਼ਾਮਿਲ ਹਨ, ਅਤੇ ਆਪਣੇ ਪ੍ਰਮਾਣਿਕਤਾ ਨੂੰ ਹੋਰ ਸਵਾਲ ਪੈਦਾ ਕਰਦਾ ਹੈ.

        ਪੰਜਵ ਕੁਲ੍ਲ ਿਕਤਾਬ ਵਿੱਚ subdivided ਗਿਆ ਹੈ: -

         Khuddaka Patha (Shorter ਸੋਧਣ ਦਾ)

    Dhammapada (ਸੱਚ ਦੇ ਰਾਹ)

      ਉਦਾਨਾ (ਦਿਲੀ ਆਖ ਖ਼ੁਸ਼ੀ ਦਾ Paeons)

    ਇਤੀ Vuttaka (’ਇਸ ਪ੍ਰਕਾਰ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਭਾਸ਼ਣ)

    Sutta Nipata (ਭਾਸ਼ਣ ਵਸੂਲੀ)

    Vimana Vatthu (Celestial Mansions ਦੇ Stories)

    ਹੌਟ Vatthu (Petas ਦੇ Stories)

       Theragatha (ਭਰਾਵੋ ਦਾ ਜ਼ਬੂਰ)

      Therigatha (Sisters ਦਾ ਜ਼ਬੂਰ)

Jataka (ਜਨਮ Stories)

     Niddesa (Expositions)

       Patisambhida (ਐਨਾਲਿਟੀਕਲ ਗਿਆਨ)

         Apadana (ਸੰਤ ਦਾ ਜੀਵਣ)

     Buddhavamsa (ਬੁੱਧ ਦਾ ਇਤਿਹਾਸ)
   

  Cariya Pitaka (ਕੰਡਕਟ ਦੀ ਮੋਡ)

Digha Nikāya
[Digha:
ਲੰਬੇ] Digha Nikāya ਦੁਆਰਾ ਦਿੱਤੀ ਲੰਬਾ ਭਾਸ਼ਣ ਦੇ 34 ਇਕੱਠੀ
ਬੁੱਧ. ਵੱਖ ਹਿੰਟ ਦੇ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਦੇਰ ਹੋਰ ਹਨ, ਜੋ ਕਿ ਕਈ ਵਿਕਲਪ ਉਪਲਬਧ ਹਨ
ਅਸਲੀ ਕਾਰ੍ਪਸ ਕਰਨ ਅਤੇ ਸਵਾਲ ਪ੍ਰਮਾਣਿਕਤਾ ਦਾ.
Sutta Piṭaka

- ਭਾਸ਼ਣ ਦਾ ਟੋਕਰੀ -
[Sutta: ਭਾਸ਼ਣ]
Digha Nikāya
DN ਨੂੰ 9 -
Poṭṭhapāda Sutta
{ਟੂਕ}

- Poṭṭhapāda ਦਾ ਸਵਾਲ -

ਲੜੀ

Sutta Piṭaka

- ਭਾਸ਼ਣ ਦਾ ਟੋਕਰੀ -
[Sutta: ਭਾਸ਼ਣ]

Sutta Piṭaka ਬੁੱਧ ਦੇ ਉਪਦੇਸ਼ ਨੂੰ ਦੀ ਭਾਵਨਾ ਰੱਖਦਾ ਹੈ
Dhamma ਦੇ ਸੰਬੰਧ ਵਿੱਚ. ਇਹ ਹੋਰ ਵੀ ਵੱਧ ਦਸ ਹਜ਼ਾਰ suttas ਸ਼ਾਮਿਲ ਹਨ. ਇਹ ਇਸ ਲਈ ਹੈ
Nikāyas ਕਹਿੰਦੇ ਪੰਜ ਸੰਗ੍ਰਹਿ ਵਿੱਚ ਵੰਡਿਆ.

Digha Nikāya
     [Digha: ਲੰਬੇ] ਦਿਘਾ Nikāya ਲੰਬਾ ਦੇ 34 ਇਕੱਠੀ
     ਬੁੱਧ ਦੁਆਰਾ ਦਿੱਤਾ ਭਾਸ਼ਣ. ਵੱਖ ਵੱਖ ਸੁਝਾਅ ਹਨ, ਜੋ ਕਿ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ
     ਨੂੰ ਅਸਲੀ ਕਾਰ੍ਪਸ ਕਰਨ ਅਤੇ ਸਵਾਲ ਦੇ ਦੇਰ ਹੋਰ ਹਨ,
     ਪ੍ਰਮਾਣਿਕਤਾ ਨੂੰ.

ਲੜੀ Sutta Piṭaka >> ਦਿਘਾ Nikāya

DN ਨੂੰ 9 -

Poṭṭhapāda Sutta

{ਟੂਕ}

- Poṭṭhapāda ਦਾ ਸਵਾਲ -

ਹੁਣ, ਮਾਲਕ, ਧਾਰਨਾ ਪਹਿਲੇ ਪੈਦਾ ਹੈ, ਅਤੇ ਗਿਆਨ ਨੂੰ ਬਾਅਦ ਕਰਦਾ ਹੈ; ਕਰਦਾ ਹੈ
ਗਿਆਨ ਨੂੰ ਪਹਿਲੀ ਪੈਦਾ ਹੈ, ਅਤੇ ਧਾਰਨਾ ਬਾਅਦ; ਧਾਰਨਾ & ਕਰਦੇ
ਗਿਆਨ ਨੂੰ ਇੱਕੋ ਪੈਦਾ?

Potthapada,
ਧਾਰਨਾ ਪਹਿਲੇ ਉੱਠਦਾ ਹੈ, ਅਤੇ ਗਿਆਨ ਨੂੰ ਬਾਅਦ. ਹੈ ਅਤੇ
ਗਿਆਨ ਦਾ ਪੈਦਾ ਧਾਰਨਾ ਦੇ ਹੋਣ ਵਾਲੇ ਮਿਲਦੀ ਹੈ. ਇੱਕ, discerns
ਇਹ ਮੇਰੇ ਗਿਆਨ ਨੂੰ ਪੈਦਾ ਕੀਤਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਇਸ ਨੂੰ‘ ਤੇ ਨਿਰਭਰਤਾ ਵਿਚ ਆ ਰਿਹਾ ਹੈ. ਨੂੰ ਇਸ ਦੇ ਜ਼ਰੀਏ
ਤਰਕ ਇੱਕ ਦੀ ਲਾਈਨ ਧਾਰਨਾ ਪਹਿਲੇ ਉੱਠਦਾ ਹੈ ਕਿਸ ਦਾ ਬੋਧ ਹੈ, ਅਤੇ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ
ਬਾਅਦ ਗਿਆਨ ਦਾ ਹੈ, ਅਤੇ ਕਿਸ ਨੂੰ ਗਿਆਨ ਦੇ ਹੋਣ ਵਾਲੇ ਹੋਣ ਵਾਲੇ ਮਿਲਦੀ ਹੈ
ਦੇ
ਧਾਰਨਾ

Classical Urdu

کلاسیکی اردو

مفت آن لائن ای نالندا تحقیق اور پریکٹس یونیورسٹی

TIPITAKA

TIPITAKA اور بارہ تقسیم
     مختصر تاریخی پس منظر
    Sutta Pitaka
    Vinaya Pitaka
    Abhidhamma Pitaka
      بدھ canons کی بارہ ڈویژن
بدھ canons کی نو ڈویژنوں

TIPITAKA اور بارہ تقسیم تعلیمات کا مجموعہ ہے
بدھ 45 سال سے زیادہ کی. یہ (Sutta کی روایتی مشتمل ہوتا ہے
تعلیم)، Vinaya (نظم و ضبط کوڈ) اور Abhidhamma (تبصروں).
Tipitaka طرف سے مرتب کی اور اس کی موجودہ شکل میں اہتمام کیا گیا
شاکیہمنی بدھ کے ساتھ فوری طور پر رابطہ تھا جو شاگرد.بدھ
انتقال، لیکن تھا وہ unreservedly وسییت جس شاندار Dhamma
انسانیت کے لئے اب بھی اس کے قدیم طہارت میں موجود ہے.اگرچہ بدھ
ان کی تعلیمات کا کوئی تحریری ریکارڈ چھوڑ دیا تھا، ان کے ممتاز
شاگرد یاد کرنے اور ان کی ترسیل کی طرف سے ان کو محفوظ
زبانی طور پر نسل در نسل.

      مختصر تاریخی پس منظر

 
آخری بدھ کے انتقال کے فورا بعد، 500
ممتاز Arahats پہلا بدھ مت کے طور پر جانا جاتا ایک کنونشن منعقد
بدھ کی طرف سے سکھایا اصول مشق کونسل. آدرنیی آنند،
جو بدھ کے ایک وفادار تبچر تھا اور تھا خصوصی
تمام خطبات سننے کے استحقاق بدھ کبھی پڑھی، کہے
آدرنیی Upali حالت Sutta، Vinaya، کاروائی کی تلاوت
اتحاد کے لئے طرز عمل.ایک سو سال کے بعد پہلے بدھ
کونسل، بعض شاگردوں بعض معمولی قوانین کو تبدیل کرنے کی ضرورت کو دیکھا.
قدامت پسند Bhikkus جبکہ دوسروں میں کچھ بھی نہیں تبدیل کیا جانا چاہئے انہوں نے کہا کہ
کچھ انضباطی قواعد (Vinaya) میں تبدیلی پر زور دیا. آخر میں،
بدھ مت کے مختلف سکولوں کے قیام کے ان کی کونسل کے بعد انکرت.
اور دوسری کونسل میں، Vinaya سے متعلق صرف معاملات تھے
بحث کی اور Dhamma کے بارے میں کوئی تنازعہ رپورٹ کیا گیا تھا.3rd میں
صدی ایسوی پہلے شہنشاہ اشوکا کے وقت کے دوران، تیسری کونسل تھی
اتحاد کمیونٹی کی طرف سے منعقد اختلاف کے بارے میں بات کرنے کے لئے منعقد.
اس کونسل میں اختلافات Vinaya تک محدود ہے لیکن نہیں کیا گیا
بھی Dhamma کے ساتھ منسلک کیا گیا تھا. Abhidhamma Pitaka تبادلہ خیال کیا گیا
اور اس کونسل میں شامل. سری لنکا میں منعقد کیا گیا تھا جس میں کونسل
80 ئ. پو. متقی کی سرپرستی کے 4th کونسل کے طور پر جانا جاتا ہے
بادشاہ Vattagamini Abbaya. یہ سری لنکا میں اس وقت تھا کہ
Tipitaka پہلے پالی زبان میں لکھنے کے لئے مصروف عمل کیا گیا تھا.

Sutta Pitaka بدھ طرف سے ہونے والا خطبات کے بنیادی طور پر مشتمل ہے
خود کو مختلف مواقع پر. نجات چند خطبات بھی موجود تھے
ان کے ممتاز شاگردوں میں سے کچھ (مثال کے طور Sariputta، آنند، کی طرف سے
Moggallana) اس میں شامل. یہ نسخوں کی ایک کتاب، کی طرح ہے
اس میں مجسم خطبات مختلف مواقع کے مطابق یہی تاثرات کیا گیا
اور مختلف افراد کی temperaments کے. بظاہر ہو سکتی ہے
متضاد بیانات، لیکن وہ کے طور پر غلط نہیں کیا جانا چاہئے
ٹھیک ایک خاص مقصد کے مطابق بدھ کی طرف سے کہے گئے تھے.
یہ Pitaka پانچ Nikayas یا مجموعہ، یعنی میں تقسیم کیا جاتا ہے: -

  
 Dīgha Nikāya
[dīgha:
طویل] Dīgha Nikāya طرف سے دی گئی سب سے طویل مباحث کے 34 جمع
بدھ. مختلف اشارے ان میں سے بہت دیر اضافے ہیں ہیں
اصل کارپس اور اعتراض کی صداقت کا.

Majjhima Nikāya
[majjhima:
درمیانے] Majjhima Nikāya کے بدھ کے 152 خطبات جمع
انٹرمیڈیٹ لمبائی، مختلف معاملات سے نمٹنے کے.

Saṃyutta Nikāya
[samyutta:
گروپ] Saṃyutta Nikāya کے مطابق suttas جمع ان
56 ذیلی گروپوں میں موضوع saṃyuttas کہا جاتا ہے. یہ تین سے زیادہ پر مشتمل ہے
ہزار متغیر کی لمبائی کی خطبات، لیکن عام طور پر نسبتا کم.

Aṅguttara Nikāya
[آنگ:
عنصر | اترا: additionnal] Aṅguttara Nikāya میں subdivized ہے
گیارہ ذیلی گروپوں ان میں سے ہر خطبات جمع، nipātas کہا جاتا ہے
میں سے ان لوگوں کے مقابلے میں ایک اضافی عنصر کی enumerations مشتمل
مثال nipāta. یہ عام طور پر ہیں جو suttas کے ہزاروں پر مشتمل ہے
مختصر.

Khuddaka Nikāya
[khuddha: مختصر،
گئی] Khuddhaka Nikāya مختصر نصوص چھوٹے اور سمجھا جاتا ہے
دو stratas مشتمل: Dhammapada، Udāna، Itivuttaka، Sutta Nipāta،
Theragāthā-Therīgāthā اور Jātaka قدیم طبقے کی تشکیل، جبکہ دیگر
کتابیں دیر اضافے کے ہیں اور ان کی صداقت سے زیادہ اعتراض ہے.

        پانچویں پندرہ کتابوں میں تقسیم کیا جاتا ہے: -

         Khuddaka Patha (کم سرخیوں کی شکل میں)

    Dhammapada (حق کی راہ)

      Udana (دلی اقوال یا خوشی کے Paeons)

    ITI Vuttaka (’اس طرح انہوں نے کہا کہ پدرچن)

    Sutta Nipata (پدرچن جمع)

    Vimana Vatthu (مرحوم ئل کی کہانیاں)

    پیٹا Vatthu (Petas کی کہانیاں)

       Theragatha (بھائیوں کی زبور)

      Therigatha (بہنوں کی زبور)

Jataka (پیدائش کہانیاں)

     Niddesa (زیبائش)

       Patisambhida (تجزیاتی علم)

         Apadana (اولیاء کی زندگی)

     Buddhavamsa (بدھ کی تاریخ)
   

  Cariya Pitaka (اخلاق کے طریقوں)

Dīgha Nikāya
[dīgha:
طویل] Dīgha Nikāya طرف سے دی گئی سب سے طویل مباحث کے 34 جمع
بدھ. مختلف اشارے ان میں سے بہت دیر اضافے ہیں ہیں
اصل کارپس اور اعتراض کی صداقت کا.
Sutta Piṭaka

- خطبات کی ٹوکری -
[sutta: گفتگو]
Dīgha Nikāya
DN 9 -
Poṭṭhapāda Sutta
{اقتباس}

- Poṭṭhapāda کے سوالات -

درخت

Sutta Piṭaka

- خطبات کی ٹوکری -
[sutta: گفتگو]

Sutta Piṭaka بدھ کی تعلیم کے جوہر پر مشتمل ہے
Dhamma کے بارے میں. یہ زیادہ سے زیادہ دس ہزار suttas پر مشتمل ہے. یہ ہے
Nikāyas نامی پانچ مجموعے میں تقسیم کیا گیا.

Dīgha Nikāya
     [dīgha: لانگ] Dīgha Nikāya سب سے طویل 34 جمع
     بدھ کی طرف سے دی خطبات. مختلف اشارے ہیں کہ کے بہت سے
     ان کی اصل کارپس اور اعتراض کے دیر سے اضافہ ہیں
     صداقت.

درخت Sutta Piṭaka >> Digha Nikāya

DN 9 -

Poṭṭhapāda Sutta

{اقتباس}

- Poṭṭhapāda کے سوالات -

اب، رب، خیال سب سے پہلے پیدا، اور علم کے بعد ہے، یا کرتا ہے
علم سب سے پہلے پیدا، اور خیال کے بعد؛ یا خیال اور کرتے ہیں
علم کے ساتھ ہی پیدا ہوتی ہیں؟

Potthapada،
خیال سب سے پہلے پیدا ہوتا ہے، اور علم کے بعد. اور
علم کے پیدا ہونے والے خیال کے پیدا ہونے والے کی طرف سے آتا ہے. ایک، discerns
‘یہ میرے علم پیدا ہو گئی ہے کہ اس پر انحصار میں ہے.‘ اس کے ذریعے
استدلال کی ایک لائن کے تصور سب سے پہلے پیدا ہوتا ہے کہ کس طرح کا احساس، کر سکتے ہیں اور
کے بعد علم، اور کس طرح علم کے پیدا ہونے والے پیدا ہونے والے سے آتا ہے
کے
خیال





BUDDHISM IN A NUTSHELL !


DO NO EVIL !


ALWAYS DO GOOD


BE MINDFUL !


- EASY FOR A 7 YEARS OLD BOY TO UNDERSTAND

BUT DIFFICULT FOR A 70 YEARS OLD MAN TO PRACTICE !



TIPITAKA is of 3 Baskets - 1) Basket of Discipline (Vinaya), 2) of Discourses (Sutta) & 3) of Ultimate Doctrine (Abhidhamma) Pitakas.

comments (0)