Analytic Insight Net - FREE Online Tipiṭaka Research & Practice Universitu 
in
 112 CLASSICAL LANGUAGES
Paṭisambhidā Jāla-Abaddha Paripanti Tipiṭaka Anvesanā ca Paricaya Nikhilavijjālaya ca ñātibhūta Pavatti Nissāya 
http://sarvajan.ambedkar.org anto 105 Seṭṭhaganthāyatta Bhāsā
Categories:

Archives:
Meta:
September 2013
M T W T F S S
« Aug   Oct »
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30  
09/18/13
1046 Lesson 19-09-2013 THURSDAY FREE ONLINE E-Nālanda Research and Practice UNIVERSITY thanking internet and free flow of thoughts and ideas, where this era provides a similar - or even more - liberal cultural traditions inherent in the Gupta era through http://sarvajan.ambedkar.org The original Nāland had medicine as one of its compulsory subject-Jivaka, great physician to the Buddha
Filed under: General
Posted by: site admin @ 4:59 pm

1046 Lesson 19-09-2013 THURSDAY

FREE ONLINE E-Nālanda
Research and Practice UNIVERSITY thanking internet and free flow of
thoughts and ideas, where this era provides a similar - or even more -
liberal cultural traditions inherent in the Gupta era

through http://sarvajan.ambedkar.org

The
original Nāland had medicine as one of its compulsory subject

Jivaka, great physician to the Buddha

Our allopathic friends are fond of referencing the great scientist Galen
(130-200 CE) of Pergamum, the Greek physician who advanced the practice
of medicine by integrating theory with observation and experience,
and William Harvey (1578-1657) who is credited with being the first
western in the world to accurately describe the circulatory system and
the role of the heart in pumping the blood. What of Jivaka, the great Ayurved physician to the Buddha, who lived 2550 years ago?

Jivaka was a very intelligent and hardworking student. He would
memorize his texts quickly, and worked diligently for his guru. As he
advanced in his studies, he selflessly assisted other students in their
studies.

Seven years passed when Jivaka asked his guru, “When will my schooling
be complete?” To this, the guru instructed Jivaka to carry a shovel,
and comb the entire district of Takshashila for that which could not be
used as a medicine. Diligently Jivaka searched for any substance or
herb devoid of medicinal properties. Dejected, Jivaka accomplished his
task without finding anything that could not be used as a medicine.
Certain of his failure, he returned to his guru, where he was
congratulated on successfully completing his education. Jivaka was then
provided with the means and money to return to his home in Magadha.

Jivaka ran out of money, and realized that the path ahead would be
difficult without the means to travel. Steadfast, he decided to find
out the value of his knowledge, and offered throughout the city his
services as a Vaidya of Ayurved. Upon inquiring if there was anyone in
the town needing treatment, he met a wealthy merchant whose wife had
been unwell for seven years. He approached the home of the merchant,
and told merchant’s security guard to announce to the lady of the house,
“A vaidya is here who would like to see her.”

Hesitantly, the merchant’s wife asked her security guard, “What kind
of vaidya is he?” He reported to her that he appeared to be very young.
She’d been treated by great Ayurvedic scholars, to no avail, and
didn’t trust this young stranger. To convince her of his
trustworthiness, Jivaka told her that he would ask for no payment, but
with confidence, instructed her, “When you are cured you can give me
what you see fit to give me.”

With this, she agreed to see him.

Upon examination of nadi, mala, mutra, jihva, netra, and rupa, (a
subset of the ashtavidha pariksha, or the eightfold method of patient
examination, nadi is pulse examination, mala examines the frequency,
color, and consistency of bowel movements, mutra examines the color,
frequency and sensations of the urine, jihva examines the condition of
the tongue, and rupa is examination of the patient’s body, or form,
including demeanor), Jivaka determined that the lady needed treatment
for her terrible headaches, and asked her servant to bring a quart of
ghee. He mixed in medicinal herbs and used it as a nasya, a medicated
sinus treatment (it is written by Rev Ch. Damodar Swami in the source
article that the recipe of the medicine used by Jivaka is in an ashram
in Gujarat, Babra, which would benefit other vaidyas greatly if
published). He administered this nasya into her nose and it poured out
of her mouth. As she spit it out, she saved it in a bowl. Jivaka
considered her greedy for trying to keep the ghee after it was used for
treatment.

She explained that she hailed from Madwar Village, and that she was
taught to always remain in control, humbly using every resource as a
steward, and that she intended to use the ghee to light the fires of the
home for heat and cooking. Then she reassured Jivaka, “Don’t worry, we
will pay you.”

He administered medicines, and thereby cured her 7 year complaint.
Greatly relieved of her pain, she saw fit to pay him 4000 gold coins.
Together her grandson and his wife paid Jivaka another 4000 gold coins
each, and her husband, the merchant, offered 16,000 gold coins plus one
male servant, one female servant, a horse and a palanquin.

With this, Jivaka returned home to Prince Abhysingh’s palace at
Magadha, where he handed over the entire sum to his adopted father for
raising and educating him. The prince refused the sum, and instructed
him to build his own home near the palace.

King Bimbisāra’s Cure

At this time, the king had been suffering from bleeding hemorrhoids,
which would cause his clothes to become red with blood. When the queen
began making fun of him for his condition he became humiliated, and
spoke to his son, Prince Abhysingh about his condition. Prince
Abhysingh recommended he allow Jivaka to treat him.

Jivaka gave the king medicine to put under his nails and administered
medicated ointments, curing his condition. For his treatment, the king
offered Jivaka gold ornaments. Jivaka refused payment and asked King
Bimbisāra to only remember his service to the king, saying, “I need
nothing else.”

To demonstrate his deep appreciation, King Bimbisāra gifted Jivaka a
garden full of mango trees, a palace, 100,000 gold coins, and a small
village within the district.

By this time, the king had become a devotee and sponsor of the Lord
Buddha, and proclaimed that Jivaka would become the royal physician,
serving the ladies and children of the court. He also offered the royal
physician’s services to the bhagwan Buddha and his monks. In this way,
Jivaka became physician to Lord Buddha.

The Wealthy Merchant’s Cure

Now again, during this time, a very rich merchant of Magadha had been
unwell for eight years. Not a single Ayurvedic physician had been
successful in treating him. When he came to Jivaka, Jivaka asked the
merchant, “If I cure you, what will you offer me?” His simple reply
was, “Whatever you request.” Upon examination, Jivaka proclaimed that
the merchant was to sleep on his back for 7 months, followed by 7 months
on the right and another 7 months on his left side. He performed
surgery on the wealthy merchant wherein he removed 2 large worms from
his brain.
During recovery from surgery, Jivaka told the wealthy merchant that he
would likely die within a few days, that via excision he removed worms
from his brain, and that his condition was incurable. Jivaka applied
medicated ointment to his head wound, and prescribed the aforementioned
sleeping arrangement to his patient. After only 7 days, the rich
merchant complained that he could not sleep 7 months on his back. So
Jivaka asked him to begin sleeping on his right side, and prescribed
this sleeping position for 7 months. Again after 7 days the merchant
complained, saying that sleeping on his right side every night for seven
months was impossible. Jivaka then asked him to sleep a final 7 months
on left side, and again, after 7 days the wealthy merchant reported
that this too would be impossible. Using this strategy, aware of the
merchant’s disposition, Jivaka successfully treated the merchant with a
sleeping pattern requiring 7 days on each side, resulting in complete
recovery from his surgery within 21 days.

For his treatment and miraculous recovery, the rich merchant told
Jivaka, “I am now your servant.” Jivaka requested payment of 100,000
gold coins, and another 100,000 gold coins to be given to the king. For
his life, the wealthy merchant generously granted Jivaka’s request,
paying the total sum at once.

Now at this time, Jivaka’s reputation had spread far and wide.

King Prodhyod of Ujjeni

King Prodhyod (alternatively Pradyota or Pajjota, so named for having
the same birthday as the Buddha, when the world became illumined as if
by a lamp), of the city of Ujjeni in the kingdom of Avanti, suffered
from pandu disease (pernicious anemia).5 (Some texts
interpret King Prodhyod’s condition to be a form of jaundice. See
Cannda-ppajjota in the “Dictionary of Pali Names” by G P Malalasekera
(1899-1973), which is available as printed version from “The Pali Text
Society, London”). Hearing of Jivaka’s great renown, King Prodhyod
sent his ambassador to King Bimbisāra to request the services of his
royal physician. On amicable terms, King Bimbisāra agreed, and sent
Jivaka to the city of Ujjeni, to see King Prodyod. There Jivaka
diagnosed the king and determined that the cure required medicine
prepared in ghee. It was widely known that the king detested ghee, and
so Jivaka asked the king if he’d take it.
“Anything but ghee,” was the king’s reply.

Now, let me introduce the principle of tryhath - that there are three
people whose demands one cannot refuse. These three are the king (or
rajhath), a woman, and the child. However, in the king’s condition,
Jivaka knew that he required internal oiling with ghee. So, Jivaka
thought to prepare a ghee with kashaya rasa (an astringent taste) so the
king would be unable to recognize it as ghee. Having heard of the
king’s great temper, and his great dislike for ghee, he knew this remedy
could cause the king’s passions to flare, and that he may be driven to
wrath. With deliberate foresight, Jivaka requested that the gate
through the palace walls be kept open, explaining, “As a Vaidya, I
require medicine from outside the palace walls, which the king may need
at any time.” He also requested the use of bhadravatikā, the king’s
fastest she-elephant, to travel in search of medicines. These requests
were granted without delay.

Thereafter, Jivaka administered the “astringent decoction” to the
king. As the Raja was drinking it, Jivaka ran to the elephant yard,
hastened to mount the bhadravatikā, and fled the city.

As the king digested the medicine he discovered that Jivaka had given
him ghee. “Bring Jivaka to me,” he bellowed, but his body guards
reported that he’d already left. With this, the king sent his personal
servant Kāk after Jivaka, offering a large reward for his return. Kāk
was reputed to be inhumanly swift, and could easily overtake the
bhadravatikā, and so, he caught up with Jivak in Kashi.

There Kāk told Jivaka that the king requested his presence, and
demanded that Jivaka return with him to Ujjeni. To buy himself some
time, Jivaka offered some amalaki fruit and some water after his great
sprint, which Kāk gratefully accepted, thinking it would not harm him.
Kāk ate a large serving of amlaki and drank water, whereby his heart
began to palpate slowly. Alarmed, Kāk asked Jivaka, “Will I live or
die?”
“You will be fine, and your king’s health will return, but I will not
return to the king,” Jivaka replied. “I am leaving the king’s
she-elephant with you to return to Ujjeni.”

As his heart rate slowed, Kāk felt sleepy, and at last drifted off to
sleep. Before parting ways, Jivaka reassured Kāk that he would recover
fully, and left as Kāk slept. (Other texts attribute Kāk’s delay not to
cardiac effect of the myrobalan amalaki, but to an herb or drug hidden
in Jivaka’s nail that he introduced into the myrobalan which caused Kāk
to purge violently. See Kāka the “Dictionary of Pali Names” by G P
Malalasekera (1899-1973), which is available as printed version from
“The Pali Text Society, London”. )

As Jivaka foretold, King Prodhyod was cured. To show his gratitude,
King Prodhyod sent a costly rare shawl to Jivaka. In turn, Jivaka gave
the shawl to King Bimbisāra to present to Lord Buddha. At this time,
Lord Buddha’s body was not fit. Lord Buddha revealed to his disciple
Ayushaman that he had toxins in his body, for which he wanted to take
purgation. Ayushaman Ananda called Jivaka, and Jivaka prepared medicine
for Lord Buddha, which would bring on 9 rounds of purgation, and then
administered a second medicine, to affect another 9 rounds of purgation.
As Jivaka considered, he recalled that a prophecy told that the body
of the bhagwan would have 19 rounds of purgation. Therefore, after a
bath, he delivered a final purgation to the Lord Buddha. Bhagwan knew
what Jivaka was thinking, and requested Ananda to prepare a hot bath.
After the bath the Lord Buddha completed the final round of purgation
and was cured. In his happiness, and asked Jivaka, “What do you want?”
to which Jivaka replied, “Please accept the shawl that I presented to
King Bimbisāra to give to you, and allow your disciples to discontinue
the practice of wearing discarded clothes from the rubbish heap.” Up to
this time, the monks and disciples of the Lord Buddha wore the
traditional clothing of the mendicant: discarded pieces of cloth, cut
and stitched together, and dyed in a simple earth-colored dye, simple,
serviceable kashaya-robes. When the Buddha granted Jivaka’s requests,
his monks and disciples were allowed to accept cloth offered by laymen
and townspeople with which they, to do this day, fashion their robes. 6

King Kaushleshwar Prasenjit

Another friend to King Bimbisāra was King Kaushleshwar Prasenjit.
King Prasenjit’s favorite physician was Jivaka, to whom he gave a
comforter. Again, Jivaka gave it to bhagwan Buddha, and asked that the
Buddha give permission to the disciples to also use warm comforters.

Devoted to the Buddha, it is said that he gifted the mango garden
given him by King Bimbisāra to the Buddha. Today, you can still visit
this garden, known as the Jivakambavan near Rajgir, in the state of
Bihar, India (also known as Amarvan garden).

Hindi

मूल Nāland इसकी अनिवार्य विषय के रूप में दवा की थी
Jivaka , बुद्ध के महान चिकित्सक

हमारे
एलोपैथिक मित्रों महान Pergamum के वैज्ञानिक गैलेन ( 130-200 सीई) ,
प्रेक्षण और अनुभव के साथ सिद्धांत को एकीकृत कर दवा का अभ्यास उन्नत जो
यूनानी चिकित्सक , और होने के साथ श्रेय दिया जाता है , जो विलियम हार्वे (
1578-1657 ) को संदर्भित करने के शौकीन हैं
दुनिया में पहली बार पश्चिमी सही संचार प्रणाली और रक्त पंप करने में दिल की भूमिका का वर्णन करने के लिए . Jivaka , 2550 साल पहले रहते थे, जो बुद्ध , को महान आयुर्वेद चिकित्सक का क्या ?

Jivaka एक बहुत बुद्धिमान और मेहनती छात्र था . वह जल्दी से अपने ग्रंथों याद है, और अपने गुरु के लिए लगन से काम करेंगे . वह अपनी पढ़ाई में उन्नत के रूप में, वह नि: स्वार्थ उनकी पढ़ाई में अन्य छात्रों को सहायता प्रदान की .

Jivaka अपने गुरु पूछे जाने पर सात साल बीत गए , ” जब मेरी स्कूली शिक्षा पूरी हो जाएगी ? ” इस
पर गुरु एक फावड़ा , और एक दवा के रूप में प्रयोग नहीं किया जा सकता है,
जो उसके लिए तक्षशिला की कंघी पूरे जिले ले जाने के लिए Jivaka निर्देश दिए
.
लगन Jivaka किसी भी पदार्थ या औषधीय गुणों से रहित जड़ी बूटी की खोज की. उदास , Jivaka एक दवा के रूप में प्रयोग नहीं किया जा सकता है कि कुछ भी खोजने के बिना अपने काम को पूरा किया . वह सफलतापूर्वक अपनी शिक्षा पूरी करने पर बधाई दी गई थी जहां उसकी विफलता के कुछ है, वह अपने गुरु के लिए लौट आए . Jivaka तो इसका मतलब है और मगध में अपने घर पर लौटने के लिए पैसे के साथ प्रदान किया गया.

Jivaka पैसे से बाहर भाग गया , और पथ आगे की यात्रा के लिए साधन के बिना मुश्किल होगा कि एहसास हुआ . दृढ़ , वह अपने ज्ञान की कीमत पता करने का फैसला किया , और आयुर्वेद का एक वैद्य के रूप में शहर भर में अपनी सेवाओं की पेशकश की. उपचार की जरूरत शहर में किसी को भी वहाँ था तो पूछताछ करने पर, वह किसकी पत्नी सात साल से बीमार थे एक धनी व्यापारी से मुलाकात की. उन्होंने
कहा कि व्यापारी के घर का दरवाजा खटखटाया , और घर की महिला को घोषणा करते
हुए व्यापारी के सुरक्षा गार्ड से कहा , “एक वैद्य उसे देखना चाहते हैं जो
यहाँ है . “

हिचहिचाकर , व्यापारी की पत्नी ” वैद्य की किस तरह वह है ? ” , उसके सुरक्षा गार्ड से पूछा उन्होंने कहा कि वह बहुत युवा होना को दिखाई दिया है कि उसे करने के लिए सूचना दी. वह कोई फायदा नहीं हुआ , महान आयुर्वेदिक विद्वानों द्वारा इलाज किया गया था , और इस युवा अजनबी पर भरोसा नहीं था . उसकी
विश्वसनीयता के उसे समझाने के लिए, Jivaka वह कोई भुगतान के लिए पूछना
होगा कि उसे बताया , लेकिन विश्वास के साथ , उसे निर्देश दिए ” आप ठीक हो
जाता है जब आप आप मुझे देने के लिए फिट देख क्या मुझे दे सकते हैं . “

इस के साथ, वह उसे देखने के लिए तैयार हो गए.

नदी
, माला , mutra , jihva , नेत्र , और रूपा , ( ashtavidha परीक्षा , या
रोगी परीक्षा के Eightfold विधि का एक सबसेट की परीक्षा पर, नाड़ी नाड़ी
परीक्षा है , माला , आवृत्ति , रंग , और मल त्याग की स्थिरता की जाँच
mutra
रंग , आवृत्ति और मूत्र की उत्तेजना परख होती है , jihva जीभ की हालत परख
होती है , और रूपा रोगी के शरीर , या आचरण सहित फार्म , ) की परीक्षा है ,
Jivaka महिला उसे भयानक सिर दर्द के लिए इलाज की जरूरत है , और कहा कि
निर्धारित
उसके नौकर घी की एक चौथाई गेलन लाने के लिए . उन्होंने
औषधीय जड़ी बूटियों में मिलाया और एक nasya , एक औषधीय साइनस उपचार ( यह
Jivaka द्वारा इस्तेमाल किया दवा का नुस्खा गुजरात , Babra में एक आश्रम
में है कि स्रोत लेख में रेव चौधरी . दामोदर स्वामी ने लिखा है , के रूप
में यह प्रयोग किया है जो होगा
प्रकाशित बहुत अगर अन्य vaidyas ) लाभ . वह उसकी नाक में इस nasya दिलाई और यह उसके मुँह से बाहर फेंक दिया . वह उसे थूक के रूप में, वह एक कटोरा में इसे बचाया . Jivaka इसे उपचार के लिए इस्तेमाल किया गया था के बाद घी रखने की कोशिश कर के लिए उसे लालची माना .

उसने
कहा कि वह Madwar गांव के रहनेवाले थे कि बताया गया है, और वह हमेशा
विनम्रतापूर्वक एक प्रबंधक के रूप में हर संसाधन का उपयोग करते हुए
नियंत्रण में रहने के लिए सिखाया गया था , और वह गर्मी और खाना पकाने के
लिए घर की आग प्रकाश में घी का उपयोग करने का इरादा है .
फिर वह , Jivaka आश्वस्त “चिंता मत करो , हम आपको भुगतान करना होगा . “

उन्होंने कहा कि दवाओं प्रशासित , और इस तरह उसे 7 साल शिकायत ठीक हो . बहुत उसे दर्द से राहत मिली , वह उसे 4000 सोने के सिक्कों का भुगतान करने के लिए फिट देखा . साथ
में उसके पोते और एक और 4000 सोने के सिक्कों प्रत्येक , और उसके पति ,
व्यापारी Jivaka भुगतान उसकी पत्नी , 16000 सोने के सिक्कों के अलावा एक
पुरुष दास , एक दासी , एक घोड़ा और एक पालकी की पेशकश की.

इस
के साथ, Jivaka वह ऊपर उठाने और उसे शिक्षित करने के लिए अपने दत्तक पिता
को पूरी राशि सौंप दिया जहां मगध , पर राजकुमार Abhysingh के महल को घर लौट
आए .
राजकुमार राशि से इनकार कर दिया , और महल के पास अपने खुद के घर का निर्माण करने के लिए उसे निर्देश दिए .
राजा बिम्बिसार का इलाज

इस समय, राजा ने अपने कपड़े खून से लाल बनने के लिए पैदा होता है, जो खून बह रहा बवासीर से पीड़ित कर दिया गया था . रानी
ने अपनी हालत के लिए उसका मजाक बनाने लगे जब वह अपमानित हो गया , और उसकी
हालत के बारे में अपने बेटे , राजकुमार Abhysingh से बात की.
प्रिंस Abhysingh वह Jivaka उसे इलाज के लिए अनुमति की सिफारिश की.

Jivaka उसकी हालत इलाज , अपने नाखून और प्रशासित औषधीय मलहम के नीचे डाल करने के लिए राजा दवा दे दी . उसके इलाज के लिए, राजा Jivaka सोने के गहने की पेशकश की. Jivaka
भुगतान से इनकार कर दिया और केवल राजा से उनकी सेवा को याद करने के लिए
राजा बिम्बिसार कहा , कह रही है, ” मैं और कुछ नहीं की जरूरत है. “

उसकी
गहरी प्रशंसा, राजा बिम्बिसार प्रतिभाशाली Jivaka आम के पेड़ , एक महल ,
100,000 सोने के सिक्के, और जिले के भीतर एक छोटे से गांव से भरा बगीचा
प्रदर्शित करने के लिए .

इस
समय तक, राजा भगवान बुद्ध की एक भक्त और प्रायोजक बन गया है, और Jivaka
अदालत की महिलाओं और बच्चों की सेवा , शाही चिकित्सक बनने की घोषणा की थी .
उन्होंने यह भी भगवान बुद्ध और उनके भिक्षुओं को शाही चिकित्सक की सेवाओं की पेशकश की. इस तरह, Jivaka भगवान बुद्ध को चिकित्सक बन गया.
अमीर व्यापारी का इलाज

अब फिर से इस समय के दौरान , मगध की एक बहुत अमीर व्यापारी आठ साल से बीमार थे . एक भी आयुर्वेदिक चिकित्सक उसका इलाज करने में सफल हो गया था . वह Jivaka के लिए आया था , Jivaka ” मैं आप का इलाज है, तुम मुझे क्या पेशकश करेगा ? ” , व्यापारी पूछा उनका सरल जवाब ‘ निवेदन है कि आप जो भी हो. ” था परीक्षा
पर, Jivaka व्यापारी सही पर 7 महीने और उसकी बाईं ओर एक और 7 महीनों के
बाद 7 महीने के लिए उसकी पीठ पर सोने के लिए गया था की घोषणा की .
वह अपने दिमाग से 2 बड़े कीड़े निकाल दिया जिसमें उन्होंने कहा कि धनी व्यापारी पर शल्य चिकित्सा की. सर्जरी
से वसूली के दौरान, Jivaka छांटना के माध्यम से वह अपने दिमाग से कीड़े
निकाल दिया , और उसकी हालत लाइलाज था कि कि , संभावना है कि वह कुछ दिनों
के भीतर मर जाते हैं कि धनी व्यापारी बताया .
Jivaka उसके सिर के घाव को औषधीय मरहम लागू किया , और अपने मरीज के लिए ऊपर उल्लिखित नींद की व्यवस्था निर्धारित की . केवल 7 दिनों के बाद, अमीर व्यापारी वह उसकी पीठ पर 7 महीने सो नहीं सका कि शिकायत की. तो Jivaka उसकी सही पक्ष पर सो रही शुरू करने के लिए उस से पूछा , और 7 महीने के लिए यह नींद की स्थिति निर्धारित . फिर 7 दिनों के बाद व्यापारी सात महीने के लिए हर रात उसकी सही पक्ष पर सो असंभव था कह रही है कि शिकायत की. Jivaka तो बाईं ओर एक अंतिम 7 महीने सोने के लिए उस से पूछा , और फिर , 7 दिनों के बाद धनी व्यापारी यह भी असंभव होगा कि सूचना दी. व्यापारी
के स्वभाव के बारे में पता इस रणनीति का प्रयोग, Jivaka सफलतापूर्वक 21
दिनों के भीतर उनकी सर्जरी से पूरी तरह ठीक होने में जिसके परिणामस्वरूप ,
प्रत्येक पक्ष पर 7 दिनों की आवश्यकता होती है एक नींद पैटर्न के साथ
व्यापारी का इलाज किया.

उसके इलाज और चमत्कारी वसूली के लिए, अमीर व्यापारी ” अब मैं तेरा दास हूं . ” , Jivaka बताया Jivaka 100,000 सोने के सिक्कों के भुगतान का अनुरोध किया है, और एक और 100,000 सोने के सिक्के राजा को दिया जाएगा . अपने जीवन के लिए, धनी व्यापारी उदारता से एक ही बार में कुल राशि का भुगतान , Jivaka के अनुरोध को मान लिया .

अब इस समय , Jivaka की प्रतिष्ठा दूर है और व्यापक फैल गया था .
Ujjeni के राजा Prodhyod

पांडु
रोग ( सांघातिक एनीमिया) से पीड़ित अवंती के राज्य में Ujjeni के शहर के
राजा Prodhyod ( दुनिया के रूप में एक दीपक से अगर प्रकाशित हो गया है तो
जब बुद्ध के रूप में एक ही जन्मदिन होने के लिए नामित वैकल्पिक Pradyota या
Pajjota , , ) , ,
.5
(कुछ ग्रंथों पीलिया का एक रूप हो राजा Prodhyod की हालत व्याख्या . पाली
पाठ सोसायटी ” से मुद्रित संस्करण के रूप में उपलब्ध है जो जीपी
Malalasekera ( 1899-1973 ) द्वारा ” पाली नाम का शब्दकोश ” में Cannda -
ppajjota देखें ,
लंदन “) . Jivaka
के महान यश की सुनवाई , राजा Prodhyod अपने शाही चिकित्सक की सेवाओं का
अनुरोध करने के लिए राजा बिम्बिसार को अपने राजदूत को भेजा .
सौहार्दपूर्ण शर्तों पर , राजा बिम्बिसार सहमत हुए , और राजा Prodyod को देखने के लिए , Ujjeni के शहर Jivaka भेजा . Jivaka वहाँ राजा का निदान और इलाज के लिए आवश्यक दवा घी में तैयार निर्धारित की. यह व्यापक रूप से वह इसे ले लेनी चाहिए अगर राजा घृणास्पद घी , और इसलिए Jivaka राजा से पूछा कि नाम से जाना जाता था . “कुछ भी लेकिन घी , ” राजा का जवाब था.

अब, मुझे tryhath के सिद्धांत का परिचय - जिसका मांगों को एक से मना नहीं कर सकते तीन लोग कर रहे हैं . ये तीन राजा ( या rajhath ) , एक औरत और बच्चे हैं . हालांकि, राजा की हालत में , Jivaka वह घी के साथ आंतरिक तेल लगाने की आवश्यकता है कि पता था . तो, Jivaka राजा घी के रूप में पहचान करने में असमर्थ होगा तो kashaya रस ( एक कसैले स्वाद ) के साथ एक घी तैयार करने के लिए सोचा . राजा
के महान गुस्सा , और घी के लिए अपने महान नापसंद के बारे में सुना है, वह
यह उपाय भड़क राजा की भावनाएं पैदा कर सकता है पता था , और वह क्रोध के लिए
प्रेरित किया जा सकता है .
जानबूझकर
दूरदर्शिता के साथ, Jivaka , समझा , महल की दीवारों के माध्यम से फाटक
खुला रखा जाना अनुरोध किया है कि ” एक वैद्य के रूप में, मैं राजा किसी भी
समय की आवश्यकता हो सकती है, जो महल की दीवारों के बाहर से दवा की आवश्यकता
होती है . ”
उन्होंने यह भी bhadravatikā के उपयोग का अनुरोध , राजा की सबसे तेजी से वह हाथी , दवाओं की खोज में यात्रा करने के लिए . इन अनुरोधों देरी के बिना प्रदान किया गया.

इसके बाद, Jivaka राजा को ” कसैले काढ़े ” दिलाई . राजा इसे पीने गया था, Jivaka , हाथी यार्ड के लिए दौड़ा bhadravatikā माउंट करने के लिए तेजी से , और शहर छोड़कर भाग गए .

राजा दवा पच रूप में वह Jivaka उसे घी दिया था की खोज की . ” मेरे लिए Jivaka ले आओ , ” वह bellowed , लेकिन उसके शरीर गार्ड वह पहले से ही छोड़ दिया था कि सूचना दी. इसके साथ ही राजा ने अपनी वापसी के लिए एक बड़ा इनाम की पेशकश , Jivaka के बाद अपने निजी नौकर काक भेजा . काक
पाशविकता से तेजी से प्रतिष्ठित किया गया था , और आसानी से bhadravatikā
आगे निकल सकता है , और इसलिए , वह काशी में Jivak के साथ पकड़ा .

वहाँ राजा अपनी उपस्थिति का अनुरोध किया कि Jivaka बताया , और Ujjeni को उसके साथ कि Jivaka वापसी की मांग काक . खुद
को कुछ समय खरीदने के लिए , Jivaka यह उसे नुकसान नहीं होगा , यह सोच काक
कृतज्ञता स्वीकार किए जाते हैं जो अपने महान स्प्रिंट , के बाद कुछ amalaki
फल और कुछ पानी की पेशकश की.
काक amlaki की एक बड़ी सेवारत खा लिया और उसके दिल धीरे टटोलना करने लगे , जिससे पानी पिया . चिंतित , काक ” मैं जीना या मर जाएगा? ” , Jivaka पूछा “आप ठीक हो जाएगा , और अपने राजा के स्वास्थ्य वापस आ जाएगी , लेकिन मैं राजा के पास नहीं जाएगी , ” Jivaka उत्तर दिया. ” मैं Ujjeni पर लौटने के लिए आप के साथ राजा की वह हाथी छोड़ रहा हूँ . “

उसके हृदय की दर को धीमा के रूप में, काक नींद महसूस किया , और अंत में सोने के लिए बंद हो गए . बिदाई तरीके से पहले, Jivaka वह पूरी तरह से ठीक होगा कि काक आश्वस्त , और काक सोया के रूप में छोड़ दिया है. (
अन्य ग्रंथों नहीं हरड़ amalaki के हृदय प्रभाव के लिए , लेकिन वह काक
हिंसक शुद्ध करने के कारण होता है जो आंवला में पेश किया कि Jivaka के
नाखून में छिपा एक जड़ी बूटी या दवा के लिए काक की देरी विशेषता. जीपी
Malalasekera द्वारा काका ” पाली नाम का शब्दकोश ” देखें
(1899-1973) , जो ” पाली पाठ सोसायटी , लंदन ” से मुद्रित संस्करण के रूप में उपलब्ध है . )

Jivaka पहले से ही बताया के रूप में, राजा Prodhyod ठीक हो गया था . अपनी कृतज्ञता दिखाने के लिए, राजा Prodhyod Jivaka के लिए एक महंगा दुर्लभ शाल भेजा . बदले में, Jivaka भगवान बुद्ध को पेश करने के लिए राजा बिम्बिसार को शाल दे दी है . इस समय, भगवान बुद्ध के शरीर फिट नहीं था . भगवान बुद्ध वह विरेचन ले जाना चाहते थे , जिसके लिए उसके शरीर में जहर था कि उनके शिष्य Ayushaman को पता चला . Ayushaman
आनंद Jivaka कहा जाता है , और Jivaka विरेचन की एक और 9 दौर को प्रभावित
करने के लिए , एक दूसरे दवा दिलाई तो विरेचन के 9 राउंड पर लाना होगा , जो
भगवान बुद्ध के लिए दवा तैयार की है, और .
Jivaka माना के रूप में, वह एक भविष्यवाणी भगवान का शरीर विरेचन के 19 राउंड होगा कि बताया कि चर्चा की. इसलिए, एक स्नान के बाद , वह भगवान बुद्ध के लिए एक अंतिम विरेचन दिया. भगवान Jivaka सोच रहा था क्या पता था , और एक गर्म स्नान तैयार करने के लिए आनंद का अनुरोध किया. स्नान के बाद भगवान बुद्ध विरेचन के अंतिम दौर पूरा कर लिया है और ठीक हो गया था . उसकी खुशी में, और Jivaka पूछा , ” तुम क्या चाहते हो? ” Jivaka
जवाब दिया, जो करने के लिए , ” मैं आप को देने के लिए राजा बिम्बिसार के
समक्ष प्रस्तुत किया है कि शॉल स्वीकार करें , और अपने चेलों को बकवास ढेर
से खारिज कपड़े पहनने की प्रथा को बंद करने की अनुमति देते हैं. ”
कपड़े
का त्याग टुकड़े , कटौती और एक साथ सिले , और एक सरल पृथ्वी के रंग डाई ,
सरल , उपयोगी kashaya हैं वस्त्र में रंगे : इस समय के लिए , भगवान बुद्ध
की भिक्षुओं और चेलों भिक्षुक के पारंपरिक कपड़े पहने.
बुद्ध
दी Jivaka के अनुरोध , अपने भिक्षुओं और चेलों laymen के और वे इस दिन
करने के लिए जो के साथ नगरवासी , फैशन उनके वस्त्रा द्वारा की पेशकश कपड़ा
स्वीकार करने के लिए अनुमति दी गई है.
6
राजा Kaushleshwar प्रसेनजीत

राजा बिम्बिसार के लिए एक और दोस्त राजा Kaushleshwar प्रसेनजीत था . राजा प्रसेनजीत की पसंदीदा चिकित्सक वह एक दिलासा दे दी है जिसे करने के लिए , Jivaka था . फिर, Jivaka भगवान बुद्ध को दे दिया , और बुद्ध भी गर्म रजाई का उपयोग करने के चेलों के लिए अनुमति देने के लिए कहा .

बुद्ध को समर्पित है, यह वह बुद्ध के राजा बिम्बिसार द्वारा उसे दिए गए आम के बगीचे उपहार में कहा जाता है कि . आज,
तुम अभी भी बिहार , भारत ( भी Amarvan उद्यान के रूप में जाना जाता है) के
राज्य में , राजगीर के पास Jivakambavan के रूप में जाना जाता है इस बगीचे
, यात्रा कर सकते हैं .

Marathi

मूळ Nāland त्याच्या अनिवार्य विषय एक औषध होते
Jivaka , बुद्ध छान फिजीशियन

आमच्या
allopathic मित्र महान Pergamum च्या शास्त्रज्ञ Galen ( 130-200 सीई ) ,
निरीक्षण आणि अनुभव सिद्धांत एकत्रित करून औषध सराव प्रगती कोण ग्रीक
फिजीशियन, आणि जात श्रेय आहे विल्यम हार्वे ( 1578-1657 ) संदर्भामधे च्या
प्रेमळ आहेत
जगातील पहिल्या पाश्चात्य अचूकपणे रक्ताभिसरण प्रणाली आणि रक्त उपसण्याची मध्ये हृदय भूमिका वर्णन . Jivaka , 2550 वर्षांपूर्वी वास्तव्य करणार्या बुद्ध , छान आयुर्वेद वैद्य काय ?

Jivaka एक अतिशय बुद्धिमान आणि hardworking विद्यार्थी होते . त्याने त्वरीत त्याच्या लक्षात पाठाचे , आणि त्याच्या गुरु साठी diligently काम आहे. तो अभ्यास प्रगत , तो selflessly त्यांच्या अभ्यास इतर विद्यार्थ्यांना मदत .

Jivaka त्याच्या गुरू विचारले तेव्हा सात वर्षे पास , ” माझ्या शालेय पूर्ण होईल ? ” हे
करण्यासाठी , गुरू एक फावडे , आणि औषध म्हणून वापरले जाऊ शकत नाही जे साठी
Takshashila च्या कंगवा संपूर्ण जिल्ह्यात सोबत ठेवण्यास Jivaka सुचित .
Diligently Jivaka कोणताही पदार्थ किंवा औषधी गुणधर्म च्या रिकामा औषधी वनस्पती शोधले . हताश , Jivaka औषध म्हणून वापरले जाऊ शकत नाही की काहीही न करता शोधत त्याच्या कार्य साधले . त्यांनी यशस्वीरित्या शिक्षण पूर्ण गुढीपाडवा होते त्याच्या अपयशाच्या विशिष्ट, त्याने गुरू परत . Jivaka नंतर याचा Magadha मध्ये त्याच्या घरी परत पैसे देण्यात आले .

Jivaka पैसा संपली , व मार्ग पुढे प्रवास करणे म्हणजे न कठीण होईल realized . निश्चल , त्याला ज्ञान मूल्य शोधून निर्णय घेतला आणि आयुर्वेद एक वैद्य म्हणून शहर संपूर्ण त्याच्या सेवा देऊ . उपचार लागण्याचे शहरातील मधील कोणीही होता चौकस आधारावर, त्याने ज्याची पत्नी सात वर्षे आजारी होता एक मातब्बर व्यापारी भेटले . तो
व्यापारी होम approached , आणि घराच्या महिला करण्यासाठी घोषणा व्यापारी
सुरक्षा गार्ड सांगितले , ” एक वैद्य तिच्या पाहू इच्छित कोण येथे आहे . “

अनिश्चितपणे , व्यापारी च्या पत्नी ” वैद्य कोणत्या प्रकारच्या तो आहे ? ” , तिच्या सुरक्षा गार्ड विचारले तो खूप लहान असल्याचे दिसून आले तिच्या नोंदविले गेले. तिने सन्मान , ग्रेट आयुर्वेदिक विद्वान करून उपचार केले साधायचा , आणि हे तरुण तिर्हाईत विश्वास नाही . त्याच्या
trustworthiness तिला खात्री करण्यासाठी , Jivaka त्याने कोणतेही देयक
करीता विचारू की तिला सांगितले , परंतु विश्वासाने , तिच्या सुचित ” आपण
बरे होतात तेव्हा आपल्याला आपण मला देणे फिट दिसणारे मला देऊ शकता . “

हा तो पाहण्यासाठी मान्य .

Nadi
, गाल , mutra , jihva , netra , आणि rupa , ( ashtavidha pariksha ,
किंवा रुग्ण तपासणी च्या eightfold पद्धत एक उपसंच च्या तपासणी केल्यानंतर
Nadi नाडी परीक्षा आहे , गाल , वारंवारता , रंग , आणि आतड्याची हालचाल
सुसंगतता विश्लेषण
mutra
रंग , वारंवारता आणि मूत्र च्या sensations विश्लेषण , jihva तोंडी स्थिती
विश्लेषण , आणि rupa रुग्णाचे शरीर , किंवा वर्तणूक समावेश फॉर्म ) च्या
परीक्षा आहे , Jivaka महिला तिच्या भयंकर डोकेदुखी उपचार गरज , आणि विचारले
की निर्धारित
तिच्या नोकर तूप एक दोन पाइंट किंवा अंदाजे 14 लिटर आणण्यासाठी . त्यांनी
औषधी herbs मिसळून आणि एक nasya , एक औषधी नाकाशी संबंधित अशी कवटीतील
पोकळी उपचार ( तो Jivaka द्वारे वापरले औषध पाककृती गुजरात , Babra एक
आश्रम आहे स्रोत लेखातील रेव CH . दामोदर स्वामी यांनी लिहिले आहे , म्हणून
वापरले जे होते
प्रकाशित मोठ्या मानाने तर इतर vaidyas ) लाभ होतो. तिच्या नाक हा nasya पाहिली आणि ती तिच्या तोंडातून बाहेर poured . ती बाहेर थुंकणे म्हणून तिने एक वाडगा मध्ये तो जतन केला . Jivaka ते उपचार वापरले होता तूप ठेवण्यासाठी प्रयत्न तिला हावरट मानले .

तिने
Madwar गावचे की स्पष्ट , आणि ती नेहमी पदर एक कारभारी दिवाण म्हणून
प्रत्येक संसाधन वापरून , नियंत्रण राहू शिकवले होते , आणि ती उष्णता आणि
स्वयंपाक साठी घरात fires पाजळणे तूप वापर उद्देशाने की .
मग ती , Jivaka reassured ” काळजी करू नका , आम्ही तुम्हाला भरेल. “

तो औषधे प्रशासन , अपरिहार्य आहे आणि तिच्या 7 वर्ष तक्रार पूर्णपणे ठीक . मोठ्या मानाने तिच्या वेदना च्या relieved तो 4000 सुवर्ण नाणी अदा फिट पाहिले . एकत्र
तिच्या नातू आणि अन्य 4000 सुवर्ण नाणी प्रत्येक , आणि तिचे पती ,
व्यापारी Jivaka अदा त्यांच्या पत्नी 16,000 सुवर्ण नाणी प्लस एक नर सेवक,
एक महिला सेवक, एक घोडा आणि एक पालखी देऊ .

हा
, Jivaka तो बदलता आणि त्याला प्रशिक्षित त्याची दत्तक वडिलांना संपूर्ण
रक्कम सुपूर्द जेथे Magadha , येथे प्रिन्स Abhysingh च्या राजवाड्यात
मुख्यपृष्ठ परत .
प्रिन्स सम नकार दिला , आणि राजवाड्यात जवळ त्याच्या स्वत: च्या घरी तयार करण्यासाठी त्याला सुचित .
राजा Bimbisāra च्या बरा

यावेळी, राजा त्याच्या कपडे रक्त लाल होण्यास कारणीभूत जे रक्तस्त्राव मूळव्याध , पासून ग्रस्त होते . राणी
त्याची अट साठी त्याला मजा बनवून सुरुवात केली तेव्हा तो अपमान झाले , आणि
त्याच्या अट बद्दल मुलगा प्रिन्स Abhysingh करण्यासाठी मुलगे .
प्रिन्स Abhysingh तो Jivaka त्याला उपचार करण्यासाठी अनुमती शिफारस केली आहे.

Jivaka त्याच्या अट curing , त्याच्या nails व प्रशासन औषधी ointments अंतर्गत ठेवणे राजा औषध दिले . त्याच्या उपचारांसाठी , राजा Jivaka सोने दागिने देऊ . Jivaka देयक नकार दिला आणि फक्त राजा त्याच्या सेवा लक्षात राजा Bimbisāra विचारले , म्हणाला ” मला दुसरे काहीच आवश्यकता आहे. “

त्याच्या
खोल कौतुक , राजा Bimbisāra प्रतिभासंपन्न Jivaka आंबा , झाडं , एक महाल ,
100,000 सुवर्ण नाणी , आणि जिल्हा आत एक लहान खेडे पूर्ण एक बाग ठेवावी .

यावेळी
करून, राजा भगवान बुद्ध भक्त आणि प्रायोजक बनू , आणि Jivaka न्यायालयाच्या
स्त्रिया व मुले देणार्या , रॉयल फिजीशियन बनेल की proclaimed होती .
त्यांनी भगवान बुद्ध आणि त्याचा संतांनी अक्षरांच्या रॉयल फिजीशियन सेवा देऊ . अशा प्रकारे Jivaka भगवान बुद्ध करण्यासाठी फिजीशियन बनले .
वर्गीय व्यापारी च्या बरा

आता पुन्हा , यावेळी दरम्यान , Magadha एक अत्यंत श्रीमंत व्यापारी आठ वर्षे आजारी होता . नाही एकच आयुर्वेदिक वैद्य त्याला उपचारांसाठी मध्ये नमूद केले होते . तो Jivaka आले तेव्हा Jivaka ” मी बरा असल्यास , आपण मला काय करेल ? ” , व्यापारी विचारले साध्या उत्तर ” आपण विनंती कशीही . ” होते तपासणी
केल्यानंतर Jivaka व्यापारी उजवीकडे 7 महिने आणि त्याच्या डाव्या बाजूला
दुसर्या 7 महिने त्यानंतर 7 महिने , त्याच्या मागे झोपणे होता proclaimed .
त्याच्या मेंदू पासून 2 मोठे वर्म्स काढले ज्यात त्याने मातब्बर व्यापारी रोजी शस्त्रक्रिया करण्यात . शस्त्रक्रिया
पुनर्प्राप्ती दरम्यान , Jivaka छेदण मार्गे तो मेंदू पासून वर्म्स काढला
आणि त्याच्या स्थिती असाध्य रोगाने पछाडलेली होती की , त्याने कदाचित काही
दिवसांत मरतात असे मातब्बर व्यापारी सांगितले .
Jivaka डोकं जखमेच्या करण्यासाठी औषधी मलम लागू केली , आणि त्याच्या रुग्णाला वरील झोपण्याच्या व्यवस्था निर्धारित . फक्त 7 दिवसांनी, श्रीमंत व्यापारी तो परत वर 7 महिने झोपणे नाही तक्रारी . त्यामुळे Jivaka त्याच्या उजव्या बाजूच्या झोपलेला सुरू करण्यासाठी त्याला विचारले , आणि 7 महिने हा झोपलेला स्थान निर्धारित . पुन्हा 7 दिवसांनी व्यापारी सात महिने दर रात्री त्याच्या उजव्या बाजूला झोपलेला अशक्य असे सांगणारे , तक्रारी . Jivaka डावीकडे एक अंतिम 7 महिने निजणे त्याला विचारले , आणि पुन्हा , 7 दिवसांनी वर्गीय व्यापारी हे खूप अशक्य असते नोंदवले . व्यापारी
च्या प्रवृत्ती जागृत रहा हे धोरण , वापरून, Jivaka यशस्वीरित्या 21
दिवसांच्या आत त्याच्या शस्त्रक्रिया पासून पूर्ण पुनर्प्राप्ती परिणामी ,
प्रत्येक बाजूला 7 दिवस आवश्यक एक झोपलेला नमुना सह व्यापारी मानले .

त्याच्या उपचार आणि अदभुत वसुली , श्रीमंत व्यापारी ” मी आता आपल्या सेवक आहे . ” Jivaka सांगितले Jivaka 100,000 सुवर्ण नाणी भरणा विनंती केली , आणि दुसर्या 100,000 सुवर्ण नाणी राजा देण्यात येईल . त्याच्या जीवनासाठी , वर्गीय व्यापारी उदार हस्ते एकाच वेळी एकूण रक्कम देवून , Jivaka च्या विनंती मंजूर.

आता या वेळी , Jivaka दुखावणे दूरवर पसरली होती .
Ujjeni राजा Prodhyod

Pandu
रोग ( अपायकारक अशक्तपणा ) पासून ग्रस्त Avanti राज्य मध्ये Ujjeni शहर
राजा Prodhyod (जगातील म्हणून एक दिवा द्वारे तर illumined बनले तेव्हा
त्यामुळे बुद्ध समान वाढदिवस केल्याबद्दल नावाच्या वैकल्पिकरित्या Pradyota
किंवा Pajjota , , ) ,
.5
( काही पाठाचे कावीळ एक प्रकार असल्याचे राजा Prodhyod ची अट स्पष्टीकरण
करणे . पाली मजकूर सोसायटी ” पासून मुद्रित आवृत्ती उपलब्ध आहे ग्रॅमी
Malalasekera ( 1899-1973 ) , करून ” पाली नावांची शब्दकोश ” मध्ये Cannda -
ppajjota पहा ,
लंडन ” ) . Jivaka च्या महान कीर्ती सुनावणी , राजा Prodhyod त्याच्या रॉयल फिजीशियन सेवा विनंती राजा Bimbisāra त्याच्या राजदूत पाठवले . मैत्रीपूर्ण आणि शांत अटींवर , राजा Bimbisāra मान्य , आणि राजा Prodyod पाहण्यासाठी , Ujjeni शहर करण्यासाठी Jivaka पाठविले . Jivaka तेथे राजा निदान आणि बरा आवश्यक औषध तूप तयार निर्धारित . सर्रासपणे तो घेऊ इच्छित असल्यास राजा detested तूप , आणि त्यामुळे Jivaka राजा विचारले की ओळखले होते . ” काहीही पण तूप , ” राजा चे प्रत्युत्तर होते .

आता , मला tryhath तत्त्व परिचय करून द्या - ज्यांच्या मागण्या एक नकार शकत तीन लोक आहेत . या तीन राजा ( किंवा rajhath ) , एक स्त्री व बाल आहेत . तथापि , राजा च्या स्थितीत , Jivaka तो तूप सह अंतर्गत oiling आवश्यक त्या होता. त्यामुळे Jivaka राजा तूप म्हणून ओळखण्यास अक्षम होईल जेणेकरून kashaya rasa ( एक तुरट चव ) एक तूप तयार होते . राजा
च्या महान स्वभाव , आणि तूप त्यांच्या महान नापसंती ऐकले केल्यामुळे
त्यांना हे उपाय भडकणे करण्यासाठी राजा च्या आवडी होऊ शकते माहीत , आणि तो
wrath चेंडू जाऊ शकतात .
हेतुपुरस्सर
दूरदृष्टी सह, Jivaka , समजावून , राजवाड्यात भिंती माध्यमातून गेट उघडा
ठेवता विनंती केली ” एक वैद्य म्हणून , मी राजा कधीही गरज शकतो ,
राजवाड्यात भिंती बाहेरून औषध आवश्यक आहे. ”
त्यांनी bhadravatikā वापर करण्याची विनंती केली , राजा सर्वात वेगाने ती - हत्ती , औषधे शोधात प्रवास . अशा विनंत्या विलंब न करता मंजूर होते .

त्यानंतर Jivaka राजा करण्यासाठी ” तुरट decoction ” पाहिली . राजा
तो पिण्याच्या आला , Jivaka , हत्ती यार्ड करण्यासाठी संपली bhadravatikā
आरोहित करण्यासाठी hastened , आणि शहर फ्ली या शब्दाचे भूतकाळ .

राजा औषध पचणे म्हणून तो Jivaka त्याला तूप दिली की शोधली. ” मला Jivaka आणा , ” तो bellowed , पण त्याच्या शरीरात रक्षक त्याने आधीच बाकी इच्छिता नोंदवले . हा , राजा परतल्यावर एक मोठे बक्षीस देऊ Jivaka नंतर त्याच्या वैयक्तिक सेवक Kāk पाठविले . Kāk
inhumanly स्विफ्ट असल्याचे प्रतिष्ठित होता , आणि सहज bhadravatikā गाठणे
शकते , आणि म्हणून त्यांनी काशी मध्ये Jivak सह अप झेल .

तेथे राजा त्याच्या उपस्थिती विनंती Jivaka सांगितले , आणि Ujjeni त्याला त्या Jivaka परतावा मागणी Kāk . स्वतःला
काही वेळ खरेदी करण्यासाठी , Jivaka तो त्याला इजा नाही विचार , Kāk
कृतज्ञतापूर्वक स्वीकार जे त्याच्या महान Sprint , नंतर काही amalaki फळे
आणि काही पाणी देऊ .
Kāk
amlaki मोठ्या सेवा करणारा खाल्ले आणि त्याचे हृदय हळूहळू स्पर्श व दाव
यांच्या साहाय्याने परीक्षा करणे सुरुवात केली ज्यायोगे , पाणी drank .
तोंडचे , Kāk ” मी राहतात किंवा मरतात ? ” , Jivaka विचारले ” आपण शुल्क आकारले जाईल , आणि आपल्या राजा आरोग्य देईल , पण राजा परत करणार नाही , ” Jivaka उत्तर दिले . ” मी Ujjeni परत आपल्यासह राजा च्या ती - हत्ती सोडत आहे . “

त्याचे हृदय दर slowed म्हणून Kāk निवांत वाटले , आणि शेवटी निजणे बंद drifted . मार्ग वियोग करण्यापूर्वी, Jivaka तो पूर्णपणे वसूल होईल Kāk reassured , आणि Kāk स्लिप चे भू.का. रुप म्हणून बाकी . (
इतर पाठाचे नाही myrobalan amalaki च्या ह्रदयाचा प्रभाव करण्यासाठी , पण
Kāk बळजबरीने कोठा साफ करण्यासाठी झाल्याने कोणत्या myrobalan मध्ये ओळख की
Jivaka च्या नखे लपवलेले एक औषधी वनस्पती किंवा ड्रग करण्यासाठी Kāk च्या
विलंब गुणधर्म . ग्रॅमी Malalasekera द्वारे काका ” पाली नावांची शब्दकोश ”
पहा
(1899-1973) , जे ” पाली मजकूर सोसायटी , लंडन ” पासून मुद्रित आवृत्ती उपलब्ध आहे . )

Jivaka foretold म्हणून , राजा Prodhyod बरे होते . त्याच्या कृतज्ञता दाखवण्यासाठी, राजा Prodhyod Jivaka एक महाग दुर्मिळ शाल पाठविले . यामधून Jivaka भगवान बुद्ध करण्यासाठी सादर करण्यासाठी राजा Bimbisāra करण्यासाठी शाल दिली . यावेळी, भगवान बुद्ध चे शरीर तंदुरुस्त नाही . भगवान बुद्ध तो विरेचन घेणे होती ज्यासाठी , त्याच्या शरीरात toxins होते की त्याचे शिष्य Ayushaman प्रकट केला . Ayushaman
Ananda Jivaka म्हणतात , आणि Jivaka विरेचन आणखी 9 फेरी विस्कळीत , दुसरी
औषध प्रशासन नंतर विरेचन 9 फेरी वर आणण्यासाठी कोणते , भगवान बुद्ध औषध
तयार , आणि .
Jivaka मानले , तो एक भाकीत भगवान शरीर विरेचन 19 फेरी आहेत असे सांगितले की recalled . म्हणून, एक स्नान केल्यानंतर , तो प्रभु बुद्ध एक अंतिम विरेचन दिले. भगवान Jivaka विचार होता काय माहीत , आणि गरम बाथ तयार Ananda विनंती . अंघोळ केल्यानंतर भगवान बुद्ध विरेचन अंतिम फेरी पूर्ण आणि त्यांना बरे होते . त्याचा आनंद मध्ये , आणि Jivaka विचारले , ” तुम्ही काय करू इच्छिता? ” Jivaka
उत्तर दिले ज्यात , ” मी तुम्हाला देण्यासाठी राजा Bimbisāra सादर की शाल
स्वीकार करा , आणि आपले शिष्य वटवट ढीग पासून टाकून कपडे परिधान च्या सराव
खंडित करण्याची परवानगी देते . ”
वस्त्राने
टाकून तुकडे , कट आणि एकत्र stitched , आणि साधी पृथ्वीवर रंगाचे रंगवणे ,
साधे, उपयोगी पडणारे kashaya - robes मध्ये dyed : या वेळी , भगवान बुद्ध
यांच्या संतांनी अक्षरांच्या आणि शिष्य याचक पारंपरिक कपडे व्हीयर चे
भू.का. रूप .
बुद्ध
मंजूर Jivaka च्या विनंत्या , त्याच्या संतांनी अक्षरांच्या आणि शिष्य
laymen आणि ते , या दिवशी करावे जे शहरवासी लोक , फॅशन त्यांच्या robes देऊ
कापड स्वीकारण्यास परवानगी होते .
6
राजा Kaushleshwar Prasenjit

राजा Bimbisāra दुसरी मित्र राजा Kaushleshwar Prasenjit होते . राजा Prasenjit च्या आवडत्या फिजीशियन तो एक लोकरीचा गळपट्टा दिला , ज्यांना , Jivaka होते . पुन्हा , Jivaka भगवान बुद्ध ला दिला , आणि बुद्ध देखील उबदार comforters वापरण्यासाठी शिष्य परवानगी देण्याची विचारले .

बुद्ध करण्यासाठी एकनिष्ठ , तो बुद्ध करण्यासाठी राजा Bimbisāra करून त्याला दिले आंबा बाग प्रतिभासंपन्न आहे . आज
आपण अद्याप बिहार , भारत ( देखील Amarvan बाग म्हणून ओळखले जाते)
राज्यातील , Rajgir जवळ Jivakambavan म्हणून ओळखले हे गार्डन, भेट देऊ
शकता.

Kannada


ಮೂಲ Nāland ಅದರ ಕಡ್ಡಾಯ ವಿಷಯದ ಒಂದು ಔಷಧ ಹಂತ
Jivaka , ಬುದ್ಧನ ಮಹಾನ್ ವೈದ್ಯ

ನಮ್ಮ
ವ್ಯತಿರಿಕ್ತ ಚಿಕಿತ್ಸೆಯ ಸ್ನೇಹಿತರು ಮಹಾನ್ Pergamum ಆಫ್ ವಿಜ್ಞಾನಿ ಗ್ಯಾಲೆನ್ (
130-200 CE ) , ವೀಕ್ಷಣೆ ಮತ್ತು ಅನುಭವಗಳನ್ನು ಸಿದ್ಧಾಂತ ಸಂಯೋಜಿಸುವ ಮೂಲಕ ದಿ
ಪ್ರ್ಯಾಕ್ಟೀಸ್ ಆಫ್ ಮೆಡಿಸಿನ್ ಮುಂದುವರೆದರು ಯಾರು ಗ್ರೀಕ್ ವೈದ್ಯ , ಮತ್ತು
ಹಿರಿಮೆಗೆ ಪಾತ್ರನಾಗಿದ್ದಾನೆ ವಿಲಿಯಂ ಹಾರ್ವೆ ( 1578-1657 ) ಗುರುತಿಸಲಾಗುತ್ತಿದೆ
ಆಫ್ ಇಷ್ಟಪಟ್ಟಿದ್ದರು ಇವೆ
ವಿಶ್ವದ ಮೊದಲ ಪಶ್ಚಿಮ ನಿಖರವಾಗಿ ರಕ್ತಪರಿಚಲನಾ ವ್ಯವಸ್ಥೆ ಮತ್ತು ರಕ್ತ ಪಂಪ್ ಹೃದಯದಲ್ಲಿ ಪಾತ್ರ ವಿವರಿಸಲು . Jivaka , 2550 ವರ್ಷಗಳ ಹಿಂದೆ ಜೀವಿಸಿದ್ದ ಬುದ್ಧ , ಹೆಚ್ಚಿನ ಆಯುರ್ವೇದ ವೈದ್ಯ ಯಾವ ?

Jivaka ಬಹಳ ಬುದ್ಧಿವಂತ ಮತ್ತು hardworking ವಿದ್ಯಾರ್ಥಿಯಾಗಿದ್ದ . ಅವರು ತಕ್ಷಣವೇ ತಮ್ಮ ಗ್ರಂಥಗಳಲ್ಲಿ ಕಂಠಪಾಠ , ಮತ್ತು ತನ್ನ ಗುರು ಶ್ರದ್ಧೆಯಿಂದ ಕೆಲಸ ಎಂದು . ತನ್ನ ಅಧ್ಯಯನಗಳಲ್ಲಿ ಹೋಯಿತು , ಅವರು ನಿಃಸ್ವಾರ್ಥವಾಗಿ ತಮ್ಮ ಅಧ್ಯಯನಗಳು ಇತರ ವಿದ್ಯಾರ್ಥಿಗಳು ನೆರವಾಗುತ್ತಾರೆ .

Jivaka ತನ್ನ ಗುರು ಕೇಳಿದಾಗ ಏಳು ವರ್ಷಗಳ ಜಾರಿಗೆ , ” ನನ್ನ ಶಾಲಾ ಸಂಪೂರ್ಣ ಇರುತ್ತದೆ ? ” ಇದಕ್ಕೆ , ಗುರು ಒಂದು ಸಲಿಕೆ ಮತ್ತು ಔಷಧಿಯಾಗಿ ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ ಇದು ಆ ತಕ್ಷಶಿಲ ಆಫ್ ಬಾಚಣಿಗೆ ಇಡೀ ಜಿಲ್ಲೆಯ ಸಾಗಿಸಲು Jivaka ಸೂಚನೆ . ಶ್ರದ್ಧೆಯಿಂದ Jivaka ಯಾವುದೇ ವಸ್ತುವಿನ ಅಥವಾ ಔಷಧೀಯ ಗುಣಗಳನ್ನು ರಹಿತ ಸಸ್ಯ ಹುಡುಕುತ್ತದೆ . ನಿರುತ್ಸಾಹದ , Jivaka ಔಷಧಿಯಾಗಿ ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ ಎಂದು ಏನು ಕಂಡು ಇಲ್ಲದೆ ತಮ್ಮ ಕಾರ್ಯ ಸಾಧಿಸಿದ್ದಾರೆ. ಅವರು ಯಶಸ್ವಿಯಾಗಿ ತಮ್ಮ ಶಿಕ್ಷಣ ಮುಗಿದ ಮೇಲೆ ಅಭಿನಂದಿಸಿದರು ಅಲ್ಲಿ ತನ್ನ ವೈಫಲ್ಯದ ಕೆಲವು , ಅವರು , ತಮ್ಮ ಗುರು ಮರಳಿದರು . Jivaka ನಂತರ ಸಾಧನವಾಗಿ ಮತ್ತು ಮಗಧ ತನ್ನ ಮನೆಗೆ ಹಿಂದಿರುಗಲು ಹಣ ಒದಗಿಸಲಾಯಿತು .

Jivaka ಹಣ ಮೀರಿದ್ದ , ಮತ್ತು ಪಥವನ್ನು ಮುಂದೆ ಸಾಗಲು ಮಾಧ್ಯಮಗಳನ್ನು ಇಲ್ಲದೆ ಕಷ್ಟ ಎಂಬುದನ್ನು ಅರಿತುಕೊಂಡರು . ಸ್ಥಿರ
, ತಮ್ಮ ಜ್ಞಾನ ಮೌಲ್ಯವನ್ನು ಕಂಡುಹಿಡಿಯಲು ನಿರ್ಧರಿಸಿದರು , ಮತ್ತು ಆಯುರ್ವೇದ ಒಂದು
ವೈದ್ಯ ಮಾಹಿತಿ ನಗರದಾದ್ಯಂತ ತನ್ನ ಸೇವೆಗಳನ್ನು ನೀಡಿತು .
ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಬಯಸುವ ಪಟ್ಟಣ ಯಾರಿಗಾದರೂ ಎಂದು inquiring ನಂತರ , ಅವರು ಈತನ ಪತ್ನಿ ಏಳು ವರ್ಷಗಳ ಅಸ್ವಸ್ಥ ಎಂದು ಒಂದು ಶ್ರೀಮಂತ ವ್ಯಾಪಾರಿ ಭೇಟಿಯಾದರು . ಅವರು
ವ್ಯಾಪಾರಿಯ ಮನೆಯ ಹತ್ತಿರ , ಮತ್ತು ಮನೆಯ ಮಹಿಳೆಯೊಂದಿಗೆ ಘೋಷಿಸಲು ವ್ಯಾಪಾರಿ
ಭದ್ರತಾ ಸಿಬ್ಬಂದಿ ಹೇಳಿದರು , ” ಒಂದು ವೈದ್ಯ ತನ್ನ ನೋಡಲು ಬಯಸುವ ಇಲ್ಲಿದೆ . “

ಅರೆಮನಸ್ಸಿನಿಂದ , ವ್ಯಾಪಾರಿ ಪತ್ನಿ ” ವೈದ್ಯ ಯಾವ ರೀತಿಯ ಅವನು ? ” , ತನ್ನ ಭದ್ರತಾ ಸಿಬ್ಬಂದಿ ಕೇಳಿದಾಗ ಅವರು ಚಿಕ್ಕ ಕಾಣುವುದರಿಂದ ತನ್ನ ವರದಿಯಾಗಿದೆ . ಅವರು ಯಾವುದೇ ಪ್ರಯೋಜನವಾಗಲಿಲ್ಲ , ಮಹಾನ್ ಆಯುರ್ವೇದ ವಿದ್ವಾಂಸರು ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ‘d , ಮತ್ತು ಈ ಯುವ ಅಪರಿಚಿತ ನಂಬಲಿಲ್ಲ . ತನ್ನ
ನಂಬಲರ್ಹವಾಗಿರುವಿಕೆ ಅವರ ಮನವೊಲಿಸಲು , Jivaka ಅವರು ಯಾವುದೇ ಪಾವತಿ ಕೇಳಬಹುದು
ಎಂದು ಹೇಳಿದನು , ಆದರೆ ಆತ್ಮವಿಶ್ವಾಸದಿಂದ , ತನ್ನ ಸೂಚನೆ ” ನೀವು ಸಂಸ್ಕರಿಸಿದ
ನಂತರ ನೀವು ನನ್ನನ್ನು ನೀಡಲು ಸರಿಹೊಂದದ ನೋಡಿದರು ನನಗೆ ನೀಡಬಹುದು . “

ಇದರೊಂದಿಗೆ , ಅವರು ಅವನನ್ನು ನೋಡಲು ಒಪ್ಪಿಕೊಂಡರು .

Nadi
, ಮಾಲಾ , mutra , jihva , ನೇತ್ರ ಮತ್ತು ರೂಪಾ , ( ashtavidha pariksha ,
ಅಥವಾ ರೋಗಿಯ ಪರೀಕ್ಷೆ ಎಂಟರಷ್ಟು ವಿಧಾನದ ಒಂದು ಉಪವರ್ಗದ ಪರೀಕ್ಷೆ ನಂತರ , Nadi
ನಾಡಿ ಪರೀಕ್ಷೆ ಆಗಿದೆ , ಮಾಲಾ , ತರಂಗಾಂತರ , ಬಣ್ಣ , ಮತ್ತು ಕರುಳಿನ ಚಲನೆಗಳು
ಸ್ಥಿರತೆ ಪರಿಶೀಲಿಸುತ್ತದೆ
mutra
ಬಣ್ಣ , ಆವರ್ತನ ಮತ್ತು ಮೂತ್ರದ ಸಂವೇದನೆಗಳ ಪರಿಶೀಲಿಸುತ್ತದೆ , jihva ಭಾಷೆ
ಪರಿಸ್ಥಿತಿ ಪರಿಶೀಲಿಸುತ್ತದೆ , ಮತ್ತು ರೂಪಾ ರೋಗಿಯ ದೇಹದ , ಅಥವಾ ನಡತೆ
ಸೇರಿದಂತೆ ರೂಪ ) ಪರೀಕ್ಷೆ ಆಗಿದೆ , Jivaka ಮಹಿಳೆ ತನ್ನ ಭಯಾನಕ ತಲೆನೋವು
ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಅಗತ್ಯವಿದೆ , ಮತ್ತು ಕೇಳಿದರು ಎಂದು ನಿರ್ಧರಿಸುತ್ತದೆ
ತನ್ನ ಸೇವಕ ತುಪ್ಪ ಒಂದು ಕಾಲುಭಾಗ ತರಲು . ಅವರು
ಔಷಧೀಯ ಮೂಲಿಕೆಗಳು ರಲ್ಲಿ ಮಿಶ್ರಣ ಮತ್ತು ಒಂದು nasya , ಒಂದು ಔಷಧೀಯ ಸೈನಸ್
ಟ್ರೀಟ್ಮೆಂಟ್ ( ಇದು Jivaka ಬಳಸಿದ ಔಷಧದ ಪಾಕವಿಧಾನ ಗುಜರಾತ್ , Babra ರಲ್ಲಿ
ಆಶ್ರಮದಲ್ಲಿ ಎಂದು ಮೂಲ ಲೇಖನದಲ್ಲಿ ರೆವ್ ಚ . ದಾಮೋದರ್ ಸ್ವಾಮಿ ಬರೆದ ಇದೆ ,
ಇದನ್ನು ಬಳಸಿದ ಎಂದು
ಪ್ರಕಟಿಸಿದ ಹೆಚ್ಚು ವೇಳೆ ಇತರ vaidyas ) ಲಾಭ . ಅವರು ತನ್ನ ಮೂಗು ಈ nasya ಆಡಳಿತ ಮತ್ತು ಇದು ತನ್ನ ಬಾಯಿಯ ಔಟ್ ಸುರಿದ . ತಾನು ಔಟ್ ಭೂಶಿರ ಮಾಹಿತಿ , ಅವರು ಒಂದು ಬಟ್ಟಲಿನಲ್ಲಿ ಇದು ಉಳಿಸಲಾಗಿದೆ . Jivaka ಇದು ಚಿಕಿತ್ಸೆಗೆ ಬಳಸಲಾಯಿತು ನಂತರ ತುಪ್ಪ ಇರಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು ಪ್ರಯತ್ನಿಸಿದ್ದಕ್ಕಾಗಿ ತಮ್ಮ ಉತ್ಸಾಹವುಳ್ಳ ಪರಿಗಣಿಸಲಾಗಿದೆ .

ಅವಳು
Madwar ಹಳ್ಳಿಯಿಂದ ಹೆಗ್ಗಳಿಕೆಗೆ ವಿವರಿಸಿದರು , ಮತ್ತು ಅವರು ಯಾವಾಗಲೂ ನಮ್ರತೆಯಿಂದ
ಒಂದು ವಾಣಿ ಪ್ರತಿ ಸಂಪನ್ಮೂಲ ಬಳಸಿ , ನಿಯಂತ್ರಣ ಉಳಿಯಲು ಕಲಿತರು ಎಂದು , ಮತ್ತು
ಅವರು ಶಾಖ ಮತ್ತು ಅಡುಗೆ ಮನೆಯ ಬೆಂಕಿ ಬೆಳಕಿಗೆ ತುಪ್ಪ ಬಳಸಲು ಉದ್ದೇಶ ಎಂದು .
ನಂತರ ಅವರು , Jivaka ಪದೇ ” ಚಿಂತಿಸಬೇಡಿ , ನಾವು ನೀವು ಹಣ . “

ಅವರು ಔಷಧಿಗಳ ಆಡಳಿತ , ಮತ್ತು ಆ ಮೂಲಕ ತನ್ನ 7 ವರ್ಷದ ದೂರು ಸಂಸ್ಕರಿಸಿದ . ಹೆಚ್ಚು ತನ್ನ ನೋವಿನ ಬಿಡುಗಡೆ , ಅವಳು 4000 ಚಿನ್ನದ ನಾಣ್ಯಗಳನ್ನು ಪಾವತಿಸಲು ಸರಿಹೊಂದದ ಕಂಡಿತು . ಒಟ್ಟಿಗೆ
ತನ್ನ ಮೊಮ್ಮಗ ಮತ್ತು ಇನ್ನೊಂದು 4000 ಚಿನ್ನದ ನಾಣ್ಯಗಳನ್ನು ಪ್ರತಿ , ಮತ್ತು ಅವಳ
ಪತಿ , ವ್ಯಾಪಾರಿ Jivaka ಹಣ ಅವರ ಪತ್ನಿ , 16,000 ಚಿನ್ನದ ನಾಣ್ಯಗಳು ಮತ್ತು ಒಂದು
ಸೇವಕ , ಒಂದು ಸ್ತ್ರೀ ಸೇವಕ , ಒಂದು ಕುದುರೆ ಮತ್ತು ಒಂದು ಪಲ್ಲಕ್ಕಿಯಲ್ಲಿ
ನೀಡಿತು .

ಇದರೊಂದಿಗೆ
, Jivaka ಅವರು ಏರಿಸುವಿಕೆ ಮತ್ತು ಅವರಿಗೆ ಕಲಿಸುವ ತನ್ನ ದತ್ತು ತಂದೆಗೆ ಸಂಪೂರ್ಣ
ಮೊತ್ತವು ಹಸ್ತಾಂತರಿಸಿದರು ಅಲ್ಲಿ ಮಗಧ , ನಲ್ಲಿ ಪ್ರಿನ್ಸ್ Abhysingh ತಂದೆಯ
ಅರಮನೆಗೆ ವಾಪಾಸಾದನು .
ರಾಜಕುಮಾರ ಮೊತ್ತವು ನಿರಾಕರಿಸಿದರು , ಮತ್ತು ಅರಮನೆಯ ಬಳಿ ತನ್ನ ಸ್ವಂತ ಮನೆಯಲ್ಲಿ ನಿರ್ಮಿಸಲು ಅವರಿಗೆ ಸೂಚನೆ .
ರಾಜ ಬಿಂಬಿಸಾರರ ತಂದೆಯ ಕ್ಯೂರ್

ಈ ಸಮಯದಲ್ಲಿ , ರಾಜ ತನ್ನ ಬಟ್ಟೆಗಳನ್ನು ರಕ್ತದೊಂದಿಗೆ ಕೆಂಪು ಆಗಲು ಕಾರಣವಾಗುವ ರಕ್ತಸ್ರಾವ ಮೂಲವ್ಯಾಧಿ , ಬಳಲುತ್ತಿರುವ ಮಾಡಲಾಗಿತ್ತು . ರಾಣಿ
ತಮ್ಮ ಸ್ಥಿತಿಯನ್ನು ಅವರಿಗೆ ಆಫ್ ಮೋಜು ಮಾಡುವ ಆರಂಭಿಸಿದಾಗ ಅವರು ಅವಮಾನ ಹಾಗೂ ಅವರ
ಆರೋಗ್ಯದ ಬಗ್ಗೆ ಅವರ ಮಗ ಪ್ರಿನ್ಸ್ Abhysingh ಮಾತನಾಡಿದರು .
ಪ್ರಿನ್ಸ್ Abhysingh ಅವರು Jivaka ಅವರನ್ನು ಚಿಕಿತ್ಸೆಗೆ ಅವಕಾಶ ಶಿಫಾರಸು .

Jivaka ತನ್ನ ಸ್ಥಿತಿಯನ್ನು ಗುಣಪಡಿಸುವ , ತನ್ನ ಉಗುರುಗಳು ಮತ್ತು ಆಡಳಿತ ಔಷಧೀಕೃತ ಮುಲಾಮುಗಳನ್ನು ಅಡಿಯಲ್ಲಿ ಹಾಕಲು ರಾಜ ಔಷಧ ನೀಡಿದರು . ತನ್ನ ಚಿಕಿತ್ಸೆಗಾಗಿ , ರಾಜ Jivaka ಚಿನ್ನದ ಆಭರಣಗಳ ನೀಡಿತು . Jivaka ಪಾವತಿ ನಿರಾಕರಿಸಿದ ಮತ್ತು ಕೇವಲ ರಾಜ ತನ್ನ ಸೇವೆ ನೆನಪಿಡುವ ರಾಜ ಬಿಂಬಿಸಾರರ ಕೇಳಿದಾಗ , ಹೇಳಿದರು ” ನಾನು ಬೇರೆ ಏನೂ ಅಗತ್ಯವಿಲ್ಲ . “

ತನ್ನ
ಆಳವಾದ ಮೆಚ್ಚುಗೆ , ರಾಜ ಬಿಂಬಿಸಾರರ ಪ್ರತಿಭಾನ್ವಿತ Jivaka ಮಾವಿನ ಮರಗಳು , ಒಂದು
ಅರಮನೆಯ , 100,000 ಚಿನ್ನದ ನಾಣ್ಯಗಳು ಮತ್ತು ಜಿಲ್ಲೆಯ ಒಳಗೆ ಒಂದು ಸಣ್ಣ ಹಳ್ಳಿಯ
ಪೂರ್ಣ ಒಂದು ಉದ್ಯಾನ ಪ್ರದರ್ಶಿಸಬೇಕು .


ವೇಳೆಗೆ , ರಾಜ ಭಗವಾನ್ ಬುದ್ಧನ ಒಂದು ಭಕ್ತ ಮತ್ತು ಪ್ರಾಯೋಜಕ ಆಗಲು ಮತ್ತು
Jivaka ನ್ಯಾಯಾಲಯದ ಮಹಿಳೆಯರ ಮತ್ತು ಮಕ್ಕಳ ಸೇವೆ , ರಾಯಲ್ ವೈದ್ಯ ಆಗಲು ಎಂದು
ಪ್ರಕಟಿಸಿದರು .
ಅವರು ಭಗವಾನ್ ಬುದ್ಧ ಮತ್ತು ಅವರ ಸನ್ಯಾಸಿಗಳು ರಾಜ ವೈದ್ಯರ ಸೇವೆಗಳು ನೀಡಿತು . ಈ ರೀತಿಯಲ್ಲಿ , Jivaka ಲಾರ್ಡ್ ಬುದ್ಧ ವೈದ್ಯರು ಆಯಿತು .
ಶ್ರೀಮಂತ ವ್ಯಾಪಾರಿ ತಂದೆಯ ಕ್ಯೂರ್

ಈಗ ಮತ್ತೆ , ಈ ಸಮಯದಲ್ಲಿ , ಮಗಧ ಒಂದು ಅತ್ಯಂತ ಶ್ರೀಮಂತ ವ್ಯಾಪಾರಿ ಎಂಟು ವರ್ಷಗಳ ಅಸ್ವಸ್ಥ ಎಂದು . ಒಂದೇ ಒಂದು ಆಯುರ್ವೇದಿಕ್ ​​ವೈದ್ಯ ಅವರನ್ನು ಚಿಕಿತ್ಸೆಯಲ್ಲಿ ಯಶಸ್ವಿಯಾದ . ಅವರು Jivaka ಬಂದಾಗ , Jivaka ” ನಾನು ನೀವು ಗುಣಪಡಿಸಲು , ನೀವು ನನಗೆ ಏನು ನೀಡುತ್ತದೆ ? ” , ವ್ಯಾಪಾರಿ ಕೇಳಿದಾಗ ಅವರ ಸರಳ ಉತ್ತರ ” ನೀವು ಮನವಿ ಇರಲಿ . ” , ಆಗಿತ್ತು ಪರೀಕ್ಷೆ
ನಂತರ , Jivaka ವ್ಯಾಪಾರಿ ಬಲಭಾಗದಲ್ಲಿ 7 ತಿಂಗಳುಗಳ ಮತ್ತು ಅವರ ಎಡಭಾಗದಲ್ಲಿ
ಮತ್ತೊಂದು 7 ತಿಂಗಳ ನಂತರ 7 ತಿಂಗಳುಗಳ ಕಾಲ ಬೆನ್ನಿನಲ್ಲಿ ನಿದ್ರೆ ಎಂದು
ಘೋಷಿಸಿದರು .
ತಮ್ಮ ಮೆದುಳಿನಿಂದ 2 ದೊಡ್ಡ ಹುಳುಗಳು ತೆಗೆದು ಅಲ್ಲಿ ಅವರು ಶ್ರೀಮಂತ ವ್ಯಾಪಾರಿ ಮೇಲೆ ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸೆ . ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸೆಯಿಂದ
ಚೇತರಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು ಸಮಯದಲ್ಲಿ , Jivaka ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸಾ ಮೂಲಕ ತಮ್ಮ ಮೆದುಳಿನಿಂದ
ಹುಳುಗಳು ತೆಗೆದು , ಮತ್ತು ತನ್ನ ಸ್ಥಿತಿಯನ್ನು ಗುಣಪಡಿಸಲಾಗದೆಂದಾಗ ಎಂದು ಎಂದು ,
ಅವರು ಸಾಧ್ಯತೆ ಕೆಲವೇ ದಿನಗಳಲ್ಲಿ ಸಾಯುತ್ತವೆ ಎಂದು ಶ್ರೀಮಂತ ವ್ಯಾಪಾರಿ ಹೇಳಿದರು .
Jivaka ತಲೆಯನ್ನು ಗಾಯಕ್ಕೆ ಔಷಧೀಕೃತ ಮುಲಾಮು ಅನ್ವಯಿಸುತ್ತದೆ , ಮತ್ತು ತನ್ನ ರೋಗಿಗೆ ಸೂಚಿತ ಮಲಗುವ ವ್ಯವಸ್ಥೆ ಶಿಫಾರಸು . ಕೇವಲ 7 ದಿನಗಳ ನಂತರ , ಶ್ರೀಮಂತ ವ್ಯಾಪಾರಿ ಅವರು ಬೆನ್ನಿನಲ್ಲಿ 7 ತಿಂಗಳ ನಿದ್ರೆ ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ ಎಂದು ದೂರಿದರು . ಆದ್ದರಿಂದ Jivaka ತನ್ನ ಬಲಭಾಗದಲ್ಲಿ ನಿದ್ದೆ ಪ್ರಾರಂಭಿಸಲು ಕೇಳಿಕೊಂಡರು , ಮತ್ತು 7 ತಿಂಗಳು ಈ ನಿದ್ರಿಸುವ ಭಂಗಿಯಲ್ಲಿ ಶಿಫಾರಸು . ಮತ್ತೆ 7 ದಿನಗಳ ನಂತರ ವ್ಯಾಪಾರಿ ಏಳು ತಿಂಗಳು ಪ್ರತಿ ರಾತ್ರಿ ತನ್ನ ಬಲಭಾಗದಲ್ಲಿ ನಿದ್ದೆ ಅಸಾಧ್ಯ ಎಂದು ಆರೋಪಿಸಿದರು . Jivaka
ನಂತರ ಎಡಬದಿಯಲ್ಲಿ ಒಂದು ಅಂತಿಮ 7 ತಿಂಗಳ ನಿದ್ರೆ ಕೇಳಿದರು , ಮತ್ತು ಮತ್ತೆ , 7
ದಿನಗಳ ನಂತರ ಶ್ರೀಮಂತ ವ್ಯಾಪಾರಿ ಈ ಬಹಳ ಅಸಾಧ್ಯ ಎಂದು ವರದಿ .
ವ್ಯಾಪಾರಿಯ
ಮನೋಧರ್ಮದ ಬಗ್ಗೆ ಈ ತಂತ್ರ ಬಳಸಿ , Jivaka ಯಶಸ್ವಿಯಾಗಿ 21 ದಿನಗಳಲ್ಲಿ ತನ್ನ
ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸೆಯಿಂದ ಸಂಪೂರ್ಣ ಚೇತರಿಕೆ ಪರಿಣಾಮವಾಗಿ , ಪ್ರತಿ ಬದಿಯಲ್ಲಿ 7 ದಿನಗಳ
ಅಗತ್ಯವಿದ್ದ ನಿದ್ದೆ ಮಾದರಿಯ ವ್ಯಾಪಾರಿ ಚಿಕಿತ್ಸೆ .

ಅವರ ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಮತ್ತು ಪವಾಡದ ಹಿಂಪಡೆಯುವಂತೆ , ಶ್ರೀಮಂತ ವ್ಯಾಪಾರಿ ” ನಾನು ಈಗ ನಿಮ್ಮ ಸೇವಕ ನಾನು . ” , Jivaka ಹೇಳಿದರು Jivaka 100,000 ಚಿನ್ನದ ನಾಣ್ಯಗಳ ಪಾವತಿ ವಿನಂತಿಸಿದ , ಮತ್ತು ಇನ್ನೊಂದು 100,000 ಚಿನ್ನದ ನಾಣ್ಯಗಳನ್ನು ರಾಜನಿಗೆ ನೀಡಬೇಕಾಗುತ್ತದೆ . ತನ್ನ ಜೀವಕ್ಕೆ , ಶ್ರೀಮಂತ ವ್ಯಾಪಾರಿ ಉದಾರವಾಗಿ ಒಮ್ಮೆಗೇ ಒಟ್ಟು ಮೊತ್ತ ಪಾವತಿ , Jivaka ಕೋರಿಕೆಯ ಮಂಜೂರು .

ಈ ಸಮಯದಲ್ಲಿ , Jivaka ಖ್ಯಾತಿಗೆ ದೂರದ ಮತ್ತು ವ್ಯಾಪಕ ಹರಡಿತ್ತು .
Ujjeni ರಾಜ Prodhyod

ಪಾಂಡು
ರೋಗ ( ಹಾನಿಕಾರಕ ರಕ್ತಹೀನತೆ ) ಬಳಲುತ್ತಿದ್ದರು ಆವಂತಿಯ ಕಿಂಗ್ಡಮ್ನಲ್ಲಿ Ujjeni
ನಗರದ ಕಿಂಗ್ Prodhyod ( ವಿಶ್ವದ ಒಂದು ದೀಪ ಮೂಲಕ ವೇಳೆ ಪ್ರಕಾಶಿತ
ಕರೆಸಿಕೊಂಡಿತು ಆದ್ದರಿಂದ ಬುದ್ಧ ಅದೇ ಹುಟ್ಟುಹಬ್ಬದ ಹೊಂದಿರುವ ಹೆಸರಿನ
ಪರ್ಯಾಯವಾಗಿ Pradyota ಅಥವಾ Pajjota , ) , ,
.5
( ಕೆಲವು ಪಠ್ಯಗಳು ಕಾಮಾಲೆ ಒಂದು ರೂಪ ಎಂದು ಕಿಂಗ್ Prodhyod ದೇಹಸ್ಥಿತಿ
ಅರ್ಥೈಸುತ್ತಾರೆ. ಪಾಲಿ ಪಠ್ಯ ಸೊಸೈಟಿ ” ಮುದ್ರಿತ ಆವೃತ್ತಿ ಲಭ್ಯವಿದೆ ಇದು GP
Malalasekera ( 1899-1973 ) , ಅದಕ್ಕೆ ” ಪಾಲಿ ನೇಮ್ಸ್ ಡಿಕ್ಷನರಿ ” ರಲ್ಲಿ
Cannda - ppajjota ನೋಡಿ ,
ಲಂಡನ್ ” ) . Jivaka
ಶ್ರೇಷ್ಠ ಪ್ರಖ್ಯಾತಿಯನ್ನು ಆಫ್ ಹಿಯರಿಂಗ್ , ಕಿಂಗ್ Prodhyod ತನ್ನ ರಾಜ ವೈದ್ಯರ
ಸೇವೆಗಳು ವಿನಂತಿಸಲು ರಾಜ ಬಿಂಬಿಸಾರರ ತನ್ನ ರಾಯಭಾರಿ ಕಳುಹಿಸಲಾಗಿದೆ .
ಸೌಹಾರ್ದಯುತ ಪದಗಳು ರಂದು , ರಾಜ ಬಿಂಬಿಸಾರರ ಒಪ್ಪಿಕೊಂಡರು , ಮತ್ತು ಕಿಂಗ್ Prodyod ನೋಡಲು , Ujjeni ನಗರವನ್ನು Jivaka ಕಳುಹಿಸಲಾಗಿದೆ . Jivaka ಅಲ್ಲಿ ರಾಜ ರೋಗನಿರ್ಣಯ ಮತ್ತು ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಅಗತ್ಯ ಔಷಧ ತುಪ್ಪದಿಂದ ತಯಾರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಎಂದು ನಿರ್ಧರಿಸುತ್ತದೆ . ಇದು ವ್ಯಾಪಕವಾಗಿ ಅವರು ನುಡಿದರು ವೇಳೆ ರಾಜ ತಿರಸ್ಕರಿಸಿದರು ತುಪ್ಪ , ಮತ್ತು ಆದ್ದರಿಂದ Jivaka ರಾಜ ಕೇಳಿದಾಗ ಎಂದು ಕರೆಯಲಾಗುತ್ತಿತ್ತು . ” ಏನು ಆದರೆ ತುಪ್ಪ , ” ರಾಜನ ಪ್ರತ್ಯುತ್ತರವಾಗಿತ್ತು .

ಈಗ , ನನಗೆ tryhath ತತ್ವ ಪರಿಚಯಿಸಲು ಅವಕಾಶ - ಅವರ ಬೇಡಿಕೆಗಳನ್ನು ಒಂದು ತಿರಸ್ಕರಿಸಬಹುದು ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ ಮೂರು ಜನ ಎಂದು . ಈ ಮೂರು ರಾಜ ( ಅಥವಾ rajhath ) , ಒಂದು ಮಹಿಳೆ , ಮತ್ತು ಮಕ್ಕಳ ಇವೆ . ಆದಾಗ್ಯೂ , ರಾಜನ ಸ್ಥಿತಿಯಲ್ಲಿ , Jivaka ಅವರು ತುಪ್ಪ ಜೊತೆ ಆಂತರಿಕ ತೈಲ ಲೇಪಿಸುವಿಕೆ ಅಗತ್ಯವಿದೆ ಗೊತ್ತಿತ್ತು . ಆದ್ದರಿಂದ
, Jivaka ರಾಜ ತುಪ್ಪ ಎಂದು ಗುರುತಿಸಲು ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ ಎಂದು ಆದ್ದರಿಂದ kashaya ರಸ (
ಒಂದು ಸಂಕೋಚಕ ರುಚಿ ) ಜೊತೆ ತುಪ್ಪ ತಯಾರು ಭಾವಿಸಲಾಗಿದೆ .
ರಾಜನ
ಶ್ರೇಷ್ಠ ಉದ್ವೇಗವನ್ನು , ಮತ್ತು ತುಪ್ಪ ತನ್ನ ಮಹಾನ್ ಅಸಮ್ಮತಿಯನ್ನು ಕೇಳಿಬಂತು
ಅವರು ಈ ಪರಿಹಾರ ಇನ್ನೂ ರಾಜನ ಭಾವೋದ್ರೇಕಗಳನ್ನು ಉಂಟುಮಾಡಬಹುದು ತಿಳಿದಿದ್ದರು
ಮತ್ತು ಅವರು ಕ್ರೋಧಕ್ಕೆ ನಡೆಸುತ್ತಿದೆ ಎಂದು .
ಉದ್ದೇಶಪೂರ್ವಕ
ದೂರದೃಷ್ಟಿ ಜೊತೆ , Jivaka , ವಿವರಿಸುವ , ಅರಮನೆಯ ಗೋಡೆಗಳ ಮೂಲಕ ಗೇಟ್ ತೆರೆದ
ಇಡಬೇಕೆಂದು ಮನವಿ ” ಒಂದು ವೈದ್ಯ , ನಾನು ರಾಜ ಯಾವುದೇ ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಅಗತ್ಯ
ಬೀಳಬಹುದು , ಅರಮನೆಯ ಗೋಡೆಗಳ ಹೊರಗಿನಿಂದ ಔಷಧ ಅಗತ್ಯವಿದೆ . ”
ಅವರು bhadravatikā ಬಳಕೆ ವಿನಂತಿಸಿದ , ರಾಜನ ವೇಗವಾಗಿ ಅವರು ಆನೆ , ಔಷಧಿಗಳ ಹುಡುಕಾಟದಲ್ಲಿ ಪ್ರಯಾಣ . ಈ ವಿನಂತಿಗಳನ್ನು ವಿಳಂಬವಿಲ್ಲದೆ ನೀಡಲಾಯಿತು .

ನಂತರ , Jivaka ರಾಜನಿಗೆ ” ಸಂಕೋಚಕ ಕಷಾಯ ” ಆಡಳಿತ . ರಾಜಾ ಇದು ಕುಡಿಯುವ ಎಂದು , Jivaka , ಆನೆ ಅಂಗಳಕ್ಕೆ ಓಡಿ bhadravatikā ಆರೋಹಿಸಲು ತೀವ್ರಗೊಂಡಿತು , ಮತ್ತು ನಗರ ಪಲಾಯನ .

ರಾಜ ಔಷಧ ಜೀರ್ಣವಾಗುವ ಅವರು Jivaka ಅವರನ್ನು ತುಪ್ಪ ನೀಡಿದ್ದಾನೆ ಎಂದು ಕಂಡುಹಿಡಿದರು . ” ನನಗೆ Jivaka ತನ್ನಿ , ” ಅವರು bellowed , ಆದರೆ ತನ್ನ ದೇಹದ ಗಾರ್ಡ್ ಅವರು ಈಗಾಗಲೇ ಬಿಟ್ಟು ‘d ಎಂದು ವರದಿ . ಇದರೊಂದಿಗೆ , ರಾಜ ಹಿಂದಿರುಗಿದ ಒಂದು ದೊಡ್ಡ ಪ್ರತಿಫಲ ನೀಡುತ್ತದೆ , Jivaka ನಂತರ ತನ್ನ ವೈಯಕ್ತಿಕ ಸೇವಕ ಕಾಕ್ ಕಳುಹಿಸಲಾಗಿದೆ . ಕಾಕ್
ಅಮಾನುಷವಾಗಿ ಸ್ವಿಫ್ಟ್ ಎಂದು ಪ್ರಖ್ಯಾತರಾದರು , ಮತ್ತು ಸುಲಭವಾಗಿ bhadravatikā
ಮೀರಿಸಬಹುದೆಂಬ , ಮತ್ತು ಆದ್ದರಿಂದ ಅವರು ಕಾಶಿಯಲ್ಲಿ Jivak ಜೊತೆ
ಹಿಡಿಯಲ್ಪಟ್ಟಿರುವ .

ಇಲ್ಲ ರಾಜ ತನ್ನ ಅಸ್ತಿತ್ವವನ್ನು ವಿನಂತಿಸಿದ Jivaka ಹೇಳಿದರು , ಮತ್ತು Ujjeni ಅವನೊಂದಿಗೆ ಎಂದು Jivaka ರಿಟರ್ನ್ ಬೇಡಿಕೆ ಕಾಕ್ . ಸ್ವತಃ
ಕೆಲವು ಸಮಯ ಖರೀದಿಸಲು , Jivaka ಇದು ಅವನನ್ನು ಹಾನಿ ಎಂದು ತಿಳಿದು , ಕಾಕ್
ಹಿತವಾಗಿ ಒಪ್ಪಿಕೊಂಡನು ತನ್ನ ಅಲ್ಪಾವಧಿಯ , ನಂತರ ಕೆಲವು amalaki ಹಣ್ಣು ಮತ್ತು
ಕೆಲವು ನೀರಿನ ನೀಡಿತು .
ಕಾಕ್ amlaki ಒಂದು ದೊಡ್ಡ ಸೇವೆ ಸೇವಿಸಿದ ಮತ್ತು ಅವರ ಹೃದಯ ನಿಧಾನವಾಗಿ ಮುಟ್ಟಿ ಪರೀಕ್ಷಿಸಲು ಆರಂಭಿಸಿದರು ಆ , ನೀರಿನ ಸೇವಿಸಿದ . ಎಚ್ಚೆತ್ತ , ಕಾಕ್ ” ನಾನು ಬದುಕಬೇಕು ಅಥವಾ ಸಾಯುತ್ತಾರೆ ? ” , Jivaka ಕೇಳಿದಾಗ
ನೀವು ಉತ್ತಮ ಇರುತ್ತದೆ , ಮತ್ತು ನಿಮ್ಮ ರಾಜನ ಆರೋಗ್ಯ ಹಿಂದಿರುಗುವ , ಆದರೆ ನಾನು
ರಾಜ ಹಿಂತಿರುಗಲಿಲ್ಲ ಕಾಣಿಸುತ್ತದೆ , ” Jivaka ಉತ್ತರಿಸಿದರು .
” ನಾನು Ujjeni ಮರಳಲು ನಿಮ್ಮೊಂದಿಗೆ ರಾಜನ ಅವರು ಆನೆ ಬಿಟ್ಟು ನಾನು . “

ಅವರ ಹೃದಯ ಬಡಿತ ಕಡಿಮೆಯಾದ್ದರಿಂದ , ಕಾಕ್ ನಿದ್ದೆಯ ಭಾವಿಸಿದರು , ಮತ್ತು ಕೊನೆಯ ಮಲಗಲು ತಿರುಗಿತು . ಬೇರೆಬೇರೆಯಾಗುತ್ತಿರುವುದನ್ನು
ಮೊದಲು , Jivaka ಅವರು ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಚೇತರಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು ಎಂದು ಕಾಕ್ ಪುನಃ ಭರವಸೆ
ನೀಡಲಾಗಿತ್ತು ಮತ್ತು ಕಾಕ್ ಮಲಗಿದಾಗ ಬಿಟ್ಟು .
(
ಇತರೆ ಮೂಲಗ್ರಂಥಗಳು ಅಲ್ಲ myrobalan amalaki ಹೃದಯ ಪರಿಣಾಮ , ಆದರೆ ಅವರು ಕಾಕ್
ಹಿಂಸಾತ್ಮಕವಾಗಿ ಶುದ್ಧೀಕರಿಸಲು ಕಾರಣವಾಯಿತು myrobalan ಪರಿಚಯಿಸಲಾಯಿತು ಎಂದು
Jivaka ತಂದೆಯ ಉಗುರು ಅಡಗಿದ ಒಂದು ಸಸ್ಯ ಅಥವಾ ಔಷಧಕ್ಕೆ ಕಾಕ್ ನ ವಿಳಂಬ ಎಂದಿತು . GP
Malalasekera ಮೂಲಕ ಕಾಕಾ ” ಪಾಲಿ ನೇಮ್ಸ್ ಡಿಕ್ಷನರಿ ” ನೋಡಿ
(1899-1973) , ಇದು ” ಪಾಲಿ ಪಠ್ಯ ಸೊಸೈಟಿ , ಲಂಡನ್ ” ಮುದ್ರಿತ ಆವೃತ್ತಿ ಲಭ್ಯವಿದೆ . )

Jivaka ಭವಿಷ್ಯವಾಣಿಯಲ್ಲಿ ತಿಳಿಸಲಾದಂತೆ ಮಾಹಿತಿ , ಕಿಂಗ್ Prodhyod ಸಂಸ್ಕರಿಸಿದ ಮಾಡಲಾಯಿತು . ತನ್ನ ಕೃತಜ್ಞತೆ ತೋರಿಸಲು , ಕಿಂಗ್ Prodhyod Jivaka ಒಂದು ದುಬಾರಿ ಅಪರೂಪದ ಶಾಲು ಕಳುಹಿಸಲಾಗಿದೆ . ಇದಕ್ಕೆ ಪ್ರತಿಯಾಗಿ , Jivaka ಲಾರ್ಡ್ ಬುದ್ಧ ಗೆ ಪ್ರಸ್ತುತಪಡಿಸಲು ರಾಜ ಬಿಂಬಿಸಾರರ ಗೆ ಶಾಲು ನೀಡಿದರು . ಈ ಸಮಯದಲ್ಲಿ , ಲಾರ್ಡ್ ಬುದ್ಧ ದೇಹದ ದೇಹರಚನೆ ಇರಲಿಲ್ಲ . ಲಾರ್ಡ್ ಬುದ್ಧ ಅವರು ಭೇದಿ ತೆಗೆದುಕೊಳ್ಳಲು ಬಯಸಿದ ತನ್ನ ದೇಹದಲ್ಲಿ ವಿಷ ಎಂದು ತನ್ನ ಶಿಷ್ಯ Ayushaman ಬಹಿರಂಗವಾಗುತ್ತದೆ . Ayushaman
ಆನಂದ Jivaka ಎಂದು , ಮತ್ತು Jivaka ಭೇದಿ ಮತ್ತೊಂದು 9 ಸುತ್ತುಗಳ ಮೇಲೆ ,
ಎರಡನೇ ಔಷಧ ಆಡಳಿತ ನಂತರ ಭೇದಿ 9 ಸುತ್ತುಗಳ ಮೇಲೆ ತರುವ ಇದು ಲಾರ್ಡ್ ಬುದ್ಧ ಫಾರ್
ಔಷಧ ತಯಾರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ , ಮತ್ತು .
Jivaka ಪರಿಗಣಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಎಂದು , ಅವರು ಒಂದು ಭವಿಷ್ಯವಾಣಿ ಭಗವಾನ್ ದೇಹದ ಭೇದಿ 19 ಸುತ್ತುಗಳ ಎಂದು ಹೇಳಿದರು ಎಂದು ನೆನಪಿಸಿಕೊಂಡರು . ಆದ್ದರಿಂದ , ಒಂದು ಸ್ನಾನದ ನಂತರ , ಅವರು ಲಾರ್ಡ್ ಬುದ್ಧ ಒಂದು ಅಂತಿಮ ಭೇದಿ ವಿತರಿಸಲಾಯಿತು . ಭಗವಾನ್ Jivaka ಯೋಚಿಸ್ತಿದ್ದೆ ಏನು ತಿಳಿದಿತ್ತು , ಮತ್ತು ಒಂದು ಬಿಸಿನೀರಿನ ಸ್ನಾನ ತಯಾರು ಆನಂದ ವಿನಂತಿಸಿದ . ಸ್ನಾನದ ನಂತರ ಲಾರ್ಡ್ ಬುದ್ಧ ಭೇದಿ ಅಂತಿಮ ಸುತ್ತಿನಲ್ಲಿ ಪೂರ್ಣಗೊಂಡಿತು ಮತ್ತು ಸಂಸ್ಕರಿಸಿದ ಮಾಡಲಾಯಿತು . ತನ್ನ ಸಂತೋಷ ಮತ್ತು Jivaka ಕೇಳಿದಾಗ , ” ನೀವು ಏನು ಬಯಸುತ್ತೀರಿ ? ” Jivaka
ಉತ್ತರಿಸಿದರು ಇದು , ” ನಾನು ನಿಮಗೆ ನೀಡಲು ರಾಜ ಬಿಂಬಿಸಾರರ ಒದಗಿಸಿದ ಎಂದು ಶಾಲು
ಸ್ವೀಕರಿಸಿ , ಮತ್ತು ನಿಮ್ಮ ಅನುಯಾಯಿಗಳು ಕೊಳಕಿನ ರಾಶಿ ತ್ಯಜಿಸಲಾದ ಬಟ್ಟೆಗಳನ್ನು
ಧರಿಸಿ ಅಭ್ಯಾಸ ನಿಲ್ಲಿಸಲು ಅವಕಾಶ . ”
ಬಟ್ಟೆಯ
ಹೊರಹಾಕಲ್ಪಡುತ್ತವೆ ಕಾಯಿಗಳು ಕತ್ತರಿಸಿ ಒಟ್ಟಿಗೆ ಸೇರಿಸಿದ , ಮತ್ತು ಸರಳ ಭೂಮಿಯ
ಬಣ್ಣದ ರಂಗು , ಸರಳ , ಸೇವಾನಿರತ kashaya - ನಿಲುವಂಗಿಯನ್ನು ವರ್ಣವನ್ನು : ಈ
ಸಮಯಕ್ಕೆ , ಲಾರ್ಡ್ ಬುದ್ಧ ಸನ್ಯಾಸಿಗಳು ಮತ್ತು ಅನುಯಾಯಿಗಳ ಭಿಕ್ಷುಕನಂತೆ
ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕ ಉಡುಪು ಧರಿಸಿದ್ದರು .
ಬುದ್ಧ
ಮಂಜೂರು Jivaka ತಂದೆಯ ವಿನಂತಿಗಳನ್ನು , ತನ್ನ ಸನ್ಯಾಸಿಗಳು ಮತ್ತು ಅನುಯಾಯಿಗಳ
ವೃತ್ತಿಪರರು ಮತ್ತು ಅವರು , ಈ ದಿನ ಮಾಡಲು ಯಾವ ಪಟ್ಟಣವಾಸಿಗಳು , ಫ್ಯಾಷನ್ ಅವರ
ನಿಲುವಂಗಿಯನ್ನು ನೀಡುವ ಬಟ್ಟೆ ಸ್ವೀಕರಿಸಲು ಅವಕಾಶ ಮಾಡಲಾಯಿತು .
6
ಕಿಂಗ್ Kaushleshwar ಪ್ರಸೇನ್ ಜಿತ್

ರಾಜ ಬಿಂಬಿಸಾರರ ಇನ್ನೊಂದು ಸ್ನೇಹಿತ ಕಿಂಗ್ Kaushleshwar ಪ್ರಸೇನ್ ಜಿತ್ ಆಗಿತ್ತು . ಕಿಂಗ್ ಪ್ರಸೇನ್ ಜಿತ್ ಅಚ್ಚುಮೆಚ್ಚಿನ ವೈದ್ಯ ಅವರು ಸಾಂತ್ವನಕಾರ ನೀಡಿದರು ಯಾರಿಗೆ , Jivaka ಆಗಿತ್ತು . ಮತ್ತೆ , Jivaka ಭಗವಾನ್ ಬುದ್ಧನ ಗೆ ಕೊಡುತ್ತಾನೆ , ಮತ್ತು ಬುದ್ಧ ಸಹ ಬೆಚ್ಚಗಿನ ಕಂಫರ್ಟರ್ಗಳಾಗಿ ಬಳಸಲು ಅನುಯಾಯಿಗಳ ಅನುಮತಿ ನೀಡಲು ಕೇಳಿಕೊಂಡನು .

ಬುದ್ಧ ಮೀಸಲಾದ , ಅವರು ಬುದ್ಧ ಗೆ ರಾಜ ಬಿಂಬಿಸಾರರ ಮೂಲಕ ನೀಡಿದ ಮಾವಿನ ತೋಟದ ಕೊಡುಗೆಯಾಗಿ ಎಂದು ಹೇಳಲಾಗುತ್ತದೆ . ಇಂದು
, ನೀವು ಇನ್ನೂ ಬಿಹಾರ , ಭಾರತ ( ಸಹ Amarvan ಉದ್ಯಾನ ಎಂದು ಕರೆಯಲಾಗುತ್ತದೆ )
ರಾಜ್ಯದಲ್ಲಿ , ರಾಜ್ಗೀರ್ನಲ್ಲಿ ಬಳಿ Jivakambavan ಎನ್ನುವ ತೋಟ ಭೇಟಿ ಮಾಡಬಹುದು
.

Tamil

சீவக, புத்தரின் பெரிய மருத்துவர்

நமது ஆங்கில நண்பர்கள், பெர்கமும்
இன் கண்காணிப்பு மற்றும் அனுபவம் கோட்பாடு ஒருங்கிணைப்பதன் மூலம்
மருத்துவ நடைமுறையில் முன்னேறிய கிரேக்க மருத்துவர் பெரிய விஞ்ஞானி கேலன்
(130-200 CE) என குறிக்கும், மற்றும் இரத்த உந்துவிசையில் துல்லியமாக
சுற்றோட்ட அமைப்பு விவரிக்க உலகின்  மற்றும் இதய பங்கு பெருமையை முதல்
மேற்கு வில்லியம் ஹார்வி (1578-1657) அவர்களை.புத்தரருக்கு சீவக, 2550
ஆண்டுகளுக்கு முன்பு வாழ்ந்த , பெரிய ஆயுர்வேத மருத்துவர்.

சீவக ரொம்ப அறிவாளி, உழைப்பாளி மாணவர். அவர் விரைவில் தனது உரைகளில்
நினைவில்கொள்ள, அவரது விடாமுயற்சியுடன் வேலை செய்தார். அவர் தனது
ஆய்வுகளில் முன்னேறினார், அவர் சுயநலமில்லாமல் தமது ஆய்வுகள் மற்ற
மாணவர்களுக்கு  உதவினார்.


சீவக அவரது குருவை எப்போது என் பள்ளி முழுமையான முடியும்? என கேட்டக
ஒரு மண்வாரியால், தக்சாசிலா முழு மாவட்டத்தில் ஒரு மருந்தாக
பயன்படுத்தப்படுத்த முடியாத மருத்துவ குணங்கள் அற்ற மூலிகை
விடாமுயற்சியுடன்  தேட  உற்சாகமற்ற, சீவக ஒரு மருந்தாக பயன்படுத்தாமல் 
என்று எதையும் கண்டுபிடிக்க  இயலாமல் அவரது பணி நடைபெற்றது. அவர்
வெற்றிகரமாக தனது கல்வியை முடித்ததாக  பாராட்டியுள்ளார்.

Jivaka பணத்தை வெளியே ஓடி , மற்றும் பாதை முன்னோக்கி பயணிக்க வழி இல்லாமல் கடினமாக இருக்கும் என்று உணர்ந்தேன் . உறுதியான
, ​​அவரது அறிவு மதிப்பு கண்டுபிடிக்க முடிவு , மற்றும் ஆயுர்வேத ஒரு
வைத்யா என்ற நகரம் முழுவதும் தனது சேவைகள் வழங்கப்படும் .
சிகிச்சை
தேவைப்படும் உள்ள யாராவது இருந்தால் விசாரித்து மீது , அவர் அவரது மனைவி
ஏழு ஆண்டுகளாக உடல்நிலை சரியில்லை என்று ஒரு பணக்கார வியாபாரி சந்தித்தார் .
அவர்
வணிக வீட்டில் அணுகி , மற்றும் வீட்டின் பெண்ணை அறிவிக்க வியாபாரியின்
பாதுகாப்பு கூறினார் , ” ஒரு வைத்யா அவளை பார்க்க விரும்பும் இங்கே உள்ளது.

தயக்கமாக , வணிக மனைவி ” வைத்யா என்ன இவன்? ” , அவரது பாதுகாப்பு கேட்டு அவர் மிகவும் இளம் தோன்றியது என்று கூறப்படுகிறது . அவர் அச்செயல் பலனளிக்கவில்லை , பெரிய ஆயுர்வேத அறிஞர்கள் சிகிச்சை, இந்த இளம் அந்நியன் நம்பவில்லை. அவரது
நம்பகத்தன்மை பற்றி அவளை சமாதானப்படுத்த , Jivaka அவர் பணம் கேட்க
வேண்டும் என்று தான் கூறினேன் , ஆனால் நம்பிக்கை கொண்டு , தன்
சீடர்களுக்கு ” நீங்கள் குணப்படுத்த போது நீங்கள் என்னிடம் பொருந்தும்
பார்க்க என்ன கொடுக்க முடியும் . “

இந்த நிலையில், அவள் அவனை பார்க்க ஒப்பு கொண்டார்.

நாடி
, மாலா , mutra , jihva , netra , மற்றும் ரூபா , ( ashtavidha pariksha ,
அல்லது நோயாளியின் பரிசோதனை எட்டுமடிப்பு முறை ஒரு துணைக்குழு பரிசோதனை
செய்ததில், நாடி துடிப்பு தேர்வு ஆகும் , மாலா , அதிர்வெண் , நிறம் ,
மற்றும் குடல் இயக்கங்கள் நிலைத்தன்மையும் ஆராய்கிறது
mutra
நிறம் , அதிர்வெண் மற்றும் சிறுநீர் உணர்வுகளுடன் ஆராய்கிறது , jihva
மொழி நிலை ஆய்வு , மற்றும் ரூபா நோயாளியின் உடல் , அல்லது நடத்தை உட்பட
வடிவம் , ) பரிசோதனை என்பது , Jivaka பெண் தனது பயங்கரமான தலைவலி சிகிச்சை
தேவைப்படும் , மற்றும் கேட்டார் என்று உறுதியாக
தன் வேலைக்காரன் நெய் ஒரு பைண்டு அளவு கொண்டுவர . அவர்
மருத்துவ மூலிகைகள் கலந்து ஒரு nasya , ஒரு மருந்து சைனஸ் சிகிச்சை ( இது
Jivaka பயன்படுத்தப்படும் மருந்து செய்முறையை குஜராத் , Babra ஒரு ஆசிரமம்
உள்ளது என்று மூல கட்டுரையில் ரெவ் அத் . தாமோதர் சுவாமி
எழுதப்பட்டிருக்கிறது , அதை பயன்படுத்தி என்று
வெளியிடப்பட்ட பெரிதும் என்றால் மற்ற vaidyas ) நன்மை . அவர் தன் மூக்கு இந்த nasya நிர்வகிக்கப்படும் மற்றும் அவரது வாயில் இருந்து ஊற்றினார் . அவர் அதை வெளிப்படுத்துவேன் என , அவர் ஒரு கிண்ணத்தில் அதை சேமிக்க . Jivaka அதை சிகிச்சைக்கு பயன்படுத்தப்படும் பின்னர் நெய் சேர்த்து வைக்க அவரது பேராசை கருதப்படுகிறது .

அவள்
Madwar கிராமம் இருந்து வந்தவர் என்று விளக்கினார் , அவள் எப்போதும்
நீயும் ஒரு ஸ்டீவர்ட் ஒவ்வொரு வள பயன்படுத்தி , கட்டுப்பாட்டில் இருக்க
கற்று என்று , அவள் வெப்ப மற்றும் சமையலுக்கு வீட்டில் தீ வெளிச்சத்திற்கு
நெய் பயன்படுத்துவதற்கு திட்டமிடப்பட்டது என்று .
பின்னர் அவர் , Jivaka உறுதியளித்ததை ” கவலை வேண்டாம் , நாங்கள் உனக்கு பணம் தருகிறேன் . “

அவர் மருந்து நிர்வாகம் , அதன் மூலம் தனது 7 ஆண்டு புகார் குணப்படுத்த . பெரிதும் அவள் வலி நிம்மதியாக , அவள் அவனை 4000 தங்க நாணயங்கள் செலுத்த பொருந்தும் பார்த்தேன் . ஒன்றாக
தன் பேரன் மற்றும் மற்றொரு 4000 தங்க நாணயங்கள் , ஒவ்வொரு , மற்றும்
அவரது கணவர் , வணிக Jivaka பணம் அவரது மனைவி , 16,000 தங்க நாணயங்கள்
மற்றும் ஒரு ஆண் வேலைக்காரன் , ஒரு பெண் உதவியாளர் , ஒரு குதிரை மற்றும்
ஒரு பல்லக்கில் வழங்கப்படுகிறது .

இந்த
நிலையில், Jivaka அவர் உயர்த்தி அவரை கல்வி தனது வளர்ப்பு தந்தையை முழு
தொகை ஒப்படைக்கப்பட அங்கு மகதா , மணிக்கு பிரின்ஸ் Abhysingh அரண்மனை
வீட்டில் திரும்பினார்.
இளவரசர் தொகை மறுத்து , மற்றும் அரண்மனை அருகே அவரது சொந்த வீட்டில் கட்ட அறிவுரைப்படி .
கிங் Bimbisāra தான் தீர்வு

இந்த நேரத்தில் , ராஜா தனது ஆடைகளை இரத்த சிவப்பு ஆக ஏற்படுத்தும் என இரத்தப்போக்கு மூல நோய் , பாதிக்கப்பட்ட. ராணி
தனது நிலைக்கு அவரை கேலி தொடங்கிய போது அவர் அவமானப்படுத்தப்பட்டாள் ,
அவரது நிலை பற்றி அவரது மகன் இளவரசர் Abhysingh பேசினார் .
பிரின்ஸ் Abhysingh அவர் Jivaka அவருக்கு சிகிச்சை அனுமதிக்க பரிந்துரை .

Jivaka தனது நிலையை குணப்படுத்துவது , அவரது நகங்கள் மற்றும் நிர்வாக மருத்துவ களிம்புகள் கீழ் வைத்து ராஜா மருந்து கொடுத்தார் . அவரது சிகிச்சைக்காக , ராஜா Jivaka தங்க நகைகள் வழங்கப்படும் . Jivaka கட்டணம் மறுத்து மட்டுமே ராஜா தனது சேவையை நினைவில் கிங் Bimbisāra கேட்டு , சொல்லி ” நான் வேறு எதுவும் தேவையில்லை . “

அவரது
ஆழமான பாராட்டு , கிங் Bimbisāra பரிசாக Jivaka மா மரங்கள் , அரண்மனை ,
100,000 தங்க நாணயங்கள் , மற்றும் மாவட்ட உள்ள ஒரு சிறிய கிராமத்தில் முழு
ஒரு தோட்டத்தில் நிரூபிக்க .

இந்த
நேரத்தில் , ராஜா பகவான் புத்தர் ஒரு பக்தர் மற்றும் ஆதரவாளரை ஆக ,
மற்றும் Jivaka நீதிமன்றம் பெண்கள் மற்றும் குழந்தைகள் பரிமாறும் , அரச
மருத்துவர் ஆக வேண்டும் என்று பிரகடனப்படுத்தியது.
அவர் பகவான் புத்தர் தனது துறவிகள் என்று அரச மருத்துவர் சேவைகள் வழங்கப்படும் . இந்த வழியில் , Jivaka பகவான் புத்தர் மருத்துவர் ஆனார் .
சொத்துள்ள வியாபாரி தான் தீர்வு

இப்போது மீண்டும் , இந்த நேரத்தில் , மகதா ஒரு மிக பணக்கார வியாபாரியின் எட்டு ஆண்டுகளாக உடல்நிலை சரியில்லை இருந்தது . ஒரு ஆயுர்வேத மருத்துவர் அவனுக்கு சிகிச்சை வெற்றிகரமாக இருந்தது . அவர் Jivaka வந்த போது , Jivaka ” நான் உன்னை குணப்படுத்த என்றால் , நீங்கள் எனக்கு என்ன செய்வேன் ? ” , வணிக கேட்டார் அவரது எளிமையான பதில் ” நீங்கள் கேட்டு என்ன . ” , என்று பரிசோதனை
அடிப்படையில் , Jivaka வணிக வலது 7 மாதங்கள் மற்றும் அவரது இடது
பக்கத்தில் மற்றொரு 7 மாதங்கள் தொடர்ந்து 7 மாதங்கள் , தனது முதுகில்
தூங்க என்று அறிவித்தது .
அவர் மூளை இருந்து 2 பெரிய புழுக்கள் நீக்க அங்குதான் அவர் பணக்கார வியாபாரி மீது அறுவை சிகிச்சை செய்யப்படுகிறது . அறுவை
சிகிச்சை இருந்து மீட்பு போது , Jivaka வெட்டி எடுக்கும் வழியாக அவர்
மூளை இருந்து புழுக்கள் நீக்கப்பட்டு , அவரது நிலை குணப்படுத்த முடியாது
என்று , அவர் அநேகமாக ஒரு சில நாட்களுக்குள் இறந்து என்று பணக்கார வியாபாரி
கூறினார் .
Jivaka அவரது தலையில் காயம் செய்ய மருந்து பூச , அவரது நோயாளி மேற்கூறிய தூக்க ஏற்பாடு பரிந்துரைக்கப்படும் . 7 நாட்களுக்கு பின்னர் , பணக்கார வியாபாரி தன் பின்னால் 7 மாதங்களுக்கு தூங்க முடியவில்லை என்று புகார் . எனவே Jivaka தனது வலது பக்கத்தில் தூங்கி தொடங்க கேட்டேன், மற்றும் 7 மாதங்களுக்கு இந்த தூக்க நிலையில் பரிந்துரைக்கப்படும் . மீண்டும்
7 நாட்களுக்கு பிறகு வணிகர் ஏழு மாதங்களுக்கு ஒவ்வொரு இரவும் அவரது வலது
பக்கத்தில் தூங்கி சாத்தியமற்றது என்று , புகார் .
Jivaka
பின்னர் இடது பக்கத்தில் ஒரு இறுதி 7 மாதங்களில் தூங்க சொன்னேன் ,
மீண்டும் , 7 நாட்களுக்கு பிறகு பணக்கார வியாபாரியின் இந்த மிக கடினம்
என்று தகவல் .
வியாபாரியின்
மாற்றம் தெரியும் இந்த உத்தியை பயன்படுத்தி , Jivaka வெற்றிகரமாக 21
நாட்களுக்குள் தனது அறுவை சிகிச்சை முழுமையான மீட்பு விளைவாக , ஒவ்வொரு
பக்கத்திலும் 7 நாட்கள் தேவைப்படும் ஒரு தூங்கி வடிவத்துடன் வணிக சிகிச்சை .

அவரது சிகிச்சை மற்றும் அதிசயமான மீட்பு , பணக்கார வியாபாரி ” நான் இப்போது உங்கள் வேலைக்காரன் . ” , Jivaka கூறினார் Jivaka 100,000 தங்க நாணயங்கள் பணம் கேட்டு , மற்றொரு 100,000 தங்க நாணயங்கள் ராஜாவுக்கு கொடுக்க வேண்டும் . அவரது வாழ்க்கை , பணக்கார வியாபாரி தாராளமாக ஒரே நேரத்தில் மொத்த தொகை செலுத்தி , Jivaka கோரிக்கையை வழங்கப்பட்டது .

இப்போது இந்த நேரத்தில் , Jivaka புகழ் இதுவரை மற்றும் பரந்த பரவியது.
Ujjeni ராஜா Prodhyod

பாண்டு
நோய் (பெர்னீஷியஸ் அனீமியா ) அவதிப்பட்டார் அவந்தி இராஜ்ஜியத்தில் Ujjeni
நகரம் ராஜா Prodhyod ( உலக ஒரு விளக்கு மூலம் நீங்கள் ஒளிர மாறியது போது
மிகவும் புத்தர் அதே பிறந்த கொண்டிருப்பதாக என்ற மாற்றாக Pradyota அல்லது
Pajjota , ) , ,
.5
( சில நூல்கள் மஞ்சள் காமாலை ஒரு வடிவமாக கிங் Prodhyod நிலையை விளக்குவது
. பாலி உரை சங்கம் ” இருந்து அச்சிடப்பட்ட பதிப்பு கிடைக்கிறது இது ஜி.பி.
Malalasekera ( 1899-1973 ) , மூலம் ” பாலி பெயர்கள் அகராதி ” என்ற Cannda
- ppajjota பாருங்கள் ,
லண்டன் ” ) . Jivaka பெரும் புகழை விசாரணை , கிங் Prodhyod தனது அரச மருத்துவர் சேவைகள் கேட்டு கிங் Bimbisāra தனது தூதராக அனுப்பியது. இணக்கமான சொற்கள் , கிங் Bimbisāra ஒப்பு , மற்றும் கிங் Prodyod பார்க்க , Ujjeni நகர Jivaka அனுப்பப்படும் . Jivaka அங்கு ராஜா கண்டறியப்பட்டது மற்றும் சிகிச்சை தேவையான மருந்து நெய் தயார் என்று தீர்மானிக்கப்படுகிறது . இது பரவலாக அவர் அதை எடுத்து கொள்வேன் என்றால் ராஜா வெறுத்தார் நெய் , மற்றும் Jivaka மன்னர் கேட்டார் என்று அறியப்பட்டது . ” எதையும் ஆனால் நெய் , ” ராஜா பதில் இருந்தது .

இப்போது , எனக்கு tryhath கொள்கை அறிமுகம் செய்து - அதன் கோரிக்கைகளை ஒரு மறுக்க முடியாது மூன்று பேர் இருக்கிறார்கள் என்று . இந்த மூன்று ராஜா ( அல்லது rajhath ) , ஒரு பெண் , மற்றும் குழந்தை. எனினும் , மன்னர் நிலையில் , Jivaka அவர் நெய் உள் oiling வேண்டும் என்று தெரிந்தது . எனவே , Jivaka ராஜா நெய் என அங்கீகரிக்க முடியாது என kashaya ராசா ( ஒரு கட்டுப்படுத்துகிற சுவை ) ஒரு நெய் தயார் என்று நினைத்தேன். மன்னர்
பெரும் கோபமும் , மற்றும் நெய்யை தனது பெரும் வெறுப்பு பற்றி கேட்ட
பின்னர் , அவர் இந்த தீர்வு வெளிவருவதில் கிங் ‘ஸ் உணர்வுகளை ஏற்படுத்தும்
என்று தெரியும் , அவர் வெஞ்சினத்திற்கும் இயக்கப்படும் என்று .
வேண்டுமென்றே
தீர்க்கதரிசனம் கொண்டு , Jivaka , விளக்கி , அரண்மனை சுவர்கள் மூலம் கேட்
திறந்த வைக்கப்படும் என்று கேட்டு ” ஒரு வைத்யா , நான் ராஜா எந்த
நேரத்திலும் வேண்டும் இது , அரண்மனை சுவர்கள் வெளியில் இருந்து மருந்து
தேவைப்படுகிறது . ”
அவர் bhadravatikā பயன்படுத்த வேண்டும் , ராஜா வேகமாக அவர் , யானை , மருந்து தேடி பயணம் . இந்த கோரிக்கைகளை தாமதம் இல்லாமல் வழங்கப்பட்டது .

Telugu

అసలు Nāland దాని తప్పనిసరి అంశం వైద్య కలిగి
Jivaka , బుద్ధ గొప్ప వైద్యుడు

మా
అల్లోపతిక్ స్నేహితులను గొప్ప Pergamum యొక్క శాస్త్రవేత్త గాలెన్ (
130-200 CE ) , పరిశీలన మరియు అనుభవాన్ని సిద్ధాంతం ఏకీకృతం ద్వారా వైద్య
వృత్తిలో ముందుకు ఎవరు గ్రీకు వైద్యుడు , మరియు ఉండటం ఘనత విలియం హార్వే (
1578-1657 ) సూచిస్తూ యొక్క అమితముగా ఉన్నాయి
ప్రపంచంలో మొదటి పశ్చిమ ఖచ్చితంగా ప్రసరణ వ్యవస్థ మరియు రక్త పంపింగ్ గుండె పాత్ర వివరించడానికి . Jivaka , 2550 సంవత్సరాల క్రితం నివసించిన బుద్ధ , గొప్ప ఆయుర్వేద్ వైద్యుడు ఏమిటి?

Jivaka చాలా తెలివైన మరియు hardworking ఉండేవాడు. అతను త్వరగా తన పాఠాలు గుర్తుంచుకొని , మరియు తన గురువు కోసం శ్రద్ధగా పని చేస్తుంది . అతను చదువులో ముందుకు , అతను selflessly వారి అధ్యయనాలు ఇతర విద్యార్థులు సహాయపడ్డాడు .

Jivaka తన గురువు అడిగినప్పుడు ఏడు సంవత్సరాలు , ” నా పాఠశాల పూర్తి ఉంటుంది ? ” ఈ గురు ఒక పార , మరియు ఒక వైద్యంలో సాధ్యం కాలేదు, ఇది ఆ కోసం Takshashila యొక్క దువ్వెన మొత్తం జిల్లా తీసుకుని Jivaka ఆదేశాలు . శ్రద్ధగా Jivaka ఏ పదార్ధం లేదా ఔషధ లక్షణాలు లోపించిన హెర్బ్ శోధించిన . Dejected , Jivaka ఒక ఔషధంగా ఉపయోగిస్తారు అని ఏదైనా కనుగొనడంలో లేకుండా తన పని సాధించవచ్చు . అతను విజయవంతంగా తన విద్య పూర్తి శుభాకాంక్షలు అక్కడ తన వైఫల్యానికి కొన్ని , అతను , తన గురువు తిరిగి . Jivaka అప్పుడు అర్థం మరియు మగధ తన ఇంటి తిరిగి డబ్బు అందించింది .

Jivaka డబ్బు పూర్తిగా అయిపోయింది , మరియు మార్గం ముందుకు వెళ్ళటానికి అంటే లేకుండా కష్టం అని గ్రహించారు . స్థిరమైన , అతను తన విజ్ఞాన విలువ కనుగొనేందుకు నిర్ణయించుకుంది , మరియు ఆయుర్వేద్ ఒక వైద్య నగరం అతని సేవలు ఇచ్చింది . చికిత్స
అవసరం పట్టణం ఎవరైనా ఉంది ఉంటే అడిగి తరువాత , అతను దీని భార్య ఏడు
సంవత్సరాలు అనారోగ్యంబారిన ఉండేది సంపన్న వ్యాపారి కలుసుకున్నారు .

వ్యాపారి ఇంటి వద్దకు , మరియు ఇంటి lady వరకు ప్రకటించిన వ్యాపారి
సెక్యూరిటీ గార్డు చెప్పారు , ” ఒక వైద్య ఆమె చూడాలనుకుంటున్నాను ఎవరు
ఇక్కడ ఉంది. “

అప్పట్లో వ్యాపారి భార్య ” వైద్య ఏ విధమైన అతను ఏమిటి? ” , ఆమె సెక్యూరిటీ గార్డు అడిగిన అతను చాలా చిన్న కనిపించిన ఆమె నివేదించబడింది . ఆమె పొందగోరేవారువిధిగా కు , గొప్ప ఆయుర్వేద పండితులు చికిత్స ఉండాలని , మరియు ఈ యువ వాడిగా విశ్వసిస్తే లేదు . తన
విశ్వాసం తన ఒప్పించేందుకు , Jivaka అతను చెల్లింపు కోసం అడగండి అని ఆమె
చెప్పారు , కానీ విశ్వాసం తో , ఆమె ఆదేశాలు ” మీరు నయం చేయవచ్చును
చేసినప్పుడు మీరు నన్ను ఇవ్వడానికి సరిపోయే చూసే నాకు ఇవ్వగలిగిన . “

దీనితో ఆమె అతనిని చూడటానికి అంగీకరించింది .

Nadi
, మల , mutra , jihva , నేత్ర , మరియు రూప , ( ashtavidha pariksha , లేదా
రోగి పరీక్ష eightfold పద్ధతి యొక్క ఒక ఉప సముదాయం పరీక్ష తర్వాత , Nadi
పల్స్ పరీక్ష ఉంది , మల , ఫ్రీక్వెన్సీ , రంగు , ఇంకా ప్రేగు కదలికలను
స్థిరత్వం పరిశీలిస్తుంది
mutra
రంగు , ఫ్రీక్వెన్సీ మరియు మూత్రం యొక్క భావనలు పరిశీలిస్తుంది , jihva
నాలుక పరిస్థితి పరీక్షిస్తుంది మరియు రూప రోగి యొక్క శరీరం , లేదా
వైఖరిలో సహా రూపం ) పరీక్ష ఉంది , Jivaka lady ఆమె భయంకరమైన తలనొప్పి
చికిత్స అవసరం , మరియు అడిగిన గుర్తించాము
ఆమె సేవకుడు నెయ్యి ఒక కొలత గల పాత్ర తీసుకుని . అతను
ఔషధ మూలికలు కలిపి మరియు నశ్య , ఒక వైద్య సైనస్ చికిత్స ( ఇది Jivaka
ఉపయోగించే వైద్య రెసిపీ గుజరాత్ , Babra లో ఆశ్రమం లో అని మూల వ్యాసం లో
Rev Ch . దామోదర్ స్వామి రాసిన , దీనిని ఉపయోగించాడు కావచ్చు
ప్రచురించిన గొప్పగా ఇతర vaidyas ) ప్రయోజనం . అతను ఆమె ముక్కు లోకి ఈ నశ్య పరిపాలనలో ఆమె నోటి నుండి కురిపించింది . ఆమె దాన్ని ఉమ్మి , ఆమె ఒక గిన్నె లో సేవ్ . Jivaka ఇది చికిత్స కోసం ఉపయోగించిన తరువాత నెయ్యి ఉంచటానికి ప్రయత్నిస్తారు కోసం ఆమె అత్యాశ భావిస్తారు .

ఆమె
Madwar గ్రామానికి చెందినవారే వివరించాడు , మరియు ఆమె ఎల్లప్పుడూ వృద్ద ఒక
సేవకురాలు ప్రతి వనరు ఉపయోగించి , నియంత్రణ ఉండేందుకు బోధించాడు ఆ , మరియు
ఆమె వేడి మరియు వంటకు హోమ్ మంటలు వెలుగులోకి నెయ్యి ఉపయోగించడానికి
ఉద్దేశించబడింది ఆ .
అప్పుడు ఆమె Jivaka హామీ ఇచ్చారు ” చింతించకండి , మేము మీరు చెల్లించే . “

అతను మందులు తీసుకోవాలి, మరియు తద్వారా ఆమె 7 సంవత్సరాల ఫిర్యాదు నయమవుతుంది . ఎక్కువగా బాధ నుండి ఉపశమనం , ఆమె అతనికి 4000 బంగారు నాణేలు చెల్లించడానికి సరిపోయే చూసింది . కలిసి
ఆమె మనవడు మరియు మరొక 4000 బంగారు నాణేలు ప్రతి , మరియు ఆమె భర్త ,
వ్యాపారి Jivaka చెల్లించిన తన భార్య , 16,000 బంగారు నాణేలను ప్లస్ ఒకటి
పురుషుడు సేవకుడు , ఒక పురుషుడు సేవకుడు , ఒక గుర్రం మరియు ఒక పల్లకీ
ఇచ్చింది .


తో, Jivaka అతను పెంచడం మరియు అతనికి అవగాహన కోసం అతని దత్తు తండ్రి
మొత్తం మొత్తం స్వాధీనం పేరు మగధ , వద్ద ప్రిన్స్ Abhysingh యొక్క రాజభవనం
తిరిగి వచ్చాడు .
యువరాజు మొత్తం నిరాకరించారు , మరియు రాజభవనం సమీపంలోని తన సొంత ఇంటిలో నిర్మించడానికి అతన్ని ఆజ్ఞాపించాడు.
కింగ్ Bimbisāra యొక్క క్యూర్

ఈ సమయంలో, రాజు తన బట్టలు రక్తంతో రెడ్ మారింది కారణమయ్యే రక్త స్రావం Hemorrhoids బాధపడుతున్నట్లు, జరిగింది . రాణి
తన పరిస్థితి అతనికి ఆనందం ప్రారంభించారు అతను అవమానాలు మారింది , మరియు
తన పరిస్థితి గురించి అతని కుమారుడు , ప్రిన్స్ Abhysingh మాట్లాడారు .
ప్రిన్స్ Abhysingh అతను Jivaka అతనికి చికిత్స అనుమతిస్తాయి సిఫార్సు .

Jivaka తన పరిస్థితి క్యూరింగ్ , తన గోర్లు మరియు నిర్వహించబడుతుంది వైద్యం మందులను కింద ఉంచాలి రాజు ఔషధం ఇచ్చింది . తన చికిత్స కోసం , రాజు Jivaka బంగారు ఆభరణాలు ఇచ్చింది . Jivaka చెల్లింపు నిరాకరించి కేవలం రాజు ఆయన సేవ గుర్తుంచుకోవడానికి కింగ్ Bimbisāra అడిగిన , మాట్లాడుతూ ” నేను వేరే ఏమీ అవసరం . “

తన
లోతైన మెచ్చుకోలు , రాజు Bimbisāra మహాత్ములైన Jivaka మామిడి చెట్లు ,
ఒక రాజభవనం , 1,00,000 బంగారు నాణేలు , మరియు జిల్లా పరిధిలో ఒక చిన్న
గ్రామంలో పూర్తి తోట ప్రదర్శించడానికి .


సమయానికి , రాజు బుద్ధుడు ఒక భక్తుడు స్పాన్సర్గా , మరియు Jivaka కోర్టు
మహిళలు మరియు పిల్లలు పనిచేస్తున్న , రాజ వైద్యుడు అవుతాడు అని
ఉద్ఘాటించిన .
అతను కూడా భగవాన్ బుద్ధ మరియు అతని సన్యాసులకు రాజ వైద్యుడి సేవలు ఇచ్చింది . ఈ విధంగా , Jivaka లార్డ్ బుద్ధ వరకు వైద్యుడు మారింది .
సంపన్న మర్చంట్స్ క్యూర్

ఇప్పుడే మళ్ళీ , ఈ సమయంలో , మగధ చాలా ధనిక వ్యాపారి ఎనిమిది సంవత్సరాలు అనారోగ్యంబారిన ఉండేది . ఏ ఒక్క ఆయుర్వేద వైద్యుడు అతని చికిత్స విజయవంతంగా జరిగింది . అతడు Jivaka వచ్చినప్పుడు , Jivaka ” నేను మీరు నయం ఉంటే , మీరు నాకు ఏమి వస్తుంది ! ” , వ్యాపారి అడిగిన తన సాధారణ సమాధానం ” మీరు అభ్యర్థించవచ్చు ఏది . ” , ఉంది పరీక్ష తర్వాత , Jivaka వ్యాపారి కుడివైపు 7 నెలల తన ఎడమ వైపు మరో 7 నెలల తరువాత 7 నెలల , తన వెనుక నిద్ర అని ప్రకటించింది . అతను తన మెదడు నుండి 2 పెద్ద పురుగులు తొలగించబడింది ఇందులో అతను ధనవంతులైన వ్యాపారి న శస్త్రచికిత్స . శస్త్రచికిత్స
నుంచి కోలుకునే సమయంలో , Jivaka కోత ద్వారా అతను తన మెదడు నుండి పురుగుల
తొలగించారు , మరియు అతని పరిస్థితి తీరని అని అతను అవకాశం కొద్ది రోజుల్లో
చనిపోతుంది సంపన్నుల వ్యాపారి చెప్పారు .
Jivaka తన తల గాయం వైద్యం లేపనం పూసుకోవడం , మరియు తన రోగికి పైన పేర్కొన్న నిద్ర అమరిక సూచించిన . మాత్రమే 7 రోజుల తరువాత , ధనిక వ్యాపారి తన వెనుక 7 నెలల నిద్ర అని ఫిర్యాదు . సో Jivaka తన కుడి వైపు నిద్ర ప్రారంభించడానికి అడిగాడు , మరియు 7 నెలల ఈ నిద్ర స్థానం సూచించిన . మళ్ళీ 7 రోజుల తరువాత వ్యాపారి ఏడు నెలల కోసం ప్రతి రాత్రి తన కుడి వైపు నిద్ర అసాధ్యం అని చెప్పాడు , ఫిర్యాదు . Jivaka ఎడమ వైపున ఒక చివరి 7 నెలల నిద్ర అడిగాడు , మరియు మరలా , 7 రోజుల తరువాత సంపన్న వ్యాపారి ఈ చాలా అసాధ్యం నివేదించారు . వ్యాపారి
మనోవైఖిరి తెలుసు ఈ వ్యూహం ఉపయోగించి , Jivaka విజయవంతంగా 21 రోజుల్లో
అతని శస్త్రచికిత్స పూర్తి రికవరీ ఫలితంగా , ప్రతి వైపు 7 రోజుల అవసరం
నిద్ర నమూనా వ్యాపారి చికిత్స .

అతనికి చికిత్స మరియు అద్భుతమైన రికవరీ కోసం, ధనిక వ్యాపారి ” నేను ఇప్పుడు మీ సర్వెంట్ . ” Jivaka చెప్పాడు Jivaka 100,000 బంగారు నాణేలు చెల్లింపు అభ్యర్థించిన , మరియు మరొక 100,000 బంగారు నాణేలు రాజు ఇచ్చిన . తన జీవితం కోసం, సంపన్న వ్యాపారి దాతృత్వముగా ఒకేసారి మొత్తం మొత్తం పెట్టారు Jivaka యొక్క అభ్యర్థనను మంజూరు .

ఇప్పుడు ఈ సమయంలో , Jivaka యొక్క కీర్తి సుదూరాలు వ్యాపించింది .
Ujjeni రాజు Prodhyod

పండు
వ్యాధి ( హానికరంగా ఎనీమియా) బాధపడ్డాడు అవంతి రాజ్యంలో Ujjeni నగరం రాజు
Prodhyod ( ప్రపంచ వంటి దీపం ద్వారా ఉంటే ప్రకాశవంతమైన తరువాత కాబట్టి
బుద్ధ అదే పుట్టినరోజు కలిగి అనే ప్రత్యామ్నాయంగా Pradyota లేదా Pajjota , )
, ,
.5
( కొన్ని వచనాలు కామెర్లు ఒక రూపం కింగ్ Prodhyod పరిస్థితి అర్థం . పాలి
టెక్స్ట్ సొసైటీ ” నుండి ముద్రించబడింది వెర్షన్ అందుబాటులో ఉంది GP
Malalasekera ( 1899-1973 ) , ద్వారా ” పాలి పేర్లు డిక్షనరీ ఆఫ్ ” లో
Cannda - ppajjota చూడండి ,
లండన్ , ” ) . Jivaka
యొక్క గొప్ప ఖ్యాతి యొక్క విన్న , రాజు Prodhyod తన రాజ వైద్యుడు యొక్క
సేవలు అభ్యర్థించవచ్చు కింగ్ Bimbisāra తన రాయబారి పంపిన .
స్నేహపూర్వకమైన పదాలలో , రాజు Bimbisāra అంగీకరించింది , మరియు కింగ్ Prodyod చూడటానికి , Ujjeni నగరానికి Jivaka పంపిన . Jivaka ఉన్నాయి రాజు నిర్ధారణ మరియు చికిత్స అవసరమైన వైద్యం నెయ్యి తయారు నిర్ణయించాడు . ఇది విస్తృతంగా అతను దానిని భావిస్తే రాజు నచ్చని నెయ్యి , అందువలన Jivaka రాజు అడిగిన అనుకునేవారు. ” ఏదైనా కానీ నెయ్యి , ” రాజు యొక్క సమాధానమిచ్చాడు .

ఇప్పుడు నాకు tryhath సూత్రం పరిచయం తెలపండి - దీని డిమాండ్ ఒక తిరస్కరించవచ్చు కాదు మూడు ప్రజలు ఉన్నాయి . ఈ మూడు రాజు ( లేదా rajhath ) , ఒక స్త్రీ మరియు పిల్లలు ఉన్నాయి . అయితే , రాజు యొక్క పరిస్థితి లో , Jivaka అతను నెయ్యితో అంతర్గత oiling అవసరం తెలుసు . సో , Jivaka రాజు నెయ్యి గుర్తిస్తున్నారు సాధ్యం అలా kashaya రసా ( ఒక రక్తస్రావ నివారిణి రుచి ) తో ఒక నెయ్యి సిద్ధం ఆలోచన . రాజు
యొక్క గొప్ప నిగ్రహాన్ని , మరియు నెయ్యి కోసం తన గొప్ప ఇష్టపడలేదు యొక్క
విన్న తర్వాత , అతను ఈ పరిహారం మంట రాజుగారి కోరికలు కారణం కావచ్చు తెలుసు ,
మరియు అతను కోపాన్ని నడపబడతాయి ఉండవచ్చు .
ఉద్దేశపూర్వక
దూరదృష్టి తో , Jivaka , వివరిస్తూ , రాజభవన గోడలు ద్వారా మార్గాన్ని
తెరచి ఉంచుకోవడం అభ్యర్థించారు ” ఒక వైద్య , నేను రాజు ఏ సమయంలో కట్టవలసి ,
రాజభవన గోడలు వెలుపల నుండి ఔషధం అవసరం . ”
అతను కూడా bhadravatikā యొక్క ఉపయోగం కోసం అభ్యర్థించారు , రాజు యొక్క వేగవంతమైన ఆమె - ఏనుగు , మందులను శోధన ప్రయాణించగలదు . ఈ అభ్యర్థనలు ఆలస్యం లేకుండా మంజూరు చేశారు .

తరువాత , Jivaka రాజు ” రక్తస్రావ నివారిణి కాచి వడపోసిన సారము ” నిర్వహించబడుతుంది . రాజా అది త్రాగిన గా , Jivaka , ఏనుగు యార్డ్ కుదించబడింది bhadravatikā మౌంట్ వేగవంతమైంది , మరియు నగరం పారిపోయారు .

రాజు ఔషధం జీర్ణమయ్యే అతను Jivaka అతనికి నెయ్యి ఇచ్చిన కనుగొన్నారు . ” నాకు Jivaka తీసుకురండి , ” అతను గర్జించిన , కానీ తన శరీరం గార్డ్లు అతను ఇప్పటికే వదిలి భావిస్తున్నట్టు నివేదించారు . ఈ తో, రాజు అతని తిరిగి పెద్ద బహుమతులు అందించడం , Jivaka తర్వాత తన వ్యక్తిగత సేవకుడు Kāk పంపిన . Kāk
అమానవీయమైన స్విఫ్ట్ కూడా పేరుపొందింది మరియు సులభంగా bhadravatikā
అధిగమిస్తుందని , ​​మరియు అందువలన అతను కాశీ లో Jivak తో పట్టుబడ్డాడు .

అక్కడ రాజు తన ఉనికిని అభ్యర్థించిన Jivaka చెప్పారు , మరియు Ujjeni అతనితో ఆ Jivaka తిరిగి డిమాండ్ Kāk . తాను
కొంత సమయం కొనుగోలు , Jivaka అది అతనికి హాని లేదు ఆలోచిస్తూ , Kāk
కృతజ్ఞతగా ఆమోదించిన తన పెద్ద స్ప్రింట్ , తరువాత కొన్ని amalaki పండు
మరియు కొన్ని నీటి ఇచ్చింది .
Kāk
amlaki పెద్ద సేవలందిస్తున్న మాయం చేసింది మరియు అతని గుండె నెమ్మదిగా
స్పర్శ ద్వారా పరీక్షించు ప్రారంభమైంది దానిద్వారా నీరు తాగుతూ .
అప్రమత్తమైన Kāk ” నేను నివసిస్తున్నారు లేదా చనిపోతారు? ” , Jivaka అడిగిన ” మీరు జరిమానా ఉంటుంది , మరియు మీ రాజు యొక్క ఆరోగ్య తిరిగి ఉంటుంది , కానీ నేను రాజు తిరిగి ఉంటుంది , ” Jivaka బదులిచ్చారు . ” నేను Ujjeni తిరిగి మీరు రాజు యొక్క ఆమె - ఏనుగు వదిలి చేస్తున్నాను . “

తన గుండె రేటు మందగించడంతో Kāk నిద్ర భావించాడు , మరియు చివరి నిద్ర ఆఫ్ మళ్ళింది. మార్గాలు లాగి ముందు , Jivaka అతను పూర్తిగా తిరిగి అని Kāk హామీ ఇచ్చారు మరియు Kāk పడుకున్నట్లు వంటి వదిలి . (
ఇతర వచనాలు లేదు myrobalan amalaki గుండె ప్రభావం కానీ ఆయన Kāk
హింసాత్మకంగా ప్రక్షాళన కారణమైన myrobalan ప్రవేశపెట్టారు ఆ Jivaka యొక్క
మేకుకు దాగి ఒక మూలిక లేదా ఔషధం Kāk యొక్క ఆలస్యం ఆపాదిస్తారు. GP
Malalasekera ద్వారా కాకా ” పాలి పేర్లు డిక్షనరీ ఆఫ్ ” చూడండి
(1899-1973) , ఇది ” పాలి టెక్స్ట్ సొసైటీ , లండన్ ” నుండి ముద్రించబడింది వెర్షన్ అందుబాటులో ఉంది . )

Jivaka foretold వంటి , కింగ్ Prodhyod నయమవుతుంది చేశారు . తన కృతజ్ఞత తెలుపుకోవడానికి , కింగ్ Prodhyod Jivaka కు విలువైన అరుదైన శాలువ పంపిన . ప్రతిగా , Jivaka లార్డ్ బుద్ధ ప్రస్తుత కింగ్ Bimbisāra కు శాలువ ఇచ్చింది . ఈ సమయంలో , లార్డ్ బుద్ధ యొక్క శరీరం ఆరోగ్యంగా కాదు . లార్డ్ బుద్ధ అతను పరిశుద్ధం తీసుకోవాలని భావించినట్టు కోసం , తన శరీరం లో విషాన్ని తన శిష్యుడు Ayushaman వెల్లడి . Ayushaman
ఆనంద Jivaka అని , మరియు Jivaka పరిశుద్ధం మరొక 9 రౌండ్ల ప్రభావితం ,
రెండవ ఔషధం నిర్వహించబడుతుంది అప్పుడు పరిశుద్ధం 9 రౌండ్ల న తీసుకుని ఇది
లార్డ్ బుద్ధ మందులు తయారు , మరియు .
Jivaka అనుకుని , అతను ప్రవక్త భగవాన్ శరీరం పరిశుద్ధం 19 రౌండ్ల ఉందని చెప్పారు చేసుకున్నాడు . అందువలన , స్నాన తరువాత , అతను లార్డ్ బుద్ధ తుది పరిశుద్ధం పంపిణీ . భగవాన్ Jivaka ఆలోచిస్తూ జరిగినది ఏమి తెలుసు , మరియు ఒక వేడి స్నాన సిద్ధం ఆనంద అభ్యర్థించిన . స్నాన తరువాత లార్డ్ బుద్ధ పరిశుద్ధం తుది రౌండ్ పూర్తి మరియు ఎండబెట్టిన చేశారు. అతని సంతోషంపై , మరియు Jivaka అడిగిన , ” మీరు ఏమి అనుకుంటున్నారు? ” Jivaka
సమాధానం ఇది , ” నేను మీరు ఇవ్వాలని కింగ్ Bimbisāra అందించిన ఆ శాలువా
అంగీకరించండి , మరియు మీ శిష్యులు చెత్త కుప్ప నుండి ఊడిపోయి బట్టలు ధరించి
అభ్యాసం నిలిపివేయాలని అనుమతిస్తుంది . ”
వస్త్రం
యొక్క విస్మరించిన ముక్కలు కట్ మరియు జతపర్చబడలేదు , మరియు ఒక సాధారణ భూమి
రంగు రంగు , సాధారణ , సేవలు kashaya - దుస్తులలో వేసుకున్నారు : అప్ ఈ
సమయంలో , లార్డ్ బుద్ధ సన్యాసులు మరియు శిష్యులు యాచకుడివలే, ఎంతో సంప్రదాయ
దుస్తులను ధరించారు .
బుద్ధ
మంజూరు Jivaka విజ్ఞప్తులు , తన సన్యాసులు మరియు శిష్యులు అజ్ఞానుల మరియు
వారు , ఈ రోజు ఏమి తో పట్టణ , ఫ్యాషన్ వారి దుస్తులలో అందించే వస్త్రం
అంగీకరించడానికి అనుమతి ఉన్నప్పుడు .
6
కింగ్ Kaushleshwar ప్రసేన్జిట్

కింగ్ Bimbisāra మరొక స్నేహితుడు కింగ్ Kaushleshwar ప్రసేన్జిట్ ఉంది . కింగ్ ప్రసేన్జిట్ యొక్క ఇష్టమైన వైద్యుడు అతను ఒక comforter ఇవ్వడానికి , Jivaka ఉంది . మళ్ళీ , Jivaka భగవాన్ బుద్ధ ఇచ్చినది , మరియు బుద్ధుడు వెచ్చని comforters ఉపయోగించడానికి శిష్యులు అనుమతి ఇవ్వాలని కోరారు .

బుద్ధ అంకితం , అది అతను బుద్ధ కింగ్ Bimbisāra ద్వారా ఇచ్చిన మామిడి తోట బహుకరించారు చెప్పబడింది . నేడు
, మీరు ఇప్పటికీ బీహార్ , భారతదేశం ( కూడా Amarvan తోట అని కూడా
పిలుస్తారు) రాష్ట్రంలో , Rajgir సమీపంలో Jivakambavan పిలిచే ఈ తోట ,
సందర్శించండి .

Urdu



اصل Nāland اپنی جماعتوں تک لازمی مضمون کے طور پر ادویات تھا
Jivaka ، بدھ کو بہت معالج

ہمارے
ایلوپیتھک دوستوں عظیم Pergamum کے سائنسدان Galen ( 130-200 عیسوی )،
مشاہدے اور تجربے کے ساتھ نظریہ تکمیل کے ذریعے ادویات کی پریکٹس کے پیش
قدمی کی جو یونانی ڈاکٹر ، اور کیا جا رہا ہے کا قرضہ حاصل ہے جو ولیم
ہاروے ( 1578-1657 ) حوالہ کا شوق ہے
دنیا میں سب سے پہلے مغربی درست طریقے سے دوران خون کے نظام اور خون کی پمپنگ میں دل کے کردار کی وضاحت کرنے کے لیے . Jivaka ، 2550 سال پہلے رہتے تھے جو بدھ ، عظیم Ayurved معالج کے بارے میں کیا ؟

Jivaka ایک بہت ہی ذہین اور میہنتی طالب علم تھا. انہوں نے کہا کہ فوری طور پر ان نصوص حفظ ، اور ان کے گرو کے لیے تندہی سے کام کیا کرے گا. انہوں نے اپنے مطالعہ میں پیش قدمی کی ، وہ selflessly اپنی تعلیم میں دوسرے طالب علموں کی مدد کی.

Jivaka نے اپنے گرو سے پوچھا کہ جب سات سال گزر گئے ، “جب میری تعلیم مکمل ہو جائے گا ؟” اس
کے لئے، گرو فاوڑا ، اور ایک دوا کے طور پر استعمال نہیں کیا جا سکتا ہے
جو اس کے لئے Takshashila کی کنگھی پورے ضلع لے جانے کے لئے Jivaka ہدایت
کی .
تندہی سے Jivaka کوئی مادہ یا دواؤں کی خصوصیات سے مبرا جڑی بوٹی کے لئے تلاشی لی. اداس ، Jivaka ایک دوا کے طور پر استعمال نہیں کیا جاسکتا ہے کہ کسی بھی چیز کو تلاش کرنے کے بغیر ان کے کام کو مکمل . انہوں نے کامیابی سے اپنی تعلیم مکمل کرنے پر مبارک باد پیش کی گئی تھی جہاں ان کی ناکامی کی کچھ ، وہ اپنے گرو واپس آئے. Jivaka پھر ذرائع اور Magadha میں اپنے گھر واپس کرنے کے لئے پیسے کے ساتھ فراہم کی گئی تھی .

Jivaka پیسے سے باہر بھاگ گیا ، اور راستہ آگے سفر کرنے کا مطلب بغیر مشکل ہو جائے گا کہ اس کا احساس ہوا. ثابت
قدم رکھے ، اس نے اپنے علم کی قدر باہر تلاش کرنے کا فیصلہ کیا ، اور
Ayurved کی ویدی کے طور پر پورے شہر میں ان کی خدمات کی پیشکش کی.
علاج
کی ضرورت شہر میں کسی کو بھی نہیں تھی تو پوچھ صلی اللہ علیہ وسلم ، وہ کس
کی بیوی سات سال تک بیمار تھے ایک امیر مرچنٹ سے ملاقات کی.
انہوں
نے کہا کہ تاجر کے گھر سے رابطہ کیا ، اور گھر کی مالکن پر اعلان کرنے
مرچنٹ کی سیکورٹی گارڈ کو بتایا کہ ” ایک ویدی اسے دیکھنے کے لئے چاہوں گا
کہ یہاں کون ہے .”

Hesitantly ، مرچنٹ کی بیوی ” ویدی کس طرح وہ ہے؟” ، اس کے سیکورٹی گارڈ سے پوچھا انہوں نے کہا کہ وہ بہت نوجوان ہونا ظاہر ہے کہ اس کی اطلاع دی. وہ کوئی فائدہ نہیں ہوا ، عظیم آئروےدک علما کی طرف سے علاج کیا گیا تھا، اور اس نوجوان اجنبی اعتماد نہیں کیا. اپنے
trustworthiness کی اس بات پر قائل کرنے ، Jivaka انہوں نے کوئی ادائیگی
کے لئے دعا گو ہیں کہ اس سے کہا ، لیکن اعتماد کے ساتھ ، اس کی ہدایت کی ،
“کیا تم ٹھیک ہو جاتا ہے تو تم مجھے دے کے قابل دیکھ مجھے کیا دے سکتے ہیں.

اس کے ساتھ، اس نے اسے دیکھنے کے لئے اتفاق کیا ہے.

nadi
، مالا ، mutra ، jihva ، netra ، اور روپا ، ( ashtavidha pariksha ، یا
مریض کو امتحان کے eightfold طریقہ کی ایک اپسمچی کا امتحان صلی اللہ علیہ
وسلم ، nadi پلس امتحان ہے، مالا ، تعدد ، رنگ، اور آنتوں کی تحریکوں کے
مستقل مزاجی کا معائنہ
mutra
رنگ، تعدد اور پیشاب کی احساس کا معائنہ ، jihva زبان کی حالت کا معائنہ ،
اور روپا کے مریض کے جسم ، یا برتاؤ سمیت فارم، ) کا امتحان ہے، Jivaka
خاتون اس خوفناک سر درد کے لئے علاج کی ضرورت ہے ، اور پوچھا کہ اس کا تعین
ان کی خادمہ گھی کی ایک quart لانے کے لئے . انہوں
نے کہا کہ دواؤں کی جڑی بوٹیوں میں ملا اور ایک nasya ، ایک دواؤں ہڈیوں
کی علاج (یہ Jivaka کی طرف سے استعمال ادویات کی ہدایت گجرات، Babra میں
ایک آشرم میں ہے منبع مضمون میں Rev چوہدری دامودر سوامی طرف سے لکھا ہے ،
کے طور پر اس کا استعمال کیا جو کہ
شائع بہت ہو تو دوسرے vaidyas ) فائدہ . انہوں نے کہا کہ اس کی ناک کے اندر اس nasya زیر انتظام ہے اور یہ اس کے منہ سے باہر پھینک دیا. وہ اسے نکالنا ممکن کے طور پر، وہ ایک کٹوری میں اسے بچا لیا. Jivaka اس کے علاج کے لیے استعمال کیا گیا تھا کے بعد گھی رکھنے کی کوشش کے لئے اس لالچی سمجھا .

وہ
Madwar گاؤں سے تعریف کی وضاحت کی کہ ، اور وہ ہمیشہ عاجزی ایک مینیجر کے
طور پر ہر وسائل کا استعمال کرتے ہوئے کنٹرول میں رہنے کے لئے سکھایا گیا
تھا ، اور وہ گرمی اور کھانا پکانے کے لئے گھر کی آگ جلانے کے لئے گھی
استعمال کرنے کا ارادہ کیا ہے.
پھر وہ ، Jivaka ضمانت ” فکر نہ کرو، ہم آپ کو ادا کرے گا .”

انہوں نے کہا کہ ادویات کے زیر انتظام ہے، اور اس طرح اس کے 7 سال کی شکایت کا علاج . بہت اس کے درد کی امداد ملی ، اس نے اسے 4000 سونے کے سککوں کو ادا کرنے کے قابل دیکھا. ایک
ساتھ مل کر ان کے پوتے اور ایک اور 4000 سونے کے سککوں سے ہر ایک ، اور ان
کے شوہر ، تاجر Jivaka ادا کی اس کی بیوی ، 16،000 سونے کے سککوں کے علاوہ
ایک نر نوکر ، ایک خادمہ ، ایک گھوڑا اور ایک پالکی کی پیشکش کی.

اس
کے ساتھ، Jivaka وہ میں اضافے اور اس کی تعلیم کے لئے ان کو اپنایا والد
پوری رقم کے حوالے کر دیا جہاں Magadha میں پرنس Abhysingh کی محل میں گھر
واپس آ گیا.
پرنس رقم سے انکار کر دیا ، اور محل کے قریب اپنے گھر تعمیر کرنے کے لئے اس کی ہدایات دی.
کنگ Bimbisāra کی علاج

اس وقت، بادشاہ اس کے کپڑے خون سے سرخ بننے کا سبب بن جائے گی جو خون بہہ بواسیر ، میں مبتلا کیا گیا تھا . رانی
اس کی حالت کے لئے اس کی ہنسی کرنے لگے تو وہ ذلیل بن گیا ، اور اس کی
حالت کے بارے میں اس کا بیٹا ، پرنس Abhysingh بات کی تھی.
پرنس Abhysingh وہ Jivaka اس کا علاج کرنے کی اجازت دینے کی سفارش کی.

Jivaka اس کی حالت کے علاج ، اس کے ناخن اور زیر انتظام دواؤں مرہم کے تحت ڈال بادشاہ دوائی دی. ان کے علاج کی غرض سے ، بادشاہ Jivaka سونے کے زیورات کی پیشکش کی. Jivaka
ادائیگی سے انکار کر دیا اور صرف بادشاہ سے اس کی سروس کو یاد کرنے کنگ
Bimbisāra سے پوچھا ، کہہ رہے ہیں “میں نے کچھ نہیں کی ضرورت ہے. “

ان
کی گہری تعریف ، کنگ Bimbisāra تحفے Jivaka آم کے درختوں ، محل ، 100،000
سونے کے سککوں ، اور ضلع کے اندر اندر ایک چھوٹے سے گاؤں سے بھرا ایک باغ
کا مظاہرہ کرنے کے لئے.

اس
وقت تک ، بادشاہ بھگوان بدھ کی بکت اور اسپانسر بن ، اور Jivaka عدالت کی
خواتین اور بچوں کی خدمت ، شاہی معالج ہوجائے گا کا اعلان کیا تھا.
انہوں نے کہا کہ بھگوان بدھ اور ان راہبوں پر رائل معالج کی خدمات کی پیشکش کی. اس طرح میں، Jivaka بھگوان بدھ پر ڈاکٹر بن گیا.
امیر مرچنٹ کی علاج

اور اب ایک بار پھر ، اس وقت کے دوران ، Magadha کی ایک بہت امیر تاجر آٹھ سال سے بیمار تھے. نہیں ایک ہی آئروےدک ڈاکٹر اس کا علاج کر میں کامیاب رہا تھا. وہ Jivaka پر آیا تو Jivaka “میں آپ کا علاج تو، آپ کو مجھ سے کیا پیش کرے گا ؟” مرچنٹ پوچھا اس کا آسان جواب “آپ کی درخواست جو کچھ بھی .” تھا امتحان
پر، Jivaka مرچنٹ دائیں 7 ماہ اور اس کی بائیں جانب ایک اور 7 ماہ کے بعد 7
ماہ کے لئے اس کی پیٹھ پر سونے تھا کہ اعلان کر دیا.
انہوں نے اپنے دماغ سے 2 بڑے کیڑے خارج کر دیا جس میں انہوں نے کہا کہ امیر مرچنٹ پر سرجری کارکردگی کا مظاہرہ کیا . سرجری
سے بازیابی کے دوران Jivaka excision کے ذریعے انہوں نے اپنے دماغ سے کیڑے
نکال دیا ، اور ان کی حالت ناقابل علاج تھا کہ ، انہوں نے امکان چند دنوں
کے اندر اندر مر جائے گا کہ امیر مرچنٹ کو بتایا .
Jivaka اس کے سر کے زخم پر مرہم دواؤں کا اطلاق ، اور ان صبر کرنے کے لئے مذکورہ بالا سونے نظام کی مشروعیت . صرف 7 دنوں کے بعد ، امیر مرچنٹ وہ اس کی پیٹھ پر 7 ماہ میں سو نہیں سکا کہ شکایت کی. تو Jivaka ان کے دائیں طرف پر سو شروع کرنے کے لئے اس سے پوچھا ، اور 7 ماہ کے لئے اس کی نیند کی پوزیشن مشروع . پھر 7 دن کے بعد مرچنٹ سات ماہ کے لئے ہر رات اس کے دائیں طرف پر سو ناممکن تھا کہ یہ کہتے ہوئے شکایت . Jivaka پھر بائیں جانب ایک حتمی 7 ماہ سو نے اس سے پوچھا ، اور میں دوبارہ ، 7 دن کے بعد امیر مرچنٹ یہ بھی ناممکن ہو جائے گا کہ . مرچنٹ
کی نوعیت کے بارے میں علم اس حکمت عملی کا استعمال کرتے ہوئے ، Jivaka
کامیابی کے ساتھ 21 دن کے اندر اندر اس کی سرجری سے مکمل وصولی کے نتیجے ،
دونوں جانب کے 7 دن کی ضرورت ہوتی ہے ایک نیند کی پیٹرن کے ساتھ مرچنٹ کا
علاج کیا.

ان کے ٹریٹمنٹ اور چمتکاری وصولی کے لئے ، امیر مرچنٹ ” اب میں تمہارا نوکر ہوں.” ، Jivaka بتایا Jivaka 100،000 سونے کے سککوں کی ادائیگی کی درخواست کی ، اور ایک 100،000 سونے کے سکے بادشاہ کو دیا جائے گا. ان کی زندگی کے لیے، امیر تاجر دل کھول کر ایک ہی بار میں کل رقم کی ادائیگی ، Jivaka کی درخواست دے دی .

اب اس وقت ، Jivaka کی شہرت دور دور تک وسیع پھیل گیا تھا.
Ujjeni کے بادشاہ Prodhyod

پانڈو
بیماری ( نقصان دہ خون کی کمی ) سے دوچار اونتی کی بادشاہی میں Ujjeni کے
شہر کے بادشاہ Prodhyod (دنیا طور پر ایک چراغ کی طرف سے اگر illumined بن
گیا تو جب بدھ کے طور پر اسی سالگرہ کے لئے متبادل کے طور پر نامزد کیا
Pradyota یا Pajjota ، ، )، ،
.5
( بعض نصوص پیلیا کی ایک شکل ہونا کنگ Prodhyod کی حالت کی تشریح . پالی
ٹیکسٹ سوسائٹی “سے طباعت ورژن کے طور پر دستیاب ہے جس میں جی پی
Malalasekera ( 1899-1973 )، کی طرف سے” پالی ناموں کی ڈکشنری “میں Cannda -
ppajjota دیکھو،
لندن “). Jivaka کی عظیم یش کی سماعت ، کنگ Prodhyod اپنے شاہی معالج کی خدمات کی درخواست کرنے کے کنگ Bimbisāra اپنے سفیر بھیجے. دوستانہ شرائط پر ، کنگ Bimbisāra اتفاق کیا ، اور کنگ Prodyod کو دیکھنے کے لئے ، Ujjeni شہر Jivaka بھیجا. Jivaka آمدید بادشاہ کی تشخیص اور علاج مطلوبہ ادویات گھی میں تیار ہے کہ تعین . یہ بڑے پیمانے پر اور وہ اسے اگر بادشاہ detested گھی ، اور تو Jivaka بادشاہ سے پوچھا کہ جانا جاتا تھا. ” کچھ بھی لیکن گھی، ” بادشاہ کا جواب تھا.

اب، مجھے tryhath کے اصول متعارف کرانے کرتے ہیں - جن کے مطالبات ایک انکار نہیں کر سکتے ہیں تین افراد ہیں . یہ تین بادشاہ (یا rajhath ) ، ایک عورت اور بچہ ہیں. تاہم، بادشاہ کی حالت میں ، Jivaka وہ گھی کے ساتھ اندرونی oiling کی ضرورت ہے کہ جانتا تھا. لہذا،
Jivaka بادشاہ گھی کے طور پر تسلیم کرنے کے قابل نہیں ہو گا تو kashaya رس
(ایک کسیلی ذائقہ ) کے ساتھ ایک گھی تیار کرنے کے لئے سوچا .
بادشاہ
کے عظیم غصہ ، اور گھی کے لئے اس عظیم ناپسندیدگی کے بارے میں سنا کے بعد،
انہوں نے اس کا علاج کرنے کے لئے بھڑک اٹھنا بادشاہ کے جذبات پیدا کر سکتا
ہے جانتا تھا ، اور وہ غیض و غضب پر کارفرما ہو سکتا ہے .
جان
بوجھ کر دوردرشتا کے ساتھ، Jivaka ، وضاحت ، محل کی دیواروں کے ذریعے
دروازہ کھلا رکھا جائے جو کی درخواست “ایک ویدی کے طور پر، میں نے بادشاہ
کسی بھی وقت ضرورت ہو سکتی ہے ، جو محل کی دیواروں کے باہر سے دوا کی ضرورت
ہوتی ہے .”
انہوں نے یہ بھی bhadravatikā کے استعمال کی درخواست ، بادشاہ کے تیزی سے وہ ہاتھی، ادویات کی تلاش میں سفر کرنا . ان درخواستوں تاخیر کے بغیر دی گئی.

اس کے بعد، Jivaka بادشاہ ” کسیلی کاڑھی ” کے زیر انتظام . راجہ
نے اسے پینے کے کیا گیا تھا کے طور پر، Jivaka ، ہاتھی یارڈ کے لئے بھاگ
گیا bhadravatikā پہاڑ پر جلدی ، اور شہر سے فرار ہوگئے.

بادشاہ دوا پچا طور پر انہوں نے Jivaka اس گھی دی تھی کہ دریافت کیا. ” مجھ سے Jivaka لاو ،” انہوں نے bellowed ، لیکن اس کے جسم گارڈز وہ پہلے ہی چھوڑ دیا تھا کہ رپوٹ کیا. اس کے ساتھ، بادشاہ نے ان کی واپسی کے لئے ایک بڑی انعام دینے کو تیار ، Jivaka کے بعد ان کے ذاتی نوکر کاک بھیجا. کاک
inhumanly تیز ہونے کے لئے مشہور تھا، اور آسانی سے bhadravatikā آ پڑے
سکتا ہے ، اور تو انہوں نے کاشی میں Jivak کے ساتھ پکڑ لیا.

وہاں بادشاہ اس کی موجودگی کی درخواست ہے کہ Jivaka بتایا ، اور Ujjeni اس کے ساتھ کہ Jivaka واپسی کا مطالبہ کیا کاک . اپنے
آپ کو کچھ وقت خریدنے کے لئے ، Jivaka یہ اس کو نقصان پہنچانے نہیں کریں
گے سوچ ، کاک آبار قبول کیا جو ان کی عظیم سپرنٹ ، کے بعد کچھ amalaki پھل
اور کچھ پانی کی پیشکش کی.
کاک amlaki کی ایک بڑی سرونگ کھایا اور اس کے دل آہستہ آہستہ palpate کرنا شروع کر دیا جس کے تحت ، پانی پیا . پریشان ، کاک “میں رہتے ہیں یا مر جائیں گے ؟” Jivaka پوچھا “تم ٹھیک ہو جائے گی ، اور آپ کے بادشاہ کی صحت کو واپس آ جائیں گے ، لیکن میں بادشاہ کے پاس واپس نہیں کرے گا ،” Jivaka جواب دیا . “میں Ujjeni کرنے کے لئے واپس کرنے کے لئے آپ کے ساتھ بادشاہ کے وہ ہاتھی چھوڑ رہا ہوں. “

اس کے دل کی شرح میں سست کے طور پر ، کاک نیند محسوس کیا ، اور آخر میں سو گئے . طریقوں سے الگ کرنے سے پہلے، Jivaka وہ مکمل طور پر ٹھیک ہو کہ کاک ضمانت ، اور کاک سویا کے طور پر چھوڑ دیا. (
دیگر نصوص نہیں myrobalan amalaki کے کارڈیک اثر کرنے کے لئے ، لیکن وہ
کاک تشدد پاک کرنے کی وجہ سے جو myrobalan میں متعارف کرایا کہ Jivaka کی
کیل میں چھپی ایک جڑی بوٹی یا منشیات پر کاک کی تاخیر منسوب . جی پی
Malalasekera کی طرف سے کاکا ” پالی ناموں کی ڈکشنری ” ملاحظہ کریں
(1899-1973) ، جو ” پالی ٹیکسٹ سوسائٹی ، لندن ” سے طباعت ورژن کے طور پر دستیاب ہے. )

Jivaka پیشن گوئی کے طور پر، کنگ Prodhyod علاج کیا گیا تھا. اپنا آبار دکھانے کے لئے ، کنگ Prodhyod Jivaka کرنے کے لئے ایک مہنگا نایاب شال بھیجا. بدلے میں ، Jivaka بھگوان بدھ کرنے کے لئے پیش کرنے کے لئے کنگ Bimbisāra پر شال دے دی ہے. اس وقت، بھگوان بدھ کے جسم فٹ نہیں تھا. بھگوان بدھ وہ purgation لے جانا چاہتے تھے جس کے لئے ، ان کے جسم میں ٹاکسن کہ ان کے ششی Ayushaman پر نازل کی . Ayushaman
آنند Jivaka کہا جاتا ہے، اور Jivaka purgation کا ایک اور 9 راؤنڈ کو
متاثر کرنے کے لئے، ایک دوسری دوا کے زیر انتظام تو purgation کے 9 راؤنڈ
پر آئے گا ، جس میں بھگوان بدھ کے لئے دوا تیار کی ، اور .
Jivaka سمجھا جاتا ہے کے طور پر وہ ایک پیشن گوئی بھگوان کے جسم purgation کے 19 راؤنڈ ہوگا کہ کو بتایا کہ واپس بلا لیا. لہذا، غسل کے بعد انہوں نے بھگوان بدھ کو حتمی purgation دیا. بھگوان Jivaka سوچ رہا تھا کہ کیا جانتے تھے ، اور ایک گرم غسل تیار کرنے آنند کی درخواست کی. غسل کے بعد بھگوان بدھ purgation کے آخری دور مکمل کیا اور ٹھیک ہو گیا تھا. اس کی خوشی میں، اور Jivaka سے پوچھا، ” تم کیا چاہتے ہو ؟” Jivaka
جواب دیا جس کے کرنے کے لئے، “میں آپ کو دینے کے لئے کنگ Bimbisāra کے
سامنے پیش کیا ہے کہ شال قبول کریں ، اور آپ کے شاگرد مہمل ڈھیر سے ضائع
لباس پہننے کا رجحان ختم کرنے کی اجازت دیتے ہیں .”
کپڑے
کے ضائع کر ٹکڑے ٹکڑے کر ، کاٹا اور ایک دوسرے کے ساتھ سلی ، اور ایک سادہ
اور زمین کے رنگ رنگ ، سادہ، کام kashaya - لباس میں رنگے ہوئے : اس وقت ،
بھگوان بدھ کے راہبوں اور چیلوں mendicant کے روایتی لباس پہنتے تھے .
بدھ
عطا Jivaka کی درخواستوں ، ان کے راہبوں اور شاگردوں laymen اور وہ اس دن
کرنا ہے جس کے ساتھ townspeople ، فیشن اپنے لباس کی طرف سے پیش کپڑے کو
قبول کرنے کی اجازت دی گئی تو .
6
کنگ Kaushleshwar Prasenjit

کنگ Bimbisāra پر دوسرے دوست کنگ Kaushleshwar Prasenjit تھا. کنگ Prasenjit کی پسندیدہ ڈاکٹر وہ ایک comforter دی جن ، Jivaka تھا. ایک بار پھر، Jivaka بھگوان بدھ کو دیا، اور بدھ بھی گرم comforters استعمال کرنے کے چیلوں کی اجازت دے کہ پوچھا.

بدھ کے لئے وقف ہے، یہ ہے کہ وہ بدھ پر کنگ Bimbisāra کی طرف سے دی گئی آم باغ تحفے میں کہا جاتا ہے کہ . آج،
آپ کو اب بھی بہار کے ، بھارت (بھی Amarvan باغ کے طور پر جانا جاتا ہے)
کی حالت میں ، Rajgir کے قریب Jivakambavan طور پر جانا جاتا اس باغ ، دورہ
کر سکتے ہیں .


comments (0)