Analytic Insight Net - FREE Online Tipiṭaka Research & Practice Universitu 
in
 112 CLASSICAL LANGUAGES
Paṭisambhidā Jāla-Abaddha Paripanti Tipiṭaka Anvesanā ca Paricaya Nikhilavijjālaya ca ñātibhūta Pavatti Nissāya 
http://sarvajan.ambedkar.org anto 105 Seṭṭhaganthāyatta Bhāsā
Categories:

Archives:
Meta:
September 2013
M T W T F S S
« Aug   Oct »
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30  
09/20/13
1048 Lesson 21-09-2013 SATURDAY FREE ONLINE E-Nālanda Research and Practice UNIVERSITY thanking internet and free flow of thoughts and ideas, where this era provides a similar - or even more - liberal cultural traditions inherent in the Gupta era through http://sarvajan.ambedkar.org The original Nāland had medicine as one of its compulsory subject Medicine and Pharmacology The new E-Nālanda curriculum is considering accommodating the vast trove of Asian traditional medical systems which encompasses synthesis of indigenous Tibetan, Siddha, Ayurveda, Chinese, Persian (Unani), and Greek
Filed under: General
Posted by: site admin @ 5:04 pm

1048 Lesson 21-09-2013 SATURDAY

FREE ONLINE E-Nālanda
Research and Practice UNIVERSITY thanking internet and free flow of
thoughts and ideas, where this era provides a similar - or even more -
liberal cultural traditions inherent in the Gupta era

through http://sarvajan.ambedkar.org

The
original Nāland had medicine as one of its compulsory subject

Medicine and Pharmacology
The new 
E-Nālanda curriculum is considering accommodating the vast trove of
Asian traditional medical systems which encompasses synthesis of
indigenous Tibetan, Siddha, Ayurveda, Chinese, Persian (Unani), and
Greek


BSP throws down the gauntlet, to contest all seats

Bahujan Samaj Party (BSP) chief Mayawati on Friday said her party
would be a “major force to reckon with” in the upcoming assembly
elections and form the next government in Delhi.

“There will be no tie-up for the Delhi Assembly elections. Our party
will field candidates in all the 70 seats. We will announce the
candidates’ list in the next 10-12 days,” Mayawati said.

Speaking at a meeting of her party leaders and workers to “motivate”
them, Mayawati urged them to campaign aggressively against the Congress’
misrule in Delhi.

The convention took place at the same Talkatora Stadium where the BJP
held a minority and Dalit convention a few weeks ago and the Congress
launched the food security programme.

The former Uttar Pradesh chief minister tried to woo the migrant
population from Uttar Pradesh and Bihar and said both the Congress and
the BJP had given them a step-motherly treatment.

The migrant population living in slums, illegal and resettlement colonies has been the biggest vote bank for the BSP.

Mayawati said her party would sit on a dharna at the offices of the 14 districts of Delhi from September 16.

“We will protest on issues such as inflation, corruption and
deteriorating law and order during the Congress’ rule in the past 15
years in Delhi,” said party’s election in-charge Ram Achal Rajbhar.

The BSP is not new to Delhi’s political arena. The party got 14%
votes in the 2008 assembly elections and won two seats. In the 2012
civic polls, it won 15 seats in the three municipal corporations and
got  nearly 10% of the total votes polled.


Siddha medicine

Siddha Medicine (” சித்த மருத்துவம் ” or ” தமிழ் மருத்துவம் ” in Tamizh) is one of the oldest medical systems known to mankind.[1] Contemporary Tamizh literature holds that the system of Siddha medicine originated in Southern India, in the state of Tamil Nadu, as part of the trio Indian medicines - ayurveda, siddha and unani. Reported to have surfaced more than 10000 years ago,[2] the Siddha system of medicine is considered one of the most ancient traditional medical systems.

“Siddhargal” or Siddhars were the premier scientists of ancient days.[3]
Siddhars, mainly from Southern India laid the foundation for this
system of medication. Siddhars were spiritual adepts who possessed the
ashta siddhis, or the eight supernatural powers. Sage Agathiyar is considered the guru of all Sidhars.

“Agathiyar” was the first Siddhar,
and his disciples and Siddhars from other schools produced thousands of
texts on Siddha, including medicine, and form the propounders of the
system to the world.

The Central Council for Research in Ayurveda and Siddha (CCRAS), established in 1978, by Department of Ayurveda, Yoga and Naturopathy, Unani, Siddha and Homoeopathy (AYUSH), Ministry of Health and Family Welfare, Government of India, coordinates and promotes research in the fields of Ayurveda and Siddha medicine. Also, the Central Council of Indian Medicine
(CCIM), a statutory body established in 1971 under AYUSH, monitors
higher education in areas of Indian medicine, including Siddha. To fight biopiracy and unethical patents, the Government of India, in 2001, set up the Traditional Knowledge Digital Library as a repository of 223,000 formulations of various systems of Indian medicine, such as Ayurveda, Unani and Siddha.

History

The Siddha science is the oldest traditional treatment system
generated from Dravidian culture. The Siddha flourished in the period of
Indus Valley civilization. Palm leaf manuscripts says that the Siddha
system was first described by Lord Shiva to his wife Parvathy. Parvathy
explained all this knowledge to her son Lord Muruga. He taught all these
knowledge to his disciple sage Agasthya. Agasthya taught 18 Siddhars
and they spread this knowledge to human beings.[10]

The word Siddha comes from the word Siddhi which means an object to
be attained perfection or heavenly bliss. Siddha focused to
“Ashtamahasiddhi,” the eight supernatural power. Those who attained or
achieved the above said powers are known as Siddhars. There were 18
important Siddhars in olden days and they developed this system of
medicine. Hence, it is called Siddha medicine. The Siddhars wrote their
knowledge in palm leaf manuscripts,
fragments of which were found in parts of South India. It is believed
that some families may possess more fragments but keep them solely for
their own use. There is a huge collection of Siddha manuscripts kept by
traditional Siddha families.[10]

According to the experts, there were 18 principal siddhars. Of these 18, Agasthya is believed to be the father of siddha medicine. Siddhars were of the concept that a healthy soul
can only be developed through a healthy body. So they developed methods
and medication that are believed to strengthen their physical body and
thereby their souls. Men and women who dedicated their lives into
developing the system were called Siddhars. They practiced intense yogic practices, including years of periodic fasting and meditation, and were believed to have achieved supernatural powers and gained the supreme wisdom and overall immortality.
Through this spiritually attained supreme knowledge, they wrote
scriptures on all aspects of life, from arts to science and truth of
life to miracle cure for diseases.[11]

From the manuscripts, the siddha system of medicine developed into
part of Indian medical science. Today there are recognized siddha
medical colleges, run under the government universities, where siddha
medicine is taught.[12][13]

Siddha medicine means medicine that is perfect. Siddha medicine is
claimed to revitalize and rejuvenate dysfunctional organs that cause the
disease and to maintain the ratio of Vaadham, Pitham and Kabam.
The siddha medicine given to practitioners include leaves, flowers,
fruit and various roots in a mixed basis. In some extraordinary cases,
this medicine is not at all cured. For those such cases, they recommend
to take Thanga Pashpam in it; gold is also added in an eating method.[citation needed]

Most of the practicing Siddha medical practitioners are traditionally trained, usually in families and by gurus (teachers). When the guru is a martial arts teacher, he is also known as an ashan.[disambiguation needed]
They make a diagnosis after a patient’s visit and set about to refer to
their manuscripts for the appropriate remedies, which a true blue
physician compounds by himself or herself, from thousands of herbal and
herbo-mineral resources. The methodology of siddha thought has helped
decipher many causes of disorders and the formulation of curious
remedies which may sometimes have more than 250 ingredients. ==

The




Basics

Generally the basic concepts of the Siddha medicine are almost similar to ayurveda. The only difference appears to be that the siddha medicine recognizes predominance of Vaadham, Pitham and Kabam
in childhood, adulthood and old age, respectively, whereas in ayurveda,
it is totally reversed: Kabam is dominant in childhood, Vaatham in old
age and Pitham in adults.

According to the Siddha medicine, various psychological and
physiological functions of the body are attributed to the combination of
seven elements: first is ooneer (plasma) responsible for growth, development and nourishment; second is cheneer (blood) responsible for nourishing muscles, imparting colour and improving intellect; the third is oon (muscle) responsible for shape of the body; fourth is kolluppu (fatty tissue) responsible for oil balance and lubricating joints; fifth is elumbu (bone) responsible for body structure and posture and movement; sixth is elumbu machai (bone marrow) responsible for formation of blood corpuscles; and the last is sukkilam
(semen) responsible for reproduction. Like in Ayurveda, in Siddha
medicine also, the physiological components of the human beings are
classified as Vaadham (air), Pitham (fire) and Kabam(earth and water).

While Ayurveda was practiced by the ‘upper caste’ physicians, for the
welfare of ‘upper caste’ people, Siddha was not confined to any caste
system and the physicians treated any patient. Ayurvedha, due to its
Vedic roots, patronized the Varna system or the caste system, whereas
the Siddha system did not believe in the caste system and hence was
democratic and progressive.

Concept of disease and cause

It is assumed that when the normal equilibrium of the three humors
(Vaadham, Pittham and Kabam ) is disturbed, disease is caused. The
factors, which assumed to affect this equilibrium are environment,
climatic conditions, diet, physical activities, and stress. Under normal
conditions, the ratio between these three humors i.e.:(Vaadham,
Pittham,Kabam) are 4:2:1, respectively.

According to the siddha medicine system, diet and lifestyle play a
major role, not only in health but also in curing diseases. This concept
of the siddha medicine is termed as pathiyam and apathiyam, which is
essentially a list of “do’s and dont’s”.

Diagnosis

In diagnosis, examination of eight items is required which is commonly known as “enn vakaith thervu”. These are:

  1. Na (tongue): black in Vaatham, yellow or red in pitham, white in kabam, ulcerated in anaemia.
  2. Varnam (colour): dark in Vaatham, yellow or red in pitham, pale in kabam.
  3. Kural (voice): normal in Vaatham, high-pitched in pitham, low-pitched in kabam, slurred in alcoholism.
  4. Kan (eyes): muddy conjunctiva, yellowish or red in pitham, pale in kabam.
  5. Thodal (touch): dry in Vaatham, warm in pitham, chill in kapha, sweating in different parts of the body.
  6. Malam (stool): black stools indicate Vaatham, yellow pitham, pale in kabam, dark red in ulcer and shiny in terminal illness.
  7. Neer (urine): early morning urine is examined; straw color indicates
    indigestion, reddish-yellow color in excessive heat, rose in blood
    pressure, saffron color in jaundice, and looks like meat washed water in
    renal disease.
  8. Naadi (pulse): the confirmatory method recorded on the radial art.

The drugs used by the Siddhars could be classified into three groups: thavaram (herbal product), thadhu (inorganic substances) and jangamam (animal products). The Thadhu drugs are further classified as: uppu (water-soluble inorganic substances or drugs that give out vapour when put into fire), pashanam (drugs not dissolved in water but emit vapour when fired), uparasam (similar to pashanam but differ in action), loham (not dissolved in water but melt when fired), rasam (drugs which are soft), and ghandhagam (drugs which are insoluble in water, like sulphur).[17]

The drugs used in siddha medicine were classified on the basis of five properties: suvai (taste), gunam (character), veeryam (potency), pirivu (class) and mahimai (action).

According to their mode of application, the siddha medicines could be categorized into two classes:

  • Internal medicine was used through the oral route and further
    classified into 32 categories based on their form, methods of
    preparation, shelf-life, etc.
  • External medicine includes certain forms of drugs and also
    certain applications (such as nasal, eye and ear drops), and also
    certain procedures (such as leech application). It also classified into 32 categories.

Treatment

The treatment in siddha medicine is aimed at keeping the three humors
in equilibrium and maintenance of seven elements. So proper diet,
medicine and a disciplined regimen of life are advised for a healthy
living and to restore equilibrium of humors in diseased condition. Saint
Thiruvalluvar explains four requisites of successful treatment. These
are the patient, the attendant, physician and medicine. When the
physician is well-qualified and the other agents possess the necessary
qualities, even severe diseases can be cured easily, according to these
concepts.

The treatment should be commenced as early as possible after
assessing the course and cause of the disease. Treatment is classified
into three categories: devamaruthuvum (Divine method); manuda maruthuvum (rational method); and asura maruthuvum (surgical method). In Divine method, medicines like parpam, chendooram, guru, kuligai made of mercury, sulfur and pashanams are used. In the rational method, medicines made of herbs like churanam, kudineer, or vadagam are used. In surgical method, incision, excision, heat application, blood letting, or leech application are used.

According to therapies the treatments of siddha medicines could be
further categorized into following categories such as purgative therapy,
emetic therapy, fasting therapy, steam therapy, oleation therapy,
physical therapy, solar therapy, blood-letting therapy, yoga therapy, etc.

Varmam

Varmam are vital points in the body that act as energy transformers or batteries. They form centres for boosting the vital life-force Uyir Sakthi flow through the intricate nadi
system of the body. Nature, by its design, has protected these vital
centres by placing them deep inside the body or by covering them with
tissues inaccessible to normal attempts of breach.

Varmam is a holistic therapy on its own and tackles the body, mind
and spirit. A varmam expert understands the underlying links between the
body, vital life-force and the mind. If one looks at the long list of
things which varmam can do, one will be totally mesmerised by the deep
science and the indisputable healing it brings about. The human body can
get into lot of accidents, minor and major, in its lifetime. Very
rarely people are lucky enough to escape accidents in life.

Varmams have been classified based on the type of pressure needed to injure: (a) Paduvarmam (varmam due to injury), (b) Thodu varmam (by touch); Thattu varmam (by blows); (c) Thaduvu varmam (by massage); (d) Nakku varmam (by looking); and (e) Nokku
(by staring). The widely used and recognised ones are the 12
Paduvarmams and 96 Thoduvarmams; there is less consistency with the
other categories simply because of the way of application or the deeper
knowledge needed to apply them. In these categories, the Nokku varmam is
the most awe-generating and is rarely seen practiced, as those masters
who were able to do this are almost extinct.

A varmam therapist needs to have a deep knowledge about the body’s
nerves and physical structure to do an effective treatment. There are
only a few therapists existing in this world, and the modern siddha
world is trying to preserve this art of healing.

Siddha today

Siddha has lost its popularity after allopathic medicine was introduced, as a more-scientific medical system, even in Tamil Nadu. Still, there are a few ardent adopters or at least many people prefer Siddha for only a few diseases like jaundice. After some allopathic doctors, such as Dr. Ramalingam, IMCOPS, president, Chennai, C.N. Deivanayagam, tried to popularize the Siddha system,[18] even a few allopathic doctors have started suggesting Siddha. In 2012, VA Shiva Ayyadurai, a Tamilian and MIT systems scientist, launched an educational program for medical doctors through the Chopra Center with Deepak Chopra which integrates concepts from traditional systems medicine such as Siddha, Ayurveda, and traditional Chinese medicine, with systems science and systems biology.[19]

The Tamil Nadu state runs a 5.5-year course in Siddha medicine (BSMS:
Bachelor in Siddha Medicine and Surgery). The Indian Government also
gives its focus on Siddha, by starting up medical colleges and research
centers like National Institute of Siddha[20] and Central Council for Research in Siddha.[21]
There has been renewed interest in Siddha, as many started feeling
allopathy is not complete and changing its stands/theories frequently.[22] Siddha medicine was found effective for chikungunya.[23]

Commercial interest

Commercially, Siddha medicine is practiced by

  • Siddha family doctors (traditional practitioners), often referred in Tamil as vaithiyars, have transferred knowledge to their children, and
  • Medically certified Siddha doctors who have studied in government Siddha medical colleges.

Educational Institutions

Government of Tamil Nadu runs 2 Siddha Medical Colleges as follows:

Government of India runs a Siddha Medical Colleges as follows:

Colleges available in Kerala

Private Siddha Colleges:

  • Velumailu Siddha Medical College and Hospital, No. 48, G.W.T. Road,
    Opp. Rajiv Gandhi Memorial, Sriperumbudur - 602 105. (Approved by Dept.
    of AYUSH, Govt. of India and affiliated to TN Dr. MGR Medical
    University, Chennai)

TAMIL


சித்த மருத்துவம்

சித்த
மருத்துவம் ( ” சித்த மருத்துவம் ” அல்லது ” தமிழ் மருத்துவம் ” Tamizh ல்
) மனித இனத்தில் அறியப்பட்ட மிக பழமையான மருத்துவ அமைப்புகளில் ஒன்றாகும் .
[ 1 ] தற்கால Tamizh இலக்கியம் தமிழ்நாடு மாநிலத்தில் , சித்த மருத்துவ
அமைப்பு தெற்கு இந்தியாவில் பிறப்பிடமாக என்று பெற்றுள்ளார்
மூவரும், இந்திய மருந்து போன்ற பகுதி - ஆயுர்வேதம் , சித்த மற்றும் யுனானி . அதிகமான
10000 ஆண்டுகளுக்கு முன்பு மேல்தளம் கூறப்படுகிறது , [ 2 ] மருந்து சித்த
அமைப்பு மிக பழமையான பாரம்பரிய மருத்துவ முறைகளை ஒன்றாக கருதப்படுகிறது .

Siddhargal ” அல்லது Siddhars பண்டைய நாட்களில் பிரதமர் விஞ்ஞானிகள்
இருந்தன . முக்கியமாக தென் இந்தியாவில் இருந்து [ 3 ] Siddhars , மருந்து
இந்த அமைப்பு அடித்தளத்தை .
Siddhars அஷ்ட சித்திகளை , அல்லது எட்டு சக்தியினால் கொண்ட ஆன்மீக adepts இருந்தன . முனிவர் அகத்தியர் அனைத்து Sidhars குருவான கருதப்படுகிறது .


அகத்தியர் ” முதல் சித்தர் , மற்றும் இதர பள்ளிகளில் இருந்து அவரது
சீடர்கள் மற்றும் Siddhars மருத்துவம் உள்ளிட்ட , சித்த மீது நூல்கள்
ஆயிரக்கணக்கான உற்பத்தி , மற்றும் உலக அமைப்பின் propounders
உருவாக்குகின்றன.

ஆயுர்வேத
மற்றும் சித்த ஆராய்ச்சி மத்திய கவுன்சில் ( CCRAS ) , ஆயுர்வேத
திணைக்களம் , யோகா மற்றும் உணவு பழக்கத்தை மாற்றி கொள்வதன் மூலம் நோய்
நீக்குதல் , யுனானி , சித்த மற்றும் ஹோமியோபதி ( ஆயுஷ் ) , உடல்நலம்
மற்றும் குடும்ப நல அமைச்சகம் , இந்திய அரசு , மூலம் , 1978 ஆம் ஆண்டு
நிறுவப்பட்டது ஒருங்கிணைக்கிறது மற்றும் ஆராய்ச்சி ஊக்குவிக்கிறது
ஆயுர்வேத மற்றும் சித்த மருத்துவ துறைகளில் . மேலும்
, இந்திய மருத்துவம் ( CCIM ) , ஆயுஷ் கீழ் 1971 ஆம் ஆண்டு நிறுவப்பட்டது
ஒரு சட்ட அமைப்பு , மத்திய கவுன்சில் சித்த உள்ளிட்ட இந்திய மருத்துவ
பகுதிகளில் , உயர் கல்வி கண்காணிக்கிறது .
அத்தகைய
ஆயுர்வேதம் , யுனானி மற்றும் சித்த இந்திய மருத்துவம் பல்வேறு அமைப்புகள் ,
பல 223.000 சூத்திரங்கள் ஒரு களஞ்சியமாக பாரம்பரியமான அறிவு டிஜிட்டல்
நூலகம் அமைக்க 2001 ஆம் ஆண்டில் உயிர்ம திருட்டு மற்றும் நெறிமுறையற்ற
காப்புரிமைகள் , இந்திய அரசு , போராட .
வரலாறு

சித்த அறிவியல் திராவிட கலாச்சாரத்தில் இருந்து உருவாக்கப்பட்ட பழமையான பாரம்பரிய சிகிச்சை முறை ஆகும் . சித்த சிந்து சமவெளி நாகரிகத்தின் காலத்தில் தழைத்தோங்கியது . பனை இலை கையெழுத்து சித்த அமைப்பு முதல் அவரது மனைவி பார்வதி சிவன் விவரித்தார் கூறுகிறார் . பார்வதி தனது மகன் முருகனுக்கு அனைத்து இந்த அறிவு விளக்கினார் . அவர் தனது சீடர் முனிவர் Agasthya அனைத்து இந்த அறிவை கற்று . Agasthya 18 Siddhars கற்று அவர்கள் மனிதர்கள் இந்த அறிவு பரவியது . [ 10 ]

வார்த்தை சித்தர் முழுமையாக அல்லது பரலோக இன்பத்தை எட்ட ஒரு பொருள் அதாவது வார்த்தை சித்தி இருந்து வருகிறது . சித்த ” Ashtamahasiddhi , ” எட்டு இயற்கைக்கு ஆட்சிக்கு கவனம் . எட்டப்பட்ட அல்லது மேலே அடைய அந்த அதிகாரங்களை Siddhars என தெரிவித்தார் . அங்கு பழங்காலங்களில் உள்ள 18 முக்கிய Siddhars மற்றும் அவர்கள் மருத்துவ இந்த அமைப்பு உருவாக்கப்பட்டது . எனவே , இது சித்த மருத்துவம் என்று அழைக்கப்படுகிறது . Siddhars பனை இலை கையெழுத்து தங்கள் அறிவை எழுதினார் , அதில் துண்டுகள் தென் இந்திய பகுதிகளில் காணப்படும். சில
குடும்பங்கள் இன்னும் துண்டுகள் கொண்டிருக்க ஆனால் தங்கள் சொந்த
உபயோகத்திற்காக மட்டுமே அவற்றை வைத்து இருக்கலாம் என்று நம்பப்படுகிறது .
பாரம்பரிய சித்த குடும்பங்கள் வைத்து சித்த கையெழுத்து ஒரு பெரிய சேகரிப்பு இருக்கிறது . [ 10 ]

வல்லுநர்களின் கருத்துப்படி , 18 முக்கிய siddhars இருந்தன . இந்த 18 , Agasthya சித்த மருத்துவத்தின் தந்தை என நம்பப்படுகிறது . Siddhars ஒரு ஆரோக்கியமான ஆன்மா மட்டுமே ஒரு ஆரோக்கியமான உடல் மூலம் உருவாக்கப்பட்டது முடியும் என்று கருத்து இருந்தது . அதனால்
அவர்கள் முறைகள் மற்றும் அவற்றின் உடல் வலுப்படுத்த நம்பப்படுகிறது அதன்
மூலம் அவர்கள் ஆன்மா என்று மருந்து உருவாக்கப்பட்டது .
அமைப்பு வளரும் தங்கள் உயிர்களை அர்ப்பணித்து ஆண்கள் மற்றும் பெண்கள் Siddhars வரவழைக்கப்பட்டனர். அவர்கள்
அவ்வப்போது உண்ணாவிரதம் மற்றும் தியானம் ஆண்டுகள் உட்பட தீவிர யோக
பயிற்சிகள் , பயிற்சி , மற்றும் சக்தியினால் அடைய நம்பப்படுகிறது மற்றும்
உச்ச ஞானம் மற்றும் ஒட்டுமொத்த அழியா பெற்றன .
இந்த
ஆன்மீக அடைந்து உச்ச அறிவு மூலம் , அவர்கள் கலை வாழ்க்கை அறிவியல் மற்றும்
உண்மையை நோய்கள் அதிசயம் குணப்படுத்த வேண்டும் , வாழ்வின் அனைத்து
அம்சங்களிலும் மீது வசனங்கள் எழுதினார். [ 11 ]

கையெழுத்து இருந்து , மருந்து சித்த அமைப்பு இந்திய மருத்துவ அறிவியல் பகுதியாக உருவாக்கப்பட்டது . இன்று
, சித்த மருத்துவ கல்லூரி அங்கீகாரம் சித்த மருத்துவம் கற்று அமைந்துள்ள
அரசாங்க பல்கலைக்கழகங்கள் , கீழ் இயங்குகின்றன. [ 12 ] [ 13 ]

சித்த மருத்துவம் இருக்கிறது என்று மருந்து பொருள் . சித்த
மருத்துவம் புத்துயிர் மற்றும் புத்துயிர் நோயை ஏற்படுத்தும் என்று
செயலிழந்து உறுப்புக்கள் மற்றும் Vaadham , Pitham மற்றும் Kabam விகிதம்
பராமரிக்க கூறினார்.
பயிற்சியாளர்கள்
கொடுத்த சித்த மருத்துவம் இலைகள் , பூக்கள் , பழங்கள் மற்றும் ஒரு
கலவையான அடிப்படையில் பல்வேறு வேர்கள் அடங்கும் .
சில அசாதாரண சந்தர்ப்பங்களில் , இந்த மருந்தை அனைத்து வகைகளை குணப்படுத்தலாம் இல்லை . அந்த அத்தகைய நேரங்களில் , அவர்கள் அதை Thanga Pashpam எடுக்க பரிந்துரை ; . தங்க ஒரு உணவு முறை சேர்க்கப்பட்டுள்ளது [ சான்று தேவை ]

பயிற்சி
சித்த மருத்துவ பயிற்சியாளர்கள் மிகவும் பாரம்பரியமாக பொதுவாக
குடும்பங்கள் மற்றும் குருக்கள் ( ஆசிரியர்கள் ) மூலம் , பயிற்சி
அளிக்கப்பட்டது.
குரு
ஒரு தற்காப்பு கலை ஆசிரியர் போது , அவர் ஒரு ashan அறியப்படுகிறது . [
Disambiguation needed ] அவர்கள் ஒரு நோயாளி வருகை மற்றும் செட் அதற்கான
தீர்வுகளையும் தங்கள் கையெழுத்து பார்க்கவும் பற்றி பின்னர் ஒரு ஆய்வுக்கு ,
செய்ய தன்னை மூலம் எந்த ஒரு உண்மையான நீல மருத்துவர் கலவைகள்
அல்லது தன்னை , மூலிகை மற்றும் herbo - கனிம வளங்களை ஆயிரக்கணக்கான இருந்து . சித்த
சிந்தனை முறை முறையை கண்டுபிடிப்பது பல நோய்களின் காரணங்கள் மற்றும் சில
நேரங்களில் மேற்பட்ட 250 பொருட்கள் இருக்கலாம் என்ற ஆர்வம் வைத்தியம்
வகுக்கப்பட உதவியது.
==
மாற்று மருத்துவ முறைகளில் அக்குபஞ்சர்
போவன் நுட்பம்
உடலியக்க
மருந்துகளை மிக குறைவான அளவில் கொடுத்து நோய் தீர்க்கும் அறிவியல் முறை
இயற்கை மருத்துவ மருந்து
எலும்புகளையும் தசைகளையும் இயக்குவதன் மூலம் நோய் நீக்குதல்
பாரம்பரிய மருத்துவம்
சீன · கொரிய · மங்கோலியன் · திபெத்திய · யுனானி · சித்த · ஆயுர்வேத
முந்தைய என்சிசிஏஎம் களங்கள்
முழு மருத்துவ அமைப்புகள்
மனதில் உடல் தலையீடுகள்
உயிரியல் அடிப்படையில் சிகிச்சைகள்
கையாளுதல் சிகிச்சை
ஆற்றல் சிகிச்சைகள்

    V
    
T
    

உருக்கு

அடிப்படைகளை

பொதுவாக சித்த மருத்துவத்தின் அடிப்படை கருத்துக்கள் ஆயுர்வேதம் கிட்டத்தட்ட ஒத்த . ஒரே
வித்தியாசம் ஆயுர்வேதம் , அது முற்றிலும் எதிர்மறையாக அதேசமயம் சித்த
மருத்துவம் , முறையே , குழந்தை பருவத்தில் , வயதுவந்த மற்றும் வயதான
காலத்தில் Vaadham , Pitham மற்றும் Kabam மேலோங்கிய அங்கீகரிக்கிறது
என்று தோன்றுகிறது : Kabam உள்ள முதியோர் மற்றும் Pitham ல் , Vaatham
குழந்தை பருவத்தில் ஆதிக்கம் உள்ளது
பெரியவர்கள் .

சித்த
மருத்துவம் படி , உடலின் பல்வேறு உளவியல் மற்றும் உடலியல் செயல்பாடுகள்
ஏழு கூறுகள் இணைந்து காரணம்: முதல் வளர்ச்சி , மேம்பாடு மற்றும் பராமரிப்பு
பொறுப்பு ooneer ( பிளாஸ்மா ) ஆகும் ; இரண்டாவது நிறம் வாய்ந்த ,
ஊட்டமளிக்கும் தசைகள் பொறுப்பு cheneer ( இரத்த ) ஆகும்
மற்றும்
அறிவாற்றல் மேம்படுத்துவது ; மூன்றாவது உடலின் வடிவத்தை பொறுப்பு oon (
தசை ) ஆகும் ; நான்காவது எண்ணெய் இருப்பு மற்றும் மசகு மூட்டுகளில்
பொறுப்பு kolluppu ( கொழுப்பு திசுக்கள் ) ஆகும் ; ஐந்தாவது உடல்
கட்டமைப்பு மற்றும் தோற்றம், இயக்கம் பொறுப்பு elumbu ( எலும்பு ) ஆகும் ;
ஆறாவது ஆகும்
elumbu
இரத்த corpuscles உருவாவதற்கு காரணமாக machai ( எலும்பு மஜ்ஜை ) ; கடந்த
இனப்பெருக்கம் பொறுப்பு sukkilam ( விந்து ) ஆகும் .
ஆயுர்வேதம்
போன்ற , சித்த மருத்துவத்தில் கூட , மனித உளவியல் கூறுகள் Vaadham (
காற்று ) , Pitham ( தீ ) மற்றும் Kabam ( பூமி மற்றும் தண்ணீர் ) என்று
வகைப்படுத்தப்படுகின்றன .

ஆயுர்வேதம்
‘ மேல் சாதி ‘ மக்கள் நலனுக்காக , ‘ மேல் சாதி ‘ மருத்துவர்கள்
நடைமுறையில் உள்ள போது , சித்த எந்த சாதி அமைப்பு மட்டும் மற்றும்
மருத்துவர்கள் எந்த சிகிச்சைசெய்யப்பட்டது.
அதன்
வேத வேர்கள் காரணமாக Ayurvedha , சித்த அமைப்பு சாதி அமைப்பில் நம்பவில்லை
அதேசமயம் , வருண அமைப்பு அல்லது சாதி அமைப்பு ஆதரித்த எனவே ஜனநாயக
முற்போக்கு இருந்தது.
நோய் மற்றும் காரணம் கருத்து

இது
மூன்று நீர்மங்களின் நிலையற்ற ( Vaadham , Pittham மற்றும் Kabam ) சாதாரண
சமநிலை சோகமாக இருக்கும் போது , நோய் ஏற்படும் என்று கருதப்படுகிறது .
இந்த
சமநிலையை பாதிக்கும் கருதப்படுகிறது இது காரணிகள் , தட்பவெப்ப நிலைகள் ,
உணவு , உடல் நடவடிக்கைகள் , மற்றும் மன அழுத்தம் சூழலில் உள்ளன .
சாதாரண
சூழ்நிலையில் , இந்த மூன்று நீர்மங்களின் நிலையற்ற அதாவது இடையே விகிதம்: (
Vaadham , Pittham , Kabam ) முறையே 4:2:1 இருக்கிறது .

சித்த
மருத்துவம் முறை படி , உணவு மற்றும் வாழ்க்கை முறை சுகாதார ஆனால்
குணப்படுத்தும் நோய்கள் மட்டும் , ஒரு முக்கிய பங்கு வகிக்கிறது.
சித்த
மருத்துவம் பற்றிய இந்த கருத்து அடிப்படையில் ” செய்ய மற்றும் படம் தான் ”
பட்டியல் இது pathiyam மற்றும் apathiyam , என குறிப்பிடப்படுகிறது .
வியாதி நிர்ணயம்

கண்டறிவதில் , எட்டு பொருட்களை பரிசோதனை பொதுவாக ” enn vakaith thervu ” என அழைக்கப்படும் இது தேவைப்படுகிறது . இவை :

    நா ( மொழி ) : Vaatham கருப்பு , மஞ்சள் அல்லது pitham சிவப்பு , kabam வெள்ளை , சோகை புண்ணில் சீழ் .
    
Varnam ( நிறம்) : kabam உள்ள மங்கலான , Vaatham , மஞ்சள் அல்லது pitham உள்ள சிவப்பு இருண்ட .
    
குறள் ( குரல் ) : சாராய உள்ள குழையும் Vaatham , kabam உள்ள pitham , குறைந்த சத்தத்தை உயர் தொனியிலான , சாதாரண .
    
Kan ( கண்கள் ) : kabam உள்ள மங்கலான , pitham உள்ள மஞ்சள் அல்லது சிவப்பு சேற்று இணையம் (பிணிக்கை) , .
    
Thodal ( டச் ) : Vaatham உலர்ந்த , pitham ல் சூடான , உடலின் பல்வேறு பகுதிகளில் வியர்வை kapha உள்ள குளிர்த்தி , .
    
Malam
( மல ) : கருப்பு மலம் Vaatham , மஞ்சள் pitham , kabam , புண் உள்ள கரும்
சிவப்பு வெளிறிய மற்றும் முனைய நோய்களில் பளபளப்பான குறிக்கிறது .
    
Neer
( சிறுநீர் ) : காலையில் சிறுநீர் ஆய்வு; வைக்கோல் நிற , அதிக வெப்ப
அஜீரணம், சிவப்பு , மஞ்சள் நிற குறிக்கிறது மஞ்சள் காமாலை இரத்த அழுத்தம் ,
காவி நிறத்தில் உயர்ந்தது , மற்றும் சிறுநீரக நோய் இறைச்சி துவைத்த நீர்
போல் .
    
Naadi ( துடிப்பு ) : ஆர கலை பதிவு உறுதிபடுத்தப்பட்ட முறை .

Thavaram
( மூலிகை தயாரிப்பு ) , thadhu ( கனிம பொருட்கள் ) மற்றும் jangamam (
விலங்கு ) : Siddhars பயன்படுத்தப்படும் மருந்துகள் மூன்று பிரிவுகளாக
வகைப்படுத்தலாம்.
Uppu
( நீரில் கரையும் கனிம பொருட்கள் அல்லது தீ வைக்கப்பட்டுள்ளது போது ஆவி
கொடுக்க அந்த மருந்துகள் ) , pashanam ( மருந்துகள் தண்ணீரில் கரைந்த
ஆனால் துப்பாக்கி சூடு போது ஆவி வெளியிடுவதில்லை இல்லை ) , uparasam (
pashanam ஆனால் நடவடிக்கை வேறுபடுகின்றன ஒத்த : Thadhu மருந்துகள் மேலும்
வகைப்படுத்தப்படுகின்றன
)
, loham ( தண்ணீரில் கரைந்த ஆனால் துப்பாக்கி சூடு போது உருக இல்லை ) ,
rasam ( மென்மையான இவை மருந்துகள் ) , மற்றும் ghandhagam ( சல்பர் போன்ற
நீரில் கரையாத அவை மருந்துகள் , ) . [ 17 ]

Suvai
( சுவை ) , gunam ( பாத்திரம் ) , veeryam ( ஆற்றல் ) , pirivu ( வர்க்க )
மற்றும் mahimai ( நடவடிக்கை ) : சித்த மருத்துவத்தில் பயன்படுத்தப்படும்
மருந்துகள் ஐந்து பண்புகள் அடிப்படையில் வகைப்படுத்தப்படுகின்றன.

விண்ணப்ப தங்கள் முறை படி , சித்த மருந்துகள் இரண்டு வகைகளாக பிரிக்கப்பட்டு:

    உள்
மருத்துவம் வாய்வழி வழியாக பயன்படுத்தப்படுகிறது மேலும் அவற்றின் வடிவம்
அடிப்படையில் 32 பிரிவுகள் , தயாரிப்பு முறைகள் , அடுக்கு வாழ்க்கை ,
முதலியன வகைப்படுத்தப்படுகின்றன
    
புற
மருத்துவம் மருந்துகள் மற்றும் சில பயன்பாடுகள் ( போன்ற நாசி , கண்
மற்றும் காது சொட்டு போல ) , மேலும் சில நடைமுறைகள் ( அதாவது அட்டை
பயன்பாடு போன்ற ) சில வடிவங்கள் உள்ளன .
இது 32 வகைகளாக பிரிக்கப்படுகிறது .

முறை

சித்த மருத்துவத்தில் சிகிச்சை சமநிலை மற்றும் ஏழு கூறுகள் பராமரிப்பு மூன்று நீர்மங்களின் நிலையற்ற வைத்து இலக்காக உள்ளது . எனவே
, சரியான உணவு , மருந்து மற்றும் வாழ்க்கை ஒரு ஒழுக்கமான ஆட்சி ஒரு
ஆரோக்கியமான வாழ்க்கை அறிவுறுத்தப்படுகிறது மற்றும் நோயுற்ற நிலையில்
நீர்மங்களின் நிலையற்ற அளவில் சமநிலையை மீட்டெடுக்க .
செயிண்ட் திருவள்ளுவர் வெற்றிகரமான சிகிச்சை நான்கு தேவைகள் விளக்குகிறது . இந்த நோயாளி , உதவியாளர் , மருத்துவர் மற்றும் மருத்துவம் உள்ளன . மருத்துவர்
நன்கு தகுதி மற்றும் மற்ற முகவர்கள் தேவையான குணங்கள் கொண்டிருக்கும்
போது , கூட கடுமையான நோய்கள் இந்த கருத்துக்கள் படி , எளிதில்
குணப்படுத்த முடியும் .

சிகிச்சை நோய் நிச்சயமாக மற்றும் காரணம் மதிப்பிடும் பின்னர் ஆரம்பத்தில் முடிந்தவரை தொடங்கியது. ;
Manuda maruthuvum ( அறிவார்ந்த முறை ) மற்றும் அசுரர் maruthuvum ( அறுவை
சிகிச்சை முறை ) devamaruthuvum ( தெய்வீக முறை ) : சிகிச்சை மூன்று
வகைகளாக பிரிக்கப்படுகிறது.
தெய்வீக
முறை , parpam , chendooram , குரு போன்ற மருந்துகள் , kuligai பாதரசம் ,
சல்பர் செய்யப்பட்ட மற்றும் pashanams பயன்படுத்தப்படுகின்றன .
அறிவார்ந்த முறையில் , churanam , kudineer , அல்லது vadagam போன்ற மூலிகைகள் செய்யப்பட்ட மருந்துகள் பயன்படுத்தப்படுகின்றன . அறுவை சிகிச்சை முறை , கீறல் , வெட்டி எடுக்கும் , வெப்ப பயன்பாடு , விடாமல் , அல்லது அட்டை விண்ணப்ப இரத்த பயன்படுத்தப்படுகின்றன .

சிகிச்சைகள்
படி சித்த மருந்து சிகிச்சைகள் மேலும் அத்தகைய பேதி சிகிச்சை ,
வாந்தியடக்கி சிகிச்சை , உண்ணாவிரதம் சிகிச்சை , நீராவி சிகிச்சை ,
oleation சிகிச்சை , உடல் சிகிச்சை , சூரிய சிகிச்சை , இரத்த விடாமல்
சிகிச்சை , யோகா சிகிச்சை போன்ற பின்வரும் வகைகளாக பிரிக்கப்பட்டு
Varmam

Varmam உடலில் முக்கிய புள்ளிகள் என்று ஆற்றல் மின்மாற்றிகள் அல்லது பேட்டரிகள் போன்ற செயல் . அவர்கள் உடலின் சிக்கலான நாடி கணினி மூலம் முக்கிய வாழ்க்கை சக்தியாக உயிர் சக்தி ஓட்டத்தை மேம்படுத்த மையங்கள் அமைக்க . இயற்கை
, அதன் வடிவமைப்பு , உடல் உள்ளே ஆழமான வைப்பதன் மூலம் அல்லது மீறி சாதாரண
முயற்சிகள் அணுக திசுக்கள் அவர்கள் உள்ளடக்கும் இந்த முக்கிய மையங்களில்
பாதுகாக்கப்படுவதால்.

Varmam அதன் சொந்த ஒரு முழுமையான சிகிச்சை மற்றும் உடல் , மனம் மற்றும் ஆன்மாவை சமாளிக்கும் . ஒரு Varmam நிபுணர் உடல் இடையே அடிப்படை இணைப்புகள் , முக்கிய வாழ்க்கை சக்தி மற்றும் மனதில் அறிகிறது. ஒரு
Varmam செய்ய முடியும் விஷயங்களை நீண்ட பட்டியலில் தெரிகிறது என்றால் ,
ஒரு முற்றிலும் ஆழமான அறிவியல் மற்றும் அதை பற்றி கொண்டு மறுக்கமுடியாத
சிகிச்சைமுறை மூலம் மெய்மறக்கவேண்டும்.
மனித உடலில் அதன் வாழ்நாளில் , சிறு மற்றும் பெரிய விபத்துக்கள் , நிறைய பெற முடியும் . மிக அரிதாக மக்கள் வாழ்வில் விபத்துக்கள் தப்பிக்க போதுமான அதிர்ஷ்டம் .

Varmams
காயப்படுத்துவதாக தேவை அழுத்த வகை அடிப்படையில் வகைப்படுத்தப்படுகின்றன: (
ஒரு ) Paduvarmam ( Varmam காயம் காரணமாக ) , ( ப ) தொடு Varmam (
தொடுதல் மூலம் ) ; Thattu Varmam ( வீச்சுகளில் மூலம் ) ; ( கேட்ச் )
Thaduvu Varmam ( மசாஜ் மூலம்
) ; ( ஈ ) நக்கமுக்க Varmam ( பார்க்க ) மற்றும் ( இ ) Nokku ( வெறித்து மூலம் ) . பரவலாக
பயன்படுத்தப்படும் மற்றும் அங்கீகரிக்கப்பட்ட தான் 12 Paduvarmams மற்றும்
96 Thoduvarmams உள்ளன ; வெறுமனே ஏனெனில் பயன்பாடு அல்லது விண்ணப்பிக்க
தேவை ஆழமான அறிவு வழியில் மற்ற பிரிவுகள் குறைந்த நிலைத்தன்மையும் உள்ளது .
இந்த
பிரிவுகளில் , Nokku Varmam மிகவும் பிரமிப்பு -உருவாக்கும் மற்றும் இதை
செய்ய முடிந்தது அந்த முதுநிலை கிட்டத்தட்ட அழிந்து உள்ளன அரிதாக ,
நடைமுறையில் உள்ளது .

ஒரு Varmam சிகிச்சை உடலின் நரம்புகள் மற்றும் ஒரு பயனுள்ள சிகிச்சை செய்ய உடல் அமைப்பு பற்றி ஒரு ஆழமான அறிவு வேண்டும் . அங்கு இந்த உலகத்தில் ஒரு சில மருத்துவர்கள் , மற்றும் நவீன சித்த உலக சிகிச்சைமுறை இந்த கலை பாதுகாக்க முயற்சி .
சித்த இன்று

ஆங்கில
மருத்துவம் அறிமுகப்படுத்தப்பட்ட பிறகு சித்த கூட தமிழ்நாட்டில் , மேலும் ,
விஞ்ஞான மருத்துவ அமைப்பு , அதன் புகழ் இழந்துவிட்டது .
இன்னும்
, ஒரு சில தீவிர மேற்கொள்ள உள்ளன அல்லது குறைந்த பட்சம் பல மக்கள் மஞ்சள்
காமாலை போன்ற ஒரு சில நோய்களுக்கு சித்த விரும்புகின்றனர் .
அத்தகைய டாக்டர் ராமலிங்கம் , IMCOPS , தலைவர் , சென்னை , சி போன்ற சில ஆங்கில மருத்துவர்கள் , பின்னர் Deivanayagam , கூட ஒரு சில ஆங்கில மருத்துவர்கள் சித்த கருத்தை தொடங்கியது , சித்த அமைப்பு பிரபலப்படுத்த [ 18 ] முயற்சித்தது . 2012
ல் , VA சிவன் Ayyadurai , ஒரு தமிழர் , எம்ஐடி அமைப்புகள் விஞ்ஞானி ,
அமைப்புகள் அறிவியல் கொண்டு , அத்தகைய சித்த , ஆயுர்வேத , மற்றும்
பாரம்பரிய சீன மருத்துவம் போன்ற பாரம்பரிய முறைமைகள் மருத்துவம் இருந்து
கருத்துக்கள் ஒருங்கிணைக்கிறது இது தீபக் சோப்ரா சோப்ரா மையம் மூலம்
மருத்துவர்கள் ஒரு கல்வி திட்டம் தொடங்கப்பட்டது மற்றும்
அமைப்புகள் உயிரியல் . [ 19 ]

தமிழ்நாடு
மாநில சித்த மருத்துவம் ( : இளங்கலை சித்த மருத்துவம் மற்றும் அறுவை
சிகிச்சை உள்ள BSMS ) ஒரு 5.5 ஆண்டு நிச்சயமாக நடத்துகிறது .
இந்திய
அரசு கூட சித்த நேஷனல் இன்ஸ்டிடியூட் போன்ற மருத்துவ கல்லூரிகள் மற்றும்
ஆராய்ச்சி மையங்களை தொடங்கி மூலம் , சித்த அதன் கவனம் கொடுக்கிறது [ 20 ]
சித்த ஆராய்ச்சி மற்றும் மத்திய கவுன்சில் . [ 21 ] பல உணர்வு allopathy
துவங்கியது , சித்த வட்டி இல்லை புதுப்பிக்கப்பட்டுள்ளது
பூர்த்தி
அடிக்கடி அதன் நிற்பவர்கள் / கோட்பாடுகள் மாறிவருகிறது. [ 22 ] சித்த
மருத்துவம் சிக்கன்குனியா பயனுள்ளதாக இருந்தது . [ 23 ]
வர்த்தக வட்டி

வணிக ரீதியாக , சித்த மருத்துவம் மூலம் பயிற்சி

    பெரும்பாலும்
vaithiyars என தமிழ் குறிப்பிடப்படுகிறது சித்த குடும்ப மருத்துவர்கள் (
பாரம்பரிய பயிற்சியாளர்கள் ) , தங்கள் குழந்தைகளுக்கு அறிவு பரிமாற்றம் ,
மற்றும்
    
அரசு சித்த மருத்துவ கல்லூரிகளில் ஆய்வு செய்த மருத்துவ சான்றிதழ் சித்த மருத்துவர்கள் .

கல்வி நிறுவனங்கள்

தமிழ்நாடு அரசு பின்வருமாறு 2 சித்த மருத்துவ கல்லூரிகள் இயங்கும் :

    அரசு சித்த மருத்துவ கல்லூரி , Palayamkottai , திருநெல்வேலி மாவட்டத்தில்
    
அரசு சித்த மருத்துவ கல்லூரி , அண்ணா மருத்துவமனை வளாகம் , Arumbakkam , சென்னை 106 .

இந்திய அரசு பின்வருமாறு ஒரு சித்த மருத்துவ கல்லூரிகள் இயங்கும் :

    சித்த , தாம்பரம் , நேஷனல் இன்ஸ்டிடியூட் ஆப் காஞ்சிபுரம் மாவட்டம் ( NearChennai )

கேரளா கிடைக்க கல்லூரிகள்

    Santhigiri சித்த மருத்துவ கல்லூரி , திருவனந்தபுரம் .

தனியார் சித்த கல்லூரிகள் :

    Velumailu சித்த மருத்துவ கல்லூரி மற்றும் மருத்துவமனை , இல 48 , GWT ரோடு , எதிரில் . ராஜீவ் காந்தி நினைவு , ஸ்ரீபெரும்புதூர் - 602 105 . (
ஆயுஷ் என்ற துறை , அரசு . இந்திய அங்கீகரிக்கப்பட்ட மற்றும் தமிழக டாக்டர்
எம்.ஜி. ஆர் மருத்துவ பல்கலைக்கழகம் ,

சென்னை இணைந்துள்ள )

Hindi

सिद्ध चिकित्सा

सिध्द
चिकित्सा (” சித்த மருத்துவம் ” या ” தமிழ் மருத்துவம் ” तमिज्ह में )
मानव जाति के लिए जाना जाता है सबसे पुराना चिकित्सा प्रणालियों में से एक
है . [ 1 ] समकालीन तमिज्ह साहित्य तमिलनाडु राज्य में , सिद्ध चिकित्सा
पद्धति दक्षिण भारत में जन्म लिया है कि रखती है
तीनों भारतीय दवाओं के रूप में भाग - आयुर्वेद , सिद्ध और यूनानी . 10000
से अधिक साल पहले सामने आए हैं करने के लिए रिपोर्ट , [2 ] दवा के सिद्ध
प्रणाली सबसे प्राचीन पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों में से एक माना जाता है.

Siddhargal ” या Siddhars प्राचीन दिनों के प्रमुख वैज्ञानिकों थे . मुख्य
रूप से दक्षिण भारत से [3 ] Siddhars , दवा के इस प्रणाली के लिए नींव रखी
.
Siddhars अष्ट siddhis , या आठ अलौकिक शक्तियों के पास जो आध्यात्मिक adepts थे . बाबा Agathiyar सभी Sidhars का गुरु माना जाता है.


Agathiyar ” पहले सिद्धर था , और अन्य स्कूलों से अपने चेलों और Siddhars
दवा सहित , सिद्ध ग्रंथों पर हजारों का उत्पादन , और दुनिया के लिए प्रणाली
का propounders के रूप में.

आयुर्वेद
एवं सिद्ध अनुसंधान परिषद (सीसीआरएएस ) , आयुर्वेद विभाग , योग और
प्राकृतिक चिकित्सा, यूनानी , सिद्ध और होम्योपैथी ( आयुष ) , स्वास्थ्य
एवं परिवार कल्याण मंत्रालय , भारत सरकार द्वारा 1978 में स्थापित
निर्देशांक और अनुसंधान को बढ़ावा देता है
आयुर्वेद और सिद्ध चिकित्सा के क्षेत्र में . इसके
अलावा , भारतीय मेडिसिन ( सीसीआईएम) , आयुष के तहत 1971 में स्थापित एक
सांविधिक निकाय , केन्द्रीय परिषद सिद्धा सहित भारतीय चिकित्सा के
क्षेत्रों में उच्च शिक्षा पर नजर रखता है .
ऐसे
आयुर्वेद , यूनानी और सिद्ध के रूप में भारतीय चिकित्सा की विभिन्न
प्रणालियों के 223.000 योगों के भंडार के रूप में पारंपरिक ज्ञान डिजिटल
लाइब्रेरी की स्थापना 2001 में biopiracy और अनैतिक पेटेंट , भारत सरकार ,
लड़ने के लिए .
इतिहास

सिद्ध विज्ञान द्रविड़ संस्कृति से उत्पन्न सबसे पुराने पारंपरिक उपचार प्रणाली है . सिध्द सिंधु घाटी सभ्यता की अवधि में विकसित हुई . ताड़ का पत्ता पांडुलिपियों सिद्ध प्रणाली पहले अपनी पत्नी पार्वती को भगवान शिव ने बताया था कि कहते हैं. पार्वती उसके पुत्र प्रभु मुरुगा के लिए यह सब ज्ञान के बारे में बताया. वह अपने शिष्य ऋषि Agasthya इन सभी ज्ञान सिखाया . Agasthya 18 Siddhars पढ़ाया जाता है और वे मानव जाति के लिए इस ज्ञान का प्रसार . [10 ]

शब्द सिद्ध पूर्णता या स्वर्गीय आनंद प्राप्त किया जा करने के लिए एक वस्तु का अर्थ है जो शब्द सिद्धी से आता है. सिद्ध ” Ashtamahasiddhi , ” आठ अलौकिक शक्ति के लिए जोर दिया. प्राप्त या ऊपर हासिल की है जो उन शक्तियों Siddhars रूप में जाना जाता था. वहाँ पुराने दिनों में 18 महत्वपूर्ण Siddhars थे और वे इस चिकित्सा पद्धति विकसित की है. इसलिए, यह सिद्ध चिकित्सा कहा जाता है. Siddhars ताड़ का पत्ता पांडुलिपियों में अपने ज्ञान को लिखा था , जिसमें से टुकड़े दक्षिण भारत के कुछ हिस्सों में पाए गए . यह कुछ परिवारों अधिक टुकड़े के अधिकारी, लेकिन उनके खुद के इस्तेमाल के लिए केवल उन्हें रख सकते हैं कि माना जाता है . पारंपरिक सिद्ध परिवारों द्वारा रखा सिद्ध पांडुलिपियों का एक विशाल संग्रह है . [10 ]

विशेषज्ञों के मुताबिक , 18 प्राचार्य siddhars थे . इन 18 में से Agasthya सिद्ध दवा का पिता माना जा रहा है . Siddhars एक स्वस्थ आत्मा केवल एक स्वस्थ शरीर के माध्यम से विकसित किया जा सकता है कि अवधारणा के थे . तो वे तरीके और उनके भौतिक शरीर को मजबूत माना जाता है और इस तरह उनकी आत्मा रहे हैं कि दवा विकसित की है. प्रणाली के विकास में अपना जीवन समर्पित कर जो पुरुषों और महिलाओं Siddhars कहा जाता था . वे
आवधिक उपवास और ध्यान के वर्षों सहित तीव्र योग प्रथाओं , अभ्यास , और
अलौकिक शक्तियां हासिल किया है माना जाता है और परम ज्ञान और समग्र अमरत्व
प्राप्त किया गया .
इस
आध्यात्मिक प्राप्त सर्वोच्च ज्ञान के माध्यम से, वे कला से जीवन का
विज्ञान और सच्चाई को बीमारियों के लिए चमत्कार इलाज करने के लिए , जीवन के
सभी पहलुओं पर शास्त्रों में लिखा था . [11 ]

पांडुलिपियों से, सिद्ध चिकित्सा प्रणाली को भारतीय चिकित्सा विज्ञान के भाग के रूप में विकसित किया . आज
वहाँ , सिद्ध चिकित्सा कॉलेजों को मान्यता दी सिद्ध चिकित्सा पढ़ाया जा
रहा है जहां सरकार विश्वविद्यालयों , के तहत चलाए जा रहे हैं . [12 ] [13 ]

सिद्ध चिकित्सा सही है कि दवा का मतलब है. सिद्ध
चिकित्सा पुनर्जीवित और फिर से जीवंत रोग का कारण है कि बेकार अंगों और
Vaadham , Pitham और Kabam के अनुपात को बनाए रखने का दावा किया है .
चिकित्सकों को दी सिद्ध दवा के पत्ते, फूल, फल और एक मिश्रित आधार में विभिन्न जड़ों में शामिल हैं . कुछ असाधारण मामलों में, यह दवा सब ठीक नहीं है. उन
में इस तरह के मामलों के लिए, वे उस में थांगा Pashpam लेने की सलाह देते
हैं, . सोना भी एक खा विधि में जोड़ा जाता है [ प्रशस्ति पत्र की जरूरत ]

अभ्यास
सिद्ध चिकित्सा चिकित्सकों में से अधिकांश पारंपरिक रूप से आमतौर पर
परिवारों में और गुरु ( शिक्षकों ) द्वारा , प्रशिक्षित किया जाता है .
गुरु
एक मार्शल आर्ट शिक्षक है, वह भी एक आशान के रूप में जाना जाता है. [
बहुविकल्पी जरूरत] वे एक रोगी की यात्रा और सेट उपयुक्त उपचार के लिए उनकी
पांडुलिपियों का उल्लेख करने के बाद के बारे में एक निदान , कर खुद के
द्वारा जो एक सच्चे नीले चिकित्सक यौगिकों
या खुद को , हर्बल और herbo खनिज संसाधनों के हजारों से . सिद्ध
सोचा की कार्यप्रणाली समझने कई बीमारियों का कारण बनता है और कभी कभी 250
से अधिक सामग्री हो सकती है जो उत्सुक उपचार तैयार करने में मदद मिली है .
==
वैकल्पिक चिकित्सा प्रणालियों एक्यूपंक्चर
बोवेन तकनीक
chiropractic
होमियोपैथी
प्राकृतिक चिकित्सा
अस्थिरोगविज्ञानी
पारंपरिक दवा
चीनी · कोरियाई · मंगोलियाई · तिब्बती · यूनानी · सिध्द · आयुर्वेद
पिछला NCCAM डोमेन
पूरे चिकित्सा प्रणालियों
मन शरीर हस्तक्षेप
Biologically आधारित चिकित्सा
जोड़ तोड़ चिकित्सा
ऊर्जा उपचारों

    ध्
    
टी
    

मूल बातें

आम तौर पर सिद्ध चिकित्सा की बुनियादी अवधारणाओं आयुर्वेद के लगभग समान हैं . फर्क
सिर्फ इतना है आयुर्वेद में , यह पूरी तरह से उलट है जबकि सिद्ध चिकित्सा,
क्रमशः , बचपन , यौवन और बुढापे में Vaadham , Pitham और Kabam की प्रबलता
पहचानता है कि प्रतीत होता है: Kabam में वृद्धावस्था और Pitham में ,
Vaatham बचपन में प्रमुख है
वयस्कों .

सिद्ध
चिकित्सा के अनुसार, शरीर के विभिन्न मनोवैज्ञानिक और शारीरिक कार्यों सात
तत्वों के संयोजन के लिए जिम्मेदार हैं : पहली वृद्धि, विकास और पोषण के
लिए जिम्मेदार ooneer ( प्लाज्मा ) है, दूसरा रंग प्रदान करने , पौष्टिक
मांसपेशियों के लिए जिम्मेदार cheneer ( रक्त ) है
और
बुद्धि में सुधार , तीसरा शरीर के आकार के लिए जिम्मेदार oon ( मांसपेशी )
है , चौथे तेल संतुलन और चिकनाई जोड़ों के लिए जिम्मेदार kolluppu ( वसा
ऊतकों ) है , पांचवें शरीर संरचना और मुद्रा और आंदोलन के लिए जिम्मेदार
elumbu ( हड्डी ) है , छठे है
elumbu रक्तकण के गठन के लिए जिम्मेदार machai ( अस्थि मज्जा ), और पिछले प्रजनन के लिए जिम्मेदार sukkilam ( वीर्य ) है . आयुर्वेद
की तरह , सिद्ध चिकित्सा में भी मनुष्य के शारीरिक घटकों Vaadham ( हवा ) ,
Pitham ( आग ) और Kabam ( पृथ्वी और पानी ) के रूप में वर्गीकृत किया जाता
है .

आयुर्वेद
‘ ऊंची जाति ‘ लोगों के कल्याण के लिए , ‘ ऊंची जाति ‘ चिकित्सकों द्वारा
अभ्यास किया था, सिद्धा किसी भी जाति व्यवस्था तक ही सीमित है और
चिकित्सकों के किसी भी मरीज का इलाज नहीं किया गया था .
इसके
वैदिक जड़ों के कारण Ayurvedha , , सिद्ध प्रणाली जाति व्यवस्था में
विश्वास नहीं किया है, जबकि वर्ण व्यवस्था या जाति व्यवस्था को संरक्षण और
इसलिए लोकतांत्रिक और प्रगतिशील था .
रोग और कारण की संकल्पना

यह तीन humors ( Vaadham , Pittham और Kabam ) का सामान्य संतुलन परेशान है , जब रोग के कारण होता है कि माना जाता है . इस
संतुलन को प्रभावित करने के लिए मान लिया है जो कारकों, जलवायु
परिस्थितियों , आहार , शारीरिक गतिविधियों , और तनाव के माहौल में हैं.
सामान्य परिस्थितियों के अंतर्गत , इन तीन humors अर्थात के बीच अनुपात : ( Vaadham , Pittham , Kabam ) क्रमश: 04:02:01 हैं .

सिद्ध
चिकित्सा प्रणाली के मुताबिक , आहार और जीवन शैली के स्वास्थ्य में बल्कि
इलाज के रोगों में न केवल एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं.
सिद्ध
चिकित्सा की इस अवधारणा को अनिवार्य रूप से “नहीं है और न ” की एक सूची है
जो pathiyam और apathiyam , के रूप में कहा जाता है .
निदान

निदान में, आठ मदों की परीक्षा सामान्यतः ” ENN vakaith thervu ” के रूप में जाना जाता है जो आवश्यक है . ये हैं:

    ना ( जीभ ) : Vaatham में काला , पीला या pitham में लाल , kabam में सफेद , रक्ताल्पता में ulcerated .
    
Varnam ( रंग ) : kabam में पीला , Vaatham , पीले या pitham में लाल रंग में अंधेरा .
    
कुरल ( आवाज ) : शराब में slurred Vaatham , kabam में pitham , अकुशादा में अनिमेष , में सामान्य .
    
कान ( आँखें) : kabam में पीला , pitham में पीले या लाल मैला कंजाक्तिवा , .
    
Thodal ( स्पर्श ) : Vaatham में सूखा , pitham में गर्म , शरीर के विभिन्न भागों में पसीना कफ में सर्द , .
    
Malam
( मल ) : काला मल Vaatham , पीले pitham , kabam , अल्सर में गहरे लाल रंग
में पीला और लाइलाज बीमारी में चमकदार संकेत मिलता है.
    
नीर
( मूत्र ) : सुबह मूत्र की जांच की है , भूसे रंग , अत्यधिक गर्मी में अपच
, लाल, पीले रंग का संकेत है पीलिया में रक्तचाप , भगवा रंग में गुलाब ,
और गुर्दे की बीमारी में मांस धोया पानी की तरह लग रहा है.
    
Naadi ( पल्स ) : रेडियल कला पर दर्ज पुष्टि विधि .

Thavaram
( हर्बल उत्पाद ) , thadhu ( अकार्बनिक पदार्थ) और jangamam ( पशु
उत्पादों ) : Siddhars द्वारा इस्तेमाल दवाओं को तीन समूहों में वर्गीकृत
किया जा सकता है .
Uppu
( पानी में घुलनशील अकार्बनिक पदार्थ या आग में डाल दिया जब भाप बाहर दे
कि ड्रग्स) , pashanam (ड्रग्स पानी में भंग लेकिन गोली चलाई जब वाष्प का
उत्सर्जन नहीं ) , uparasam ( pashanam लेकिन कार्रवाई में मतभेद के समान:
Thadhu दवाओं आगे के रूप में वर्गीकृत कर रहे हैं
)
, loham ( पानी में भंग लेकिन गोली चलाई जब पिघल नहीं ) , रसम ( नरम हैं ,
जो ड्रग्स) , और ghandhagam ( सल्फर की तरह पानी में अघुलनशील हैं जो
दवाओं , ) . [17 ]

Suvai
( स्वाद ) , gunam ( चरित्र ) , veeryam ( शक्ति ) , pirivu ( वर्ग ) और
mahimai ( कार्रवाई ) : सिद्ध चिकित्सा में इस्तेमाल दवाओं के पाँच गुणों
के आधार पर वर्गीकृत किया गया.

आवेदन के अपने मोड के अनुसार, सिद्ध दवाओं के दो वर्गों में बांटा जा सकता है :

    आंतरिक
चिकित्सा मौखिक मार्ग के माध्यम से इस्तेमाल किया और आगे अपने फार्म के
आधार पर 32 श्रेणियों , तैयारी के तरीकों , शैल्फ जीवन , आदि में वर्गीकृत
किया गया था
    
बाहरी
दवा दवाओं और भी कुछ अनुप्रयोगों (जैसे नाक , आंख और कान के बूंदों के रूप
में ) , और भी कुछ प्रक्रियाओं (जैसे जोंक आवेदन के रूप में) के कुछ रूपों
में शामिल हैं .
यह भी 32 श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है .

उपचार

सिद्ध चिकित्सा में इलाज संतुलन और सात तत्वों के रखरखाव में तीन humors रखने के उद्देश्य से है . तो
उचित आहार , दवा और जीवन का एक अनुशासित आहार एक स्वस्थ रहने के लिए सलाह
दी जाती है और रोगग्रस्त हालत में humors का संतुलन बहाल करने के लिए .
संत तिरुवल्लुवर सफल उपचार के चार आवश्यक वस्तुएँ बताते हैं. ये रोगी , परिचर , चिकित्सक और दवा है. चिकित्सक
अच्छी तरह से योग्य है और अन्य एजेंटों के आवश्यक गुणों के अधिकारी करते
हैं, यहां तक ​​कि गंभीर बीमारियों इन अवधारणाओं के अनुसार , आसानी से ठीक
किया जा सकता है .

उपचार रोग के पाठ्यक्रम और कारण का आकलन करने के बाद जितनी जल्दी हो सके शुरू किया जाना चाहिए . ;
Manuda maruthuvum ( तर्कसंगत विधि ), और असुर maruthuvum ( शल्य चिकित्सा
पद्धति ) devamaruthuvum (दिव्य विधि ) : उपचार तीन श्रेणियों में
वर्गीकृत किया गया है .
देवी विधि में, parpam , chendooram , गुरु की तरह दवाओं , kuligai पारा , गंधक से बना है और pashanams उपयोग किया जाता है . तर्कसंगत विधि में, churanam , kudineer , या vadagam तरह जड़ी बूटियों से बने दवाओं का इस्तेमाल किया जाता है. शल्य चिकित्सा पद्धति में, चीरा , छांटना , गर्मी आवेदन , दे , या जोंक आवेदन खून का इस्तेमाल किया जाता है.

उपचारों
के अनुसार सिद्ध दवाओं के उपचार के आगे इस तरह रेचक चिकित्सा , उबकाई
चिकित्सा , उपवास चिकित्सा , भाप चिकित्सा , oleation चिकित्सा , भौतिक
चिकित्सा , सौर चिकित्सा , रक्त दे चिकित्सा , योग चिकित्सा , आदि के रूप
में निम्नलिखित श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है
Varmam

Varmam शरीर में महत्वपूर्ण बातें हैं कि ऊर्जा ट्रांसफार्मर या बैटरी के रूप में काम करते हैं. वे शरीर की जटिल नदी प्रणाली के माध्यम से महत्वपूर्ण जीवन शक्ति Uyir शक्ति का प्रवाह बढ़ाने के लिए केंद्रों के रूप में. प्रकृति
, इसकी डिजाइन से , शरीर के अंदर उन्हें गहरी रखकर या उल्लंघन का सामान्य
प्रयास करने के लिए दुर्गम ऊतकों के साथ उन्हें कवर द्वारा इन महत्वपूर्ण
केंद्रों की रक्षा की है .

Varmam अपने दम पर एक समग्र चिकित्सा है और शरीर , मन और आत्मा tackles . एक varmam विशेषज्ञ शरीर के बीच अंतर्निहित लिंक , महत्वपूर्ण जीवन शक्ति और मन को समझता है. एक
varmam कर सकते हैं जो चीजों की लंबी सूची पर लग रहा है , तो एक पूरी तरह
से गहरा विज्ञान और इसके बारे में लाता निर्विवाद चिकित्सा से मंत्रमुग्ध
कर दिया जाएगा .
मानव शरीर को अपने जीवनकाल में , छोटी और बड़ी दुर्घटनाओं के बहुत में प्राप्त कर सकते हैं . बहुत कम ही लोग जीवन में दुर्घटनाओं से बचने के लिए बहुत भाग्यशाली हैं .

Varmams
को घायल करने के लिए आवश्यक दबाव के प्रकार के आधार पर वर्गीकृत किया गया
है : (क) Paduvarmam ( varmam चोट के कारण) , ( ख) Thodu varmam ( स्पर्श
के द्वारा ); Thattu varmam ( वार से ) , (ग) Thaduvu varmam ( मालिश
द्वारा
) , (घ ) Nakku varmam ( देखकर ) , और ( ई ) Nokku ( घूर द्वारा ) . व्यापक
रूप से इस्तेमाल किया और मान्यता प्राप्त लोगों को 12 Paduvarmams और 96
Thoduvarmams रहे हैं, सिर्फ इसलिए कि आवेदन या उन्हें लागू करने के लिए
आवश्यक गहरा ज्ञान के रास्ते की अन्य श्रेणियों के साथ कम निरंतरता है .
इन
श्रेणियों में Nokku varmam सबसे खौफ पैदा होता है और ऐसा करने में सक्षम
थे , जो उन आकाओं लगभग विलुप्त कर रहे हैं के रूप में शायद ही कभी अभ्यास
में देखा जाता है .

एक varmam चिकित्सक शरीर की नसों और एक प्रभावी उपचार करने के लिए शारीरिक संरचना के बारे में एक गहरा ज्ञान है की जरूरत है . वहाँ
इस दुनिया में मौजूदा केवल कुछ ही चिकित्सक हैं , और आधुनिक सिद्ध दुनिया
उपचार की इस कला को संरक्षित करने के लिए कोशिश कर रहा है .
सिध्द आज

एलोपैथिक
दवा पेश किया गया था के बाद सिद्ध भी तमिलनाडु में , एक और अधिक वैज्ञानिक
चिकित्सा प्रणाली के रूप में अपनी लोकप्रियता खो दिया है .
फिर भी , कुछ उत्साही अपनाने कर रहे हैं या कम से कम कई लोग पीलिया की तरह केवल कुछ बीमारियों के लिए सिद्ध पसंद करते हैं. ऐसे डॉ. रामलिंगम , IMCOPS , अध्यक्ष , चेन्नई , एन के रूप में कुछ एलोपैथिक डॉक्टरों के बाद Deivanayagam
, यहां तक ​​कि कुछ एलोपैथिक डॉक्टरों सिद्ध सुझाव दे शुरू कर दिया है ,
सिद्ध प्रणाली को लोकप्रिय बनाने के [18 ] की कोशिश की .
2012
में, वीए शिव Ayyadurai , एक तमिल और एमआईटी सिस्टम वैज्ञानिक प्रणालियों
विज्ञान के साथ , इस तरह के सिद्धा , आयुर्वेद और पारंपरिक चीनी दवा के रूप
में पारंपरिक प्रणालियों दवा से अवधारणाओं को एकीकृत करता है जो दीपक
चोपड़ा के साथ चोपड़ा केंद्र के माध्यम से चिकित्सा डॉक्टरों के लिए एक
शैक्षिक कार्यक्रम का शुभारंभ किया और
जीव विज्ञान प्रणाली . [19 ]

तमिलनाडु राज्य सिद्ध चिकित्सा ( : स्नातक सिद्धा चिकित्सा और सर्जरी में BSMS ) में 5.5 साल का पाठ्यक्रम चलाता है . भारत
सरकार भी सिध्द के राष्ट्रीय संस्थान की तरह मेडिकल कॉलेजों और अनुसंधान
केन्द्रों को शुरू करने से , सिद्ध पर अपना ध्यान केंद्रित देता है [20 ]
सिद्ध अनुसंधान और केन्द्रीय परिषद . [21 ] कई भावना एलोपैथी शुरू कर दिया,
सिध्द में रुचि नवीकरण किया गया है
को
पूरा करने और अक्सर अपने खड़ा / सिद्धांतों को नहीं बदल रहा है . [22 ]
सिद्ध चिकित्सा चिकनगुनिया के लिए प्रभावी पाया गया था . [23 ]
वाणिज्यिक ब्याज

वाणिज्यिक, सिद्धा चिकित्सा द्वारा अभ्यास है

    अक्सर
vaithiyars के रूप में तमिल में भेजा सिद्ध परिवार डॉक्टरों ( पारंपरिक
चिकित्सकों ) , उनके बच्चों के लिए ज्ञान का तबादला किया है, और
    
सरकार सिद्धा चिकित्सा महाविद्यालयों में अध्ययन करने वाले चिकित्सकीय प्रमाणित सिद्ध डॉक्टरों .

शैक्षिक संस्थानों

तमिलनाडु सरकार निम्नानुसार 2 सिद्ध मेडिकल कालेजों चलाता है :

    सरकार सिद्ध मेडिकल कॉलेज , Palayamkottai , तिरुनेलवेली जिले
    
सरकार सिद्ध मेडिकल कॉलेज , अन्ना अस्पताल परिसर , Arumbakkam , चेन्नई 106 .

भारत सरकार के रूप में एक सिद्ध मेडिकल कालेजों चलाता है :

    सिद्धा , ताम्बरम, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कांचीपुरम जिला ( NearChennai )

केरल में उपलब्ध कालेजों

    Santhigiri सिद्ध मेडिकल कॉलेज , तिरुवनंतपुरम .

निजी सिद्ध कालेजों :

    Velumailu सिद्ध मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल , नहीं, 48 , GWT रोड , ऑप . राजीव गांधी मेमोरियल , श्रीपेरुमबुदुर - 602 105 . ( आयुष विभाग, भारत सरकार. द्वारा स्वीकृत और तमिलनाडु डॉ. एमजीआर चिकित्सा विश्वविद्यालय , चेन्नई से संबद्ध )

Marathi

Siddha औषध

Siddha
औषध ( ” சித்த மருத்துவம் ” किंवा ” தமிழ் மருத்துவம் ” Tamizh मध्ये )
मानवजात ज्ञात सर्वात जुने वैद्यकीय प्रणाली आहे . [ 1 ] समकालीन Tamizh
साहित्य तमिळनाडू राज्यातील , Siddha औषध प्रणाली दक्षिण भारतात मूळ त्या
वस्तू
, त्रिकूट भारतीय औषध म्हणून भाग - आयुर्वेद, युनानी आणि siddha . अधिक
10000 वर्षांपूर्वी surfaced आहेत नोंदविले , [ 2 ] औषध Siddha प्रणाली
सर्वात प्राचीन पारंपारिक वैद्यकीय प्रणालीच्या एक मानली जाते .

Siddhargal ” किंवा Siddhars प्राचीन दिवस प्रीमियर शास्त्रज्ञ होते .
प्रामुख्याने दक्षिण भारतातील [ 3 ] Siddhars , औषधोपचार या प्रणालीसाठी
पाया घातली .
Siddhars ashta siddhis , किंवा आठ अदभुत शक्ती बाधा कोण अध्यात्मिक adepts होते . सेज Agathiyar सर्व Sidhars च्या गुरू मानले जाते .


Agathiyar ” प्रथम Siddhar होते , आणि इतर शाळांमधून शिष्य आणि Siddhars
औषध समावेश Siddha वर पाठाचे हजारो उत्पादन , आणि जगात प्रणालीचे
propounders वाढविली.

आयुर्वेद
आणि Siddha संशोधन केंद्र परिषद ( CCRAS ) , आयुर्वेद विभाग, योग आणि
निसर्गोपचार , युनानी , Siddha आणि Homoeopathy ( AYUSH ) , आरोग्य आणि
कुटुंब कल्याण मंत्रालय , भारत सरकार , यांनी , 1978 मध्ये स्थापना
समन्वयीत आणि संशोधन प्रोत्साहन
आयुर्वेद आणि Siddha औषध शेतात . तसेच
, भारतीय वैद्यक ( CCIM ) , AYUSH अंतर्गत 1971 मध्ये स्थापन वैधानिक
शरीर, सेंट्रल कौन्सिल Siddha समावेश भारतीय औषध क्षेत्रात , उच्च शिक्षण
परीक्षण करते.
जसे
आयुर्वेद , युनानी आणि Siddha म्हणून भारतीय औषध विविध प्रणाल्या , च्या
223.000 सूत्र भांडार म्हणून पारंपारिक ज्ञान डिजीटल लायब्ररी सेटअप 2001
मध्ये biopiracy आणि unethical पेटंट , भारत सरकार , लढणे .
इतिहास

Siddha विज्ञान द्रविडी संस्कृती व्युत्पन्न सर्वात जुने पारंपारिक उपचार प्रणाली आहे . Siddha इंडस व्हॅली संस्कृती कालावधीत flourished . पाम लीफ manuscripts Siddha प्रणाली प्रथम पत्नी Parvathy करण्यासाठी भगवान शिव द्वारे वर्णन आले आहे . Parvathy तिला मुलगा भगवान Muruga सर्व ज्ञान स्पष्ट . तो शिष्य ऋषी Agasthya करण्यासाठी सर्व ज्ञान शिकवले. Agasthya 18 Siddhars शिकवले आणि ते मानवी beings हे ज्ञान पसरली . [ 10 ]

शब्द Siddha प्रावीण्य किंवा स्वर्गीय धन्यता attained जाऊ करण्यासाठी ऑब्जेक्ट म्हणजेच शब्द Siddhi येते . Siddha ” Ashtamahasiddhi , ” आठ अदभुत शक्ती करण्याकडे लक्ष . Attained किंवा वरील गाठला ज्यांनी शक्ती Siddhars म्हणतात सांगितले . तेथे पुरातन दिवसांत 18 महत्वाचे Siddhars होते आणि ते औषध ही प्रणाली विकसित . म्हणून, Siddha औषध म्हणतात . Siddhars पाम लीफ manuscripts मध्ये त्यांचे ज्ञान लिहिली , जी fragments दक्षिण भारत भाग आढळले . पण काही कुटुंबे अधिक fragments मालकी पण त्यांच्या स्वत: च्या वापरासाठी पूर्णपणे ठेवा शकते आहे . पारंपारिक Siddha कुटुंबांना ठेवले Siddha manuscripts एक प्रचंड संग्रह आहे . [ 10 ]

तज्ञांच्या मते , 18 प्रधान siddhars होते . या 18 , Agasthya siddha औषध पिता असू आहे . Siddhars निरोगी आत्मा केवळ निरोगी शरीर द्वारे विकसित जाऊ शकते संकल्पना होते . मग त्यांना पद्धती आणि त्यांचे भौतिक शरीर बळकट करणे विश्वास अपरिहार्य आहे आणि त्यांच्या souls आहेत औषध विकसित . प्रणाली विकसित मध्ये त्यांचे जीवन समर्पित कोण पुरुष आणि स्त्रिया Siddhars म्हटले . ते
नियतकालिक fasting आणि चिंतन वर्षे समावेश प्रखर yogic सराव , सराव केला ,
आणि अदभुत शक्ती गाठला आहे असं समजलं जातं आणि सर्वोच्च शहाणपणा आणि एकूणच
अमरत्व लाभले होते .
या
spiritually attained सर्वोच्च ज्ञान माध्यमातून त्यांनी कला ते जीवन
विज्ञान आणि सत्य करण्यासाठी रोग साठी चमत्कार बरा करण्यासाठी , जीवनाचे
सर्व पैलू वर scriptures लिहिले . [ 11 ]

Manuscripts कडून , औषध siddha प्रणाली भारतीय वैद्यकीय विज्ञान भाग विकसित . आज
तेथे, siddha वैद्यकीय महाविद्यालये मान्यताप्राप्त siddha औषध शिकवले
जाते जेथे सरकारी विद्यापीठे , अंतर्गत चालवा आहेत . [ 12 ] [ 13 ]

Siddha औषध योग्य आहे की औषध म्हणजे . Siddha
औषध नवचैतन्य निर्माण करणे आणि तारुण्य टवटवी इ देणे रोग होऊ की
dysfunctional अवयव आणि Vaadham , Pitham आणि Kabam प्रमाण राखण्यासाठी
हक्क सांगितला आहे .
प्रॅक्टीशनर्स देण्यात siddha औषध पाने , फुले , फळे आणि मिश्र पद्धतीने विविध मुळे समावेश आहे. काही विलक्षण प्रकरणांमध्ये, हे औषध सर्व बरे नाही आहे . त्या अशा बाबतींत ते मध्ये Thanga Pashpam घेणे शिफारस ; . सोने देखील एक खाणे पध्दतीत जोडले आहे [ विधानांच्या गरज ]

सराव Siddha वैद्यकीय प्रॅक्टीशनर्स बहुतेक परंपरेने सहसा कुटुंबांमधे आणि गुरू ( शिक्षक ) करून, प्रशिक्षण दिले . गुरू
एक मार्शल आर्ट्स शिक्षक आहे , तेव्हा त्याने एक ashan म्हणून ओळखले जाते .
[ Disambiguation गरज ] त्यांना एका रुग्णाची भेट द्या आणि संच योग्य उपाय
त्यांची manuscripts संदर्भ बद्दल केल्यानंतर निदान करा स्वतःला द्वारे जे
खरे निळा फिजीशियन संयुगे
किंवा तिला स्वत: ला , हर्बल आणि herbo - खनिज संसाधने हजारो पासून . Siddha
पण पद्धती कोणत्याही गोष्टीचा उलगडा अनेक विकार कारणे आणि कधी कधी जास्त
250 साहित्य असतील गूढ उपायांसाठी च्या सूत्रीकरण झाली आहे .
==
पर्यायी वैद्यकीय प्रणाली अॅक्युपंक्चर
बॉवेन तंत्र
पाठीचे मणके आणि इतर अस्थी यांची जुळवाजुळव करून उपचार करण्याची पद्धत्
समचिकित्सा पद्थती
निसर्गोपचार औषध
अस्थिदोष चिकित्सा
पारंपारिक औषध
चीनी · कोरियन · मंगोलियन · तिबेटी · युनानी · Siddha · आयुर्वेद
मागील NCCAM डोमेन
संपूर्ण वैद्यकीय प्रणाली
मन - शरीर हस्तक्षेप
जैविक दृष्ट्या आधारित therapies
Manipulative थेरपी
ऊर्जा therapies

    वि
    
प्रत्यय
    

अगोदर निर्देश केलेल्या बाबीसंबंधी बोलताना

मूलभूत

साधारणपणे Siddha औषध मूलभूत संकल्पना आयुर्वेद करण्यासाठी जवळजवळ सारखीच आहेत . फक्त
फरक आयुर्वेद , तो पूर्णपणे उलट आहे जेथे siddha औषध , अनुक्रमे , बालपण ,
योग्य आणि सहज मिळणार्या आणि वृद्ध मध्ये Vaadham , Pitham आणि Kabam च्या
प्राबल्य ओळखतो असल्याचे दिसून येते : Kabam मध्ये वृद्ध आणि Pitham मध्ये
, Vaatham बालपण मध्ये हाती सत्ता असलेला प्रबळ आहे
प्रौढ .

Siddha
औषध मते , शरीराच्या विविध मानसिक आणि शारीरिक कार्ये सात घटकांची संयोजन
गुणविशेष आहेत : प्रथम वाढ , विकास आणि पोषण जबाबदार ooneer ( Plasma ) आहे
; दुसरा रंग imparting , nourishing स्नायू जबाबदार cheneer ( रक्त ) आहे
आणि
बुद्धी सुधारणा ; तृतीय शरीराच्या आकार जबाबदार oon ( स्नायू ) आहे ;
चौथ्या तेल शिल्लक आणि lubricating सांधे जबाबदार kolluppu ( फॅटी मेदयुक्त
) आहे ; पाचव्या शरीर रचना आणि शरीराची ढब आणि हालचाली जबाबदार elumbu (
हाड ) आहे ; सहावा आहे
elumbu रक्त अगर पाढर्या निर्मिती जबाबदार machai ( अस्थिमगज ) आणि शेवटच्या पुनरुत्पादन जबाबदार sukkilam ( वीर्य ) आहे . आयुर्वेद
मध्ये आवडतात, Siddha औषध देखील , मानवी beings च्या शारीरिक घटक Vaadham (
हवा ) , Pitham ( आग ) आणि Kabam ( पृथ्वी आणि पाणी ) म्हणून वर्गीकृत
आहेत .

आयुर्वेद
‘ वरच्या जात ‘ लोकांच्या कल्याणासाठी , ‘ वरच्या जात ‘ physicians द्वारे
सराव झाली , Siddha कोणत्याही जाती प्रणालीवर मर्यादीत आणि physicians
कोणत्याही रुग्णाला मानले नाही .
त्याचे
वैदिक मुळे संपुष्टात Ayurvedha , Siddha प्रणाली जात प्रणाली विश्वास
नाही उलटपक्षी , Varna प्रणाली किंवा जाती प्रणाली आश्रय आणि म्हणून
लोकशाही आणि पुरोगामी होती .
रोग आणि कारण संकल्पना

तीन humors ( Vaadham , Pittham आणि Kabam ) सामान्य समतोल disturbed जाते तेव्हा , रोग कारणीभूत आहे असे गृहित धरले जाते . हा समतोल प्रभावित होते असे गृहित धरले जे घटक , हवामान , आहार , भौतिक क्रियाकलाप आणि तणाव वातावरण आहेत . सामान्य परिस्थितीनुसार या तीन humors म्हणजे दरम्यान प्रमाण : ( Vaadham , Pittham , Kabam ) अनुक्रमे , 4:2:1 आहेत .

Siddha औषध प्रणाली नुसार , आहार आणि आरोग्य जीवनशैली परंतु देखील curing रोग नाही फक्त , मुख्य भूमिका निभावतात. Siddha औषध ही संकल्पना मूलत: ” करू आणि dont च्या ” यादी आहे pathiyam आणि apathiyam , म्हणून म्हटले आहे .
रोगनिदान

निदान मध्ये आठ बाबींची तपासणी सामान्यतः ” enn vakaith thervu ” म्हणून ओळखले जाते जे आवश्यक आहे . हे आहेत:

    NA ( जीभ ) : Vaatham मध्ये काळा , पिवळा किंवा pitham मध्ये लाल , kabam मध्ये पांढरा , अशक्तपणा मध्ये ulcerated .
    
Varnam ( रंग ) : kabam फिकट गुलाबी , Vaatham , पिवळा किंवा pitham लाल मध्ये गडद .
    
Kural ( आवाज ) : मद्यविकार मध्ये slurred Vaatham , kabam मध्ये pitham , कमी उतरते मध्ये कर्कश , साधारण .
    
Kan ( डोळे ) : kabam फिकट गुलाबी , pitham मध्ये yellowish किंवा लाल चिखलाचा पापण्यांच्या आतला अस्तरपदर .
    
Thodal ( स्पर्श ) : Vaatham मध्ये कोरडा pitham मध्ये उबदार , शरीराच्या विविध भागांमध्ये घाम येणे kapha मध्ये सर्दी , .
    
Malam
( स्टूल ) : काळा stools Vaatham , पिवळा pitham , kabam , व्रण मध्ये गडद
लाल ते फिकट गुलाबी आणि टर्मिनल आजार मध्ये चमकदार सूचित करतात.
    
Neer
( मूत्र ) : सकाळी लवकर लघवी तपासणी आहे ; पेंढा रंग , जास्त माजावर अपचन ,
लालसर पिवळा रंग - दर्शवितात कावीळ मध्ये रक्तदाब , केशर रंग गुलाब , आणि
मूत्रपिंडासंबंधीचा रोग मध्ये मांस धुऊन पाणी दिसते .
    
Naadi ( नाडी ) : त्रिज्यात्मक कला वर रेकॉर्ड confirmatory पद्धत .

Thavaram
( हर्बल उत्पादन ) , thadhu ( निरिद्रिय पदार्थ ) आणि jangamam ( पशु
उत्पादने ) : Siddhars द्वारे वापरले औषधे तीन गट विभागले जाऊ शकते .
Uppu
( पाणी - विद्रव्य निरिद्रिय पदार्थ किंवा आग ठेवण्यात तेव्हा वाफ बाहेर
देऊ करणारी औषधे ) , pashanam ( औषधे पाण्यात विसर्जित परंतु उडाला तेव्हा
वाफ सोडणे नाही ) , uparasam ( pashanam परंतु कारवाई भिन्न सारखे : Thadhu
औषधे पुढील म्हणून वर्गीकृत आहेत
)
, loham ( पाण्यात विसर्जित परंतु उडाला असताना वितळणे नाही ) , rasam (मऊ
आहेत अंमली पदार्थ) , आणि ghandhagam ( गंधक जसे पाण्यात न विरघळणारे आहेत
औषधे , ) . [ 17 ]

Suvai
( चवीनुसार ) , gunam ( वर्ण ) , veeryam ( सामर्थ्य ) , pirivu ( वर्ग )
आणि mahimai ( कृती ) : siddha औषध वापरले औषधे पाच गुणधर्मांच्या आधारावर
वर्गीकरण होते .

अर्ज त्यांच्या मोड नुसार siddha औषधे दोन वर्ग असे विभाग केले जाऊ शकते :

    आंतरिक
औषध तोंडावाटे मार्ग द्वारे वापरले आणि त्यांना त्यांच्या फॉर्म आधारित 32
कॅटेगरीज , तयार पद्धती , प्रगतिशील - जीवन , इ विभागले होते
    
बाह्य
औषध औषधे आणि देखील काही अनुप्रयोग ( जसे अनुनासिक , डोळा आणि कान थेंब
म्हणून ) , आणि देखील विशिष्ट प्रक्रियेचा ( जसे जळू अनुप्रयोग) ठराविक
फॉर्म समाविष्टीत आहे.
तसेच 32 श्रेणींमध्ये वर्गीकरण .

औषधोपचार

Siddha औषध उपचार समतोल आणि सात घटकांची देखभाल मध्ये तीन humors ठेवणे उद्देश आहे . त्यामुळे योग्य आहार, औषध आणि जीवन एक शिस्तबद्ध पथ्ये निरोगी देश साठी करावा व रोगट स्थितीत humors समतोल पुनर्संचयित . सेंट Thiruvalluvar यशस्वी उपचार चार आवश्यक बाबी स्पष्ट करते. या रुग्णाच्या , परिचर , फिजीशियन आणि औषध आहेत . हकीम तसेच वैध आहे आणि इतर घटक आवश्यक गुण असणे तेव्हा अगदी गंभीर रोग या संकल्पना त्यानुसार , सहज पूर्णपणे ठीक होऊ शकतो .

उपचार रोगाच्या कोर्स आणि कारण मुल्यांकन नंतर लवकर शक्य असेल commenced पाहिजे . ;
Manuda maruthuvum ( कारणाचा पद्धत ) आणि asura maruthuvum ( सर्जिकल
पद्धत ) devamaruthuvum ( दैवी पद्धत ) : उपचार तीन श्रेणींमध्ये वर्गीकरण
आहे .
दैवी पद्धतीने , parpam , chendooram , गुरु सारखी औषधे , kuligai पारा , गंधक केली आणि pashanams वापरली जातात . योग्य कारणाचा पद्धतीने , churanam , kudineer , किंवा vadagam सारख्या herbs बनलेले औषधे वापरली जातात . सर्जिकल
पद्धती मध्ये , वैद्यकीय शस्त्राने घेतलेला छेंद्र , छेदण , उष्णता अर्ज ,
कळविल्याबद्दल , किंवा जळू अर्ज रक्त वापरले जातात .

Therapies
नुसार siddha औषधांचे उपचार पुढील जसे रेचक थेरेपी, वांतिकारक थेरेपी ,
fasting थेरपी , स्टीम थेरेपी , oleation थेरेपी , शारीरिक उपचार , सोलर
थेरेपी, रक्त - कळविल्याबद्दल थेरेपी, योगा थेरेपी , इ खालील श्रेणींमध्ये
वर्गीकरण केले जाऊ शकते
Varmam

Varmam शरीरातील महत्वाच्या गुण आहेत की ऊर्जा transformers किंवा बैटरी म्हणून कार्य . ते शरीराच्या ज्वलंत Nadi प्रणाली द्वारे महत्वपूर्ण जीवन शक्ती Uyir Sakthi प्रवाह Boosting साठी केंद्रे वाढविली. निसर्ग
, त्याचे डिझाईन करून , शरीराच्या आत त्यांना खोल ठेऊन किंवा उल्लंघन
सामान्य प्रयत्नांमुळे प्रवेशप्राप्त उती त्यांना पांघरूण करून या
महत्वाच्या केंद्रे संरक्षित आहे .

Varmam स्वत: एक होलिझमविषयी थेरेपी आहे आणि शरीर, मन आणि आत्मा tackles . एक varmam तज्ज्ञ शरीर दरम्यान अंतर्भुतीत दुवे , महत्वपूर्ण जीवन शक्ती आणि मन समजतात . एक
varmam करू शकता कोणत्या गोष्टी लांब यादी येथे दिसत असल्यास , एक
पूर्णपणे खोल विज्ञान आणि त्याबद्दल आणते वादातील उपचार हा द्वारे
mesmerized जाईल .
मानवी शरीर त्याच्या आयुष्यात , लहान आणि मोठ्या अपघात, खूप मध्ये मिळवू शकता . खूप क्वचितच लोक जीवनात अपघात बचावणे पुरेशी भाग्यवान आहेत .

Varmams
इजा करणे आवश्यक दबाव प्रकारावर आधारित वर्गीकरण केले गेले आहेत : ( अ)
Paduvarmam ( varmam इजा झाल्यामुळे ) , ( ब) Thodu varmam ( स्पर्श करून )
; Thattu varmam ( एकेरीवर द्वारे ) ; ( क) Thaduvu varmam ( मालिश करून
) ; ( ड ) Nakku varmam ( शोध घेऊन ) आणि ( ई ) Nokku ( फार भडक करून ) . मोठ्या
प्रमाणावर वापरले मान्यताप्राप्त मिळवा 12 Paduvarmams आणि 96
Thoduvarmams आहेत ; फक्त कारण अनुप्रयोग किंवा त्यांना लागू करण्यासाठी
आवश्यक सखोल ज्ञानाचा मार्ग इतर श्रेणींसह कमी सुसंगतता आहे .
या
श्रेणी मध्ये , Nokku varmam सर्वात वचक व्युत्पन्न आहे आणि हे करू शकलो
ज्यांनी मास्टर्स जवळजवळ लुप्त आहेत म्हणून क्वचितच , सराव केला आहे .

एक varmam थेरपिस्ट शरीराच्या नसा आणि प्रभावी उपचार करावे भौतिक संरचना एक सखोल ज्ञान असणे आवश्यक आहे. तेथे या जगात अस्तित्वात फक्त काही therapists आहेत , आणि आधुनिक siddha जागतिक उपचार हा या कला राखण्यासाठी प्रयत्न करत आहे .
Siddha आज

Allopathic
औषध परिचय झाले नंतर Siddha जरी तमिळनाडू मध्ये , एक अधिक - वैज्ञानिक
वैद्यकीय प्रणाली म्हणून , त्याची लोकप्रियता गमावला आहे .
अजुनही काही उत्कट adopters आहेत किंवा किमान अनेक लोकांना कावीळ सारखे फक्त काही रोग साठी Siddha पसंत करतात. जसे डॉ Ramalingam , IMCOPS , अध्यक्ष , चेन्नई , CN म्हणून काही allopathic डॉक्टर , नंतर Deivanayagam
, अगदी काही allopathic डॉक्टर Siddha सुचवून लागली आहेत Siddha प्रणाली
लोकांना आवडेल, समजेल, रुचेल असे करणे करण्यासाठी [ 18 ] प्रयत्न केला .
2012
मध्ये पिट्सबर्ग, VA शिव Ayyadurai , एक Tamilian आणि एमआयटी प्रणाली
शास्त्रज्ञ , प्रणाली विज्ञान सह , जसे Siddha , आयुर्वेद , आणि पारंपारिक
चीनी औषध म्हणून पारंपारिक औषध प्रणाली पासून संकल्पना समाकलित जे दीपक
चोप्रा सह चोप्रा केंद्रावरून वैद्यकीय डॉक्टरांसाठी एक शैक्षणिक कार्यक्रम
लाँच केला आणि
सिस्टम जीवशास्त्र . [ 19 ]

तमिळनाडू राज्य Siddha औषध ( : बॅचलर Siddha मेडिसिन आणि सर्जरी मध्ये BSMS ) मध्ये 5.5 वर्ष अभ्यासक्रम धावा . भारतीय
सरकार देखील Siddha नॅशनल इंस्टिट्यूट ऑफ जसे वैद्यकीय महाविद्यालये व
संशोधन केंद्रे सुरू करून , Siddha त्याचे लक्ष देते [ 20 ] Siddha मध्ये
संशोधन आणि सेंट्रल कौन्सिल . [ 21 ] अनेक भावना रोगविकृतीहून भिन्न विकार
उत्पन्न करून रोग बरे करण्याची उपचार पद्धती सुरु म्हणून , Siddha मध्ये
स्वारस्य आली नूतनीकरण केले गेले आहे
पूर्ण आणि वारंवार त्याच्या स्टॅण्ड / सिद्धांत बदलत नाही . [ 22 ] Siddha औषध चिकनगुनियाचा प्रभावी सापडली. [ 23 ]
व्यावसायिक व्याज

व्यापारीक Siddha औषध द्वारे उपयोग होणार

    अनेकदा
vaithiyars म्हणून तमिळ मध्ये संदर्भित Siddha कौटुंबिक डॉक्टर (
पारंपारिक प्रॅक्टीशनर्स ) , त्यांच्या मुलांना ज्ञान हस्तांतरित आणि आहेत
    
सरकारी Siddha वैद्यकीय कॉलेजमध्ये अभ्यास झालेल्या वैद्यकीयदुष्टया प्रमाणित Siddha डॉक्टर .

शैक्षणिक संस्था

तमिळनाडू सरकारने खालीलप्रमाणे 2 Siddha वैद्यकीय महाविद्यालय धावसंख्या:

    सरकारी Siddha वैद्यकीय महाविद्यालय , Palayamkottai , तिरुनलवेली जिल्हा
    
सरकारी Siddha वैद्यकीय महाविद्यालय , अण्णा हॉस्पिटल कॅम्पस , Arumbakkam , चेन्नई 106 .

भारत सरकार खालील प्रमाणे एक Siddha वैद्यकीय महाविद्यालय धावसंख्या:

    Siddha , Tambaram , नॅशनल इंस्टिट्यूट ऑफ Kanchipuram जिल्हा ( NearChennai )

केरळ मध्ये उपलब्ध महाविद्यालये

    Santhigiri Siddha वैद्यकीय महाविद्यालय , थिरुअनंतपुरम .

खासगी Siddha महाविद्यालये :

    Velumailu Siddha वैद्यकीय महाविद्यालय व रुग्णालय , क्रमांक 48 , GWT रोड, Opp . राजीव गांधी मेमोरियल , Sriperumbudur - 602 105 . ( AYUSH च्या विभाग , शासकीय . भारत मान्यताप्राप्त टी.एन. डॉ MGR वैद्यकीय विद्यापीठ , चेन्नई ला संलग्न )

Kannada

ಸಿದ್ದ ಔಷಧ

ಸಿದ್ಧ
ಮೆಡಿಸಿನ್ ( ” சித்த மருத்துவம் ” ಅಥವಾ ” தமிழ் மருத்துவம் ” Tamizh ರಲ್ಲಿ )
ಮಾನವಕುಲಕ್ಕೆ ಕರೆಯಲ್ಪಡುವ ಹಳೆಯ ವೈದ್ಯಕೀಯ ವ್ಯವಸ್ಥೆಗಳಲ್ಲಿ ಒಂದಾಗಿದೆ . [ 1 ]
ಸಮಕಾಲೀನ Tamizh ಸಾಹಿತ್ಯ ತಮಿಳುನಾಡು ರಾಜ್ಯದಲ್ಲಿ , ಸಿದ್ಧಾ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಪದ್ಧತಿ
ದಕ್ಷಿಣ ಭಾರತದಲ್ಲಿ ಹುಟ್ಟಿಕೊಂಡ ಹೊಂದಿದೆ
, ಮೂವರು ಭಾರತೀಯ ಔಷಧಿಗಳ ಮಾಹಿತಿ ಭಾಗ - ಆಯುರ್ವೇದ , ಸಿದ್ಧ ಮತ್ತು ಯುನಾನಿ . ಹೆಚ್ಚು
10000 ವರ್ಷಗಳ ಹಿಂದೆ ಬೆಳಕಿಗೆ ವರದಿಯಾಗಿದೆ , [ 2 ] ವೈದ್ಯಕೀಯ ಸಿದ್ಧ ವ್ಯವಸ್ಥೆ
ಅತ್ಯಂತ ಪ್ರಾಚೀನ ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕ ವೈದ್ಯಕೀಯ ವ್ಯವಸ್ಥೆಗಳಲ್ಲಿ ಒಂದಾಗಿದೆ .

Siddhargal ” ಅಥವಾ Siddhars ಪ್ರಾಚೀನ ದಿನಗಳ ಪ್ರಧಾನ ವಿಜ್ಞಾನಿಗಳಾಗಿದ್ದರು .
ಮುಖ್ಯವಾಗಿ ದಕ್ಷಿಣ ಭಾರತದ [ 3 ] Siddhars , ಔಷಧಿಯ ಈ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯ ಅಡಿಪಾಯ ಹಾಕಿತು .
Siddhars ಅಷ್ಟ siddhis , ಅಥವಾ ಎಂಟು ಅತಿಮಾನುಷ ಶಕ್ತಿಗಳನ್ನು ಹೊಂದಿದ್ದ ಆಧ್ಯಾತ್ಮಿಕ adepts ಎಂದು . ಸೇಜ್ Agathiyar ಎಲ್ಲಾ Sidhars ಗುರು ಪರಿಗಣಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ .


Agathiyar ” ಮೊದಲ Siddhar ಮತ್ತು ಇತರ ಶಾಲೆಗಳ ತನ್ನ ಅನುಯಾಯಿಗಳು ಮತ್ತು
Siddhars ಔಷಧ ಸೇರಿದಂತೆ ಸಿದ್ಧ ಪಠ್ಯಗಳನ್ನು ಸಾವಿರಾರು ನಿರ್ಮಾಣ , ಮತ್ತು
ಜಗತ್ತಿಗೆ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯ ಪ್ರತಿಪಾದಕರು ರೂಪಿಸುತ್ತವೆ .

ಆಯುರ್ವೇದ
ಮತ್ತು ಸಿದ್ಧ ಸಂಶೋಧನೆ ಕೇಂದ್ರ ಮಂಡಳಿ (CCRAS ) , ಆಯುರ್ವೇದ ಇಲಾಖೆ , ಯೋಗ
ಮತ್ತು ಪ್ರಕೃತಿ ಚಿಕಿತ್ಸೆ , ಯುನಾನಿ , ಸಿದ್ದ, ಅಂಡ್ ಹೋಮಿಯೋಪತಿ ( ಆಯುಶ್ ) ,
ಆರೋಗ್ಯ ಮತ್ತು ಕುಟುಂಬ ಕಲ್ಯಾಣ ಸಚಿವಾಲಯ , ಭಾರತ ಸರ್ಕಾರ , ಮೂಲಕ , 1978 ರಲ್ಲಿ
ಸ್ಥಾಪನೆಯಾದ ಸಂಘಟಿಸುತ್ತದೆ ಮತ್ತು ಸಂಶೋಧನಾ ಉತ್ತೇಜಿಸುತ್ತದೆ
ಆಯುರ್ವೇದ ಮತ್ತು ಸಿದ್ದ ಔಷಧ ಕ್ಷೇತ್ರಗಳಲ್ಲಿ . ಅಲ್ಲದೆ
, ಭಾರತೀಯ ಮೆಡಿಸಿನ್ ( CCIM ) , ಆಯುಶ್ ಅಡಿಯಲ್ಲಿ 1971 ರಲ್ಲಿ ಸ್ಥಾಪಿಸಲಾಯಿತು
ಶಾಸನವಿಹಿತ ಸಂಸ್ಥೆಯನ್ನಾಗಿ , ಕೇಂದ್ರೀಯ ಮಂಡಳಿ ಸಿದ್ಧ ಸೇರಿದಂತೆ ಭಾರತೀಯ ಔಷಧದ
ಪ್ರದೇಶಗಳಲ್ಲಿ , ಉನ್ನತ ಶಿಕ್ಷಣ ನಿಗಾ ವಹಿಸುತ್ತದೆ .
ಉದಾಹರಣೆಗೆ
ಆಯುರ್ವೇದ , ಯುನಾನಿ ಮತ್ತು ಸಿದ್ಧ ಎಂದು ಭಾರತೀಯ ವೈದ್ಯಕೀಯ ವಿವಿಧ ವ್ಯವಸ್ಥೆಗಳ
223.000 ಫಾರ್ಮುಲೇಶನ್ಸ್ ಒಂದು ರೆಪೊಸಿಟರಿಯನ್ನು ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕ ಜ್ಞಾನ ಡಿಜಿಟಲ್
ಲೈಬ್ರರಿ ಸ್ಥಾಪಿಸಲು 2001 ರಲ್ಲಿ ಬಯೋಪೈರಸಿ ಮತ್ತು ಅನೈತಿಕ ಪೇಟೆಂಟ್ , ಭಾರತ
ಸರ್ಕಾರ , ಹೋರಾಡಲು .
ಇತಿಹಾಸ

ಸಿದ್ಧ ವಿಜ್ಞಾನ ದ್ರಾವಿಡ ಸಂಸ್ಕೃತಿ ರಚಿಸಲ್ಪಟ್ಟ ಹಳೆಯ ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕ ಚಿಕಿತ್ಸೆ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯಾಗಿದೆ . ಸಿದ್ಧ ಸಿಂಧೂ ಕಣಿವೆ ನಾಗರೀಕತೆಯ ಅವಧಿಯಲ್ಲಿ ಪ್ರವರ್ಧಮಾನಕ್ಕೆ ಬಂದವು. ತಾಳೆಗರಿಯ ಹಸ್ತಪ್ರತಿಗಳು ಸಿದ್ಧ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯನ್ನು ಮೊದಲ ಪತ್ನಿ ಪಾರ್ವತಿ ಗೆ ಶಿವ ವಿವರಿಸಿದರು ಎಂದು ಹೇಳುತ್ತಾರೆ . ಪಾರ್ವತಿ ತನ್ನ ಮಗ ಮುರುಗನ್ ಎಲ್ಲಾ ಈ ಜ್ಞಾನ ವಿವರಿಸಿದರು . ತಮ್ಮ ಶಿಷ್ಯ ಋಷಿ Agasthya ಎಲ್ಲಾ ಈ ಜ್ಞಾನ ಕಲಿಸಿದ . Agasthya 18 Siddhars ಕಲಿಸಿದ ಮತ್ತು ಅವರು ಮನುಷ್ಯರಿಗೆ ಈ ಜ್ಞಾನ ಹರಡಿತು . [ 10 ]

ಪದ ಸಿದ್ಧ ಪರಿಪೂರ್ಣತೆ ಅಥವಾ ಆಕಾಶ ಆನಂದ ಹೊಂದಬಹುದಾಗಿದೆ ಒಂದು ವಸ್ತು ಅಂದರೆ ಪದ ಸಿದ್ಧಿಯಲ್ಲಿ ಬರುತ್ತದೆ . ಸಿದ್ಧ ” Ashtamahasiddhi , ” ಎಂಟು ಅಲೌಕಿಕ ಅಧಿಕಾರಕ್ಕೆ ಗಮನ . ತಳೆದು ಅಥವಾ ಮೇಲೆ ಸಾಧಿಸಿದ ಯಾರು ಅಧಿಕಾರವನ್ನು Siddhars ಕರೆಯಲಾಗುತ್ತದೆ ಹೇಳಿದರು . ಇಲ್ಲ ಪ್ರಾಚೀನ ದಿನಗಳಲ್ಲಿ 18 ಪ್ರಮುಖ Siddhars ಮತ್ತು ಅವರು ಔಷಧದ ಈ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯನ್ನು ಅಭಿವೃದ್ಧಿಪಡಿಸಿದರು . ಆದ್ದರಿಂದ , ಇದು ಸಿದ್ಧ ಔಷಧ ಎಂದು ಕರೆಯುತ್ತಾರೆ . Siddhars ತಾಳೆಗರಿಯ ಹಸ್ತಪ್ರತಿಗಳು ತಮ್ಮ ಜ್ಞಾನ ಬರೆದರು , ಇದು ಭಾಗಗಳನ್ನು ದಕ್ಷಿಣ ಭಾರತದ ಭಾಗಗಳಲ್ಲಿ ಕಂಡುಬಂದಿಲ್ಲ . ಇದು ಕೆಲವು ಕುಟುಂಬಗಳು ಹೆಚ್ಚು ಭಾಗಗಳು ಹೊಂದಿವೆ ಆದರೆ ತಮ್ಮ ಸ್ವಂತ ಬಳಕೆಗಾಗಿ ಮಾತ್ರ ದೂರವಿಡುತ್ತದೆ ಎಂದು ನಂಬಲಾಗಿದೆ . ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕ ಸಿದ್ಧ ಕುಟುಂಬಗಳು ಇಟ್ಟುಕೊಂಡು ಸಿದ್ಧ ಹಸ್ತಪ್ರತಿಗಳ ಒಂದು ದೊಡ್ಡ ಸಂಗ್ರಹಿಸಿಡಲಾಗಿದೆ. [ 10 ]

ತಜ್ಞರ ಪ್ರಕಾರ , 18 ಪ್ರಮುಖ siddhars ಇದ್ದವು . ಈ 18 , Agasthya ಸಿದ್ಧ ವೈದ್ಯಶಾಸ್ತ್ರದ ಪಿತಾಮಹ ಎಂದು ನಂಬಲಾಗಿದೆ . Siddhars ಆರೋಗ್ಯಕರ ಆತ್ಮ ಮಾತ್ರ ಆರೋಗ್ಯಪೂರ್ಣ ದೇಹದ ಮೂಲಕ ಬಳಸಬಹುದು ಪರಿಕಲ್ಪನೆಯನ್ನು ಸೇರಿದವರು . ಆದ್ದರಿಂದ ಅವರು ವಿಧಾನಗಳು ಮತ್ತು ಅವುಗಳ ಭೌತಿಕ ದೇಹದ ಬಲಪಡಿಸಲು ನಂಬಲಾಗಿದೆ ಮತ್ತು ಇದರಿಂದಾಗಿ ಅವರ ಆತ್ಮಗಳು ಎಂದು ಔಷಧ ಅಭಿವೃದ್ಧಿ . ವ್ಯವಸ್ಥೆಯನ್ನು ಅಭಿವೃದ್ಧಿ ತಮ್ಮ ಜೀವನವನ್ನು ಅರ್ಪಿಸಿಕೊಂಡಿದ್ದಾರೆ ಯುವತಿಯರು Siddhars ಕರೆಸಲಾಯಿತು . ಅವರು
ಆವರ್ತಕ ಉಪವಾಸ ಮತ್ತು ಧ್ಯಾನದ ವರ್ಷಗಳ ಒಳಗೊಂಡಂತೆ ತೀವ್ರವಾದ ಯೋಗದ ಆಚರಣೆಗಳ
ಅಭ್ಯಾಸ , ಮತ್ತು ಅತಿಮಾನುಷ ಶಕ್ತಿಗಳನ್ನು ಸಾಧಿಸಿದ ನಂಬಲಾಗಿದೆ ಮತ್ತು ಸರ್ವೋಚ್ಚ
ಬುದ್ಧಿವಂತಿಕೆಯ ಮತ್ತು ಒಟ್ಟಾರೆ ಅಮರತ್ವದ ಗಳಿಸುವಲ್ಲಿ ಯಶಸ್ವಿಯಾಯಿತು .

ಆಧ್ಯಾತ್ಮಿಕವಾಗಿ ತಳೆದು ಅತ್ಯುನ್ನತ ಜ್ಞಾನವನ್ನು ಮೂಲಕ , ಅವರು ಕಲೆಗಳಿಂದ ಜೀವನ
ವಿಜ್ಞಾನ ಮತ್ತು ನೈಜತೆಗೆ ಕಾಯಿಲೆಗಳಿಗೆ ಪವಾಡ ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಮಾಡಲು , ಜೀವನದ ಎಲ್ಲಾ
ಅಂಶಗಳನ್ನು ಗ್ರಂಥಗಳನ್ನು ಬರೆದ . [ 11 ]

ಹಸ್ತಪ್ರತಿಗಳು ಗೆ , ಔಷಧದ ಸಿದ್ಧ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯನ್ನು ಭಾರತೀಯ ವೈದ್ಯಕೀಯ ವಿಜ್ಞಾನ ಭಾಗವಾಗಿ ಅಭಿವೃದ್ಧಿ . ಇಂದು
ಅಲ್ಲಿ , ಸಿದ್ಧ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಕಾಲೇಜುಗಳು ಮಾನ್ಯತೆ ಸಿದ್ಧ ಔಷಧ ಕಲಿಸಿದ ಅಲ್ಲಿ
ಸರ್ಕಾರದ ವಿಶ್ವವಿದ್ಯಾನಿಲಯಗಳಲ್ಲಿ , ಅಡಿಯಲ್ಲಿ ನಡೆಸುತ್ತವೆ . [ 12 ] [ 13 ]

ಸಿದ್ದ ಔಷಧ ಪರಿಪೂರ್ಣ ಎಂದು ಔಷಧ ಎಂದರೆ . ಸಿದ್ದ
ಔಷಧ ಪುನಶ್ಚೇತನಗೊಳಿಸಲು ಮತ್ತು ಪುನರ್ಯೌವನಗೊಳಿಸು ರೋಗವನ್ನುಂಟುಮಾಡುವ
ನಿಷ್ಕ್ರಿಯ ಅಂಗಗಳ ಮತ್ತು Vaadham , Pitham ಮತ್ತು Kabam ಅನುಪಾತವು ನಿರ್ವಹಿಸಲು
ಎಂದು ಸಮರ್ಥಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ .
ವೈದ್ಯರು ನೀಡಿದ ಸಿದ್ಧ ಔಷಧ ಎಲೆಗಳು , ಹೂವುಗಳು , ಹಣ್ಣು ಮತ್ತು ಮಿಶ್ರ ಆಧಾರದ ವಿವಿಧ ಮೂಲಗಳನ್ನು ಒಳಗೊಂಡಿದೆ . ಕೆಲವು ಅಸಾಧಾರಣ ಸಂದರ್ಭಗಳಲ್ಲಿ , ಈ ಔಷಧ ಎಲ್ಲಾ ಸಂಸ್ಕರಿಸಿದ ನಲ್ಲಿ ಅಲ್ಲ .
ಸಂದರ್ಭಗಳಲ್ಲಿ , ಅವರು ಇದು Thanga Pashpam ತೆಗೆದುಕೊಳ್ಳಲು ಶಿಫಾರಸು ; .
ಚಿನ್ನದ ಒಂದು ತಿನ್ನುವ ವಿಧಾನ ಸೇರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ [ ಉಲ್ಲೇಖದ ಅಗತ್ಯವಿದೆ ]

ಅಭ್ಯಾಸ
ಸಿದ್ಧ ವೈದ್ಯಕೀಯ ವೃತ್ತಿಗಾರರು ಅತ್ಯಂತ ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕವಾಗಿ ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ
ಕುಟುಂಬಗಳಲ್ಲಿ ಮತ್ತು ಗುರುಗಳು ( ಶಿಕ್ಷಕರು ) ಮೂಲಕ , ತರಬೇತಿ ಪಡೆಯುತ್ತಾರೆ .
ಗುರು
ಸಮರ ಕಲೆಗಳ ಶಿಕ್ಷಕ ಆಗಿದ್ದರೆ , ಅವರು ಒಂದು ashan ಎಂದು ಕರೆಯಲಾಗುತ್ತದೆ . [
ದ್ವಂದ್ವ ನಿವಾರಣೆ ಅಗತ್ಯವಿದೆ ] ಅವರು ಒಂದು ರೋಗಿಯ ಭೇಟಿ ಮತ್ತು ಸೆಟ್ ಸೂಕ್ತ
ಪರಿಹಾರಗಳನ್ನು ತಮ್ಮ ಹಸ್ತಪ್ರತಿಗಳ ಉಲ್ಲೇಖಿಸಲು ಬಗ್ಗೆ ನಂತರ ರೋಗನಿರ್ಣಯಕ್ಕೆ
ಮಾಡಲು ಸ್ವತಃ ಇದು ನಿಜವಾದ ನೀಲಿ ವೈದ್ಯ ಸಂಯುಕ್ತಗಳು
ಅಥವಾ ತನ್ನನ್ನು , ಗಿಡಮೂಲಿಕೆ ಮತ್ತು ಸಸ್ಯ - ಖನಿಜ ಸಾವಿರಾರು . ಸಿದ್ಧ
ಚಿಂತನೆಯ ವಿಧಾನ ಅರ್ಥ ಅನೇಕ ಅಸ್ವಸ್ಥತೆಗಳ ಕಾರಣಗಳು ಮತ್ತು ಕೆಲವೊಮ್ಮೆ ಹೆಚ್ಚು
250 ಅಂಶಗಳನ್ನು ಹೊಂದಿರಬಹುದು ಇದು ಕುತೂಹಲಕಾರಿ ಪರಿಹಾರಗಳಿವೆ ಸೂತ್ರೀಕರಣ ಸಹಾಯ
ಮಾಡಿದೆ .
==
ಪರ್ಯಾಯ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಪದ್ಧತಿಗಳು ಅಕ್ಯುಪಂಕ್ಚರ್
ಬೋವೆನ್ ತಂತ್ರ
ಕಶೇರುಕ ಮರ್ದನ
ಹೋಮಿಯೋಪತಿ
ಪ್ರಕೃತಿ ಚಿಕಿತ್ಸಾ ವಿಧಾನದ ಔಷಧಿ
ಮೂಳೆವೈದ್ಯಪದ್ಥತಿ
ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕ ಔಷಧ
ಚೀನೀ · ಕೊರಿಯಾದ · ಮೊಂಗೊಲಿಯನ್ · ಟಿಬೆಟ್ · ಯುನಾನಿ · ಸಿದ್ಧ · ಆಯುರ್ವೇದ
ಹಿಂದಿನ NCCAM ಡೊಮೇನ್ಗಳ
ಪೂರ್ಣ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಪದ್ಧತಿ
ಮನಸ್ಸು ದೇಹದ ಮಧ್ಯಸ್ಥಿಕೆಗಳು
ಜೈವಿಕವಾಗಿ ಆಧಾರಿತ ಚಿಕಿತ್ಸೆಗಳು
ಯುಕ್ತಿಪೂರ್ಣ ಚಿಕಿತ್ಸೆ
ಎನರ್ಜಿ ಚಿಕಿತ್ಸೆಗಳು

    ವಿರುದ್ಧ
    
ಟಿ
    

ದಿ

ಬೇಸಿಕ್ಸ್

ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ಸಿದ್ದ ಔಷಧ ಮೂಲಭೂತ ಪರಿಕಲ್ಪನೆಗಳು ಆಯುರ್ವೇದ ಬಹುತೇಕ ಹೋಲುತ್ತವೆ . ವ್ಯತ್ಯಾಸವೆಂದರೆ
ಆಯುರ್ವೇದದಲ್ಲಿ , ಇದು ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ರಿವರ್ಸ್ ಆದರೆ ಸಿದ್ಧ ಔಷಧ , ಕ್ರಮವಾಗಿ ,
ಬಾಲ್ಯ , ಬಾಲ್ಯ ಮತ್ತು ವೃದ್ಧಾಪ್ಯದಲ್ಲಿ Vaadham , Pitham ಮತ್ತು Kabam
ಪ್ರಾಬಲ್ಯತೆಯನ್ನು ಗುರುತಿಸುತ್ತದೆ ಎಂದು ತೋರುತ್ತಿದೆ : Kabam ರಲ್ಲಿ ವಯಸ್ಸಾದ
Pitham ರಲ್ಲಿ , Vaatham ಬಾಲ್ಯದಲ್ಲಿ ಪ್ರಬಲವಾಗಿದೆ
ವಯಸ್ಕರ .

ಸಿದ್ದ
ಔಷಧ ಪ್ರಕಾರ , ದೇಹದ ವಿವಿಧ ಮಾನಸಿಕ ಮತ್ತು ದೈಹಿಕ ಕ್ರಿಯೆಗಳನ್ನು ಏಳು ಘಟಕಗಳ
ಸಂಯೋಜನೆಯನ್ನು ಒಳಗಾಗಿತ್ತು : ಮೊದಲ ಬೆಳವಣಿಗೆ , ಅಭಿವೃದ್ಧಿ ಮತ್ತು ಪೋಷಣೆ
ಜವಾಬ್ದಾರಿ ooneer ( ಪ್ಲಾಸ್ಮಾ ) ಆಗಿದೆ ; ಎರಡನೇ ಬಣ್ಣ ಶ್ರುತಪಡಿಸುವ , ಬೆಳೆಸುವ
ಸ್ನಾಯುಗಳು ಜವಾಬ್ದಾರಿ cheneer ( ರಕ್ತ ) ಆಗಿದೆ
ಮತ್ತು
ಬುದ್ಧಿಶಕ್ತಿಯ ಸುಧಾರಣೆ ; ಮೂರನೇ ದೇಹದ ಆಕಾರವನ್ನು ಜವಾಬ್ದಾರಿ ಓನ್ ( ಸ್ನಾಯು )
ಆಗಿದೆ ; ನಾಲ್ಕನೇ ತೈಲ ಸಮತೋಲನ ಮತ್ತು ನಯಗೊಳಿಸುವ ಕೀಲುಗಳು ಜವಾಬ್ದಾರಿ
kolluppu ( ಕೊಬ್ಬಿನ ಅಂಗಾಂಶ ) ಆಗಿದೆ ; ಐದನೇ ದೇಹದ ರಚನೆ ಮತ್ತು ಭಂಗಿ ಮತ್ತು
ಚಳುವಳಿ ಜವಾಬ್ದಾರಿ elumbu ( ಮೂಳೆ ) ಆಗಿದೆ ; ಆರನೆಯದು
elumbu
ರಕ್ತ ಕಣಗಳಿಂದಾಗಿದೆ ರಚನೆಯ ಜವಾಬ್ದಾರಿ machai ( ಮೂಳೆ ಮಜ್ಜೆ ) ; ಮತ್ತು ಕೊನೆಯ
ಸಂತಾನೋತ್ಪತ್ತಿ ಜವಾಬ್ದಾರಿ sukkilam ( ವೀರ್ಯ ) ಆಗಿದೆ .
ಆಯುರ್ವೇದದಲ್ಲಿ
ಲೈಕ್ , ಸಿದ್ದ ಔಷಧದಲ್ಲಿ ಸಹ , ಮಾನವರ ಶಾರೀರಿಕ ಅಂಶಗಳು Vaadham ( ವಾಯು ) ,
Pitham ( ಬೆಂಕಿ ) ಮತ್ತು Kabam ( ಭೂಮಿ ಮತ್ತು ನೀರು ) ಎಂದು ವರ್ಗೀಕರಿಸಲಾಗಿದೆ .

ಆಯುರ್ವೇದ
‘ ಮೇಲಿನ ಜಾತಿ ‘ ಜನರ ಕಲ್ಯಾಣ , ‘ ಮೇಲಿನ ಜಾತಿ ‘ ವೈದ್ಯರು ಆಚರಿಸುತ್ತಿದ್ದರೂ
ಸಿದ್ಧ ಯಾವುದೇ ಜಾತಿ ವ್ಯವಸ್ಥೆಗೆ ಸೀಮಿತವಾಗಿದೆ ಮತ್ತು ವೈದ್ಯರು ರೋಗಿಯ
ಯಾವುದೇ ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಇಲ್ಲ .
ಅದರ
ವೈದಿಕ ಬೇರುಗಳು ಕಾರಣ Ayurvedha , ಸಿದ್ಧ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯ ಜಾತಿ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯನ್ನು
ನಂಬುವುದಿಲ್ಲ ಆದರೆ , ವರ್ಣ ವ್ಯವಸ್ಥೆ ಅಥವಾ ಜಾತಿ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯ ಆಶ್ರಯ ಮತ್ತು
ಆದ್ದರಿಂದ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ ಮತ್ತು ಪ್ರಗತಿಪರ ಆಗಿತ್ತು .
ರೋಗ ಮತ್ತು ಕಾರಣ ಪರಿಕಲ್ಪನೆ

ಇದು
ಮೂರು ಮನೋಭಾವಗಳ ( Vaadham , Pittham ಮತ್ತು Kabam ) ಸಾಮಾನ್ಯ ಸಮತೋಲನ
ಸ್ಥಿತಿಗೆ ಧಕ್ಕೆಯಾದಲ್ಲಿ ಮಾಡಿದಾಗ , ರೋಗ ಉಂಟಾಗುವ ಊಹಿಸಲಾಗಿದೆ .
ಈ ಸಮತೋಲನ ಪರಿಣಾಮ ಭಾವಿಸಲಾಗಿದೆ ಇದು ಅಂಶಗಳು , ಹವಾಮಾನ , ಆಹಾರ , ದೈಹಿಕ ಚಟುವಟಿಕೆಗಳು ಮತ್ತು ಒತ್ತಡ ಪರಿಸರ . ಸಾಮಾನ್ಯ ಪರಿಸ್ಥಿತಿಗಳಲ್ಲಿ , ಈ ಮೂರು ಮನೋಭಾವಗಳ ಅಂದರೆ ನಡುವಿನ ಅನುಪಾತ : ( Vaadham , Pittham , Kabam ) ಕ್ರಮವಾಗಿ 4:2:1 ಇವೆ .

ಸಿದ್ಧ
ಔಷಧ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯ ಪ್ರಕಾರ , ಆಹಾರ ಮತ್ತು ಜೀವನಶೈಲಿ ಆರೋಗ್ಯ ಆದರೆ ಕ್ಯೂರಿಂಗ್
ರೋಗಗಳು ಮಾತ್ರವಲ್ಲದೆ , ಒಂದು ಪ್ರಮುಖ ಪಾತ್ರವನ್ನು ವಹಿಸುತ್ತದೆ .
ಸಿದ್ಧ ಔಷಧದ ಈ ಪರಿಕಲ್ಪನೆ ಪ್ರಮುಖವಾಗಿ ” ಏನು ಮತ್ತು ಡೊಂಟ್ಸ್ ” ಒಂದು ಪಟ್ಟಿಯನ್ನು ಇದು pathiyam ಮತ್ತು apathiyam , ಎಂದು ಕರೆಯುತ್ತಾರೆ .
ರೋಗ ನಿರ್ಣಯ

ರೋಗನಿರ್ಣಯದಲ್ಲಿ , ಎಂಟು ಐಟಂಗಳ ಪರೀಕ್ಷೆ ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ” enn vakaith thervu ” ಎಂದು ಕರೆಯಲಾಗುತ್ತದೆ ಇದು ಅಗತ್ಯವಿದೆ . ಅವುಗಳೆಂದರೆ :

    ನಾ ( ನಾಲಿಗೆ ) : Vaatham ಕಪ್ಪು , ಹಳದಿ ಅಥವಾ pitham ಕೆಂಪು , kabam ಬಿಳಿ , ಅನೇಮಿಯಾ ವ್ರಣದ .
    
Varnam ( ಬಣ್ಣ ) : kabam ಪೇಲವವಾದ , Vaatham , ಹಳದಿ ಅಥವಾ pitham ಕೆಂಪು ಡಾರ್ಕ್ .
    
ಕುರಾಲ್ ( ಧ್ವನಿ ) : ಮದ್ಯದ ರಲ್ಲಿ ತೊದಲುತ್ತ Vaatham , kabam ರಲ್ಲಿ pitham , ತಗ್ಗಿನ ಉನ್ನತ ಸ್ಥಾಯಿಯ , ಸಾಮಾನ್ಯ .
    
ಕನ್ ( ಕಣ್ಣುಗಳು ) : kabam ಪೇಲವವಾದ , pitham ರಲ್ಲಿ ಹಳದಿ ಅಥವಾ ಕೆಂಪು ಮಣ್ಣಿನ ಕಂಜಕ್ಟಿವಾ .
    
Thodal ( ಸ್ಪರ್ಶ ) : Vaatham ಡ್ರೈ , pitham ರಲ್ಲಿ ಬೆಚ್ಚಗಿನ , ದೇಹದ ವಿವಿಧ ಭಾಗಗಳಲ್ಲಿ ಬೆವರು kapha ರಲ್ಲಿ ಚಿಲ್ .
    
Malam
( ಸ್ಟೂಲ್ ) : ಕಪ್ಪು stools Vaatham , ಹಳದಿ pitham , kabam , ಹುಣ್ಣಿಗೆ
ಡಾರ್ಕ್ ಕೆಂಪು ತೆಳು ಮತ್ತು ಟರ್ಮಿನಲ್ ಅನಾರೋಗ್ಯದ ಹೊಳೆಯುವ ಸೂಚಿಸುತ್ತದೆ .
    
ನೀರ್
( ಮೂತ್ರದಲ್ಲಿ ) : ಮುಂಜಾನೆ ಮೂತ್ರ ಪರಿಶೀಲಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ ; ಹುಲ್ಲು ಬಣ್ಣ ,
ವಿಪರೀತ ತಾಪವನ್ನು ಅಜೀರ್ಣ , ಕೆಂಪು ಹಳದಿ ಬಣ್ಣದ ಸೂಚಿಸುತ್ತದೆ ಕಾಮಾಲೆ
ರಕ್ತದೊತ್ತಡ , ಕೇಸರಿ ಬಣ್ಣದ ಗುಲಾಬಿ ಮತ್ತು ಮೂತ್ರಪಿಂಡಗಳ ರೋಗದಲ್ಲಿ ಮಾಂಸ
ತೊಳೆದು ನೀರು ತೋರುತ್ತಿದೆ .
    
Naadi ( ಪಲ್ಸ್ ) : ರೇಡಿಯಲ್ ಕಲೆಯ ರೆಕಾರ್ಡ್ ಸಮರ್ಥನೀಯ ವಿಧಾನ .

Thavaram
( ಮೂಲಿಕೆ ಉತ್ಪನ್ನದ ) , thadhu ( ಅಜೈವಿಕ ಪದಾರ್ಥಗಳು ) ಮತ್ತು jangamam (
ಪ್ರಾಣಿ ಉತ್ಪನ್ನಗಳು ) : Siddhars ಬಳಸುವ ಔಷಧಗಳು ಮೂರು ಗುಂಪುಗಳನ್ನಾಗಿ
ವಿಂಗಡಿಸಬಹುದು ಸಾಧ್ಯವಾಗಲಿಲ್ಲ .
Uppu
( ನೀರಿನಲ್ಲಿ ಕರಗುವ ಅಜೈವಿಕ ಪದಾರ್ಥಗಳು ಅಥವಾ ಬೆಂಕಿ ತೊಡಗಿಸಲಾಯಿತು ಮಾಡಿದಾಗ
ಆವಿ ಔಟ್ ನೀಡುವ ಔಷಧಗಳು ) , pashanam ( ಔಷಧಗಳು ನೀರಿನಲ್ಲಿ ಕರಗಿದ ಆದರೆ
ಹಾರಿಸಿದಾಗ ಆವಿ ಹೊರಸೂಸುತ್ತವೆ ಅಲ್ಲ ) , uparasam ( pashanam ಆದರೆ
ಕ್ರಿಯೆಯನ್ನು ಭಿನ್ನವಾಗಿರುತ್ತವೆ ಹೋಲುವ : Thadhu ಔಷಧಗಳು ಹೆಚ್ಚಿನ ಮಾಹಿತಿ
ವರ್ಗೀಕರಿಸಲಾಗಿದೆ
)
, loham ( ನೀರಿನಲ್ಲಿ ಕರಗಿದ ಆದರೆ ಹಾರಿಸಿದಾಗ ಕರಗಿ ಅಲ್ಲ ) , ರಸಂ ( ಅವು
ಮೃದುವಾದ ಔಷಧಗಳು ) , ಮತ್ತು ghandhagam ( ಗಂಧಕ ಮುಂತಾದ ನೀರಿನಲ್ಲಿ ಕರಗದ ಇವು
ಔಷಧಗಳು ) . [ 17 ]

Suvai
( ರುಚಿ ) , gunam ( ಮೀ ) , veeryam ( ಶಕ್ತಿಯು ) , ಪಿರಿವು ( ವರ್ಗ ) ಮತ್ತು
mahimai ( ಕ್ರಿಯಾಶೀಲ ) : ಸಿದ್ಧ ಔಷಧ ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಔಷಧಗಳು ಐದು ಗುಣಲಕ್ಷಣಗಳ
ಆಧಾರದ ಮೇಲೆ ವಿಂಗಡಿಸಲಾಗಿದೆ ಮಾಡಲಾಯಿತು .

ಅಪ್ಲಿಕೇಶನ್ ಅವರ ಕ್ರಮದ ಪ್ರಕಾರ , ಸಿದ್ಧ ಔಷಧಿಗಳ ಎರಡು ವರ್ಗಗಳಾಗಿ ವರ್ಗೀಕರಿಸಬಹುದು ಸಾಧ್ಯವಾಗಲಿಲ್ಲ :

    ಇಂಟರ್ನಲ್
ಮೆಡಿಸಿನ್ ಮೌಖಿಕ ಮಾರ್ಗದಲ್ಲಿಯೇ ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಮತ್ತು ಇನ್ನೂ ಅವರ ರೂಪ ಆಧರಿಸಿ 32
​​ವಿಭಾಗಗಳು , ತಯಾರಿಕೆಯ ವಿಧಾನ , ಕಪಾಟು ಜೀವನ , ಇತ್ಯಾದಿ ವಿಂಗಡಿಸಲಾಗಿದೆ
ಮಾಡಲಾಯಿತು
    
ಬಾಹ್ಯ
ಔಷಧ ಔಷಧಗಳು ಮತ್ತು ಕೆಲವು ಅನ್ವಯಗಳನ್ನು ( ಮೂಗು, ಕಣ್ಣು ಮತ್ತು ಕಿವಿ ಡ್ರಾಪ್ಸ್
ಎಂದು ) , ಮತ್ತು ಕೆಲವು ವಿಧಾನಗಳು ( ಉದಾಹರಣೆಗೆ ಜಿಗಣೆ ಅನ್ವಯವಾಗಿ ) ಕೆಲವು
ರೂಪಗಳನ್ನು ಇದು ಒಳಗೊಂಡಿದೆ .
ಇದು 32 ವಿಂಗಡಿಸಲಾಗಿದೆ .

ಟ್ರೀಟ್ಮೆಂಟ್

ಸಿದ್ಧ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಸಮತೋಲನ ಮತ್ತು ಏಳು ಮೂಲವಸ್ತುಗಳ ನಿರ್ವಹಣೆಯಲ್ಲಿ ಮೂರು ಮನೋಭಾವಗಳ ಕೀಪಿಂಗ್ ಗುರಿಯನ್ನು ಇದೆ . ಆದ್ದರಿಂದ
ಸರಿಯಾದ ಆಹಾರ , ಔಷಧ ಮತ್ತು ಜೀವನದ ಒಂದು ಶಿಸ್ತಿನ ಕಟ್ಟುಪಾಡು ಒಂದು ಆರೋಗ್ಯಕರ
ದೇಶ ಸಲಹೆ ಮತ್ತು ರೋಗ ಸ್ಥಿತಿಯಲ್ಲಿ ಮನೋಭಾವಗಳ ಸಮತೋಲನ ಪುನಃಸ್ಥಾಪಿಸಲು .
ಸಂತ ತಿರುವಳ್ಳುವರ್ ಯಶಸ್ವಿ ಚಿಕಿತ್ಸೆಯ ನಾಲ್ಕು ಅವಶ್ಯಕತೆಗಳು ವಿವರಿಸುತ್ತದೆ . ಈ ರೋಗಿಯ , ಸಹವರ್ತಿ , ವೈದ್ಯ ಮತ್ತು ವೈದ್ಯಕೀಯ ಇವು . ವೈದ್ಯ
ಚೆನ್ನಾಗಿ ಅರ್ಹ ಮತ್ತು ಇತರ ಏಜೆಂಟ್ ಅಗತ್ಯ ಗುಣಗಳನ್ನು ಹೊಂದಿವೆ ಮಾಡಿದಾಗ , ಸಹ
ತೀವ್ರ ರೋಗಗಳ ಈ ಕಲ್ಪನೆಗಳ ಪ್ರಕಾರ , ಸುಲಭವಾಗಿ ಗುಣಪಡಿಸಬಹುದಾಗಿದೆ .

ಚಿಕಿತ್ಸೆ ರೋಗದ ಮತ್ತು ಕಾರಣ ನಿರ್ಣಯಿಸುವುದು ನಂತರ ಆರಂಭಿಕ ಸಾಧ್ಯವಾದಷ್ಟು ಆರಂಭವಾಯಿತು ಮಾಡಬೇಕು . ;
Manuda maruthuvum ( ಭಾಗಲಬ್ಧ ವಿಧಾನ ) ; ಮತ್ತು ಅಸುರ maruthuvum (
ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸಾ ವಿಧಾನ ) devamaruthuvum ( ಡಿವೈನ್ ವಿಧಾನ ) : ಟ್ರೀಟ್ಮೆಂಟ್
ಮೂರು ವಿಂಗಡಿಸಲಾಗಿದೆ .
ಡಿವೈನ್ ವಿಧಾನದಲ್ಲಿ , parpam , chendooram , ಗುರು ರೀತಿಯ ಔಷಧಿಗಳನ್ನು , kuligai ಪಾದರಸ , ಗಂಧಕದ ಮಾಡಿದ ಮತ್ತು pashanams ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ . ಭಾಗಲಬ್ಧ ವಿಧಾನದಲ್ಲಿ , churanam , kudineer , ಅಥವಾ vadagam ಮುಂತಾದ ಗಿಡಮೂಲಿಕೆಗಳನ್ನು ಮಾಡಿದ ಔಷಧಿಗಳನ್ನು ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ . ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸಾ ವಿಧಾನದಲ್ಲಿ , ಛೇದನ , ಛೇದನ , ಶಾಖ ಅಪ್ಲಿಕೇಶನ್ , ಅವಕಾಶ , ಅಥವಾ ಜಿಗಣೆ ಅಪ್ಲಿಕೇಶನ್ ರಕ್ತ ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ .

ಚಿಕಿತ್ಸಾ
ಪ್ರಕಾರ ಸಿದ್ಧ ಔಷಧಿಗಳ ಚಿಕಿತ್ಸೆಯನ್ನು ಮುಂದುವರಿದು ವಿರೇಚಕ ಚಿಕಿತ್ಸೆ , ವಮನಕ
ಚಿಕಿತ್ಸೆ , ಉಪವಾಸ ಚಿಕಿತ್ಸೆ , ಉಗಿ ಚಿಕಿತ್ಸೆ , oleation ಚಿಕಿತ್ಸೆ , ದೈಹಿಕ
ಚಿಕಿತ್ಸೆ , ಸೌರ ಚಿಕಿತ್ಸೆ , ರಕ್ತ ಅವಕಾಶ ಚಿಕಿತ್ಸೆ , ಯೋಗ ಚಿಕಿತ್ಸೆ , ಮುಂತಾದ
ಕೆಳಗಿನ ವಿಭಾಗಗಳು ವರ್ಗೀಕರಿಸಬಹುದು ಸಾಧ್ಯವಾಗಲಿಲ್ಲ
Varmam

Varmam ದೇಹದಲ್ಲಿ ಪ್ರಮುಖ ಅಂಕಗಳನ್ನು ಎಂದು ಶಕ್ತಿ ಟ್ರಾನ್ಸ್ಫಾರ್ಮರ್ಗಳನ್ನು ಅಥವಾ ಬ್ಯಾಟರಿಗಳನ್ನು ಆಕ್ಟ್ . ಅವರು ದೇಹದ ಸಂಕೀರ್ಣವಾದ ನಾಡಿಯನ್ನು ವ್ಯವಸ್ಥೆಯ ಮೂಲಕ ಪ್ರಮುಖ ಜೀವಶಕ್ತಿ Uyir ಸಕ್ತಿ ಹರಿವನ್ನು ಉತ್ತೇಜಿಸುವ ಐದು ಕೇಂದ್ರಗಳನ್ನು ರಚಿಸುತ್ತವೆ . ಪ್ರಕೃತಿ
, ಅದರ ವಿನ್ಯಾಸ , ದೇಹದ ಒಳಗೆ ಅವರಿಗೆ ಆಳವಾದ ಇರಿಸುವ ಮೂಲಕ ಅಥವಾ ಉಲ್ಲಂಘನೆಗೆ
ಸಾಮಾನ್ಯ ಪ್ರಯತ್ನಗಳು ಸಂಪರ್ಕಿಸಲಿಲ್ಲ ಅಂಗಾಂಶಗಳ ಅವುಗಳನ್ನು ಒಳಗೊಂಡ ಈ ಪ್ರಮುಖ
ಕೇಂದ್ರಗಳು ರಕ್ಷಣೆ ಹೊಂದಿದೆ .

Varmam ತನ್ನದೇ ಆದ ಮೇಲೆ ಸಮಗ್ರ ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಮತ್ತು ದೇಹದ , ಮನಸ್ಸು ಮತ್ತು ಆತ್ಮ ಟ್ಯಾಕಲ್ಸ್ . ಒಂದು varmam ತಜ್ಞ ದೇಹದ ನಡುವೆ ಆಧಾರವಾಗಿರುವ ಕೊಂಡಿಗಳು , ಪ್ರಮುಖ ಜೀವಶಕ್ತಿ ಮತ್ತು ಮನಸ್ಸನ್ನು ಅರ್ಥ . ಒಂದು
varmam ಮಾಡಬಹುದು ಇದು ವಸ್ತುಗಳ ಉದ್ದನೆಯ ಪಟ್ಟಿ ನೋಡುವುದು ವೇಳೆ , ಒಂದು
ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಆಳವಾದ ವಿಜ್ಞಾನ ಮತ್ತು ಅದರ ಬಗ್ಗೆ ತೆರೆದಿಡುತ್ತದೆ ನಿರ್ವಿವಾದದ
ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಮೂಲಕ ವಶೀಕರಿಸಿದ್ದರು ನಡೆಯಲಿದೆ .
ಮಾನವ ದೇಹದ ತನ್ನ ಜೀವಿತಾವಧಿಯಲ್ಲಿ , ಸಣ್ಣ ಮತ್ತು ಪ್ರಮುಖ ಅಪಘಾತಗಳು , ಬಹಳಷ್ಟು ಒಳಗೆ ಪಡೆಯಬಹುದು . ತುಂಬಾ ವಿರಳವಾಗಿ ಜನರು ಜೀವನದಲ್ಲಿ ಅಪಘಾತಗಳು ತಪ್ಪಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು ಸಾಕಷ್ಟು ಅದೃಷ್ಟ ಇವೆ .

Varmams
ಗಾಯಗೊಳಿಸುತ್ತವೆ ಅಗತ್ಯವಿದೆ ಒತ್ತಡ ಮಾದರಿ ಆಧರಿಸಿ ವರ್ಗೀಕರಿಸಲ್ಪಟ್ಟಿವೆ : (
ಒಂದು ) Paduvarmam ( varmam ಗಾಯದಿಂದಾಗಿ ) , ( ಬಿ ) Thodu varmam ( ಟಚ್ ಮೂಲಕ
) ; Thattu varmam ( ಹೊಡೆತಗಳ ಮೂಲಕ ) ; ( ಸಿ ) Thaduvu varmam ( ಮಸಾಜ್
ಮೂಲಕ
) ; ( ಡಿ ) Nakku varmam ( ಹುಡುಕುವುದರಿಂದ ) ; ಮತ್ತು ( ಇ ) Nokku ( ದಿಟ್ಟಿಸುವುದು ಮೂಲಕ ) . ವ್ಯಾಪಕವಾಗಿ
ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಮತ್ತು ಮಾನ್ಯತೆ ಪದಗಳಿಗಿಂತ 12 Paduvarmams ಮತ್ತು 96
Thoduvarmams ಇವೆ ; ಏಕೆಂದರೆ ಅಪ್ಲಿಕೇಶನ್ ಅಥವಾ ಅವುಗಳನ್ನು ಅರ್ಜಿ ಅಗತ್ಯವಿದೆ
ಆಳವಾದ ಜ್ಞಾನದ ರೀತಿಯಲ್ಲಿ ಇತರ ವಿಭಾಗಗಳು ಕಡಿಮೆ ಸ್ಥಿರತೆ ಇರುತ್ತದೆ .

ವಿಭಾಗಗಳಲ್ಲಿ , Nokku varmam ಅತ್ಯಂತ ವಿಸ್ಮಯ - ವಿಕಾಸ ಮತ್ತು ಇದನ್ನು ಮಾಡಲು
ಸಾಧ್ಯವಾಯಿತು ಯಾರು ಮಾಸ್ಟರ್ಸ್ ನಾಶಗೊಂಡಿವೆ ಮಾಹಿತಿ ವಿರಳವಾಗಿ , ಅಭ್ಯಾಸ
ದೃಶ್ಯವನ್ನು ನೋಡಬಹುದು .

ಒಂದು varmam ಚಿಕಿತ್ಸಕ ದೇಹದ ನರಗಳ ಮತ್ತು ಪರಿಣಾಮಕಾರಿ ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಮಾಡಲು ಶಾರೀರಿಕ ರಚನೆ ಬಗ್ಗೆ ಆಳವಾದ ತಿಳುವಳಿಕೆ ಹೊಂದಿರುವುದು ಅಗತ್ಯ . ಈ ಜಗತ್ತಿನಲ್ಲಿ ಇರುವ ಕೆಲವೇ ಚಿಕಿತ್ಸಕರು ಮತ್ತು ಆಧುನಿಕ ಸಿದ್ಧ ವಿಶ್ವದ ಚಿಕಿತ್ಸೆ ಈ ಕಲೆ ರಕ್ಷಿಸಲು ಪ್ರಯತ್ನಿಸುತ್ತಿದ್ದಾರೆ .
ಸಿದ್ಧ ಇಂದು

ವ್ಯತಿರಿಕ್ತ
ಚಿಕಿತ್ಸೆಯ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಪರಿಚಯಿಸಲಾಯಿತು ನಂತರ ಸಿದ್ಧ ಸಹ ತಮಿಳುನಾಡಿನಲ್ಲಿ , ಒಂದು
ಹೆಚ್ಚು ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ವೈದ್ಯಕೀಯ ವ್ಯವಸ್ಥೆ , ತನ್ನ ಜನಪ್ರಿಯತೆಯನ್ನು
ಕಳೆದುಕೊಂಡಿದೆ .
ಆದರೂ , ಕೆಲವು ಉತ್ಸಾಹಿಗಳು ತೆಗೆದುಕೊಳ್ಳುವವರು ಇವೆ ಅಥವಾ ಕನಿಷ್ಟ ಅನೇಕ ಜನರು ಕಾಮಾಲೆ ಮುಂತಾದ ಕೆಲವೇ ಕಾಯಿಲೆಗಳಿಗೆ ಸಿದ್ಧ ಆದ್ಯತೆ . ಡಾ Ramalingam , IMCOPS , ಅಧ್ಯಕ್ಷ , ಚೆನೈ , ಸಿಎನ್ ಕೆಲವು ವ್ಯತಿರಿಕ್ತ ಚಿಕಿತ್ಸೆಯ ವೈದ್ಯರು , ನಂತರ Deivanayagam
, ಇನ್ನೂ ಕೆಲವು ವ್ಯತಿರಿಕ್ತ ಚಿಕಿತ್ಸೆಯ ವೈದ್ಯರ ಸಿದ್ಧ ಸಲಹೆ ಪ್ರಾರಂಭಿಸಿದ ,
ಸಿದ್ಧ ಪದ್ಧತಿಯನ್ನು ಜನಪ್ರಿಯಗೊಳಿಸಿದರು [ 18 ] ಪ್ರಯತ್ನಿಸಿದರು .
2012
ರಲ್ಲಿ , VA ಶಿವ Ayyadurai , ಒಂದು Tamilian ಮತ್ತು MIT ವ್ಯವಸ್ಥೆಗಳು ವಿಜ್ಞಾನಿ
, ವ್ಯವಸ್ಥೆಗಳು ವಿಜ್ಞಾನದ ಜೊತೆಗೆ , ಅಂತಹ ಸಿದ್ಧ , ಆಯುರ್ವೇದ , ಮತ್ತು
ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕ ಚೀನೀ ಔಷಧ ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕ ವ್ಯವಸ್ಥೆಗಳು ಔಷಧಿ ಪರಿಕಲ್ಪನೆಗಳು
ಸಂಯೋಜನೆಗೊಳ್ಳುತ್ತದೆ ಇದು ದೀಪಕ್ ಚೋಪ್ರಾ ಜೊತೆ ಚೋಪ್ರಾ ಸೆಂಟರ್ ಮೂಲಕ
ವೈದ್ಯಕೀಯ ವೈದ್ಯರು ಒಂದು ಶೈಕ್ಷಣಿಕ ಯೋಜನೆಯನ್ನು ಪ್ರಾರಂಭಿಸಿದರು ಮತ್ತು
ಸಿಸ್ಟಮ್ಸ್ ಬಯಾಲಜಿ . [ 19 ]

ತಮಿಳುನಾಡು ರಾಜ್ಯದ ಸಿದ್ದ ಔಷಧ ( : ಪದವಿ ಸಿದ್ಧ ಮೆಡಿಸಿನ್ ಅಂಡ್ ಸರ್ಜರಿ BSMS ) ಒಂದು 5.5 - ವರ್ಷದ ಕೋರ್ಸ್ ರನ್ . ಭಾರತೀಯ
ಸರ್ಕಾರವು ಸಿದ್ಧ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸಂಸ್ಥೆ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಕಾಲೇಜುಗಳು ಮತ್ತು ಸಂಶೋಧನಾ
ಕೇಂದ್ರಗಳನ್ನು ಆರಂಭಿಸುವ ಮೂಲಕ , ಸಿದ್ಧ ಮೇಲೆ ತನ್ನ ಗಮನವನ್ನು ನೀಡುತ್ತದೆ [ 20 ]
ಸಿದ್ಧ ಸಂಶೋಧನೆ ಮತ್ತು ಸೆಂಟ್ರಲ್ ಕೌನ್ಸಿಲ್ . [ 21 ] ಅನೇಕ ಭಾವನೆ ಅಲೋಪತಿ
ಆರಂಭವಾದಾಗ , ಸಿದ್ಧ ನವೀಕೃತ ಆಸಕ್ತಿಯು ಕಂಡುಬರುತ್ತಿದೆ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ
ಪೂರ್ಣಗೊಳಿಸಲು
ಮತ್ತು ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ಸ್ಟ್ಯಾಂಡ್ / ಸಿದ್ಧಾಂತಗಳು ಬದಲಾಯಿಸದೆ ಇದೆ . [ 22 ] ಸಿದ್ದ
ಔಷಧ ಚಿಕನ್ಗುನ್ಯ ಪರಿಣಾಮಕಾರಿಯಾಗಿರುತ್ತದೆ ದೊರೆಯಲಿಲ್ಲ . [ 23 ]
ವಾಣಿಜ್ಯ ಆಸಕ್ತಿ

ವಾಣಿಜ್ಯ , ಸಿದ್ಧಾ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಅನುಸರಿಸಲಾಗುತ್ತಿದೆ

    ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ
vaithiyars ಮಾಹಿತಿ ತಮಿಳಿನಲ್ಲಿ ಕರೆಯಲಾಗುತ್ತದೆ ಸಿದ್ಧ ಕುಟುಂಬ ವೈದ್ಯರು (
ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕ ವೈದ್ಯರು ) , ತಮ್ಮ ಮಕ್ಕಳಿಗೆ ಜ್ಞಾನ ವರ್ಗಾಯಿಸಲಾಯಿತು , ಮತ್ತು
    
ಸರ್ಕಾರ ಸಿದ್ಧ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಕಾಲೇಜುಗಳಲ್ಲಿ ಅಧ್ಯಯನ ಮಾಡಿದ ವೈದ್ಯಕೀಯವಾಗಿ ಪ್ರಮಾಣಿತ ಸಿದ್ಧ ವೈದ್ಯರು .

ಶೈಕ್ಷಣಿಕ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು

ತಮಿಳುನಾಡು ಸರ್ಕಾರ ಕೆಳಗಿನಂತೆ 2 ಸಿದ್ಧಾ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಕಾಲೇಜುಗಳು ಸಾಗುತ್ತದೆ :

    ಸರ್ಕಾರ ಸಿದ್ಧ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಕಾಲೇಜ್ , ಪಲಯಂಕೊಟ್ಟೈ , ತಿರುನಲ್ವೇಲಿ ಜಿಲ್ಲೆಯ
    
ಸರ್ಕಾರ ಸಿದ್ಧ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಕಾಲೇಜು , ಅಣ್ಣಾ ಹಾಸ್ಪಿಟಲ್ ಕ್ಯಾಂಪಸ್ , Arumbakkam , ಚೆನೈ 106 .

ಭಾರತ ಸರ್ಕಾರವು ಈ ಕೆಳಗಿನಂತೆ ಒಂದು ಸಿದ್ಧ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಕಾಲೇಜುಗಳು ಸಾಗುತ್ತದೆ :

    ಸಿದ್ಧ , ತಾಂಬರಂ , ನ್ಯಾಷನಲ್ ಇನ್ಸ್ಟಿಟ್ಯೂಟ್ ಆಫ್ ಕಾಂಚೀಪುರಂ ಜಿಲ್ಲೆ ( NearChennai )

ಕೇರಳದ ಲಭ ಕಾಲೇಜುಗಳು

    Santhigiri ಸಿದ್ಧ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಕಾಲೇಜ್ , ತಿರುವನಂತಪುರಂ .

ಖಾಸಗಿ ಸಿದ್ಧ ಕಾಲೇಜುಗಳು :

    Velumailu ಸಿದ್ಧ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಕಾಲೇಜು ಮತ್ತು ಆಸ್ಪತ್ರೆ , ನಂ 48 , ಜಿಡಬ್ಲ್ಯೂಟಿ ರಸ್ತೆ , ಎದುರು . ರಾಜೀವ್ ಗಾಂಧಿ ಸ್ಮಾರಕ , ಶ್ರೀಪೆರುಂಬುದೂರ್ - 602 105 . ( ಆಯುಶ್ ಆಫ್ ಇಲಾಖೆ . ಭಾರತದ ಮೂಲಕ ಅಂಗೀಕರಿಸಲಾಗಿದೆ ಮತ್ತು ಟಿಎನ್ ಡಾ MGR ವೈದ್ಯಕೀಯ ವಿಶ್ವವಿದ್ಯಾಲಯ , ಚೆನೈ ಮಾನ್ಯತೆಯನ್ನು )

Telugu

సిద్ధ వైద్యం

సిద్ధ
మెడిసిన్ ( ” சித்த மருத்துவம் ” లేదా ” தமிழ் மருத்துவம் ” తమిజ్ లో )
మానవులకు తెలిసిన పురాతన వైద్య విధానాలు ఒకటి . [ 1 ] సమకాలీన తమిజ్
సాహిత్యం తమిళనాడు రాష్ట్రంలో , సిద్ధ ఔషధం యొక్క వ్యవస్థ దక్షిణ భారతదేశం
లో పుట్టిన కలిగి
, ముగ్గురూ భారత మందులు వంటి భాగం - ఆయుర్వేదం, సిద్ధ మరియు యునానీ . కంటే
ఎక్కువ 10000 సంవత్సరాల క్రితం వచ్చాయి నివేదించబడింది , [ 2 ] ఔషధం యొక్క
సిద్ధ వ్యవస్థ అత్యంత పురాతన సంప్రదాయ వైద్య విధానాలు ఒకటిగా ఉంది .

Siddhargal ” లేదా సిద్ధులు పురాతన రోజుల ప్రీమియర్ శాస్త్రవేత్తలు .
ప్రధానంగా దక్షిణ భారతదేశం నుండి [ 3 ] సిద్ధులు , మందుల ఈ వ్యవస్థ పునాది
వేశారు.
సిద్ధులు అష్ట సిద్ధిలు , లేదా ఎనిమిది అతీంద్రియ శక్తులు కలిగి ఎవరు ఆధ్యాత్మికం adepts ఉన్నాయి . సేజ్ అగత్తియర్ అన్ని Sidhars గురువు భావిస్తారు .


అగత్తియర్ ” మొదటి సిద్ధార్ ఉంది , మరియు ఇతర పాఠశాలల నుండి తన శిష్యులు
మరియు సిద్ధులు ఔషధం సహా , సిద్ధ గ్రంథాలు వేల ఉత్పత్తి , మరియు ప్రపంచ
వ్యవస్థ propounders ఏర్పాటు .

ఆయుర్వేదం,
సిద్ధ లో సెంట్రల్ కౌన్సిల్ ఫర్ రీసెర్చ్ ( CCRAS ) , ఆయుర్వేద శాఖ , యోగ
మరియు నేచురోపతి , యునాని , సిద్ధ అండ్ హోమియోపతి ( AYUSH ) , ఆరోగ్యం
మరియు కుటుంబ సంక్షేమ మంత్రిత్వ శాఖ , భారతదేశం ప్రభుత్వం , ద్వారా , 1978
లో స్థాపించబడిన సమన్వయ మరియు పరిశోధన ప్రోత్సహిస్తుంది
ఆయుర్వేదం, సిద్ధ ఔషధం రంగాలలో . కూడా
, భారత మెడిసిన్ ( CCIM ) , AYUSH కింద 1971 లో స్థాపించబడింది ఒక
చట్టబద్ధమైన సంస్థ యొక్క సెంట్రల్ కౌన్సిల్ సిద్ధ సహా భారత వైద్య
ప్రాంతాల్లో , ఉన్నత విద్య పర్యవేక్షిస్తుంది .
ఇటువంటి
ఆయుర్వేద , యునాని , సిద్ధ భారత ఔషధం వివిధ వ్యవస్థలు , యొక్క 223,000
సమ్మేళనాల యొక్క ఒక రిపోజిటరీ వంటి సంప్రదాయ జ్ఞానం కొరకు డిజిటల్ లైబ్రరీ
ఏర్పాటు 2001 లో బయో పైరసీ మరియు అనైతిక పేటెంట్లు , భారతదేశం ప్రభుత్వం
, పోరాడటానికి .
చరిత్ర

సిద్ధ సైన్స్ ద్రావిడ సంస్కృతి నుండి ఉత్పత్తి పురాతన సంప్రదాయ చికిత్స వ్యవస్థ . సిద్ధ సింధు నాగరికత కాలంలో వృద్ధి చెందింది . తాళపత్రాలలో సిద్ధ వ్యవస్థ మొదటి అతని భార్య పార్వతి శివుడు వర్ణించవచ్చు చెప్పారు . పార్వతీ ఆమె కుమారుడు మురుగన్ స్వామి అన్ని ఈ జ్ఞానం వివరించారు . అతను తన శిష్యుడు మహర్షి Agasthya అన్ని ఈ జ్ఞానాన్ని బోధించాడు . Agasthya 18 సిద్ధులు నేర్పిస్తారు మరియు మానవులు ఈ జ్ఞానం వ్యాప్తి . [ 10 ]

పదం సిద్ధ పరిపూర్ణత లేదా స్వర్గపు ఆనందం సాధించవచ్చు ఒక వస్తువు అనే అర్థం సిద్ధి నుంచి వస్తుంది . సిద్ధ ” Ashtamahasiddhi , ” ఎనిమిది అతీంద్రియ శక్తి దృష్టి సారించే . సాధించిన లేదా పైన సాధించిన వారికి అధికారాలు సిద్ధులు పిలుస్తారు అన్నారు . అక్కడ పాత రోజులలో 18 ముఖ్యమైన సిద్ధులు మరియు వారు మందు ఈ వ్యవస్థను అభివృద్ధి . అందువల్ల , అది సిద్ధ ఔషధం అని పిలుస్తారు . సిద్ధులు తాళపత్రాలలో వారి జ్ఞానం రాశాడు , ఇది యొక్క శకలాలు దక్షిణ భారతదేశం యొక్క ప్రాంతాల్లో దొరకలేదు . ఇది కొన్ని కుటుంబాలు మరింత శకలాలు కలిగి కానీ వారి సొంత ఉపయోగం కోసం మాత్రమే ఉంచడానికి ఉండవచ్చని నమ్ముతారు . సంప్రదాయ సిద్ధ కుటుంబాల వద్ద సిద్ధ మాన్యుస్క్రిప్ట్స్ భారీ సేకరణ ఉంది . [ 10 ]

నిపుణులు ప్రకారం , 18 ప్రధాన సిద్ధులు ఉన్నాయి . ఈ 18 , Agasthya సిద్ధ ఔషధం యొక్క తండ్రి భావిస్తున్నారు . సిద్ధులు ఒక ఆరోగ్యకరమైన ఆత్మ మాత్రమే ఒక ఆరోగ్యకరమైన శరీరం ద్వారా అభివృద్ధి చేయవచ్చు భావన ఉన్నాయి . కాబట్టి అవి పద్ధతులు మరియు వారి భౌతిక శరీరం బలోపేతం భావిస్తున్నారు మరియు తద్వారా వారి ఆత్మలు ఉంటాయి మందుల అభివృద్ధి . వ్యవస్థ అభివృద్ధి తమ జీవితాలను అంకితం స్త్రీ పురుషుల సిద్ధులు పిలిచారు . వారు
ఆవర్తన ఉపవాసం మరియు ధ్యానం యొక్క సంవత్సరాల తీవ్రమైన యోగ పద్ధతులు ,
ఆచరణలో , మరియు మానవాతీత శక్తులు సాధించిన నమ్ముతారు మరియు సుప్రీం జ్ఞానం
మరియు మొత్తం అమరత్వం పొందలేకపోయాయి .

ఆధ్యాత్మికంగా సాధించిన అత్యున్నత జ్ఞానం ద్వారా , వారు కళలు జీవిత
శాస్త్రం మరియు సత్యానికి వ్యాధులకు ఆశ్చర్యకరమైన కు , జీవితం యొక్క అన్ని
అంశాలపై గ్రంధములను రచించాడు . [ 11 ]

రాతప్రతుల నుంచి , ఔషధం యొక్క సిద్ధ ఇండియన్ వైద్య శాస్త్రం భాగంగా అభివృద్ధి . నేడు
ఉన్నాయి , సిద్ధ వైద్య కళాశాలలు గుర్తింపు సిద్ధ వైద్యంలో బోధించాడు
ఉన్న ప్రభుత్వ విశ్వవిద్యాలయాలు , కింద నడుపుతున్నాయి . [ 12 ] [ 13 ]

సిద్ధ వైద్యం ఖచ్చితంగా ఉంది మందు అర్థం . సిద్ధ
వైద్యం తీసుకురావడం మరియు చైతన్యం నింపు వ్యాధి కలిగించే పనిచేయని
అవయవాలు మరియు Vaadham , Pitham మరియు Kabam నిష్పత్తి నిర్వహించడానికి
నిలుస్తోంది .
వైద్యులకు ఇచ్చిన సిద్ధ వైద్యంలో ఆకులు , పువ్వులు , పళ్ళు మరియు మిశ్రమ ఆధారంగా వివిధ మూలాలు ఉన్నాయి . కొన్ని అసాధారణ విషయాలలో , ఈ ఔషధం అన్ని నయమవుతుంది కాదు .
అటువంటి సందర్భాలలో , వారు అది Thanga Pashpam తీసుకోవాలని సిఫార్సు ; .
బంగారం కూడా ఒక తినడం పద్ధతి లో కలుపబడుతుంది [ citation needed ]

సాధన సిద్ధ వైద్య నిపుణులు చాలా సంప్రదాయకంగా సాధారణంగా కుటుంబాలు మరియు గురువులు ( ఉపాధ్యాయులు ) ద్వారా , శిక్షణ పొందుతారు . గురు
ఒక యుద్ధ కళల గురువు ఉన్నప్పుడు , అతను కూడా ఒక ashan అంటారు . [ అయోమయ
నివృత్తి అవసరమైన ] వారు ఒక రోగి యొక్క సందర్శన మరియు సెట్ తగిన పరిష్కారం
కొరకు వారి మాన్యుస్క్రిప్ట్స్ సూచించడానికి తర్వాత ఒక నిర్ధారణ , తయారు
స్వయంగా ఒక నిజమైన నీలం వైద్యుడు కాంపౌండ్స్
లేదా ఆమె , మూలికా మరియు herbo - ఖనిజ వనరులను వేల నుండి . సిద్ధ
ఆలోచన పద్దతి అర్థాన్ని విడదీసేందుకు అనేక రుగ్మతల కారణాలు మరియు
కొన్నిసార్లు కంటే ఎక్కువ 250 పదార్థాలు , ఇది ఆసక్తికరమైన నివారణలు
ఏర్పాటుకు దోహదపడింది .
==
ప్రత్యామ్నాయ వైద్య విధానాలు ఆక్యుపంక్చర్
బోవెన్ టెక్నిక్
చిరోప్రాక్టిక్
హోమియోపతి చికిత్సా విధానం
ప్రకృతి సిద్ధ ఔషధం
ఒళ్ళుపట్టడం
సాంప్రదాయిక మందు
చైనీస్ · కొరియన్ · మంగోలియన్ · టిబెటన్ · యునాని · సిద్ధ · ఆయుర్వేదం
మునుపటి NCCAM డొమైన్
మొత్తం వైద్య వ్యవస్థ
మైండ్ - శరీరం చికిత్సలు
జీవశాస్త్రం ఆధారంగా చికిత్సలు
మానిప్యులేట్ థెరపీ
శక్తి చికిత్సలు

    v
    
t
    

ది

ప్రాథమికాలు

సాధారణంగా సిద్ధ ఔషధం యొక్క ప్రాథమిక భావనలను ఆయుర్వేద దాదాపు ఒకే విధంగా ఉంటాయి . మాత్రమే
తేడా ఆయుర్వేద లో , ఇది పూర్తిగా భిన్నంగా ఉంటుంది అయితే సిద్ధ వైద్యంలో
వరుసగా చిన్ననాటి యుక్తవయస్సు మరియు ముసలితనంలో Vaadham , Pitham మరియు
Kabam ప్రాబల్యం గుర్తించే కనిపిస్తుంది : Kabam వృద్ధాప్యాన్ని మరియు
Pitham లో , Vaatham బాల్యంలో ఆధిపత్య
పెద్దలు .

సిద్ధ
వైద్యం ప్రకారం , శరీరం యొక్క వివిధ మానసిక మరియు శారీరక విధులు ఏడు
మూలకాల కలయిక చెప్పవచ్చు : మొదటి పెరుగుదల , అభివృద్ధి మరియు పోషణ బాధ్యత
ooneer ( ప్లాస్మా ) ఉంది ; రెండవ రంగు అందజేయటంతో , సాకే కండరాలు బాధ్యత
cheneer ( రక్తం) ఉంది
మరియు
మేధస్సును అభివృద్ధి ; మూడవ శరీరం యొక్క ఆకారాన్ని బాధ్యత oon ( కండరాల )
ఉంది ; నాలుగో చమురు సంతులనం మరియు కందెన కీళ్ళు బాధ్యత kolluppu ( కొవ్వు
కణజాలం ) ఉంది ; ఐదవ శరీర నిర్మాణం మరియు భంగిమ మరియు ఉద్యమం బాధ్యత elumbu
( ఎముక ) ఉంది ; ఆరవది
elumbu రక్త రక్త కణాలు ఏర్పడటానికి బాధ్యత machai (మూలుగ ) ; మరియు గత పునరుత్పత్తి బాధ్యత sukkilam ( వీర్యము ) ఉంది . ఆయుర్వేదం
లో లైక్ , సిద్ధ ఔషధం లో కూడా , మానవుల శారీరక భాగాలు Vaadham ( గాలి ) ,
Pitham ( అగ్ని ) మరియు Kabam ( భూమి మరియు నీటి ) వలె వర్గీకరించబడ్డాయి .

ఆయుర్వేదం
‘ పై కుల ‘ ప్రజల సంక్షేమం కోసం , ‘ ఎగువ కుల ‘ వైద్యులు
అనుసరించబడినప్పటికీ , సిద్ధ ఏ కుల వ్యవస్థ పరిమితమై మరియు వైద్యులు
రోగికి చికిత్స లేదు .
దాని
వేద మూలాలు కారణంగా Ayurvedha , సిద్ధ వ్యవస్థ కుల వ్యవస్థలో నమ్మలేదు
అయితే , వర్ణ వ్యవస్థ లేదా కుల వ్యవస్థ ఆదరించింది, మరియు అందుకే
ప్రజాస్వామ్య మరియు అభ్యుదయకర .
వ్యాధి మరియు కారణం భావన

ఇది మూడు కణితులలో ( Vaadham , Pittham మరియు Kabam ) సాధారణ సమతౌల్య చెదిరిన ఉన్నప్పుడు , వ్యాధి కలుగుతుంది భావించారు . ఈ సమతుల్యత ప్రభావితం కూ గల కారణాలను , వాతావరణ పరిస్థితులు , ఆహారం , శారీరక కార్యకలాపాలు మరియు ఒత్తిడి వాతావరణంలో ఉన్నాయి . సాధారణ పరిస్థితుల్లో , ఈ మూడు కణితులలో అంటే మధ్య నిష్పత్తి : ( Vaadham , Pittham , Kabam ) వరుసగా 4:2:1 ఉన్నాయి .

సిద్ధ
వైద్యంలో వ్యవస్థ ప్రకారం , ఆహారం మరియు జీవనశైలి ఆరోగ్య కాకుండా
క్యూరింగ్ వ్యాధులు మాత్రమే , ఒక ప్రధాన పాత్ర పోషిస్తుంది.
సిద్ధ వైద్యంలో ఈ భావన తప్పనిసరిగా ” మరియు చేయలేనివాటితో యొక్క ” జాబితా ఇది pathiyam మరియు apathiyam , వంటి పిలుస్తారు .
రోగ నిర్ధారణ

నిర్ధారణలో , ఎనిమిది అంశాలను పరీక్ష సాధారణంగా ” enn vakaith thervu ” అని పిలుస్తారు , ఇది అవసరం . ఇవి :

    నా ( నాలుక ) : Vaatham లో నలుపు, పసుపు లేదా pitham లో ఎరుపు , kabam తెలుపు , రక్తహీనత నెలకొంది .
    
వర్ణం ( రంగు ) : kabam లో లేత , Vaatham , పసుపు లేదా pitham లో ఎరుపు కృష్ణ .
    
Kural ( వాయిస్ ) : మద్యం slurred Vaatham , kabam లో pitham , తక్కువ పిచ్ లో అధిక పిచ్ , సాధారణ .
    
కన్ ( కళ్ళు ) : kabam లో లేత , pitham లో పసుపు లేదా ఎరుపు బురదలో పోటు, .
    
Thodal ( టచ్ ) : Vaatham లో పొడి , pitham వెచ్చని , శరీరం వేర్వేరు ప్రాంతాల్లో చెమట పట్టుట కఫా లో వణుకు .
    
మలం
( మలం ) : నలుపు బల్లలు Vaatham , పసుపు pitham , kabam , పుండు లో ముదురు
ఎరుపు లో లేత మరియు అనారోగ్యం లో మెరిసే సూచిస్తున్నాయి .
    
నీర్
( మూత్రం ) : ప్రారంభ ఉదయం మూత్రం విశ్లేషించబడిన ; గడ్డి రంగు , అధిక
వేడి లో అజీర్ణం , ముదురు పసుపు రంగు సూచిస్తుంది కామెర్లు లో రక్తపోటు ,
కుంకుమ రంగు లో పెరిగింది , మరియు మూత్రపిండాల వ్యాధి లో మాంసం కడిగిన నీరు
కనిపిస్తుంది .
    
Naadi ( పల్స్ ) : రేడియల్ కళ రికార్డ్ నిశ్చిత పద్ధతి .

Thavaram
( మూలికా ఉత్పత్తి ) , thadhu ( అకర్బన పదార్థాలు ) మరియు jangamam ( జంతు
ఉత్పత్తులు ) : సిద్ధులు ఉపయోగించే మందులు మూడు సమూహాలుగా వర్గీకరించారు .
Uppu
( నీటిలో కరిగే అకర్బన పదార్థాలు లేదా అగ్ని ఉంచాలి ఉన్నప్పుడు ఆవిరి
బయటకు ఇచ్చే మందులు ) , pashanam ( మందులు నీటిలో కరిగి కానీ పేల్చినప్పుడు
ఆవిరి విడుదల కాదు ) , uparasam ( pashanam కానీ చర్య తేడా పోలి : Thadhu
మందులు మరింత వలె వర్గీకరించబడ్డాయి
)
, loham ( నీటిలో కరిగి కానీ పేల్చినప్పుడు కరిగించకపొతే ) , రసం (
మృదువైన గురయ్యే మందులకు ) , మరియు ghandhagam ( సల్ఫర్ వంటివి నీటిలో
కరగని గురయ్యే మందులకు , ) . [ 17 ]

సువై
( రుచి ) , gunam ( పాత్ర ) , veeryam ( శక్తి ) , పిరివు ( తరగతి ) మరియు
mahimai ( చర్య ) : సిద్ధ వైద్యంలో ఉపయోగిస్తున్నారు మందులు ఐదు లక్షణాల
ఆధారంగా వర్గీకరిస్తారు .

అప్లికేషన్ వారి మోడ్ ప్రకారం , సిద్ధ మందులు రెండు తరగతులుగా వర్గీకరించబడతాయి కాలేదు :

    అంతర్గత
ఔషధం నోటి ద్వారా ఉపయోగిస్తారు మరియు మరింత రూపం ఆధారంగా 32 కేతగిరీలు ,
తయారీ పద్ధతులు , అల్మారా జీవిత , మొదలైనవి వర్గీకరించబడింది
    
బాహ్య
ఔషధం మందులు మరియు కూడా కొన్ని దరఖాస్తులు ( నాసికా , కంటి మరియు కమ్మలు
వంటి ) , మరియు కూడా కొన్ని విధానాలు ( ఉదాహరణకు జలగ అప్లికేషన్ వంటి )
కొన్ని రకాల ఉన్నాయి.
ఇది కూడా 32 వర్గాలుగా విభజించబడుతుంది .

చికిత్స

సిద్ధ వైద్యంలో చికిత్స సమతౌల్య మరియు ఏడు మూలకాల యొక్క నిర్వహణ మూడు కణితులలో ఉంచడం లక్ష్యంగా ఉంది . సో
సరైన ఆహారం , ఔషధం మరియు జీవితం యొక్క ఒక క్రమశిక్షణ నియమావళి ఒక
ఆరోగ్యకరమైన దేశం కోసం సూచించారు మరియు వ్యాధి పరిస్థితి లో కణితులలో
యొక్క సమతుల్యతను సాధించేందుకు .
సెయింట్ తిరువల్లువర్ చికిత్స విజయవంతంగా నాలుగు ఆవశ్యకతలు వివరిస్తుంది . ఈ రోగి , పరిచారకుడు, వైద్యుడు మరియు వైద్య ఉంటాయి . వైద్యుడు
మంచి అర్హత కలిగిన మరియు ఇతర ఎజెంట్ అవసరమైన లక్షణాలను కలిగి ఉన్నప్పుడు ,
సాధువులు వ్యాధులు ఈ భావనలు ప్రకారం , సులభంగా నయం చేయవచ్చు .

చికిత్స వ్యాధి కోర్సు మరియు కారణం అంచనా తర్వాత ప్రారంభ సాధ్యమైనంత ప్రారంభించింది చేయాలి . ;
Manuda maruthuvum ( హేతుబద్ధ పద్ధతి ) ; అసురులు అవవచ్చు మరియు
maruthuvum ( శస్త్రచికిత్స పద్ధతి ) devamaruthuvum ( దైవ పద్ధతి ) :
చికిత్స మూడు వర్గాలుగా విభజించబడుతుంది .
దైవ పద్ధతి లో , parpam , chendooram , గురువు వంటి మందులు kuligai పాదరసం , సల్ఫర్ తయారు మరియు pashanams ఉపయోగిస్తారు . హేతుబద్ధమైన పద్ధతి లో , churanam , kudineer , లేదా vadagam వంటి మూలికలను తయారు మందులు ఉపయోగిస్తారు . శస్త్రచికిత్స పద్ధతి లో , కోత , కోత , వేడి అప్లికేషన్ , తెలియజేసినందుకు , లేదా జలగ అప్లికేషన్ రక్త ఉపయోగిస్తారు .

చికిత్సలు
ప్రకారం సిద్ధ మందులు చికిత్సలు అలాంటి మరిన్ని బేదిమందు చికిత్స , వాంతి
మందు చికిత్స , ఉపవాసం చికిత్స , ఆవిరి చికిత్స , oleation చికిత్స , భౌతిక
చికిత్స , సౌర చికిత్స , రక్త తెలియజేసినందుకు చికిత్స , యోగా చికిత్స ,
తదితరాలు ఈ కింది విభాగాలుగా వర్గీకరించవచ్చు కాలేదు
Varmam

Varmam శరీరం కీలక పాయింట్లు శక్తి ట్రాన్స్ఫార్మర్లు లేదా బ్యాటరీలు వ్యవహరిస్తారు. శరీరానికి యొక్క క్లిష్టమైన Nadi వ్యవస్థ ద్వారా కీలక జీవిత శక్తి ఉయిర్ శక్తీ ప్రవాహం పెంచడం కోసం కేంద్రాలు ఏర్పాటు . ప్రకృతి
, దాని రూపకల్పనలో శరీరం లోపల వాటిని లోతైన ఉంచడం ద్వారా లేదా ఉల్లంఘన
సాధారణ ప్రయత్నాలు లభ్యంకాని కణజాలం వాటిని కవర్ ద్వారా ఈ కీలక కేంద్రాలు
రక్షణ ఉంది .

Varmam సొంతంగా ఒక సంపూర్ణమైన చికిత్స మరియు శరీరం , మనస్సు మరియు ఆత్మ చెత్త వ్యూహాలు అమలు . ఒక varmam నిపుణుడు శరీరం మధ్య అంతర్లీన లింకులు , కీలక జీవిత శక్తి మరియు మనస్సు అర్థం . ఒక
varmam చేయవచ్చు వస్తువులు సుదీర్ఘ జాబితాకు చూసి ఉంటే , ఒక పూర్తిగా
లోతైన శాస్త్రం మరియు దాని గురించి తెస్తుంది నిరాక్షేపణీయమయిన వైద్యం
మైమరచిపోయేవారు ఉంటుంది .
మానవ శరీరం దాని జీవితకాలంలో , చిన్న మరియు పెద్ద ప్రమాదాలు , చాలా లోకి పొందవచ్చు . చాలా అరుదుగా ప్రజలు జీవితంలో ప్రమాదాలు తప్పించుకోవడానికి తగినంత అదృష్ట ఉన్నాయి .

Varmams
గాయపరిచే అవసరమైన ఒత్తిడి రకం ఆధారంగా వర్గీకరించారు : ( ఒక ) Paduvarmam
( varmam గాయం కారణంగా ) , ( బి ) Thodu varmam ( టచ్ ద్వారా ) ; Thattu
varmam ( దెబ్బలతో ) ; ( సి ) Thaduvu varmam ( రుద్దడం ద్వారా
) ; ( d ) Nakku varmam ( చూడటం ద్వారా ) ; మరియు ( ఇ ) Nokku ( ఉంటె ద్వారా ) . విస్తృతంగా
ఉపయోగిస్తున్నారు గుర్తింపు వాటిని 12 Paduvarmams మరియు 96 Thoduvarmams
ఉన్నాయి ; ఎందుకంటే అప్లికేషన్ లేదా వాటిని దరఖాస్తు అవసరం లోతుగా విజ్ఞాన
మార్గం ఇతర కేతగిరీలు తక్కువ స్థిరత్వం లేదు .

కేతగిరీలు లో , Nokku varmam అత్యంత విస్మయం ఉత్పత్తి మరియు ఈ
చెయ్యగలిగేలా వారికి మాస్టర్స్ దాదాపు అంతరించిపోయిన చాలా అరుదుగా , ఆచరణలో
కనిపిస్తుంది .

ఒక varmam చికిత్సకుడు శరీరం యొక్క నరములు మరియు సమర్థవంతమైన చికిత్స చేయాలని భౌతిక నిర్మాణం గురించి ఒక లోతైన పరిజ్ఞానం అవసరం . అక్కడ
ఈ ప్రపంచంలో ఉన్న కొన్ని చికిత్సకులు ఉన్నాయి , మరియు ఆధునిక సిద్ధ ప్రపంచ
వైద్యం యొక్క ఈ కళ సంరక్షించేందుకు ప్రయత్నిస్తున్నారు .
సిద్ధ నేడు

అల్లోపతిక్
ఔషధం ప్రవేశపెట్టిన తరువాత సిద్ధ కూడా తమిళనాడు లో , ఒక మరింత శాస్త్రీయ
వైద్య వ్యవస్థ వంటి , దాని ప్రజాదరణ కోల్పోయింది .
ఇప్పటికీ , కొన్ని తీవ్రమైన అవలంభించిన ఉన్నాయి లేదా కనీసం అనేక మంది కామెర్లు వంటి కొన్ని వ్యాధులకు సిద్ధ ఇష్టపడతారు . అటువంటి డా రామలింగం , IMCOPS , అధ్యక్షుడు , చెన్నై , CN వంటి కొన్ని అల్లోపతిక్ వైద్యులు , తరువాత Deivanayagam , కూడా కొన్ని అల్లోపతిక్ వైద్యులు సిద్ధ సూచిస్తూ మొదలుపెట్టారు , సిద్ధ వ్యవస్థ ఆదరణ [ 18 ] ప్రయత్నించారు . 2012
లో , VA శివ Ayyadurai , ఒక తమిళుడు మరియు MIT వ్యవస్థలు శాస్త్రవేత్త ,
వ్యవస్థలు శాస్త్రంతో , అటువంటి సిద్ధ , ఆయుర్వేదం , మరియు సాంప్రదాయ
చైనీస్ వైద్యం వంటి సంప్రదాయ వ్యవస్థలు ఔషధం భావనలను అనుసంధానించే ఇది
దీపక్ చోప్రా తో చోప్రా సెంటర్ ద్వారా వైద్యులు కోసం ఒక విద్యా
కార్యక్రమాన్ని ప్రారంభించింది మరియు
సిస్టమ్స్ బయాలజీ . [ 19 ]

తమిళనాడు రాష్ట్ర సిద్ధ ఔషధం ( బ్యాచిలర్ సిద్ధ మెడిసన్ అండ్ సర్జరీ లో BSMS ) లో 5.5 సంవత్సరాల కోర్సు నడుస్తుంది . భారత
ప్రభుత్వం కూడా సిద్ధ నేషనల్ ఇన్స్టిట్యూట్ వంటి వైద్య కళాశాలలు మరియు
పరిశోధన కేంద్రాలు ప్రారంభమై ద్వారా , సిద్ధ దాని దృష్టి అందిస్తుంది [ 20
] సిద్ధ పరిశోధన మరియు సెంట్రల్ కౌన్సిల్ . [ 21 ] అనేక భావన
ఔషదప్రయోగముచేసే ప్రక్రియ ప్రారంభించారు , సిద్ధ ఆసక్తి పునరుద్ధరించబడింది
పూర్తి
మరియు తరచుగా దాని స్టాండ్ / సిద్ధాంతాలు మారుతున్న లేదు . [ 22 ] సిద్ధ
ఔషధం chikungunya కోసం సమర్థవంతమైన కనుగొనబడింది . [ 23 ]
వాణిజ్య ఆసక్తి

వాణిజ్యపరంగా , సిద్ధ ఔషధం అవలంబిస్తున్న

    తరచుగా vaithiyars తమిళ ప్రస్తావించారు సిద్ధ కుటుంబం వైద్యులు ( సంప్రదాయ అభ్యాసకులు ) , వారి పిల్లలకు జ్ఞానం బదిలీ , మరియు
    
ప్రభుత్వం సిద్ధ వైద్య కళాశాలలు లో అధ్యయనం చేసిన వైద్యపరంగా సర్టిఫికేట్ సిద్ధ వైద్యులు .

విద్యా సంస్థలు

తమిళనాడు ప్రభుత్వం ఈ విధంగా 2 సిద్ధ మెడికల్ కళాశాలలు నడుస్తుంది :

    ప్రభుత్వం సిద్ధ మెడికల్ కాలేజీ , పాలయంకొట్టై , తిరునెల్వేలి జిల్లా
    
ప్రభుత్వం సిద్ధ మెడికల్ కాలేజీ , అన్నా హాస్పిటల్ ప్రాంగణం , Arumbakkam , చెన్నై 106 .

భారతదేశం యొక్క ప్రభుత్వం క్రింది విధంగా ఒక సిద్ధ మెడికల్ కళాశాలలు నడుస్తుంది :

    సిద్ధ , Tambaram , నేషనల్ ఇన్స్టిట్యూట్ ఆఫ్ కాంచీపురం జిల్లా ( NearChennai )

కేరళ లో అందుబాటులో కళాశాలలు

    Santhigiri సిద్ధ మెడికల్ కాలేజీ , తిరువంతపురం .

ప్రైవేట్ సిద్ధ కళాశాలలు :

    Velumailu సిద్ధ మెడికల్ కళాశాల మరియు హాస్పిటల్ , నం 48 , GWT రోడ్ , ఆప్ . రాజీవ్ మహాత్మా గాంధీ మెమోరియల్ , Sriperumbudur - 602 105 . ( AYUSH విభాగం , Govt . భారతదేశం యొక్క ఆమోదం మరియు TN డాక్టర్ MGR మెడికల్ విశ్వవిద్యాలయం , చెన్నై అనుబంధంగా )

Urdu


ثابت
میڈیسن (” சித்த மருத்துவம் ” یا ” தமிழ் மருத்துவம் ” Tamizh میں) لوگوں
کے لئے جانا جاتا ہے سب سے قدیم طبی نظاموں میں سے ایک ہے . [1] دور حاضر
Tamizh ادب تامل ناڈو کی ریاست میں ، ثابت طب کے نظام جنوبی بھارت میں ہوا
ہے کہ ڈگری حاصل کی
، تینوں بھارتی ادویات کے طور پر حصہ - آیور ویدک ، ثابت اور یونانی . 10000
سے زائد سال پہلے منظر عام ہیں کی اطلاع دی ، [2] ادویات کی ثابت نظام میں
سب سے زیادہ قدیم روایتی طبی نظام میں سے ایک سمجھا جاتا ہے.

Siddhargal ” یا Siddhars قدیم دنوں کی معروف سائنسدانوں تھے. بنیادی طور
پر جنوبی بھارت کی طرف سے [3] Siddhars ، ادویات کے اس نظام کی بنیاد رکھی .
Siddhars ashta siddhis ، یا آٹھ الوکک طاقتوں موجود جو روحانی adepts تھے. بابا Agathiyar تمام Sidhars کے گرو سمجھا جاتا ہے.


Agathiyar ” سب سے پہلے Siddhar تھا، اور دوسرے اسکولوں کی طرف سے اس کے
چیلوں اور Siddhars دوا بھی شامل ہے ، ثابت پر سرخیوں کی شکل میں ہزاروں کی
پیداوار ، اور دنیا کے نظام کی propounders تشکیل کرتے ہیں.

آیور
ویدک اور ثابت میں تحقیق کے لئے مرکزی کونسل ( CCRAS )، آیور ویدک کے
سیکشن میں ، کل اور قدرتی علاج ، یونانی، ثابت اور معالجہ المثلیہ ( آئوش
)، صحت اور خاندان بہبود کی وزارت، بھارت کی حکومت کی طرف سے 1978 میں قائم
سمنوی اور تحقیق کو فروغ دیتا ہے
آیور ویدک اور ثابت طب کے شعبوں میں . اس
کے علاوہ، بھارتی طبی ( CCIM )، آئوش کے تحت 1971 میں قائم ایک سانودک
نکای ، مرکزی کونسل ثابت سمیت بھارتی طبی علاقوں میں اعلی تعلیم پر نظر
رکھتا ہے .
اس
طرح کے آیور ویدک ، یونانی اور ثابت کے طور پر بھارتی طب کے مختلف نظام،
کے 223.000 فارمولیشنوں کے وسیع ذخیرے کے طور پر روایتی علم ڈیجیٹل
لائبریری قائم کی 2001 میں biopiracy اور غیر اخلاقی پیٹنٹ ، بھارت کی
حکومت ، ، لڑنے کے لئے .
تاریخ

ثابت سائنس ڈراوڈ ثقافت سے پیدا سب سے قدیم روایتی علاج کے نظام ہے. ثابت وادئ سندھ کی تہذیب کی مدت میں فلا . پام پتی مسودات ثابت نظام سب سے پہلے ان کی بیوی Parvathy پر بھگوان شو کی طرف سے بیان کیا گیا تھا کا کہنا ہے کہ . Parvathy اس کے بیٹے رب Muruga تمام اس علم کی وضاحت کی. انہوں نے کہا کہ ان کے ششی بابا Agasthya یہ تمام علم سکھایا. Agasthya 18 Siddhars سکھایا اور انہوں نے بنی نوع انسان کے لئے اس علم پھیل گیا. [10]

لفظ ثابت کمال یا آسمانی نعمتوں حاصل کرنے کے لئے کسی چیز جس کا مطلب لفظ سدقی سے آتا ہے. سدقا ” Ashtamahasiddhi ،” آٹھ الوکک طاقت پر توجہ مرکوز رکھی. حاصل یا اس سے اوپر حاصل کیا ان لوگوں کو جو اختیارات Siddhars طور پر جانا جاتا ہے. وہاں پرانے دنوں میں 18 اہم Siddhars تھے اور انہوں نے اس طبی نظام تیار . لہذا ، یہ ثابت دوا کہا جاتا ہے. Siddhars پام پتی مسودات میں ان کے علم نے لکھا ، جس کے ٹکڑے جنوبی بھارت کے کچھ حصوں میں پائے گئے. یہ
بعض خاندانوں مزید ٹکڑے کے مالک ہیں لیکن ان کے اپنے استعمال کے لئے صرف
اور صرف ان کے رکھنے کے لئے ہو سکتا ہے کہ خیال کیا جاتا ہے .
روایتی ثابت خاندان کی طرف سے رکھی ثابت پانڈلپیوں کا ایک بہت بڑا مجموعہ ہے. ​​[10]

ماہرین کے مطابق ، 18 پرنسپل siddhars تھے. ان 18 میں سے Agasthya ثابت ادویات کا باپ سمجھا جاتا ہے . Siddhars ایک صحت مند روح صرف ایک صحت مند جسم کے ذریعے تیار کیا جا سکتا ہے کہ تصور کے تھے. تو وہ طریقے اور ان کی جسمانی جسم کو مضبوط بنانے پر یقین رکھتے اور اس طرح ان کی روح ہیں کہ دوا تیار کیا ہے. نظام تیار کرنے میں ان کی زندگی کے لئے وقف ہے جو مرد اور عورت Siddhars کہا جاتا تھا. انہوں
نے متواتر روزے اور مراقبہ کے سال سمیت شدید مرکبات طریقوں، مشق ، اور
الوکک طاقتوں کامیابی حاصل کی ہے خیال اور سپریم حکمت اور مجموعی طور پر
امرتا حاصل کر رہے تھے.
اس
روحانی حاصل سپریم علم کے ذریعے ، وہ فنون لطیفہ کی طرف سے زندگی کے سائنس
اور حق پر بیماریوں کے لئے معجزہ علاج کرنے کے لئے ، زندگی کے تمام پہلوؤں
پر صحیفوں میں لکھا. [11]

مسودات سے، ثابت طبی نظام بھارتی طبی سائنس کے ایک حصے کے کے طور پر تیار . آج وہاں ، ثابت میڈیکل کالجز تسلیم ثابت طب پڑھایا جاتا ہے جہاں حکومت یونیورسٹیوں، کے تحت چلائے جا رہے ہیں . [12] [13]

ثابت ادویات کامل ہوتا ہے کہ دوا کا مطلب ہے. ثابت
دوا دوبارہ جوان اور بیماری کی وجہ سے ہے کہ غیر فعال اعضاء اور Vaadham ،
Pitham اور Kabam کے تناسب کو برقرار رکھنے کا دعوی کیا ہے.
پریکٹیشنرز کو دی ثابت ادویات پتیوں ، پھول، پھل اور ایک مخلوط بنیاد میں مختلف جڑیں شامل ہیں. کچھ غیر معمولی صورتوں میں، اس دوا کے تمام علاج نہیں ہے. وہ
لوگ اس طرح کے معاملات کے لئے، وہ اس میں Thanga Pashpam لینے کی سفارش ،
سونا بھی ایک کھانے کا طریقہ کار میں شامل کیا جاتا ہے [ حوالہ کی ضرورت
ہے]

مشق ثابت طبی پریکٹیشنرز کے زیادہ تر روایتی طور پر عام طور پر خاندانوں میں اور گرووں ( اساتذہ ) کی طرف سے ، تربیت دی جاتی ہے . گرو
ایک مارشل آرٹ ٹیچر ہیں تو انہوں نے بھی ایک ashan کے طور پر جانا جاتا
ہے. [ دسمبگاشن کی ضرورت ہے] انہوں نے ایک مریض کے دورے اور سیٹ مناسب علاج
کے لئے ان کے مسودات سے رجوع کرنے کے بارے میں کے بعد ایک تشخیص، بنانے کے
لئے خود کی طرف سے جو سچا نیلے معالج مرکبات
یا خود کو ، جڑی بوٹیوں اور herbo - معدنی وسائل کے ہزاروں کی طرف سے . ثابت
فکر کے طریقہ کار سمجھنے بہت سے امراض کی وجوہات اور کبھی کبھی 250 سے
زیادہ اجزا ہو سکتے ہیں جس کے شوقین علاج کی تشکیل میں مدد ملی ہے .
==
متبادل طبی نظام ایکیوپنکچر
Bowen تکنیک
Chiropractic
معالجہ المثلیہ
Naturopathic دوا
Osteopathy
روایتی ادویات
چینی · کوریا · منگولیا · تبتی · یونانی · ثابت · آیور ویدک
پچھلا NCCAM ڈومینز
پورے طبی نظام
دماغ جسم مداخلت
حیاتیاتی بنیاد پر علاج
جوڑ توڑ تھراپی
توانائی علاج

    بمقابلہ
    
T
    
ای

مبادیات

عام طور پر ثابت ادویات کے بنیادی تصورات آیور ویدک تقریبا ملتے جلتے ہیں . فرق
صرف آیور ویدک میں ، یہ مکمل طور پر الٹ ہے جبکہ ثابت ادویات، بالترتیب ،
بچپن ، بالغ اور بڑھاپے میں Vaadham ، Pitham اور Kabam کی برتری کو تسلیم
کرتی ہے کہ یہ ہو سکتا ہے : Kabam میں بڑھاپے اور Pitham میں Vaatham بچپن
میں غالب ہے
بالغ .

ثابت
طب کے مطابق جسم کے مختلف نفسیاتی اور جسمانی افعال کے سات عناصر کے
مجموعہ سے منسوب کر رہے ہیں: سب سے پہلے ترقی ، ترقی اور غذائیت کے لئے ذمہ
دار ooneer ( پلازما ) ہے، دوسری رنگ دینے ، پرورش کے پٹھوں کے لئے ذمہ
دار cheneer (خون ) ہے
اور
عقل کو بہتر بنانے ، تیسرا جسم کی شکل کے لئے ذمہ دار oon ( پٹھوں ) ہے،
چوتھے نمبر پر تیل توازن اور چکنا کرنے جوڑوں کے لئے ذمہ دار kolluppu (
فربہ ٹشو ) ہے، پانچویں جسم کی ساخت اور کرنسی اور تحریک کے لئے ذمہ دار
elumbu (ہڈی ) ہے، چھٹا حصہ ہے
elumbu خون corpuscles کی تشکیل کے لئے ذمہ دار machai ( بون میرو )؛ اور گزشتہ نسل کے لئے ذمہ دار sukkilam ( منی ) ہے. آیور
ویدک کی طرح ، ثابت طب میں بھی ، انسان کی جسمانی اجزاء Vaadham (ہوا) ،
Pitham (آگ ) اور Kabam (زمین اور پانی ) کے طور پر درجہ بندی کر رہے ہیں.

آیور
ویدک ‘ اوپری ذات ‘ لوگوں کی بہبود کے لئے ، ‘ اوپری ذات ‘ ڈاکٹروں کی طرف
سے عمل کیا گیا جبکہ ، ثابت کسی بھی ذات کے نظام تک محدود اور ڈاکٹر کسی
مریض کا علاج نہیں کیا گیا تھا .
اس
ویدک جڑوں کی وجہ سے Ayurvedha ، ، ثابت نظام ذات کے نظام میں یقین نہیں
کیا جبکہ حروف نظام یا ذات نظام کو تحفظ اور اس وجہ سے جمہوری اور ترقی
پسند تھا.
بیماری اور وجہ کا تصور

یہ تین humors ( Vaadham ، Pittham اور Kabam ) کے عام توازن پریشان ہے ، جب بیماری کی وجہ سے ہوتا ہے کہ فرض کیا گیا ہے . اس توازن کو متاثر کرنے کے لئے فرض کیا گیا ہے جس عوامل، ، موسمی حالات ، غذا ، جسمانی سرگرمیوں ، اور کشیدگی کے ماحول ہیں. عام شرائط کے تحت، ان تین humors یعنی کے درمیان تناسب : ( Vaadham ، Pittham ، Kabam ) بالترتیب 4:2:1 ہیں.

دوا ثابت نظام کے مطابق، غذا اور طرز زندگی صحت میں بلکہ علاج بیماریوں میں نہ صرف ایک اہم کردار ادا کرتے ہیں. ثابت طب کے یہ تصور بنیادی طور پر ” کرتے ہیں اور نہ کی” کی ایک فہرست ہے جس pathiyam اور apathiyam ، کے طور پر قرار دیا ہے.
تشخیص

تشخیص میں، آٹھ اشیاء کی امتحان عام طور پر ” این vakaith thervu ” کے طور پر جانا جاتا ہے جس کی ضرورت ہے. یہ ہیں:

    نہ ( زبان ): Vaatham میں سیاہ ، پیلے یا pitham میں سرخ ، kabam میں سفید ، انیمیا میں ulcerated .
    
Varnam ( رنگ ): kabam میں پیلا ، Vaatham ، پیلے یا pitham میں سرخ رنگ میں سیاہ .
    
Kural ( آواز ): شراب میں slurred Vaatham ، kabam میں pitham ، کم رالدار میں انمیش ، میں عام .
    
کان ( کی آنکھوں ): kabam میں پیلا ، pitham میں زرد یا سرخ کیچڑ conjunctiva ، .
    
Thodal ( رابطے ): Vaatham میں خشک ، pitham میں گرم ، جسم کے مختلف حصوں میں پسینہ آ رہا کف میں سرد ، .
    
Malam ( سٹول ): سیاہ پاخانہ Vaatham ، پیلے pitham ، kabam ، السر میں سیاہ سرخ رنگ میں پیلا اور ٹرمینل بیماری میں چمکدار ہے.
    
Neer
( پیشاب ): صبح پیشاب کی جانچ پڑتال کی ہے، پیلے رنگ، ضرورت سے زیادہ گرمی
میں اجیرن ، لال ، پیلے رنگ کی طرف اشارہ کرتا پیلیا میں بلڈ پریشر،
زعفرانی رنگ میں گلاب ، اور گردوں کے مرض میں گوشت دلوانا پانی کی طرح لگتا
ہے .
    
Naadi ( پلس ): ریڈیل اورفنون کے ریکارڈ کی تصدیق کا طریقہ .

thavaram
( ہربل مصنوعات) ، thadhu ( غیر نامی مادہ ) اور jangamam (جانوروں کی
مصنوعات ): Siddhars کی طرف سے استعمال منشیات کے تین گروہوں میں تقسیم کی
جا سکتی ہے.
uppu
(پانی گھلنشیل غیر نامی مادہ یا آگ میں ڈال دیا جب وانپ باہر دے کہ منشیات
)، pashanam ( منشیات پانی میں تحلیل لیکن فائرنگ کی جب وانپ اخراج نہیں
)، uparasam ( pashanam لیکن کارروائی میں مختلف کے لئے اسی طرح : Thadhu
منشیات مزید طور پر درجہ بندی کر رہے ہیں

loham (پانی میں تحلیل لیکن فائرنگ کی جب پگھل نہیں )، rasam ( نرم ہیں جو
منشیات )، اور ghandhagam ( گندھک کی طرح پانی میں اگھلنشیل ہیں جو
منشیات، ). [17]

suvai
( کا ذائقہ )، gunam ( کردار )، veeryam ( طاقت )، pirivu ( کلاس) اور
mahimai ( کارروائی ): سدقا ادویات میں استعمال کیا جاتا منشیات کی پانچ
خصوصیات کی بنیاد پر درجہ بندی کر رہے تھے.

درخواست کی ان کے موڈ کے مطابق ، ثابت ادویات کو دو قسموں میں درجہ بندی کیا جا سکتا ہے :

    اندرونی
طب زبانی راستے سے استعمال کیا جاتا ہے اور مزید ان کے فارم کی بنیاد پر
32 اقسام کی تیاری کے طریقوں ، شیلف زندگی ، وغیرہ میں تقسیم کیا گیا تھا
    
بیرونی
دوا منشیات اور بھی بعض ایپلی کیشنز (مثلا ناک ، آنکھ اور کان کے قطرے کے
طور پر) ، اور بھی کچھ خاص طریقہ کار (جیسے جونک کی درخواست کے طور پر) کی
بعض اقسام شامل ہیں.
یہ بھی 32 اقسام میں تقسیم کی .

علاج

ثابت طب میں علاج کے توازن اور سات عناصر کی مرمت اور بحالی میں تین humors رکھنے کا مقصد ہے . تو
مناسب خوراک ، ادویات اور زندگی کا ایک نظم و ضبط regimen ایک صحت مند
رہنے کے لئے مشورہ دیا جاتا ہے اور بیماروں کی حالت میں humors کا توازن
بحال کرنے کے لئے .
سینٹ Thiruvalluvar کامیاب علاج کے چار ضروری چیزیں وضاحت کرتا ہے. یہ مریض ، تبچر ، ڈاکٹر اور ادویات ہیں. ڈاکٹر
اچھی طرح سے اہل ہے اور دوسرے ایجنٹوں کے لئے ضروری خصوصیات کے مالک ہیں
تو ، یہاں تک کہ شدید بیماریوں کے ان تصورات کے مطابق، آسانی سے ٹھیک ہو
سکتا ہے .

علاج بیماری کے کورس اور وجہ کا تعین کرنے کے بعد کے طور پر جلد از جلد ممکن ہو سکے کے طور پر شروع کیا جانا چاہئے. ؛
manuda maruthuvum ( عقلی طریقہ کار )؛ اور asura maruthuvum ( جراحی کے
طریقہ کار) devamaruthuvum ( الہی کا طریقہ ): علاج کی تین اقسام میں درجہ
بندی کی جاتی ہے.
الہی کے طریقہ کار میں، parpam ، chendooram ، گرو کی طرح ادویات، kuligai پارا، گندھک سے بنا اور pashanams استعمال کیا جاتا ہے . عقلی طریقہ کار میں، churanam ، kudineer ، یا vadagam طرح جڑی بوٹیوں سے بنی ادویات استعمال کی جاتی ہیں . جراحی کے طریقہ کار میں، چیرا ، excision ، گرمی کی درخواست ، دے ، یا جونک کی درخواست خون کے استعمال کیا جاتا ہے .

علاج
کے مطابق ثابت ادویات کی علاج کو مزید اس طرح کے ریچک تھراپی ، emetic
تھراپی ، روزہ تھراپی ، بھاپ تھراپی ، oleation تھراپی ، جسمانی تھراپی ،
شمسی تھراپی ، خون دے تھراپی ، یوگا تھراپی ، وغیرہ کے طور پر مندرجہ ذیل
اقسام میں درجہ بندی کیا جا سکتا ہے
Varmam

Varmam جسم میں اہم نکات ہیں کہ توانائی کے ٹرانسفارمر یا بیٹری کے طور پر کام . انہوں نے جسم کے پیچیدہ nadi نظام کے ذریعے اہم زندگی طاقت Uyir Sakthi بہاؤ بڑھانے کے لئے مراکز کی تشکیل . فطرت،
قدرت ، اس کے ڈیزائن کی طرف سے، ان کے جسم کے اندر گہرائی میں رکھ کر یا
خلاف ورزی کی معمول کی کوششوں کے ناقابل رسائی ؤتکوں کے ساتھ ان کو ڈھکنے
کی طرف سے ان اہم مراکز کی حفاظت کی ہے.

Varmam اپنے طور پر ایک کلی تھراپی ہے اور جسم ، دماغ اور روح احاطہ . ایک varmam ماہر جسم کے درمیان بنیادی روابط، اہم زندگی طاقت اور دماغ کو سمجھتا ہے. ایک
varmam کر سکتے ہیں جو چیزوں کی طویل فہرست میں نظر آتا ہے تو ، ایک مکمل
طور پر گہری سائنس اور اس کے بارے میں لاتا ہے اویوادی شفا یابی کی طرف سے
mesmerized جائے گا.
انسانی جسم اس زندگی میں ، معمولی اور بڑے حادثات، بہت میں حاصل کر سکتے ہیں . بہت کم لوگوں کو زندگی میں حادثات سے بچنے کے لئے کافی خوش قسمت ہیں.

Varmams
زخمی کرنے کی ضرورت کے دباؤ کی قسم کی بنیاد پر درجہ بندی کی گئی ہیں :
(ا) Paduvarmam ( varmam چوٹ کی وجہ سے )، (ب) Thodu varmam ( رابطے کی طرف
سے )؛ Thattu varmam ( چل رہی ہے کی طرف سے) ، (ج) Thaduvu varmam ( مساج
کی طرف سے
)؛ (د) Nakku varmam ( دیکھ کر )، اور (ای) Nokku ( گھور کی طرف سے) . وسیع
پیمانے پر استعمال کیا اور تسلیم والے 12 Paduvarmams اور 96 Thoduvarmams
ہیں، صرف کیونکہ درخواست یا ان کو لاگو کرنے کے لئے کی ضرورت گہرے علم کے
راستے سے دوسری اقسام کے ساتھ کم مستقل مزاجی نہیں ہے.
ان
زمروں میں Nokku varmam سب سے زیادہ خوف پیدا ہوتا ہے اور ایسا کرنے کے
قابل تھے وہ لوگ جو آقاؤں قریبا ناپید ہیں شاذ و نادر ہی ، مشق دیکھا جاتا
ہے.

ایک varmam تھراپسٹ جسم کے اعصاب اور ایک مؤثر علاج کرنے کی جسمانی ساخت کے بارے میں گہرے علم کی ضرورت ہے. وہاں اس دنیا میں موجود صرف چند تھراپسٹ ہیں، اور جدید ثابت دنیا شفا یابی کے اس فن کے تحفظ کے لئے کوشش کر رہی ہے .
سدقا آج

ایلوپیتھک
ادویات پیش کیا گیا تھا کے بعد ثابت بھی تامل ناڈو میں ، ایک سے زیادہ
سائنسی طبی نظام کے طور پر ، اس کی مقبولیت کھو دیا ہے .
پھر بھی ، چند کٹر adopters ہیں یا کم از کم بہت سے لوگوں کو پیلیا کی طرح صرف چند بیماریوں کے لئے ثابت ترجیح دیتے ہیں. اس طرح ڈاکٹر Ramalingam ، IMCOPS ، صدر ، چنئی، اتوار کے طور پر کچھ ایلوپیتھک ڈاکٹروں، کے بعد Deivanayagam ، یہاں تک کہ چند ایلوپیتھک ڈاکٹروں ثابت مشورہ شروع کر دیا ہے ، ثابت نظام مقبول بنانے کے لئے [18] کی کوشش کی. 2012
میں ، وی شو Ayyadurai ، ایک تامل اور ایم ائی ٹی کے نظام سائنسدان ، نظام
سائنس کے ساتھ ، اس طرح ثابت، آیور ویدک ، اور روایتی چینی دوا کے طور پر
روایتی نظام دوا سے تصورات کو ضم جس دیپک چوپڑا کے ساتھ چوپڑا سینٹر کے
ذریعے طبی ڈاکٹروں کے لیے ایک تعلیمی پروگرام شروع کیا اور
نظام حیاتیات . [19]

تامل ناڈو ریاست ثابت دوا (: بیچلر آف ثابت طب اور سرجری میں BSMS ) میں ایک 5.5 سالہ کورس چلاتے ہیں. بھارتی
حکومت نے بھی ثابت نیشنل انسٹی ٹیوٹ آف طرح میڈیکل کالج اور تحقیقی مراکز
شروع کی طرف سے ، ثابت پر توجہ مرکوز فراہم کرتا ہے [20] ثابت تحقیق کے لئے
اور مرکزی کونسل . [21] بہت سے احساس یلوپیتی شروع کر دیا کے طور پر ،
ثابت میں دلچسپی آمدید تجدید کر دی گئی ہے
مکمل اور اکثر اپنے اسٹینڈز / نظریات کو تبدیل نہیں ہے. [22] ثابت ادویات چیکنگنیا کے لئے مؤثر پایا گیا. [23]
کمرشل دلچسپی

تجارتی طور پر ، ثابت ادویات کی طرف سے عمل کیا جاتا ہے

    اکثر
vaithiyars کے طور پر تامل زبان میں کہا جاتا ثابت خاندان کے ڈاکٹروں
(روایتی پریکٹیشنرز )، ان کے بچوں کو علم منتقل کر دیا ہے، اور
    
حکومت ثابت طبی کالجوں میں تعلیم حاصل کی ہے جو طبی سند یافتہ ثابت ڈاکٹروں .

تعلیمی اداروں

تامل ناڈو کی حکومت مندرجہ ذیل 2 ثابت طبی کالج چلاتی ہے :

    حکومت ثابت میڈیکل کالج ، Palayamkottai ، ترونیلویلی ضلع
    
حکومت ثابت میڈیکل کالج ، ینا ہسپتال کیمپس ، Arumbakkam ، چنئی 106 .

بھارت کی حکومت نے مندرجہ ذیل کے طور پر ایک ثابت طبی کالج چلاتی ہے :

    ثابت، تامبرم ، نیشنل انسٹی ٹیوٹ آف کانچیپرم ڈسٹرکٹ ( NearChennai )

کیرالہ میں دستیاب کالج

    Santhigiri ثابت میڈیکل کالج ، ترواننتپرم .

ذاتی ثابت کالج :

    Velumailu ثابت میڈیکل کالج اور ہسپتال، نمبر 48 ، GWT روڈ، بالمقابل . راجیو گاندھی میموریل ، Sriperumbudur - 602 105 . ( آئوش سیکشن، گورنمنٹ بھارت کی طرف سے منظور شدہ اور TN ڈاکٹر یمجیآر میڈیکل یونیورسٹی ، چنئی سے منسلک )
Gujarati

સિદ્ધ દવા

સિદ્ધ
મેડિસિન ( ” சித்த மருத்துவம் ” અથવા ” தமிழ் மருத்துவம் ” Tamizh ) માં
માનવજાત માટે જાણીતા સૌથી જૂની મેડિકલ સિસ્ટમ પૈકીની એક છે . [1] સમકાલીન
Tamizh સાહિત્ય તમિલનાડુ રાજ્યના , સિદ્ધ દવા સિસ્ટમ દક્ષિણ ભારત મૂળ ધરાવે
છે
, આ ત્રણેય ભારતીય દવાઓ તરીકે ભાગ - આયુર્વેદ, સિદ્ધ અને ઉનાની . કરતાં વધુ 10000 વર્ષો પહેલા સપાટી થઈ ગઈ હતી, [2 ] દવા સિદ્ધ સિસ્ટમ સૌથી પ્રાચીન પરંપરાગત તબીબી સિસ્ટમો એક માનવામાં આવે છે .

Siddhargal ” અથવા Siddhars પ્રાચીન ટ્રેડીંગ વડાપ્રધાનને વૈજ્ઞાનિકો હતા.
મુખ્યત્વે દક્ષિણ ભારત સુધી [ 3] Siddhars , દવા આ સિસ્ટમ માટે પાયો
નાખ્યો હતો.
Siddhars જો ashta siddhis , અથવા આઠ અલૌકિક સત્તા ધરાવે છે જે આધ્યાત્મિક adepts હતા. સેજ અગથિયાર બધા Sidhars ગુરુ માનવામાં આવે છે.


અગથિયાર ” પ્રથમ Siddhar હતી, અને અન્ય શાળાઓમાં તેમના શિષ્યો અને
Siddhars દવા સહિત , સિદ્ધ પર લખાણો હજારો ઉત્પાદન , અને વિશ્વમાં સિસ્ટમના
propounders રચે છે.

આયુર્વેદ
અને સિદ્ધ માં સંશોધન માટે સેન્ટ્રલ કાઉન્સિલ ( CCRAS ), આયુર્વેદ વિભાગ,
યોગા અને નેચરોપથી, ઉનાની, સિદ્ધ એન્ડ હોમિયોપેથી ( આયુષ ) , આરોગ્ય અને
પરિવાર કલ્યાણ મંત્રાલય , ભારત સરકાર દ્વારા 1978 માં સ્થાપના કરી હતી
સંકલન અને સંશોધન પ્રોત્સાહન
આયુર્વેદ અને સિદ્ધ દવા ક્ષેત્રોમાં . પણ
, ભારતીય મેડિસિન ( CCIM ), આયુષ હેઠળ 1971 માં સ્થાપના કરી એક વૈધાનિક
સંસ્થા , સેન્ટ્રલ કાઉન્સિલ સિદ્ધ સહિત ભારતીય દવા વિસ્તારો માં ઉચ્ચ
શિક્ષણ મોનીટર કરે છે.
જેમ
કે આયુર્વેદ , યુનાની અને સિદ્ધ ભારતીય દવા વિવિધ સિસ્ટમો, કે 223.000
ફોર્મ્યૂલેશન એક રીપોઝીટરી તરીકે પરંપરાવાદી નોલેજ ડિજિટલ લાઇબ્રેરી સેટ
2001 માં બાયોપાઇઅરસિ નો અને અનૈતિક પેટન્ટ , ભારત સરકાર , લડવા માટે .
ઈતિહાસ

આ સિદ્ધ વિજ્ઞાન દ્રવીડીયન સંસ્કૃતિ પેદા સૌથી જૂની પરંપરાગત સારવાર વ્યવસ્થા છે. આ સિંધુ ખીણની સંસ્કૃતિ સિદ્ધ ના ગાળામાં વિકાસ થયો . તાડના હસ્તપ્રતો આ સિદ્ધ સિસ્ટમ પ્રથમ તેની પત્ની Parvathy ભગવાન શિવ દ્વારા વર્ણવવામાં આવ્યું છે. Parvathy તેના પુત્ર ભગવાન Muruga આ તમામ જ્ઞાન સમજાવ્યું. તેમણે તેમના શિષ્ય ઋષિ Agasthya માટે આ બધા જ્ઞાન શીખવાડ્યું હતું. Agasthya 18 Siddhars શીખવવામાં અને તેઓ મનુષ્ય માટે આ જ્ઞાન પ્રસાર છે. [10 ]

આ શબ્દ સિદ્ધ સંપૂર્ણતા કે સ્વર્ગીય આનંદ પ્રાપ્ત કરવા માટે એક ઑબ્જેક્ટ જેનો અર્થ થાય છે શબ્દ સિધ્ધિ આવે છે. સિદ્ધ ” Ashtamahasiddhi ,” આઠ અલૌકિક શક્તિ કેન્દ્રિત કર્યું હતું. પ્રાપ્ત અથવા ઉપર પ્રાપ્ત જેઓ સત્તા Siddhars તરીકે ઓળખાય છે જણાવ્યું હતું કે, . ત્યાં પ્રાચીન દિવસોમાં 18 મહત્વપૂર્ણ Siddhars હતા અને તેઓ દવાના આ સિસ્ટમ વિકસાવી હતી. તેથી, તે સિદ્ધ દવા કહે છે. આ Siddhars તાડના હસ્તપ્રતો તેમના જ્ઞાન લખ્યું, જે ટુકડાઓ દક્ષિણ ભારતના ભાગો મળી આવ્યા હતા. તે કેટલાક પરિવારો વધુ ટુકડાઓ ધરાવે છે પરંતુ તેમના પોતાના ઉપયોગ માટે માત્ર તેમને રાખવા કરી શકે છે માનવામાં આવે છે. પરંપરાગત સિદ્ધ પરિવારો દ્વારા રાખવામાં સિદ્ધ હસ્તપ્રતો એક વિશાળ સંગ્રહ છે . [10]

નિષ્ણાતના જણાવ્યા મુજબ , 18 મુખ્ય siddhars હતા. આ 18 , Agasthya સિદ્ધ દવા ના પિતા માનવામાં આવે છે . Siddhars તંદુરસ્ત આત્મા જ તંદુરસ્ત શરીર દ્વારા વિકસિત કરી શકાય છે કે ખ્યાલ હતા. તેથી તેઓ પદ્ધતિઓ અને તેમના ભૌતિક શરીર મજબૂત માનવામાં અને ત્યાં તેમની આત્માઓ છે કે દવા વિકસાવી છે. સિસ્ટમ વિકસાવવા માં તેમના જીવન સમર્પિત જે પુરુષો અને સ્ત્રીઓ Siddhars કહેવાતા હતા. તેઓ
સામયિક ઉપવાસ અને ધ્યાન વર્ષ સહિત તીવ્ર યોગ પ્રેક્ટિસ , અને અલૌકિક શક્તિ
મેળવી હોવાનું મનાય છે અને સર્વોચ્ચ શાણપણ અને એકંદર અમરત્વ પ્રાપ્ત કરી
હતી.

આધ્યાત્મિક પ્રાપ્ત સર્વોચ્ચ જ્ઞાન દ્વારા, તેઓ કલાઓના જીવન વિજ્ઞાન અને
સત્ય રોગો માટે ચમત્કાર ઉપચાર માટે જીવનના તમામ પાસાઓ પર ગ્રંથો લખ્યા છે.
[11 ]

આ હસ્તપ્રતો પ્રતિ , દવા સિદ્ધ સિસ્ટમ ભારતીય તબીબી વિજ્ઞાન ભાગ થયો. આજે પણ ત્યાં , સિદ્ધા મેડિકલ કોલેજો માન્ય સિદ્ધ દવા શીખવવામાં આવે છે જ્યાં સરકાર યુનિવર્સિટીઓ હેઠળ ચલાવવામાં આવે છે. [12 ] [13]

સિદ્ધ દવા આદર્શ છે કે દવા છે. સિદ્ધ
દવા પુનરોદ્ધાર અને કાયાકલ્પ કરવો રોગ કારણ કે બિનકાર્યરત અંગો અને
Vaadham , Pitham અને Kabam પ્રમાણ જાળવી રાખવા માટે દાવો છે.
પ્રેક્ટિશનરને આપવામાં સિદ્ધ દવા પાંદડાં, ફૂલો , ફળ અને મિશ્ર આધાર વિવિધ મૂળ સમાવેશ થાય છે. અમુક અસાધારણ કિસ્સાઓમાં, આ દવા બધા સાધ્ય ખાતે નથી. તે આવા કિસ્સાઓમાં, તેઓ તે Thanga Pashpam લેવા ભલામણ ; . સોનું પણ ખાવું પદ્ધતિ ઉમેરવામાં આવે છે [ સંદર્ભ આપો ]

જો
પ્રેક્ટીસ સિદ્ધ તબીબી પ્રેક્ટિશનરો મોટાભાગના પરંપરાગત રીતે સામાન્ય
પરિવારો અને ગુરુઓ ( શિક્ષકો) દ્વારા તાલીમ આપવામાં આવે છે .
ગુરુ
એક માર્શલ આર્ટ શિક્ષક છે , ત્યારે તેમણે પણ એક ashan તરીકે ઓળખાય છે. [
સ્પષ્ટ જરૂરી ] તેઓ એક દર્દી મુલાકાત અને સમૂહ યોગ્ય ઉપચાર માટે તેમના
હસ્તપ્રતો નો સંદર્ભ લો પછી નિદાન કરવા પોતે જે સાચા વાદળી ફિઝિશિયન
કંપાઉન્ડ
અથવા પોતે , હર્બલ અને herbo - ખનિજ સંસાધનો હજારો . સિદ્ધ
વિચારો આ પદ્ધતિ પદ્ધતિને ડિસાયફર કરવું ઘણા વિકૃતિઓ કારણો અને ક્યારેક
કરતાં વધુ 250 ઘટકો હોઈ શકે છે , જે વિચિત્ર ઉપાયો રચના મદદ કરી છે .
==
વૈકલ્પિક તબીબી સિસ્ટમો એક્યુપંકચર
બોવેન ટેકનિક
ચિરોપ્રેક્ટિક
હોમિયોપથી
નેચરોપેથિક દવા
અસ્થિ - ચિકિત્સા પદ્ધતિ
પરંપરાગત દવા
ચિની · · કોરિયન મંગોલિયન · · તિબેટીયન ઉનાની · · સિદ્ધ આયુર્વેદ
અગાઉના NCCAM ડોમેઇનો
આખા MEDICAL SYSTEMS
મન અને શરીરની હસ્તક્ષેપો
જૈવિક આધારિત ઉપચાર
છળકપટ ઉપચાર
ઊર્જા થેરાપીઓ

    વિરુદ્ધ
    
T આકારની હરકોઈ ચીજવસ્તુ
    

બેઝિક્સ

સામાન્ય રીતે સિદ્ધ દવા મૂળભૂત ખ્યાલો આયુર્વેદ લગભગ સમાન હોય છે. માત્ર
એટલો જ તફાવત આયુર્વેદ , તે તદ્દન વિપરીત છે જ્યારે સિદ્ધ દવા, અનુક્રમે ,
બાળપણ , યુવાની અને વૃદ્ધાવસ્થા માં Vaadham , Pitham અને Kabam ઓફ
વર્ચસ્વ ઓળખે છે કે જે દેખાય : Kabam માં વૃદ્ધાવસ્થા અને Pitham માં ,
Vaatham બાળપણમાં પ્રભુત્વ છે
પુખ્ત .


સિદ્ધ દવા અનુસાર , શરીર વિવિધ મનોવૈજ્ઞાનિક અને શારીરિક કાર્યો સાત તત્વો
સંયોજન આભારી છે : પ્રથમ વૃદ્ધિ , વિકાસ અને પોષણ માટે જવાબદાર ooneer
(પ્લાઝમા ) છે; બીજા રંગ આપવા , પૌષ્ટિક સ્નાયુઓ માટે જવાબદાર cheneer (
રક્ત ) છે
અને
બુદ્ધિ સુધારવા ; ત્રીજા શરીરના આકાર માટે જવાબદાર oon (સ્નાયુ ) છે; ચોથા
તેલ સંતુલન અને ઊંજણ સાંધા માટે જવાબદાર kolluppu (ફેટી પેશી ) છે; પાંચમી
શરીર માળખું અને મુદ્રામાં અને ચળવળ માટે જવાબદાર elumbu ( અસ્થિ ) છે;
છઠ્ઠા છે
elumbu રક્ત કોર્પસેલ્સ રચના માટે જવાબદાર machai ( મજ્જા ); અને છેલ્લા પ્રજનન માટે જવાબદાર sukkilam ( વીર્ય ) છે. આયુર્વેદ
જેમ, સિદ્ધ દવા પણ મનુષ્ય ની મનોવૈજ્ઞાનિક ઘટકો Vaadham (હવા ), Pitham (
આગ ) અને Kabam (પૃથ્વી અને પાણી) તરીકે વર્ગીકૃત કરવામાં આવે છે .

આયુર્વેદ
‘ ઉચ્ચ વર્ણના ‘ લોકોના કલ્યાણને માટે, ‘ ઉચ્ચ વર્ણના ‘ દાક્તરો દ્વારા
કરાતો હતો , જ્યારે સિદ્ધ કોઈપણ જાતિ સિસ્ટમ માટે મર્યાદિત છે અને દાક્તરો
કોઈપણ દર્દી સારવાર ન કરવામાં આવી હતી.
તેના
વૈદિક મૂળ કારણે Ayurvedha , આ સિદ્ધ સિસ્ટમ જાતિ સિસ્ટમમાં માનતા ન હતા ,
જ્યારે તે વર્ણ સિસ્ટમ અથવા જાતિ વ્યવસ્થાના પ્રોત્સાહન આપ્યું હતું અને
તેથી લોકશાહી અને પ્રગતિશીલ હતી.
રોગ અને કારણ ખ્યાલ

તે ત્રણ humors ( Vaadham , Pittham અને Kabam ) ની સામાન્ય સમતુલા વ્યગ્ર છે, ત્યારે રોગ થાય છે કે ધારવામાં આવે છે. આ સંતુલન પર અસર કરે છે ધારી જે પરિબળો , આબોહવાની પરિસ્થિતિઓ , ખોરાક , શારીરિક પ્રવૃત્તિઓ અને તણાવ પર્યાવરણ છે. સામાન્ય પરિસ્થિતિઓમાં , આ ત્રણ humors એટલે કે વચ્ચે રેશિયો : ( Vaadham , Pittham , Kabam ) અનુક્રમે 4:2:1 છે.

આ સિદ્ધ દવા સિસ્ટમ અનુસાર, ખોરાક અને જીવનશૈલી સ્વાસ્થ્ય પણ કરીંગ રોગો જ , એક મોટી ભૂમિકા ભજવે છે. આ સિદ્ધ દવા આ વિચાર આવશ્યક ” કરવું અને dont ના” યાદી છે કે જે pathiyam અને apathiyam , તરીકે ઓળખવામાં આવે છે.
નિદાન

નિદાન માં, આઠ વસ્તુઓ પરીક્ષા સામાન્ય રીતે ” enn vakaith thervu ” તરીકે ઓળખાય છે, જે જરૂરી છે. તે આ છે:

    ના ( જીભ ): Vaatham કાળા , પીળા અથવા pitham લાલ , kabam સફેદ , એનિમિયા માં ulcerated .
    
Varnam ( રંગ ): kabam માં નિસ્તેજ , Vaatham , પીળો અથવા pitham લાલ કાળા .
    
કુરાલ (અવાજ ): મદ્યપાન માં slurred Vaatham , kabam માં pitham , નીચા પિચ ઊંચી પિચ માં સામાન્ય .
    
કાન ( આંખો ): kabam માં નિસ્તેજ , pitham માં પીળાશ અથવા લાલ નેત્રાવરણ કાદવવાળું .
    
Thodal ( સ્પર્શ ): Vaatham માં સૂકી, pitham ગરમ , શરીરના જુદા જુદા ભાગોમાં પરસેવો kapha માં ઠંડી .
    
Malam
( સ્ટૂલ ): કાળા બેસીને Vaatham , પીળો pitham , kabam , અલ્સર માં ઘેરા
લાલ માં નિસ્તેજ અને ટર્મિનલ બિમારી માં મજાની સૂચવે છે.
    
નીયર
( પેશાબ ): વહેલી સવારે પેશાબ તપાસ થાય છે ; સ્ટ્રો રંગ, અતિશય ગરમી માં
અપચો , રાતા પીળા રંગ સૂચવે કમળો માં રક્ત દબાણ, કેસર રંગ ગુલાબ, અને રેનલ
ડિસીઝ માં માંસ ઢીલું પાણી જેવો દેખાય છે.
    
Naadi ( પલ્સ ): રેડીયલ કલા પર રેકોર્ડ સમર્થન પદ્ધતિ.

Thavaram
( હર્બલ પ્રોડક્ટ) , thadhu ( અકાર્બનિક તત્ત્વો ) અને jangamam (પ્રાણી
ઉત્પાદનો હોય): Siddhars દ્વારા વાપરવામાં દવાઓ ત્રણ જૂથમાં વર્ગિકૃત કરી
શકાય છે.
Uppu
( જલદ્રાવ્ય અકાર્બનિક તત્ત્વો અથવા આગ માં મૂકવામાં ત્યારે વરાળ બહાર આપી
છે કે દવાઓ ), pashanam (દવાઓ પાણી ઓગળેલા પરંતુ બરતરફ ત્યારે વરાળ બહાર
ફેંકે નથી) , uparasam ( pashanam પરંતુ ક્રિયા અલગ સમાન : આ Thadhu દવાઓ
વધુ તરીકે વર્ગીકૃત કરવામાં આવે છે
),
loham ( પાણીમાં ઓગળેલા પરંતુ બરતરફ જ્યારે ઓગળે નથી) , રસમ ( સોફ્ટ છે ,
જે દવાઓ ), અને ghandhagam ( સલ્ફર જેવા પાણીમાં અદ્રાવ્ય છે જે દવાઓ, ). [
17]

Suvai
( સ્વાદ ), gunam (પાત્ર ), veeryam ( સામર્થ્ય ), pirivu (વર્ગ ) અને
mahimai (એક્શન ): સિદ્ધ દવા વપરાતી દવાઓ પાંચ ગુણધર્મો આધારે વર્ગીકૃત
કરવામાં આવી હતી.

એપ્લિકેશન તેમના સ્થિતિ અનુસાર, સિદ્ધ દવાઓ બે વર્ગો માં વર્ગીકૃત કરી શકાય છે :

    આંતરિક
દવા મૌખિક રૂટ મારફતે વપરાય છે અને વધુ તેમના ફોર્મ પર આધારિત છે 32
વર્ગો, તૈયારી પદ્ધતિઓ, શેલ્ફ જીવન , વગેરે માં વર્ગીકૃત કરવામાં આવી હતી
    
બાહ્ય
દવા દવાઓ પણ ચોક્કસ કાર્યક્રમો (જેમ કે અનુનાસિક , આંખ અને કાન ટીપાં
તરીકે ), અને અમુક પણ કાર્યવાહી (જેમ કે જળો કાર્યક્રમ) ની ચોક્કસ સ્વરૂપો
સમાવેશ થાય છે.
તે પણ 32 વર્ગોમાં વર્ગીકૃત .

સારવાર

સિદ્ધ દવા સારવાર સમતુલા અને સાત તત્વો જાળવણી ત્રણ humors રાખવા અંતે કરવાનો છે. તેથી
યોગ્ય ખોરાક , દવા અને જીવન એક શિસ્તબદ્ધ જીવનપદ્ધતિ સ્વસ્થ વસવાટ કરો છો
માટે સલાહ આપવામાં આવે છે અને રોગગ્રસ્ત હાલતમાં humors ઓફ પુનઃસંતુલિત .
સંત થિરુવલ્લુવર સફળ સારવાર ચાર જરૂરી બાબતો સમજાવે છે. આ દર્દી પરિચર , ફિઝિશિયન અને દવા છે. ચિકિત્સક
સારી ગુણવત્તાવાળું છે અને અન્ય એજન્ટો જરૂરી ગુણો ધરાવે છે, ત્યારે પણ
ગંભીર રોગો આ ખ્યાલો અનુસાર , સરળતાથી સાધ્ય કરી શકાય છે.

આ સારવાર રોગ કોર્સ અને કારણ આકરણી કર્યા બાદ તરીકે શરૂઆતમાં શક્ય શરૂ કરવી જોઇએ. ;
Manuda maruthuvum ( વ્યાજબી પદ્ધતિ ), અને અસુર maruthuvum ( સર્જિકલ
પદ્ધતિ ) devamaruthuvum ( ડિવાઇન પદ્ધતિ ): સારવાર ત્રણ કેટેગરીમાં
વર્ગીકરણ થયેલ છે .
ડિવાઇન પદ્ધતિ , parpam , chendooram , ગુરુ જેવા દવાઓ, kuligai પારો , સલ્ફર બનાવવામાં આવે છે અને pashanams ઉપયોગ થાય છે. આ વ્યાજબી પદ્ધતિ , churanam , kudineer , અથવા vadagam જેવા ઔષધો બનાવવામાં દવાઓ વપરાય છે. સર્જિકલ પદ્ધતિ માં કાપ , છેદન , ગરમી એપ્લિકેશન , ભાડા , અથવા જળો એપ્લિકેશન રક્ત વપરાય છે.

ઉપચાર
મુજબ સિદ્ધ દવાઓ સારવાર ભવિષ્યમાં આવા purgative થેરાપી, ઊલટી કરાવે તેવી
દવા થેરાપી, ઉપવાસ થેરાપી, વરાળ થેરાપી, oleation ઉપચાર , શારીરિક ઉપચાર,
સૌર થેરાપી, લોહી ભાડા થેરાપી, યોગ થેરપી , વગેરે નીચેના વર્ગોમાં વર્ગીકૃત
કરી શકાય છે
Varmam

Varmam શરીરમાં મહત્વપૂર્ણ બિંદુઓ છે કે ઊર્જા ટ્રાન્સફોર્મર્સ અથવા બેટરી તરીકે વર્તે છે. તેઓ શરીરના જટિલ nadi સિસ્ટમ મારફતે મહત્વપૂર્ણ જીવન બળ Uyir શક્તિ ફ્લો બુસ્ટીંગ માટે કેન્દ્રો રચે છે. કુદરત,
તેની ડિઝાઇન દ્વારા , શરીર અંદર તેમને ઊંડા મૂકીને અથવા ભંગ સામાન્ય
પ્રયાસો માટે દુર્ગમ પેશીઓ સાથે આવરી દ્વારા આ મહત્વપૂર્ણ કેન્દ્રો
સુરક્ષિત છે.

Varmam તેના પોતાના પર સાકલ્યવાદી ઉપચાર છે અને શરીર, મન અને આત્મા tackles . એક varmam નિષ્ણાત શરીર વચ્ચે અંતર્ગત કડીઓ, મહત્વપૂર્ણ જીવન બળ અને મન સમજે છે. એક
varmam કરી શકો છો કે જે વસ્તુઓ લાંબા યાદી પર દેખાય નહિં, તો એક તદ્દન
ઊંડા વિજ્ઞાન અને તે વિશે લાવે એ નિર્વિવાદ હીલિંગ દ્વારા mesmerized
કરવામાં આવશે.
માનવ શરીર તેના જીવનકાળ માં , નાના અને મોટા અકસ્માતો, ઘણો પ્રવેશ મેળવી શકો છો. ખૂબ જ ભાગ્યે જ લોકો જીવન માં અકસ્માતો ભાગી પૂરતી નસીબદાર છે.

Varmams
ઇજા માટે જરૂરી દબાણ પ્રકાર પર આધારિત વર્ગીકૃત કરવામાં આવી છે : (અ)
Paduvarmam ( varmam ઇજાને કારણે ), ( b), થોડું varmam ( સ્પર્શ દ્વારા );
Thattu varmam ( મારામારી દ્વારા ), ( સી) Thaduvu varmam ( મસાજ દ્વારા
), ( ડી) Nakku varmam ( જોઈને ); અને ( ઈ) Nokku ( staring દ્વારા ).
વ્યાપક ઉપયોગ થાય છે અને માન્ય રાશિઓ 12 Paduvarmams અને 96 Thoduvarmams
છે ; માત્ર કારણ કે અરજી અથવા તેમને લાગુ કરવા માટે જરૂરી ઊંડા જ્ઞાન માર્ગ
અન્ય વર્ગો સાથે ઓછી સુસંગતતા છે.

વર્ગોમાં માં, Nokku varmam સૌથી ધાક - બનાવતી છે અને આ કરવા માટે સમર્થ
હતા જેઓ સ્નાતક લગભગ વિલુપ્ત છે , ભાગ્યે જ પ્રેક્ટિસ જોવા મળે છે.

એક varmam ચિકિત્સક શરીરની સદી અને અસરકારક સારવાર કરવા માટે ભૌતિક માળખું વિશે ઊંડી જાણકારી હોય છે કરવાની જરૂર છે. ત્યાં આ વિશ્વમાં પ્રવર્તમાન માત્ર થોડા થેરાપિસ્ટ છે અને આધુનિક સિદ્ધ વિશ્વ હીલિંગ આ કલા સાચવવા પ્રયાસ કરી રહ્યા છે .
સિદ્ધ આજે

Allopathic દવા રજૂ કરવામાં આવી હતી પછી સિદ્ધ પણ તમિળનાડુ માં, વધુ વૈજ્ઞાનિક તબીબી સિસ્ટમ તરીકે , તેની લોકપ્રિયતા ગુમાવી છે . હજુ પણ , થોડા પ્રખર સ્વીકારનારાઓ છે અથવા ઓછામાં ઓછા ઘણા લોકો કમળો જેવા માત્ર થોડા રોગો માટે સિદ્ધ પસંદ કરે છે. જેમ કે ડૉ Ramalingam , IMCOPS , પ્રમુખ , ચેન્નાઇ, CN કેટલાક allopathic ડોકટરો, પછી Deivanayagam , પણ થોડા allopathic ડોકટરો સિદ્ધ સૂચન શરૂ કર્યું છે , જે સિદ્ધ સિસ્ટમ લોકપ્રિય છે [ 18] પ્રયાસ કર્યો હતો. 2012
માં , VA શિવ Ayyadurai , એક Tamilian અને એમઆઇટી સિસ્ટમો વૈજ્ઞાનિક ,
સિસ્ટમો વિજ્ઞાન સાથે છે, જેમ કે સિદ્ધ, આયુર્વેદ , અને પરંપરાગત ચિની દવા
તરીકે પરંપરાગત સિસ્ટમો દવા ના વિભાવનાઓ સંકલિત જે દિપક ચોપરા સાથે ચોપરા
કેન્દ્ર દ્વારા તબીબી ડોક્ટરો માટે એક શૈક્ષણિક કાર્યક્રમ કર્યો અને
સિસ્ટમો બાયોલોજી . [19]

તમિલનાડુ રાજ્યના સિદ્ધ દવા ( બેચલર સિદ્ધ મેડિસિન એન્ડ સર્જરી માં BSMS ) માં 5.5 વર્ષ કોર્સ ચાલે છે. ભારતીય
સરકારે પણ સિદ્ધ નેશનલ ઇન્સ્ટિટ્યુટ ઓફ જેવા તબીબી કોલેજો અને સંશોધન
કેન્દ્રો શરૂ કરીને , સિદ્ધ તેનું ધ્યાન આપે છે [ 20] સિદ્ધ માં સંશોધન
માટે અને સેન્ટ્રલ કાઉન્સિલ છે. [21 ] ઘણા લાગણી એલોપથી શરૂ , સિદ્ધ રસ
ત્યાં રીન્યૂ કરવામાં આવ્યુ છે
પૂર્ણ અને વારંવાર તેના સ્ટેન્ડ / સિદ્ધાંતો બદલવા નથી. [ 22] સિદ્ધ દવા ચિકુનગુનીયા માટે અસરકારક મળી હતી . [23]
વ્યાપારી હિત

વ્યાવસાયિક , સિદ્ધ દવા દ્વારા કરવામાં આવે છે

    ઘણીવાર vaithiyars તરીકે તમિલ ઉલ્લેખ સિદ્ધ કુટુંબ ડોકટરો (પરંપરાગત પ્રેક્ટિશનરો ) , તેમના બાળકોને જ્ઞાન પરિવહન છે, અને છે
    
સરકાર સિદ્ધ તબીબી કોલેજો અભ્યાસ કર્યો છે જે તબીબી પ્રમાણિત સિદ્ધ ડોકટરો .

શૈક્ષણિક સંસ્થાઓ

તમિળનાડુ સરકાર નીચે પ્રમાણે 2 સિદ્ધા મેડિકલ કૉલેજ સ્કોર:

    સરકાર સિદ્ધા મેડિકલ કોલેજ, પલયમકોટ્ટાઇ , તિરુનેલવેલી જીલ્લામાં
    
સરકાર સિદ્ધા મેડિકલ કોલેજ, અન્ના હોસ્પિટલ કેમ્પસ, Arumbakkam , ચેન્નાઇ 106.

ભારત સરકાર નીચે પ્રમાણે એક સિદ્ધ મેડિકલ કૉલેજ સ્કોર:

    સિદ્ધ, તાંબારામ , નેશનલ ઇન્સ્ટિટ્યુટ ઓફ કાંચીપુરમ જિલ્લો ( NearChennai )

કેરલ ઉપલબ્ધ કૉલેજ

    Santhigiri સિદ્ધા મેડિકલ કોલેજ, તિરુવનંતપુરમ .

ખાનગી સિદ્ધ કોલેજો:

    Velumailu સિદ્ધ મેડિકલ કોલેજ અને હોસ્પિટલ, નંબર 48, GWT રોડ, મુ. રાજીવ ગાંધી મેમોરિયલ, શ્રીપેરૂમ્બુદુર - 602 105. ( આયુષ વિભાગ , Govt. ભારત દ્વારા મંજૂર અને TN ડૉ એમજીઆર મેડિકલ યુનિવર્સિટી, ચેન્નાઇ સાથે સંલગ્ન)

comments (0)