Analytic Insight Net - FREE Online Tipiṭaka Law Research & Practice University
in
 112 CLASSICAL LANGUAGES
Paṭisambhidā Jāla-Abaddha Paripanti Tipiṭaka nīti Anvesanā ca Paricaya Nikhilavijjālaya ca ñātibhūta Pavatti Nissāya 
http://sarvajan.ambedkar.org anto 112 Seṭṭhaganthāyatta Bhāsā
Categories:

Archives:
Meta:
August 2014
M T W T F S S
« Jul   Sep »
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
08/17/14
1238 LESSON 18814 MONDAY FREE ONLINE E-Nālanda Research and Practice UNIVERSITY Please render correct translation in your own mother tongue
Filed under: General
Posted by: site admin @ 4:27 pm
1238 LESSON 18814 MONDAY FREE ONLINE E-Nālanda Research and Practice UNIVERSITY


Please render correct translation in your own mother tongue

RSS
chief Mohan Bhagwat is saying ‘the cultural identity of all Indians is
Hindutva’ which has got nothing to do with spiritualism.It is just a
political cult
The 20th century descriptions of this 1% RSS
chitpavans list inordinate frugality, untrustworthiness (Duba Kors),
conspiratorialism,

phlegmatism not only murder democracy but
also the real spirituality of this nation. The true cultural identity of
this country is
Jambudvipan that is Prabuddha Bharath since all
belong to the same race with Buddha Nature practicing equality,
fraternity and liberty
 
as enshrined in the Constitution based on
Dhamma. Now it is the Fraud Duba Kor EVMs that has to be exposed
because the  Duba Kor EVM
CJI Sadhasivam, a brahmin allowed the Lok
Sabha with majority fraud tamperable  Duba Kor EVMs at therequest of 
Duba Kor EVM CEC Sampath

another brahmin to replace the  Duba Kor
EVMs in phased manner that helped RSS’s BJP to acquire the MASTER KEY.
Till all the  Duba Kor EVMs
are replaced with fool proof Voting
system the present CJI must order to scrap the present Lok Sabha.&
have a collegium system of picking

judges from
SC/ST/OBC/Minorities for having a fool proof voting system to safeguard
Liberty, Fraternity and Equality as enshrined in the
Constitution.
And also a collegium system in the Chief Election Commission consisting
SC/ST/OBC/Minorities for having a fool proof voting

system to
safeguard Liberty, Fraternity and Equality as enshrined in d
Constitution to prevent Murder of Democracy.. After the  Duba Kor EVMs
are
replaced with fool proof voting system Lok Sabha elections must be
held. If chitpawan  brahmins have to be sidelined totally because of
their

politics of hatred towards all non Ariyo brahmins, all the
non- ariyo brahmins have to unite under BSP for Sarvajan Hitay,
Sarvajan Sukhay i.e.,
for the welfare and happiness of all societies
including, SC/STs, OBCs, Minorities and the  poor upper castes by
sharing the wealth of the country

equally among all sections of
the society as enshrined in the Constitution. Haughty behavior by the
upstart chitpvans caused conflicts with
other communities which manifested itself as late as in 1948 in the form of anti-Brahminism after the killing of M.K. Gandhi by

Nathuram
Godse, a chitpavan. Bal Gangadhar Tilak After the fall of the Maratha
Empire in 1818, the chitpavans lost their political dominance
to the
British.The British would not subsidize the chitpavans on the same scale
that their caste-fellow, the Peshwas had done in the past. Pay

and
power was now significantly reduced. Poorer chitpavan students adapted
and started learning English because of better opportunities in
the
British administration. Some of the strongest resistance to change also
came from the very same community. Jealously guarding their

brahmin
stature, the orthodox among the chitpavans were not eager to see the
shastras challenged, nor the conduct of the brahmins becoming
indistinguishable
from that of the sudras. The vanguard and the old guard clashed many
times. The chitpavan community includes two major

politicians in
the Gandhian tradition: Gopal Krishna Gokhale whom he acknowledged as a
preceptor, & Vinoba Bhave, one of his outstanding
disciples.
Gandhi describes Bhave as the Jewel of his disciples, and recognized
Gokhale as his political guru.However,strong opposition to Gandhi

also
came from within the chitpavan community.V D Savarkar,the founder of
the Hindu nationalist political ideology hindutva  is castiest and
communal
duba kor militant stealth political cult greed of power hating all the
non-chitpavan brahimins which anger that is madness requiring

treatment
in mental asylums, was a chitpavan brahmin. Several members of the
chitpavan community were among the first to embrace d hindutva
ideology,
which they thought was a logical extension of the legacy of the Peshwas
and caste-fellow Tilak. These chitpavans felt out of place with the

Jambudvipan
social reform movement of Mahatama Phule and the mass politics of
Mr.M.K. Gandhi. Large numbers of the community looked to
Savarkar,
the Hindu Mahasabha and finally the RSS. Gandhi’s assassins Narayan Apte
and Nathuram Godse, drew their inspiration from fringe

groups in this reactionary trend.

Therefore, the RSS chief Mohan Bhagwat is saying ‘the cultural identity of all Indians is Hindutva’ covering the above facts.

On kobras (the konkanastha chitpavan brahmin Community) of West of the Country.

The chitpavan or chitpawan, are brahmins native to the Konkan with a sizeable Christian Protestant.

Until
the 18th century,the chitpavans were not esteemed in social ranking,and
were indeed considered by other brahmin tribes as being an inferior
caste of brahmins.

It remains concentrated in Maharashtra but also has populations all over the Country and rest of the world, (USA & UK.)

According
to Bene Israeli legend,the Chitpavan and Bene Israel are descendants
from a group of 14 people shipwrecked off the Konkan coast. several
immigrant groups including the Parsis, the Bene Israelis,the
kudaldeshkar gaud brahmins, and the Konkani saraswat brahmins, and the
chitpavan brahmins were the last of these immigrant arrivals.

The satavahanas were  sanskritisers.

It is possibly at their time that the new group of chitpavan brahmins were formed.

Also,
a reference to the chitpavan surname ghaisas, written in Prakrut
Marathi can be seen on a tamra-pat (bronze plaque) of the Year 1060
A.D.belonging to the King
Mamruni of Shilahara Kingdom, found at Diveagar in Konkan.

With
the accession of balaji bhat and his family to the supreme authority of
the Maratha Confederacy, chitpavan immigrants began arriving en masse
from the Konkan to Pune where the Peshwa offered all important offices
his
fellow-castemen.

The chitpavan kin were rewarded with tax relief & grants of land.

Historians cite nepotism & corruption as causes of the fall of the Maratha Empire in 1818.

Richard
Maxwell Eaton states that this rise of the chitpavans is a classic
example of social rank rising with political fortune.

Traditionally,
the chitpavan brahmins were a community of astrologers and priests who
offer religious services to other communities.

The 20th century descriptions of the chitpavans list inordinate frugality, untrustworthiness, conspiratorialism, phlegmatism.

Agriculture was the second major occupation in the community, practiced by the those who possess arable land.

Later, chitpavans became prominent in various white collar jobs and business.

Most of the chitpavan brahmins in Maharashtra have adopted Marathi as their language.

Till the 1940s, most of the chitpavans in Konkan spoke a dialect called chitpavani Konkani in their homes.

Even at that time, reports recorded chitpavani as a fast disappearing language.

But
in Dakshina Kannada District and Udupi Districts of Karnataka, this
language is being spoken in places like Durga and Maala of Karkala taluk
and also in places like Shishila and Mundaje of Belthangady Taluk.

There
are no inherently nasalized vowels in standard Marathi whereas the
chitpavani dialect of Marathi does have nasalized vowels.

Earlier,
the deshastha brahmins believed that they were the highest of all
brahmins, & looked down upon the chitpavans as parvenus (a relative
newcomer to a socioeconomic class),barely equal to the noblest of
dvijas.

Even the Peshwa was denied the rights to use the ghats reserved for Deshasth priests @ Nashik on the Godavari.

This
usurping of power by chitpavans from the deshastha brahmins resulted in
intense rivalry between the two brahmin communities which continued in
late Colonial British India times.

The 19th century records also
mention Gramanyas or village-level debates between the Chitpavans,
& two other communities, namely the Daivajnas, and the Chandraseniya
Kayastha Prabhus.

This lasted for about ten years.Half a
century ago,Dr.Ambedkar surveyed the existing data on the physical
anthropology of the different castes in his book The Untouchables.

He
found that the received wisdom of a racial basis of caste was not
supported by the data,e.g.:The table for Bengal shows that the chandal
who stands sixth in the
scheme of social precedence and whose touch pollutes, is not much differentiated from the brahmin.

In
Bombay the deshastha brahmin bears a closer affinity to the Son-Koli, a
fisherman caste, than to his own compeer, the chitpavan brahmin. 

The Mahar, the Untouchable of the Maratha region, comes next together with the Kunbi, the peasant. 

They follow in order the shenvi brahmin, the nagar brahmin and the high-caste Maratha.

These results  mean that there is no correspondence between social gradation and physical differentiation in Bombay.

A
remarkable case of differentiation in skull and nose indexes, noted by
Dr. Ambedkar, was found to exist between the brahmin and the
(untouchable) Chamar of Uttar Pradesh.

But this does not prove
that brahmins are foreigners, because the data for the U.P. brahmin were
found to be very close to those for the Khattri and the untouchable
Chuhra of Punjab.

If the U.P. brahmin is indeed foreign to U.P.,
he is by no means foreign to this country, at least not more than the
Punjab untouchables.

This confirms the scenario which we can
derive from the Vedic and ItihAsa-PurANa literature:the Vedic tradition
was brought east from d Vedic heartland by brahmins who were physically
indistinguishable from the lower castes there, when the heartland in
Punjab-Haryana at its apogee exported its culture to the whole Aryavarta
(comparable to the planned importation of brahmins into Bengal and the
South around the turn of the Christian era). 

These were just two of the numerous intra-Indian migrations of caste groups.

Recent research has not refuted Ambedkar,s views.

A
press report on a recent anthropological survey led by Kumar Suresh
Singh explains:English anthropologists contended that the upper castes
of India belonged to the Caucasian race and the rest drew their origin
from Australoid types.

The survey has revealed this to be a myth.

Biologically & linguistically, we are very mixed, says Suresh Singh.

The
report says that the people of this country have more genes in common,
and also share a large number of morphological traits.

There is much greater homogenization in terms of morphological and genetic traits at the regional level, says the report.

For
example, the brahmins of Tamil Nadu (esp.Iyengars) share more traits
with non-brahmins in the state than with fellow brahmins in western or
northern part of the country.

The sons-of-the-soil theory also stands demolished.

The
Anthropological Survey of India has found no community in this country
that cant remember having migrated from some other part of the country.

Internal
migration accounts for much of the country’s complex ethnic landscape,
while there is no evidence of a separate or foreign origin for the upper
castes.

Among other scientists who reject the identification of
caste (varNa) with race on physical-anthropological grounds, we may cite
Kailash C. Malhotra:Detailed anthropometric surveys carried out among
the people of Uttar Pradesh,Gujarat, Maharashtra,Bengal and Tamil Nadu
revealed significant regional differences within a caste and a closer
resemblance between castes of different varnas within a region than
between sub-populations of the caste from different regions.

On
the basis of analysis of stature, cephalic and nasal index, H.K. Rakshit
(1966) concludes that the brahmins of this country are heterogeneous
& suggest incorporation of more than one physical type involving
more than one migration of people.

A more detailed study among 8
brahmin castes in Maharashtra on whom 18 metric,16 scopic and 8 genetic
markers were studied, revealed not only a great heterogeneity in both
morphological and genetic characteristics but also showed that 3 Brahmin
castes were closer to non-Brahmin castes than [to the] other brahmin
castes.

P.P. Majumdar and K.C. Malhotra (1974) observed a great
deal of heterogeneity with respect to OAB blood group system among 50
brahmin samples spread over 11 country states. The evidence thus
suggests that varna is a sociological and not a homogeneous biological
entity.


56) Classical Marathi


56) शास्त्रीय मराठी

  विनामूल्य ऑनलाइन नालंदा संशोधन आणि सराव विद्यापीठ

आपल्या स्वत: च्या मातृभाषा मध्ये योग्य भाषांतर प्रस्तुत करा

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे सरसंघचालक मोहन भागवत spiritualism.It काहीही मिळाले आहे, ‘सर्व भारतीय सांस्कृतिक ओळख हिंदुत्वाच्या आहे फक्त एक राजकीय निष्ठा आहे म्हणत आहे
या 1% आरएसएस chitpavans यादी इच्छा काटकसर च्या 20 व्या शतकातील वर्णन, untrustworthiness (Duba Kors), conspiratorialism,

phlegmatism खून लोकशाही पण या देशाचे रिअल अध्यात्म नाही फक्त. या देशाचे खरे सांस्कृतिक ओळख आहे
सर्व पासून Prabuddha भरत आहे की Jambudvipan समता, याला आणि मोकळेपणा सराव बुद्ध निसर्ग त्याच शर्यत संबंधित
 
संविधानात मानल्याप्रमाणे म्हणून धम्मा आधारित. आता तो Duba Kor EVM कारण खुले केले आहे की फसवणूक Duba Kor EVMs आहे
CJI Sadhasivam, एक ब्राम्हण Duba Kor EVM सीईसीच्या व्ही च्या therequest येथे बहुसंख्य फसवणूक tamperable Duba Kor EVMs सह लोकसभा परवानगी

दुसर्या ब्राम्हण मास्टर कळ घेणे आरएसएस च्या भाजपला मदत केली की टप्प्याटप्प्याने रीतीने Duba Kor EVMs पुनर्स्थित. सर्व Duba Kor EVMs आतापर्यंत
मूर्ख पुरावा मतदान प्रणाली बदलले आहेत उपस्थित CJI उपस्थित लोकसभा स्क्रॅप क्रम. & काढण्याचे एक collegium प्रणाली असणे आवश्यक आहे

मानल्याप्रमाणे म्हणून एक फूल पुरावा मतदान प्रणाली असलेल्या अनुसूचित जाती / जमाती / ओबीसी / अल्पसंख्याक पासून न्यायाधीश लिबर्टी, क्षेत्रातील आणि समता लक्ष ठेवण्यासाठी
संविधान. तसेच एक फूल पुरावा मतदान असलेल्या अनुसूचित जाती / जमाती / ओबीसी / अल्पसंख्याक होणारी मुख्य निवडणूक आयोगाकडे एक collegium प्रणाली

Duba Kor EVMs केल्यानंतर लोकशाहीचे मर्डर टाळण्यासाठी संविधानात .. मानल्याप्रमाणे म्हणून प्रणाली लिबर्टी, क्षेत्रातील आणि समता लक्ष ठेवण्यासाठी
मूर्ख पुरावा मतदान प्रणाली लोकसभा निवडणुकीत बदलले आहेत आयोजित करणे आवश्यक आहे. Chitpawan ब्राम्हण कारण पूर्णपणे sidelined असेल असतील, तर त्यांच्या

सर्व नॉन Ariyo ब्राम्हण दिशेने द्वेष, राजकारण, सर्व तिचे ariyo ब्राम्हण, म्हणजेच Sarvajan Hitay, Sarvajan Sukhay साठी बसपा अंतर्गत एकत्र आहेत
देशातील संपत्ती सामायिक करून, अनुसूचित जाती / अनुसूचित, ओबीसी, अल्पसंख्याक आणि गरीब उच्च जाती सर्व संस्थांमध्ये कल्याण आणि सुखाचा

तितकेच संविधानात मानल्याप्रमाणे समाजातल्या सर्व विभागांतील. उपटसुंभ chitpvans करून गर्विष्ठ वर्तन संघर्ष झाल्याने
मनोज ठार करण्यात आल्यानंतर विरोधी Brahminism स्वरूपात म्हणून उशीरा 1948 मध्ये म्हणून स्वत manifested इतर समुदाय द्वारे गांधी

नथुराम गोडसे, एक चित्पावन. बाळ गंगाधर टिळक 1818 मध्ये मराठा साम्राज्याचे होणे केल्यानंतर, chitpavans त्यांच्या राजकीय वर्चस्व गमावले
British.The ब्रिटीश जातीचा-फेलो, पेशवे भूतकाळात केले होते त्याच प्रमाणात chitpavans सवलती नसते. पे

आणि शक्ती आता लक्षणीय कमी होते. गरीब चित्पावन विद्यार्थ्यांना रुपांतर कारण उत्तम संधी इंग्रजी शिक्षणास सुरुवात केली
ब्रिटिश प्रशासन. कडक विरोध काही बदलू त्याच समुदायातून आला. Jealously त्यांच्या हला

ब्राम्हण शरीराने chitpavans आपापसांत ऑर्थोडॉक्स शास्त्रांमध्ये आव्हान पाहण्यासाठी उत्सुक नव्हती, किंवा ब्राम्हण च्या आचार होत
sudras की ते वेगळा करता न येण्यासारखा. लष्काराचे आघाडीचे बिनीचे सैनिक आणि जुन्या गार्ड अनेक वेळा clashed. चित्पावन समुदाय प्रमुख दोन समावेश

गांधीवादी परंपरेतील राजकारणी: त्याचे उल्लेखनीय तो एक गुरु म्हणून पोच ज्याच्या गोपाळ कृष्ण गोखले, विनोबा भावे, एक
शिष्य. गांधी त्याच्या शिष्यांपैकी दागिना म्हणून भावे वर्णन, आणि त्याच्या राजकीय guru.However, गांधी जोरदार विरोध म्हणून गोखले ओळखले

देखील चित्पावन community.VD सावरकर आत आला, हिंदू राष्ट्रवाद राजकीय विचारसरणी हिंदुत्वाच्या संस्थापक castiest आहे आणि
आवश्यक वेडेपणा आहे की जे राग सर्व बिगर चित्पावन brahimins hating शक्तीचे जातीय duba kor लढाऊ चोरी राजकीय निष्ठा हाव

मानसिक asylums मध्ये उपचार, एक चित्पावन ब्राह्मण होते. चित्पावन समाजाच्या अनेक सदस्य आपापसांत हिंदुत्वाच्या आलिंगन प्रथम होते
त्यांनी विचार केला जे विचारसारणी, पेशवे आणि जात-फेलो टिळक वारसा लॉजिकल विस्तार होते. हे chitpavans असलेल्या ठिकाणी बाहेर वाटली

Mahatama फुले Jambudvipan समाजसुधारणेचे चळवळ आणि Mr.MK च्या वस्तुमान राजकारण गांधी. समाजाच्या मोठ्या संख्येने पाहिले
सावरकर, हिंदू महासभेचे आणि शेवटी आरएसएस. गांधी च्या क्वांटिटी नारायण आपटे आणि नथुराम गोडसे, कपाळावर रूळणारे केस पासून त्यांच्या प्रेरणा अनि

या प्रतिगामी कल मध्ये गट.

त्यामुळे सरसंघचालक मोहन भागवत वरील तथ्ये पांघरूण भारतीय सांस्कृतिक ओळख हिंदुत्वाच्या आहे म्हणत आहे.

देशाच्या पश्चिम kobras (konkanastha चित्पावन ब्राह्मण समुदाय) रोजी.

चित्पावन किंवा chitpawan, आकारमान्य ख्रिश्चन प्रोटेस्टंट सह कोकण मुळ ब्राम्हण आहेत.

18 शतक होईपर्यंत chitpavans सामाजिक रँकिंग मध्ये लक्षातही गेले नाहीत, आणि खरंच ब्राम्हण एक कनिष्ठ जात जात म्हणून इतर ब्राम्हण जमातींचे मानले होते.

हे महाराष्ट्रातील एकवटलेला राहते परंतु देखील देशभरात लोकसंख्या सर्व आणि इतर जगाला आहे (यूएसए ब्रिटन.)

ज्यामध्ये इस्रायली आख्यायिके चित्पावन आणि ज्यामध्ये इस्राएल कोकण किनारपट्टीवर बंद shipwrecked 14 लोकांचा एक गट पासून वंशज आहेत. पारशी, ज्यामध्ये इस्रायल, kudaldeshkar दिखाऊ दागिना ब्राम्हण, आणि ब्राम्हण सारस्वत कोंकणी आणि चित्पावन ब्राम्हण यांच्यासह अनेक परदेशातून कायमची वस्ती करण्यासाठी येणारा किंवा आलेला गट या परदेशातून कायमची वस्ती करण्यासाठी येणारा किंवा आलेला आवक शेवटच्या होते.

Satavahanas sanskritisers होते.

हे चित्पावन ब्राम्हण नवीन गट स्थापन झाले की त्यांच्या वेळी शक्यतो आहे.

तसेच, Prakrut मराठी भाषेतील चित्पावन आडनाव ghaisas संदर्भ, राजा वर्ष 1060 ADbelonging एक tamra-पॅट (कांस्य किटण) वर जाऊ शकतो
Shilahara राज्याची Mamruni, कोकणातील श्रीवर्धनमार्गे येथे आढळले.

बालाजी भट पदग्रहण आणि मराठा राज्यांचा संघ च्या सर्वोच्य अधिकार त्याच्या कुटुंबासह, चित्पावन स्थलांतरित पेशवे सर्व महत्वाची कार्यालये देऊ केलेल्या जेथे पुणे कोकणातुन सर्वांनी येण्यास सुरुवात केली त्याच्या
सहकारी-castemen.

चित्पावन नात्याचा कर सवलत जमीन अनुदान सह पुरस्कृत होते.

इतिहासकारांच्या 1818 मध्ये मराठा साम्राज्य बाद होणे कारणे म्हणून nepotism भ्रष्टाचार द्या.

रिचर्ड मॅक्सवेल ईटनचे chitpavans या उदय राजकीय दैव सह वाढत सामाजिक रँक एक नमुनेदार उदाहरण आहे असे सूचविते.

परंपरेने, चित्पावन ब्राम्हण इतर समुदायांना धार्मिक सेवा देतात जे ज्योतिषी आणि याजक समुदायाशी होते.

Chitpavans च्या 20 व्या शतकातील वर्णन इच्छा काटकसर, untrustworthiness, conspiratorialism, phlegmatism यादी.

कृषी जिरायती जमीन ताब्यात घ्यायला ज्यांनी द्वारे सराव समाजातील दुसरा मोठा उद्योग, होते.

नंतर, chitpavans विविध पांढरा कॉलर काम आणि व्यवसायात प्रमुख झाले.

महाराष्ट्रातील चित्पावन ब्राम्हण बहुतेक त्यांच्या भाषा म्हणून मराठी वापर सुरू केला आहे.

1940 पर्यंत कोकणातील chitpavans बहुतेक त्यांच्या घरी chitpavani कोंकणी नावाची बोली बोलले.

जरी त्या वेळी, अहवाल एक जलद नाहीसे भाषा म्हणून chitpavani रेकॉर्ड.

पण दक्षिण कन्नड जिल्हा कर्नाटक उडुपी जिल्हयात, या भाषेत दुर्गा आणि Karkala तालुक्यात च्या Maala जसे तसेच Shishila आणि Belthangady तालुक्यातील च्या Mundaje सारख्या ठिकाणी ठिकाणी बोलले जात आहे.

मराठी chitpavani बोली nasalized बाराखडी नाही तर मानक मराठी नाही अंतर्निहित nasalized बाराखडी आहेत.

तत्पूर्वी, देशस्थ ब्राम्हण dvijas च्या noblest केवळ समान (एक सामाजिक-आर्थिक वर्ग एक सापेक्ष newcomer), ते सर्व ब्राम्हण सर्वाधिक होते की विश्वास, parvenus म्हणून chitpavans यावर खाली पाहिले.

जरी पेशवे गोदावरी नाशिक @ Deshasth याजक राखीव घाट वापरण्याचा हक्क नाकारला.

देशस्थ ब्राम्हण पासून chitpavans करून शक्ती या usurping उशीरा बांधता ब्रिटिश भारत वेळा मध्ये पुढे जे दोन ब्राह्मण समुदाय दरम्यान प्रखर स्पर्धा झाली.

19 व्या शतकातील रेकॉर्ड देखील Chitpavans, दोन अन्य समुदाय, बहुदा Daivajnas, आणि Chandraseniya Kayastha Prabhus दरम्यान Gramanyas किंवा खेड्यात स्तरीय वादविवाद उल्लेख.

हे शतक पूर्वी सुमारे दहा years.Half खेळलेला, Dr.Ambedkar त्याच्या पुस्तकात अस्पृश्य विविध जाती भौतिक मानववंशशास्त्र अस्तित्वातील डाटाचे सर्वेक्षण.

जात एक वांशिक आधारावर मिळाले शहाणपणा डेटा द्वारे समर्थीत नाही, असे, उदा: बंगाल तक्ता दाखवते की सहाव्या उभ्या असलेल्या chandal
ज्यांचे स्पर्श pollutes, जास्त ब्राम्हण पासून भाग आहे नाही सामाजिक प्राधान्य योजना आणि.

मुंबई मध्ये देशस्थ ब्राह्मण पुत्र-कोळी, त्याच्या स्वत: च्या सोबती, चित्पावन ब्राह्मण जास्त एक कोळी जात, एक जवळ ओढ देतो.

महार, मराठा प्रदेश पहिलीच, कुणबी, शेतकर्यांविषयीचे एकत्र पुढील येतो.

ते क्रमाने shenvi ब्राम्हण, नगर ब्राम्हण आणि उच्च जाती मराठा पालन करा.

हे परिणाम सामाजिक अनुक्रम आणि मुंबई शारीरिक भेद दरम्यान नाही पत्रव्यवहार आहे याचा अर्थ असा.

डॉ आंबेडकर यांनी नोंद कवटीच्या आणि नाक सूची, मध्ये फरक एक उल्लेखनीय केस, ब्राम्हण व उत्तर प्रदेश (अस्पृश्य) चांभार दरम्यान अस्तित्वात दिल्या.

पण हे, ब्राम्हण परदेशी आहेत हे सिद्ध होत नाही मूकपणे डेटा कारण ब्राम्हण Khattri आणि पंजाब अस्पृश्य Chuhra त्या खूप जवळ असल्याचे आढळले होते.

U.P. असल्यास ब्राम्हण नाही या देशात परदेशी म्हणजे तो पंजाब अस्पृश्य पेक्षा किमान नाही पेक्षा जास्त आहे, उत्तरप्रदेश ते खरंच विदेशी आहे.

हे आम्ही वैदिक आणि ItihAsa-पुराणाची साहित्य साध्य करू शकता जे परिस्थिती पुष्टी: वैदिक परंपरा त्याच्या Apogee येथे पंजाब-हरियाणा heartland निर्यात तेव्हा तेथे कमी जातींपासून शारीरिक वेगळा करता न येण्यासारखा होते ब्राम्हण, द्वारे वैदिक heartland पूर्व आणले होते (बंगाल आणि ख्रिश्चन काळातील वळण सुमारे दक्षिण मध्ये ब्राम्हण नियोजनबद्ध आयात माल तुलना) संपूर्ण शहरे आर्यावर्ताच्या त्याच्या संस्कृती.

हे फक्त दोन जाती गट असंख्य इंट्रा-भारतीय स्थलांतरण होते.

अलीकडील संशोधनाने आंबेडकर, च्या दृश्ये चौकशी नाही.

कुमार सुरेश सिंग यांच्या नेतृत्वाखालील अलीकडील anthropological सर्वेक्षण वर पत्रकार अहवाल स्पष्ट करते: इंग्लिश anthropologists भारत उच्च जाती कॉकेशियन शर्यत असून बाकीचे Australoid प्रकारच्या त्यांच्या मूळ अनि की ठेवतो.

सर्वेक्षण एक दंतकथा असणे हे प्रकट केले आहे.

जीवशास्त्राच्या linguistically, आम्ही फार मिश्र आहेत, सुरेश सिंग म्हणतात.

अहवाल या देशातील लोक सामान्य अधिक जीन्स आहेत, तसेच रुपशास्त्रीय अद्वितीय वैशिष्ट्य मोठ्या प्रमाणात शेअर की म्हणते.

प्रादेशिक पातळीवर रुपशास्त्रीय आणि अनुवांशिक अद्वितीय वैशिष्ट्य दृष्टीने जास्त होमोजीनायाझर आहे, अहवाल म्हणतो.

उदाहरणार्थ, तमिळनाडू (esp.Iyengars) च्या ब्राम्हण देशाच्या पश्चिम किंवा उत्तर भागात सहकारी ब्राम्हण सह पेक्षा राज्यात बिगर ब्राम्हण अधिक अद्वितीय वैशिष्ट्य सामायिक करा.

मुले ऑफ-माती सिद्धांत देखील पाडण्यात स्टॅण्ड.

भारत मानवशास्त्र सर्वेक्षण देशातील काही इतर भाग स्थलांतरित येत स्मरणात ठेऊ शकत नाही की या देशात नाही समुदाय आढळला आहे.

उच्च जाती स्वतंत्र किंवा विदेशी मूळ कोणताही पुरावा नाही, तर अंतर्गत स्थलांतर, देशातील गुंतागुंतीच्या पारंपारीक लँडस्केप च्या जास्त खाती.

भौतिक-anthropological कारणास्तव रेस सह जात (वारणा) ओळख नाकारतील इतर शास्त्रज्ञ हेही आम्ही कैलाश सी मल्होत्रा ​​पुरावा म्हणून पुढे शकतात: उत्तर प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, बंगाल तमिळनाडू लोकांमध्ये चालते तपशीलवार एन्थ्रोपोमॅट्रिक सर्वेक्षणे लक्षणीय प्रकट एक जात आणि विभिन्न क्षेत्रांमध्ये पासून जात उप लोकसंख्या दरम्यान पेक्षा प्रदेश वेगवेगळ्या varnas च्या जाती दरम्यान जवळून साम्य आत प्रादेशिक फरक.

शरीराने डोक्यात असलेले आणि नाकाचा निर्देशांक, हाँगकाँग विश्लेषण आधारावर Rakshit (1966) या देशातील ब्राम्हण जिनसीपणाचा अभाव असलेला आहेत लोक एकापेक्षा जास्त स्थलांतर समावेश एकापेक्षा जास्त फिजीकल प्रकार मिसळणे सुचवा असा निष्कर्ष काढला की.

18 मेट्रिक, 16 scopic आणि 8 अनुवांशिक मार्कर अभ्यास केला होते तो महाराष्ट्र 8 ब्राम्हण जाती दरम्यान अधिक तपशीलवार अभ्यास, दोन्ही रुपशास्त्रीय आणि अनुवांशिक वैशिष्ट्ये नाही फक्त एक चांगला heterogeneity प्रकट परंतु देखील 3 ब्राम्हण जाती विना-ब्राम्हण जाती जवळ होते की झाली पेक्षा इतर ब्राम्हण जाती [ते].

P.P. मजुमदार आणि K.C. (1974) मल्होत्रा ​​11 देश राज्यांमध्ये पसरलेल्या 50 ब्राम्हण नमुने आपापसांत OAB रक्त गट प्रणाली संदर्भात heterogeneity बराचसा साजरा. पुरावा अशा प्रकारे वारणा एक एकसंध जैविक अस्तित्व एक sociological आणि नाही सुचवते.

58) Classical Nepali

58) शास्त्रीय नेपाली

  निशुल्क अनलाइन E-NALANDA अनुसन्धान अभ्यास UNIVERSITY

आफ्नो मातृभाषामा सही अनुवाद प्रस्तुत गर्नुहोस्

RSS प्रमुख मोहन भागवत spiritualism.It संग गर्न केही मिल्यो छ जो सबै भारतीय को सांस्कृतिक पहिचान िहन्दूत्ववादी बस एक राजनीतिक गुटले भन्दै
यो 1% RSS chitpavans सूची अनुचित मितव्ययिता को 20 औं शताब्दीको वर्णन, untrustworthiness (Duba Kors), conspiratorialism,

phlegmatism हत्या लोकतन्त्र तर पनि यो राष्ट्रको वास्तविक आध्यात्मिकता मात्र होइन यो देश को साँचो सांस्कृतिक पहिचान
सबै देखि Prabuddha Bharath कि Jambudvipan समानता, बिरादरी स्वतन्त्रता अभ्यास बुद्ध प्रकृति संग नै दौड हौं
 
संविधान समाहित रूपमा Dhamma मा आधारित छ। अब यो Duba कोर EVM किनभने उजागर गर्न कि जालसाजी Duba कोर EVMs
CJI Sadhasivam, एक ब्राम्हण Duba कोर EVM CEC Sampath को therequest मा बहुमत धोखाधडी tamperable Duba कोर EVMs संग लोकसभा अनुमति

अर्को ब्राम्हण को मास्टर प्रमुख प्राप्त गर्न RSS गरेको भाजपा मदत चरणबद्ध तरिकामा Duba कोर EVMs प्रतिस्थापन गर्न सबै Duba कोर EVMs सम्म
मूर्ख प्रमाण मतदान प्रणाली संग प्रतिस्थापित गर्दै छन् वर्तमान CJI वर्तमान लोकसभा scrap गर्न आदेश उठयो को एक collegium प्रणाली हुनेछ

को समाहित रूपमा एक मूर्ख प्रमाण मतदान प्रणाली भएको लागि अनुसूचित जाति / ST / पिछडा वर्ग / अल्पसंख्यक न्यायधीश स्वतन्त्रता, Fraternity समानता सुरक्षित राख्न
संविधान र यो पनि एक मूर्ख प्रमाण मतदान भएको लागि अनुसूचित जाति / ST / पिछडा वर्ग / अल्पसंख्यक मिलेर प्रमुख निर्वाचन आयोगमा एक collegium प्रणाली

को Duba कोर EVMs पछि लोकतन्त्रको हत्या रोक्न संविधान .. समाहित रूपमा प्रणाली स्वतन्त्रता, Fraternity समानता सुरक्षित राख्न
मूर्ख प्रमाण मतदान प्रणाली लोकसभा चुनाव संग प्रतिस्थापित गर्दै छन् आयोजित गरिनु पर्छ Chitpawan बाहुन कारण पूरै पाखा लगाएको हुन्छ भने आफ्नो

सबै गैर Ariyo बाहुन तिर घृणाको राजनीति, सबै गैर ariyo बाहुन, अर्थात् Sarvajan Hitay, Sarvajan Sukhay लागि BSP अन्तर्गत एकताबद्ध
देश को धन साझेदारी गरेर, अनुसूचित जाति / STs, ओबीसी, अल्पसंख्यक गरिब माथिल्लो जात सहित सबै समाजलाई हित र आनन्द लागि

त्यति नै संविधान समाहित को रूप मा समाज को सबै वर्गहरु को बीच को कल को नवाब chitpvans द्वारा अभिमानी व्यवहार संग संघर्ष कारण
एम को हत्या पछि विरोधी Brahminism को रूप मा रूपमा लेट 1948 मा रूपमा नै प्रकट जो अन्य समुदायहरूलाई द्वारा गान्धी

Nathuram सावरकर, एक chitpavan बाल गंगाधर तिलक 1818 मा नेभिगेट को पतनपछि chitpavans आफ्नो राजनीतिक प्रभुत्व गुमाए
को British.The ब्रिटिश आफ्नो जात-सँगी, को Peshwas विगतमा गरेका थिए भन्ने नै मात्रा मा chitpavans घूस थिएन दिनुहोस्

शक्ति अब एकदम कम थियो गरिब chitpavan छात्र युगानुकूल कारण राम्रो अवसर को अंग्रेजी सिक्ने सुरु
ब्रिटिश प्रशासन बलियो प्रतिरोध केही पनि परिवर्तन धेरै नै समुदाय आएको छ। Jealously आफ्नो रक्षा

ब्राम्हण कद, को chitpavans बीचमा रुढीवादी को shastras चुनौती हेर्न उत्सुक थिएनन्, न त बाहुन को आचरण बन्ने
को sudras भन्दा खासै फरक The vanguard पुरानो होसियार धेरै पटक झडप The chitpavan समुदाय प्रमुख दुई समावेश

को Gandhian परम्परा मा राजनीतिज्ञ: आफ्नो उल्लेखनीय उहाँले एक preceptor रूपमा स्वीकारे जसलाई गोपाल कृष्ण Gokhale, Vinoba भावे, एक
चेलाहरू गान्धी आफ्ना चेलाहरूलाई रत्न रूपमा भावे वर्णन, आफ्नो राजनीतिक guru.However, गान्धी कडा विरोध रूपमा Gokhale मान्यता

पनि chitpavan community.VD Savarkar भित्र आए, हिन्दू राष्ट्रवादी राजनीतिक विचारधारा Hindutva को संस्थापक castiest
आवश्यकता पागलपन छ कि जो रिस सबै गैर-chitpavan brahimins घृणा शक्ति को साम्प्रदायिक duba कोर जुझारु चुपके राजनीतिक गुटले लोभ

मानसिक asylums मा उपचार, एक chitpavan ब्राम्हण थियो को chitpavan समुदाय केही सदस्यहरू बीचमा Hindutva अङ्कमाल गर्ने पहिलो थिए
तिनीहरू सोच्थे जो विचारधारा, को Peshwas जातीय-सँगी तिलक को विरासत को एक तार्किक विस्तार भएको थियो यी chitpavans को संग ठाँउ को बाहिर महसुस

Mahatama Phule को Jambudvipan सामाजिक सुधार आन्दोलन Mr.MK को जन राजनीति गान्धी समुदाय को ठूलो संख्या देख्यो
Savarkar, हिन्दू महासभा र अन्ततः RSS गान्धी गरेको हत्यारा नारायण अप्ते Nathuram सावरकर, किनारा प्रेरणा आकर्षित

यो प्रतिक्रियावादी प्रवृत्ति मा समूह

तसर्थ, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत माथिका तथ्यहरु कवर सबै भारतीय को सांस्कृतिक पहिचान िहन्दूत्ववादी भन्दै

देश को पश्चिम kobras (को konkanastha chitpavan ब्राम्हण समुदाय) मा

The chitpavan वा chitpawan, एक खासी मसीही प्रोटेस्टेन्ट संग कोंकण देशी बाहुन हो

18 औं शताब्दीमा सम्म, chitpavans सामाजिक स्तर निर्धारण मा सम्मानित थिएनन्, साँच्चै बाहुन को कमसल जात हुनुको अन्य ब्राम्हण कुलको छलफल थिए

यो महाराष्ट्र मा केंद्रित रहन्छ तर पनि देश मा जनसंख्यालाई सबै संसारको बाँकी (संयुक्त राज्य अमेरिका र बेलायत)

Bene Israeli कथा अनुसार, Chitpavan Bene इस्राएलका कोंकण तटमा जहाज भताभुङ्ग 14 मान्छे को एक समूह देखि सन्तान हुन् को Parsis, को Bene इजरायल, को kudaldeshkar gaud बाहुन, बाहुन saraswat को कोंकणी, chitpavan बाहुन सहित धेरै आप्रवासी समूह यी आप्रवासी आगमन को अन्तिम थिए

The satavahanas sanskritisers थिए

यो chitpavan बाहुन को नयाँ समूह गठन थिए कि आफ्नो समय मा संभवतः

साथै, Prakrut मराठी मा लेखिएको chitpavan थर ghaisas एउटा सन्दर्भ, राजा वर्ष 1060 ADbelonging को एक Tamra-पेट (कांस्य पट्टिका) मा देख्न सकिन्छ
Shilahara राज्यको Mamruni, कोंकण मा Diveagar मा पाइने

को बालाजी भाट को अभिवृद्धि Maratha महासंघसंग को सर्वोच्च अधिकार आफ्नो परिवारलाई संग, chitpavan आप्रवासी को Peshwa सबै महत्त्वपूर्ण कार्यालय प्रस्ताव जहाँ पुणे गर्न कोंकण देखि सामूहिक en आइपुगेका थाले
सँगी-castemen

The chitpavan नातेदारहरु गरेर राहत भूमि को अनुदान प्रदान गरियो

इतिहासकार 1818 मा नेभिगेट पतन को कारण रूपमा nepotism भ्रष्टाचार cite

रिचर्ड Maxwell Eaton को chitpavans को यो वृद्धि राजनीतिक भाग्य संग बढ्दो सामाजिक श्रेणीका एउटा ज्वलन्त उदाहरण हो कि भन्छ

परम्परागत chitpavan बाहुन अन्य समुदायहरूलाई धार्मिक प्रदान गर्ने ज्योतिषीहरू पूजाहारीहरूको एक समुदाय थिए

को chitpavans को 20 औं शताब्दीको वर्णन अनुचित मितव्ययिता, untrustworthiness, conspiratorialism, phlegmatism सूची

कृषि खेतीयोग्य जमीन गर्ने ती द्वारा अभ्यास समुदाय मा दोस्रो प्रमुख पेशा, थियो

पछि, chitpavans विभिन्न सेतो कलर जब व्यापार मा प्रमुख भए

महाराष्ट्र मा chitpavan बाहुन अधिकांश आफ्नो भाषा रूपमा मराठी अपनाएका छन्।

सन 1940 सम्म, कोंकण मा chitpavans को भन्दा आफ्नो घरमा chitpavani कोंकणी भनिने बोली बोले

त्यस समय मा, रिपोर्टहरू एक तेज disappearing भाषा रूपमा chitpavani लिपिबद्ध

तर दक्षिण कन्नड जिल्ला कर्नाटक को उडुपी जिल्ला मा, यो भाषा दुर्गा गोवारीबिदानुर तालुक को Maala जस्तै पनि Shishila Belthangady तालुक को Mundaje जस्तै ठाउँमा ठाउँमा बोलिने भइरहेको छ

मराठी को chitpavani बोली nasalized स्वर गर्छ, जबकि मानक मराठी मा कुनै स्वाभाविक nasalized स्वर छन्

यसअघि, deshastha बाहुन dvijas को उत्कृष्ट गर्न मुश्किल बराबर (एक सामाजिक आर्थिक कक्षामा एक नातेदार नवआगन्तुक), तिनीहरू सबै बाहुन को उच्चतम थिए भनेर विश्वास, parvenus रूपमा chitpavans तुच्छ देख्यो

समेत Peshwa गोदावरी मा नासिक @ Deshasth पूजाहारीहरू लागि सुरक्षित घाट प्रयोग गर्न अधिकार वञ्चित भएको थियो

को deshastha बाहुन देखि chitpavans द्वारा शक्ति को यो usurping लेट औपनिवेशिक ब्रिटिश भारत समयमा जारी जो दुई ब्राम्हण समुदायका बीच तीव्र प्रतिद्वन्द्वी पाइयो।

19 औं शताब्दीमा रेकर्ड पनि Chitpavans, अन्य दुई समुदाय, अर्थात् Daivajnas, Chandraseniya कायस्थ Prabhus बीच Gramanyas वा गाउँ तहका बहस उल्लेख छ।

यो एक शताब्दी पहिले दस years.Half लागि चल्यो, Dr.Ambedkar आफ्नो पुस्तक Untouchables मा विभिन्न जात शारीरिक anthropology मा अवस्थित डेटा नियाल्नुभयो।

उहाँले जात को एक जातीय आधार को प्राप्त बुद्धि डेटा द्वारा समर्थित छैन थियो कि पाइन्छ, जस्तै: बङ्गाल लागि तालिका देखाउँछ कि मा छैटौं खडा गर्ने Chandal
जसको स्पर्श pollutes, धेरै ब्राम्हण देखि विभेदित छैन सामाजिक प्राथमिकता को योजना

बम्बई मा deshastha ब्राम्हण पुत्र-Koli, आफ्नै compeer, को chitpavan ब्राम्हण भन्दा एक मछुवा जात, एक करीब आत्मीयता दिन्छ

The mahar, को Maratha क्षेत्र को Untouchable, को Kunbi, किसान मिलेर अर्को आउछ

तिनीहरू क्रम मा shenvi ब्राम्हण, नगर ब्राम्हण उच्च जात Maratha पालन

यी परिणाम सामाजिक उन्नयन बम्बई मा शारीरिक विभिन्नता बीच कुनै पत्राचार हुन्छन् भन्ने

डा अम्बेडकर याद skull नाक अनुक्रमणिकाओं, मा विभिन्नता को एक उल्लेखनीय होस्, ब्राम्हण उत्तर प्रदेश को (अछुत) चमार बीच अवस्थित पाइयो

तर यो, बाहुन विदेशीहरू छन् भन्ने कुरा प्रमाणित गर्दैन माथिको लागि डेटा किनभने ब्राम्हण को Khattri पञ्जाब को अछुत Chuhra लागि ती धेरै नजिक हुन फेला परेन

को उतरप्रदेश भने ब्राम्हण कुनै यो देश विदेशी आइपरेको त्यो पंजाब अछुत भन्दा कम से कम छैन बढी , युपी गर्न साँच्चै विदेशी हो

यो हामी वैदिक ItihAsa-पुराण साहित्यमा उठाउन सक्छन् जो परिदृश्य पुष्टि: वैदिक परम्परा आफ्नो APOGEE मा पञ्जाब-हरियाणा मा गढ निर्यात गर्दा त्यहाँ तल्लो जात देखि शारीरिक खासै फरक थिए जो बाहुन, द्वारा वैदिक गढ देखि पूर्व ल्याइयो (बंगाल र मसीही युग को बारी वरिपरि दक्षिण मा बाहुन को योजना बनाए आयातको तुलना गर्न) सारा Aryavarta आफ्नो संस्कृति

यी केवल दुई जात समूह को धेरै भित्री-भारतीय migrations थिए

हाल अनुसन्धान अम्बेडकर, को विचार खण्डन छैन

कुमार सुरेश सिंह नेतृत्व हाल पुरातात्विक सर्वेक्षण मा एक प्रेस रिपोर्ट यसो भन्छन्: अंग्रेजी मानवशास्त्रीहरूले भारत को माथिल्लो जात को प्रार्य दौड सदस्य बाँकी Australoid प्रकार देखि आफ्नो मूल भएँ भनेर संघर्ष

सर्वेक्षण मिथ्या हुन यो प्रकट गर्नुभएको छ

जीवविज्ञानको linguistically, हामी धेरै मिश्रित हो, सुरेश सिंह भन्छन्

रिपोर्ट यो देश को मान्छे साधारण मा थप जीन , पनि को morphological लक्षण को एक ठूलो संख्या साझा भनेर भन्छन्

क्षेत्रीय स्तरमा morphological र आनुवंशिक गुण मामला मा धेरै ठूलो homogenization , उक्त रिपोर्ट बताउँछ

उदाहरणका लागि, तामिलनाडु (esp.Iyengars) को बाहुन देशको पश्चिमी वा उत्तरी भाग सँगी बाहुन भन्दा राज्य गैर-बाहुन बढी झुकाउ साझा

छोराहरू-the-माटो सिद्धान्त पनि तोडफोड खडा छ।

भारत को Anthropological सर्वेक्षण देश अन्य कुनै भागमा देखि बर्साई सरेको पाइएको सम्झना कि खिचडी यो देश मा कुनै समुदाय पाइने

माथिल्लो जात लागि एक अलग वा विदेशी मूलका कुनै प्रमाण छ, जबकि आन्तरिक प्रवास, मुलुकको जटिल जातीय परिदृश्य को धेरै को लागि खाते

भौतिक पुरातात्विक आधारमा दौड संग जात (varna) को पहिचान अस्वीकार गर्ने अन्य वैज्ञानिकहरूले माझमा, हामी कैलाश सी Malhotra cite सक्छ: उत्तर प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, बंगाल र तामिलनाडु को मानिसहरूलाई पूरा विस्तृत anthropometric सर्वेक्षण महत्वपूर्ण प्रकट एक जाति विभिन्न क्षेत्रका जाति को उप-जनसंख्यालाई बीच भन्दा एक क्षेत्र भित्र विभिन्न varnas को जात बीच एक नजिक समानता भित्र क्षेत्रीय मतभेद

कद, cephalic नाक सूचकांक, एच को विश्लेषण को आधारमा रक्षित, सत्य लोक (1966) यो देश को बाहुन विषमांगी छन् मानिसहरू एक भन्दा बढी प्रवास मुछिएको एक भन्दा बढी शारीरिक प्रकार को संस्थापन सुझाव निष्कर्षमा

18 मेट्रिक, 16 scopic 8 आनुवंशिक मार्कर अध्ययन गरियो जसलाई मा महाराष्ट्र मा 8 ब्राम्हण जात बीच एक अधिक विस्तृत अध्ययन, दुवै morphological र आनुवंशिक विशेषताहरु मा मात्र ठूलो heterogeneity प्रकट तर पनि 3 ब्राम्हण जात गैर-ब्राम्हण जात नजिक थिए भन्ने कुरा देखायो अरू ब्राम्हण जात [को लागि]

P.P. मजुमदार K.C. (1974) Malhotra 11 देश राज्यहरु मा फैलिएको 50 ब्राम्हण नमूनाको बीचमा OAB रगत समूह प्रणाली सन्दर्भमा heterogeneity को एक महान सम्झौता टिप्पणी गरे। प्रमाण यसरी varna एक सजातीय जैविक एकाइ एक समाजशास्त्रीय छैन भन्ने बुझाउँछ

63) Classical Punjabi

63) ਕਲਾਸੀਕਲ ਪੰਜਾਬੀ

  ਮੁਫ਼ਤ ਆਨਲਾਇਨ E-ਨਾਲੰਦਾ ਖੋਜ ਅਤੇ ਪ੍ਰੈਕਟਿਸ ਯੂਨੀਵਰਿਸਟੀ

ਤੁਹਾਡੇ ਆਪਣੇ ਮਾਤਾ ਬੋਲੀ ਵਿਚ ਸਹੀ ਅਨੁਵਾਦ ਪੇਸ਼ ਕਰੋ ਜੀ

ਸੰਘ ਦੇ ਮੁਖੀ ਮੋਹਨ ਭਾਗਵਤ spiritualism.It ਨਾਲ ਕਰਨ ਲਈ ਕੁਝ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕੀਤਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਸਾਰੇ ਭਾਰਤੀ ਦੇ ਸੱਭਿਆਚਾਰਕ ਪਛਾਣ ਦੀ ਹਿੰਦੂਤਵ ਹੈ, ਸਿਰਫ਼ ਇਕ ਸਿਆਸੀ ਪੰਥ ਹੈ, ਨੇ ਆਖਿਆ ਹੈ,
ਇਸ ਨੂੰ ਲਈ 1% ਮਈ chitpavans ਸੂਚੀ ਨੂੰ ਬੇਹਿਸਾਬੀ frugality ਦੇ 20 ਸਦੀ ਵਰਣਨ, ਬੇਇਤਬਾਰੀ (Duba Kors), conspiratorialism,

phlegmatism ਕਤਲ ਲੋਕਤੰਤਰ ਹੈ, ਪਰ ਇਹ ਵੀ ਕਿ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਦੀ ਅਸਲ ਰੂਹਾਨੀਅਤ ਨਾ ਸਿਰਫ. ਇਸ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਸੱਚੇ ਸਭਿਆਚਾਰਕ ਪਛਾਣ ਦੀ ਹੈ,
ਸਾਰੇ ਦੇ ਬਾਅਦ Prabuddha Bharath ਹੈ, ਜੋ ਕਿ Jambudvipan ਬਰਾਬਰੀ, ਭਾਈਚਾਰੇ ਅਤੇ ਇਸ ਆਜ਼ਾਦੀ ਦਾ ਅਭਿਆਸ ਬੁੱਧ ਕੁਦਰਤ ਦੇ ਨਾਲ ਵੀ ਇਹੀ ਜਾਤੀ ਨਾਲ ਸਬੰਧ
 
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੇ ਵਿੱਚ ਰਖਿਆ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ Dhamma ‘ਤੇ ਅਧਾਰਿਤ ਹੈ. ਹੁਣ ਇਸ ਨੂੰ Duba Kor EVM ਕਰਕੇ ਸਾਹਮਣਾ ਕਰਨ ਲਈ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਫਰਾਡ Duba Kor ਇਮਪਲਾਈਜ਼ ਹੈ
ਚੀਫ Sadhasivam, ਇੱਕ ਬ੍ਰਾਹਮਣ Duba Kor EVM ਸੀਈਸੀ ਸੰਪਤ ਦੇ therequest ‘ਤੇ ਬਹੁਮਤ ਦੀ ਧੋਖਾਧੜੀ tamperable Duba Kor ਇਮਪਲਾਈਜ਼ ਦੇ ਨਾਲ ਲੋਕ ਸਭਾ ਦੀ ਇਜਾਜ਼ਤ ਦਿੱਤੀ

ਇੱਕ ਹੋਰ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਮਾਸਟਰ ਕੁੰਜੀ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ ਲਈ ਆਰ ਐਸ ਐਸ ਦੀ ਭਾਜਪਾ ਨੂੰ ਮਦਦ ਕੀਤੀ, ਜੋ ਕਿ ਪੜਾਅਵਾਰ ਢੰਗ ਨਾਲ Duba Kor ਇਮਪਲਾਈਜ਼ ਨੂੰ ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ਲਈ. ਸਾਰੇ Duba Kor ਇਮਪਲਾਈਜ਼ ਤੱਕ
ਮੂਰਖ ਸਬੂਤ ਵੋਟਿੰਗ ਸਿਸਟਮ ਨਾਲ ਤਬਦੀਲ ਕੀਤਾ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ ਕਿ ਮੌਜੂਦਾ ਚੀਫ ਮੌਜੂਦ ਲੋਕ ਸਭਾ ‘ਖਤਮ ਕਰਨ ਦੀ ਇਹ ਹੁਕਮ ਦੇ. & ਚੁੱਕਣਾ ਦੀ ਇੱਕ collegium ਸਿਸਟਮ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ

ਵਿੱਚ ਰਖਿਆ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਇੱਕ ਮੂਰਖ ਸਬੂਤ ਵੋਟਿੰਗ ਸਿਸਟਮ ਨੂੰ ਹੋਣ ਲਈ ਐਸ.ਸੀ. / ST / ਓ.ਬੀ.ਸੀ / ਘੱਟ ਗਿਣਤੀ ਤੱਕ ਜੱਜ Liberty, ਭਰੱਪਣ ਹੈ ਅਤੇ ਬਰਾਬਰੀ ਦੀ ਰਾਖੀ ਕਰਨ ਲਈ
ਸੰਵਿਧਾਨ ਨੂੰ. ਅਤੇ ਇਹ ਵੀ ਇੱਕ ਮੂਰਖ ਸਬੂਤ ਵੋਟਿੰਗ ਹੋਣ ਦੇ ਲਈ ਅਨੁਸੂਚਿਤ / ST / ਓ.ਬੀ.ਸੀ / ਘੱਟ ਗਿਣਤੀ ਰੱਖਦਾ ਮੁੱਖ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦੇ ਇਕ collegium ਸਿਸਟਮ ਨੂੰ

Duba Kor ਇਮਪਲਾਈਜ਼ ਬਾਅਦ ਲੋਕਤੰਤਰ ਦੇ ਕਤਲ ਨੂੰ ਰੋਕਣ ਲਈ d ਨੂੰ ਸੰਵਿਧਾਨ .. ਵਿੱਚ ਰਖਿਆ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਸਿਸਟਮ ਨੂੰ Liberty, ਭਰੱਪਣ ਹੈ ਅਤੇ ਬਰਾਬਰੀ ਦੀ ਰਾਖੀ ਕਰਨ ਲਈ
ਮੂਰਖ ਸਬੂਤ ਵੋਟਿੰਗ ਸਿਸਟਮ ਨੂੰ ਲੋਕ ਸਭਾ ਦੀ ਚੋਣ ਨਾਲ ਤਬਦੀਲ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ ਕੀਤੀ ਜਾਣੀ ਚਾਹੀਦੀ ਹੈ. Chitpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਹੈ, ਕਿਉਕਿ ਦੀ ਪੂਰੀ sidelined ਕਰਨ ਦੀ ਹੈ, ਜੇਕਰ ਉਹ ਆਪਣੇ

ਸਾਰੇ ਗੈਰ Ariyo ਬਾਹਮਣ ਵੱਲ ਨਫ਼ਰਤ ਦੀ ਰਾਜਨੀਤੀ, ਸਾਰੇ ਗੈਰ ariyo ਬ੍ਰਾਹਮਣ, ਭਾਵ Sarvajan Hitay, Sarvajan Sukhay ਲਈ ਬਸਪਾ ਦੇ ਤਹਿਤ ਜੋੜਨ ਲਈ ਹੈ
ਦੇਸ਼ ਦੇ ਦੌਲਤ ਦਾ ਪ੍ਰਚਾਰ ਕਰ ਕੇ, ਐਸ.ਸੀ. / STS, ਓ.ਬੀ.ਸੀ., ਘੱਟ ਗਿਣਤੀ ਅਤੇ ਗਰੀਬ ਵੱਡੇ ਜਾਤੀ, ਸਮੇਤ ਸਭ ਨੂੰ ਸਮਾਜ ਦੀ ਭਲਾਈ ਅਤੇ ਖ਼ੁਸ਼ੀ ਦੇ ਲਈ

ਵੀ ਬਰਾਬਰ ਦੇ ਸੰਵਿਧਾਨ ਵਿੱਚ ਰਖਿਆ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਸਮਾਜ ਦੇ ਹਰ ਵਰਗ ਦਾ ਆਪਸ ਵਿੱਚ. Upstart chitpvans ਕੇ ਹੰਕਾਰੀ ਵਤੀਰੇ ਨੂੰ ਨਾਲ ਅਪਵਾਦ ਕਾਰਨ
ਐਮ.ਕੇ. ਦੀ ਹੱਤਿਆ ਦੇ ਬਾਅਦ ਵਿਰੋਧੀ Brahminism ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਦੇਰ 1948 ਵਿੱਚ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨੂੰ ਪ੍ਰਗਟ, ਜੋ ਕਿ ਹੋਰ ਸਮਾਜ ਕੇ ਰਾਹੁਲ

ਨੱਥੂ ਗੋਡਸੇ, ਇੱਕ chitpavan. ਬਾਲ ਗੰਗਾਧਰ ਤਿਲਕ 1818 ਵਿਚ ਮਰਾਠਾ ਸਾਮਰਾਜ ਦੇ ਪਤਨ ਦੇ ਬਾਅਦ, chitpavans ਆਪਣੇ ਸਿਆਸੀ ਦਬਦਬਾ ਖਤਮ ਹੋ
British.The ਬ੍ਰਿਟਿਸ਼ ਕਰਨ ਲਈ ਆਪਣੇ ਜਾਤੀ-ਸਾਥੀ, Peshwas ਅਤੀਤ ਵਿਚ ਕੀਤਾ ਸੀ, ਜੋ ਕਿ ਇੱਕੋ ਹੀ ਪੈਮਾਨੇ ‘ਤੇ chitpavans ਨੂੰ ਸਬਸਿਡੀ ਨਾ ਹੋਵੇਗੀ. ਭੁਗਤਾਨ ਕਰੋ

ਅਤੇ ਸ਼ਕਤੀ ਨੂੰ ਹੁਣ ਕਾਫ਼ੀ ਘੱਟ ਗਈ ਸੀ. ਗ਼ਰੀਬ chitpavan ਵਿਦਿਆਰਥੀ ਮੁਤਾਬਿਕ ਹੈ ਅਤੇ ਕਿਉਕਿ ਵਿੱਚ ਬਿਹਤਰ ਮੌਕੇ ਦੇ ਅੰਗਰੇਜ਼ੀ ਸਿੱਖਣੀ ਸ਼ੁਰੂ
ਬ੍ਰਿਟਿਸ਼ ਪ੍ਰਸ਼ਾਸਨ. ਮਜ਼ਬੂਤ ​​ਵਿਰੋਧ ਦੇ ਕੁਝ ਵੀ ਬਦਲ ਬਹੁਤ ਹੀ ਇੱਕੋ ਹੀ ਭਾਈਚਾਰੇ ਆਏ ਨੂੰ. ਉਮੀਦ ਹੈ ਉਹ ਆਪਣੇ ਪਹਿਰੇਦਾਰੀ

ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਕਾਠ, chitpavans ਆਪਸ ਵਿੱਚ ਕੱਟੜ ਸ਼ਾਸਤਰ ਚੁਣੌਤੀ ਨੂੰ ਦੇਖਣ ਲਈ ਉਤਾਵਲੇ ਨਾ ਸਨ, ਨਾ ਹੀ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਦਾ ਚਾਲ ਬਣਨ
sudras ਦੀ ਹੈ ਕਿ ਅਭੇਦ. Vanguard ਅਤੇ ਪੁਰਾਣੇ ਗਾਰਡ ਨੂੰ ਕਈ ਵਾਰ ਭਿੜ ਗਏ. Chitpavan ਭਾਈਚਾਰੇ ਮੁੱਖ ਨੂੰ ਦੋ ਵੀ ਸ਼ਾਮਲ ਹੈ

Gandhian ਪਰੰਪਰਾ ਵਿਚ ਸਿਆਸਤਦਾਨ: ਉਸ ਦੀ ਬਹੁਤ ਹੀ ਵਧੀਆ ਦਾ ਉਸ ਨੇ ਇੱਕ preceptor ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਸਵੀਕਾਰ ਕੀਤਾ ਜਿਸ ਨੂੰ ਗੋਪਾਲ ਕ੍ਰਿਸ਼ਨ ਗੋਖਲੇ, ਅਤੇ ਵਿਨੋਬਾ ਭਾਵੇ, ਇੱਕ
ਚੇਲੇ. ਰਾਹੁਲ ਨੇ ਆਪਣੇ ਚੇਲੇ ਦੀ Jewel ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਭਾਵੇ ਬਾਰੇ ਦੱਸਦਾ ਹੈ, ਅਤੇ ਉਸ ਦੀ ਸਿਆਸੀ guru.However, ਰਾਹੁਲ ਨੂੰ ਮਜ਼ਬੂਤ ​​ਵਿਰੋਧੀ ਧਿਰ ਦੇ ਰੂਪ ਗੋਖਲੇ ਤੇ ਮਾਨਤਾ

ਨੂੰ ਵੀ chitpavan community.VD ਸਾਵਰਕਰ ਦੇ ਅੰਦਰ ਆਏ, ਹਿੰਦੂ ਰਾਸ਼ਟਰਵਾਦੀ ਸਿਆਸੀ ਵਿਚਾਰਧਾਰਾ ਹਿੰਦੂਤਵ ਦੇ ਸੰਸਥਾਪਕ castiest ਹੈ ਅਤੇ
ਦੀ ਲੋੜ ਪਾਗਲਪਨ ਹੈ ਕਿ ਜੋ ਗੁੱਸਾ ਗੈਰ-chitpavan brahimins ਨਫ਼ਰਤ ਦੀ ਸ਼ਕਤੀ ਦੇ ਫਿਰਕੂ duba kor ਅੱਤਵਾਦੀ ਬਣਾਉਦੀ ਹੈ ਸਿਆਸੀ ਮਤ ਲਾਲਚ

ਮਾਨਸਿਕ asylums ਵਿੱਚ ਇਲਾਜ ਦੀ, ਇੱਕ chitpavan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਗਿਆ ਸੀ. Chitpavan ਭਾਈਚਾਰੇ ਦੇ ਕਈ ਮਬਰ ਵਿਚਕਾਰ d ਹਿੰਦੂਤਵ ਨੂੰ ਅਪਨਾਉਣ ਲਈ ਪਹਿਲੇ ਸਨ,
ਉਹ ਨੇ ਸੋਚਿਆ, ਜਿਸ ਵਿਚਾਰਧਾਰਾ, Peshwas ਹੈ ਅਤੇ ਜਾਤੀ-ਸਾਥੀ ਤਿਲਕ ਦੀ ਵਿਰਾਸਤ ਦਾ ਇੱਕ ਲਾਜ਼ੀਕਲ ਇਕਸਟੈਨਸ਼ਨ ਦੇ ਗਿਆ ਸੀ. ਇਹ chitpavans ਦੇ ਨਾਲ ਜਗ੍ਹਾ ਦੇ ਬਾਹਰ ਮਹਿਸੂਸ ਕੀਤਾ

Mahatama ਫੁਲੇ ਦੇ Jambudvipan ਸਮਾਜਿਕ ਸੁਧਾਰ ਲਹਿਰ ਹੈ ਅਤੇ Mr.MK ਦੇ ਪੁੰਜ ਦੀ ਰਾਜਨੀਤੀ ਰਾਹੁਲ. ਭਾਈਚਾਰੇ ਦੇ ਵੱਡੇ ਨੰਬਰ ਨੂੰ ਵੇਖਿਆ
ਸਾਵਰਕਰ, ਹਿੰਦੂ ਮਹਾਸਭਾ ਅਤੇ ਅੰਤ ਵਿੱਚ ਮਈ. ਰਾਹੁਲ ਦੇ ਕਤਲ ਨਾਰਾਇਣ Apte ਹੈ ਅਤੇ ਨੱਥੂ ਗੋਡਸੇ, ਪੱਲਾ ਤੱਕ ਆਪਣੇ ਪ੍ਰੇਰਨਾ ਕੱਢੀ

ਨੂੰ ਇਸ ਪ੍ਰਤੀਕ੍ਰਿਆਵਾਦੀ ਰੁਝਾਨ ਵਿਚ ਗਰੁੱਪ ਦੀ.

ਇਸ ਲਈ, ਸੰਘ ਦੇ ਮੁਖੀ ਮੋਹਨ ਭਾਗਵਤ ਉਪਰੋਕਤ ਤੱਥ ਨੂੰ ਢਕਣ ਲਈ ਸਾਰੇ ਭਾਰਤੀ ਦੇ ਸੱਭਿਆਚਾਰਕ ਪਛਾਣ ਦੀ ਹਿੰਦੂਤਵ ਹੈ,’ ਕਹਿ ਰਿਹਾ ਹੈ.

ਦੇਸ਼ ਦੇ ਪੱਛਮੀ ਦੇ kobras (konkanastha chitpavan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਕਮਿਊਨਿਟੀ) ‘ਤੇ.

Chitpavan chitpawan, ਗੁਜ਼ਰ ਮਸੀਹੀ ਪ੍ਰੋਟੈਸਟਨ ਨਾਲ ਮੰਗਲੌਰ ਕਰਨ ਦੀ ਜੱਦੀ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਹਨ.

18 ਸਦੀ ਤਕ, chitpavans ਸਮਾਜਿਕ ਦਰਜਾ ਵਿੱਚ ਸਮਝਿਆ ਨਾ ਗਿਆ ਸੀ, ਅਤੇ ਸੱਚਮੁੱਚ ਹੀ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਦਾ ਇੱਕ ਘਟੀਆ ਜਾਤੀ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਹੋਰ ਵੀ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਗੋਤ ਦੇ ਕੇ ਮੰਨਿਆ ਗਿਆ ਸੀ.

ਇਸ ਨੂੰ ਮਹਾਰਾਸ਼ਟਰ ਵਿਚ ਵੱਡਾ ਰਹਿੰਦਾ ਹੈ, ਪਰ ਇਹ ਵੀ ਦੇਸ਼ ਉਪਰ ਦੀ ਆਬਾਦੀ ਸਾਰੇ ਅਤੇ ਸੰਸਾਰ ਦੇ ਬਾਕੀ ਹੈ, (ਅਮਰੀਕਾ ਅਤੇ ਯੂਕੇ.)

Bene ਇਸਰਾਈਲੀ ਕਥੇ ਦੇ ਅਨੁਸਾਰ, Chitpavan ਹੈ ਅਤੇ Bene ਇਸਰਾਏਲ ਦੇ ਮੰਗਲੌਰ ਦੀ ਤਟ ਤਬਾਹ 14 ਲੋਕ ਦੇ ਇੱਕ ਸਮੂਹ ਔਲਾਦ ਹਨ. ਪਾਰਸੀ, Bene Israelis, kudaldeshkar gaud ਬ੍ਰਾਹਮਣ, ਅਤੇ ਬ੍ਰਾਹਮਣ saraswat ਕੌਨਕਣੀ, ਅਤੇ chitpavan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਵੀ ਸ਼ਾਮਲ ਹਨ ਨੂੰ ਕਈ ਪਰਵਾਸੀ ਗਰੁੱਪ ਦੀ ਇਹ ਪਰਵਾਸੀ ਦੀ ਆਮਦ ਦੀ ਆਖਰੀ ਸਨ.

ਸਾਤਵਾਹਨ sanskritisers ਸਨ.

ਇਸ ਨੂੰ chitpavan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਦੇ ਨਵ ਗਰੁੱਪ ਨੂੰ ਗਠਨ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ, ਜੋ ਕਿ ਉਹ ਆਪਣੇ ‘ਤੇ ਸੰਭਵ ਤੌਰ ਹੁੰਦਾ ਹੈ.

ਇਸ ਦੇ ਨਾਲ, Prakrut ਮਰਾਠੀ ਵਿੱਚ ਲਿਖਿਆ chitpavan ਗੋਤ ghaisas ਕਰਨ ਲਈ ਇੱਕ ਹਵਾਲਾ ਰਾਜਾ ਨੂੰ ਸਾਲ 1060 ADbelonging ਦੀ ਇੱਕ tamra-ਪਤਿ (ਪਿੱਤਲ ਤਖ਼ਤੀ) ‘ਤੇ ਵੇਖਿਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ
Shilahara ਰਾਜ ਦੇ Mamruni, ਮੰਗਲੌਰ ਵਿੱਚ Diveagar ‘ਤੇ ਪਾਇਆ.

ਬਾਲਾਜੀ ਭੱਟ ਦੀ ਤਾਜਪੋਸ਼ੀ ਹੈ ਅਤੇ ਮਰਾਠਾ Confederacy ਦੇ ਪਰਮ ਅਧਿਕਾਰ ਨੂੰ ਕਰਨ ਲਈ ਉਸ ਦੇ ਪਰਿਵਾਰ ਨੂੰ ਨਾਲ, chitpavan ਪ੍ਰਵਾਸੀ ਪੇਸ਼ਵਾ ਦੇ ਸਾਰੇ ਮਹੱਤਵਪੂਰਨ ਦਫਤਰ ਦੀ ਪੇਸ਼ਕਸ਼ ਕੀਤੀ ਹੈ, ਜਿੱਥੇ ਪੁਣੇ ਤੱਕ ਮੰਗਲੌਰ ਤੱਕ ਮੈਸ en ਸ਼ੁਰੂ ਕਰ ਉਸ ਦੀ
ਸਾਥੀ-castemen.

Chitpavan ਰਿਸ਼ਤੇਦਾਰ ਦੀ ਟੈਕਸ ਰਾਹਤ ਅਤੇ ਜ਼ਮੀਨ ਦੇ ਅਨੁਦਾਨ ਨਾਲ ਇਨਾਮ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ ਸੀ.

ਇਤਿਹਾਸਕਾਰ 1818 ਵਿਚ ਮਰਾਠਾ ਸਾਮਰਾਜ ਦੇ ਪਤਨ ਦੇ ਕਾਰਨ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਭਤੀਜਾਵਾਦ ਅਤੇ ਭ੍ਰਿਸ਼ਟਾਚਾਰ ਨੂੰ ਦਿਓ.

ਰਿਚਰਡ ਮੈਕਸਵੈੱਲ Eaton chitpavans ਦੀ ਇਸ ਵਾਧਾ ਸਿਆਸੀ ਕਿਸਮਤ ਨਾਲ ਵਧ ਸਮਾਜਿਕ ਦਰਜੇ ਦੇ ਟਕਸਾਲੀ ਉਦਾਹਰਨ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਕਹਿੰਦਾ ਹੈ.

ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਤੌਰ ਤੇ, chitpavan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਨੂੰ ਹੋਰ ਭਾਈਚਾਰੇ ਨੂੰ ਧਾਰਮਿਕ ਸੇਵਾ ਪੇਸ਼ ਕਰਦੇ ਹਨ ਜੋ ਜੋਤਸ਼ੀ ਅਤੇ ਜਾਜਕ ਦੇ ਇੱਕ ਭਾਈਚਾਰੇ ਸਨ.

Chitpavans ਦੇ 20 ਸਦੀ ਵਰਣਨ ਬੇਹਿਸਾਬੀ frugality, ਬੇਇਤਬਾਰੀ, conspiratorialism, phlegmatism ਦੀ ਸੂਚੀ.

ਖੇਤੀਬਾੜੀ ਫਸਲੀ ਜ਼ਮੀਨ ਦੇ ਵਾਰਸ ਵਾਲੇ ਨੇ ਅਭਿਆਸ ਕੀਤਾ ਭਾਈਚਾਰੇ ਵਿੱਚ ਦੂਜਾ ਮੁੱਖ ਕਿੱਤੇ, ਗਿਆ ਸੀ.

ਬਾਅਦ ਵਿਚ, chitpavans ਵੱਖ ਚਿੱਟਾ, ਕਾਲਰ ਨੌਕਰੀ ਅਤੇ ਕਾਰੋਬਾਰ ਵਿੱਚ ਪ੍ਰਮੁੱਖ ਬਣ ਗਿਆ.

ਮਹਾਰਾਸ਼ਟਰ ਵਿਚ chitpavan ਬਾਹਮਣ ਦੇ ਬਹੁਤੇ ਆਪਣੀ ਭਾਸ਼ਾ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਮਰਾਠੀ ਨੂੰ ਅਪਣਾਇਆ ਹੈ.

1940 ਤੱਕ, ਮੰਗਲੌਰ ਵਿੱਚ chitpavans ਦੀ ਸਭ ਨੂੰ ਆਪਣੇ ਘਰ ਵਿੱਚ chitpavani ਕੌਨਕਣੀ ਕਹਿੰਦੇ ਹਨ, ਇੱਕ ਬੋਲੀ ਗੱਲ ਕੀਤੀ ਸੀ.

ਵੀ ਉਸ ਵੇਲੇ, ਰਿਪੋਰਟ ਇੱਕ ਤੇਜ਼ ਅਲੋਪ ਭਾਸ਼ਾ ਦੇ ਤੌਰ chitpavani ਦਰਜ ਕੀਤਾ.

ਪਰ Dakshina ਕੰਨੜ ਜ਼ਿਲ੍ਹਾ ਅਤੇ ਕਰਨਾਟਕ ਦੇ ਉਡੁਪੀ ਜਿਲ੍ਹੇ ਵਿੱਚ, ਇਸ ਭਾਸ਼ਾ ਨੂੰ ਦੁਰਗਾ, ਅਤੇ ਕਾੜਕਲਾ ਤਾਲੁਕ ਦੇ Maala ਵਰਗੇ ਹਨ ਅਤੇ ਇਹ ਵੀ Shishila ਹੈ ਅਤੇ Belthangady ਤਾਲੁਕ ਦੇ Mundaje ਵਰਗੇ ਸਥਾਨ ਵਿੱਚ ਸਥਾਨ ਵਿਚ ਬੋਲੀ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ.

ਮਰਾਠੀ ਦੇ chitpavani ਬੋਲੀ nasalized ਸ੍ਵਰ ਹੈ, ਜਦ ਕਿ ਮਿਆਰੀ ਮਰਾਠੀ ਵਿੱਚ ਕੋਈ ਮੁੱਢ nasalized ਸ੍ਵਰ ਹਨ.

ਇਸ deshastha ਬ੍ਰਾਹਮਣ dvijas ਦੇ ਉੱਤਮ ਕਰਨ ਲਈ ਸਿਰਫ ਬਰਾਬਰ (ਇੱਕ ਆਰਥਿਕ ਕਲਾਸ ਨੂੰ ਇਕ ਰਿਸ਼ਤੇਦਾਰ ਆਉਣ), ਉਹ ਸਾਰੇ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਦੀ ਸਭ ਸਨ, ਜੋ ਕਿ ਵਿਸ਼ਵਾਸ ਕੀਤਾ, ਅਤੇ parvenus ਦੇ ਤੌਰ chitpavans ਉੱਤੇ ਥੱਲੇ ਵੇਖਿਆ.

ਵੀ ਪੇਸ਼ਵਾ ਗੋਦਾਵਰੀ ‘ਤੇ ਨਾਸਿਕ @ Deshasth ਜਾਜਕ ਦੇ ਲਈ ਰਾਖਵ ਘਾਟ ਨੂੰ ਵਰਤਣ ਲਈ ਅਧਿਕਾਰ ਪਾਬੰਦੀ ਸੀ.

Deshastha ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਤੱਕ chitpavans ਕੇ ਬਿਜਲੀ ਦੀ ਇਹ ਸੈਕਰੇਟਰੀ ਨੂੰ ਦੇਰ Colonial ਬਰਤਾਨਵੀ ਭਾਰਤ ਦੇ ਜ਼ਮਾਨੇ ਵਿਚ ਜਾਰੀ ਰਿਹਾ, ਜਿਸ ਨੂੰ ਦੋ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਭਾਈਚਾਰੇ ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਖਹਿਬਾਜ਼ੀ ਦੇ ਨਤੀਜੇ.

19 ਸਦੀ ਦੇ ਰਿਕਾਰਡ ਨੂੰ ਵੀ Chitpavans, ਅਤੇ ਦੋ ਹੋਰ ਸਮਾਜ, ਯਾਨੀ Daivajnas, ਅਤੇ Chandraseniya Kayastha Prabhus ਵਿਚਕਾਰ Gramanyas ਦੇ ਪਿੰਡ-ਪੱਧਰ ਦੀ ਬਹਿਸ ਦਾ ਜ਼ਿਕਰ.

ਇਹ ਇਕ ਸਦੀ ਬਾਰੇ ਦਸ years.Half ਲਈ ਚੱਲੀ, Dr.Ambedkar ਨੇ ਆਪਣੀ ਕਿਤਾਬ ‘ਏਸੇ ਵਿਚ ਵੱਖ ਵੱਖ ਜਾਤੀ ਦੇ ਭੌਤਿਕ ਮਾਨਵ‘ ਤੇ ਮੌਜੂਦ ਡਾਟਾ ਸਰਵੇ.

ਉਸ ਨੇ ਜਾਤ ਦੇ ਇੱਕ ਨਸਲੀ ਆਧਾਰ ‘ਦੀ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕੀਤੀ ਬੁੱਧ ਨੂੰ ਡਾਟੇ ਨੂੰ ਦੁਆਰਾ ਸਹਿਯੋਗੀ ਨਾ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ, ਜੋ ਕਿ ਪਾਇਆ ਹੈ, ਉਦਾਹਰਨ: ਬੰਗਾਲ ਦੇ ਲਈ ਮੇਜ਼ ਨੂੰ ਵੇਖਾਉਦਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਵਿੱਚ ਛੇਵੇ ਖੜ੍ਹਾ ਹੈ ਜੋ chandal
ਜਿਸ ਦੇ ਸੰਪਰਕ ‘ਪ੍ਰਦੂਸ਼ਿਤ ਹੋ, ਬਹੁਤ ਕੁਝ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਤੱਕ ਵਖ ਨਹੀ ਹੈ, ਸਮਾਜਿਕ ਪਹਿਲ ਦੀ ਯੋਜਨਾ ਦੇ ਹੋ ਅਤੇ.

ਬੰਬਈ ਵਿਚ deshastha ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਪੁੱਤਰ ਨੂੰ-ਕੋਲੀ, ਉਸ ਦੇ ਆਪਣੇ compeer, chitpavan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਨੂੰ ਵੱਧ, ਇੱਕ ਮਛੇਰੇ ਦੀ ਜਾਤ, ਕਰਨ ਲਈ ਇੱਕ ਦੇ ਨੇੜੇ ਅਫਿਨਟੀ ਦਿੰਦਾ ਹੈ.

ਮਹਾਰ, ਮਰਾਠਾ ਖੇਤਰ ਦੇ ਅਛੂਤ, Kunbi, ਕਿਸਾਨ ਦੇ ਨਾਲ ਮਿਲ ਕੇ ਅਗਲੇ ਹੀ ਹੁੰਦਾ ਹੈ.

ਉਹ ਕ੍ਰਮ ਵਿੱਚ shenvi ਬ੍ਰਾਹਮਣ, ਨਗਰ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਅਤੇ ਹਾਈ-ਜਾਤੀ ਮਰਾਠਾ ਦੀ ਪਾਲਣਾ ਕਰੋ.

ਇਹ ਨਤੀਜੇ ਸਮਾਜਿਕ ਉਚਾ ਅਤੇ ਮੁੰਬਈ ‘ਚ ਸਰੀਰਕ, ਫਰਕ ਵਿਚਕਾਰ ਕੋਈ ਪੱਤਰ ਵਿਹਾਰ ਹੁੰਦਾ ਹੈ, ਦਾ ਮਤਲਬ ਹੈ ਕਿ.

ਡਾ ਅੰਬੇਦਕਰ ਦੇ ਕੇ ਦੇਖਿਆ ਸੀ ਖੋਪੜੀ ਅਤੇ ਨੱਕ ਖੋਜਦਾ, ਵਿੱਚ ਫਰਕ ਦੀ ਇੱਕ ਅਨੋਖੀ ਕੇਸ ਦੀ, ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਅਤੇ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ (ਅਛੂਤ) Chamar ਵਿਚਕਾਰ ਮੌਜੂਦ ਹਨ ਨੂੰ ਦਰਜ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ.

ਪਰ ਇਸ ਨੂੰ, ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਵਿਦੇਸ਼ੀ ਹਨ, ਜੋ ਕਿ ਸਾਬਤ ਕਰਦਾ ਹੈ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਲਈ ਡਾਟਾ, ਕਿਉਕਿ ਬ੍ਰਾਹਮਣ Khattri ਅਤੇ ਪੰਜਾਬ ਦੇ ਅਛੂਤ Chuhra ਲਈ ਜਿਹੜੇ ਕਰਨ ਲਈ ਬਹੁਤ ਹੀ ਨੇੜੇ ਹੋ ਪਾਏ ਗਏ ਸਨ.

U.P. ਜੇ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਨੂੰ ਕੋਈ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਨੂੰ ਵਿਦੇਸ਼ੀ ਦਾ ਮਤਲਬ ਹੈ ਕੇ ਉਸ ਨੇ ਪੰਜਾਬ ਦੇ ਅਛੂਤ ਵੱਧ ‘ਤੇ ਘੱਟੋ ਘੱਟ ਨਾ ਹੋਰ, ਹੈ, ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਨੂੰ ਸੱਚਮੁੱਚ ਵਿਦੇਸ਼ੀ ਹੈ.

ਇਸ ਦਾ ਸਾਨੂੰ ਵੈਦਿਕ ਹੈ ਅਤੇ ItihAsa-ਪੁਰਾਣ ਸਾਹਿਤ ਤੱਕ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹੋ, ਜੋ ਕਿ ਦ੍ਰਿਸ਼ ਦੀ ਪੁਸ਼ਟੀ: ਵੈਦਿਕ ਪਰੰਪਰਾ ਇਸ ਦੇ apogee ‘ਤੇ ਪੰਜਾਬ ਦੇ ਹਰਿਆਣਾ‘ ਚ ਧਰਤੀ ਨਿਰਯਾਤ ਜਦ ਉਥੇ ਘੱਟ ਜਾਤੀ ਤੱਕ ਸਰੀਰਕ ਤੌਰ ਅਭੇਦ ਸਨ, ਜੋ ਬ੍ਰਾਹਮਣ, ਕੇ d ਵੈਦਿਕ ਵਦਿ ਤੱਕ ਪੂਰਬੀ ਲਿਆਇਆ ਗਿਆ ਸੀ (ਬੰਗਾਲ ਅਤੇ ਮਸੀਹੀ ਯੁੱਗ ਦੀ ਵਾਰੀ ਦੇ ਦੁਆਲੇ ਦੱਖਣੀ ਵਿੱਚ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਦੀ ਯੋਜਨਾ ਬਣਾਈ ਆਯਾਤ ਕਰਨ ਲਈ ਤੁਲਨਾਯੋਗ) ਸਾਰੀ Aryavarta ਕਰਨ ਲਈ ਇਸ ਦੇ ਸਭਿਆਚਾਰ.

ਇਹ ਸਿਰਫ ਦੋ ਜਾਤੀ ਗਰੁੱਪ ਦੇ ਕਈ ਇੰਟਰਾ-ਭਾਰਤੀ ਮਾਈਗਰੇਸ਼ਨ ਦੇ ਸਨ.

ਹਾਲ ਵਿਚ ਕੀਤੀ ਖੋਜ ਅੰਬੇਦਕਰ, ਦੀ ਵਿਚਾਰ ਦਾ ਖੰਡਨ ਨਾ ਕੀਤਾ ਹੈ.

ਕੁਮਾਰ ਸੁਰੇਸ਼ ਸਿੰਘ ਦੀ ਅਗਵਾਈ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਹਾਲ ਹੀ ਮਾਨਵ ਸਰਵੇਖਣ ‘ਤੇ ਇਕ ਪ੍ਰੈੱਸ ਦੀ ਰਿਪੋਰਟ ਦੱਸਦੀ ਹੈ: ਅੰਗਰੇਜ਼ੀ ਮਾਨਿ ਭਾਰਤ ਦੇ ਵੱਡੇ ਜਾਤੀ ਗੋਰੀ ਦੀ ਦੌੜ ਨਾਲ ਸਬੰਧਤ ਹੈ ਅਤੇ ਬਾਕੀ ਦੇ Australoid ਕਿਸਮ ਤੱਕ ਆਪਣੇ ਮੂਲ ਆਇਆ ਹੈ ਕਿ ਦਲੀਲ.

ਸਰਵੇਖਣ ਨੂੰ ਇੱਕ ਮਿੱਥ ਹੋਣ ਲਈ ਇਸ ਨੂੰ ਪ੍ਰਗਟ ਕੀਤਾ ਹੈ.

ਜੀਵਵਿਗਿਆਨ & linguistically, ਸਾਨੂੰ ਬਹੁਤ ਹੀ ਮਿਸ਼ਰਤ ਹਨ, ਸੁਰੇਸ਼ ਸਿੰਘ ਨੂੰ ਕਹਿੰਦਾ ਹੈ.

ਰਿਪੋਰਟ ‘ਨੂੰ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਲੋਕ ਆਮ ਵਿੱਚ ਹੋਰ ਜੀਨ ਹੈ, ਅਤੇ ਇਹ ਵੀ ਮਾਰਫੋਲੋਜੀਕਲ ਗੁਣ ਦੀ ਇੱਕ ਵੱਡੀ ਗਿਣਤੀ ਸ਼ੇਅਰ ਕਹਿੰਦਾ ਹੈ ਕਿ.

ਖੇਤਰੀ ਪੱਧਰ ‘ਤੇ ਮਾਰਫੋਲੋਜੀਕਲ ਹੈ ਅਤੇ ਜੈਨੇਟਿਕ ਔਗੁਣ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਬਹੁਤ ਕੁਝ ਵੱਡਾ homogenization ਹੁੰਦਾ ਹੈ, ਦੀ ਰਿਪੋਰਟ ਕਹਿੰਦੀ ਹੈ.

ਉਦਾਹਰਨ ਲਈ, ਤਾਮਿਲ ਨਾਡੂ (esp.Iyengars) ਦੇ ਬਾਹਮਣ ਨੇ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਪੱਛਮੀ ਉੱਤਰੀ ਹਿੱਸੇ ਵਿਚ ਸਾਥੀ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਦੇ ਨਾਲ ਵੱਧ ਸੂਬੇ ਵਿੱਚ ਗੈਰ-ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਦੇ ਨਾਲ ਹੋਰ ਵੀ ਗੁਣ ਹਨ.

ਮੁੰਡੇ-of--ਮਿੱਟੀ ਦੀ ਥਿਊਰੀ ਨੂੰ ਵੀ ਢਾਹ ਖੜ੍ਹਾ ਹੈ.

ਭਾਰਤ ਦੇ ਥਰੋਪੋਲੋਜੀਕਲ ਸਰਵੇ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਕੁਝ ਹੋਰ ਹਿੱਸੇ ਵਿੱਚ ਮਾਈਗਰੇਟ ਸੀ ਯਾਦ ਨਹੀ ਹੈ ਕਿ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਵਿਚ ਕੋਈ ਵੀ ਕਮਿਊਨਿਟੀ ਪਾਇਆ ਗਿਆ ਹੈ.

ਵੱਡੇ ਜਾਤੀ ਲਈ ਇੱਕ ਵੱਖਰਾ ਵਿਦੇਸ਼ੀ ਮੂਲ ਦਾ ਕੋਈ ਸਬੂਤ ਹੈ, ਜਦਕਿ ਅੰਦਰੂਨੀ ਮਾਈਗਰੇਸ਼ਨ, ਦੇਸ਼ ਦੀ ਗੁੰਝਲਦਾਰ ਨਸਲੀ ਵਿੱਚ ਦੇਖਿਆ ਦੇ ਬਹੁਤ ਕੁਝ ਕਰਨ ਲਈ ਹੈ.

ਨੂੰ ਸਰੀਰਕ-ਮਾਨਵ ਦੇ ਆਧਾਰ ‘ਤੇ ਦੀ ਦੌੜ ਦੇ ਨਾਲ ਜਾਤੀ (ਵਰਨਾ) ਦੀ ਪਛਾਣ ਕਰਨ ਨੂੰ ਰੱਦ ਕਰਦੇ ਹਨ ਕਿ ਹੋਰ ਵਿਗਿਆਨੀ ਵਿਚ, ਸਾਨੂੰ ਕੈਲਾਸ਼ ਸੈਲਸੀਅਸ ਮਲਹੋਤਰਾ ਦਿਓ ਸਕਦਾ ਹੈ: ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼, ਗੁਜਰਾਤ, ਮਹਾਰਾਸ਼ਟਰ, ਬੰਗਾਲ ਅਤੇ ਤਾਮਿਲਨਾਡੂ ਦੇ ਲੋਕ ਆਪਸ ਵਿੱਚ ਬਾਹਰ ਹੀ ਵੇਰਵਾ anthropometric ਸਰਵੇਖਣ ਮਹੱਤਵਪੂਰਨ ਪ੍ਰਗਟ ਨੂੰ ਇੱਕ ਜਾਤ ਅਤੇ ਵੱਖ ਵੱਖ ਖੇਤਰ ਤੱਕ ਜਾਤੀ ਦਾ ਸਬ-ਆਬਾਦੀ ਵਿਚਕਾਰ ਵੱਧ ਇੱਕ ਖੇਤਰ ਵਿੱਚ ਵੱਖ ਵੱਖ varnas ਦੀ ਜਾਤੀ ਵਿਚਕਾਰ ਇੱਕ ਦੇ ਨੇੜੇ ਸਰੂਪ ਦੇ ਅੰਦਰ ਖੇਤਰੀ ਅੰਤਰ.

ਸ਼ਰੀਰਕ, cephalic ਹੈ ਅਤੇ ਕਠਨਾਈ ਦਾ ਸੂਚਕ, HK ਦੇ ਵਿਸ਼ਲੇਸ਼ਣ ਦੇ ਆਧਾਰ ‘ਤੇ Rakshit (1966) ਨੂੰ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਵਿਖਮ ਹਨ ਅਤੇ ਲੋਕ ਵੱਧ ਇੱਕ ਮਾਈਗਰੇਸ਼ਨ ਨੂੰ ਸ਼ਾਮਲ ਵੱਧ ਇੱਕ ਭੌਤਿਕ ਦੀ ਕਿਸਮ ਦੇ ਇਨਕਾਰਪੋਰੇਸ਼ਨ ਦਾ ਸੁਝਾਅ ਹੈ ਕਿ ਅਖ਼ੀਰ ਵਿਚ.

ਨੂੰ 18 ਮੀਟ੍ਰਿਕ, 16 scopic ਅਤੇ 8 ਜੈਨੇਟਿਕ ਨਿਸ਼ਾਨ ਦਾ ਅਧਿਐਨ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ, ਜਿਸ ਨੂੰ ‘ਤੇ ਮਹਾਰਾਸ਼ਟਰ‘ ਚ 8 ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਜਾਤੀ ਦਾ ਆਪਸ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਹੋਰ ਵੇਰਵੇ ਦਾ ਅਧਿਐਨ ਕਰਨ, ਦੋਨੋ ਮਾਰਫੋਲੋਜੀਕਲ ਹੈ ਅਤੇ ਜੈਨੇਟਿਕ ਗੁਣ ਵਿੱਚ ਨਾ ਸਿਰਫ ਇੱਕ ਮਹਾਨ heterogeneity ਪ੍ਰਗਟ ਹੈ, ਪਰ ਇਹ ਵੀ 3 ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਜਾਤੀ ਗੈਰ-ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਜਾਤੀ ਦੇ ਨੇੜੇ ਸਨ, ਨੇ ਦਿਖਾਇਆ ਸੀ ਕਿ ਦੇ ਇਲਾਵਾ ਹੋਰ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਜਾਤੀ [ਕਰਨ ਲਈ].

P.P. ਮਜੂਮਦਾਰ ਹੈ ਅਤੇ K.C. (1974) ਮਲਹੋਤਰਾ 11 ਦੇਸ਼ ‘ਵਿਚ ਲਿਖਿਆ ਹੈ‘ ਤੇ ਫੈਲ ਦੇ 50 ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਦੇ ਨਮੂਨੇ ਦਾ ਆਪਸ ਵਿੱਚ OAB ਬਲੱਡ ਗਰੁੱਪ ਸਿਸਟਮ ਲਈ ਆਦਰ ਨਾਲ heterogeneity ਦਾ ਇੱਕ ਬਹੁਤ ਵੱਡਾ ਸੌਦਾ ਦੇਖਿਆ. ਸਬੂਤ ਇਸ ਵਰਨਾ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਇਕੋ ਜੀਵ ਹਸਤੀ ਨੂੰ ਇੱਕ ਸਬੰਿੀ ਹੈ ਅਤੇ ਨਾ ਸੁਝਾਅ ਦਿੰਦਾ ਹੈ ਕਿ.

78)  Classical Urdu

78) کلاسیکی اردو

  مفت آن لائن ای نالندا تحقیق اور پریکٹس یونیورسٹی

آپ کی اپنی مادری زبان میں درست ترجمہ فراہم کریں

آر ایس ایس کے سربراہ موہن بھاگوت spiritualism.It ساتھ کوئی تعلق نہیں ہے جس میں تمام بھارت کے ثقافتی تشخص ہندوتوا ہے صرف ایک سیاسی فرقے ہے کہہ رہا ہے
یہ 1٪ آر ایس ایس chitpavans فہرست معمولی frugality کی 20th صدی کی وضاحت، untrustworthiness (Duba Kors کی)، conspiratorialism،

phlegmatism قتل جمہوریت بلکہ اس قوم کے حقیقی روحانیت نہ صرف. اس ملک کے حقیقی ثقافتی شناخت ہے
سب سے Prabuddha بھرت ہے Jambudvipan مساوات، بھائی چارے اور آزادی کی مشق بدھ فطرت کے ساتھ ایک ہی نسل سے تعلق رکھتے ہیں
 
آئین کے مطابق Dhamma کی بنیاد پر. اب یہ Duba کور EVM کیونکہ بے نقاب کیا ہے کہ فراڈ Duba کور EVMs ہے
چیف جسٹس Sadhasivam، ایک برہمن Duba کور EVM CEC سمپت کی therequest میں اکثریت فراڈ tamperable Duba کور EVMs کے ساتھ لوک سبھا کی اجازت

ایک اور برہمن ماسٹر کی کلید حاصل کرنے کے لئے آر ایس ایس بی جے پی کی مدد کی ہے کہ مرحلہ وار انداز میں Duba کور EVMs تبدیل کرنے کے لئے. تمام Duba کور EVMs تک
بیوکوف ثبوت ووٹنگ کے نظام کے ساتھ تبدیل کر رہے ہیں موجودہ چیف جسٹس موجودہ لوک سبھا کو ختم کرنے کا حکم. اور اٹھا کے ایک کالج نظام ہونا ضروری ہے

میں شامل کے طور پر ایک بیوکوف ثبوت ووٹنگ کے نظام کے لئے تخسوچت ذات / جنجاتی / پچھڑے / اقلیتوں سے ججوں لبرٹی، بھائی چارے اور مساوات کی حفاظت کے لئے
آئین. اور یہ بھی ایک بیوکوف ثبوت ووٹنگ کے لئے تخسوچت ذات / جنجاتی / پچھڑے / اقلیتوں پر مشتمل چیف الیکشن کمیشن میں ایک کالج کے نظام

Duba کور EVMs کے بعد جمہوریت کا قتل روکنے کے لئے D آئین .. میں شامل کے طور پر نظام لبرٹی، بھائی چارے اور مساوات کی حفاظت کے لئے
بیوکوف ثبوت ووٹنگ کے نظام لوک سبھا انتخابات کے ساتھ تبدیل کر رہے ہیں منعقد کی جائے ضروری ہے. chitpawan برہمن کی وجہ سے مکمل طور پر کونے میں جا کرنے کے لئے ہے، تو ان کے

تمام غیر Ariyo برہمن کی طرف نفرت کی سیاست، تمام غیر ariyo برہمن، یعنی Sarvajan Hitay، Sarvajan Sukhay کے لئے بی ایس پی کے تحت متحد کرنے کے لئے ہے
ملک کی دولت کا اشتراک کرنے کے کی طرف سے، تخسوچت ذات / جنجاتی، پچھڑے، اقلیتوں اور غریب اوپری ذاتوں سمیت تمام معاشروں کی فلاح و بہبود اور خوشی کے لئے

یکساں طور پر آئین میں شامل کے طور پر معاشرے کے تمام طبقوں کے درمیان. کل کا نواب chitpvans کی طرف سے گھمنڈی رویے کے ساتھ تنازعات کی وجہ سے
MK کے قتل کے بعد مخالف Brahminism کی شکل میں کے طور پر دیر کے طور پر 1948 ء میں خود ظاہر ہے جس میں دیگر کمیونٹیز کی طرف سے گاندھی

ناتھورام گوڈسے، ایک chitpavan. بال گنگا دھر تلک 1818 میں مراٹھا سلطنت کے زوال کے بعد، chitpavans ان کے سیاسی غلبے کھو
British.The برطانوی لئے ان کی ذات کے ساتھی، Peshwas ماضی میں کیا تھا کہ ایک ہی پیمانے پر chitpavans سبسڈی نہیں کرے گا. ادائیگی

اور طاقت اب نمایاں طور پر کم کیا گیا تھا. غریب chitpavan طلباء مرضی کے مطابق اور اس کی وجہ میں بہتر مواقع کی انگریزی سیکھنے شروع کر دیا
برطانوی انتظامیہ. مضبوط مزاحمت کی کچھ بھی تبدیل اسی برادری کی طرف سے آیا. چوکسی ان کی حفاظت

برہمن قد، chitpavans میں قدامت پسند shastras چیلنج کو دیکھنے کے لئے کے شوقین نہیں تھے، اور نہ ہی برہمن کے انعقاد بننے
sudras کے اس سے indistinguishable. موہرا اور پرانے گارڈ کئی بار جھڑپ. chitpavan کمیونٹی اہم دو بھی شامل ہے

گاندھی روایت میں سیاستدان: بقایا کے وہ ایک استاد کے طور پر تسلیم کیا جن گوپال کرشن گوکھلے، اور ونوبا باوی، ایک
شاگرد. گاندھی نے اپنے شاگردوں کے زیور کے طور پر باوی کی وضاحت، اور ان کے سیاسی guru.However، گاندھی کو مضبوط اپوزیشن کے طور پر گوکھلے تسلیم

بھی chitpavan community.VD ساورکر کے اندر سے آئے، ہندو قوم پرست سیاسی نظریہ ہندوتوا کے بانی castiest ہے اور
کی ضرورت ہوتی ہے جنون ہے جو غصے تمام غیر chitpavan brahimins نفرت کی طاقت کے فرقہ duba کور عسکریت پسند چھپ سیاسی فرقے کے لالچ

ذہنی asylums میں علاج، ایک chitpavan برہمن تھا. chitpavan برادری کے کئی ارکان کے درمیان ڈی ہندوتوا گلے لگانے کے لئے سب سے پہلے تھے
انہوں نے سوچا کہ جس نظریے، Peshwas اور ذات ساتھی تلک کی وراثت کا ایک منطقی توسیع. یہ chitpavans کے ساتھ جگہ سے باہر محسوس کیا

مہاتما Phule کی کے Jambudvipan سماجی اصلاحات کی تحریک اور Mr.MK کی بڑے پیمانے پر سیاست گاندھی. کمیونٹی کی بڑی تعداد کو دیکھا
ساورکر، ہندو مہا سبھا اور آخر آر ایس ایس. گاندھی کے قاتلوں نارائن آپٹی اور ناتھورام گوڈسے، کنارے سے ان کی پریرتا متوجہ

اس رجعتی رجحان میں گروپوں.

لہذا، آر ایس ایس کے سربراہ موہن بھاگوت مندرجہ بالا حقائق کو ڈھکنے تمام بھارت کے ثقافتی تشخص ہندوتوا ہے کہہ رہا ہے.

ملک کے مغرب کے kobras (konkanastha chitpavan برہمن کمیونٹی) پر.

chitpavan یا chitpawan، ایک بڑی تعداد عیسائی پروٹسٹنٹ ساتھ کونکن آ برہمن ہیں.

18th صدی تک، chitpavans سماجی درجہ بندی میں معزز نہیں کر رہے تھے، اور یقینا برہمن کے ایک کمتر ذات ہونے کے طور پر دیگر برہمن قبائل کی طرف سے غور کیا گیا.

یہ مہاراشٹر میں توجہ رہتا ہے بلکہ ملک بھر میں آبادی کے تمام اور باقی دنیا، ہے (امریکہ اور برطانیہ.)

بینے اسرائیلی لیجنڈ کے مطابق، Chitpavan اور بینے اسرائیل کونکن ساحل shipwrecked 14 لوگوں کے ایک گروپ کی طرف سے خاندان کے ہیں. پارسی، بینے اسرائیلی، kudaldeshkar gaud برہمن، اور برہمن سارسوت کونکنی، اور chitpavan برہمن سمیت کئی تارکین وطن گروپوں ان تارکین وطن کی آمد کے آخری تھے.

satavahanas sanskritisers تھے.

یہ chitpavan برہمن کے نئے گروپ قائم کیا گیا تھا کہ ان کے وقت میں ممکنہ طور پر ہے.

اس کے علاوہ، Prakrut مراٹھی میں لکھا chitpavan نام ghaisas کے لئے ایک ریفرنس، بادشاہ کے سال 1060 ADbelonging کے tamra عوامی تحریک (کانسی تختی) پر دیکھا جا سکتا ہے
Shilahara برطانیہ کے Mamruni، کونکن میں Diveagar میں پایا.

بالاجی بٹ کے الحاق اور مراٹھا کنفیڈریشن کی سپریم اتھارٹی اپنے خاندان کے ساتھ، chitpavan تارکین وطن پیشوا تمام اہم دفاتر کی پیشکش کی جہاں پونے کونکن سے اکٹھے پہنچنے شروع کر دیا ان
ساتھی castemen.

chitpavan رشتہ دار ٹیکس ریلیف اور زمین کی گرانٹ کے ساتھ اجروثواب حاصل کیا گیا تھا.

مورخین 1818 میں مراٹھا سلطنت کے زوال کی وجوہات کے طور پر اقربا پروری اور بدعنوانی کا حوالہ دیتے.

رچرڈ میکسویل Eaton کی chitpavans کے اس اضافہ سیاسی قسمت کے ساتھ بڑھتی ہوئی سماجی رینک کے ایک کلاسک مثال ہے کہ.

روایتی طور پر، chitpavan برہمن دیگر کمیونٹیز کی مذہبی خدمات پیش کرتے ہیں جو ستوتیشیوں اور پادریوں کے ایک کمیونٹی تھے.

chitpavans کے 20th صدی کی وضاحت غیر معمولی frugality، untrustworthiness، conspiratorialism، phlegmatism فہرست.

زراعت قابل کاشت زمین کے مالک جو ان لوگوں کی طرف سے عمل کمیونٹی میں دوسرے بڑے قبضے، تھا.

بعد میں، chitpavans مختلف سفید کالر ملازمتوں اور کاروبار میں نمایاں ہو گیا.

مہاراشٹر میں chitpavan برہمن کے سب سے زیادہ ان کی زبان کے طور پر مراٹھی اپنایا ہے.

1940s کے تک، کونکن میں chitpavans کے سب سے زیادہ ان کے گھروں میں chitpavani Konkani میں نامی ایک بولی میں بات کی تھی.

اس وقت بھی، کی رپورٹ کے مطابق ایک روزہ ختم زبان کے طور پر chitpavani ریکارڈ.

لیکن سے Dakshina کناڈا ضلع اور کرناٹک کے اڈوپی اضلاع میں اس زبان درگا اور Karkala تعلقے کے سے Maala طرح اور بھی Shishila اور Belthangady تعلقے کے Mundaje طرح میں مقامات میں بات کی جا رہی ہے.

مراٹھی کے chitpavani بولی nasalized سر ہے جبکہ معیاری مراٹھی میں کوئی موروثی nasalized سر ہیں.

اس سے قبل، دیشست برہمن dvijas کے noblest بمشکل برابر (ایک سماجی و اقتصادی کلاس میں ایک رشتہ دار نئے آنے والے)، وہ سب کے سب برہمن سب سے زیادہ تھے کہ خیال کیا، اور parvenus طور chitpavans پر نیچے دیکھا.

یہاں تک پیشوا گوداوری پر ناسک @ Deshasth پادریوں کے لئے مخصوص گھاٹ استعمال کے حقوق سے محروم کیا گیا.

دیشست برہمن سے chitpavans کی طرف سے طاقت کے اس usurping دیر نوآبادیاتی برطانوی بھارت کے دور میں جاری ہے جس میں دو برہمن کمیونٹیز کے درمیان شدید دشمنی کے نتیجے میں.

19th صدی کے ریکارڈ بھی Chitpavans، اور دو دیگر برادریوں، یعنی Daivajnas، اور Chandraseniya کایست Prabhus درمیان Gramanyas یا گاؤں کی سطح پر بحث کا ذکر.

یہ ایک صدی پہلے دس years.Half تک جاری رہی، Dr.Ambedkar اپنی کتاب اچھوت میں مختلف ذاتوں کی جسمانی بشریات پر موجودہ اعداد و شمار سروے.

انہوں نے ذات کا ایک نسلی بنیاد کے موصول حکمت ڈیٹا کی طرف سے حمایت نہیں کیا گیا تھا پتہ چلا ہے کہ، مثال کے طور پر بنگال کے لئے میز پتہ چلتا ہے کہ میں چھٹے کھڑا ہے جو chandal
جن کے رابطے آلودہ، زیادہ برہمن سے فرق نہیں ہے سماجی مقدم کی منصوبہ بندی اور.

ممبئی میں دیشست برہمن بیٹے کولی، ان کے اپنے compeer، chitpavan برہمن کے مقابلے میں ایک مچھآری ذات، کرنے کے لئے ایک قریب تعلق دیتا ہے.

مہر، مراٹھا خطے کے اسپرشی، Kunbi، کسان کے ساتھ مل کر اگلے آتا ہے.

وہ ترتیب میں shenvi برہمن، نگر برہمن اور اعلی ذات مراٹھا پیروی.

یہ نتائج سماجی گریڈیشن اور بمبئی میں جسمانی فرق کے درمیان کوئی خط و کتابت ہے مطلب یہ ہے کہ.

ڈاکٹر امبیڈکر کی طرف سے متنبہ کھوپڑی اور ناک کے اشاریہ جات، میں فرق کی ایک قابل ذکر کیس، برہمن اور اتر پردیش کے (اچھوت) چمار کے درمیان موجود پایا گیا تھا.

لیکن یہ، برہمن غیر ملکی ہیں جو کہ ثابت نہیں کرتا کے لئے اعداد و شمار کی وجہ سے برہمن Khattri اور پنجاب کے اچھوت Chuhra کے لئے ان کے بہت قریب پائے گئے.

اترپردیش تو برہمن کوئی اس ملک میں غیر ملکی کا مطلب ہے کی طرف سے پنجاب اچھوتوں سے کم از کم زیادہ نہیں، ہے، اپ کے لئے واقعی غیر ملکی ہے.

یہ ہم ویدک اور ItihAsa-پران ادب سے حاصل کر سکتے ہیں جس کے منظر نامے کی تصدیق: ویدک روایت اس کے apogee پر پنجاب ہریانہ میں مرکز برآمد جب وہاں کم ذاتوں سے جسمانی طور پر indistinguishably تھے جو برہمن، کی طرف سے D ویدک مرکز سے مشرق لایا گیا (بنگال اور عیسائی دور کے موڑ کے ارد گرد جنوبی میں برہمن کی منصوبہ بندی کی درآمد کے مقابلے) پوری Aryavarta اس کی ثقافت.

یہ صرف دو ذات گروپوں کے متعدد بین بھارتی منتقلی کے تھے.

حالیہ تحقیق امبیڈکر، کے خیالات کی تردید نہیں کی ہے.

کمار سریش سنگھ کی قیادت میں ایک حالیہ مانوشاستریی سروے پر ایک پریس رپورٹ کی وضاحت کرتا ہے: انگریزی ماہر بشریات بھارت کے اوپری ذاتوں کاکیشین نسل سے تعلق رکھتے تھے اور باقی Australoid اقسام سے ان کی اصل متوجہ ماننا.

سروے ایک متک ہونے کے لئے اس کا انکشاف کیا ہے.

حیاتیاتی اور لسانی، ہم بہت ملے جلے ہیں، سریش سنگھ کا کہنا ہے کہ.

رپورٹ اس ملک کے لوگوں کو عام میں زیادہ سے زیادہ جین ہے، اور بھی صرفی علامات کی ایک بڑی تعداد کا اشتراک ہے.

علاقائی سطح پر صرفی اور جینیاتی علامات کے لحاظ سے بہت زیادہ homogenization ہے، رپورٹ میں کہا گیا.

مثال کے طور پر، تامل ناڈو (esp.Iyengars) کے برہمن ملک کی مغربی یا شمالی حصے میں ساتھی برہمن کے ساتھ مقابلے میں ریاست میں غیر برہمن کے ساتھ زیادہ علامات کا اشتراک کریں.

بیٹوں کی مٹی اصول بھی منہدم کھڑا ہے.

بھارت کے مانوشاستریی سروے ملک کے کسی دوسرے حصے سے ہجرت کی یاد نہیں کر سکتے کہ اس ملک میں کوئی کمیونٹی مل گیا ہے.

اوپری ذاتوں کے لئے ایک علیحدہ یا غیر ملکی نکالنے کا کوئی ثبوت نہیں ہے جبکہ اندرونی نقل مکانی، ملک کی پیچیدہ نسلی زمین کی تزئین کی زیادہ سے زیادہ کے لئے اکاؤنٹس.

جسمانی مانوشاستریی بنیاد پر دوڑ کے ساتھ ذات (حروف) کی شناخت کو مسترد کرتے ہیں جو دوسرے سائنسدانوں کے درمیان، ہم کیلاش سی ملہوترہ حوالہ کر سکتے ہیں: اتر پردیش، گجرات، مہاراشٹر، بنگال اور تامل ناڈو کے لوگوں کے درمیان کئے تفصیلی anthropometric سروے اہم انکشاف ایک ذات اور مختلف علاقوں سے ذات کی ذیلی آبادیوں کے درمیان سے ایک علاقے کے اندر اندر مختلف varnas کے ذاتوں کے درمیان قریب سے مشابہت کے اندر اندر علاقائی اختلافات.

قد، cephalic اور ناک انڈیکس، HK کے تجزیہ کی بنیاد پر Rakshit (1966) اس ملک کے برہمن متفاوت ہیں اور لوگوں کے ایک سے زیادہ کی منتقلی شامل ایک سے زیادہ جسمانی قسم کو شامل کرنے کا مشورہ دیتے ہیں کہ نتیجہ اخذ کیا.

18 میٹرک، 16 scopic اور 8 جینیاتی مارکر مطالعہ کیا گیا جن پر مہاراشٹر میں 8 برہمن ذات کے درمیان ایک سے زیادہ وسیع مطالعہ، دونوں صرفی اور جینیاتی خصوصیات میں نہ صرف ایک عظیم heterogeneity نازل بلکہ 3 برہمن ذات غیر برہمن ذات کے قریب تھے کہ ظاہر ہوا کے مقابلے میں دیگر برہمن ذات [کے لیے].

پیپی مجومدار اور کی.سی. (1974) ملہوترا 11 ملک امریکہ میں پھیل 50 برہمن نمونے میں OAB خون کے گروپ کے نظام کے لئے احترام کے ساتھ heterogeneity کی ایک عظیم سودا کا مشاہدہ. ثبوت اس طرح کے حروف ایک یکساں حیاتیاتی وجود ایک سماجی اور نہیں ہے کہ پتہ چلتا ہے.

comments (0)
1237 LESSON 17814 SUNDAY FREE ONLINE E-Nālanda Research and Practice UNIVERSITY Please render correct translation in your own mother tongue
Filed under: General
Posted by: site admin @ 12:55 am
1237 LESSON 17814 SUNDAY FREE ONLINE E-Nālanda Research and Practice UNIVERSITY


Please render correct translation in your own mother tongue


73) Classical Tamil

தமிழ் செம்மொழி

இலவச ஆன்லைன் மின்னஞ்சல் நாலந்தா ஆராய்ச்சி மற்றும் பயிற்சி பல்கலைக்கழகம்
தயவு செய்து உங்கள் சொந்த தாய்மொழி யில் சரியாக மொழிபெயர்ப்பு செய்க

எப்போதும் மகிழ்ச்சியாக இருக்க, நலமுடன் மற்றும் பாதுகாப்பாக இருக்க! நீண்ட நாள் வாழக!அனைத்து புலனறிவாற்றலுள்ள மற்றும் புலனறிவாற்றலுள்ள-அல்லாத
உயரினங்கள் எப்போதும் சந்தோஷமாக இருக்க! அனை வரும் எப்போதும் அமைதியான, எச்சரிக்கையான, கவனத்துடன் மற்றும் நடு நிலையான மனதுடன், எல்லாம்

மாறுகிறது என்ற ஒரு தெளிவான புரிதலுடன் இருக்க! இறுதி இலக்காக நித்திய ஆனந்தம் அைட ய 1956 – நமது அரசியலமைப்பின் தந்தை, பாபா சாஹேப்
Dr.B.R அம்பேத்கர் புத்தமதத்தை புதுப்பித்தார். புத்த இயக்கம் வழிநடந்து வருகிறது!1959 – திபெத்தியர்கள் இந்த ஜம்புதிவ்ப அதாவது, பிரபுத்த பாரத த்தில்

தங்கள் வீடென கண்டுபிடித்தனர் .டூபா கோர் (மோசடி) EVM இயந்திரங்களை தில்லு முல்லு செய்ய முடியாத வாக்கு முறைமை வரும் வரை தற்போதைய
அரசாங்கத்தை கலைத்து விட்டு லோக் சபா தேர்தல்களுக்கான ஆணையத்தை CJI பிறப்பிக்கட்டும். ஜனநாயக கொலை தடுத்து நிறுத்தப்பட அரசியலமைப்பில்

பொறிக்கப்பட்டுள்ளது போல் சமத்துவம், சகோதரத்துவம், சுதந்திர த்தை பாது காக்க அனைவரும் கவனத்துடன் விழித்து கொண்டு1 %சித்பவான் RSS’சின் BJP
மனநல சிகிச்சை தேவைப்படும், ஆட்சி பேராசை யுடன் ஜாதி மத வெறுப்பு டன் , கோபம், பொறாமை யால் தாறுமாறாக பித்து பிடித்தலை வர்களுக்கு எதிராக 99%

அனைத்து சமூகங்களும் SARVJAN HITAYE SARVJAN SUKHAYE அதாவது அனைத்து மக்கள் எஸ்சி / எஸ்டி / பிற்படுத்தப்பட்ட / சிறுபான்மையினர் / ஏழை
சாதி பிராமணர்கள் உட்பட அனைவரும் நலன், அமைதி, மகிழ்ச்சி பெற ஒன்று பட வேண்டும். இந்தியர்களில் கலாச்சார அடையாளம் இந்துத்துவத்தில்  உள்ளது’

என்கிறார் RSS தலைவர் மோகன் பகவத். அதில் ஆன்மீகம் எதுவும் கிடை யாது வெறும் ஒரு அரசியல் வழிபாடு. இந்த 1% RSS சித்பாவன் பிராமணர்கள் பட்டியலில்
மட்டுமீறிய சிக்கனம், நம்பகமற்ற தன்மை (டூபா கோர்கள் ), சதிகாரத்தன்மை  கபம்  மட்டும் 20 ம் நூற்றாண்டின் விளக்கங்கள். ஜனநாயக படுகொலை. ஆனால் இந்த

நாட்டின் உண்மையான ஆன்மீகம் அல்ல.இந்த நாட்டில் உண்மையான கலாச்சார அடையாளம் அனைத்து இனத்தை சேர்ந்தவர்களுக்கும் புத்தர் குணத்துடன்
சமத்துவம், சகோதரத்துவம், சுதந்திரம் பயிற்சி உள்ளதால் ஜம்புதிவீப அதாவது  பிரபுத்த பாரத் ஆகிறது என தம்ம அடிப்படையாக கொண்ட அரசியல் சாசனத்தில்

பொதிந்துள்ளது. இப்போது இந்த   டூபா  கோர்  EVM களை அம்பலப்படுத்த வேண்டும்.  ஏனெனில் டூபா  கோர்  EVM  CJI சதாசிவம், ஒரு பிராமணர்  டூபா  கோர் 
EVM CEC சம்பத், மற்றொரு  பிராமணர் படிப்படியான முறையில் இயந்திரங்ககளை மாற்ற  வேண்டும் என்ற கோரிக்கை மோசடியால் ஜனநாயகத்தை

செதப்படுத்தகூடிய  பெரும்பான்மை  மோசடி டூபா கோர் மின்னணு வாக்குப்பதிவு எந்திரங்களை மக்களவை தேர்தலில் அனுமதி வழங்கினார். அது ஆர்எஸ்எஸ் இன்
பாஜகவுக்கு  MASTER KEY பெற உதவியது. தில்லு முல்லு செய்ய முடியாத வாக்களிப்பு முறை வரும் வரை  தற்போதைய CJI  தற்போ தைய  மக்களவை யை  

கலைத்து விட  உத்தரவிட வேண்டும் மற்றும்  சுதந்திரம், சகோதரத்துவம் மற்றும் சமத்துவ பாதுகாக்க SC / ST / OBC / சிறுபான்மையினர் அடங்கிய  நீதிபதிகள்
கொண்ட ஒரு collegium  அமைப்பு இருக்க வேண்டும்.மேலும் ஜனநாயக படுகொலையை தடுக்க CEC யும் சுதந்திரம், சகோதரத்துவம் மற்றும் சமத்துவ பாதுகாக்க

SC / ST / OBC / சிறுபான்மையினர் அடங்கிய நீதிபதிகள் கொண்ட ஒரு collegium  அமைப்பு இருக்க வேண்டும்.தில்லு முல்லு டூபா கோர்  மின்னணு வாக்குப்பதிவு
எந்திரங்களை மாற்றிய பிறகு தேர்தல்கள் நடத்த பட வேண்டும். அனைத்து  ஆர்யொ பார்ப்பனர் அல்லாதவரை நோக்கி  நடத்தும்  வெறுப்பு அரசியலை சித்பவான்

பார்ப்பனர்களை  முற்றிலும் ஓரங்கட்டி தடுக்க வேண்டும் என்றால், அனைத்து ஆர்யா பிராமணர்கள் அல்லாத வர்கள் சர்வஜன் நலன் சர்வஜன் சுகத்தை
கொள்கையுடைய பகுஜன் சமாஜ் கட்சி கீழ் அனைத்து சமூகங்கள் எஸ்சி /எஸ்டி, இதர பிற்படுத்தப்பட்ட,சிறுபான்மையினர் மற்றும் ஏழை மேல் சாதி உட்பட நாட்டின்

 செல்வத்தை சமமாக அரசியல் சாசனத்தில் பொதிந்துள்ளது போல் சமூகத்தின் அனைத்து பிரிவினருக்கும் மத்தியில் பகிர்ந்து   நலன் மற்றும் சந்தோஷத்தை பெற
ஐக்கியப்பட வேண்டும். சித்பாவன் நாதுராம்  கோட்சேவால் எம்.கே. காந்தி கொலை செய்யப்பட்ட பின் அற்ப சித்பாவன்களின்   கர்வம் நடத்தையால் மற்ற

சமூகங்களுடன் மோதல்கள் ஏற்பட்டு பார்ப்பனிய எதிர்ப்பு வடிவில் 1948பிற்பகுதியில் தங்களை வெளிப்படுத்தி கொண்டனர். பால கங்காதர திலகர்1818 மராட்டிய
பேரரசின் வீழ்ச்சிக்கு பின்னர், சித்பாவன்கள் தங்கள் அரசியல் ஆதிக்கத்தை பிரிட்டிஷர்களுக்கு இழந்து விட்டனர்.பிரிட்டிஷ்,தங்கள் கடந்த சாதி சக

பேஷ்வாக்கள் செய்த அதே அளவில் சித்பாவன்களுக்கு  மானியம் வழங்க வில்லை.சம்பாதனை மற்றும் சக்தி இப்போது கணிசமாக குறைக்கப்பட்டது. ஏழை
சித்பவன் மாணவர்கள் ஆங்கிலம் கற்று தொடங்கி மற்றும் தழுவி கொண்டனர். ஏனெனில் நல்ல வாய்ப்புகளை பிரிட்டிஷ் நிர்வாகம் அளித்ததால்.இதை மாற்ற சில

 வலுவான எதிர்ப்பை அதே சமூகத்தில் இருந்து வந்தது.பொறாமையுடன் தங்கள் பார்ப்பனர் அந்தஸ் த்தை காத்துக்கொண்டு  கட்டுப்பாடான சித்பாவங்கள் மத்தியில்
 சாஸ்திரங்கள் சவால் ஆவதை பார்க்க ஆவலாக இருக்கவில்லை அல்லது சுத்ரர்களின் நடத்தை பார்ப்பனர்களின்   நடத்தையுடன் பிரித்தறிய முடியாததாக

இருப்பதை. முன்னணிப்படை மற்றும்  பழைய தலைமுறை பல முறை மோதினர். சித்பவன் சமூகம் இரண்டு பிரதான தாக  அடங்கும் காந்திய பாரம்பரியத்தில்
அரசியல்வாதிகள்: கோபால கிருஷ்ண கோகலே அவரது ஒரு ஆசான் என ஒப்புகொண்டு மற்றும்  வினோபா பாவே, தலைசிறந்த  சீடர்ககளில் ஒருவர் என்றார்.காந்தி

அவரது சீடர்ககளில் பாவே இரத்தினம் என விவரித்தார் மற்றும் கோகலே அவரது அரசியல் குருவாக அங்கீகா ரித்தார்.எனினும்,காந்தி க்கு வலுவான எதிர்ப்பு
மேலும், சித்பவன் சமுதாயத்தில் இருந்து வந்தது. VD சாவர்கர், தேசியவாத அரசியல் சித்தாந்த இந்துத்துவ நிறுவனர். இனவாத சித்பவன் பார்பனர்கள்

அல்லாதவர்கள் மீது சித்பவன் பார்பனர்கள் கோப ம், காழ்ப்பு,ஆட்சி பேராசை ஜாதி  மற்றும் மத வெறி கொண்ட டூபா  கோர் போராளிகள் திருட்டுத்தனமாக அரசியல்
வழிபாட்டு பைத்தியங்கள்,பைத்தியகார ஆஸ்பத்திரியில் சேர்க்கப்படவேண்டியவர்கள்.பேஷ்வாக்கள் மற்றும் சாதி சக திலக் மரபு அவர்கள் நினைத்த சிந்தனை யாக

இருந்த  தால் சித்பவன் சமூகத்தின் பல உறுப்பினர்கள் இந்துத்துவத்தை ஏற்றுக்கொண்டனர். இந்த சித்பவன்கள்  மகாத்மா புலே என்ற ஜம்புத்விபன் சமூக சீர்திருத்த
இயக்கமும் Mr.MK காந்தி வெகுஜன அரசியல்.இடத்தின் வெளியே என உணர்தனர். இச் சமூகத்தின் ஏராளமானோர் சாவர்கர் பக்கம் பார்த்தனர். இந்து மதம்

மகாசபா மற்றும் இறுதியாக RSS. காந்தி யை படுகொலை செய்த நாராயண் ஆப்டே மற்றும் நாதுராம் கோட்சே இந்த  விளிம்பில்  இருந்து ஊக்கம் பெற்றனர். இது
பிற்போக்கு எண்ணம். எனவே RSS தலைவர் மோகன் பகவத் இந்தியர்களில் கலாச்சார அடையாளத்தை இந்துத்துவ’ என்று சொல்கிறார். நா ட்டின்  மேற்கு பகுதி

கொபரர்கள் (கொங்கணஸ்த சித்பவன் பிராம்மண சமூகம்) பற்றிய விவரங்கள். கொங்கனுக்கு  சொந்த மான சித்பவன் பார்ப்பனர்களுள் ஒரு கணிசமானவர்கள்
கிரிஸ்துவ பிராட்டஸ்டன்ட் களாக  இருக்கின்றர். 18 ஆம் நூற்றாண்டு வரை, சித்பவன்கள் சமூக தரவரிசையில் மதிப்பிற்குரியவர்களாக இருந்ததில்லை,  உண்மையில்

சித்பவன் பார்ப்பன பழங்குடியினர் ஒரு தாழ்ந்த சாதி என மற்ற பிராமணர்களால்  கருதப்பட்டனர். மகாராஷ்டிராவில் அதிக அளவில் இருக்கிறது ஆனால் அனைத்து
உலகின் பிற பகுதிகளில் மற்றும் அமெரிக்கா மற்றும் ஐக்கிய இங்கிலாந்து உட்பட நாடு முழுவதும் அந்த மக்கள்  தொகை  உள்ளது. பேனே  இஸ்ரேலிய புராணத்தின்

படி, சித்பவன் மற்றும் பேனே இஸ்ரேல், கொங்கன் கடற்கரை கப்பல் மூழ்கியதால் ஒரு 14 பேர் குழு வின் வம்சாவளியினர் ஆவர். பல புலம்பெயர்ந்த குழுக்கள்
பார்சிகள், பேனே இஸ்ரேலியர்கள், குடல்தேஷ்கர்  கவுட் பிராமணர்கள் மற்றும் கொங்கனி  சரஸ்வத் பிராமணர்கள் உட்பட மற்றும் சித்பவன் பிராமணர்கள்  இந்த

குடியேற்ற வருகை யின் கடைசியாக  இருந்தன. சட்டவஹனாக்கள் சமஸ்கிரிதர்களாக இருந்தனர். இது அவர்கள் நேரத்தில் புதிய சித்பவன் பார்ப்பனர்கள் குழு
அமைக்கப்பட்டு  இருக்க    சாத்தியமான தாக உள்ளது. மேலும், சித்பவன் குடும்ப கிசஸ் பற்றிய ஒரு குறிப்பு, ப்ரக்ருத் மராத்தியில், கொங்கனில் உள்ள திவீகரில்

காணப்படும் கிபி 1060 ஆண்டு, ராஜா ஷீலாஹரவின்  மம்ருணி இராச்சியம் சேர்ந்த ஒரு வெண்கல தக ட்டில்  (tamra-pat)  எழுதப்பட்டுள்ளது காணலாம்.
மராட்டிய கூட்டமைப்பு உச்ச அதிகாரத்தில் பாலாஜி பட் மற்றும் தனது குடும்பத்துடன் இணை ப்பிருந்ததால், கொங்கனிலிருந்து  புணேவிற்கு சித்பவன்

குடியேறியர்ககளுக்கு பேஷ்வா அவரது சக  சாதி ஆண்களுக்கு அனைத்து முக்கிய அலுவலகங்கள் வழங்கப்பட்டதால்  அங்கு  இருந்து ஒட்டுமொத்தமாக வர
தொடங்கினர். சித்பவன் உறவினர்களுக்கு வரி நிவாரணம் மற்றும் நிலத்தை மானியங்ககளாக வழங்கப்ப ட்டன. வரலாற்றாசிரியர்கள் 1818 மராட்டிய பேரரசின்

வீழ்ச்சிக்கு உறவினர்கள் மற்றும் ஊழல் காரணங்கள் என மேற்கோள் காட்டுகின்றனர். சித்பவன் களின் இந்த எழுச்சி  அரசியல் அதிர்ஷ்டத்துடன் சமூக சாதனை
பெருக ஒரு சிறந்த உதாரணம் ஆகும் என்று ரிச்சர்ட் மேக்ஸ்வெல் ஈட்டன் கூறுகிறார் . பாரம்பரியமாக, சித்பவன் பார்ப்பனர்கள் மற்ற சமூகங்களுக்கு மத

சேவைகளை வழங்க ஜோதிடர்கள் மற்றும் பூசாரிகளான ஒரு சமூகமாக இருந்தது. சித்பவன்களை 20 ம் நூற்றாண்டின் விளக்கங்கள், மட்டுமீறிய சிக்கனம், நம்பகமற்ற
 தன்மை, சதி தீட்டல், கபட புத்தியை  பட்டியலிட்டுள்ளது.விவசாயம், விளைநில யோருக்கு நடைமுறையில் சமூகத்தில் இரண்டாவது முக்கிய தொழிலாக  இருந்தது.

பின்னர், சித்பவன்கள் பல்வேறு வெள்ளை காலர் வேலைகள் மற்றும் வணிகத்தில்  முக்கிய மாகினர். மிக அதிக அளவான  மகாராஷ்டிரா சித்பவன் பார்ப்பனர்கள்
அவர்களின் மொழி மராத்திய ம் என ஏற்றுக்கொண் டனர். 1940 வரை, கொங்ககனில் உள்ள சித்பவன் கள்  அதிகமாக  தங்கள் வீடுகளில் சித்பவனி  கொங்கனி என்ற
 
ஒரு மொழி  பேசினார். அந்த நேரத்திலும், அறிக்கைகள் சித்பவனி வேகமாக மறைந்து வரும் மொழியாக பதிவு செய்துள்ளது. ஆனால் கர்நாடகாவின் தக்ஷின கன்னடா
மாவட்டத்தில் மற்றும் உடுப்பி மாவட்டங்களில், இந்த மொழி துர்கா மற்றும் கர்கலா தாலுக்காவில் மாலா  போன்ற இடங்களில் மேலும் சிசில   மற்றும் பெல்தங்கடி 

தாலுகா முண்டசே வில்   உள்ள இடங்களில் பேசப்பட்டது. உள்ளார்ந்தளவில்  மராத்தி சித்பவனியில்  நாசியான   உயிர் எழுத்து இல்லை அதேசமயம் நிலையான
மராத்தியில்  நாசியான   உயிர் எழுத்து  இயல்பாகவே உள்ளன. முன்னதாக, தேஷாஸ்தா பார்ப்பனர் அனைத்து  பார்ப்பனர்களுள்  மிக உயர்ந்தவர்கள் என்று

நம்பிக்கொண்டிருந்தனர் மற்றும் சித்பவன்களை  ஒரு புதிதாக செல்வம் படைத்த  ( சமூக பொருளாதார வர்க்கத்திற்கு  ஒரு புதுமுக உறவினர் ) என அஞ்சாமல்
வெளிப்படையாக  த்விஜஸ்  உயர்குடிப்பிறப் பினர்களுக்கு சமமாக கருதவில்லை. பேஷ்வாவுக்கு கூட நாசிக்கில் தேஷச்த்  குருக்களுக்கு ஒதுக்கப்பட்ட கோதாவரி

மலைவழியைப் பயன்படுத்த உரிமை மறுக்கப்பட்டது. தேஷாஸ்தா பிராமணர்களிடத்திலிருந்து சித்பவன்கள் அதிகாரம் பறித்ததிலிருந்து இரண்டு பிராமணர்கள் இடையே
ஆழ்ந்த போட்டியை ஏற்படுத்தியது. தாமதமாக குடியேறிய பிரிட்டிஷ் இந்தியாவிலும் இது தொடர்ந்தது. 19 ஆம் நூற்றாண்டின் பதிவுகளில் சித்பவன்கள்மற்றும் மற்ற

இரண்டு சமூகங்கள், அதாவது தைவஜ்னஸ், மற்றும் சந்த்ரசெனிய காயாஸ்தா பிரபுக்கள் இடையே கிராமணியக்கள் அல்லது கிராம அளவில் விவாதங்கள் பற்றி உள்ளது.
இது பத்து ஆண்டுகள் நீடித்தது. அரை நூற்றாண்டு முன்பு, டாக்டர் அம்பேத்கரால் தனது தீண்டத்தகாதவர்கள் புத்தகத்தில் பல்வேறு சாதிகளின் மானிடவியலில்

இருக்கும் தரவுகளை ஆராய்ந்துள்ளது. அவரால், சாதி, இன அடிப்படையில் கிடைத்த ஞான தரவிற்கு ஆதரவு இல்லை என்று கண்டறியப்பட்டது, உதாரணமாக:வங்க
அட்டவணை முன்னுரிமை திட்டமாக ஆறாவதாக  நிற்கும் சண்டால் சமூக தொடர்பான  மாசு,  பிராமணர் களுக்கும் மிகவும் வேறுபடுகிறது என்று  இல்லை. பம்பாயில்

தேஷாஸ்தா பார்ப்பனர், சண் -கோலி, ஒரு மீனவர் சாதி, தமது சொந்த ஒப்பீடான, சித்பவன் பிராம்மணரை விட  ஒரு நெருக்கமான பிணைப்பை கொண்டு இருந்தது.
மஹர், மராத்தா பகுதியின் தீண்ட படாதவர்கள் , குன்பி, விவசாயிகள் சேர்ந்து அடுத்ததாக வருகிறது. அவர்கள்  ஷேன்வி  பிராமணர், நகர் பிராமணர் மற்றும் உயர் சாதி

மராட்டிய பொருட்டு பின்பற்றி தொடர படுகின்றனர்.இந்த முடிவுகளால் பாம்பேயில் சமூக தரம் மற்றும் உடல் வேறுபாடு இடையே எந்த தொடர்பும் இல்லை என்று
அர்த்தமாகிறது. டாக்டர் அம்பேத்கர் குறிப்பிட்ட படி  மண்டை ஓடு மற்றும் மூக்கு குறியீடுகளும், ஒரு குறிப்பிடத்தக்க வேறுபாட்டை  உத்தரபிரதேச பிராமணர்

(தீண்டத்தகாதவர்கள்) சமார் இடையே இருப்பது கண்டறியப்பட்டுள்ளது. ஆனால் இந்த பார்ப்பனர் வெளிநாட்டவர்கள் என்று நிரூபிக்க முடியாது.உ.பி. பார்ப்பனர்
காட்டரீ மற்றும் பஞ்சாப் தீண்டபடாதவர் சுஹ்ர ஆகியோருக்கு மிக நெருக்கமாக இருக்கும் என தரவு களால் கண்டறியப்பட்டுள்ளது.உ.பி. பிராமணர் உ.பி. ற்கு 

உண்மையில் வெளிநாட்டவர் என்றால், மேலும், இந்த நாட்டி ற்கும் வெளிநாட்டவர்கள் ஆகிறனர்கள் அதாவது அவர் கள் பஞ்சாப் தீண்டத்தகாதவர்க ளை விட
குறைந்தவர்கள் அல்ல.இது வேத மற்றும் இதிஹாச புராண இலக்கியங்களில் இருந்து பெற முடியும் சூழ்நிலையில் உறுதிப்படுத்துகிறது: வேத பாரம்பரியம் அதன்

உச்சக்கட்டத்தில் பஞ்சாப், ஹரியானாவில் உள்ள மையப்பகுதி ஏற்றுமதி போது அங்கு சாதிகளில் இருந்து உடல் பிரித்தறிய இருந்த பிராமணர்கள், வேத
மையப்பகுதியில் இருந்து முழு அர்யவர்த்த  கலாச்சாரம் கிழக்கு கொண்டுவரப்பட்டது (ஒப்பிடக்கூடிய பார்ப்பனர்களின் வங்காளம் மற்றும் தெற்கு  திட்டமிட்ட

இறக்குமதி  கிரிஸ்துவர் சகாப்த த்தை  சுற்றி யதாகும்). பல இடையேயான -இந்திய குடியேற்றங்களுள்  இந்த இரண்டு சாதி குழுக்கள் இருந்தன.சமீபத்திய
ஆராய்ச்சி அம்பேத்கர் கருத்துக்களை மறுக்கவில்லை. குமார் சுரேஷ் சிங் தலைமையில் சமீபத்தில் ஒரு மானுடவியல் ஆய்வு ஒரு பத்திரிகை செய்தி விளக்குகிறது:

ஆங்கிலம் மானுடவியலாளர்கள் இந்திய மேல்சாதியினர் கெளகேசிய இனம் சேர்ந்தவர் மற்றும் ஆஸ்ட்ராலாய்ட் வகையிலிருந்து அவர்களின் தோற்றம் ஈர்த்தது என்று
வாதிட்டார். ஒரு கட்டுக்கதை என  இந்த கணக்கெடுப்பு வெளிப்படுத்தியுள்ளது. உயிரியல் மற்றும்  மொழி யால், நாம் மிகவும் கலப்பு உடையவர்கள் என சுரேஷ் சிங்

கூறுகிறார். இந்த நாட்டின் மக்களின்  அதிக அளவான  மரபணுக்கள் பொதுவான தாக உள்ளது , மேலும் உருவ பண்புகளை ஒரு பெரிய அளவு  பகிர்ந்து கொண்டுள்ளது
என்று அறிக்கை கூறு கிறது. பிராந்திய மட்டத்தில் உருவ மற்றும் மரபணு பண்புகள் அடிப்படையில் அதிகம் ஒரேமாதிரியாக உள்ளது என அறிக்கை கூறுகிறது.

உதாரணமாக, தமிழ்நாடு (குறிப்பாக Iyengarகள்)  பார்ப்பனர்கள் நாட்டின் மேற்கு அல்லது வடக்கு பகுதியில் உள்ள சக பார்ப்பனர்களை விட மாநிலத்தில் பார்ப்பனர்
அல்லாதவர்களுடன் அதிக  பண்புகளை பகிர்ந்து கொண்டுள்ளனர். மண்ணின் மைந்தர்கள் கோட்பாடு இடித்து நிற்கிறது. இந்திய மானுடவியல் சர்வே படி நாட்டின்

மற்ற பகுதிலிருந்து இடம்பெயராததை இந்த நாட்டில் எந்த சமூகத்தாலும் ஞாபகம் படுத்திக்கொள்ள இயலாது என்று கூறப்படுகிறது. மேல் சாதியினர் ஒரு தனி
அல்லது வெளிநாட்டு வம்சாவளி என்பதற்கு எந்த ஆதாரமும் இல்லை என்கிறபோது நாட்டின் சிக்கலான இன இடம்பெயர்வது மிகவும் இயற்கையானதாகும். உடல்
 
மானுடவியல் அடிப்படையில் இனம் சாதி (வர்ண) அடையாளம் நிராகரிக்கும் மற்ற விஞ்ஞானிகள் மத்தியில், நாம், கைலாஷ் சி மல்ஹோத்ராமேற்கோள் காட்டலாம்:
விரிவான ஆந்த்ரோபோமெட்ரிக் நடத்தப்பட்ட ஆய்வுகள் உத்தர பிரதேசம், குஜராத், மகாராஷ்டிரா, வங்காளம் மற்றும் தமிழக மக்கள் மத்தியில் ஒரு சாதிக்குள்

குறிப்பிடத்தக்க பிராந்திய வேறுபாடுகள் மற்றும் பல்வேறு பகுதிகளில் இருந்த வெவ்வேறு சாதிகள் மற்றும் வர்ணங்களின் துணை மக்களுக்கும் இடையேஉள்ள 
நெருக்கமான ஒற்றுமையை வெளிப்படுத்தினார்.அந்தஸ்தும், தலைக்குரிய மற்றும் நாசி குறியீட்டெண், எச்.கே.ரக் ஷித் (1966) பகுப்பாய்வு அடிப்படையில்  இந்த

நாட்டின் பார்ப்பனர் பலவகைப்பட்ட மற்றும் மக்கள் மேற்பட்ட இடம்பெயர்வு சம்பந்தப்பட்ட மேற்பட்ட உடல் வகை இணைத்ததை பரிந்துரைக்கும் என்கிறார்.
18 மெட்ரிக், 16 scopic மற்றும் 8 மரபியல் குறிப்பான்கள் ஆய்வு  மகாராஷ்டிரா வின் 8 பிராமணர் சாதிகளில் மேலும் விரிவான ஆய்வில், இரு உருவ மற்றும்

மரபணு பண்புகளில் மட்டும் ஒரு பெரிய வேறுபாடு தெரியவந்தது ஆனால் 3 பிராமண சாதியினர் பிராமணர் அல்லாத சாதியினர் நெருக்கமாக இருந்தனர் என்று
காட்டியது. P.P. மஜும்தார் மற்றும் கே.சி. (1974) மல்ஹோத்ரா 11 நாட்டின் மாநிலங்களில் பரவி 50 பிராமணர் மாதிரிகள் மத்தியில் OAB ரத்த குழு அமைப்பு

பொறுத்து வேறுபாட்டில் ஒரு பெரும் அனுசரிக்கப்பட்டது. இதனால் ஆதாரங்கள்  வர்ண ஓரின உயிரியல் நிறுவனம் மற்றும்  ஒரு சமூகவியல் அல்ல என்று கூறுகிறார்.

43) Classical Kannada

43) ಶಾಸ್ತ್ರೀಯ ಕನ್ನಡ

  ಉಚಿತ ಆನ್ಲೈನ್ ಇ-ನಳಂದಾ ಸಂಶೋಧನೆ ಮತ್ತು ಪ್ರಯೋಗ ವಿಶ್ವವಿದ್ಯಾಲಯ

ನಿಮ್ಮ ಸ್ವಂತ ಮಾತೃ ಭಾಷೆಯಲ್ಲಿ ಸರಿಯಾದ ಅನುವಾದ ನಿರೂಪಿಸಲು ದಯವಿಟ್ಟು

ಆರ್ಎಸ್ಎಸ್ ಮುಖ್ಯಸ್ಥ ಮೋಹನ್ ಭಾಗವತ್ spiritualism.It ಏನೂ ದೊರೆತಿದೆ ಭಾರತೀಯರು ಸಂಸ್ಕೃತಿಯನ್ನು ಹಿಂದುತ್ವ ಆಗಿದೆ ಕೇವಲ ರಾಜಕೀಯ ಆರಾಧನಾ ಹೇಳುತ್ತಾರೆ
1% ಮೇ ಚಿತ್ಪಾವನರು ಪಟ್ಟಿ ಅತಿಯಾದ ಮಿತವ್ಯಯ 20 ನೇ ಶತಮಾನದ ವಿವರಣೆಗಳು, ಅವಿಶ್ವಸನೀಯತೆ (Duba ಕೋರ್ಸ್), conspiratorialism,

phlegmatism ಕೊಲೆ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವದ ಆದರೆ ಈ ದೇಶದ ನಿಜವಾದ ಆಧ್ಯಾತ್ಮ ಮಾತ್ರ. ಈ ದೇಶದ ನಿಜವಾದ ಸಂಸ್ಕೃತಿಯನ್ನು ಹೊಂದಿದೆ
ಎಲ್ಲಾ ನಂತರ ಪ್ರಬುದ್ಧ ಭಾರತ್ ಎಂದು Jambudvipan ಸಮಾನತೆ, ಭ್ರಾತೃತ್ವ ಮತ್ತು ಸ್ವಾತಂತ್ರ್ಯ ಅಭ್ಯಾಸ ಬುದ್ಧ ಪ್ರಕೃತಿ ಅದೇ ಜನಾಂಗಕ್ಕೆ ಪ್ರಮುಖವಾಗಿ ಸೇರುತ್ತಾರೆ
 
ಸಂವಿಧಾನದಲ್ಲಿ ನೀಡಲಾಗಿದೆ ಎಂದು ಧಮ್ಮ ಆಧರಿಸಿ. ಈಗ Duba Kor ವಿ ಎಂ ಕಾರಣ ಬಹಿರಂಗ ಮಾಡಬೇಕು ಎಂದು ಫ್ರಾಡ್ Duba Kor ಮತಯಂತ್ರ ಆಗಿದೆ
ಸಿಜೆಐ Sadhasivam, ಬ್ರಾಹ್ಮಣ Duba Kor ವಿ ಎಂ CEC ಸಂಪತ್ ಆಫ್ therequest ನಲ್ಲಿ ಬಹುತೇಕ ವಂಚನೆ tamperable Duba Kor ಮತಯಂತ್ರ ಜೊತೆ ಲೋಕಸಭಾ ಅವಕಾಶ

ಮತ್ತೊಂದು ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಮಾಸ್ಟರ್ ಕೀಲಿ ಪಡೆಯಲು ಮೇ ಬಿಜೆಪಿ ನೆರವಾದ ಹಂತ ಹಂತವಾಗಿ Duba Kor ಮತಯಂತ್ರ ಬದಲಾಯಿಸಲು. ಎಲ್ಲಾ Duba Kor ಮತಯಂತ್ರ ಟಿಲ್
ಮೂರ್ಖನಾಗಿ ಪುರಾವೆ ಮತದಾನ ಪದ್ಧತಿ ಬದಲಾಯಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಪ್ರಸ್ತುತ ಸಿಜೆಐ ಪ್ರಸ್ತುತ ಲೋಕಸಭಾ ವಿವಾದವೂ ಆದೇಶ. & ಪಡೆದ ಒಂದು ಕಾಲೇಜು ವ್ಯವಸ್ಥೆಯನ್ನು ಹೊಂದಿರಬೇಕು

ಪ್ರತಿಷ್ಠಾಪನೆ ಎಂದು ಮೂರ್ಖನಾಗಿ ಪುರಾವೆ ಮತದಾನ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯನ್ನು ಹೊಂದಿರುವ SC / ST / ಒಬಿಸಿ / ಅಲ್ಪಸಂಖ್ಯಾತ ನ್ಯಾಯಾಧೀಶರ ಲಿಬರ್ಟಿ, ಭ್ರಾತೃತ್ವ ಮತ್ತು ಸಮಾನತೆ ಕಾಪಾಡುವುದು
ಸಂವಿಧಾನ. ಮತ್ತು ಮೂರ್ಖನಾಗಿ ಪುರಾವೆ ಮತಚಲಾಯಿಸುವ SC / ST / ಒಬಿಸಿ / ಅಲ್ಪಸಂಖ್ಯಾತ ಒಳಗೊಂಡಿರುವ ಮುಖ್ಯ ಚುನಾವಣಾ ಆಯೋಗ ಒಂದು ಕಾಲೇಜು ವ್ಯವಸ್ಥೆ

Duba Kor ಮತಯಂತ್ರ ನಂತರ ಪ್ರಜಾಸತ್ತೆಯ ಕೊಲೆ ತಡೆಗಟ್ಟಲು ಡಿ ಸಂವಿಧಾನದ .. ಪ್ರತಿಷ್ಠಾಪನೆ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯ ಲಿಬರ್ಟಿ, ಭ್ರಾತೃತ್ವ ಮತ್ತು ಸಮಾನತೆ ಕಾಪಾಡುವುದು
ಮೂರ್ಖನಾಗಿ ಪುರಾವೆ ಮತದಾನದ ವ್ಯವಸ್ಥೆ ಲೋಕಸಭಾ ಚುನಾವಣೆಯ ಬದಲಾಯಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ ನಡೆದ ಮಾಡಬೇಕು. Chitpawan ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಕಾರಣ ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಬದಿಗೆ ಎಂದು ಇದ್ದರೆ ತಮ್ಮ

ಎಲ್ಲಾ ಅಲ್ಲದ Ariyo ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಕಡೆಗೆ ದ್ವೇಷ ರಾಜಕಾರಣ ಎಲ್ಲಾ ಅಲ್ಲದ Ariyo ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಅಂದರೆ Sarvajan Hitay, Sarvajan Sukhay ಫಾರ್ ಬಿಎಸ್ಪಿ ಅಡಿಯಲ್ಲಿ ಒಂದುಗೂಡಿಸಬೇಕು
ದೇಶದ ಸಂಪತ್ತು ಹಂಚಿಕೊಳ್ಳುವ ಮೂಲಕ, ಎಸ್ಸಿ / ಎಸ್ಟಿ, ಒಬಿಸಿ, ಅಲ್ಪಸಂಖ್ಯಾತರು ಮತ್ತು ಬಡವರ ಮೇಲ್ಜಾತಿಗಳ ಸೇರಿದಂತೆ ಎಲ್ಲಾ ಸಮಾಜಗಳ ಕಲ್ಯಾಣ ಮತ್ತು ಸಂತೋಷಕ್ಕೆ

ಅಷ್ಟೇ ಸಂವಿಧಾನದಲ್ಲಿ ನೀಡಲಾಗಿದೆ ಎಂದು ಸಮಾಜದ ಎಲ್ಲಾ ವಿಭಾಗಗಳ ನಡುವೆ. ದಿಢೀರನೆ chitpvans ಮೂಲಕ ಅಹಂಕಾರದ ನಡವಳಿಕೆಯಿಂದ ಘರ್ಷಣೆಗಳು ಉಂಟಾಗುವ
ಎಂ.ಕೆ. ಕೊಂದ ನಂತರ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ-ವಿರೋಧಿ ರೂಪದಲ್ಲಿ 1948 ರಲ್ಲಿ ಎಂದು ಬಿಂಬಿತವಾಗಿದೆ ಇತರ ಸಮುದಾಯಗಳ ಮೂಲಕ ಗಾಂಧಿ

ನಾಥೂರಾಮ್ ಗೋಡ್ಸೆ, ಚಿತ್ಪಾವನ. ಬಾಲಗಂಗಾಧರ ತಿಲಕ್ 1818 ರಲ್ಲಿ ಮರಾಠಾ ಸಾಮ್ರಾಜ್ಯದ ಪತನದ ನಂತರ, ಚಿತ್ಪಾವನರು ತಮ್ಮ ರಾಜಕೀಯ ಪ್ರಾಬಲ್ಯವನ್ನು ಕಳೆದುಕೊಂಡಿತು
British.The ಬ್ರಿಟಿಷ್ ತಮ್ಮ ಜಾತಿ ಸಹವರ್ತಿ, ಪೆಷ್ವೆಗಳ ಹಿಂದೆ ಮಾಡಿದ ಅದೇ ಪ್ರಮಾಣದಲ್ಲಿ ಚಿತ್ಪಾವನರು ಸಹಾಯಧನ ಎಂದು. ಪೇ

ಮತ್ತು ವಿದ್ಯುತ್ ಈಗ ಗಮನಾರ್ಹವಾಗಿ ಕಡಿಮೆಯಾಯಿತು. ಬಡ ಚಿತ್ಪಾವನ ವಿದ್ಯಾರ್ಥಿಗಳು ಅಳವಡಿಸಿಕೊಂಡ ಮತ್ತು ಏಕೆಂದರೆ ಉತ್ತಮ ಅವಕಾಶಗಳ ಇಂಗ್ಲೀಷ್ ಕಲಿಕೆ ಆರಂಭಿಸಿದಾಗ
ಬ್ರಿಟಿಷ್ ಆಡಳಿತ. ಪ್ರಬಲ ಪ್ರತಿರೋಧ ಕೆಲವು ಬದಲಾಯಿಸಲು ಅದೇ ಸಮುದಾಯದಿಂದ ಬಂದ ಗೆ. ಅಸೂಯೆಯಿಂದ ತಮ್ಮ ಕಾವಲು

ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ನಿಲುವು, ಚಿತ್ಪಾವನರು ನಡುವೆ ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕ ಶಾಸ್ತ್ರಗಳನ್ನು ಸವಾಲು ನೋಡುವ ಅಪೇಕ್ಷೆಯಿಂದ ಇರಲಿಲ್ಲ, ಅಥವಾ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರ ನೀತಿ ಆಗುತ್ತಿದೆ
ಶೂದ್ರರು ಆ ಒಂದೇ. ವ್ಯಾನ್ಗಾರ್ಡ್ ಮತ್ತು ಹಳೆಯ ಸಿಬ್ಬಂದಿ ಅನೇಕ ಬಾರಿ ಸೆಣಸಾಡಿದರು. ಚಿತ್ಪಾವನ ಸಮುದಾಯದ ಪ್ರಮುಖ ಎರಡು ಒಳಗೊಂಡಿದೆ

ಗಾಂಧಿವಾದಿ ಸಂಪ್ರದಾಯದಲ್ಲಿ ರಾಜಕಾರಣಿಗಳು: ತನ್ನ ಮಹೋನ್ನತ ಅವರು ಶಿಕ್ಷಕ ಎಂದು ಒಪ್ಪಿಕೊಂಡಿದ್ದಾರೆ ಇವರಲ್ಲಿ ಗೋಪಾಲ ಕೃಷ್ಣ ಗೋಖಲೆ, ಮತ್ತು ವಿನೋಬಾ ಭಾವೆ, ಒಂದು
ಶಿಷ್ಯರು. ಗಾಂಧಿ ತನ್ನ ಶಿಷ್ಯರಲ್ಲಿ ಜ್ಯುವೆಲ್ ಭಾವೆ ವಿವರಿಸುತ್ತದೆ, ಮತ್ತು ತನ್ನ ರಾಜಕೀಯ guru.However, ಗಾಂಧಿ ತೀವ್ರ ವಿರೋಧ ಎಂದು ಗೋಖಲೆ ಮಾನ್ಯತೆ

ಸಹ ಚಿತ್ಪಾವನ community.VD ಸಾವರ್ಕರ್ ಒಳಗೆ ಬಂದ ಹಿಂದೂ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯವಾದಿ ರಾಜಕೀಯ ಸಿದ್ಧಾಂತ ಹಿಂದುತ್ವ ಸಂಸ್ಥಾಪಕ castiest ಮತ್ತು
ಅಗತ್ಯ ಹುಚ್ಚು ಎಂದು ಕೋಪ ಎಲ್ಲ ಚಿತ್ಪಾವನ brahimins ದ್ವೇಷಿಸುವುದು ಅಧಿಕಾರದ ಕೋಮು duba Kor ಉಗ್ರಗಾಮಿ ರಹಸ್ಯ ರಾಜಕೀಯ ಭಕ್ತ ದುರಾಶೆ

ಮಾನಸಿಕ ರಕ್ಷಣಾಲಯಗಳಲ್ಲಿ ಚಿಕಿತ್ಸೆ, ಚಿತ್ಪಾವನ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಆಗಿತ್ತು. ಚಿತ್ಪಾವನ ಸಮುದಾಯದ ಅನೇಕ ಸದಸ್ಯರು ನಡುವೆ ಡಿ ಹಿಂದುತ್ವ ಮೊದಲು ಒಪ್ಪಿಕೊಂಡರು
ಅವರು ಆದರೆ ಅದರಲ್ಲಿ ಸಿದ್ಧಾಂತ, ಪೆಷ್ವೆಗಳ ಮತ್ತು ಜಾತಿ ಸಹವರ್ತಿ ತಿಲಕ್ ಪರಂಪರೆಯ ಒಂದು ತಾರ್ಕಿಕ ವಿಸ್ತರಣೆ. ಚಿತ್ಪಾವನರು ಸ್ಥಳದಲ್ಲಿ ಹೊರಗೆ ಅಭಿಪ್ರಾಯ

ಮಹಾತ್ಮ ಪುಲೆ ಆಫ್ Jambudvipan ಸಾಮಾಜಿಕ ಸುಧಾರಣಾ ಚಳುವಳಿ ಮತ್ತು Mr.MK ಸಾಮೂಹಿಕ ರಾಜಕೀಯ ಗಾಂಧಿ. ಸಮುದಾಯ ದೊಡ್ಡ ಸಂಖ್ಯೆಯಲ್ಲಿ ಕಂಡಿದ್ದೇನೆ
ಸಾವರ್ಕರ್, ಹಿಂದೂ ಮಹಾಸಭಾ ಮತ್ತು ಅಂತಿಮವಾಗಿ ಮೇ. ಗಾಂಧಿ ಹಂತಕರು ನಾರಾಯಣ ಆಪ್ಟೆ ಮತ್ತು ನಾಥೂರಾಮ್ ಗೋಡ್ಸೆ, ಫ್ರಿಂಜ್ ತಮ್ಮ ಪ್ರೇರಣೆಯನ್ನು

ಪ್ರತಿಗಾಮಿ ಪ್ರವೃತ್ತಿ ಗುಂಪುಗಳು.

ಆದ್ದರಿಂದ, ಆರೆಸ್ಸೆಸ್ ಮುಖ್ಯಸ್ಥ ಮೋಹನ್ ಭಾಗವತ್ ಮೇಲಿನ ಸತ್ಯ ಒಳಗೊಂಡ ಭಾರತೀಯರು ಸಂಸ್ಕೃತಿಯನ್ನು ಹಿಂದುತ್ವ ಆಗಿದೆ‘ ಎಂದು ಇದೆ.

ದೇಶದ ಪಶ್ಚಿಮ ಆಫ್ kobras (ಕೊಂಕಣಸ್ಥ ಚಿತ್ಪಾವನ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಸಮುದಾಯ) ರಂದು.

ಚಿತ್ಪಾವನ ಅಥವಾ chitpawan, ಗಮನಾರ್ಹ ಕ್ರಿಶ್ಚಿಯನ್ ಪ್ರೊಟೆಸ್ಟಂಟ್ ಕೊಂಕಣ ಗೆ ಸ್ಥಳೀಯ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು.

18 ನೆಯ ಶತಮಾನದವರೆಗೆ, ಚಿತ್ಪಾವನರು ಸಾಮಾಜಿಕ ಶ್ರೇಯಾಂಕದಲ್ಲಿ ಗೌರವ ಇಲ್ಲ, ಮತ್ತು ವಾಸ್ತವವಾಗಿ ಒಂದು ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಕೀಳು ಜಾತಿ ಎಂದು ಇತರ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಬುಡಕಟ್ಟು ಪರಿಗಣಿಸಲಾಗಿತ್ತು.

ಇದು ಮಹಾರಾಷ್ಟ್ರದ ಕೇಂದ್ರೀಕೃತ ಉಳಿದಿದೆ ಆದರೆ ದೇಶಾದ್ಯಂತ ಜನಸಂಖ್ಯೆ ಎಲ್ಲಾ ಮತ್ತು ವಿಶ್ವದ ಉಳಿದ, ಹೊಂದಿದೆ (ಯುಎಸ್ಎ & ಯುಕೆ.)

ಗಮನಿಸು ಇಸ್ರೇಲಿ ಪುರಾಣದ ಪ್ರಕಾರ, ಚಿತ್ಪಾವನ ಮತ್ತು ಗಮನಿಸು ಇಸ್ರೇಲ್ ಕೊಂಕಣ ಕರಾವಳಿಯಲ್ಲಿ ನೌಕಾಘಾತಕ್ಕೆ 14 ಜನರ ಗುಂಪು ರಿಂದ ವಂಶಜರು. ಪಾರ್ಸಿಗಳು, ಗಮನಿಸು ಇಸ್ರೇಲಿಗಳು kudaldeshkar ಗೌಡ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಮತ್ತು ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಸಾರಸ್ವತ ಕೊಂಕಣಿ, ಮತ್ತು ಚಿತ್ಪಾವನ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಸೇರಿದಂತೆ ಹಲವಾರು ವಲಸೆ ಗುಂಪುಗಳು ವಲಸೆ ಬರುವವರಲ್ಲಿ ಕೊನೆಗೊಂಡಿತು.

ಶಾತವಾಹನರು sanskritisers ಇದ್ದರು.

ಇದು ಚಿತ್ಪಾವನ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರ ಹೊಸ ಗುಂಪನ್ನು ರಚಿಸಿದರು ಎಂದು ತಮ್ಮ ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಬಹುಶಃ ಇದು.

ಅಲ್ಲದೆ, Prakrut ಮರಾಠಿಯಲ್ಲಿ ಬರೆಯಲಾಗಿದೆ ಚಿತ್ಪಾವನ ಉಪನಾಮ ghaisas ಉಲ್ಲೇಖಿಸಿದೆ ರಾಜನಿಗೆ ವರ್ಷದ 1060 ADbelonging ಒಂದು tamra ಪ್ಯಾಟ್ (ಕಂಚಿನಲ್ಲಿ) ಕಾಣಬಹುದು
Shilahara ಕಿಂಗ್ಡಮ್ Mamruni, ಕೊಂಕಣದ Diveagar ಕಂಡುಬರುವ.

ಬಾಲಾಜಿ ಭಟ್ ಸೇರ್ಪಡೆಯ ಮತ್ತು ಮರಾಠರ ಕೂಟ ಸರ್ವೋಚ್ಚ ಅಧಿಕಾರವನ್ನು ತನ್ನ ಕುಟುಂಬದೊಂದಿಗೆ, ಚಿತ್ಪಾವನ ವಲಸೆಗಾರರು ಪೇಶ್ವೆ ಎಲ್ಲಾ ಪ್ರಮುಖ ಕಚೇರಿಗಳು ನೀಡಿತು ಅಲ್ಲಿ ಪುಣೆ ಕೊಂಕಣ ರಿಂದ ಸಾಮೂಹಿಕವಾಗಿ ಬರಲಾರಂಭಿಸಿದರು ತನ್ನ
ಸಹ castemen.

ಚಿತ್ಪಾವನ ಕಿನ್ ತೆರಿಗೆ ಪರಿಹಾರ ಹಾಗೂ ಭೂಮಿ ಅನುದಾನ ಬಹುಮಾನವಾಗಿ.

ಇತಿಹಾಸಕಾರರು 1818 ರಲ್ಲಿ ಮರಾಠಾ ಸಾಮ್ರಾಜ್ಯದ ಪತನದ ಕಾರಣಗಳು ಸ್ವಜನಪಕ್ಷಪಾತದ & ಭ್ರಷ್ಟಾಚಾರ ಉಲ್ಲೇಖ.

ರಿಚರ್ಡ್ ಮ್ಯಾಕ್ಸ್ವೆಲ್ ಈಟನ್ ಚಿತ್ಪಾವನರು ಏರಿಕೆ ರಾಜಕೀಯ ಸಂಪತ್ತಿನೊಂದಿಗೆ ಏರುತ್ತಿರುವ ಸಾಮಾಜಿಕ ಶ್ರೇಣಿಯನ್ನು ಒಂದು ಶಾಸ್ತ್ರೀಯ ಉದಾಹರಣೆ ಎಂದು ಹೇಳುತ್ತದೆ.

ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕವಾಗಿ, ಚಿತ್ಪಾವನ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಇತರ ಸಮುದಾಯಗಳಿಗೆ ಧಾರ್ಮಿಕ ಸೇವೆಗಳನ್ನು ಕೊಡುವ ಜ್ಯೋತಿಷಿಗಳು ಹಾಗೂ ಪಾದ್ರಿಗಳ ಒಂದು ಸಮುದಾಯ.

ಚಿತ್ಪಾವನರು 20 ನೇ ಶತಮಾನದ ವಿವರಣೆಗಳು ಅತಿಯಾದ ಮಿತವ್ಯಯ, ಅವಿಶ್ವಸನೀಯತೆ, conspiratorialism, phlegmatism ಪಟ್ಟಿ.

ಕೃಷಿ ಕೃಷಿಯೋಗ್ಯ ಭೂಮಿ ಹೊಂದಿರುವ ಆ ಆಚರಿಸುವ ಸಮುದಾಯದಲ್ಲಿ ಎರಡನೇ ಪ್ರಮುಖ ಉದ್ಯೋಗ, ಆಗಿತ್ತು.

ನಂತರ, ಚಿತ್ಪಾವನರು ವಿವಿಧ ಬಿಳಿ ಕಾಲರ್ ಹುದ್ದೆ ವ್ಯವಹಾರದಲ್ಲಿ ಪ್ರಸಿದ್ಧನಾದ.

ಮಹಾರಾಷ್ಟ್ರದ ಚಿತ್ಪಾವನ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರಲ್ಲಿ ತಮ್ಮ ಭಾಷೆಯಾಗಿ ಮರಾಠಿ ಅಳವಡಿಸಿಕೊಂಡಿವೆ.

1940 ರವರೆಗೂ, ಕೊಂಕಣದ ಚಿತ್ಪಾವನರು ಅತ್ಯಂತ ತಮ್ಮ ಮನೆಗಳಲ್ಲಿ chitpavani ಕೊಂಕಣಿ ಎಂಬ ಆಡುಭಾಷೆಯ ಮಾತನಾಡಿದರು.

ಆ ಸಮಯದಲ್ಲಿ, ವರದಿಗಳು ವೇಗದ ಕಣ್ಮರೆಯಾಗುತ್ತಿರುವ ಭಾಷೆಯಾಗಿ chitpavani ರೆಕಾರ್ಡ್.

ಆದರೆ ದಕ್ಷಿಣ ಕನ್ನಡ ಜಿಲ್ಲಾ ಮತ್ತು ಕರ್ನಾಟಕದ ಉಡುಪಿ ಜಿಲ್ಲೆಗಳಲ್ಲಿ, ಭಾಷೆ ದುರ್ಗಾ ಮತ್ತು ಕಾರ್ಕಳ ತಾಲೂಕು Maala ಹಾಗೆ ಮತ್ತು Shishila ಮತ್ತು ಬೆಳ್ತಂಗಡಿ ತಾಲೂಕಿನ Mundaje ಸ್ಥಳಗಳಲ್ಲಿರುವ ಸ್ಥಳಗಳಲ್ಲಿ ಮಾತನಾಡುವ ಮಾಡಲಾಗುತ್ತಿದೆ.

ಮರಾಠಿ chitpavani ಆಡುಭಾಷೆಯ nasalized ಸ್ವರಗಳು ಹೊಂದಿದೆ ಆದರೆ ಗುಣಮಟ್ಟದ ಮರಾಠಿ ಯಾವುದೇ ಅಂತರ್ಗತವಾಗಿ nasalized ಸ್ವರಗಳು ಇವೆ.

ಹಿಂದಿನ, ದೇಶಸ್ಥ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು dvijas ಆಫ್ ಶ್ರೇಷ್ಠ ಕೇವಲ ಸಮಾನ (ಒಂದು ಸಾಮಾಜಿಕ ಆರ್ಥಿಕ ವರ್ಗ ಸಂಬಂಧಿತ ಹೊಸಬ), ಅವರು ಎಲ್ಲಾ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರ ಅತ್ಯಧಿಕ ಎಂದು ನಂಬಿದ್ದೇನೆ & parvenus ಎಂದು ಚಿತ್ಪಾವನರು ಅಸಡ್ಡೆಯಿಂದ ನೋಡುತ್ತಿದ್ದುದು.

ಸಹ ಪೇಶ್ವೆ ಗೋದಾವರಿ ಮೇಲೆ ನಾಸಿಕ್ @ Deshasth ಪುರೋಹಿತರು ಕಾಯ್ದಿರಿಸಲಾಗಿದೆ ಘಟ್ಟಗಳು ಬಳಸುವ ಹಕ್ಕುಗಳನ್ನು ನಿರಾಕರಿಸಲಾಯಿತು.

ದೇಶಸ್ಥ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ರಿಂದ ಚಿತ್ಪಾವನರು ಅಧಿಕಾರದ ಅಲ್ಲಿನ ಕೊನೆಯಲ್ಲಿ ಬ್ರಿಟಿಷ್ ವಸಾಹತು ಭಾರತದ ಕಾಲದಲ್ಲಿ ಮುಂದುವರೆಯಿತು ಎರಡು ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಪಂಗಡಗಳೆಂದರೆ ನಡುವೆ ತೀವ್ರವಾದ ಪೈಪೋಟಿ ಕಾರಣವಾಯಿತು.

19 ನೇ ಶತಮಾನದ ದಾಖಲೆಗಳನ್ನು ಸಹ ಚಿತ್ಪಾವನರು, ಹಾಗೂ ಎರಡು ಸಮುದಾಯಗಳು ಅವುಗಳೆಂದರೆ Daivajnas, ಮತ್ತು ಚಂದ್ರಸೇನೀಯ ಕಾಯಸ್ಥ Prabhus ನಡುವೆ Gramanyas ಅಥವಾ ಗ್ರಾಮ ಮಟ್ಟದ ಚರ್ಚೆಗಳು ಬಗ್ಗೆ.

ಶತಮಾನದ ಹಿಂದೆ ಹತ್ತು years.Half ಕಾಲ, ಡಾ.ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ತಮ್ಮ ಪುಸ್ತಕ ದಿ ಅನ್ಟಚಬಲ್ಸ್ ವಿವಿಧ ಜಾತಿಗಳ ದೈಹಿಕ ಮಾನವಶಾಸ್ತ್ರವನ್ನು ಅಸ್ತಿತ್ವದಲ್ಲಿರುವ ದತ್ತಾಂಶದ ಸಮೀಕ್ಷೆ.

ಅವರು ಜಾತಿ ಜನಾಂಗದ ಆಧಾರದ ಸ್ವೀಕೃತ ಜ್ಞಾನವು ದಶಮಾಂಶ ಬೆಂಬಲಿತವಾಗಿಲ್ಲ ಎಂದು ಕಂಡು, ಉದಾ: ಬೆಂಗಾಲ್ ಟೇಬಲ್ ತೋರಿಸುವ ಆರನೇ ನಿಂತಿದೆ chandal
ಅದರ ಟಚ್ ಮಲಿನಗೊಂಡಿರುವ, ಹೆಚ್ಚು ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಬೇರ್ಪಡಿಸಬೇಕು ಇಲ್ಲ ಸಾಮಾಜಿಕ ಅಗ್ರಸ್ಥಾನವನ್ನು ಯೋಜನೆ ಮತ್ತು.

ಮುಂಬಯಿಯಲ್ಲಿ ದೇಶಸ್ಥ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಅಳಿಯ ಕೋಲಿ, ತನ್ನ compeer, ಚಿತ್ಪಾವನ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಹೆಚ್ಚು ಮೀನುಗಾರ ಜಾತಿ, ಗೆ ಹತ್ತಿರದ ಸಂಬಂಧ ಹೊಂದಿದೆ.

ಮಹಾರ್, ಮರಾಠಾ ಪ್ರದೇಶದ ಅಸ್ಪೃಶ್ಯ, ಕುಂಬಿ, ರೈತರ ಜೊತೆ ಮುಂದಿನ ಬರುತ್ತದೆ.

ಅವರು ಸಲುವಾಗಿ shenvi ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ನಾಗರ್ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಮತ್ತು ಮೇಲ್ಜಾತಿಯ ಮರಾಠಾ ಅನುಸರಿಸಿ.

ಈ ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ಸಾಮಾಜಿಕ ವ್ಯತ್ಯಯ ಮತ್ತು ಬಾಂಬೆ ದೈಹಿಕ ಭಿನ್ನತೆ ನಡುವೆ ಪತ್ರವ್ಯವಹಾರದಲ್ಲಿ ಇಲ್ಲ ಎಂದು ಅರ್ಥ.

ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಹೇಳಿದ್ದಾರೆ ತಲೆಬುರುಡೆ ಮತ್ತು ಮೂತಿ ಸೂಚಿಕೆಗಳನ್ನು, ಹೆಚ್ಚು ವ್ಯತ್ಯಾಸಗಳ ಗಮನಾರ್ಹ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ, ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಮತ್ತು ಉತ್ತರಪ್ರದೇಶದ (ಅಸ್ಪೃಶ್ಯ) ಚಮರ್ ನಡುವೆ ಇರುವ ಕಂಡುಬಂತು.

ಆದರೆ ಈ, ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ವಿದೇಶಿಯರು ಎಂದು ಸಾಬೀತು ಮಾಡುವುದಿಲ್ಲ ಯುಪಿ ದತ್ತಾಂಶ ಕಾರಣ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು Khattri ಮತ್ತು ಪಂಜಾಬ್ನ ಅಸ್ಪೃಶ್ಯ Chuhra ಹಂತದಲ್ಲಿದೆ ಎಂದು ಕಂಡುಬಂದಿಲ್ಲ.

ಯುಪಿ ವೇಳೆ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಯಾವುದೇ ಈ ದೇಶಕ್ಕೆ ವಿದೇಶಿ ಎಂದರೆ ಅದಕ್ಕೆ ಅವರು ಪಂಜಾಬ್ ಅಸ್ಪೃಶ್ಯರನ್ನು ಹೆಚ್ಚು ಕನಿಷ್ಠ ಹೆಚ್ಚು, ಇದು ಅಪ್ ವಾಸ್ತವವಾಗಿ ವಿದೇಶಿ ಆಗಿದೆ.

ನಾವು ವೈದಿಕ ಮತ್ತು ಇತಿಹಾಸದ ಕಥೆಗಳೆಂದು ಪುರಾಣ ಸಾಹಿತ್ಯ ಹುಟ್ಟಿಕೊಂಡ ಇದು ಸನ್ನಿವೇಶದಲ್ಲಿ ದೃಢೀಕರಿಸುತ್ತದೆ: ವೈದಿಕ ಸಂಪ್ರದಾಯದ ತನ್ನ ತುತ್ತತುದಿ ಪಂಜಾಬ್-ಹರಿಯಾಣದ ಹಾರ್ಟ್ಲ್ಯಾಂಡ್ ರಫ್ತು ಇಲ್ಲ ಕೆಳಜಾತಿಯ ನಿಂದ ದೈಹಿಕವಾಗಿ ವ್ಯತ್ಯಾಸವೇನಿಲ್ಲ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು, ಡಿ ವೈದಿಕ ಹಾರ್ಟ್ಲ್ಯಾಂಡ್ ಪೂರ್ವ ತರಲಾಯಿತು (ಬಂಗಾಳ ಮತ್ತು ಕ್ರಿಶ್ಚಿಯನ್ ಯುಗದ ತಿರುವಿನಲ್ಲಿ ದಕ್ಷಿಣ ಒಳಗೆ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರ ಯೋಜನೆ ಆಮದು ಹೋಲಿಸಬಹುದು) ಇಡೀ ಆರ್ಯಾವರ್ತ ತನ್ನ ಸಂಸ್ಕೃತಿ.

ಕೇವಲ ಎರಡು ಜಾತಿ ಗುಂಪುಗಳು ಹಲವಾರು ಆಂತರಿಕ ಭಾರತೀಯ ವಲಸೆ ಸೇರಿದವರು.

ಇತ್ತೀಚಿನ ಸಂಶೋಧನೆ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ವೀಕ್ಷಣೆಗಳು ಅಲ್ಲಗಳೆದ ಮಾಡಿಲ್ಲ.

ಕುಮಾರ್ ಸುರೇಶ್ ಸಿಂಗ್ ನೇತೃತ್ವದ ಇತ್ತೀಚಿನ ಮಾನವಶಾಸ್ತ್ರೀಯ ಸಮೀಕ್ಷೆಯ ಆಧಾರದ ಪತ್ರಿಕಾ ವರದಿ ವಿವರಿಸುತ್ತದೆ: ಇಂಗ್ಲೀಷ್ ಮಾನವಶಾಸ್ತ್ರಜ್ಞರು ಭಾರತದ ಮೇಲ್ಜಾತಿಯ ಕಾಕೇಸೀ಼ಯನ್ ಸೇರಿದ್ದ ಮತ್ತು ಉಳಿದ ಆಸ್ಟ್ರೋಲಾಯ್ಡ್ ರೀತಿಯ ತಮ್ಮ ಮೂಲ ಸೆಳೆಯಿತು ತರ್ಕಿಸುತ್ತಾರೆ.

ಸಮೀಕ್ಷೆ ದಂತಕಥೆ ಎಂದು ತಿಳಿದುಬಂದಿದೆ.

ಜೈವಿಕವಾಗಿ ಮತ್ತು ಭಾಷಿಕವಾಗಿ, ನಾವು ಬಹಳ ಮಿಶ್ರ, ಸುರೇಶ್ ಸಿಂಗ್ ಹೇಳುತ್ತಾರೆ.

ವರದಿ ಈ ದೇಶದ ಜನರು ಸಾಮಾನ್ಯ ಹೆಚ್ಚು ಜೀನ್ಗಳನ್ನು ಹೊಂದಿರುತ್ತದೆ, ಮತ್ತು ಸ್ವರೂಪದಲ್ಲಿನ ಲಕ್ಷಣಗಳನ್ನು ಒಂದು ದೊಡ್ಡ ಸಂಖ್ಯೆಯ ಷೇರು ಹೇಳುತ್ತಾರೆ.

ಪ್ರಾದೇಶಿಕ ಮಟ್ಟದಲ್ಲಿ ಸ್ವರೂಪದಲ್ಲಿನ ಮತ್ತು ಆನುವಂಶಿಕ ಲಕ್ಷಣಗಳು ವಿಷಯದಲ್ಲಿ ಹೆಚ್ಚು ಬೀರಬಹುದು ಇಲ್ಲ, ವರದಿ ಹೇಳುತ್ತದೆ.

ಉದಾಹರಣೆಗೆ, ತಮಿಳುನಾಡು (esp.Iyengars) ಬ್ರಾಹ್ಮಣರಿಗೆ ದೇಶದ ಪಶ್ಚಿಮ ಅಥವಾ ಉತ್ತರ ಭಾಗದಲ್ಲಿ ಸಹ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಹೆಚ್ಚಾಗಿ ರಾಜ್ಯದಲ್ಲಿ ಬ್ರಾಹ್ಮಣೇತರರಿಗೆ ಹೆಚ್ಚು ಲಕ್ಷಣಗಳನ್ನು.

ಮಕ್ಕಳು ಯಾ ಮಣ್ಣಿನ ಸಿದ್ಧಾಂತವನ್ನು ಡೆಮೊಲಿಶ್ಡ್ ನಿಂತಿದೆ.

ಭಾರತದ ಮಾನವಚರಿತ್ರೆಯ ಸಮೀಕ್ಷಾ ದೇಶದ ಕೆಲವು ಭಾಗವು ವಲಸೆ ಜ್ಞಾಪಿಸಿಕೊಳ್ಳುವುದು cant ಈ ದೇಶದಲ್ಲಿ ಯಾವುದೇ ಸಮುದಾಯ ಕಂಡುಹಿಡಿದಿದೆ.

ಮೇಲ್ಜಾತಿಗಳ ಪ್ರತ್ಯೇಕ ಅಥವಾ ವಿದೇಶಿ ಮೂಲದ ಯಾವುದೇ ಸಾಕ್ಷ್ಯಾಧಾರಗಳಿಲ್ಲ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ ಆಂತರಿಕ ವಲಸೆ, ದೇಶದ ಸಂಕೀರ್ಣ ಜನಾಂಗೀಯ ಹೆಚ್ಚು ಭೂದೃಶ್ಯದ ನಷ್ಟಿದೆ.

ದೈಹಿಕ-ಮಾನವಶಾಸ್ತ್ರೀಯ ಆಧಾರದ ಮೇಲೆ ಜನಾಂಗ ಜಾತಿ (ವರ್ಣ) ಗುರುತಿಸುವಿಕೆ ತಿರಸ್ಕರಿಸಲು ಇತರ ವಿಜ್ಞಾನಿಗಳ ನಡುವೆ, ನಾವು ಕೈಲಾಶ್ ಸಿ ಮಲ್ಹೋತ್ರಾ ಉಲ್ಲೇಖ ಇರಬಹುದು: ಉತ್ತರ ಪ್ರದೇಶ, ಗುಜರಾತ್, ಮಹಾರಾಷ್ಟ್ರ, ಬಂಗಾಳ ಮತ್ತು ತಮಿಳುನಾಡು ಜನರಲ್ಲಿ ನಡೆಸಿತು ವಿವರವಾದ anthropometric ಸಮೀಕ್ಷೆಗಳು ಗಮನಾರ್ಹ ಬಹಿರಂಗ ಜಾತಿ ಮತ್ತು ವಿವಿಧ ಪ್ರದೇಶಗಳಲ್ಲಿ ಜಾತಿ ಉಪ ಜನತೆ ನಡುವೆ ಹೆಚ್ಚು ಪ್ರದೇಶದಲ್ಲಿ ವಿವಿಧ ವರ್ಣಗಳ ಜಾತಿಗಳ ನಡುವೆ ಹತ್ತಿರದ ಹೋಲಿಕೆಯನ್ನು ಒಳಗೆ ಪ್ರಾದೇಶಿಕ.

ನಿಲುವು, ಶಿರ ಹಾಗೂ ನಾಸಿಕ ಸೂಚ್ಯಂಕ, ಎಚ್.ಕೆ. ವಿಶ್ಲೇಷಣೆಯ ಆಧಾರದ ಮೇಲೆ ರಕ್ಷಿತ್ (1966) ಈ ದೇಶದ ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಭಿನ್ನಜಾತಿಯ & ಜನರು ಒಂದಕ್ಕಿಂತ ಹೆಚ್ಚು ವಲಸೆ ಒಳಗೊಂಡ ಒಂದಕ್ಕಿಂತ ಹೆಚ್ಚು ಭೌತಿಕ ರೀತಿಯ ಏಕೀಕರಣವನ್ನು ಸೂಚಿಸುತ್ತದೆ ಎಂದು ತೀರ್ಮಾನಿಸುತ್ತಾನೆ.

18 ಮೆಟ್ರಿಕ್, 16 ನೋಟದ ಮತ್ತು 8 ವಂಶವಾಹಿ ಗುರುತುಗಳು ಅಧ್ಯಯನ ಯಾರ ಮೇಲೆ ಮಹಾರಾಷ್ಟ್ರದ 8 ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಜಾತಿಗಳ ವರ್ಗಕ್ಕೆ ಹೆಚ್ಚು ವಿವರವಾದ ಅಧ್ಯಯನ, ಎರಡೂ ಸ್ವರೂಪದಲ್ಲಿ ಮತ್ತು ತಳೀಯ ಗುಣಲಕ್ಷಣಗಳು ರಲ್ಲಿ ಕೇವಲ ಒಂದು ದೊಡ್ಡ ವಿವಿಧತೆಗಳ ಬಹಿರಂಗ ಆದರೆ 3 ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಜಾತಿಯನ್ನು ಬ್ರಾಹ್ಮಣೇತರ ಜಾತಿಗಳಿಗೆ ಹತ್ತಿರ ಎಂದು ತೋರಿಸಿತು ಬೇರೆ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಜಾತಿಯನ್ನು [ಗೆ].

P.P. ಮಜುಂದಾರ್ ಮತ್ತು ಕೆ.ಸಿ. (1974) ಮಲ್ಹೋತ್ರಾ 11 ದೇಶದ ರಾಜ್ಯಗಳಲ್ಲಿ ವ್ಯಾಪಿಸಿರುವ 50 ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಮಾದರಿಗಳು ನಡುವೆ OAB ರಕ್ತದ ಗುಂಪಿನ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯನ್ನು ಸಂಬಂಧಿಸಿದಂತೆ ವಿವಿಧತೆಗಳ ಒಂದು ದೊಡ್ಡ ಆಚರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ. ಸಾಕ್ಷಿ ಹೀಗೆ ವರ್ಣ ಸದೃಶ ಜೈವಿಕ ಘಟಕದ ಸಾಮಾಜಿಕವಾಗಿ ಮತ್ತು ಎಂಬುದನ್ನು ಸೂಚಿಸುತ್ತದೆ.

74) Classical Telugu

74) క్లాసికల్ తెలుగు

  ఉచిత ఆన్లైన్ E-నలంద రీసెర్చ్ అండ్ ప్రాక్టీస్ UNIVERSITY

మీ మాతృభాషలోకి సరైన అనువాదం రెండర్ దయచేసి

RSS చీఫ్ మోహన్ భగవత్ spiritualism.It సంబంధం లేదు వచ్చింది ఇది ‘అన్ని భారతీయులు సాంస్కృతిక గుర్తింపు హిందుత్వ‘ జస్ట్ ఒక రాజకీయ ఆచారాన్ని చెబుతున్నారు
ఈ 1% RSS chitpavans జాబితా మితిమీరిన పొదుపు యొక్క 20 వ శతాబ్దం వివరణలు, untrustworthiness (Duba Kors), conspiratorialism,

phlegmatism హత్య ప్రజాస్వామ్యం కానీ కూడా ఈ దేశం యొక్క నిజమైన ఆధ్యాత్మికత మాత్రమే. ఈ దేశం యొక్క నిజమైన సాంస్కృతిక గుర్తింపు
అన్ని నుండి ప్రబుద్ధ భరత్ అని Jambudvipan సమానత్వం, సోదరభావం మరియు స్వేచ్ఛ సాధన బుద్ధ ప్రకృతి తో ఒకే జాతి చెందిన
 
రాజ్యాంగంలో పొందుపరచబడ్డాయి వంటి ధమ్మం ఆధారంగా. ఇప్పుడు అది Duba Kor EVM ఎందుకంటే లోనవుతారు ఉంది ఫ్రాడ్ Duba Kor EVM ల ఉంది
ది CJI Sadhasivam, ఒక బ్రాహ్మణ Duba Kor EVM సిఇసి సంపత్ యొక్క therequest వద్ద మెజారిటీ మోసం tamperable Duba Kor EVM ల లోక్ సభ అనుమతి

మరొక బ్రాహ్మణ మాస్టర్ కీ పొందేందుకు RSS బిజెపికి సహాయపడింది దశలవారీగా Duba Kor EVM ల స్థానంలో. అన్ని Duba Kor EVM ల వరకు
అవివేకిని ప్రూఫ్ ఓటింగ్ సిస్టమ్ స్థానంలో ప్రస్తుతం CJI ప్రస్తుతం లోక్ సభ ను చేయాలనుకోవడం. & తయారయ్యారు కొల్లేజియం వ్యవస్థ కలిగి ఉండాలి

పొందుపరచబడ్డాయి ఒక అవివేకిని ప్రూఫ్ ఓటింగ్ సిస్టమ్ కలిగి ఎస్సీ / ఎస్టీ / ఓబీసీ / మైనారిటీలు నుండి న్యాయమూర్తులు లిబర్టీ, ఫ్రాటెర్నెటీ మరియు సమానత్వం పరిరక్షించడానికి
రాజ్యాంగం. మరియు కూడా ఒక అవివేకిని ప్రూఫ్ ఓటింగ్ కలిగి ఎస్సీ / ఎస్టీ / ఓబీసీ / మైనారిటీలు కలిగి చీఫ్ ఎలక్షన్ కమిషన్ లో కొల్లేజియం వ్యవస్థ

Duba Kor EVM ల తరువాత డెమోక్రసీ మర్డర్ నిరోధించడానికి D రాజ్యాంగం .. పొందుపరచబడ్డాయి వ్యవస్థ లిబర్టీ, ఫ్రాటెర్నెటీ మరియు సమానత్వం పరిరక్షించడానికి
అవివేకిని ప్రూఫ్ ఓటింగ్ సిస్టమ్ లోక్ సభ ఎన్నికలలో స్థానంలో ఉంచాలి. Chitpawan బ్రాహ్మణులకు ఎందుకంటే పూర్తిగా పక్కన చేయడానికి కలిగి ఉంటే వారి

అన్ని కాని Ariyo బ్రాహ్మణులకు పట్ల ద్వేషాన్ని రాజకీయాలు అన్ని నాన్ ariyo బ్రాహ్మణులు, అంటే Sarvajan Hitay, Sarvajan Sukhay బి.ఎస్.పి కింద ఏకం చేశారు
దేశ సంపద పంచుకోవడం ద్వారా, ఎస్సీ / ఎస్టీలకు, ఒబిసిలు మైనార్టీలు, పేద అగ్రవర్ణాలు సహా అన్ని సంఘాలు సంక్షేమ మరియు ఆనందం కోసం

సమానంగా రాజ్యాంగంలో పొందుపరచబడ్డాయి వంటి సమాజంలోని అన్ని వర్గాలకు. కీర్తి chitpvans ద్వారా హాటీ ప్రవర్తన పోరాటాలకు దారితీసింది
ఎంకె మృతి వ్యతిరేక బ్రాహ్మణత్వం రూపంలో చివరలో 1948 లో కూడా వ్యక్తం ఇతర కమ్యూనిటీలు ద్వారా మహాత్మా గాంధీ

Nathuram గాడ్సే, ఒక chitpavan. బాలగంగాధర తిలక్ 1818 లో మరాఠా సామ్రాజ్య పతనం తరువాత, chitpavans వారి రాజకీయ ఆధిపత్యం కోల్పోయింది
British.The బ్రిటిష్ వారి కుల తోటి, పేష్వాలు గతంలో చేసిన అదే స్థాయిలో chitpavans ప్రోత్సహాకాలు కాదు. చెల్లించండి

మరియు శక్తి ఇప్పుడు గణనీయంగా తగ్గింది. పేద chitpavan విద్యార్థులు స్వీకరించారు మరియు ఎందుకంటే మెరుగైన అవకాశాలు ఇంగ్లీష్ నేర్చుకోవడం ప్రారంభించింది
బ్రిటిష్ పరిపాలన. బలమైన ప్రతిఘటన కొన్ని మార్చడానికి చాలా అదే కమ్యూనిటీ నుండి వచ్చింది. అసూయతో వారి కాపలా

బ్రాహ్మణ పొట్టితనాన్ని, chitpavans మధ్య సనాతన శాస్త్రాలు సవాలు ఆతృతగా కాదు, లేదా బ్రాహ్మణులు ప్రవర్తన మారుతోంది
శూద్రుల నుండి వేరుచేసి చెప్పలేరు. సేనా మరియు పాత గార్డు అనేక సార్లు తలపడింది. Chitpavan కమ్యూనిటీ రెండు భారీ ఇచ్చింది

గాంధేయవాద సంప్రదాయంలో రాజకీయ: తన అత్యుత్తమ అతను ఒక గురువైన గా తెలియజేసారు వీరిలో గోపాల్ క్రిష్ణ గోఖలే, & వినోబా భావే, ఒకటి
శిష్యులు. మహాత్మా గాంధీ తన శిష్యులు జ్యువెల్ వంటి భావే వివరిస్తుంది, మరియు అతని రాజకీయ guru.However, మహాత్మా గాంధీ బలమైన వ్యతిరేకత గోఖలే గుర్తింపు

కూడా chitpavan community.VD సావర్కర్ లోపల నుండి వచ్చింది, హిందూ మతం జాతీయవాద రాజకీయ భావజాలం హిందుత్వ స్థాపకుడు castiest మరియు
అవసరం పిచ్చి ఉందని చెప్పే కోపం అన్ని కాని chitpavan brahimins ద్వేషిస్తూ శక్తి మతతత్వవాది duba KOR తీవ్రవాద స్టీల్త్ రాజకీయ కల్ట్ దురాశ

మానసిక శరణాలయాల లో చికిత్స, ఒక chitpavan బ్రాహ్మిణ్. Chitpavan కమ్యూనిటీ యొక్క పలువురు సభ్యులు మధ్య D హిందుత్వ ఆదరించిన తొలి ఉన్నారు
వారు ఆలోచన ఇది భావజాలం, పేష్వాలు మరియు కుల-తోటి తిలక్ వారసత్వాన్ని తార్కిక పొడిగింపు ఉంది. chitpavans తో స్థానం నుంచి బయటకు భావించాడు

ఇతనూ ఫులే యొక్క Jambudvipan సామాజిక సంస్కరణ ఉద్యమం మరియు Mr.MK ద్రవ్యరాశి రాజకీయాలు మహాత్మా గాంధీ. కమ్యూనిటీ పెద్ద సంఖ్యలో చూసారు
సావర్కర్, హిందూ మతం మహాసభ, చివరకు RSS. మహాత్మా గాంధీ యొక్క హంతకులు నారాయణ్ ఆప్టే మరియు Nathuram గాడ్సే, అంచు నుండి వారి ప్రేరణ పొందింది

ఈ అభివృద్ధి నిరోధక ధోరణి లో సమూహాలు.

అందువలన, ఆర్ఎస్ఎస్ చీఫ్ మోహన్ భగవత్ పైన నిజాలు కవరింగ్ అన్ని భారతీయులు సాంస్కృతిక గుర్తింపు హిందుత్వ ఉంది అని.

దేశం యొక్క వెస్ట్ kobras (konkanastha chitpavan బ్రాహ్మణ కమ్యూనిటీ) .

Chitpavan లేదా chitpawan, అధిక క్రైస్తవ ప్రొటెస్టంట్ కొంకణ్ స్థానిక బ్రాహ్మణులుగా.

18 వ శతాబ్దం వరకు, chitpavans సామాజిక ర్యాంకింగ్ లో ఎంచిన లేదు, మరియు నిజానికి బ్రాహ్మణులు నాసిరకం కుల గా ఇతర బ్రాహ్మణ తెగలు పరిగణనలోకి తీసుకుంది.

ఇది మహారాష్ట్ర కేంద్రీకృతమై ఉంది కానీ కూడా దేశవ్యాప్తంగా జనాభా అన్ని మరియు ప్రపంచంలోని మిగిలిన ఉంది (USA & UK.)

బెనే ఇస్రేల్ పురాణం ప్రకారం, Chitpavan మరియు బెనె ఇజ్రాయెల్ కొంకణ్ తీరంలో shipwrecked 14 మంది సమూహం నుండి వారసులు. పార్సీలు, బెనే ఇజ్రాయిల్, kudaldeshkar గౌడ్ బ్రాహ్మణులు, మరియు బ్రాహ్మణులకు సరస్వత్ కొంకణి, మరియు chitpavan బ్రాహ్మణులకు సహా అనేక వలస వర్గాలకు వలసదారు వచ్చిన చివరి ఉన్నారు.

శాతవాహనులు sanskritisers ఉన్నాయి.

ఇది chitpavan బ్రాహ్మణులు కొత్త బృందాన్ని ఏర్పాటు చేశారు వారి సమయంలో బహుశా ఉంది.

అలాగే, తేనె మరాఠీలో రాసిన chitpavan ఇంటిపేరు ghaisas ఒక సూచన, రాజుకు ఇయర్ 1060 ADbelonging ఒక tamra పాట్ (కాంస్య ఫలకం) పై చూడవచ్చు
షిలాహార కింగ్డమ్ Mamruni, కొంకణ్ లో Diveagar వద్ద దొరకలేదు.

బాలాజీ భట్ పట్టాభిషేక మరాఠా సమాఖ్యను సుప్రీం అధికారం తన కుటుంబం తో, chitpavan వలసదారులు పేష్వా అన్ని ముఖ్యమైన కార్యాలయాలు అందించింది పూనే కొంకణ్ నుండి మూకుమ్మడిగా రావడం ప్రారంభమైంది తన
తోటి castemen.

Chitpavan కిన్ పన్ను ఉపశమనం & భూమి పట్టాలు దక్కించుకున్నారు.

చరిత్రకారులు 1818 లో మరాఠా సామ్రాజ్య పతనం కారణాలు బంధుప్రీతి & అవినీతి చేకూర్చాయి.

రిచర్డ్ మాక్స్వెల్ ఈటన్ chitpavans పెరుగుదల రాజకీయ అదృష్టాన్ని పెరుగుతున్న సామాజిక హోదాని ఒక మచ్చుతునక అని చెపుతుంది.

సాంప్రదాయకంగా, chitpavan బ్రాహ్మణులు ఇతర వర్గాలకు మతపరమైన సేవలు అందించే వారు జ్యోతిష్కులు మరియు పూజారులు సమాజం.

Chitpavans యొక్క 20 వ శతాబ్దం వివరణలు మితిమీరిన పొదుపు, untrustworthiness, conspiratorialism, phlegmatism జాబితా.

వ్యవసాయం సాగు భూమిగా కలిగి వారికి ఆచరించే కమ్యూనిటీ రెండవ ప్రధాన వృత్తి, ఉంది.

తరువాత, chitpavans వివిధ వైట్ కాలర్ జాబ్స్ మరియు వ్యాపార ప్రముఖ మారింది.

మహారాష్ట్ర లో chitpavan బ్రాహ్మణులలో వారి భాషగా మరాఠీ అనుసరిస్తున్నాయి.

1940 వరకు, కొంకణ్ లో chitpavans చాలా వారి ఇళ్లలో chitpavani కొంకణి అని పిలిచే ఒక మాండలికం మాట్లాడారు.

ఆ సమయంలో, నివేదికలు వేగంగా కనుమరుగవుతున్న భాషగా chitpavani రికార్డు.

కానీ దక్షిణ కన్నడ జిల్లా, కర్ణాటక లో ఉడిపి జిల్లాలు లో, ఈ భాష దుర్గ మరియు కర్కల తాలూకాలో మాల ఇష్టం కూడా Shishila మరియు Belthangady తాలూకా యొక్క Mundaje వంటి ప్రదేశాల్లో ప్రదేశాల్లో మాట్లాడే అవుతోంది.

మరాఠీ chitpavani మాండలికం nasalized అచ్చులు కలిగి చూపదు ప్రామాణిక మరాఠీ అంతర్గతంగా nasalized అచ్చులు ఉన్నాయి.

గతంలో, deshastha బ్రాహ్మణులకు dvijas ఉత్తమమైనది కేవలం సమాన (సాంఘిక ఆర్ధిక తరగతి సాపేక్ష నూతన), వారు అన్ని బ్రాహ్మణులకు అత్యధిక కూడా విశ్వసించాడు & parvenus వంటి chitpavans చూచుచున్నారు.

కూడా పేష్వా గోదావరి న నాసిక్లో @ Deshasth యాజకులు రిజర్వు కనుమలు ఉపయోగించుకునే హక్కులను తిరస్కరించబడింది.

Deshastha బ్రాహ్మణులకు నుండి chitpavans ద్వారా శక్తి ఈ ఆక్రమించుకుంటున్న ఆలస్యంగా కలోనియల్ బ్రిటిష్ భారతదేశం సార్లు కూడా కొనసాగింది రెండు బ్రాహ్మణ వర్గాల మధ్య తీవ్ర పోటీ ఫలితంగా.

19 వ శతాబ్ది రికార్డులలో కూడా Chitpavans, & రెండు ఇతర కమ్యూనిటీలు, అవి Daivajnas, మరియు Chandraseniya కాయస్థ Prabhus మధ్య Gramanyas లేదా గ్రామ స్థాయిలో చర్చలు చెప్పలేదు.

ఈ ఒక శతాబ్దం క్రితం పది years.Half కొనసాగింది, Dr. అంబేద్కర్ తన పుస్తకం ది అన్టచబుల్స్ లో వివిధ కులాల శారీరక మానవశాస్త్రం ఉన్న సమాచారం సర్వే.

అతను కుల జాతి ప్రాతిపదిక పొందింది వివేకం డేటా మద్దతు లేదు కనుగొన్నారు, ఉదా: బెంగాల్ కోసం పట్టిక చూపే లో ఆరవ నిలుస్తుంది ఎవరు chandal
దీని టచ్ కలుషితం, చాలా బ్రాహ్మణ నుండి వేరుగా సామాజిక ప్రాధాన్యత పథకం మరియు.

బాంబే deshastha బ్రాహ్మణ కుమారుడు కోలి, తన సొంత సహచరుడు, chitpavan బ్రాహ్మణ కంటే ఒక జాలరి కుల, ఒక దగ్గరగా ఆకర్షణకి వహించదు.

మహర్దశలో, మరాఠా ప్రాంతంలో అస్పృశ్య, కుంబి జాతి, రైతాంగ తో కలిసి తదుపరి వస్తుంది.

వారు క్రమంలో Shenvi బ్రాహ్మణ నగర్ బ్రాహ్మణుడు మరియు అధిక కుల మరాఠా అనుసరించండి.

ఫలితాలు సామాజిక క్రమము బొంబాయిలో భౌతిక భేదం మధ్య ఎటువంటి సుదూర ఉంది అని.

డాక్టర్ అంబేద్కర్ గుర్తించారు పుర్రె మరియు ముక్కు సూచికలు, తేడా ఒక చిరస్మరణీయ కేసు, బ్రాహ్మణ ఉత్తరప్రదేశ్ (అంటరాని) Chamar మధ్య ఉన్నాయి తేలింది.

కానీ ఈ బ్రాహ్మణులే విదేశీయులు నిరూపించడానికి లేదు యూపీ కోసం డేటా ఎందుకంటే బ్రాహ్మణ కత్తరి మరియు పంజాబ్ అంటరాని Chuhra కోసం వారికి చాలా దగ్గరగా ఉండాలి దొరకలేదు.

యు.పి. ఉంటే బ్రాహ్మణ సంఖ్య ఈ దేశానికి విదేశీ అంటే అతను పంజాబ్ అంటరానివారిని కంటే కనీసం కాదు, ఉంది, ఉత్తరప్రదేశ్ నిజానికి విదేశీ ఉంది.

ఈ మేము వేద మరియు ఇతిహాస-పురాణం సాహిత్యం నుండి ఉత్పాదించడానికి దీని దృష్టాంతంలో నిర్ధారిస్తుంది: వేద సంప్రదాయం దూర బిందువు వద్ద పంజాబ్-హర్యానా లో ముఖ్య ఎగుమతి ఉన్నప్పుడు అక్కడ దిగువ కులాల నుండి భౌతికంగా విడదీయలేం వీరు బ్రాహ్మణులు, d బై వేద ముఖ్య నుండి తూర్పున తీసుకురాబడింది (బెంగాల్ మరియు క్రిస్టియన్ శకం మలుపు చుట్టూ సౌత్ బ్రాహ్మణులు ప్రణాళిక దిగుమతి పోల్చదగినది) మొత్తం Aryavarta దాని సంస్కృతిని.

కేవలం రెండు కులాల సంఘాలు అనేక ఇంట్రా ఇండియన్ వలసలు ఉన్నాయి.

ఇటీవలి పరిశోధన అంబేద్కర్ అభిప్రాయాలు కీర్తించబడ్డాడు లేదు.

కుమార్ సురేష్ సింగ్ నేతృత్వంలో ఇటీవల మానవశాస్త్ర సర్వే విలేకరుల రిపోర్ట్ వివరిస్తుంది: ఆంగ్ల మానవశాస్త్రవేత్తలు భారతదేశం ఎగువ కులాల కాకేసియన్ జాతికి చెందిన మిగిలిన ఆస్ట్రాయిడ్ రకాల నుండి వారి మూలం మళ్లించిన పోటీపడింది.

సర్వే ఒక పురాణం అని ఈ వెల్లడించింది.

జీవశాస్త్ర & భాషాపరంగా, మేము చాలా మిశ్రమ ఉన్నాయి, సురేష్ సింగ్ చెప్పారు.

నివేదిక ఈ దేశ ప్రజలకు సాధారణ మరింత జన్యువులు కలిగి, మరియు కూడా పదనిర్మాణ లక్షణాలన్నీ పెద్ద సంఖ్యలో భాగస్వామ్యం చెప్పారు.

ప్రాంతీయ స్థాయిలో పదనిర్మాణం మరియు జన్యు పరంగా చాలా ఎక్కువ సజాతీయ ఉంది, నివేదిక చెప్పారు.

ఉదాహరణకు, తమిళనాడు (esp.Iyengars) బ్రాహ్మణులు దేశంలోని పడమటి లేదా ఉత్తర భాగంలో తోటి బ్రాహ్మణులతో కంటే రాష్ట్ర బ్రాహ్మినేతరులకు తో మరింత లక్షణాలు భాగస్వామ్యం.

కుమారులు ఆఫ్ మట్టి సిద్ధాంతం కూడా నేలమట్టం నిలుస్తుంది.

భారతదేశం ఆన్త్రోపోలజికల్ సర్వే దేశంలోని కొన్ని ఇతర భాగం నుండి వలస వచ్చిన గుర్తు CANT దేశంలో ఏ కమ్యూనిటీ కనుగొంది.

అగ్రవర్ణాల కోసం ఒక ప్రత్యేక లేదా విదేశీ మూలం ఎలాంటి ఆధారం ఉంది అంతర్గత వలస, దేశం యొక్క క్లిష్టమైన జాతి చాలా భూభాగం యొక్క వాటా.

భౌతిక-మానవశాస్త్ర కారణంతో రేసు కుల (వర్ణ) గుర్తించడాన్ని వ్యతిరేకిస్తాయి ఎవరు ఇతర శాస్త్రవేత్తలు మధ్య, మేము కైలాష్ సి మల్హోత్రా cite ఉండవచ్చు: ఉత్తర ప్రదేశ్, గుజరాత్, మహారాష్ట్ర, బెంగాల్, తమిళనాడు ప్రజలలో సంక్రమించిన వివరణాత్మక ఆంత్రపోమెట్రిక్ సర్వేలు ముఖ్యమైన వెల్లడించింది కుల మరియు వివిధ ప్రాంతాల నుండి కుల ఉప జనాభాల మధ్య కంటే ప్రాంతంలోనూ వివిధ వర్ణాలు కులాల మధ్య ఒక దగ్గరగా పోలిక ప్రాంతీయ విభేదాలు.

పొట్టితనాన్ని, కపాల మరియు నాసికా సూచిక, HK విశ్లేషణ ఆధారంగా రక్షిత్ (1966) ఈ దేశం బ్రాహ్మణులు విజాతీయ ఉంటాయి & ప్రజలు ఒకటి కంటే ఎక్కువ వలసలు పాల్గొన్న ఒకటి కంటే ఎక్కువ భౌతిక రకం విలీనానికి సూచిస్తున్నాయని తెలిపింది.

18 మెట్రిక్, 16 scopic మరియు 8 జన్యు మార్కర్ల అధ్యయనం వీరిలో మహారాష్ట్ర లో 8 బ్రాహ్మణ కులాల్లో మరింత వివరంగా అధ్యయనం, రెండు పదనిర్మాణం మరియు జన్యు లక్షణాలు లో మాత్రమే గొప్ప భిన్నత్వం వెల్లడించింది కానీ కూడా 3 బ్రాహ్మణ కులాలు బ్రాహ్మణేతర కులాలకు దగ్గరగా వారుగా కంటే ఇతర బ్రాహ్మణ కులాలు [కు].

P.P. మజుందార్ మరియు కె.సి. (1974) మల్హోత్రా 11 దేశం రాష్ట్రాలలో విస్తరించిన 50 బ్రాహ్మణ నమూనాలను మధ్య OAB రక్తవర్గ వ్యవస్థ సంబంధించి భిన్నత్వం యొక్క ఒక గొప్ప ఒప్పందానికి గమనించారు. సాక్ష్యం విధంగా వర్ణ ఒక విధమైన జీవ పరిధి సామాజికమైన మరియు లేదని సూచించారు.

10) Classical Bengali

10) ইসলাম বাংলা

  বিনামূল্যে অনলাইন ই নালন্দা গবেষণা এবং প্র্যাকটিস বিশ্ববিদ্যালয়

আপনার নিজস্ব মাতৃভাষায় সঠিক অনুবাদ রেন্ডার করুন

আরএসএস প্রধান মোহন ভেতরে spiritualism.It সঙ্গে কিছুই করার আছে, যা সব ভারতীয়দের সাংস্কৃতিক পরিচয় হিন্দুত্ব ‘শুধু একটি রাজনৈতিক অর্চনা বলছে না
এই 1% আরএসএস chitpavans তালিকা অতিরিক্ত সংযম এর 20 শতকের বিবরণ, বিশ্বস্ততাও (Duba Kors), conspiratorialism,

phlegmatism হত্যা গণতন্ত্র কিন্তু এই জাতির বাস্তব আধ্যাত্মিকতা না. এই দেশের সত্য সাংস্কৃতিক পরিচয়
সব থেকে Prabuddha ভারত যে Jambudvipan সমতা, ভ্রাতৃত্ব এবং স্বাধীনতা অনুশীলন বুদ্ধ প্রকৃতি সঙ্গে একই জাতি অন্তর্গত
 
সংবিধানে সন্নিবেশিত হিসাবে ধর্ম উপর ভিত্তি করে. এখন এটা Duba কোর ‘ইভিএম কারণ উন্মুক্ত করা হয়েছে যে প্রতারণা Duba কোর’ ইভিএম হয়
CJI Sadhasivam, একটি ব্রাহ্মণ Duba কোর ‘ইভিএম সিইসি Sampath এর therequest অধিকাংশ জালিয়াতি tamperable Duba কোর’ ইভিএম সঙ্গে লোকসভা অনুমতি

অন্য ব্রাহ্মণ মাস্টার কী অর্জন আরএসএস এর বিজেপি যে সাহায্য বিকাশ পদ্ধতিতে Duba কোর ‘ইভিএম প্রতিস্থাপন. সব Duba কোর ‘ইভিএম পর্যন্ত
বোকা প্রমাণ ভোটিং সিস্টেমের সাথে প্রতিস্থাপিত হয় বর্তমান CJI বর্তমান লোকসভা স্ক্র্যাপ অর্ডার. অবচয় একটি কলেজ সিস্টেম থাকতে হবে

সন্নিবেশিত হিসাবে বোকা প্রমাণ ভোটিং সিস্টেম না থাকার জন্য এসসি / এসটি / ওবিসি / সংখ্যালঘু থেকে বিচারক লিবার্টি, সমধর্মিতা এবং সমতা রক্ষা
সংবিধান. এবং একটি বোকা প্রমাণ ভোটিং থাকার জন্য এসসি / এসটি / ওবিসি / সংখ্যালঘু গঠিত প্রধান নির্বাচন কমিশন একটি কলেজ সিস্টেম

Duba কোর ‘ইভিএম পর গণতন্ত্র হত্যা প্রতিরোধ সংবিধান .. সন্নিবেশিত সিস্টেম লিবার্টি, সমধর্মিতা এবং সমতা রক্ষা
বোকা প্রমাণ ভোটিং সিস্টেম লোকসভা নির্বাচনের সঙ্গে প্রতিস্থাপিত হয় অনুষ্ঠিত হবে. Chitpawan ব্রাহ্মণ কারণ সম্পূর্ণ sidelined করা থাকে, তাহলে তাদের

সব অ Ariyo ব্রাহ্মণদের প্রতি ঘৃণা রাজনীতি, সব Ariyo ব্রাহ্মণ, অর্থাত্ Sarvajan Hitay, Sarvajan Sukhay জন্য বিএসপি অধীনে ঐক্যবদ্ধ করা আছে
দেশের সম্পদ ভাগ করে, এসসি / মধ্যেও যারা অতিমাত্রায়, ওবিসি-দের, সংখ্যালঘু ও দরিদ্র উপরের জাতি সহ সমস্ত সমাজের কল্যাণ ও সুখের জন্য

সমানভাবে সংবিধানে সন্নিবেশিত হিসাবে সমাজের সব অংশের মধ্যে. ভুঁইফোঁড় chitpvans দ্বারা উদ্ধত আচরণ সঙ্গে দ্বন্দ্ব সৃষ্টি
এম কে হত্যার পর বিরোধী ব্রাক্ষ্মণ্যধর্ম আকারে হিসাবে দেরী 1948 সালে হিসাবে নিজেকে উদ্ভাসিত, যা অন্য সম্প্রদায়ের দ্বারা গান্ধী

নাথুরাম গডসে, একটি chitpavan. বাল গঙ্গাধর তিলক 1818 সালে মারাঠা সাম্রাজ্যের পতনের পর, chitpavans তাদের রাজনৈতিক কর্তৃত্ব হারিয়ে
British.The ব্রিটিশ তাদের বর্ণ-সহকর্মী, পেশোয়াদের অতীতে কাজ ছিল একই স্কেলে chitpavans ভর্তুকি না. অর্থ প্রদান

এবং ক্ষমতা এখন উল্লেখযোগ্যভাবে কমে যায়. দরিদ্র chitpavan ছাত্র অভিযোজিত এবং কারণ ভাল সুযোগ ইংরেজি শেখার শুরু
ব্রিটিশ প্রশাসন. শক্তিশালী প্রতিরোধের কিছু পরিবর্তন একই সম্প্রদায় থেকে এসেছিলেন. Jealously তাদের গুপ্তি

ব্রাহ্মণ মর্যাদা, chitpavans মধ্যে সনাতন শাস্ত্র চ্যালেঞ্জ দেখতে আগ্রহী ছিল না, কিংবা ব্রাহ্মণদের আচার হয়ে উঠছে
sudras যা থেকে আলাদা করা যায় না. অগ্রদূত এবং পুরাতন পাহারা অনেক বার সংঘর্ষে লিপ্ত হয়. Chitpavan সম্প্রদায় প্রধান দুই অন্তর্ভুক্ত

গান্ধীবাদী ঐতিহ্য রাজনীতিবিদ: তার অসামান্য তিনি একটি গুরু হিসাবে স্বীকৃত, যাকে গোপাল কৃষ্ণ গোখলে, ও বিনোবা ভাবে, এক
শিষ্যদের. গান্ধী তাঁর শিষ্যদের মধ্যে জুয়েল হিসাবে বাক্স বর্ণনা করে, এবং তার রাজনৈতিক guru.However, গান্ধী শক্তিশালী বিরোধী দল হিসাবে গোখলে স্বীকৃত

এছাড়াও chitpavan community.VD সাভারকর মধ্যে থেকে এসেছেন, হিন্দু জাতীয়তাবাদী রাজনৈতিক মতাদর্শ হিন্দুত্ব প্রতিষ্ঠাতা castiest এবং
প্রয়োজন উন্মাদ যে যা রাগ সব অ chitpavan brahimins ঘৃণা ক্ষমতার সাম্প্রদায়িক duba Kor জঙ্গি চৌর্য রাজনৈতিক অর্চনা লোভ

মানসিক asylums চিকিত্সা, একটি chitpavan ব্রাহ্মণ ছিল. Chitpavan সম্প্রদায়ের বিভিন্ন সদস্যদের মধ্যে হিন্দুত্ব আলিঙ্গন প্রথম
তারা চিন্তা যা মতাদর্শ, পেশোয়াদের এবং বর্ণ-সহকর্মী তিলক উত্তরাধিকার এর একটি লজিক্যাল এক্সটেনশন ছিল. এই chitpavans সঙ্গে জায়গা খুঁজে অনুভূত

Mahatama ফুলে এর Jambudvipan সামাজিক সংস্কার আন্দোলন এবং Mr.MK ভর রাজনীতি গান্ধী. সম্প্রদায়ের বৃহৎ সংখ্যক লাগছিল
সাভারকর, হিন্দু মহাসভা এবং পরিশেষে আরএসএস. গান্ধীর হত্যাকারীরা নারায়ণ apté এবং নাথুরাম গডসে, পাড় থেকে তাদের অনুপ্রেরণা সৃষ্টি

এই প্রতিক্রিয়াশীল প্রবণতা গ্রুপ.

অতএব, আরএসএস প্রধান মোহন ভেতরে উপরে ঘটনা আচ্ছাদন সব ভারতীয়দের সাংস্কৃতিক পরিচয় হিন্দুত্ব হয় ‘বলছে না.

দেশ এর পশ্চিম kobras (konkanastha chitpavan ব্রাহ্মণ কমিউনিটি) উপর.

Chitpavan বা chitpawan, একটি sizeable খৃস্টান প্রোটেস্ট্যান্ট সঙ্গে কোঙ্কন স্থানীয় ব্রাহ্মণ হয়.

18 শতক পর্যন্ত, chitpavans সামাজিক র্যাংকিং esteemed ছিল না, এবং প্রকৃতপক্ষে ব্রাহ্মণ একটি নিকৃষ্ট জাতি হিসেবে অন্যান্য ব্রাহ্মণ উপজাতিদের দ্বারা বিবেচিত হয়.

এটা মহারাষ্ট্রের ঘনীভূত অবশেষ কিন্তু দেশ উপর জনসংখ্যার সব এবং বিশ্বের বাকি আছে (মার্কিন যুক্তরাষ্ট্র ও গ্রেট ব্রিটেন.)

বিকল্প ইসরায়েলি কিংবদন্তি অনুযায়ী, Chitpavan এবং বিকল্প ইস্রায়েল কোঙ্কন উপকূলে shipwrecked 14 জনের একটি গ্রুপ থেকে বংশধর. পার্সি, বিকল্প ইজরায়েলের, kudaldeshkar উত্সব ব্রাহ্মণ, এবং ব্রাহ্মণ সারস্বত কোঙ্কানি, এবং chitpavan ব্রাহ্মণ সহ বিভিন্ন অভিবাসী গ্রুপ এই অভিবাসী আগমন শেষ.

Satavahanas sanskritisers ছিল.

এটা chitpavan ব্রাহ্মণ নতুন গ্রুপ গঠিত হয় যে তাদের সময় সম্ভবত হয়.

এছাড়াও, Prakrut মারাঠি লেখা chitpavan উপাধি ghaisas একটি রেফারেন্স, রাজা বছর 1060 ADbelonging একটি tamra চাপড়ান (ব্রোঞ্জ প্লেক) দেখা যাবে
Shilahara কিংডম Mamruni, কোঙ্কন মধ্যে Diveagar পাওয়া.

Balaji ভাট এর সংযোজন এবং মারাঠা জোট সুপ্রিম কর্তৃপক্ষ তার পরিবারের সঙ্গে, chitpavan অভিবাসীদের পেশোয়া সব গুরুত্বপূর্ণ অফিস দেওয়া যেখানে পুনে থেকে কোঙ্কন থেকে সার্বজনীনভাবে পৌঁছে তার
সহকর্মী castemen.

Chitpavan আত্মীয় ট্যাক্স ত্রাণ জমি অনুদান দিয়ে পুরস্কৃত করা হয়.

ঐতিহাসিক 1818 সালে মারাঠা সাম্রাজ্যের পতনের কারণ হিসাবে স্বজনপোষণ দুর্নীতির cite.

রিচার্ড ম্যাক্সওয়েল Eaton chitpavans এই বৃদ্ধি রাজনৈতিক ভাগ্য সঙ্গে ক্রমবর্ধমান সামাজিক পদে ধ্রুপদী উদাহরণ যে.

প্রথাগতভাবে, chitpavan ব্রাহ্মণদের অন্যান্য সম্প্রদায়ের ধর্মীয় সেবা প্রস্তাব যারা জ্যোতিষীদের এবং যাজকদের এক সম্প্রদায় ছিল.

Chitpavans এর 20 শতকের বিবরণ অতিরিক্ত সংযম, বিশ্বস্ততাও, conspiratorialism, phlegmatism তালিকা দেখাবে.

কৃষি আবাদী জমি ভোগদখল যারা ​​চর্চা সম্প্রদায়ের মধ্যে দ্বিতীয় প্রধান পেশা ছিল.

পরে chitpavans বিভিন্ন সাদা মণ্ডল কাজ এবং ব্যবসা বিশিষ্ট হয়ে ওঠে.

মহারাষ্ট্রে chitpavan ব্রাহ্মণ অধিকাংশ তাদের ভাষা হিসাবে মারাঠি গ্রহণ করেছে.

1940 পর্যন্ত, কোঙ্কন মধ্যে chitpavans অধিকাংশ তাদের বাড়িতে chitpavani কোঙ্কানি নামক একটি উপভাষা বক্তব্য রাখেন.

এমনকি যে সময়ে, রিপোর্ট একটি দ্রুত অন্তর্ধান ভাষা হিসাবে chitpavani রেকর্ড.

কিন্তু দক্ষিণা কন্নড জেলা ও কর্ণাটক উদুপি জেলা, এই ভাষা দুর্গা এবং Karkala তালুক এর Maala মত এবং Shishila এবং Belthangady তালুক এর Mundaje মত জায়গায় জায়গায় উচ্চারিত হচ্ছে.

মারাঠি এর chitpavani উপভাষা nasalized স্বরবর্ণ আছে, যেহেতু মান মারাঠি কোন মজ্জাগতভাবে nasalized স্বরবর্ণ আছে.

এর আগে, deshastha ব্রাহ্মণ dvijas সম্ভ্রান্ত সবে সমান (একটি আর্থসামাজিক বর্গ একটি আপেক্ষিক আগন্তুক), তারা সব ব্রাহ্মণদের সর্বোচ্চ বিশ্বাস করেন যে, ও parvenus হিসাবে chitpavans উপর নিচে তাকিয়ে.

এমনকি পেশোয়া গোদাবরী উপর নাশিক @ Deshasth পুরোহিত জন্য সংরক্ষিত ঘাট ব্যবহার করার অধিকার থেকে বঞ্চিত করা হয়.

Deshastha ব্রাহ্মণ থেকে chitpavans দ্বারা শক্তি এই খর্ব দেরী ঔপনিবেশিক ব্রিটিশ ভারত বার অব্যাহত, যা দুই ব্রাহ্মণ সম্প্রদায়ের মধ্যে তীব্র দ্বন্দ্ব দেখা দেয়.

19 শতকের রেকর্ড এছাড়াও Chitpavans, ও দুই অন্যান্য সম্প্রদায়, যেমন Daivajnas, এবং Chandraseniya কায়স্থ Prabhus মধ্যে Gramanyas বা গ্রামে পর্যায়ের বিতর্ক উল্লেখ.

এই শতাব্দী আগে প্রায় দশ years.Half ধরে চলে, Dr.Ambedkar তার বই অস্পৃশ্যদের বিভিন্ন জাতি শারীরিক নৃতত্ত্ব উপর বিদ্যমান তথ্য মাপা.

তিনি জাতি একটি জাতিগত ভিত্তিতে প্রাপ্ত জ্ঞান তথ্য দ্বারা সমর্থিত ছিল না পাওয়া যায়, যেমন: বাংলার জন্য টেবিল দেখায় যে ষষ্ঠ যারা ​​দাঁড়িয়েছে চন্ডালের
যার স্পর্শ দূষিত, অনেক ব্রাহ্মণ থেকে পৃথকীকৃত হয় না সামাজিক প্রাধান্য প্রকল্প এবং.

বম্বে deshastha ব্রাহ্মণ পুত্র-কলি, তার নিজের বয়স্য, chitpavan ব্রাহ্মণ আর একটি জেলে বর্ণ, একটি ঘনিষ্ঠ সম্বন্ধ বহন করে.

Mahar, মারাঠা অঞ্চলের অস্পৃশ্য, কুনবি, চাষী সঙ্গে একসঙ্গে আসে পরের.

তারা যাতে shenvi ব্রাহ্মণ, নগর ব্রাহ্মণ এবং উচ্চ বর্ণ মারাঠা অনুসরণ করুন.

এই ফলাফল সামাজিক ক্রমবিন্যাস এবং বম্বে শারীরিক বিভেদ মধ্যে কোন সাদৃশ্য আছে মানে.

ডঃ আম্বেদকর দ্বারা উল্লিখিত মস্তক এবং নাক সূচী, মধ্যে বিভেদ একটি অসাধারণ ক্ষেত্রে, ব্রাহ্মণ উত্তর প্রদেশ (অস্পৃশ্য) Chamar মধ্যে বিদ্যমান পাওয়া যায় নি.

কিন্তু এই ব্রাহ্মণ বিদেশীদের প্রমাণ না ইউপি জন্য তথ্য কারণ ব্রাহ্মণ Khattri পাঞ্জাব অস্পৃশ্য Chuhra জন্য যারা খুব ঘনিষ্ঠ হতে পাওয়া যায়নি.

U.P. যদি ব্রাহ্মণ কোন এই দেশে বিদেশী মানে তিনি পাঞ্জাব অস্পৃশ্য চেয়ে অন্তত আরো হয়, ইউপি প্রকৃতপক্ষে বিদেশী হয়.

এই আমরা বৈদিক এবং ItihAsa-পুরানা সাহিত্য থেকে আহরণ করা যেতে পারে, যা দৃশ্যকল্প নিশ্চিত করে: বৈদিক ঐতিহ্য তার অপভূ পাঞ্জাব-হরিয়ানার এলাকায় এক্সপোর্ট যখন নিম্ন জাতি থেকে শারীরিকভাবে আলাদা ছিল ব্রাহ্মণদের দ্বারা বৈদিক heartland থেকে পূর্ব আনা হয় (বাংলা ও খ্রিস্টান যুগের পালা প্রায় দক্ষিণ মধ্যে ব্রাহ্মণ পরিকল্পিত আমদানি সঙ্গে তুলনীয়) পুরো আর্যাবর্ত তার সংস্কৃতি.

এই মাত্র দুটি বর্ণ দলের অনেক ভিতরে ভারতীয় মাইগ্রেশন ছিল.

সাম্প্রতিক গবেষণায় আম্বেদকর, এর মতামত প্রত্যাখান করেনি.

কুমার সুরেশ সিং এর নেতৃত্বে একটি সাম্প্রতিক নৃতাত্ত্বিক জরিপ উপর একটি প্রেস রিপোর্ট ব্যাখ্যা করেছেন: ইংরেজি নৃবিজ্ঞানী ভারত উপরের জাতি ককেশীয় জাতি থেকে belonged এবং বাকি অস্ট্রালয়েড ধরনের থেকে তাদের মূল সৃষ্টি যে তর্ক.

জরিপ একটি শ্রুতি হতে এই প্রকাশ করেনি.

Biologically ভাষাগত, আমরা খুব মিশ্র, সুরেশ সিং বলেছেন.

রিপোর্ট এই দেশের মানুষ সাধারণ আরো জিন আছে, এবং এছাড়াও অঙ্গসংস্থানসংক্রান্ত বৈশিষ্ট একটি বড় সংখ্যা ভাগ করে.

আঞ্চলিক পর্যায়ে অঙ্গসংস্থানসংক্রান্ত এবং জেনেটিক বৈশিষ্ট পদ অনেক বড় Homogenization আছে, রিপোর্ট সেস.

উদাহরণস্বরূপ, তামিলনাড়ু (esp.Iyengars) এর ব্রাহ্মণদের দেশের পশ্চিম বা উত্তর অংশে সহকর্মী ব্রাহ্মণদের সঙ্গে আর রাজ্যের ব্রাহ্মণদের সঙ্গে আরো বৈশিষ্ট্য ভাগ.

পুত্র-এর মাটি তত্ত্ব ধ্বংস দাঁড়িয়েছে.

ভারতের গন্ডগোল সার্ভে দেশের কিছু অন্যান্য অংশ থেকে মাইগ্রেট জমিদারি মনে নাকিসুরে কথা যে এই দেশে কোন সম্প্রদায় পাওয়া গেছে.

উপরের জাতি জন্য পৃথক বা বিদেশী মূল কোন প্রমাণ আছে, যখন অভ্যন্তরীণ অভিবাসন, দেশের জটিল জাতিগত আড়াআড়ি অনেক জন্য অ্যাকাউন্ট.

শারীরিক-নৃতাত্ত্বিক ভিত্তিতে জাতি বর্ণ (Varna) সনাক্তকরণ প্রত্যাখ্যান যারা ​​অন্যান্য বিজ্ঞানীদের মধ্যে, আমরা কৈলাশ সি মালহোত্রা উদ্ধৃত করতে পারেন: উত্তর প্রদেশ, গুজরাট, মহারাষ্ট্র, বাংলা ও তামিল নাড়ুর মানুষের মধ্যে সম্পন্ন বিস্তারিত anthropometric সার্ভে গুরুত্বপূর্ণ প্রকাশ একটি জাতি এবং বিভিন্ন অঞ্চল থেকে জাত সাব জনসংখ্যার মধ্যে একটি অঞ্চলের বিভিন্ন বর্ণের জাতি মধ্যে একটি ঘনিষ্ঠ প্রতিচ্ছায়া মধ্যে আঞ্চলিক পার্থক্য.

মর্যাদা, সেফালিক এবং অনুনাসিক সূচক, খরচ বিশ্লেষণ ভিত্তিতে রক্ষিত (1966) এই দেশের ব্রাহ্মণ ভিন্নধর্মী হয় মানুষ একাধিক মাইগ্রেশন জড়িত একাধিক শারীরিক ধরনের নিগম সুপারিশ যে শেষ করছেন এই বলে.

18 মেট্রিক, 16 scopic এবং 8 জেনেটিক মার্কার গবেষণা করা হয়েছে, যাদের উপর মহারাষ্ট্রের 8 ব্রাহ্মণ জাতি মধ্যে আরো একটি বিস্তারিত সমীক্ষা, উভয় অঙ্গসংস্থানসংক্রান্ত এবং জেনেটিক বৈশিষ্ট্য শুধুমাত্র একটি মহান বিষমসত্ত্বতা প্রকাশ কিন্তু 3 ব্রাহ্মণ জাতি ব্রাহ্মণ জাতি কাছাকাছি ছিল দেখিয়েছেন যে, আর অন্য ব্রাহ্মণ জাতি [আপনি].

P.P. মজুমদার এবং K.C. (1974) মালহোত্রা 11 দেশ: মার্কিন যুক্তরাষ্ট্র উপর ছড়িয়ে 50 ব্রাহ্মণ নমুনার মধ্যে OAB রক্তের গ্রুপ সিস্টেম থেকে সম্মান সঙ্গে বিষমসত্ত্বতা একটি মহান চুক্তি হয়েছে. প্রমাণ এইভাবে Varna একটি সজাতি জৈব সত্তা একটি সমাজতাত্ত্বিক না যে প্রস্তাব দেওয়া হয়.

31) Classical Gujarati

31) ક્લાસિકલ ગુજરાતી

  નિઃશુલ્ક ઑનલાઇન નાલંદા સંશોધન અને અભ્યાસ યુનિવર્સિટી

તમારા પોતાના માતૃભાષા માં યોગ્ય અનુવાદ રેન્ડર કરો

આરએસએસ મુખ્ય મોહન ભાગવત spiritualism.It સાથે કરવાનું કંઈ મળ્યું છે, જે બધા ભારતીયો સાંસ્કૃતિક ઓળખ હિંદુત્વની છે માત્ર એક રાજકીય સંપ્રદાય છે કહી રહ્યાં છે
1% આરએસએસ chitpavans યાદી અત્યંત ત્રેવડપૂર્ણ અભિગમ ની 20 મી સદીના વર્ણનો, untrustworthiness (Duba Kors), conspiratorialism,

phlegmatism હત્યા લોકશાહી પણ આ દેશના વાસ્તવિક આધ્યાત્મિકતા માત્ર. આ દેશના સાચા સાંસ્કૃતિક ઓળખ છે
બધા કારણ કે પ્રબુદ્ધ ભારત કે Jambudvipan સમાનતા, બંધુત્વ અને સ્વાતંત્ર્ય પ્રેક્ટિસ બુદ્ધ કુદરત સાથે જ રેસ સંબંધ
 
બંધારણ માં સ્થાપિત થઇ ગયો તરીકે ધમ્મા પરનું પર આધારિત છે. હવે તે Duba ઉંમર EVM કારણ કે ખુલ્લા કરી શકાય છે કે જે છેતરપિંડી Duba ઉંમર EVMs છે
સીજેઆઇ Sadhasivam, એક બ્રાહ્મણ Duba ઉંમર EVM સીઇસી સંપત ના therequest પર ભાગના છેતરપિંડી tamperable Duba ઉંમર EVMs સાથે લોકસભામાં મંજૂરી

અન્ય બ્રાહ્મણ માસ્ટર કી હસ્તગત આરએસએસ માતાનો ભાજપના મદદ કરી તબક્કાવાર રીતે Duba ઉંમર EVMs બદલો. તમામ Duba ઉંમર EVMs સુધી
ફૂલ સાબિતી મતદાન સિસ્ટમ સાથે બદલાઈ રહ્યા છે હાલમાં સીજેઆઇ હાજર લોકસભામાં સ્ક્રેપ ઓર્ડર. અને ચૂંટવું એક Collegium સિસ્ટમ હોવી જ જોઈએ

માં સ્થાપિત થઇ ગયો તરીકે એક ફૂલ સાબિતી મતદાન સિસ્ટમ હોવા માટે SC / ST / OBC / લઘુમતીઓ થી ન્યાયમૂર્તિઓ લિબર્ટી, મંડળ અને સમાનતા રક્ષણ
બંધારણ. અને પણ એક ફૂલ સાબિતી મતદાન કર્યા માટે SC / ST / OBC / લઘુમતીઓ સમાવેશ મુખ્ય ચૂંટણી પંચ એક Collegium સિસ્ટમ

Duba ઉંમર EVMs પછી લોકશાહી ના મર્ડર અટકાવવા ડી બંધારણ .. માં સ્થાપિત થઇ ગયો તરીકે સિસ્ટમ લિબર્ટી, મંડળ અને સમાનતા રક્ષણ
ફૂલ સાબિતી મતદાન સિસ્ટમ લોકસભાની ચૂંટણી સાથે બદલાઈ રહ્યા છે રાખવામાં હોવી જ જોઈએ. Chitpawan બ્રાહ્મણો કારણે તદ્દન હાંસિયામાં હોય તો તેમના

બધા બિન Ariyo બ્રાહ્મણો તરફ તિરસ્કાર રાજકારણ, બધા બિન ariyo બ્રાહ્મણો, એટલે Sarvajan Hitay, Sarvajan Sukhay માટે બીએસપી હેઠળ એક થવું છે
દેશના સંપત્તિ શેર કરીને, એસસી / એસટીએસ, ઓબીસી, લઘુમતીઓ અને ગરીબ ઉચ્ચ જાતિ સહિત તમામ સમાજ કલ્યાણ અને સુખ માટે

સમાન બંધારણના માં સ્થાપિત થઇ ગયો તરીકે સમાજના તમામ વિભાગો વચ્ચે. લેભાગુ માણસ chitpvans દ્વારા અભિમાની વર્તન સાથે તકરાર થાય
એમ હત્યા પછી વિરોધી બ્રાહ્મણનાં સ્વરૂપમાં છેક 1948 માં પોતે જેની સ્પષ્ટ અભિવ્યક્તિ છે, કે જે અન્ય સમુદાયો દ્વારા ગાંધી

બલૂચી ગોડસે, એક chitpavan. બાલ ગંગાધર તિલક 1818 માં મરાઠા સામ્રાજ્યના પતન બાદ, chitpavans તેમના રાજકીય પ્રભુત્વ ગુમાવી
British.The બ્રિટિશ તેમના જાતિ-સાથી, પેશ્વાની ભૂતકાળમાં કર્યું હતું તે જ સ્કેલ પર chitpavans સબસિડી નથી. પે

અને સત્તા હવે નોંધપાત્ર રીતે ઘટાડો થયો હતો. વધારે ગરીબ chitpavan વિદ્યાર્થીઓ અનુકૂળ અને કારણ કે વધુ સારી તકો ઇંગલિશ શીખવા શરૂ
બ્રિટિશ વહીવટ. મજબૂત પ્રતિકાર કેટલાક પણ બદલી ખૂબ જ સમુદાય આવ્યાં છે. ઈર્ષાપૂર્વક તેમના રક્ષણ

બ્રાહ્મણ મહત્તા, chitpavans વચ્ચે રૂઢિચુસ્ત શાસ્ત્રો પડકાર જોવા માટે આતુર ન હતા, કે બ્રાહ્મણો ની વર્તણૂક બની
sudras કે અસ્પષ્ટતા. વાનગાર્ડ અને જૂના રક્ષક ઘણી વખત સામસામે આવી ગઈ. chitpavan સમુદાય મુખ્ય બે સમાવેશ થાય છે

ગાંધીજીના પરંપરા રાજકારણીઓ: તેના બાકી ના તેઓ એક preceptor તરીકે સ્વીકાર જેમને ગોપાલ કૃષ્ણ ગોખલે, અને વિનોબા ભાવે, એક
શિષ્યો. ગાંધી પોતાના શિષ્યોને ના રત્ન તરીકે ભાવે વર્ણવે છે, અને તેમના રાજકીય guru.However, ગાંધી માટે મજબૂત વિરોધ તરીકે ગોખલે માન્ય

પણ chitpavan community.VD સાવરકર અંદર આવ્યાં, હિન્દૂ રાષ્ટ્રવાદી રાજકીય વિચારધારા હિંદુત્વની સ્થાપક castiest છે અને
જરૂરી ગાંડપણ કે જે ગુસ્સો તમામ બિન chitpavan brahimins નફરત કરનારા શક્તિ કોમી duba ઉંમર આતંકવાદી સ્ટીલ્થ રાજકીય સંપ્રદાય લોભ

માનસિક અનાથાશ્રમ માં સારવાર, એક chitpavan બ્રાહ્મણ હતો. chitpavan સમુદાય કેટલાક સભ્યો વચ્ચે ડી હિંદુત્વની આલિંગવું પ્રથમ હતા
તેઓ વિચાર્યું જે વિચારધારા, પેશ્વાની અને જાતિ-સાથી તિલક ના વારસો લોજિકલ વિસ્તરણ હતી. chitpavans સાથે સ્થળ બહાર લાગ્યું

Mahatama ફુલે ના Jambudvipan સામાજિક સુધારણા ચળવળ અને Mr.MK દળ રાજકારણ ગાંધી. સમુદાય મોટી સંખ્યામાં જોવામાં
સાવરકર, હિન્દૂ મહાસભા અને છેલ્લે આરએસએસ. ગાંધીના હત્યા નારાયણ આપ્ટે અને બલૂચી ગોડસે, ફ્રિન્જ તેમના પ્રેરણા આપી હતી

પ્રત્યાઘાતી વલણ માં જૂથો.

તેથી, આરએસએસ મુખ્ય મોહન ભાગવત ઉપર તથ્યો આવરી બધા ભારતીયો સાંસ્કૃતિક ઓળખ હિંદુત્વની છે કહે છે.

દેશ ના પશ્ચિમ kobras ( konkanastha chitpavan બ્રાહ્મણ સમુદાય) પર.

chitpavan અથવા chitpawan, એક નોંધપાત્ર ખ્રિસ્તી પ્રોટેસ્ટન્ટ સાથે કોંકણ વતની બ્રાહ્મણો છે.

18 મી સદી સુધી, chitpavans સામાજિક રેન્કિંગ માં esteemed ન હતા, અને ખરેખર બ્રાહ્મણો એક કક્ષાના જાતિ હોવાથી અન્ય બ્રાહ્મણ જાતિઓ દ્વારા ગણવામાં આવતા હતા.

તે મહારાષ્ટ્રમાં સંકેન્દ્રિત રહે પણ દેશ પર વસતી તમામ અને વિશ્વના બાકીના છે (યુએસએ અને યુકે.)

બેને ઇઝરાયેલી દંતકથા અનુસાર, Chitpavan અને બેને ઇઝરાયેલ કોંકણ દરિયાકિનારે shipwrecked 14 લોકો એક જૂથ માંથી વંશજો છે. પારસીઓ, બેને ઇઝરાયેલીઓ, kudaldeshkar આભૂષણ શણગાર બ્રાહ્મણો, અને બ્રાહ્મણો સારસ્વત કોંકણી, અને chitpavan બ્રાહ્મણો સહિત અનેક ઇમિગ્રન્ટ જૂથો ઇમિગ્રન્ટ આવતા ના છેલ્લા હતા.

સતવાહન sanskritisers હતા.

તે chitpavan બ્રાહ્મણો ની નવી જૂથ કરવામાં આવી હતી કે તેમના સમયે કદાચ છે.

પણ, પ્રાકૃત મરાઠી માં લખાયેલ chitpavan અટક ghaisas સંદર્ભ, રાજા માટે વર્ષ 1060 ADbelonging એક Tamra-ખુશીથી (બ્રોન્ઝ તકતી) પર જોઈ શકાય છે
Shilahara કિંગડમ Mamruni, કોંકણ માં Diveagar પર જોવા મળે છે.

બાલાજી ભટ ના પ્રવેશ અને મરાઠા સંઘે સર્વોચ્ચ સત્તા માટે તેના કુટુંબ સાથે, chitpavan ઇમિગ્રન્ટ્સ પેશ્વા બધા મહત્વપૂર્ણ કચેરીઓ ઓફર જ્યાં પુણે માટે કોંકણ થી યુનાઇટેડ masse આવવા લાગ્યા તેના
સાથી castemen.

chitpavan કિન કર રાહત અને જમીન અનુદાન સાથે મળ્યા હતા.

ઇતિહાસકારો 1818 માં મરાઠા સામ્રાજ્યના પતન કારણો તરીકે સગાવાદ અને ભ્રષ્ટાચાર દાખવી.

રિચાર્ડ મેક્સવેલ ઈટન chitpavans વધારો રાજકીય નસીબ સાથે વધતા સામાજિક ક્રમ એક ઉત્તમ ઉદાહરણ છે કે કહે છે.

પરંપરાગત રીતે, chitpavan બ્રાહ્મણો અન્ય સમુદાયો માટે ધાર્મિક સેવાઓ આપે છે જે જ્યોતિષીઓ અને પાદરીઓ એક સમુદાય હતા.

chitpavans ની 20 મી સદીના વર્ણન અત્યંત ત્રેવડપૂર્ણ અભિગમ, untrustworthiness, conspiratorialism, phlegmatism યાદી.

કૃષિ ખેતીલાયક જમીન ધરાવે જે તે દ્વારા પ્રેક્ટિસ સમુદાયમાં બીજા મુખ્ય વ્યવસાય હતા.

બાદમાં, chitpavans વિવિધ સફેદ કોલર નોકરી અને બિઝનેસ અગ્રણી બની હતી.

મહારાષ્ટ્ર માં chitpavan બ્રાહ્મણો મોટા ભાગના તેમની ભાષા તરીકે મરાઠી અપનાવ્યા છે.

1940 સુધી, કોંકણ માં chitpavans મોટા ભાગના તેમના ઘરો માં chitpavani કોંકણી કહેવાય બોલી વાત કરી હતી.

પણ તે સમયે, અહેવાલો ઝડપી અદ્રશ્ય થઈ ભાષા તરીકે chitpavani રેકોર્ડ.

પરંતુ દક્ષિણ કન્નડા જિલ્લા અને કર્ણાટકના ઉડુપી જિલ્લા માં, આ ભાષા દુર્ગા અને Karkala તાલુકાના ની Maala જેવા અને Shishila અને Belthangady તાલુકાના ની Mundaje જેવા સ્થળોએ સ્થળોએ બોલાય કરવામાં આવી રહી છે.

મરાઠી ના chitpavani બોલી nasalized સ્વરો હોય છે, જ્યારે ધોરણ મરાઠી કોઈ સ્વાભાવિક રીતે nasalized સ્વરો છે.

અગાઉ, deshastha બ્રાહ્મણો dvijas ના noblest માટે ભાગ્યે જ સમાન (એક સામાજિક આર્થિક વર્ગ માટે એક સંબંધિત નવા આવેલા), તેઓ બધા બ્રાહ્મણો સૌથી વધુ માનતા હતા કે, અને parvenus તરીકે chitpavans પર નીચે હતા.

પણ પેશ્વા ગોદાવરી પર નાસિક @ Deshasth પાદરીઓ માટે આરક્ષિત ઘાટ વાપરવા માટે અધિકારો નકારી હતી.

deshastha બ્રાહ્મણો થી chitpavans દ્વારા સત્તા usurping અંતમાં કોલોનિયલ બ્રિટિશ ભારત સમયમાં ચાલુ જે બે બ્રાહ્મણ સમુદાયો વચ્ચે તીવ્ર દુશ્મનાવટ પરિણમી હતી.

19 મી સદીના રેકોર્ડ પણ Chitpavans, અને અન્ય બે સમુદાયો છે, નામ અનુસાર Daivajnas, અને Chandraseniya કાયસ્થ Prabhus વચ્ચે Gramanyas અથવા ગામ લેવલ ચર્ચાઓ ઉલ્લેખ.

આ એક સદી પહેલા દસ years.Half સુધી, આંબેડકર તેમના પુસ્તક ધ અનટચેબલ્સ માં વિવિધ જાતિના ભૌતિક માનવશાસ્ત્ર પર હાલની માહિતી સર્વેક્ષણ.

તેમણે જાતિ એક વંશીય આધાર ના પ્રાપ્ત શાણપણ ડેટા દ્વારા આધારભૂત ન હતી કે જોવા મળે છે, જેમ કે: બંગાળ માટે કોષ્ટક બતાવે છે કે છઠ્ઠા રહે જે chandal
જેના સંપર્કમાં pollutes, ખૂબ બ્રાહ્મણ થી અલગ નથી સામાજિક અગ્રતા યોજના અને.

બોમ્બે માં deshastha બ્રાહ્મણ પુત્ર-કોળી પોતાના compeer, chitpavan બ્રાહ્મણ માટે કરતાં માછીમાર જાતિ, માટે નજીકથી આકર્ષણ ધરાવે છે.

મહાર, મરાઠા પ્રદેશના અનટચેબલ, Kunbi, ખેડૂત સાથે આગામી આવે છે.

તેઓ ક્રમમાં shenvi બ્રાહ્મણ, નગર બ્રાહ્મણ અને ઉચ્ચ જાતિ મરાઠા અનુસરો.

આ પરિણામો સામાજિક ક્રમ અને બોમ્બે ભૌતિક તફાવત વચ્ચે કોઈ પત્રવ્યવહાર છે કે થાય છે.

ડો આંબેડકર દ્વારા નોંધવામાં ખોપરી અને નાક નિર્દેશિકાઓની, માં તફાવત એક નોંધપાત્ર કિસ્સામાં, બ્રાહ્મણ અને ઉત્તર પ્રદેશ ના (અસ્પૃશ્ય) Chamar વચ્ચે અસ્તિત્વમાં હતી.

પરંતુ આ બ્રાહ્મણો વિદેશીઓ છે તે સાબિત નથી યુપી માટે ડેટા કારણ કે બ્રાહ્મણ ખાત્રી અને પંજાબ ના અસ્પૃશ્ય Chuhra માટે તે ખૂબ જ નજીક મળી આવ્યા હતા.

U.P. તો બ્રાહ્મણ કોઈ આ દેશમાં વિદેશી થાય તે પંજાબ અછૂત કરતાં ઓછામાં ઓછા વધુ છે, યુપી માટે ખરેખર વિદેશી છે.

આ અમે વૈદિક અને ItihAsa-પુરાણ સાહિત્ય પરથી લેવામાં શકે છે, જે દૃશ્ય ખાતરી: વૈદિક પરંપરા તેના ભૂમ્યુચ્ચ પર પંજાબ-હરિયાણા માં હાર્ટલેન્ડ નિકાસ જ્યારે ત્યાં નીચલા જાતિ થી શારીરિક અસ્પષ્ટતા હતા બ્રાહ્મણો દ્વારા ડી વૈદિક હાર્ટલેન્ડ પૂર્વ લાવવામાં આવી હતી (બંગાળ અને ખ્રિસ્તી યુગના વળાંક આસપાસ દક્ષિણ માં બ્રાહ્મણો આયોજિત આયાત માટે તુલનાત્મક) સમગ્ર Aryavarta તેની સંસ્કૃતિ.

માત્ર બે જાતિ જૂથોની અસંખ્ય ઇન્ટ્રા ભારતીય સ્થળાંતર હતા.

તાજેતરના સંશોધનો આંબેડકર, દૃશ્યો નકારી કાઢ્યા છે.

કુમાર સુરેશ સિંહ આગેવાની તાજેતરમાં માનવશાસ્ત્રનાં મોજણી પર એક પ્રેસ અહેવાલ જણાવે છે: ઇંગલિશ નૃવંશશાસ્ત્રીઓ ભારતના ઉચ્ચ જાતિના કોકેશિયન રેસ સાથે સંકળાયેલ છે અને બાકીના Australoid પ્રકારના તેમના મૂળ હતી કે દલીલ.

આ મોજણી એક પૌરાણિક કથા હોઈ જાહેર છે.

જૈવિક અને ભાષાકીય, અમે ખૂબ જ મિશ્ર છે, સુરેશ સિંહ કહે છે.

આ અહેવાલમાં આ દેશના લોકો સામાન્ય વધુ જનીનો હોય છે, અને પણ મોર્ફોલોજિકલ લક્ષણો મોટી સંખ્યામાં શેર છે.

પ્રાદેશિક સ્તરે મોર્ફોલોજિકલ અને આનુવંશિક લક્ષણો દ્રષ્ટિએ ઘણી મોટી સમાંગીકરણ છે, અહેવાલ કહે છે.

ઉદાહરણ તરીકે, તામિલનાડુ (esp.Iyengars) ના બ્રાહ્મણો દેશના પશ્ચિમ અથવા ઉત્તર ભાગમાં સાથી બ્રાહ્મણો સાથે કરતાં રાજ્યમાં બિન બ્રાહ્મણો સાથે વધુ લક્ષણો શેર કરો.

પુત્રો ઓફ માટી સિદ્ધાંત પણ તોડી પાડવામાં રહે છે.

ભારત એંથ્રોપોલોજિકલ સર્વે દેશના કેટલાક અન્ય ભાગ સ્થળાંતર કર્યા યાદ પોકળ વાણી કે આ દેશમાં કોઈ સમુદાય મળ્યાં છે.

ઉપલા જાતિ માટે અલગ અથવા વિદેશી મૂળના કોઈ પુરાવા છે, જ્યારે આંતરિક સ્થળાંતર, દેશના જટિલ વંશીય લેન્ડસ્કેપ ખૂબ હિસ્સો ધરાવે છે.

શારીરિક-એન્થ્રોપોલોજીકલ મેદાન પર રેસ સાથે જાતિ (વર્ણ) ની ઓળખ અસ્વીકાર જે અન્ય વૈજ્ઞાનિકો વચ્ચે, અમે કૈલાસ સી મલ્હોત્રા દાખવી શકે છે: ઉત્તર પ્રદેશ, ગુજરાત, મહારાષ્ટ્ર, બંગાળ અને તામિલનાડુ ના લોકોમાં કરવામાં વિગતવાર anthropometric સર્વેક્ષણ નોંધપાત્ર જાહેર એક જાતિ અને વિવિધ પ્રદેશોમાં માંથી જાતિ ની પેટા વસ્તી વચ્ચે કરતાં પ્રદેશમાં અંદર વિવિધ વર્ણ જાતિ વચ્ચે નજીકથી સામ્યતા અંદર પ્રાદેશિક તફાવત.

કદ, મસ્તકીય અને અનુનાસિક ઇન્ડેક્સ, એચ.કે. વિશ્લેષણ આધારે Rakshit (1966) આ દેશના બ્રાહ્મણો વિજાતીય છે અને લોકો કરતાં વધુ સ્થળાંતર સંડોવતા એક કરતાં વધુ ભૌતિક પ્રકારના સંસ્થાપન સૂચવે છે કે પૂર્ણ થાય છે.

18 મેટ્રિક, 16 scopic અને 8 આનુવંશિક માર્કર્સ અભ્યાસ કરવામાં આવી હતી જેની પર મહારાષ્ટ્રમાં 8 બ્રાહ્મણ જાતિ વચ્ચે એક વધુ વિગતવાર અભ્યાસ, બંને મોર્ફોલોજિકલ અને આનુવંશિક લક્ષણો માં માત્ર એક મહાન વૈવિધ્યનો જાહેર પણ 3 બ્રાહ્મણ જાતિ બિન બ્રાહ્મણ જાતિ નજીક હતા કરતાં અન્ય બ્રાહ્મણ જાતિ [માટે].

P.P. મજુમદાર અને K.C. (1974) મલ્હોત્રા 11 દેશમાં રાજ્યો ફેલાયેલો 50 બ્રાહ્મણ નમૂનાઓ વચ્ચે OAB રક્ત જૂથ સિસ્ટમ માટે આદર સાથે વૈવિધ્યનો એક મહાન સોદો જણાયું હતું. પુરાવા આમ વર્ણ એક સમાન જૈવિક એન્ટિટી એક સામાજિક અને નથી કે જે સૂચવે છે.

35) Classical Hindi


35) शास्त्रीय हिन्दी

  मुफ्त ऑनलाइन ई नालंदा अनुसंधान और अभ्यास विश्वविद्यालय

अपनी खुद की मातृभाषा में सही अनुवाद प्रस्तुत करना कृपया

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत spiritualism.It के साथ कुछ नहीं मिला है जो सभी भारतीयों की सांस्कृतिक पहचान हिंदुत्व है सिर्फ एक राजनीतिक पंथ है कह रहा है
इस 1% आरएसएस chitpavans सूची अत्यधिक मितव्ययिता की 20 वीं सदी वर्णन, untrustworthiness (Duba Kors), conspiratorialism,

phlegmatism हत्या लोकतंत्र भी है लेकिन इस देश का असली आध्यात्मिकता न केवल. इस देश की सच्ची सांस्कृतिक पहचान है
सब के बाद प्रबुद्ध भारथ है कि Jambudvipan समानता, भाईचारा और स्वतंत्रता का अभ्यास बुद्ध प्रकृति के साथ एक ही जाति के हैं
 
संविधान में निहित के रूप में धम्म के आधार पर. अब यह Duba कोर ईवीएम क्योंकि उजागर हो गया है कि धोखाधड़ी Duba कोर ईवीएम है
मुख्य न्यायाधीश Sadhasivam, एक ब्राह्मण Duba कोर ईवीएम सीईसी संपत की therequest में बहुमत धोखाधड़ी tamperable Duba कोर ईवीएम मशीनों के साथ लोकसभा की अनुमति दी

एक और ब्राह्मण मास्टर कुंजी प्राप्त करने के लिए आरएसएस का भाजपा में मदद मिली है कि चरणबद्ध तरीके से Duba कोर ईवीएम मशीनों को बदलने के लिए. सभी Duba कोर ईवीएम तक
मूर्ख सबूत वोटिंग प्रणाली के साथ प्रतिस्थापित कर रहे हैं वर्तमान मुख्य न्यायाधीश वर्तमान लोकसभा स्क्रैप आदेश. और उठा के एक कॉलेजियम प्रणाली होनी चाहिए

में निहित के रूप में एक मूर्ख सबूत मतदान प्रणाली होने के लिए अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग / अल्पसंख्यक से न्यायाधीशों लिबर्टी, भाईचारे और समानता की रक्षा के लिए
संविधान. और यह भी एक मूर्ख सबूत मतदान होने के लिए अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग / अल्पसंख्यक मिलकर मुख्य चुनाव आयोग में एक कॉलेजियम प्रणाली

Duba कोर ईवीएम के बाद लोकतंत्र की हत्या को रोकने के लिए डी संविधान .. में निहित के रूप में सिस्टम लिबर्टी, भाईचारे और समानता की रक्षा के लिए
मूर्ख सबूत मतदान प्रणाली के लोकसभा चुनाव के साथ प्रतिस्थापित कर रहे हैं आयोजित किया जाना चाहिए. Chitpawan ब्राह्मणों की वजह से पूरी तरह से दरकिनार किया जाना है तो उनके

सभी गैर Ariyo ब्राह्मणों के प्रति नफरत की राजनीति, सभी गैर ariyo ब्राह्मणों, यानी Sarvajan Hitay, Sarvajan Sukhay के लिए बसपा के तहत एकजुट करने के लिए है
देश के धन को साझा करके, अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजातियों, अन्य पिछड़े वर्गों, अल्पसंख्यकों और गरीब सवर्णों सहित सभी समाजों के कल्याण और खुशी के लिए

समान रूप से संविधान में निहित के रूप में समाज के सभी वर्गों के बीच में. कल का नवाब chitpvans द्वारा अभिमानी व्यवहार के साथ संघर्ष के कारण
एम.के. की हत्या के बाद विरोधी Brahminism के रूप में के रूप में देर से 1948 में के रूप में ही प्रकट जो अन्य समुदायों द्वारा गांधी

नाथूराम गोडसे, एक chitpavan. बाल गंगाधर तिलक 1818 में मराठा साम्राज्य के पतन के बाद, chitpavans उनके राजनीतिक प्रभुत्व खो दिया
British.The अंग्रेजों को उनकी जाति साथी, पेशवाओं अतीत में किया था कि एक ही पैमाने पर chitpavans घूस नहीं होगा. वेतन

और सत्ता अब काफी कम हो गया था. गरीब chitpavan छात्रों अनुकूलित और क्योंकि में बेहतर अवसरों की अंग्रेजी सीखने की शुरुआत की
ब्रिटिश प्रशासन. मजबूत प्रतिरोध से कुछ भी बदलने के लिए बहुत ही समुदाय से आया है. Jealously उनकी रखवाली

ब्राह्मण कद, chitpavans बीच रूढ़िवादी शास्त्रों चुनौती दी देखने के लिए उत्सुक नहीं थे, न ही ब्राह्मणों का आचरण बनने
sudras के उस से अप्रभेद्य. मोहरा और पुराने गार्ड कई बार भिड़ गए. Chitpavan समुदाय प्रमुख दो शामिल

गांधीवादी परंपरा में राजनेताओं: अपने बकाया की वह एक गुरु के रूप में स्वीकार किया जिसे गोपाल कृष्ण गोखले, और विनोबा भावे, एक
शिष्यों. गांधी ने अपने चेलों के गहना के रूप में भावे का वर्णन है, और अपने राजनीतिक guru.However, गांधी के लिए मजबूत विपक्ष के रूप में गोखले को मान्यता दी

भी chitpavan community.VD सावरकर के भीतर से आया है, हिंदू राष्ट्रवादी राजनीतिक विचारधारा हिंदुत्व के संस्थापक castiest है और
आवश्यकता के पागलपन है कि जो क्रोध सभी गैर chitpavan brahimins नफरत बिजली की सांप्रदायिक Duba ने कोर उग्रवादी चुपके राजनीतिक पंथ लालच

मानसिक asylums में इलाज, एक chitpavan ब्राह्मण था. Chitpavan समुदाय के कई सदस्यों के बीच डी हिंदुत्व गले लगाने के लिए पहले किए गए
उन्होंने सोचा जो विचारधारा, पेशवाओं और जाति साथी तिलक की विरासत का एक तार्किक विस्तार था. ये chitpavans साथ जगह से बाहर महसूस किया

महात्मा फुले के Jambudvipan समाज सुधार आंदोलन और Mr.MK की जन राजनीति गांधी. समुदाय की बड़ी संख्या को देखा
सावरकर, हिंदू महासभा और अंत में आरएसएस. गांधी के हत्यारों नारायण आप्टे और नाथूराम गोडसे, फ्रिंज से उनकी प्रेरणा आकर्षित किया

इस प्रतिक्रियावादी रुझान में समूहों.

इसलिए, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत उपरोक्त तथ्यों को कवर सभी भारतीयों की सांस्कृतिक पहचान हिंदुत्व है कह रहा है.

देश के पश्चिम की kobras (konkanastha chitpavan ब्राह्मण समुदाय) पर.

Chitpavan या chitpawan, एक बड़ा ईसाई प्रोटेस्टेंट साथ कोंकण का निवासी ब्राह्मण हैं.

18 वीं सदी तक, chitpavans सामाजिक रैंकिंग में सम्मानित नहीं किया गया है, और वास्तव में ब्राह्मणों के एक अवर जाति होने के रूप में अन्य ब्राह्मण जनजातियों द्वारा विचार किया गया.

यह महाराष्ट्र में केंद्रित रहता है बल्कि देश भर में आबादी सब और दुनिया के बाकी है (संयुक्त राज्य अमेरिका और ब्रिटेन.)

बेने इस्राइली पौराणिक कथा के अनुसार, Chitpavan और बेने इज़राइल कोंकण तट पर shipwrecked 14 लोगों के एक समूह से वंशज हैं. पारसी, बेने इजरायल, kudaldeshkar गौड़ ब्राह्मण, और ब्राह्मणों सारस्वत कोंकणी, और chitpavan ब्राह्मणों सहित कई आप्रवासी समूहों इन आप्रवासी पहुँचने के अंतिम थे.

सातवाहन sanskritisers थे.

यह chitpavan ब्राह्मणों के नए समूह का गठन किया गया है कि उनके समय में संभवतः है.

इसके अलावा, Prakrut मराठी में लिखा chitpavan उपनाम ghaisas के लिए एक संदर्भ, राजा को वर्ष 1060 ADbelonging के Tamra-पैट (कांस्य पट्टिका) पर देखा जा सकता है
Shilahara किंगडम के Mamruni, कोंकण में Diveagar में पाया.

बालाजी भट्ट के परिग्रहण और मराठा महासंघ के सर्वोच्च अधिकार के लिए अपने परिवार के साथ, chitpavan आप्रवासियों पेशवा सभी महत्वपूर्ण कार्यालयों की पेशकश की है, जहां से पुणे कोंकण से सामूहिक रूप से पहुंचने लगे अपने
साथी castemen.

Chitpavan परिजन कर राहत एवं भूमि के अनुदान के साथ पुरस्कृत किया गया.

इतिहासकारों 1818 में मराठा साम्राज्य के पतन के कारणों के रूप में भाई भतीजावाद और भ्रष्टाचार का हवाला देते हैं.

रिचर्ड मैक्सवेल इटन chitpavans की इस वृद्धि के राजनीतिक भाग्य के साथ बढ़ती सामाजिक रैंक के एक क्लासिक उदाहरण है जो बताता है.

परंपरागत रूप से, chitpavan ब्राह्मणों अन्य समुदायों के धार्मिक सेवाओं की पेशकश जो ज्योतिषियों और पुजारियों के एक समुदाय के थे.

Chitpavans की 20 वीं सदी वर्णन अत्यधिक मितव्ययिता, untrustworthiness, conspiratorialism, phlegmatism सूची.

कृषि योग्य भूमि के अधिकारी जो उन द्वारा अभ्यास समुदाय में दूसरा प्रमुख व्यवसाय था.

बाद में, chitpavans विभिन्न सफेद कॉलर नौकरियों और व्यापार में प्रमुख बने.

महाराष्ट्र में chitpavan ब्राह्मणों के अधिकांश उनकी भाषा के रूप में मराठी अपनाया है.

1940 के दशक तक, कोंकण में chitpavans से ज्यादातर ने अपने घरों में chitpavani कोंकणी नामक एक बोली में बात की थी.

उस समय भी, रिपोर्ट एक तेजी से गायब भाषा के रूप में chitpavani दर्ज की गई.

लेकिन दक्षिण कन्नड़ जिले और कर्नाटक के उडुपी जिले में, इस भाषा दुर्गा और करकला तालुक के Maala की तरह और भी Shishila और Belthangady तालुक के Mundaje जैसी जगहों में स्थानों में बात की जा रही है.

मराठी के chitpavani बोली nasalized स्वरों है जबकि मानक मराठी में कोई स्वाभाविक nasalized स्वरों कर रहे हैं.

इससे पहले, deshastha ब्राह्मणों dvijas के noblest के लिए मुश्किल से बराबर (एक सामाजिक आर्थिक वर्ग के लिए एक रिश्तेदार नवागंतुक), वे सभी ब्राह्मणों के उच्चतम मानना ​​था कि, और parvenus रूप chitpavans पर नीचे देखा.

यहां तक ​​कि पेशवा गोदावरी पर नासिक @ Deshasth पुजारियों के लिए आरक्षित घाट का उपयोग करने के अधिकार से इनकार किया था.

Deshastha ब्राह्मणों से chitpavans द्वारा शक्ति का यह usurping देर औपनिवेशिक ब्रिटिश भारत के समय में जारी रखा जो दो ब्राह्मण समुदाय के बीच तीव्र प्रतिद्वंद्विता में हुई.

19 वीं सदी के रिकॉर्ड भी Chitpavans, और दो ​​अन्य समुदायों, अर्थात् Daivajnas, और Chandraseniya कायस्थ Prabhus बीच Gramanyas या गांव स्तर की बहस का उल्लेख है.

यह एक सदी पहले के बारे में दस years.Half के लिए चली, अम्बेडकर ने अपनी पुस्तक अछूत में विभिन्न जातियों की शारीरिक नृविज्ञान पर मौजूदा डेटा का सर्वेक्षण किया.

उन्होंने कहा कि जाति का एक जातीय आधार के प्राप्त ज्ञान डेटा द्वारा समर्थित नहीं किया गया था कि पाया, जैसे: बंगाल के लिए तालिका से पता चलता है कि में छठे खड़ा जो चांडाल
जिसका स्पर्श pollutes, ज्यादा ब्राह्मण से भेदभाव नहीं है सामाजिक पूर्वता की योजना और.

बंबई में deshastha ब्राह्मण दामाद कोली, अपने ही साथी, chitpavan ब्राह्मण की तुलना में एक मछुआरे जाति को करीब समानता भालू.

महार, मराठा क्षेत्र के अछूत, Kunbi, किसान के साथ मिलकर अगले आता है.

वे क्रम में shenvi ब्राह्मण, नगर ब्राह्मण और उच्च जाति मराठा का पालन करें.

इन परिणामों के सामाजिक उन्नयन और बंबई में शारीरिक भिन्नता के बीच कोई पत्राचार नहीं है कि मतलब है.

डॉ अम्बेडकर ने कहा है खोपड़ी और नाक अनुक्रमित, में भेदभाव का एक उल्लेखनीय मामला, ब्राह्मण और उत्तर प्रदेश की (अछूत) चमार के बीच मौजूद पाया गया.

लेकिन यह ब्राह्मण विदेशी हैं कि साबित नहीं करता है के लिए डेटा क्योंकि ब्राह्मण Khattri और पंजाब के अछूत Chuhra के लिए उन लोगों के लिए बहुत करीब होना पाया गया है.

उप्र हैं ब्राह्मण कोई इस देश को विदेशी तरह से वह पंजाब अछूतों की तुलना में कम से कम नहीं अधिक है, अप करने के लिए वास्तव में विदेशी है.

यह हम वैदिक और ItihAsa-पुराण साहित्य से प्राप्त कर सकते हैं जो परिदृश्य की पुष्टि: वैदिक परंपरा अपने APOGEE पर पंजाब हरियाणा में गढ़ निर्यात जब वहाँ निचली जातियों से शारीरिक रूप से पृथक किया गया है जो ब्राह्मणों ने डी वैदिक गढ़ से पूर्व लाया गया था (बंगाल और ईसाई युग के अंत के आसपास दक्षिण में ब्राह्मणों की योजना बनाई आयात की तुलना में) पूरे Aryavarta को अपनी संस्कृति.

ये सिर्फ दो जाति समूहों के कई इंट्रा भारतीय माइग्रेशन के थे.

हाल के शोध अम्बेडकर, विचारों का खंडन नहीं किया है.

सुरेश कुमार सिंह के नेतृत्व में हाल ही में एक मानव विज्ञान सर्वेक्षण पर एक प्रेस रिपोर्ट बताते हैं: अंग्रेजी मानवविज्ञानी भारत की ऊंची जातियों कोकेशियान जाति के थे और बाकी ऑस्ट्रेलियाड प्रकार से उनके मूल आकर्षित किया है कि तर्क.

सर्वेक्षण एक मिथक होने के लिए यह पता चला है.

Biologically और भाषायी, हम बहुत मिश्रित कर रहे हैं, सुरेश सिंह कहते हैं.

रिपोर्ट में इस देश के लोगों को आम में अधिक जीन है, और भी रूपात्मक लक्षण की एक बड़ी संख्या है कि शेयर कहते हैं.

क्षेत्रीय स्तर पर रूपात्मक और आनुवंशिक लक्षण के मामले में बहुत अधिक homogenization है, रिपोर्ट कहती है.

उदाहरण के लिए, तमिलनाडु (esp.Iyengars) के ब्राह्मणों देश के पश्चिमी या उत्तरी भाग में साथी ब्राह्मणों के साथ तुलना में राज्य में गैर ब्राह्मणों के साथ और अधिक लक्षण साझा.

बेटों को मिट्टी सिद्धांत भी ध्वस्त खड़ा है.

भारत के मानव विज्ञान सर्वेक्षण देश के किसी अन्य भाग से माइग्रेट होने याद नहीं कर सकते कि इस देश में कोई समुदाय में पाया गया है.

ऊंची जातियों के लिए एक अलग या विदेशी मूल का कोई सबूत नहीं है, जबकि आंतरिक प्रवास, देश की जटिल जातीय परिदृश्य के अधिक के लिए खातों.

भौतिक, मानवविज्ञान मैदान में दौड़ के साथ जाति (वर्ना) की पहचान को अस्वीकार जो अन्य वैज्ञानिकों के अलावा, हम कैलाश सी मल्होत्रा ​​का हवाला देते हैं हो सकता है: उत्तर प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, बंगाल और तमिलनाडु के लोगों के बीच से बाहर किया विस्तृत मानवशास्त्रीय सर्वेक्षण महत्वपूर्ण पता चला एक जाति और विभिन्न क्षेत्रों से जाति की उप आबादी के बीच से एक क्षेत्र के अंतर्गत विभिन्न वर्णों की जातियों के बीच करीब एक समानता के भीतर क्षेत्रीय मतभेद.

कद, मस्तक और नाक सूचकांक, एच के विश्लेषण के आधार पर रक्षित (1966) इस देश के ब्राह्मणों विषम हैं और लोगों के एक से अधिक प्रवास से जुड़े एक से अधिक शारीरिक प्रकार के समावेश का सुझाव है कि निष्कर्ष निकाला है.

18 मीट्रिक, 16 scopic और 8 आनुवंशिक मार्करों अध्ययन किया गया है जिस पर महाराष्ट्र में 8 ब्राह्मण जातियों में एक अधिक विस्तृत अध्ययन, दोनों रूपात्मक और आनुवंशिक विशेषताओं में न केवल एक महान विविधता का पता चला, लेकिन यह भी 3 ब्राह्मण जाति गैर ब्राह्मण जाति के करीब थे कि पता चला अन्य की तुलना में ब्राह्मण जाति [करने के लिए].

पी.पी. मजूमदार और के.सी. (1974) मल्होत्रा ​​11 देश राज्यों में फैले 50 ब्राह्मण नमूनों के बीच OAB रक्त समूह प्रणाली के संबंध में विविधता का एक बड़ा सौदा मनाया. सबूत इस प्रकार वर्ना एक सजातीय जैविक इकाई एक समाजशास्त्रीय और नहीं है कि पता चलता है.


comments (0)