Analytic Insight Net - FREE Online Tipiṭaka Research and Practice University and related NEWS through 
http://sarvajan.ambedkar.org 
in
 105 CLASSICAL LANGUAGES
Paṭisambhidā Jāla-Abaddha Paripanti Tipiṭaka Anvesanā ca Paricaya Nikhilavijjālaya ca ñātibhūta Pavatti Nissāya 
http://sarvajan.ambedkar.org anto 105 Seṭṭhaganthāyatta Bhāsā
Categories:

Archives:
Meta:
June 2017
M T W T F S S
« May   Jul »
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930  
06/02/17
2247 Sat 3 Jun 2017 LESSON-This is a futile exercise by the Murderers of democratic institutions (Modi) the CEC attempting to reinvent the wheel. It was proved in the Supreme Court that the EVMs could be tampered and hence the ex CJI Sathasivam committed a grave error of judgement by ordering that the EVMs could be replaced in a phased manner as suggested by the ex CEC Sampath because of the cost of Rs 1600 Crores. But he never ordered for paper ballots to be used till the entire EVMs were replaced.
Filed under: General
Posted by: @ 10:59 pm

2247 Sat 3 Jun 2017 LESSON

While each participating party can use a maximum of four EVMs for the challenge, sources in the commission said extra machines were also kept as back up keeping in mind any eventuality. PTI file photo

This is a futile exercise by the Murderers of democratic institutions
(Modi) the CEC attempting to reinvent the wheel. It was proved in the
Supreme Court that the EVMs could be tampered and hence the ex CJI
Sathasivam committed a grave error of judgement by ordering that the
EVMs could be replaced in a phased manner as suggested by the ex CEC
Sampath because of the cost of Rs 1600 Crores. But he never ordered for
paper ballots to be used till the entire EVMs were replaced.

The
very fact that the EVMs have to be replaced is a clear proof that they
are tamperable.More than 80 democracies have used ballot papers and are
still using them because the EVMs are subject to fraud. The CEC says
that only in 2019 entire EVMs will be replaced by VVPAT which is also
not reliable making the Murderers of democratic institutions (Modi)
continue their rule permanently.

There are many technological experts who have already proved that the EVMs are tamperable without any doubt.

The current exercise is only to bully the gulliable innocent voters.

Navaneetham Chandrasekharan

1 hr ·

http://www.milligazette.com/…/15634-uttar-pradesh-is-having…

Uttar Pradesh is having a government of questionable validity: need for impartial probe

Navaneetham Chandrasekharan • 3 minutes ago Hold on, this is waiting to be approved by The Milli Gazette.

The ex CJI Sathasivam had committed a grave error of judgement by
ordering that the EVMs could be replaced in a phased manner as suggested
by the ex CEC Sampath because of the cost of Rs 1600 Crores. But never
ordered for ballot papers until the entire EVMs were replaced. Only 8
out of 543 Lok Sabha seats were replaced enabling the BJP (Bahuth
Jitadha Psychopaths)’s Murderers of democratic institutions (Modi)
gobble the Master Key. Subsequently all the other assembly elections
were conducted by these fraud EVMs. In UP elections only in 20 seats
were replaced where BJP could win 325 seats enabling the
Yogi/Bhogi/Roghi and Desh Dhrohi to become the CM. In the last UP
Panchayat elections which was conducted by Paper ballots Ms mayawati’s
BSP won in a thumping majority. Now to curb Mayawati a Scheduled Caste
who is a Sarvajan Samaj leader to win the process of using the fraud
EVMs are being used. Therefore a movement to see that the Central and
state governments selected by these fraud EVMs must be dissolved and go
for fresh polls with paper ballots as followed by 80 democracies of the
world to save democracy, equality, liberty and fraternity as enshrined
in our Modern Constitution for the welfare, happiness and peace of all
societies and to avoid the 1% intolerant, militant, number 1 terrorists
of the world shooting, lynching, lunatic, mentally retarded chitpavan
brahmin RSS (rakshasa Swayam Sevaks) cannibal psychopaths who have
already started to implement their manusmriti for their stealth, shadowy
and discriminatory hinduva cult.

The ex CJI, ex CEC Modi and the
Yogi must be booked with non-bailabale warrants under Atrocities act
for preventing the SC/STs to acquire the Master Key negating the Modern
Constitution of our Country.

Uttar Pradesh is having a government of questionable validity: need for impartial probe
The Milli Gazette Online
Published Online: Jun 01, 2017

Selecting small samples to estimate the true value or quality or
behavior of a large group has been a widely accepted practice for many
years. Over the years, sampling techniques have been improved and made
scientific to ensure reliable estimates of true values and confidence
limits beyond which the true value is unlikely to lie. Consequently,
results of sample surveys have been repeatedly made use of with
confidence for planning economic, social and political developments.
But, ironically, the results of five scientific sample surveys (exit
polls) on UP election results were dismissed without even investigating
their reliability. This blind wholesale rejection of five scientific
sample surveys/exit polls is unique and deserves to be condemned
outright.

The following statement gives the results of five
scientific exit polls and the EVM counts for BJP and its supporters
(“BJP+”) in UP elections.

Pollster


No. of seats for “BJP+” and confidence limits within bracket

TIMES NOW VMR


200 (190-210)

India News-MRC


185 (175-195)*

ABP-CSDS


170 (164-176)

India TV-C Voter


161 (155-167)

News 24 Chanakya


285 (273- 297)*

Average


200 (190-210)*

EVM counts


325

*Confidence limits calculated by these pollsters were not shown in the
newspaper reports. Limits given above are rough but fairly reliable
calculations comparable to the confidence limits given by the other
pollsters.

The first four scientific exit polls predicted a hung
assembly. The last one predicted a majority for BJP. But, most
important, the EVM counts showed many more seats for “BJP+” than the
upper confidence limits (i.e., the upper limit for number of seats)
given by all the five exit polls. The average result for the five exit
polls (which gives a clearer picture) shows that the EVM count of 325
seats gave “BJP+” 55% more than the 210 seats which is the upper limit
for number of seats. This very large difference shows beyond any doubt
that EVM counts were wrong.

Chance for the true number of seats
received by “BJP+” being even a little more than the upper limit for
number of seats is less than 5% for any one of these exit polls (or even
less than 1% depending upon the degree of confidence selected by the
pollsters for calculating the limits). Even for the stray exit poll
result which was most favourable to “BJP+”, the chance for “BJP+”
getting even a little more than 297 seats is less than 5% (or 1%).
Chance for “BJP+” getting even a little more seats than the upper limit
for number of seats for all five exit polls is close to zero (according
to the law of probability). Considering the more reliable average
result, chance for “BJP+” getting 55% more seats than the upper limit of
210 seats is close to zero. In other words, the probability that the
EVM counts for UP elections were wrong is close to 100%.

Instead
of condemning outright the results of all five scientific exit polls,
Election Commission (EC) ought to have respected their scientific basis.
If any confirmation was needed, EC could have sought the expert opinion
of Indian Statistical Institute, Kolkata (the pioneers in developing
sampling techniques) or any other institutions or professors of
statistics with experience in sampling techniques. But, it seems that EC
did not do this. Incredibly, EC did not give any justifications for
rejecting scientific results! Obviously, EC did not want to find out the
truth and has failed in its constitutional responsibility. This lack of
interest in finding out the truth also questions the impartiality of
EC.

Impartiality is further questionable because EC ignored the
following information which clearly showed that manipulation of
electronic gadgets is a clear possibility and repeatedly claimed
parrot-like that EVMs cannot be tampered with:

1. Cyber
crimes have been increasing with more and more misguided clever people
resorting to hacking, developing virus, rigging etc.

2. An article titled “Are EVMs really tamper proof” by Debanish Achom in Deccan Chronicle states the following:

(a) “the BBC reported that after connecting a home-made device to an
EVM, University of Michigan researchers were able to change results by
sending text messages from a mobile phone.”

(b) “Hari Krishna
Prasad Vemuru, managing director of Hyderabad-based Netindia Pvt Ltd, a
technology solutions firm, has showed on local TV how an EVM could be
rigged.” It is possible that an ardent BJP supporter had watched this
and (without knowledge of EC & BJP) succeeded in hacking and
twisting the counting instructions for EVMs used in UP elections.

(c) Mr. Vemuru also claimed that “The EVM chip could be replaced
with a look-alike and instructed to silently steal a percentage of votes
in favour of a chosen candidate.” Any clever and dishonest staff of EC,
the sole custodian of EVMs, could do this if he/she wanted to. It is
pertinent that no government office is likely to be corruption-free.

3. “Synthetic (finger) prints can unlock smart phones 65% of the time.” (The Times of India, 16-04-17).

4. AAP has demonstrated in the Delhi Assembly how to tamper an EVM.

5. “A new report by McAfee reveals that 176 cyber–threats were
detected every minute (i.e., almost three every second) and 88 per cent
ransomeware growth and 99 per cent mobile malware growth had been
detected by the end of 2016.” (DeccanChronicle, 12.04.17).

Did EC
have a fool proof system to watch out for cyber-threats every second
24/7 and overcome all such threats? If not, cyber criminals could have
manipulated EVM counting for UP elections.

It is not clear
whether EC had succeeded in ensuring that EVMs used in UP elections
could withstand all types of manipulations at any time (throughout the
election), which can satisfy all types of experts. Even if it had
succeeded 100% (which is doubtful), any clever and dishonest staff of
EC, the sole custodian of EVMs, could have manipulated if he/she wanted
to. It is pertinent that there is no dearth of bribe-givers and takers
in the country.

All these show that manipulation of electronic
gadgets is a clear possibility. This is supported by government’s
admission to Supreme Court (SC), in connection with Aadhaar leaks, that
no technology is 100% perfect. All these ridicule EC’s claim that EVMs
cannot be tampered with. EC’s repeated refusals to investigate whether
EVMs used in UP elections were manipulated show that EC may not be
impartial.

It is pertinent that the possibility of such
manipulation is not only indirectly accepted by EC but also made use of
by it (as repeatedly illustrated below). EC promised to introduce a
paper trail (VVPAT) for EVMs in 2019 which will enable it to check
whether any electronic manipulation has occurred. If EVMs used in UP
elections could not be manipulated, EC could not have justified this
change. Ironically, despite this indirect self-admission of possibility
of manipulation, EC did not check and report whether this has happened
in UP elections even when it gave highly questionable results. Instead,
EC keeps on saying parrot-like that EVMs are tamper-proof. This double
thinking does not befit an authority like EC.

Moreover, it seems
that EC is talking about its plans for 2019 (which is a long way off)
mainly to divert attention from the highly questionable EVM counts of UP
elections which is the most important issue at hand.

EC wrote to
the Law Minister that deploying VVPAT machines is needed to ensure that
“integrity of the voting is preserved and voter’s confidence in the
process is strengthened” andsought sanction of Rs. 3,174 crores for
procurement of new machines (The Times of India, 17.04.17). If EVMs used
in UP elections had preserved integrity of voting, EC could not have
justified this huge demand for funds. Is this not another indirect
admission that EVMs used in UP elections were not tamper-proof?


EC says that these new machines are also equipped with a self diagnostic
system for authentication of genuineness of the machines. Does it not
imply that genuineness of the old EVMs used in UP elections could not be
authenticated? Does this not also imply that EC is making use of this
defect in the EVMs used in UP elections to justify spending huge amounts
on new machines?

“EC is set to buy next generation EVMs that
become “inoperable the moment attempts are made to tinker with it” for
use in 2019. (The Times of India, 03.04.17). This unusually early talk
about the future is another attempt to divert attention from the most
important question at hand whether the EVMs used in UP elections were
tampered with.

“The integrity of EVMs to be used in the poll will
be demonstrated to the complete satisfaction of all stakeholders” by a
team of EC (The Times of India, 02.04.17). This is another instance of
EC talking aboutthe future in order to divert attention from the wrong
EVM counts for UP elections.

EC threw a challenge to political
parties, scientists and technical experts to prove that EVMs could be
tampered with now. (The Times of India, 13.04.17). This is yet another
example of diverting attention from the wrong EVM counts for UP
elections. Moreover, this belated challenge, many weeks after casting of
doubts, raises the important question whether EC has now made the EVMs
used in UP, which were in its custody, “inoperable“ the moment attempts
are made to tinker with it - a quality of the next generation of EVMs.
If so, where are the old EVMs without this quality, which were used in
UP elections? Both these question whether EC has been dishonest.


In 2013, SC directed EC to introduce VVPAT in a phased manner.
Chidambaram referred to the details of this verdict and said that “a
team of experts had filed a comprehensive report saying that the
software as well as hardware used in EVMs are vulnerable and prone to
tampering”. He said even EC had admitted that the machine was not
foolproof and agreed to introduce paper trail” (The Times of India,
03.04.17). Because these EVMs without paper trail were used in UP
elections (except for few seats), EC was aware that they were not
foolproof. Despite this awareness, EC repeatedly claimed that the EVMs
could not be tampered with. This double speak questions the integrity
and impartiality of EC.

All these indicate lack of sincerity and
commitment of EC to ensure accuracy in election results. This is
confirmed by EC’s refusal to check accuracy of EVM counts in UP
elections despite the probability that the EVM counts for UP elections
were wrong is close to 100% (see above) and awareness of EC about
possibility of manipulation of EVMs (preceding para). This also
questions the impartiality of EC.

Mayawathi, Kejriwal and Yechury
have also questioned this. May be there are more people with doubts
(including the five pollsters) who are keeping quiet, possibly because
of fear of being labeled as anti-nationals. EC is not fulfilling its
duty to clear their doubts about the most important question of accuracy
of UP counts but diverting attention from it by repeatedly telling
about its future plans.

Lack of accuracy persists even four years
after SC’s orders though more accurate EVMs could be deployed on a
large scale. What is worse and damaging is that EC is planning to use
these “more accurate” EVMs only in 2019, though these machines will be
manufactured by Bharat Electronics and Electronics Corporation of India
(The Times of India, 02.04.17). Why this postponement instead of
ensuring accurate elections in some states for which it is due during
the next two year period? Doubts about impartiality of EC raises the
question whether it will close its eyes to manipulations in these
elections to help some parties, with the general elections in 2019 in
mind.

The baffling actions (or inaction by EC) do not stop with
these. New EVMs “technically allow a manual counting of votes”. Even
before getting complaints about the inaccuracy of the published results,
a responsible EC should have compared the results from manual counting
with the EVM counts for the 30 seats in UP for which new EVMs were used
to check accuracy. If the voting pattern shown by EVM counts differed
from those from manual counting for the 30 seats, the possibility of
manipulation is confirmed. But EC did not carry out these checks, even
after receiving complaints. Why? This also questions the impartiality of
EC.

EC has to provide convincing answers for all the questions raised earlier.

“Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal has said that he finds two of the
three election commissioners are biased because of what he claims to be
the proximity of one of them to PM Narendra Modi and of the other to MP
chief Minister Shivraj Singh Chouhan” (The Times of India, 19.04.17).
This allegation needs to be investigated because doubts about the
impartiality of EC have been raised a number of times in the earlier
paragraphs. Such an investigation should also cover various points
raised earlier. These should not be investigated by CBI which has been
labeled as a caged parrot of the government by SC. Another reason for
CBI’s lack of credibility is that “two former directors of CBI are
placed in the process of facing trial for corruption, money laundering,
and scuttling serious Supreme Court-mandated probes” (Deccan Chronicle,
28.04.17).

EC claims that “an analysis of results retrieved from
VVPATs used across all the 40 constituencies in Goa and 33 seats in
Punjab shows little variation with results put out by EVMs without paper
trail”(The Times of India, 18.4.17).

Most important, it is
surprising that EC did not provide the results retrieved from VVPATs
used in the other states including UP for which it was essential because
EVM counts were highly questionable there. EC must have made this
analysis for these states also. If so, why did EC withhold the results?
If it did not analyze, why?

Withholding of these results also
questions the impartiality of EC. These should be published immediately.
If EC now shows results for these seats in UP (for which VVPAT trail is
available) which prove that these did not differ from EVM counts, it
will not have credibility unless EC allows checking by independent
experts.

Possibly, EC wanted to hide these results because these
proved that EVM counts for UP were wrong for most of these seats and by
implication for most seats of UP, and confirmed the voting pattern shown
by the scientific exit polls.

The above analysis clearly shows
that (1) the probability that the EVM counts for UP elections were wrong
is close to 100% and constitution of the present UP government based on
these wrong counts has no validity, (2) EC has been repeatedly issuing
statements about ensuring correct counting of votes in future to divert
attention from the invalid results of UP elections, (3) Impartiality of
EC needs to be investigated because of the number of doubts mentioned in
earlier paragraphs and (4) The situation demands a thorough
investigation by an independent agency (not CBI) to clear all doubts and
recommend remedial actions.

Only such an investigation can ensure Satyameva Jayate (”Truth alone triumphs),our highly respected motto.

To reiterate, it isridiculous to mistrust the results of not one but
five scientific exit polls and trust the accuracy of EVMs which can be
manipulated according to many experts and which contradicts government’s
view that no technology is 100% perfect. It is shocking that (1)
diverting attention away from the scientific exit polls and accepting
the wrong EVM counts for Uttar Pradesh has resulted in UP having a
government which has no validity and (2) this serious issue is not being
questioned even by constitutional experts and authorities.

In
order to remove the shocking situation of having a government which has
no validity and to fulfill its responsibility under the Constitution, EC
has to (1) immediately declare the highly questionable EVM counts as
invalid because it gave “BJP+” 55% more seats than the upper limit for a
number of seats according to the average results of the five scientific
exit polls and (2) order a recount of EVMs after removing the criminal
manipulations, under scrutiny by experts and stakeholders. If this is
not possible, EC has to order a re-poll within a short period, after
recommending President’s rule. Otherwise, UP will continue to have an
invalid government – a blot on our Constitution.

An anonymous
citizen who cares for and respects the motto Satyameva Jayate and fears
the fringe elements which harass or even kill on any pretext.

An appeal to Hon’be judges of Supreme Court

Kindly consider whether the shocking/unconstitutional situations
described in this article are sufficient grounds for taking up suo motu
cases for :

(1) Dismissing the present UP government which has
no validity under the Constitution, being based on highly questionable
EVM counts. It is scandalous if a cyber criminal will be allowed to make
a mockery of the Constitution.

(2) Setting up a Special
Investigation Team to investigate whether Election Commission failed to
be impartial about the UP election results.

For the attention of journalists

At a recent panel discussion in Delhi Habitat Centre, all participants
expressed the view that the media scene in India was catastrophic
because of the fear among journalists to criticize the present
Government. If the journalists are so afraid, they will become
irrelevant. The only solution they suggested was that journalists should
stand up against the undesirable policies and actions of Governments.
This need was emphasized by the President of India also recently. He
said that the press will be failing in its duty if it does not ask
questions to those in power (The Times of India, 26.05.17).

In
the present context, it is the duty of every journalist to question the
EC which failed in its responsibilities by ignoring the results of five
scientific exit polls without giving any justification and using the
highly questionable EVM counts to support the constitution of an invalid
government in UP, resulting in a shocking situation and a blot on the
Constitution of India.

To help remove the climate of fear,
retired journalists with lots of experience should publish booklets
which explain the reasons for journalists fearing to express their views
freely and the negative role played by their non-professional masters.
Publishing booklets is necessary because newspapers and journals may not
publish such views due to fear.

However, the severity of
criticism of both the Central and the State Government by brave
journalists like Vinu John and Sindhu Sooryakumar on TV and many others
in the newspapers in Kerala gives hope that all is not lost. Moreover,
these activities demonstrate that as professionals doing their job of
exposing governments, journalists need not fear because they will get
the full support of the entire profession and general public, unlike a
common man.

(Received from Sivarama Bharathi — srbharathi18@yahoo.in)

We hope you liked this report/article. The Milli Gazette is a free and
independent readers-supported media organisation. To support it, please
contribute generously. Click here or email us at sales@milligazette.com

Uttar Pradesh is having a government of questionable validity: need for impartial probe

In the present context, it is the duty of every journalist to question the EC which failed in its responsibilities…

milligazette.com

Arvind Kejriwal's Hackathon Vs Election Commission's: What To Expect

Classical Bengali

এই হত্যাকারীদের গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠান (মোদি) সিইসি চাকা reinvent করার চেষ্টা করে বৃথা ব্যায়াম। এটা
তোলে সুপ্রিম কোর্টের প্রমাণিত হয় যে ইভিএম ক্ষতিগ্রস্ত হতে পারে এবং অত:
পর প্রাক্তন CJI Sathasivam ক্রম যে ইভিএম টাকা খরচ কারণ হিসাবে প্রাক্তন
সিইসি Sampath দ্বারা প্রস্তাবিত একটি বিকাশ পদ্ধতিতে প্রতিস্থাপিত হতে
পারে বিচার-একটি সমাধি ত্রুটি সংঘটিত
1600 কোটি। কিন্তু তিনি আদেশ না হওয়া পর্যন্ত সমগ্র ইভিএম কাগজ ব্যালট প্রতিস্থাপন করা জন্য ব্যবহার করা হয়।

খুব
সত্য যে ইভিএম একটি স্পষ্ট প্রমাণ যে তারা 80 গণতন্ত্রে এর tamperableMore
ব্যালট পেপার ব্যবহার করেছেন প্রতিস্থাপন করা হয় এবং তাদের ব্যবহার করছেন
কারণ ইভিএম এখনো জালিয়াতি সাপেক্ষে হয়।
সিইসি বলেন যে, যা শুধুমাত্র 2019 এ VVPAT সমগ্র ইভিএম উপার্জন
নির্ভরযোগ্য গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠানগুলো (মোদি) স্থায়ীভাবে তাদের নিয়ম
অবিরত হত্যাকারীদের দ্বারা প্রতিস্থাপিত করা হবে না।

অনেক প্রযুক্তিগত বিশেষজ্ঞদের যারা ইতিমধ্যে কোনো সন্দেহ নেই যে ইভিএম tamperable ছাড়া প্রমাণিত হয়েছে।

বর্তমান ব্যায়াম শুধুমাত্র গুন্ডামি করার জন্য ভোটারদের gulliable নির্দোষ।

HTTP: //www.milligazette.com /…/ 15634-উত্তর-প্রদেশ-is-থাকার …

উত্তরপ্রদেশ সন্দেহজনক বৈধতা সরকারি হচ্ছে না: নিরপেক্ষ তদন্ত প্রয়োজনীয়তার

মাত্র 8 543 লোকসভা আসনের মধ্যে বিজেপি (Bahuth সক্রিয় প্রতিস্থাপিত হয়েছে
Jitadha সাইকোপ্যাথ) গণতান্ত্রিক প্রতিষ্ঠানগুলোর এর হত্যাকারীদের (মোদি)
মাস্টার কী গোগ্রাসে খাওয়া। পরবর্তীকালে সব অন্যান্য সভা নির্বাচনের
ইভিএম এই জালিয়াতি দ্বারা পরিচালিত হয়। কেবল নির্বাচনে 20 আসনের
আসন যেখানে বিজেপি জিততে পারে সক্ষমের জন্য 325 প্রতিস্থাপিত হয়েছে
যোগী / Bhogi / Roghi এবং দেশ Dhrohi সিএম পরিণত হয়। গত ইউপি ইন
পঞ্চায়েত নির্বাচনে যা মায়াবতীর গুলি পেপার ব্যালট পরিচালনা করেন
বিএসপি একটি অস্বাভাবিকরকম সংখ্যাগরিষ্ঠ জিতেছে। এখন একটি তফসিলি সম্প্রদায়ের কাছে মায়াবতী প্রতিবন্ধক
একটি Sarvajan সমাজ নেতা যিনি জালিয়াতি প্রক্রিয়া ব্যবহার করছে জয়
ইভিএম ব্যবহার করা হচ্ছে। অতএব দেখতে যে কেন্দ্রীয় করার জন্য একটি আন্দোলন এবং
ইভিএম এই জালিয়াতি দ্রবীভূত রাজ্য সরকার কর্তৃক নির্বাচিত করা উচিত ও যান
80 গণতন্ত্রে হিসাবে কাগজ ব্যালট সঙ্গে তাজা নির্বাচনে দ্বারা অনুসরণ
যেমন সন্নিবেশিত বিশ্বের গণতন্ত্র, সমতা, স্বাধীনতা ও সমধর্মিতা সংরক্ষণ
কল্যাণ, সুখ এবং সকলের শান্তির জন্য আমাদের সংবিধান আধুনিক
সমাজ ও 1% অসহিষ্ণু, জঙ্গি, সংখ্যা 1 সন্ত্রাসীদের এড়াতে
বিশ্বের শুটিং, lynching, চন্দ্রাহত এর মানসিক প্রতিবন্ধী chitpavan
যারা মানুষখেকো আছে ব্রাহ্মণ আরএসএস (রাক্ষস Swayam Sevaks) সাইকোপ্যাথ
তাদের চৌর্য, ছায়াময় জন্য তাদের মনুস্মৃতি বাস্তবায়ন শুরু
hinduva অর্চনা ও বৈষম্যমূলক।

প্রাক্তন CJI, মোদী ও প্রাক্তন সিইসি
যোগী অ bailabale আইন নৃশংসতার অধীনে পরোয়ানা সঙ্গে বুক করা আবশ্যক
এসসি প্রতিরোধ জন্য / এসটিএস মাস্টার কী আধুনিক অস্বীকার অর্জন
আমাদের দেশের সংবিধানের।

উত্তরপ্রদেশ সন্দেহজনক বৈধতা সরকারি হচ্ছে না: নিরপেক্ষ তদন্ত প্রয়োজনীয়তার
মিল্লি গেজেট অনলাইন
প্রকাশিত অনলাইন: জুন ২01২, 2017

ছোট নমুনা নির্বাচন সত্য মান বা মান বা অনুমান করার জন্য
আচরণ বৃহৎ গ্রুপ অনেকের জন্য একটি বহুল গৃহীত অনুশীলন হয়েছে
বছর। বছর ধরে স্যাম্পলিং কৌশল উন্নত করা হয়েছে এবং তৈরি
বৈজ্ঞানিক ও আস্থা সত্য মূল্যবোধের নির্ভরযোগ্য অনুমান নিশ্চিত করার
সীমা যা তার পরেও মিথ্যা সত্য মান সম্ভাবনা কম। ফলে,
নমুনা জরিপ ফলাফল বারবার ব্যবহারের সঙ্গে তৈরি করা হয়েছে
অর্থনৈতিক, সামাজিক ও রাজনৈতিক উন্নয়ন পরিকল্পনা জন্য আস্থা।
কিন্তু হাস্যকর ভাবে, পাঁচটি বৈজ্ঞানিক নমুনা জরিপ ফলাফল (প্রস্থান
নির্বাচনে) এমনকি ইউপি নির্বাচনের ফলাফল উপর তদন্ত ছাড়া বরখাস্ত করা হয়েছে
তাদের নির্ভরযোগ্যতা। পাঁচটি বৈজ্ঞানিক অন্ধ এই পাইকারি প্রত্যাখ্যান
নমুনা জরিপ / প্রস্থান নির্বাচনে স্বতন্ত্র এবং নিন্দিত করা দাবী
সরাসরি।

নিম্নোক্ত বিবৃতি পাঁচজন ফলাফল দেয়
ইভিএম বৈজ্ঞানিক প্রস্থান পোল এবং বিজেপি এবং তার সমর্থকদের জন্য বড়, মোট ছাত্র
( “বিজেপি + +”) ইউপি নির্বাচনে।

জনমতসম্বন্ধে ভোট-গ্রহণাদিত্র দক্ষ ব্যক্তি

না। ও আস্থা সীমার মধ্যে জন্য “বিজেপি” আসন বন্ধনী এর

VMR টাইমস নাউ

200 (190210)

ভারত সংবাদ-এমআরসি

185 (175195) *

এবিপি-CSDS

170 (164176)

ভারত টিভি-সি ভোটার

161 (155-167)

সংবাদ 24 চাণক্য

285 (273- 297) *

গড়

200 (190210) *

ইভিএম গন্য

325

* কনফিডেন্স সীমা দেখানো এই pollsters নির্ণিত ছিল
সংবাদপত্র রিপোর্ট। দেওয়া উপরোক্ত সীমা মোটামুটি রুক্ষ কিন্তু নির্ভরযোগ্য
অন্যান্য দ্বারা আস্থা গণনার সঙ্গে তুলনীয় সীমা দেওয়া
pollsters।

প্রথম চার বৈজ্ঞানিক প্রস্থান নির্বাচনে একটি স্তব্ধ পূর্বাভাস
সমাবেশ। গত এক বিজেপির জন্য সংখ্যাগরিষ্ঠতা পূর্বাভাস। তবে সব চেয়ে
ইভিএম গন্য জন্য গুরুত্বপূর্ণ আরও অনেক আসন চেয়ে দেখিয়েছেন “বিজেপি”
উপরের আস্থা সীমা (অর্থাত, আসন সংখ্যার জন্য সর্বোচ্চ সীমা)
পাঁচটি প্রস্থান নির্বাচনে কাছ থেকে। পাঁচটি প্রস্থান জন্য গড় ফলাফলের
নির্বাচনে (যা একটি পরিষ্কার ছবি দেয়) যে ইভিএম জন্য 325 গণনা দেখায়
আসন 210 টি আসন, যা সর্বোচ্চ সীমা চেয়ে 55% আরো “বিজেপি” দিয়েছেন
আসন সংখ্যা জন্য। এই কোন সন্দেহ খুব বড় পার্থক্য অতিক্রম দেখায়
ইভিএম গন্য যে ভুল ছিল।

সুযোগ তৈরি আসন সত্য সংখ্যা
দ্বারা গৃহীত “বিজেপি” সর্বোচ্চ সীমা চেয়ে আরও একটু বেশি হচ্ছে
আসন এই প্রস্থান নির্বাচনে সংখ্যা কোনো এক কম 5% (বা এমনকি
কম 1% ডি


সুযোগ তৈরি আসন সত্য সংখ্যা
দ্বারা গৃহীত “বিজেপি” সর্বোচ্চ সীমা চেয়ে আরও একটু বেশি হচ্ছে
আসন এই প্রস্থান নির্বাচনে সংখ্যা কোনো এক কম 5% (বা এমনকি
কম 1% দ্বারা নির্বাচিত আস্থা ডিগ্রী উপর নির্ভর করে
সীমা গণক জন্য pollsters)। এমনকি বিপথগামী প্রস্থান ভোট দানের
ফলাফলের যেটি “বিজেপি” সবচেয়ে অনুকূল ছিল, সুযোগ “বিজেপি”
এমনকি সামান্য 297 তুলনায় আরো আসন পেয়ে কম 5% (বা 1%) হয়।
জন্য “বিজেপি” সর্বোচ্চ সীমা আসন চেয়ে আরও একটু বেশি পেয়ে সম্ভাবনা
সংখ্যা পাঁচটি প্রস্থান নির্বাচনের আসনের জন্য (অনুযায়ী শুন্যতে পাসে
সম্ভাব্যতা আইন)। অধিক নির্ভরযোগ্য গড় বিবেচনা
ফলে জন্য “বিজেপি” সুযোগ সর্বোচ্চ সীমা চেয়ে 55% বেশি আসন পেয়ে
210 আসন শূন্য কাছাকাছি। অন্য কথায়, সম্ভাব্যতা যে
ইভিএম ইউপি নির্বাচনের বড়, মোট ছাত্র ছিল ভুল 100% কাছাকাছি।

পরিবর্তে
সরাসরি নিন্দা প্রস্থান নির্বাচনে পাঁচটি বৈজ্ঞানিক ফলাফলের সব,
নির্বাচন কমিশন (ইসি) তাদের বৈজ্ঞানিক ভিত্তি সম্মান করে থাকে ঢেকে রাখবে।
যদি কোনো নিশ্চয়তা প্রয়োজন ছিল ইসি বিশেষজ্ঞ মতামত চাওয়া থাকতে পারে
এর কলকাতার ইন্ডিয়ান স্ট্যাটিস্টিকাল ইনস্টিটিউট (উন্নয়নশীল অগ্রদূত
স্যাম্পলিং কৌশল) অথবা অন্য কোন প্রতিষ্ঠান বা অধ্যাপকদের
স্যাম্পলিং কৌশলের পরিসংখ্যান অভিজ্ঞতার সঙ্গে। কিন্তু, এটা মনে হচ্ছে যে ইসি
এই কাজ করেন নি। অবিশ্বাস্যভাবে ইসি কোনোভাবেই জাস্টিফাই দেয় নি
বৈজ্ঞানিক ফলাফল প্রত্যাখ্যান! একথাও ঠিক যে, ইসি জানতে চাইনি
তার সাংবিধানিক দায়িত্ব ও সত্যে ব্যর্থ হয়েছে। এই অভাব
এছাড়াও সত্য খোঁজার আগ্রহ নিরপেক্ষতা নিয়ে প্রশ্ন
ইসি।

নিরপেক্ষতা আরও সন্দেহজনক কারণ ইসি উপেক্ষা করা হয়
তথ্য ম্যানিপুলেশন যা স্পষ্টভাবে দেখিয়েছেন যে নিম্নলিখিত
ইলেকট্রনিক গ্যাজেট সুস্পষ্ট সম্ভাবনা এবং বারবার দাবি
ইভিএম নষ্ট করা যাবে না তোতাপাখি মত:

1. সাইবার
অপরাধে আরো এবং আরো বিপথে চালিত চালাক মানুষ বৃদ্ধি করা হয়েছে
, হ্যাকিং অবলম্বন ভাইরাস উন্নয়নশীল, জালিয়াতি ইত্যাদি

খেতাবধারী 2. ডেকান ক্রনিকল দ্বারা Achom Debanish মধ্যে “ইভিএম সত্যিই
প্রমাণ অবৈধ প্রভাব বিস্তার করা হয়” একটি প্রবন্ধ অনুযায়ী নিম্নলিখিত:

(ক) “বিবিসি জানায় যে একটি করার জন্য একটি স্বগৃহে বা স্বদেশে প্রস্তুত ডিভাইস সংযোগ পরে
ইভিএম, মিশিগান বিশ্ববিদ্যালয়ের গবেষকরা ফলাফল পরিবর্তন করতে সক্ষম হয়েছি
একটি মোবাইল ফোন থেকে টেক্সট বার্তা পাঠানোর। “

(খ) “হরি কৃষ্ণ
Vemuru প্রসাদ, হায়দ্রাবাদ ভিত্তিক Netindia প্রাঃ লিঃ ব্যবস্থাপনা পরিচালক, একটি
প্রযুক্তি সমাধান ফার্ম, দেখিয়েছেন থাকে তবে কীভাবে একটি ইভিএম স্থানীয় টিভিতে হতে পারে
পাতানো। “এটা সম্ভব যে অটল সমর্থক বিজেপির এই দেখেছেন
এবং (ইসি & বিজেপি জ্ঞান ছাড়া) হ্যাকিং সফল এবং
ইভিএম নির্দেশাবলী মোচড়ের ইউপি নির্বাচনে বেড়ে চলেছে জন্য ব্যবহৃত।

(গ) জনাব Vemuru দাবি করেন যে, “ইভিএম চিপ প্রতিস্থাপিত হতে পারে
একবার দেখে-সদৃশ এবং চুপি চুপি নির্দেশ দিয়ে ভোট শতকরা চুরি করতে
একটি নির্বাচিত প্রার্থীর পক্ষে। “ইসি কোন চালাক এবং অসৎ স্টাফ,
যদি তিনি / সে চেয়েছিলেন ইভিএম একমাত্র জিম্মাদার, এই কাজ করতে পারে। এটা
কোন প্রাসঙ্গিক সরকারী অফিস যে সম্ভাবনা রয়েছে দুর্নীতি মুক্ত হতে।

3. “কৃত্রিম (আঙুল) কপি করে প্রিন্ট স্মার্ট ফোনের আনলক করতে পারেন সময় 65%।” (টাইমস অফ ইন্ডিয়া, 16-04-17)।

4. দিল্লি পরিষদ এএপি একটি ইভিএম অবৈধ প্রভাব বিস্তার কিভাবে প্রদর্শিত হয়েছে।

5. “ম্যাকাফি দ্বারা একটি নতুন রিপোর্ট প্রকাশ করে যে, 176 সাইবার-হুমকি ছিল
এবং প্রতি মিনিটে সনাক্ত করা (যেমন, প্রায় তিন প্রতি মাসের দ্বিতীয়) 88 শতাংশ
বৃদ্ধি এবং 99 শতাংশ ransomeware মোবাইল ম্যালওয়্যার বৃদ্ধি হয়েছে
2016. শেষে “(DeccanChronicle, 12.04.17) দ্বারা সনাক্ত হয়েছে।

ইসি কি
সাইবার-হুমকি প্রতি মাসের দ্বিতীয় আছে বোকা প্রমাণ সিস্টেমের জন্য সতর্ক
24/7 এবং সব ধরনের হুমকি পরাস্ত? যদি না হয়, সাইবার অপরাধীদের হতে পারে
ইভিএম ইউপি নির্বাচন আর হচ্ছেই জন্য কাজে ব্যবহৃত।

এটা স্পষ্ট নয়
ইসি কিনা ব্যবহৃত ইভিএম নিশ্চিত ইউপি নির্বাচনে সফল হয়েছিল
(সর্বত্র যে কোন সময়ে হেরফেরের সব ধরনের কাজে বাধাদান করতে পারি
নির্বাচন), যা বিশেষজ্ঞদের সব ধরনের সন্তুষ্ট করতে পারেন। এমনকি যদি এটি ছিল
100% সফল (যা সন্দিহান হয়ে থাকে), কোন চালাক এবং অসৎ কর্মীদের
ইসি, ইভিএম একমাত্র জিম্মাদার, যদি তিনি / সে চেয়েছিল কাজে ব্যবহৃত হতে পারে
করতে। এটা তোলে প্রাসঙ্গিক হয় ঘুষ-givers এবং সেবার কোন অভাব নেই
দেশে।

এই সমস্ত দেন যে ইলেকট্রনিক ম্যানিপুলেশন
গ্যাজেটগুলি একটি স্পষ্ট সম্ভাবনা আছে। এই সরকার গুলি দ্বারা সমর্থিত
আধার তথ্য ফাঁসের সাথে সুপ্রিম কোর্টের (এসসি), ভর্তির যে
কোন প্রযুক্তি 100% নির্ভুল। এই সব উপহাস ইসি গুলি বলে যে দাবি করা ইভিএম
নষ্ট করা যাবে না। এস পুনরাবৃত্তি refusals কিনা ইসি তদন্ত করতে
ইভিএম ইউপি নির্বাচনে ব্যবহার করা হয় যে দেখাবেন ইসি না কাজে ব্যবহৃত হতে পারে
নিরপেক্ষ।

এটা তোলে প্রাসঙ্গিক হয় যে এই ধরনের সম্ভাবনা
ইসি ম্যানিপুলেশন কেবলমাত্র গৃহীত না হয় বরং পরোক্ষভাবে ব্যবহার করা
এটি দ্বারা (নীচের সচিত্র বারবার হিসাবে)। ইসি একটি পরিচয় করিয়ে দিতে প্রতিশ্রুত
কাগজ লেজ 2019 সালে (VVPAT) ইভিএম জন্য যা এটি পরীক্ষা করার সুবিধা প্রদান করবে
কোনও ইলেকট্রনিক ম্যানিপুলেশন ঘটেছে কিনা। যদি ইভিএম ইউপি ব্যবহৃত
নির্বাচনের কাজে ব্যবহৃত করা যায়নি, ইসি এই সমর্থনযোগ্য না পারে
পরিবর্তন করুন। হাস্যকর ভাবে, নিজেকে ভর্তির এই পরোক্ষ সম্ভাবনা সত্ত্বেও
ম্যানিপুলেশন ইসি পরীক্ষা করা হয়নি এই ঘটেছে কিনা ও প্রতিবেদন
এমনকি যখন এটা ইউপি নির্বাচনে gav


এটা তোলে প্রাসঙ্গিক হয় যে এই ধরনের সম্ভাবনা
ইসি ম্যানিপুলেশন কেবলমাত্র গৃহীত না হয় বরং পরোক্ষভাবে ব্যবহার করা
এটি দ্বারা (নীচের সচিত্র বারবার হিসাবে)। ইসি একটি পরিচয় করিয়ে দিতে প্রতিশ্রুত
কাগজ লেজ 2019 সালে (VVPAT) ইভিএম জন্য যা এটি পরীক্ষা করার সুবিধা প্রদান করবে
কোনও ইলেকট্রনিক ম্যানিপুলেশন ঘটেছে কিনা। যদি ইভিএম ইউপি ব্যবহৃত
নির্বাচনের কাজে ব্যবহৃত করা যায়নি, ইসি এই সমর্থনযোগ্য না পারে
পরিবর্তন করুন। হাস্যকর ভাবে, নিজেকে ভর্তির এই পরোক্ষ সম্ভাবনা সত্ত্বেও
ম্যানিপুলেশন ইসি পরীক্ষা করা হয়নি এই ঘটেছে কিনা ও প্রতিবেদন
ইউপি নির্বাচনে দিলেন এমনকি যখন এটা অত্যন্ত সন্দেহজনক ফলাফল। এর পরিবর্তে,
ইসি তোতাপাখি মত বলে যে ইভিএম ট্যাম্পারপ্রুফ প্রমাণ উপর রাখে। এই ডবল
ইসি একটা কর্তৃত্বের মত চিন্তা শোভা পায় না।

তাছাড়া, এটা মনে হয়
ইসি যে 2019 তার পরিকল্পনা সম্পর্কে (একটি দীর্ঘ পথ বন্ধ হয়) কথা বলছে
প্রধানত ইভিএম ইউপি অত্যন্ত সন্দেহজনক গন্য থেকে মনোযোগ বিমুখ
নির্বাচনের হাতে সবচেয়ে গুরুত্বপূর্ণ বিষয় যা।

ইসি লিখেছেন
আইনমন্ত্রী নিশ্চিত করার প্রয়োজন হয় যে মেশিন যে VVPAT মোতায়েন
“সংরক্ষিত s এ ভোটদান ও ভোটার আস্থা অখণ্ডতা হয়
প্রক্রিয়া জোরদার হয় “টাকা andsought অনুমোদন। জন্য 3.174 কোটি
নতুন মেশিন (টাইমস অফ ইন্ডিয়া, 17.04.17) এর আসাদন। ব্যবহৃত ইভিএম তাহলে
ইউপি নির্বাচনে ভোট অখণ্ডতা সংরক্ষিত ছিল, ইসি আছে না পারে
তহবিলের জন্য এই বিশাল চাহিদা সমর্থনযোগ্য। এই অন্য পরোক্ষ নয়
ভর্তি যে ইভিএম ব্যবহার করা অবৈধ প্রভাব বিস্তার-প্রমাণ ছিল না ইউপি নির্বাচনে?

ইসি বলছে যে এই নতুন মেশিন একটি স্ব ডায়গনিস্টিক দিয়ে সজ্জিত করা হয়
মেশিনে অকৃত্রিমতা এর প্রমাণীকরণের জন্য সিস্টেম। তাই না
পরোক্ষভাবে পুরানো ইভিএম অকৃত্রিম ইউপি নির্বাচনে ব্যবহার করা যেতে পারে
প্রমাণীকৃত? মানে এই না যে ইসি এই ব্যবহার করছে
ইভিএম মধ্যে খুঁত ইউপি নির্বাচনে খরচ বিশাল পরিমাণ সমর্থন করার জন্য ব্যবহার
নতুন মেশিনে?

“ইসি যে পরবর্তী প্রজন্মের ইভিএম কেনার জন্য সেট করা হয়
পরিণত জন্য “মুহূর্ত প্রচেষ্টা এটা ভাবছে অস্ত্রোপচারের উপযোগী নয় এমন তৈরি হয়”
2019. (টাইমস অফ ইন্ডিয়া, 03.04.17) এ ব্যবহার করুন। এই অসাধারণভাবে গোড়ার দিকে আলাপ
ভবিষ্যত সম্পর্কে সবচেয়ে থেকে মনোযোগ বিমুখ আরেকটি প্রচেষ্টা
হাতে গুরুত্বপূর্ণ প্রশ্ন কিনা ইভিএম ইউপি নির্বাচনে ব্যবহার করা হয়
ক্ষতিগ্রস্ত।

“পোলের অখণ্ডতা ইভিএম ব্যবহার করা হবে
“সব স্টেকহোল্ডারের সম্পূর্ণ সন্তুষ্টি হতে প্রদর্শিত একটি দ্বারা
ইসি (টাইমস অফ ইন্ডিয়া, 02.04.17) এর টিম। এই আরেকটি দৃষ্টান্ত হল
অনুক্রমে ইসি ভবিষ্যৎ aboutthe কথা ভুল থেকে মনোযোগ বিমুখ
ইভিএম জন্য নির্বাচনে গণনা করে।

ইসি রাজনৈতিক চ্যালেঞ্জ ছুড়ে ফেলে
দল, বিজ্ঞানী ও কারিগরি বিশেষজ্ঞদের যে ইভিএম হতে প্রমাণ করতে পারে
এখন নষ্ট। (টাইমস অফ ইন্ডিয়া, 13.04.17)। এই এখনও অন্য হয়
ভুল ইভিএম থেকে মনোযোগ চিত্তবিনোদনকর উদাহরণ গন্য জন্য
নির্বাচনে। তাছাড়া, এই বিলম্বিত চ্যালেঞ্জ, ঢালাই অনেক সপ্তাহ পরে
সন্দেহ, গুরুত্বপূর্ণ প্রশ্ন হচ্ছে ইসি এখন ইভিএম করেছেন উত্থাপন
ইউপি যার হেফাজতে ছিল, “অস্ত্রোপচারের উপযোগী নয় এমন” মুহূর্ত প্রচেষ্টা ব্যবহৃত
ইভিএম পরবর্তী প্রজন্মের একটি গুণমান - এটা দিয়ে মেরামত করা হয়।
যদি তাই হয়, সেই বুড়ো ইভিএম ছাড়াই এই মানের, যা ব্যবহার করা হয়েছিল হয়
ইউপি নির্বাচনে? উভয় কিনা ইসি এই প্রশ্নের অসৎ হয়েছে।

2013 সালে, এসসি একটি বিকাশ পদ্ধতিতে VVPAT পরিচয় করিয়ে দিতে ইসি পরিচালনা করেন।
চিদাম্বরম এই রায় বিবরণ উল্লেখ করা এবং বলেন যে “একটি
এই বলে যে বিশেষজ্ঞদের দল ব্যাপক রিপোর্ট দায়ের করেন
ইভিএম হার্ডওয়্যার সেইসাথে সফ্টওয়্যার প্রবন এবং প্রবণ ব্যবহার করা হয়
গরমিল “। তিনি বলেন, ইসি স্বীকার করেছিলেন যে মেশিন এমনকি ছিল না
অব্যর্থ ও কাগজের লেজ “(টাইমস অফ ইন্ডিয়া পরিচয় করিয়ে দিতে রাজি
030417)। কারণ এইসব ইভিএম ইউপি মধ্যে কাগজ লেজ ছাড়া ব্যবহার করা হয়েছে
নির্বাচনে (কয়েক আসনের জন্য ব্যতীত) ইসি যে তারা সচেতন ছিলাম না
অব্যর্থ। এই সচেতনতা সত্ত্বেও ইসি বারবার দাবি করেন যে ইভিএম
নষ্ট করা যাবে না। এই অখণ্ডতা ডবল কথা নিয়ে প্রশ্ন
ইসি এবং নিরপেক্ষতা।

এই সমস্ত ইঙ্গিত আন্তরিকতা অভাব এবং
ইসি প্রতিশ্রুতি মধ্যে নির্বাচনের ফলাফল নির্ভুলতা নিশ্চিত করার জন্য। এই
ইসি গুলি অস্বীকার দ্বারা নিশ্চিত করা ইউপি ইভিএম মধ্যে গন্য নির্ভুলতা চেক করতে
ইউপি সম্ভাব্যতা যে ইভিএম জন্য নির্বাচন, মোট ছাত্র সত্ত্বেও নির্বাচনে
ভুল 100% পাসে ছিল (উপরে দেখুন) এবং প্রায় ইসি সচেতনতা
ইভিএম (পূর্ববর্তী পাড়া) এর ম্যানিপুলেশন সম্ভাবনা। এই
ইসি নিরপেক্ষতা নিয়ে প্রশ্ন।

Mayawathi, কেজরিওয়াল ও Yechury
এই নিয়ে প্রশ্ন করেছেন। আরও অনেক বেশি মানুষের হতে সেখানে সঙ্গে সন্দেহ হয়
(পাঁচটি pollsters সহ) যিনি শান্ত পালন করা হয়, সম্ভবত কারণ
বিরোধী নাগরিকদের হিসাবে লেবেল করা হচ্ছে ভয়ের। ইসি পূরণে নয় তার
দায়িত্ব সবচেয়ে গুরুত্বপূর্ণ প্রশ্ন নির্ভুলতা সম্পর্কে তাদের সন্দেহ পরিষ্কার
কিন্তু বারবার ইউপি বলার মাধ্যমে তা থেকে মনোযোগ চিত্তবিনোদনকর এর গন্য
তার ভবিষ্যতের পরিকল্পনা সম্পর্কে।


সঠিকতা অভাব চার বছর এমনকি চলতেই
এসসি গুলি আদেশ একটি আরো সঠিক ইভিএম উপর যদিও পরে মোতায়েন করা যেতে পারে
বড় স্কেল। কি খারাপ ক্ষতিকর এবং যে ইসি ব্যবহার করার পরিকল্পনা নিয়েছে
এই “আরো সঠিক” শুধুমাত্র 2019 সালে ইভিএম, যদিও এই মেশিনগুলির হতে হবে
ভারত ইলেক্ট্রনিক্স ও ভারতের ইলেক্ট্রনিক্স কর্পোরেশন দ্বারা উত্পাদিত
(টাইমস অফ ইন্ডিয়া, 02.04.17)। কেন এই স্থগিত পরিবর্তে
কিছু কিছু রাজ্যে, যার জন্য এটা কারণে নির্বাচনের সময় সঠিক নিশ্চিত
আগামী দুই বছরের? উত্থাপন এর নিরপেক্ষতা ইসি নিয়ে সংশয়
তা প্রশ্নে এই হেরফেরের তার চোখ বন্ধ হয়ে যাবে
নির্বাচন করার জন্য কিছু দলগুলোর সহায়তা 2019 সালে সাধারণ নির্বাচনে সঙ্গে
মন।

বিভ্রান্তিকর ক্রিয়া (অথবা ইসি নিষ্ক্রিয়তা) সঙ্গে থামবেন না
এই। নিউ ইভিএম “টেকনিক্যালি ভোট একটি ম্যানুয়াল কাউন্টিং অনুমতি দিন”। এমন কি
প্রকাশিত ফলাফল ভ্রম সম্পর্কে অভিযোগ পেয়ে আগে,
ইসি ম্যানুয়াল কাউন্টিং থেকে দায়িত্বশীল তুলনায় ফলাফল থাকা উচিত
গন্য যার জন্য নতুন ইভিএম ইউপি 30 আসনের জন্য ব্যবহার করা হয় সঙ্গে ইভিএম
সঠিকতা বার করো। প্যাটার্ন ভোটিং গন্য দ্বারা প্রদর্শিত ভিন্ন তাহলে ইভিএম
30 আসনের জন্য ম্যানুয়াল বেড়ে চলেছে, সম্ভাবনা থেকে যারা থেকে
ম্যানিপুলেশন নিশ্চিত হয়েছে। কিন্তু ইসি এই চেক চালায় করা হয়নি, এমনকি
অভিযোগ প্রাপ্তির পর। কেন? এটাও এর নিরপেক্ষতা নিয়ে প্রশ্ন
ইসি।

ইসি আগে তুলেছে সব প্রশ্নের জন্য বিশ্বাসযোগ্য উত্তর প্রদান।

‘দিল্লি মুখ্যমন্ত্রী অরবিন্দ কেজরিওয়াল বলেছেন যে তিনি দুই খুঁজে বের করে
তিন নির্বাচন কমিশনারদের কারণ তিনি কি বলে দাবি পক্ষপাতদুষ্ট হয়
প্রধানমন্ত্রী নরেন্দ্র মোদী এমপি তাদের একজনের নৈকট্য প্রয়োজন এবং অন্যান্য
প্রধান মন্ত্রী শিবরাজ সিং চৌহান “(টাইমস অফ ইন্ডিয়া, 19.04.17)।
এর কারণ হল অভিযোগ সম্পর্কে সন্দেহ তদন্ত করা প্রয়োজন
ইসি আগে সময়ের নিরপেক্ষতা একটি সংখ্যা উত্থাপিত হয়েছে
অনুচ্ছেদ। এই ধরনের একটি তদন্ত বিভিন্ন পয়েন্ট আবরণ উচিত
তার আগে উত্থাপিত। এই সিবিআই তদন্ত হওয়া উচিত যা হয়েছে না
সরকার কর্তৃক এসসি একটি caged তোতাপাখি হিসাবে লেবেল। আরেকটি কারণ
বিশ্বাসযোগ্যতা এর সিবিআই গুলি অভাব যে, “দুই সিবিআই সাবেক পরিচালক হয়
দুর্নীতির জন্য বিচারের মুখোমুখি করার প্রক্রিয়া স্থাপন, অর্থ পাচার,
এবং বিয়েটি বন্ধ গুরুতর সুপ্রিম কোর্টের অনুসারে বাধ্যতামূলক প্রোব “(ডেকান ক্রনিকল,
280417)।

ইসি দাবী করেন যে “ফলাফল একটি বিশ্লেষণ উদ্ধার থেকে
গোয়া 40 আসনে সব 33 টি আসন জুড়ে ব্যবহৃত VVPATs এবং
পাঞ্জাব দ্বারা আউট করা ইভিএম কাগজ ছাড়া সামান্য তারতম্য সঙ্গে ফলাফল দেখায়
লেজ “(টাইমস অফ ইন্ডিয়া, 18.4.17)।

সবচেয়ে গুরুত্বপূর্ণ বিষয় হল, এটা
ইসি বিস্ময়কর প্রদান না যে ফলাফল VVPATs থেকে উদ্ধার
যেখানে এটি কারণ ইউপি সহ রাজ্যের অন্যান্য অপরিহার্য জন্য ব্যবহৃত হয়
ইভিএম বড়, মোট ছাত্র অত্যন্ত সন্দেহজনক ছিল। ইসি এই করেছ আবশ্যক
এছাড়াও বিশ্লেষণের জন্য এই রাজ্যের। যদি তাই হয়, কেন ইসি প্রতিরোধ করা হয়নি ফলাফল?
তা বিশ্লেষণ না করে থাকেন তাহলে, কেন?

এছাড়াও এই ফলাফল প্রতিরোধকারী
ইসি নিরপেক্ষতা নিয়ে প্রশ্ন। এই অবিলম্বে প্রকাশিত হবে।
ইসি ফলাফলের জন্য ইউপি এই আসন এখন দেখায় তাহলে (যার জন্য লেজ VVPAT হয়
উপলব্ধ) যা এই ইভিএম থেকে পৃথক করা হয়নি প্রমাণ সংখ্যা, এটা
ইসি বিশ্বাসযোগ্যতা থাকবে না যদি না দ্বারা পরীক্ষণ স্বাধীন পারবেন
বিশেষজ্ঞদের।

সম্ভবত, ইসি এই কারণ এই ফলাফল আড়াল করতে চেয়েছিলেন
ইভিএম যে ইউপি অধিকাংশ জন্য, মোট ছাত্র এই আসনের জন্য এবং দ্বারা ভুল প্রমাণিত হয়েছে
ইউপি অধিকাংশ আসনের জন্য সংশ্লেষ, এবং ভোট দেওয়ার প্যাটার্ন দেখানো নিশ্চিত
বৈজ্ঞানিক প্রস্থান নির্বাচনে দ্বারা।

উপরোক্ত বিশ্লেষণ পরিষ্কারভাবে দেখায়
যে (1) সম্ভাব্যতা যে ইভিএম ইউপি নির্বাচনের বড়, মোট ছাত্র ভুল ছিলে
100 গ্রাম% বন্ধ করতে সরকার ও বর্তমান ইউপি সংবিধান উপর ভিত্তি করে তৈরি
এই ভুল গন্য কোন বৈধতা, (2) ইসি বারবার জারি করা হয়েছে করেছেন
ভবিষ্যতে ভোট সঠিক কাউন্টিং নিশ্চিত বিমুখ সম্পর্কে বিবৃতি
ইউপি নির্বাচনে, (3) এর নিরপেক্ষতা অবৈধ ফলাফল থেকে মনোযোগ
ইসি কারণ সংখ্যা উল্লেখ সন্দেহে তদন্ত করা প্রয়োজন
তার আগে অনুচ্ছেদ এবং (4) অবস্থা একটি পুঙ্খানুপুঙ্খ দাবি
একটি স্বাধীন সংস্থা (না সিবিআই) দ্বারা তদন্ত সব সন্দেহ পরিষ্কার এবং
পরিবেশ নিরাময়কারী কর্ম সুপারিশ।

শুধু এই ধরনের একটি তদন্ত সত্যমেব জয়তি ( “সত্য একা জয়), আমাদের অত্যন্ত সম্মানিত নীতিবাক্য নিশ্চিত করতে পারে।

পুনরাবৃত্তি করার জন্য, এটা isridiculous অবিশ্বাস এক নয় ফলাফল
প্রস্থান নির্বাচনে এবং বিশ্বাস পাঁচটি বৈজ্ঞানিক সঠিকতা যা ইভিএম হতে পারে
বিশেষজ্ঞদের ও সরকারি গুলি অনুযায়ী কাজে ব্যবহৃত স্ববিরোধী যা
দেখতে যে কোনো প্রযুক্তি 100% নির্ভুল। এটা বেদনাদায়ক যে, (1)
মনোযোগ প্রস্থান নির্বাচনে থেকে দূরে চিত্তবিনোদনকর এবং বৈজ্ঞানিক গ্রহণ
উত্তরপ্রদেশ ভুল ইভিএম আপ থাকার জন্য গন্য ফলাফল রূপে এসেছে
সরকার কোনো বৈধতা আছে এবং (2) এই গুরুতর সমস্যা হচ্ছে না
এমনকি সাংবিধানিক বিশেষজ্ঞ এবং কর্তৃপক্ষ প্রশ্নবিদ্ধ করেছে।

মধ্যে
একটি সরকার যা থাকার জঘন্য অবস্থা সরানোর জন্য
কোন বৈধতা ও সংবিধান ইসি অধীনে তার দায়িত্ব পূরণ করার
(1) দ্রুত ঘোষণা করবেন অত্যন্ত সন্দেহজনক ইভিএম যেমন বড়, মোট ছাত্র রয়েছে
অবৈধ কারণ এটি “বিজেপি + +” একটি জন্য সর্বোচ্চ সীমা চেয়ে 55% বেশি আসন দিয়েছি
পাঁচটি বৈজ্ঞানিক ফলাফলের গড় অনুযায়ী আসন সংখ্


মধ্যে
একটি সরকার যা থাকার জঘন্য অবস্থা সরানোর জন্য
কোন বৈধতা ও সংবিধান ইসি অধীনে তার দায়িত্ব পূরণ করার
(1) দ্রুত ঘোষণা করবেন অত্যন্ত সন্দেহজনক ইভিএম যেমন বড়, মোট ছাত্র রয়েছে
অবৈধ কারণ এটি “বিজেপি + +” একটি জন্য সর্বোচ্চ সীমা চেয়ে 55% বেশি আসন দিয়েছি
পাঁচটি বৈজ্ঞানিক ফলাফলের গড় অনুযায়ী আসন সংখ্যা
নির্বাচনে করে প্রস্থান (2) অপরাধমূলক অর্ডার ইভিএম একটি ভোট পুনর্গণনার খোলার পর
বিশেষজ্ঞদের এবং অংশীদারদের দ্বারা হেরফেরের, সুবিবেচনা অধীনে। তাহলে এই হল
না সম্ভব, পুনরায় ভোট ইসি অল্প সময়ের মধ্যে রয়েছে অর্ডার পর
রাষ্ট্রপতির শাসন সুপারিশ। অন্যথায়, ইউপি একটি অব্যাহত রাখার জন্য থাকবে
অবৈধ সরকার - আমাদের সংবিধান একটি ফোঁটার।

নাম প্রকাশে অনিচ্ছুক একজন
নাগরিক যারা দেখাশোনা এবং নীতিবাক্য সম্মান সত্যমেব জয়তি এবং ভয়
পাড় উপাদান যা কোন অজুহাতে হয়রানি বা এমনকি হত্যা।

বিচারকদের Honbe সুপ্রিম কোর্ট করার জন্য একটি আবেদন

কল্যাণকামী বিবেচনা জঘন্য / অসাংবিধানিক পরিস্থিতিতে কিনা
এই প্রবন্ধে বর্ণনা স্বতঃপ্রবৃত্ত গ্রহণ জন্য যথেষ্ট ভিত্তিতে হয়
মামলা জন্য:

(1) বর্তমান ইউপি সরকার যা বাতিল
সংবিধানের অধীনে কোন বৈধতা, অত্যন্ত সন্দেহজনক ভিত্তিক হওয়ার
ইভিএম গণনা করে। এটি যদি একটি সাইবার অপরাধী করতে হবে মানহানিকর হতে অনুমতি দেওয়া হয়
সংবিধানের উপহাস।

(2) বিশেষ সেট আপ হচ্ছে
নির্বাচন কমিশন কিনা তদন্ত টিমের কাছে তদন্ত করতে ব্যর্থ হয়েছে
ইউপি নির্বাচনের ফলাফল সম্পর্কে নিরপেক্ষ হবে।

সাংবাদিকদের মনোযোগ জন্য

দিল্লি বাসস্থানের সেন্টার, সকল অংশগ্রহণকারীর সাম্প্রতিক প্যানেল আলোচনায় এ
দৃশ্য প্রকাশ করা হয়েছিল যে ভারত সর্বনাশা মিডিয়া দৃশ্য
সাংবাদিক উপস্থিত সমালোচনা করার মধ্যে ভয়ের কারণ
সরকার। সাংবাদিকদের এত ভয় হয়, তাহলে তারা হয়ে যাবে
অপ্রাসঙ্গিক। একমাত্র সমাধান প্রস্তাব ছিল যে, তারা উচিত সাংবাদিক
অবাঞ্ছিত নীতি ও সরকারের কর্ম বিরুদ্ধে দাঁড়ানো।
এই প্রয়োজন সম্প্রতি ভারতের রাষ্ট্রপতি দ্বারা জোর করা হয়। তিনি
বলেন যে প্রেস তার কর্তব্যের হানি করা হবে যদি এটা জিজ্ঞাসা করা হয় না
শক্তি (টাইমস অফ ইন্ডিয়া, 26.05.17) এ যারা প্রশ্ন।

মধ্যে
বর্তমান প্রেক্ষাপটে, এটি প্রতি সাংবাদিক দায়িত্ব নিয়ে প্রশ্ন হয়
ইসি পাঁচটি ফলাফল উপেক্ষা দ্বারা তার দায়িত্ব ব্যর্থ
প্রস্থান কোনো বৈজ্ঞানিক আত্মপক্ষ সমর্থন ছাড়া দান এবং ব্যবহার নির্বাচনে
ইভিএম অত্যন্ত একটি অবৈধ গন্য সংবিধান সমর্থন করার জন্য সন্দেহজনক
সরকারে ইউপি, একটি জঘন্য অবস্থা এবং এর একটি ফোঁটার ফলে
ভারতের সংবিধানের।

ভয়ের জলবায়ু অপসারণ সাহায্য করার জন্য,
অবসরপ্রাপ্ত সাংবাদিক অভিজ্ঞতা প্রচুর সঙ্গে পুস্তিকাগুলো প্রকাশ করা উচিত
কারণ, যার জন্য সাংবাদিকদের ভয় ব্যাখ্যা করতে তাদের মতামত প্রকাশ করার
ও নেতিবাচক ভূমিকা অ পেশাদারী অবাধে তাদের প্রভুদের দ্বারা খেলেছে।
সংবাদপত্র ও পত্রিকা পুস্তিকাগুলো may প্রকাশ করা কারণ প্রয়োজন নেই
যেমন মতামত প্রকাশ কারণে ভয় কর।

যাইহোক, তীব্রতা
উভয় কেন্দ্রীয় ও রাজ্য সরকারের সাহসী দ্বারা সমালোচনার
Vinu জন সিন্ধু Sooryakumar টিভি সাংবাদিক ও আরও অনেকে মত
কেরালার সংবাদপত্র যে সব আশা দেয় হারিয়ে করা হয় না। অধিকন্তু,
এই কার্যকলাপগুলির মধ্যে প্রকট যে পেশাদার তাদের কাজ করছেন
সরকার প্রকাশক, সাংবাদিক ভয় প্রয়োজন কারণ তারা পাবেন না
সমগ্র পেশা এবং সাধারণ জনগণের পূর্ণ সমর্থন, একটি অসদৃশ
সাধারণ মানুষের।

(Sivarama ভারতী থেকে প্রাপ্ত - srbharathi18@yahoo.in)

আমরা এই প্রতিবেদন / নিবন্ধ পছন্দ আশা করি। মিল্লি গেজেট একটি বিনামূল্যে এবং
স্বাধীন পাঠকদের সমর্থিত মিডিয়া সংগঠন। অনুগ্রহ করে এটা সমর্থন করার জন্য
উদার হস্তে অবদান। এখানে ক্লিক করুন অথবা salesmilligazettecom এ আমাদের ইমেইল

উত্তরপ্রদেশ সন্দেহজনক বৈধতা সরকারি হচ্ছে না: নিরপেক্ষ তদন্ত প্রয়োজনীয়তার

বর্তমান প্রসঙ্গে, তা প্রত্যেক সাংবাদিক প্রশ্ন ইসি যা তার দায়িত্ব ব্যর্থ কর্তব্যের …

milligazette.com


Clasical Gujarati


આ હત્યારાઓએ લોકશાહી સંસ્થાઓ (મોદી) સીઇસી વ્હીલ પુનઃશોધ કરવાની કોશિશ કરીને એક વ્યર્થ કસરત છે. તે
સુપ્રીમ કોર્ટમાં સાબિત થયું હતું કે અનિચ્છનીય ચેડા થઈ શકે છે અને તેથી
ભૂતપૂર્વ સીજેઆઇ સતશિવમ ક્રમ કે અનિચ્છનીય રૂ ખર્ચ હોવાના કારણે કારણ કે
ભૂતપૂર્વ સીઇસી સંપત દ્વારા સૂચવવામાં તબક્કાવાર રીતે બદલી શકાય શકે ચુકાદો
એક ગંભીર ભૂલ પ્રતિબદ્ધ
1600 કરોડ. પરંતુ તેમણે આદેશ આપ્યો ક્યારેય સુધી સમગ્ર અનિચ્છનીય કાગળ મતપત્રો બદલી શકાય માટે ઉપયોગ થતો હતો.

ખૂબ
હકીકત એ છે કે અનિચ્છનીય સ્પષ્ટ સાબિતી છે કે તેઓ 80 કરતાં લોકશાહીની
tamperableMore મતદાન કાગળો ઉપયોગ કર્યો છે બદલાશે હોય છે અને તેમને ઉપયોગ
કરી રહ્યા છો કારણ કે અનિચ્છનીય હજી પણ છેતરપિંડીની વિષય છે.
સીઇસી કહે છે કે જે માત્ર 2019 માં પણ VVPAT સમગ્ર અનિચ્છનીય બનાવવા
વિશ્વસનીય લોકશાહી સંસ્થાઓ (મોદી) કાયમ તેમનું પોતે શાસન ચાલુ હત્યારાઓએ
દ્વારા બદલાઈ આવશે નહીં.

ત્યાં ઘણા ટેકનોલોજીકલ નિષ્ણાતો જેમણે પહેલેથી જ કોઈ શક નથી કે અનિચ્છનીય tamperable છે વગર સાબિત થાય છે.

વર્તમાન કસરત માત્ર પજવવા મતદારો gulliable નિર્દોષ છે.

http: //www.milligazette.com /…/ 15634-ઉત્તર-પ્રદેશ-ઇઝ-કર્યા …

ઉત્તરપ્રદેશ શંકાસ્પદ માન્યતા સરકાર આવી રહી છે: નિષ્પક્ષ તપાસ માટે જરૂરિયાત

ફક્ત 8 543 લોકસભા બેઠકોમાંથી ભાજપે (Bahuth સક્રિય બદલવામાં આવ્યા
Jitadha Psychopaths) લોકશાહી સંસ્થાઓ ‘ઓ Murderers (મોદી)
માસ્ટર કી ઉતાવળે ખોરાક ગળી જનાર. ત્યાર બાદ અન્ય તમામ વિધાનસભા ચૂંટણીમાં
અનિચ્છનીય આ છેતરપિંડી દ્વારા હાથ ધરવામાં આવી હતી. ફક્ત ચૂંટણીમાં 20 બેઠકો માં
બેઠકો જ્યાં ભાજપ જીતી શકે સક્ષમ બનાવવા માટે 325 બદલવામાં આવ્યા
યોગી / Bhogi / Roghi અને દેશ Dhrohi મુખ્યમંત્રી બની હતી. છેલ્લા યુપી માં
પંચાયત ચૂંટણી જે કે Ms માયાવતી ઓ પેપર મતપત્રો દ્વારા હાથ ધરવામાં આવી હતી
બીએસપી એક પ્રચંડ બહુમતિ મેળવી હતી. હવે અનુસૂચિત જાતત માટે માયાવતી કાબુમાં
એક Sarvajan સમાજ નેતા છે, જેમણે છેતરપીંડીના પ્રક્રિયાનો ઉપયોગ કરવામાં આવે છે જીતી
અનિચ્છનીય થાય છે. તેથી જુઓ કે કેન્દ્રીય એક ચળવળ અને
અનિચ્છનીય આ કપટ ઓગળેલા રાજ્ય સરકારો દ્વારા પસંદ કરેલો હોવો જોઈએ અને જાઓ
80 લોકશાહી તરીકે કાગળ મતપત્રો સાથે તાજા ચૂંટણી દ્વારા અનુસરવામાં
તરીકે સ્થાપિત થઇ ગયો વિશ્વ લોકશાહી, સમાનતા, સ્વતંત્રતા અને બંધુત્વ પર સાચવો
કલ્યાણ, સુખ અને બધા શાંતિ માટે અમારા બંધારણ આધુનિક
સોસાયટીઓ અને 1% કડક અને અસહિષ્ણુ, યૌદ્ધા, નંબર 1 આતંકવાદીઓ ટાળવા
વિશ્વ શૂટિંગ, ફાંસી, પાગલ છે, માનસિક રોગીઓને chitpavan
જે આદમખોર હોય બ્રાહ્મણ આરએસએસ (rakshasa સ્વયંસિઘ્ધા Sevaks) મગજવાળા
પહેલાથી જ તેમના સ્ટીલ્થ, સંદિગ્ધ માટે તેમના મનુસ્મૃત્તિ અમલ કરવાનું શરૂ કર્યું
hinduva સંપ્રદાય અને ભેદભાવપૂર્ણ.

ભૂતપૂર્વ સીજેઆઇ, મોદી અને ભૂતપૂર્વ સીઇસી
યોગી બિન-bailabale અધિનિયમ એટ્રોસિટિઝ હેઠળ વોરંટ સાથે નક્કી હોવું જ જોઈએ
એસસી રોકવા માટે / એસટી માસ્ટર કી આધુનિક ખંડન હસ્તગત
અમારા દેશ બંધારણ.

ઉત્તરપ્રદેશ શંકાસ્પદ માન્યતા સરકાર આવી રહી છે: નિષ્પક્ષ તપાસ માટે જરૂરિયાત
મિલી ગેઝેટ ઓનલાઇન
ઑનલાઇન પ્રકાશિત: જૂન 01, 2017

નાનકડા નમુના પસંદ સાચું મૂલ્ય અથવા ગુણવત્તા અથવા અંદાજ
વર્તન મોટી જૂથ ઘણા માટે વ્યાપકપણે સ્વીકૃત પ્રથા રહી છે
વર્ષ. વર્ષો સુધી, નમૂના યુકિતઓ સુધારો કરવામાં આવ્યો છે અને કરવામાં
વૈજ્ઞાનિક અને વિશ્વાસ સાચા મૂલ્યો વિશ્વસનીય અંદાજ છે તેની ખાતરી કરવા
મર્યાદા હોય છે જે બહાર આવેલા સાચું મૂલ્ય અશક્ય છે. પરિણામે,
નમૂના સર્વેક્ષણ પરિણામો વારંવાર ઉપયોગ સાથે કરવામાં આવ્યા છે
આર્થિક, સામાજિક અને રાજકીય વિકાસ આયોજન માટે વિશ્વાસ.
પરંતુ, વ્યંગાત્મક રીતે, પાંચ વૈજ્ઞાનિક નમૂના સર્વેક્ષણ પરિણામો (બહાર નીકળો
ચૂંટણી) પણ યુપી ચૂંટણી પરિણામો પર તપાસ વગર ફગાવી દેવામાં આવી હતી
તેમના વિશ્વસનીયતા. પાંચ વૈજ્ઞાનિક અંધ આ જથ્થાબંધ અસ્વીકાર
નમૂના સર્વેક્ષણ / બહાર નીકળો મતદાનો અનન્ય છે અને નિંદા કરી પાત્ર
સંપૂર્ણ.

નીચેના વિધાન પાંચ પરિણામો આપે
EVM વૈજ્ઞાનિક બહાર નીકળો મતદાનો અને ભાજપ અને તેના સમર્થકો માટે ગણે
( “ભાજપના +”) યુપી ચૂંટણી છે.

pollster

નં અને વિશ્વાસ હદમાં માટે “ભાજપના +” બેઠકો કૌંસ ની

VMR સમયગાળો હવે

200 (190210)

ભારત સમાચાર-એમઆરસી

185 (175195) *

એબીપી-સીએસડીએસ

170 (164176)

ભારત ટીવી-સી મતદાર

161 (155-167)

સમાચાર 24 ચાણક્ય

285 (273- 297) *

સરેરાશ

200 (190210) *

EVM ગણતરીઓ

325

* કોન્ફિડેન્સ મર્યાદા બતાવવામાં આ સર્વેક્ષણકારો દ્વારા ગણતરી કરવામાં આવી હતી
વર્તમાનપત્રોના અહેવાલો. ઉપર આપવામાં સીમાઓ એકદમ રફ પરંતુ વિશ્વસનીય છે
અન્ય દ્વારા વિશ્વાસ ગણતરીઓ સાથે સરખાવી મર્યાદા આપવામાં
સર્વેક્ષણકારો.

પ્રથમ ચાર વૈજ્ઞાનિક બહાર નીકળો મતદાનો ત્રિશંકુ આગાહી
વિધાનસભા. છેલ્લા એક ભાજપને બહુમતી આગાહી કરી હતી. પરંતુ, મોટા ભાગના
EVM ગણતરીઓ માટે મહત્વપૂર્ણ છે, ઘણા વધુ બેઠકો કરતાં દર્શાવ્યું “ભાજપના +”
ઉપલા વિશ્વાસ મર્યાદા (એટલે ​​કે, બેઠકો નંબર માટે ઉપલી મર્યાદા)
પાંચેય બહાર નીકળો મતદાનો દ્વારા આપવામાં આવે છે. પાંચ બહાર નીકળો માટે સરેરાશ પરિણામ
ચૂંટણી (જે સ્પષ્ટ ચિત્ર આપે છે) કે EVM માટે 325 ગણતરી બતાવે
બેઠકો 210 બેઠકો જે ઉચ્ચ મર્યાદા કરતાં 55% વધુ “ભાજપના +” આપ્યો
બેઠકોની સંખ્યા છે. આ કોઈપણ શંકા ખૂબ મોટી તફાવત બહાર બતાવે
EVM ગણતરીઓ તે ખોટું હતા.


તક માટે બેઠકો સાચું નંબર
દ્વારા પ્રાપ્ત “ભાજપના +” ઉચ્ચ મર્યાદા કરતાં પણ થોડી વધુ હોવા
બેઠકો આ બહાર નીકળો મતદાનો સંખ્યા કોઇ એક માટે 5% કરતા ઓછી છે (અથવા પણ
1 કરતાં ઓછી% દ્વારા પસંદ વિશ્વાસ ડિગ્રી પર આધાર રાખીને
મર્યાદા ગણતરી કરવા માટે સર્વેક્ષણકારો). પણ છૂટાછવાયા બહાર નીકળો મતદાન માટે
પરિણામ જે “ભાજપના +” માટે અત્યંત તરફેણકારી હતા, માટે તક “ભાજપના +”
પણ થોડી 297 કરતાં વધુ બેઠકો મેળવવાની 5% કરતા ઓછી (અથવા 1%) છે.
માટે “ભાજપના +” ઉચ્ચ મર્યાદા બેઠકો કરતાં પણ થોડી વધુ મેળવવામાં ચાન્સ
નંબર પાંચેય બહાર નીકળો મતદાનો બેઠકો માટે (અનુસાર શૂન્ય નજીક છે
સંભાવના નિયમ). વધુ વિશ્વસનીય સરેરાશ જોતાં
પરિણામે, માટે “ભાજપના +” જુગારની ઉચ્ચ મર્યાદા કરતાં 55% વધુ બેઠકો મેળવવાની
210 બેઠકો શૂન્ય નજીક છે. અન્ય શબ્દોમાં, શક્યતા છે કે
EVM યુપી ચૂંટણી માટે ગણે હતા ખોટું 100% નજીક છે.

તેના બદલે
સંપૂર્ણ રાતભર બહાર નીકળો મતદાનો પાંચ વૈજ્ઞાનિક પરિણામો તમામ
ચૂંટણી કમિશન (ઇસી) તેમના વૈજ્ઞાનિક આધાર આદરણીય છે કર્તવ્ય છે.
જો કોઈપણ પુષ્ટિ જરૂરી હતી ઇસી નિષ્ણાત અભિપ્રાય માંગવામાં હોઈ શકે છે
ના, કોલકાતા ઈન્ડિયન સ્ટેટિસ્ટિકલ ઇન્સ્ટિટ્યુટ (વિકાસ સંશોધકો
નમૂના તકનીકો) અથવા અન્ય કોઇ સંસ્થાઓ અથવા પ્રોફેસરો
નમૂના પદ્ધતિઓમાં આંકડા અનુભવ સાથે. પરંતુ, તે લાગે છે ઇસી
આવું ન હતી. અતિ ઇસી માટે કોઇ કારણો આપી ન હતી
વૈજ્ઞાનિક પરિણામો નકારી! દેખીતી રીતે, ઇસી શોધવા માંગતા ન
તેનાં બંધારણીય જવાબદારી અને સત્ય નિષ્ફળ રહી છે. આ અભાવ
પણ સત્ય બહાર શોધવા રસ નિષ્પક્ષતા પ્રશ્ન
ઇસી.

નિષ્પક્ષતા વધુ શંકાસ્પદ કારણ કે ઇસી અવગણવામાં છે
માહિતી ઘાલમેલ જે સ્પષ્ટ દર્શાવે છે કે નીચેના
ઇલેક્ટ્રોનિક ગેજેટ્સ સ્પષ્ટ શક્યતા છે અને વારંવાર એવો દાવો કર્યો હતો
અનિચ્છનીય સાથે ચેડા ન કરી શકાય કે પોપટ જેવા:

1. સાયબર
ગુનાઓ સાથે વધુ અને વધુ ભરેલા હોંશિયાર લોકો વધી રહ્યો છે
, હેકિંગની આશ્રય વાયરસ વિકાસ, ભાવ વધારવો વગેરે

શિર્ષક 2. ડેક્કન ક્રોનિકલ દ્વારા Achom Debanish માં “અનિચ્છનીય ખરેખર સાબિતી ચેડા છે” એક લેખમાં કહે છે નીચેના

(અ) “બીબીસી અહેવાલ છે કે એક એક ઘરે ઉપકરણ કનેક્ટ કર્યા પછી
EVM, મિશિગન યુનિવર્સિટી દ્વારા સંશોધકો પરિણામો બદલવા માટે સક્ષમ હતા
મોબાઇલ ફોન પરથી લખાણ સંદેશાઓ મોકલવા. “

(બી) “હરિ કૃષ્ણ
Vemuru પ્રસાદ, હૈદરાબાદ-આધારિત Netindia પ્રાઇવેટ લિમિટેડના મેનેજિંગ ડિરેક્ટર, એક
ટેકનોલોજી ઉકેલો પેઢી દર્શાવે છે કે કેવી રીતે એક EVM સ્થાનિક ટીવી પર પણ હોઈ શકે
સજ્જ. “એ શક્ય છે કે એક પ્રખર ટેકેદાર ભાજપ આ જોયું હતું
અને (ઇસી & ભાજપના જ્ઞાન વગર) હેકિંગ કરવામાં સફળ
અનિચ્છનીય સૂચનો વળી જતું યુપી ચૂંટણીમાં ગણતરી માટે વપરાય છે.

(સી) શ્રી Vemuru એવો પણ દાવો કર્યો છે કે, “EVM ચિપ બદલાઈ કરી શકાઈ નથી
એક નજર કરો-એકસરખું અને ચુપચાપ સૂચના સાથે મત ટકાવારી ચોરી
પસંદ કરેલા ઉમેદવાર તરફેણમાં. “ઇસી કોઈપણ હોંશિયાર અને અપ્રમાણિક સ્ટાફ,
જો તે / તેણી કરવા માગે અનિચ્છનીય એકમાત્ર રખેવાળ, આવું કરી શકે છે. તે
કોઈ જોડાયેલા સરકારી ઓફિસ કે શક્યતા છે ભ્રષ્ટાચાર મુક્ત છે.

3. “કૃત્રિમ (આંગળી) પ્રિન્ટ સ્માર્ટ ફોન અનલૉક કરી શકો છો સમય 65%.” (ટાઇમ્સ ઓફ ઇન્ડિયા, 16-04-17).

4. દિલ્હી વિધાનસભામાં AAP એક EVM ચેડા કેવી રીતે સાબિત કરી છે.

5 “મેકાફી દ્વારા નવી રિપોર્ટ જણાવે છે કે 176 સાયબર-ધમકીઓ હતા
અને દર મિનિટે શોધાયેલ (એટલે ​​કે, લગભગ ત્રણ દરેક સેકન્ડ) 88 ટકા
વૃદ્ધિ અને 99 ટકા ransomeware મોબાઇલ મૉલવેર વૃદ્ધિ કરવામાં આવી હતી
2016 ના અંત “(DeccanChronicle, 12.04.17) દ્વારા શોધી કાઢી છે.

ઇસી હતી
સાયબર-ધમકીઓ દરેક બીજા પાસે મૂર્ખ સાબિતી સિસ્ટમ માટે જુઓ
24/7 અને આવા તમામ ધમકીઓ દૂર? જો નહિં, તો સાયબર ગુનેગારો કરી શકે છે
EVM યુપી ચૂંટણી ગણતરી માટે ચાલાકીથી.

તે સ્પષ્ટ નથી
ઇસી કે કેમ વપરાય અનિચ્છનીય ખાતરી કરો કે યુપી ચૂંટણીમાં કરવામા સફળતા પ્રાપ્ત થઇ
(સમગ્ર કોઈપણ સમયે મેનિપ્યુલેશન્સ તમામ પ્રકારના સામે ટકી શકે
ચૂંટણી) છે, જે નિષ્ણાતોની તમામ પ્રકારના સંતોષવા કરી શકો છો. પણ જો તે હતી
100% સફળ (જે શંકાસ્પદ છે), કોઇ હોંશિયાર અને અપ્રમાણિક સ્ટાફ
ઇસી અનિચ્છનીય એકમાત્ર રખેવાળ, જો તે / તેણી ઇચ્છતા ચાલાકીથી હોઈ શકે છે
છે. તે પ્રસ્તુત છે લાંચ-ગિવર્સ અને વિવાદોની કોઈ અછત છે કે
દેશમાં.

આ બધા બતાવવા કે ઇલેક્ટ્રોનિક ઘાલમેલ
ગેજેટ્સ સ્પષ્ટ સંભાવના છે. આ સરકાર દ્વારા આધારભૂત છે
આધાર લિક સંબંધમાં સુપ્રીમ કોર્ટ (એસસી), પ્રવેશ, કે
કોઈ તકનીક 100% સંપૂર્ણ છે. આ બધા ઉપહાસ ઇસી ઓ દાવો છે કે અનિચ્છનીય
સાથે ચેડા કરી શકાતી નથી. એસ પુનરાવર્તન refusals કે કેમ ઇસી તપાસ
અનિચ્છનીય યુપી ચૂંટણીમાં ઉપયોગ કરવામાં આવ્યો હતો તે બતાવવા ઇસી નથી ચાલાકીથી કરવામાં આવી શકે છે
નિષ્પક્ષ.


તે પ્રસ્તુત છે, જેમ કે શક્યતા
ઇસી ઘાલમેલ દ્વારા જ રીતે સ્વીકારવામાં આવ્યો નથી, પણ આડકતરી ઉપયોગ કર્યો
તે (નીચે સચિત્ર વારંવાર તરીકે). ઇસી એક પરિચય વચન
કાગળ પરથી પગેરું 2019 માં (VVPAT) અનિચ્છનીય માટે જે તે ચેક કરવા માટે સક્ષમ બનાવશે
કોઈપણ ઇલેક્ટ્રોનિક ઘાલમેલ આવી છે કે નહીં. જો અનિચ્છનીય વપરાય
ચૂંટણી ચાલાકીથી કરી શકાઈ નથી, ઇસી આ વાજબી શક્યા નથી
બદલો. વ્યંગાત્મક રીતે, સ્વ પ્રવેશ આ પરોક્ષ શક્યતા હોવા છતાં
મેનિપ્યુલેશનના ઇસી ચેક ન હતી આ થયું છે કે કેમ અને અહેવાલ
યુપી ચૂંટણી આપ્યો ત્યારે પણ તે ખૂબ જ શંકાસ્પદ પરિણમે છે. તેના બદલે,
ઇસી પોપટ જેવા કહે છે કે અનિચ્છનીય ગોલમાલ-સાબિતી છે તેના પર રાખે છે. આ ડબલ
ઇસી એક સત્તા જેમ વિચારી અનુકૂળ હોવે નથી.

વધુમાં, તે લાગે છે
ઇસી કે 2019 માટે તેની યોજના વિશે (લાંબા માર્ગ બંધ છે) વાત કરી રહ્યાં છે
મુખ્યત્વે EVM યુપી અત્યંત શંકાસ્પદ ગણતરીઓ ધ્યાન બદલવું
ચૂંટણી હાથ પર સૌથી મહત્વપૂર્ણ મુદ્દો છે જે છે.

ઇસી લખ્યું
લૉ પ્રધાન તેની ખાતરી કરવા માટે જરૂરી છે કે મશીનો કે VVPAT તૈનાત
“સાચવેલ s માં મતદાન અને મતદાર વિશ્વાસ અખંડિતતા છે
પ્રક્રિયા મજબૂત છે “રૂ andsought મંજૂરી. માટે 3.174 કરોડ
નવી મશીનો (ટાઇમ્સ ઓફ ઇન્ડિયા, 17.04.17) ની પ્રાપ્તિ. વપરાય અનિચ્છનીય તો
યુપી ચૂંટણીમાં મતદાન અખંડિતતા સચવાય હતી, ઇસી ન શકે
ભંડોળ માટે આ વિશાળ માંગ વાજબી ઠેરવતા હતા. આ બીજી પરોક્ષ નથી
પ્રવેશ કે અનિચ્છનીય વપરાય ચેડા-સાબિતી ન હતી યુપી માં ચૂંટણી?

ઇસી કહે છે કે આ નવા મશીનો પણ સ્વ નિદાન સજ્જ છે
મશીનો વિશુદ્ધિ ના પ્રમાણીકરણ માટે સિસ્ટમ. તે થતું નથી
સૂચિત જૂના અનિચ્છનીય વિશુદ્ધિ યુપી ચૂંટણીમાં ઉપયોગ કરી શકાય નહિ
પ્રમાણિત? આ સૂચિત નથી કરતો કે ઇસી પણ આ ઉપયોગ કરી રહી છે
અનિચ્છનીય માં ખામી યુપી ચૂંટણી ખર્ચ વિશાળ પ્રમાણમાં justify માટે વપરાય
નવી મશીનો પર?

“ઇસી જે આગામી પેઢી અનિચ્છનીય ખરીદી પર સેટ કરેલી છે
બની માટે “ક્ષણ પ્રયાસો તેની સાથે જિપ્સી inoperable કરવામાં આવે છે”
2019 (ટાઇમ્સ ઓફ ઇન્ડિયા, 03.04.17) માં ઉપયોગ કરે છે. આ અસામાન્ય શરૂઆતમાં ચર્ચા
ભવિષ્ય વિશે મોટા ભાગના ધ્યાન બદલવું અન્ય પ્રયાસ છે
હાથ પર મહત્વપૂર્ણ પ્રશ્ન અનિચ્છનીય યુપી ચૂંટણીમાં ઉપયોગ કરવામાં આવ્યો હતો
સાથે ચેડા.

“મતદાન સંકલિતતા અનિચ્છનીય વાપરી શકાય કરશે
“બધા પક્ષકારો સંપૂર્ણ સંતોષ હોઈ નિદર્શન કરીને
EC (ટાઇમ્સ ઓફ ઇન્ડિયા, 02.04.17) ની ટીમ. આ અન્ય ઉદાહરણ છે
ક્રમમાં ઇસી ભાવિ aboutthe વાત ખોટી ધ્યાન બદલવું
EVM માટે યુપી ચૂંટણી ગણે છે.

ઇસી રાજકીય પડકાર ફેંક્યા
પક્ષો, વૈજ્ઞાનિકો અને તકનિકી નિષ્ણાતો એવું માને છે અનિચ્છનીય સાબિત કરી શકે છે
હવે સાથે ચેડા. (ટાઇમ્સ ઓફ ઇન્ડિયા, 13.04.17). આ હજુ સુધી અન્ય છે
ખોટું EVM યુપી ધ્યાન બદલતું ઉદાહરણ ગણતરીઓ માટે
ચૂંટણી. આ ઉપરાંત, આ વિલંબિત પડકાર, કાસ્ટિંગ ઘણા અઠવાડિયા પછી
શંકા, મહત્વપૂર્ણ પ્રશ્ન ઇસી હવે અનિચ્છનીય કરવામાં આવી ઉઠાવે
યુપી, જે તેના કસ્ટડીમાં હતા, “inoperable” ક્ષણ પ્રયાસો ઉપયોગમાં
અનિચ્છનીય આગામી પેઢી એક ગુણવત્તા છે - તે ઠીક કરવા માટે કરવામાં આવે છે.
જો આમ હોય, જ્યાં જૂના અનિચ્છનીય વગર આ ગુણવત્તા, જેમાં ઉપયોગ કરવામાં આવ્યો હતો છે
યુપી ચૂંટણી? બંને કે કેમ ઇસી આ પ્રશ્ન અપ્રમાણિક રહી છે.

2013 માં, એસસી તબક્કાવાર રીતે VVPAT રજૂ કરવા ઇસી આદેશ આપ્યો હતો.
ચિદમ્બરમ આ ચુકાદો વિગતો ઓળખવામાં આવે છે અને જણાવ્યું હતું કે “એક
તેમણે કહ્યું હતું કે નિષ્ણાતોની ટીમ વ્યાપક અહેવાલ દાખલ કર્યો
અનિચ્છનીય હાર્ડવેર તેમજ સોફ્ટવેરનો સંવેદનશીલ અને સંવેદનશીલ વપરાય છે
ચેડા “. તેમણે કહ્યું હતું કે ઇસી સ્વીકાર્યું હતું કે મશીન પણ ન હતી
સચોટ અને કાગળ પરથી પગેરું “(ધી ટાઇમ્સ ઓફ ઇન્ડિયા રજૂ કરવા સંમત થયા,
030417). કારણ કે આ અનિચ્છનીય યુપી કાગળ પગેરું વગર ઉપયોગ કરવામાં આવ્યો હતો
ચૂંટણી (થોડા બેઠકો માટે સિવાય), ઇસી ધરાવતા હતા કે તેઓ વાકેફ ન હતી
સચોટ. આ જાગૃતિ છતાં, ઇસી વારંવાર એવો દાવો કર્યો કે અનિચ્છનીય
સાથે ચેડા કરી શકાઈ નથી. આ અખંડિતતા ડબલ કહે છે પ્રશ્ન
EC અને નિષ્પક્ષતા છે.

આ તમામ સૂચવે નિષ્ઠા અભાવ અને
ઇસી પ્રતિબદ્ધતા ચૂંટણી પરિણામો ચોકસાઈ ખાતરી કરવા માટે.
ઇસી ઓ ઇનકાર દ્વારા પુષ્ટિ યુપી EVM માં ગુનામાં ચોકસાઈ ચેક કરવા
યુપી શક્યતા છે કે EVM ચૂંટણી ગણે છતાં ચૂંટણી
ખોટું 100% નજીક છે કરવામાં આવી હતી (ઉપર જુઓ) અને લગભગ ઇસી જાગૃતિ
અનિચ્છનીય (પૂર્વવર્તી પેરા) ની ઘાલમેલ શક્યતા. આ પણ
EC ની નિષ્પક્ષતા પ્રશ્ન પૂછ્યા.

Mayawathi કેજરીવાલ અને યેચુરી
પણ આ પ્રશ્ન કર્યો. વધુ લોકો હોઈ શકે છે ત્યાં શંકા છે
(પાંચ સર્વેક્ષણકારો સહિત) જે શાંત રાખવા આવે છે, આમ બનવાનું સંભવતઃ કારણ
વિરોધી નાગરિકો તરીકે લેબલ કરવામાં આવી ભય છે. ઇસી પરિપૂર્ણ નથી તેની
ફરજ સૌથી મહત્વપૂર્ણ પ્રશ્ન ચોકસાઈ વિશે તેમના શંકા સાફ કરવા માટે
પરંતુ વારંવાર યુપી કહેવાની દ્વારા તે ધ્યાન બદલતું ઓફ ગણતરીઓ
તેના ભવિષ્યની યોજના વિશે.


ચોકસાઈ અભાવ ચાર વર્ષ પણ ચાલુ રહે છે
એસસી ઓ ઓર્ડર વધુ ચોક્કસ અનિચ્છનીય છતાં પછી તૈનાત કરી શકાય છે
મોટા પાયે. શું ખરાબ છે નુકસાનકર્તા છે અને તે ઇસી વાપરવા માટે આયોજન કરી રહી છે
આ “વધુ ચોક્કસ” માત્ર 2019 માં અનિચ્છનીય, છતાં આ મશીનો હશે
ભારત ઈલેક્ટ્રોનિક્સ અને ભારત ઇલેક્ટ્રોનિક્સ કોર્પોરેશન દ્વારા ઉત્પાદિત
(ટાઇમ્સ ઓફ ઇન્ડિયા, 02.04.17). શા માટે આ મુલતવી બદલે
કેટલાક રાજ્યોમાં, જેના માટે તે કારણે ચૂંટણી દરમિયાન ચોક્કસ ખાતરી
આગામી બે વર્ષના ગાળામાં? ત્યાર બાદ નિષ્પક્ષતા ઇસી અંગે શંકાઓ
પછી ભલે તે પ્રશ્ન આ મેનિપ્યુલેશન્સ તેના આંખો બંધ કરશે
, ચૂંટણી માટે કેટલીક પાર્ટીઓ સહાય 2019 માં સામાન્ય ચૂંટણીઓ સાથે
મન.

baffling ક્રિયાઓ (અથવા ઇસી દ્વારા નિષ્ક્રિયતા) સાથે બંધ ન કરો
આ. ન્યૂ અનિચ્છનીય “ટેકનિકલી મતોના જાતે ગણતરી માટે પરવાનગી આપે છે.” પણ
પ્રકાશિત પરિણામો અયોગ્ય વિશે ફરિયાદો મેળવવામાં પહેલાં,
ઇસી જાતે ગણાય માંથી જવાબદાર સરખામણીમાં પરિણામો હોવી જોઇએ
ગણતરીઓ કે જેના માટે નવી અનિચ્છનીય યુપી 30 બેઠકો માટે ઉપયોગ કરવામાં આવ્યો હતો સાથે EVM
ચોકસાઈ ચેક કરવા. પેટર્ન મતદાન ગણતરીઓ દ્વારા દર્શાવવામાં અલગ જો EVM
30 બેઠકો માટે જાતે ગણતરી શક્યતા તે થી
ઘાલમેલ પુષ્ટિ આપે છે. પરંતુ ઇસી આ તપાસમાં હાથ ધરવા ન હતી, પણ
ફરિયાદો મળ્યાં બાદ. શા માટે? આ પણ નિષ્પક્ષતા પ્રશ્ન
ઇસી.

ઇસી અગાઉ ઊભા છે બધા પ્રશ્નો માટે સંતોષકારક જવાબો પૂરી પાડે છે.

“દિલ્હી મુખ્યમંત્રી અરવિંદ કેજરીવાલ જણાવ્યું હતું કે તેણે બે શોધે
ત્રણ ચૂંટણી કમિશનરો કારણ કે તે શું હોવાનો દાવો કરે છે ના પક્ષપાતી છે
વડાપ્રધાન નરેન્દ્ર મોદી સાંસદ તેમને એક નિકટતા અને બીજા
મુખ્યમંત્રી શિવરાજસિંહ ચૌહાણ ‘(ટાઇમ્સ ઓફ ઇન્ડિયા, 19.04.17).
આ કારણ આરોપ અંગે શંકાઓ તપાસ કરવાની જરૂર છે
ઇસી અગાઉ વખત નિષ્પક્ષતા સંખ્યાબંધ કરવામાં આવી છે
ફકરા. આવી તપાસ પણ વિવિધ પોઈન્ટ આવરી જોઈએ
અગાઉ ઊભા કર્યા હતા. આ સીબીઆઇ દ્વારા તપાસ થવી જોઈએ છે જે ન
સરકાર દ્વારા એસસી એક પાંજરામાં પોપટ તરીકે લેબલ. માટે અન્ય કારણ
વિશ્વસનીયતા ના સીબીઆઇ ઓ અભાવ છે કે “બે સીબીઆઈના ભૂતપૂર્વ ડિરેક્ટર્સ છે
ભ્રષ્ટાચાર ટ્રાયલ સામનો પ્રક્રિયા મૂકવામાં, મની લોન્ડરિંગ,
અને ઝડપથી નાસી ગયા ગંભીર સુપ્રીમ કોર્ટે આદેશ મુજબની ચકાસણીઓ “(ડેક્કન ક્રોનિકલ,
280417).

ઇસી દાવો કર્યો હતો કે “પરિણામો વિશ્લેષણ સુધારો
ગોવામાં 40 મતક્ષેત્રો તમામ 33 બેઠકો સમગ્ર ઉપયોગ VVPATs અને
પંજાબ દ્વારા બહાર મૂકી અનિચ્છનીય કાગળ વગર થોડી વિવિધતા સાથે પરિણામો બતાવે
પગેરું “(ટાઇમ્સ ઓફ ઇન્ડિયા, 18.4.17).

સૌથી મહત્વપૂર્ણ, તે
ઇસી આશ્ચર્યજનક પૂરું પાડ્યું ન હતું કે પરિણામો VVPATs ના સુધારેલ
જેમાં તે કારણે યુપી સહિતના રાજ્યોમાં અન્ય આવશ્યક માટે ઉપયોગ થતો હતો
EVM ગણે અત્યંત શંકાસ્પદ હતા. ઇસી આ બનાવી છે જ જોઈએ
પણ વિશ્લેષણ માટે આ રાજ્યો. જો આમ હોય, શા માટે ઇસી રોકવાની હતી પરિણામો?
તે વિશ્લેષણ ન હોય તો, શા માટે?

પણ આ પરિણામો વિથ્હોલ્ડિંગ
EC ની નિષ્પક્ષતા પ્રશ્ન પૂછ્યા. આ તુરંત પ્રકાશિત કરવી જોઈએ.
ઇસી પરિણામો માટે યુપી આ બેઠકો હવે બતાવે છે, તો (જેના માટે પગેરું VVPAT છે
ઉપલબ્ધ છે) જે આ EVM ના તફાવત થયો ન હતો સાબિત કરો કે ગણતરીઓ છે, તે
ઇસી વિશ્વસનીયતા ન જાય ત્યાં સુધી તે દ્વારા ચકાસણી સ્વતંત્ર પરવાનગી આપે છે
નિષ્ણાતો.

શક્યતઃ, ઇસી આ કારણ કે આ પરિણામો છુપાવવાને ઇચ્છતા
EVM કે મોટા ભાગના લોકો માટે ગણે આ બેઠકો માટે અને ખોટું સાબિત થઈ
યુપી સૌથી બેઠકો માટે સૂચિતાર્થ અને મતદાન પેટર્ન બતાવવામાં સમર્થન
વૈજ્ઞાનિક બહાર નીકળો મતદાનો દ્વારા.

ઉપર વિશ્લેષણ સ્પષ્ટપણે બતાવે
કે (1) સંભાવના છે કે EVM યુપી ચૂંટણી માટે ગણે ખોટું હતા
100g% બંધ કરવા સરકાર અને હાજર યુપી બંધારણ પર આધારિત છે
આ ખોટું ગણતરીઓ કોઈ માન્યતા, (2) ઇસી વારંવાર જારી કરવામાં આવી છે
ભવિષ્યમાં મત સાચો ગણાય ખાતરી ફેરબદલ વિશે નિવેદનો
યુપી ચૂંટણી, (3) નિષ્પક્ષતા અમાન્ય પરિણામો ધ્યાન
ઇસી કારણે સંખ્યાબંધ ઉલ્લેખ શંકા ના તપાસ કરવાની જરૂર છે
અગાઉ ફકરા અને (4) પરિસ્થિતિ સંપૂર્ણ માંગણી
એક સ્વતંત્ર એજન્સી (ન સીબીઆઇ) દ્વારા તપાસ બધા શંકા સાફ કરવા માટે અને
ઉપાયાત્મક ક્રિયાઓ ભલામણ કરીએ છીએ.

માત્ર આવા તપાસ સત્યમેવ જયતે ( “સત્ય એકલા વિજયો), અમારા અત્યંત આદરણીય મુદ્રાલેખ ખાતરી કરી શકો છો.

પુનરુક્તિ કરવી, તે isridiculous અવિશ્વાસ એક નથી પરંતુ પરિણામો
બહાર નીકળો મતદાનો અને વિશ્વાસનું પાંચ વૈજ્ઞાનિક ચોકસાઈ જે અનિચ્છનીય હોઈ શકે છે
ઘણા નિષ્ણાતો અને સરકારી ઓ મુજબ આયોજિત વિરોધાભાસી જે
જોવા કે કોઈ તકનીક 100% સંપૂર્ણ છે. તે આઘાતજનક છે કે (1)
ધ્યાન બહાર નીકળો મતદાનો દૂર બદલતું અને વૈજ્ઞાનિક સ્વીકારી
ઉત્તરપ્રદેશ ખોટું EVM યુપી એક હોવા માટે ગણતરીઓ પરિણમ્યું છે
સરકાર કોઈ માન્યતા ધરાવે છે અને (2) આ ગંભીર મુદ્દો છે નથી
પણ બંધારણીય નિષ્ણાતો અને સત્તાવાળાઓ દ્વારા ઉઠાવ્યો હતો.


માં
એક સરકારી ધરાવે છે, જે હોવાની આઘાતજનક પરિસ્થિતિ દૂર કરવા માટે
કોઈ માન્યતા અને બંધારણ, ઇસી હેઠળ તેની જવાબદારી પરિપૂર્ણ કરવા માટે
(1) તરત જ જાહેર કરવા અત્યંત શંકાસ્પદ EVM તરીકે ગણે છે
અમાન્ય કારણ કે તે ‘ભાજપ + “એક માટે ઉપલી મર્યાદા 55% થી વધુ વધુ બેઠકો આપી હતી
પાંચ વૈજ્ઞાનિક પરિણામો સરેરાશ અનુસાર બેઠકોની સંખ્યા
ચૂંટણી અને બહાર નીકળો (2) ગુનાહિત ક્રમમાં અનિચ્છનીય બયાન દૂર પછી
નિષ્ણાતો અને પક્ષકારો દ્વારા તોડફોડ કરવાની, ચકાસણી હેઠળ છે. જો આ છે
નથી પણ શક્ય હોય, એક ફરીથી મતદાન ઇસી ટૂંકા સમયગાળામાં છે ઓર્ડર, પછી
રાષ્ટ્રપતિ શાસન ભલામણ. નહિંતર, યુપી એક ચાલુ કરવી પડશે
અમાન્ય સરકાર - અમારા બંધારણ પર બ્લોટ.

એક અનામી
નાગરિક છે, જેણે સંભાળ રાખે છે અને મુદ્રાલેખ આદર સત્યમેવ જયતે અને ભય
ફ્રિન્જ ઘટકો છે કે જે પર કોઈપણ બહાનું પરેશાન અથવા તો મારી નાંખે છે.

ન્યાયમૂર્તિઓ Honbe સુપ્રીમ કોર્ટમાં અપીલ

કૃપયા ધ્યાનમાં આઘાતજનક / ગેરબંધારણીય પરિસ્થિતિઓમાં કે કેમ
આ લેખમાં દર્શાવવામાં આવેલા આ અંગે સુઓ મોટુ અપ લેવા માટે પૂરતી આધારો છે
કેસો માટે:

(1) હાજર યુપી સરકાર ધરાવે છે, જે કાઢી
બંધારણ હેઠળ કોઈ માન્યતા અત્યંત શંકાસ્પદ પર આધારિત હોવાને
EVM ગણે છે. જો સાયબર ગુનેગાર કરશે નિંદ્ય રહેવાની મંજૂરી ન હોય
બંધારણની મજાક ઉડાવી.

(2) ખાસ સેટિંગ અપ
ચૂંટણી પંચે કે કેમ ઇન્વેસ્ટિગેશન ટીમ તપાસ કરવામાં નિષ્ફળ થયું
યુપી ચૂંટણી પરિણામો વિશે નિષ્પક્ષ હોઈ શકે છે.

પત્રકારો ધ્યાન માટે

દિલ્હી આવાસ સેન્ટર, બધા સહભાગીઓ તાજેતરમાં પેનલ ચર્ચા પર
દૃશ્ય વ્યક્ત કર્યો હતો કે ભારત આપત્તિજનક મીડિયા દ્રશ્ય
પત્રકારો હાજર ટીકા વચ્ચે ભય કારણ કે
સરકાર. પત્રકારો જેથી ભયભીત હોય તો, તેઓ બની જશે
અપ્રસ્તુત. માત્ર ઉકેલ સૂચવવામાં આવ્યું હતું કે તેઓ જોઇએ પત્રકારો
અનિચ્છનીય નીતિઓ અને સરકારો ક્રિયાઓ સામે ઊભી છે.
આ જરૂરિયાત પણ તાજેતરમાં ભારતના રાષ્ટ્રપતિ દ્વારા ભાર મૂકવામાં આવ્યો હતો. તેમણે
જણાવ્યું હતું કે પ્રેસ તેની ફરજ માં નિષ્ફળ આવશે જો તે પૂછો નથી
પાવર (ટાઇમ્સ ઓફ ઇન્ડિયા, 26.05.17) માં તે પ્રશ્નો.

માં
હાજર સંદર્ભમાં, તે દરેક પત્રકાર ફરજ પ્રશ્ન છે
ઇસી જે પાંચ પરિણામો અવગણીને દ્વારા તેના જવાબદારીઓમાં નિષ્ફળ
બહાર નીકળો કોઇ વૈજ્ઞાનિક વાજબીપણું વિના આપવા અને મદદથી મતદાન
EVM અત્યંત અમાન્ય ગુનામાં બંધારણ આધાર આપવા માટે શંકાસ્પદ
સરકાર યુપી, એક આઘાતજનક પરિસ્થિતિ પર એક બ્લોટ પરિણમે
ભારતના બંધારણ.

ભય આબોહવા દૂર કરવામાં સહાય માટે,
નિવૃત્ત પત્રકારો અનુભવ ઘણાં સાથે પુસ્તિકાનું પ્રકાશન જોઈએ
કારણો છે કે જેના માટે પત્રકારો ભય સમજાવવા માટે તેમના મંતવ્યો વ્યક્ત
અને નકારાત્મક ભૂમિકા બિન-વ્યાવસાયિક મુક્તપણે તેમના શાસકો દ્વારા ભજવી હતી.
અખબારો અને સામયિકો પુસ્તિકાનું શકે પ્રકાશિત કરવું કારણ કે જરૂરી નથી
આ પ્રકારના અભિપ્રાયો પ્રકાશિત કારણે ભય.

જોકે, ગંભીરતા
બંને મધ્ય અને રાજ્ય સરકાર બહાદુર દ્વારા ટીકા
Vinu જ્હોન અને સિંધુ Sooryakumar ટીવી પત્રકારો અને અન્ય ઘણા લોકો જેવા
કેરળમાં અખબારો દ્વારા બધા આશા આપે હારી નથી. વધુમાં,
આ પ્રવૃત્તિઓ દર્શાવે છે કે વ્યવસાયિકો તરીકે તેમના કામ કરવાથી
સરકારો ખુલ્લા, પત્રકારો ભય જરૂર છે, કારણ કે તેઓ મળશે નહીં
સમગ્ર વ્યવસાય અને સામાન્ય જનતા સંપૂર્ણ આધાર, એક વિપરીત
સામાન્ય માણસ.

(Sivarama ભારતી પ્રાપ્ત - srbharathi18@yahoo.in)

અમે તમને આ જાણ કરો / લેખ ગમ્યો આશા રાખીએ છીએ. મિલી ગેઝેટ મફત છે અને
સ્વતંત્ર વાચકો ટેકો મીડિયા સંસ્થા. , કૃપા કરીને તેને ટેકો આપવા માટે
ઉદારતાપૂર્વક ફાળો આપે છે. અહીં ક્લિક કરો અથવા salesmilligazettecom પર અમને ઇમેઇલ

ઉત્તરપ્રદેશ શંકાસ્પદ માન્યતા સરકાર આવી રહી છે: નિષ્પક્ષ તપાસ માટે જરૂરિયાત

હાજર સંદર્ભમાં, તે દરેક પત્રકાર પ્રશ્ન ઇસી જે તેની જવાબદારીઓને માં નિષ્ફળ ફરજ છે …

milligazette.com


Classical Hindi


इस हत्यारे के लोकतांत्रिक संस्थानों (मोदी) सीईसी पहिया बदलने के प्रयास के द्वारा एक व्यर्थ व्यायाम है। यह
सुप्रीम कोर्ट में साबित कर दिया था कि ईवीएम छेड़छाड़ किया जा सकता है और
इसलिए पूर्व मुख्य न्यायाधीश सदाशिवम आदेश देने कि ईवीएम रुपये की लागत की
वजह से के रूप में पूर्व सीईसी संपत ने सुझाव दिया चरणबद्ध तरीके से
प्रतिस्थापित किया जा सकता द्वारा फैसले की गंभीर भूल प्रतिबद्ध
1600 करोड़ रुपए। लेकिन वह आदेश दिया कभी नहीं जब तक पूरे ईवीएम काग़ज़ी मतपत्रों को बदला जाएगा के लिए इस्तेमाल किया गया।

बहुत
तथ्य यह है कि ईवीएम एक स्पष्ट सबूत है कि वे 80 से लोकतंत्र के
tamperableMore मतदान पत्रों का इस्तेमाल किया है को बदला जाएगा रहे हैं और
उन्हें प्रयोग कर रहे हैं क्योंकि ईवीएम अभी भी धोखाधड़ी के अधीन हैं।
सीईसी का कहना है कि जो है केवल 2019 में भी VVPAT पूरे ईवीएम बनाने
विश्वसनीय लोकतांत्रिक संस्थानों (मोदी) स्थायी रूप से उनके शासन जारी रखने
के हत्यारों द्वारा प्रतिस्थापित नहीं किया जाएगा।

वहाँ कई तकनीकी विशेषज्ञ हैं, जो पहले से ही किसी भी संदेह नहीं है कि ईवीएम tamperable हैं बिना साबित कर दिया है कर रहे हैं।

वर्तमान व्यायाम केवल धमकाने के लिए मतदाताओं gulliable निर्दोष है।

http: //www.milligazette.com /…/ 15,634-उत्तर-प्रदेश-है-होने …

उत्तर प्रदेश संदिग्ध वैधता की सरकार रही है: निष्पक्ष जांच के लिए की जरूरत

केवल 8 543 लोकसभा सीटों में से भाजपा (Bahuth सक्षम करने प्रतिस्थापित किया गया
Jitadha Psychopaths) लोकतांत्रिक संस्थानों के के हत्यारे (मोदी)
मास्टर कुंजी हडप जाना। इसके बाद अन्य सभी विधानसभा चुनाव
ईवीएम इन धोखाधड़ी द्वारा आयोजित की गई। केवल उत्तर प्रदेश के चुनावों में 20 सीटों पर
सीटों जहां भाजपा जीत सकता है सक्षम करने के लिए 325 प्रतिस्थापित किया गया
योगी / Bhogi / Roghi और देश Dhrohi मुख्यमंत्री बनने के लिए। पिछले उत्तर प्रदेश में
पंचायत चुनाव में सुश्री मायावती रों कागज मतपत्र द्वारा आयोजित किया गया
बसपा में एक ज़बरदस्त बहुमत जीता। अब अनुसूचित जाति के लिए मायावती पर अंकुश लगाने
एक Sarvajan समाज के नेता, जो धोखाधड़ी की प्रक्रिया का उपयोग कर रहा है जीतने के लिए
ईवीएम का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसलिए देखते हैं कि केन्द्र के लिए एक आंदोलन और
ईवीएम इन धोखाधड़ी भंग राज्य सरकारों द्वारा चयन किया जाना चाहिए और जाना
के 80 लोकतंत्र के रूप में कागज मतपत्र के लिए साथ नए सिरे से चुनाव के बाद
के रूप में निहित दुनिया लोकतंत्र, समानता, स्वतंत्रता और बिरादरी को बचाने के
कल्याण, सुख और सब की शांति के लिए हमारे संविधान में आधुनिक
समाज और 1% असहिष्णु, उग्रवादी, संख्या 1 आतंकवादियों से बचने के लिए
दुनिया शूटिंग, हत्या, पागल के, मानसिक रूप से मंद chitpavan
जो नरभक्षक है ब्राह्मण आरएसएस (राक्षस स्वयं सेवक) psychopaths
पहले से ही अपने चुपके, छायादार के लिए अपने Manusmriti लागू करने के लिए शुरू कर दिया
hinduva पंथ और भेदभावपूर्ण।

पूर्व मुख्य न्यायाधीश, मोदी और पूर्व सीईसी
योगी गैर bailabale अधिनियम अत्याचार के तहत वारंट के साथ आरक्षित किया जाना चाहिए
अनुसूचित जाति को रोकने के लिए / अनुसूचित जनजातियों मास्टर कुंजी आधुनिक negating प्राप्त करने के लिए
हमारे देश के संविधान।

उत्तर प्रदेश संदिग्ध वैधता की सरकार रही है: निष्पक्ष जांच के लिए की जरूरत
मिल्ली गज़ट ऑनलाइन
प्रकाशित ऑनलाइन: जून 01, 2017

छोटे नमूनों का चयन सही मूल्य या गुणवत्ता या अनुमान लगाने के लिए
व्यवहार का एक बड़ा समूह कई के लिए एक व्यापक रूप से स्वीकार्य व्यवहार किया गया है
साल। इन वर्षों में, नमूना तकनीक सुधार किया गया है और किया जाता
वैज्ञानिक और विश्वास सच मूल्यों के विश्वसनीय अनुमान सुनिश्चित करने के लिए
सीमा जिसके आगे झूठ सही मूल्य संभावना नहीं है। नतीजतन,
नमूना सर्वेक्षण के परिणामों के बार-बार के उपयोग के साथ बनाया गया है
आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक घटनाक्रम की योजना के लिए आत्मविश्वास।
लेकिन, विडंबना यह है कि, पांच वैज्ञानिक नमूना सर्वेक्षण के परिणामों (निकास
चुनाव) भी उत्तर प्रदेश चुनाव परिणाम पर जांच कर रही बिना बर्खास्त कर दिया गया
उनकी विश्वसनीयता। पाँच वैज्ञानिक अंधा के इस थोक अस्वीकृति
नमूना सर्वेक्षणों / एग्जिट पॉल अद्वितीय है और निंदा किया जाना चाहिए
एकमुश्त।

निम्न कथन पांच में से परिणाम देता है
EVM वैज्ञानिक एग्जिट पॉल और भाजपा और उसके समर्थकों के लिए मायने रखता है
( “भाजपा +”) उत्तर प्रदेश के चुनावों में।

pollster

नहीं। और विश्वास की सीमा के भीतर के लिए “भाजपा +” सीटों ब्रैकेट की

VMR टाइम्स अब

200 (190210)

भारत समाचार-एमआरसी

185 (175195) *

एबीपी-सीएसडीएस

170 (164176)

भारत टीवी-सी वोटर

161 (155-167)

समाचार 24 चाणक्य

285 (273- 297) *

औसत

200 (190210) *

EVM मायने रखता है

325

* विश्वास की सीमा में नहीं दिखाया गया है इन जनमत सर्वेक्षणों से गणना की गई
समाचार पत्रों की रिपोर्ट। ऊपर दिए गए सीमा काफी किसी न किसी तरह लेकिन विश्वसनीय हैं
अन्य द्वारा विश्वास गणना करने के लिए तुलनीय सीमा दी
जनमत सर्वेक्षणों।

पहले चार वैज्ञानिक एग्जिट पॉल एक त्रिशंकु की भविष्यवाणी की
विधानसभा। पिछले एक भाजपा के लिए बहुमत की भविष्यवाणी की। लेकिन, ज्यादातर
EVM मायने रखता है के लिए महत्वपूर्ण है, कई और अधिक सीटों से पता चला है “भाजपा +”
ऊपरी आत्मविश्वास सीमा (जैसे कि, सीटों की संख्या के लिए ऊपरी सीमा)
सभी पांच एग्जिट पॉल द्वारा दिए गए। पाँच बाहर निकलने के लिए औसत परिणाम
चुनाव (जो एक स्पष्ट तस्वीर देता है) कि EVM के लिए 325 की गिनती से पता चलता
सीटों 210 सीटों जो ऊपरी सीमा है की तुलना में 55% अधिक “भाजपा +” दे दी है
सीटों की संख्या के लिए। यह किसी भी शक के बहुत बड़े अंतर से आगे चलता
EVM मायने रखता है कि गलत थे।


संभावना के लिए सीटों की सही संख्या
द्वारा प्राप्त “भाजपा +” ऊपरी सीमा से भी एक छोटे से अधिक के लिए किया जा रहा है
सीटों इन एग्जिट पॉल की संख्या में से किसी एक के लिए 5% से कम है (या यहाँ तक
1% से कम द्वारा चयनित विश्वास की डिग्री पर निर्भर करता है
सीमा की गणना के लिए जनमत सर्वेक्षणों)। यहां तक ​​कि आवारा बाहर निकलने के चुनाव के लिए
परिणाम जो “भाजपा + ‘के लिए सबसे अनुकूल था, के लिए मौका” भाजपा + “
यहां तक ​​कि एक छोटे से 297 से ज्यादा सीटों पर हो रही 5% से कम (या 1%) है।
के लिए “भाजपा +” ऊपरी सीमा सीटों की तुलना में यहां तक ​​कि एक छोटे से अधिक हो रही है संभावना
संख्या के सभी पांच एग्जिट पॉल के लिए सीटों के लिए (अनुसार शून्य के करीब है
संभावना की व्यवस्था करने के लिए)। और अधिक विश्वसनीय औसत को ध्यान में रखते
परिणाम, के लिए “भाजपा +” किस्मत के ऊपरी सीमा से 55% अधिक सीटें मिल रहा है
210 सीटों के शून्य के करीब है। दूसरे शब्दों में, संभावना है कि
EVM उत्तर प्रदेश चुनावों के लिए मायने रखता है थे गलत 100% के करीब है।

बजाय
एकमुश्त निंदा एग्जिट पॉल के पांच वैज्ञानिक परिणामों के सभी,
चुनाव आयोग (ईसी) उनके वैज्ञानिक आधार सम्मान जाना चाहिए था।
यदि किसी भी पुष्टि की जरूरत थी, चुनाव आयोग विशेषज्ञ राय मांगी जा सकता था
की, कोलकाता भारतीय सांख्यिकी संस्थान (विकास में अग्रणी
नमूना तकनीक) या किसी अन्य संस्थानों या प्रोफेसरों की
नमूना तकनीक में आँकड़ों के अनुभव के साथ। लेकिन, ऐसा लगता है कि चुनाव आयोग
ऐसा करने नहीं दिया। अविश्वसनीय रूप से, चुनाव आयोग के लिए किसी भी औचित्य नहीं दिया
वैज्ञानिक परिणामों को खारिज! जाहिर है, चुनाव आयोग पता लगाने के लिए नहीं करना चाहता था
अपने संवैधानिक जिम्मेदारी और सच्चाई में नाकाम रही है। की यह कमी
यह भी सच जानने में रुचि के निष्पक्षता पर सवाल
चुनाव आयोग।

निष्पक्षता आगे संदिग्ध है क्योंकि चुनाव आयोग को नजरअंदाज कर दिया है
जानकारी के हेरफेर जो स्पष्ट रूप से पता चला है कि निम्नलिखित
इलेक्ट्रॉनिक उपकरण एक स्पष्ट संभावना है और बार-बार दावा किया
ईवीएम के साथ छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है कि तोता की तरह:

1. साइबर
अपराधों के साथ अधिक से अधिक गुमराह चतुर लोगों में वृद्धि की गई है
, हैकिंग का सहारा वायरस को विकसित करने, हेराफेरी आदि

शीर्षक 2. डेक्कन क्रॉनिकल द्वारा Achom Debanish में “ईवीएम वास्तव में सबूत छेड़छाड़ कर रहे हैं” एक लेख में कहा गया है:

(ए) “बीबीसी की रिपोर्ट है कि एक के लिए एक घर का बना डिवाइस से जोड़ने के बाद
EVM, मिशिगन विश्वविद्यालय द्वारा शोधकर्ताओं परिणामों को बदलने में सक्षम थे
एक मोबाइल फोन से पाठ संदेश भेजने। “

(बी) “हरि कृष्ण
वेमुरु प्रसाद, हैदराबाद स्थित Netindia प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक, एक
प्रौद्योगिकी समाधान फर्म, से पता चला है कि कैसे एक EVM स्थानीय टीवी पर हो सकता है
धांधली। “यह संभव है कि एक उत्साही समर्थक भाजपा इस देखा था
और (ईसी और भाजपा के ज्ञान के बिना) हैकिंग करने में सफल रहा और
ईवीएम निर्देश घुमा उत्तर प्रदेश के चुनावों में गिनती के लिए इस्तेमाल किया।

(सी) श्री वेमुरु भी दावा किया कि “EVM चिप प्रतिस्थापित किया जा सकता
एक हमशक्ल और चुपचाप निर्देश दिए साथ वोट के प्रतिशत के चोरी करने के लिए
एक चुने हुए उम्मीदवार के पक्ष में। “चुनाव आयोग के किसी भी चालाक और बेईमान कर्मचारियों,
अगर वह / वह करना चाहता था ईवीएम का एकमात्र संरक्षक, ऐसा कर सकता है। यह है
कोई उचित सरकारी कार्यालय है कि संभावना है भ्रष्टाचार मुक्त होने के लिए।

3. “सिंथेटिक (उंगली) प्रिंट स्मार्ट फोन अनलॉक कर सकते हैं समय के 65%।” (टाइम्स ऑफ इंडिया, 16-04-17)।

4. दिल्ली विधानसभा में आप एक EVM छेड़छाड़ करने के लिए कैसे प्रदर्शन किया है।

5. “McAfee द्वारा एक नई रिपोर्ट से पता चलता है कि 176 साइबर खतरों थे
और हर मिनट का पता चला है (यानी, लगभग तीन हर दूसरे) 88 फीसदी
विकास और 99 फीसदी ransomeware मोबाइल मैलवेयर विकास किया गया था
2016 के अंत में “(डेक्कन क्रॉनिकल होल्डिंग्स, 12.04.17) द्वारा पता लगाया।

चुनाव आयोग क्या
साइबर खतरों हर दूसरे के लिए एक मूर्ख सबूत प्रणाली के लिए बाहर घड़ी
24/7 और इस तरह के सभी खतरों से उबरने? यदि नहीं, तो साइबर अपराधियों हो सकता था
EVM उत्तर प्रदेश चुनावों की गिनती के लिए चालाकी से।

यह स्पष्ट नहीं है
चुनाव आयोग चाहे इस्तेमाल किया ईवीएम सुनिश्चित करना है कि उत्तर प्रदेश में चुनाव में सफल हुए
(भर में किसी भी समय जोड़तोड़ के सभी प्रकार का सामना कर सकता है
चुनाव) है, जो विशेषज्ञों के सभी प्रकार के संतुष्ट कर सकते हैं। यहां तक ​​कि अगर यह था
100% सफल रहा है (जो संदिग्ध है), के किसी भी चालाक और बेईमान कर्मचारियों
चुनाव आयोग, ईवीएम का एकमात्र संरक्षक, अगर वह / वह चाहता था चालाकी से किया जा सकता था
करने के लिए। यह उचित है रिश्वत देने वालों और लेने की कोई कमी नहीं है कि वहाँ
देश में।

इन सभी को दिखाने की है कि इलेक्ट्रॉनिक हेरफेर
गैजेट एक स्पष्ट संभावना है। यह सरकार द्वारा समर्थित है
आधार लीक के सिलसिले में सुप्रीम कोर्ट (SC) में प्रवेश के, कि
कोई प्रौद्योगिकी 100% सही है। इन सभी उपहास चुनाव आयोग रों का दावा है कि ईवीएम
साथ छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है। एस दोहराया इनकार कि क्या चुनाव आयोग की जांच के लिए
ईवीएम उत्तर प्रदेश के चुनावों में इस्तेमाल किया गया पता चलता है कि चुनाव आयोग नहीं चालाकी से किया जा सकता है
निष्पक्ष।


यह उचित है कि इस तरह के की संभावना
चुनाव आयोग हेरफेर से केवल स्वीकार नहीं किया है, लेकिन यह भी परोक्ष रूप से इस्तेमाल किया
यह करके (नीचे सचित्र बार-बार के रूप में)। चुनाव आयोग एक प्रस्तुत करने का वचन
कागज निशान 2019 में (VVPAT) ईवीएम के लिए है जो यह जांच करने के लिए सक्षम हो जाएगा
किसी भी इलेक्ट्रॉनिक हेरफेर हुआ है या नहीं। यदि ईवीएम उत्तर प्रदेश में इस्तेमाल किया
चुनाव चालाकी से नहीं किया जा सका, चुनाव आयोग इस जायज नहीं हो सकता था
बदल जाते हैं। विडंबना यह है कि स्वयं प्रवेश की इस अप्रत्यक्ष संभावना के बावजूद
जोड़-तोड़ की, चुनाव आयोग की जांच नहीं की थी यह हो गया है कि क्या और रिपोर्ट
उत्तर प्रदेश चुनावों दिया तब भी जब यह अत्यधिक संदिग्ध का परिणाम है। इसके बजाय,
चुनाव आयोग तोता की तरह कह रही है कि ईवीएम छेड़छाड़ प्रूफ हैं पर रहता है। इस दोहरे
चुनाव आयोग का प्राधिकार की तरह सोच शोभा नहीं देता।

इसके अलावा, ऐसा लगता है
चुनाव आयोग कि 2019 के लिए अपनी योजनाओं के बारे में (एक लंबा रास्ता बंद है) बात कर रही है
मुख्य रूप से EVM उत्तर प्रदेश के अत्यधिक संदिग्ध की गिनती से ध्यान हटाना
चुनाव के हाथ में सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा है।

चुनाव आयोग को पत्र लिखा
कानून मंत्री सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक है कि मशीनों कि VVPAT की तैनाती
“संरक्षित रों में मतदान और मतदाता आत्मविश्वास की अखंडता है
प्रक्रिया को मजबूत कर रहा है “रुपये का andsought मंजूरी। के लिए 3,174 करोड़ रुपये
नई मशीनों (टाइम्स ऑफ इंडिया, 17.04.17) की खरीद। इस्तेमाल किया ईवीएम हैं
उत्तर प्रदेश के चुनावों में मतदान की अखंडता को संरक्षित रखा गया था, चुनाव आयोग नहीं कर सकता
धन के लिए इस भारी मांग जायज। यह एक और अप्रत्यक्ष नहीं है
प्रवेश कि ईवीएम का इस्तेमाल किया छेड़छाड़ प्रूफ नहीं कर रहे थे उत्तर प्रदेश में चुनाव?

चुनाव आयोग का कहना है कि इन नई मशीनों भी एक आत्म नैदानिक ​​से लैस हैं
मशीनों की वास्तविकता के प्रमाणीकरण के लिए प्रणाली। यदि ऐसा नहीं होता
मतलब है कि पुराने ईवीएम की वास्तविकता उत्तर प्रदेश के चुनावों में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है
प्रमाणीकृत? इस मतलब यह नहीं है कि चुनाव आयोग भी इस का उपयोग कर रहा है
ईवीएम में दोष उत्तर प्रदेश के चुनावों में खर्च भारी मात्रा का औचित्य साबित करने के लिए इस्तेमाल
नई मशीनों पर?

“चुनाव आयोग कि अगली पीढ़ी ईवीएम खरीदने के लिए सेट कर दिया जाता
बनने के लिए “पल प्रयास के साथ टिंकर करने के लिए निष्क्रिय बना रहे हैं”
2019 (टाइम्स ऑफ इंडिया, 03.04.17) में इस्तेमाल करते हैं। यह असामान्य रूप से जल्दी बात
भविष्य के बारे में सबसे से ध्यान हटाना एक और प्रयास है
हाथ में महत्वपूर्ण सवाल यह है कि ईवीएम उत्तर प्रदेश के चुनावों में इस्तेमाल किया गया
के साथ छेड़छाड़ की।

“चुनाव की अखंडता को ईवीएम में इस्तेमाल किया जाएगा होगा
“सभी हितधारकों की पूर्ण संतुष्टि होने के लिए प्रदर्शन किया एक से
चुनाव आयोग (टाइम्स ऑफ इंडिया, 02.04.17) की टीम। इस का एक और उदाहरण है
क्रम में चुनाव आयोग भविष्य aboutthe बात कर गलत से ध्यान हटाना
EVM के लिए उत्तर प्रदेश के चुनावों में गिना जाता है।

चुनाव आयोग राजनीतिक के लिए एक चुनौती फेंक दिया
पार्टियों, वैज्ञानिकों और तकनीकी विशेषज्ञों कि ईवीएम साबित हो सकता है
अब के साथ छेड़छाड़ की। (टाइम्स ऑफ इंडिया, 13.04.17)। यह अभी तक एक और है
गलत EVM उत्तर प्रदेश से ध्यान डाइवर्ट का उदाहरण मायने रखता है के लिए
चुनाव। इसके अलावा, इस विलम्बित चुनौती, कास्टिंग के कई हफ्तों के बाद
संदेह, महत्वपूर्ण सवाल यह है कि चुनाव आयोग अब ईवीएम बना दिया है को जन्म देती है
उत्तर प्रदेश, जो अपनी हिरासत में थे, “निष्क्रिय” पल प्रयास में इस्तेमाल
ईवीएम की अगली पीढ़ी के एक गुणवत्ता - इसके साथ टिंकर करने के लिए बना रहे हैं।
यदि हां, तो जहां वर्ष ईवीएम के बिना इस गुणवत्ता है, जो में इस्तेमाल किया गया हैं
उत्तर प्रदेश चुनाव? दोनों कि क्या चुनाव आयोग इन प्रश्न बेईमान किया गया है।

2013 में, अनुसूचित जाति को चरणबद्ध तरीके से लागू करने के लिए VVPAT चुनाव आयोग के निर्देश दिए।
चिदंबरम इस फैसले के विवरण का हवाला दिया और कहा कि “एक
कह रही है कि विशेषज्ञों की टीम एक व्यापक रिपोर्ट दायर किया था
ईवीएम हार्डवेयर के साथ ही सॉफ्टवेयर कमजोर और होने का खतरा में किया जाता है
छेड़छाड़ “। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग ने स्वीकार किया कि मशीन भी नहीं था
सरल और कागज निशान “(टाइम्स ऑफ इंडिया को पेश करने पर सहमत हुए,
030,417)। क्योंकि इन ईवीएम उत्तर प्रदेश में कागज निशान के बिना इस्तेमाल किया गया
चुनाव (कुछ सीटों को छोड़ कर), चुनाव आयोग कि वे जानकारी नहीं थी
सरल। इस जागरूकता के बावजूद, चुनाव आयोग ने बार-बार दावा किया कि ईवीएम
साथ छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है। यह अखंडता डबल बात पर सवाल
चुनाव आयोग और निष्पक्षता की।

इन सभी से संकेत मिलता है ईमानदारी की कमी है और
चुनाव आयोग प्रतिबद्धता में चुनाव परिणाम की सटीकता सुनिश्चित करने। यह वह जगह है
चुनाव आयोग इनकार द्वारा की पुष्टि की उत्तर प्रदेश EVM में गिना जाता है की सटीकता की जांच करने के लिए
उत्तर प्रदेश संभावना है कि EVM के लिए चुनाव में गिना जाता है के बावजूद चुनाव
गलत 100% के करीब है रहे थे (ऊपर देखें) और के बारे में चुनाव आयोग के बारे में जागरूकता
ईवीएम (पूर्ववर्ती पैरा) के हेरफेर की संभावना। यह भी
चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल उठाए।

Mayawathi, केजरीवाल और येचुरी
भी इस पर सवाल उठाया है। और अधिक लोगों को हो सकता है वहाँ के साथ संदेह कर रहे हैं
(पांच जनमत सर्वेक्षणों सहित) जो शांत रख रहे हैं, संभवतः क्योंकि
विरोधी नागरिकों के रूप में लेबल किया जा रहा के डर से। चुनाव आयोग को पूरा नहीं कर रहा है इसके
कर्तव्य सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न के सही होने के बारे में अपने संदेह स्पष्ट करने के लिए
लेकिन बार-बार उत्तर प्रदेश बताकर इसे से ध्यान डाइवर्ट की गिनती
अपने भविष्य की योजनाओं के बारे में।


सटीकता की कमी के कारण चार साल भी बनी रहती
अनुसूचित जाति आदेश एक और अधिक सटीक ईवीएम पर हालांकि बाद तैनात किया जा सकता
बड़े पैमाने पर। क्या बुरा है हानिकारक है और वह चुनाव आयोग उपयोग करने के लिए योजना बना रहा है
इन “अधिक सटीक” केवल 2019 में ईवीएम, हालांकि इन मशीनों हो जाएगा
भारत इलेक्ट्रॉनिक्स और भारत के इलेक्ट्रॉनिक्स कारपोरेशन द्वारा निर्मित
(टाइम्स ऑफ इंडिया, 02.04.17)। क्यों इस स्थगन के बजाय
कुछ राज्यों जिसके लिए वह है में होने वाले चुनाव के दौरान सटीक सुनिश्चित
अगले दो साल की अवधि? उठाता की निष्पक्षता चुनाव आयोग के बारे में संदेह
चाहे वह सवाल में इन जोड़तोड़ करने के लिए अपनी आँखें बंद होगा
चुनाव के लिए कुछ दलों मदद में 2019 में आम चुनावों के साथ
मन।

चौंकाने क्रिया (या चुनाव आयोग द्वारा निष्क्रियता) के साथ बंद नहीं करते
इन। नई ईवीएम “तकनीकी रूप से मतों के मैनुअल गिनती की अनुमति देते हैं।” भी
प्रकाशित परिणामों की अशुद्धि के बारे में शिकायतें मिल रही से पहले,
चुनाव आयोग के मैनुअल गिनती से एक जिम्मेदार तुलना में परिणाम होना चाहिए
मायने रखता है, जिसके लिए नई ईवीएम उत्तर प्रदेश में 30 सीटों के लिए इस्तेमाल किया गया साथ EVM
सटीकता की जांच करने के लिए। पैटर्न मतदान की गिनती के द्वारा दिखाया गया मतभेद हैं EVM
30 सीटों के लिए मैनुअल गिनती, की संभावना से उन लोगों से
जोड़-तोड़ की पुष्टि की है। लेकिन चुनाव आयोग इन चेकों बाहर ले जाने के कर दिया, फिर
शिकायतों प्राप्त करने के बाद। क्यों? यह भी की निष्पक्षता पर सवाल
चुनाव आयोग।

चुनाव आयोग पहले उठाया है सभी प्रश्नों के लिए ठोस उत्तर प्रदान करने के लिए।

“दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि वह के दो पाता है
तीन चुनाव आयुक्तों क्योंकि वह क्या होने का दावा कर रहे हैं के पक्षपाती
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सांसद लिए उनमें से एक की निकटता के लिए और अन्य की
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान “(टाइम्स ऑफ इंडिया, 19.04.17)।
इसका कारण यह है आरोप के बारे में संदेह पड़ताल की जानी चाहिए
चुनाव आयोग पहले के समय की निष्पक्षता की संख्या में उठाया गया है
पैराग्राफ। इस तरह के एक जांच भी विभिन्न बिंदुओं को शामिल करना चाहिए
पहले उठाया। ये सीबीआई द्वारा जांच की जानी चाहिए जो नहीं किया गया
सरकार की ओर से अनुसूचित जाति के एक बंदी तोता के रूप में चिह्नित। एक अन्य कारण
विश्वसनीयता की सीबीआई रों कमी है कि “दो सीबीआई के पूर्व निर्देशक हैं
भ्रष्टाचार के लिए परीक्षण का सामना करने की प्रक्रिया में रखा, काले धन को वैध,
और scuttling गंभीर सुप्रीम कोर्ट द्वारा आदेशित जांच “(डेक्कन क्रॉनिकल,
280,417)।

चुनाव आयोग का दावा है कि “परिणाम के एक विश्लेषण लिया गया से
गोवा में 40 निर्वाचन क्षेत्रों में सभी 33 सीटों पर उपयोग VVPATs और
पंजाब से बाहर कर दिया ईवीएम कागज के बिना थोड़ी भिन्नता के साथ परिणाम से पता चलता
निशान “(टाइम्स ऑफ इंडिया, 18.4.17)।

सबसे महत्वपूर्ण है, यह है
चुनाव आयोग आश्चर्य की बात नहीं प्रदान की थी कि परिणाम VVPATs से लिया गया
जिसमें यह क्योंकि उत्तर प्रदेश सहित राज्यों अन्य आवश्यक के लिए इस्तेमाल किया गया था
EVM में गिना जाता है अत्यधिक संदिग्ध थे। चुनाव आयोग इस छोड़ी होगी
भी विश्लेषण के लिए इन राज्यों। यदि हां, तो क्यों चुनाव आयोग रोक थी परिणाम?
यह विश्लेषण नहीं किया, तो क्यों?

भी इन परिणामों की रोक
चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल उठाए। ये तुरंत प्रकाशित करना।
चुनाव आयोग के परिणामों के लिए उत्तर प्रदेश में इन सीटों अब पता चलता है (जिसके लिए निशान VVPAT है
उपलब्ध है) जो इन EVM से अलग नहीं था साबित होता है कि मायने रखता है, यह
चुनाव आयोग विश्वसनीयता की जरूरत नहीं होगी, जब तक द्वारा जाँच स्वतंत्र अनुमति देता है
विशेषज्ञों।

संभवतः, चुनाव आयोग इन क्योंकि इन परिणामों को छिपाने के लिए करना चाहता था
EVM कि उत्तर प्रदेश के अधिकांश के लिए मायने रखता है इन सीटों के लिए और से गलत साबित कर रहे थे
उत्तर प्रदेश के सबसे सीटों के लिए निहितार्थ, और मतदान के पैटर्न से पता चला पुष्टि
वैज्ञानिक एग्जिट पॉल द्वारा।

उपरोक्त विश्लेषण स्पष्ट रूप से दिखाता
कि (1) संभावना है कि EVM उत्तर प्रदेश चुनावों के लिए मायने रखता है गलत थे
100g% बंद करने के लिए सरकार और वर्तमान उत्तर प्रदेश के गठन पर आधारित है
इन गलत मायने रखता है कोई वैधता, (2) चुनाव आयोग को बार-बार जारी करता रहा है है
भविष्य में वोट का सही गिनती सुनिश्चित हटाने की के बारे में बयान
यूपी चुनाव, (3) की निष्पक्षता की अवैध परिणामों से ध्यान
चुनाव आयोग की वजह से संख्या में उल्लेख संदेह के पड़ताल की जानी चाहिए
पहले पैराग्राफ और (4) स्थिति पूरी तरह से की मांग
एक स्वतंत्र एजेंसी (नहीं सीबीआई) द्वारा जांच के सभी संदेहों को स्पष्ट करने के लिए और
उपचारात्मक कार्रवाई सलाह देते हैं।

केवल इस तरह के एक जांच सत्यमेव जयते ( “सत्य की ही जय), हमारे उच्च सम्मान आदर्श वाक्य सुनिश्चित कर सकते हैं।

दोहराना के लिए, यह isridiculous अविश्वास एक नहीं बल्कि के परिणामों की
एग्जिट पॉल और विश्वास के पांच वैज्ञानिक सटीकता जो ईवीएम हो सकता है
कई विशेषज्ञों और सरकार रों के अनुसार चालाकी के विपरीत है जो
देखने कि कोई भी तकनीक 100% सही है। यह चौंकाने वाला है कि (1)
ध्यान से बाहर निकलें चुनावों से दूर डाइवर्ट और वैज्ञानिक को स्वीकार
उत्तर प्रदेश गलत EVM उत्तर प्रदेश एक होने के लिए मायने रखता है में बदल गया है
सरकार जो कोई वैधता नहीं है और (2) इस गंभीर मुद्दे नहीं किया जा रहा है
यहां तक ​​कि संवैधानिक विशेषज्ञों और अधिकारियों ने पूछताछ की।


में
एक सरकार है जो होने का चौंकाने वाला स्थिति को निकालने के लिए
कोई वैधता और संविधान, चुनाव आयोग के तहत अपनी जिम्मेदारी को पूरा करने के
(1) तुरंत घोषित करने के लिए अत्यधिक संदिग्ध EVM रूप में गिना जाता है
अवैध क्योंकि यह “भाजपा +” एक के लिए ऊपरी सीमा से 55% अधिक सीटें दे दी है
पाँच वैज्ञानिक परिणामों की औसत के अनुसार सीटों की संख्या
चुनाव और बाहर निकलें (2) आपराधिक आदेश ईवीएम के एक बयान के हटाने के बाद
विशेषज्ञों और हितधारकों के द्वारा जोड़तोड़, जांच के दायरे में। यदि यह है
संभव नहीं, एक फिर से चुनाव चुनाव आयोग एक छोटी अवधि के भीतर है ऑर्डर करने के लिए, के बाद
राष्ट्रपति शासन की सिफारिश। अन्यथा, उत्तर प्रदेश एक जारी रखने के लिए होगा
अवैध सरकार - हमारे संविधान पर एक धब्बा।

एक अनाम
नागरिक है जो की परवाह और आदर्श वाक्य का सम्मान करता है सत्यमेव जयते और भय
हाशिये तत्व है जो पर किसी भी बहाने परेशान या भी मार डालते हैं।

न्यायाधीशों Honbe के उच्चतम न्यायालय के समक्ष अपील

कृपया पर विचार चौंकाने वाला / असंवैधानिक स्थितियों है कि क्या
इस आलेख में वर्णित स्वप्रेरणा से लेने के लिए पर्याप्त आधार हैं
मामलों के लिए:

(1) वर्तमान प्रदेश सरकार है जो खारिज
संविधान के तहत कोई वैधता, अत्यधिक संदिग्ध के आधार पर किया जा रहा
EVM गिना जाता है। यह अगर कोई साइबर अपराधी कर देगा परिवादात्मक होने के लिए अनुमति दी है
संविधान का मजाक।

(2) एक विशेष की स्थापना
चुनाव आयोग चाहे जांच दल को जांच करने में विफल रहा
उत्तर प्रदेश चुनाव परिणाम के बारे में निष्पक्ष हो।

पत्रकारों का ध्यान के लिए

दिल्ली पर्यावास केन्द्र, सभी प्रतिभागियों में हाल ही में एक पैनल चर्चा में
विचार व्यक्त किया गया था कि भारत भयावह में मीडिया दृश्य
पत्रकारों वर्तमान की आलोचना करने के बीच में डर की वजह से
सरकार। पत्रकारों इतना डरते हैं, वे हो जाएगा
अप्रासंगिक। एकमात्र समाधान सुझाव दिया गया कि उन्हें करना चाहिए पत्रकारों
अवांछनीय नीतियों और सरकारों की कार्रवाई के खिलाफ खड़े।
इस जरूरत को भी हाल ही में भारत के राष्ट्रपति द्वारा बल दिया गया था। वह
ने कहा कि प्रेस अपने कर्तव्य में असफल हो जाएगा अगर यह नहीं पूछता है
बिजली (टाइम्स ऑफ इंडिया, 26.05.17) में उन लोगों के लिए सवाल।

में
वर्तमान संदर्भ में, यह हर पत्रकार का कर्तव्य सवाल करने के लिए है
चुनाव आयोग जो पाँच के परिणामों की अनदेखी करके अपनी जिम्मेदारियों में असफल
बाहर निकलने के किसी भी वैज्ञानिक औचित्य के बिना दे रही है और का उपयोग कर चुनाव
EVM अत्यधिक गलत मायने रखता है के गठन का समर्थन करने के संदिग्ध
सरकार में उत्तर प्रदेश, एक चौंकाने वाला स्थिति और पर एक धब्बा है, जिसके परिणामस्वरूप
भारत के संविधान।

डर के मारे जलवायु निकालने में मदद करने के लिए,
सेवानिवृत्त पत्रकारों अनुभव के बहुत सारे के साथ पुस्तिकाएं प्रकाशित करना चाहिए
कारणों से पत्रकारों के डर से समझाने के लिए अपने विचार व्यक्त
और नकारात्मक भूमिका गैर-पेशेवर स्वतंत्र रूप से उनके आकाओं द्वारा निभाई गई।
समाचार पत्रों और पत्रिकाओं पुस्तिकाएं मई को प्रकाशित करने पर क्योंकि जरूरी नहीं है
इस तरह के विचारों को प्रकाशित करने की वजह से डर लगता है।

हालांकि, की गंभीरता
दोनों केंद्र और राज्य सरकार बहादुर की आलोचना का
विनू जॉन और सिंधु Sooryakumar टीवी पत्रकार और कई अन्य लोगों की तरह पर
केरल में समाचार पत्र है कि सभी आशा दी में खो नहीं है। इसके अलावा,
इन गतिविधियों के दर्शाते हैं कि पेशेवर के रूप में अपना काम कर रही है
सरकारों को उजागर, पत्रकारों भय की जरूरत है क्योंकि वे नहीं मिलेगा
पूरे पेशे और आम जनता का पूरा समर्थन, एक के विपरीत
आम आदमी।

(Sivarama भारती से प्राप्त - srbharathi18@yahoo.in)

हम आपको यह रिपोर्ट / लेख पसंद आया उम्मीद है। मिल्ली गज़ट एक नि: शुल्क है और
स्वतंत्र पाठकों-समर्थित मीडिया संगठन। , कृपया इसे समर्थन करने के लिए
उदारता से योगदान करते हैं। यहाँ क्लिक करें या salesmilligazettecom पर हमें ईमेल

उत्तर प्रदेश संदिग्ध वैधता की सरकार रही है: निष्पक्ष जांच के लिए की जरूरत

वर्तमान संदर्भ में, यह हर पत्रकार सवाल चुनाव आयोग जो करने के लिए अपनी जिम्मेदारियों में असफल का कर्तव्य है …

milligazette.com

Classical Kannada


ಈ ಕೊಲೆಗಾರರು ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವದ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು (ಮೋದಿ) ಸಿಇಸಿ ಚಕ್ರ reinvent ಪ್ರಯತ್ನಿಸುವ ಮೂಲಕ ಒಂದು ನಿರರ್ಥಕ ವ್ಯಾಯಾಮ. ಇದು
ಸರ್ವೋಚ್ಚ ನ್ಯಾಯಾಲಯದಲ್ಲಿ ಸಾಬೀತಾಯಿತು ಗಳನ್ನು ತಿದ್ದುಪಡಿ ಎಂದು ಹೀಗಾಗಿ ಮಾಜಿ
ಸಿಜೆಐ ಸದಾಶಿವಂ ಕಾರಣ ರೂ ವೆಚ್ಚದ ಮಾಜಿ ಸಿಇಸಿ ಸಂಪತ್ ಸೂಚಿಸಿದಂತೆ ಗಳನ್ನು ಹಂತ
ಹಂತವಾಗಿ ಬದಲಿಗೆ ಎಂದು ಆದೇಶಿಸುವ ಮೂಲಕ ತೀರ್ಪು ಒಂದು ಸಮಾಧಿಯ ದೋಷ
ಬದ್ಧರಾಗಿದ್ದರು
1600 ಕೋಟಿ. ಆದರೆ ಕಾಗದದ ಮತಪತ್ರಗಳನ್ನು ಬದಲಿಗೆ ಇಡೀ ಗಳನ್ನು ಬಳಸಲಾಗುತ್ತಿತ್ತು ತನಕ ಅವರು ಆದೇಶ ಎಂದಿಗೂ.

ವಾಸ್ತವವನ್ನು
ಗಳನ್ನು ಅವರು 80 ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವಗಳ tamperableMore ಮತದಾನ ಪತ್ರಿಕೆಗಳ
ಬಳಸಿದ್ದಾರೆ ಬದಲಿಗೆ ಸ್ಪಷ್ಟವಾದ ಪುರಾವೆ ಮತ್ತು ಗಳನ್ನು ಇನ್ನೂ ವಂಚನೆ
ಒಳಪಟ್ಟಿರುತ್ತದೆ ಏಕೆಂದರೆ ಅವುಗಳನ್ನು ಬಳಸಿಕೊಂಡು ಮಾಡುತ್ತದೆ.
ಸಿಇಸಿ ಮಾತ್ರ 2019 ರಲ್ಲಿ ಇದು VVPAT ಇಡೀ ಗಳನ್ನು ಮಾಡುವ ವಿಶ್ವಾಸಾರ್ಹ
ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವದ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು (ಮೋದಿ) ಶಾಶ್ವತವಾಗಿ ಅವರ ನಿಯಮ ಮುಂದುವರಿಯತ್ತಿವೆ
ಕೊಲೆಗಾರರು ಆಕ್ರಮಿಸಿದೆ ಎಂಬುದನ್ನು ಹೇಳುತ್ತಾರೆ.

ಈಗಾಗಲೇ ಗಳನ್ನು tamperable ಯಾವುದೇ ನಿಸ್ಸಂಶಯವಾಗಿ ಗಳಿಸಿವೆ ಯಾರು ಅನೇಕ ತಾಂತ್ರಿಕ ತಜ್ಞರು ಇವೆ.

ಪ್ರಸ್ತುತ ವ್ಯಾಯಾಮ ಮತದಾರರು ಮುಗ್ಧ gulliable ಪೀಡನೆ ಮಾತ್ರ.

HTTP: //www.milligazette.com /…/ 15634-ಉತ್ತರ ಪ್ರದೇಶದಲ್ಲಿ-ಈಸ್-ಹೊಂದಿರುವ …

ನಿಷ್ಪಕ್ಷಪಾತ ತನಿಖೆ ಅಗತ್ಯ: ಉತ್ತರ ಪ್ರದೇಶದ ಪ್ರಶ್ನಾರ್ಹ ಅಂಗೀಕಾರಾರ್ಹತೆಯ ಸರ್ಕಾರಿ ಹೊಂದಿದೆ

ಕೇವಲ 8 ಆಫ್ 543 ಲೋಕಸಭಾ ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ಔಟ್ ಬಿಜೆಪಿ (Bahuth ಅನುವು ಬದಲಾಯಿಸಲಾಯಿತು
Jitadha Psychopaths) ಪ್ರಜಾಸತ್ತಾತ್ಮಕ ಸಂಸ್ಥೆಗಳ ನ ಕೊಲೆಗಾರರು (ಮೋದಿ)
ಮಾಸ್ಟರ್ ಕೀಲಿ ಕಸಿದುಕೊ. ತರುವಾಯ ಎಲ್ಲಾ ಇತರ ವಿಧಾನಸಭೆಗೂ
ಗಳನ್ನು ಈ ವಂಚನೆ ನಡೆಸಿತು. ಚುನಾವಣೆಗಳು ಮಾತ್ರ 20 ಸೀಟುಗಳಲ್ಲಿ
ಬಿಜೆಪಿ ಗೆಲ್ಲಲು ಅಲ್ಲಿ ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ವಿಚಾರವನ್ನು 325 ಬದಲಾಯಿಸಲಾಯಿತು
ಯೋಗಿ / Bhogi / Roghi ಮತ್ತುದೇಶ್ Dhrohi ಸಿಎಮ್ ಆಗಲು. ಕಳೆದ ಯುಪಿ ರಲ್ಲಿ
ಶ್ರೀಮತಿ ಮಾಯಾವತಿ ಗಳು ಪೇಪರ್ ಮತಪತ್ರಗಳನ್ನು ನಡೆಸಲ್ಪಟ್ಟ ಪಂಚಾಯತ್ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ
ಬಿಎಸ್ಪಿ ರಲ್ಲಿ ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ಪಡೆದುಕೊಳ್ಳುವುದರ ಮೂಲಕ ಯಶಸ್ಸು ಸಾಧಿಸಿದೆ. ಈಗ ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಜಾತಿ ಮಾಯಾವತಿ ನಿಗ್ರಹಿಸುವ
ವಂಚನೆ ಪ್ರಕ್ರಿಯೆಯನ್ನು ಬಳಸಿಕೊಂಡು ಒಬ್ಬ Sarvajan ಸಮಾಜ ನಾಯಕ ಗೆಲ್ಲಲು
ಗಳನ್ನು ಬಳಸಲಾಗುತ್ತಿದೆ. ಮಧ್ಯ ಒಂದು ಚಳುವಳಿಯ ಆದ್ದರಿಂದ ನೋಡಿ ಮತ್ತು
ಗಳನ್ನು ಈ ವಂಚನೆ ಕರಗಿದ ರಾಜ್ಯ ಸರ್ಕಾರಗಳು ಆಯ್ಕೆಗೊಂಡು ಹೋಗಿ ಮಾಡಬೇಕು
80 ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವಗಳ ಕಾಗದದ ಮತಪತ್ರಗಳನ್ನು ಜೊತೆಗೆ ತಾಜಾ ಚುನಾವಣೆ ನಂತರ
ಪ್ರತಿಷ್ಠಾಪನೆ ವಿಶ್ವದ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ, ಸಮಾನತೆ, ಸ್ವಾತಂತ್ರ್ಯ ಮತ್ತು ಭ್ರಾತೃತ್ವಕ್ಕೆ ಉಳಿಸಲು
ಕಲ್ಯಾಣ, ಸಂತೋಷ ಮತ್ತು ಎಲ್ಲಾ ಶಾಂತಿ ನಮ್ಮ ಸಂವಿಧಾನದಲ್ಲಿ ಆಧುನಿಕ
ಸಮಾಜಗಳು ಮತ್ತು 1% ಅಸಹಿಷ್ಣುತೆ ಉಗ್ರಗಾಮಿ, ಸಂಖ್ಯೆ 1 ಭಯೋತ್ಪಾದಕರು ತಪ್ಪಿಸಲು
ವಿಶ್ವದ ಶೂಟಿಂಗ್, ಗಲ್ಲಿಗೇರಿಸುತ್ತಿರುವುದಕ್ಕೆ, ಮನೋರೋಗಿಗಳ ಆಫ್, ಮಾನಸಿಕ ಮರೆವಿನ ಚಿತ್ಪಾವನ
ನರಭಕ್ಷಕ ಹೊಂದಿರುವ ಬ್ರಾಹ್ಮಣ ಆರ್ಎಸ್ಎಸ್ (ರಾಕ್ಷಸ ಸ್ವಯಂ Sevaks) psychopaths
ಈಗಾಗಲೇ ತಮ್ಮ ರಹಸ್ಯ ಅಂಧಕಾರವುಳ್ಳ ತಮ್ಮ ಮನುಸ್ಮೃತಿ ಕಾರ್ಯಗತಗೊಳಿಸಲು ಆರಂಭಿಸಿತು
hinduva ಭಕ್ತ ಮತ್ತು ಭೇದಾತ್ಮಕ.

ಮಾಜಿ ಸಿಜೆಐ ಮೋದಿ ಮತ್ತು ಮಾಜಿ ಸಿಇಸಿ
ಯೋಗಿ ಅಲ್ಲದ bailabale ಆಕ್ಟ್ ದೌರ್ಜನ್ಯ ಅಡಿಯಲ್ಲಿ ಪಾವತಿ ಜೊತೆ ಬುಕ್ ಮಾಡಬೇಕು
ಎಸ್ಸಿ ತಡೆಗಟ್ಟುವಲ್ಲಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಆಧುನಿಕ ಇಲ್ಲದಾಗಬಹುದು ಮಾಸ್ಟರ್ ಕೀಲಿ ಸ್ವಾಧೀನಪಡಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು
ರಾಷ್ಟ್ರದ ಸಂವಿಧಾನ.

ನಿಷ್ಪಕ್ಷಪಾತ ತನಿಖೆ ಅಗತ್ಯ: ಉತ್ತರ ಪ್ರದೇಶದ ಪ್ರಶ್ನಾರ್ಹ ಅಂಗೀಕಾರಾರ್ಹತೆಯ ಸರ್ಕಾರಿ ಹೊಂದಿದೆ
ಮಿಲ್ಲಿ ಗೆಜೆಟ್ ಆನ್ಲೈನ್
ಪ್ರಕಟಿತ ಆನ್ಲೈನ್: ಜೂನ್ 01, 2017

ನಿಜವಾದ ಮೌಲ್ಯವನ್ನು ಅಥವಾ ಗುಣಮಟ್ಟ ಅಥವಾ ಅಂದಾಜು ಮಾಡಲು ಸಣ್ಣ ಮಾದರಿಯು ಆಯ್ಕೆ
ನಡವಳಿಕೆಯ ಒಂದು ದೊಡ್ಡ ಗುಂಪು ಅನೇಕ ವ್ಯಾಪಕವಾಗಿ ಸ್ವೀಕೃತವಾಗಿರುವ ಅಭ್ಯಾಸವಾಗಿತ್ತು
ವರ್ಷಗಳ. ವರ್ಷಗಳಲ್ಲಿ, ಮಾದರಿ ತಂತ್ರಗಳನ್ನು ಸುಧಾರಿತ ಮತ್ತು ಮಾಡಲಾದ
ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ಮತ್ತು ನಿಜವಾದ ಮೌಲ್ಯಗಳ ವಿಶ್ವಾಸಾರ್ಹ ಅಂದಾಜು ಖಚಿತಪಡಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು ವಿಶ್ವಾಸಾರ್ಹ
ಅದರಾಚೆ ಮಿತಿಗಳಿಗೆ ನಿಜವಾದ ಮೌಲ್ಯವನ್ನು ಅಸಂಭವ ಸುಳ್ಳು. ಪರಿಣಾಮವಾಗಿ,
ಸ್ಯಾಂಪಲ್ ಸಮೀಕ್ಷೆಗಳು ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ಪದೇಪದೇ ಬಳಕೆಯಿಂದ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ
ಆರ್ಥಿಕ, ಸಾಮಾಜಿಕ ಮತ್ತು ರಾಜಕೀಯ ಬೆಳವಣಿಗೆಗಳು ಯೋಜನೆ ವಿಶ್ವಾಸ.
ಆದರೆ, ವ್ಯಂಗ್ಯವಾಗಿ, ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ಐದು ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ಮಾದರಿಯನ್ನು ಸಮೀಕ್ಷೆಗಳಲ್ಲಿ (ನಿರ್ಗಮನ
ಚುನಾವಣೆ) ಚುನಾವಣಾ ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ಸಹ ತನಿಖೆ ಇಲ್ಲದೆ ಕೆಲಸದಿಂದ
ವಿಶ್ವಸನೀಯತೆಯ. ಐದು ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ಕುರುಡು ಈ ಒಟ್ಟಾರೆಯಾಗಿ ತಿರಸ್ಕರಿಸುವ
ಸ್ಯಾಂಪಲ್ ಸಮೀಕ್ಷೆಗಳು / ನಿರ್ಗಮನ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಅನನ್ಯ ಮತ್ತು ದಂಡನೆಗೆ ಅರ್ಹವಾಗಿದೆ
ಸಂಪೂರ್ಣ.

ಕೆಳಗಿನ ಹೇಳಿಕೆಯನ್ನು ಐದು ಫಲಿತಾಂಶವನ್ನು ನೀಡುತ್ತಾನೆ
ವಿ ಎಂ ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ನಿರ್ಗಮನ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಬಿಜೆಪಿ ಮತ್ತು ಅದರ ಬೆಂಬಲಿಗರು ಎಣಿಕೆ
( “ಬಿಜೆಪಿ +”) ಯುಪಿ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ.

ಸಂಗ್ರಹಣೆ ಮಾಡುವವ

ನಂ ವಿಶ್ವಾಸ ಮಿತಿಯಲ್ಲಿ “ಬಿಜೆಪಿ +” ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ಮತ್ತು ಬ್ರಾಕೆಟ್

VMR ಸಮಯಗಳು

200 (190210)

ಭಾರತ News-ಎಂಆರ್ಸಿ

185 (175195) *

ಎಬಿಪಿ-CSDS

170 (164176)

ಭಾರತದ ಟಿವಿ-ಸಿ ವೋಟರ್

161 (155-167)

ನ್ಯೂಸ್ 24 ಚಾಣಕ್ಯ

285 (273- 297) *

ಸರಾಸರಿ

200 (190210) *

ವಿ ಎಂ ಎಣಿಕೆಗಳು

325

* ಕಾನ್ಫಿಡೆನ್ಸ್ ವ್ಯಾಪ್ತಿಯಲ್ಲಿ ತೋರಿಸಿಲ್ಲ ಈ ಪೋಲ್ಸ್ಚರ್ಸ್ ಲೆಕ್ಕಾಚಾರ ಮಾಡಲ್ಪಟ್ಟಾಗ
ಪತ್ರಿಕಾ ವರದಿಗಳು. ಮೇಲೆ ತಿಳಿಸಿದ ಲಿಮಿಟ್ಸ್ ತಕ್ಕಮಟ್ಟಿಗೆ ಒರಟು ಆದರೆ ವಿಶ್ವಾಸಾರ್ಹವಾಗಿರ
ಇತರ ಲೆಕ್ಕಾಚಾರಗಳು ಹೋಲಿಸಬಹುದು ವಿಶ್ವಾಸಾರ್ಹ ಮಿತಿಗಳು ನೀಡಲಾಗಿದೆ
ಪೋಲ್ಸ್ಚರ್ಸ್.

ಮೊದಲ ನಾಲ್ಕು ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ನಿರ್ಗಮನ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಅತಂತ್ರ ಭವಿಷ್ಯ
ವಿಧಾನಸಭೆ. ಕಳೆದ ಒಂದು ಬಿಜೆಪಿಯ ಬಹುತೇಕ ಭವಿಷ್ಯ. ಆದರೆ, ಬಹುತೇಕ
ವಿ ಎಂ ಎಣಿಕೆಗಳು ಮುಖ್ಯ ಹಲವು ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ಹೆಚ್ಚು “ಬಿಜೆಪಿ +” ತೋರಿಸಿದರು
ಮೇಲ್ಭಾಗದ ವಿಶ್ವಾಸಾರ್ಹ ಮಿತಿಗಳು (ಅಂದರೆ ಆಸನಗಳ ಸಂಖ್ಯೆ ಗರಿಷ್ಟ ಮಿತಿಯಿರುತ್ತದೆ)
ಎಲ್ಲಾ ಐದು ನಿರ್ಗಮನದ ಜನಾಭಿಪ್ರಾಯ ನೀಡಿದ್ದಾರೆ. ಐದು ನಿರ್ಗಮಿಸಲು ಸರಾಸರಿ ಪರಿಣಾಮವಾಗಿ
ಸಂಗ್ರಹದ ಸಮೀಕ್ಷೆಗಳ ಪ್ರಕಾರ ವಿ ಎಂ 325 ಎಣಿಕೆ ತೋರಿಸುತ್ತದೆ (ಇದು ಸ್ಪಷ್ಟವಾಗಿ ಚಿತ್ರ ನೀಡುತ್ತದೆ)
ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು 55% ಹೆಚ್ಚು ಇದು ಮೇಲಿನ ಮಿತಿಯನ್ನು 210 ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ಹೆಚ್ಚು “ಬಿಜೆಪಿ +” ನೀಡಿದರು
ಆಸನಗಳ ಸಂಖ್ಯೆ ಫಾರ್. ಈ ಯಾವುದೇ ಅನುಮಾನ ದೊಡ್ಡ ವ್ಯತ್ಯಾಸವನ್ನು ಮೀರಿ ತೋರಿಸುತ್ತದೆ
ವಿ ಎಂ ಎಣಿಕೆಗಳು ತಪ್ಪು ಎಂದು.


ಚಾನ್ಸ್ ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ನಿಜವಾದ ಸಂಖ್ಯೆಯನ್ನು
ಮೇಲಿನ ಮಿತಿಯನ್ನು ಹೆಚ್ಚು ಸ್ವಲ್ಪ ಹೆಚ್ಚು ಮೂಲಕ ಪಡೆದ “ಬಿಜೆಪಿ +”
ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ಈ ನಿರ್ಗಮನ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಸಂಖ್ಯೆ ಯಾವುದಾದರೂ ಒಂದು 5% ಕ್ಕಿಂತ ಕಡಿಮೆ ಇರುತ್ತದೆ (ಅಥವಾ
ಕಡಿಮೆ 1% ವಿಶ್ವಾಸಾರ್ಹ ಮಟ್ಟವನ್ನು ಆಯ್ಕೆ ಅವಲಂಬಿಸಿ
ಮಿತಿಗಳನ್ನು ಗಣಿಸಲು ಪೋಲ್ಸ್ಚರ್ಸ್). ಸಹ ದಾರಿತಪ್ಪಿ ಸಮೀಕ್ಷೆಯ ಫಾರ್
ಇದಕ್ಕಾಗಿ ಅವಕಾಶ “ಬಿಜೆಪಿ +” ಅನುಕೂಲಕರವಾಗಿರುತ್ತವೆಯೋ ಆಗಿತ್ತು, ಪರಿಣಾಮವಾಗಿ “ಬಿಜೆಪಿ +”
ಸಹ 297 ಸ್ವಲ್ಪ ಹೆಚ್ಚಿನ ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ಪಡೆಯುವಲ್ಲಿ ಕಡಿಮೆ 5% (ಅಥವಾ 1%) ಆಗಿದೆ.
“ಬಿಜೆಪಿ +” ಪಡೆಯುವಲ್ಲಿ ಮಿತಿಯಿದೆ ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ಹೆಚ್ಚು ಸ್ವಲ್ಪ ಹೆಚ್ಚು ಚಾನ್ಸ್
ಸಂಖ್ಯೆಯ ಎಲ್ಲಾ ಐದು ನಿರ್ಗಮನ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಫಾರ್ ಸ್ಥಾನಗಳಿಗೆ (ಪ್ರಕಾರ ಹೆಚ್ಚೂಕಡಿಮೆ ಸೊನ್ನೆ
ಸಂಭವನೀಯತೆಯ ನಿಯಮದ ಕಾರಣ). ವಿಶ್ವಾಸಾರ್ಹ ಸರಾಸರಿ ಪರಿಗಣಿಸಿ
ಪರಿಣಾಮವಾಗಿ, “ಬಿಜೆಪಿ +” ಅದೃಷ್ಟದ ಮೇಲಿನ ಮಿತಿಗಿಂತ 55% ಹೆಚ್ಚು ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ಪಡೆಯುವಲ್ಲಿ
210 ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ಹೆಚ್ಚೂಕಡಿಮೆ ಸೊನ್ನೆ. ಅರ್ಥಾತ್, ಸಾಧ್ಯತೆಯು
ವಿ ಎಂ ಚುನಾವಣೆಗಳು ಎಣಿಕೆ ತಪ್ಪು 100% ನ ಹತ್ತಿರದ ಇದ್ದರು.

ಬದಲಿಗೆ
ನಿರ್ಗಮನ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಐದು ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ಫಲಿತಾಂಶಗಳನ್ನು ಎಲ್ಲಾ ಸಂಪೂರ್ಣ ಖಂಡಿಸುತ್ತಾ,
ಚುನಾವಣಾ ಆಯೋಗ (ಇಸಿ) ಅವರ ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ಆಧಾರದ ಗೌರವಿಸಿದ ಸೊನ್ನೆ.
ಯಾವುದೇ ದೃಢೀಕರಣ ಅಗತ್ಯವಿದೆ ವೇಳೆ, ಇಸಿ ಪರಿಣತ ಅಭಿಪ್ರಾಯವನ್ನು ಪ್ರಯತ್ನಿಸಿದರು ಸಾಧ್ಯವಾಗಲಿಲ್ಲ
ಇಂಡಿಯನ್ ಸ್ಟ್ಯಾಟಿಸ್ಟಿಕಲ್ ಇನ್ಸ್ಟಿಟ್ಯೂಟ್ ಕೋಲ್ಕತಾ, ನ (ಅಭಿವೃದ್ಧಿಪಡಿಸುವಲ್ಲಿ ಪ್ರವರ್ತಕರು
ಪ್ರೊಫೆಸರ್ಗಳು ಮಾದರಿ ತಂತ್ರಗಳನ್ನು) ಅಥವಾ ಇತರೆ ಯಾವುದೇ ಸಂಸ್ಥೆಗಳಿಂದ ಅಥವಾ
ಮಾದರಿ ತಂತ್ರಗಳನ್ನು ಅಂಕಿಅಂಶಗಳು ಅನುಭವ. ಆದರೆ, ಇದು ತೋರುತ್ತಿದೆ ಇಸಿ
ಹಾಗೆ ಮಾಡದೇ. ನಂಬಲಾಗದಷ್ಟು, ಇಸಿ ಯಾವುದೇ ಸಮರ್ಥನೆಗಳನ್ನು ನೀಡಿಲ್ಲ
ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ಫಲಿತಾಂಶಗಳನ್ನು ತಿರಸ್ಕರಿಸುವ! ನಿಸ್ಸಂಶಯವಾಗಿ, ಇಸಿ ಕಂಡುಹಿಡಿಯಲು ಇಷ್ಟವಿರಲಿಲ್ಲ
ಇದರ ಸಾಂವಿಧಾನಿಕ ಜವಾಬ್ದಾರಿ ಮತ್ತು ಸತ್ಯದ ವಿಫಲವಾಗಿದೆ. ಈ ಕೊರತೆ
ಸತ್ಯ ತಿಳಿದುಕೊಳ್ಳುವಲ್ಲಿ ಆಸಕ್ತಿ ನಿಷ್ಪಕ್ಷಪಾತ ಪ್ರಶ್ನಿಸುತ್ತಾನೆ
ಇಸಿ.

ನಿಷ್ಪಕ್ಷಪಾತತೆ ಮತ್ತಷ್ಟು ಪ್ರಶ್ನಾರ್ಹ ಇಸಿ ಕಡೆಗಣಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಕಾರಣ
ಮಾಹಿತಿಯನ್ನು ಕುಶಲ ಇದು ಸ್ಪಷ್ಟವಾಗಿ ಕೆಳಗಿನ ತೋರಿಸಿದರು
ಎಲೆಕ್ಟ್ರಾನಿಕ್ ಗ್ಯಾಜೆಟ್ಗಳನ್ನು ಸ್ಪಷ್ಟ ಇರುತ್ತದೆ ಮತ್ತು ಪದೇಪದೇ ಹಕ್ಕು
ಗಳನ್ನು ತಿದ್ದುಪಡಿ ಪಡಿಸಲು ಆಗುವುದಿಲ್ಲ ಗಿಣಿ ತರಹದ:

1. ಸೈಬರ್
ಅಪರಾಧಗಳು ಹೆಚ್ಚು ದಾರಿತಪ್ಪುವ ಬುದ್ಧಿವಂತ ಜನರು ಹೆಚ್ಚಾಗುತ್ತಿವೆ
ಅಭಿವೃದ್ಧಿಶೀಲ ವೈರಸ್, ಹ್ಯಾಕಿಂಗ್ ಆಶ್ರಯಿಸಿರುವ, ರಿಗ್ಗಿಂಗ್ ಇತ್ಯಾದಿ

2. ಡೆಕ್ಕನ್ ಕ್ರಾನಿಕಲ್ Achom Debanish ರಲ್ಲಿ “ನಿಜವಾಗಿಯೂ ವಿರೂಪ ಪುರಾವೆ ಗಳನ್ನು ಬಯಸುವಿರಾ ‘ಎಂಬ ಲೇಖನ ಕೆಳಗಿನ ಹೇಳುತ್ತದೆ:

(ಎ) “ಬಿಬಿಸಿ ವರದಿ ಒಂದು ಒಂದು ಮನೆಯಲ್ಲಿ ಮಾಡಿದ ಸಾಧನವನ್ನು ಸಂಪರ್ಕ ನಂತರವೇ
ವಿ ಎಂ, ಮಿಚಿಗನ್ ಯುನಿವರ್ಸಿಟಿ ಸಂಶೋಧಕರು ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ಬದಲಾಯಿಸಲು ಸಾಧ್ಯವಾಯಿತು
ಒಂದು ಮೊಬೈಲ್ ಫೋನ್ನಿಂದ ಪಠ್ಯ ಸಂದೇಶಗಳು. “

(ಬಿ) “ಹರಿಕೃಷ್ಣ
Vemuru ಪ್ರಸಾದ್, ಹೈದರಾಬಾದ್ ಮೂಲದ Netindia ಪ್ರೈವೇಟ್ ಲಿಮಿಟೆಡ್ ವ್ಯವಸ್ಥಾಪಕ ನಿರ್ದೇಶಕ, ಒಂದು
ತಂತ್ರಜ್ಞಾನ ಪರಿಹಾರಗಳನ್ನು ಸಂಸ್ಥೆ, ವಿ ಎಂ ಸ್ಥಳೀಯ ಟಿವಿಯಲ್ಲಿ ಎಂಬುದರ ತೋರಿಸಿತು
ಸಜ್ಜಾದ. “ಇದು ಒಬ್ಬ ಕಟ್ಟಾ ಬೆಂಬಲಿಗ ಬಿಜೆಪಿ ಇದನ್ನು ವೀಕ್ಷಿಸಿದ್ದಾರೆ ಎಂದು ಸಾಧ್ಯ
ಮತ್ತು (ಇಸಿ & ಬಿಜೆಪಿ ಗೊತ್ತಾಗದೇ) ಹ್ಯಾಕಿಂಗ್ ಯಶಸ್ವಿಯಾಗಿ ಅದಕ್ಕೆ
ಗಳನ್ನು ಬಾಗಿಕೊಂಡು ಸೂಚನೆಗಳನ್ನು ಯುಪಿ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಲೆಕ್ಕ ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ.

(ಸಿ) ಶ್ರೀ Vemuru ಉದಾಹರಣೆಗಳು ವಿ ಎಂ ಚಿಪ್ ಬದಲಿಗೆ ಎಂದು “ಯಿಲ್ಲ
ತದ್ರೂಪಿ ಮತ್ತು ನಿಧಾನವಾಗಿ ಸೂಚನೆ ಜೊತೆ ಮತಗಳ ಒಂದು ಶೇಕಡಾವಾರು ಕದಿಯಲು
ಆಯ್ಕೆ ಅಭ್ಯರ್ಥಿಯ ಪರವಾಗಿ. “ಇಸಿ ಯಾವುದೇ ಬುದ್ಧಿವಂತ ಮತ್ತು ಅಪ್ರಾಮಾಣಿಕ ಸಿಬ್ಬಂದಿ,
ಆಫ್ ಗಳನ್ನು ಏಕೈಕ ಸುಪರ್ದುದಾರ, ಅವನು / ಅವಳು ಬಯಸಿದರೆ ಈ ಮಾಡಬಲ್ಲರು. ಇದು
ಸಾಧ್ಯತೆಯಿದೆ ಯಾವುದೇ ಸಂಬಂಧಪಟ್ಟ ಸರ್ಕಾರಿ ಕಚೇರಿ ಭ್ರಷ್ಟಾಚಾರ ರಹಿತ ಎಂದು.

3. “ಸಂಶ್ಲೇಷಿತ (ಬೆರಳಿನ) ಮುದ್ರಿತ ಸ್ಮಾರ್ಟ್ ಫೋನ್ ಅನ್ಲಾಕ್ ಮಾಡಬಹುದು ಸಮಯದ 65%.” (ಟೈಮ್ಸ್ ಆಫ್ ಇಂಡಿಯಾ, 16-04-17).

ದೆಹಲಿ ವಿಧಾನಸಭೆಯಲ್ಲಿ 4. ಎಎಪಿ ಒಂದು ವಿ ಎಂ ಬದಲಾಯಿಸಲಾಗದ ಹೇಗೆ ತೋರಿಸಿಕೊಟ್ಟಿದೆ.

5. “ಮ್ಯಾಕ್ಅಫೀ ಹೊಸ ವರದಿ 176 ಸೈಬರ್-ಬೆದರಿಕೆ ಎಂದು ತಿಳಿಸುತ್ತದೆ
ಪ್ರತಿ ನಿಮಿಷ ಪತ್ತೆ (ಅಂದರೆ ಸುಮಾರು ಮೂರು ಪ್ರತಿ ಎರಡನೇ) ಮತ್ತು ಶೇ 88
ಬೆಳವಣಿಗೆ ಮತ್ತು 99 ಶೇಕಡಾ ransomeware ಮೊಬೈಲ್ ಮಾಲ್ವೇರ್ ಬೆಳವಣಿಗೆ ಇತ್ತು
2016 ರ ಕೊನೆಯಲ್ಲಿ “(DeccanChronicle, 12.04.17) ಪತ್ತೆ.

ಇಸಿ ಡಿಡ್
ಸೈಬರ್-ಬೆದರಿಕೆ ಪ್ರತಿ ಎರಡನೇ ಹೊಂದಲು ಮೂರ್ಖ ಪುರಾವೆ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯ ಔಟ್ ವೀಕ್ಷಿಸಲು
24/7 ಮತ್ತು ಎಲ್ಲಾ ಬೆದರಿಕೆಗಳನ್ನು ಹತ್ತಿಕ್ಕಲು? ಅಲ್ಲ, ಸೈಬರ್ ಅಪರಾಧಿಗಳು ತೋರಿಸಬಹುದಿತ್ತು
ವಿ ಎಂ ಚುನಾವಣೆಗಳು ಲೆಕ್ಕ ಕುಶಲತೆಯಿಂದ.

ಇದು ಸ್ಪಷ್ಟವಾಗಿಲ್ಲ
ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಗಳನ್ನು ಎಂಬುದನ್ನು ಇಸಿ ಯುಪಿ ಆ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಮುಟ್ಟುವಲ್ಲಿ ಯಶಸ್ವಿಯಾದರು
(ಯಾವುದೇ ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಬದಲಾವಣೆಗಳು ಎಲ್ಲಾ ರೀತಿಯ ತಡೆದುಕೊಳ್ಳುವಂತಹ ಉದ್ದಗಲಕ್ಕೂ
ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ), ತಜ್ಞರು ಎಲ್ಲಾ ರೀತಿಯ ಪೂರೈಸುತ್ತವೆ ಇದು. ಇದು ಹೊಂದಿದ್ದರು ಸಹ
100% ಯಶಸ್ವಿಯಾದರು (ಇದು ಖಚಿತವಾಗಿಲ್ಲ), ಯಾವುದೇ ಬುದ್ಧಿವಂತ ಮತ್ತು ಅಪ್ರಾಮಾಣಿಕ ಸಿಬ್ಬಂದಿ
ಇಸಿ, ವಿದ್ಯುನ್ಮಾನ ಮತಯಂತ್ರಗಳ ಏಕೈಕ ಸುಪರ್ದುದಾರ, ಅವನು / ಅವಳು ಬಯಸಿದರೆ ಕುಶಲತೆಯಿಂದ ಸಾಧ್ಯವಿತ್ತು
ಗೆ. ಇದು ಲಂಚವನ್ನು-ನೀಡುವವರಿಂದ ಮತ್ತು ಪಡೆಯುವವರು ಅಭಾವವಿಲ್ಲ ಎಂದು ಪರಿಗಣಿಸಲಾಗಿದೆ
ದೇಶದಲ್ಲಿ.

ಎಲ್ಲಾ ಈ ವಿದ್ಯುನ್ಮಾನ ಕುಶಲ ತೋರಿಸಲು
ಗ್ಯಾಜೆಟ್ಗಳನ್ನು ಸ್ಪಷ್ಟ ಇರುತ್ತದೆ. ಈ ಸರ್ಕಾರ ಗಳು ಬೆಂಬಲಿತವಾಗಿದೆ
ಆಧಾರ್ ಸೋರಿಕೆಯನ್ನು ಸಂಬಂಧಿಸಿದಂತೆ ಸುಪ್ರೀಂ ಕೋರ್ಟ್ (ಎಸ್ಸಿ), ಪ್ರವೇಶ, ಆ
ಯಾವುದೇ ತಂತ್ರಜ್ಞಾನ 100% ಪರಿಪೂರ್ಣ. ಈ ಎಲ್ಲಾ ಮೂದಲಿಕೆ ಇಸಿ ಗಳು ಹೇಳಿಕೆಯೊಂದಿಗೆ ಗಳನ್ನು
ತಿದ್ದುಪಡಿ ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ. ಎಸ್ ಇಸಿ ಎಂಬುದನ್ನು ತನಿಖೆ ಮಾಡಲು ನಿರಾಕರಿಸಿದ್ದರಿಂದ ಪುನರಾವರ್ತಿತ
ಗಳನ್ನು ಮಾಡಲಾಯಿತು ಚುನಾವಣೆಗಳು ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಇಸಿ ಇರಬಹುದು ಕುಶಲತೆಯಿಂದ ತೋರ್ಪಡಿಸುತ್ತವೆ
ನಿಷ್ಪಕ್ಷಪಾತ.


ಇದು ಸಂಬಂಧಪಟ್ಟ ಎಂದು ಅಂತಹ ಸಾಧ್ಯತೆಯನ್ನು
ಇಸಿ ಕುಶಲ ಮಾತ್ರ ಒಪ್ಪಿಕೊಳ್ಳುವುದಿಲ್ಲ ಆದರೆ ಪರೋಕ್ಷವಾಗಿ ಬಳಸಿಕೊಂಡರು
ಇದು (ಇದು ಒಮ್ಮೆ ಕೆಳಗೆ ವಿವರಿಸಿದಂತೆ). ಇಸಿ ಒಂದು ಪರಿಚಯಿಸಲು ಭರವಸೆ
ಕಾಗದದ ಟ್ರಯಲ್ ಗಳನ್ನು ಫಾರ್ (VVPAT) 2019 ಚೆಕ್ ಸಕ್ರಿಯಗೊಳಿಸುತ್ತದೆ
ಯಾವುದೇ ವಿದ್ಯುನ್ಮಾನ ಕುಶಲ ಎಂಬುದರ. ಗಳನ್ನು ಯುಪಿ ಬಳಸಿದರೆ
ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಕುಶಲತೆಯಿಂದ ನಿರ್ವಹಿಸಲು ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ, ಇಸಿ ಈ ಸಮರ್ಥಿಸಿ ಸಾಧ್ಯವಾಗಲಿಲ್ಲ
ಬದಲಾಯಿಸಲು. ವಿಪರ್ಯಾಸವೆಂದರೆ, ಸ್ವಯಂ ಪ್ರವೇಶದ ಈ ಪರೋಕ್ಷ ಸಾಧ್ಯತೆಯ ಹೊರತಾಗಿಯೂ
ಕುಶಲ, ಇಸಿ ವರದಿ ಇದು ಸಂಭವಿಸಿದ ಎಂಬುದನ್ನು ಪರಿಶೀಲಿಸಲಿಲ್ಲ ಮತ್ತು
ಚುನಾವಣೆಗಳು ಇದು ಅತೀ ಪ್ರಶ್ನಾರ್ಹ ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ಸಹ ನೀಡಿದರು. ಬದಲಿಗೆ,
ಇಸಿ ಗಿಣಿ ತರಹದ ಹೇಳುವ ಗಳನ್ನು ಟ್ಯಾಂಪರ್ ಪ್ರೂಫ್ ಎಂದು ಸದಾ. ಈ ಡಬಲ್
ಇಸಿ ಅಧಿಕಾರವನ್ನು ಯೋಚಿಸುತ್ತಿದ್ದಾರೆ ಸಮುಚಿತವಲ್ಲ.

ಇದಲ್ಲದೆ, ತೋರುತ್ತದೆ
ಇಸಿ ಆ 2019 ತನ್ನ ಯೋಜನೆಗಳನ್ನು ಬಗ್ಗೆ (ದೂರ ಆಫ್ ಆಗಿದೆ) ಮಾತನಾಡುತ್ತಿದ್ದೇನೆ
ಮುಖ್ಯವಾಗಿ ವಿ ಎಂ ಯುಪಿ ಅತೀ ಪ್ರಶ್ನಾರ್ಹ ಎಣಿಕೆಗಳು ಗಮನ ತಿರುಗಿಸುವ
ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಕೈಯಲ್ಲಿ ಪ್ರಮುಖ ಸಮಸ್ಯೆಯನ್ನು ಆಗಿದೆ.

ಇಸಿ ಬರೆದರು
ಕಾನೂನು ಸಚಿವ ಖಚಿತಪಡಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು ಅಗತ್ಯವಿದೆ ಎಂದು ಸಜ್ಜುಗೊಳಿಸುವುದಕ್ಕೆ ಆ VVPAT ಯಂತ್ರಗಳು
“ಸಂರಕ್ಷಿಸಲಾಗಿದೆ s ನಲ್ಲಿ ಮತದಾನ ಮತ್ತು ಮತದಾರನ ನಂಬಿಕೆಯನ್ನು ಸಮಗ್ರತೆಯನ್ನು ಈಸ್
ಪ್ರಕ್ರಿಯೆ “ರೂ andsought ಸಮ್ಮತಿ ಬಲಪಡಿಸಲಾಗಿದೆ. 3,174 ಕೋಟಿ
ಹೊಸ ಯಂತ್ರಗಳು (ಟೈಮ್ಸ್ ಆಫ್ ಇಂಡಿಯಾ, 17.04.17) ಪಡೆಯಲು. ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಗಳನ್ನು ವೇಳೆ
ಯುಪಿ ಚುನಾವಣೆಗಳಲ್ಲಿ ಮತದಾನ ಸಮಗ್ರತೆಯನ್ನು ಸಂರಕ್ಷಿಸಲಾಗಿದೆ ಎಂದು, ಇಸಿ ಇರಲಿಲ್ಲ
ಹಣ ಈ ಭಾರಿ ಬೇಡಿಕೆ ಸಮರ್ಥಿಸಿಕೊಂಡರು. ಇನ್ನೊಂದು ಪರೋಕ್ಷ ಅಲ್ಲ
ಬದಲಾಯಿಸಲಾಗದ ನಿರೋಧಕ ಇಲ್ಲ ಯುಪಿ ಚುನಾವಣೆಗಳನ್ನು ಗಳನ್ನು ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಪ್ರವೇಶಾತಿ?

ಇಸಿ ಈ ಹೊಸ ಯಂತ್ರಗಳು ರೋಗನಿರ್ಣಯದ ಒಂದು ಸ್ವಯಂ ಅಳವಡಿಸಿಕೊಂಡಿವೆ ಹೇಳುತ್ತಾರೆ
ಯಂತ್ರಗಳು ಪ್ರಾಮಾಣಿಕತನವನ್ನು ದೃಢೀಕರಣಕ್ಕಾಗಿ ವ್ಯವಸ್ಥೆ. ಹಾಗಾಗುವುದಿಲ್ಲ
ಹಳೆಯ ಗಳನ್ನು ಪ್ರಾಮಾಣಿಕತನವನ್ನು ಸಾಧ್ಯವಾಗಲಿಲ್ಲ ಚುನಾವಣೆಗಳು ಬಳಸಲಾಗುವುದಿಲ್ಲ ಸೂಚಿಸುವುದಿಲ್ಲ
ಪ್ರಮಾಣೀಕೃತ? ಈ ಇಸಿ ಈ ಅತ್ಯಧಿಕವಾಗಿ ಉಪಯೋಗಿಸುತ್ತಿದೆ ಸೂಚಿಸುವುದಿಲ್ಲ ಡಸ್
ಗಳನ್ನು ನ್ಯೂನತೆಯ ಚುನಾವಣೆಗಳು ಖರ್ಚಿನ ಬೃಹತ್ ಪ್ರಮಾಣಗಳಲ್ಲಿ ಸಮರ್ಥಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ
ಹೊಸ ಯಂತ್ರಗಳ ಮೇಲೆ?

“ಇಸಿ ಮುಂದಿನ ಪೀಳಿಗೆಯ ಗಳನ್ನು ಖರೀದಿಸಲು ಹೊಂದಿಸಲಾಗಿದೆ
ಆಗಿ ಫಾರ್ “ಕ್ಷಣ ಪ್ರಯತ್ನಗಳು ಇದು ಟಿಂಕರ್ ನಿಷ್ಕ್ರಿಯವಾಗಿತ್ತು ಮಾಡಲಾಗುತ್ತದೆ”
2019 (ಟೈಮ್ಸ್ ಆಫ್ ಇಂಡಿಯಾ, 03.04.17) ಬಳಸಲು. ಈ ಅಸಾಧಾರಣ ಆರಂಭಿಕ ಚರ್ಚೆ
ಭವಿಷ್ಯದ ಬಗ್ಗೆ ಅತ್ಯಂತ ಗಮನ ತಿರುಗಿಸುವ ಇನ್ನೊಂದು ಪ್ರಯತ್ನವಾಗಿದೆ
ಕೈಯಲ್ಲಿ ಮುಖ್ಯ ಪ್ರಶ್ನೆ ಮಾಡಲಾಯಿತು ಗಳನ್ನು ಚುನಾವಣೆಗಳು ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಎಂಬುದನ್ನು
ತಿದ್ದುಪಡಿ.

“ಚುನಾವಣಾ ಸಮಗ್ರತೆಯನ್ನು ಗಳನ್ನು ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಕಾಣಿಸುತ್ತದೆ
ಒಂದು “ಎಲ್ಲ ಮಧ್ಯಸ್ಥಗಾರರ ಸಂಪೂರ್ಣ ತೃಪ್ತಿ ಎಂಬುದನ್ನು ಇತ್ತೀಚೆಗೆ
ಈಸಿ (ಟೈಮ್ಸ್ ಆಫ್ ಇಂಡಿಯಾ, 02.04.17) ನ ತಂಡ. ಈ ಮತ್ತೊಂದು ನಿದರ್ಶನ
ಸಲುವಾಗಿ ಇಸಿ ಭವಿಷ್ಯದ aboutthe ಮಾತನಾಡುವ ತಪ್ಪು ಗಮನ ತಿರುಗಿಸುವ
ವಿ ಎಂ ಫಾರ್ ಚುನಾವಣೆಗಳು ಎಣಿಕೆ.

ಇಸಿ ರಾಜಕೀಯ ಒಂದು ಸವಾಲು ಎಸೆದರು
ಪಕ್ಷಗಳು, ವಿಜ್ಞಾನಿಗಳು ಮತ್ತು ವಿದ್ಯುನ್ಮಾನ ಮತಯಂತ್ರಗಳ ಎಂದು ಸಾಬೀತು ಎಂದು ತಾಂತ್ರಿಕ ಪರಿಣಿತರು
ಈಗ ತಿದ್ದುಪಡಿ. (ಟೈಮ್ಸ್ ಆಫ್ ಇಂಡಿಯಾ, 13.04.17). ಈ ಮತ್ತೊಂದು ಆಗಿದೆ
ತಪ್ಪು ವಿ ಎಂ ಯುಪಿ ಗಮನ ಬೇರೆಡೆಗೆ ತಿರುಗಿಸಿ ಉದಾಹರಣೆಯನ್ನು ಎಣಿಸುವವರೆಗೆ
ಚುನಾವಣೆ. ಇದಲ್ಲದೆ, ಈ ತಡವಾದ ಸವಾಲು, ಎರಕದ ಹಲವು ವಾರಗಳ ನಂತರ
ಅನುಮಾನಗಳನ್ನು, ಇಸಿ ಈಗ ಗಳನ್ನು ಮಾಡಿದೆ ಎಂದು ಮುಖ್ಯ ಪ್ರಶ್ನೆ ಹುಟ್ಟುಹಾಕುತ್ತದೆ
, ಅದರ ಬಂಧನದಲ್ಲಿದ್ದಾಗ “ನಿಷ್ಕ್ರಿಯವಾಗಿತ್ತು” ಕ್ಷಣ ಪ್ರಯತ್ನಗಳು ಯುಪಿ, ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ
ವಿದ್ಯುನ್ಮಾನ ಮತಯಂತ್ರಗಳ ಮುಂದಿನ ಪೀಳಿಗೆಯ ಒಂದು ಗುಣಮಟ್ಟದ - ಇದು ಟಿಂಕರ್ ತಯಾರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ.
ಹಾಗಿದ್ದಲ್ಲಿ, ಅಲ್ಲಿ ಇದರಲ್ಲಿ ಬಳಸಿದ ಹಳೆಯ ಗಳನ್ನು ಇಲ್ಲದೆ ಈ ಗುಣಮಟ್ಟದ, ಅವು
ಚುನಾವಣೆಗಳು? ಈ ಎರಡೂ ಪ್ರಶ್ನೆಗೆ ಇಸಿ ಎಂಬುದನ್ನು ಅಪ್ರಾಮಾಣಿಕ ಬಂದಿದೆ.

2013 ರಲ್ಲಿ, ಎಸ್ಸಿ ಹಂತ ಹಂತವಾಗಿ VVPAT ಪರಿಚಯಿಸಲು ಇಸಿ ನಿರ್ದೇಶಿಸಿದರು.
ಚಿದಂಬರಂ ನ್ಯಾಯಬದ್ಧವಾಗಿದ್ದು ವಿವರಗಳು ಕರೆಯಲಾಗುತ್ತದೆ ಮತ್ತು “ಒಂದು
ತಜ್ಞರ ತಂಡ ಸಮಗ್ರ ವರದಿ ಸಲ್ಲಿಸಿ ಎಂದು ಹೇಳುವ
ಗಳನ್ನು ಯಂತ್ರಾಂಶ ಹಾಗೂ ತಂತ್ರಾಂಶದ ದುರ್ಬಲ ಮತ್ತು ಒಳಗಾಗುವ ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ
ಅಕ್ರಮವಾಗಿ “. ಅವರು ಇಸಿ ಯಂತ್ರ ಸಹ ಅಲ್ಲ ಒಪ್ಪಿಕೊಂಡರು ತಿಳಿಸಿದರು
ಫೂಲ್ಫ್ರೂಫ್ ಮತ್ತು ಕಾಗದದ ಟ್ರಯಲ್ “(ಟೈಮ್ಸ್ ಆಫ್ ಇಂಡಿಯಾ ಪರಿಚಯಿಸಲು ಒಪ್ಪಿ
030417). ಏಕೆಂದರೆ ಈ ಗಳನ್ನು ಉತ್ತರಪ್ರದೇಶದಲ್ಲಿ ಕಾಗದದ ಟ್ರಯಲ್ ಇಲ್ಲದೆ ಬಳಸಲಾಗುತ್ತಿತ್ತು
ಚುನಾವಣೆಗಳು (ಕೆಲವು ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ಹೊರತುಪಡಿಸಿ), ಇಸಿ ತಿಳಿದಿರಲಿಲ್ಲ ಅವರು ಎಂದು
ಫೂಲ್ಫ್ರೂಫ್. ಈ ಅರಿವನ್ನು ಹೊರತಾಗಿಯೂ, ಇಸಿ ಪದೇ ಗಳನ್ನು ಪ್ರತಿಪಾದಿಸಿರುವ
ಸಾಧ್ಯವಾಗಲಿಲ್ಲ ದುರುಪಯೋಗವಾಗಬಹುದು. ಈ ಸಮಗ್ರತೆಯನ್ನು ಡಬಲ್ ಮಾತನಾಡುತ್ತಾರೆ ಪ್ರಶ್ನಿಸುತ್ತಾನೆ
ಇಸಿ ಮತ್ತು ನಿಷ್ಪಕ್ಷಪಾತ.

ಈ ಎಲ್ಲಾ ಸೂಚಿಸುತ್ತದೆ ಪ್ರಾಮಾಣಿಕತೆಯ ಕೊರತೆ ಮತ್ತು
ಇಸಿ ಬದ್ಧತೆಯಲ್ಲಿ ಚುನಾವಣಾ ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ನಿಖರತೆಯನ್ನು ಕಾಯ್ದುಕೊಳ್ಳಲು.
ಇಸಿ ಯುಪಿ ವಿ ಎಂ ಕೌಂಟ್ಗಳ ನಿಖರತೆಯನ್ನು ಪರೀಕ್ಷಿಸಲು ನಿರಾಕರಣೆ ದೃಢಪಡಿಸಿದರು
ವಿ ಎಂ ಚುನಾವಣೆಯನ್ನು ಎಣಿಕೆ ಸಂಭವನೀಯತೆಯನ್ನು ಹೊರತಾಗಿಯೂ ಚುನಾವಣೆಗಳು
ತಪ್ಪು 100% ನ ಹತ್ತಿರದ ಮಾಡಲಾಯಿತು (ಮೇಲೆ ಗಮನಿಸಿ) ಇಸಿ ಅರಿವನ್ನು ಬಗ್ಗೆ
ಗಳನ್ನು (ಪ್ಯಾರಾ ಹಿಂದಿನ) ಕುಶಲ ಸಾಧ್ಯತೆಯನ್ನು. ಇದು
EC ರ ನಿಷ್ಪಕ್ಷಪಾತ ಪ್ರಶ್ನಿಸುತ್ತಾನೆ.

Mayawathi, ಕೇಜ್ರಿವಾಲ್ ಮತ್ತು ಯೆಚೂರಿ
ಈ ಪ್ರಶ್ನಿಸಿದ್ದಾರೆ. ಮೇ ಹೆಚ್ಚು ಜನರು ಎಂದು ಅಲ್ಲಿ ಜೊತೆ ಅನುಮಾನಗಳನ್ನು ಇವೆ
(ಐದು ಪೋಲ್ಸ್ಚರ್ಸ್ ಸೇರಿದಂತೆ) ಪ್ರಾಯಶಃ ಏಕೆಂದರೆ ಸ್ತಬ್ಧ ಕೀಪಿಂಗ್
ವಿರೋಧಿ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯರು ಎಂದು ಹೆಸರಿಸಲಾಗಿದೆ ಭಯ. ಇಸಿ ಪರಿಪೂರ್ಣತೆ ಇದೆ ಅದರ
ಕರ್ತವ್ಯ ಪ್ರಮುಖ ಪ್ರಶ್ನೆ ನಿಖರತೆಯ ಬಗ್ಗೆ ತಮ್ಮ ಅನುಮಾನಗಳನ್ನು ತೆರವುಗೊಳಿಸಲು
ಆದರೆ ಯುಪಿ ಪದೇ ಹೇಳುವ ಮೂಲಕ ಗಮನ ಬೇರೆಡೆಗೆ ತಿರುಗಿಸಿ ಆಪಾದನೆಗಳು
ಅದರ ಭವಿಷ್ಯದ ಯೋಜನೆಗಳ ಕುರಿತು.


ನಿಖರತೆಯನ್ನು ಕೊರತೆ ನಾಲ್ಕು ವರ್ಷಗಳ ಸಹ ಮುಂದುವರಿದರೆ
ಎಸ್ಸಿ ರು ಆದೇಶಗಳನ್ನು ಹೆಚ್ಚು ನಿಖರವಾದ ಗಳನ್ನು ರಂದು ಆದರೂ ನಂತರ ನಿಯೋಜಿಸಬಹುದು ಸಾಧ್ಯವಾಗಲಿಲ್ಲ
ದೊಡ್ಡ ಪ್ರಮಾಣದಲ್ಲಿ. ಏನು ಗಂಭೀರವಾಗಿದೆ ಹಾನಿಕಾರಕ ಮತ್ತು ಇಸಿ ಬಳಸಲು ಯೋಜಿಸುತ್ತಿದೆ
ಮಾತ್ರ 2019 ರಲ್ಲಿ ಈ “ಹೆಚ್ಚು ನಿಖರವಾದ” ಗಳನ್ನು ಈ ಯಂತ್ರಗಳು ಇರುತ್ತದೆ ಆದರೂ
ಭಾರತ್ ಎಲೆಕ್ಟ್ರಾನಿಕ್ಸ್ ಮತ್ತು ಭಾರತದ ಎಲೆಕ್ಟ್ರಾನಿಕ್ ಕಾರ್ಪೊರೇಷನ್ ತಯಾರಿಸಲ್ಪಟ್ಟ
(ಟೈಮ್ಸ್ ಆಫ್ ಇಂಡಿಯಾ, 02.04.17). ಏಕೆ ಬದಲಿಗೆ ಮುಂದೂಡಿಕೆಗೆ ಈ
ಕೆಲವು ರಾಜ್ಯಗಳಲ್ಲಿ ಇದು ಇದು ಕಾರಣ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ನಿಖರ ಖಾತರಿ
ಮುಂದಿನ ಎರಡು ವರ್ಷಗಳ ಅವಧಿಯಲ್ಲಿ? ಹುಟ್ಟುಹಾಕುತ್ತದೆ ಆಫ್ ನಿಷ್ಪಕ್ಷಪಾತ ಇಸಿ ಬಗ್ಗೆ ಸಂದೇಹಗಳು
ಇದು ಪ್ರಶ್ನೆ ಈ ಬದಲಾವಣೆಗಳು ತನ್ನ ಕಣ್ಣುಗಳನ್ನು ಮುಚ್ಚಿ ಎಂಬುದನ್ನು
ರಲ್ಲಿ 2019 ರಲ್ಲಿ ಸಾಮಾನ್ಯ ಚುನಾವಣೆ, ಚುನಾವಣೆ ಪಕ್ಷಗಳ ಸಹಾಯ
ಮನಸ್ಸು.

ಅಚ್ಚರಿಯ ಕ್ರಮಗಳು (ಅಥವಾ ಇಸಿ ಮೂಲಕ ನಿಷ್ಕ್ರಿಯತೆಯ) ಜೊತೆ ನಿಲ್ಲಿಸುವುದಿಲ್ಲ
ಈ. ಹೊಸ ಗಳನ್ನು “ತಾಂತ್ರಿಕವಾಗಿ ಮತಗಳ ಕೈಪಿಡಿ ಎಣಿಕೆಯ ಅವಕಾಶ”. ಸಹ
ಪ್ರಕಟಿಸಿದ ಫಲಿತಾಂಶಗಳ ಕರಾರುವಾಕ್ ಬಗ್ಗೆ ದೂರುಗಳನ್ನು ಪಡೆಯುವಲ್ಲಿ ಮೊದಲು,
ಇಸಿ ಕೈಪಿಡಿ ಎಣಿಸಿದ ಜವಾಬ್ದಾರಿಯುತ ಹೋಲಿಸಿದರೆ ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ಇರಬೇಕು
ಇದು ಹೊಸ ಗಳನ್ನು ಯುಪಿ 30 ಸ್ಥಾನಗಳಿಗೆ ಬಳಸಲಾಗುತ್ತಿತ್ತು ಎಣಿಕೆಗಳು ವಿ ಎಂ
ನಿಖರತೆಯನ್ನು ಪರೀಕ್ಷಿಸಲು. ಮತದಾನದ ಎಣಿಕೆಗಳು ತೋರಿದ ಮಾದರಿಯನ್ನು ವಿ ಎಂ ಭಿನ್ನವಾಗಿತ್ತು ವೇಳೆ
30 ಸ್ಥಾನಗಳಿಗೆ ಕೈಪಿಡಿ ಎಣಿಕೆಯು ಸಾಧ್ಯತೆಯ ಆ ನಿಂದ
ಕುಶಲ ದೃಢವಾಗುತ್ತದೆ. ಆದರೆ ಇಸಿ, ಈ ತಪಾಸಣೆ ನಡೆಸುತ್ತಾರೆ ಇದ್ದರೂ
ದೂರುಗಳು ಬಂದುದರಿಂದ. ಏಕೆ? ಇದು ಆಫ್ ನಿಷ್ಪಕ್ಷಪಾತ ಪ್ರಶ್ನಿಸುತ್ತಾನೆ
ಇಸಿ.

ಇಸಿ ಹಿಂದಿನ ಬೆಳೆಸಿದರು ಎಲ್ಲಾ ಪ್ರಶ್ನೆಗಳಿಗೆ ಮನವೊಪ್ಪಿಸುವ ಉತ್ತರಗಳನ್ನು.

“ದೆಹಲಿ ಮುಖ್ಯಮಂತ್ರಿ ಅರವಿಂದ್ ಕೇಜ್ರಿವಾಲ್ ಅವರು ಎರಡು ಕಂಡುಕೊಳ್ಳುತ್ತದೆ ಎಂದು ಹೇಳಿದ್ದಾರೆ
ಮೂರು ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಆಯೋಗದವರು ಏಕೆಂದರೆ ಅವರು ಎಂದು ಹೇಳಲಾಗುತ್ತಿದೆ ಏನು ಪಕ್ಷಪಾತ ಮಾಡಲಾಗುತ್ತದೆ
ಸಂಸದ ಅವುಗಳಲ್ಲಿ ಒಂದನ್ನು ಅಂತರ ಮತ್ತು ಇತರ ಪ್ರಧಾನಿ ನರೇಂದ್ರ ಮೋದಿ
ಮುಖ್ಯ ಶಿವರಾಜ್ ಸಿಂಗ್ ಚೌಹಾಣ್ “(ಟೈಮ್ಸ್ ಆಫ್ ಇಂಡಿಯಾ, 19.04.17).
ಆರೋಪವು ಸಂಶಯವನ್ನು ಕಾರಣ ತನಿಖೆ ಅಗತ್ಯವಿದೆ
ಇಸಿ ಹಿಂದಿನ ಬಾರಿ ನಿಷ್ಪಕ್ಷಪಾತ ಹಲವಾರು ಎದ್ದಿವೆ
ಪ್ಯಾರಾಗಳು. ಇಂತಹ ತನಿಖೆಯು ವಿವಿಧ ಅಂಕಗಳನ್ನು ರಕ್ಷಣೆ ಬೇಕು
ಹಿಂದಿನ ಬೆಳೆದ. ಈ ಸಿಬಿಐ ತನಿಖೆ ಮಾಡಬೇಕು ಎಂದು ಮುಗಿಯದ
ಸರ್ಕಾರ ಎಸ್ಸಿ ಒಂದು ಪಂಜರದಲ್ಲಿನ ಗಿಣಿ ಹಣೆಪಟ್ಟಿ. ಇನ್ನೊಂದು ಕಾರಣ
ವಿಶ್ವಾಸಾರ್ಹತೆಯ ಸಿಬಿಐ ಗಳು ಕೊರತೆ “ಎರಡು ಸಿಬಿಐ ಮಾಜಿ ನಿರ್ದೇಶಕರು ಆಗಿದೆ
ಭ್ರಷ್ಟಾಚಾರ ವಿಚಾರಣೆ ಎದುರಿಸುತ್ತಿರುವ ಪ್ರಕ್ರಿಯೆಯಲ್ಲಿ ಇರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ, ಮನಿ ಲಾಂಡರಿಂಗ್,
ಮತ್ತು ಕೊರೆದು ಒಡೆಯಲು ಗಂಭೀರ ಸುಪ್ರೀಂ ಕೋರ್ಟ್ ಕಡ್ಡಾಯಗೊಳಿಸಿದ ಅನ್ವೇಷಕ “(ಡೆಕ್ಕನ್ ಕ್ರಾನಿಕಲ್,
280417).

ಇಸಿ ಪರಿಷ್ಕರಿಸಲಾಗಿದೆ “ಎಂದು ಫಲಿತಾಂಶಗಳ ಒಂದು ವಿಶ್ಲೇಷಣೆ ಹೇಳಿಕೊಂಡಿದೆ
ಗೋವಾ 40 ಕ್ಷೇತ್ರಗಳಲ್ಲಿ ಎಲ್ಲ 33 ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ಬಳಸಬಹುದು VVPATs ಮತ್ತು
ಪಂಜಾಬ್ ಹಾಕುತ್ತಾನೆ ಗಳನ್ನು ಪೇಪರ್ ಇಲ್ಲದೆ ಕಡಿಮೆ ಬದಲಾವಣೆಯೊಂದಿಗೆ ಫಲಿತಾಂಶಗಳನ್ನು ತೋರಿಸುತ್ತದೆ
ಜಾಡು “(ಟೈಮ್ಸ್ ಆಫ್ ಇಂಡಿಯಾ, 18.4.17).

ಪ್ರಮುಖ, ಅದು
ಇಸಿ ಫಲಿತಾಂಶಗಳು VVPATs ಪತ್ತೆಹಚ್ಚಿದ ಆಶ್ಚರ್ಯವನ್ನುಂಟು ಕಲ್ಪಿಸಿಲ್ಲ
ಇದು ಯುಪಿ ಸೇರಿದಂತೆ ರಾಜ್ಯಗಳ ಕಾರಣ ಸಾರಭೂತ ಬಳಸಲಾಗುತ್ತಿತ್ತು
ವಿ ಎಂ ಅಲ್ಲಿ ಅತೀ ಪ್ರಶ್ನಾರ್ಹ ಎಂದು ಎಣಿಕೆ. ಇಸಿ ಈ ಮಾಡಿದ ಮಾಡಬೇಕು
ಈ ರಾಜ್ಯಗಳು ವಿಶ್ಲೇಷಣೆ ಸಹ. ಹಾಗಿದ್ದಲ್ಲಿ, ಏಕೆ ಇಸಿ ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ತಡೆಹಿಡಿಯುವ?
ವಿಶ್ಲೇಷಣೆ ಮಾಡಿ ಮಾಡದಿದ್ದರೆ, ಏಕೆ?

ಈ ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ಸಹ ತಡೆಹಿಡಿಯುವ
EC ರ ನಿಷ್ಪಕ್ಷಪಾತ ಪ್ರಶ್ನಿಸುತ್ತಾನೆ. ಈ ಕೂಡಲೇ ಪ್ರಕಟಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಮಾಡಬೇಕು.
ಇಸಿ ಫಲಿತಾಂಶಗಳಿಗಾಗಿ ಯುಪಿ ಈ ಸೀಟುಗಳು ಈಗ ತೋರಿಸಿದರೆ (ಇದಕ್ಕಾಗಿ ಜಾಡು VVPAT ಆಗಿದೆ
ಲಭ್ಯವಿರುವ) ಈ ವಿ ಎಂ ವ್ಯತ್ಯಾಸ ಇರಲಿಲ್ಲ ಆ ಎಣಿಕೆಗಳು ಸಾಬೀತು, ಇದು
ತಪಾಸಣೆ ಸ್ವತಂತ್ರ ಅನುಮತಿಸುತ್ತದೆ ಮೂಲಕ ಹೊರತು ಇಸಿ ವಿಶ್ವಾಸಾರ್ಹತೆ ಬೀರುವುದಿಲ್ಲ
ತಜ್ಞರು.

ಪ್ರಾಯಶಃ, ಇಸಿ ಈ ಕಾರಣ ಈ ಫಲಿತಾಂಶಗಳನ್ನು ಮರೆಮಾಡಲು ಬೇಕಾಗಿದ್ದಾರೆ
ಯುಪಿ ಹೆಚ್ಚಿನ ಎಣಿಕೆ ವಿ ಎಂ ಈ ಸ್ಥಾನಗಳಿಗೆ ಮತ್ತು ತಪ್ಪು ಸಾಬೀತಾಯಿತು
ಯುಪಿ ಅತ್ಯಂತ ಸ್ಥಾನಗಳಿಗೆ ಗೋಜಲನ್ನು, ಮತ್ತು ಮತದಾನ ಮಾದರಿಯನ್ನು ತೋರಿಸಲಾಗಿದೆ ದೃಢಪಡಿಸಿದರು
ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ನಿರ್ಗಮನದ ಜನಾಭಿಪ್ರಾಯ.

ಮೇಲಿನ ವಿಶ್ಲೇಷಣೆಯನ್ನು ಸ್ಪಷ್ಟವಾಗಿ ತೋರಿಸುತ್ತದೆ
ವಿ ಎಂ ಯುಪಿ ಚುನಾವಣೆಗೆ ಎಣಿಕೆ (1) ಸಂಭವನೀಯತೆಯನ್ನು ತಪ್ಪು
ಮುಚ್ಚಲು 100 ಗ್ರಾಂ% ಪ್ರಸ್ತುತ ಯುಪಿ ಸರ್ಕಾರದ ಮತ್ತು ಸಂವಿಧಾನ ಆಧರಿಸಿದೆ
ಈ ತಪ್ಪು ಎಣಿಕೆಗಳು ಯಾವುದೇ ಸಿಂಧುತ್ವವನ್ನು, (2) ಇಸಿ ಪದೇ ನೀಡುವ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಬಂದಿದೆ
ತಿರುಗಿಸುವ ಭವಿಷ್ಯದಲ್ಲಿ ಮತಗಳ ಸರಿಯಾದ ಎಣಿಕೆಯ ಖಾತರಿ ಬಗ್ಗೆ ಹೇಳಿಕೆಗಳನ್ನು
ಚುನಾವಣೆಗಳು, (3) ನಿಷ್ಪಕ್ಷಪಾತತೆ ಆಫ್ ಫಲಿತಾಂಶಗಳನ್ನು ಸಿಂಧುವಲ್ಲವೆಂದು ಗಮನ
ಇಸಿ ಕಾರಣ ಸಂಖ್ಯೆ ಉಲ್ಲೇಖಿಸಲಾಗಿದೆ ಅನುಮಾನಗಳನ್ನು ತನಿಖೆ ಅಗತ್ಯವಿದೆ
ಹಿಂದಿನ ಪ್ಯಾರಾಗಳು ಮತ್ತು (4) ಪರಿಸ್ಥಿತಿ ಸಂಪೂರ್ಣ ಕೋರುತ್ತದೆ
ಸ್ವತಂತ್ರ ಸಂಸ್ಥೆ (ಅಲ್ಲ ಸಿಬಿಐ) ತನಿಖೆ ಎಲ್ಲಾ ಸಂಶಯಗಳನ್ನು ಮತ್ತು
ನಿವಾರಿಸುವ ಕ್ರಮಗಳು ಶಿಫಾರಸು.

ಕೇವಲ ಇಂಥ ತನಿಖೆ ಮೇವ ಜಯತೆ ( “ಸತ್ಯ ಮಾತ್ರ ವಿಜಯ) ನಮ್ಮ ವಿಶೇಷ ಗೌರವವನ್ನು ಧ್ಯೇಯವಾಕ್ಯದೊಂದಿಗೆ ಖಚಿತ.

, ಪುನರುಚ್ಚರಿಸು ಗೆ ಇದು isridiculous ಅಪನಂಬಿಕೆ ಒಂದು ಆದರೆ ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ಗೆ
ನಿರ್ಗಮನ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಮತ್ತು ಟ್ರಸ್ಟ್ ಐದು ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ನಿಖರತೆಯನ್ನು ಗಳನ್ನು ಅದು
ಅನೇಕ ತಜ್ಞರು ಮತ್ತು ಸರ್ಕಾರದ ಇಲ್ಲಿದೆ ಪ್ರಕಾರ ಕುಶಲತೆಯಿಂದ ವಿರುದ್ಧವಾಗಿದೆ
ಯಾವುದೇ ತಂತ್ರಜ್ಞಾನ 100% ಪರಿಪೂರ್ಣ ವೀಕ್ಷಿಸಲು. ಇದು ಆಘಾತಕಾರಿ ಎಂದು (1)
ನಿರ್ಗಮನ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ದೂರ ಗಮನವನ್ನು ಬೇರೆಡೆಗೆ ತಿರುಗಿಸಿ ಮತ್ತು ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ಸ್ವೀಕರಿಸುವ
ಉತ್ತರ ಪ್ರದೇಶ ತಪ್ಪು ವಿ ಎಂ ಯುಪಿ ಒಂದು ಹೊಂದಿರುವ ಎಣಿಕೆಗಳು ಕಾರಣವಾಗಿದೆ
ಯಾವುದೇ ಸಿಂಧುತ್ವವನ್ನು ಹೊಂದಿದೆ ಮತ್ತು (2) ಈ ಗಂಭೀರ ಸಮಸ್ಯೆ ಕಾರಣ ಇದು ಸರ್ಕಾರದ
ಸಹ ಸಂವಿಧಾನಾತ್ಮಕ ತಜ್ಞರು ಮತ್ತು ಅಧಿಕಾರಿಗಳು ಪ್ರಶ್ನಿಸಿದರು.


ರಲ್ಲಿ
ಇದು ಸರ್ಕಾರಿ ಹೊಂದುವ ಆಘಾತಕಾರಿ ಪರಿಸ್ಥಿತಿ ತೆಗೆದು ಸಲುವಾಗಿ
ಯಾವುದೇ ಸಿಂಧುತ್ವ ಮತ್ತು ಸಂವಿಧಾನ, ಇಸಿ ಅಡಿಯಲ್ಲಿ ತನ್ನ ಜವಾಬ್ದಾರಿಯನ್ನು ಪೂರೈಸಲು
(1) ತಕ್ಷಣ ಘೋಷಿಸಲು ಅತೀ ಪ್ರಶ್ನಾರ್ಹ ವಿ ಎಂ ಪರಿಗಣಿಸಲಾಗಿದ್ದು ಹೊಂದಿದೆ
ಕೊಡುತ್ತಾನೆ “ಬಿಜೆಪಿ +” ಒಂದು ಗರಿಷ್ಟ ಮಿತಿಯಿರುತ್ತದೆ ಹೆಚ್ಚು 55% ಹೆಚ್ಚು ಸ್ಥಾನಗಳನ್ನು ಏಕೆಂದರೆ ಅಮಾನ್ಯ
ಐದು ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ಫಲಿತಾಂಶಗಳನ್ನು ಸರಾಸರಿ ಪ್ರಕಾರ ಆಸನಗಳ ಸಂಖ್ಯೆ
ಚುನಾವಣೆ ಮತ್ತು ಕ್ರಿಮಿನಲ್ ಸಲುವಾಗಿ ಗಳನ್ನು ನೆನಪಿಸುತ್ತವೆ ಒಂದು ತೆಗೆದು ನಿರ್ಗಮನ (2)
ಬದಲಾವಣೆಗಳು, ಪರಿಶೀಲನೆಗೆ ತಜ್ಞರು ಮತ್ತು ಮಧ್ಯಸ್ಥಗಾರರು. ಈ ವೇಳೆ
ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ, ನಂತರ, ಒಂದು ಪುನಃ ಸಮೀಕ್ಷೆಯಲ್ಲಿ ಇಸಿ ಅಲ್ಪ ಅವಧಿಯಲ್ಲಿ ಹೊಂದಿದೆ ಕ್ರಮಗೊಳಿಸಲು
ರಾಷ್ಟ್ರಪತಿ ಆಡಳಿತವನ್ನು ಶಿಫಾರಸು. ಇಲ್ಲವಾದರೆ, ಯುಪಿ ಒಂದು ಮುಂದುವರಿಸಲು ಹೊಂದಿರುತ್ತದೆ
ಅಮಾನ್ಯವಾಗಿದೆ ಸರ್ಕಾರ - ನಮ್ಮ ಸಂವಿಧಾನ ಕುರಿತು ಬ್ಲಾಟ್.

ಅನಾಮಿಕ
ವಹಿಸುವ ಮತ್ತು ಸೂಕ್ತಿ ಗೌರವಿಸುತ್ತದೆ ಯಾರು ಮೇವ ಜಯತೆ ಮತ್ತು ಆತಂಕಗಳು ಪ್ರಜೆ
ಫ್ರಿಂಜ್ ಅಂಶಗಳನ್ನು ಯಾವುದೇ ನಿಮಿತ್ತ ಕಿರುಕುಳ ಅಥವಾ ಕೊಲ್ಲಲು ಮೇಲೆ.

ನ್ಯಾಯಾಧೀಶರು Honbe ಸರ್ವೋಚ್ಚ ನ್ಯಾಯಾಲಯಕ್ಕೆ ಮನವಿ

ದಯವಿಟ್ಟು ಪರಿಗಣಿಸುತ್ತಾರೆ ಆಘಾತಕಾರಿ / ಅಸಂವಿಧಾನಿಕ ಸಂದರ್ಭಗಳಲ್ಲಿ ಎಂಬುದನ್ನು
ಈ ಲೇಖನದಲ್ಲಿ ವಿವರಿಸಲಾಗಿದೆ ಸ್ವಯಂಪ್ರೇರಿತವಾಗಿ ಪರಿಗಣನೆಗೆ ಕೈಗೊಳ್ಳುವ ಸಾಕಷ್ಟು ಭೂಮಿಯಲ್ಲಿ
ಪ್ರಕರಣಗಳಿಗೆ:

(1) ಹೊಂದಿದೆ ಪ್ರಸ್ತುತ ಸರಕಾರ ವಜಾ ಮಾಡಲಾಗುತ್ತಿದೆ
ಸಂವಿಧಾನದ ಅಡಿಯಲ್ಲಿ ಯಾವುದೇ ಸಿಂಧುತ್ವವನ್ನು, ಅತೀ ಪ್ರಶ್ನಾರ್ಹ ಆಧಾರಿತವಾಗಿತ್ತು
ವಿ ಎಂ ಎಣಿಕೆ. ಇದು ಸೈಬರ್ ಕ್ರಿಮಿನಲ್ ಮಾಡುತ್ತದೆ ವೇಳೆ ವೃಥಾ ಅವಕಾಶವಿಲ್ಲದಿದ್ದರೇ
ಸಂವಿಧಾನದ ಬಗ್ಗೆ ಅಪಹಾಸ್ಯ.

(2) ಒಂದು ವಿಶೇಷ ಹೊಂದಿಸಲಾಗುತ್ತಿದೆ
ಚುನಾವಣಾ ಆಯೋಗ ತನಿಖಾ ತಂಡ ಎಂಬ ತನಿಖೆ ವಿಫಲವಾಗಿದೆ
ಚುನಾವಣಾ ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ಬಗ್ಗೆ ನಿಷ್ಪಕ್ಷಪಾತ.

ಪತ್ರಕರ್ತರು ಗಮನ

ದೆಹಲಿ ಆವಾಸಸ್ಥಾನ ಸೆಂಟರ್, ಎಲ್ಲಾ ಭಾಗವಹಿಸುವವರು ಒಂದು ಇತ್ತೀಚಿನ ಪ್ಯಾನಲ್ ಡಿಸ್ಕಷನ್
ಅಭಿಪ್ರಾಯವನ್ನು ಎಂದು ಭಾರತದ ದುರಂತ ಮಾಧ್ಯಮ ದೃಶ್ಯ
, ಏಕೆಂದರೆ, ಟೀಕಿಸಲು ಪತ್ರಕರ್ತರ ನಡುವೆ ಭಯದ
ಸರ್ಕಾರ. ಪತ್ರಕರ್ತರು ಆದ್ದರಿಂದ ಭಯದಲ್ಲಿರುತ್ತಾರೆ ವೇಳೆ, ಅವರು ಪರಿಣಮಿಸುತ್ತದೆ
ಅಸಂಬದ್ಧ. ಪರಿಹಾರವೆಂದು ಅವರು ಎಂದು ಸೂಚಿಸಿದರು ಪತ್ರಕರ್ತರು
ಅನಪೇಕ್ಷಿತ ನೀತಿಗಳು ಮತ್ತು ಸರ್ಕಾರದ ಕ್ರಮಗಳನ್ನು ವಿರುದ್ಧ ನಿಲ್ಲುವ.
ಈ ಅವಶ್ಯಕತೆಯು ಇತ್ತೀಚೆಗೆ ಭಾರತದ ರಾಷ್ಟ್ರಪತಿಯಿಂದ ಒತ್ತು ನೀಡಿದರು. ಅವರು
ಇದು ಕೇಳದಿದ್ದರೆ ಪತ್ರಿಕಾ ಅದರ ಕರ್ತವ್ಯವನ್ನು ವಿಫಲವಾಗಿದೆ ಎಂದು ಹೇಳಿದರು ಮಾಡಬೇಕು
ಶಕ್ತಿ (ಟೈಮ್ಸ್ ಆಫ್ ಇಂಡಿಯಾ, 26.05.17) ಆ ಪ್ರಶ್ನೆಗಳನ್ನು.

ರಲ್ಲಿ
ಪ್ರಸ್ತುತ ಸನ್ನಿವೇಶದಲ್ಲಿ, ಇದು ಪ್ರಶ್ನಿಸಲು ಪ್ರತಿ ಪತ್ರಕರ್ತ ಕರ್ತವ್ಯ
ಇದು ಐದು ಫಲಿತಾಂಶಗಳು ನಿರ್ಲಕ್ಷಿಸುತ್ತಾ ಅದರ ಜವಾಬ್ದಾರಿಗಳನ್ನು ವಿಫಲವಾಗಿದೆ ಇಸಿ
ಯಾವುದೇ ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ಸಮರ್ಥನೆ ನೀಡುವ ಮತ್ತು ಬಳಸಿಕೊಂಡು ನಿರ್ಗಮನ ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ
ವಿ ಎಂ ಹೆಚ್ಚು ಅಮಾನ್ಯ ಎಣಿಕೆಗಳು ಸಂವಿಧಾನದ ಬೆಂಬಲಿಸಲು ಪ್ರಶ್ನಾರ್ಹ
ಸರ್ಕಾರದಲ್ಲಿ ಯುಪಿ, ಆಘಾತಕಾರಿ ಪರಿಸ್ಥಿತಿ ಮತ್ತು ಮೇಲೆ ಬ್ಲಾಟ್ ಪರಿಣಾಮವಾಗಿ
ಸಂವಿಧಾನದ ಭಾರತ.

ಭಯದ ವಾತಾವರಣ ತೆಗೆಯಲು ಸಹಾಯ ಮಾಡಲು,
ನಿವೃತ್ತ ಪತ್ರಕರ್ತರು ಅನುಭವ ಸಾಕಷ್ಟು ಪುಸ್ತಕಗಳನ್ನು ಪ್ರಕಟಿಸಿದೆ ಮಾಡಬೇಕು
ಪತ್ರಕರ್ತರು ಹೆದರಿ ಇದು ಕಾರಣಗಳನ್ನು ವಿವರಿಸಲು ತಮ್ಮ ಅಭಿಪ್ರಾಯಗಳನ್ನು
ಮತ್ತು ನಕಾರಾತ್ಮಕ ಪಾತ್ರದಲ್ಲಿ ಮುಕ್ತವಾಗಿ ವೃತ್ತಿಪರವಲ್ಲದ ತಮ್ಮ ಸ್ನಾತಕೋತ್ತರ ನಿರ್ವಹಿಸಿದ.
ಪತ್ರಿಕೆಗಳು ಮತ್ತು ಮೇ ಪತ್ರಿಕೆಗಳಲ್ಲಿ ಪುಸ್ತಕಗಳನ್ನು ಪ್ರಕಟಿಸುವ ಕಾರಣ ಅನಿವಾರ್ಯವಲ್ಲ
ಇಂಥ ಅಭಿಪ್ರಾಯಗಳನ್ನು ಪ್ರಕಟಿಸಲು ಕಾರಣ ಭಯ.

ಆದಾಗ್ಯೂ, ತೀವ್ರತೆಯನ್ನು
ಕೇಂದ್ರ ಮತ್ತು ರಾಜ್ಯ ಸರ್ಕಾರ ಕೆಚ್ಚೆದೆಯ ಎರಡೂ ಟೀಕೆಯ
Sooryakumar ಟಿವಿ ಪತ್ರಕರ್ತರು ಮತ್ತು ಅನೇಕ ಇತರರ ಮೇಲೆ Vinu ಜಾನ್ ಮತ್ತು ಸಿಂಧು
ಎಲ್ಲಾ ಭರವಸೆ ನೀಡುತ್ತದೆ ಕೇರಳ ಪತ್ರಿಕೆಗಳಲ್ಲಿ ನಷ್ಟವಾಗುವುದಿಲ್ಲ. ಇದಲ್ಲದೆ,
ಅದರಲ್ಲಿ ತಮ್ಮ ಕೆಲಸವನ್ನು ವೃತ್ತಿಪರರು ನಿರೂಪಿಸುತ್ತವೆ
ಅವರು ಪಡೆಯಲು ಏಕೆಂದರೆ ಸರ್ಕಾರಗಳು ಒಡ್ಡುತ್ತಾ ಪತ್ರಕರ್ತರು ಭಯ ಅಗತ್ಯವಿದೆ
ಇಡೀ ವೃತ್ತಿ ಮತ್ತು ಸಾರ್ವಜನಿಕರಿಗೆ ಪೂರ್ಣ ಬೆಂಬಲ, ಒಂದು ಭಿನ್ನವಾಗಿ
ಸಾಮಾನ್ಯ ಮನುಷ್ಯ.

(Sivarama ಭಾರತಿ ಸ್ವೀಕರಿಸಲಾಗಿದೆ - srbharathi18@yahoo.in)

ನೀವು ಈ ವರದಿಯನ್ನು / ಲೇಖನ ಇಷ್ಟಪಟ್ಟಿದ್ದಾರೆ ಭಾವಿಸುತ್ತೇವೆ. ಮಿಲಿ ಗೆಜೆಟ್ ಒಂದು ಉಚಿತ ಮತ್ತು
ಸ್ವತಂತ್ರ ಓದುಗರು ಬೆಂಬಲಿತ ಮಾಧ್ಯಮ ಸಂಸ್ಥೆ. ದಯವಿಟ್ಟು ಇದನ್ನು ಬೆಂಬಲಿಸುವ
ಉದಾರವಾಗಿ ಕೊಡುಗೆ. ಇಲ್ಲಿ ಕ್ಲಿಕ್ ಅಥವಾ salesmilligazettecom ನಮಗೆ ಇಮೇಲ್

ನಿಷ್ಪಕ್ಷಪಾತ ತನಿಖೆ ಅಗತ್ಯ: ಉತ್ತರ ಪ್ರದೇಶದ ಪ್ರಶ್ನಾರ್ಹ ಅಂಗೀಕಾರಾರ್ಹತೆಯ ಸರ್ಕಾರಿ ಹೊಂದಿದೆ

ಪ್ರಸ್ತುತ ಸನ್ನಿವೇಶದಲ್ಲಿ, ಪ್ರತಿ ಪತ್ರಕರ್ತ ಪ್ರಶ್ನೆಯನ್ನು ಇಸಿ ತನ್ನ ಜವಾಬ್ದಾರಿಗಳನ್ನು ವಿಫಲವಾದ ಗೆ ಕರ್ತವ್ಯ …

milligazette.com

comments (0)
2247 Sat 3 Jun 2017 LESSON -This is a futile exercise by the Murderers of democratic institutions (Modi) the CEC attempting to reinvent the wheel. It was proved in the Supreme Court that the EVMs could be tampered and hence the ex CJI Sathasivam committed a grave error of judgement by ordering that the EVMs could be replaced in a phased manner as suggested by the ex CEC Sampath because of the cost of Rs 1600 Crores. But he never ordered for paper ballots to be used till the entire EVMs were replaced.
Filed under: General
Posted by: @ 10:12 pm

2247 Sat 3 Jun 2017 LESSON

Classical Punjabi

ਇਹ ਖ਼ੂਨੀ ਦੇ ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ (ਮੋਦੀ) ਸੀਈਸੀ ਚੱਕਰ ਨੂੰ ਰੇਨਵਿੰਟ ਕਰਨ ਦੀ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਕਰ ਕੇ ਇੱਕ ਵਿਅਰਥ ਕਸਰਤ ਹੈ. ਇਹ
ਸੁਪਰੀਮ ਕੋਰਟ ਵਿਚ ਸਾਬਤ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ ਸੀ, ਜੋ ਕਿ ਈ.ਵੀ.ਐਮ. ਛੱਡਿਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ
ਅਤੇ ਇਸ ਲਈ ਸਾਬਕਾ ਚੀਫ ਜਸਟਿਸ ਸਦਾਸ਼ਿਵਮ ਦਾ ਆਦੇਸ਼ ਹੈ ਕਿ ਈ.ਵੀ.ਐਮ. ਰੁਪਏ ਦੀ ਲਾਗਤ
ਦੇ ਕਾਰਨ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਸਾਬਕਾ ਸੀਈਸੀ ਸੰਪਤ ਨੇ ਸੁਝਾਅ ਪੜਾਅਵਾਰ ਢੰਗ ਨਾਲ ਤਬਦੀਲ ਕੀਤਾ
ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ ਕੇ ਨਿਰਣੇ ਦੇ ਇੱਕ ਕਬਰ ਗਲਤੀ ਵਚਨਬੱਧ
1600 ਕਰੋੜ. ਪਰ ਉਸ ਨੇ ਹੁਕਮ ਦਿੱਤਾ ਹੈ ਕਦੇ ਜਦ ਤੱਕ ਸਾਰੀ ਈਵੀਐਮ ਕਾਗਜ਼ ਵੋਟ ਤਬਦੀਲ ਕੀਤਾ ਜਾ ਕਰਨ ਲਈ ਵਰਤਿਆ ਗਿਆ ਸੀ.

ਇਹ
ਤੱਥ ਕਿ ਈ.ਵੀ.ਐਮ. ਇੱਕ ਸਾਫ ਦਾ ਸਬੂਤ ਹੈ ਕਿ ਉਹ 80 ਲੋਕਤੰਤਰ ਦੇ tamperableMore
ਬੈਲਟ ਪੇਪਰ ਦਾ ਇਸਤੇਮਾਲ ਕੀਤਾ ਹੈ ਤਬਦੀਲ ਕੀਤਾ ਜਾ ਕਰਨ ਲਈ ਹੁੰਦੇ ਹਨ ਹੈ ਅਤੇ ਵਰਤ
ਰਹੇ ਹਨ, ਕਿਉਕਿ ਈਵੀਐਮ ਅਜੇ ਵੀ ਧੋਖਾਧੜੀ ਕਰਨ ਦੇ ਅਧੀਨ ਹਨ ਹੈ.
ਸੀਈਸੀ ਕਹਿੰਦਾ ਹੈ ਕਿ, ਜਿਸ ਨੂੰ ਕੇਵਲ 2019 ਵਿਚ ਵੀ ਏ ਟੀ ਸਾਰੀ ਈਵੀਐਮ ਬਣਾਉਣ
ਭਰੋਸੇਯੋਗ ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ (ਮੋਦੀ) ਨੂੰ ਹਮੇਸ਼ਾ ਲਈ ਆਪਣੇ ਰਾਜ ਨੂੰ ਜਾਰੀ ਦੇ ਕਾਤਲ ਨਾਲ
ਤਬਦੀਲ ਨਹੀ ਕੀਤਾ ਜਾ ਜਾਵੇਗਾ.

ਉੱਥੇ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਤਕਨੀਕੀ ਮਾਹਿਰ ਹੀ ਕੋਈ ਸ਼ੱਕ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਈ.ਵੀ.ਐਮ. tamperable ਹਨ ਬਿਨਾ ਸਾਬਤ ਹੋਇਆ ਹੈ.

ਮੌਜੂਦਾ ਕਸਰਤ ਸਿਰਫ ਵਬਆਨੀ ਨੂੰ ਵੋਟਰ gulliable ਬੇਕਸੂਰ ਹੈ.

http: //www.milligazette.com /…/ 15634-ਉੱਤਰ-ਪ੍ਰਦੇਸ਼-ਹੈ-ਹੋਣ …

ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਇਤਰਾਜ਼ਯੋਗ ਵੈਧਤਾ ਦੀ ਸਰਕਾਰ ਹੈ: ਨਿਰਪੱਖ ਪੜਤਾਲ ਦੀ ਲੋੜ ਨੂੰ

ਕੇਵਲ 8 543 ਲੋਕ ਸਭਾ ਦੇ ਬਾਹਰ ਭਾਜਪਾ ਦੇ (Bahuth ਨੂੰ ਯੋਗ ਤਬਦੀਲ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ
Jitadha Psychopaths) ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ ਦੀ ਦੇ ਖ਼ੂਨੀ (ਮੋਦੀ)
ਮਾਸਟਰ ਕੁੰਜੀ gobble. ਬਾਅਦ ਹੋਰ ਸਾਰੇ ਵਿਧਾਨ ਸਭਾ
ਈਵੀਐਮ ਇਹ ਧੋਖਾਧੜੀ ਦੇ ਕੇ ਕਰਵਾਏ ਗਏ ਸਨ. ਸਿਰਫ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ‘ਚ 20 ਵਿੱਚ
ਸੀਟ ਜਿੱਥੇ ਭਾਜਪਾ ਨੇ ਜਿੱਤ ਸਕਦਾ ਹੈ ਯੋਗ ਕਰਨ ਲਈ 325 ਤਬਦੀਲ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ
ਯੋਗੀ / Bhogi / Roghi ਅਤੇ ਦੇਸ਼ Dhrohi ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਬਣਨ ਲਈ. ਪਿਛਲੇ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਵਿੱਚ
ਪੰਚਾਇਤ ਚੋਣ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਮਾਇਆਵਤੀ ਦੇ ਪੇਪਰ ਵੋਟ ਦੇ ਕੇ ਕਰਵਾਏ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ
ਬਸਪਾ ਵਿਚ ਭਾਰੀ ਬਹੁਮਤ ਹਾਸਲ ਹੋਇਆ. ਹੁਣ ਇੱਕ ਅਨੁਸੂਚਿਤ ਜਾਤੀ ਲਈ ਮਾਇਆਵਤੀ ਨੂੰ ਰੋਕਣ
ਨੂੰ ਇੱਕ Sarvajan ਸਮਾਜ ਦੇ ਆਗੂ, ਜੋ ਧੋਖਾਧੜੀ ਕਰਨ ਦੀ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਨੂੰ ਵਰਤ ਰਿਹਾ ਹੈ ਨੂੰ ਜਿੱਤਣ ਲਈ
ਈਵੀਐਮ ਵਰਤਿਆ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ. ਇਸ ਲਈ, ਜੋ ਕਿ ਵੇਖੋ ਮੱਧ ਕਰਨ ਲਈ ਇੱਕ ਲਹਿਰ ਅਤੇ
ਈਵੀਐਮ ਇਹ ਧੋਖਾਧੜੀ ਭੰਗ ਰਾਜ ਸਰਕਾਰ ਦੁਆਰਾ ਚੁਣਿਆ ਜਾਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਜਾਣ
ਦੇ 80 ਲੋਕਤੰਤਰ ਦੇ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਕਾਗਜ਼ ਵੋਟ ਨਾਲ ਤਾਜ਼ਾ ਚੋਣ ਦੇ ਬਾਅਦ
ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਟਿਕਾ ਸੰਸਾਰ ਲੋਕਤੰਤਰ, ਬਰਾਬਰੀ, ਆਜ਼ਾਦੀ ਅਤੇ ਭਾਈਚਾਰੇ ਨੂੰ ਬਚਾਉਣ ਦੀ
ਭਲਾਈ, ਖੁਸ਼ੀ ਅਤੇ ਸਭ ਦੇ ਅਮਨ ਲਈ ਸਾਡੇ ਸੰਵਿਧਾਨ ਵਿਚ ਆਧੁਨਿਕ
ਸਮਾਜ ਅਤੇ 1% ਅਸਹਿਣਸ਼ੀਲ, ਅੱਤਵਾਦੀ, ਦਾ ਨੰਬਰ 1 ਅੱਤਵਾਦੀ ਬਚਣ ਲਈ
ਸੰਸਾਰ ਨਿਸ਼ਾਨੇਬਾਜ਼ੀ, lynching, ਮਿਰਗੀ ਦੀ, ਮਾਨਸਿਕ ਤੇਕਮਜ਼ੋਰ chitpavan
ਜੋ ਆਦਮਖ਼ੋਰ ਹੈ ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਸੰਘ ਦੇ (rakshasa Swayam ਸੇਵਕ) psychopaths
ਹੀ ਆਪਣੇ ਬਣਾਉਦੀ, ਸਾਊਥਵਰਕ ਲਈ ਆਪਣੇ manusmriti ਨੂੰ ਲਾਗੂ ਕਰਨ ਲਈ ਸ਼ੁਰੂ ਕੀਤਾ
ਉਪਜੇ ਪੰਥ ਅਤੇ ਪੱਖਪਾਤੀ.

ਸਾਬਕਾ ਚੀਫ ਜਸਟਿਸ, ਮੋਦੀ ਅਤੇ ਸਾਬਕਾ ਸੀਈਸੀ
ਯੋਗੀ ਗੈਰ-bailabale ਐਕਟ ਅੱਤਿਆਚਾਰ ਦੇ ਤਹਿਤ ਵਾਰੰਟ ਦੇ ਨਾਲ ਦਰਜ ਕੀਤਾ ਜਾਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ
ਸੁਪਰੀਮ ਕੋਰਟ ਨੂੰ ਰੋਕਣ ਲਈ / ਪਿਛੜੀ ਮਾਸਟਰ ਕੁੰਜੀ ਮਾਡਰਨ ਖੰਡਨ ਹਾਸਲ ਕਰਨ ਲਈ
ਸਾਡੇ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਸੰਵਿਧਾਨ.

ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਇਤਰਾਜ਼ਯੋਗ ਵੈਧਤਾ ਦੀ ਸਰਕਾਰ ਹੈ: ਨਿਰਪੱਖ ਪੜਤਾਲ ਦੀ ਲੋੜ ਨੂੰ
Milli ਗਜ਼ਟ ਆਨਲਾਈਨ
ਪ੍ਰਕਾਸ਼ਿਤ ਆਨਲਾਈਨ: ਜੂਨ 01, 2017

ਛੋਟੇ ਨਮੂਨੇ ਦੀ ਚੋਣ ਸਹੀ ਹੈ ਮੁੱਲ ਨੂੰ ਜ ਗੁਣਵੱਤਾ ਜ ਦਾ ਅੰਦਾਜ਼ਾ ਲਗਾਉਣ ਲਈ
ਵਿਵਹਾਰ ਨੂੰ ਦੇ ਇੱਕ ਵੱਡੇ ਗਰੁੱਪ ਨੂੰ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਦੇ ਲਈ ਇੱਕ ਵਿਆਪਕ ਮੰਨੇ ਅਭਿਆਸ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ,
ਸਾਲ. ਸਾਲ ਵੱਧ, ਨਮੂਨਾ ਤਕਨੀਕ ਵਿੱਚ ਸੁਧਾਰ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ ਅਤੇ ਬਣਾਇਆ
ਵਿਗਿਆਨਕ ਅਤੇ ਵਿਸ਼ਵਾਸ ਇਹ ਸੱਚ ਹੈ, ਮੁੱਲ ਦੇ ਭਰੋਸੇਯੋਗ ਅਨੁਮਾਨ ਨੂੰ ਯਕੀਨੀ ਬਣਾਉਣ ਲਈ
ਸੀਮਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਪਰੇ ਝੂਠ ਨੂੰ ਸੱਚ ਦਾ ਮੁੱਲ ਦੀ ਸੰਭਾਵਨਾ ਹੈ. ਸਿੱਟੇ,
ਨਮੂਨਾ ਸਰਵੇਖਣ ਦੇ ਨਤੀਜੇ ਵਾਰ-ਵਾਰ ਦੇ ਵਰਤਣ ਨਾਲ ਬਣਾਇਆ ਗਿਆ ਹੈ,
ਆਰਥਿਕ, ਸਮਾਜਿਕ ਅਤੇ ਸਿਆਸੀ ਘਟਨਾਕ੍ਰਮ ਦੀ ਯੋਜਨਾ ਬਣਾਉਣ ਲਈ ਭਰੋਸਾ.
ਪਰ, ਹੈਰਾਨੀ ਦੀ ਗੱਲ ਹੈ, ਪੰਜ ਵਿਗਿਆਨਕ ਨਮੂਨਾ ਸਰਵੇਖਣ ਦੇ ਨਤੀਜੇ (ਬਾਹਰ ਜਾਣ
ਚੋਣ) ਵੀ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਚੋਣ ਨਤੀਜੇ ‘ਤੇ ਪੜਤਾਲ ਬਿਨਾ ਖਾਰਜ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ ਸੀ
ਆਪਣੇ ਭਰੋਸੇਯੋਗਤਾ. ਪੰਜ ਵਿਗਿਆਨਕ ਅੰਨ੍ਹੇ ਦੀ ਇਹ ਥੋਕ ਰੱਦ
ਨਮੂਨਾ ਸਰਵੇਖਣ / ਐਗਜ਼ਿਟ ਪੋਲ ਵਿਲੱਖਣ ਹੈ ਅਤੇ ਸਜ਼ਾ ਦਾ ਹੱਕਦਾਰ ਹੈ
ਸ਼ਰਤ.

ਹੇਠ ਬਿਆਨ ਪੰਜ ਦੇ ਨਤੀਜੇ ਦਿੰਦਾ ਹੈ
ਈਵੀਐਮ ਵਿਗਿਆਨਕ ਐਗਜ਼ਿਟ ਪੋਲ ਅਤੇ ਭਾਜਪਾ ਅਤੇ ਉਸ ਦੇ ਸਮਰਥਕ ਇਸ ਲਈ ਮਾਇਨੇ
( “ਭਾਜਪਾ,”) ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ‘ਚ.

ਸਰਵੇਖਣ

ਨੰ ਅਤੇ ਭਰੋਸਾ ਸੀਮਾ ਦੇ ਅੰਦਰ ਲਈ “ਭਾਜਪਾ ਨੂੰ” ਸੀਟ ਬਰੈਕਟ ਦੇ

VMR ਹੁਣ

200 (190210)

ਭਾਰਤ ਨੇ ਨਿਊਜ਼-MRC

185 (175195) *

ABP-CSDS

170 (164176)

ਭਾਰਤ ਨੂੰ ਟੀ ਵੀ-ਸੀ ਵੋਟਰ

161 (155-167)

ਨਿਊਜ਼ 24 ਚਾਣਕਿਆ

285 (273- 297) *

ਔਸਤ

200 (190210) *

ਈਵੀਐਮ ਗਿਣਤੀ

325

* ਭਰੋਸਾ ਸੀਮਾ ਵਿਚ ਦਿਖਾਇਆ ਗਿਆ ਹੈ, ਨਾ ਕਿ ਇਹ ਪੋਲਸਟਰ ਕੇ ਦਾ ਹਿਸਾਬ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ
ਅਖਬਾਰ ਦੀ ਰਿਪੋਰਟ. ਉੱਪਰ ਦਿੱਤੇ ਸੀਮਾ ਵੀ ਕਾਫ਼ੀ ਮੋਟਾ ਹੈ, ਪਰ ਭਰੋਸੇਯੋਗ ਹਨ
ਹੋਰ ਦੇ ਕੇ ਭਰੋਸਾ ਗਣਨਾ ਕਰਨ ਲਈ ਮੁਕਾਬਲੇ ਦੀ ਸੀਮਾ ਦਿੱਤੀ ਗਈ
ਪੋਲਸਟਰ.

ਪਹਿਲੇ ਚਾਰ ਵਿਗਿਆਨਕ ਐਗਜ਼ਿਟ ਪੋਲ ਲੰਗੜੀ ਭਵਿੱਖਬਾਣੀ ਕੀਤੀ
ਵਿਧਾਨ ਸਭਾ. ਪਿਛਲੇ ਇਕ ਭਾਜਪਾ ਲਈ ਬਹੁਮਤ ਦੀ ਭਵਿੱਖਬਾਣੀ. ਪਰ, ਸਭ
ਈਵੀਐਮ ਗਿਣਤੀ ਲਈ ਜ਼ਰੂਰੀ ਹੈ, ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਹੋਰ ਅਹੁਦੇ ਵੱਧ ਦਿਖਾਇਆ, “ਭਾਜਪਾ ਨੂੰ”
ਵੱਡੇ ਭਰੋਸਾ ਸੀਮਾ (ਭਾਵ, ਸੀਟ ਦੀ ਗਿਣਤੀ ਲਈ ਸੀਮਾ)
ਸਾਰੇ ਪੰਜ ਐਗਜ਼ਿਟ ਪੋਲ ਦੁਆਰਾ ਦਿੱਤਾ. ਪੰਜ ਬੰਦ ਕਰੋ ਲਈ ਔਸਤ ਦੇ ਨਤੀਜੇ
ਚੋਣ (ਜੋ ਕਿ ਇੱਕ ਸਪਸ਼ਟ ਤਸਵੀਰ ਦਿੰਦਾ ਹੈ) ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਈਵੀਐਮ ਲਈ 325 ਦੀ ਗਿਣਤੀ ਵੇਖਾਉਦਾ ਹੈ
ਸੰਸਦੀ 210 ਸੀਟ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਸੀਮਾ ਹੈ ਵੱਧ 55% ਹੋਰ “ਭਾਜਪਾ ਨੂੰ” ਦਿੱਤੀ ਹੈ
ਸੀਟ ਦੀ ਗਿਣਤੀ ਲਈ. ਇਹ ਕਿਸੇ ਵੀ ਸ਼ੱਕ ਨੂੰ ਬਹੁਤ ਵਿਸ਼ਾਲ ਫਰਕ ਪਰੇ ਲੱਗਦਾ ਹੈ
ਈਵੀਐਮ ਗਿਣਤੀ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਗ਼ਲਤ ਸਨ.
ਮੌਕਾ ਲਈ ਸੀਟ ਦੇ ਸੱਚੇ ਗਿਣਤੀ ਹੈ
ਦੁਆਰਾ ਪ੍ਰਾਪਤ ‘ਭਾਜਪਾ + “ਉਪਰਲੀ ਸੀਮਾ ਦੇ ਮੁਕਾਬਲੇ ਵੀ ਇੱਕ ਛੋਟਾ ਜਿਹਾ ਹੋਰ ਲਈ ਹੋਣ
ਸੰਸਦੀ ਇਹ ਐਗਜ਼ਿਟ ਪੋਲ ਦੀ ਗਿਣਤੀ ਦੇ ਕਿਸੇ ਵੀ ਇੱਕ ਲਈ ਵੀ ਘੱਟ 5% ਹੈ (ਜ ਵੀ
ਘੱਟ ਵੱਧ 1% ਹੀ ਚੁਣਿਆ ਭਰੋਸਾ ਦੇ ਡਿਗਰੀ ਦੇ ਆਧਾਰ ਤੇ
ਸੀਮਾ ਦੀ ਗਣਨਾ ਲਈ ਪੋਲਸਟਰ). ਵੀ ਅਵਾਰਾ ਐਗਜਿਟ ਪੋਲ ਦੇ ਲਈ
ਇਸ ਦਾ ਨਤੀਜਾ ਹੈ, ਜਿਸ ‘ਭਾਜਪਾ + “ਨੂੰ ਸਭ ਅਨੁਕੂਲ ਸੀ, ਇਸ ਲਈ ਮੌਕਾ” ਭਾਜਪਾ ਨੂੰ “
ਇਹ ਵੀ ਇੱਕ ਛੋਟੇ 297 ਵੱਧ ਹੋਰ ਸੀਟ ਮਿਲ ਰਹੀ ਵੀ ਘੱਟ 5% (ਜ 1%) ਹੈ.
ਲਈ “ਭਾਜਪਾ,” ਸੀਮਾ ਸੀਟ ਵੱਧ ਵੀ ਇੱਕ ਛੋਟਾ ਜਿਹਾ ਹੋਰ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ ਲਈ ਇੱਕ ਮੌਕਾ
ਗਿਣਤੀ ਦੇ ਸਾਰੇ ਪੰਜ ਬੰਦ ਕਰੋ ਚੋਣ ਦੇ ਲਈ ਸੀਟ ਲਈ (ਅਨੁਸਾਰ ਜ਼ੀਰੋ ਦੇ ਨੇੜੇ ਹੈ
ਸੰਭਾਵਨਾ ਦੇ ਕਾਨੂੰਨ). ਵਧੇਰੇ ਭਰੋਸੇਯੋਗ ਔਸਤ ਨੂੰ ਧਿਆਨ
ਇਸ ਦਾ ਨਤੀਜਾ, ਲਈ “ਭਾਜਪਾ,” ਮੌਕਾ ਦੀ ਉਪਰਲੀ ਸੀਮਾ ਦੇ ਮੁਕਾਬਲੇ 55% ਵੱਧ ਸੀਟ ਮਿਲ ਰਹੀ
210 ਸੰਸਦੀ ਜ਼ੀਰੋ ਦੇ ਨੇੜੇ ਹੈ. ਹੋਰ ਸ਼ਬਦ ਵਿੱਚ, ਸੰਭਾਵਨਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ
ਈਵੀਐਮ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਚੋਣ ਲਈ ਮਾਇਨੇ ਸਨ ਗ਼ਲਤ ਹੈ 100% ਦੇ ਨੇੜੇ ਹੈ.

ਇਸ ਦੀ ਬਜਾਇ
ਸ਼ਰਤ ਨਿਖੇਧੀ ਐਗਜ਼ਿਟ ਪੋਲ ਦੇ ਪੰਜ ਵਿਗਿਆਨਕ ਨਤੀਜੇ ਦੇ ਸਾਰੇ,
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ (ਕਮਿਸ਼ਨ) ਨੂੰ ਆਪਣੇ ਵਿਗਿਆਨਕ ਆਧਾਰ ਦਾ ਆਦਰ ਕੀਤਾ ਹੈ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ.
ਜੇਕਰ ਕਿਸੇ ਵੀ ਪੁਸ਼ਟੀ ਦੀ ਲੋੜ ਸੀ, ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਮਾਹਰ ਦੀ ਰਾਏ ਮੰਗੀ ਹੈ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ
ਦੀ, ਕੋਲਕਾਤਾ ਭਾਰਤੀ ਅੰਕੜਾ ਸੰਸਥਾਨ (ਦੇ ਵਿਕਾਸ ਵਿਚ ਪਾਇਨੀਅਰ
ਨਮੂਨਾ ਤਕਨੀਕ) ਜ ਹੋਰ ਕਿਸੇ ਵੀ ਅਦਾਰੇ ਜ ਪ੍ਰੋਫੈਸਰ ਦੇ
ਨਮੂਨਾ ਤਕਨੀਕ ਵਿਚ ਅੰਕੜੇ ਨੂੰ ਤਜਰਬਾ ਨਾਲ. ਪਰ, ਇਸ ਨੂੰ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਲੱਗਦਾ ਹੈ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ
ਇਸ ਨੂੰ ਕੀ ਨਾ ਕੀਤਾ. ਅਵਿਸ਼ਵਾਸ਼, ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਲਈ ਕੋਈ ਵਾਜਬੀਅਤ ਦੇਣ ਨਾ ਕੀਤਾ
ਵਿਗਿਆਨਕ ਨਤੀਜੇ ਨੂੰ ਰੱਦ! ਸਪੱਸ਼ਟ ਹੈ, ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਬਾਹਰ ਦਾ ਪਤਾ ਕਰਨ ਲਈ ਚਾਹੁੰਦੇ ਨਹੀ ਸੀ
ਇਸ ਦੇ ਸੰਵਿਧਾਨਕ ਜ਼ਿੰਮੇਵਾਰੀ ਅਤੇ ਸੱਚਾਈ ਵਿਚ ਅਸਫਲ ਰਹੀ ਹੈ. ਦੀ ਇਹ ਘਾਟ
ਇਹ ਵੀ ਸੱਚ ਨੂੰ ਬਾਹਰ ਲੱਭਣ ਵਿਚ ਦਿਲਚਸਪੀ ਦੀ ਨਿਰਪੱਖਤਾ ਸਵਾਲ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ.

ਨਿਰਪੱਖਤਾ ਨੂੰ ਹੋਰ ਸਵਾਲ ਹੈ, ਕਿਉਕਿ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਅਣਡਿੱਠਾ ਹੈ
ਜਾਣਕਾਰੀ ਦੇ ਹੇਰਾਫੇਰੀ, ਜੋ ਕਿ ਸਪਸ਼ਟ ਤੌਰ ਦਿਖਾਇਆ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਹੇਠ
ਇਲੈਕਟ੍ਰਾਨਿਕ ਯੰਤਰ ਇੱਕ ਸਾਫ ਸੰਭਾਵਨਾ ਹੈ ਅਤੇ ਵਾਰ-ਵਾਰ ਦਾਅਵਾ ਕੀਤਾ
ਈਵੀਐਮ ਨਾਲ ਛੇੜਛਾੜ ਨਾ ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਤੋਤਾ-ਵਰਗੇ:

1. ਸਾਈਬਰ
ਜੁਰਮ ਦੇ ਨਾਲ ਹੋਰ ਅਤੇ ਹੋਰ ਜਿਆਦਾ ਗ਼ਲਤ ਚਲਾਕ ਲੋਕ ਵੱਧ ਗਿਆ ਹੈ
, ਹੈਕਿੰਗ ਦਾ ਸਹਾਰਾ ਵਾਇਰਸ ਨੂੰ ਵਿਕਸਤ ਕਰਨ, ਧੱਕੇਸ਼ਾਹੀ ਆਦਿ

ਸਿਰਲੇਖ 2. ਡੈਕਨ ਕਰਾਨੀਕਲ ਨਾਲ Achom Debanish ਵਿੱਚ “ਈਵੀਐਮ ਅਸਲ ਸਬੂਤ ਹੈ ਛੇੜਛਾੜ ਹੋ” ਇਕ ਲੇਖ ਕਹਿੰਦਾ ਹੈ ਹੇਠ:

(ੳ) “ਬੀਬੀਸੀ ਦੀ ਰਿਪੋਰਟ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਇੱਕ ਨੂੰ ਇੱਕ ਘਰ-ਕੀਤੀ ਜੰਤਰ ਨੂੰ ਨਾਲ ਜੁੜਨ ਦੇ ਬਾਅਦ
ਈਵੀਐਮ, ਮਿਸ਼ੀਗਨ ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਖੋਜਕਾਰ ਨਤੀਜੇ ਨੂੰ ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ਦੇ ਯੋਗ ਸਨ
ਇੱਕ ਮੋਬਾਈਲ ਫੋਨ ਤੱਕ ਨੂੰ ਪਾਠ ਸੁਨੇਹੇ ਭੇਜਣ. “

(ਅ) “ਹਰੀ ਕ੍ਰਿਸ਼ਨਾ
Vemuru ਪ੍ਰਸਾਦ, ਹੈਦਰਾਬਾਦ ਸਥਿਤ Netindia ਪ੍ਰਾਈਵੇਟ ਲਿਮਟਿਡ ਦੇ ਮੈਨੇਜਿੰਗ ਡਾਇਰੈਕਟਰ, ਇੱਕ
ਤਕਨਾਲੋਜੀ ਹੱਲ ਫਰਮ, ਦਿਖਾਇਆ ਗਿਆ ਹੈ ਕਿ ਇੱਕ ਈਵੀਐਮ ਸਥਾਨਕ ਟੀ ਵੀ ‘ਤੇ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ
rigged. “ਇਹ ਸੰਭਵ ਹੈ ਕਿ ਇੱਕ ਦੇ ਉਤਸ਼ਾਹਿਤ ਸਮਰਥਕ ਭਾਜਪਾ ਨੇ ਇਸ ਨੂੰ ਦੇਖਿਆ ਸੀ
ਅਤੇ (ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਅਤੇ ਭਾਜਪਾ ਦੇ ਗਿਆਨ ਨੂੰ ਬਿਨਾ) ਹੈਕਿੰਗ ਵਿਚ ਸਫ਼ਲ ਹੋ ਗਏ ਅਤੇ
ਈਵੀਐਮ ਨਿਰਦੇਸ਼ ਮਰੋੜ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ‘ਚ ਗਿਣਤੀ ਦੇ ਲਈ ਵਰਤਿਆ.

(C) ਸ੍ਰੀ Vemuru ਇਹ ਦਾਅਵਾ ਵੀ ਕੀਤਾ ਹੈ ਕਿ “ਈਵੀਐਮ ਚਿੱਪ ਤਬਦੀਲ ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ
ਇੱਕ ਨਜ਼ਰ-ਸਮਾਨ ਅਤੇ ਚੁੱਪ ਦੀ ਹਦਾਇਤ ਦੇ ਨਾਲ ਵੋਟ ਦੇ ਇੱਕ ਪ੍ਰਤੀਸ਼ਤ ਦੇ ਚੋਰੀ ਕਰਨ
ਇੱਕ ਚੁਣੇ ਹੋਏ ਉਮੀਦਵਾਰ ਦੇ ਹੱਕ ‘ਚ. “ਕਮਿਸ਼ਨ ਦਾ ਕੋਈ ਵੀ ਚਲਾਕ ਅਤੇ ਬੇਈਮਾਨ ਸਟਾਫ,
ਜੇ ਉਹ / ਉਸ ਨੂੰ ਕਰਨ ਲਈ ਚਾਹੁੰਦਾ ਸੀ ਈਵੀਐਮ ਦੇ ਇਕੋ ਨਿਗਰਾਨ, ਇਸ ਨੂੰ ਕੀ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ. ਇਹ ਇਸ ਲਈ ਹੈ
ਕੋਈ ਉਚਿਤ ਸਰਕਾਰ ਦੇ ਦਫ਼ਤਰ ਨੂੰ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਸੰਭਾਵਨਾ ਹੈ ਭ੍ਰਿਸ਼ਟਾਚਾਰ-ਮੁਕਤ ਹੋਣ ਦਾ.

3. “ਸਿੰਥੈਟਿਕ (ਫਿੰਗਰ) ਪ੍ਰਿੰਟਸ ਸਮਾਰਟ ਫੋਨ ਨੂੰ ਅਨਲੌਕ ਕਰ ਸਕਦਾ ਵਾਰ ਦੇ 65%.” (ਭਾਰਤ ਦੇ ਟਾਈਮਜ਼, 16-04-17).

4. ਦਿੱਲੀ ਵਿਧਾਨ ਸਭਾ ਵਿਚ ‘ਆਪ’ ਨੂੰ ਇਕ ਈਵੀਐਮ ਛੇੜਛਾੜ ਦਾ ਤਰੀਕਾ ਦੱਸੋ ਦਾ ਸਬੂਤ ਦਿੱਤਾ ਹੈ.

5. “McAfee ਕੇ ਇੱਕ ਨਵ ਦੀ ਰਿਪੋਰਟ ਦੱਸਦੀ ਹੈ ਕਿ 176 ਸਾਈਬਰ-ਖਤਰੇ ਨੂੰ ਸਨ
ਅਤੇ ਹਰ ਮਿੰਟ ਖੋਜਿਆ (ਭਾਵ, ਲਗਭਗ ਤਿੰਨ ਹਰ ਦੂਜਾ) 88 ਫੀਸਦੀ
ਵਿਕਾਸ ਅਤੇ 99 ਫੀਸਦੀ ransomeware ਮੋਬਾਈਲ ਮਾਲਵੇਅਰ ਵਿਕਾਸ ਦਰ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ,
2016 ਦੇ ਅੰਤ “(DeccanChronicle, 12.04.17) ਦੁਆਰਾ ਖੋਜਿਆ.

ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਸੀ
ਸਾਈਬਰ-ਖਤਰੇ ਨੂੰ ਹਰ ਦੂਜਾ ਕੋਲ ਕਰਨ ਲਈ ਇੱਕ ਮੂਰਖ ਦਾ ਸਬੂਤ ਸਿਸਟਮ ਲਈ ਬਾਹਰ ਦੇਖਦੇ
24/7 ਅਤੇ ਅਜਿਹੇ ਸਾਰੇ ਖਤਰੇ ਨੂੰ ਹਰਾ? ਜੇ ਨਾ, ਸਾਈਬਰ ਅਪਰਾਧੀ ਹੈ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ
ਈਵੀਐਮ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਚੋਣ ਦੀ ਗਿਣਤੀ ਲਈ ਹੇਰਾਫੇਰੀ.

ਇਹ ਸਪਸ਼ਟ ਨਹੀ ਹੈ,
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਕਿ ਕੀ ਵਰਤਿਆ ਈਵੀਐਮ ਨੂੰ ਯਕੀਨੀ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਵਿਚ ਚੋਣ ਵਿਚ ਸਫ਼ਲ ਹੋ ਗਿਆ ਸੀ
(ਦੌਰਾਨ ਕਿਸੇ ਵੀ ਵੇਲੇ ਛਲ ਦੇ ਸਾਰੇ ਕਿਸਮ ਦਾ ਸਾਮ੍ਹਣਾ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ
ਦੀ ਚੋਣ) ਹੈ, ਜੋ ਮਾਹਰ ਦੇ ਸਾਰੇ ਕਿਸਮ ਨੂੰ ਸੰਤੁਸ਼ਟ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ. ਵੀ, ਜੇ ਇਸ ਨੂੰ ਸੀ
100% ਸਫਲ ਹੋ (ਜੋ ਕਿ ਸ਼ੱਕੀ ਹੈ), ਦੇ ਕਿਸੇ ਵੀ ਚਲਾਕ ਅਤੇ ਬੇਈਮਾਨ ਸਟਾਫ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ, ਈਵੀਐਮ ਦੇ ਇਕੋ ਨਿਗਰਾਨ, ਜੇ ਉਹ / ਉਸ ਨੂੰ ਚਾਹੁੰਦਾ ਸੀ ਹੇਰਾਫੇਰੀ ਹੈ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ
ਕਰਨ ਲਈ. ਇਹ ਜਰੂਰੀ ਹੈ ਰਿਸ਼ਵਤ-ਸਖ਼ੀ ਹਨ, ਅਤੇ ਅਨਸਰ ਦੀ ਕੋਈ ਘਾਟ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ
ਦੇਸ਼ ਵਿਚ.

ਇਹ ਸਾਰੇ ਦਿਖਾ ਦੇ, ਜੋ ਕਿ ਇਲੈਕਟ੍ਰਾਨਿਕ ਹੇਰਾਫੇਰੀ
ਯੰਤਰ ਇੱਕ ਸਾਫ ਸੰਭਾਵਨਾ ਹੈ. ਇਹ ਸਰਕਾਰ ਦੀ ਦੁਆਰਾ ਸਹਿਯੋਗੀ ਹੈ
ਆਧਾਰ ਲੀਕ ਦੇ ਸਬੰਧ ਵਿਚ ਸੁਪਰੀਮ ਕੋਰਟ (ਐਸਸੀ), ਦਾਖਲੇ, ਜੋ ਕਿ
ਕੋਈ ਤਕਨਾਲੋਜੀ 100% ਸੰਪੂਰਣ ਹੈ. ਇਹ ਸਾਰੇ ਮਖੌਲ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦਾ ਦਾਅਵਾ ਹੈ ਕਿ ਈ.ਵੀ.ਐਮ.
ਨਾਲ ਛੇੜਛਾੜ ਨਾ ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ. S-ਵਾਰ ਇਨਕਾਰ ਕੀ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦੀ ਪੜਤਾਲ ਕਰਨ ਲਈ
ਈਵੀਐਮ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ‘ਚ ਵਰਤਿਆ ਗਿਆ ਸੀ, ਜੋ ਕਿ ਦਿਖਾ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨਾ ਹੇਰਾਫੇਰੀ ਕੀਤੀ ਜਾ ਸਕਦੀ ਹੈ
ਨਿਰਪੱਖ.
ਇਹ ਜਰੂਰੀ ਹੈ ਕਿ ਅਜਿਹੇ ਦੀ ਸੰਭਾਵਨਾ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਹੇਰਾਫੇਰੀ ਦੇ ਕੇ ਸਿਰਫ ਸਵੀਕਾਰ ਨਹੀ ਹੈ, ਪਰ ਇਹ ਵੀ ਅਸਿੱਧੇ ਦੀ ਵਰਤੋ ਕੀਤੀ ਹੈ
ਇਸ ਨੂੰ ਦੇ ਕੇ (ਹੇਠ ਦਰਸਾਇਆ ਵਾਰ-ਵਾਰ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ). ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਇੱਕ ਪੇਸ਼ ਕਰਨ ਦਾ ਵਾਅਦਾ ਕੀਤਾ
ਪੇਪਰ ਟਰੇਲ 2019 ਵਿਚ (ਏ ਟੀ) ਈਵੀਐਮ ਲਈ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਇਸ ਨੂੰ ਚੈੱਕ ਕਰਨ ਲਈ ਯੋਗ ਕਰਨ ਜਾਵੇਗਾ
ਕਿਸੇ ਇਲੈਕਟ੍ਰਾਨਿਕ ਹੇਰਾਫੇਰੀ ਹੋਈ ਹੈ ਕਿ ਕੀ. ਜੇ ਈਵੀਐਮ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਵਿੱਚ ਵਰਤਿਆ
ਚੋਣ ਹੇਰਾਫੇਰੀ ਨਾ ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਇਸ ਨਾਲ ਧਰਮੀ ਹੈ, ਨਾ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ
ਨੂੰ ਤਬਦੀਲ. ਹੈਰਾਨੀ ਦੀ ਗੱਲ ਹੈ, ਸਵੈ-ਦਾਖਲਾ ਦੇ ਇਸ ਅਸਿੱਧੇ ਸੰਭਾਵਨਾ ਦੇ ਬਾਵਜੂਦ
ਹੇਰਾਫੇਰੀ ਦੇ, ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਚੈੱਕ ਨਾ ਸੀ ਇਹ ਹੋਇਆ ਹੈ ਕਿ ਕੀ ਅਤੇ ਰਿਪੋਰਟ
ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਚੋਣਾ ਦੇ ਦਿੱਤੀ ਹੈ, ਜਦ ਵੀ ਇਸ ਨੂੰ ਬਹੁਤ ਹੀ ਸਵਾਲ ਵਿੱਚ ਨਤੀਜੇ. ਇਸ ਦੀ ਬਜਾਇ,
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਤੋਤਾ-ਵਰਗੇ ਕਿਹਾ ਹੈ ਕਿ ਈ.ਵੀ.ਐਮ. ਛੇੜਛਾੜ-ਸਬੂਤ ਹਨ ਤੇ ਰੱਖਦਾ ਹੈ. ਇਹ ਡਬਲ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਇੱਕ ਦਾ ਅਧਿਕਾਰ ਵਰਗੇ ਸੋਚ ਦੇ ਲਾਇਕ ਨਹੀ ਹੈ.

ਇਸ ਦੇ ਨਾਲ, ਇਸ ਨੂੰ ਲੱਗਦਾ ਹੈ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ 2019 ਦੇ ਲਈ ਇਸ ਦੇ ਯੋਜਨਾ ਬਾਰੇ (ਦੂਰ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ) ਗੱਲ ਕਰ ਰਿਹਾ ਹੈ
ਮੁੱਖ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਈਵੀਐਮ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਬਹੁਤ ਹੀ ਇਤਰਾਜ਼ਯੋਗ ਗਿਣਤੀ ਤੱਕ ਧਿਆਨ ਹਟਾਉਣ ਲਈ
ਚੋਣ ਹੱਥ ‘ਤੇ ਬਹੁਤ ਮਹੱਤਵਪੂਰਨ ਮੁੱਦੇ ਨੂੰ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਹੈ.

ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਲਿਖਿਆ
ਕਾਨੂੰਨ ਮੰਤਰੀ ਨੂੰ ਯਕੀਨੀ ਕਰਨ ਦੀ ਲੋੜ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਮਸ਼ੀਨ, ਜੋ ਕਿ ਏ ਟੀ ਨੂੰ ਵੰਡਣ
“ਸੁਰੱਖਿਅਤ ਰੱਖਿਆ s ਵਿੱਚ ਵੋਟਿੰਗ ਅਤੇ ਵੋਟਰ ਭਰੋਸਾ ਦੀ ਇਕਸਾਰਤਾ ਦੀ ਹੈ
ਕਾਰਜ ਨੂੰ ਮਜ਼ਬੂਤ ​​ਕਰ ਰਿਹਾ ਹੈ, “ਰੁਪਏ ਦਾ andsought ਮਨਜ਼ੂਰੀ. ਲਈ 3.174 ਕਰੋੜ
ਨਵ ਮਸ਼ੀਨ (ਭਾਰਤ ਦੇ ਟਾਈਮਜ਼, 17.04.17) ਦੀ ਖਰੀਦ. ਵਰਤਿਆ ਈਵੀਐਮ ਜੇ
ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ‘ਚ ਵੋਟਿੰਗ ਦੀ ਇਕਸਾਰਤਾ ਦੀ ਰੱਖਿਆ ਕੀਤੀ ਸੀ, ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਹੈ, ਨਾ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ
ਫੰਡ ਦੇ ਲਈ ਇਸ ਨੂੰ ਵੱਡੀ ਮੰਗ ਹੈ ਧਰਮੀ. ਇਹ ਇੱਕ ਹੋਰ ਅਸਿੱਧੇ ਨਾ ਹੈ
ਦਾਖਲਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਈ.ਵੀ.ਐਮ. ਵਰਤਿਆ ਛੇੜਛਾੜ-ਸਬੂਤ ਨਾ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਵਿਚ ਚੋਣ?

ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦਾ ਕਹਿਣਾ ਹੈ ਕਿ ਇਹ ਨਵ ਮਸ਼ੀਨ ਨੂੰ ਵੀ ਇੱਕ ਸਵੈ ਡਾਇਗਨੌਸਟਿਕ ਨਾਲ ਲੈਸ ਹਨ
ਮਸ਼ੀਨ ਦੀ ਸੱਚੀ ਪ੍ਰਮਾਣਿਕਤਾ ਲਈ ਸਿਸਟਮ ਨੂੰ. ਇਸ ਨੂੰ ਨਾ ਕਰਦਾ ਹੈ
ਮਤਲਬ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਪੁਰਾਣੇ ਈ.ਵੀ.ਐਮ. ਸੱਚਾ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ‘ਚ ਵਰਤਿਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ
ਪ੍ਰਮਾਣਿਤ? ਇਸ ਦਾ ਮਤਲਬ ਇਹ ਹੈ ਕਿ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੇ ਵੀ ਇਸ ਦੀ ਵਰਤੋ ਕਰ ਰਿਹਾ ਹੈ,
ਈਵੀਐਮ ਵਿਚ ਨੁਕਸ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ‘ਚ ਖਰਚ ਵੱਡੀ ਮਾਤਰਾ ਨੂੰ ਜਾਇਜ਼ ਕਰਨ ਲਈ ਵਰਤਿਆ
ਨਵ ਮਸ਼ੀਨ ‘ਤੇ?

“ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ, ਜੋ ਕਿ ਅਗਲੀ ਪੀੜ੍ਹੀ ਨੂੰ ਈ.ਵੀ.ਐਮ. ਨੂੰ ਖਰੀਦਣ ਲਈ ਸੈੱਟ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ
ਬਣ ਲਈ “ਪਲ ਦੀ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਇਸ ਨਾਲ ਰੱਦੋਬਦਲ inoperable ਕੀਤੀ ਰਹੇ ਹਨ”
2019 (ਭਾਰਤ ਦੇ ਟਾਈਮਜ਼, 03.04.17) ਵਿੱਚ ਵਰਤਣ. ਇਹ ਬਹੁਤ ਛੇਤੀ ਬਾਤ
ਭਵਿੱਖ ਬਾਰੇ ਸਭ ਤੱਕ ਧਿਆਨ ਭਟਕਾਉਣ ਦੀ ਇਕ ਹੋਰ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਹੈ
ਹੱਥ ‘ਤੇ ਅਹਿਮ ਸਵਾਲ ਹੈ ਕਿ ਕੀ ਈਵੀਐਮ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਚੋਣ ਵਿਚ ਇਸਤੇਮਾਲ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ
ਨਾਲ ਛੇੜਛਾੜ.

“ਚੋਣ ਦੀ ਇਕਸਾਰਤਾ ਈਵੀਐਮ ਵਿੱਚ ਵਰਤਿਆ ਜਾ ਕਰਨ ਲਈ
“ਸਭ ਹਿੱਸੇਦਾਰ ਦੀ ਪੂਰੀ ਸੰਤੁਸ਼ਟੀ ਹੋਣ ਲਈ ਸਾਬਤ ਕੀਤਾ ਕਿ ਇੱਕ ਦੇ ਕੇ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ (ਭਾਰਤ ਦੇ ਟਾਈਮਜ਼, 02.04.17) ਦੀ ਟੀਮ. ਇਸ ਦੀ ਇਕ ਹੋਰ ਮਿਸਾਲ ਹੈ
ਕ੍ਰਮ ਵਿੱਚ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦੇ ਭਵਿੱਖ aboutthe ਗੱਲ ਗ਼ਲਤ ਧਿਆਨ ਹਟਾਉਣ ਲਈ
ਈਵੀਐਮ ਲਈ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਚੋਣ ਗਿਣਤੀ.

ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਸਿਆਸੀ ਕਰਨ ਲਈ ਇੱਕ ਚੁਣੌਤੀ ਦਿੱਤੀ
ਧਿਰ, ਵਿਗਿਆਨੀ ਅਤੇ ਤਕਨੀਕੀ ਮਾਹਿਰ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਈ.ਵੀ.ਐਮ. ਸਾਬਤ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ
ਹੁਣ ਦੇ ਨਾਲ ਛੇੜਛਾੜ. (ਭਾਰਤ ਦੇ ਟਾਈਮਜ਼, 13.04.17). ਇਹ ਅਜੇ ਵੀ ਇਕ ਹੋਰ ਹੈ
ਗਲਤ ਹੈ ਈਵੀਐਮ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਤੱਕ ਦਾ ਧਿਆਨ ਮੋੜ ਦੀ ਮਿਸਾਲ ਗਿਣਤੀ ਲਈ
ਚੋਣ. ਇਲਾਵਾ, ਇਸ ਸਮਾਰੋਹ ਚੁਣੌਤੀ, ਫ਼ੈਸਲਾਕੁੰਨ ਦੇ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਹਫ਼ਤੇ ਬਾਅਦ
ਸ਼ੱਕ ਹੈ, ਅਹਿਮ ਸਵਾਲ ਹੈ ਕਿ ਕੀ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਹੁਣ ਈਵੀਐਮ ਕੀਤਾ ਹੈ ਉਠਾਉਦਾ ਹੈ
ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼, ਜੋ ਕਿ ਇਸ ਦੇ ਹਿਰਾਸਤ ਵਿੱਚ ਸਨ, “inoperable” ਪਲ ਦੀ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਵਿੱਚ ਵਰਤਿਆ
ਈਵੀਐਮ ਦੀ ਅਗਲੀ ਪੀੜ੍ਹੀ ਦੇ ਇੱਕ ਗੁਣਵੱਤਾ - ਇਸ ਦੇ ਨਾਲ ਰੱਦੋਬਦਲ ਕੀਤੀ ਰਹੇ ਹਨ.
ਜੇ ਅਜਿਹਾ ਹੈ, ਜਿੱਥੇ ਪੁਰਾਣੇ ਈਵੀਐਮ ਬਿਨਾ ਇਸ ਦੀ ਗੁਣਵੱਤਾ, ਜਿਸ ਵਿੱਚ ਵਰਤੇ ਗਏ ਸਨ ਹਨ
ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਚੋਣ? ਦੋਨੋ ਕੀ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਇਹ ਸਵਾਲ ਬੇਈਮਾਨੀ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ.

2013 ਵਿੱਚ, ਸੁਪਰੀਮ ਕੋਰਟ ਪੜਾਅਵਾਰ ਢੰਗ ਨਾਲ ਏ ਟੀ ਪੇਸ਼ ਕਰਨ ਲਈ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦੇ ਨਿਰਦੇਸ਼ ਦਿੱਤੇ.
ਚਿਦੰਬਰਮ ਨੇ ਇਸ ਫੈਸਲੇ ਦੇ ਵੇਰਵੇ ਦਾ ਜ਼ਿਕਰ ਕੀਤਾ ਅਤੇ ਕਿਹਾ ਕਿ “ਇੱਕ
ਨੇ ਕਿਹਾ ਹੈ ਕਿ ਮਾਹਰ ਦੀ ਟੀਮ ਇਕ ਵਿਆਪਕ ਰਿਪੋਰਟ ਦਾਖਲ ਕੀਤੀ ਸੀ
ਈਵੀਐਮ ਹਾਰਡਵੇਅਰ ਦੇ ਨਾਲ ਨਾਲ ਸਾਫਟਵੇਅਰ ਕਮਜ਼ੋਰ ਹੈ ਅਤੇ ਲਈ ਬਣੀ ਵਿੱਚ ਵਰਤਿਆ ਜਾਦਾ ਹੈ
ਛੇੜਛਾੜ “. ਉਸ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੇ ਮੰਨਿਆ ਸੀ ਕਿ ਮਸ਼ੀਨ ਵੀ ਨਹੀ ਸੀ
ਮੁਕੰਮਲ ਅਤੇ ਕਾਗਜ਼ ਟਰੇਲ “(ਟਾਈਮਜ਼ ਆਫ ਇੰਡੀਆ ਦੀ ਪੇਸ਼ ਕਰਨ ਦੀ ਸਹਿਮਤੀ ਦੇ ਦਿੱਤੀ,
030417). ਇਸ ਕਰਕੇ ਇਹ ਈਵੀਐਮ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਵਿਚ ਪੇਪਰ ਟਰੇਲ ਬਿਨਾ ਵਰਤਿਆ ਗਿਆ ਸੀ
ਚੋਣ (ਕੁਝ ਸੀਟ ਨੂੰ ਛੱਡ ਕੇ), ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ, ਜੋ ਕਿ ਉਹ ਜਾਣਦਾ ਸੀ
ਮੁਕੰਮਲ. ਇਸ ਜਾਗਰੂਕਤਾ ਦੇ ਬਾਵਜੂਦ, ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੇ ਵਾਰ-ਵਾਰ ਦਾਅਵਾ ਕੀਤਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਈ.ਵੀ.ਐਮ.
ਨਾਲ ਛੇੜਛਾੜ ਨਾ ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ. ਇਹ ਖਰਿਆਈ ਦਾ ਡਬਲ ਬੋਲਣ ਸਵਾਲ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਅਤੇ ਨਿਰਪੱਖਤਾ ਦੀ.

ਇਹ ਸਾਰੇ ਦਾ ਸੰਕੇਤ ਇਮਾਨਦਾਰੀ ਦੀ ਘਾਟ ਹੈ ਅਤੇ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਵਚਨਬੱਧਤਾ ਵਿਚ ਚੋਣ ਨਤੀਜੇ ਦੀ ਸ਼ੁੱਧਤਾ ਯਕੀਨੀ ਕਰਨ ਲਈ. ਇਹ ਇਸ ਲਈ ਹੈ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦੇ ਇਨਕਾਰ ਦੇ ਕੇ ਪੁਸ਼ਟੀ ਕੀਤੀ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਈਵੀਐਮ ਵਿਚ ਗਿਣਤੀ ਦੀ ਸ਼ੁੱਧਤਾ ਚੈੱਕ ਕਰਨ ਲਈ
ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਸੰਭਾਵਨਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਈਵੀਐਮ ਲਈ ਚੋਣ ਗਿਣਤੀ ਦੇ ਬਾਵਜੂਦ ਚੋਣ
ਗਲਤ ਹੈ 100% ਦੇ ਨੇੜੇ ਹੈ ਗਏ ਸਨ (ਤਸਵੀਰ ਦੇਖੋ) ਅਤੇ ਦੇ ਬਾਰੇ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦੇ ਜਾਗਰੂਕਤਾ
ਈਵੀਐਮ (ਪਿਛਲੇ ਪੈਰਾ) ਦੇ ਹੇਰਾਫੇਰੀ ਦੀ ਸੰਭਾਵਨਾ. ਇਸ ਨੇ ਇਹ ਵੀ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦੇ ਪੱਖਪਾਤ ਸਵਾਲ.
ਸ਼ੁੱਧਤਾ ਦੀ ਕਮੀ ਦਾ ਚਾਰ ਸਾਲ ਵੀ ਜਾਰੀ ਰਹੇ
ਸੁਪਰੀਮ ਕੋਰਟ ਦੇ ਹੁਕਮ ਨੂੰ ਇੱਕ ਹੋਰ ਸਹੀ ਈਵੀਐਮ ‘ਤੇ, ਪਰ ਬਾਅਦ ਤਾਇਨਾਤ ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ
ਵੱਡੇ ਪੈਮਾਨੇ. ਕੀ ਬੁਰਾ ਹੈ ਨੁਕਸਾਨ ਦਾਇਕ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਇਹ ਹੈ ਜੋ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਵਰਤਣ ਦੀ ਯੋਜਨਾ ਬਣਾ ਰਿਹਾ ਹੈ
ਇਹ “ਹੋਰ ਸਹੀ” ਸਿਰਫ 2019 ਵਿਚ ਈਵੀਐਮ, ਪਰ ਇਹ ਮਸ਼ੀਨ ਹੋ ਜਾਵੇਗਾ
ਭਾਰਤ ਇਲੈਕਟ੍ਰਾਨਿਕਸ ਅਤੇ ਭਾਰਤ ਦੇ ਇਲੈਕਟ੍ਰਾਨਿਕਸ ਕਾਰਪੋਰੇਸ਼ਨ ਦੁਆਰਾ ਨਿਰਮਿਤ ਹੈ
(ਭਾਰਤ ਦੇ ਟਾਈਮਜ਼, 02.04.17). ਇਸ ਮੁਲਤਵੀ ਕਰਨ ਦੀ ਬਜਾਏ
ਕੁਝ ਰਾਜ ਹੈ, ਜਿਸ ਦੇ ਲਈ ਇਸ ਨੂੰ ਹੈ ਦੇ ਕਾਰਨ ਚੋਣ ਦੌਰਾਨ ਸਹੀ ਨੂੰ ਯਕੀਨੀ ਬਣਾਉਣ
ਅਗਲੇ ਦੋ ਸਾਲ ਦੀ ਮਿਆਦ? ਉਠਾਉਦਾ ਦੀ ਨਿਰਪੱਖਤਾ ਕਮਿਸ਼ਨ ਬਾਰੇ ਸ਼ੱਕ
ਕੀ ਇਸ ਨੂੰ ਸਵਾਲ ਵਿੱਚ ਇਹ ਛਲ ਕਰਨ ਲਈ ਇਸ ਦੇ ਨਜ਼ਰ ਨੂੰ ਬੰਦ ਕਰੇਗਾ
, ਚੋਣ ਕਰਨ ਲਈ ਕੁਝ ਪੱਖ ਦੀ ਮਦਦ ਵਿਚ 2019 ਵਿਚ ਆਮ ਚੋਣ ਦੇ ਨਾਲ
ਮਨ.

ਉਲਝਣ ਕਾਰਵਾਈ (ਜ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੇ ਨਾ) ਨਾਲ ਬੰਦ ਨਾ ਕਰਦੇ
ਇਹ. ਨਿਊ ਈਵੀਐਮ ‘ਤਕਨੀਕੀ ਵੋਟ ਦਾ ਇੱਕ ਦਸਤਾਵੇਜ਼ ਗਿਣਤੀ ਸਕਦੇ ਹਨ “. ਵੀ
ਪ੍ਰਕਾਸ਼ਿਤ ਨਤੀਜੇ ਦੇ inaccuracy ਬਾਰੇ ਸ਼ਿਕਾਇਤ ਮਿਲ ਰਹੀ ਹੈ ਅੱਗੇ,
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦਸਤਾਵੇਜ਼ ਗਿਣਤੀ ਨੂੰ ਇੱਕ ਜ਼ਿੰਮੇਵਾਰ ਦੀ ਤੁਲਨਾ ਨਤੀਜੇ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ
ਗਿਣਤੀ ਹੈ, ਜਿਸ ਲਈ ਨਵ ਈਵੀਐਮ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ‘ਚ 30 ਸੀਟ ਲਈ ਵਰਤਿਆ ਗਿਆ ਸੀ ਦੇ ਨਾਲ ਈਵੀਐਮ
ਸ਼ੁੱਧਤਾ ਚੈੱਕ ਕਰਨ ਲਈ. ਪੈਟਰਨ ਵੋਟਿੰਗ ਦੀ ਗਿਣਤੀ ਦੇ ਕੇ ਦਿਖਾਇਆ ਵੱਖਰੇ ਹੋ ਈਵੀਐਮ
30 ਸੀਟ ਲਈ ਦਸਤਾਵੇਜ਼ ਵਿੱਚ, ਦੀ ਸੰਭਾਵਨਾ ਤੱਕ ਜਿਹੜੇ ਤੱਕ
ਹੇਰਾਫੇਰੀ ਦੀ ਪੁਸ਼ਟੀ ਕੀਤੀ ਹੈ. ਪਰ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੇ ਇਹ ਚੈਕ ਬਾਹਰ ਲੈ ਨਾ ਸੀ, ਵੀ,
ਸ਼ਿਕਾਇਤ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ ਦੇ ਬਾਅਦ. ਇਸੇ? ਇਹ ਵੀ ਨਿਰਪੱਖਤਾ ਸਵਾਲ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ.

ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੇ ਪਿਛਲੇ ਸਫ਼ੇ ਹਨ ਸਾਰੇ ਸਵਾਲ ਲਈ ਪੱਕਾ ਜਵਾਬ ਪ੍ਰਦਾਨ ਕਰਨ ਲਈ.

“ਦਿੱਲੀ ਦੇ ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਅਰਵਿੰਦ ਕੇਜਰੀਵਾਲ ਨੇ ਕਿਹਾ ਹੈ ਕਿ ਉਹ ਦੋ ਮਿਲਦਾ ਹੈ
ਤਿੰਨ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨਰ, ਕਿਉਕਿ ਉਸ ਨੇ ਕੀ ਹੋਣ ਦਾ ਦਾਅਵਾ ਕਰਦਾ ਹੈ ਦੇ ਪੱਖਪਾਤੀ ਹਨ,
ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਨਰਿੰਦਰ ਮੋਦੀ ਸੰਸਦ ਨੂੰ ਦੇ ਇੱਕ ਦੇ ਨੇੜਤਾ ਕਰਨ ਲਈ ਅਤੇ ਹੋਰ ਦੇ
ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਸ਼ਿਵਰਾਜ ਸਿੰਘ ਚੌਹਾਨ ਨੇ “(ਟਾਈਮਜ਼ ਆਫ ਇੰਡੀਆ ਦੀ, 19.04.17).
ਇਸ ਦਾ ਕਾਰਨ ਇਹ ਦੋਸ਼ ਸ਼ੱਕ ਦੀ ਤਫ਼ਤੀਸ਼ ਕਰਨ ਦੀ ਲੋੜ ਹੈ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੇ ਕਈ ਵਾਰ ਦੀ ਨਿਰਪੱਖਤਾ ਦੇ ਇੱਕ ਨੰਬਰ ਵਿੱਚ ਉਭਾਰਿਆ ਗਿਆ ਹੈ
ਪੈਰੇ. ਅਜਿਹੀ ਇੱਕ ਪੜਤਾਲ ਨੂੰ ਵੀ ਵੱਖ-ਵੱਖ ਅੰਕ ਨੂੰ ਕਵਰ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ
ਪਿਛਲੇ ਉਠਾਇਆ. ਇਹ ਸੀ ਬੀ ਆਈ ਦੁਆਰਾ ਤਫ਼ਤੀਸ਼ ਕੀਤਾ ਜਾਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ, ਜਿਸ ਨੂੰ ਨਾ ਕੀਤਾ ਗਿਆ
ਸਰਕਾਰ ਨੇ ਸੁਪਰੀਮ ਕੋਰਟ ਦੇ ਇੱਕ ਫਟਕਾਰ ਲੇਬਲ. ਇਕ ਹੋਰ ਕਾਰਨ
ਭਰੋਸੇਯੋਗਤਾ ਦੀ ਸੀ ਬੀ ਆਈ ਦੀ ਘਾਟ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ “ਦੋ ਸੀਬੀਆਈ ਦੇ ਸਾਬਕਾ ਨਿਰਦੇਸ਼ਕ ਹਨ
ਭ੍ਰਿਸ਼ਟਾਚਾਰ ਲਈ ਮੁਕੱਦਮੇ ਦਾ ਸਾਹਮਣਾ ਕਰਨ ਦੀ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ‘ਚ ਰੱਖਿਆ, ਕਾਲੇ ਧਨ ਨੂੰ ਸਫੈਦ,
ਅਤੇ scuttling ਗੰਭੀਰ ਸੁਪਰੀਮ ਕੋਰਟ-ਜ਼ਰੂਰੀ ਪੜਤਾਲ “(ਡੈਕਨ ਕਰਾਨੀਕਲ,
280417).

ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦਾ ਦਾਅਵਾ ਹੈ ਕਿ “ਨਤੀਜੇ ਦੇ ਇੱਕ ਵਿਸ਼ਲੇਸ਼ਣ ਪ੍ਰਾਪਤ ਤੱਕ
ਗੋਆ ਵਿਚ 40 ਵਿਧਾਨ ਸਭਾ ਵਿਚ ਸਾਰੇ 33 ਸੰਸਦੀ ਭਰ ਵਿੱਚ ਵਰਤਿਆ VVPATs ਅਤੇ
ਪੰਜਾਬ ਦੇ ਨਾਲ ਹੀ ਬਾਹਰ ਰੱਖ ਦਿੱਤਾ ਈਵੀਐਮ ਕਾਗਜ਼ ਬਿਨਾ ਜਿਹਾ ਪਰਿਵਰਤਨ ਨਾਲ ਨਤੀਜੇ ਪਤਾ ਲੱਗਦਾ ਹੈ
ਟ੍ਰੇਲ “(ਟਾਈਮਜ਼ ਆਫ ਇੰਡੀਆ ਦੀ, 18.4.17).

ਬਹੁਤੇ ਮਹੱਤਵਪੂਰਨ, ਇਸ ਨੂੰ ਹੈ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਹੈਰਾਨੀ ਦੀ ਗੱਲ ਮੁਹੱਈਆ ਨਾ ਕੀਤਾ, ਜੋ ਕਿ ਨਤੀਜੇ VVPATs ਤੱਕ ਪ੍ਰਾਪਤ
ਜਿਸ ਵਿੱਚ ਇਸ ਨੂੰ ਹੈ, ਕਿਉਕਿ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਸਮੇਤ ਰਾਜ ਦੇ ਹੋਰ ਜ਼ਰੂਰੀ ਲਈ ਵਰਤਿਆ ਗਿਆ ਸੀ
ਈਵੀਐਮ ਗਿਣਤੀ ਬਹੁਤ ਹੀ ਇਤਰਾਜ਼ਯੋਗ ਸਨ. ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਇਸ ਕੀਤੀ ਹੈ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ
ਨੂੰ ਵੀ ਵਿਸ਼ਲੇਸ਼ਣ ਲਈ ਇਹ ਰਾਜ. ਜੇ ਅਜਿਹਾ ਹੈ, ਇਸੇ ਕਮਿਸ਼ਨ ਰੋਕ ਦਿੱਤਾ ਸੀ ਨਤੀਜੇ?
ਇਸ ਨੂੰ ਵਿਸ਼ਲੇਸ਼ਣ ਨਾ ਕੀਤਾ ਹੋਵੇ, ਇਸੇ?

ਨੂੰ ਵੀ ਇਹ ਨਤੀਜੇ ਦੇ ਰੋਕਣ ਦਾ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦੇ ਪੱਖਪਾਤ ਸਵਾਲ. ਇਹ ਤੁਰੰਤ ਪ੍ਰਕਾਸ਼ਿਤ ਕੀਤਾ ਜਾਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ.
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦੇ ਨਤੀਜੇ ਲਈ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਵਿਚ ਇਹ ਸੀਟ ਹੁਣ ਲੱਗਦਾ ਹੈ, ਜੇ (ਜਿਸ ਦੇ ਲਈ ਟਰੇਲ ਏ ਟੀ ਹੈ
ਉਪਲੱਬਧ ਹੈ), ਜੋ ਕਿ ਇਹ ਈਵੀਐਮ ਵੱਖਰੀ ਨਹ ਸੀ, ਜੋ ਕਿ ਸਾਬਤ ਗਿਣਤੀ ਹੈ, ਇਸ ਨੂੰ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦੀ ਭਰੋਸੇਯੋਗਤਾ ਹੈ, ਨਾ ਹੋਵੇਗਾ, ਜਦ ਤੱਕ ਕੇ ਚੈਕਿੰਗ ਸੁਤੰਤਰ ਸਹਾਇਕ ਹੈ
ਮਾਹਰ.

ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ ਕਿ ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਇਹ ਹੈ, ਕਿਉਕਿ ਇਹ ਨਤੀਜੇ ਓਹਲੇ ਕਰਨ ਲਈ ਚਾਹੁੰਦਾ ਸੀ
ਈਵੀਐਮ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਸਭ ਲਈ ਮਾਇਨੇ ਇਹ ਸੀਟ ਲਈ ਅਤੇ ਗਲਤ ਸਾਬਤ ਹੋਏ ਸਨ
ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਸਭ ਸੀਟ ਲਈ ਭਾਵ ਹੈ, ਅਤੇ ਵੋਟਿੰਗ ਪੈਟਰਨ ਨੂੰ ਦਿਖਾਇਆ ਪੁਸ਼ਟੀ
ਵਿਗਿਆਨਕ ਐਗਜ਼ਿਟ ਪੋਲ ਦੇ ਕੇ.

ਉਪਰੋਕਤ ਵਿਸ਼ਲੇਸ਼ਣ ਸਾਫ਼ ਪਤਾ ਲੱਗਦਾ ਹੈ
ਹੈ, ਜੋ ਕਿ (1) ਸੰਭਾਵਨਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਈਵੀਐਮ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਚੋਣ ਲਈ ਮਾਇਨੇ ਗ਼ਲਤ ਸਨ
100g% ਨੂੰ ਬੰਦ ਕਰਨ ਲਈ ਸਰਕਾਰ ਅਤੇ ਮੌਜੂਦਾ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਸੰਵਿਧਾਨ ‘ਤੇ ਆਧਾਰਿਤ ਹੈ
ਇਹ ਗਲਤ ਹੈ ਗਿਣਤੀ ਦੀ ਕੋਈ ਵੈਧਤਾ, (2) ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੇ ਵਾਰ-ਵਾਰ ਜਾਰੀ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ, ਗਈ ਹੈ
ਭਵਿੱਖ ਵਿਚ ਵੋਟ ਦੀ ਸਹੀ ਗਿਣਤੀ ਨੂੰ ਯਕੀਨੀ ਭਟਕਾਉਣ ਲਈ ਦੇ ਬਾਰੇ ਬਿਆਨ
ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਚੋਣ, (3) ਦੇ ਨਿਰਪੱਖਤਾ ਦੇ ਗਲਤ ਨਤੀਜੇ ਤੱਕ ਦਾ ਧਿਆਨ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਹੈ, ਕਿਉਕਿ ਦੀ ਗਿਣਤੀ ਵਿਚ ਜ਼ਿਕਰ ਵੀ ਸ਼ੱਕ ਦੇ ਤਫ਼ਤੀਸ਼ ਕਰਨ ਦੀ ਲੋੜ ਹੈ
ਪਿਛਲੇ ਪੈਰੇ ਅਤੇ (4) ਦੀ ਸਥਿਤੀ ਚੰਗੀ ਮੰਗ ਹੈ
ਇੱਕ ਸੁਤੰਤਰ ਏਜੰਸੀ (ਸੀ ਬੀ ਆਈ ਨੂੰ ਨਾ) ਦੁਆਰਾ ਤਫ਼ਤੀਸ਼ ਦੇ ਸਾਰੇ ਸ਼ੱਕ ਨੂੰ ਸਾਫ ਕਰਨ ਲਈ ਅਤੇ
ਇਲਾਜ ਕਾਰਵਾਈ ਦੀ ਸਿਫਾਰਸ਼.

ਕੇਵਲ ਅਜਿਹੀ ਪੜਤਾਲ Satyameva ਜਯਤੇ ( “ਸੱਚ ਦੀ ਕੁੜੀ ਨੂੰ ਜਿੱਤ) ਹੈ, ਸਾਡੇ ਬਹੁਤ ਹੀ ਸਤਿਕਾਰਤ ਮਾਟੋ ਨੂੰ ਯਕੀਨੀ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹਨ.

ਸੋਧਣਾ ਕਰਨ ਲਈ, ਇਸ ਨੂੰ isridiculous ਬੇਯਕੀਨੀ ਇੱਕ ਨਾ, ਪਰ ਦੇ ਨਤੀਜੇ
ਐਗਜ਼ਿਟ ਪੋਲ ਅਤੇ ਯਕੀਨ ਦੇ ਪੰਜ ਵਿਗਿਆਨਕ ਸ਼ੁੱਧਤਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਈਵੀਐਮ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ
ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਮਾਹਰ ਅਤੇ ਸਰਕਾਰ ਦੀ ਅਨੁਸਾਰ ਹੇਰਾਫੇਰੀ ਦੇ ਉਲਟ ਹੈ, ਜਿਸ ਨੂੰ
ਨੂੰ ਵੇਖਣ, ਜੋ ਕਿ ਕੋਈ ਵੀ ਤਕਨਾਲੋਜੀ 100% ਸੰਪੂਰਣ ਹੈ. ਇਹ ਹੈਰਾਨ ਕਰਨ ਵਾਲੀ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ (1)
ਧਿਆਨ ਦਾ ਐਗਜ਼ਿਟ ਪੋਲ ਦੂਰ ਮੋੜ ਕੇ ਤੇ ਵਿਗਿਆਨਕ ਨੂੰ ਸਵੀਕਾਰ
ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਨੂੰ ਗਲਤ ਈਵੀਐਮ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਨੂੰ ਇੱਕ ਹੋਣ ਲਈ ਗਿਣਤੀ ਦਾ ਨਤੀਜਾ ਹੈ,
ਸਰਕਾਰ, ਜਿਸ ਨੂੰ ਕੋਈ ਵੀ ਵੈਧਤਾ ਦੀ ਹੈ ਅਤੇ (2) ਇਸ ਗੰਭੀਰ ਮੁੱਦੇ ਨੂੰ ਹੋਣ ਨਹੀ ਹੈ,
ਵੀ ਸੰਵਿਧਾਨਕ ਮਾਹਿਰ ਅਤੇ ਅਧਿਕਾਰੀ ਸਵਾਲ ਕੀਤਾ ਹੈ.
ਵਿੱਚ
ਇੱਕ ਸਰਕਾਰ ਹੈ, ਜਿਸ ਦੇ ਹੋਣ ਦੀ ਹੈਰਾਨ ਕਰਨ ਦੀ ਸਥਿਤੀ ਨੂੰ ਹਟਾਉਣ ਲਈ ਕ੍ਰਮ
ਕੋਈ ਵੈਧਤਾ ਅਤੇ ਸੰਵਿਧਾਨ, ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦੇ ਅਧੀਨ ਆਪਣੀ ਜ਼ਿੰਮੇਵਾਰੀ ਨੂੰ ਪੂਰਾ ਕਰਨ ਲਈ
(1) ਨੂੰ ਤੁਰੰਤ ਐਲਾਨ ਕਰਨ ਲਈ ਬਹੁਤ ਹੀ ਇਤਰਾਜ਼ਯੋਗ ਈਵੀਐਮ ਬਣਦੇ ਹਨ
ਗਲਤ ਹੈ, ਕਿਉਕਿ ਇਸ ਨੂੰ “ਭਾਜਪਾ,” ਇੱਕ ਦੀ ਉਪਰਲੀ ਸੀਮਾ ਦੇ ਮੁਕਾਬਲੇ 55% ਵੱਧ ਸੀਟ ਦੇ ਦਿੱਤੀ ਹੈ
ਪੰਜ ਵਿਗਿਆਨਕ ਨਤੀਜੇ ਦੀ ਔਸਤ ਅਨੁਸਾਰ ਸੀਟ ਦੀ ਗਿਣਤੀ
ਚੋਣ ਅਤੇ ਬੰਦ (2) ਅਪਰਾਧਕ ਲਈ ਕ੍ਰਮ ਈਵੀਐਮ ਦੀ ਇੱਕ ਬਾਰੇ ਦੱਸੋ ਹਟਾਉਣ ਦੇ ਬਾਅਦ
ਮਾਹਿਰ ਅਤੇ ਹਿੱਸੇਦਾਰ ਕੇ ਛਲ, ਪੜਤਾਲ ਦੇ ਅਧੀਨ. ਜੇਕਰ ਇਹ ਹੈ
ਸੰਭਵ ਨਹੀ ਹੈ, ਇੱਕ ਮੁੜ-ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਨੇ ਇੱਕ ਛੋਟੀ ਮਿਆਦ ਦੇ ਅੰਦਰ-ਅੰਦਰ ਹਨ ਆਰਡਰ ਕਰਨ ਲਈ ਬਾਅਦ
ਰਾਸ਼ਟਰਪਤੀ ਸ਼ਾਸਨ ਦੀ ਸਿਫਾਰਸ਼. ਨਹੀ, ਇੱਕ ਜਾਰੀ ਕਰਨ ਦੀ ਲੋੜ ਹੋਵੇਗੀ
ਗਲਤ ਸਰਕਾਰ - ਸਾਡੇ ਸੰਵਿਧਾਨ ‘ਤੇ ਇੱਕ ਧੱਬਾ.

ਇੱਕ ਅਗਿਆਤ
ਨਾਗਰਿਕ, ਜੋ ਫ਼ਿਕਰ ਹੈ ਅਤੇ ਮਾਟੋ ਦਾ ਆਦਰ Satyameva ਜਯਤੇ ਤੇ ਡਰ
ਪੱਲਾ ਤੱਤ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ‘ਤੇ ਕਿਸੇ ਵੀ ਬਹਾਨੇ ਪਰੇਸ਼ਾਨ ਜ ਵੀ ਮਾਰ.

ਜੱਜ Honbe ਦੀ ਸੁਪਰੀਮ ਕੋਰਟ ਵਿਚ ਅਪੀਲ

ਕਿਰਪਾ ਤੇ ਵਿਚਾਰ ਹੈਰਾਨ / ਸੰਵਿਧਾਨਕ ਹਾਲਾਤ ਕੀ
ਇਸ ਲੇਖ ਵਿਚ ਦੱਸਿਆ ਗਿਆ ਹੈ ਰਾਮਦੇਵ ਦੇ ਲੈਣ ਲਈ ਕਾਫੀ ਆਧਾਰ ਹਨ,
ਮਾਮਲੇ ਲਈ:

(1) ਮੌਜੂਦਾ ਸਰਕਾਰ ਹੈ, ਜਿਸ ਨੂੰ ਰੱਦ
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੇ ਤਹਿਤ ਕੋਈ ਵੀ ਵੈਧਤਾ, ਬਹੁਤ ਹੀ ਇਤਰਾਜ਼ਯੋਗ ਤੇ ਅਧਾਰਿਤ ਕੀਤਾ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ
ਈਵੀਐਮ ਗਿਣਤੀ. ਇਹ ਜੇ ਕਿ ਇੱਕ ਸਾਈਬਰ ਅਪਰਾਧੀ ਬਣਾ ਦੇਵੇਗਾ ਧੋਖਾਧੜੀ ਹੋਣ ਦੀ ਇਜਾਜ਼ਤ ਦੇ ਦਿੱਤੀ ਹੈ
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦਾ ਮਜ਼ਾਕ.

(2) ਇੱਕ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਸੈਟ ਕਰਨਾ
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਕਿ ਕੀ ਇਨਵੈਸਟੀਗੇਸ਼ਨ ਟੀਮ ਨੂੰ ਪੜਤਾਲ ਕਰਨ ਲਈ ਅਸਫ਼ਲ ਹੈ
ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਚੋਣ ਨਤੀਜੇ ਦੇ ਬਾਰੇ ਨਿਰਪੱਖ ਹੋ.

ਪੱਤਰਕਾਰ ਦੇ ਧਿਆਨ ਲਈ

ਦਿੱਲੀ Habitat Centre, ਸਭ ਨੂੰ ਹਿੱਸਾ ਲੈਣ ਵਿਚ ਹਾਲ ਹੀ ਪੈਨਲ ਚਰਚਾ ‘ਤੇ
ਝਲਕ ਪ੍ਰਗਟ ਕੀਤੀ ਗਈ ਸੀ, ਜੋ ਕਿ ਭਾਰਤ ਦੀ ਘਾਤਕ ਵਿਚ ਮੀਡੀਆ ਸੀਨ
ਪੱਤਰਕਾਰ ਮੌਜੂਦ ਦੀ ਆਲੋਚਨਾ ਕਰਨ ‘ਚ ਡਰ ਦੇ ਕਾਰਨ
ਸਰਕਾਰ. ਪੱਤਰਕਾਰ, ਇਸ ਲਈ ਡਰਦੇ ਹਨ, ਜੇ, ਉਹ ਬਣ ਜਾਵੇਗਾ
ਦੇ ਅਨੁਰੂਪ. ਸਿਰਫ ਦਾ ਹੱਲ ਦਾ ਸੁਝਾਅ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ ਸੀ ਕਿ ਉਹ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ ਪੱਤਰਕਾਰ
ਵਾਕਫੀ ਪਾਲਸੀ ਅਤੇ ਸਰਕਾਰ ਦੀ ਕਾਰਵਾਈ ਦੇ ਵਿਰੁੱਧ ਖੜ੍ਹੇ.
ਇਹ ਲੋੜ ਨੂੰ ਵੀ ਹਾਲ ਹੀ ਭਾਰਤ ਦੇ ਰਾਸ਼ਟਰਪਤੀ ਨੇ ਜ਼ੋਰ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ ਸੀ. ਉਸ ਨੇ
ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਪ੍ਰੈਸ ਨੂੰ ਇਸ ਦੇ ਡਿਊਟੀ ਵਿਚ ਨਾਕਾਮ ਹੋ ਜਾਵੇਗਾ, ਜੇ ਇਸ ਨੂੰ ਨਾ ਪੁੱਛੋ ਕਰਦਾ ਹੈ
ਬਿਜਲੀ ਦੀ (ਭਾਰਤ ਦੇ ਟਾਈਮਜ਼, 26.05.17) ਵਿਚ ਜਿਹੜੇ ਕਰਨ ਲਈ ਸਵਾਲ.

ਵਿੱਚ
ਮੌਜੂਦਾ ਸੰਦਰਭ ਹੈ, ਇਸ ਨੂੰ ਹਰ ਪੱਤਰਕਾਰ ਦੀ ਡਿਊਟੀ ਤੇ ਸਵਾਲ ਕਰਨ ਲਈ ਹੈ,
ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ, ਜਿਸ ਨੂੰ ਪੰਜ ਦੇ ਨਤੀਜੇ ਨੂੰ ਨਜ਼ਰਅੰਦਾਜ਼ ਕਰ ਕੇ ਇਸ ਦੇ ਜ਼ਿੰਮੇਵਾਰੀ ‘ਚ ਅਸਫਲ
ਬੰਦ ਕਰੋ ਕੋਈ ਵੀ ਵਿਗਿਆਨਕ ਧਰਮੀ ਬਿਨਾ ਦੇਣ ਅਤੇ ਵਰਤ ਚੋਣ
ਈਵੀਐਮ ਬਹੁਤ ਇੱਕ ਗਲਤ ਗਿਣਤੀ ਦੇ ਸੰਵਿਧਾਨ ਦਾ ਸਮਰਥਨ ਕਰਨ ਲਈ ਸਵਾਲ
ਸਰਕਾਰ ‘ਚ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼, ਇੱਕ ਹੈਰਾਨ ਕਰਨ ਦੀ ਸਥਿਤੀ ਹੈ ਅਤੇ’ ਤੇ ਇੱਕ ਧੱਬਾ ਦੇ ਨਤੀਜੇ
ਭਾਰਤ ਦੇ ਸੰਵਿਧਾਨ.

ਡਰ ਦੇ ਮਾਹੌਲ ਨੂੰ ਹਟਾਉਣ ਵਿੱਚ ਮਦਦ ਕਰਨ ਲਈ,
ਸੇਵਾਮੁਕਤ ਪੱਤਰਕਾਰ ਦਾ ਤਜਰਬਾ ਦੀ ਲਾਟ ਦੇ ਨਾਲ ਕਿਤਾਬਚੇ ਛਪਵਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ
ਕਾਰਨ, ਜਿਸ ਦੇ ਲਈ ਪੱਤਰਕਾਰ ਦਾ ਭੈ ਨੂੰ ਸਮਝਾਉਣ ਲਈ ਆਪਣੇ ਵਿਚਾਰ ਪ੍ਰਗਟ
ਅਤੇ ਨਕਾਰਾਤਮਕ ਭੂਮਿਕਾ ਗੈਰ-ਪੇਸ਼ੇਵਰ ਖੁੱਲ੍ਹ ਕੇ ਆਪਣੇ ਮਾਲਕ ਕੇ ਖੇਡਿਆ.
ਅਖ਼ਬਾਰ ਅਤੇ ਰਸਾਲੇ ਕਿਤਾਬਚੇ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ ਨੂੰ ਪਰਕਾਸ਼ਤ ਕਰਕੇ ਜ਼ਰੂਰੀ ਨਹੀ ਹੈ,
ਅਜਿਹੇ ਵਿਚਾਰ ਪ੍ਰਕਾਸ਼ਿਤ ਕਰਨ ਦੇ ਕਾਰਨ ਡਰ ਹੈ.

ਪਰ, ਦੀ ਤੀਬਰਤਾ
ਦੋਨੋ ਮੱਧ ਅਤੇ ਰਾਜ ਸਰਕਾਰ ਬਹਾਦਰ ਕੇ ਆਲੋਚਨਾ ਦੇ
Vinu ਯੂਹੰਨਾ ਅਤੇ ਸਿੰਧੂ Sooryakumar ਟੀ ਵੀ ਪੱਤਰਕਾਰ ਅਤੇ ਕਈ ਹੋਰ ‘ਤੇ
ਕੇਰਲਾ ‘ਚ ਅਖ਼ਬਾਰ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਸਭ ਨੂੰ ਉਮੀਦ ਦਿੰਦਾ ਹੈ ਵਿੱਚ ਖਤਮ ਹੋ ਗਈ ਹੈ. ਇਸ ਦੇ ਨਾਲ,
ਇਹ ਕੰਮ ਦੇ ਪਤਾ ਲੱਗਦਾ ਹੈ ਕਿ ਪੇਸ਼ਾਵਰ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਆਪਣੇ ਕੰਮ ਕਰ
ਸਰਕਾਰ ਨੂੰ ਨੰਗਾ, ਪੱਤਰਕਾਰ ਡਰ ਦੀ ਲੋੜ ਹੈ, ਕਿਉਕਿ ਉਹ ਪ੍ਰਾਪਤ ਨਾ ਕਰੇਗਾ
ਸਾਰੀ ਪੇਸ਼ੇ ਅਤੇ ਆਮ ਜਨਤਾ ਦਾ ਪੂਰਾ ਸਮਰਥਨ ਹੈ, ਇੱਕ ਦੇ ਉਲਟ
ਆਮ ਆਦਮੀ.

(Sivarama ਭਾਰਤੀ ਪ੍ਰਾਪਤ - srbharathi18@yahoo.in)

ਅਸ ਤੁਹਾਨੂੰ ਇਸ ਰਿਪੋਰਟ / ਲੇਖ ਪਸੰਦ ਆਸ ਹੈ. Milli ਗਜ਼ਟ ਇੱਕ ਮੁਫ਼ਤ ਹੈ ਅਤੇ
ਸੁਤੰਤਰ ਪਾਠਕ-ਸਹਿਯੋਗੀ ਮੀਡੀਆ ਸੰਗਠਨ. , ਕਿਰਪਾ ਕਰਕੇ ਇਸ ਨੂੰ ਸਹਿਯੋਗ ਕਰਨ ਲਈ
ਖੁੱਲ੍ਹੇ ਦਾ ਯੋਗਦਾਨ. ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ ਜ salesmilligazettecom ‘ਤੇ ਸਾਨੂੰ ਈਮੇਲ

ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਇਤਰਾਜ਼ਯੋਗ ਵੈਧਤਾ ਦੀ ਸਰਕਾਰ ਹੈ: ਨਿਰਪੱਖ ਪੜਤਾਲ ਦੀ ਲੋੜ ਨੂੰ

ਮੌਜੂਦਾ ਸੰਦਰਭ ਵਿੱਚ, ਇਸ ਨੂੰ ਹਰ ਪੱਤਰਕਾਰ ਸਵਾਲ ਕਮਿਸ਼ਨ, ਜਿਸ ਨੂੰ ਇਸ ਦੀ ਜ਼ਿੰਮੇਵਾਰੀ ‘ਚ ਅਸਫਲ ਦਾ ਫਰਜ਼ ਹੈ …

milligazette.com

Classical Tamil
இது ஜனநாயக நிறுவனங்கள் (மோடி) சிஈசி சக்கர புதிதாக முயற்சிப்பதாக கொலைகாரர்கள் ஒரு வீண் உடற்பயிற்சி உள்ளது. அது
வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் சிதைந்துள்ளது முடியும் என்று உச்ச
நீதிமன்றத்தில் நிரூபிக்கப்பட்டவை எனவே முன்னாள் தலைமை சதாசிவம் ஏனெனில் ரூ
செலவு முன்னாள் சிஈசி சம்பத் பரிந்துரையின் படி வாக்குப் பதிவு
இயந்திரங்கள் ஒரு படிப்படியாக முறையில் மாற்றப்படும் என்று உத்தரவிட்டதன்
மூலம் தீர்ப்பு ஒரு கல்லறை பிழை உறுதி செய்யப்பட்டது
1600 கோடிக்கு விற்றது. முழு வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் மாற்றப்பட்டன வரை பேப்பர்
வாக்குச்சீட்டுக்களை பயன்படுத்தப்படுவது ஆனால் அவர் உத்தரவிட்டார்
ஒருபோதும்.

வாக்குப்
பதிவு இயந்திரங்கள் மாற்றப்பட வேண்டியிருக்கும் என்று மிகவும் உண்மையில்
அவர்கள் 80 tamperable.More ஜனநாயக வாக்குச் சீட்டுக்களை பயன்படுத்தி
மற்றும் உள்ளன வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் மோசடி உட்பட்டவை ஏனெனில்
இன்னும் அவற்றைப் பயன்படுத்தி, என்று ஒரு தெளிவான ஆதாரம் உள்ளது.
சிஈசி மட்டுமே 2019 முழு வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் VVPAT மூலம்
மாற்றப்படும் என்று ஜனநாயக நிறுவனங்களின் கொலைகாரர்கள் செய்யும் நம்பகமான
மேலும் இல்லாத (மோடி) நிரந்தரமாக தங்கள் ஆட்சியைத் தொடர கூறுகிறார்.

ஏற்கனவே வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் எந்த சந்தேகமும் இல்லாமல்
tamperable என்பதை நிரூபித்துள்ளனர் யார் பல தொழில்நுட்ப நிபுணர்கள்
உள்ளன.

தற்போதைய உடற்பயிற்சி எளிதில் ஏமாரக்கூடிய அப்பாவி வாக்காளர்கள் மிரட்ட மட்டுமே.

: http: //www.milligazette.com /…/ 15634-உத்தரப்-பிரதேசம் ஆகும்-போல …

பாரபட்சமற்ற விசாரணை தேவை: உத்தரப் பிரதேசம் கேள்விக்குரிய செல்லுபடியாகும் ஒரு அரசாங்கம் கொண்டிருக்கும்

8 543 லோக்சபா இடங்களில் ஒருவரிடம் மட்டுமே பாஜக (Bahuth முடிகிறது மாற்றப்பட்டன
Jitadha Psychopaths) ஜனநாயக நிறுவனங்களின் ‘ங்கள் கொலைகாரர்கள் (மோடி)
மாஸ்டர் கீ விழுங்கிவிட. பின்னர் மற்ற அனைத்து சட்டசபை தேர்தலில்
இந்த மோசடி வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் மூலம் நடத்தப்பட்டன. உ.பி. தேர்தலில் 20 தொகுதிகளில்
பாஜக இயக்குவதன் 325 இடங்களை வெற்றி முடியும் மாற்றப்பட்டன
யோகி / Bhogi / Roghi மற்றும் தேஷ் Dhrohi முதல்வர் ஆக. கடந்த உத்தர பிரதேசத்தில்
இது காகிதம் வாக்குகள் திருமதி மாயாவதி ன் நடத்தப்பட்டது பஞ்சாயத்து தேர்தலில்
பிஎஸ்பி ஒரு மிகப்பெரிய பெரும்பான்மை வென்றார். இப்போது மாயாவதி ஒரு தாழ்த்தப்பட்டோருக்கான தடுத்து நிறுத்துவதற்கு
யார் மோசடி பயன்படுத்தி செயல்முறை வெற்றி ஒரு Sarvajan சமாஜ் தலைவர்
வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் பயன்படுத்தப் படுகின்றது. எனவே இயக்கத்தை காணத் என்று மத்திய மற்றும்
இந்த மோசடி வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் தேர்வு மாநில அரசுகள் கலைக்கப்பட்டு செல்ல வேண்டும்
80 ஜனநாயகங்கள் மூலம் பேப்பர் வாக்குச்சீட்டுக்களை கொண்டு தேர்தலை க்கான தொடர்ந்து
போற்றிப்பேணுவதாக உலக ஜனநாயகம், சமத்துவம், சுதந்திரம் மற்றும் சகோதரத்துவம் காப்பாற்ற
அனைத்து நலம், மகிழ்ச்சி மற்றும் அமைதி எங்கள் நவீன அரசியல்சட்ட
சமூகங்கள் மற்றும் 1% சகிப்புத்தன்மை, போராளி, எண் 1 பயங்கரவாதிகள் தவிர்க்க
உலக படப்பிடிப்பு, விசாரணையின்றி கொல்லுதல், கிறுக்கனின், மனநிலை பாதிக்கப்பட்ட சித்பவன்
பிராமணர் ஆர்எஸ்எஸ் (ராட்சசன் ஸ்வயம் சேவகர்கள் போலவே செயல்பட்டதை மறக்கமுடியுமா) கொண்ட மிராண்டியாக மனநோயாளிகள்
ஏற்கனவே தங்கள் ஸ்டெல்த் நிழல் தங்கள் மனுஸ்மிரிதி செயல்படுத்த தொடங்கியது
பாரபட்ச hinduva வழிபாட்டு.

முன்னாள் தலைமை, முன்னாள் சிஈசி மோடி மற்றும்
யோகி வன்கொடுமைத் சட்டத்தின் கீழ் அல்லாத bailabale வாரண்டுகளை கொண்டு முன்பதிவு வேண்டும்
எஸ்சி தடுப்பதில் / எஸ்.டீ.க்களின் நவீன விலக்கி மாஸ்டர் கீ பெறுவதற்கு
எங்கள் நாடு அரசியலமைப்பின்.

பாரபட்சமற்ற விசாரணை தேவை: உத்தரப் பிரதேசம் கேள்விக்குரிய செல்லுபடியாகும் ஒரு அரசாங்கம் கொண்டிருக்கும்
மில்லி கெஜட் ஆன்லைன்
ஆன்லைனில் வெளியிடப்பட்டது: ஜூன் 01, 2017

சிறிய மாதிரிகளை தேர்வு உண்மையான மதிப்பை அல்லது தரம் அல்லது மதிப்பிட
ஒரு பெரிய குழு நடத்தை பல களுக்கு பரவலாக ஏற்றுக்கொள்ளப்பட்ட நடைமுறையாக கொண்டிருக்கின்றது
ஆண்டுகள். பல ஆண்டுகளாக, மாதிரி நுட்பங்கள் மேம்படுத்தலாம் மற்றும் மேற்கொள்ளப்பட்டிருக்கின்றன
உண்மை மதிப்புகள் மற்றும் நம்பிக்கை நம்பகமான மதிப்பீடுகள் உறுதி அறிவியல்
வரம்புகளை இது அப்பால் உண்மையான மதிப்பை பொய் சாத்தியமில்லை. இதன் விளைவாக,
மாதிரி ஆய்வுகள் முடிவுகளை மீண்டும் மீண்டும் கொண்டு பயன்படுத்த மேற்கொள்ளப்பட்டிருக்கின்றன
பொருளாதார சமூக மற்றும் அரசியல் முன்னேற்றங்கள் திட்டமிட்டு நம்பிக்கை.
ஆனால், முரண்பாடாக, ஐந்து அறிவியல் மாதிரி ஆய்வுகள் முடிவு (வெளியேறவும்
தேர்தலில்) உ.பி. தேர்தல் முடிவுகள் கூட விசாரணை இல்லாமல் பணி நீக்கம் செய்யப்பட்டனர்
தங்கள் நம்பகத்தன்மை. ஐந்து அறிவியல் இந்த குருட்டு மொத்த நிராகரிப்பு
மாதிரி ஆய்வுகள் / பிந்தைய கருத்துக்கணிப்புகளில் தனித்தன்மை வாய்ந்தது மற்றும் கண்டனத்திற்கு உரியதாகும்
அப்பட்டமான.

பின்வரும் அறிக்கையை ஐந்து முடிவுகளை கொடுக்கிறது
அறிவியல் பிந்தைய கருத்துக்கணிப்புகளில் மற்றும் பாஜக மற்றும் அதன் ஆதரவாளர்கள் க்கான மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர எண்ணிக்கைகள்
( “பா.ஜ.க +”) உ.பி. தேர்தல்களில்.

Pollster

எண் அடைப்புக்குள் “பா.ஜ.க +” இடங்கள் மற்றும் நம்பிக்கை வரம்புகளை

டைம்ஸ் நவ் VMR

200 (190210)

இந்தியா நியூஸ்-MRC

185 (175195) *

ஏபிபி-CSDS

170 (164-176)

இந்தியா டிவி சி வாக்காளர்

161 (155167)

செய்திகள் 24 சாணக்யா

285 (273- 297) *

சராசரி

200 (190210) *

மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர எண்ணிக்கைகள்

325

இந்த கருத்துக் கணிப்பாளர்களின் கணக்கிடப்படுகிறது * நம்பிக்கை வரம்புகளை காட்டப்பட்டுள்ளது இல்லை
செய்தித்தாள் அறிக்கைகள். மேலே கொடுக்கப்பட்ட எல்லைகள் கடினமான ஆனால் மிகவும் நம்பகமான உள்ளன
மற்ற கொடுத்த நம்பக வரம்புகள் ஒப்பிடக்கூடிய கணக்கீடுகள்
கணிப்பாளர்களின்.

முதல் நான்கு அறிவியல் வெளியேறும் தேர்தல்களில் ஒரு பெரும்பான்மையற்ற கணித்து
சட்டசபை. கடந்த ஒரு பாஜக ஒரு பெரும்பான்மை கணித்து. ஆனால், பெரும்பாலான
முக்கியமாக, மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர எண்ணிக்கைகள் விட “பா.ஜ.க +” க்கு கூடுதலாக பல இடங்களை காட்டியது
மேல் நம்பக வரம்புகள் (அதாவது, இடங்களை எண்ணிக்கை உயர் வரம்பு)
அனைத்து ஐந்து பிந்தைய கருத்துக்கணிப்புகளில் பெறப்பட்டதாக இருக்கிறது. ஐந்து வெளியேறும் சராசரி விளைவாக
தேர்தலில் (இது ஒரு தெளிவான படம் கொடுக்கிறது) காட்டுகிறது என்று 325 இன் மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர எண்ணிக்கை
இடங்களை மேல் எல்லை 210 இடங்களை விட 55% அதிக “பா.ஜ.க +” கொடுப்பதாக
இடங்களை எண்ணிக்கை. இந்த மிக பெரிய வேறுபாடு எந்த சந்தேகத்திற்கும் இடமில்லாத காட்டுகிறது
என்று மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர எண்ணிக்கைகள் தவறான இருந்தன.
இடங்களை உண்மையான எண்ணிக்கை வாய்ப்பு
பெற்ற “பா.ஜ.க +” உயர் வரம்பு விட இன்னும் கொஞ்சம் இருப்பது
ஆசனங்களின் எண்ணிக்கை கூட இந்த வாக்களிப்பையிட்டு எந்த ஒரு (அல்லது குறைவாக 5% ஆகும்
1% க்கும் குறைவாக நம்பிக்கை பட்டம் தேர்வு பொறுத்து
வரம்புகளை கணக்கிடுவதற்கான கணிப்பாளர்களின்). கூட தவறான பிந்தைய கருத்துக்கணிப்பை க்கான
வாய்ப்பு “பா.ஜ.க +” மிகவும் சாதகமான இருந்தது, எதிர்விளைவு “பா.ஜ.க +”
மேலும் இடங்களை கூட ஒரு சிறிய 297 விட பெறுவது 5% க்கும் குறைவாக (அல்லது 1%) பிரிக்கப்பட்டுள்ளது.
“பா.ஜ.க +” மேல் வரம்பை விட கூட ஒரு இன்னும் கொஞ்சம் இடங்களை பெறுவதற்கான வாய்ப்பு
அனைத்து ஐந்து வெளியேறும் தேர்தல் இடங்களை எண்ணுக்கான (படி பூஜ்யம் அளவிற்கு நெருங்கியுள்ளது
நிகழ்தகவு விதி என்பதாகும்). மிகவும் நம்பகமான சராசரி கருத்தில்
விளைவாக, “பா.ஜ.க +” வாய்ப்பு மேல் வரம்பை விட 55% அதிக இடங்களை பெறுவது
210 இடங்களை பூஜ்யம் அளவிற்கு நெருங்கியுள்ளது. வேறு வார்த்தைகளில் கூறுவதானால், நிகழ்தகவு என்று
தவறான 100% க்கு நெருக்கமான இருந்தன உ.பி. தேர்தலில் மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர கணக்கில்.

மாறாக
அனைத்து ஐந்து அறிவியல் வாக்களிப்பையிட்டு அப்பட்டமான முடிவுகளை கண்டித்து இன்,
தேர்தல் ஆணையம் (இசி) அவர்களின் விஞ்ஞான அடிப்படையில் மரியாதைக்குரிய வேண்டும் வேண்டும்.
எந்த உறுதிப்படுத்தல் தேவை என்றால், இசி நிபுணர் கருத்து முயன்று இருக்கலாம்
இந்திய புள்ளியியல் நிறுவனம், கொல்கத்தா (வளரும் முன்னோடிகளில்
மாதிரி உத்திகள்) அல்லது வேறு எந்த நிறுவனங்கள் அல்லது பேராசிரியர்கள்
மாதிரி தொழில்நுட்பங்களில் அனுபவம் புள்ளி. ஆனால், அது தெரிகிறது இசி
இந்த செய்யவில்லை. நம்பமுடியாத, இசி எந்த நியாயப்படுத்துதல் கொடுக்கவில்லை
அறிவியல் முடிவுகளை நிராகரித்து! வெளிப்படையாக, இசி கண்டுபிடிக்க விரும்பவில்லை
உண்மை மற்றும் அதன் அரசியலமைப்பு பொறுப்பில் தோல்வியடைந்தது. இந்த பற்றாக்குறை
உண்மையைக் கண்டறிவதில் ஆர்வம் மேலும் பாரபட்சமற்ற கேள்விக்குட்படுத்தும்
இசி.

இசி மீறியதால் அவர்களுக்கு பாரபட்சமின்மை மேலும் கேள்வியாகவே உள்ளது
பின்வரும் தகவல்களை தெளிவாக மாற்றியமைப்பதை காட்டியது
மின்னணு கருவிகளை ஒரு தெளிவான சாத்தியம் மற்றும் திரும்பத்திரும்ப கூறினார்
வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் சிதைந்துள்ளது முடியும் கிளி போன்ற முடியாதது என்பதுடன்:

1. சைபர்
மேலும் மேலும் மக்கள் புத்திசாலி வழி கெடுத்தவர்கள் கொண்டு குற்றங்கள் தொடர்ந்து அதிகரித்தே வருகிறது
ஊடுருவலில் ஈடுபடுகிறார்கள் வைரஸ் வளரும், குளறுபடிகளும் முதலியன

2. என்ற தலைப்பில் ஒரு கட்டுரை “வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் உண்மையில்
ஆதாரம் திருத்திக்கொள்வதற்கான இருக்கிறீர்களா” டெக்கான் குரோனிக்கல் என்ற
Debanish Achom பின்வரும் கூறுகிறது:

(அ) ​​”பிபிசி அளித்த ஒரு வீட்டிலேயே தயாரிக்கப்பட்ட சாதனம் இணைத்த பின்னர்
மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர, மிச்சிகன் ஆராய்ச்சியாளர்கள் பல்கலைக்கழகம் முடிவு மாற்ற முடிந்தது
ஒரு மொபைல் தொலைபேசியில் இருந்து உரை செய்திகளை அனுப்புவதற்கு. “

(பி) “ஹரி கிருஷ்ணா
பிரசாத் Vemuru, ஹைதெராபாத் சார்ந்த Netindia பிரைவேட் லிமிடெட் நிர்வாக இயக்குனர், ஒரு
தொழில்நுட்பம் தீர்வுகளை நிறுவனம், ஒரு மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர இருக்க முடியும் எப்படி உள்ளூர் தொலைக்காட்சியில் காட்டியது
மோசடி. “இது ஒரு தீவிர பாஜக ஆதரவாளர் பார்த்தார் என்று சாத்தியம்
மற்றும் (இசி & பாஜக அறிவு இல்லாமல்) ஹேக்கிங் வெற்றி மற்றும்
உ.பி. தேர்தல்களில் பயன்படுத்தப்படும் வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் ஐந்து எண்ணும் வழிமுறைகளை ஜாலத்தால்.

(சி) திரு Vemuru மேலும் மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர சிப் பதிலாக முடியும் “என்று குறிப்பிட்டிருந்தார்
ஒரு தோற்றம் அசல் வடிவம் மற்றும் அறிவுறுத்தினார் கொண்டு அமைதியாக வாக்குகள் சதவீதம் திருட
தேர்ந்தெடுக்கப்பட்ட வேட்பாளர் ஆதரவாக. “ஈசி எந்த புத்திசாலி மற்றும் நேர்மையற்ற ஊழியர்கள்,
அவன் / அவள் விரும்பினால் வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் ஒரே பாதுகாப்பாளர், இதை செய்ய முடியும். இது
ஏற்புடைய எந்த அரசாங்கம் அலுவலகம் ஊழல் இலவச இருக்க வாய்ப்பு உள்ளது என்று.

3. “செயற்கை (விரல்) அச்சிட்டு ஸ்மார்ட் போன்கள் திறக்க முடியும் நேரம் 65%.” (டைம்ஸ் ஆப் இந்தியா, 16-04-17).

4. ஆம் ஆத்மி தில்லி சட்டமன்ற ஒரு மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர திருத்திக்கொள்வதற்கான எப்படி வெளிப்படுத்தி உள்ளது.

5. “McAfee ஒரு புதிய அறிக்கை 176 இணைய-அச்சுறுத்தல்கள் என்பதை அவன் வெளிப்படுத்துகிறான்
ஒவ்வொரு நிமிடமும் கண்டறியப்பட்டது (அதாவது, கிட்டத்தட்ட மூன்று ஒவ்வொரு இரண்டாவது) 88 சதவீதம்
ransomeware வளர்ச்சி மற்றும் 99 சதவீதம் மொபைல் தீம்பொருள் வளர்ச்சி இருந்தது
2016 இறுதியில் “(DeccanChronicle, 12.04.17) கண்டுபிடிக்கப்படும்.

இசி செய்தார்
இணைய-அச்சுறுத்தல்கள் விநாடிக்கு வெளியே பார்க்க ஒரு முட்டாள் ஆதாரம் அமைப்பு
24/7 அதனால் இதுபோன்ற அச்சுறுத்தல்கள் கடக்க? இல்லை என்றால், இணைய குற்றவாளிகள் இருக்க முடியும்
மோசடியாக மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர உ.பி. தேர்தலில் எண்ணும்.

அது தெளிவாக இல்லை
இசி உ.பி. தேர்தல்களில் பயன்படுத்தப்படும் என்று வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் உறுதி வெற்றி கண்டனர் என்பதை
(முழுவதும் எந்த நேரத்திலும் கையாளுதல் அனைத்து வகையான தாங்க முடியும்
தேர்தல்), நிபுணர்கள் அனைத்து வகையான பூர்த்தி முடியும். அது இருந்தது கூட
(சந்தேகமாகவே இருக்கிறது இது) வெற்றி 100%, இதில் புத்திசாலி மற்றும் நேர்மையற்ற ஊழியர்கள்
அவன் / அவள் விரும்பினால் இசி, வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் ஒரே பாதுகாப்பாளர், மோசடியாக முடியும்
வேண்டும். அது லஞ்சம் அளிப்பவர்கள் மற்றும் தேர்வெழுதி பற்றாக்குறை இல்லையெனக் என்று ஏற்புடைய உள்ளது
நாட்டில்.

இந்த அனைத்து மின்னணு அந்த கையாளுதல் காட்ட
கேஜெட்டுகள் ஒரு தெளிவான சாத்தியம் உள்ளது. இந்த அரசாங்கத்தின் மூலம் இது நிரூபிக்கப்படுகிறது
ஆதார் கசிவுகள் தொடர்பாக உச்ச நீதிமன்றம் (எஸ்சி) பார்வையிட நுழைவுக்கட்டணமாக ரூ, என்று
எந்தவொரு தொழில்நுட்பமும் 100% இருக்கிறது. அனைத்து இந்த வேடிக்கையான இசி வின் கூற்றை அந்த வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள்
சிதைந்துள்ளது முடியாது. EC யின் மீண்டும் மறுப்புகளுக்குப் என்பதை விசாரணை செய்யும்படி
உ.பி. தேர்தல்களில் பயன்படுத்தப்படும் வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் இசி இருக்கலாம் என்று மோசடியாக நிகழ்ச்சி செய்யப்பட்டனர்
பாரபட்சமற்ற.
அது ஏற்புடைய என்று வருகிறது சாத்தியம்
கையாளுதல் மறைமுகமாக மட்டுமே தேர்தல் ஆணையம் ஏற்று கொள்ளவில்லை உள்ளது ஆனால் பயன்படுத்தியது
அது (மீண்டும் மீண்டும் கீழே இல்லூஸ்ட்ரேடேட்). இசி ஒரு அறிமுகப்படுத்த உறுதியளித்தார்
காகித பாதை 2019 இல் (VVPAT) வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் சரிபார்க்க அது செயல்படுத்த இது
எந்த மின்னணு கையாளுதல் ஏற்பட்டுள்ளது என்பதை. வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் உ.பி. பயன்படுத்தப்பட்டால்
தேர்தலில் மோசடியாக முடியவில்லை, இசி இந்த நியாயப்படுத்தினார் முடியாது
மாற்ற. முரண்பாடாக, சாத்தியப்பாடு இந்த மறைமுக சுய சேர்க்கை போதிலும்
கையாளுகையின், இசி சரிபார்த்து இந்த நடந்தது என்பதை தெரிவிக்க வில்லை
உ.பி. தேர்தல்களில் அது மிகவும் கேள்விக்குறியான முடிவுகளே கிடைத்தன கூட. மாறாக,
இசி வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் குறுக்கீடு செய்ய முடியா என்று கிளி போன்ற கூறியதாவது வைத்திருக்கிறது. இந்த இரட்டை
சிந்தனை இசி போன்ற ஒரு அதிகாரம் ஏற்ற இல்லை.

மேலும், இது தெரிகிறது
இசி (ஒரு நீண்ட வழி ஆஃப் உள்ளது) 2019 அதன் திட்டங்கள் பற்றி பேசிக் கொண்டிருக்கிறார் என்று
முக்கியமாக மிகவும் கேள்விக்குறியான கவனத்தை திசை திருப்ப மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர கணக்கில் உ.பி.
தேர்தலில் எந்த கையில் மிக முக்கியமான பிரச்சினை.

இசி எழுதினார்
பயன்படுத்துவது VVPAT இயந்திரங்கள் என்பதை உறுதி செய்ய தேவைப்படும் என்று சட்டம் அமைச்சர்
“உள்ள வாக்காளர் நம்பிக்கை வாக்களிப்பில் நேர்மை பாதுகாக்கப்படுகிறது
செயல்முறை பலப்படுத்தியது உள்ளது “ரூ andsought அனுமதி. 3.174 கோடி க்கான
புதிய இயந்திரங்கள் (டைம்ஸ் ஆப் இந்தியா, 17.04.17) கொள்முதலுக்கான. வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் பயன்படுத்தப்படும் என்றால்
உ.பி. தேர்தல்களில் வாக்களிக்கும் முழுமையை பாதுகாக்கப்படுகிறது என்று, இசி வேண்டும் முடியவில்லை
நிதிகளுக்கு இந்த பெரிய கோரிக்கையை நியாயப்படுத்தியுள்ளனர். மற்றொரு மறைமுக இந்த இல்லையா
வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் உ.பி. தேர்தல்களில் பயன்படுத்தப்படும் என்று திருத்திக்கொள்வதற்கான-ஆதாரம் இல்லை சேர்க்கை?

இசி இந்த புதிய இயந்திரங்கள் கண்டறியும் ஒரு சுய பெற்றிருக்கும் என்று கூறுகிறார்
இயந்திரங்கள் உண்மையானது அங்கீகார அமைப்பு. அது இல்லை
இருக்க முடியாது உ.பி. தேர்தல்களில் பயன்படுத்தப்படும் பழைய வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் என்று உண்மையானது வெளிப்படுத்தாது
அங்கீகரிக்கப்படும்? இது மேலும் தேர்தல் ஆணையம் இந்த உபயோகிக்க ஆரம்பித்துள்ளது என்று வெளிப்படுத்தாது
உ.பி. தேர்தல்களில் பயன்படுத்தப்படும் வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் உள்ள குறைபாடு பெரிய அளவில் செலவு நியாயப்படுத்த
புதிய கணினிகளில்?

“ஈசி அடுத்த தலைமுறை வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் வாங்க அமைக்கப்பட்டுள்ளது என்பதையும்
“அறுவை சிகிச்சை செய்ய இயலாத கணம் முயற்சிகள் டிங்கர் தயாரிக்கப்பட்டள்ளன” க்கான ஆக
2019 (டைம்ஸ் ஆப் இந்தியா, 03.04.17) பயன்படுத்த. இந்த வழக்கத்திற்கு மாறாக ஆரம்ப பேச்சு
எதிர்காலத்தைப் பற்றி மிகவும் கவனத்தை திசை திருப்ப மற்றொரு முயற்சியாகும்
கையில் உ.பி. தேர்தல்களில் பயன்படுத்தப்படும் வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் இருந்தன என்பதை முக்கியமான கேள்வி
சிதைந்துள்ளது.

“வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் முழுமையை வாக்கெடுப்பில் பயன்படுத்த வேண்டும் என்று
ஒரு அனைத்து பங்குதாரர்களின் முழு திருப்தி அடையும்வரை “நிரூபித்துக் காட்டக்கூடிய
இசி (டைம்ஸ் ஆப் இந்தியா, 020417) அணி. இந்த மற்றொரு சான்றாக இருக்கிறது
இசி தவறு கவனத்தை திருப்பி விடும் விதமாக எதிர்கால aboutthe பேசி
மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர உ.பி. தேர்தலில் கணக்கில்.

இசி அரசியல் ஒரு சவாலாக எழுந்தது
கட்சிகள், விஞ்ஞானிகள் மற்றும் தொழில்நுட்ப நிபுணர்கள் வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் இருக்க முடியும் என்று நிரூபிக்க
இப்போது சிதைந்துள்ளது. (டைம்ஸ் ஆப் இந்தியா, 13.04.17). இந்த இன்னொரு வாய்ப்பாகும்
தவறான மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர இருந்து கவனத்தைத் திருப்பும் உதாரணமாக உ.பி. எண்ணிக்கை தகவல்
தேர்தலில். மேலும், இந்த காலங்கடந்த சவால் நடிப்பதற்கு பிறகு பல வாரங்கள்
சந்தேகம், இசி இப்போது வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் செய்துள்ளது என்பதை முக்கியமான கேள்வியை எழுப்புகிறது
“அறுவை சிகிச்சை செய்ய இயலாத” கணம் முயற்சிகள் அதன் காவலில் இருந்த உ.பி., பயன்படுத்தப்படும்
வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் அடுத்த தலைமுறை ஒரு தரம் - அது டிங்கர் செய்யப்படுகின்றன.
அப்படியானால், அங்கு விற்பனை செய்யப்பட்டன இந்தத் தரத்தின் இல்லாமல் பழைய வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் உள்ளன
உ.பி. தேர்தலில்? இசி என்பதை இந்த கேள்வி இருவரும் நேர்மையற்ற வருகிறது.

2013 இல், எஸ்சி ஒரு படிப்படியாக முறையில் VVPAT அறிமுகப்படுத்த இசி இயக்கினார்.
சிதம்பரம் இந்த தீர்ப்பு விவரங்கள் இவ்வாறு கூறினார் என்று “ஒரு
நிபுணர்கள் குழு கூறி ஒரு விரிவான அறிக்கையை தாக்கல் செய்திருக்கின்றனர்
வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் பயன்படுத்தப்படும் மென்பொருள் அத்துடன் வன்பொருள் பாதிக்கப்படலாம் மற்றும் ஆளாகின்றன
சேதப்படுத்திய “. அவர் கூட இசி நான் இருக்கவில்லை ஒப்புக்கொண்டார் கூறினார்
பிழையேற்படுத்தாத மற்றும் காகித பாதை “(டைம்ஸ் ஆப் இந்தியா அறிமுகப்படுத்த ஒத்துக் கொண்டாலும்,
030417). காகித பாதை இல்லாமல் இந்த வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் உ.பி. பயன்படுத்தப்படும் ஏனெனில்
(சில இடங்களை தவிர) தேர்தல்கள் இசி அவர்கள் இல்லை என்று அறிந்திருந்தார்
பிழையேற்படுத்தாத. இந்த விழிப்புணர்வு போதிலும், இசி மீண்டும் மீண்டும் கூறிக்கொண்டது வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள்
சிதைந்துள்ளது முடியவில்லை. இந்த இரட்டை கேள்விகள் ஒருமைப்பாடு பேச
மற்றும் EC பாரபட்சமற்ற.

இந்த அனைத்து நேர்மை இல்லாததால் என்பதை சுட்டிக் காட்டுகின்றன
EC இன் அர்ப்பணிப்பு தேர்தல் முடிவுகளில் துல்லியத் தன்மையை உறுதிப்படுத்துவதற்காக. இது
மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர கணக்கில் இன் உ.பி. துல்லியம் சரிபார்க்க EC யின் மறுத்ததன் மூலம் உறுதியளித்தன
மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர உ.பி. தேர்தலில் பாதிப்பை ஏற்படுத்துகிற நிகழ்தகவு போதிலும் தேர்தலில்
நெருங்கிய தவறு போன்று உள்ளதா 100% (மேலே பார்க்க) சுமார் இசி விழிப்புணர்வு
வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் (அதற்கு முந்தைய பாரா) மாற்றியமைப்பதை சாத்தியம். இது
கேள்விகள் EC இன் பாரபட்சமற்ற.

Mayawathi, கெஜ்ரிவால் யெச்சூரியும்
இந்த வினா எழுப்பி உள்ளனர். சந்தேகம் அதிகமானவர்களை உள்ளன இருக்கலாம்
(ஐந்து கணிப்பாளர்களின் உட்பட) யார் ஏனெனில், அமைதியாயிருக்கிறாய்
எதிர்ப்பு சேர்ந்தவர்கள் என்பதும் பெயரிடப்பட்ட என்ற பயம். இசி பூர்த்தி செய்யாமல் அதன்
கடமை துல்லியம் மிக முக்கியமான கேள்வி பற்றிய மக்களது கேள்விகளுக்கு அழிக்க
உ.பி. பிரபுக்களின் ஆனால் மீண்டும் மீண்டும் கூறி அது இருந்து கவனத்தை திசை திருப்பினர்
அதன் எதிர்கால திட்டங்கள் பற்றி.
துல்லியம் பற்றாக்குறை நான்கு ஆண்டுகளுக்கு கூட தொடர்ந்தால்
எஸ்சி ஆர்டர்களுக்கு பிறகு என்றாலும் மிகவும் துல்லியமான வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் ஒரு நியமிக்கப்பட்டுள்ள முடியும்
பெரிய அளவிலான. மோசமாக என்ன மற்றும் சேதப்படுத்தாமல் இசி பயன்படுத்த திட்டமிட்டுள்ளது என்று
இந்த “துல்லியமாகக்” இந்த இயந்திரங்கள், இருப்பினும் 2019 இல் மட்டும் வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள்,
பாரத் எலக்ட்ரானிக்ஸ் மற்றும் இந்திய எலெக்ட்ரானிக்ஸ் கார்பரேஷன் நிறுவனத்தால் தயாரிக்கப்பட்டது
(டைம்ஸ் ஆப் இந்தியா, 02.04.17). இந்த தள்ளி வைக்கப்பட்டன பதிலாக ஏன்
சில மாநிலங்களில் துல்லியமான தேர்தலில் உறுதி எந்த அது போது காரணமாக இருக்கிறது
அடுத்த இரண்டு ஆண்டு காலம்? பாரபட்சமற்ற பற்றிய சந்தேகங்கள் இசி எழுப்புகிறது இன்
இந்த நடைபெற்ற மோசடிகளுக்கு அதன் கண்கள் மூட என்ற வினாவை எழுப்புகிறது
இல் 2019 பொதுத் தேர்தலுடன் ஒரே, சில கட்சிகள் உதவ தேர்தலில்
மனதில்.

போவது நடவடிக்கைகள் (அல்லது செயலற்று இசி மூலம்) நிறுத்த வேண்டாம் கொண்டு
இந்த. புதிய வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள், “தொழில்நுட்ப கையால் வாக்கு எண்ணும் அனுமதிக்க”. கூட
வெளியிடப்பட்ட முடிவுகளின் துல்லியமற்றத்தன்மைக்காகவும் பற்றி புகார்கள் வருவதற்கு முன்,
ஒரு பொறுப்பு இசி கையேடு எண்ணும் இருந்து முடிவுகளை ஒப்பிடும்போது வேண்டும்
மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர புதிய வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் பயன்படுத்தி மேற்கொண்ட உ.பி. 30 இடங்களுக்கு கணக்கில் கொண்டு
துல்லியம் சரிபார்க்க. மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர மூலம் காட்டப்பட்டுள்ளது வாக்களிப்பினைப் வேறுபட்டன கணக்கிடுதலானது என்றால்
30 இடங்களுக்கு கையேடு எண்ணும் இருந்து இருந்து, சாத்தியம்
கையாளுதல் உறுதி செய்யப்படுகிறது. ஆனால் இசி வெளியே கூட, இந்த காசோலைகளை செயல்படுத்த வில்லை
புகார்கள் பெற்ற பிறகு. ஏன்? இது நடுநிலை பற்றி கேள்விக்குட்படுத்தும்
இசி.

இசி ஏற்கெனவே எழுப்பப்பட்டுள்ளன அனைத்துக் கேள்விகளுக்கும் உறுதியளித்தார் பதில்களை வழங்க உள்ளது.

“தில்லி முதல்வர் அரவிந்த் கெஜ்ரிவால் அவர் இரண்டு காண்கிறார் என்று கூறியுள்ளார்
மூன்று தேர்தல் ஆணையர்கள் ஏனெனில் அவர் கூறும் வகையில் என்ன சார்புத் தன்மை கொண்டவையாக உள்ளன
பிரதமர் நரேந்திர மோடி மற்றும் பிற அவர்களுக்கு ஒன்று அருகாமையில் mp ன்
தலைமை அமைச்சர் சிவராஜ் சிங் சவுகான் “(டைம்ஸ் ஆப் இந்தியா, 19.04.17).
இந்த குற்றச்சாட்டு பற்றி சந்தேகம் ஏனெனில் விசாரணை வேண்டும்
EC இன் பாரபட்சமற்ற முந்தைய உள்ள பல தடவைகள் எழுப்பியுள்ளன
பத்திகள். இத்தகைய ஒரு விசாரணை பல்வேறு புள்ளிகள் மறைப்பதற்கு வேண்டும்
ஏற்கெனவே எழுப்பப்பட்டுள்ளன. இந்த எழுந்து நிற்கும் சிபிஐ விசாரணை கூடாது
எஸ்சி அரசாங்கத்தின் ஒரு கூண்டிலடைக்கப்பட்ட கிளி போன்ற பெயரிடப்பட்ட. மற்றொரு காரணம்
நம்பகத்தன்மையின் சிபிஐ குறைபாடு சிபிஐ இரண்டு முன்னாள் இயக்குனர்கள் வேண்டும் “என்பதாகும்
ஊழலுக்காக விசாரணை எதிர்கொள்ளும் செயல்பாட்டில் வைக்கப்பட்டு, பணமோசடி,
மற்றும் அழைந்து தீவிர உச்ச நீதிமன்றம் அதிகாரத்துக்குட்பட்ட ஆய்வுகளை “(டெக்கான் குரோனிக்கல்,
280417).

இசி முடிவு குறித்த பகுப்பாய்வில் இருந்து பெறப்பட்டது “என்று கூறுகிறார்
கோவா அனைத்து 40 தொகுதிகளில் மற்றும் 33 இடங்களை முழுவதும் பயன்படுத்தப்படும் VVPATs
பஞ்சாப் முடிவுகளை சிறிய மாறுபாடு காகித இல்லாமல் வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் மூலம் வைத்து காட்டுகிறது
பாதை “(டைம்ஸ் ஆப் இந்தியா, 18.4.17).

மிக முக்கியமான, அது
ஆச்சரியமான இசி முடிவுகளை VVPATs இருந்து பெறப்பட்டது வழங்கவில்லை என்பதைக்
உ.பி. உட்பட அது தேவையாய் இருந்தது எந்த மற்ற மாநிலங்களில் பயன்படுத்தப்படும் ஏனெனில்
மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர எண்ணிக்கைகள் அங்கு மிகவும் கேள்விக்குறியான இருந்தன. இசி இந்த செய்துவிட்டேன் வேண்டும்
மேலும் இந்த மாநிலங்களில் பகுப்பாய்வு. அப்படியானால், ஏன் இசி முடிவுகளை விலக்கவில்லை; நான் செய்த?
இதைப் பகுப்பாய்வு இல்லை என்றால், ஏன்?

இந்த தேர்வு முடிவை வெளியிட
கேள்விகள் EC இன் பாரபட்சமற்ற. இந்த உடனடியாக வெளியிட வேண்டுமா.
இசி இப்போது உ.பி. இந்த இடங்களுக்கான முடிவுகளை காட்டுகிறது என்றால் (இதற்கு VVPAT பாதை உள்ளது
கிடைக்கும்) மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர கணக்கில் பார்வையிடவும், அதிலிருந்து இந்த வேறுபடுகின்றன இல்லை என்று நிரூபிக்க எந்த
இசி சுயாதீன மூலம் சோதனை அனுமதிக்கிறது மட்டுமே நம்பகத்தன்மை இல்லை
நிபுணர்கள்.

ஒருவேளை, இசி இந்த ஏனெனில் இந்த முடிவுகளை மறைக்கும்படி விரும்பினார்
மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர உ.பி. இந்த இடங்களை பெரும்பாலான மற்றும் மூலம் தவறான இருந்தன பலனை ஏற்படுத்தும் நிரூபித்தது
உ.பி. மிக இடங்களுக்கு ஊக்கக்குறிப்பானது, மற்றும் வாக்களிப்பினைப் காட்டப்பட்டுள்ளது உறுதி
அறிவியல் வெளியேறும் கணிப்பினால்.

மேலே பகுப்பாய்வு தெளிவாக காட்டுகிறது
மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர உ.பி. தேர்தலில் பாதிப்பை ஏற்படுத்துகிற (1) நிகழ்தகவு தவறு இருந்தன
100% க்கு நெருக்கமான மற்றும் தற்போதைய உ.பி. அரசாங்கத்தின் அரசியலமைப்பு அடிப்படையில்
இந்த தவறான எண்ணிக்கைகள் எந்த செல்லுபடியாகும், (2) இசி மீண்டும் மீண்டும் வழங்கும் விட்டது
திசை திருப்ப எதிர்காலத்தில் வாக்குகள் சரியான எண்ணும் உறுதி பற்றிய அறிக்கைகள்
உ.பி. தேர்தல், (3) பாரபட்சமின்மை தவறான முடிவுகளில் இருந்து கவனத்தை
இசி ஏனெனில் குறிப்பிடப்பட்டுள்ளது சந்தேகம் எண்ணிக்கை விசாரணை வேண்டும்
முந்தைய பத்திகள் மற்றும் (4) நிலைமை ஒரு முழுமையான கோருகிறது
ஒரு சுயாதீனமான நிறுவனம் (சிபிஐ இல்லை) மூலம் விசாரணை அனைத்து சந்தேகங்களை அழிக்க மற்றும்
மாற்றுச் செயல்பாடுகளை பரிந்துரைக்கிறோம்.

அத்தகைய விசாரணை மட்டும் சத்யமேவ Jayate ( “வாய்மையே வெல்லும்), எங்கள் மிகவும் மரியாதைக்குரிய பொன்மொழி உறுதிப்படுத்தலாம்.

வலியுறுத்தி, அது ஒன்று முடிவுகளை அவநம்பிக்கையை isridiculous ஆனால்
ஐந்து அறிவியல் பிந்தைய கருத்துக்கணிப்புகளில் இருக்க முடியும் வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் துல்லியம் நம்ப
பல நிபுணர்களின் ன் படி மோசடியாக, அரசாங்கம் கொடுத்த நேர்மாறானது
எந்தவொரு தொழில்நுட்பமும் 100% சரியான என்று கருதுகின்றனர். அது அதிர்ச்சியை அளிக்கிறது என்று (1)
அறிவியல் பிந்தைய கருத்துக்கணிப்புகளில் விலகி கவனத்தை திசை திருப்பவும் ஏற்று
உத்தரப் பிரதேசம் தவறான மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர எண்ணிக்கைகள் உ.பி. ஒரு கொண்ட விளைவித்துள்ளது
எந்த செல்லுபடியாகும் மற்றும் (2) இந்த தீவிர பிரச்சினை இருப்பது இல்லாத அரசாங்கம்
கூட அரசியலமைப்பு நிபுணர்கள் மற்றும் அதிகாரிகள் விசாரிக்கப்பட்டனர்.
இல்
கொண்ட ஒரு அரசாங்கம் கொண்ட அதிர்ச்சி நிலைமை நீக்க பொருட்டு
எந்த செல்லுபடியாகும் மற்றும் அரசியலமைப்பு, இசி கீழ் அதன் பொறுப்பை நிறைவேற்ற
(1) உடனடியாக மிகவும் கேள்விக்குறியான மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர போன்ற கணக்கில் அறிவிக்க வேண்டும்
தவறான கொடுத்து “பா.ஜ.க +” ஒரு உயர் வரம்பு விட 55% அதிக இடங்களை ஏனெனில்
இடங்களை எண் ஐந்து அறிவியல் சராசரி முடிவுகளை படி
பிந்தைய கருத்துக்கணிப்புகளில் (2) குற்றவியல் நீக்கி பிறகு வாக்குப் பதிவு இயந்திரங்கள் மறுஎண்ணிக்கை உத்தரவிடும்
கையாளுதல், மீளாய்வு கீழ் நிபுணர்கள் மற்றும் பந்தயக்காரர்களால். இந்த இருந்தால்
சாத்தியம் இல்லை, இசி பிறகு, ஒரு குறுகிய காலத்திற்குள் ஒரு மறு தேர்தல் உத்தரவிடும் வேண்டும்
ஜனாதிபதி ஆட்சி பரிந்துரைத்து. இல்லையெனில், உ.பி. ஒரு வேண்டும் தொடரும்
தவறான அரசாங்கம் - எங்கள் அரசியலமைப்பின் மீதான கறை.

ஒரு அநாமதேய
அக்கறை கொள்வதை சத்யமேவ Jayate மற்றும் அச்சத்தை பொன்மொழி மதிக்கிறது யார் குடிமகன்
இதுபோன்ற நடவடிக்கைகளில் ஈடுபட கூட இது விளிம்பு உறுப்புகள் பல காரணங்களை சுட்டிக் காட்டி மீது கொல்ல.

உச்ச நீதிமன்றத்தின் Hon’be நீதிபதிகள் நிறுத்துமாறு பிறப்பிக்கப்பட்ட மேல்முறையீட்டு

தயவுசெய்து கருத்தில் அதிர்ச்சி / அரசியலமைப்பிற்கு விரோதமானது சூழ்நிலைகளில் என்பதை
இந்த கட்டுரையில் விவரிக்கப்பட்ட தாமாகவே முன்வந்து நடவடிக்கை எடுக்கக்கூடிய போதுமான அடிப்படையில் உள்ளன
வழக்குகள்:

(1) கொண்ட தற்போதைய உ.பி. அரசாங்கம் விலக்குகிறது
அரசியல் சாசனத்தில் கீழ் செல்லுபடியாகும், மிகவும் கேள்விக்குறியான அடிப்படையாகக் கொண்டவையாக இருக்கின்றன
மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர கணக்கில். இணையக் குற்றவாளியால் செய்ய அனுமதிக்கப்பட மாட்டாது என்றால் அது ஒரு இழிவான செயலாகும்
அரசியலமைப்பின் ஒரு கேலிக்கூத்து.

(2) ஒரு சிறப்பு அமைத்தல்
தேர்தல் ஆணையம் தவறிவிட்டது என்பதை விசாரணை செய்யும்படி விசாரணை குழு
உ.பி. தேர்தல் முடிவுகள் பற்றி பாரபட்சமற்ற இருக்க வேண்டும்.

பத்திரிகையாளர்கள் கவனத்தை பொறுத்தவரை

தில்லி வாழ்விடம் மையம், அனைத்து பங்கேற்பாளர்கள் ஒரு சமீபத்திய குழு கலந்துரையாடலில்
இந்திய ஊடகத்துறையின் காட்சி பேரழிவு இருந்தது என்ற கருத்தைக் கூறினார்
ஏனெனில் தற்போது விமர்சிக்கத் பத்திரிகையாளர்கள் மத்தியில் பயம்
அரசு. பத்திரிகையாளர்கள் மிகவும் பயம் இருந்தால், அவர்கள் மாறும்
பொருத்தமற்ற. அவர்கள் பரிந்துரைத்தார் மட்டுமே தீர்வு பத்திரிகையாளர்கள் வேண்டும் என்று இருந்தது
விரும்பத்தகாத கொள்கைகள் மற்றும் அரசுகள் நடவடிக்கைகள் எதிராக நிற்க.
இந்தத் தேவையானது சமீபத்தில் இந்திய குடியரசுத் தலைவரால் வலியுறுத்தப்பட்டது. அவர்
பத்திரிகை அதன் கடமை தவறிய என்று கூறினார் வேண்டும் அது பற்றிக் கேட்கவில்லை என்றால்
சக்தி (டைம்ஸ் ஆப் இந்தியா, 26.05.17) அந்த கேள்விகளை.

இல்
தற்போதைய சூழலில், அது கேள்வி ஒவ்வொரு பத்திரிகையாளர் கடமை உள்ளது
ஐந்து முடிவுகளை ஒதுக்குவதன் மூலம் அதன் பொறுப்புகளை தோற்றுப்போன இசி
எந்தக் காரணமும் மற்றும் பயன்படுத்தி இல்லாமல் அறிவியல் பிந்தைய கருத்துக்கணிப்புகளில்
மிகவும் கேள்விக்குறியான மின்னணு வாக்குப்பதிவு இயந்திர தவறான அரசியலமைப்பு ஆதரவு கணக்கில்
உ.பி. அரசாங்கத்தின் அதிர்ச்சிதரும் நிலைமை விளைவாக மற்றும் ஒரு கறையாக
இந்திய அரசியலமைப்பின்.

பயம் காலநிலை நீக்க உதவ,
அனுபவம் சிறு புத்தகங்கள் வெளியிட வேண்டும் நிறைய ஒய்வு பெற்றார் பத்திரிகையாளர்கள்
இது அவர்களுடைய எண்ணங்களை வெளிப்படுத்த பயந்து பத்திரிகையாளர்கள் காரணங்களை விளக்குவதற்கு
சுதந்திரமாக மற்றும் எதிர்மறை கதாபாத்திரம், அவர்களின் அல்லாத தொழில்முறை எஜமானர்களால் நடித்தார்.
வெளியிடுதல் சிறு புத்தகங்கள் அவசியம் ஏனெனில் செய்தித்தாள்கள் மற்றும் பத்திரிகைகள் இருக்கலாம்
பயம் காரணமாக இத்தகைய கருத்துகள் வெளியிட.

எனினும், தீவிரத்தை
துணிச்சலான மூலம் மத்திய மற்றும் மாநில அரசு இரண்டும் பற்றிய விமர்சனத்தை
டிவி மற்றும் பலரும் வினு ஜான் மற்றும் சிந்து Sooryakumar போன்ற பத்திரிகையாளர்கள்
கேரளாவில் செய்தித்தாள்களில் அனைத்து இழப்பையும் ஏற்படுத்தவில்லை என்பதை நம்பிக்கை கொடுக்கிறது. மேலும்,
இந்த நடவடிக்கைகள் நிபுணர்களின் தங்கள் வேலை செய்வதாக என்று நிரூபிக்க
அவர்கள் கிடைக்கும் ஏனெனில் அரசாங்கங்கள் வெளிப்படுத்துவதன், பத்திரிகையாளர்கள் இல்லை பயம் வேண்டும்
ஒரு போலல்லாமல் முழு தொழிலை மற்றும் பொதுமக்கள் முழு ஆதரவு,
பொதுவான மனிதன்.

(Sivarama பாரதி பெறப்பட்டது - srbharathi18@yahoo.in)

நாம் இந்த அறிக்கையைப் / கட்டுரை பிடித்திருந்தது நம்புகிறேன். மில்லி கெஜட் ஒரு இலவச மற்றும்
சுயாதீன வாசகர்கள் ஆதரவு ஊடக அமைப்பும். அதை ஆதரிக்கும், தயவுசெய்து
தாராளமாகவும். இங்கே கிளிக் செய்யவும் அல்லது sales@milligazette.com எங்களுக்கு மின்னஞ்சல்

பாரபட்சமற்ற விசாரணை தேவை: உத்தரப் பிரதேசம் கேள்விக்குரிய செல்லுபடியாகும் ஒரு அரசாங்கம் கொண்டிருக்கும்

தற்போதைய சூழலில், அதன் பொறுப்புகளை தோற்றுப்போன இசி கேள்வி ஒவ்வொரு பத்திரிகையாளர் கடமை ஆகும் …

milligazette.com

Classical Telugu
ఈ ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు (మోడీ) చక్రం ఆవిష్కరించుకునే ప్రయత్నం CEC యొక్క హంతకులు ద్వారా ఒక నిరర్థకమైన వ్యాయామం. ఇది
సుప్రీం కోర్ట్ లో నిరూపించిన ఈవీఎంలు పాడు అని మరియు అందుకే మాజీ సిజెఐ
సదాశివం ఎందుకంటే రూ ఖర్చు మాజీ సిఇసి సంపత్ సూచించారు అలాగే దశల పద్ధతిలో
ఈవీఎంలు స్థానంలో అని ఆర్దరింగ్ ద్వారా తీర్పు ఒక సమాధి లోపం కట్టుబడి
1600 కోట్లు. కానీ మొత్తం ఈవీఎంలు భర్తీ చేయబడ్డాయి వరకు కాగితం బ్యాలెట్లను ఉపయోగించడం చేయటాన్ని అతను ఆదేశించాడు ఎప్పుడూ.

చాలా
నిజానికి ఈవీఎంలు భర్తీ చేసేది వారికంటె tamperable.More 80
ప్రజాస్వామ్యంలో బ్యాలెట్ పత్రాలు ఉపయోగించారు మరియు ఇప్పటికీ ఈవీఎంలు మోసం
లోబడి ఉంటాయి ఎందుకంటే వాటిని ఉపయోగిస్తున్న ఒక స్పష్టమైన సాక్ష్యం.
CEC మాత్రమే 2019 మొత్తం ఈవీఎంలు కూడా ప్రజాస్వామ్య సంస్థల హంతకులు
మేకింగ్ నమ్మకమైన కాదు వివిపిఎటి ద్వారా భర్తీ చేయబడుతుంది (మోడీ)
శాశ్వతంగా వారి పాలన కొనసాగుతుంది చెప్పారు.

ఇప్పటికే ఈవీఎంలు ఏ సందేహం లేకుండా tamperable అని నిరూపించారు పలువురు సాంకేతిక నిపుణులు ఉన్నాయి.

ప్రస్తుత వ్యాయామం gulliable అమాయక ఓటర్లు హింసించే మాత్రమే ఉంది.

http: //www.milligazette.com /…/ 15634-ఉత్తర్-ప్రదేశ్-is-కలిగి …

నిష్పాక్షిక దర్యాప్తు అవసరం: ఉత్తర ప్రదేశ్ ప్రశ్నార్థకం చెల్లే ప్రభుత్వ గురైంది

కేవలం 8 543 లోక్ సభ సీట్లను బిజెపి (Bahuth ఎనేబుల్ భర్తీ చేయబడ్డాయి
Jitadha వికలోద్వేగరోగులు) ప్రజాస్వామ్య సంస్థల యొక్క హంతకులు (మోడీ)
మాస్టర్ కీ గాబల్. ఆ తరువాత ఇతర అసెంబ్లీ ఎన్నికలు
ఈ మోసం EVM ల నిర్వహించారు. యుపి ఎన్నికల మాత్రమే 20 సీట్లు లో
బిజెపి ఎనేబుల్ 325 సీట్లు గెలుచుకున్న కాలేదు పేరు భర్తీ చేయబడ్డాయి
యోగి / Bhogi / Roghi మరియు దేష్ Dhrohi CM మారింది. గత ఉత్తరప్రదేశ్లో
పేపర్ బ్యాలెట్లను మాయావతి యొక్క నిర్వహించిన పంచాయతీ ఎన్నికలు
బిఎస్పి ఒక అధికమైన మెజారిటీ సాధించింది. ఇప్పుడు మాయావతి ఒక షెడ్యూలు కులం అరికట్టేందుకు
ఎవరు మోసం ఉపయోగించే ప్రక్రియ గెలుచుకున్న ఒక Sarvajan సమాజ్ నాయకుడు
ఈవీఎంలు ఉపయోగిస్తున్నారు. అందువలన చూడడానికి ఒక ఉద్యమం మధ్య మరియు
రాష్ట్ర ప్రభుత్వాలు ఈ మోసం EVM ల ఎంపిక రద్దు చేసి వెళ్ళి తప్పక
80 ప్రజాస్వామ్యంలో అనుసరించారు పేపర్ బ్యాలెట్లను తాజా ఎన్నికలకు యొక్క
పొందుపరిచారు ప్రజాస్వామ్యం, సమానత్వం, స్వేచ్ఛ మరియు కూటమిలో సేవ్ ప్రపంచ
అన్ని సంక్షేమం, ఆనందం మరియు శాంతి కోసం మా ఆధునిక రాజ్యాంగంలో
సమాజాలు మరియు 1% సరిపడని, తీవ్రవాద, సంఖ్య 1 తీవ్రవాదులు నివారించేందుకు
ప్రపంచంలో షూటింగ్, చిత్రవధలు చేసి చంపడం వెర్రివాడు యొక్క, వైకల్యంతో chitpavan
బ్రాహ్మణ RSS (rakshasa Swayam Sevaks) కలిగిన కానిబాల్ వికలోద్వేగరోగులు
ఇప్పటికే వారి స్టీల్త్, క్రీనీడ వారి మనుస్మృతి అమలు ప్రారంభించారు
మరియు వివక్షత hinduva కల్ట్.

మాజీ సిజెఐ, మాజీ సిఇసి మోడీ
యోగి అట్రాసిటీస్ చట్టం కింద నాన్-bailabale వారెంట్లు తో బుక్ చేయాలి
ఎస్సీ నివారణకు / ఎస్టీలకు ఆధునిక వ్యతిరేకంగా మాస్టర్ కీ సాధించటం
మా దేశం రాజ్యాంగం.

నిష్పాక్షిక దర్యాప్తు అవసరం: ఉత్తర ప్రదేశ్ ప్రశ్నార్థకం చెల్లే ప్రభుత్వ గురైంది
మిల్లి గెజిట్ ఆన్లైన్
ప్రచురణ ఆన్లైన్: Jun 01, 2017

నిజమైన విలువ లేదా నాణ్యత లేదా అంచనా నమూనాలను ఎంచుకోవడం
ఒక పెద్ద సమూహం ప్రవర్తన అనేక కోసం ఒక విస్తృతంగా అంగీకరించబడిన అనుసరణ ఉంది
సంవత్సరాల. సంవత్సరాలుగా, నమూనా సాంకేతికతలను అభివృద్ధి మరియు తయారు చేశారు
నిజమైన విలువలు మరియు విశ్వాసం యొక్క నమ్మకమైన అంచనాలు నిర్ధారించడానికి శాస్త్రీయ
పరిమితులు నిజమైన విలువ ఉంటాయి అవకాశం ఉంది ఇది దాటి. పర్యవసానంగా,
నమూనా సర్వేలు ఫలితాలు పదేపదే ఉపయోగించడం చేయబడ్డాయి
ఆర్ధిక, సామాజిక మరియు రాజకీయ పరిణామాలు ప్రణాళిక విశ్వాసం.
కానీ, చిత్రంగా, ఐదు శాస్త్రీయ నమూనా సర్వేలు ఫలితాలు (నిష్క్రమణ
యుపి ఎన్నికల ఫలితాలు ఎన్నికలు) కూడా దర్యాప్తు లేకుండా తోసిపుచ్చడం జరిగింది
వారి విశ్వసనీయత. ఐదు శాస్త్రీయ ఈ బ్లైండ్ టోకు తిరస్కరణ
నమూనా అధ్యయనాలు / ఎగ్జిట్ పోల్స్ ప్రత్యేకంగా ఉంటుంది మరియు ఖండించారు వుంటుంది అర్హురాలని
బొత్తిగా.

క్రింది ప్రకటన ఐదు ఫలితాలు ఇస్తుంది
శాస్త్రీయ ఎగ్జిట్ పోల్స్ బిజెపి, దాని మద్దతుదారులు ఇవిఎం గణనలు
( “బిజెపి +”) ఉత్తరప్రదేశ్ ఎన్నికల్లో.

పోల్స్టార్

నం బ్రాకెట్ లోపల “బిజెపి +” కోసం సీట్లు మరియు విశ్వాసం పరిమితులు

టైమ్స్ నౌ VMR

200 (190210)

భారతదేశం న్యూస్-ఎంఆర్సి

185 (175195) *

ఎబిపి-CSDS

170 (164-176)

భారతదేశం టివి-సి ఓటర్

161 (155167)

న్యూస్ 24 చాణక్యుడు

285 (273- 297) *

సగటు

200 (190210) *

ఇవిఎం గణనలు

325

ఈ pollsters ద్వారా లెక్కించిన * కాన్ఫిడెన్స్ పరిమితులు చూపిన కాలేదు
వార్తాపత్రిక నివేదికలు. పైన ఇచ్చిన పరిమితులు రఫ్ కానీ బొత్తిగా విశ్వసనీయతను
ఇతర ఇచ్చిన విశ్వాసం పరిమితులకు పోల్చదగిన లెక్కలు
pollsters.

మొదటి నాలుగు శాస్త్రీయ ఎగ్జిట్ పోల్స్ హంగ్ అంచనా
అసెంబ్లీ. చివరి బిజెపికి మెజారిటీ అంచనా. కానీ, చాలా
ముఖ్యమైన, EVM గణనలు కంటే “బిజెపి +” కోసం మరిన్ని సీట్లు చూపించాడు
ఎగువ విశ్వాసాన్ని పరిమితులు (అనగా, సీట్ల సంఖ్య ఎగువ పరిమితి)
మొత్తం ఐదు ఎగ్జిట్ పోల్స్ ఇచ్చిన. ఐదు నిష్క్రమణ కోసం సగటు ఫలితంగా
ఎన్నికలు (ఇది ఒక స్పష్టమైన చిత్రాన్ని ఇస్తుంది) చూపే 325 ఇవిఎం లెక్కింపు
సీట్లు ఇచ్చింది “బిజెపి +” 55% కంటే ఎక్కువ ఇది ఎగువ పరిమితి 210 సీట్లు
సీట్ల సంఖ్య. ఈ చాలా పెద్ద తేడా ఏ సందేహం దాటి చూపిస్తుంది
ఆ ఇవిఎం గణనలు తప్పు.
సీట్లు నిజమైన సంఖ్య కోసం చాన్స్
అందుకున్న “బిజెపి +” కోసం ఎగువ పరిమితి కంటే కూడా కొద్దిగా ఎక్కువ ఉండటం
సీట్ల సంఖ్య కంటే తక్కువ 5% (ఈ ఎగ్జిట్పోల్స్ ఏ ఒకటి లేదా కూడా ఉంది
1% కంటే తక్కువ ద్వారా ఎంపిక విశ్వాస స్థాయి మీద ఆధారపడి
పరిమితులు లెక్కించడానికి pollsters). కూడా చెదురుమదురు ఎగ్జిట్ పోల్ కోసం
ఫలితం కోసం అవకాశం “బిజెపి +” అత్యంత అనుకూలమైన ఉంది, “బిజెపి +”
మరింత కూడా 297 కంటే కొద్దిగా సీట్లు పొందడానికి కంటే తక్కువ 5% (లేదా 1%) ఉంది.
“బిజెపి +” ఎగువ పరిమితి కంటే కూడా కొంచెం సీట్లు పొందడానికి అవకాశం
మొత్తం ఐదు ఎగ్జిట్ పోల్స్ కోసం సీట్ల సంఖ్య (ప్రకారం సున్నాకు దగ్గరగా ఉంటుంది
సంభావ్యత యొక్క చట్టం). మరింత ఆధారపడదగిన బోధపడుతుంది
ఫలితంగా, “బిజెపి +” కోసం అవకాశం ఎగువ పరిమితి కంటే 55% ఎక్కువ సీట్లు పొందడానికి
210 సీట్లు సున్నాకు దగ్గరగా ఉంటుంది. ఇతర మాటలలో, సంభావ్యత అని
ఇవిఎం ఉత్తరప్రదేశ్ ఎన్నికలు తప్పు 100% దగ్గరగా ఉన్నాయి లెక్కిస్తుంది.

బదులుగా
మొత్తం ఐదు శాస్త్రీయ నిష్క్రమణ పోల్స్ బొత్తిగా ఫలితాలు ఖండిస్తూ యొక్క,
ఎన్నికల కమిషన్ (ఇసి) వారి శాస్త్రీయ ఆధారం గౌరవం ఉండాల్సింది.
ఏ నిర్ధారణ అవసరమైంది ఉంటే, EC నిపుణుల అభిప్రాయాలను కోరిన కాలేదు
ఇండియన్ స్టాటిస్టికల్ ఇన్స్టిట్యూట్, కోలకతా యొక్క (అభివృద్ధి చెందుతున్న మార్గదర్శకులుగా
నమూనా సాంకేతికతలను) లేదా ఏ ఇతర సంస్థలు లేదా ఆచార్యులు
నమూనా సాంకేతికతలను అనుభవంతో గణాంకాలు. కానీ, అది తెలుస్తుంది EC
ఈ ఆడలేదు. నమ్మశక్యం, EC కోసం ఏ సమర్థనలు ఇవ్వలేదని
శాస్త్రీయ ఫలితాలు తిరస్కరించడం! సహజంగానే, EC కనుగొనేందుకు కోరుకోలేదు
సత్యం మరియు దాని రాజ్యాంగ బాధ్యతను విఫలమైంది. లేకపోవటమే
నిజం బయటకు కనుగొనడంలో ఆసక్తి కూడా నిష్పక్షపాతం ప్రశ్నిస్తాడు
EC.

EC నిర్లక్ష్యం కారణంగా నిష్పక్షపాతం మరింత ప్రశ్నార్థకం
ఇది స్పష్టంగా తారుమారు తేలింది సమాచారాన్ని క్రింది
ఎలక్ట్రానిక్ గాడ్జెట్లు స్పష్టమైన అవకాశం ఉంది మరియు పదేపదే పేర్కొన్నారు
ఈవీఎంలు పాడు చిలుక లాంటి చేసే:

1. సైబర్
ఎక్కువ మంది ప్రజలు తెలివిగా తప్పుదోవ తో నేరాలు పెరుగుతున్న చేశారు
, హ్యాకింగ్ నైజం వైరస్ అభివృద్ధి, రిగ్గింగ్ మొదలైనవి

2. అనే పేరుతో ఒక వ్యాసం “ఈవీఎంలు నిజంగా ప్రూఫ్ పునరాలోచన చేస్తున్నారా”
డెక్కన్ క్రానికల్ లో Debanish Achom ద్వారా కింది రాష్ట్రాలు:

(ఎ) “BBC నివేదించారు ఒక ఒక ఇంట్లో తయారు చేసిన పరికరం కనెక్ట్ తర్వాత
ఇవిఎం, మిచిగాన్ పరిశోధకులు విశ్వవిద్యాలయం ఫలితాలు మార్చగలరు ఉన్నాయి
ఒక మొబైల్ ఫోన్ నుండి టెక్స్ట్ సందేశాలను పంపడం. “

(B) “హరి కృష్ణ
ప్రసాద్ వేమూరు, హైదరాబాద్ ఆధారిత Netindia ప్రెవేట్ లిమిటెడ్ మేనేజింగ్ డైరెక్టర్ ఒక
టెక్నాలజీ సొల్యూషన్స్ సంస్థ, స్థానిక టీవీలో చూపించింది ఒక ఇవిఎం కావచ్చు ఎలా
rigged. “ఇది ఉగ్రమైన బిజెపి మద్దతుదారు ఈ వీక్షించారు అని సాధ్యమే
మరియు (EC & బిజెపి తెలియకుండా) హ్యాకింగ్ విజయం సాధించింది మరియు
యుపి ఎన్నికల్లో ఉపయోగిస్తారు ఈవీఎంలు లెక్కింపు సూచనలను పోగులను.

(సి) మిస్టర్ వేమూరు కూడా ఇవిఎం చిప్ను చేయవచ్చు “అని పేర్కొన్నారు
ఒక రూపాన్ని-అలైక్ మరియు ఆదేశాలు తో నిశ్శబ్దంగా ఓట్ల శాతం దొంగిలించడానికి
ఎంచుకున్న అభ్యర్థికి అనుకూలంగా. “EC యొక్క ఏదైనా తెలివైన మరియు నిజాయితీ సిబ్బంది,
అతను / ఆమె కోరుకుంటే ఈవీఎంలు ఏకైక సంరక్షకుడు, ఈ పని చేయడు. ఇది
సంబంధించిన ఏ ప్రభుత్వ కార్యాలయంలో అవినీతి రహిత ఉండే అవకాశం ఉంది.

3. “సింథటిక్ (వేలు) అచ్చుల స్మార్ట్ ఫోన్లు అన్లాక్ చేయవచ్చు సమయం 65%.” (టైమ్స్ భారతదేశం యొక్క, 16-04-17).

4. ఆప్ ఒక ఇవిఎం సవరించడానికి సాధ్యమయ్యే ఎలా ఢిల్లీ అసెంబ్లీలో కనబర్చింది.

5. “మెకాఫీ ద్వారా ఒక నివేదిక 176 సైబర్ బెదిరింపులు అని చెబుతాడు
మరియు ప్రతి నిమిషం కనుగొనబడింది (అనగా, దాదాపు మూడు ప్రతి రెండవ) 88 శాతం
ransomeware పెరుగుదల మరియు 99 శాతం మొబైల్ మాల్వేర్ వృద్ధి ఉండేది
2016 చివరిలో “(DeccanChronicle, 12.04.17) ద్వారా కనుగొనబడింది.

EC తెలుసా
సైబర్ బెదిరింపులు ప్రతి రెండవ కోసం చూడవలసిన ఒక అవివేకిని ప్రూఫ్ వ్యవస్థను కలిగి
24/7 మరియు అటువంటి అన్ని బెదిరింపులు అధిగమించడానికి? లేకపోతే, సైబర్ నేరగాళ్లు కలిగి కాలేదు
అవకతవకలు యుపి ఎన్నికల కోసం ఇవిఎం లెక్కింపు.

ఇది స్పష్టంగా లేదు
EC ఈవీఎంలు ఉత్తరప్రదేశ్ ఎన్నికలు ఉపయోగిస్తారు అని భరోసా విజయం సాధించింది లేదో
(ఏ సమయంలో అవకతవకలు అన్ని రకాల ఎదుర్కొనేందుకు కాలేదు అంతటా
ఎన్నికల), నిపుణుల అన్ని రకాల సంతృప్తి చేయవచ్చు దీనిలో. అది కలిగి పోయినా
విజయం 100% (సందేహాస్పదంగా ఉంది) ఏ తెలివైన మరియు నిజాయితీ సిబ్బంది
EC, ఈవీఎంలు ఏకైక సంరక్షకుడు, అతను / ఆమె కోరుకుంటే అవకతవకలు కావచ్చు
కు. ఇది లంచం పెడుతుంటారు మరియు వ్రాసేవారు పెరిగారు అని సంబంధించిన ఉంది
దేశంలో.

ఈ ఎలక్ట్రానిక్ ఆ తారుమారు చూపించు
గాడ్జెట్లు స్పష్టమైన అవకాశం ఉంది. ఈ ప్రభుత్వం మద్దతు ఉంది
ఆధార్ స్రావాలు సంబంధం సుప్రీం కోర్ట్ (SC), ప్రవేశానికి, ఆ
సాంకేతిజ్ఞత 100% ఖచ్చితంగా ఉంది. ఈ హేళన ఇసి దావా ఈవీఎంలు
పాడు చేయవచ్చు. EC మరల మరల నిరాకరించటం అని దర్యాప్తు
యుపి ఎన్నికల్లో ఉపయోగిస్తారు ఈవీఎంలు షో అవకతవకలు ఉన్నాయి EC కాకపోవచ్చు
నిష్పాక్షిక.
ఇది యుక్తమైన అని అటువంటి అవకాశం
తారుమారు పరోక్షంగానే యొక్క EC అంగీకరించలేదు కానీ కూడా ఉపయోగం తయారు చేస్తారు
అది (పదేపదే క్రింద సచిత్ర). EC ఒక పరిచయం వాగ్దానం
కాగితం కాలిబాట (వివిపిఎటి) ఈవీఎంలు కోసం 2019 లో చెక్ వీలు కల్పిస్తుంది
ఏదైనా ఎలక్ట్రానిక్ తారుమారు ఏర్పడింది అని. ఈవీఎంలు యుపిలో ఉపయోగించుకుంటే
ఎన్నికల్లో అవకతవకలు కాలేదు, EC ఈ సమర్థించడం కాలేదు
మార్చడానికి. హాస్యాస్పదంగా, అవకాశం ఈ పరోక్ష స్వీయ ప్రవేశ ఉన్నప్పటికీ
తారుమారు, EC తనిఖీ మరియు ఈ జరిగింది అని రిపోర్ట్ లేదు
యుపి ఎన్నికల్లో అది అత్యంత ప్రశ్నించదగిన ఫలితాలను ఇచ్చింది కూడా. బదులుగా,
EC ఈవీఎంలు సవరణ-ప్రూఫ్ అని చిలుక లాంటి మాట్లాడుతూ ఉంచుతుంది. ఈ డబుల్
ఆలోచన EC వంటి అధికారం కుదురు లేదు.

అంతేకాక, అది కనిపిస్తుంది
EC (ఒక పొడవైన మార్గం ఆఫ్ ఉంది) 2019 కోసం ప్రణాళికలను గురించి చర్చిస్తున్నట్లు
ప్రధానంగా యొక్క ఆక్షేపణీయ నుండి దృష్టిని మళ్ళించారు ఇవిఎం UP గణనలు
ఇది చేతిలో అత్యంత ముఖ్యమైన విషయం ఎన్నికల్లో.

EC రాశారు
మోహరింపులో వివిపిఎటి యంత్రాలు ఉండేలా అవసరమైన న్యాయ శాఖ మంత్రి
“లో ఓటర్ విశ్వాసం మరియు ఓటింగ్ సమగ్రత సంరక్షించబడిన ఉంది
ప్రక్రియ “రూ andsought మంజూరు బలపడింది. కోసం 3,174 కోట్లు
కొత్త యంత్రాలు (టైమ్స్ భారతదేశం యొక్క, 17.04.17) సేకరణ. ఈవీఎంలు ఉపయోగించారు ఉంటే
యుపి ఎన్నికల్లో ఓటింగ్ సమగ్రతను కాపాడిన ఇసి కలిగి కాలేదు
నిధుల కోసం ఈ భారీ డిమాండ్ సమర్ధించుకున్నారు. మరో పరోక్ష కాడా
యుపి ఎన్నికల్లో ఉపయోగించిన ఈవీఎంలు పునరాలోచన ప్రూఫ్ లేదు ప్రవేశ?

EC ఈ కొత్త యంత్రాలు కూడా ఒక స్వీయ విశ్లేషణ కలిగి ఉంటాయి అని చెప్పాడు
యంత్రాలు యొక్క స్వచ్ఛత యొక్క ధృవీకరణ కొరకు వ్యవస్థ. ఇది లేదు
యుపి ఎన్నికల్లో ఉపయోగిస్తారు పాత ఈవీఎంలు ఆ స్వచ్ఛత అర్థం కాలేదు
ధృవీకరింపబడింది? ఈ కూడా ఇ.సి. ఈ ఉపయోగించడం సాధిస్తోంది అర్థం ఉందా
యుపి ఎన్నికల్లో ఉపయోగిస్తారు ఈవీఎంలు లో లోపము భారీ మొత్తంలో ఖర్చు సమర్థించేందుకు
కొత్త యంత్రాలు న?

“EC తదుపరి తరం ఈవీఎంలు కొనుగోలు సెట్ అని
“శస్త్రచికిత్స సాధ్యంకాని క్షణం ప్రయత్నాలు దానితో కాలయాపన చేస్తారు” అయింది
2019 (టైమ్స్ భారతదేశం యొక్క, 03.04.17) లో ఉపయోగించే. ఈ అసాధారణంగా ప్రారంభ చర్చ
భవిష్యత్తు గురించి చాలా దృష్టిని మళ్ళించారు మరో ప్రయత్నం
చేతిలో ముఖ్యమైన ప్రశ్న ఉత్తరప్రదేశ్ ఎన్నికలు ఉపయోగిస్తారు ఈవీఎంలు కాదా
పాడు.

“ఈవీఎంలు సమగ్రతను పోల్ ఉపయోగిస్తారు ఉంటుంది
ఒక ద్వారా అన్ని వాటాదారుల పూర్తి సంతృప్తి “ప్రదర్శించారు
EC (టైమ్స్ భారతదేశం యొక్క, 02.04.17) జట్టు. ఈ మరో మచ్చుతునక
EC తప్పు నుండి దృష్టిని మళ్ళించారు క్రమంలో భవిష్యత్తులో aboutthe మాట్లాడటం
ఇవిఎం యుపి ఎన్నికల కోసం గణనలు.

EC రాజకీయ ఒక సవాలు విసిరారు
పార్టీలు, శాస్త్రవేత్తలు మరియు సాంకేతిక నిపుణులు ఈవీఎంలు కావచ్చు నిరూపించడానికి
ఇప్పుడు పాడు. (టైమ్స్ భారతదేశం యొక్క, 13.04.17). ఈ ఇంకా మరొక ఉంది
తప్పు ఇవిఎం శ్రద్ధ మరల్చటం యొక్క ఉదాహరణ UP కోసం గణనలు
ఎన్నికలు. అంతేకాక, ఈ ఆలస్యంగా సవాలు, నటీనటులు తర్వాత అనేక వారాల
సందేహాలు, EC ఇప్పుడు ఈవీఎంలు చేసిన లేదో ముఖ్యమైన ప్రశ్నను లేవనెత్తుతుంది
లో “శస్త్రచికిత్స సాధ్యంకాని” క్షణం ప్రయత్నాలు, దాని అధీనంలో ఉన్నాయి UP, ఉపయోగిస్తారు
ఈవీఎంలు తరువాత తరం యొక్క నాణ్యత - దానితో కాలయాపన చేస్తారు.
అలా అయితే, ఇక్కడ వాడారు ఈ నాణ్యత లేకుండా పాత ఈవీఎంలు ఉన్నాయి
ఉత్తరప్రదేశ్ ఎన్నికలు? రెండు లేదో EC ఈ ప్రశ్నకు నిజాయితీ ఉంది.

2013 లో, SC అలాగే దశల పద్ధతిలో వివిపిఎటి పరిచయం EC ఆదేశించారు.
చిదంబరం ఈ తీర్పు వివరాలు సూచిస్తారు మరియు చెప్పారు “ఒక
నిపుణుల జట్టు మాట్లాడుతూ సమగ్ర నివేదిక దాఖలు చేసిన
ఈవీఎంలు ఉపయోగించే సాఫ్ట్వేర్ అలాగే హార్డ్వేర్ దెబ్బతింది మరియు పీడిత ఉన్నాయి
దిద్దుబాటు “. అతను కూడా ఇసి యంత్రం కాదని ఒప్పుకున్నప్పుడు చెప్పారు
ఫూల్ప్రూఫ్ మరియు కాగితం కాలిబాట “(టైమ్స్ భారతదేశం యొక్క పరిచయం అంగీకరించింది,
030417). కాగితం కాలిబాట లేకుండా ఈ ఈవీఎంలు యుపిలో ఉపయోగించారు ఎందుకంటే
(కొన్ని సీట్లు తప్ప) ఎన్నికల్లో ఇసి వారు కాదు అని తెలుసు
ఫూల్ప్రూఫ్. ఈ అవగాహన ఉన్నప్పటికీ, EC పదేపదే పేర్కొన్నారు ఈవీఎంలు
పాడు కాలేదు. ఈ డబుల్ ప్రశ్నలు సమగ్రతను మాట్లాడటం
మరియు EC యొక్క నిష్పక్షపాతం.

ఈ విధేయత లేకపోవడం సూచిస్తుంది మరియు
EC యొక్క నిబద్ధత ఎన్నికల ఫలితాల్లో ఖచ్చితత్వాన్ని నిర్ధారించడానికి.
ఖచ్చితత్వం తనిఖీ EC నిరాకరించడంతో ధ్రువీకరించారు లో ఇవిఎం UP అభియోగాలకు
ఇవిఎం యుపి ఎన్నికల కోసం గణనలు సంభావ్యత ఉన్నప్పటికీ ఎన్నికలు
చేయబడ్డాయి తప్పు దగ్గరగా 100% (పైన చూడండి) మరియు EC అవగాహన గురించి
ఈవీఎంలు (పారా ముందు తప్ప) తారుమారు అవకాశం. ఈ కూడా
ప్రశ్నలు ఇసి నిష్పక్షపాతం.

Mayawathi కేజ్రీవాల్, ఏచూరి
కూడా ఈ ప్రశ్నించారు. సందేహాలు తో ఎక్కువ మంది ఉండవచ్చు
(ఐదు pollsters సహా) ఎవరు బహుశా ఎందుకంటే, నిశ్శబ్ద కీపింగ్ ఉంటాయి
వ్యతిరేక జాతీయులు పేరుంది అనే భయం. EC నెరవేర్చాడు లేదు దాని
ఖచ్చితత్వం యొక్క అత్యంత ముఖ్యమైన ప్రశ్న గురించి వారి సందేహాలు క్లియర్ విధి
UP అభియోగాలకు కానీ పదేపదే చెప్పడంపై దాని నుండి దృష్టిని మళ్లించడం
దాని భవిష్యత్తు ప్రణాళికలు గురించి.
ఖచ్చితత్వం యొక్క లేకపోవడంతో నాలు సంవత్సరాల కూడా కొనసాగితే
SC యొక్క ఆదేశాలు తరువాత అయితే మరింత ఖచ్చితమైన ఈవీఎంలు ఒక అమలు కాలేదు
పెద్ద ఎత్తున. ఏ చెత్తగా ఉంది దెబ్బతింది EC వినియోగ ప్రణాళిక ఉంది
ఈ “మరింత ఖచ్చితమైన” ఈ యంత్రాలు ఉంటుంది అయినప్పటికీ 2019 లో ఈవీఎంలు,
భారత్ ఎలక్ట్రానిక్స్ అండ్ భారతదేశం ఎలక్ట్రానిక్స్ కార్పొరేషన్ తయారు
(టైమ్స్ భారతదేశం యొక్క, 02.04.17). ఎందుకు ఈ వాయిదాకు బదులుగా
కొన్ని రాష్ట్రాల్లో ఖచ్చితమైన ఎన్నికల్లో భరోసా వీటిలో సమయంలో కారణం
తదుపరి రెండు సంవత్సరాల కాలంలో? నిష్పక్షపాతం గురించి సందేహాలు EC లేవనెత్తుతుంది యొక్క
ఈ లో అవకతవకలు కళ్ల మూసివేస్తామని అనే ప్రశ్న
ఎన్నికల్లో 2019 లో సాధారణ ఎన్నికలు, కొన్ని పార్టీలు సహాయం
మనస్సు.

తో ఆపడానికి లేదు అడ్డుపడటం చర్యలు (లేదా ప్రతిచర్య EC ద్వారా)
ఈ. న్యూ ఈవీఎంలు “సాంకేతికంగా ఓట్ల మాన్యువల్ లెక్కింపు అనుమతిస్తాయి”. కూడా
ప్రచురించిన ఫలితాల దోషాన్ని గురించి ఫిర్యాదులు పొందడానికి ముందు,
ఒక బాధ్యత EC మాన్యువల్ లెక్కింపు నుండి ఫలితాలు పోలిస్తే వుండాలి
ఇవిఎం కొత్త ఈవీఎంలు వాడారు కోసం యుపిలో 30 స్థానాలకు గణనలు తో
ఖచ్చితత్వం తనిఖీ. ఇవిఎం ద్వారా చూపిన ఓటింగ్ నమూనా వేర్వేరుగా లెక్కించలేము
30 స్థానాలకు మాన్యువల్ లెక్కింపు నుండి ఆయా చోట్లలో అవకాశం
తారుమారు నిర్ధారించబడింది. కానీ EC బయటకు ఈ తనిఖీలు కూడా వీలులేదు
ఫిర్యాదులు అందుకున్న తర్వాత. ఎందుకు? ఈ కూడా నిష్పక్షపాతం ప్రశ్నిస్తాడు
EC.

EC ముందు లేవనెత్తిన అన్ని ప్రశ్నలకి ఆమోదయోగ్యమైన సమాధానాలు అందించడం ఉంది.

“ఢిల్లీ ముఖ్యమంత్రి అరవింద్ కేజ్రీవాల్ అతను రెండు తెలుసుకుంటాడు అని చెప్పాడు
మూడు ఎన్నికల కమిషనర్లు ఎందుకంటే అతను ఉండుటకు ఏమి ఏకపక్షంగా వ్యవహరిస్తారు
PM నరేంద్ర మోడీ మరియు ఇతర అందులో ఒకటి సమీపంలో ఉన్న MP
ముఖ్యమంత్రి శివరాజ్ సింగ్ చౌహాన్ “(టైమ్స్ భారతదేశం యొక్క, 19.04.17).
ఈ ఆరోపణ గురించి సందేహాలు ఎందుకంటే పరిశోధించారు అవసరం
ఇసి నిష్పక్షపాతం ముందు అనేకసార్లు బడ్డాయి
పేరాలు. ఇటువంటి ఒక పరిశోధనలో కూడా వివిధ పాయింట్లు కవర్ చేయాలి
ముందు లేవనెత్తారు. ఈ సిబిఐ దర్యాప్తు చేయరాదు ఉంది
ఎస్సీ ప్రభుత్వానికి ఒక బోనులో చిలుక వంటి లేబుల్. మరో కారణం
విశ్వసనీయత సిబిఐ లేకపోవడం సిబిఐ రెండు మాజీ డైరెక్టర్లు ఉన్నాయి “అని
అవినీతి విచారణకు ఎదుర్కొంటున్న ప్రక్రియలో ఉంచుతారు, నగదు బదిలీ,
మరియు scuttling తీవ్రమైన సుప్రీం కోర్టు ఉత్తర్వుపై ప్రోబ్స్ “(డెక్కన్ క్రానికల్,
280417).

EC ఫలితాలు ఒక విశ్లేషణ నుండి పొందబడింది “అని వాదనలు
గోవాలో అన్ని 40 నియోజకవర్గాలలోని 33 సీట్లు అంతటా ఉపయోగిస్తారు VVPATs
పంజాబ్ ఫలితాలు కొంచెం వైవిధ్యం కాగితం లేకుండా EVM ల ఆర్పేందుకు చూపిస్తుంది
కాలిబాట “(టైమ్స్ భారతదేశం యొక్క, 18.4.17).

అతి ముఖ్యమైన, అది
ఆశ్చర్యకరమైన EC ఫలితాలు VVPATs నుంచి తిరిగి ఇవ్వలేదు ఆ
ఇది అవసరమైన ఇది కోసం యుపి సహా ఇతర రాష్ట్రాల్లో ఉపయోగిస్తారు ఎందుకంటే
ఇవిఎం గణనలు ఉంది ఆక్షేపణీయ ఉన్నాయి. EC ఈ చేసిన ఉండాలి
ఈ రాష్ట్రాలకు విశ్లేషణ. అలా అయితే, ఎందుకు EC ఫలితాలు ఇయ్యక చేయలేదు?
పరిశీలించుకోవడం చెయ్యకపోతే, ఎందుకు?

ఈ ఫలితాలు నిలిపివేస్తామని
ప్రశ్నలు ఇసి నిష్పక్షపాతం. ఈ వెంటనే ప్రచురించాలా.
EC ఇప్పుడు యుపిలో ఈ స్థానాలకు ఫలితాలు చూపితే (దీనికి వివిపిఎటి బాట
అందుబాటులో) ఈ తేడా లేదని ఇవిఎం గణనలు, దాని నుండి నిరూపించడానికి ఇది
EC స్వతంత్ర ద్వారా తనిఖీ అనుమతిస్తుంది తప్ప విశ్వసనీయత ఉండదు
నిపుణులు.

బహుశా, EC ఈ ఫలితాలను ఈ ఎందుకంటే దాచు కోరుకున్నాడు
ఇవిఎం తరఫున ఈ సీట్లను మరియు ద్వారా తప్పు గణనలు నిరూపించారు
UP అత్యంత స్థానాలకు సూత్రప్రాయంగా, మరియు ఓటింగ్ నమూనా చూపిన ధృవీకరించలేదు
శాస్త్రీయ ఎగ్జిట్ పోల్స్ ద్వారా.

పైన విశ్లేషణ స్పష్టంగా చూపిస్తుంది
(1) ఇవిఎం యుపి ఎన్నికల కోసం గణనలు సంభావ్యత తప్పు
100% దగ్గరగా ఉంది మరియు ప్రస్తుతం యుపి ప్రభుత్వానికి రాజ్యాంగం ఆధారంగా
ఈ తప్పు గణనలు ఏ చెల్లుబాటును, (2) EC పదేపదే జారీ చేయబడింది
మళ్ళించారు భవిష్యత్తులో ఓట్ల సరైన లెక్కింపు భరోసా గురించి ప్రకటనలు
ఉత్తరప్రదేశ్ ఎన్నికలు, (3) నిష్పక్షపాతం ఫలితాలను చెల్లనివిగా నుండి దృష్టిని
EC ఎందుకంటే పేర్కొన్నారు సందేహాలు సంఖ్య పరిశోధించారు అవసరం
ముందు పేరాగ్రాఫులు మరియు (4) పరిస్థితి క్షుణ్ణంగా డిమాండ్
ఒక స్వతంత్ర ఏజెన్సీ (కాదు సిబిఐ) విచారణ అన్ని సందేహాలు క్లియర్ మరియు
నివారణా చర్యలు సిఫార్సు చేస్తున్నాము.

ఇటువంటి విచారణ మాత్రమే Satyameva Jayate ( “ట్రూత్ ఒంటరిగా విజయాలను), మా అత్యంత గౌరవనీయమైన నినాదం నిర్ధారించగలను.

పునరుద్ఘాటించు, ఇది ఒక కాదు ఫలితాలు అవిశ్వాసం isridiculous కానీ
ఐదు శాస్త్రీయ నిష్క్రమణ పోల్స్ మరియు కావచ్చు ఈవీఎంలు యొక్క ఖచ్చితత్వం నమ్మండి
చాలా నిపుణులు అవకతవకలు ప్రకారం మరియు ప్రభుత్వం విరుద్ధంగా
సాంకేతిజ్ఞత 100% ఖచ్చితమైన అని వీక్షించడానికి. ఇది దిగ్భ్రాంతిని అని (1)
దూరంగా శాస్త్రీయ ఎగ్జిట్ పోల్స్ శ్రద్ధ మరల్చటం ఆమోదిస్తూ
ఉత్తర ప్రదేశ్ తప్పు ఇవిఎం గణనలు UP ఒక ​​కలిగి దారితీశాయి
ఏ చెల్లుబాటును ఉంది మరియు (2) ఈ తీవ్రమైన సమస్య లేదని కేంద్ర ప్రభుత్వం
కూడా రాజ్యాంగ నిపుణులు మరియు అధికారులు ప్రశ్నించారు.
లో
ఇది ఒక ప్రభుత్వ కలిగి ఆశ్చర్యకరమైనవి పరిస్థితి తొలగించేందుకు
ఏ ప్రామాణికత మరియు రాజ్యాంగం, EC కింద దాని బాధ్యతలను నెరవేర్చటానికి
(1) వెంటనే ప్రకటించాలని ఆక్షేపణీయ ఇవిఎం గా లెక్కింపబడుతుంది ఉంది
ఇచ్చినది “బిజెపి +” ఒక కోసం ఎగువ పరిమితి కంటే 55% ఎక్కువ సీట్లు చెల్లని ఎందుకంటే
ఐదు శాస్త్రీయ సగటు ఫలితాలు ప్రకారం సీట్ల సంఖ్య
ఎగ్జిట్ పోల్స్ మరియు (2) నేర తొలగించిన తర్వాత ఈవీఎంలు జ్ఞప్తికి ఒక ఆర్డర్
అవకతవకలు, నిపుణులు, లబ్ధిదారులకు అత్యధిక సంచలనాత్మకంగా. ఈ ఉంటే
సాధ్యం కాదు, EC తర్వాత, స్వల్ప వ్యవధిలో రీ-పోల్ ఆజ్ఞాపించాలని ఉంది
రాష్ట్రపతి పాలన సిఫార్సు. లేకపోతే, UP ఒక ​​కొనసాగుతుంది
చెల్లని ప్రభుత్వం - మా రాజ్యాంగం ఒక బ్లాట్.

ఒక అనామక
కోసం పట్టించుకుంటారు మరియు నినాదం గౌరవిస్తుంది వారు Satyameva Jayate మరియు భయాలను పౌరుడు
కూడా వేధించడానికి లేదా అంచు అంశాలు ఏ కారణంతో చంపడానికి.

సుప్రీం కోర్ట్ యొక్క Hon’be న్యాయమూర్తులు అప్పీల్

దయచేసి పరిగణలోకి ఆశ్చర్యకరమైనవి / విరుద్ధమని పరిస్థితుల్లో లేదో
ఈ ఆర్టికల్ లో వివరించిన సుయో మోటు చేపట్టడానికి సరిపోతుంది క్షేత్రములు
కేసులకు:

(1) ప్రస్తుతం ఉత్తరప్రదేశ్ ప్రభుత్వం కలిగి తోసిపుచ్చిన
రాజ్యాంగం కింద ఏ ప్రామాణికత, ఆక్షేపణీయ పై ఆధారపడి ఉంది
ఇవిఎం లెక్కిస్తుంది. సైబర్ నేరస్తుడు చేయడానికి అనుమతి ఉంటే అది స్కాండలస్ ఉంది
రాజ్యాంగంలోని పరిహాసం.

(2) ఒక స్పెషల్ అమర్చుతోంది
ఎన్నికల కమిషన్ విఫలమైంది అని దర్యాప్తు ఇన్వెస్టిగేషన్ టీం
యుపి ఎన్నికల ఫలితాలు గురించి నిష్పాక్షిక.

పాత్రికేయులు దృష్టిని కోసం

ఢిల్లీ సహజావరణం సెంటర్, అన్ని పాల్గొనే ఒక ఇటీవల ప్యానెల్ చర్చ వద్ద
భారతదేశం లో మీడియా సన్నివేశం విపత్తు అని అభిప్రాయాన్ని వ్యక్తం చేశారు
ఎందుకంటే ప్రస్తుతం విమర్శించడానికి పాత్రికేయులు మధ్య భయం
ప్రభుత్వం. పాత్రికేయులు కాబట్టి భయపడ్డారు ఉంటే, వారు అవుతుంది
అసంబద్ధం. వారు సూచించారు మాత్రమే పరిష్కారం పాత్రికేయులు ఉంటుందని పేర్కొంది
అవాంఛనీయ విధానాలు మరియు ప్రభుత్వాల చర్యలకు వ్యతిరేకంగా స్టాండ్ అప్.
ఈ అవసరం కూడా ఇటీవల భారతదేశం రాష్ట్రపతి నొక్కి జరిగినది. అతను
అన్నారు ప్రెస్ అది అడగకపోతే మీరు దాని విధి విఫలమయ్యాడు చేయబడుతుంది
శక్తి (టైమ్స్ భారతదేశం యొక్క, 26.05.17) లో ఆ ప్రశ్నలు.

లో
ప్రస్తుతం సందర్భంలో, అది ప్రశ్నించడం ప్రతి పాత్రికేయుడు కర్తవ్యం
ఐదు ఫలితాలు విస్మరిస్తూ ద్వారా దాని బాధ్యతలను లో విఫలమైన EC
ఏ సమర్థన ఇచ్చి ఉపయోగించకుండా శాస్త్రీయ ఎగ్జిట్ పోల్స్
ఆక్షేపణీయ ఇవిఎం చెల్లని రాజ్యాంగం మద్దతు గణనలు
యుపిలో ప్రభుత్వం మరో దిగ్భ్రాంతికరమైన పరిస్థితి ఫలితంగా మరియు ఒక బ్లాట్
భారతదేశం యొక్క రాజ్యాంగం.

భయం వాతావరణం తొలగించడానికి సహాయం,
అనుభవం గురించి చిన్న పుస్తకాలను ప్రచురిస్తుంది ఉండాలి మా తో రిటైర్ పాత్రికేయులు
ఇది తమ అభిప్రాయాలను వ్యక్తం భయంతో పాత్రికేయులు కారణాలను వివరించాలని
స్వేచ్ఛగా మరియు వారి కాని ప్రొఫెషనల్ మాస్టర్స్ పోషించిన ప్రతికూల పాత్ర.
బుక్లెట్లను ప్రచురించడం అవసరం ఎందుకంటే వార్తాపత్రికలు మరియు పత్రికలు చేయకపోవచ్చు
భయం వల్ల ఇటువంటి అభిప్రాయాలు ప్రచురిస్తున్నాను.

అయితే, తీవ్రత
ధైర్య ద్వారా కేంద్ర, రాష్ట్ర ప్రభుత్వం రెండు విమర్శలు
Vinu జాన్ మరియు సింధు Sooryakumar వంటి పాత్రికేయులు TV మరియు అనేక మంది ఇతరులు
కేరళ వార్తాపత్రికలలో అన్ని కోల్పోయింది లేదు అని ఆశ ఇస్తుంది. అంతేకాక,
ఈ చర్యలు నిపుణులు వారి ఉద్యోగం చేస్తున్న ఆ ప్రదర్శించేందుకు
ప్రభుత్వాలు పరిచయం చేస్తూ, పాత్రికేయులు వారు పొందుతారు ఎందుకంటే భయం అవసరం
మొత్తం వృత్తి మరియు సాధారణ ప్రజల పూర్తి మద్దతు, ఒక కాకుండా
సాధారణ మనిషి.

(Sivarama భారతి నుండి స్వీకరించిన - srbharathi18@yahoo.in)

మేము ఈ నివేదికను / వ్యాసం ఇష్టపడ్డారు ఆశిస్తున్నాము. మిల్లి గెజిట్ ఒక ఉచితం మరియు
స్వతంత్ర పాఠకులు-మద్దతు మీడియా సంస్థ. ఇది మద్దతు, దయచేసి
దాతృత్వముగా దోహదపడతాయి. ఇక్కడ క్లిక్ చేయండి లేదా sales@milligazette.com వద్ద మాకు ఇమెయిల్

నిష్పాక్షిక దర్యాప్తు అవసరం: ఉత్తర ప్రదేశ్ ప్రశ్నార్థకం చెల్లే ప్రభుత్వ గురైంది

ప్రస్తుతం పరిస్థితుల్లో, దాని బాధ్యతలను విఫలమైన EC ప్రశ్నించడం ప్రతి పాత్రికేయుడు కర్తవ్యం …

milligazette.com

Classical Urdu

یہ جمہوری اداروں (مودی) CEC پہیہ دوبارہ ایجاد کرنے کی کوشش کر کے قاتلوں کی طرف سے ایک لاحاصل مشق ہے. یہ
سپریم کورٹ میں ثابت کیا گیا تھا مشینوں گڑبڑ کیا جا سکتا ہے کہ اس وجہ سے
اور سابق چیف جسٹس Sathasivam حکم مشینوں کیونکہ روپے کی لاگت کے سابق چیف
الیکشن کمشنر سمپت کی طرف سے تجویز کے طور پر ایک مرحلہ وار انداز میں
تبدیل کیا جا سکتا ہے کہ کی طرف سے فیصلے کی ایک سنگین غلطی کا ارتکاب کیا
1600 کروڑ لیکن انہوں نے حکم دیا کبھی نہیں جب تک پورے مشینوں سے تبدیل کیا گیا تھا کاغذ ووٹ استعمال کیا جا کرنے کے لئے.

بہت
حقیقت مشینوں سے تبدیل کیا جا کرنے کے لئے ہے کہ ایک واضح ثبوت ہے کہ وہ
tamperable.More زیادہ 80 جمہوریتوں بیلٹ پیپرز کا استعمال کیا ہے کر رہے
ہیں اور مشینوں فراڈ کے تابع ہیں کیونکہ انہیں اب بھی استعمال کر رہے ہیں.
CEC 2019 کو میں پوری مشینوں بھی جمہوری اداروں کے قاتلوں بنانے قابل
اعتماد نہیں ہے جس VVPAT کی طرف سے تبدیل کر دیا جائے گا کہ (مودی) مستقل
طور پر ان کی حکمرانی کو جاری رکھنے کہتے ہیں.

پہلے سے ہی ثابت کر دیا ہے جو مشینوں کوئی شک کے بغیر tamperable بہت سے تکنیکی ماہرین موجود ہیں.

موجودہ ورزش gulliable معصوم ووٹروں کو دھمکانے کے لئے صرف ہے.

HTTP: //www.milligazette.com /…/ 15634-اتر-پردیش-ہے-اندوز …

اتر پردیش اعتراض موزونیت کی حکومت کے چل رہا ہے: غیرجانبدارانہ تحقیقات کے لئے ضرورت

صرف 8 543 لوک سبھا نشستوں میں سے بی جے پی (Bahuth چالو کرنے کے تبدیل کر دیا گیا
Jitadha Psychopaths) کے جمہوری اداروں کے قاتلوں (مودی)
ماسٹر کلید ہیں gobble. اس کے بعد دیگر تمام اسمبلی انتخابات
ان فراڈ مشینوں کی طرف سے منعقد کی گئی. یوپی انتخابات 20 صرف میں نشستوں میں
تبدیل کر دیا گیا ہے جہاں بی جے پی کو چالو کرنے کے 325 نشستیں جیت سکتی ہے
یوگی / Bhogi کی / Roghi اور دیش Dhrohi وزیراعلی بننے کے لئے. گزشتہ اپ میں
پنچایت انتخابات کاغذ بیلٹ محترمہ مایاوتی کی طرف سے منعقد کیا گیا تھا جس میں
بی ایس پی کے ایک بھاری اکثریت میں کامیابی حاصل کی. ابھی مایاوتی تخسوچت ذات کو روکنے کے لئے
جو فراڈ کا استعمال کرتے ہوئے کے عمل کو جیتنے کے لئے ایک Sarvajan سماج رہنما ہے
مشینوں کا استعمال کیا جا رہا ہے. لہذا دیکھنے کے لئے ایک تحریک ہے کہ مرکزی اور
ان فراڈ مشینوں کی طرف سے منتخب ریاستی حکومتیں تحلیل اور جانے کیا جانا چاہیے
80 جمہوریتوں کی طرف سے کاغذ ووٹ کے ساتھ تازہ انتخابات کے بعد کے طور پر
شامل کے طور پر جمہوریت، مساوات، آزادی اور بھائی چارے کو بچانے کے لئے دنیا
تمام کی فلاح و بہبود، خوشی اور امن کے لئے ہمارے جدید آئین میں
معاشروں اور 1٪ اسہشنو، عسکریت پسند، نمبر 1 دہشتگرد سے بچنے کے لئے
دنیا کی شوٹنگ کی طرف تشدد، پاگل، پاگل chitpavan
برہمن آر ایس ایس (سے Rakshasa سے Swayam سرور کو) نربکشک psychopaths ہیں جو
پہلے سے ہی ان کے چپکے، مبہم لئے ان manusmriti لاگو کرنے کے لئے شروع کر دیا
اور امتیازی hinduva فرقے.

سابق چیف جسٹس، سابق چیف الیکشن کمشنر مودی اور
یوگی مظالم ایکٹ کے تحت غیر bailabale وارنٹ کے ساتھ بک ضروری
SC روک تھام کے لئے / تخسوچت جنجاتی ماسٹر کلید جدید نفی حاصل کرنے
ہمارے ملک کے آئین.

اتر پردیش اعتراض موزونیت کی حکومت کے چل رہا ہے: غیرجانبدارانہ تحقیقات کے لئے ضرورت
ملی گزٹ لائن
اشاعت لائن: جون 01، 2017

صحیح قیمت یا معیار یا اندازہ لگانے کے لئے چھوٹے نمونے کا انتخاب
ایک بڑے گروپ کے رویے بہت سے کے لئے ایک بڑے پیمانے پر قبول مشق کر دیا گیا ہے
سال. سال کے دوران، نمونے لینے کی تکنیک میں بہتری آئی اور بنا دیا گیا ہے
سچ اقدار اور اعتماد کے قابل اعتماد اندازوں یقینی بنانے کے لئے سائنسی
حدود سچ قدر جھوٹ کا امکان نہیں ہے جس سے باہر. نتیجتا،
نمونہ سروے کے نتائج سے بار بار کے ساتھ کے استعمال کی گئی ہیں
اقتصادی، سماجی اور سیاسی ترقی کی منصوبہ بندی کر کے اعتماد.
لیکن، ستم ظریفی یہ ہے، پانچ سائنسی نمونے کے سروے کے نتائج (باہر نکلیں
انتخابات) یوپی انتخابات کے نتائج پر بھی تحقیقات کر کے بغیر مسترد کر دیا گیا
ان وشوسنییتا. پانچ سائنسی کا یہ اندھا تھوک مسترد
نمونہ سروے / باہر نکلیں انتخابات منفرد ہے اور مذمت کا مستحق
مکمل طور پر.

مندرجہ ذیل بیان پانچ نتائج دیتا ہے
سائنسی ایگزٹ پولز اور بی جے پی اور اس کے حامیوں کے لئے EVM شمار
یوپی انتخابات میں ( “بی جے پی +”).

Pollster

نمبر اور بریکٹ کے اندر کے “بی جے پی +” نشستیں اعتماد حدود کے

ٹائمز ناؤ VMR

200 (190210)

بھارت کی خبریں-MRC

185 (175195) *

اے بی پی-CSDS

170 (164-176)

بھارت ٹی وی سی ووٹر

161 (155167)

نیوز 24 چانکیہ

285 (273- 297) *

اوسط

200 (190210) *

EVM شمار

325

* اعتماد ان امیدوں کی طرف سے حساب حدود میں دکھایا نہیں کیا گیا
اخبار کی رپورٹ. اوپر دی گئی حدود کچا لیکن کافی قابل اعتماد ہیں
دوسرے کی طرف سے دی اعتماد حدود کے مقابلے کی شماروں
امیدوں.

پہلے چار سائنسی ایگزٹ پولز لٹکا پیشگوئی کی
اسمبلی. گزشتہ ایک بی جے پی کو اکثریت کی پیش گوئی. لیکن، سب سے زیادہ
اہم، EVM شمار کے “بی جے پی +” بہت زیادہ نشستوں سے ظاہر ہوتا ہے کے مقابلے
اوپری اعتماد حدود (یعنی، نشستوں کی تعداد کے لئے اوپری کی حد)
تمام پانچ ایگزٹ پولز طرف سے دی گئی. پانچ واپسی کیلئے اوسط نتیجہ
انتخابات (جو ایک واضح تصویر دیتا ہے) کو ظاہر کرتا ہے کہ 325 کے EVM شمار
نشستیں 210 نشستوں اوپری کی حد ہے جس کے مقابلے میں 55 فیصد زیادہ “بی جے پی +” دیا
نشستوں کی تعداد کے لئے. یہ بہت بڑی فرق کوئی شبہ ظاہر کرتا ہے
کہ EVM شمار غلط تھے.
نشستوں کی حقیقی تعداد کے لئے امکان
کی طرف سے موصول ہونے والی “بی جے پی +” کے اوپری کی حد سے بھی تھوڑا زیادہ ہونے کی وجہ سے
سیٹوں کی تعداد ان ایگزٹ پولز میں سے کسی ایک (یا اس سے بھی کے لئے کم 5 فیصد ہے
1٪ سے کم کی طرف سے منتخب اعتماد کی ڈگری پر انحصار
حدود کا حساب لگانے کے لئے امیدوں). یہاں تک آوارہ ایگزٹ پول کیلئے
“بی جے پی +” کو سب سے زیادہ سازگار تھا، کے موقع نتیجہ “بی جے پی +”
زیادہ ہو رہی ہے، یہاں تک کہ ایک چھوٹی سی 297 کے مقابلے میں نشستیں کم 5 فیصد (یا 1 فیصد) ہے.
کے لئے “بی جے پی +” اوپری کی حد سے بھی تھوڑا زیادہ نشستیں حاصل کرنے اور موقع
تمام پانچ ایگزٹ پولز کے لئے نشستوں کی تعداد کے لئے (مطابق صفر کے قریب ہے
امکانات کی شریعت کے). زیادہ قابل اعتماد اوسط ذہن میں رکھتے
نتیجہ، کے لئے “بی جے پی +” موقع کی اوپری کی حد سے 55 فیصد زیادہ نشستیں حاصل کرنے
210 نشستیں صفر کے قریب ہے. دوسرے الفاظ میں، امکان ہے کہ
EVM UP انتخابات کے لئے شمار کیا غلط ہے 100٪ کے قریب ہے تھے.

اس کے بجائے
تمام پانچ سائنسی ایگزٹ پولز میں مکمل طور پر نتائج کی مذمت کی،
الیکشن کمیشن نے ان کی سائنسی بنیادوں کا احترام ہونا چاہیئے.
کسی بھی تصدیق کی ضرورت تھی تو، EC ماہر کی رائے طلب کی ہے کر سکتے ہیں
بھارتی شماریات ادارے، کولکتہ کی (ترقی میں علمبردار
نمونے لینے کی تکنیک) یا کسی دوسرے ادارے یا کے پروفیسرز
نمونے لینے کی تکنیک میں تجربے کے ساتھ اعداد و شمار. لیکن، یہ ہے کہ لگتا ہے الیکشن کمیشن
ایسا نہیں تھا. ناقابل یقین حد تک، EC لئے کوئی جواز نہیں دیا
سائنسی نتائج کو مسترد! ظاہر ہے، الیکشن کمیشن کے باہر تلاش کرنے کے لئے نہیں چاہتے تھے
سچ اور اپنی آئینی ذمہ داری میں ناکام رہی ہے. کی یہ کمی
سچ جاننے میں دلچسپی بھی کی غیر جانبداری سوالات
EC.

EC نظر انداز کر دیا ہے کیونکہ غیر جانبداری کو مزید مشکوک ہے
مندرجہ ذیل معلومات کو واضح طور پر میں ہیرا پھیری کی ہے کہ جس سے ظاہر ہوا
الیکٹرانک گیجٹ ایک واضح امکان ہے اور بار بار دعوی کیا
مشینوں کے ساتھ گڑبڑ نہیں کیا جا سکتا توتے کی طرح ہے کہ:

1. سائبر
زیادہ سے زیادہ لوگ ہوشیار گمراہ ساتھ جرائم میں اضافہ کر دیا گیا ہے
، ہیکنگ کا سہارا وائرس کی ترقی، دھاندلی وغیرہ

2. عنوان سے ایک مضمون “مشینوں واقعی ثبوت چھیڑنا رہے ہیں” دکن کرانکل میں Debanish Achom کی طرف سے مندرجہ ذیل بیان کرتا ہے:

(A) “بی بی سی کی خبر کے مطابق ہے کہ ایک کے لئے ایک گھر بنا کے آلہ منسلک کرنے کے بعد
EVM، مشی گن محققین کی یونیورسٹی کی طرف سے نتائج تبدیل کرنے کے قابل تھے
ایک موبائل فون سے ٹیکسٹ پیغامات بھیجنے کے. “

(ب) “ہری کرشنا
پرشاد Vemuru، حیدرآباد میں قائم Netindia پرائیوٹ لمیٹڈ کے منیجنگ ڈائریکٹر، ایک
ٹیکنالوجی حل فرم، ایک EVM ہو سکتا ہے کہ کس طرح مقامی ٹی وی پر دکھایا گیا ہے
دھاندلی. “یہ ممکن ہے کہ ایک کٹر بی جے پی حامی اس کو دیکھا تھا
اور (EC & بی جے پی کے علم کے بغیر) ہیکنگ میں کامیاب اور
یوپی انتخابات میں استعمال کیا مشینوں کے لئے گنتی کی ہدایات گھما.

(C) جناب Vemuru بھی ہے کہ “EVM چپ سے تبدیل کیا جا سکتا ہے کا دعوی کیا
ایک ہمشکل اور ہدایت کی کے ساتھ خاموشی سے ووٹ کی ایک فی صد چوری کرنے
ایک منتخب امیدوار کے حق میں. “EC کے کوئی ہوشیار اور بے ایمان عملے،
مشینوں کا واحد محافظ، وہ / وہ کرنا چاہتے تھے تو ایسا کر سکتا ہے. یہ ہے
مناسب کوئی سرکاری دفتر کرپشن سے پاک ہونے کا امکان ہے.

3. “مصنوعی (انگلی) پرنٹس سمارٹ فونز کھول کر سکتے ہیں وقت کی 65٪.” (بھارت کے ٹائمز، 16-04-17).

4. عام آدمی پارٹی ایک EVM چھیڑچھاڑ کرنے کا طریقہ دہلی اسمبلی میں اظہار کیا ہے.

5. “McAfee کی طرف سے ایک نئی رپورٹ ہے کہ 176 سائبر خطرات تھے انکشاف
اور ہر منٹ کے پتہ (یعنی تقریبا تین ہر دوسرے) 88 فی صد
ransomeware نمو اور 99 فی صد موبائل میلویئر ترقی رہا تھا
2016. کے اختتام “(DeccanChronicle، 12.04.17) کی طرف سے پتہ چلا.

EC کیا
سائبر دھمکیوں ہر سیکنڈ کے لئے باہر دیکھنے کے لئے ایک فول پروف نظام ہے
24/7 اور اس طرح کے تمام خطرات پر قابو پانے؟ اگر نہیں تو، سائبر مجرموں ہو سکتا ہے
ہیرا پھیری EVM UP انتخابات کی گنتی.

یہ واضح نہیں ہے
EC یوپی انتخابات میں استعمال کیا جاتا ہے کہ مشینوں کو یقینی بنانے میں کامیاب ہو گئے تھے کہ آیا
(کسی بھی وقت پھیری کی تمام اقسام برداشت کر سکتا بھر
انتخابات)، ماہرین کی تمام اقسام کو مطمئن کر سکتے ہیں. یہ تھا یہاں تک کہ اگر
کامیاب ہو 100٪ (مشکوک ہے جس میں)، میں سے کسی ہوشیار اور بے ایمان عملہ
EC، مشینوں کا واحد محافظ، اگر وہ / وہ چاہتا تھا ہیرا پھیری کر سکتا تھا
کرنے کے لئے. یہ رشوت دینے والوں اور کوئی خریدار کی کوئی کمی نہیں ہے کہ مناسب ہے
ملک میں.

یہ تمام الیکٹرانک کی اس ہیرا پھیری دکھائے
گیجٹ ایک واضح امکان ہے. یہ حکومت کی طرف سے حمایت کی ہے
آدھار لیک کے سلسلے میں سپریم کورٹ (ایس سی)، میں داخلہ، جو کہ
کوئی ٹیکنالوجی 100 فیصد کامل ہے. یہ تمام اپہاس EC کے اس دعوے کہ مشینوں
ساتھ گڑبڑ نہیں کیا جا سکتا. EC کی بار بار انکار چاہے تحقیقات کے لئے
یوپی انتخابات میں استعمال کیا مشینوں کے شو سے ہیرا پھیری کر رہے تھے EC نہیں ہو سکتا کہ
غیر جانبدارانہ.
یہ مناسب ہے کہ اس طرح کے امکان
ہیرا پھیری صرف بالواسطہ طور پر کی EC طرف سے قبول نہیں کیا جاتا بلکہ استعمال بنا دیا
اس کی طرف سے (بار بار کے طور پر ذیل میں سچتر). EC ایک متعارف کرانے کا وعدہ
کاغذ پگڈنڈی 2019 میں (VVPAT) مشینوں کے لئے جس کی جانچ کرنے کے قابل بنائے گا
چاہے وہ کسی بھی الیکٹرانک ہیرا پھیری آگئی ہے. مشینوں یوپی میں استعمال کیا جاتا ہے تو
انتخابات ہیرا پھیری نہیں کیا جا سکتا ہے، الیکشن کمیشن کو اس سے جائز نہیں ہو سکتا تھا
تبدیل. ستم ظریفی یہ ہے، امکان کے اس بالواسطہ خود داخلہ کے باوجود
ہیرا پھیری کی، الیکشن کمیشن کو چیک نہیں کیا اور رپورٹ کریں کہ آیا یہ ہوا ہے
یوپی انتخابات میں یہ انتہائی قابل اعتراض نتائج دیئے یہاں تک کہ جب. اس کے بجائے،
EC توتے کی طرح کہہ مشینوں چھیڑنا پروف ہیں کہ رہتا ہے. یہ ڈبل
سوچ EC طرح ایک اتھارٹی شوبا نہیں دیتا.

اس کے علاوہ، ایسا لگتا ہے
EC 2019 کے لئے اس کی منصوبہ بندی کے بارے میں بات کر رہا ہے کہ (ایک طویل دور ہے)
کی بنیادی طور پر EVM UP شمار انتہائی قابل اعتراض سے توجہ ہٹانے کے لئے
ہاتھ میں سب سے اہم مسئلہ ہے جس کے انتخابات.

EC کو لکھا
وزیر قانون ہے کہ اس بات کا یقین کرنے کے لئے تعیناتی VVPAT مشینوں کی ضرورت ہے
“میں ووٹر کے اعتماد اور ووٹنگ کی سالمیت کو محفوظ کیا جاتا ہے
عمل “کو مضبوط کیا جاتا روپے andsought منظوری. کے لئے 3.174 کروڑ
نئی مشینیں (بھارت کے ٹائمز، 17.04.17) کی خریداری. مشینوں کا استعمال کیا تو
یوپی انتخابات میں ووٹنگ کی سالمیت کو محفوظ کیا تھا، EC نہیں کر سکتے تھے
فنڈز کے لئے یہ بہت بڑا مطالبہ جائز ہے. ایک اور بالواسطہ یہ نہیں ہے
مشینوں یوپی انتخابات میں استعمال کیا جاتا ہے کہ چھیڑنا پروف نہیں کیا گیا داخلے؟

EC ان نئی مشینوں بھی تشخیصی ایک خود کے ساتھ لیس کر رہے ہیں کا کہنا ہے کہ
مشینوں کی سچائی کی تصدیق کے لئے نظام. ایسا نہیں ہوتا
نہیں ہو سکتا یوپی انتخابات میں استعمال کیا پرانی مشینوں کے اس سچائی کا اظھار
توثیق؟ یہ نہیں بھی EC اس کا استعمال کر رہا ہے کہ مطلب
یوپی انتخابات میں استعمال کیا مشینوں میں عیب بھاری مقدار خرچ کا جواز پیش کرنے کے لئے
نئی مشینوں پر؟

“EC اگلی نسل مشینوں خریدنے کے لئے مقرر کیا گیا ہے کہ
کے لئے “لمحے کوششوں کو اس کے ساتھ ٹنکر بنائے جاتے ہیں ناقابل” بن
2019. (بھارت کے ٹائمز، 03.04.17) میں استعمال کرتے ہیں. یہ غیر معمولی ابتدائی گفتگو
مستقبل کے بارے میں سب سے زیادہ سے توجہ ہٹانے کی ایک اور کوشش ہے
ہاتھ میں اہم سوال انتخابات میں استعمال کیا مشینوں تھے چاہے
میں گڑبڑ.

“مشینوں کی سالمیت سروے میں استعمال کیا جا کرنے کے لئے کرے گا
ایک طرف تمام اسٹیک ہولڈرز کی مکمل اطمینان کے لئے “کا مظاہرہ کیا جائے
EC (بھارت کے ٹائمز، 02.04.17) کی ٹیم. اس کی ایک اور مثال ہے
EC غلط سے توجہ ہٹانے کے لئے ترتیب میں مستقبل aboutthe بات کر
EVM UP انتخابات کے لئے شمار.

EC سیاسی کے لئے ایک چیلنج پھینک دیا
پارٹیوں، سائنسدانوں اور تکنیکی ماہرین کو ثابت کرنے کے لئے مشینوں ہو سکتا ہے
اب میں گڑبڑ. (بھارت کے ٹائمز، 13.04.17). یہ ابھی تک ایک اور مثال ہے
غلط EVM سے توجہ ہٹانے کی مثال اپ کے لئے شمار ہے
انتخابات. اس کے علاوہ، اس تاخیر سے چیلنج، کئی ہفتوں کے ڈالنے کے بعد
شکوک و شبہات، اہم سوال EC اب مشینوں کی ہے چاہے وہ اٹھاتا ہے
یوپی، جس، اس کی تحویل میں تھے “ناقابل” لمحے کی کوششوں میں استعمال
مشینوں کی اگلی نسل کا ایک معیار ہے - یہ ساتھ ٹنکر بنائے جاتے ہیں.
اگر ایسا ہے تو، استعمال کیا گیا ہے جس میں اس کے معیار کے بغیر پرانی مشینوں، کہاں ہو
یوپی انتخابات؟ یہ دونوں سوال EC چاہے بیئمان کیا گیا ہے.

2013 میں، سپریم کورٹ چرنبدق VVPAT متعارف کرانے کے لئے الیکشن کمیشن کی ہدایت کی.
چدمبرم نے اس فیصلے کی تفصیلات کا حوالہ دیا اور کہا کہ “ایک
ماہرین کی ٹیم نے ایک جامع رپورٹ درج کرائی تھی کہ
سافٹ ویئر کے ساتھ ساتھ مشینوں میں استعمال ہارڈ ویئر کے خطرے سے دوچار ہیں اور شکار ہیں
چھیڑچھاڑ “. اس نے یہ بھی EC مشین نہیں تھا کہ اعتراف کیا تھا
نقائص سے پاک اور کاغذ پگڈنڈی ‘(بھارت کے ٹائمز متعارف کرانے پر اتفاق کیا،
030417). کاغذ کا راستہ بغیر ان مشینوں یوپی میں استعمال کیا گیا تھا کیونکہ
(چند سیٹوں کے علاوہ) انتخابات، الیکشن کمیشن کہ وہ نہیں تھے آگاہ تھا
نقائص سے پاک. اس بیداری کے باوجود الیکشن کمیشن نے بار بار دعوی کیا ہے کہ مشینوں
ساتھ گڑبڑ نہیں کیا جاسکا. یہ ڈبل کے سوالات سالمیت بولتے
اور الیکشن کمیشن کی غیر جانبداری.

یہ تمام اخلاص کی کمی کی طرف اشارہ ہے اور
EC کے عزم انتخابات کے نتائج میں درستگی کو یقینی بنانے کے. یہ اس لئے ہے
کی EVM تک شمار کی درستگی کی جانچ کرنا EC کے انکار کی طرف سے اس بات کی تصدیق میں
EVM UP انتخابات کے لئے شمار ہے کہ احتمال کے باوجود انتخابات
غلط قریب ہے کیا گیا تھا 100٪ (اوپر ملاحظہ کریں) اور کے بارے میں الیکشن کمیشن کی بیداری
مشینوں (پیرا پچھلے) کی ہیرا پھیری کے امکان. یہ بھی
سوالات کے الیکشن کمیشن کی غیر جانبداری.

Mayawathi، کجریوال اور یچوری
نے بھی اس سے پوچھ گچھ کی ہے. شکوک و شبہات کے ساتھ زیادہ سے زیادہ لوگ موجود ہیں ہو سکتا ہے
(پانچ امیدوں سمیت) جو چپ رکھ رہے ہیں ممکن ہے کیونکہ
مخالف شہریوں کے طور پر لیبل لگا کیا جا رہا ہے کے خوف کے. EC پورا نہیں کیا جاتا ہے اس کی
درستگی کی سب سے اہم سوال کے بارے میں ان کے شکوک و شبہات کو صاف کرنے کی ڈیوٹی
تک شمار کی لیکن بار بار بتا کر اس سے توجہ ہٹانے
اس کے مستقبل کے منصوبوں کے بارے میں.
درستگی کی کمی بھی چار سال بھی برقرار رہتا
SC کے احکامات کے بعد اگرچہ زیادہ درست مشینوں ایک پر تعینات کیا جا سکتا
بڑے پیمانے پر. بدتر کرنے سے کیا مراد ہے اور نقصان دہ EC استعمال کی منصوبہ بندی کر رہا ہے ہے
ان “زیادہ درست” اگرچہ ان مشینوں ہو جائے گا صرف 2019 میں مشینوں،
بھارت الیکٹرانکس اور بھارت کے الیکٹرانکس کارپوریشن کی طرف سے تیار
(بھارت کے ٹائمز، 02.04.17). یہ التوا بجائے کیوں
کچھ ریاستوں میں درست انتخابات کو یقینی بنانے کے جس کے لئے اس کے دوران کی وجہ سے ہے
اگلے دو سال کی مدت؟ غیر جانبداری کے بارے میں شکوک و شبہات EC اٹھاتا کے
سوال یہ ان میں پھیری کے لیے اپنی آنکھوں کو بند ہو جائے گا کہ آیا
2019 میں عام انتخابات میں ساتھ، کچھ جماعتوں کی مدد کے لئے انتخابات
دماغ.

چونکانے اعمال (یا EC طرف نشکریتا) مت روکو ساتھ
ان. نئی مشینوں “تکنیکی طور پر ووٹوں کی دستی گنتی کی اجازت دیتے ہیں”. یہاں تک کہ
شائع نتائج کی غلطی کے بارے میں شکایات حاصل کرنے سے پہلے،
ایک ذمہ دار EC دستی گنتی سے نتائج کا موازنہ کرنا چاہیے تھا
EVM جس کے لئے نئی مشینوں کا استعمال کیا گیا اترپردیش میں 30 نشستوں کے لئے شمار کے ساتھ
درستگی کی جانچ پڑتال کرنے کے لئے. EVM طرف سے دکھایا ووٹنگ پیٹرن اختلاف شمار اگر
30 نشستوں کے لئے دستی گنتی سے ان لوگوں سے، کے امکان
ہیرا پھیری کی تصدیق کی ہے. لیکن الیکشن کمیشن سے بھی، ان چیک لے نہیں تھا
شکایات ملنے کے بعد. کیوں؟ یہ بھی کی غیر جانبداری سوالات
EC.

EC اوائل اٹھائے گئے تمام سوالات کے لئے اس بات پر قائل جواب فراہم کرنے کے لئے ہے.

“دلی کی وزیر اعلی اروند کیجریوال کہ وہ کے دو پائے کہا ہے
تین الیکشن کمشنرز کیونکہ وہ ہونے کا دعوی کیا کی جانبدار رہے ہیں
وزیراعظم نریندر مودی کو اور دوسرے کی ان میں سے ایک کی قربت MP کرنے
چیف منسٹر شیوراج سنگھ چوہان ‘(بھارت کے ٹائمز، 19.04.17).
یہ الزام کے بارے میں شکوک و شبہات ہیں کیونکہ چھان بین کرنے کی ضرورت ہے
الیکشن کمیشن کی غیر جانبداری کے شروع میں کئی بار اٹھایا گیا ہے
پیرا. اس طرح کی ایک تفتیش بھی مختلف مقامات کا احاطہ کرنا چاہئے
اس سے قبل اٹھایا. یہ کیا گیا ہے جس میں سی بی آئی کی طرف سے تحقیقات نہیں کیا جانا چاہئے
SC طرف حکومت کے ایک اشارے توتے کے طور پر لیبل لگا. کے لئے ایک اور وجہ
ساکھ کی سی بی آئی کی کمی سی بی آئی کے دو سابق ڈائریکٹرز ہیں کہ “ہے
کرپشن کا مقدمہ کا سامنا کرنے کے عمل میں رکھ دیا، منی لانڈرنگ،
اور سنگین سپریم کورٹ-مینڈیٹ تحقیقات ‘(دکن کرانکل سے فرار اختیار،
280417).

EC کہ “نتائج کا تجزیہ سے حاصل دعوی
گوا میں تمام 40 انتخابی حلقوں اور میں 33 نشستوں میں استعمال VVPATs
پنجاب کے نتائج کے ساتھ تھوڑا مختلف حالتوں کاغذ کے بغیر مشینوں کی طرف سے ڈال پتہ چلتا ہے
پگڈنڈی ‘(بھارت کے ٹائمز، 18.4.17).

سب سے اہم ہے، یہ ہے
حیرت انگیز EC VVPATs سے حاصل نتائج فراہم نہیں کیا کہ
یہ ضروری تھا جس کے لئے سائن سمیت دیگر ریاستوں میں استعمال کیا جاتا ہے کیونکہ
EVM شمار سے انتہائی قابل اعتراض تھیں. EC اس کی ہو گی
ان ریاستوں کے لئے بھی تجزیہ. اگر ایسا ہے تو، کیوں EC نتائج روک دیا؟
اس کا تجزیہ نہیں کیا تو، کیوں؟

ان نتائج بھی کا روک
سوالات کے الیکشن کمیشن کی غیر جانبداری. یہ فوری طور پر شائع کیا جائے چاہئے.
EC ابھی سائن ان نشستوں کے لئے نتائج سے پتہ چلتا ہے (جس کے لئے VVPAT پگڈنڈی ہے
دستیاب) ثابت ہے جس سے EVM شمار، یہ ان مختلف نہیں تھا کہ
ساکھ کی ضرورت نہیں کرے گا جب تک کہ الیکشن کمیشن آزاد کر چیکنگ کی اجازت دیتا ہے
ماہرین.

شاید، EC ان نتائج کو ان کی وجہ سے چھپانے کے لئے چاہتا تھا
EVM کے لئے سائن ان نشستوں میں سے اکثر کے لئے اور کی طرف سے غلط تھے شمار ہے کہ ثابت کر دیا
یوپی کے سب سے زیادہ نشستوں کے لئے نہتارت، اور ووٹنگ پیٹرن دکھایا گیا منظور
سائنسی ایگزٹ پولز طرف سے.

مندرجہ بالا تجزیہ واضح طور پر ظاہر کرتا ہے
کہ (1) احتمال EVM UP انتخابات کے لئے شمار ہے کہ وہ غلط تھے
100٪ کے قریب ہے اور موجودہ حکومت کے قیام پر مبنی
ان غلط شمار کوئی موزونیت، (2) EC بارہا جاری کرنے دیا گیا ہے کیا ہے
ہٹانے کے لئے مستقبل میں ووٹ کا صحیح گنتی یقینی بنانے کے بارے میں بیانات
یوپی انتخابات، (3) کی غیر جانبداری کے باطل کے نتائج سے توجہ
EC کیونکہ میں ذکر شبہات کی تعداد کی چھان بین کرنے کی ضرورت ہے
اس سے قبل پیرا اور (4) صورت حال کا ایک مکمل کا مطالبہ
ایک آزاد ایجنسی (نہیں سی بی آئی) کی جانب سے تحقیقات تمام شکوک و شبہات کو صاف کرنے اور
اصلاحی اعمال کی سفارش.

صرف اس طرح کے ایک تفتیش Satyameva Jayate ( “حق اکیلے کامیابیوں)، ہمارے
انتہائی قابل احترام معیاری جملہ یقینی بنانے کے کر سکتے ہیں.

اعادہ کرنا، یہ ایک نہیں نتائج بد اعتمادی کو isridiculous لیکن
پانچ سائنسی ایگزٹ پولز اور مشینوں کی درستگی ہو سکتا ہے جس پر اعتماد
بہت سے ماہرین کے ہیرا پھیری کے مطابق اور جس حکومت کے خلاف ہے
دیکھنے میں کوئی ٹیکنالوجی 100٪ کامل ہے. یہ افسوسناک ہے کہ (1)
سائنسی ایگزٹ پولز سے دور توجہ ہٹانے اور قبول
اتر پردیش کے غلط EVM شمار ایک ہونے کے نتیجے میں ہے
کوئی درست ہے اور (2) اس سنگین مسئلہ ہونے کی وجہ سے نہیں ہے جو حکومت
یہاں تک کہ آئینی ماہرین اور حکام کی طرف سے پوچھ گچھ کی.
میں
ایک حکومت ہے جس ہونے کی افسوسناک صورت حال کو دور کرنے کے لیے
کوئی موزونیت اور آئین EC کے تحت اپنی ذمہ داری کو پورا کرنے کے لئے
(1) فوری طور پر انتہائی قابل اعتراض EVM کے طور پر شمار کا اعلان کرنا ہے
باطل یہ “بی جے پی +” ایک کے لئے اوپری کی حد سے 55 فیصد زیادہ نشستیں دی کیونکہ
پانچ سائنسی کی اوسط کے نتائج کے مطابق نشستوں کی تعداد
ایگزٹ پولز اور (2) فوجداری اتارنے کے بعد مشینوں کے ووٹوں کی دوبارہ گنتی کا حکم
پھیری، چھان بین کے تحت ماہرین کی طرف سے. یہ ہے تو
ممکن نہیں، الیکشن کمیشن کے بعد، ایک مختصر مدت کے اندر اندر دوبارہ سروے کا حکم ضروری ہے
صدر اقتدار کی سفارش. دوسری صورت میں، UP ایک ہے جاری رکھیں گے
باطل حکومت - ہمارے آئین پر ایک داغ.

ایک گمنام
کے لئے پرواہ کرتا ہے اور معیاری جملہ کا احترام کرتا ہے جو Satyameva Jayate اور خدشات شہری
جس سے بھی ہراساں یا موجود عناصر کو کسی بھی بہانے مار.

سپریم کورٹ کے Hon’be ججوں سے اپیل

برائے مہربانی غور افسوسناک / غیر آئینی حالات چاہے
اس مضمون میں بیان از خود لینے کے لئے کافی بنیاد ہیں
مقدمات کے لئے:

(1) موجودہ حکومت ہے جس مسترد
آئین کے تحت کوئی موزونیت، انتہائی قابل اعتراض کی بنیاد پر کیا جا رہا ہے
EVM شمار. ایک سائبر مجرم بنانے کی اجازت دی جائے گی تو اس سے نندی ہے
آئین کا مذاق.

(2) ایک خصوصی انسٹالیشن
تحقیقاتی ٹیم کے لئے چاہے وہ الیکشن کمیشن میں ناکام رہے تحقیقات کے لئے
یوپی انتخابات کے نتائج کے بارے میں غیر جانبدار رہنا.

صحافیوں کی توجہ کیلئے

دہلی ہیبی ٹیٹ سینٹر، تمام شرکاء میں ایک حالیہ مباحثے میں
نقطہ نظر بھارت میں میڈیا منظر تباہ کن تھا کہ اظہار
کیونکہ موجودہ تنقید کرنا صحافیوں میں خوف کی
حکومت. صحافیوں اتنا ڈرتے ہیں تو وہ بن جائے گا
غیر متعلقہ. وہ تجویز پیش کی واحد حل صحافیوں کو چاہئے کہ تھا
ناپسندیدہ پالیسیوں اور حکومتوں کے اقدامات کے خلاف اٹھ کھڑے ہوں.
اس ضرورت کو بھی حال ہی میں بھارت کے صدر کی طرف سے اس بات پر زور دیا گیا تھا. انہوں نے کہا کہ
کہا کہ یہ سوال نہ کرتا تو پریس کو اس کی ڈیوٹی میں ناکام ہو جائے گا کہ
پاور (بھارت کے ٹائمز، 26.05.17) میں ان لوگوں کے سوالات.

میں
موجودہ تناظر میں، یہ سوال کرنے ہر صحافی کا فرض ہے
EC جس میں پانچ نتائج کو نظر انداز کر کے اپنی ذمہ داریوں میں ناکام رہے
کوئی بھی جواز دینے اور استعمال کیے بغیر سائنسی ایگزٹ پولز
انتہائی قابل اعتراض EVM ایک غلط کے آئین کی حمایت کرنے شمار
یوپی میں حکومت، ایک چونکانے والی صورت حال کے نتیجے میں اور پر ایک داغ
بھارت کے آئین.

خوف کی آب و ہوا کو دور کرنے میں مدد کرنے کے لئے،
تجربے کتابچے شائع کرنا چاہیئے کے بہت سے ریٹائرڈ صحافیوں
جس میں ان کے خیالات کا اظہار کرنے کے ڈر سے صحافیوں کی وجوہات کی وضاحت
آزادانہ طور پر اور منفی کردار ان کی غیر پیشہ ورانہ آقاؤں کی طرف سے ادا کیا.
کتابچے شائع کرنا ضروری ہے کیونکہ اخبارات اور جرائد نہیں کرسکتے ہیں
تقوی اختیار کرنے کی وجہ سے ایسے خیالات کو شائع.

تاہم، کی شدت
بہادر کی طرف سے دونوں مرکزی اور ریاستی سرکار کی تنقید
ٹی وی اور بہت سے دوسروں پر Vinu جان اور سندھو Sooryakumar طرح صحافیوں
کیرل میں اخبارات میں امید ظاہر کی کہ تمام کھو نہیں ہے فراہم کرتا ہے. اس کے علاوہ،
ان سرگرمیوں کہ کے طور پر پیشہ ور افراد کی ان کے کام کر مظاہرہ
حکومتیں بے نقاب، صحافیوں کو وہ ملے گا کیونکہ نہ خوف کی ضرورت ہے
پورے پیشے اور عوام کی مکمل حمایت، ایک کے برعکس
عام آدمی.

(Sivarama بھارتی سے موصولہ - srbharathi18@yahoo.in)

ہم آپ کو اس رپورٹ / مضمون پسند آیا امید ہے. ملی گزٹ ایک مفت ہے اور
آزاد قارئین کی حمایت کے ذرائع ابلاغ کی تنظیم. ، براہ مہربانی اس کی حمایت کرنے
دل کھول شراکت. یہاں کلک کریں یا sales@milligazette.com پر ہمیں ای میل

اتر پردیش اعتراض موزونیت کی حکومت کے چل رہا ہے: غیرجانبدارانہ تحقیقات کے لئے ضرورت

موجودہ تناظر میں، یہ EC جس سے اس کی ذمہ داریوں میں ناکام رہی سوال کرنے ہر صحافی کا فرض ہے …

milligazette.com

comments (0)
2247 Sat 3 Jun 2017 LESSON Therefore a movement to see that the Central and state governments selected by these fraud EVMs must be dissolved and go for fresh polls with paper ballots as followed by 80 democracies of the world to save democracy, equality, liberty and fraternity as enshrined in our Modern Constitution for the welfare, happiness and peace of all societies and to avoid the 1% intolerant, militant, number 1 terrorists of the world shooting, lynching, lunatic, mentally retarded chitpavan brahmin RSS (rakshasa Swayam Sevaks) cannibal psychopaths who have already started to implement their manusmriti for their stealth, shadowy and discriminatory hinduva cult.
Filed under: General
Posted by: @ 6:37 pm

2247 Sat 3 Jun 2017 LESSON
Therefore a movement to see that the Central and
state governments selected by these fraud EVMs must be dissolved and go
for fresh polls with paper ballots as followed by 80 democracies of the
world to save democracy, equality, liberty and fraternity as enshrined
in our Modern Constitution for the welfare, happiness and peace of all
societies and to avoid the 1% intolerant, militant, number 1 terrorists
of the world shooting, lynching, lunatic, mentally retarded chitpavan
brahmin RSS (rakshasa Swayam Sevaks) cannibal psychopaths who have
already started to implement their manusmriti for their stealth, shadowy
and discriminatory hinduva cult.

Classical Marathi

या खून लोकशाही संस्थांना (मोदी) चाक reinvent करण्याचा प्रयत्न मुख्य निवडणूक आयुक्त करून निष्फळ व्यायाम आहे. सर्वोच्च
न्यायालयात सिद्ध इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान बदल केले जाऊ
शकते, आणि म्हणून माजी CJI सदाशिवम इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान
कारण रुपये खर्च माजी मुख्य निवडणूक आयुक्त संपत यांनी सुचवलेले म्हणून एक
रद्दबातल रीतीने बदलले जाऊ शकते की क्रम न्याय एक गंभीर त्रुटी करण्यात
आली
1600 कोटी झाला. पण तो आदेश नाही संपूर्ण इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान वापरले होते पर्यंत साठी कागद मतदान बदलले करणे.

फार
खरं इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान स्पष्ट पुरावा ते 80 लोकशाही
च्या tamperableMore बॅलेट पेपर वापरले आहेत पेक्षा बदलले आहेत की आहे आणि
इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान अजूनही फसवणूक अधीन आहेत कारण त्या
वापरत आहोत आहे.
मुख्य निवडणूक आयुक्त केवळ 2019 मध्ये देखील VVPAT संपूर्ण इलेक्ट्रॉनिक
मतदान यंत्रांद्वारे मतदान विश्वसनीय लोकशाही संस्था (मोदी) कायमचे
त्यांच्या शासन करून खून बदलले जाणार नाही आहे, असे म्हणतात.

आधीच इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान tamperable आहेत की कोणत्याही शंका न सिद्ध केले आहे कोण अनेक तांत्रिक तज्ञ आहेत.

चालू व्यायाम मतदार निष्पाप gulliable धमकावण्यासाठी फक्त आहे.

http: //www.milligazette.com /…/ 15634-उत्तर-प्रदेश आहे-येत …

उत्तर प्रदेश शंकास्पद वैधता एक सरकारी येत आहे: नि: पक्षपाती चौकशी गरज

केवळ 8 543 लोकसभा जागांपैकी भाजप (Bahuth सक्षम बदलले होते
Jitadha Psychopaths) लोकशाही संस्था ’s खून (मोदी)
मास्टर की मटकावणे. त्यानंतर इतर सर्व विधानसभा निवडणूक
इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान या फसवणूक घेण्यात आल्या. केवळ निवडणुकीत 20 जागा मध्ये
भाजपला शकते जेथे जागा सक्षम करण्यासाठी 325 बदलले होते
योगी / Bhogi / Roghi आणि देश Dhrohi मुख्यमंत्री झाले आहेत. गेल्या उत्तर प्रदेशात
मायावती च्या पेपर मतदान द्वारे आयोजित करण्यात आले जे ग्रामपंचायत निवडणूक
बहुजन समाज पक्षाचे बहुमतानं जिंकली. आता अनुसूचित जाती-मायावती अंकुश
फसवणूक प्रक्रिया वापरत आहे जो Sarvajan समाज नेता जिंकण्यासाठी
इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान केला जात आहे. केंद्रीय एक चळवळ म्हणून पाहू आणि
इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान या फसवणूक राज्य सरकार द्वारे निवडलेले विसर्जित आणि जा करणे आवश्यक आहे
कागद मतदान 80 लोकशाही म्हणून सह पुन्हा निवडणुका घ्याव्यात, त्यानंतर
नमूद केल्याप्रमाणे जग लोकशाही, समता, स्वातंत्र्य व बंधुता या जतन
सर्व कल्याण, आनंद आणि शांती साठी आपल्या घटनेच्या मॉडर्न
संस्था आणि 1% असहिष्णू, दहशतवादी, संख्या 1 दहशतवाद्यांनी टाळण्यासाठी
जागतिक नेमबाजी, lynching, मानसिक च्या, मतिमंद chitpavan
ब्राह्मण राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे (राक्षस स्वयंसहाय्यता सेवक) psychopaths मनुष्यभक्षक आहे
आधीच त्यांच्या चोरी, अंधुक त्यांच्या मनुस्मृतीने अंमलबजावणी सुरु
hinduva निष्ठा आणि भेदभाव.

माजी CJI, मोदी आणि माजी मुख्य निवडणूक आयुक्त
योगी नॉन-bailabale कायदा अत्याचार अंतर्गत वॉरंट बुक करणे आवश्यक आहे
अनुसूचित जाती प्रतिबंधित / अनुसूचित जमाती मास्टर की आधुनिक negating घेणे
आपल्या देशात राज्यघटना.

उत्तर प्रदेश शंकास्पद वैधता एक सरकारी येत आहे: नि: पक्षपाती चौकशी गरज
Milli राजपत्रातील ऑनलाइन
प्रकाशित ऑनलाईन: जून 01, 2017

खरे मूल्य किंवा गुणवत्ता किंवा अंदाज लहान नमुने निवडून करण्यासाठी
वर्तन एका मोठ्या गटाला अनेक प्रमाणात स्वीकारले सराव आहे
वर्षे. गेल्या काही वर्षांमध्ये, नमूना तंत्र सुधारित आणि केले गेले आहेत
वैज्ञानिक आणि खरे मूल्य विश्वसनीय अंदाज याची खात्री करण्यासाठी आत्मविश्वास
जे पलीकडे मर्यादा खोटे खरे मूल्य संभव आहे. यामुळे,
नमुना सर्वेक्षण परिणाम वारंवार वापर केले गेले आहेत
नियोजन, आर्थिक, सामाजिक आणि राजकीय विकास आत्मविश्वास.
पण, जिंकता पाच वैज्ञानिक नमुना सर्वेक्षण परिणाम (बाहेर पडा
निवडणूक) वर निवडणूक निकाल अगदी चौकशी न करता बाद झाले
त्यांच्या विश्वसनीयता. पाच वैज्ञानिक आंधळे या घाऊक नकार
नमुना सर्वेक्षण / बाहेर पडा मतदान अद्वितीय आहे आणि दोषी ठरविले पात्र
पूर्ण.

खालील विधान पाच परिणाम देते
मतदान यंत्र वैज्ञानिक बाहेर पडा मतदान भाजप आणि त्याच्या समर्थक संख्या
( “भाजप +”) असे निवडणुकीत.

सार्वजनिक अंदाजासाठी मतदान घेणारा

क्रमांक आत्मविश्वास मर्यादेत साठी “भाजप +” जागा आणि कंसात

VMR Times Now

200 (190210)

भारत बातम्या-MRC

185 (175195) *

एबीपी-CSDS

170 (164176)

भारत टीव्ही-सी व्होटर ‘या संस्थेने

161 (155-167)

बातम्या 24 चाणक्य

285 (273- 297) *

सरासरी

200 (190210) *

मतदान यंत्र संख्या

325

* विश्वास मर्यादा या pollsters मध्ये दर्शविले नाही गणना केली
वृत्तपत्र अहवाल. वर दिलेल्या मर्यादा प्रामाणिकपणाने उग्र पण विश्वसनीय आहेत
इतर द्वारे गणिते तुलना आत्मविश्वास मर्यादा दिले
pollsters.

पहिल्या चार वैज्ञानिक बाहेर पडा मतदान त्रिशंकू अंदाज
विधानसभा. गेल्या एक भाजपाचे बहुसंख्य अंदाज. पण, सर्वात
महत्त्वाचे म्हणजे, मतदान यंत्र संख्या अनेक अधिक जागा पेक्षा झाली “भाजप +”
वरच्या आत्मविश्वास मर्यादा (अर्थात, जागांची संख्या वरच्या मर्यादा)
सर्व पाच एक्झिट दिले जाते. पाच बाहेर पडा सरासरी परिणाम
मतदान की मतदान यंत्र 325 संख्या दाखवते (जे एक स्पष्ट चित्र देते)
जागा 55% पेक्षा अधिक वरच्या मर्यादा आहे 210 जागा ‘असे भाजपचे + “दिला
जागांची संख्या आहे. हे कोणत्याही शंका फार मोठ्या फरक पलीकडे दाखवते
मतदान यंत्र संख्या चुकीचे होते.
संधी जागा खरी संख्या
प्राप्त “भाजप +” वरील मर्यादा जास्त थोडे अधिक जात
जागा या बाहेर पडा मतदान संख्या कोणत्याही एका पेक्षा कमी 5% आहे (किंवा अगदी
1% पेक्षा कमी निवडले आत्मविश्वास पदवी अवलंबून
मर्यादा गणना pollsters). जरी हरवलेला बाहेर पडा मतदान
जे “भाजप +” सर्वात अनुकूल होती, संधी परिणाम ‘असे भाजपचे + “
पेक्षा अधिक 297 अगदी थोडे जागा मिळत पेक्षा कमी 5% (किंवा 1%) आहे.
साठी “भाजप +” वरील मर्यादा जागा जास्त थोडे अधिक मिळत संधी
संख्या पाच एक्झिट साठी जागा (त्यानुसार शून्य बंद आहे
संभाव्यता नियमाचा). अधिक विश्वसनीय सरासरी लक्षात घेता
परिणाम साठी, “भाजप +” संधी वरील मर्यादा पेक्षा 55% जास्त जागा मिळत
210 जागा शून्य बंद आहे. दुसऱ्या शब्दांत, संभाव्यता की
मतदान यंत्र प्रदेश निवडणुकीसाठी संख्या होते चुकीचे 100% बंद आहे.

त्याऐवजी
बाहेर पडा मतदान पाच वैज्ञानिक परिणाम सर्व पूर्ण निषेध
निवडणूक आयोगाने (EC) त्यांच्या वैज्ञानिक आधार आदर करावे.
कोणत्याही पुष्टी गरज असेल तर, निवडणूक आयोगाने तज्ञांचे मत मागणी केली आहे शकतो
कोलकाता, भारतीय सांख्यिकी संस्थेचे (विकसनशील आद्यप्रवर्तक
नमूना तंत्र) इतर कोणत्याही संस्था किंवा प्राध्यापक किंवा
नमूना तंत्र आकडेवारी अनुभव. पण, तो असे दिसते निवडणूक
तसे केले नाही. विश्वास बसणार नाही इतका, कारण निवडणूक आयोगाने कोणत्याही कण्हन्याचा दिले नाही
वैज्ञानिक परिणाम नाकारताना! अर्थात, निवडणूक शोधायची नाही
त्याच्या घटनात्मक जबाबदारी व खरेपणाने अयशस्वी झाले आहे. हा अभाव
देखील सत्य बाहेर शोधण्यासाठी व्याज निःपक्षपातीपणा प्रश्नचिन्ह
निवडणूक.

कारण निवडणूक आयोगाने दुर्लक्ष निष्पक्षता पुढील शंकास्पद आहे
स्पष्टपणे खालील झाली माहिती इच्छित हालचाल घडवून आणण्यासाठी हाताचा उपयोग करणे
इलेक्ट्रॉनिक गॅझेट स्पष्ट शक्यता आहे आणि वारंवार दावा
इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान बदल करू शकत नाही पोपट सारखी की:

1. सायबर
गुन्हा अधिक आणि अधिक दिशाभूल झालेले हुशार लोक वाढत गेले आहेत
, हॅकिंग करण्यासाठी resorting व्हायरस विकसित, दोरखंड इ

खालील शीर्षक 2 डेक्कन क्रोनिकल करून Achom Debanish मध्ये “खरोखर पुरावा
लुडबुड इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान आहेत” एक लेख असे म्हटले
आहे:

(अ) “बीबीसी अहवाल एक एक घरगुती साधन कनेक्ट केल्यानंतर
मतदान यंत्र, मिशिगन विद्यापीठ संशोधक परिणाम बदलण्यास सक्षम होते
एक मोबाइल फोन पासून मजकूर संदेश पाठवून. “

(ब) “हरी कृष्णा
Vemuru प्रसाद, हैदराबाद येथील Netindia प्रायव्हेट लिमिटेड व्यवस्थापकीय संचालक, एक
तंत्रज्ञान उपाय टणक, एक मतदान यंत्र स्थानिक टीव्ही वर असू शकते कसे दाखवले आहे
दोरीचा. “तो एक उत्कट समर्थक भाजपचे पाहिले होते की शक्य आहे
आणि (EC आणि भाजप ज्ञान न) हॅकिंग यश
इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान सूचना हलणे प्रदेश निवडणुकीत मोजणी वापरले जाते.

(क) श्री Vemuru देखील “की मतदान यंत्र चिप बदलले जाऊ शकते दावा
मते टक्केवारी ठेवणे एक नजर सा-आणि शांतपणे सूचना सह
निवडलेल्या उमेदवार नावे. “निवडणूक आयोगाने कोणत्याही हुशार आणि अप्रामाणिक कर्मचारी,
या इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान एकमेव रक्षक, तो / ती होते तर हे करू शकतो. तो आहे
भ्रष्टाचार मुक्त होण्याची शक्यता आहे की नाही समर्पक सरकारी कार्यालयात.

3. “कृत्रिम (बोट) दर्शवितो स्मार्ट फोन अनलॉक करू शकता वेळ 65%.” (टाइम्स ऑफ इंडिया, 16-04-17).

4. दिल्ली विधानसभा केजरीवाल एक मतदान यंत्र कसे लुडबुड दाखवून दिले आहे.

5. “सोसावे लागते करून एक नवीन अहवालात 176 सायबर-धमक्या होते मिळतो
दर मिनिटाला आढळले (अर्थात, जवळजवळ तीन दुसरा प्रत्येक) आणि 88 टक्के
वाढ आणि 99 टक्के ransomeware मोबाइल मालवेअर वाढ केली होती
2016 च्या शेवटी “(DeccanChronicle, 12.04.17) ओळखलेल्या.

निवडणूक आयोगाने केले
प्रत्येक दुसऱ्या सायबर-धमक्या आहे मूर्ख पुरावा प्रणाली बाहेर पाहू
24/7 आणि अशा सर्व धोक्यांना मात? नाही तर, सायबर गुन्हेगार असू शकतात
मतदान यंत्र प्रदेश निवडणुकीत मोजणी साठी फेरफार.

हे स्पष्ट नाही आहे,
वापरले इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान की नाही हे निवडणूक की उत्तर प्रदेशात निवडणूक याची खात्री यशस्वी होते
कोणत्याही वेळी manipulations सर्व प्रकारच्या थांबवू शकत (संपूर्ण
निवडणूक), तज्ञ सर्व प्रकारच्या पूर्ण करू शकता. तो होते जरी
100% यशस्वी (अनिश्चित आहे), कोणत्याही हुशार आणि अप्रामाणिक कर्मचारी
निवडणूक, मतदान यंत्रांद्वारे मतदान घेण्यात एकमेव रक्षक, तो / ती होते तर फेरफार असू शकते
आहे. तो लाच-givers आणि वर्चस्व निर्माण केले नाही दुष्काळ आहे की समर्पक आहे
देशात.

हे सर्व इलेक्ट्रॉनिक इच्छित हालचाल घडवून आणण्यासाठी हाताचा उपयोग करणे दाखवा
गॅझेट स्पष्ट शक्यता आहे. हे सरकार च्या द्वारे समर्थीत आहे
आधार पाझर राहीला संबंधात सर्वोच्च न्यायालयाने (अनुसूचित जाती), प्रवेश, की
कोणतेही तंत्रज्ञान 100% योग्य आहे. या सर्व उपहास निवडणूक दावा की इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान
छेडछाड केली जाऊ शकत नाही. एस निवडणूक की नाही हे तपास भाग्य अशाने पुनरावृत्ती
इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान प्रदेश निवडणुकीत वापरले होते निवडणूक शकते चालवली जाऊ नाही, हे दाखवण्यासाठी
योग्य.
हे समर्पक आहे की, असा शक्यता
इच्छित हालचाल घडवून आणण्यासाठी हाताचा उपयोग करणे करून निवडणूक आयोगाने फक्त स्वीकारले नाही तर अप्रत्यक्ष वापर केला
तो (खाली स्पष्ट वारंवार म्हणून). निवडणूक आयोगाच्या एका परिचय वचन दिले
कागद ओढला (VVPAT) साठी मतदान यंत्रांद्वारे मतदान घेण्यात 2019 मध्ये तपासा करण्यासाठी सक्षम करेल
कोणत्याही इलेक्ट्रॉनिक इच्छित हालचाल घडवून आणण्यासाठी हाताचा उपयोग करणे आली आहे की नाही. इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान प्रदेश वापरले तर
निवडणूक फेरफार करणे शक्य नाही, निवडणूक आयोगाने या नीतिमान आहे शक्य नाही
बदला. उपरोधिकपणे, स्वत: ची प्रवेश या अप्रत्यक्ष शक्यता असूनही
इच्छित हालचाल घडवून आणण्यासाठी हाताचा उपयोग करणे या निवडणूक हे घडले आहे किंवा नाही हे तपासण्यासाठी नाही आणि अहवाल
उत्तर प्रदेश निवडणुकीत अत्यंत संशयास्पद परिणाम असताना देखील दिली. त्याऐवजी,
निवडणूक आयोगाने पोपट सारखी म्हणाला इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान हस्तक्षेप-पुरावा आहेत वर ठेवते. या दुहेरी
निवडणूक आयोगाने एक अधिकार सारखे विचार योग्य नाही.

शिवाय, असे वाटते
निवडणूक (एक लांब मार्ग बंद आहे) की 2019 त्याच्या योजना बोलत आहे
प्रामुख्याने मतदान यंत्र प्रदेशात अत्यंत संशयास्पद संख्या दुसरीकडे वळविण्याकरिता
निवडणूक जवळ आली सर्वात महत्त्वाचा मुद्दा आहे.

ईसी लिहिले
कायदा मंत्री याची खात्री करण्यासाठी आवश्यक आहे की VVPAT उपयोजन मशीन
“च्या मतदान आणि मतदार आत्मविश्वास एकाग्रता जतन केलेली आहे
प्रक्रिया “रुपये andsought मंजुरी सशक्त आहे. साठी 3.174 कोटी
नवीन मशीन (टाइम्स ऑफ इंडिया, 17.04.17) खरेदी. वापरले इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान तर
उत्तर प्रदेश निवडणुकीत मतदान एकाग्रता जतन होते, निवडणूक आयोगाने आहे शकला नाही,
निधी या प्रचंड मागणी नीतिमान. या दुसर्या अप्रत्यक्ष नाही
इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान वापरले लुडबुड-पुरावा झाले नाहीत प्रदेशात निवडणूक प्रवेश?

निवडणूक आयोगाने या नवीन मशीन देखील निदान एक स्वत: ची सुसज्ज आहे की म्हणते
मशीन खरेपणाची ओळख प्रणाली. तो नाही
जुन्या इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान खरेपणाची प्रदेश निवडणुकीत वापरली जाऊ शकत नाही, असा त्याचा अर्थ
प्रमाणित? या ध्वनित नाही EC या वापर करत आहे की
इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान मध्ये दोष प्रदेश निवडणुकीत खर्च प्रचंड प्रमाणात समायोजित करण्यासाठी वापरले
नवीन मशीनवर?

“निवडणूक आयोगाने पुढील पिढी इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान खरेदी सेट केले आहे
होऊन “क्षण प्रयत्न तो, कल्हई करणे शस्त्रक्रियेने बरा न होणारा केले जातात”
2019. (टाइम्स ऑफ इंडिया, 03.04.17) मध्ये वापरा. या विलक्षण लवकर चर्चा
भविष्यात सर्वात दुसरीकडे वळविण्याकरिता आणखी एक प्रयत्न आहे
हात महत्वाचे प्रश्न इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान प्रदेश निवडणुकीत वापरले होते की नाही हे
बदल.

“मतदान एकाग्रता इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान वापरले जाईल
एक करून सर्व भागधारकांच्या पूर्ण समाधान असल्याचे “प्रात्यक्षिक
निवडणूक आयोगाने (टाइम्स ऑफ इंडिया, 02.04.17) टीम. हे आणखी एक उदाहरण आहे
करण्यासाठी निवडणूक आयोगाने भविष्यात aboutthe बोलत चुकीचे दुसरीकडे वळविण्याकरिता
साठी मतदान यंत्र उत्तरप्रदेश निवडणूक म्हणतो.

निवडणूक राजकीय आव्हान फेकले
पक्ष, शास्त्रज्ञ आणि तांत्रिक तज्ञ इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान असल्याचे सिद्ध होऊ शकते की
आता बदल. (टाइम्स ऑफ इंडिया, 13.04.17). हे आणखी एक आहे
चुकीचे मतदान यंत्र प्रदेश लक्ष विचलित उदाहरण संख्यांसाठी
निवडणूक. शिवाय, या फार उशीर झालेला आव्हान, निर्णायक अनेक आठवडे
शंका निवडणूक आता इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान केले आहे की नाही हे महत्त्वाचा प्रश्न उभा राहतो
त्याच्या ताब्यात होते “शस्त्रक्रियेने बरा न होणारा” क्षण प्रयत्न उत्तर प्रदेश, वापरले
इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान पुढील पिढी एक गुणवत्ता - तो ठीक केले जातात.
असे असल्यास, जुन्या इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान न या गुणवत्ता, वापर झाला कुठे आहेत
उत्तर प्रदेश निवडणूक? या दोन्ही प्रश्न निवडणूक की नाही हे अप्रामाणिक आहे.

2013 मध्ये सर्वोच्च न्यायालयाने एक रद्दबातल रीतीने VVPAT परिचय निवडणूक आदेश दिले आहेत.
चिदंबरम यांनी या निर्णय तपशील उल्लेख म्हणाला, “एक
तज्ञ संघ एक व्यापक रिपोर्ट दाखल केला असे म्हणाला की,
इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान हार्डवेअर तसेच सॉफ्टवेअर संवेदनशील आणि प्रवण वापरले जातात
फेरफार “. तो निवडणूक मशीन अगदी नव्हता, मान्य केले आहे
सोपे आणि कागद ओढला “(टाइम्स ऑफ इंडिया परिचय मान्य,
030417). या इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान प्रदेशात कागद ओढला न वापरले होते कारण
निवडणूक (काही जागा वगळता) निवडणूक होते आहे, याची जाणीव नाही
सोपे. या जागरूकता असूनही निवडणूक वारंवार इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान दावा केला की,
छेडछाड केली जाऊ शकत नाही. या एकाग्रता दुहेरी बोलू प्रश्नचिन्ह
निवडणूक आयोगाने आणि निःपक्षपातीपणा आहे.

या सर्व प्रामाणिकपणा अभाव सूचित करा आणि
बांधिलकी निवडणूक निकाल अचूकता याची खात्री करण्यासाठी निवडणूक आयोगाने. हे आहे
निवडणूक आयोगाने उत्तर प्रदेश संख्या अचूकता तपासण्यासाठी मतदान यंत्र मध्ये संचालक निश्चिती
मतदान यंत्र निवडणूक संख्या ही शक्यता असूनही निवडणूक
चुकीचे 100% बंद आहे होते (वरील पहा) आणि निवडणूक जागरूकता बद्दल
इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान (पॅरा मागील) च्या इच्छित हालचाल घडवून आणण्यासाठी हाताचा उपयोग करणे शक्यता. हे देखील
EC च्या निःपक्षपातीपणा प्रश्न.

Mayawathi, केजरीवाल आणि येचुरी
या चौकशी केली आहे. अधिक लोक असू शकते शंका आहेत
(पाच pollsters समावेश) शक्यतो कारण, कोण शांत ठेवत आहेत
विरोधी नागरिक असे संबोधले जात भीती. निवडणूक आयोगाने पूर्ण नाही आहे, त्याच्या
कर्तव्य सर्वात महत्त्वाचा प्रश्न अचूकता त्यांच्या शंका साफ करण्यासाठी
पण वारंवार प्रदेश सांगून तो लक्ष विचलित च्या संख्या
त्याच्या भविष्यातील योजना बद्दल.
अचूकता अभाव चार वर्षे अगदी कायम
अनुसूचित जाती च्या आदेश अधिक अचूक इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान वर तरी नंतर तैनात केले जाऊ शकते
मोठ्या प्रमाणात. काय वाईट आहे हानीकारक आहे आणि निवडणूक वापर करण्यात येणार आहे
या “अधिक अचूक” या मशीन असेल तरी फक्त 2019 मध्ये इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान,
भारत इलेक्ट्रॉनिक्स आणि भारत इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन द्वारे उत्पादित
(टाइम्स ऑफ इंडिया, 02.04.17). का त्याऐवजी पुढे ढकलण्यासाठी या
मुळे आहे काही राज्यांत निवडणुकीच्या काळात अचूक सुनिश्चित
पुढील दोन वर्षांच्या कालावधीत? नाही च्या निःपक्षपातीपणा निवडणूक शंका
तो आपण प्रश्न ह्या manipulations त्याच्या डोळे बंद आहे किंवा नाही हे
निवडणूक काही पक्षांनी मदत 2019 च्या निवडणुकीत सह
मन.

गोंधळ उडवणारे क्रिया (किंवा निवडणूक आयोगाने निष्क्रियता) सह थांबवू नका
या. नवीन इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान “तांत्रिकदृष्ट्या मते स्वहस्ते मोजणी द्या”. जरी
प्रकाशित परिणाम चूक तक्रारी मिळत आधी,
निवडणूक आयोगाने मॅन्युअल मोजणी एक जबाबदार तुलनेत परिणाम असावा
संख्या नवीन इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान प्रदेशात 30 जागा वापरली जे होते मतदान यंत्र
तपासा अचूकता. नमुना मतदान संख्या द्वारे दर्शविले मतदान यंत्र वेगळे असेल तर
30 जागांसाठी मॅन्युअल मोजणी, शक्यता पासून त्या पासून
इच्छित हालचाल घडवून आणण्यासाठी हाताचा उपयोग करणे पुष्टी केली आहे. पण निवडणूक आयोगाने हे धनादेश बाहेर वाहून नाही, अगदी
तक्रारी प्राप्त झाल्यानंतर. का? हे देखील या निःपक्षपातीपणा प्रश्नचिन्ह
निवडणूक.

निवडणूक आयोगाने सर्व पूर्वीचे आहे उपस्थित प्रश्न ठोस उत्तरे देण्यासाठी.

“दिल्लीचे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल यांनी दोन पोहोचला, असे ते म्हणाले
तीन निवडणूक आयुक्त कारण तो दावा केला काय पूर्वग्रहदूषित आहेत
पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी खासदार त्यांना एक शेजारी आणि इतर
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान यांनी “(टाइम्स ऑफ इंडिया, 19.04.17).
कारण आरोप शंका तपास करणे आवश्यक आहे
निवडणूक आयोगाने यापूर्वी वेळा निःपक्षपातीपणा अनेक असण्याचा गेले आहे
परिच्छेद. अशा तपास विविध मुद्दे पाहिजे
पूर्वीचे असण्याचा. हे केले गेले नाही, जे सीबीआय चौकशी करण्यात यावी,
सरकारने अनुसूचित जाती एक caged पोपट असे संबोधले. आणखी एक कारण
विश्वासार्हता सीबीआय च्या अभाव “दोन सीबीआय माजी संचालक आहे
भ्रष्टाचार चाचणी तोंड प्रक्रियेत ठेवलेल्या, अवैध सावकारी,
आणि scuttling गंभीर सर्वोच्च न्यायालयाने बंधनकारक शोध घेतो “(डेक्कन क्रोनिकल,
280417).

निवडणूक आयोगाने प्राप्त परिणामांचे विश्लेषण पासून “, असा दावा
गोवा 40 जागांसाठी 33 जागा वापरले VVPATs आणि
पंजाब करून बाहेर ठेवले आहे इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान कागद न थोडे फरक परिणाम दर्शविते
माग “(टाइम्स ऑफ इंडिया, 18.4.17).

सर्वात महत्त्वाचे म्हणजे, तो आहे
निवडणूक परिणाम VVPATs प्राप्त आश्चर्यकारक प्रदान केले नाही
त्यात समावेश कारण राज्यांमध्ये इतर अत्यावश्यक वापरले होते
मतदान यंत्र तेथे अत्यंत संशयास्पद होते संख्या. निवडणूक आयोगाने या केले करणे आवश्यक आहे
देखील विश्लेषण या राज्यांमध्ये. असे असल्यास, निवडणूक आयोगाने परिणाम का लपवून नाही?
त्याचे विश्लेषण करा नाही तर, का?

हे परिणाम देखील प्रतिबंध
EC च्या निःपक्षपातीपणा प्रश्न. हे तात्काळ प्रकाशित केला पाहिजे.
निवडणूक परिणाम उत्तरप्रदेशात या जागा आता दर्शवित असेल तर (जे माग VVPAT आहे
उपलब्ध) या मतदान यंत्र वेगळे नाही संख्या सिद्ध, तो
तपासणी स्वतंत्र परवानगी देते करून तोपर्यंत निवडणूक विश्वासार्हता नाही
तज्ञ.

शक्यतो निवडणूक हे परिणाम या कारण लपविण्यासाठी होते
उत्तर प्रदेश सर्वात केलेली की मतदान यंत्र या जागा आणि चूक ठरले होते
उत्तर प्रदेश सर्वात जागांसाठी परिणाम आणि मतदान नमुना दर्शविले पुष्टी
वैज्ञानिक बाहेर पडा मतदान करून.

वरील विश्लेषण स्पष्टपणे दाखवते
(1) मतदान यंत्र प्रदेश निवडणुकीसाठी संख्या ही शक्यता चुकीचे होते
बंद 100g% उपस्थित प्रदेशात सरकार आणि घटना आधारित आहे
या चुकीच्या संख्या नाही वैधता, (2) निवडणूक वारंवार जारी केले गेले आहे
दुसरीकडे वळवणे भविष्यात मते योग्य मोजणी सुनिश्चित करण्यासाठी बद्दल स्टेटमेन्ट
उत्तर प्रदेश निवडणुकीत (3) निष्पक्षता च्या अवैध परिणाम लक्ष
निवडणूक आयोगाने कारण संख्या नमूद शंका तपास करणे आवश्यक आहे
पूर्वी परिच्छेद आणि (4) परिस्थिती कसून मागणी
एक स्वतंत्र एजन्सी (नाही सीबीआय) तपास सर्व शंका साफ करण्यासाठी आणि
प्रतिबंधक क्रिया शिफारस करतो.

केवळ अशा तपास सत्यमेव जयते ( “सत्य फक्त विजयी), कृपया आमच्या अत्यंत प्रतिष्ठित बोधवाक्य खात्री करू शकता.

, तरीदेखील ते isridiculous संशय एक पण परिणाम नाही
इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान असू शकते जे बाहेर पडा मतदान आणि विश्वास पाच वैज्ञानिक अचूकता
अनेक तज्ञ आणि सरकार च्या त्यानुसार फेरफार विरुद्ध जे
कोणतेही तंत्रज्ञान 100% योग्य आहे की पाहू. हे धक्कादायक आहे की (1)
बाहेर पडा मतदान लक्ष दूर वळवल्याचा आणि वैज्ञानिक स्वीकार
उत्तर प्रदेश चुकीचे मतदान यंत्र एक येत प्रमाण परिणाम आहे
नाही वैधता आहे आणि (2) या गंभीर समस्या जात नाही आहे सरकार
अगदी घटनात्मक तज्ञ आणि अधिकारी विचारले.
मध्ये
सरकारी आहे येत धक्कादायक परिस्थिती दूर करण्यासाठी
नाही वैधता आणि राज्यघटना निवडणूक अंतर्गत जबाबदारी पूर्ण करण्यासाठी
(1) लगेच अत्यंत संशयास्पद मतदान यंत्र म्हणून गणना जाहीर आहे
अवैध दिला ‘असे भाजपचे + “एक वरच्या मर्यादा पेक्षा 55% जास्त जागा कारण
पाच वैज्ञानिक परिणाम सरासरी त्यानुसार जागांची संख्या
मतदान आणि बाहेर पडा (2) गुन्हेगारी ऑर्डर इलेक्ट्रॉनिक मतदान यंत्रांद्वारे मतदान एक त्याबद्दल सांगू शकाल काढून टाकल्यानंतर
manipulations, तज्ञ आणि भागधारक करून छाननी. हे असेल तर
शक्य नाही, एक फेरमतदान निवडणूक आयोगाच्या एका अल्प कालावधीत आहे क्रम, नंतर
राष्ट्रपती राजवट शिफारस. अन्यथा, उत्तर प्रदेश एक सुरू लागेल
अवैध सरकार - आपल्या घटनेच्या कलंक.

एक निनावी
काळजी आहे आणि सत्यमेव जयते आणि भीती बोधवाक्य आदर कोण नागरिक
सीमा घटक कोणत्याही खोटी सबब त्रास देणे किंवा अगदी ठार.

न्यायाधीश Honbe सर्वोच्च न्यायालयात अपील

कृपया विचार धक्कादायक / घटनाबाह्य घटनांमध्ये की नाही
या लेखात वर्णन स्वतःहून मागितले घेऊन पुरेसा कारणास्तव आहेत
बाबतींत:

(1) उपस्थित उत्तर प्रदेश सरकारला आहे डिसमिस
राज्यघटना अंतर्गत नाही वैधता अत्यंत शंकास्पद आधारित जात
मतदान यंत्र म्हणतो. तो एक सायबर गुन्हेगारी करेल तर धक्कादायक करण्याची अनुमती आहे
संविधानाच्या एक उपहास.

(2) एक विशेष सेट अप करत आहे
निवडणूक आयोगाने तपास पथकाने किंवा नाही तपास अयशस्वी
उत्तर प्रदेशातील निवडणूक परिणाम नि: पक्षपाती असेल.

पत्रकार लक्ष

दिल्ली हॅबिटॅट सेंटरमध्ये, सर्व सहभागी मध्ये अलीकडील पॅनेल चर्चा
दृश्य व्यक्त केली गेली होती की भारत माध्यमातून मीडिया देखावा
कारण उपस्थित टीका पत्रकार आपापसांत भीती
सरकार. पत्रकार म्हणून भयभीत आहेत तर, ते होईल
असंबद्ध. फक्त एकच उपाय आहे ते, अशी सूचना करण्यात आली होती पत्रकार
अनिष्ट धोरणे आणि सरकार क्रिया विरुद्ध उभे.
ही गरज देखील अलीकडेच भारताच्या राष्ट्रपतींनी जोर देण्यात आला. तो
सांगितले प्रेस विचारत नसेल तर त्याचे कर्तव्य अपयश केली जाईल, असे
शक्ती (टाइम्स ऑफ इंडिया, 26.05.17) मध्ये त्या प्रश्न.

मध्ये
उपस्थित संदर्भ, तो प्रश्न प्रत्येक पत्रकार कर्तव्य आहे
पाच परिणाम दुर्लक्ष करून त्याच्या जबाबदाऱ्या अयशस्वी जे निवडणूक
बाहेर पडा कोणत्याही वैज्ञानिक समर्थन न देणे आणि वापरून मतदान
मतदान यंत्र अत्यंत अवैध संख्या घटना समर्थन संशयास्पद
सरकार मध्ये, एक धक्कादायक परिस्थिती आणि कलंक परिणामी
भारतीय राज्यघटनेच्या.

भीती हवामान काढून मदत करण्यासाठी,
निवृत्त पत्रकार अनुभव बरेच पुस्तिका प्रकाशित पाहिजे
त्यांच्या मते पत्रकार वाटू लागली जे कारणे स्पष्ट करण्यासाठी व्यक्त
आणि गैर-व्यावसायिक मुक्तपणे आपल्या धन्याच्या खेळला नकारात्मक भूमिका.
वर्तमानपत्रे, जर्नल्स पुस्तिका मे प्रकाशित आवश्यक कारण नाही
अशा दृश्ये प्रकाशित करण्यासाठी संपुष्टात भीती वाटते.

तथापि, तीव्रता
केंद्र आणि राज्य सरकार शूर दोन्ही टीका
Sooryakumar टीव्ही पत्रकार आणि सारखे इतर अनेक Vinu जॉन व सिंधू
केरळ मध्ये वर्तमानपत्र सर्व आशा देते गमावले नाही. शिवाय,
या उपक्रम व्यावसायिक म्हणून त्यांचे काम हे प्रदर्शित
तोंड द्यावे लागले सरकार, ते मिळणार नाही, कारण पत्रकार भीती गरज
संपूर्ण व्यवसाय आणि सामान्य सार्वजनिक पूर्ण पाठिंबा आहे, एक विपरीत
सामान्य माणूस.

(Sivarama भारती प्राप्त झाला - srbharathi18@yahoo.in)

आम्ही हा अहवाल / लेख आवडला अशी आशा आहे. Milli राजपत्रातील एक विनामूल्य आहे आणि
स्वतंत्र वाचक-समर्थित माध्यम संस्था. समर्थन करण्यासाठी, कृपया
उदार हस्ते घालणारा. येथे क्लिक करा किंवा salesmilligazettecom येथे आम्हाला ईमेल करा

उत्तर प्रदेश शंकास्पद वैधता एक सरकारी येत आहे: नि: पक्षपाती चौकशी गरज

उपस्थित संदर्भात, हे प्रत्येक पत्रकार प्रश्न जे निवडणूक त्याच्या जबाबदाऱ्या अयशस्वी झाले कर्तव्य आहे …

milligazette.com

Classical Malayalam


ഈ വിളവുമേനി ചക്രം ലുലുമാളിന്റെകാര്യത്തില് ശ്രമിച്ചു കൊലപാതകികൾ ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനങ്ങൾ (മോഡി) ഒരു വിഫലമായ വ്യായാമം ആണ്. ഇത്
വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ കൃത്രിമം കഴിഞ്ഞു സുപ്രീം കോടതിയിൽ
തെളിയിച്ചിട്ടുണ്ട് അതുകൊണ്ടുതന്നെ മുൻ ജസ്റ്റിസ് സദാശിവം ഒരു കല്ലറയിൽ
കാരണം രൂപ ചിലവു മുൻ CEC സമ്പത്ത് നിര്ദ്ദേശിച്ചത് നാമനിര്ദേശം ഘട്ടം
ഘട്ടമായി പകരം കഴിഞ്ഞില്ല ഓർഡർ ന്യായവിധിയുടെ പിശക് ചെയ്ത
1600 കോടി. പേപ്പർ ബാലറ്റുകൾ പകരം വേണ്ടി മുഴുവൻ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഉപയോഗിച്ചു വരെ എന്നാൽ അവൻ ഉത്തരവിട്ടു ഒരിക്കലും.

വളരെ
വസ്തുത വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ അവർ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഇപ്പോഴും
തട്ടിപ്പ് വിധേയമാണ് കാരണം 80 ജനാധിപത്യ തംപെരബ്ലെമൊരെ ബാലറ്റ് പേപ്പറുകൾ
ഉപയോഗിച്ച് ആകുന്നു എന്നു അവരെ ഉപയോഗിച്ച് മാറ്റി എന്ന് വ്യക്തമായ
തെളിവിനെ എന്നതാണ്.
CEC 2019 മാത്രമാണ് വ്വ്പത് മുഴുവൻ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ വിശ്വസനീയമായ
ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനങ്ങൾ (മോഡി) ശാശ്വതമായി ഭരണം തുടരും യഥാവിധി കൊലപാതകികൾ
പ്രകാരം പകരം ചെയ്യില്ല കൂടാതെ പറയുന്നു.

ഇതിനകം വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ തംപെരബ്ലെ ഏതെങ്കിലും സംശയമില്ല തെളിയിച്ചതാണ് പലരും സാങ്കേതിക വിദഗ്ധരുടെ ഉണ്ട്.

നിലവിലെ വ്യായാമം വോട്ടർമാർ നിരപരാധികളായ ഗുല്ലിഅബ്ലെ മാത്രം ഭീഷണിപ്പെടുത്താൻ ആണ്.

HTTP: //വ്വ്വ്.മില്ലിഗജെത്തെ.ചൊമ് /…/ ൧൫൬൩൪-ഉത്തർപ്രദേശ്-പ്രദേശ്-ആണ്-ഇല്ലാതെ …

നിഷ്പക്ഷമായ അന്വേഷണം ആവശ്യം: ഉത്തർപ്രദേശിലെ സംശയാസ്പദമാണെന്ന് സാധുത ഒരു സർക്കാർ പ്രശ്നമുണ്ട്

മാത്രം 8 543 നിന്നു ലോക്സഭാ സീറ്റുകൾ പ്രാപ്തരാക്കുകയെന്ന ബിജെപി (ബഹുഥ് പകരം
ജനാധിപത്യ സ്ഥാപനങ്ങൾ (മോഡി) എന്ന ജിതധ മനോരോഗികളോ) ന്റെ കൊലപാതകികൾ
മാസ്റ്റർ കീ ഗൊബ്ബ്ലെ. പിന്നീട് എല്ലാ നിയമസഭാ തിരഞ്ഞെടുപ്പിൽ
വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഈ തട്ടിപ്പ് നടത്തി. യു.പി തെരഞ്ഞെടുപ്പ് മാത്രം 20 സീറ്റ് ൽ
അവിടെ ബിജെപി വിജയം കഴിഞ്ഞില്ല സീറ്റുകൾ ലഭ്യമാക്കുന്നതിനുള്ള 325 പകരം
യോഗി / .തന്റെ / രൊഘി ആൻഡ് ദേശ് ധ്രൊഹി ​​മുഖ്യമന്ത്രി ആകുവാൻ. കഴിഞ്ഞ യു.പി
ഏത് മിസ് മായാവതി ന്റെ പേപ്പർ ബാലറ്റുകൾ നടത്തിയത് പഞ്ചായത്ത് തിരഞ്ഞെടുപ്പിൽ
ബിഎസ്പി ഒരു വമ്പിച്ച ഭൂരിപക്ഷം നേടി. ഇപ്പോൾ ഒരു പട്ടികജാതി പട്ടിക മായാവതി തടയാൻ
വഞ്ചന പ്രക്രിയ ഉപയോഗിക്കുന്നു ഒരു സര്വജന് സമാജ് നേതാവ് വിജയിക്കാൻ
വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഉപയോഗിക്കുന്നു. അതുകൊണ്ടു കേന്ദ്ര ഒരു പ്രസ്ഥാനം എന്ന് കാണുകയും
വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഈ വഞ്ചന സംസ്ഥാന സർക്കാരുകൾ തിരഞ്ഞെടുത്ത പിരിച്ചുവിടുകയും ചെന്നുകണ്ടു വേണം
80 ജനാധിപത്യ പോലെ പേപ്പർ ബാലറ്റുകൾ വേണ്ടി പുതിയ തെരഞ്ഞെടുപ്പ് പിന്നാലെ
നിഷ്ഠമായ ലോകം ജനാധിപത്യം, സമത്വം, സ്വാതന്ത്ര്യത്തിന്റെ സാഹോദര്യത്തിലേയ്ക്കുള്ള സംരക്ഷിക്കുക
എല്ലാ ക്ഷേമ, സന്തോഷവും സമാധാനവും ഞങ്ങളുടെ ഭരണഘടനയിൽ ആധുനിക
സംഘങ്ങളും 1% അസഹിഷ്ണുത ആക്രമണോത്സുകമായ ഒഴിവാക്കാൻ, നമ്പർ 1 തീവ്രവാദികൾ
ലോകം ഷൂട്ടിംഗ്, റീലിൽ, ഭ്രാന്തൻ, മാനസികവളർച്ചയെത്താത്തവരുടെ ഗണിതശാസ്ത്ര എന്ന
ബ്രാഹ്മണൻ ആർ.എസ്.എസ് (രാക്ഷസനായ സ്വയമ് കർസേവകർ) .ഒന്ന് ആർ മനോരോഗികളോ
ഇതിനകം അവരുടെ പ്രച്ഛന്ന, തീരുന്നതു അവരുടെ പെടിച്ചു നടപ്പിലാക്കാൻ തുടങ്ങി
ഹിംദുവ കൾട്ട് ആൻഡ് വിവേചനപരമായ.

മുൻ ചീഫ് മോഡിയും മുൻ വിളവുമേനി
യോഗി നോൺ-ബൈലബലെ നിയമം അതിക്രമങ്ങൾ കീഴിൽ വാറന്റ് ബുക്ക് വേണം
മോഡേൺ നെഗതിന്ഗ് മാസ്റ്റർ കീ ഏറ്റെടുക്കാൻ പട്ടികജാതി / എസ്ടി തടയാൻ
നമ്മുടെ രാജ്യം ഭരണഘടന.

നിഷ്പക്ഷമായ അന്വേഷണം ആവശ്യം: ഉത്തർപ്രദേശിലെ സംശയാസ്പദമാണെന്ന് സാധുത ഒരു സർക്കാർ പ്രശ്നമുണ്ട്
മില്ലി ഗസറ്റ് ഓൺലൈൻ
പ്രസിദ്ധീകരിച്ചത് ഓൺലൈൻ: ജൂൺ 01, 2017

യഥാർത്ഥ മൂല്യം ഗുണനിലവാര കണക്കാക്കാൻ ചെറിയ സാമ്പിളുകൾ തിരഞ്ഞെടുക്കുന്നു അല്ലെങ്കിൽ
സ്വഭാവം ഒരു വലിയ സംഘം പല ഒരു അംഗീകരിച്ചിരിക്കുന്നു പ്രാക്ടീസ് ചെയ്തു
വർഷം. വർഷങ്ങളായി, ഒരുപറ്റം വിദ്യകൾ മെച്ചപ്പെട്ടു ചെയ്തിരിക്കുന്നു
ശാസ്ത്രീയവും യഥാർത്ഥമൂല്യങ്ങളെപ്പറ്റിയുള്ള ആശ്രയിക്കാവുന്ന കണക്കുകൾ ഉറപ്പാക്കാൻ ആത്മവിശ്വാസം
ഏത് അപ്പുറം യഥാർത്ഥ മൂല്യം വ്യാജം പരിധികൾ സാധ്യതയില്ല. തൽഫലമായി,
സാമ്പിൾ സർവേകൾ ഫലം ആവർത്തിച്ച് ഉപയോഗം കൊണ്ട് ചെയ്തു
, സാമ്പത്തിക, സാമൂഹിക, രാഷ്ട്രീയ സംഭവവികാസങ്ങൾ ആസൂത്രണം വിശ്വാസ്യതയിൽ.
എന്നാൽ, വിരോധാഭാസം, അഞ്ച് ശാസ്ത്ര മാതൃകാവ്യാപ്തിനിർണ്ണയത്തിന്റെ ഫലങ്ങൾ (എക്സിറ്റ്
തെരഞ്ഞെടുപ്പ്) യുപി തെരഞ്ഞെടുപ്പ് ഫലങ്ങൾ പോലും അന്വേഷണം കൂടാതെ പുറത്തായി
അവരുടെ വിശ്വാസ്യത. അഞ്ച് ശാസ്ത്രീയ അന്ധരുടെ ഈ മൊത്ത തിരസ്കരണവും
സാമ്പിൾ സർവേകൾ / എക്സിറ്റ് പോളുകൾ അതുല്യമായ ആണ് ശിക്ഷാവിധിയിൽ അർഹതയുണ്ടെന്ന്
ഒറ്റയടിക്കു.

താഴെ പ്രസ്താവന അഞ്ചു ഫലങ്ങൾ നൽകുന്നു
എവ്മ് ശാസ്ത്രീയ എക്സിറ്റ് പോളുകളും ബിജെപിയും സഹായികളായി എണ്ണം
( “ബിജെപി +”) യുപിയിൽ തിരഞ്ഞെടുപ്പിൽ.

പൊല്ല്സ്തെര്

നമ്പർ ആത്മവിശ്വാസം പരിധിക്കുള്ളിൽ വേണ്ടി “ബിജെപി +” ഒപ്പം ബ്രാക്കറ്റ് സീറ്റുകൾ

ഇപ്പോൾ വ്മ്ര് TIMES

200 (190210)

ഇന്ത്യ വാർത്ത-കേരളീയനോ

185 (175195) *

എബിപി-സിഎസ്ഡിഎസ്

170 (164176)

ഇന്ത്യ ടിവി-സി വോട്ടർ

161 (155-167)

വാർത്ത 24 ചാണക്യ

285 (273- 297) *

ശരാശരി

200 (190210) *

എവ്മ് എണ്ണം

325

* ആത്മവിശ്വാസം പരിധി കാണിക്കുന്നില്ല ഈ നടത്താതെ കണക്കാക്കുന്ന ചെയ്തു
പത്രം റിപ്പോർട്ട്. മുകളിൽ നൽകിയ പരിധികൾ ഒരേ പരുക്കൻ എന്നാൽ താനും
മറ്റു ആത്മവിശ്വാസം പരിധി കണക്കുകൂട്ടലുകൾ താരതമ്യപ്പെടുത്താവുന്ന നൽകിയ
നടത്താതെ.

ആദ്യ നാല് ശാസ്ത്രീയ എക്സിറ്റ് പോളുകൾ ഒരു തൂക്കു പ്രവചിച്ച
നിയമസഭാ. കഴിഞ്ഞ ഒരു ബിജെപി ഭൂരിപക്ഷം പ്രവചിച്ച. എന്നാൽ, ഏറ്റവും
എവ്മ് എണ്ണത്തിന് പ്രധാന, കൂടുതൽ സീറ്റുകൾ കാണിച്ചു അധികം “ബിജെപി +”
മുകളിലെ ആത്മവിശ്വാസം പരിധി (അതായത്, സീറ്റുകളുടെ എണ്ണം ഉയർന്ന പരിധി)
അഞ്ച് എക്സിറ്റ് പോൾ നൽകിയ. അഞ്ച് എക്സിറ്റ് ശരാശരി ഫലം
തെരഞ്ഞെടുപ്പ് (വ്യക്തമായ ചിത്രം തരുന്ന) എവ്മ് വേണ്ടി 325 എണ്ണം കാണിക്കുന്ന
സീറ്റുകൾ “ബിജെപി +” ഏത് പരിധി 210 സീറ്റുകൾ അധികം 55% കൂടുതൽ കൊടുത്തു
സീറ്റുകൾ എണ്ണം. ഇത് ആർക്കെങ്കിലും സംശയമുണ്ടെങ്കിൽ വളരെ വലിയ വ്യത്യാസം അപ്പുറം കാണിക്കുന്നു
തെറ്റായ ഉണ്ടായിരുന്ന എവ്മ് എണ്ണം.


ആകസ്മിക വേണ്ടി സീറ്റുകൾ കൃത്യമായ എണ്ണം
പരിധി ഇതിലും അല്പം കൂടുതൽ വേണ്ടി തികഞ്ഞത് “ബിജെപി +” ലഭിച്ച
പോലും സീറ്റ് ഈ എക്സിറ്റ് പോളുകൾ എണ്ണം ഏതെങ്കിലും ഒന്നിന് കുറവ് 5% (അല്ലെങ്കിൽ ആണ്
കുറവ് 1% ആത്മവിശ്വാസം ബിരുദം തിരഞ്ഞെടുത്ത ആശ്രയിച്ചിരിക്കും
പരിധി കണക്കാക്കാൻ നടത്താതെ). പോലും ഒറ്റപ്പെട്ട എക്സിറ്റ് പോൾ വേണ്ടി
“ബിജെപി +”, “ബിജെപി +” സാധ്യത ഏറ്റവും അനുകൂല ആയിരുന്നു ഫലം
സീറ്റ് അധികം അല്പം കൂടുതൽ 297 ലഭിക്കുന്നത് കുറവ് 5% (അല്ലെങ്കിൽ 1%) ആണ്.
വേണ്ടി “ബിജെപി +” അവസരം പരിധി സീറ്റുകൾ അധികം പോലും അല്പം ലഭിക്കുന്നത്
എണ്ണം അഞ്ച് എക്സിറ്റ് പോൾ സീറ്റ് വേണ്ടി (പ്രകാരം പൂജ്യം സമീപമാണ്
പ്രോബബിലിറ്റി ന്യായപ്രമാണത്തിന്നു). കൂടുതൽ വിശ്വസനീയം ശരാശരി കണക്കിലെടുത്ത്
ഫലം, “ബിജെപി +” എന്ന സാധ്യത പരിധി 55% കൂടുതൽ സീറ്റ്
210 സീറ്റുകൾ പൂജ്യം ആണ്. മറ്റു വാക്കുകളിൽ പറഞ്ഞാൽ, പ്രോബബിലിറ്റി ആ
യുപി തെരഞ്ഞെടുപ്പ് 100% അടുത്ത് കുഴപ്പവുമില്ല വേണ്ടി എവ്മ് ഉണ്ടാവുക.

പകരം
ഒറ്റയടിക്കു എക്സിറ്റ് പോൾ അഞ്ച് ശാസ്ത്രീയ ഫലങ്ങൾ എല്ലാ നടപ്പു
തിരഞ്ഞെടുപ്പ് കമ്മീഷൻ (ഇ.സി.) അവരുടെ ശാസ്ത്രീയ അടിസ്ഥാനത്തിൽ മാനിക്കുകയും ചെയ്തു വളരുകയുള്ളൂ.
ഏതെങ്കിലും സ്ഥിരീകരണം ആവശ്യമുണ്ടോ എന്ന്, ഇക്വഡോർ വിദഗ്ധ അഭിപ്രായം അന്വേഷിക്കുന്നു കഴിഞ്ഞില്ല
കൊൽക്കത്ത, ഇന്ത്യൻ സ്റ്റാറ്റിസ്റ്റിക്കൽ ഇൻസ്റ്റിറ്റ്യൂട്ട് (വികസ്വര മുതലേ
വിദ്യകൾ) അല്ലെങ്കിൽ മറ്റേതെങ്കിലും സ്ഥാപനങ്ങൾ സാംപ്ലിങ് അല്ലെങ്കിൽ പ്രൊഫസർമാരെ
ഒരുപറ്റം വിദ്യകൾ ൽ കണക്കുകൾ അനുഭവം. എന്നാൽ, അത് ഇക്വഡോർ തോന്നുന്നു
അങ്ങനെ ചെയ്യാത്ത. അവിശ്വസനീയമായ, ഇക്വഡോർ എന്തെങ്കിലും ഏകാന്തത തന്നില്ല
ശാസ്ത്രീയ ഫലങ്ങൾ നിരസിക്കുന്നതിൽ! വ്യക്തമായും, ഇക്വഡോർ കണ്ടെത്താൻ ആഗ്രഹിച്ചില്ല
ഭരണഘടനാപരമായ ഉത്തരവാദിത്വം സത്യത്തിലും പരാജയപ്പെട്ടു. അഭാവം
പുറമേ സത്യം കണ്ടെത്തുന്നതിനായി പലിശ നിഷ്പക്ഷത ചോദ്യം
ഇക്വഡോർ.

കമ്മീഷൻ അവഗണിച്ചു കാരണം നിഷ്പക്ഷത കൂടുതൽ ചോദ്യം ചെയ്യപ്പെടേണ്ടതുണ്ട്
വ്യക്തമായി താഴെ എന്നാണ് വിവരങ്ങൾ കൈകാര്യം
ഇലക്ട്രോണിക് ക്ലെയിം വ്യക്തമായ സാധ്യത ആവർത്തിച്ച്
തത്ത പോലുള്ള വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ കൃത്രിമം കഴിയില്ല എന്ന്:

1. സൈബർ
കുറ്റകൃത്യങ്ങൾ ഉപയോഗിച്ച് കൂടുതൽ കൂടുതൽ പിഴച്ചവർ സമർഥമായ ആളുകളെ വർദ്ധിച്ചുവരുന്ന ചെയ്തു
, ഹാക്കിങ് വൈറസ് വികസ്വര, ക്രമക്കേട് തുടങ്ങിയവ പ്പതനത്തിനു

2. ഡെക്കാൻ ക്രോണിക്കിൾ അഛൊമ് ദെബനിശ് ൽ “വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ശരിക്കും പങ്ക വ്യക്തം ആണ്” എന്ന ലേഖനം താഴെ പറയുന്നു:

(എ) “ബിബിസി ഒരു ഒരു വീട്ടിൽ ഉണ്ടാക്കാവുന്ന ഉപകരണം ബന്ധിപ്പിക്കുന്ന രേഖപ്പെടുത്തിയിട്ടുണ്ട്
എവ്മ്, യൂണിവേഴ്സിറ്റി മിഷിഗൺ ഗവേഷകർ ഫലങ്ങൾ മാറ്റാൻ സാധിച്ചു
ഒരു മൊബൈൽ ഫോണിൽ നിന്ന് പാഠം സന്ദേശങ്ങൾ അയയ്ക്കുന്നത്. “

(ബി) “ഹരി കൃഷ്ണ
വെമുരു പ്രസാദ്, ഹൈദരാബാദ് ആസ്ഥാനമായുള്ള നെതിംദിഅ പ്രൈവറ്റ് ലിമിറ്റഡ്, ഒരു മാനേജിങ് ഡയറക്ടർ
സാങ്കേതിക പരിഹാരങ്ങൾ കമ്പനിയായ ഒരു എവ്മ് പ്രാദേശിക ടിവിയിൽ എത്ര കാണിച്ചു ചെയ്തു
അംഗീകരിക്കുന്നു. “അത് ഒരു എത്രതന്നെ സഹായിയെയും ബിജെപി ഇത് കണ്ടു ചെയ്തു സാധ്യതയുണ്ട്
ഒപ്പം (EC, ബിജെപി അറിവില്ലാതെ) ഹാക്കിങ് വിജയിച്ചു ഒപ്പം
നിർദ്ദേശങ്ങൾ വളച്ചൊടിച്ച് യുപി തെരഞ്ഞെടുപ്പിൽ എണ്ണുന്നത് നാമനിര്ദേശം ഉപയോഗിച്ചു.

(സി) ശ്രീ വെമുരു പുറമേ എവ്മ് ചിപ്പ് പകരം കഴിഞ്ഞില്ല “അവകാശപ്പെടുന്നു
ലുക്ക് ഒരുപോലെ നിശബ്ദമായി വോട്ട് ഒരു ശതമാനം മോഷ്ടിക്കാൻ നിർദേശം കൂടെ
ഒരു തിരഞ്ഞെടുത്ത സ്ഥാനാർത്ഥി അനുകൂലിച്ച്. “കമ്മീഷൻ ഏതെങ്കിലും സമർഥമായ ആൻഡ് സത്യസന്ധമല്ലാത്ത സ്റ്റാഫ്,
എന്ന നാമനിര്ദേശം ഏക സൂക്ഷിപ്പുകാർ അവൻ / അവൾ കാണണമെങ്കിൽ, ഇതു ചെയ്യാൻ കഴിഞ്ഞില്ല. അത്
അഴിമതി രഹിത സാദ്ധ്യതയുണ്ടോ യാതൊരു തത്വവും സർക്കാർ ഓഫീസ്.

3. “സിന്തറ്റിക് (വിരൽ) പ്രിന്റുകൾ സ്മാർട്ട് ഫോണുകൾ അൺലോക്കുചെയ്യാനാകില്ലെന്നും സമയം 65%.” (ടൈംസ് ഓഫ് ഇന്ത്യ, ൧൬-൦൪-൧൭).

നിയമസഭയിൽ 4. ആം ആദ്മി ഒരു എവ്മ് അതിക്രമങ്ങള്ക്കും എങ്ങനെ വച്ചിരിക്കുന്നതെന്ന്.

5. “മകാഫീ ഒരു പുതിയ റിപ്പോർട്ട് 176 സൈബർ ഭീഷണി ഉണ്ടായിരുന്നു വെളിപ്പെടുത്തുന്നു
ഓരോ മിനിറ്റിലും (അതായത്, ഓരോ ഏതാണ്ട് മൂന്ന് സെക്കൻഡ്) 88 ശതമാനം കണ്ടെത്തി
വളർച്ച ശതമാനവും 99 രംസൊമെവരെ മൊബൈൽ മാൽവെയർ വളർച്ച ഉണ്ടായിരുന്നെങ്കിൽ
എന്ന 2016 “(ദെച്ചന്ഛ്രൊനിച്ലെ, ൧൨.൦൪.൧൭) അവസാനത്തോടെ കണ്ടെത്തി.

ഇക്വഡോർ ചെയ്തു
സൈബർ ഭീഷണി ഓരോ രണ്ടാമത്തെ തന്നെ ഭോഷന്നു തെളിവ് സിസ്റ്റം കരുതിയിരിക്കുക
24/7 ഇത്തരത്തിലുള്ള എല്ലാ ഭീഷണികൾ മറികടക്കാൻ? ഇല്ലെങ്കിൽ, സൈബർ കുറ്റവാളികൾ കഴിഞ്ഞില്ല
എവ്മ് യു.പി തെരഞ്ഞെടുപ്പ് രിതികൾ വ്യാജമായി.

ഇത് തെളിഞ്ഞിട്ടുണ്ട്
ഉപയോഗിച്ച വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഉത്തർപ്രദേശിൽ തിരഞ്ഞെടുപ്പിൽ ഉറപ്പാക്കുന്നതിൽ വിജയിച്ചില്ല എന്ന് കമ്മീഷൻ
(മുഴുവൻ ഏത് സമയത്തും മനിപുലതിഒംസ് എല്ലാ തരം തടുപ്പാൻ
തെരഞ്ഞെടുപ്പ്), വിദഗ്ധരുടെ എല്ലാ തരം തൃപ്തിപ്പെടുത്താൻ കഴിയുന്ന. അത് ഉണ്ടായിരുന്നു പോലും
100% വിജയിച്ചു (സംശയമാണ് ആണ്), ഏതെങ്കിലും സമർഥമായ ആൻഡ് സത്യസന്ധമല്ലാത്ത സ്റ്റാഫ്
അവൻ / അവൾ ആഗ്രഹിച്ചാൽ കമ്മീഷൻ, വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഏക സൂക്ഷിപ്പുകാർ, വ്യാജമായി കഴിഞ്ഞില്ല
വരെ. ഇത് കൈക്കൂലി-നൽകുന്നവരും, ഏഴുവർഷം ഒരു ക്ഷാമവുമില്ല ഇല്ല എന്നു പേരെടുത്തു
രാജ്യത്ത്.

ഇവർ എല്ലാവരും ആ ഇലക്ട്രോണിക് കൃത്രിമത്വം കാണിക്കുന്നത്
ഗാഡ്ജറ്റുകൾ വ്യക്തമായ സാധ്യത. ഈ സർക്കാർ ന്റെ പിന്തുണയ്ക്കുന്നു
സുപ്രീം കോടതി (പട്ടികജാതി) പ്രവേശനം, ആധാർ യോനി ബന്ധപ്പെട്ട്,
യാതൊരു സാങ്കേതിക 100% അത്യുത്തമം. ഇവർ എല്ലാവരും കമ്മീഷൻ ന്റെ അവകാശവാദം ആ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ പരിഹസിക്കുകയും
കൃത്രിമം കഴിയില്ല. എസ് കമ്മീഷൻ എന്ന് അന്വേഷിക്കാൻ രെഫുസല്സ് ആവർത്തിച്ചു
വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ യുപി തിരഞ്ഞെടുപ്പിൽ ഉപയോഗിച്ചു കമ്മീഷൻ വ്യാജമായി പാടില്ല കാണിക്കുന്നത്
നിഷ്പക്ഷമായ.


അത്തരം സാധ്യത എന്നു പേരെടുത്തു
ഇടപെടൽ വഴി കമ്മിഷൻ സ്വീകരിച്ചു മാത്രമല്ല പരോക്ഷമായി ഉപയോഗം ഉണ്ടാക്കിയ
അത് (ആവർത്തിച്ച് താഴെ ഉദാഹരണങ്ങൾ) പ്രകാരം. കമ്മീഷൻ ഒരു പരിചയപ്പെടുത്താൻ വാഗ്ദാനം
പേപ്പർ Trail (വ്വ്പത്) പരിശോധിക്കുന്നതിന് അത് പ്രാപ്തമാക്കും ഏത് 2019 നാമനിര്ദേശം വേണ്ടി
ഏതെങ്കിലും ഇലക്ട്രോണിക് കൃത്രിമത്വം സംഭവിച്ചിട്ടുണ്ടോ എന്ന്. വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഉത്തർപ്രദേശിൽ ഉപയോഗിച്ചിട്ടുണ്ടെങ്കിൽ
തെരഞ്ഞെടുപ്പ് വ്യാജമായി കഴിഞ്ഞില്ല, ഇക്വഡോർ ഈ നീതീകരിച്ചതിൽ കഴിഞ്ഞില്ല
മാറ്റം. പറയട്ടെ, സ്വയം പ്രവേശനം ഈ പരോക്ഷമായ സാധ്യത ഉണ്ടായിട്ടും
കൃത്രിമത്വം, ഇക്വഡോർ ഈ സംഭവിച്ചത് റിപ്പോർട്ട് എന്ന് പരിശോധിച്ചില്ല
യു.പി തെരഞ്ഞെടുപ്പ് വളരെ സംശയാസ്പദമാണെന്ന് തിരികേ വരുമ്പോൾ കൊടുത്തു. പകരം,
കമ്മീഷൻ തത്ത-പോലുള്ള വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ പങ്ക പ്രൂഫ് എന്ന് ന് സൂക്ഷിക്കുന്നു. ഇരട്ട ഈ
കമ്മീഷൻ ഒരു അധികാരം പോലെ ചിന്തിക്കുന്ന പറ്റുകയില്ല ഇല്ല.

മാത്രമല്ല, അത് തോന്നുന്നു
കമ്മീഷൻ (ഏത് ഓഫ് ഒരു നീണ്ട വഴി) ആ 2019 അതിന്റെ ഏകദേശം ആണ്
പ്രധാനമായും എവ്മ് ഉത്തർപ്രദേശ് വളരെ സംശയാസ്പദമാണെന്ന് എണ്ണം നിന്ന് ശ്രദ്ധ തിരിച്ചുവിടാനായി
തെരഞ്ഞെടുപ്പ് കൈ സുപ്രധാന പ്രശ്നം ഏത് ആണ്.

കമ്മീഷൻ എഴുതി
നിയമമന്ത്രി വ്വ്പത് വിന്യസിക്കാനുള്ള യന്ത്രങ്ങൾ ഉറപ്പാക്കുക ആവശ്യമാണ്
“സൂക്ഷിക്കും ന്റെ ൽ വോട്ട് വോട്ടർ ആത്മവിശ്വാസം സമഗ്രത വിലക്കുണ്ടോ
പ്രക്രിയ “രൂപ അംദ്സൊഉഘ്ത് അനുമതി ബലപ്പെടുന്നത്. വേണ്ടി 3.174 കോടി
പുതിയ മെഷീനുകൾ (ടൈംസ് ഓഫ് ഇന്ത്യ, ൧൭.൦൪.൧൭) സംഭരിക്കുക. വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഉപയോഗിച്ചിട്ടുണ്ടെങ്കിൽ
യു.പി തെരഞ്ഞെടുപ്പ് വോട്ടെടുപ്പു സമഗ്രത സൂക്ഷിക്കും ചെയ്തു, ഇക്വഡോർ ഇല്ല കഴിഞ്ഞില്ല
ഫണ്ട് ഈ വലിയ ആവശ്യം നീതീകരിക്കപ്പെടുന്നു. ഈ മറ്റൊരു പരോക്ഷ തന്നെയല്ലേ
വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഉപയോഗിച്ച പ്രവേശനം യുപി അതിക്രമങ്ങള്ക്കും തെളിവ് തെരഞ്ഞെടുപ്പ് ചെയ്തില്ല?

കമ്മീഷൻ ഈ പുതിയ മെഷീനുകൾ ഒരു സ്വയം ഡയഗണോസ്റ്റിക് അടങ്ങിയിരിക്കുന്നു പറയുന്നു
മെഷീനുകൾ സത്യസന്ധത ആധികാരികത സിസ്റ്റം. അത് ഇല്ല
പഴയ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ സത്യസന്ധത യുപിയിൽ തിരഞ്ഞെടുപ്പിൽ ഉപയോഗിക്കാൻ കഴിഞ്ഞില്ല എന്ന് അനുമാനമുണ്ട്
പ്രമാണീകരിച്ച? ഈ ഉപതെരഞ്ഞെടുപ്പു ഈ ഉപയോഗിച്ചുമാണ് എന്ന് അർത്ഥമില്ല
വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ കേടുവരുത്തണമെന്ന് യുപി തിരഞ്ഞെടുപ്പിൽ വൻ തുക ചെലവഴിക്കുക ന്യായീകരിക്കാൻ ഉപയോഗിച്ച്
പുതിയ മെഷീനുകൾ ന്?

“കമ്മീഷൻ അടുത്ത തലമുറ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ വാങ്ങാൻ സജ്ജമാക്കുമ്പോൾ
വേണ്ടി “നിമിഷം ശ്രമങ്ങൾ അത് അറ്റകുറ്റപ്പണികൾ ചെയ്യാൻ പരാജപ്പെടുകയും വരുത്തുമ്പോൾ ‘ആകാൻ
(ടൈംസ് ഓഫ് ഇന്ത്യ, ൦൩.൦൪.൧൭) 2019 ൽ ഉപയോഗിക്കുക. ഈ പതിവില്ലാത്തവിധം ആദ്യകാല സംവാദം
ഭാവിയിൽ ഏറ്റവും നിന്ന് ശ്രദ്ധ തിരിച്ചുവിടാനായി മറ്റൊരു ശ്രമമാണ്
കയ്യിൽ പ്രധാനപ്പെട്ട ചോദ്യം വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ യുപി തിരഞ്ഞെടുപ്പിൽ ഉപയോഗിച്ചിരുന്നു എന്ന്
കൃത്രിമം.

“വോട്ടെടുപ്പ് സമഗ്രത വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഉപയോഗിക്കുന്ന ചെയ്യും
ഒരു “എല്ലാ പങ്കാളികൾക്ക് പൂർണ്ണമായ സംതൃപ്തി എന്നു എല്ലാവിധത്തിലും കാണിച്ചിരിക്കുന്നു
കമ്മീഷൻ (ടൈംസ് ഓഫ് ഇന്ത്യ, ൦൨.൦൪.൧൭) എന്ന ടീം. ഇത് മറ്റൊരു ഉദാഹരണമാണ്
ഭാവിയിൽ അബൊഉഠെ തെറ്റായ സംസാരം ശ്രദ്ധ തിരിച്ചുവിടാനായി കമ്മീഷൻ
എവ്മ് എണ്ണത്തിന് തിരഞ്ഞെടുപ്പിൽ ഉത്തർപ്രദേശ്.

കമ്മീഷൻ രാഷ്ട്രീയ ഒരു വെല്ലുവിളി ഇട്ടു
പാർട്ടികൾ, ശാസ്ത്രജ്ഞർ സാങ്കേതിക വിദഗ്ധർ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ എന്നു തെളിയിക്കാൻ കഴിഞ്ഞില്ല
ഇപ്പോൾ കൃത്രിമം. (ടൈംസ് ഓഫ് ഇന്ത്യ, ൧൩.൦൪.൧൭). ഈ മറ്റൊരു ആണ്
തെറ്റായ എവ്മ് യുപിയിൽ നിന്ന് ശ്രദ്ധ ദിവെര്തിന്ഗ് ഉദാഹരണം എണ്ണത്തിന്
തെരഞ്ഞെടുപ്പ്. മാത്രമല്ല, ഈ വൈകിയാണെങ്കിലും വെല്ലുവിളി, കാസ്റ്റിംഗ് പല ആഴ്ച ശേഷം
സംശയങ്ങൾ, പ്രധാനപ്പെട്ട ചോദ്യം ഉയർത്തുന്നു കമ്മീഷൻ ഇപ്പോൾ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ചെയ്തിരിക്കുന്നു എന്ന്
കസ്റ്റഡിയിൽ ഉണ്ടായിരുന്ന യുപി, ഉപയോഗിക്കുന്ന, “പരാജപ്പെടുകയും” നിമിഷം ശ്രമങ്ങൾ
വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ അടുത്ത തലമുറ ഒരു ഗുണമേന്മയുള്ള - അത് അറ്റകുറ്റപ്പണികൾ ചെയ്തു.
അങ്ങനെയെങ്കിൽ, അവിടെ ഉപയോഗിച്ചിരുന്ന പഴയ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ, കൂടാതെ ഈ ഗുണമേന്മയുള്ള ഉണ്ട്
തിരഞ്ഞെടുപ്പിൽ ഉത്തർപ്രദേശ്? കമ്മീഷൻ വഞ്ചനാപരമായ വന്നിട്ടുണ്ടോ ഈ ചോദ്യം രണ്ട്.

2013-ൽ, പട്ടികജാതി ഘട്ടം ഘട്ടമായി വ്വ്പത് അവതരിപ്പിക്കാൻ കമ്മീഷൻ നിർദേശം.
ചിദംബരം ഈ വിധിയുടെ വിശദാംശങ്ങൾ പരാമർശിച്ചിരിക്കുന്ന “ഒരു പറഞ്ഞു
വിദഗ്ദരുടെ ടീം ഒരു സമഗ്രമായ റിപ്പോർട്ട് ഫയൽ ചെയ്തുവെന്ന് പറഞ്ഞു
വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഹാർഡ്വെയർ അതുപോലെ സോഫ്റ്റ്വെയർ ഉപയോഗിക്കുന്നു ദുർബല കൂടാതെ പ്രേരിപ്പിക്കുന്നത്
“കൃത്രിമം. അവൻ കമ്മീഷൻ മെഷീൻ പോലും സമ്മതിച്ചു പറഞ്ഞു
തിലകം പേപ്പർ ട്രെയിൽ “(ടൈംസ് ഓഫ് ഇന്ത്യ പരിചയപ്പെടുത്താൻ സമ്മതിച്ചു,
൦൩൦൪൧൭). ഈ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഉത്തർപ്രദേശിൽ പേപ്പർ ട്രയൽ കൂടാതെ ഉപയോഗിച്ചതിനാൽ
തിരഞ്ഞെടുപ്പിൽ (ഏതാനും സീറ്റുകൾ ഒഴികെ), ഇക്വഡോർ അവർ ഉണ്ടായിരുന്ന അറിയാമായിരുന്നു
ശൂറാ. ഈ അവബോധം ഉണ്ടായിരുന്നിട്ടും, ഇക്വഡോർ ആവർത്തിച്ച് ആ നാമനിര്ദേശം അവകാശപ്പെട്ടു
കൃത്രിമം കഴിഞ്ഞില്ല. ഈ സമഗ്രത ഇരട്ട സ്പീക്ക് ചോദ്യം
ഇ.സി. ആൻഡ് നിഷ്പക്ഷത എന്ന.

ഇവർ എല്ലാവരും ആത്മാർഥത അഭാവം സൂചിപ്പിക്കുന്നു, ഒപ്പം
പ്രതിബദ്ധത ലെ തിരഞ്ഞെടുപ്പ് ഫലങ്ങൾ കൃത്യത ഉറപ്പുവരുത്താൻ കമ്മീഷൻ. ഇത്
കമ്മീഷൻ എവ്മ് യു.പി എണ്ണം കൃത്യത പരിശോധിക്കാൻ ങ്ങൾ നിഷേധിച്ചതിനെത്തുടർന്ന് സ്ഥിരീകരിച്ച
പ്രോബബിലിറ്റി വകവയ്ക്കാതെ യു.പി തെരഞ്ഞെടുപ്പ് എവ്മ് എണ്ണത്തിന് തെരഞ്ഞെടുപ്പ് എന്ന്
100% അടുത്ത് (മുകളിൽ കാണുക) ഇ.സി. അവബോധം തെറ്റായിരുന്നു ആണ്
വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ കൈകാര്യം സാധ്യത (പാരഗ്രാഫ് തൊട്ടുമുൻപത്തെ). കൂടാതെ ഈ
EC യുടെ നിഷ്പക്ഷത ചോദ്യം.

മയവഥി, കെജ്രിവാളും യെച്ചൂരി
ഈ ചോദ്യം ചെയ്തു. കൂടുതൽ ആളുകളെ ആയിരിക്കാം കൂടെ സംശയം ഉണ്ട്
ഒരുപക്ഷേ, പറയാതെ ചെയ്യുന്ന (അഞ്ച് നടത്താതെ ഉൾപ്പെടെ)
വിരുദ്ധ-പൗരന്മാരെ എന്ന് ലേബൽ എന്ന ഭയം. കമ്മീഷൻ അതിന്റെ അനുഷ്ഠിക്കുന്ന അല്ല
ഏറ്റവും പ്രധാനപ്പെട്ട ചോദ്യം കൃത്യത അവരുടെ സംശയം ക്ലിയർ ഡ്യൂട്ടി
എന്നാൽ തുടർച്ചയായി യുപി പറയുന്നതിലൂടെ അതിൽ നിന്ന് ശ്രദ്ധ ദിവെര്തിന്ഗ് എന്ന എണ്ണം
അതിന്റെ ഭാവി പദ്ധതികളെപ്പറ്റി.


കൃത്യത അഭാവം പോലും നാലു വർഷം നിലനിൽക്കുകയാണെങ്കിൽ
പട്ടികജാതി തൂക്ക് കൂടുതൽ കൃത്യമായ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ന് എങ്കിലും ശേഷം വിന്യസിച്ചു കഴിഞ്ഞു
വൻതോതിൽ. എന്താണ് മോശമായ ആണ് ഗുട്ടന്സ് ആണ് ആ കമ്മീഷൻ ഉപയോഗിക്കാൻ ഒരുങ്ങുന്നു
ഈ “കൂടുതൽ കൃത്യതയുള്ള” മെഷീൻ ആയിരിക്കും എങ്കിലും 2019 മാത്രം വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ,
ഇന്ത്യ ഭാരത് ഇലക്ട്രോണിക്സ് ആൻഡ് ഇലക്ട്രോണിക്സ് കോർപ്പറേഷൻ നിർമ്മിക്കുന്ന
(ടൈംസ് ഓഫ് ഇന്ത്യ, ൦൨.൦൪.൧൭). ഇടകൊടുക്കേണ്ടതാണ് എന്തുകൊണ്ട് ഈ പകരം
ചില സംസ്ഥാനങ്ങളിൽ കാരണം തെരഞ്ഞെടുപ്പ് അത് ഏത് സമയത്ത് കൃത്യമായ ഉറപ്പാക്കേണ്ടത്
അടുത്ത രണ്ടു വർഷം കാലാവധി? ഫണ്ടിലേയ്ക്ക് EC യുടെ നിഷ്പക്ഷത സംശയം
ചോദ്യത്തിലെ ഈ മാറ്റങ്ങൾ അതിന്റെ കണ്ണുകൾ അടയ്ക്കും എന്ന്
2019 ലെ പൊതു തെരഞ്ഞെടുപ്പിൽ കൂടെ, ചില പാർട്ടികൾ തെരഞ്ഞെടുപ്പ് സഹായിക്കും
മനസ്സ്.

ബഫ്ഫ്ലിന്ഗ് പ്രവർത്തനങ്ങൾ (അല്ലെങ്കിൽ കമ്മീഷൻ ഉദാസീനതയും) ഉപയോഗിച്ച് അവസാനിപ്പിക്കരുത്
ഈ. പുതിയ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ “സാങ്കേതികമായി വോട്ട് ഒരു മാനുവൽ വർദ്ധിച്ചുകൊണ്ടിരിക്കുന്നു അനുവദിക്കുക”. പോലും
പ്രസിദ്ധീകരിച്ച ഫലങ്ങൾ അസത്യമായി സംബന്ധിച്ച പരാതികൾ പ്രവേശിക്കുന്നതിന് മുമ്പ്
കമ്മീഷൻ മാനുവൽ വർദ്ധിച്ചുകൊണ്ടിരിക്കുന്നു നിന്ന് ഉത്തരവാദിത്തമുള്ള താരതമ്യം ഫലങ്ങൾ വേണം
പുതിയ വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഉത്തർപ്രദേശിൽ 30 സീറ്റുകളിലേക്ക് ഉപയോഗിച്ച എണ്ണം കൊണ്ട് എവ്മ്
കൃത്യത പരിശോധിക്കാൻ. വോട്ടിംഗ് എണ്ണം കാണിച്ച മാതൃക എവ്മ് ഭിന്നിച്ചു എങ്കിൽ
30 സീറ്റുകൾ മാനുവൽ വർദ്ധിച്ചുകൊണ്ടിരിക്കുന്നു നിന്ന് ആ, സാധ്യത നിന്ന്
കൃത്രിമത്വം സ്ഥിരീകരിച്ചു. എന്നാൽ കമ്മീഷൻ വൈകുന്നേരം, ഈ പരിശോധനകൾ കൊണ്ടുപോകും ചെയ്തില്ല
പരാതികൾ ലഭിച്ചതിനുശേഷം. എന്തുകൊണ്ട്? ഇത് ഒരു നിഷ്പക്ഷത ചോദ്യം
ഇക്വഡോർ.

നേരത്തെ ഉയർത്തി ചോദ്യത്തിന് ബോധ്യപ്പെടുത്തുന്ന ഉത്തരങ്ങൾ നൽകാൻ കമ്മീഷൻ.

“ഡൽഹി മുഖ്യമന്ത്രി അരവിന്ദ് കെജ്രിവാൾ രണ്ടു കണ്ടെത്തുന്നു പറഞ്ഞു
മൂന്നു കമ്മീഷണർമാരായ അവൻ അവകാശപ്പെടുന്നു എന്താണ് അനുയോജ്യം ചെയ്യുന്നു
പ്രധാനമന്ത്രി നരേന്ദ്ര മോഡി എംപി അവരെ ഒന്നിന്റെ അന്യന്റെ അടുപ്പം
മുഖ്യമന്ത്രി ശിവരാജ് സിങ് ചൗഹാൻ “(ടൈംസ് ഓഫ് ഇന്ത്യ, ൧൯.൦൪.൧൭).
ഈ ആരോപണം സംശയം കാരണം അന്വേഷണം ആവശ്യമാണ്
കമ്മീഷൻ നേരത്തെ തവണ നിഷ്പക്ഷത ഒരു എണ്ണം ജനിച്ചുവളർന്ന
ഖണ്ഡികകൾ. അത്തരം ഒരു അന്വേഷണം വിവിധ പോയിന്റ് മറവു ചെയ്യേണ്ടത്
നേരത്തെ ഉയർത്തി. ഈ സിബിഐ അന്വേഷണം വേണം ചെയ്തിട്ടില്ല ഏത്
സർക്കാർ പട്ടികജാതി ഒരു കേജഡ് തത്ത എന്ന് ലേബൽ. മറ്റൊരു കാരണം
വിശ്വാസ്യതയുടെ സിബിഐ ന്റെ അഭാവം രണ്ട് സിബിഐ മുൻ ഡയറക്ടർ ആണ് “എന്നാണ്
അഴിമതി, കള്ളപ്പണം വിചാരണ നേരിടുന്ന പ്രക്രിയയിൽ വയ്ക്കുന്നു,
ഒപ്പം ഗുരുതരമായ സുപ്രീം കോടതി-ജപ്പാന്റെ പേടകങ്ങൾ “(ഡെക്കാൻ ക്രോണിക്കിൾ, തയാറുണ്ടോയെന്നു
൨൮൦൪൧൭).

കമ്മീഷൻ “വീണ്ടെടുക്കാൻ നിന്നും ഫലങ്ങൾ വിശകലനം അവകാശപ്പെടുന്നു
ഗോവ 40 മണ്ഡലങ്ങളിലും എല്ലാ 33 സീറ്റുകൾ ഉപയോഗിക്കും വ്വ്പത്സ് ആൻഡ്
പഞ്ചാബ് വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ പേപ്പർ ഇല്ലാതെ ചെറിയ മാറ്റങ്ങൾ ഫലങ്ങൾ കാണിക്കുന്നു പുറത്തു
നടപ്പാത “(ഇന്ത്യ, 18.4.17 ടൈംസ്).

ഏറ്റവും പ്രധാനമായി, അത്
കമ്മീഷൻ ഫലങ്ങൾ വ്വ്പത്സ് വീണ്ടെടുക്കാന് അസ്വാഭാവികതയൊന്നും നൽകാത്തതിനാൽ
യുപി ഉൾപ്പെടെ കാരണം സംസ്ഥാനങ്ങളിൽ മറ്റ് അവശ്യ ഉപയോഗിച്ചിരുന്ന ഏത്
എവ്മ് വളരെ സംശയാസ്പദമാണെന്ന് ഉണ്ടായിരുന്നു ഉണ്ടാവുക. കമ്മീഷൻ ഈ ഉണ്ടാക്കി ആയിരിക്കണം
വിശകലനത്തിനായി ഈ സംസ്ഥാനങ്ങളിൽ. അങ്ങനെയെങ്കിൽ, എന്തുകൊണ്ട് കമ്മീഷൻ ഫലങ്ങൾ കൈവശം വെച്ച് ചെയ്തു?
അത് ചെയ്തു എങ്കിൽ എന്തുകൊണ്ട്, വിശകലനം അല്ല?

ഈ ഫലങ്ങൾ വിത്ത്ഹോൾഡിംഗ് പുറമേ
EC യുടെ നിഷ്പക്ഷത ചോദ്യം. ഈ ഉടനെ പ്രസിദ്ധീകരിക്കും വേണം.
കമ്മീഷൻ ഫലങ്ങൾ ഈ യുപി സീറ്റുകൾ ഇപ്പോൾ ഷോകൾ (ട്രയൽ വ്വ്പത് ആണോയെന്ന് എങ്കിൽ
ആ എണ്ണിനോക്കിക്കൊണ്ടിരിക്കുകയും തെളിയിക്കാൻ ഈ എവ്മ് നിന്ന് ഭിന്നിച്ചത് ഏത്, ലഭ്യമായ)
പരിശോധിക്കുന്നതിലൂടെ സ്വതന്ത്ര അനുവദിക്കുന്നു പക്ഷം കമ്മീഷൻ വിശ്വാസ്യത ഇല്ല
വിദഗ്ധർ.

മിക്കവാറും, ഇക്വഡോർ ഈ കാരണം ഈ ഫലങ്ങൾ മറയ്ക്കാൻ ആഗ്രഹിച്ചു
യുപിയിലെ ഏറ്റവും കണക്കാക്കുന്നു എവ്മ് ഈ സീറ്റുകൾ തെറ്റായ തെളിയിച്ച ഉണ്ടായതും
യുപിയിലെ ഏറ്റവും സീറ്റുകളിൽ ഇതായിരുന്നു, വോട്ടിംഗ് പാറ്റേൺ കാണിച്ചിരിക്കുന്ന സ്ഥിരീകരിച്ചു
ശാസ്ത്രീയ എക്സിറ്റ് പോൾ പ്രകാരം.

മുകളിൽ മറയില്ലാതെ ഷോകൾ
ആ (1) എവ്മ് യു.പി തെരഞ്ഞെടുപ്പ് എണ്ണം പ്രോബബിലിറ്റി തെറ്റായിരുന്നു
ക്ലോസ് 100 ഗ്രാം% ഇന്നത്തെ ഉത്തർപ്രദേശ് ഭരണകൂടവും ഭരണഘടനയും അടിസ്ഥാനമാക്കിയുള്ളതാണ്
ഈ തെറ്റായ എണ്ണം, യാതൊരു പറയുന്നുണ്ട് (2) കമ്മീഷൻ ആവർത്തിച്ച് ഇഷ്യൂ ചെയ്തു
തിരിച്ചുവിടാനായി ഭാവിയിൽ വോട്ട് ശരിയായ വർദ്ധിച്ചുകൊണ്ടിരിക്കുന്നു ഉറപ്പാക്കുന്നതിനുള്ള കുറിച്ച് പ്രസ്താവനകൾ
യു.പി തെരഞ്ഞെടുപ്പ് അസാധുവായ ഫലങ്ങളിൽ നിന്ന് ശ്രദ്ധ, (3) എന്ന നിഷ്പക്ഷത
കമ്മീഷൻ കാരണം എണ്ണം സൂചിപ്പിച്ച സംശയങ്ങളുണ്ട് അന്വേഷണം ആവശ്യമാണ്
നേരത്തെ ഖണ്ഡികകൾ (4) സാഹചര്യം സമഗ്രമായി ആവശ്യപ്പെട്ടു
എല്ലാ ആക്കുന്ന ഒരു സ്വതന്ത്ര ഏജൻസി (അല്ല സിബിഐ) പ്രകാരം അന്വേഷണത്തിനും
പരിഹാര നടപടികൾ ശുപാർശ.

ഇത്തരം ഒരു അന്വേഷണം മാത്രം സത്യമെവ ജയതേ ( “സത്യം മാത്രം വിജയം), ഞങ്ങളുടെ വളരെ ബഹുമാന്യരാണ് മുദ്രാവാക്യം ഉറപ്പാക്കാൻ കഴിയും.

അല്ലെ, ഒരു വരെ ഇസ്രിദിചുലൊഉസ് അവിശ്വാസം എന്നാൽ ഫലം
എക്സിറ്റ് പോളുകളും ആശ്രയം വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ആകാം അഞ്ചു ശാസ്ത്രീയ കൃത്യത
പല വിദഗ്ധരും സർക്കാർ ങ്ങൾ അനുസരിച്ച് വ്യാജമായി കരാര് ഏത്
യാതൊരു സാങ്കേതിക 100% തികഞ്ഞ കാണുക. അത് ആ (1) ഞെട്ടിപ്പിക്കുന്നതാണ്
അകലെ എക്സിറ്റ് പോൾ നിന്നും ശ്രദ്ധ ദിവെര്തിന്ഗ് ശാസ്ത്രീയ സ്വീകരിക്കുന്നതിൽ
ഉത്തർപ്രദേശ് തെറ്റായ എവ്മ് യുപിയിൽ എണ്ണം ഒരു ഇല്ലാതെ കാരണമായി
യാതൊരു സാധുത ഉണ്ട് (2) ഈ പ്രശ്നം കഴിഞ്ഞിട്ടില്ല സർക്കാരിൻറെ
പോലും ഭരണഘടനാ വിദഗ്ധരും അധികൃതർ ചോദ്യം.



ഉണ്ട് ഒരു സർക്കാർ ഇല്ലാതെ ഞെട്ടിക്കുന്ന സാഹചര്യം നീക്കം വേണ്ടി
സാധുത യാതൊരു ഭരണഘടന അതിന്റെ ഉത്തരവാദിത്വം നിറവേറ്റാൻ, ഇക്വഡോർ
(1) ഉടനെ വളരെ സംശയാസ്പദമാണെന്ന് എവ്മ് ഉള്പ്പെട്ടിരിക്കുന്നത് പ്രഖ്യാപിക്കാൻ ഉണ്ട്
അസാധുവായ അത് “ബിജെപി +” ഒരു ഉയർന്ന പരിധി 55% കൂടുതൽ സീറ്റുകൾ നൽകി കാരണം
സീറ്റുകളുടെ എണ്ണം അഞ്ച് ശാസ്ത്രീയ ഫലങ്ങൾ ശരാശരി പ്രകാരം
ക്രിമിനൽ ഉത്തരവ് വോട്ടിംഗ് യന്ത്രത്തിൽ ഒരു വർണ്ണിക്കും നീക്കം ശേഷം പോളുകളും എക്സിറ്റ് (2)
മനിപുലതിഒംസ്, വിദഗ്ദ്ധരും ഇവയ്ക്കായി പ്രകാരം ഒഴിഞ്ഞുമാറി. ഈ എങ്കിൽ
ശേഷം, ഒരു ചെറിയ കാലയളവിനുള്ളിൽ വീണ്ടും വോട്ടെടുപ്പ് കമ്മീഷൻ ഓർഡർ ചെയ്തു, സാധ്യമല്ല
രാഷ്ട്രപതി ഭരണം ശുപാർശ. അല്ലെങ്കിൽ, ഒരു തുടരാൻ വരും
അസാധുവായ സർക്കാർ - നമ്മുടെ ഭരണഘടന ഒരു കറ.

ഒരു അജ്ഞാത
കരുതുന്നുണ്ട് മുദ്രാവാക്യം സത്യമെവ ജയതേ ഭയങ്ങളും ബഹുമാനിക്കുന്ന ആർ പൗരൻ
യാതൊരു കാരണവും ഭീഷണിപ്പെടുത്താനോ അല്ലെങ്കിൽ കൊല്ലാൻ ഏത് തൊങ്ങൽ ഘടകങ്ങൾ.

ന്യായാധിപന്മാർ സുപ്രീം കോടതിയിലേയ്ക്ക് ഒരു അപ്പീൽ ഹൊന്ബെ

ഞെട്ടിക്കുന്ന / ഭരണഘടനാ സാഹചര്യങ്ങൾ എന്ന് ഹൃദ്യമായി പരിഗണിക്കുക
ഈ ലേഖനത്തിൽ വിവരിച്ചിരിക്കുന്നത് വേി ഏറ്റെടുക്കുന്നതും മതി ഗ്രൗണ്ടുകൾ ആകുന്നു
നായി:

(1) ഉണ്ട് ഇന്നത്തെ യു.പി സർക്കാർ ഡിസ്മിസ്
ഭരണഘടന, വളരെ സംശയാസ്പദമാണെന്ന് ആധാരമാക്കിയാവരുത് കീഴിൽ യാതൊരു സാധുത
എവ്മ് ഉണ്ടാവുക. ഒരു സൈബർ ക്രിമിനൽ ചെയ്യും എങ്കിൽ അത് അപഹാസ്യത്തിനും അനുവദിക്കപ്പെടുകയുള്ളൂ
ഭരണഘടനയുടെ പരിഹാസ്യമാക്കിത്തീർക്കുകയും.

(2) ഒരു പ്രത്യേക സജ്ജീകരിക്കുന്നു
തിരഞ്ഞെടുപ്പ് കമ്മീഷൻ അന്വേഷണ സംഘം വേണ്ടയോ അന്വേഷിക്കാൻ പരാജയപ്പെട്ടു
യുപി തെരഞ്ഞെടുപ്പ് ഫലം സംബന്ധിച്ച നിഷ്പക്ഷമായ എന്നു.

മാധ്യമപ്രവർത്തകരുടെ ശ്രദ്ധ വേണ്ടി

ഡൽഹി ആവാസവ്യവസ്ഥ കേന്ദ്രത്തിൽ ഒരു സമീപകാല പാനൽ ചർച്ച, പങ്കെടുത്ത സമയത്ത്
കാഴ്ച ഇന്ത്യ പാളിച്ച ആ മീഡിയ രംഗം പ്രകടിപ്പിച്ചു
നിമിത്തം വിമർശിക്കുന്നത് പത്രപ്രവർത്തകർ ഇടയിൽ ഭയം
സർക്കാർ. പത്രപ്രവർത്തകർ അങ്ങനെ ഭയപ്പെടുന്ന പക്ഷം, അവർ മാറും
അപ്രസക്തമാണ്. ഏക പരിഹാരം അവർ പത്രപ്രവർത്തകർ ഭയപ്പെടേണ്ടത് നിർദ്ദേശിച്ചത്
സർക്കാരുകളുടെ അഭികാമ്യമല്ലാത്ത നയങ്ങളും പ്രവർത്തനങ്ങളും നേരെ എഴുന്നേറ്റു.
ഈ ആവശ്യം അടുത്തിടെ ഇന്ത്യൻ പ്രസിഡന്റായിരുന്ന ഊന്നൽ നൽകിയത്. അവന്
അത് ചോദിക്കില്ല അമർത്തുക അതിന്റെ ബാധ്യത പരാജയപ്പെട്ടു പറഞ്ഞു
അധികാരത്തിൽ ആ ചോദ്യങ്ങൾ (ടൈംസ് ഓഫ് ഇന്ത്യ, ൨൬.൦൫.൧൭).


ഇന്നത്തെ പശ്ചാത്തലത്തിൽ, അത് ചോദ്യം ഓരോ പത്രപ്രവർത്തകൻ കടമയാണ്
അഞ്ചു ഫലങ്ങൾ അവഗണിക്കുന്ന അതിന്റെ ഉത്തരവാദിത്വങ്ങൾ പരാജയമായിരുന്നു കമ്മീഷൻ
എക്സിറ്റ് പോളുകൾ ശാസ്ത്രീയമായ ന്യായം കൂടാതെ കൊടുക്കുന്നതും ഉപയോഗിച്ച്
എവ്മ് അസാധുവായ എണ്ണം ഭരണഘടന പിന്തുണയ്ക്കാൻ വളരെ ചോദ്യം
സർക്കാർ നേടിയ, ഒരു ഞെട്ടിക്കുന്ന സാഹചര്യം ഓൺ കറ കാരണമാകുന്നു
ഇന്ത്യൻ ഭരണഘടന.

സഹായിക്കാൻ ഭയം കാലാവസ്ഥ നീക്കം,
വിരമിച്ച പത്രപ്രവർത്തകർ അനുഭവം ധാരാളം ബുക്ക്ലെറ്റ് പ്രസിദ്ധീകരിക്കാൻ വേണം
പത്രപ്രവർത്തകർ ഭയന്ന് ഏത് കാരണങ്ങൾ വിശദീകരിക്കാൻ അവരുടെ കാഴ്ചകൾ പ്രകടിപ്പിക്കാൻ
നെഗറ്റീവ് റോൾ സ്വതന്ത്രമായി നോൺ പ്രൊഫഷണൽ-അവരുടെ മാസ്റ്റേഴ്സ് കളിക്കുന്നു.
പ്രസിദ്ധീകരിക്കുന്നത് പത്രങ്ങൾ ജേണലുകളും വേണ്ടി ബുക്ക്ലെറ്റ് കാരണം ആവശ്യം ഇല്ല
ഇത്തരം കാഴ്ചകൾ പ്രസിദ്ധീകരിക്കാൻ കാരണം ഭയം.

എന്നാൽ ഒരു വീണവരിൽ
കേന്ദ്ര സംസ്ഥാന സർക്കാർ ധീരമായി രണ്ടും വിമർശനം
സൊഒര്യകുമര് ടിവി മാധ്യമ തുടങ്ങിയ മറ്റ് പല വിനു ജോൺ, സിന്ധു
എല്ലാ പ്രത്യാശ നൽകുന്ന കേരളത്തിലെ പത്രങ്ങളിലും അല്ല. മാത്രമല്ല,
ഈ പ്രവർത്തനങ്ങളുടെ പ്രൊഫഷണലുകളെ അവരുടെ ജോലി ചെയ്യുന്നത് പോലെ പ്രകടിപ്പിക്കാം
സർക്കാരുകൾ മറയ്ക്കാനായി, പത്രപ്രവർത്തകർ അവർ ലഭിക്കില്ല കാരണം ഭയം ആവശ്യമാണ്
ഒരു വ്യത്യസ്തമായി മുഴുവൻ തൊഴിൽ പൊതുജനം നിറഞ്ഞ പിന്തുണ,
സാധാരണ മനുഷ്യൻ.

(ശിവരാമ ഭാരതി നിന്നും സ്വീകരിച്ചു - srbharathi18@yahoo.in)

ഞങ്ങൾ ഈ റിപ്പോർട്ട് / ലേഖനം സംശയിച്ചു. മില്ലി ഗസറ്റ് ഒരു സൌജന്യമാണ്
സ്വതന്ത്ര വായനക്കാർക്ക്-പിന്തുണയ്ക്കുന്ന മാധ്യമ സംഘടന. ദയവായി, അത് പിന്തുണ
ഉദാരമായി സംഭാവന. ഇവിടെ ക്ലിക്ക് അല്ലെങ്കിൽ സലെസ്മില്ലിഗജെത്തെചൊമ് എന്നതിൽ ഞങ്ങൾക്ക് ഇമെയിൽ

നിഷ്പക്ഷമായ അന്വേഷണം ആവശ്യം: ഉത്തർപ്രദേശിലെ സംശയാസ്പദമാണെന്ന് സാധുത ഒരു സർക്കാർ പ്രശ്നമുണ്ട്

ഇപ്പോഴത്തെ സാഹചര്യത്തിൽ, അത് ഏത് കമ്മീഷൻ അതിന്റെ ഉത്തരവാദിത്വങ്ങൾ പരാജയപ്പെട്ടു ഓരോ പത്രപ്രവർത്തകൻ ചോദ്യം ബാധ്യതയാണ് …

milligazette.com



Classical Tamil

மூன்றாண்டு_Murderer of democatic institutions (Modi)_சாதனைகள்



பா.ஜ.க நண்பர்கள் .. பா.ஜ.க மூன்றாண்டு ஆட்சி நிறைவு பற்றி எதுவும்
பாராட்டி எழுத முடியாமல் அவர்கள் தவிக்கும் தவிப்பு பார்க்க சிரிப்பாக
உள்ளது..

தூய்மை இந்தியா, மேக் இன் இந்தியா, டிஜிட்டல் இந்தியா
& ஸ்மார்ட் சிட்டி லாம் அவங்களுக்கு கூட நியாபகம் வரவில்லை, எதுனா
செய்ஞ்சு இருந்தா தானே நியாபகம் வரும்.. எல்லாம் பேரு வச்சதோட சரி,
அதுக்கப்புறம் ஒன்னும் நடக்கல.. அவர்கள் எழுத்தாட்டி என்ன நமக்கு எழுத ஆசை,
கீழ்காணும் அத்தனையும் பற்றி விரிவாக எழுத ஆசை. ஆனால் திட்டமிட்டு நேரம்
ஒதுக்க வேண்டும்.

-பெட்ரோல் / டீசல் வரி 200% உயர்வு
-மருந்து பொருள் விலை உயர்வு
-ரயில் கட்டண விலை உயர்வு
-கேஸ் விலை உயர்வு
-புதிய வரிகள்
-பெரு முதலாளிகளின் வாராக்கடன்
-வெளிநாட்டு கருப்பு பண முதலீட்டாளர்கள் பெயர் வெளியிட மறுத்தல்
-ரூ.500/1000 தடை மற்றும் வேலை இழப்புகள்
-ரூபாயின் மதிப்பு
- மோடி வெளிநாட்டு பயணங்கள்
- வெளியுறவு கொள்கை
- ராணுவ வீரர் ஓய்வூதிய திட்ட தாமதம்
- உதய் மின்திட்டம்
- தமிழ்நாடு வறட்சி நிவாரணம்
- தபால் திறை வழியாக கங்கை நீர் விநியோகம்
- காஷ்மீர் தேர்தல் 8% வாக்குப்பதிவு
- அருணாசல பிரதேச ஆட்சி கலைப்பு
- ராணுவத்திற்காண உணவில் முறைகேடு
- சீனபட்டாசிற்கு எதிரான தேர்தல் நேர பேச்சு
- பலுசிஸ்தான் தலையீடு
- இட ஒதுக்கீடு நீக்கம் பற்றிய பேச்சுகள்
- பென்சன் வட்டி விகிதம் குறைப்பு மற்றும் விதிமுறை மாற்றங்கள்
- மகாத்மா காந்தி ஊரக வேலைவாய்ப்பு திட்டத்தில் பல ஆயிரம் கோடி ஊதியம் தாமதம்
-ஜி.டி.பி குளறுபடி
-புதிய வங்கி கட்டணங்கள்
-ஆதார்
-அந்நிய நேரடி முதலீடு
-தூய்மை இந்தியா திட்டம்
-மேக் இன் இந்தியா
-டிஜிட்டல் இந்திய திட்டம்
-அணு உலை
-புல்லட் ரயில்
-நில கையகப்படுத்தும் மசோதா
-ஸ்மார்ட் சிட்டி
-ஹிந்தி திணிப்பு
-காவேரி நீர்மேலாண்மை ஆணையம்
-நீதிபதிகள் நியமனம் தாமதம்
-ஜி.எஸ்.டி
-சரிந்து வரும் வேலை வாய்ப்புகள்
-IT ஊழியர்கள் பணி நீக்கம்
-காஷ்மீர் தொடர் கிளர்ச்சி - பெல்லட் குண்டு
-கல்புர்கி கொலை
-ரோஹித் வெமுலா
-ஜவாஹர்லால் பல்கலைக்கழகம் சர்ச்சைகள்
-வருண் காந்தி - ராணுவ ராணுவ ரகசியங்கள்
-ரகுராம் ராஜன் மாற்றம்
-ஜல்லிக்கட்டு
-உத்திரகாண்ட் சீனா ஊடுருவல் 15 கிமீ
-எல்லை தாண்டிய தாக்குதல். உண்மையா பொய்யா ? தொடர் ராணுவ வீரர்கள் பலி
-ஜியோ சிம் விளம்பரம்
-லலித் மோடி
-வியாபம்
-கிரண் ரிஜ்ஜு 450 கோடி ஊழல்
-சுரங்க ஊழல் - மகாராஷ்டிரா & கர்நாடகா
-தனி விமானம் 2000 கோடி
-பிரான்ஸ் - பழைய போர் விமானம் அதிக விலை
-15 லட்சம் ஆடை
-பாகிஸ்தான் திடீர் வருகை & அதானி தொழில் வாய்ப்புகள்
-பள்ளி பாட புத்தகங்கள் வரலாறு திரிப்பு
-முக்கிய பிரச்சனைகளில் மௌனம்
-பல்வேறு பா.ஜ.க உறுப்பினர்களின் வெடி தயாரிப்பு செயல்பாடுகள்
-ஓரினச்சேர்க்கை, பலாத்காரம், பெண் பற்றி கலாச்சாரத்திற்கு முரணான கருத்துக்கள்.
-சஹாரா நிறுவன லஞ்சம் - மோடி முதலமைச்சராக இருந்த போது
-தனியார் நிறுவன விளம்பரம் - JIO & PAYTM
-குஜராத் தொழிலதிபர் மகேஷ் ஷா வாக்குமூலம்
-பதில் இல்லாத தகவல் அறியும் சட்டம் - மோடி கல்வி தகுதி
-மத்திய மந்திரி நடிகையுமான ஸ்மிருதி இராணியின் கல்வி தகுதி சர்ச்சை
-தேச பக்தி நாடகங்கள்
-மேகாலயா கவர்னர் காம லீலை
-ஜக்கி ஈஷா யோகா நிகழ்ச்சி
-பாபா ராம்தேவ் - நில ஒதுக்கீடு
-சமஸ்கிருதம் திணிப்பு
-புதிய கல்வி கொள்கை
-பொது சிவில் சட்டம்
-கங்கை சுத்தப்படுத்தும் திட்டம் - 20,000 கோடி வீண்
-மாட்டு கறி தடை
-மாட்டு கறி கொலைகள் - அக்லாக், உனா(குஜராத்)
-ஸ்ரீ ஸ்ரீ ரவிசங்கர் மாநாடு - பசுமை தீர்ப்பாயம் அபராதம்
-அயோத்தி ராமர் கோவில்
-அமைச்சர்களின் வெறுப்பு பேச்சு
-கட்டாய சூரிய வணக்கம் / யோகா
-காவிரி நதி நீர் மேலாண்மை வாரியம், தீர்ப்பு & வன்முறை
-டெல்லி விவசாயிகள் நிர்வான போராட்டம்
-அதானிக்கு மட்டும் 72,000 கோடி கடன்
-SBI மினிமம் பேலன்ஸ் 5000
-மாட்டு அரசியல்
-நீட் தேர்வு
-ரேஷன் மானியம் நிறுத்தம்
(அதிக நண்பர்களை கொண்டவர்கள் பகிர்ந்தால் தகவல் பலரை சென்றடைய உதவும்)


Classical English

Three Years of Murderer of democratic institutions (Modi) misrule

There is nothing to be praised for the Modi’s three year rule.

Purity
India, MacIndia, Digital India & Smart City Even though they do
come to know that they are all right .. Everything can be done and they
do not want to do anything .. They write what we write About, and we
wish to write about the following: But to devise time to plan.

-Product / diesel tax increase by 200%
-Medicines product price rise
-Rail price tariff rise
-Gas price rise
-New lines
-With the warranty of the employers
- Foreign black money investors- refuse to issue name
-500 / 1000 ban and job losses
-Rough value
- Modi’s foreign trips
- foreign policy
- Army soldier pension project delay
- Uday power
- Tamil Nadu drought relief
- Distribution of Ganga water
- Kashmir election is 8% voting
- The dissolution of the Arunachal Pradesh division
- Abuse in the food
- Election Time Talk Against Chineseapolis
- Baluchistan intervention
- Discussions on reservation removal
- Benefit interest rate reduction and regulation changes
- Mahatma Gandhi’s Rural Employment Scheme delayed several thousand crore
-GDP mess
-New bank charges
Adhar
-On direct investment
-Police India Plan
-Make in India
-Digital Indian Project
-Nuclear Reactor
-Bullet train
-The state takeover bill
-Smart City
-Hindi stamping
- Javier Water Authority
- The appointment of judges delayed
Jiesti
-Long job opportunities
-To staff dismissal
-Kashmir series rebellion - the ballot bomb
-Kalburgi murder
-Rohid Vemula
-Jawaharlal University Controversy
-Run Gandhi - Army Military Secrets
-Rangaram Rajan change
Jallikkattu
-International China penetration 15 km
-and beyond the attack. Is it true or false? Serial soldiers killed
-Gio Sim Advertising
-Lalit Modi
Viyapam
- Kiran Rijuju 450 crore scam
-General scam - Maharashtra & Karnataka
-Trans plane is Rs 2 crore
-Prince - old war fighter is more expensive
-15 lakh clothing
-Bangistan Outbreak & Adani Career Opportunities
History of the school
-Be silent on major issues
Explosive operation of various BJP members
-Article, rape, and contradictory ideas about culture.
-Sahara Bribery - When Modi was Chief Minister
-Dynamic Corporate Advertising - JIO & PAYTM
-Mohresh Shah’s confession of Gujarati businessman
-National Education Status
Smriti Irani’s Education Status Controversy
-the devotion of the devotion
-Megalaya governor Kama Leel
-Jaki Isha Yoga Concert
Baba Ramdev - Land Reservation
-Sassertion stuffing
-New education policy
-New civil law
-The Cleaner Cleaner Scheme - 20,000 crores
-but curry banned
-More curry murders - Aklak, Una (Gujarat)
-Sree Sri Ravi Shankar Conference - Green Tribunal Penalty
- Ayodhya Ram Temple
-Article hate speech
-Great sun salutation / yoga
-Govir River Water Management Board, Judgment & Violence
-Toli farmers’ fight
-Andani has a debt of 72,000 crore
-SBI Mini Balance 5000
-mute politics
-Eat selection
-Action grant stop
(If you have more friends)

Classical Bengali

Murderer of democratic institutions (Modi): _ কৃতিত্ব

বিজেপি বিজেপি .. বন্ধুরা যারা লিখতে উপাসক অনুপায় চেহারা মজার সক্ষম হয় না সম্পর্কে কিছুই তিন বছরের শাসনের সমাপ্তির ..

বিশুদ্ধতা
ভারত, ম্যাক ভারত, ডিজিটাল ভারত ও স্মার্ট সিটি লাম সে এমনকি আসেনি মনে
etuna ceyncu যে পর, কিছু .. তারা eluttatti natakkala কি আমরা লিখতে
বিস্তারিতভাবে সবকিছু লিখতে প্রলুব্ধ নিম্নলিখিত চেয়েছিলেন .. সবকিছু পেরু
vaccatota ওয়েল স্মরণ করার অধিকার আছে।
কিন্তু পরিকল্পনা সময় লাগবে।

তাহলে 200% এর petre / ডিজেল ট্যাক্স বৃদ্ধি
Maruntu উপাদান মূল্য বৃদ্ধির
দাম রা বৃদ্ধিই
গ্যাস মূল্যবৃদ্ধি
গেম করের
নিয়োগকারীদের পেরু গ্রস NPAs
প্রত্যাখ্যান বিদেশী বিনিয়োগকারীদের -including কালো টাকার নাম প্রকাশ করতে
Ru 500