Analytic Insight Net - FREE Online Tipiṭaka Research & Practice Universitu 
in
 112 CLASSICAL LANGUAGES
Paṭisambhidā Jāla-Abaddha Paripanti Tipiṭaka Anvesanā ca Paricaya Nikhilavijjālaya ca ñātibhūta Pavatti Nissāya 
http://sarvajan.ambedkar.org anto 105 Seṭṭhaganthāyatta Bhāsā
Categories:

Archives:
Meta:
March 2015
M T W T F S S
« Feb   Apr »
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
3031  
03/08/15
1439 LESSON 9315 MONDAY FREE ONLINE E-Nālandā Research and Practice UNIVERSITY Run by http://sarvajan.ambedkar.org National Conference on “Social Inclusion and Exclusion: Perceptions, Assessments and Prescriptions SIEPAP2015” on March 11th 2015 YOGI VEMANA UNIVERSITY COLLEGE: KADAPA Vemana Puram, Kadapa -516 003 Department of Political Science & Public Administration Dr. D.R. Satish Babu Mobile: +919440028157 Co-ordinator WALK, RUN,SWIM, CYCLE ! FOR REPLACEMENT OF ALL FRAUD EVMs ! WITH FOOL PROOF VOTING SYSTEM ! To day it is a big NO to reduce prices, check corruption, bring back black money.
Filed under: General
Posted by: @ 5:55 pm


1439 LESSON 9315 MONDAY


FREE ONLINE E-Nālandā Research and Practice UNIVERSITY
Run by
http://sarvajan.ambedkar.org


 Please render correct translation in your mother tongue and all other languages
you know for this Google translation practice and save democracy,
equality, fraternity, liberty, dignity and justice as enshrined in the
Constitution to distribute the wealth of the country equally  among all
sections of the society for their peace welfare and happiness and to
attain Eternal Bliss as their Final Goal.




WALK, RUN,SWIM, CYCLE !
FOR
REPLACEMENT OF ALL FRAUD EVMs !
WITH FOOL PROOF VOTING SYSTEM !

To day it is a
big NO to reduce prices, check corruption, bring back black money.

National
Conference on “Social Inclusion and Exclusion: Perceptions, Assessments
and Prescriptions SIEPAP2015” on March 11th 2015

YOGI VEMANA UNIVERSITY COLLEGE: KADAPA
Vemana Puram, Kadapa -516 003
Department of Political Science & Public Administration

Dr. D.R. Satish Babu                        Mobile: +919440028157 
Co-ordinator          
                           
______________________________
_________________________________________________________________________                       


Warm Greetings

Sir/Madam,

I
am glad to inform you that the department of Political Science and
Public Administration, YVU is conducting National Conference on “Social
Inclusion and Exclusion: Perceptions, Assessments and Prescriptions
SIEPAP2015” on March 11th 2015. This Conference will be attended by
Academicians (Faculty Members and Young Research Scholars), victim of
untouchables, policy makers, Social care workers, NGO’s, Social workers
and other stakeholders from various parts of the Country. This plat form
is set to present, discuss, share; record the ideas acquired by the
participants and documents in depth the recent trends in social
inclusion and exclusion via assessments, perceptions and victimizations.

As Convener of the Conference, I extend a warm Welcome to the
participant of National Conference.  I here with have attached
Conference Brochure, registration form.  If required photo copies may
used. For further details kindly visit the web site:  HYPERLINK
http://www.yogivemanauniversity.ac.inwww.yogivemanauniversity.ac.in.
With regards,

——————————
——————————————————————————————

Social Inclusion and Exclusion: victim of untouchability

Abstract

The
purpose of this paper is twofold; first the paper explores and
describes the complex ways in which social exclusion can (sometimes) be
reconstituted within policy attempts at social inclusion: the quota
policy in this country. Second, the paper provides a grounded account of
the connectedness of inclusion/exclusion and an illustration of how
those positioned as excluded can avoid and manage the ‘problem’ of
exclusion by ‘passing’ as the more privileged ‘other’. The substantive
focus of this paper is with the caste-based experiences of Scheduled
Caste/ Scheduled Tribes students.More importantly the way how technology
has  hijacked democracy, equality, fraternity, liberty and justice by
tampering fraud EVMs.

__________________________________________________________________________________________________________________________________________________

Supreme Court must pass orders to scrap all the elections conducted
through these EVMs and order for fresh elections with fool proof voting
system followed by 80 democracies  of the world.

99% of the
population intellectual youths belonging to SC/STs/OBCs/Minorities/poor 
upper castes must use the Internet to awaken the people of the world in
connection with these fraud EVMs, apart from


WALK, RUN,SWIM, CYCLE !
FOR
REPLACEMENT OF ALL FRAUD EVMs !
WITH FOOL PROOF VOTING SYSTEM !

Next
100 years must be for Sarvajan Hitaye Sarvajan Sukhaye , ie., for the
peace, happiness and welfare of all societies including
SC/STs/OBCs/Minorities and the poor upper castes in the country as
enshrined in the Constitution fathered by Babasaheb Dr. B.R.Ambedkar by
distributing the wealth of the country equally among all sections of the
society.

Role played by eminent leaders like Pandit
Aiyothidas,Mahatma Phule, Sahuji Maharaj, Narayan Guru,Periyar
EVRamaswamy, Ayankali,  Dr. Babasaheb B.R.Ambedkar, Manyavar Kanshiramji
and Ms Mayawatiji, who fought casteism and untouchability, the next 100
years is going to be theirs.

People will fight superstition by
following the teachings of the Awakened One with Awareness and give
maximum positive concentration of mind to put all their fears in a
bundle and threw it in the river, education, Reservation in Government,
Private  and  Self Employment to their children which are  main things
required for development.

Ambedkar’s slogan of “Educate,
Organise and Agitate” is very valid now, “getting justice is not
begging, but is the right of every citizen as enshrines in the
Constitution”.

Victim of untouchability, slumdwelling Valmikis of
Ahmedabad remain deprived of most basic facilities needed for a
respectable life

A study of the Scheduled Caste Valmiki
community living in Ahmedabad’s five slum localities Thaltej, Gota,
Hatkeshwar, Naranpura Lakhudi and Sola Bridge by the Human Development
and Research Centre (HDRC), Ahmedabad,  points towards how the community
remains the most neglected section of the city’s urban life. Excerpts:
SC/STs
make up 6 to 7 per cent of Gujarat’s population. If one looks back into
history, one finds that the condition of SC/STs, especially in
villages, was extremely pathetic. In Banaskantha district, for instance,
SC/STs were obliged to cover their head with a turban of a particular
colour, so that they could be identified by dominant castemen from a
distance. SC/ST bridegrooms would not be allowed to ride a horse during
marriage processions, and those forming part of the procession would not
be allowed to beat drums or dance to the tune of music in celebration.
If this was the situation of the SC/ST community, one could well imagine
what type of discrimination Valmikis, the lowest rung in the SC/ST
hierarchy, would face. There was a time when persons from dominant
castes would ensure that SC/STs, especially Valmikis, did not get
treatment in government-run primary health centres (PHCs).It would be
pertinent to say that, in rural areas, the rigid traditional caste
behaviour remains intact even today.

In search of occupational
options, many Valmikis land up in Gujarat’s cities, especially
Ahmedabad. This is one reason why one finds a large number of Valmikis
are living in the slums of Ahmedabad for quite some time. Here, living
as migrants, they face major issues related with livelihood. They are
forced to live in an extremely stifling atmosphere. While they become
easy victims of larger issues of urban livelihood such as price rise,
and oppression at the workplace, they additionally become victims of
untouchability.

The Valmiki community is mainly aligned with the
job of cleaning up all the filth of the city. Economic compulsions make
more than one person in the family – husband and wife and grown up
children – to work as cleaning workers. They together earn on an average
Rs 700 to Rs 800 a day. While this should be sufficient for running the
family, the costs they must bear for meeting their primary requirements
at a time when they are deprived of basic facilities like housing,
electricity and water is indeed very high. Things especially become
difficult as, at several places, female Valmiki workers are paid lesser
wages than their male counterparts.
Social awareness among the
Valmikis is extremely low. They haven’t generally thought about the need
to be empowered. A major reason for this is, while several voluntary
organizations work for the empowerment of SC/STs, they pay little heed
to the concerns of Valmikis.

A major problem nagging the Valmikis
is that of housing. As they come to cities from rural areas in search
of employment, they form one of the biggest groups in slums of
Ahmedabad. At large number of places, they live in makeshift huts they
set up on their own. However, they have not been able to register these
huts in their name.

One can, in fact, see that there is glaring
discrimination against Valmikis in the implementation government
schemes. There is a slum area development policy, which seeks to create a
livable atmosphere for slumdwellers, though the actual reality is
totally different. In order to take advantage of a slum rehabilitation
scheme, they must leave their present place of stay and move far away,
somewhere in the outskirts, directly affecting their livelihood.

It
has been found that wherever Valmiki community people live there is
total absence of basic facilities. In Ahmedabad, Valmikis live by
renting the space for living in huts. They have no electricity or water
connection. Not only they must pay rent to live like this, there are
just 15 usable toilets for about 10,000 to 15,000 huts. This has a
direct impact on the health of Valmiki slumdwellers.
Another major
issue facing Ahmedabad Valmikis relates to the type of jobs they must
do. Whether in rural areas or urban areas, they must work as cleaning
workers, a work they are obliged to do even in  municipalities and
municipal corporations even if they come to acquire some education.

According
to the Aslali Committee report, if any Valmiki community person working
in a government body has studied up to class 8th, 9th or 10th, she or
he must be promoted to a higher level. However, the government has not
paid any heed to the recommendation. Even those who are degree holders
work as cleaning workers in Ahmedabad. There are very few Valmiki
individuals who, overcoming extreme difficulties, work in jobs other
than cleaning.

Valmikis face major issues related with their health.
Working in the midst of filth and dust, many of them become victims of
tuberculosis or asthma at a very early age. It has been found that, on
an average, their life span is 50 to 55 years.

Though Valmikis
aren’t victims of untouchability in the urban areas in the same way as
in the rural areas, some so-called upper castemen do observe casteist
attitude towards them. While there is little change in the people’s
mindset.

Then, one finds that there is very little importance to
education among Valmikis. No doubt, for this, the dominant caste mindset
of our society, too, is responsible. While Valmiki children are
admitted in schools, Valmiki parents do not find it necessary to ensure
that the child goes to the school regularly enough. More often than not,
the child accompanies the parents when they go for cleaning job, which
adversely impacts on the child’s mindset. This becomes the reason behind
the child becoming the future cleaning worker.

Then, there are very
few employment options available to Valmikis. Words like personal
development and awareness do not exist in vocabulary; at best they are
part of some elusive pedantic knowledge, thanks to poor literacy levels.
 Worse, because of the negative attitude by dominant castemen, Valmikis
develop a mindset whereby they think that they would not be successful
in getting enough customers if they kickstart a provisional store or a
cycle repairing workshop.

In fact, collecting dirt during the day
time and being subject of scorn by dominant caste sections have become
part of the daily life for Valmikis. This is one major reason why men
become addicted to alcohol, and women to tobacco, which ultimately harms
their health.
Yet another social evil among Valmikis is child
marriage. The moment the girl enters her teen, and completes fifth or
sixth standard, she is married off. During conversation with women it
became evident that, if a girl is made to study more, the community
people would start questioning her integrity.

A large number of
Valmikis do not have basic documents such as birth certificate, address
proof, ration card, and so on, as a result of which many of them are
unable to get advantage of government schemes, not to talk of government
jobs.
Related

A hotspot of caste conflict, Kadi taluka’s SC/STs have begun showing unusual awareness, resisting discrimination in public life

There is wide prevalence of stigmatization of SC/STs in access to water in rural areas, says survey report

Rural
Gujarat SC/STs represent to Gujarat chief minister, complain of
discrimination in access to drinking water, basic facilities
RSS’s
Bahuth Jiyadha Paapis (BJP) must know that Valmiki wrote the Epic
Ramayana which has been now RSSized for hindutva vote bank politics.
Vlamiki created Rama. Temples are built for his hero but not allowed
inside those temples.

Now it is a settled law that the fraud EVMs are
tamperable and hence all of them had to be replaced. But the ex CJI
Sathasivam committed a grave error of justice by allowing the fraud EVMs
to be replaced in phases as suggested by the ex. CEC Sampath because of
the cost of Rs 1600 crores involve for replacing them. As a result 1%
of the population the chtpawan brahmin, terrorist, militant, violent,
intolerant, heckling stealth hindutva cult RSS’s Murderers of democratic
institutions (Modi) have grabbed the MASTER KEY.

The solution is
that the Supreme Court must pass orders to scrap all the elections
conducted through these EVMs and order for fresh elections with fool
proof voting system followed by 80 democracies  of the world.

99%
of the population intellectual youths belonging to
SC/STs/OBCs/Minorities/poor  upper castes must use the Internet to
awaken the people of the world in connection with these fraud EVMs,
apart from


WALK, RUN,SWIM, CYCLE !
FOR
REPLACEMENT OF ALL FRAUD EVMs !
WITH FOOL PROOF VOTING SYSTEM !

To day it is a
big NO to reduce prices, check corruption, bring back black money.

Oil
prices are going down globally, but we don’t really feel it in this country. Fares and
transportation charges and prices of every essential commodity continue
to go up. There is no sign of black money being recovered and BJP
(Bajuth Jiyadha Paapis) President Amit Shah has now said the talk of every family getting Rs 15
lakh through repatriation of black money was just empty poll rhetoric.
In contrast, we see that I billion dollar loan from jan-dhan of our
public bank is being doled out to favoured corporates like Adani !

Fraud people selected by the fraud EVMs is
working overtime to pass on favours to big companies of this country and
foreign origin. Ordinance has been issued to expedite land grab in
corporate interest. Coal and other mines are being opened up for
commercial private mining. Foreign investment is being favoured in every
sector of the economy. And during US President Obama’s recent visit to
this country, Modi (Murderers of democratic institutions) has virtually
freed US companies supplying nuclear reactors
to our country from any liability, compensation and legal action, in the
case
of any accident. To pander to the greed of US drug companies, the
Murderers of democratic institutions are systematically undermining this country’s patent policy; which
will stall domestic production of several life-saving drugs and escalate
their prices for common people in this country and across the world.

The
Planning Commission has been wound up and funds allocated for welfare
programmes are being squeezed systematically. In the latest budget, the
government has slashed expenditure on welfare and social spending, the
worst hit being the health, women and child welfare, and education
sectors. A drastic reduction in food security coverage from 75% to 40%
is planned. In the name of the ‘Make in India’ campaign, the
Murderers of democratic institutions are inviting foreign capital to come and exploit this country’s labour cheaply
while labour laws are being systematically subverted to deny this country’s
workers any legal safeguard against wage-theft, unsafe workplaces and
oppressive working conditions.


Commercialisation
and saffronization of education are being given a fresh push.
Public-funded education is being weakened through huge budget cuts,
autonomy of education institutions are being trampled upon, and
obscurantism and communal poison are being promoted both through
syllabus changes and appointments.

And
accompanying this economic attack on the common people is the
mischievous communal agenda of the Sangh Parivar which has the backing
of the
Murderers of democratic institutions.
Every small local dispute is being blown up or
sheer rumours are being spread to whip up communal frenzy and target the
Muslim community. The terrorist, militant,violent,heckling, intolerant,
hindutva cult 1% chitpawan brahmin RSS chief full of hatred towards 99%
of all societies including SC/STs/OBCs/Minorities/poor upper castes has
declared Jambudvipa/PRABUDDHA BHARATH a Hindu Rashtra which is
unconstitutional and a contempt of court because of the 1% chitpawan
brahmins dominating attitude.There is no siprituality in RSSized
hindutva which was manufactured by vir savarkar another chitpawan
brahmin like naturam god(se) the terrorist and the murderer who was
hanged by the court whose followere are installing statues and temple
being constructed which nothing but contempt of court. All these are for
the greed of power.Bahuth Jiyadha Paapis
MPs, ministers and so-called sadhus and sadhvis are asking Hindu women
to produce four children and more.The 1% chitpawan brahmins unable to
increase its population, many of them got converted as protestants to
knock off churches, hospital and educational institutions and practiced
untouchability by carrying their caste along with them and now churches
with non-chitpawan brahmins are being vandalised right
in the national capital and the Murderers of democratic institutions remains a silent
spectator.

The
time has surely come to rise in powerful protest against these
mischievous anti-people anti-democratic moves of the
Murderers of democratic institutions.
And to be sure the protests have very much begun. In sector after sector
workers and employees are opposing the Murderers of democratic institutions’s
policies, peasants
are up in arms against the land-grab order and the rural poor are
insisting on their right to employment guarantee and food security. And
now in the elections to Delhi Assembly, the fraud EVMs selected the AAP
which is another RSS wing to fool the poor and working people to confuse
and divert the attention.

To
resist the
Murderers of democratic institution’s
assault on the common people and the
communal and divisive agenda of the Sangh Parivar and strengthen the
country  people’s battle for comprehensive democracy,equality,
fraternity,liberty dignity and justice,
a whole range of democratic organisations and individuals must decide
to come together and launch a national platform


Stop
the Murderers of democratic institutions grabbing the fraud EVMs which
were ordered by the Supreme Court to replace them with fool proof voting
system.

The
ex CJI Sathasivam committed a grave error of judgement by ordering to
replace them in phases as suggested by the ex CEC Sampath because of the
cost of Rs 1600 crores involved to replace them.

The Supreme Court must pass orders to scrap all the elections conducted with these fraud EVMs and order for fresh elections.

Till
such time the Murderers of democratic institutions must not be
recognised all the 80 democracies of the world and our people to save
democracy,equality, fraternity, liberty, dignity and justice as
enshrined in our Constitution.

82) Classical Telugu

82) ప్రాచీన తెలుగు
82) సంగీతం తెలుగు

1439 పాఠం 9315 సోమవారం

ఉచిత ఆన్లైన్ E-నలంద రీసెర్చ్ అండ్ ప్రాక్టీస్ UNIVERSITY
ద్వారా అమలు
http://sarvajan.ambedkar.org

11 మార్చి 2015 న: “పర్సెప్షన్ లెక్కింపులు మరియు మందు చీటీలు SIEPAP2015 సామాజిక చేర్పును మరియు మినహాయింపు” నేషనల్ కాన్ఫరెన్స్

యోగి వేమన విశ్వవిద్యాలయం కళాశాల: కడప
వేమన పురం, కడప -516 003
పొలిటికల్ సైన్స్ అండ్ పబ్లిక్ అడ్మినిస్ట్రేషన్ శాఖ

డాక్టర్ డి.ఆర్ సతీష్ బాబు Mobile: +919440028157
కో-ఆర్డినేటర్
____________________________________________________________________

ఉత్సాహకరమైన సంబోధనలు

సర్ / మేడం,

ఫ్యాకల్టీ
సభ్యులు (2015 ఈ సమావేశంలో విద్యావేత్తలు హాజరయ్యారు ఉంటుంది మార్చి 11 న:
“పర్సెప్షన్ లెక్కింపులు మరియు మందు చీటీలు SIEPAP2015 సామాజిక చేర్పును
మరియు మినహాయింపు” నేను పొలిటికల్ సైన్స్ అండ్ పబ్లిక్ అడ్మినిస్ట్రేషన్,
YVU శాఖ నేషనల్ కాన్ఫరెన్స్ చేసే అని మీరు తెలియజేయడానికి సంతోషిస్తున్నాము
am
మరియు
యంగ్ రీసెర్చ్ స్కాలర్స్), దేశంలోని వివిధ ప్రాంతాల నుంచి అంటరానివారిని,
విధాన నిర్ణేతలు, సంఘ రక్షణ కార్యకర్తలు, NGO యొక్క, సామాజిక కార్యకర్తలు
మరియు ఇతర మధ్యవర్తుల బాధితుడు.
ఈ ప్లాట్ ఫారమ్, వాటా, ప్రస్తుత చర్చించడానికి సెట్; పాల్గొనే మరియు లోతు పత్రాలు లెక్కింపులు అవగాహనలు మరియు victimizations
ద్వారా సామాజిక చేరిక మరియు మినహాయింపు ఇటీవలి పోకడలు ద్వారా ఆర్జిత
ఆలోచనలు రికార్డు.

కాన్ఫరెన్స్ కన్వీనర్ గా, నేను నేషనల్ కాన్ఫరెన్స్ పాల్గొనే ఒక వెచ్చని స్వాగతం పలుకుతున్నాను. ఇక్కడ నేను కాన్ఫరెన్స్ బ్రోచర్, నమోదు రూపం జోడించాను. , అవసరమైన ఫోటో కాపీలు ఉపయోగిస్తారు. మరిన్ని వివరాలకు దయచేసి వెబ్ సైట్ సందర్శించండి: హైపర్లింక్
http://www.yogivemanauniversity.ac.inwww.yogivemanauniversity.ac.in.
సంబంధించి,
—————————————————————————————————————–

సామాజిక చేర్పును మరియు మినహాయింపు: అంటరానితనం యొక్క బాధితుడు

వియుక్త

ఈ కాగితం యొక్క ప్రయోజనం రెండురెట్లు ఉంది; మొదటి
పేపర్ అన్వేషిస్తుంది మరియు సామాజిక మినహాయింపు (కొన్నిసార్లు) సామాజిక
చేరిక వద్ద విధానం ప్రయత్నాలు లోపల పునర్నిర్మించిన చేయవచ్చు దీనిలో
క్లిష్టమైన మార్గాలను వివరిస్తుంది: ఈ దేశంలో కోటా విధానం.
సెకను,
కాగితం చేర్చడం / మినహాయింపు అనుసంధానంపై గ్రౌన్దేడ్ ఖాతా మరియు మరింత
విశేష ‘ఇతర’ గా ‘ప్రయాణిస్తున్న’ ద్వారా మినహాయింపు ‘సమస్య’ నివారించేందుకు
మరియు నిర్వహించవచ్చు మినహాయించి ఆ స్థానంలో ఎలా ఒక ఉదాహరణ అందిస్తుంది.
ఈ కాగితం యొక్క యదార్థ దృష్టి students.More ముఖ్యంగా షెడ్యూల్డ్ కులం /
షెడ్యూల్డ్ తెగలు కుల ఆధారిత అనుభవాలు టెక్నాలజీ మోసం ఈవీఎంలు దిద్దుబాటు
ద్వారా ప్రజాస్వామ్యం, సమానత్వం, ఫ్రటర్నిటి, స్వేచ్ఛ మరియు న్యాయం హైజాక్
ఎలా మార్గం.

____________________________________________________________________

సుప్రీం కోర్ట్ ప్రపంచంలోని 80 ప్రజాస్వామ్యంలో తరువాత అవివేకిని ప్రూఫ్
ఓటింగ్ సిస్టమ్ తాజా ఎన్నికలకు ఈ ఈవీఎంలు మరియు ఆర్డర్ ద్వారా నిర్వహించిన
అన్ని ఎన్నికల్లో స్క్రాప్ ఆదేశాలు పాస్ ఉండాలి.

SC / ఎస్టీలకు / ఓబీసీలు / మైనారిటీలు / పేద ఎగువ కులాలకు చెందిన జనాభా
మేధో యువత 99% నుండి వేరుగా, ఈ మోసం ఈవీఎంలు తో కనెక్షన్ లో ప్రపంచంలోని
ప్రజలు మేలుకొల్పగలతాయనీ ఇంటర్నెట్ ఉపయోగించాలి

నడక, RUN, ఈత, సైకిల్!
FOR
ALL మోసం ఈవీఎంలు ప్రత్యామ్నాయం!
ఫూల్ PROOF ఓటింగు పద్ధతితో!

తర్వాత
100 సంవత్సరాల Sarvajan Hitaye Sarvajan Sukhaye, అంటే ఉండాలి.,
బాబాసాహెబ్ డాక్టర్ తండ్రిగా రాజ్యాంగంలో పొందుపరిచారు SC / ఎస్టీలకు /
ఓబీసీలు / మైనారిటీలు మరియు దేశంలోని పేద అగ్రవర్ణాలు సహా శాంతి, ఆనందం
మరియు అన్ని సంఘాలు సంక్షేమం కోసం
సమానంగా సమాజంలోని అన్ని వర్గాలకు దేశ సంపద పంపిణీ ద్వారా BRAmbedkar.

కులతత్వం
మరియు అంటరానితనం పోరాడిన పండిట్ Aiyothidas, మహాత్మా ఫులే, సాహుజీ
మహారాజ్, నారాయణ్ గురు, పెరియార్ EVRamaswamy, Ayankali, డాక్టర్
బాబాసాహెబ్ BRAmbedkar, Manyavar Kanshiramji మరియు Ms Mayawatiji, తర్వాత
100 సంవత్సరాల వంటి ప్రముఖ నేతలు పోషించిన పాత్ర వారిది అవతరిస్తుంది
.

జనాభాకు
అప్రమత్తత తో జాగృతం ఒక బోధనల అనుసరించడం ద్వారా మూఢ పోరాడటానికి మరియు ఒక
కట్ట వారి భయాలను ఉంచవచ్చు మనసు గరిష్ట సానుకూల ఏకాగ్రత ఇవ్వాలని మరియు
వారి పిల్లలకు ప్రభుత్వం, ప్రైవేట్ మరియు సెల్ఫ్ ఎంప్లాయ్, నది విద్యలో
రిజర్వేషన్లు విసిరారు ఇది
అభివృద్ధికి అవసరమైన ప్రధాన విషయాలు ఇక్కడ ఉన్నాయి.

“ఎడ్యుకేట్, పేర్చు ఆందోళన” అంబేద్కర్ యొక్క నినాదం “న్యాయం యాచించడం
లేదు పొందడానికి, కానీ రాజ్యాంగంలో కలిగివున్నారు ప్రతి పౌరుడి హక్కు”,
ఇప్పుడు చాలా చెల్లదు.

అహ్మదాబాద్ ధనూక్లు slumdwelling అంటరానితనం యొక్క బాధితుడు, గౌరవనీయమైన
జీవితం కోసం అవసరమైన అత్యంత ప్రాధమిక సదుపాయాలతో కోల్పోయింది ఉండిపోయింది

అహ్మదాబాద్
ఐదు మురికివాడల ప్రాంతములలో Thaltej, Gota, హటకేశ్వర్, హ్యూమన్
డెవలప్మెంట్ అండ్ రీసెర్చ్ సెంటర్ ద్వారా Naranpura Lakhudi మరియు Sola
బ్రిడ్జ్ (HDRC అహ్మదాబాద్), నివసిస్తున్న షెడ్యూల్డ్ కులం వాల్మీకి
కమ్యూనిటీ ఒక అధ్యయనం కమ్యూనిటీ యొక్క అత్యంత నిర్లక్ష్యం విభాగం ఉంది ఎలా
వైపు పాయింట్లు
నగరం యొక్క పట్టణ జీవితం.

ప్ర:

SC / ఎస్టీలకు గుజరాత్ జనాభాలో 7 శాతం 6 అప్ చేయండి. ఒక చరిత్ర తిరిగి కనిపిస్తుంది ఉంటే, ఒక SC / ఎస్సీ, పరిస్థితి ముఖ్యంగా గ్రామాల్లో, చాలా ఉత్సుకత అని తెలుసుకుంటాడు. బనస్కాంత
జిల్లాలో, ఉదాహరణకు, SC / ఎస్టీలకు వారు దూరం నుండి ఆధిపత్య castemen
ద్వారా గుర్తి తద్వారా, ఒక నిర్దిష్ట రంగు యొక్క ఒక తలపాగా వారి తల కవర్
పూనుకున్నారు.
SC
/ ST పెండ్లి కొడుకులు వివాహం ఊరేగింపులు ఒక గుర్రం దౌడు అనుమతి సాధ్యం
కాదు, మరియు ఊరేగింపు ఆ ఏర్పాటు భాగం వేడుక లో సంగీతం యొక్క ట్యూన్ డ్రమ్స్
లేదా నృత్య ఓడించింది అనుమతి లేదు.
ఈ SC / ST సమాజం పరిస్థితి ఉంటే, ఒక బాగా వివక్ష ధనూక్లు, SC / ST సోపానక్రమం లో అట్టడుగు రకం ఊహించే కాలేదు ఎదుర్కుంటుంది. ఆధిపత్య
కులాల వ్యక్తులు సుప్రీంకు / ఎస్సీ, ముఖ్యంగా ధనూక్లు, గ్రామీణ
ప్రాంతాల్లో .ఇది ఆ చెప్పటానికి సంబంధించిన ఉంటుంది ప్రభుత్వ ప్రాధమిక
ఆరోగ్య కేంద్రాలు (ప్రాథమిక ఆరోగ్య కేంద్రాలతోపాటు) లో చికిత్స, రాలేదు,
దృఢమైన సాంప్రదాయిక కుల నిర్ధారించడానికి ఎప్పుడు సమయంలో ఉంది
ప్రవర్తన ఈనాటికీ చెక్కుచెదరకుండా ఉంది.

వృత్తి ఎంపికల శోధన, అనేక ధనూక్లు గుజరాత్ నగరాలు, ముఖ్యంగా అహ్మదాబాద్ అప్ భూమి. ఈ ఒక ధనూక్లు పెద్ద సంఖ్యలో కొంతకాలంగా అహ్మదాబాద్ మురికివాడలలో నివసిస్తున్న కనుగొన్నప్పటికీ ఎందుకు ఒక కారణం. ఇక్కడ, వలస వంటి నివసించే జీవనానికి సంబంధించిన ప్రధాన సమస్యలు ఎదుర్కొంటున్నాయి. వారు అత్యంత అణచివేసింది వాతావరణం లో నివసిస్తున్నారు వస్తుంది. వారు ఇటువంటి కార్యాలయంలో వద్ద ధరల పెరుగుదల, మరియు అణచివేతకు పట్టణ
జీవనోపాధి పెద్ద సమస్యలు సులభంగా బాధితుల మారింది ఉండగా, వారు అదనంగా
అంటరానితనం బాధితుల మారింది.

వాల్మీకి కమ్యూనిటీ ప్రధానంగా నగరం యొక్క అన్ని రోత శుభ్రం ఉద్యోగం భావానికి. భర్త మరియు భార్య మరియు పెరిగింది పిల్లలు - - శుభ్రపరచడం కార్మికులు పని ఎకనామిక్ ఒత్తిళ్లకు ఒకటి కంటే ఎక్కువ కుటుంబం లో వ్యక్తి. వారు కలిసి సగటున రూ .700 నుంచి రూ .800 రోజున సంపాదిస్తారు.
కుటుంబం నడుస్తున్న కోసం తగినంత ఉండాలి, ఖర్చులు వారు గృహ, విద్యుత్ మరియు
నీటి వంటి ప్రాథమిక సౌకర్యాలు కోల్పోయింది చేసినప్పుడు నిజానికి ఒక సమయంలో
చాలా అధిక వారి ప్రాధమిక అవసరాలు తీర్చేందుకు భరించలేదని ఉండాలి.
అనేక ప్రదేశాలలో, పురుషుడు వాల్మీకి కార్మికులు తమ పురుషులతో కంటే తక్కువ వేతనాలు చెల్లిస్తారు, థింగ్స్ ముఖ్యంగా కష్టం అవుతుంది.

ధనూక్లు మధ్య సామాజిక అవగాహన చాలా తక్కువ. వారు సాధారణంగా అధికారం అవసరం గురించి ఆలోచన లేదు. ఈ ప్రధాన కారణం అనేక స్వచ్ఛంద సంస్థలు SC / ఎస్టీలకు సాధికారత కోసం పని
అయితే, వారు ధనూక్లు ఆందోళనలు కొద్దిగా లక్ష్యము చెల్లించాలి ఉంది.

ధనూక్లు విశ్వ ప్రధాన సమస్య హౌసింగ్ ఆ. వారు ఉద్యోగాల కొరకు గ్రామీణ ప్రాంతాల నుంచి పట్టణాలకు వచ్చి, వారు అహ్మదాబాద్ మురికివాడలలో అతిపెద్ద సంఘాలలో ఒకటి ఏర్పాటు. స్థలాల పెద్ద సంఖ్యలో, వారు వారి సొంత న ఏర్పాటు తాత్కాలిక గుడిసెలు నివసిస్తున్నారు. అయితే, వారు తమ పేరు ఈ గుడిసెలు నమోదు లేకపోతున్నాను.
ఒకటి, నిజానికి, అమలు ప్రభుత్వం పథకాల్లో ధనూక్లు వివక్షకు పట్టి ఉంది చూడగలరు. అసలు
రియాలిటీ పూర్తిగా భిన్నంగా ఉంటుంది అయితే, slumdwellers కోసం జీవించగల
వాతావరణాన్ని సృష్టించడానికి ప్రయత్నిస్తుంది ఒక మురికివాడలో అభివృద్ధి
విధానం ఉంది.
ఒక మురికివాడలో పునరావాస పథకం ప్రయోజనాన్ని పొందాలనుకుంటే, వారు నేరుగా
వారి జీవనోపాధిని ప్రభావితం, ఎక్కడో శివార్లలో బస వారి ప్రస్తుత స్థలం
వదిలి దూరంగా తరలించడానికి ఉండాలి.

ఇది వాల్మీకి కమ్యూనిటీ మంది ప్రాథమిక సౌకర్యాలు మొత్తం లేనప్పుడు ఉంది నివసిస్తున్నారు ఎక్కడ కనుగొన్నారు చెయ్యబడింది. అహ్మదాబాద్, వాల్మీకులు గుడిసెలు నివసిస్తున్న స్థలాన్ని అద్దెకు ద్వారా నివసిస్తున్నారు. వారు విద్యుత్ లేదా నీరు కనెక్షన్ కలిగి. కేవలం వారు ఈ వంటి జీవించడమే అద్దెకు చెల్లించాలి 10,000 నుండి 15,000 గుడిసెలు కేవలం 15 ఉపయోగపడే మరుగుదొడ్లు ఉన్నాయి. ఈ వాల్మీకి slumdwellers ఆరోగ్యంపై ప్రభావం చూపుతాయి.

అహ్మదాబాద్ ధనూక్లు ఎదుర్కొంటున్న మరో ప్రధాన సమస్య వారు చేయాలి ఉద్యోగాలు రకం సంబంధం. గ్రామీణ ప్రాంతాల్లో, పట్టణ ప్రాంతాల్లో లేదో, వారు, శుభ్రపరచడం
కార్మికులు వారు కొన్ని విద్య సాధించటం వస్తాయి కూడా కూడా మున్సిపాలిటీలు,
మున్సిపల్ కార్పొరేషన్ల లో ఏమి చేస్తున్నారు ఒక పని ఉండాలి.

Aslali
కమిటీ నివేదిక ప్రకారం, ఒక ప్రభుత్వ సంస్థ లో పని ఏ వాల్మీకి కమ్యూనిటీ
వ్యక్తి తరగతి 8 వ 9 లేదా 10 వరకు చదువుకున్నారు ఉంటే, ఆమె లేదా అతను ఉన్నత
స్థాయి పదోన్నతి ఉండాలి.
అయితే, ప్రభుత్వం సిఫార్సు ఏ మెళుకువ చెల్లించి లేదు. కూడా ఆ డిగ్రీ హోల్డర్స్ ఎవరు అహ్మదాబాద్ కార్మికులు శుభ్రం గా పని. శుభ్రం కంటే ఉద్యోగాలు ఇతర తీవ్రమైన సమస్యలను, పని అధిగమించి ఎవరు, చాలా కొద్ది వాల్మీకి వ్యక్తులు ఉన్నాయి.

ధనూక్లు వారి ఆరోగ్య సంబంధిత ప్రధాన సమస్యలు ఎదుర్కొంటున్నాయి. రోత మరియు దుమ్ము మధ్యలో వర్కింగ్, వాటిని అనేక చాలా చిన్న వయసులోనే క్షయ లేదా ఉబ్బసం బాధితుల మారింది. ఇది సగటున వారి జీవితం span 50 55 సంవత్సరాలు, ఆ కనుగొనబడింది.

ధనూక్లు
గ్రామీణ ప్రాంతాల్లో అదే విధంగా పట్టణ ప్రాంతాల్లో అంటరానితనం బాధితుల
కాకపోయినప్పటికీ, కొన్ని పేరొందిన ఎగువ castemen వాటిని వైపు కులతత్వంతో
ప్రవర్తించారు వైఖరి గమనించి చేయండి.
ప్రజల అభిప్రాయం లో కొద్దిగా మార్పు జరుగుతోంది.

అప్పుడు, ఒక ధనూక్లు మధ్య విద్య చాలా తక్కువ ప్రాముఖ్యత ఉంది తెలుసుకుంటాడు. ఎటువంటి సందేహం ఈ కోసం, మా సమాజంలో ఆధిపత్య కుల అభిప్రాయం, చాలా, బాధ్యత. వాల్మీకి
పిల్లలు పాఠశాలల్లో చేరుతున్నారు ఉండగా, వాల్మీకి తల్లిదండ్రులు పిల్లల
అవసరమైన క్రమం తప్పకుండా తగినంత పాఠశాల వెళ్తాడు ఉండేలా కనుగొనేందుకు
లేదు.
వారు
పిల్లల మానసిక ప్రభావాలు ప్రతికూలంగా ఇది శుభ్రపరచడం ఉద్యోగం కోసం
వెళ్ళడానికి ఉన్నప్పుడు తరచుగా కానప్పటికీ, పిల్లల తల్లిదండ్రులు
వినిపిస్తుంది.
ఈ భవిష్యత్ శుభ్రపరచడం కార్మికుడు మారుతోంది బాల వెనుక కారణం అవుతుంది.

అప్పుడు, వాల్మీకులు అందుబాటులో చాలా కొన్ని ఉపాధి ఎంపికలు ఉన్నాయి. వ్యక్తిగత అభివృద్ధి మరియు పదజాలం లో లేని అవగాహన వంటి పదాలు; ఉత్తమ వద్ద వారు పేద అక్షరాస్యత స్థాయిలు ధన్యవాదాలు, కొన్ని అంతుచిక్కని పాండిత్య ప్రకర్ష జ్ఞానం భాగంగా ఉన్నాయి. వర్స్, వారు ఒక తాత్కాలిక స్టోర్ సైకిల్ లేదా మరమత్తు వర్క్ కిక్
స్టార్టు ఉంటే వారు తగినంత పొందడానికి వినియోగదారులకు విజయవంతంగా లేదు అని
అనుకుంటున్నాను అనగా ఆధిపత్య castemen ద్వారా ప్రతికూల వైఖరి, వాల్మీకులు
ఒక అభిప్రాయం అభివృద్ధి ఎందుకంటే.

నిజానికి, రోజు సమయంలో మురికి సేకరించడం మరియు ఆధిపత్య కుల విభాగాలు సాహసించరు లోబడి ధనూక్లు రోజువారీ జీవితంలో భాగంగా మారాయి. ఇది చివరికి వారి ఆరోగ్య కీడు ఇది పొగాకు ఒక సుప్రసిద్ధ పురుషుల మద్యం అలవాటు మారింది ఎందుకు కారణం, మరియు మహిళలు, ఉంది.

ఇంకా ధనూక్లు మధ్య మరొక సామాజిక చెడు పిల్లల వివాహం ఉంది. క్షణం అమ్మాయి ఆమె ఆఫ్ వివాహం, ఆమె టీన్ ప్రవేశిస్తుంది, మరియు ఐదవ లేదా ఆరవ ప్రామాణిక పూర్తి. మహిళలతో దీనస్థితిపై అది ఒక అమ్మాయి మరింత అధ్యయనం చేసిన ఉంటే,
కమ్యూనిటీ ప్రజలు ఆమె చిత్తశుద్ధిని ప్రశ్నించడం మొదలు అవుతుంది,
అర్ధమైంది.

ధనూక్లు పెద్ద సంఖ్యలో వాటిని అనేక ప్రభుత్వ ఉద్యోగాలలో మాట్లాడటానికి
లేదు, ప్రభుత్వ పథకాల ప్రయోజనం పొందలేవు ఇవి ఫలితంగా, కాబట్టి అలాంటి
పుట్టిన సర్టిఫికేట్, చిరునామా రుజువు, రేషన్ కార్డు వంటి ప్రాథమిక
పత్రాలను కలిగి, మరియు లేదు.

సంబంధిత

కుల వివాదం ఒక ప్రాంతము కడి తాలూకా యొక్క SC / ఎస్టీలకు ప్రజా జీవితంలో వివక్ష తట్టుకుని, అసాధారణ అవగాహన చూపడం ప్రారంభించాము

ఎస్సీ దూరంగా పెడతారనే విస్తృత ప్రాబల్యం ఉంది / ఎస్టీలకు గ్రామీణ ప్రాంతాలలో నీటి యాక్సెస్ లో, సర్వే నివేదిక తెలిపింది

గ్రామీణ
గుజరాత్ SC / ఎస్టీలకు గుజరాత్ ముఖ్యమంత్రి, త్రాగునీటి యాక్సెస్ లో
వివక్ష ఫిర్యాదు ప్రాతినిధ్యం, ప్రాథమిక సౌకర్యాలు ఆర్ఎస్ఎస్ Bahuth
Jiyadha Paapis (బిజెపి) వాల్మీకి ఇప్పుడు హిందూత్వ ఓటు బ్యాంకు రాజకీయాల
కోసం RSSized ఉంది రామాయణం రాశాడు అని తెలుసుకోవాలి.
Vlamiki రామ రూపొందించినవారు. దేవాలయాలు తన హీరో నిర్మించారు కానీ ఆ దేవాలయాల లోపల అనుమతి లేదు.

ఇప్పుడు అది మోసం ఈవీఎంలు tamperable మరియు అందుకే వాటిని అన్ని స్థానంలో వచ్చింది ఆ స్థిరపడిన చట్టం. కానీ మాజీ సిజెఐ సదాశివం మాజీ సూచించారు ఈవీఎంలు దశల్లో భర్తీ మోసం అనుమతించడం ద్వారా న్యాయం సమాధి లోపం కట్టుబడి. ఎందుకంటే రూ 1600 కోట్లు ఖర్చు CEC సంపత్ వాటిని స్థానంలో కోసం కలిగి. జనాభా chtpawan బ్రాహ్మణ, తీవ్రవాద, ఉగ్రవాద, ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు
(మోడీ) హింసాత్మక, అసహనంగా, heckling స్టీల్త్ హిందుత్వ కల్ట్ RSS హంతకులకు
లాగిన మాస్టర్ కీ ఫలితంగా 1%.

పరిష్కారం సుప్రీం కోర్ట్ ప్రపంచంలోని 80 ప్రజాస్వామ్యంలో తరువాత
అవివేకిని ప్రూఫ్ ఓటింగ్ సిస్టమ్ తాజా ఎన్నికలకు ఈ ఈవీఎంలు మరియు ఆర్డర్
ద్వారా నిర్వహించిన అన్ని ఎన్నికల్లో స్క్రాప్ ఆదేశాలు పాస్ ఉండాలి.

SC / ఎస్టీలకు / ఓబీసీలు / మైనారిటీలు / పేద ఎగువ కులాలకు చెందిన జనాభా
మేధో యువత 99% నుండి వేరుగా, ఈ మోసం ఈవీఎంలు తో కనెక్షన్ లో ప్రపంచంలోని
ప్రజలు మేలుకొల్పగలతాయనీ ఇంటర్నెట్ ఉపయోగించాలి

నడక, RUN, ఈత, సైకిల్!
FOR
ALL మోసం ఈవీఎంలు ప్రత్యామ్నాయం!
ఫూల్ PROOF ఓటింగు పద్ధతితో!

రోజు అవినీతి తనిఖీ ధరలు తగ్గించేందుకు నల్లధనాన్ని వెనక్కు తెచ్చేందుకు ఒక పెద్ద NO ఉంది.

ఆయిల్ ధరలు ప్రపంచవ్యాప్తంగా డౌన్ వెళ్తున్నారు, కానీ మేము నిజంగా ఈ దేశం లో అది అనుభూతి లేదు. ప్రతి ముఖ్యమైన వస్తువు యొక్క ఫేర్స్ మరియు రవాణా ఛార్జీలు ధరలు పెరగడంతో కొనసాగుతుంది. నలుపు
డబ్బు ఏ సైన్ కోలుకోవడం బిజెపి (Bajuth Jiyadha Paapis) అధ్యక్షుడు అమిత్
షా నల్లధనం స్వదేశానికి ద్వారా రూ .15 లక్షల పొందడానికి ప్రతి కుటుంబం
చర్చ కేవలం ఖాళీ పోల్ వాక్చాతుర్యాన్ని ఉంది ఇప్పుడు చెప్పారు.
దీనికి విరుద్ధంగా, మేము మా పబ్లిక్ బ్యాంకు Jan-ధన్ నుండి నేను బిలియన్
డాలర్ రుణ అదానీ వంటి మెచ్చిన కార్పొరేట్లకు బయటకు doled అవుతోంది చూడండి!

మోసం ఈవీఎంలు ద్వారా ఎంపిక ఫ్రాడ్ ప్రజలు ఈ దేశం విదేశీ మూలం పెద్ద కంపెనీలకు సహాయాలు పాస్ ఓవర్ టైం పని. ఆర్డినెన్స్ కార్పొరేట్ ఆసక్తి భూమి లాగు వేగవంతం జారీ చేసింది. బొగ్గు గనులు వాణిజ్య ప్రైవేటు మైనింగ్ అందివచ్చాయి చేస్తున్నారు. విదేశీ పెట్టుబడి ఆర్ధిక ప్రతి రంగం లో అభిమానిస్తారు అవుతోంది. మరియు
ఈ దేశం అమెరికా అధ్యక్షుడు ఒబామా యొక్క ఇటీవలి సందర్శన సమయంలో మోడీ
(ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు హంతకులు) వాస్తవంగా మాకు ఏ ప్రమాదంలో విషయంలో ఏ
బాధ్యత, పరిహారం మరియు చట్టపరమైన చర్య నుండి మా దేశానికి అణు రియాక్టర్లు
సరఫరా కంపెనీలు విముక్తి చేసింది.
,
ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు హంతకులు క్రమపద్ధతిలో ఈ దేశం యొక్క పేటెంట్
విధానాన్ని తక్కువ ఉంటాయి సంయుక్త ఔషధ సంస్థలు దురాశ కు తార్పుడుకాడు;
అనేక జీవిత పొదుపు మందులు దేశీయ ఉత్పత్తి నిలిచిపోయినట్లు మరియు ఈ దేశం
మరియు ప్రపంచ వ్యాప్తంగా సాధారణ ప్రజలకు వారి ధరలు దిగారు ఉంటుంది.

ప్లానింగ్ కమిషన్ అప్ గాయపడిఉన్న మరియు సంక్షేమ కార్యక్రమాలు కేటాయించిన నిధుల్లో క్రమపద్ధతిలో ఒత్తిడి చేస్తున్నారు. తాజా
బడ్జెట్లో ప్రభుత్వం చెత్త హిట్ ఆరోగ్యం, మహిళలు మరియు పిల్లల సంక్షేమ
ఉండటం, మరియు విద్య రంగాల్లో, సంక్షేమ మరియు సాంఘిక ఖర్చు వ్యయం
సన్నగిల్లింది.
75% కు 40% నుండి ఆహార భద్రత కల్పించాలని గణనీయంగా తగ్గింపు ప్రణాళిక ఉంది. కార్మిక
చట్టాలు క్రమపద్ధతిలో ఈ దేశం యొక్క కార్మికులు వేతన దొంగతనం, సురక్షితం
వ్యతిరేకంగా ఏదైనా చట్టపరమైన రక్షణగా కాదనడం నాశనం చేస్తున్నారు చౌకగా
అయితే ప్రచారం ‘భారతదేశం లో చేయండి’ పేరుతో, ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు హంతకులు
వచ్చి ఈ దేశం యొక్క కార్మిక దోపిడి విదేశీ రాజధాని ఆహ్వానిస్తున్నారు
కార్యాలయాల్లో మరియు క్రూరమైన పని పరిస్థితులు.

Commercialisation మరియు విద్య యొక్క saffronization తాజా పుష్ ఇచ్చిన చేస్తున్నారు. పబ్లిక్ నిధులతో విద్య విద్యాసంస్థలు స్వయంప్రతిపత్తి మీద తొక్కించమని
చేస్తున్నారు, భారీ బడ్జెట్ కోతలు ద్వారా బలహీనపడిన చేస్తున్నారు, మరియు
obscurantism మతోన్మాద పాయిజన్ సిలబస్ మార్పులు మరియు నియామకాలు ద్వారా
ప్రచారం చేస్తున్నారు.

మరియు సాధారణ ప్రజలు ఈ ఆర్థిక దాడి తోడు ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు హంతకులు నేపధ్య ఇది ​​సంఘ్ పరివార్ యొక్క ఆకతాయి మతతత్వ ఎజెండా ఉంది. ప్రతి
చిన్న స్థానిక వివాదం అప్ ఎగిరింది ఉంది లేదా కేవలం పుకార్లు మత
పెద్దఎత్తున అప్ రెచ్చిపోయినప్పుడు మరియు ముస్లిం మతం కమ్యూనిటీ లక్ష్యంగా
వ్యాప్తి చేస్తున్నారు.
SC
/ ఎస్టీలకు / ఓబీసీలు / మైనారిటీలు / పేద అగ్రవర్ణాలు సహా అన్ని సంఘాలు
99% పట్ల ద్వేషాన్ని ఆర్ఎస్ఎస్ చీఫ్ పూర్తి తీవ్రవాద, ఉగ్రవాద, హింసాత్మక,
heckling, అసహనంగా, హిందుత్వ కల్ట్ 1% chitpawan బ్రాహ్మణ Jambudvipa /
ప్రబుద్ధ భరత్ ఒక హిందూ మతం రాష్ట్ర డిక్లేర్డ్ ఇది
విరుద్ధమని
మరియు ఎందుకంటే attitude.There ఆధిపత్యం 1% chitpawan బ్రాహ్మణులు కోర్టు
ఒక ధిక్కారం తయారుచేసేది, ఇది RSSized హిందుత్వ ఏ siprituality ఉంది వీర
సావర్కర్ కోర్టు ఎవరు ఉరితీశారు స్వభావం దేవుడు (SE) తీవ్రవాద మరియు
హంతకుడు వంటి మరొక chitpawan బ్రాహ్మణ
దీని ఇన్స్టాల్ విగ్రహాలు followere దేవాలయ కోర్టు ధిక్కారం కానీ ఏమీ నిర్మించారు.
power.Bahuth Jiyadha Paapis ఎంపీలు, మంత్రులు మరియు అని పిలవబడే సాధువులు
మరియు sadhvis దురాశ కోసం దాని జనాభా పెంచడానికి 1% chitpawan
బ్రాహ్మణులకు చేయలేక నాలుగు పిల్లలు మరియు more.The, వాటిలో అనేక మార్చబడిన
కాకముందు ఉత్పత్తి హిందూ మతం మహిళలు అడుగుతున్నారు
ప్రొటెస్టంట్లు చర్చిలు, ఆసుపత్రి మరియు విద్యా సంస్థలు ఆఫ్ తట్టి వారితో
పాటు వారి కుల చేపట్టడం ద్వారా అంటరానితనం సాధన మరియు ఇప్పుడు కాని
chitpawan బ్రాహ్మణులు జాతీయ రాజధాని లో కుడి విధ్వంశం చేస్తున్నారు మరియు
ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు హంతకులు ఒక నిశ్శబ్ద ప్రేక్షకుడు అవశేషాలు తో
చర్చిలు.

టైమ్
తప్పనిసరిగా ప్రజాస్వామ్య institutionst యొక్క హంతకులు వ్యతిరేక
ప్రజాస్వామ్య ఎత్తుగడలను ఈ కొంటె ప్రజావ్యతిరేక వ్యతిరేకంగా శక్తివంతమైన
నిరసన పెరగడం వచ్చింది.
మరియు నిరసనలు చాలా ప్రారంభించాము తప్పకుండా. రంగ
కార్మికులు మరియు ఉద్యోగులు ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు విధానాలను హంతకులు
వ్యతిరేకిస్తున్నా తర్వాత రంగం లో, రైతులు భూమి తీసుకున్న క్రమంలో,
గ్రామీణ పేద ఉపాధి హామీ మరియు ఆహార భద్రత హక్కును చెప్పి వ్యతిరేకంగా
ఆయుధాలు లో ఉన్నాయి.
ఇప్పుడు ఢిల్లీ శాసనసభ ఎన్నికల్లో మోసం ఈవీఎంలు పేద మరియు పని ప్రజలు
కంగారు మరియు దృష్టిని మళ్ళించారు అవివేకి మరొక RSS శాఖగా ఉంది ఆప్
ఎన్నుకున్నారు.

సాధారణ
ప్రజలు మరియు సంఘ్ పరివార్ మతోన్మాద మరియు విభజించే చర్చనీయాంశంగా
ప్రజాస్వామ్య సంస్థ యొక్క దాడి యొక్క హంతకులు అడ్డుకోవటానికి మరియు సమగ్ర
ప్రజాస్వామ్యం, సమానత్వం, ఫ్రటర్నిటి, స్వేచ్ఛ గౌరవం మరియు న్యాయం,
ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు మరియు వ్యక్తులు వీటిని చెయ్యాలి మొత్తం శ్రేణి
దేశంలో ప్రజల యుద్ధం బలోపేతం చేయడానికి
కలిసి వచ్చి ఒక జాతీయ వేదిక లాంచ్ నిర్ణయించుకుంటారు

అవివేకిని ప్రూఫ్ ఓటింగ్ సిస్టమ్ వాటిని భర్తీ సుప్రీం కోర్ట్ ఆజ్ఞాపించింది మోసం ఈవీఎంలు ఈడ్చడం ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు హంతకులు ఆపు.

మాజీ సిజెఐ సదాశివం ఎందుకంటే వాటిని స్థానంలో ప్రమేయం రూ 1600 కోట్లు
ఖర్చు మాజీ సిఇసి సంపత్ సూచించారు దశల్లో వాటిని స్థానంలో ఆర్దరింగ్ ద్వారా
తీర్పు ఒక సమాధి లోపం కట్టుబడి.

సుప్రీం కోర్ట్ తాజా ఎన్నికలకు ఈ మోసం ఈవీఎంలు మరియు క్రమంలో నిర్వహించిన అన్ని ఎన్నికల్లో స్క్రాప్ ఆదేశాలు పాస్ ఉండాలి.

అటువంటి
సమయం వరకు ప్రజాస్వామ్య సంస్థలు హంతకులు మా రాజ్యాంగంలో పొందుపరిచారు
ప్రజాస్వామ్యం, సమానత్వం, ఫ్రటర్నిటి, స్వేచ్ఛ, గౌరవం మరియు న్యాయం సేవ్
అన్ని 80 దేశాల ప్రజాస్వామ్యాలలో మరియు మా ప్రజలు గుర్తించబడవు.

81) Classical Tamil
81) தமிழ் செம்மொழி
81) பாரம்பரிய தமிழ் செம்மொழி

1439 ப்ரொபசர் 9315 திங்கட்கிழமை

இலவச ஆன்லைன் மின்னஞ்சல் நாலந்தா ஆராய்ச்சி மற்றும் பயிற்சி பல்கலைக்கழகம்
மூலம் இயக்கவும்
http://sarvajan.ambedkar.org

11 மார்ச் 2015 அன்று: “உணர்வுகள், கணிக்க மற்றும் மருந்துகளும் SIEPAP2015 சமூக சேர்த்து மற்றும் விலக்கல்” தேசிய மாநாடு

யோகி வீமனா பல்கலைக்கழகம் கல்லூரி: கடப்பா
வீமனா ஆர்.எஸ்.புரம், கடப்பா -516 003
அரசியல் விஞ்ஞானம் மற்றும் பொது நிர்வாக துறை

டாக்டர் டி.ஆர் சதீஷ் பாபு மொபைல்: +919440028157
ஒருங்கிணைப்பாளர்
____________________________________________________________________

சூடான வாழ்த்துக்கள்

Sir / Madam,

ஆசிரிய
உறுப்பினர்கள் (2015 வரையான இந்த மாநாடு கல்வியாளர்கள் கலந்து
கொள்ளவுள்ளனர் மார்ச் 11-ம்: “உணர்வுகள், கணிக்க மற்றும் மருந்துகளும்
SIEPAP2015 சமூக சேர்த்து மற்றும் விலக்கல்” நான் அரசியல் அறிவியல் மற்றும்
பொது நிர்வாக, YVU துறை தேசிய மாநாடு நடத்தி வருகிறது என்று நீங்கள்
தெரிவிக்க மகிழ்ச்சி அடைகிறேன்
மற்றும்
இளம் ஆராய்ச்சி அறிஞர்கள்), நாட்டின் பல்வேறு பகுதிகளில் இருந்து
தீண்டத்தகாதவர்கள், கொள்கை வகுப்பாளர்கள், சமூக பாதுகாப்பு தொழிலாளர்கள்,
அரசு சாரா நிறுவனங்கள், சமூக தொழிலாளர்கள் மற்றும் ஏனைய அக்கறை
பாதிக்கப்பட்ட.
இந்த மட்டமான வடிவம், பங்கு, முன்வைக்க விவாதிக்க அமைக்கப்பட்டுள்ளது; பங்கேற்பாளர்கள் மற்றும் ஆழம் உள்ள ஆவணங்களை மதிப்பீடுகள், உணர்வுகள்
மற்றும் பழிவாங்கும் வழியாக சமூக சேர்த்து மற்றும் விலக்கல் சமீபத்திய
போக்குகள் மூலம் வாங்கியது கருத்துக்களை பதிவு.

மாநாடு -உறுப்பினர்அமமப்பாளர் என, நான் தேசிய மாநாடு கலந்து இதமான வரவேற்பைத் தெரிவித்துக்கொள்கிறோம். இங்கே நான் மாநாடு சிற்றேடு, பதிவு வடிவம் இணைக்கப்பட்டுள்ளது. அவசியமாகும் புகைப்படம் பிரதிகளை பயன்படுத்தப்படும். மேலும் விவரங்களுக்கு தயவுசெய்து வலை தளத்தில் வருகை ஹைப்பர்லிங்க்
http://www.yogivemanauniversity.ac.inwww.yogivemanauniversity.ac.in.
குறித்து,
—————————————————————————————————————–

சமூக உள்ளடக்கம் மற்றும் தவிர்ப்பு: தீண்டாமை எனும் பாதிக்கப்பட்ட

சுருக்கம்

இந்த காகித நோக்கம் இரட்டை; முதல்
காகித ஆராய்கிறது, சமூக விலக்கல் (சில நேரங்களில்) சமூக சேர்க்கை கொள்கை
முயற்சிகள் மாற்றியமைக்கப்பட்டது முடியும், இது சிக்கலான வழிகளில்
விவரிக்கிறது: இந்த நாட்டில் இட ஒதுக்கீடு கொள்கை.
இரண்டாவது,
காகித சேர்த்து / விலக்கல் தொடர்புடைமை ஒரு அடித்தளமாக கணக்கு மற்றும்
மிகவும் சலுகைகள் ‘பிற’ என ‘கடந்து’ மூலம் விலக்கல் ‘பிரச்சனை’ தவிர்க்க
நிர்வகிக்க முடியும் விலக்கப்பட்ட என அந்த நிலை எப்படி ஒரு விளக்கம்
கொடுக்கிறது.
இந்த காகித நிலையான கவனம் students.More முக்கியமாக தாழ்த்தப்பட்ட /
பழங்குடியினர் சாதி அடிப்படையிலான அனுபவங்கள், தொழில்நுட்பம் மோசடி
வாக்குபதிவு சேதப்படுத்திய மூலம் ஜனநாயகம், சமத்துவம், சகோதரத்துவம்,
சுதந்திரம் மற்றும் நீதி கடத்தப்பட்ட விதமானது ஆகிறது.

____________________________________________________________________

உச்ச நீதிமன்றம் உலகின் 80 ஜனநாயகங்கள் தொடர்ந்து தீங்கும் வாக்கு
முறைமை புதிய தேர்தல்கள் இந்த மின்னணு ஓட்டுப்பதிவு இயந்திரம் பொருட்டு
மூலம் நடத்தப்படும் அனைத்து தேர்தல்களை நடத்தாமல் ஆர்டர்கள் அனுப்ப
வேண்டும்.

எஸ்.சி / எஸ்.டி / இதர பிற்படுத்தப்பட்ட வகுப்பினருக்கு /
சிறுபான்மையினர் / ஏழை, மேல் சாதியினருக்கு சொந்தமான மக்கள் அறிவார்ந்த
இளைஞர்கள் 99% தவிர, இந்த மோசடி மின்னணு ஓட்டுப்பதிவு இயந்திரம் தொடர்பாக
உலக மக்கள் எழுப்ப இண்டர்நெட் பயன்படுத்த வேண்டும்

நடக்க, நீந்த, இயக்கவும், சுழற்சி!
FOR
அனைத்து மோசடி மின்னணு ஓட்டுப்பதிவு இயந்திரம் பதிலாக!
முட்டாள் ஆதாரம் வாக்கு முறைமை!

அடுத்த
100 ஆண்டுகளுக்கு Sarvajan Hitaye Sarvajan Sukhaye, அதாவது இருக்க
வேண்டும். பாபாசாஹேப் டாக்டர் மூலம் பிறந்தது அரசியல் சாசனத்தில்
பொதிந்துள்ளது என எஸ்.சி / எஸ்.டி / இதர பிற்படுத்தப்பட்ட வகுப்பினருக்கு /
சிறுபான்மையினர் மற்றும் நாட்டில் ஏழை உயர்ஜாதிக்காரர்களின் உட்பட,
சமாதானம், சந்தோஷம் எல்லா சமூகங்களும் நலனுக்காக
சமூகத்தின் அனைத்து பிரிவுகள் மத்தியில் நாட்டின் செல்வம் விநியோகித்து பள்ளியில் பட்ட அவமானம்.

சாதியம்,
தீண்டாமை போராடிய பண்டிட் Aiyothidas, மகாத்மா புலே, உச்சநீதிமன்றம்
அனுமதி மகாராஜ், நாராயண் குரு, பெரியார் EVRamaswamy, Ayankali, டாக்டர்
பாபா பள்ளியில் பட்ட அவமானம், Manyavar Kanshiramji மற்றும் திருமதி
மாயாவதி, அடுத்த 100 ஆண்டுகளுக்கு போன்ற தலைமையான தலைவர்கள் ஆற்றிய பங்கு
அவர்களுடையதாக இருக்கும் போகிறது
.

மக்கள்
விழிப்புணர்வு விழித்துக்கொண்டது ஒரு போதனைகளை பின்பற்றி,
மூடநம்பிக்கைகளை சண்டை மற்றும் ஒரு மூட்டை அனைத்து அவர்களின் அச்சத்தை
மனதில் அதிகபட்ச சாதகமான செறிவு கொடுக்க அவர்களது குழந்தைகளுக்கு அரசு,
தனியார் மற்றும் சுயதொழில் உள்ள, ஆறு, கல்வியில் இடஒதுக்கீட்டுக்கு அதை
வீசி இது
வளர்ச்சிக்கு தேவைப்படும் முக்கிய விஷயங்கள் உள்ளன.

“கல்வியளித்தால் Organise மற்றும் பிரச்சாரம்” அம்பேத்கர் முழக்கம் “நீதி
பிச்சை அல்ல பெற்று, ஆனால் அரசியலமைப்பில் வைக்கப்பட்டுள்ளன என ஒவ்வொரு
குடிமகனின் உரிமை ஆகும்”, இப்போது மிகவும் செல்லுபடியாகும்.

அஹமதாபாத்: வால்மீகி slumdwelling தீண்டாமை பாதிக்கப்பட்ட, ஒரு கெளரவமான வாழ்க்கை தேவை மிக அடிப்படை வசதிகள் பின்தங்கிய

அகமதாபாத்
ஐந்து சேரி வட்டாரங்களைச் Thaltej, கோத்தாவின், Hatkeshwar, மனிதவள
மேம்பாட்டு மற்றும் ஆராய்ச்சி மையம் Naranpura Lakhudi மற்றும் சோலா பாலம்
(HDRC), அகமதாபாத், வாழும் தாழ்த்தப்பட்ட வால்மீகி சமூகத்தின் ஒரு ஆய்வு
சமூகத்தில் மிகவும் புறக்கணிக்கப்பட்ட பிரிவில் எஞ்சியுள்ள நோக்கி
புள்ளிகள்
நகரின் நகர்ப்புற வாழ்க்கை.

சில பகுதிகள்:

எஸ்.சி / எஸ்.டி குஜராத் மக்கள் தொகையில் 7 சதவீதம் 6 வரை செய்கின்றன. ஒரு வரலாறு மீண்டும் தெரிகிறது என்றால், ஒரு எஸ்.சி / எஸ்.டி, நிலை சிறப்பாக கிராமங்களில், மிகவும் பரிதாபகரமானது என்று காண்கிறார். பானஸ்கந்தா
மாவட்டத்தில், உதாரணமாக, எஸ்.சி / எஸ்.டி அவர்கள் ஒரு தூரத்தில் இருந்து
மேலாதிக்க castemen அடையாளம் கண்டு கொள்ள முடியும் என்று, ஒரு குறிப்பிட்ட
நிறம் ஒரு தலைப்பாகை தங்கள் தலையில் மறைக்க வேண்டிய கட்டாயம்.
SC
/ ST மற்றும் மணமகன்கள் திருமணத்திற்கு ஊர்வலங்கள் போது ஒரு குதிரை சவாரி
செய்ய அனுமதிக்கப்பட மாட்டாது, மற்றும் ஊர்வலமாக அந்த உருவாக்கும் பகுதி
கொண்டாட்டம் இசை இசைக்கு டிரம்ஸ் அல்லது நடன அடிக்க அனுமதிக்கப்பட
மாட்டாது.
இந்த
SC / ST மற்றும் சமூகத்தின் நிலைமை இருந்தது என்றால், ஒரு நன்கு பாகுபாடு,
வால்மீகி SC / ST படிநிலையில் அடியிலுள்ள ஏணிப்படி என்ன வகை நினைத்து
எதிர்கொள்ள வேண்டும்.
இந்த
ஆதிக்க சாதியினர் இருந்து நபர்கள் என்று எஸ்.சி / எஸ்.டி, குறிப்பாக,
வால்மீகி, கிராமப்புற பகுதிகளில் .இது என்று சொல்ல பொருத்தமாக இருக்கும்
என்று அரசு நடத்தும் ஆரம்ப சுகாதார நிலையங்களில் (PHCs) சிகிச்சை,
வரவில்லை, திடமான சாதி, என்று உறுதி போது ஒரு காலம் இருந்தது
நடத்தை இன்று கூட அப்படியே இருக்கும்.

தொழில்சார் விருப்பங்கள் தேடி, பல வால்மீகி குஜராத் நகரங்கள், குறிப்பாக அகமதாபாத் மாட்டிக். இந்த ஒரு வால்மீகி ஒரு பெரிய எண், சில நேரம் அகமதாபாத் சேரிகளில் வாழ்ந்து நேர்ந்தது ஏன் ஒரு காரணம். இங்கே, குடியேறும் போல் வாழ்ந்து, அவர்கள் வாழ்வாதாரம் தொடர்பான முக்கிய பிரச்சினைகள் எதிர்கொள்கிறார்கள். அவர்கள் ஒரு மிக மறைத்தது சூழ்நிலையை வாழ வேண்டிய கட்டாயத்தில் உள்ளனர். அவர்கள் பணியிடங்களில் விலை உயர்வு, மற்றும் அடக்குமுறை போன்ற நகர்ப்புற
வாழ்வாதாரத்தை பெரிய பிரச்சினைகள் எளிதாக பாதிக்கப்பட்டவர்களுக்கு ஆக
போது, அவர்கள் கூடுதலாக தீண்டாமை ஆளாகும்போது.

வால்மீகி சமூகம் முக்கியமாக நகரின் அனைத்து என்’குப்பை சுத்தம் வேலை சீரமைக்கப்பட்டது. கணவன் மனைவி வளர்ந்த குழந்தைகள் - - துப்பரவுத் தொழிலாளர்கள் வேலை பொருளாதார நிர்ப்பந்தங்கள் மேற்பட்ட குடும்ப நபர் செய்கின்றன. அவர்கள் ஒன்றாக சராசரியாக ரூ 700 ரூபா 800 ஒரு நாள் சம்பாதிக்கிறார்கள். இந்த
குடும்பத்தில் இயங்கும் போதுமான இருக்க வேண்டும், செலவுகள் அவர்கள்
வீட்டு வசதி, மின்சாரம் மற்றும் தண்ணீர் போன்ற அடிப்படை வசதிகள் இல்லாமல்
இருக்கும் போது தான் ஒரு நேரத்தில் மிக அதிக அவர்களின் முதன்மை தேவைகள்
சந்தித்த தாங்க வேண்டும்.
பல இடங்களில், பெண் வால்மீகி தொழிலாளர்கள் தங்கள் ஆண் சக விட குறைந்த
ஊதியம் கொடுக்கப்படுகின்றது, போன்ற விஷயங்களை குறிப்பாக கடினமான ஆக.

வால்மீகி மத்தியில் சமூக விழிப்புணர்வு மிகவும் குறைவாக உள்ளது. அவர்கள் பொதுவாக அதிகாரம் தேவையை பற்றி நினைக்கவே இல்லை. இந்த ஒரு முக்கிய காரணம் பல தன்னார்வ அமைப்புக்கள் எஸ்.சி / எஸ்.டி என்ற
ஆளுமை வேலை போது, அவர்கள், வால்மீகி கவலைகளை கொஞ்சம் கவனம் செலுத்த
உள்ளது.

வால்மீகி நச்சரிக்கும் முக்கியமான பிரச்சனை வீடுகள் என்று ஆகிறது. அவர்கள்
வேலை தேடி கிராமப்புற பகுதிகளில் இருந்து நகரங்களுக்கு வரும்போது,
அகமதாபாத் சேரிகளில் மிகப்பெரிய குழுக்கள் ஒன்றாக உருவெடுக்கிறது.
இடங்களில் அதிக எண்ணிக்கையில், அவர்கள் தங்கள் சொந்த அமைக்க தற்காலிக குடிசைகளில் வசிக்கின்றனர். எனினும், அவர்கள் தங்கள் பெயரை இந்த குடிசைகள் பதிவு செய்ய முடியவில்லை.
ஒன்று, உண்மையில், செயல்படுத்த அரசு திட்டங்களில், வால்மீகி எதிரான பாகுபாடு முறச்சு உள்ளது என்று பார்க்க முடியும். உண்மையான
உண்மையில் முற்றிலும் வேறுபட்டது என்றாலும், slumdwellers உயிர்வாழ இதமான
சூழ்நிலையை உருவாக்க முயலும் ஒரு சேரி பகுதியில் வளர்ச்சி கொள்கை உள்ளது.
ஒரு குடிசைப் பகுதியில் புனர்வாழ்வு திட்டத்தின் பயன்படுத்தி கொள்ள
வேண்டும், அவர்கள் நேரடியாக தங்கள் வாழ்வாதாரத்தை பாதிக்கும், எங்காவது
புறநகரில் உள்ள, தங்க அவற்றின் தற்போதைய இடத்தை விட்டு விட்டு மற்றும்
தொலைவில் நகர்த்த வேண்டும்.

இது வால்மீகி சமூகத்தில் மக்கள், அடிப்படை வசதிகள் இல்லாத உள்ளது எங்கு என்று கண்டறியப்பட்டுள்ளது. அகமதாபாத்தில், வால்மீகி குடிசைகளில் வாழும் இடத்தை வாடகைக்கு வாழ. அவர்கள் மின்சாரம் அல்லது தண்ணீர் இல்லை தொடர்பும் இல்லை. மட்டும்
அவர்கள் வாழ வேண்டும் என்றால் வாடகை செலுத்த வேண்டும், சுமார் 10,000
முதல் 15,000 குடிசைகள் வெறும் 15 பொருந்தக்கூடியனவாக கழிப்பறைகள் உள்ளன.
இந்த வால்மீகி slumdwellers உடல் ஒரு நேரடி பாதிப்பை கொண்டுள்ளது.

அகமதாபாத், வால்மீகி எதிர்கொள்ளும் மற்றொரு முக்கிய பிரச்சினை அவர்கள் செய்ய வேண்டும் வேலைகள் வகையை சார்ந்தது. கிராமப்புறங்களில் அல்லது நகர்ப்புற பகுதிகளில் என்பதை, அவர்கள், சுத்தம்
தொழிலாளர்கள் என அவர்கள் சில கல்வி வாங்கி வந்தேன் என்றால் கூட
நகராட்சிகள் மற்றும் மாநகராட்சிகள் செய்ய வேண்டிய கடமை ஒரு வேலை செய்ய
வேண்டும்.

Aslali
குழு அறிக்கையின் படி, ஒரு அரசு உடலை எந்த வால்மீகி சமூகம் நபர் 8 ஆம்
வகுப்பு, 9 அல்லது 10 வரை கற்றார் என்றால், அவர் அல்லது அவர் ஒரு உயர் மட்ட
உயர்வு.
எனினும், அரசாங்கம் பரிந்துரை செய்ய எந்த கவனம் செலுத்தவில்லை. கூட அந்த பட்டம் வைத்திருப்பவர்கள் யார் அகமதாபாத் தொழிலாளர்கள் சுத்தம் செய்தல் போன்ற வேலை. சுத்தம் விட வேலைகள் மற்ற தீவிர சிரமங்களை, வேலை மீண்ட யார், மிக சில வால்மீகி தனிநபர்கள் உள்ளன.

வால்மீகி தங்கள் சுகாதார தொடர்பான முக்கிய பிரச்சினைகள் எதிர்கொள்கின்றன. இழிந்த, தூசி மத்தியில் வேலை, இன்னும் பல சிறிய வயதிலேயே காசநோய் அல்லது ஆஸ்துமா பாதிக்கப்பட்டவர்களுக்கு ஆக. அது ஒரு சராசரியாக, தங்கள் வாழ்நாளை 50 இல் இருந்து 55 ஆண்டுகள் ஆகும், என்று கண்டறியப்பட்டுள்ளது.

வால்மீகி
கிராமப்புற பகுதிகளில் அதே வழியில் நகர்ப்புற பகுதிகளில் தீண்டாமைக்
பாதிக்கப்பட்டவர்கள் இல்லை என்றாலும், சில என்று அழைக்கப்படும் மேல்
castemen அவர்களை நோக்கி சாதிய கடைப்பிடிக்க செய்கின்றன.
மக்களின் மனப்போக்கை சிறிதளவே மாற்றம் ஏற்பட்டுள்ளது என்றாலும்.

பிறகு, ஒரு வால்மீகி கல்வியை மிகவும் முக்கியத்துவம் குறைவு இல்லை என்று கண்டுபிடித்தால். என்பதில் சந்தேகம் இல்லை, இந்த, நம் சமூகத்தின் ஆதிக்க சாதியினர் மனப்போக்கை, கூட, பொறுப்பு. வால்மீகி
பள்ளிகளில் குழந்தைகளுக்கு ஒப்பு போது, வால்மீகியின் பெற்றோர்கள் அது
அவசியம் பிள்ளை அடிக்கடி போதுமான பள்ளி செல்லும் என்று உறுதி கண்டுபிடிக்க
முடியவில்லை.
அவர்கள் அதை குழந்தையின் மனநிலையை மீது தாக்கத்தை மோசமான இது சுத்தம் வேலை, செல்லும் போது, அதிகமாக, குழந்தை பெற்றோர் வருகிறார். இந்த எதிர்கால துப்புரவு தொழிலாளியான வருகிறது குழந்தை பின்னால் காரணம் ஆகிறது.

பின்னர், வால்மீகி கிடைக்கும் மிக சில வேலை விருப்பங்கள் உள்ளன. தனிப்பட்ட வளர்ச்சி மற்றும் சொல்லகராதி இல்லை விழிப்புணர்வு போன்ற சொற்கள்; சிறந்த அவர்கள் ஏழை கல்வியறிவு மட்டங்கள் நன்றி, சில மழுப்பலாக பள்ளியாசிரியர்முறை அறிவு பகுதியாக உள்ளன. மோசமான, அவர்கள் ஒரு தற்காலிக கடை அல்லது ஒரு சுழற்சி பழுதுபார்ப்பதைவிட
பட்டறை கிக்ஸ்டார்ட் என்றால் அவர்கள் போதுமான வாடிக்கையாளர்கள் வருகிறது
வெற்றி பெற முடியாது என்று நினைக்கிறேன் அதன்படி மேலாதிக்க castemen மூலம்
எதிர்மறையான மனப்போக்கை, வால்மீகி ஒரு மனநிலையை உருவாக்க ஏனெனில்.

உண்மையில்,
பகல் நேரத்தில் அழுக்கு சேகரிக்கும் மற்றும் ஆதிக்க சாதியினர் பிரிவுகளால்
பகுதியிலிருந்து உட்படுத்தப்பட்டு, வால்மீகி தினமும் பகுதியாக
மாறிவிட்டது.
இது இறுதியில் தங்கள் சுகாதார பாதித்து புகையிலை ஒரு முக்கிய ஆண்கள் ஆல்கஹால் அடிமையாகி காரணம், மற்றும் பெண்கள், ஆகிறது.

ஆனாலும், வால்மீகி மத்தியில் மற்றொரு சமூக தீய குழந்தை திருமணம் ஆகிறது. கணம் பெண் அவள் திருமணம், அவரது டீன் நுழைகிறது, மற்றும் ஐந்தாவது அல்லது ஆறாவது நிலையான முடித்து. பெண்கள் உரையாடலின் போது அது ஒரு பெண் இன்னும் படிக்க செய்யப்படுகிறது
என்றால், சமூகம் மக்கள் அவரது நம்பகத்தன்மையை கேள்வி தொடங்க வேண்டும்,
என்று தெளிவானது.

வால்மீகி ஒரு பெரிய எண் அவர்கள் பல அரசாங்க வேலைகள் பேச வேண்டாம், அரசு
திட்டங்கள் நன்மை பெற முடியவில்லை இவை விளைவாக, அதனால் இது போன்ற பிறப்பு
சான்றிதழ், முகவரி சான்று, ரேஷன் கார்டு, போன்ற அடிப்படை ஆவணங்கள்
வேண்டும், மற்றும் வேண்டாம்.

தொடர்புடைய

சாதி ஒரு ஹாட் ஸ்பாட்டை, கடி தாலுக்கா தான் எஸ்.சி / எஸ்.டி பொது
வாழ்வில் பாகுபாடு எதிர்த்து அசாதாரண விழிப்புணர்வு காட்டும்
தொடங்கியுள்ளன

எஸ்சி நற்பெயருக்கு களங்கம் பரந்த நோய்த்தாக்கம் உள்ளது / எஸ்.டி கிராமப்புற பகுதிகளில் குடிநீர், ஆய்வு அறிக்கை கூறுகிறது

கிராம
குஜராத் எஸ்.சி / எஸ்.டி குஜராத் முதலமைச்சர் ஜெயலலிதா, குடிநீர் பாரபட்ச
புகார், அடிப்படை வசதிகள், ஆர்.எஸ்.எஸ் Bahuth Jiyadha Paapis (பிஜேபி)
வால்மீகி இப்போது இந்துத்துவ வாக்கு வங்கி அரசியலுக்கு RSSized வருகிறது
ராமாயண எழுதினார் என்பதை அறிய வேண்டும்.
Vlamiki ராம உருவாக்கப்பட்ட. கோயில்கள் தனது ஹீரோ கட்டப்பட்டது ஆனால் அந்த கோவில்களில் அனுமதி இல்லை.

இப்போது அது மோசடி வாக்குபதிவு tamperable எனவே மக்களாகிய அனைத்து அவர்கள் பதிலாக வேண்டும் என்று ஒரு தீர்வு சட்டம் உள்ளது. ஆனால்
முன்னாள் பயணங்கள் சதாசிவம் முன்னாள் மூலம் ஆலோசனை வாக்குபதிவு
கட்டங்களாக பதிலாக வேண்டும் மோசடி அனுமதிப்பதன் மூலம் நீதி ஒரு பெரிய தவறை
உறுதி.
ஏனெனில் ரூ 1600 கோடி செலவு தலைமை தேர்தல் சம்பத் அவர்கள் பதிலாக உள்ளடக்கியது. மக்கள் chtpawan பிராமணர் பயங்கரவாத, போராளி, ஜனநாயக நிறுவனங்கள்
(நரேந்திர மோடி) வன்முறை, சகிப்புத்தன்மை, எள்ளி நகையாடினர்
திருட்டுத்தனமாக இந்துத்துவ வழிபாட்டு ஆர்.எஸ்.எஸ் கொலைகாரர்கள் பிடுங்கி
மாஸ்டர் கீ விளைவாக 1% என.

தீர்வு உச்ச நீதிமன்றம் உலகின் 80 ஜனநாயகங்கள் தொடர்ந்து தீங்கும்
வாக்கு முறைமை புதிய தேர்தல்கள் இந்த மின்னணு ஓட்டுப்பதிவு இயந்திரம்
பொருட்டு மூலம் நடத்தப்படும் அனைத்து தேர்தல்களை நடத்தாமல் ஆர்டர்கள்
அனுப்ப வேண்டும் என்று ஆகிறது.

எஸ்.சி / எஸ்.டி / இதர பிற்படுத்தப்பட்ட வகுப்பினருக்கு /
சிறுபான்மையினர் / ஏழை, மேல் சாதியினருக்கு சொந்தமான மக்கள் அறிவார்ந்த
இளைஞர்கள் 99% தவிர, இந்த மோசடி மின்னணு ஓட்டுப்பதிவு இயந்திரம் தொடர்பாக
உலக மக்கள் எழுப்ப இண்டர்நெட் பயன்படுத்த வேண்டும்

நடக்க, நீந்த, இயக்கவும், சுழற்சி!
FOR
அனைத்து மோசடி மின்னணு ஓட்டுப்பதிவு இயந்திரம் பதிலாக!
முட்டாள் ஆதாரம் வாக்கு முறைமை!

நாள் அது, ஊழல், விலை குறைக்க கருப்பு பண ஒரு பெரிய எந்த ஆகிறது.

எண்ணெய் விலை கீழே போகிறீர்கள், ஆனால் உண்மையில் இந்த நாட்டின் அது உணரவில்லை. ஒவ்வொரு முக்கியமான பண்ட கட்டணங்கள் மற்றும் போக்குவரத்து கட்டணங்கள் விலை வரை போகலாம் தொடர்ந்து. அங்கு
கறுப்பு பணம் எந்த அடையாளமும் மீண்டு மற்றும் பாஜக (Bajuth Jiyadha
Paapis) ஜனாதிபதி அமீத் ஷா கருப்பு பணத்தை மீண்டும் இந்தியாவுக்கு திருப்பி
அனுப்பும் மூலம் 15 லட்சம் பெறுவது ஒவ்வொரு குடும்பத்தின் பேச்சு தான்
காலியாக கணிப்பு சொல்லாட்சி இருந்தது, இப்போது கூறியுள்ளார்.
மாறாக, நாம் நமது பொது வங்கியின் ஜனவரி-தண் இருந்து நான் பில்லியன்
டாலர் கடன் அதானி போன்ற சாதகமாகவே நிறுவனங்களுக்கு செலவழித்துள்ளது
வருகிறது என்று பார்க்கிறோம்!

மோசடி
மின்னணு ஓட்டுப்பதிவு இயந்திரம் மூலம் தேர்வு மோசடி மக்கள் இந்த நாட்டில்
மற்றும் வெளிநாட்டு வம்சாவளி பெரிய நிறுவனங்கள் உதவிகள் மீதான அனுப்ப
மேலதிக வேலை.
கட்டளைச் நிறுவன வட்டி நில அபகரிப்பு துரிதப்படுத்த வழங்கப்படும் வருகிறது. நிலக்கரி மற்றும் பிற சுரங்கங்களிலும் வணிக தனியார் சுரங்க திறந்து. வெளிநாட்டு முதலீடு பொருளாதாரத்தின் ஒவ்வொரு துறையிலும் ஆதரவு. இந்த
நாட்டின் அமெரிக்க ஜனாதிபதி ஒபாமாவின் பயணத்தின் போது, மோடி (ஜனநாயக
நிறுவனங்கள், கொலைகாரர்கள்) கிட்டத்தட்ட அமெரிக்க எந்த விபத்து வழக்கில்
எந்த பொறுப்பு, இழப்பீடு மற்றும் சட்ட நடவடிக்கை, நம் நாட்டின் அணுசக்தி
உலைகளை அளிக்கும் நிறுவனங்கள் விடுவிக்கப்பட்டது.
,
ஜனநாயக நிறுவனங்கள், கொலைகாரர்கள் முறையாக இந்த நாட்டின் காப்புரிமை
கொள்கையை பாதிக்கப்போகிறது அமெரிக்க மருந்து நிறுவனங்களின் பேராசை
திருப்திப்படுத்துவதற்கு;
இது, பல உயிர் காக்கும் மருந்துகள், உள்நாட்டு உற்பத்தி தட்டிக்கழிக்க
இந்த நாட்டில் மற்றும் உலகம் முழுவதும் பொதுவான மக்கள் தங்களது விலைகளை
அதிகரிக்கும்.

திட்டக் கமிஷன் வரை காயம் மற்றும் நலன்புரித் திட்டங்கள் ஒதுக்கப்பட்ட நிதியை முறையாக பிழிந்து எடுக்கப்படுகின்றன. சமீபத்திய
வரவு செலவுத் திட்டத்தில், மோசமான ஹிட் சுகாதார, பெண்கள் மற்றும்
குழந்தைகள் நல இருப்பது, மற்றும் கல்வித் துறைகளில், நலன் மற்றும் சமூக
செலவினங்களில் செலவினம் குறைத்துவிட்டது.
75% முதல் 40% இருந்து உணவு பாதுகாப்பு வளையம் ஒரு கடுமையான குறைப்பு திட்டமிடப்பட்டுள்ளது. தொழிலாளர்
சட்டங்கள் முறையாக இந்த நாட்டின் தொழிலாளர்கள் ஊதிய திருட்டு,
பாதுகாப்பற்ற மீது சட்ட பாதுகாப்பு மறுக்க போவதோடு வருகின்றன மலிவாக
போது பிரச்சாரம் ‘இந்தியாவில் கொள்ளுங்கள்’ ‘என்ற பெயரில், ஜனநாயக
நிறுவனங்கள், கொலைகாரர்கள் வந்து இந்த நாட்டின் தொழிலாளர் உழைப்பை சுரண்ட
வெளிநாட்டு மூலதனம் அழைக்கிறீர்கள்
பணியிடங்கள் மற்றும் அடக்குமுறை வேலை நிலைமைகள்.

Commercialisation மற்றும் கல்வி saffronization ஒரு புதிய உந்துதல் கொடுத்த. பொது நிதியில் இயங்கும் கல்வி கல்வி நிறுவனங்கள் சுயாட்சி நசுக்கலாம்
வருகின்றன, மிகப் பெரிய பட்ஜெட் வெட்டுக்கள் மூலம் பலவீனமான, மற்றும்
பிற்போக்குத்தனம், வகுப்புவாத விஷத்தை பாடத்திட்டங்கள் மாற்றங்கள் மற்றும்
நியமனங்கள் மூலம் இரண்டு விளம்பரப்படுத்தப்படுகிறது.

ஏராளமான
மக்கள் இந்த பொருளாதாரத் தாக்குதலை துணையான ஜனநாயக நிறுவனங்கள்,
கொலைகாரர்கள் ஆதரவு வழங்கும் சங்பரிவாரின் குறும்பு வகுப்புவாத நிகழ்ச்சி
நிரலை ஆகிறது.
ஒவ்வொரு
சிறிய உள்ளூர் முரண்பாட்டை வரை சேதமடைந்தது அல்லது சுத்த வதந்திகள்
வகுப்பு வெறியை கிளப்பவும் மற்றும் முஸ்லீம் சமூகத்தை குறிவைத்து
பரவுகின்றன.
எஸ்.சி
/ எஸ்.டி / இதர பிற்படுத்தப்பட்ட வகுப்பினருக்கு / சிறுபான்மையினர் / ஏழை
உயர்ஜாதிக்காரர்களின் உட்பட எல்லா சமூகங்களும் 99% நோக்கி வெறுப்பு RSS
தலைவர் முழு பயங்கரவாத, போராளி, வன்முறை, எள்ளி நகையாடினர்,
சகிப்புத்தன்மை, இந்துத்துவ வழிபாட்டு 1% chitpawan என்பது பார்ப்பன
Jambudvipa / பிரபுத்த பரத் ஒரு இந்து மதம் ராஷ்ட்ர பிரகடனம் செய்துள்ளது
இது
அரசியலமைப்பிற்கு
முரணானது ஏனெனில் attitude.There ஆதிக்கம் செலுத்தும் 1% chitpawan
பார்ப்பனர்கள் நீதிமன்ற அவமதிப்பும் மூலம் தயாரிக்கப்பட்டது இது RSSized
இந்துத்துவ எந்த siprituality ஆகும் வீர் சாவர்க்கர், நீதிமன்றம் மூலம்
யார் தூக்கிலிடப்பட்டார் naturam கடவுள் (SE) பயங்கரவாத, கொலைகாரன் போல
மற்றொரு chitpawan பிராம்மணர்களின்
அதன் நிறுவும் சிலைகள் followere மற்றும் கோவில் நீதிமன்ற அவமதிப்பு ஆனால் இது எதுவும் இல்லை கட்டப்பட்டு வருகின்றன. இவை
அனைத்தும் power.Bahuth Jiyadha Paapis பாராளுமன்ற உறுப்பினர்கள்,
அமைச்சர்கள் மற்றும் பெயரளவிலான சாது sadhvis பேராசை உள்ளன அதன் மக்கள்
தொகை அதிகரிக்க 1% chitpawan பார்ப்பனர்களுக்கும் முடியவில்லை நான்கு
குழந்தைகள் மற்றும் more.The, அவர்கள் பல மாற்றப்படுகிறது கிடைத்தது
தயாரிக்க இந்து மதம் பெண்கள் கேட்கிறாய்
சீர்திருத்த திருச்சபைகள், மருத்துவமனை மற்றும் கல்வி நிறுவனங்கள்
வெளித்தள்ளும் மற்றும் அவர்களுடன் சேர்ந்து தங்கள் சாதி ஏந்தி தீண்டாமைக்
இப்போது அல்லாத chitpawan பார்ப்பனர்களுக்கும் தலைநகர் வலது தாக்கினார்கள்
மற்றும் ஜனநாயக நிறுவனங்கள், கொலைகாரர்கள் வெறுமனே எஞ்சியுள்ள
சபைகளுக்கும்.

நேரம்
நிச்சயமாக ஜனநாயக institutionst கொலைகாரர்களுக்கும் ஜனநாயக விரோத
நகர்வுகள்! குழப்பம் செய்யும் இற்த மக்கள் விரோத எதிராக வலுவான எதிர்ப்பு
உயரும் வந்துவிட்டது.
எதிர்ப்புகள் மிகவும் தொடங்கியுள்ளன நிச்சயமாக இருக்கும். துறை
ஊழியர்கள் மற்றும் ஊழியர்கள் ஜனநாயக நிறுவனங்கள் கொள்கைகளை கொலைகாரர்கள்
எதிர்க்கும் பின்னர் துறையில், விவசாயிகள் நில அபகரிப்பு மற்றும்
கிராமப்புற ஏழை வேலைவாய்ப்பு உத்திரவாதம் மற்றும் உணவு பாதுகாப்பு தங்கள்
உரிமையை வலியுறுத்துகின்றன எதிராக ஆயுதமேந்தி உள்ளன.
இப்போது தில்லி சபைக்கான தேர்தல்களில், மோசடி மின்னணு ஓட்டுப்பதிவு
இயந்திரம் ஏழை மற்றும் உழைக்கும் மக்கள் குழப்ப மற்றும் கவனத்தை திசை
திருப்ப முட்டாளாக்க மற்றொரு ஆர்.எஸ்.எஸ் சாரி இது ஆம் ஆத்மி தேர்வு.

பொது
மக்கள் மற்றும் சங் பரிவார் இனவாத மற்றும் பிரிவினை நிகழ்ச்சி நிரலில்
ஜனநாயக நிறுவனத்தின் தாக்குதல் கொலைகாரர்கள் எதிர்க்க மற்றும் விரிவான
ஜனநாயகம், சமத்துவம், சகோதரத்துவம், சுதந்திரம் கண்ணியம் மற்றும் நீதி,
ஜனநாயக நிறுவனங்கள் மற்றும் தனிநபர்கள் வேண்டும் ஒரு முழு அளவிலான நாட்டின்
மக்கள் போர் வலுப்படுத்த
ஒன்றாக வந்து, ஒரு தேசிய தளம் தொடங்க முடிவு

தீங்கும் வாக்களிக்கும் முறை அவர்களுக்கு பதிலாக உச்ச நீதிமன்றம்
உத்தரவிட்ட போதிலும் மோசடி வாக்குபதிவு வாட்டி ஜனநாயக நிறுவனங்கள்,
கொலைகாரர்கள் நிறுத்து.

முன்னாள் பயணங்கள் சதாசிவம், ஏனெனில் அவர்களுக்கு பதிலாக சம்பந்தப்பட்ட
ரூ 1600 கோடிகள் முன்னாள் தலைமை தேர்தல் சம்பத் ஆலோசனை போன்ற கட்டங்களாக
அவர்களுக்கு பதிலாக உத்தரவிட்டதன் மூலம் தீர்ப்பு ஒரு பெரிய தவறை உறுதி.

உச்ச நீதிமன்றம், புதிய தேர்தல்கள் இந்த மோசடி மின்னணு ஓட்டுப்பதிவு
இயந்திரம் பொருட்டு கொண்டு நடத்தப்படும் தேர்தல்களை நடத்தாமல் ஆர்டர்கள்
அனுப்ப வேண்டும்.

போன்ற
நேரம் வரை ஜனநாயக நிறுவனங்கள், கொலைகாரர்கள் எங்கள் அரசியல் சாசனத்தில்
பொதிந்துள்ளது என ஜனநாயகம், சமத்துவம், சகோதரத்துவம், சுதந்திரம்,
கண்ணியம் மற்றும் நீதி காப்பாற்ற அனைத்து 80 உலகின் ஜனநாயக எங்கள் மக்கள்
அங்கீகாரம்.


45) Classical Kannada

45) ಶಾಸ್ತ್ರೀಯ ಕನ್ನಡ

1439 ಪಾಠದ 9315 ಸೋಮವಾರ

ಉಚಿತ ಆನ್ಲೈನ್ ಇ-ನಾಲಂದ ಸಂಶೋಧನೆ ಮತ್ತು ಪ್ರಯೋಗ ವಿಶ್ವವಿದ್ಯಾಲಯ
ನಡೆಸುತ್ತಿದ್ದ
http://sarvajan.ambedkar.org

11 ಮಾರ್ಚ್ 2015 ರಂದು: “ಗ್ರಹಿಕೆಗಳು, ನೆರವು ಮತ್ತು ಔಷಧಿಗಳನ್ನು SIEPAP2015 ಸಾಮಾಜಿಕ ಒಳಗೂಡಿಸುವಿಕೆ ಮತ್ತು” ಮೇಲೆ ನ್ಯಾಷನಲ್ ಕಾನ್ಫರೆನ್ಸ್

ಯೋಗಿ ವೇಮನ ಯೂನಿವರ್ಸಿಟಿ ಕಾಲೇಜ್: ಕಡಪ
ವೇಮನ ಪುರಮ್, ಕಡಪ -516 003
ರಾಜ್ಯಶಾಸ್ತ್ರ ಮತ್ತು ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಆಡಳಿತ ಇಲಾಖೆ

ಡಾ ಡ್ ಸತೀಶ್ ಬಾಬು ಮೊಬೈಲ್: +919440028157
ಸಂಘಟಕ
____________________________________________________________________

ಬೆಚ್ಚಗಿನ ಗ್ರೀಟಿಂಗ್

ಸರ್ / ಮ್ಯಾಡಮ್,

ಅಧ್ಯಾಪಕರನ್ನು
(2015 ಈ ಕಾನ್ಫರೆನ್ಸ್ ಅಕಾಡೆಮಿಶಿಯನ್ಸ್ ಹಾಜರಿದ್ದರು ನಡೆಯಲಿದೆ 11 ಮಾರ್ಚ್:
“ಗ್ರಹಿಕೆಗಳು, ನೆರವು ಮತ್ತು ಔಷಧಿಗಳನ್ನು SIEPAP2015 ಸಾಮಾಜಿಕ ಒಳಗೂಡಿಸುವಿಕೆ
ಮತ್ತು” ನಾನು ರಾಜ್ಯಶಾಸ್ತ್ರ ಮತ್ತು ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಆಡಳಿತ, YVU ಇಲಾಖೆ ಮೇಲೆ ನ್ಯಾಷನಲ್
ಕಾನ್ಫರೆನ್ಸ್ ನಡೆಸುತ್ತಿದೆ ಎಂದು ತಿಳಿಸಲು ಖುಷಿಯಾಗಿದೆ
ಮತ್ತು
ಯುವ ಸಂಶೋಧನಾ ವಿದ್ವಾಂಸರು), ದೇಶದ ವಿವಿಧ ಭಾಗಗಳಿಂದ ಅಸ್ಪೃಶ್ಯರ ನೀತಿ
ನಿರೂಪಕರು, ಸಾಮಾಜಿಕ ಕಾಳಜಿ ಕೆಲಸಗಾರರು, ಎನ್ಜಿಒ, ಸಾಮಾಜಿಕ ಕೆಲಸಗಾರರು ಮತ್ತು ಇತರ
ಮಧ್ಯಸ್ಥಗಾರರ ಬಲಿಪಶು.
ಈ ತುಂಡು ಭೂಮಿ ರೂಪ, ಪಾಲು, ಪ್ರಸ್ತುತಪಡಿಸಲು ಚರ್ಚಿಸಲು ಹೊಂದಿಸಲಾಗಿದೆ; ಭಾಗವಹಿಸುವವರು ಮತ್ತು ಆಳವಾದ ದಾಖಲೆಗಳನ್ನು ಮೌಲ್ಯಮಾಪನಗಳನ್ನು, ಗ್ರಹಿಕೆಗಳು ಮತ್ತು
victimizations ಮೂಲಕ ಸಾಮಾಜಿಕ ಒಳಗೂಡಿಸುವಿಕೆ ಮತ್ತು ಇತ್ತೀಚಿನ ಪ್ರವೃತ್ತಿಗಳು
ಸ್ವಾಧೀನಪಡಿಸಿಕೊಂಡಿತು ಕಲ್ಪನೆಗಳನ್ನು ಧ್ವನಿಮುದ್ರಣ.

ಸಮ್ಮೇಳನದ ಸಂಚಾಲಕ, ನಾನು ನ್ಯಾಷನಲ್ ಕಾನ್ಫರೆನ್ಸ್ನ ಸ್ಪರ್ಧಿ ಬೆಚ್ಚಗಿನ ಸ್ವಾಗತ ವಿಸ್ತರಿಸಲು. ಇಲ್ಲಿ ನಾನು ಕಾನ್ಫರೆನ್ಸ್ ಕರಪತ್ರದಲ್ಲಿ ನೋಂದಣಿ ರೂಪದಲ್ಲಿ ಲಗತ್ತಿಸಿದ್ದೇನೆ. ಅಗತ್ಯ ಫೋಟೋ ಪ್ರತಿಗಳನ್ನು ಬಳಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಮಾಡಬಹುದು. ಹೆಚ್ಚಿನ ವಿವರಗಳಿಗಾಗಿ ದಯೆಯಿಂದ ವೆಬ್ ಸೈಟ್ ಭೇಟಿ: ಹೈಪರ್ಲಿಂಕ್
http://www.yogivemanauniversity.ac.inwww.yogivemanauniversity.ac.in.
ಸಂಬಂಧಿಸಿದಂತೆ,
—————————————————————————————————————–

ಸಾಮಾಜಿಕ ಒಳಗೂಡಿಸುವಿಕೆ ಮತ್ತು: ಅಸ್ಪೃಶ್ಯತೆಯ ಬಲಿಯಾದ

ಅಮೂರ್ತ

ಈ ಕಾಗದದ ಉದ್ದೇಶ ದುಪ್ಪಟ್ಟಾಗಿದೆ; ಮೊದಲ
ಕಾಗದದ ಪರಿಶೋಧಿಸುತ್ತದೆ ಮತ್ತು ಸಾಮಾಜಿಕ ಬಹಿಷ್ಕಾರದ (ಕೆಲವೊಮ್ಮೆ) ಸಾಮಾಜಿಕ
ಸೇರ್ಪಡೆ ನೀತಿ ಪ್ರಯತ್ನಗಳು ಒಳಗೆ ತರಲಾಗುತ್ತದೆ ಇದರಲ್ಲಿ ಸಂಕೀರ್ಣ ರೀತಿಯಲ್ಲಿ
ವಿವರಿಸುತ್ತದೆ: ಈ ದೇಶದಲ್ಲಿ ಕೋಟಾ ನೀತಿ.
ಎರಡನೆಯ,
ಕಾಗದದ ಸೇರ್ಪಡೆ / ಬಹಿಷ್ಕಾರದ ಸಂಬಂಧವಿಲ್ಲದ ಉಳ್ಳ ಖಾತೆಯನ್ನು ಮತ್ತು ಅನುಕೂಲಸ್ಥ
‘ಇತರ’ ಎಂದು ‘ಹಾದುಹೋಗುವ’ ಮೂಲಕ ಬಹಿಷ್ಕಾರದ ಬಿಕ್ಕಟ್ಟಿನಲ್ಲಿರುವ ತಪ್ಪಿಸಲು ಮತ್ತು
ನಿರ್ವಹಿಸಬಹುದು ಹೊರತುಪಡಿಸಿದ ಆ ಸ್ಥಾನವನ್ನು ಹೇಗೆ ಸಚಿತ್ರ ಒದಗಿಸುತ್ತದೆ.
ಈ ಕಾಗದದ ಸಬ್ಸ್ಟಾಂಟಿವ್ ಗಮನ students.More ಮುಖ್ಯವಾಗಿ ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಜಾತಿ /
ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಪಂಗಡಗಳ ಜಾತಿ ಆಧಾರಿತ ಅನುಭವಗಳಿಂದ ತಂತ್ರಜ್ಞಾನ ವಂಚನೆ ಮತಯಂತ್ರ
ಅಕ್ರಮವಾಗಿ ಮೂಲಕ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ, ಸಮಾನತೆ, ಭ್ರಾತೃತ್ವ, ಸ್ವಾತಂತ್ರ್ಯ ಮತ್ತು ನ್ಯಾಯ
ಹೈಜಾಕ್ ಹೇಗೆ ದಾರಿ.

____________________________________________________________________

ಸುಪ್ರೀಂ ಕೋರ್ಟ್ ವಿಶ್ವದ 80 ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವಗಳ ನಂತರ ಮೂರ್ಖನಾಗಿ ಪುರಾವೆ
ಮತದಾನ ಪದ್ಧತಿಗೆ ಹೊಸ ಚುನಾವಣೆಗೆ ಈ ಮತಯಂತ್ರ ಸುವ್ಯವಸ್ಥೆ ಮೂಲಕ ನಡೆಸಲಾಗುತ್ತದೆ
ಎಲ್ಲಾ ಚುನಾವಣೆಗಳಲ್ಲಿ ಸ್ಕ್ರ್ಯಾಪ್ ಆದೇಶಗಳನ್ನು ಉತ್ತೀರ್ಣವಾಗಬೇಕಾಗುತ್ತವೆ.

ಎಸ್ಸಿ / ಎಸ್ಟಿ / ಒಬಿಸಿ / ಅಲ್ಪಸಂಖ್ಯಾತರ / ಕಳಪೆ ಮೇಲ್ಜಾತಿಗಳ ಸೇರಿದ
ಜನಸಂಖ್ಯೆ ಬೌದ್ಧಿಕ ಯುವಕರ 99% ಹೊರತುಪಡಿಸಿ, ಈ ವಂಚನೆ ಮತಯಂತ್ರ ಸಂಬಂಧಿಸಿದಂತೆ
ವಿಶ್ವದ ಜನರನ್ನು ಎಚ್ಚರಿಸುವಂತೆ ಇಂಟರ್ನೆಟ್ ಬಳಸಬೇಕಾಗುತ್ತದೆ

ವಾಕ್, ರನ್, ಈಜು, ಸೈಕಲ್!
ಫಾರ್
ಎಲ್ಲಾ ವಂಚನೆ ಮತಯಂತ್ರ ಬದಲಿ!
ಮೂರ್ಖನಾಗಿ ಪುರಾವೆ ಮತದಾನ!

ಮುಂದಿನ
100 ವರ್ಷಗಳ Sarvajan Hitaye Sarvajan Sukhaye, ಅಂದರೆ ಇರಬೇಕು.,
ಬಾಬಾಸಾಹೇಬ್ ಡಾ ತಂದೆ ಸಂವಿಧಾನದಲ್ಲಿ ಎಂದು ಎಸ್ಸಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ / ಒಬಿಸಿ /
ಅಲ್ಪಸಂಖ್ಯಾತರು ಮತ್ತು ದೇಶದಲ್ಲಿ ಕಳಪೆ ಮೇಲ್ಜಾತಿಗಳ ಸೇರಿದಂತೆ ಶಾಂತಿ, ಸಂತೋಷ
ಮತ್ತು ಎಲ್ಲಾ ಸಮಾಜಗಳ ಕಲ್ಯಾಣ
ಅಷ್ಟೇ ಸಮಾಜದ ಎಲ್ಲ ವರ್ಗಗಳ ನಡುವೆ ದೇಶದ ಸಂಪತ್ತು ವಿತರಿಸುವ ಮೂಲಕ BRAmbedkar.

ಜಾತೀಯತೆ
ಮತ್ತು ಅಸ್ಪೃಶ್ಯತೆಯನ್ನು ಹೋರಾಡಿದ ಪಂಡಿತ್ Aiyothidas, ಮಹಾತ್ಮ ಪುಲೆ, ಸಾಹುಜಿ
ಮಹಾರಾಜ್, ನಾರಾಯಣ ಗುರು, ಪೆರಿಯಾರ್ EVRamaswamy, Ayankali, ಡಾ ಬಾಬಾಸಾಹೇಬ್
BRAmbedkar, Manyavar Kanshiramji ಮತ್ತು MS Mayawatiji, ಮುಂದಿನ 100 ವರ್ಷ
ಶ್ರೇಷ್ಠ ನಾಯಕರು ನಿರ್ವಹಿಸಿದ ಪಾತ್ರವನ್ನು ಮೇಲು ಎಂದು ನಾನು
.

ಜನರು
ಅರಿವು ಅವೇಕನ್ಡ್ ಒಂದು ಬೋಧನೆಗಳು ಅನುಸರಿಸಿ ಮೂಢನಂಬಿಕೆ ಹೋರಾಡಲು ಮತ್ತು
ಬಂಡಲ್ ಎಲ್ಲಾ ತಮ್ಮ ಆತಂಕವನ್ನು ಹಾಕಲು ಮನಸ್ಸಿನ ಗರಿಷ್ಠ ಧನಾತ್ಮಕ ಸಾಂದ್ರತೆಯ ನೀಡಿ
ತಮ್ಮ ಮಕ್ಕಳಿಗೆ ಸರ್ಕಾರಿ, ಖಾಸಗಿ ಮತ್ತು ಸ್ವ ಉದ್ಯೋಗ ನದಿಯ, ಶಿಕ್ಷಣದಲ್ಲಿ
ಮೀಸಲಾತಿ ಹಾಕಿತು ಇದು
ಅಭಿವೃದ್ಧಿಗೆ ಅಗತ್ಯವಿರುವ ಮುಖ್ಯ ವಸ್ತುಗಳು.

“ಶಿಕ್ಷಣ, ವ್ಯವಸ್ಥಿತಗೊಳಿಸಿ ಮತ್ತು ಚಳವಳಿ” ಆಫ್ ಅಂಬೇಡ್ಕರ್ ಘೋಷಣೆ “ನ್ಯಾಯ
ಭಿಕ್ಷಾಟನೆ ಪಡೆಯುವಲ್ಲಿ, ಆದರೆ ಸಂವಿಧಾನದಲ್ಲಿ ಕಂಗೊಳಿಸುತ್ತದೆ ಎಂದು ಪ್ರತಿ ಪ್ರಜೆಯ
ಹಕ್ಕು”, ಈಗ ಬಹಳ ಮಾನ್ಯವಾಗಿಲ್ಲ.

ಅಹ್ಮದಾಬಾದ್ನ Valmikis slumdwelling ಅಸ್ಪೃಶ್ಯತೆಯ ಬಲಿಯಾದ, ಒಂದು ಗೌರವಾನ್ವಿತ ಜೀವನ ಬೇಕಾದ ಮೂಲಭೂತ ಸೌಲಭ್ಯಗಳನ್ನು ವಂಚಿತ ಉಳಿದಿವೆ

ಅಹಮದಾಬಾದ್
ನ ಐದು ಕೊಳೆಗೇರಿ ಪ್ರದೇಶಗಳಲ್ಲಿ Thaltej, gota, Hatkeshwar, ಮಾನವ
ಅಭಿವೃದ್ಧಿ ಮತ್ತು ರಿಸರ್ಚ್ ಸೆಂಟರ್ Naranpura Lakhudi ಮತ್ತು ಸೋಲಾ ಸೇತುವೆ
(HDRC), ಅಹಮದಾಬಾದ್, ವಾಸಿಸುವ ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಜಾತಿ ವಾಲ್ಮೀಕಿ ಸಮುದಾಯ ಅಧ್ಯಯನವು
ಸಮುದಾಯದ ಅತ್ಯಂತ ನಿರ್ಲಕ್ಷ್ಯ ವಿಭಾಗದಲ್ಲಿ ಉಳಿದಿದೆ ಹೇಗೆ ಕಡೆಗೆ ಅಂಕಗಳನ್ನು
ನಗರ ಜೀವನದ.

ಆಯ್ದ:

ಎಸ್ಸಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಗುಜರಾತ್ ಜನಸಂಖ್ಯೆಯ ಶೇಕಡಾ 7 6 ರೂಪಿಸುವ. ಒಂದು
ಇತಿಹಾಸ ಮತ್ತೆ ಕಾಣುತ್ತದೆ ವೇಳೆ, ಒಂದು ಎಸ್ಸಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಪರಿಸ್ಥಿತಿ
ವಿಶೇಷವಾಗಿ ಹಳ್ಳಿಗಳಲ್ಲಿ, ಅತ್ಯಂತ ಕರುಣಾಜನಕ ಎಂದು ಕಂಡುಕೊಳ್ಳುತ್ತಾನೆ.
ಬನಸ್ಕಾಂತ
ಜಿಲ್ಲೆಯ, ಉದಾಹರಣೆಗೆ, ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಜಾತಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಅವರು ದೂರದಿಂದ ಪ್ರಬಲ
castemen ಗುರ ಮಾಡಬಹುದು ಆದ್ದರಿಂದ, ಒಂದು ನಿರ್ದಿಷ್ಟ ಬಣ್ಣದ ರುಮಾಲನ್ನು ತಮ್ಮ ತಲೆ
ರಕ್ಷಣೆ ಕ್ಯಾಪಿಟಲ್ ರೆಕಾರ್ಡ್ಸ್ನಿಂದ.
ಎಸ್ಸಿ
/ ಎಸ್ಟಿ bridegrooms ಮದುವೆ ಮೆರವಣಿಗೆಗಳು ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಕುದುರೆ ಸವಾರಿ ಅವಕಾಶ ಎಂದು,
ಮತ್ತು ಮೆರವಣಿಗೆ ಆ ಭಾಗವನ್ನು ರೂಪಿಸುತ್ತದೆ ಆಚರಿಸಲು ಸಂಗೀತದ ರಾಗ ಡ್ರಮ್ ಅಥವಾ
ನೃತ್ಯ ಸೋಲಿಸಲು ಅವಕಾಶ ಆಗಲಿಲ್ಲ.

ಎಸ್ಸಿ / ಎಸ್ಟಿ ಸಮುದಾಯದ ಪರಿಸ್ಥಿತಿ ಆಗಿದ್ದಲ್ಲಿ, ಹಾಗೂ ತಾರತಮ್ಯ Valmikis,
ಎಸ್ಸಿ / ಎಸ್ಟಿ ಶ್ರೇಣಿಯಲ್ಲಿ ಕಡಿಮೆ rung ಬಗೆ ಊಹಿಸಿ ಸಾಧ್ಯವಾಯಿತು,
ಎದುರಿಸಬೇಕಾಗುತ್ತದೆ ಎಂದು.
ಪ್ರಬಲ
ಜಾತಿಗಳಿಗೆ ವ್ಯಕ್ತಿಗಳನ್ನು ಎಂದು ಎಸ್ಸಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ ವಿಶೇಷವಾಗಿ Valmikis,
ಗ್ರಾಮೀಣ ಪ್ರದೇಶಗಳಲ್ಲಿ .ಇದು ಎಂದು ಸಂಬಂಧಪಟ್ಟ ಎಂದು ಸರ್ಕಾರಿ ಪ್ರಾಥಮಿಕ
ಆರೋಗ್ಯ ಕೇಂದ್ರಗಳು (PHCs) ಚಿಕಿತ್ಸೆ, ಆಗಲಿಲ್ಲ, ರಿಜಿಡ್ ಸಾಂಪ್ರದಾಯಿಕ ಜಾತಿ
ನೋಡಿಕೊಳ್ಳುತ್ತದೆ ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಸಂಭವಿಸಿದೆ
ನಡವಳಿಕೆ ಇಂದಿಗೂ ಹಾಗೆಯೇ ಉಳಿದಿದೆ.

ಔದ್ಯೋಗಿಕ ಆಯ್ಕೆಗಳನ್ನು ಹುಡುಕಿಕೊಂಡು, ಅನೇಕ Valmikis ಗುಜರಾತ್ ನಗರಗಳು, ವಿಶೇಷವಾಗಿ ಅಹಮದಾಬಾದ್ ರಲ್ಲಿ ಭೂ. ಈ ಒಂದು Valmikis ಒಂದು ದೊಡ್ಡ ಸಂಖ್ಯೆಯ ಒಂದಷ್ಟು ಕಾಲ ಅಹಮದಾಬಾದ್ ಕೊಳಚೆ ವಾಸಿಸುತ್ತಿದ್ದಾರೆ ಕಂಡುಕೊಳ್ಳುತ್ತಾನೆ ಏಕೆ ಒಂದು ಕಾರಣ. ಇಲ್ಲಿ, ವಲಸೆ ಜೀವನ, ಅವರು ಜೀವನಾಧಾರ ಸಂಬಂಧಿಸಿದ ಪ್ರಮುಖ ಸಮಸ್ಯೆಗಳನ್ನು ಎದುರಿಸಬೇಕಾಗುತ್ತದೆ. ಅವರು ಅತ್ಯಂತ ಗಟ್ಟಿಗೊಳಿಸಿದೆ ವಾತಾವರಣದಲ್ಲಿ ವಾಸಿಸುವ ಬಲವಂತವಾಗಿ. ಅವು ಕೆಲಸದ ಬೆಲೆ ಏರಿಕೆ, ಮತ್ತು ದಬ್ಬಾಳಿಕೆ ನಗರ ಜೀವನಾಧಾರ ದೊಡ್ಡ ಸಮಸ್ಯೆಗಳ ಸುಲಭ ಬಲಿಪಶುಗಳು, ಅವರು ಹೆಚ್ಚುವರಿಯಾಗಿ ಅಸ್ಪೃಶ್ಯತೆಯ ಬಲಿಪಶುಗಳು.

ವಾಲ್ಮೀಕಿ ಸಮುದಾಯ ಮುಖ್ಯವಾಗಿ ನಗರದ ಎಲ್ಲಾ ಕೊಳೆ ಸ್ವಚ್ಚಗೊಳಿಸಿ ಕೆಲಸ ಹೊಂದಿಕೊಂಡಿದೆ. ಪತಿ
ಮತ್ತು ಪತ್ನಿ ಮತ್ತು ಬೆಳೆಸಿಕೊಂಡ ಮಕ್ಕಳು - - ಶುದ್ಧೀಕರಣ ಕಾರ್ಮಿಕರ ಕೆಲಸ
ಆರ್ಥಿಕ ನಿರ್ಬಂಧಗಳನ್ನು ಒಂದಕ್ಕಿಂತ ಹೆಚ್ಚು ಕುಟುಂಬದಲ್ಲಿ ವ್ಯಕ್ತಿ.
ಅವರು ಒಟ್ಟಿಗೆ ಸರಾಸರಿ ರೂ 700 ರೂ 800 ಒಂದು ದಿನ ಗಳಿಸಲು.
ಕುಟುಂಬ ಚಾಲನೆಯಲ್ಲಿರುವ ಸಾಕಾಗುತ್ತವೆ ಆದರೆ, ವೆಚ್ಚ ಅವರು ವಸತಿ, ವಿದ್ಯುತ್ ಮತ್ತು
ನೀರು ಮೂಲಭೂತ ಸೌಲಭ್ಯಗಳನ್ನು ವಂಚಿತ ಮಾಡಿದಾಗ ನಿಜಕ್ಕೂ ಒಂದು ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಅತ್ಯಂತ
ಹೆಚ್ಚು ಪ್ರಾಥಮಿಕ ಅಗತ್ಯಗಳಿಗೆ ಇದೆ ಪೂರೈಸುವ ಭರಿಸಬೇಕಾಗುತ್ತದೆ.
ಹಲವಾರು ಪ್ರದೇಶಗಳಲ್ಲಿ, ಸ್ತ್ರೀ ವಾಲ್ಮೀಕಿ ಕೆಲಸಗಾರರು ತಮ್ಮ ಪುರುಷ
ಸಹವರ್ತಿಗಳಿಗಿಂತ ಹೆಚ್ಚು ಕಡಿಮೆ ಸಂಬಳ, ವಿಷಯಗಳನ್ನು ವಿಶೇಷವಾಗಿ ಕಷ್ಟಕರವಾಗುತ್ತದೆ.

Valmikis ನಡುವೆ ಸಾಮಾಜಿಕ ಜಾಗೃತಿ ಅತ್ಯಂತ ಕಡಿಮೆ. ಅವರು ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ಸಶಕ್ತಗೊಳ್ಳಬೇಕೆಂದು ಬಗ್ಗೆ ಯೋಚಿಸಿರಲಿಲ್ಲ. ಇದಕ್ಕೆ ಒಂದು ಕಾರಣವೆಂದರೆ ಹಲವಾರು ಸ್ವಯಂಸೇವಾ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು ಎಸ್ಸಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ
ಸಬಲೀಕರಣದ ಕೆಲಸ ಮಾಡುವಾಗ, ಅವರು Valmikis ಕಾಳಜಿ ಕಡಿಮೆ ಹೀಡ್ ಹಣ, ಆಗಿದೆ.

Valmikis ಒತ್ತಾಯದ ಪ್ರಮುಖ ಸಮಸ್ಯೆ ವಸತಿ ಎಂಬುದು. ಅವರು ಕೆಲಸ ಹುಡುಕಿಕೊಂಡು ಗ್ರಾಮೀಣ ಪ್ರದೇಶದ ನಗರಗಳು ಬಂದಂತೆ, ಅವರು ಅಹಮದಾಬಾದ್ ಕೊಳಚೆ ದೊಡ್ಡ ಗುಂಪುಗಳಲ್ಲಿ ಒಂದು ರೂಪಿಸಲು. ಸ್ಥಳಗಳಲ್ಲಿ ದೊಡ್ಡ ಸಂಖ್ಯೆಯ, ಅವರು ತಮ್ಮ ಮೇಲೆ ಸ್ಥಾಪಿಸಲು ತಾತ್ಕಾಲಿಕ ಗುಡಿಸಲುಗಳು ವಾಸಿಸುತ್ತಿದ್ದಾರೆ. ಆದರೆ, ಅವರು ತಮ್ಮ ಹೆಸರಿನಲ್ಲಿ ಈ ಗುಡಿಸಲುಗಳು ನೊಂದಣಿ ಸಾಧ್ಯವಾಗಿಲ್ಲ.
ಒಂದು, ವಾಸ್ತವವಾಗಿ, ಅನುಷ್ಠಾನ ಸರ್ಕಾರದ ಯೋಜನೆಗಳಲ್ಲಿ Valmikis ತಾರತಮ್ಯವನ್ನು ಕಣ್ಣುಕುಕ್ಕುವ ಎಂದು ನೋಡಬಹುದು. ನೈಜ
ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಭಿನ್ನವಾಗಿದೆ ಆದರೂ, slumdwellers ಒಂದು ವಾಸಯೋಗ್ಯ ವಾತಾವರಣ
ಸೃಷ್ಟಿಸಲು ಬಯಸುವ ಒಂದು ಕೊಳಚೆ ಪ್ರದೇಶದ ಅಭಿವೃದ್ಧಿ ನಿಯಮಾವಳಿ, ಇಲ್ಲ.
ಸ್ಲಮ್ ಪುನರ್ವಸತಿ ಯೋಜನೆಯ ಲಾಭ ಸಲುವಾಗಿ, ಅವರು ನೇರವಾಗಿ ತಮ್ಮ
ಜೀವನೋಪಾಯವನ್ನು ಬಾಧಿಸುವ, ಎಲ್ಲೋ ಹೊರವಲಯದಲ್ಲಿ, ತಂಗುವ ಈಗಿನ ಸ್ಥಳವನ್ನು
ಬಿಟ್ಟು ದೂರ ಸಾಗಬೇಕಿದೆ.

ಇದು ವಾಲ್ಮೀಕಿ ಸಮುದಾಯದ ಜನರು ಮೂಲಭೂತ ಸೌಕರ್ಯಗಳ ಒಟ್ಟು ಅಭಾವವಿದೆ ವಾಸಿಸುವ ಎಲ್ಲೆಲ್ಲಿ ಎಂದು ಕಂಡುಬಂದಿದೆ. ಅಹ್ಮದಾಬಾದ್ನ Valmikis ಗುಡಿಸಲುಗಳು ಜೀವಿಸಲು ಸ್ಪೇಸ್ ಬಾಡಿಗೆ ಮೂಲಕ ಜೀವಿಸುತ್ತವೆ. ಅವರು ವಿದ್ಯುತ್ ಅಥವಾ ನೀರಿನ ಯಾವುದೇ ನಂಟಿಲ್ಲ. ಕೇವಲ ಅವರು ಈ ಬದುಕಬೇಕು ಬಾಡಿಗೆ ಪಾವತಿ ಮಾಡಬೇಕು, ಸುಮಾರು 10,000 15,000 ಗುಡಿಸಲುಗಳು ಕೇವಲ 15 ಬಳಕೆಯಾಗುತ್ತಿದೆ ಶೌಚಾಲಯಗಳು ಇವೆ. ಈ ವಾಲ್ಮೀಕಿ slumdwellers ಆರೋಗ್ಯದ ಮೇಲೆ ನೇರ ಪ್ರಭಾವ.

ಅಹಮದಾಬಾದ್ Valmikis ಎದುರಿಸುತ್ತಿರುವ ಮತ್ತೊಂದು ಪ್ರಮುಖ ಸಮಸ್ಯೆ ಅವರು ಮಾಡಬೇಕು ಉದ್ಯೋಗಗಳು ಮಾದರಿ ಸಂಬಂಧಿಸಿದೆ. ಗ್ರಾಮೀಣ ಪ್ರದೇಶಗಳಲ್ಲಿ ಅಥವಾ ನಗರ ಪ್ರದೇಶಗಳಲ್ಲಿ ಎಂಬುದನ್ನು, ಅವರು,
ಶುದ್ಧೀಕರಣ ಕೆಲಸಗಾರರು ಅವರು ಕೆಲವು ಶಿಕ್ಷಣ ಪಡೆಯಲು ಬಂದು ಸಹ ಸಹ ಪುರಸಭೆ ಪುರಸಭಾ
ಸಂಸ್ಥೆಗಳನ್ನು ಮಾಡಲು ಬರಲಾಗಿದೆ ಒಂದು ಕೆಲಸ ಕೆಲಸ ಮಾಡಬೇಕು.

Aslali
ಸಮಿತಿ ವರದಿಯ ಪ್ರಕಾರ, ಸರ್ಕಾರಿ ದೇಹದ ಕೆಲಸ ಯಾವುದೇ ವಾಲ್ಮೀಕಿ ಸಮುದಾಯ
ವ್ಯಕ್ತಿಯ ವರ್ಗ 8, 9 ನೇ ಅಥವಾ 10 ವರೆಗೆ ಅಧ್ಯಯನ ವೇಳೆ, ಅವರು ಅಥವಾ ಹೆಚ್ಚಿನ
ಮಟ್ಟಕ್ಕೆ ಬಡ್ತಿ ಮಾಡಬೇಕು.
ಆದರೆ, ಸರ್ಕಾರ ಶಿಫಾರಸು ಯಾವುದೇ ಹೀಡ್ ಹಣ ಮಾಡಿಲ್ಲ. ಆ ಪದವೀಧರರ ಯಾರು ಅಹಮದಾಬಾದ್ ಕಾರ್ಮಿಕರ ಸ್ವಚ್ಛಗೊಳಿಸುವ ಕೆಲಸ. ಸ್ವಚ್ಛಗೊಳಿಸುವ ಹೆಚ್ಚು ಉದ್ಯೋಗಗಳು ಇತರ ತೀವ್ರ ತೊಂದರೆಗಳನ್ನು, ಕೆಲಸ ಹೊರಬಂದು ಯಾರು, ಕೆಲವೇ ವಾಲ್ಮೀಕಿ ವ್ಯಕ್ತಿಗಳಿದ್ದಾರೆ.

Valmikis ತಮ್ಮ ಆರೋಗ್ಯ ಸಂಬಂಧಿಸಿದ ಪ್ರಮುಖ ಸಮಸ್ಯೆಗಳನ್ನು ಎದುರಿಸಬೇಕಾಗುತ್ತದೆ. ಕೊಳೆ ಮತ್ತು ಧೂಳಿನ ನಡುವೆಯೂ ಕೆಲಸ, ಅವುಗಳನ್ನು ಅನೇಕ ಒಂದು ಆರಂಭಿಕ ವಯಸ್ಸಿನಲ್ಲಿ ಕ್ಷಯರೋಗದಿಂದ ಅಥವಾ ಆಸ್ತಮಾ ಸಂತ್ರಸ್ತರಿಗೆ ಆಗಿ. ಇದು ಸರಾಸರಿ, ತಮ್ಮ ಜೀವಿತಾವಧಿಯವರೆಗೆ 50 ರಿಂದ 55 ವರ್ಷಗಳು, ಎಂದು ಕಂಡುಬಂದಿದೆ.

Valmikis
ಗ್ರಾಮೀಣ ಪ್ರದೇಶಗಳಲ್ಲಿ ರೀತಿಯಲ್ಲಿ ನಗರ ಪ್ರದೇಶಗಳಲ್ಲಿ ಅಸ್ಪೃಶ್ಯತೆಯ
ಸಂತ್ರಸ್ತರಿಗೆ ಕಂಡುಬರದಿದ್ದರೂ, ಕೆಲವು ಕರೆಯಲ್ಪಡುವ ಮೇಲಿನ castemen ಅವರನ್ನು
ಜಾತೀಯ ವರ್ತನೆ ಅವಲೋಕಿಸಲು ಇಲ್ಲ.
ಜನರ ಮನಸ್ಸು ಸ್ವಲ್ಪ ಬದಲಾವಣೆಯೊಂದಿಗೆ ಇಲ್ಲ.

ನಂತರ, ಒಂದು Valmikis ನಡುವೆ ಶಿಕ್ಷಣ ಬಹಳ ಕಡಿಮೆ ಪ್ರಾಮುಖ್ಯತೆ ಎಂದು ಕಂಡುಕೊಳ್ಳುತ್ತಾನೆ. ನಿಸ್ಸಂದೇಹವಾಗಿ, ಈ ನಮ್ಮ ಸಮಾಜದ ಮೇಲ್ಜಾತಿಯ ಮನಸ್ಸು, ತುಂಬಾ, ಕಾರಣವಾಗಿದೆ. ವಾಲ್ಮೀಕಿ
ಶಾಲೆಗಳಲ್ಲಿ ಪ್ರವೇಶ ಇದ್ದರೂ, ವಾಲ್ಮೀಕಿ ಪೋಷಕರು ಅಗತ್ಯ ಮಗುವಿನ ನಿಯಮಿತವಾಗಿ
ಸಾಕಷ್ಟು ಶಾಲೆಗೆ ಹೋಗುವ ಖಚಿತಪಡಿಸಲು ದೊರೆಯದಿದ್ದಲ್ಲಿ.
ಅವರು ಮಗುವಿನ ಮನಸ್ಸು ಮೇಲಾಗುವ ಪ್ರತಿಕೂಲ ಇದು ಶುದ್ಧೀಕರಣ ಕೆಲಸ, ಹೋದಾಗ ಅನೇಕ ಬಾರಿ ಅಲ್ಲದಿದ್ದರೂ, ಮಕ್ಕಳ ಪೋಷಕರ ಇರುತ್ತಾನೆ. ಈ ಭವಿಷ್ಯದ ಶುದ್ಧೀಕರಣ ಕೆಲಸಗಾರ ಆಗುತ್ತಿದೆ ಮಗುವಿನ ಹಿಂದಿನ ಕಾರಣ ಆಗುತ್ತದೆ.

ನಂತರ, Valmikis ಲಭ್ಯವಿರುವ ಕೆಲವೇ ಉದ್ಯೋಗ ಆಯ್ಕೆಗಳನ್ನು ಇವೆ. ವೈಯಕ್ತಿಕ ಅಭಿವೃದ್ಧಿ ಮತ್ತು ಶಬ್ದಕೋಶವನ್ನು ಅಸ್ತಿತ್ವದಲ್ಲಿಲ್ಲದ ಜಾಗೃತಿ ಪದಗಳ; ಅತ್ಯುತ್ತಮ ಅವರು ಕಳಪೆ ಸಾಕ್ಷರತೆ ಮಟ್ಟಗಳನ್ನು ಧನ್ಯವಾದಗಳು, ಕೆಲವು ತಪ್ಪಿಸಿಕೊಳ್ಳುವ ನಿಷ್ಠುರ ಜ್ಞಾನದ ಭಾಗವಾಗಿದೆ. ವರ್ಸ್, ಅವರು ತಾತ್ಕಾಲಿಕ ಅಂಗಡಿ ಅಥವಾ ಸೈಕಲ್ ದುರಸ್ತಿ ಕಾರ್ಯಾಗಾರ ಕಿಕ್ಸ್ಟಾರ್ಟ್
ವೇಳೆ ಅವರು ಸಾಕಷ್ಟು ಗ್ರಾಹಕರಿಗೆ ಪಡೆಯುವಲ್ಲಿ ಯಶಸ್ವಿಯಾಗುವ ಎಂದು ನುಡಿದರು ಆ
ಪ್ರಬಲ castemen ಮೂಲಕ ನಕಾರಾತ್ಮಕ ಮನೋವೃತ್ತಿಯನ್ನು, Valmikis ಒಂದು ಮನಸ್ಸು
ಅಭಿವೃದ್ಧಿಪಡಿಸಲು ಏಕೆಂದರೆ.

ವಾಸ್ತವವಾಗಿ, ದಿನದ ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಧೂಳು ಸಂಗ್ರಹಿಸುವ ಮತ್ತು ಮೇಲ್ಜಾತಿಯ ವಿಭಾಗಗಳು ತಿರಸ್ಕಾರಕ್ಕೆ ತುತ್ತಾದರೂ Valmikis ದೈನಂದಿನ ಜೀವನದ ಭಾಗವಾಗಿವೆ. ಈ ಅಂತಿಮವಾಗಿ ತಮ್ಮ ಆರೋಗ್ಯ ಕ್ರೆಡಿಬಿಲಿಟಿ ಇದು ತಂಬಾಕು ಒಂದು ಪ್ರಮುಖ ಪುರುಷರು ಮದ್ಯ ಗೀಳು ಆಗಲು ಕಾರಣವಾಗಿದೆ, ಮತ್ತು ಮಹಿಳೆಯರು, ಆಗಿದೆ.

ಇನ್ನೂ Valmikis ನಡುವೆ ಮತ್ತೊಂದು ಸಾಮಾಜಿಕ ದುಷ್ಟ ಬಾಲ್ಯವಿವಾಹ ಆಗಿದೆ. ಕ್ಷಣ ಹುಡುಗಿ ಅವಳು ಆಫ್ ವಿವಾಹವಾಗಿದ್ದಾರೆ, ತನ್ನ ಹದಿಹರೆಯದ ಪ್ರವೇಶಿಸುತ್ತದೆ, ಮತ್ತು ಐದನೇ ಅಥವಾ ಆರನೇ ಪ್ರಮಾಣಿತ ಪೂರ್ಣಗೊಂಡ. ಮಹಿಳೆಯರೊಂದಿಗೆ ಮಾತುಕತೆ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ ಇದು ಒಂದು ಹುಡುಗಿ ಹೆಚ್ಚು ಅಧ್ಯಯನ
ಮಾಡಿದರೆ, ಸಮುದಾಯದ ಜನರು ತನ್ನ ಪ್ರಾಮಾಣಿಕತೆಯನ್ನು ಪ್ರಶ್ನಿಸುತ್ತಿದ್ದಾರೆ
ಪ್ರಾರಂಭಿಸುತ್ತದೆ, ಎಂದು ಸಾಕ್ಷಿಯಾಯಿತು.

Valmikis ಒಂದು ದೊಡ್ಡ ಸಂಖ್ಯೆಯ ಅವುಗಳನ್ನು ಅನೇಕ ಸರ್ಕಾರಿ ಕೆಲಸಗಳಲ್ಲಿ
ಮಾತನಾಡಲು ಅಲ್ಲ, ಸರ್ಕಾರದ ಯೋಜನೆಗಳ ಪ್ರಯೋಜನ ಪಡೆಯಲು ಸಾಧ್ಯವಾಗುವುದಿಲ್ಲ ಇದು
ಪರಿಣಾಮವಾಗಿ, ಹೀಗೆ ಇಂತಹ ಜನನ ಪ್ರಮಾಣಪತ್ರ, ವಿಳಾಸ ಪುರಾವೆ, ಪಡಿತರ ಚೀಟಿ ಮೂಲ
ದಾಖಲೆಗಳನ್ನು, ಮತ್ತು ಇಲ್ಲ.

ಸಂಬಂಧಿತ

ಜಾತಿ ಸಂಘರ್ಷದ ಹಾಟ್ಸ್ಪಾಟ್, ಕಡಿ ತಾಲೂಕಿನ ನ ಎಸ್ಸಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಸಾರ್ವಜನಿಕ
ಜೀವನದಲ್ಲಿ ತಾರತಮ್ಯ ನಿರೋಧಕತೆ, ಅಸಾಮಾನ್ಯ ಅರಿವು ತೋರಿಸುವ ಆರಂಭಿಸಿವೆ

ಎಸ್ಸಿ ದೂಷಣೆ ವ್ಯಾಪಕ ಪ್ರಭುತ್ವವೇ ಇಲ್ಲಿದೆ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಗ್ರಾಮೀಣ ಪ್ರದೇಶಗಳಲ್ಲಿ ನೀರಿನ ಪ್ರವೇಶವನ್ನು ರಲ್ಲಿ, ಸಮೀಕ್ಷೆ ವರದಿ ಹೇಳುತ್ತದೆ

ಗ್ರಾಮೀಣ
ಗುಜರಾತ್ ಎಸ್ಸಿ / ಪರಿಶಿಷ್ಟ ಗುಜರಾತ್ ಮುಖ್ಯಮಂತ್ರಿ ಮಾಡಲು, ಕುಡಿಯುವ
ಪ್ರವೇಶವನ್ನು ತಾರತಮ್ಯ ದೂರು ಪ್ರತಿನಿಧಿಸಲು, ಮೂಲಭೂತ ಸೌಲಭ್ಯಗಳನ್ನು ಆರೆಸ್ಸೆಸ್ನ
Bahuth Jiyadha Paapis (ಬಿಜೆಪಿ) ವಾಲ್ಮೀಕಿ ಈಗ ಹಿಂದು ಮತ ಬ್ಯಾಂಕ್ ರಾಜಕಾರಣ
RSSized ಬಂದಿದೆ ಎಪಿಕ್ ರಾಮಾಯಣ ಬರೆದ ತಿಳಿದಿರಬೇಕು.
Vlamiki ರಾಮ ರಚಿಸಿದ. ದೇವಾಲಯಗಳು ತನ್ನ ನಾಯಕ ನಿರ್ಮಿಸಲಾಯಿತು ಆದರೆ ಆ ದೇವಾಲಯಗಳು ಒಳಗೆ ಅನುಮತಿಸಲಾಗುವುದಿಲ್ಲ.

ಈಗ ವಂಚನೆ ಮತಯಂತ್ರ tamperable ಮತ್ತು ಆದ್ದರಿಂದ ಅವುಗಳನ್ನು ಎಲ್ಲಾ ಬದಲಾಯಿಸಬೇಕಿತ್ತು ಒಂದು ನೆಲೆಗೊಂಡ ಕಾನೂನು. ಆದರೆ ಮಾಜಿ ಮುಖ್ಯ ನ್ಯಾಯಮೂರ್ತಿಗಳ ಸದಾಶಿವಂ ಮಾಜಿ ಸೂಚಿಸಿದಂತೆ ಮತಯಂತ್ರ ಹಂತಗಳಲ್ಲಿ ಬದಲಿಗೆ ವಂಚನೆ ಅನುಮತಿಸಬಲ್ಲ ನ್ಯಾಯದ ಸಮಾಧಿ ತಪ್ಪನ್ನು. ಏಕೆಂದರೆ ರೂ 1600 ಕೋಟಿ ವೆಚ್ಚದ ಸಿಇಸಿ ಸಂಪತ್ ಅವರಿಗೆ ಬದಲಾಗಿ ಒಳಗೊಂಡಿರುತ್ತವೆ. ಜನಸಂಖ್ಯೆಯ chtpawan ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಭಯೋತ್ಪಾದಕ, ಉಗ್ರಗಾಮಿ, ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವದ
ಸಂಸ್ಥೆಗಳು (ಮೋದಿ) ಹಿಂಸಾತ್ಮಕ, ಸಹಿಸದ, heckling ರಹಸ್ಯ ಹಿಂದುತ್ವ ಆರಾಧನಾ ಮೇ
ಕೊಲೆಗಾರರ ​​ಗಳಿಸಿದರು ಮಾಸ್ಟರ್ ಕೀಲಿ ಪರಿಣಾಮವಾಗಿ 1% ಎಂದು.

ಪರಿಹಾರ ಸುಪ್ರೀಂಕೋರ್ಟ್ ವಿಶ್ವದ 80 ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವಗಳ ನಂತರ ಮೂರ್ಖನಾಗಿ
ಪುರಾವೆ ಮತದಾನ ಪದ್ಧತಿಗೆ ಹೊಸ ಚುನಾವಣೆಗೆ ಈ ಮತಯಂತ್ರ ಸುವ್ಯವಸ್ಥೆ ಮೂಲಕ
ನಡೆಸಲಾಗುತ್ತದೆ ಎಲ್ಲಾ ಚುನಾವಣೆಗಳಲ್ಲಿ ಸ್ಕ್ರ್ಯಾಪ್ ಆದೇಶಗಳನ್ನು ಪಾಸ್ ಮಾಡಬೇಕು.

ಎಸ್ಸಿ / ಎಸ್ಟಿ / ಒಬಿಸಿ / ಅಲ್ಪಸಂಖ್ಯಾತರ / ಕಳಪೆ ಮೇಲ್ಜಾತಿಗಳ ಸೇರಿದ
ಜನಸಂಖ್ಯೆ ಬೌದ್ಧಿಕ ಯುವಕರ 99% ಹೊರತುಪಡಿಸಿ, ಈ ವಂಚನೆ ಮತಯಂತ್ರ ಸಂಬಂಧಿಸಿದಂತೆ
ವಿಶ್ವದ ಜನರನ್ನು ಎಚ್ಚರಿಸುವಂತೆ ಇಂಟರ್ನೆಟ್ ಬಳಸಬೇಕಾಗುತ್ತದೆ

ವಾಕ್, ರನ್, ಈಜು, ಸೈಕಲ್!
ಫಾರ್
ಎಲ್ಲಾ ವಂಚನೆ ಮತಯಂತ್ರ ಬದಲಿ!
ಮೂರ್ಖನಾಗಿ ಪುರಾವೆ ಮತದಾನ!

ದಿನ ಅದನ್ನು, ಭ್ರಷ್ಟಾಚಾರ, ಬೆಲೆ ಕಡಿಮೆ ಹಣವನ್ನು ಹಿಂದಕ್ಕೆ ತರುವ ಇಲ್ಲ.

ತೈಲ ಬೆಲೆ ಜಾಗತಿಕವಾಗಿ ಕೆಳಗೆ ಹೋಗುವ, ಆದರೆ ನಾವು ಈ ದೇಶದಲ್ಲಿ ಇದು ಭಾವನೆ. ಪ್ರತಿ ಅಗತ್ಯ ಸರಕು ದರಗಳು ಮತ್ತು ಸಾರಿಗೆ ಆರೋಪಗಳನ್ನು ಮತ್ತು ಬೆಲೆಗಳು ಹೋಗುತ್ತಾರೆ ಮುಂದುವರಿಯುತ್ತದೆ. ಕಪ್ಪು
ಹಣ ಯಾವುದೇ ಸೈನ್ ಸ್ವಾಧೀನಪಡಿಸಿಕೊಂಡರು ಮತ್ತು ಬಿಜೆಪಿ (Bajuth Jiyadha
Paapis) ಅಧ್ಯಕ್ಷ ಅಮಿತ್ ಶಾ ಕಪ್ಪು ಹಣ ವಾಪಸಾತಿ ಮೂಲಕ 15 ಲಕ್ಷ ಪಡೆಯುವಲ್ಲಿ ಪ್ರತಿ
ಕುಟುಂಬದ ಚರ್ಚೆ ಕೇವಲ ಖಾಲಿ ಸಮೀಕ್ಷೆಯಲ್ಲಿ ಮಾತುಗಾರಿಕೆ ಆಗಿತ್ತು ಈಗ
ಹೇಳಿದ್ದಾರೆ.
ಇದಕ್ಕೆ ವಿರುದ್ಧವಾಗಿ, ನಾವು ನಮ್ಮ ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಬ್ಯಾಂಕ್ ಜನವರಿ-ಧನ್ ರಿಂದ ನಾನು
ಬಿಲಿಯನ್ ಡಾಲರ್ ಸಾಲ ಅದಾನಿ ರೀತಿಯ ಒಲವು ಸಂಸ್ಥೆಗಳು ಔಟ್ doled ಎಂದು ನೋಡಿ!

ವಂಚನೆ ಮತಯಂತ್ರ ಆಯ್ಕೆ ವಂಚನೆ ಜನರು ಈ ದೇಶದ ಮತ್ತು ವಿದೇಶಿ ಮೂಲದ ದೊಡ್ಡ ಕಂಪನಿಗಳಿಗೆ ಪರವಾಗಿದೆ ಹೋಗುತ್ತಾರೆ ಹೆಚ್ಚಿಗೆ ಕೆಲಸ ಇದೆ. ಆರ್ಡಿನನ್ಸ್ ಕಾರ್ಪೊರೇಟ್ ಹಿತಾಸಕ್ತಿ ಭೂ ಕಬಳಿಕೆ ತ್ವರಿತಗೊಳಿಸಲು ಹೊರಡಿಸಿದೆ. ಕಲ್ಲಿದ್ದಲು ಮತ್ತು ಇತರ ಗಣಿಗಳಲ್ಲಿ ವಾಣಿಜ್ಯ ಖಾಸಗಿ ಗಣಿಗಾರಿಕೆಗೆ ತೆರೆಯಲಾಗಿದ್ದು. ವಿದೇಶಿ ಬಂಡವಾಳ ಆರ್ಥಿಕತೆಯ ಪ್ರತಿ ವಲಯದಲ್ಲಿ ಒಲವು ಮಾಡಲಾಗುತ್ತಿದೆ. ಮತ್ತು
ಈ ದೇಶಕ್ಕೆ ಅಮೇರಿಕಾದ ಅಧ್ಯಕ್ಷ ಒಬಾಮಾ ಇತ್ತೀಚಿನ ಭೇಟಿಯ ಸಮಯದಲ್ಲಿ, ಮೋದಿ
(ಪ್ರಜಾಸತ್ತಾತ್ಮಕ ಸಂಸ್ಥೆಗಳ ಕೊಲೆಗಾರರು) ವಾಸ್ತವವಾಗಿ ಅಮೇರಿಕಾದ ಯಾವುದೇ ಅಪಘಾತದ
ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ ಯಾವುದೇ ಹೊಣೆಗಾರಿಕೆ, ಪರಿಹಾರ ಮತ್ತು ಕಾನೂನು ಕ್ರಮ, ನಮ್ಮ
ದೇಶಕ್ಕೆ ನ್ಯೂಕ್ಲಿಯರ್ ರಿಯಾಕ್ಟರ್ ಸರಬರಾಜು ಕಂಪನಿಗಳು ಬಿಡುಗಡೆ ಮಾಡಿದೆ.
,
ಪ್ರಜಾಸತ್ತಾತ್ಮಕ ಸಂಸ್ಥೆಗಳ ಕೊಲೆಗಾರರು ವ್ಯವಸ್ಥಿತವಾಗಿ ಈ ದೇಶದ ಪೇಟೆಂಟ್
ನೀತಿಯನ್ನು ಒಳಗೊಳಗೆ ಹಾಳುಮಾಡುತ್ತಿದೆ ಮಾಡಲಾಗುತ್ತದೆ ಅಮೇರಿಕಾದ ಔಷಧ ಕಂಪನಿಗಳ
ದುರಾಸೆ ತಲೆಹಿಡುಕ;
ಹಲವಾರು ಜೀವ ಉಳಿಸುವ ಔಷಧಿಗಳ ದೇಶೀಯ ಉತ್ಪಾದನೆ ಕಾಲವನ್ನು ಮತ್ತು ಈ ದೇಶದಲ್ಲಿ
ಮತ್ತು ವಿಶ್ವದಾದ್ಯಂತ ಸಾಮಾನ್ಯ ಜನರಿಗೆ ತಮ್ಮ ಬೆಲೆಗಳನ್ನು ನಿಗ್ರಹ ಮಾಡುತ್ತದೆ.

ಯೋಜನಾ ಆಯೋಗದ ಬರಖಾಸ್ತು ಮತ್ತು ಕಲ್ಯಾಣ ಕಾರ್ಯಕ್ರಮಗಳಿಗಾಗಿ ಹಂಚಿಕೆ ಹಣವನ್ನು ವ್ಯವಸ್ಥಿತವಾಗಿ ಹಿಂಡಿದ ಮಾಡಲಾಗುತ್ತಿದೆ. ಇತ್ತೀಚಿನ
ಬಜೆಟ್, ಸರ್ಕಾರ ಕೆಟ್ಟ ಹಿಟ್ ಆರೋಗ್ಯ, ಮಹಿಳಾ ಮತ್ತು ಮಕ್ಕಳ ಕಲ್ಯಾಣ, ಮತ್ತು
ಶಿಕ್ಷಣ ಕ್ಷೇತ್ರಗಳಲ್ಲಿ, ಕಲ್ಯಾಣ ಮತ್ತು ಸಾಮಾಜಿಕ ಖರ್ಚು ವೆಚ್ಚ ಸೀಳಿಕೆಗಳುಳ್ಳ.
75% ರಿಂದ 40% ಆಹಾರ ಭದ್ರತಾ ವ್ಯಾಪ್ತಿ ಒಂದು ತೀವ್ರ ಕಡಿಮೆ ಯೋಜಿಸಲಾಗಿದೆ. ಕಾರ್ಮಿಕ
ಕಾನೂನುಗಳನ್ನು ವ್ಯವಸ್ಥಿತವಾಗಿ ಈ ದೇಶದ ಕಾರ್ಮಿಕರ ವೇತನ ಕಳ್ಳತನ, ಅಸುರಕ್ಷಿತ
ವಿರುದ್ಧ ಯಾವುದೇ ಕಾನೂನು ರಕ್ಷಣೆಗೆ ನಿರಾಕರಿಸಲು ಹಾಳುಗೆಡವಿದ ಮಾಡಲಾಗುತ್ತಿದೆ
ಅಗ್ಗದಲ್ಲಿ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ ಪ್ರಚಾರ ‘ಭಾರತದಲ್ಲಿ ಮಾಡಿ’ ಹೆಸರಿನಲ್ಲಿ, ಪ್ರಜಾಸತ್ತಾತ್ಮಕ
ಸಂಸ್ಥೆಗಳ ಕೊಲೆಗಾರರು ಬಂದು ಈ ದೇಶದ ಕಾರ್ಮಿಕ ಬಳಸಿಕೊಳ್ಳುವ ವಿದೇಶಿ ಬಂಡವಾಳದ
ಆಹ್ವಾನಿಸಿ
ಕೆಲಸದ ಮತ್ತು ದುರ್ಭರ ಕೆಲಸದ.

ಕಮರ್ಷಿಯಲೈಸೇಷನ್ ಮತ್ತು ಶಿಕ್ಷಣ saffronization ಒಂದು ತಾಜಾ ಪುಶ್ ನೀಡಲಾಗಿದೆ. ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಅನುದಾನಿತ ಶಿಕ್ಷಣ ಶಿಕ್ಷಣ ಸಂಸ್ಥೆಗಳ ಸ್ವಾಯತ್ತತೆಯನ್ನು ಮೇಲೆ
ಸಂದರ್ಬದಲ್ಲಿ ಮಾಡಲಾಗುತ್ತಿದೆ, ದೊಡ್ಡ ಬಜೆಟ್ ಕಡಿತವನ್ನು ಮೂಲಕ ದುರ್ಬಲಗೊಂಡಿತು
ಇದೆ, ಮತ್ತು ಅಸ್ಪಷ್ಟತೆ ಮತ್ತು ಕೋಮು ವಿಷ ಪಠ್ಯಕ್ರಮ ಬದಲಾವಣೆಗಳನ್ನು ಮತ್ತು
ನೇಮಕಾತಿಗಳನ್ನು ಮೂಲಕ ಎರಡೂ ಬಡ್ತಿ ಮಾಡಲಾಗುತ್ತಿದೆ.

ಮತ್ತು
ಸಾಮಾನ್ಯ ಜನರ ಮೇಲೆ ಈ ಆರ್ಥಿಕ ದಾಳಿ ಜತೆಗೂಡಿದ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವದ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು
ಕೊಲೆಗಾರರು ಆಧಾರ ಹೊಂದಿದೆ ಸಂಘಪರಿವಾರದ ಚೇಷ್ಟೆಯ ಕೋಮು ಕಾರ್ಯಕ್ರಮ.
ಪ್ರತಿ
ಸಣ್ಣ ಸ್ಥಳೀಯ ವಿವಾದ ಬೆಳೆಯಿತು ಮಾಡಲಾಗುತ್ತಿದೆ ಅಥವಾ ಸಂಪೂರ್ಣ ವದಂತಿಗಳು
ಸಾಮುದಾಯಿಕ ಉನ್ಮಾದದ ​​ಚಾವಟಿ ಮತ್ತು ಮುಸ್ಲಿಂ ಸಮುದಾಯದ ಗುರಿಯಾಗಿ ಹರಡಿತು
ಮಾಡಲಾಗುತ್ತಿದೆ.
ಎಸ್ಸಿ
/ ಎಸ್ಟಿ / ಒಬಿಸಿ / ಅಲ್ಪಸಂಖ್ಯಾತರ / ಕಳಪೆ ಮೇಲ್ಜಾತಿಗಳ ಸೇರಿದಂತೆ ಎಲ್ಲಾ
ಸಮಾಜಗಳ 99% ಕಡೆಗೆ ದ್ವೇಷ ಆರೆಸ್ಸೆಸ್ ಮುಖ್ಯಸ್ಥ ಪೂರ್ಣ ಭಯೋತ್ಪಾದಕ, ಉಗ್ರಗಾಮಿ,
ಹಿಂಸಾತ್ಮಕ, heckling, ಸಹಿಸದ, ಹಿಂದುತ್ವ ಆರಾಧನಾ 1% chitpawan ಬ್ರಾಹ್ಮಣ
ಜಂಬುದ್ವಿಪದ / ಪ್ರಬುದ್ಧ ಭಾರತ್ ಒಂದು ಹಿಂದೂ ರಾಷ್ಟ್ರ ಘೋಷಿಸಿದೆ ಇದು
ಅಸಂವಿಧಾನಿಕ
ಮತ್ತು ಏಕೆಂದರೆ attitude.There ಮೇಲುಗೈ 1% chitpawan ಬ್ರಾಹ್ಮಣರ ನ್ಯಾಯಾಲಯದ
ನಿಂದನೆ ತಯಾರಿಸಲ್ಪಟ್ಟ ಇದು RSSized ಹಿಂದುತ್ವ ಯಾವುದೇ siprituality ಆಗಿದೆ ವೀರ
ಸಾವರ್ಕರ್ ನ್ಯಾಯಾಲಯವು ನೇಣಿಗೇರಿಸಲ್ಪಟ್ಟ ನೇಚುರಮ್ ದೇವರು (ಸೆ) ಭಯೋತ್ಪಾದಕ
ಮತ್ತು ಕೊಲೆಗಾರ ನಂತಹ ಮತ್ತೊಂದು chitpawan ಬ್ರಾಹ್ಮಣ
ಅವರ ಅನುಸ್ಥಾಪಿಸುವಾಗ ಪ್ರತಿಮೆಗಳು followere ಮತ್ತು ದೇವಾಲಯದ ನ್ಯಾಯಾಂಗ ನಿಂದನೆಯ ಆದರೆ ಇದು ಏನೂ ನಿರ್ಮಿಸಲಾಗುತ್ತಿದೆ.
ಎಲ್ಲಾ power.Bahuth Jiyadha Paapis ಸಂಸದರು, ಸಚಿವರು ಮತ್ತು ಕರೆಯಲ್ಪಡುವ
ಸಾಧುಗಳು ಮತ್ತು ಸಾಧ್ವಿಗಳು ದುರಾಶೆ ಅದರ ಜನಸಂಖ್ಯೆ ಹೆಚ್ಚಿಸಲು 1% chitpawan
ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ಸಾಧ್ಯವಾಗುವುದಿಲ್ಲ ನಾಲ್ಕು ಮಕ್ಕಳು ಮತ್ತು ಹೆಚ್ಚು ಬಳಸಬಹುದು, ಅವರಲ್ಲಿ
ಅನೇಕ ಪರಿವರ್ತನೆ ಸಿಕ್ಕಿತು ಉತ್ಪಾದಿಸಲು ಹಿಂದೂ ಮಹಿಳೆಯರು ಕೇಳುತ್ತಿವೆ
ಪ್ರಾಟೆಸ್ಟೆಂಟ್ ಚರ್ಚುಗಳು, ಆಸ್ಪತ್ರೆ ಮತ್ತು ಶೈಕ್ಷಣಿಕ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು ಆಫ್ ನಾಕ್
ಮತ್ತು ತಮ್ಮೊಂದಿಗೆ ತಮ್ಮ ಜಾತಿ ಸಾಗಿಸುವ ಅಸ್ಪೃಶ್ಯತೆಯ ಅಭ್ಯಾಸ ಮತ್ತು ಈಗ ಅಲ್ಲದ
chitpawan ಬ್ರಾಹ್ಮಣರು ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ರಾಜಧಾನಿಯಲ್ಲಿ ಬಲ ಧ್ವಂಸ ಮಾಡಲಾಗುತ್ತಿದೆ
ಮತ್ತು ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ ಸಂಸ್ಥೆಗಳ ಕೊಲೆಗಾರರು ಒಂದು ಮೂಕ ಪ್ರೇಕ್ಷಕ ಉಳಿದಿದೆ ಜೊತೆ
ಚರ್ಚುಗಳಿಗೆ.

ಸಮಯ
ಖಂಡಿತವಾಗಿ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ institutionst ಕೊಲೆಗಾರರು ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ ವಿರೋಧಿ
ಚಲಿಸುತ್ತದೆ ಈ ತುಂಟ ಜನವಿರೋಧಿ ವಿರುದ್ಧ ಪ್ರಬಲ ಪ್ರತಿಭಟನಾ ಏರುವ ಬಂದಿದ್ದಾರೆ.
ಮತ್ತು ಪ್ರತಿಭಟನೆ ತುಂಬಾ ಆರಂಭಿಸಿವೆ ಖಚಿತವಾಗಿ ಎಂದು. ವಲಯದ
ಕಾರ್ಮಿಕರು ಹಾಗೂ ಉದ್ಯೋಗಿಗಳಿಗೆ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವದ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು ನೀತಿಗಳು
ಕೊಲೆಗಾರರು ವಿರೋಧಿಸುತ್ತಿದ್ದಾರೆ ನಂತರ ವಲಯದಲ್ಲಿ ರೈತರು ಭೂಮಿ ದೋಚಿದ
ಸಲುವಾಗಿ ಮತ್ತು ಗ್ರಾಮೀಣ ಉದ್ಯೋಗ ಖಾತರಿ ಮತ್ತು ಆಹಾರ ಭದ್ರತಾ ಹಕ್ಕನ್ನು
ಒತ್ತಾಯಿಸುತ್ತಿದ್ದರು ಮಾಡಲಾಗುತ್ತದೆ ವಿರುದ್ಧ ತೋಳುಗಳಲ್ಲಿ ಅಪ್.
ಈಗ ದೆಹಲಿ ವಿಧಾನಸಭೆಯ, ವಂಚನೆ ಮತಯಂತ್ರ ಕಳಪೆ ಮತ್ತು ಕೆಲಸ ಜನರು ಗೊಂದಲದಲ್ಲಿ
ಮತ್ತು ಗಮನವನ್ನು ಬೇರೆಡೆಗೆ ಮರುಳು ಮತ್ತೊಂದು ಮೇ ವಿಂಗ್ ಇದು ಆಪ್ ಆಯ್ಕೆ.

ಸಾಮಾನ್ಯ
ಜನರು ಮತ್ತು ಸಂಘಪರಿವಾರದ ಕೋಮುವಾದಿ ಮತ್ತು ಒಡಕುಂಟು ಕಾರ್ಯಸೂಚಿಯಲ್ಲಿ
ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ ಸಂಸ್ಥೆಯ ನ ಆಕ್ರಮಣದ ಕೊಲೆಗಾರರು ವಿರೋಧಿಸಲು ಮತ್ತು ಸಮಗ್ರ
ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ, ಸಮಾನತೆ, ಭ್ರಾತೃತ್ವ, ಸ್ವಾತಂತ್ರ್ಯದ ಘನತೆ ಮತ್ತು ನ್ಯಾಯ,
ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು ಮತ್ತು ವ್ಯಕ್ತಿಗಳು ಮಾಡಬೇಕಾಗುತ್ತದೆ ಒಂದು ಸಮಗ್ರ
ಶ್ರೇಣಿಯ ದೇಶದ ಜನರ ಯುದ್ಧದಲ್ಲಿ ಬಲಗೊಳಿಸಲು
ಒಟ್ಟುಗೂಡಿ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ವೇದಿಕೆ ಆರಂಭಿಸಲು ನಿರ್ಧರಿಸಲು

ಮೂರ್ಖನಾಗಿ ಪುರಾವೆ ಮತದಾನ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯ ಅವುಗಳನ್ನು ಬದಲಾಯಿಸಲು ಸುಪ್ರೀಂ ಕೋರ್ಟ್
ಆದೇಶ ನೀಡಿತು ಇದು ವಂಚನೆ ಮತಯಂತ್ರ ಧರಿಸುವುದನ್ನು ಪ್ರಜಾಸತ್ತಾತ್ಮಕ ಸಂಸ್ಥೆಗಳ
ಕೊಲೆಗಾರರು ನಿಲ್ಲಿಸಲು.

ಮಾಜಿ ಮುಖ್ಯ ನ್ಯಾಯಮೂರ್ತಿಗಳ ಸದಾಶಿವಂ ಏಕೆಂದರೆ ಅವುಗಳನ್ನು ಬದಲಾಯಿಸಲು
ಒಳಗೊಂಡಿರುವ ರೂ 1600 ಕೋಟಿ ವೆಚ್ಚದ ಮಾಜಿ ಸಿಇಸಿ ಸಂಪತ್ ಸೂಚಿಸಿದಂತೆ ಹಂತಗಳಲ್ಲಿ
ಅವುಗಳನ್ನು ಬದಲಾಯಿಸಲು ಆದೇಶ ತೀರ್ಪಿನ ಒಂದು ಸಮಾಧಿ ತಪ್ಪನ್ನು.

ಸುಪ್ರೀಂ ಕೋರ್ಟ್ ಹೊಸ ಚುನಾವಣೆಗೆ ಈ ವಂಚನೆ ಮತಯಂತ್ರ ಮತ್ತು ಸಲುವಾಗಿ ನಡೆಸಿದ
ಚುನಾವಣೆಯಲ್ಲಿ ಸ್ಕ್ರ್ಯಾಪ್ ಆದೇಶಗಳನ್ನು ಉತ್ತೀರ್ಣವಾಗಬೇಕಾಗುತ್ತವೆ.

ಇಂತಹ
ಸಮಯದವರೆಗೂ ಪ್ರಜಾಸತ್ತಾತ್ಮಕ ಸಂಸ್ಥೆಗಳ ಕೊಲೆಗಾರರು ನಮ್ಮ ಸಂವಿಧಾನದಲ್ಲಿ ಎಂದು
ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವ, ಸಮಾನತೆ, ಭ್ರಾತೃತ್ವ, ಸ್ವಾತಂತ್ರ್ಯ, ಘನತೆ ಮತ್ತು ನ್ಯಾಯದ ಉಳಿಸಲು
ಎಲ್ಲಾ 80 ವಿಶ್ವದ ಪ್ರಜಾಪ್ರಭುತ್ವಗಳಲ್ಲಿ ಮತ್ತು ನಮ್ಮ ಜನರ ಮನ್ನಣೆ ಇರಬಾರದು.


35) Classical Hindi
35) शास्त्रीय हिन्दी

1439 सबक 9315 सोमवार

मुफ्त ऑनलाइन ई-नालंदा अनुसंधान और अभ्यास विश्वविद्यालय
द्वारा चलाया
http://sarvajan.ambedkar.org

11 मार्च 2015 पर: “धारणाओं, आकलन और नुस्खे SIEPAP2015 सामाजिक समावेश और बहिष्करण ‘पर राष्ट्रीय सम्मेलन

योगी वेमना यूनिवर्सिटी कॉलेज: कडप्पा
वेमना पुरम, कडप्पा -516 003
राजनीतिक विज्ञान और लोक प्रशासन विभाग

डॉ डी.आर. सतीश बाबू मोबाइल: +919440028157
समन्वयक
____________________________________________________________________

हार्दिक शुभकामनाएं

सर / मैडम,

संकाय
सदस्य (2015 इस सम्मेलन शिक्षाविदों ने भाग लिया जाएगा मार्च 11 पर:
“धारणाओं, आकलन और नुस्खे SIEPAP2015 सामाजिक समावेश और बहिष्करण” मैं
राजनीतिक विज्ञान और लोक प्रशासन, YVU विभाग पर राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन
होता है कि आपको सूचित करने के लिए खुश हूँ
और
यंग रिसर्च स्कॉलर्स), देश के विभिन्न भागों से अछूत, नीति निर्माताओं,
सामाजिक देखभाल कार्यकर्ता, स्वयंसेवी संगठन, सामाजिक कार्यकर्ता और अन्य
हितधारकों के शिकार।
इस बेनी फार्म, शेयर, उपस्थित चर्चा करने के लिए सेट कर दिया जाता है; प्रतिभागियों को और गहराई में दस्तावेजों के मूल्यांकन, विचारों और
victimizations के माध्यम से सामाजिक समावेश और बहिष्करण में हाल के
रुझानों द्वारा अधिग्रहीत विचारों रिकॉर्ड है।

सम्मेलन के संयोजक के रूप में, मैं राष्ट्रीय सम्मेलन के भाग लेने के लिए एक गर्मजोशी से स्वागत करता हूं। यहाँ के साथ मैं सम्मेलन विवरणिका, पंजीकरण फार्म संलग्न है। यदि आवश्यक फोटो प्रतियां इस्तेमाल किया हो सकता है। अधिक जानकारी के लिए कृपया वेब साइट पर जाएँ: हाइपरलिंक “http://www.yogivemanauniversity.ac.inwww.yogivemanauniversity.ac.in
सस्नेह,
—————————————————————————————————————–

सामाजिक समावेश और बहिष्करण: अस्पृश्यता का शिकार

सार

इस पेपर का उद्देश्य दुगना है; पहले
कागज की पड़ताल और सामाजिक बहिष्कार (कभी कभी) सामाजिक समावेश पर नीति के
प्रयास के भीतर पुनर्गठन किया जा सकता है, जिसमें जटिल तरीके का वर्णन: इस
देश में कोटा नीति।
दूसरा,
पेपर शामिल किए जाने / बहिष्कार की संयुक्तता की एक उड़ान खाता और अधिक
विशेषाधिकार प्राप्त ‘अन्य’ के रूप में ‘गुजर’ द्वारा बहिष्कार की ‘समस्या’
से बचने और प्रबंधन कर सकते हैं बाहर रखा के रूप में उन तैनात कैसे का एक
उदाहरण प्रदान करता है।
इस पत्र की मूल फोकस students.More महत्वपूर्ण बात अनुसूचित जाति /
अनुसूचित जनजाति के जाति आधारित अनुभवों के साथ प्रौद्योगिकी धोखाधड़ी
ईवीएम छेड़छाड़ से लोकतंत्र, समानता, भाईचारा, स्वतंत्रता और न्याय का
अपहरण कर लिया गया है कि कैसे एक रास्ता है।

____________________________________________________________________

सुप्रीम कोर्ट ने दुनिया के 80 लोकतंत्रों द्वारा पीछा मूर्ख सबूत मतदान
प्रणाली के साथ नए सिरे से चुनाव के लिए इन ईवीएम मशीनों और व्यवस्था के
माध्यम से आयोजित सभी चुनावों स्क्रैप करने के लिए आदेश पारित करना होगा।

अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग / अल्पसंख्यक / गरीब
सवर्णों से संबंधित जनसंख्या बौद्धिक युवकों के 99% से अलग, इन धोखाधड़ी
ईवीएम के सिलसिले में दुनिया के लोगों को जगाने के लिए इंटरनेट का उपयोग
करना चाहिए

चलना, भागो, तैरना, साइकिल!
के लिए
सभी धोखाधड़ी ईवीएम के प्रतिस्थापन!
मूर्ख सबूत मतदान प्रणाली के साथ!

अगले
100 वर्षों Sarvajan Hitaye Sarvajan Sukhaye, IE के लिए होना चाहिए।,
बाबा साहेब डा से जन्मा संविधान में निहित के रूप में अनुसूचित जाति /
अनुसूचित जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग / अल्पसंख्यक और देश में गरीब सवर्णों
सहित शांति, खुशी और सभी समाजों के कल्याण के लिए
समान रूप से समाज के सभी वर्गों के बीच देश के धन वितरण से BRAmbedkar।

जातिवाद
और छुआछूत लड़ने वाले पंडित Aiyothidas, महात्मा फुले, Sahuji महाराज,
नारायण गुरु, पेरियार EVRamaswamy, Ayankali, डॉ बाबासाहेब BRAmbedkar,
Manyavar Kanshiramji और सुश्री Mayawatiji, अगले 100 साल की तरह प्रख्यात
नेताओं द्वारा निभाई गई भूमिका उनकी होने जा रहा है

लोग
जागरूकता के साथ जागृत एक की शिक्षाओं का पालन करके अंधविश्वास से लड़ने
और एक बंडल में अपने सभी भय डाल करने के लिए मन की अधिकतम सकारात्मक
एकाग्रता देने के लिए और अपने बच्चों के लिए सरकार, निजी और स्व-रोजगार
में, नदी, शिक्षा के क्षेत्र में आरक्षण फेंक दिया जाएगा, जो
विकास के लिए आवश्यक मुख्य बातें कर रहे हैं।

“शिक्षित, व्यवस्थित और आंदोलन” के अम्बेडकर का नारा “न्याय की भीख माँग
नहीं हो रही है, लेकिन संविधान में enshrines के रूप में हर नागरिक का
अधिकार है,” अब बहुत ही वैध है।

अहमदाबाद Valmikis slumdwelling अस्पृश्यता का शिकार, एक सम्मानजनक जीवन के लिए आवश्यक सबसे बुनियादी सुविधाओं से वंचित रहना

अहमदाबाद
के पांच झुग्गी बस्तियों Thaltej, गोटा, Hatkeshwar, मानव विकास और
अनुसंधान केंद्र द्वारा Naranpura Lakhudi और सोला ब्रिज (HDRC), अहमदाबाद,
में रहने वाले अनुसूचित जाति वाल्मीकि समुदाय के एक अध्ययन में समुदाय के
सबसे उपेक्षित खंड रहता है कि कैसे की ओर इंगित करता है
शहर के शहरी जीवन।

कुछ अंशः

अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति गुजरात की आबादी का प्रतिशत 6-7 बनाते हैं। एक
इतिहास में वापस लग रहा है, एक अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजातियों, की
हालत में विशेष रूप से गांवों में, अत्यंत दयनीय थी कि पाता है।
बनासकांठा
जिले में, उदाहरण के लिए, अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति वे एक दूरी से
प्रमुख castemen से पहचाना जा सकता है, इसलिए है कि एक विशेष रंग की पगड़ी
के साथ अपने सिर को कवर करने के लिए बाध्य किया गया।
अनुसूचित
जाति / अनुसूचित जनजाति दूल्हे शादी के जुलूस के दौरान एक घोड़े की सवारी
करने के लिए अनुमति नहीं दी जाएगी, और जुलूस के उन लोगों के गठन हिस्सा
उत्सव में संगीत की धुन पर ड्रम या नृत्य को हरा करने की अनुमति नहीं दी
जाएगी।
इस
अनुसूचित जाति / जनजाति समुदाय की स्थिति थी, तो एक अच्छी तरह से भेदभाव
Valmikis, अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के पदानुक्रम में सबसे कम डंडा
की किस प्रकार की कल्पना कर सकता है, का सामना करना होगा।
प्रमुख
जातियों के व्यक्तियों कि अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति, विशेष रूप से
Valmikis, ग्रामीण क्षेत्रों में यह कहने के लिए कि उचित होगा सरकार चलाने
के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (पीएचसी) में इलाज, नहीं मिला, कठोर
पारंपरिक जाति सुनिश्चित करना होगा जब एक समय था
व्यवहार आज भी बरकरार है।

व्यावसायिक विकल्पों की तलाश में, कई Valmikis गुजरात के शहरों में, विशेष रूप से अहमदाबाद में भूमि। यह एक Valmikis की एक बड़ी संख्या काफी कुछ समय के लिए अहमदाबाद की मलिन बस्तियों में रह रहे हैं पाता है एक कारण है। इधर, प्रवासियों के रूप में रहते हैं, वे आजीविका के साथ संबंधित प्रमुख मुद्दों का सामना। वे एक अत्यंत दमघोंटू माहौल में जीने के लिए मजबूर कर रहे हैं। वे इस तरह के कार्यस्थल पर मूल्य वृद्धि, और उत्पीड़न के रूप में शहरी
आजीविका के बड़े मुद्दों के लिए आसान शिकार हो जाते हैं, वे अतिरिक्त
अस्पृश्यता का शिकार हो जाते हैं।

वाल्मीकि समुदाय मुख्य रूप से शहर के सभी गंदगी को साफ करने के काम के साथ गठबंधन किया है। पति
और पत्नी और बड़े हो गए बच्चों - - सफाई कर्मचारी के रूप में काम करने के
लिए आर्थिक मजबूरियों के एक से अधिक परिवार में व्यक्ति बनाते हैं।
वे एक साथ एक औसत 700 रुपये के लिए 800 रुपये में एक दिन कमाते हैं। इस
परिवार को चलाने के लिए पर्याप्त होना चाहिए, जबकि लागत वे आवास, बिजली और
पानी जैसी बुनियादी सुविधाओं से वंचित कर रहे हैं जब वास्तव में एक समय
में बहुत ही उच्च उनकी प्राथमिक आवश्यकताओं है पूरा करने के लिए रखना
चाहिए।
कई स्थानों पर, महिला वाल्मीकि श्रमिकों को उनके पुरुष समकक्षों की तुलना
में कम मजदूरी का भुगतान किया जाता है, के रूप में हालात विशेष रूप से
कठिन हो गया है।

Valmikis के बीच सामाजिक जागरूकता बेहद कम है। वे आम तौर पर सशक्त किए जाने की जरूरत के बारे में नहीं सोचा है। इस के लिए एक प्रमुख कारण यह है कि कई स्वयंसेवी संगठनों अनुसूचित जाति /
अनुसूचित जनजाति के सशक्तिकरण के लिए काम करते हैं, वे Valmikis की
चिंताओं को थोड़ा ध्यान देना है।

Valmikis सता एक बड़ी समस्या आवास की है। वे
रोजगार की तलाश में ग्रामीण क्षेत्रों से शहरों के लिए आते हैं, वे
अहमदाबाद की झुग्गी बस्तियों में सबसे बड़ी समूहों में से एक के रूप में।
स्थानों की एक बड़ी संख्या में हैं, वे वे अपने दम पर स्थापित अस्थायी झोपड़ियों में रहते हैं। हालांकि, वे अपने नाम में इन झोपड़ियों रजिस्टर करने में सक्षम नहीं किया गया है।
एक, वास्तव में, कार्यान्वयन सरकारी योजनाओं में Valmikis के खिलाफ भेदभाव स्पष्ट है कि वहाँ देख सकते हैं। वास्तविक
हकीकत पूरी तरह से अलग है, हालांकि slumdwellers के लिए एक रहने योग्य
वातावरण बनाने के लिए करना चाहता है जो एक झुग्गी बस्ती क्षेत्र विकास नीति
नहीं है।
एक झुग्गी बस्ती पुनर्वास योजना का लाभ लेने के लिए आदेश में, वे सीधे
अपनी आजीविका को प्रभावित करने, कहीं बाहरी इलाके में रहने के अपने वर्तमान
स्थान छोड़ने के लिए और दूर दूर स्थानांतरित करना होगा।

यह वाल्मीकि समुदाय के लोगों को बुनियादी सुविधाओं के कुल अनुपस्थिति वहाँ जहाँ भी रहते हैं कि पाया गया है। अहमदाबाद में, Valmikis झोपड़ियों में रहने के लिए जगह किराये पर लिया द्वारा रहते हैं। वे कोई बिजली या पानी के कनेक्शन है। इतना
ही नहीं वे इस तरह से जीने के लिए किराए का भुगतान करना होगा, के बारे में
10,000 से 15,000 झोपड़ियों के लिए सिर्फ 15 प्रयोग करने योग्य शौचालय
हैं।
इस वाल्मीकि slumdwellers के स्वास्थ्य पर सीधा प्रभाव पड़ता है।

अहमदाबाद Valmikis सामना करना पड़ रहा एक अन्य प्रमुख मुद्दा है कि वे क्या करना चाहिए नौकरियों के प्रकार से संबंधित है। ग्रामीण क्षेत्रों या शहरी क्षेत्रों में चाहे, वे सफाई श्रमिकों के रूप
में वे कुछ शिक्षा प्राप्त करने के लिए आते हैं, भले ही यहां तक ​​कि नगर
पालिकाओं और नगर निगमों में करने के लिए बाध्य कर रहे हैं एक काम से काम
करना चाहिए।

Aslali
समिति की रिपोर्ट के अनुसार, एक सरकारी निकाय में काम कर रहे किसी भी
वाल्मीकि समुदाय के व्यक्ति कक्षा 8 वीं, 9 वीं या 10 वीं तक का अध्ययन
किया गया है, तो वह या वह एक उच्च स्तर के लिए प्रोत्साहित किया जाना
चाहिए।
हालांकि, सरकार ने सिफारिश करने के लिए कोई ध्यान का भुगतान नहीं किया गया है। यहां तक ​​कि उन डिग्री धारक हैं, जो अहमदाबाद में श्रमिकों की सफाई के रूप में काम करते हैं। सफाई से नौकरियों में अन्य चरम कठिनाइयों, काम पर काबू पाने, जो बहुत कुछ वाल्मीकि व्यक्तियों रहे हैं।

Valmikis उनके स्वास्थ्य के साथ संबंधित प्रमुख मुद्दों का सामना। गंदगी और धूल के बीच में काम करते हुए, उनमें से कई के लिए एक बहुत ही कम उम्र में तपेदिक या अस्थमा के शिकार हो जाते हैं। यह एक औसत पर, उनके जीवन काल में 50 से 55 साल है, कि पाया गया है।

Valmikis
ग्रामीण क्षेत्रों में उसी तरह के रूप में शहरी क्षेत्रों में अस्पृश्यता
के शिकार नहीं हैं, हालांकि कुछ तथाकथित ऊपरी castemen उनके प्रति जातिवादी
रवैये का निरीक्षण करते हैं।
लोगों की मानसिकता में थोड़ा बदलाव आया है।

फिर, एक Valmikis के बीच शिक्षा के लिए बहुत कम महत्व यह है कि वहाँ पाता है। कोई शक नहीं, इस बात के लिए, हमारे समाज के प्रमुख जाति मानसिकता भी है, जिम्मेदार है। वाल्मीकि
बच्चों को स्कूलों में प्रवेश दिया जाता है, वहीं वाल्मीकि माता-पिता यह
आवश्यक बच्चे नियमित रूप से पर्याप्त स्कूल के लिए चला जाता है कि यह
सुनिश्चित करने के लिए नहीं मिल रहा है।
वे
बच्चे की मानसिकता पर प्रभाव डालता है पर प्रतिकूल जो सफाई का काम है, के
लिए जाना जब अधिक से अधिक बार नहीं की तुलना में, बच्चे के माता-पिता के
साथ।
यह भविष्य की सफाई कार्यकर्ता बनने के बच्चे के पीछे का कारण बन जाता है।

फिर, Valmikis के लिए उपलब्ध बहुत कुछ रोजगार विकल्प हैं। व्यक्तिगत विकास और शब्दावली में मौजूद नहीं है जागरूकता जैसे शब्द; पर सबसे अच्छा है कि वे गरीब साक्षरता के स्तर के लिए धन्यवाद, कुछ मायावी पंडिताऊ ज्ञान का हिस्सा हैं। इससे भी बदतर है, वे एक अनंतिम दुकान या एक चक्र की मरम्मत कार्यशाला
किकस्टार्ट अगर वे पर्याप्त ग्राहकों को प्राप्त करने में सफल नहीं होगा
लगता है कि जिससे प्रमुख castemen द्वारा नकारात्मक रवैया की, Valmikis एक
मानसिकता विकसित है।

वास्तव
में, दिन के समय के दौरान गंदगी इकट्ठा करने और प्रमुख जाति वर्गों द्वारा
घृणा के अधीन किया जा रहा Valmikis के लिए दैनिक जीवन का हिस्सा बन गए
हैं।
यह अंततः उनके स्वास्थ्य को हानि पहुँचाता है, जो तंबाकू के लिए एक प्रमुख पुरुषों शराब के आदी हो जाते है कारण है, और महिलाओं है।

फिर भी Valmikis के बीच एक और सामाजिक बुराई बाल विवाह है। पल लड़की वह शादी कर रहा है, उसे किशोरों में प्रवेश करती है, और पांचवें या छठे मानक पूरा करती है। महिलाओं के साथ बातचीत के दौरान यह एक लड़की अधिक अध्ययन करने के लिए
किया जाता है, तो समुदाय के लोगों उसकी ईमानदारी पर सवाल शुरू होगा, कि
स्पष्ट हो गया।

Valmikis की एक बड़ी संख्या उन में से कई सरकारी नौकरियों की बात करने के
लिए नहीं, सरकारी योजनाओं का लाभ प्राप्त करने में असमर्थ रहे हैं, जिनमें
से एक परिणाम के रूप में, इतने पर इस तरह के जन्म प्रमाण पत्र, पते का
प्रमाण, राशन कार्ड के रूप में मूल दस्तावेजों है, और नहीं है।

संबंधित

जाति संघर्ष का एक हॉटस्पॉट, कादी तालुका के अनुसूचित जाति / अनुसूचित
जनजाति सार्वजनिक जीवन में भेदभाव का विरोध, असामान्य जागरूकता दिखाना शुरू
कर दिया है

अनुसूचित जाति के दोषारोपण का व्यापक प्रसार है / अनुसूचित जनजातियों
ग्रामीण क्षेत्रों में पानी के लिए उपयोग में, सर्वेक्षण रिपोर्ट कहती है

ग्रामीण
गुजरात अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति गुजरात के मुख्यमंत्री को पीने के
पानी के लिए उपयोग में भेदभाव की शिकायत का प्रतिनिधित्व करते हैं,
बुनियादी सुविधाओं के लिए आरएसएस के Bahuth Jiyadha Paapis (भाजपा)
वाल्मीकि अब हिंदुत्व वोट बैंक की राजनीति के लिए RSSized किया गया है जो
महाकाव्य रामायण में लिखा था कि पता होना चाहिए।
Vlamiki राम बनाया। मंदिरों अपने हीरो के लिए बनाया गया है, लेकिन उन मंदिरों के अंदर की अनुमति नहीं है।

अब यह धोखाधड़ी ईवीएम tamperable हैं और इसलिए उन सभी को प्रतिस्थापित किया जा सकता था कि एक बस कानून है। लेकिन
पूर्व मुख्य न्यायाधीश सदाशिवम पूर्व ने सुझाव दिया है के रूप में ईवीएम
चरणों में प्रतिस्थापित करने की धोखाधड़ी की अनुमति देकर न्याय की एक गंभीर
त्रुटि के लिए प्रतिबद्ध।
क्योंकि रुपये 1600 करोड़ रुपए की लागत से मुख्य चुनाव आयुक्त संपत उन्हें जगह के लिए शामिल है। जनसंख्या chtpawan ब्राह्मण, आतंकवादी, उग्रवादी, लोकतांत्रिक संस्थाओं
(मोदी) का हिंसक, असहिष्णु, heckling चुपके हिंदुत्व पंथ आरएसएस के
हत्यारों को पकड़ा है मास्टर कुंजी का एक परिणाम 1% के रूप में।

समाधान सुप्रीम कोर्ट ने दुनिया के 80 लोकतंत्रों द्वारा पीछा मूर्ख सबूत
मतदान प्रणाली के साथ नए सिरे से चुनाव के लिए इन ईवीएम मशीनों और
व्यवस्था के माध्यम से आयोजित सभी चुनावों स्क्रैप करने के लिए आदेश पारित
करना होगा कि है।

अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग / अल्पसंख्यक / गरीब
सवर्णों से संबंधित जनसंख्या बौद्धिक युवकों के 99% से अलग, इन धोखाधड़ी
ईवीएम के सिलसिले में दुनिया के लोगों को जगाने के लिए इंटरनेट का उपयोग
करना चाहिए

चलना, भागो, तैरना, साइकिल!
के लिए
सभी धोखाधड़ी ईवीएम के प्रतिस्थापन!
मूर्ख सबूत मतदान प्रणाली के साथ!

दिन के लिए यह भ्रष्टाचार की जांच, कीमतें कम काले धन को वापस लाने के लिए एक बड़ी सं है।

तेल की कीमतों में विश्व स्तर नीचे जा रहे हैं, लेकिन हम वास्तव में इस देश में यह नहीं लग रहा है। हर आवश्यक वस्तु के किराए और परिवहन शुल्क और कीमतें ऊपर जाना जारी है। वहाँ
काले धन का कोई संकेत नहीं बरामद किया जा रहा है और भाजपा (Bajuth Jiyadha
Paapis) के अध्यक्ष अमित शाह काले धन की स्वदेश वापसी के माध्यम से 15 लाख
रुपये में हो रही हर परिवार की बात सिर्फ खाली जनमत बयानबाजी ने कहा कि अब
हो गया है।
इसके विपरीत, हम अपने सार्वजनिक बैंक की जनवरी-धन से मैं अरब डॉलर का ऋण
अदानी की तरह इष्ट कंपनियों को बाहर doled जा रहा है कि देखो!

धोखाधड़ी
ईवीएम द्वारा चयनित धोखाधड़ी लोगों को इस देश और विदेशी मूल की बड़ी
कंपनियों के लिए एहसान पर पारित करने के लिए अतिरिक्त समय काम कर रहा है।
अध्यादेश कॉर्पोरेट हित में जमीन हड़पने में तेजी लाने के लिए जारी किया गया है। कोयला और अन्य खानों वाणिज्यिक निजी खनन के लिए खोला जा रहा है। विदेशी निवेश अर्थव्यवस्था के हर क्षेत्र में इष्ट किया जा रहा है। और
इस देश के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा की हाल की यात्रा के दौरान मोदी
(लोकतांत्रिक संस्थाओं के हत्यारों) वस्तुतः हमें किसी भी दुर्घटना के
मामले में किसी भी दायित्व, मुआवजा और कानूनी कार्रवाई से हमारे देश के लिए
परमाणु रिएक्टरों की आपूर्ति कंपनियों को मुक्त कर दिया है।
लोकतांत्रिक
संस्थाओं के हत्यारों को व्यवस्थित इस देश के पेटेंट नीति को कम कर रहे
हैं अमेरिकी दवा कंपनियों के लालच को बढ़ावा देना;
जो कई जीवन रक्षक दवाओं के घरेलू उत्पादन स्टाल और इस देश में और दुनिया भर में आम लोगों के लिए उनकी कीमतें बढ़ा देंगे।

योजना आयोग के घाव कर दिया गया है और कल्याण कार्यक्रमों के लिए आवंटित धन को व्यवस्थित निचोड़ा जा रहा है। नवीनतम
बजट में सरकार ने सबसे ज्यादा प्रभावित स्वास्थ्य, महिला एवं बाल कल्याण
किया जा रहा है, और शिक्षा के क्षेत्र, कल्याण और सामाजिक खर्च पर होने
वाले खर्च घटा दिया गया है।
75% से 40% से खाद्य सुरक्षा कवरेज में भारी कमी की योजना बनाई है। श्रम
कानूनों को व्यवस्थित इस देश के श्रमिकों को मजदूरी चोरी, असुरक्षित खिलाफ
कोई कानूनी रक्षा इनकार करने के लिए विकृत किया जा रहा है सस्ते में जबकि
अभियान ‘भारत में बना’ के नाम पर लोकतांत्रिक संस्थाओं के हत्यारों आते हैं
और इस देश के श्रम का शोषण करने के लिए विदेशी पूंजी आमंत्रित कर रहे हैं
कार्यस्थलों और दमनकारी काम करने की स्थिति।

व्यवसायीकरण और शिक्षा के saffronization एक ताजा धक्का दिया जा रहा है। सार्वजनिक रूप से वित्त पोषित शिक्षा शिक्षा संस्थानों की स्वायत्तता पर
रौंद डाला जा रहा है, विशाल बजट में कटौती के माध्यम से कमजोर किया जा रहा
है, और प्रगतिविरोध और सांप्रदायिक जहर पाठ्यक्रम में परिवर्तन और
नियुक्तियों के माध्यम से दोनों को बढ़ावा दिया जा रहा है।

और
आम लोगों पर इस आर्थिक हमले के साथ लोकतांत्रिक संस्थाओं के हत्यारों का
समर्थन प्राप्त है जो संघ परिवार के शरारती सांप्रदायिक एजेंडा है।
हर
छोटे स्थानीय विवाद को उड़ा जा रहा है या सरासर अफवाहें सांप्रदायिक
उन्माद कोड़ा और मुस्लिम समुदाय को लक्षित करने के लिए फैल जा रहा है।
अनुसूचित
जाति / अनुसूचित जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग / अल्पसंख्यक / गरीब सवर्णों
सहित सभी समाजों के 99% के प्रति नफरत की आरएसएस प्रमुख पूर्ण आतंकवादी,
उग्रवादी, हिंसक, heckling, असहिष्णु, हिंदुत्व पंथ 1% chitpawan ब्राह्मण
जम्बुद्वीप / प्रबुद्ध भारत एक हिंदू राष्ट्र घोषित कर दिया है, जो
असंवैधानिक
है और क्योंकि attitude.There हावी 1% chitpawan ब्राह्मणों की अदालत की
अवमानना ​​द्वारा निर्मित किया गया था जो RSSized हिंदुत्व में कोई
siprituality है वीर सावरकर अदालत ने फांसी की सजा दी गई थी, जो naturam
भगवान (एसई) आतंकवादी और कातिल की तरह एक और chitpawan ब्राह्मण
जिसका स्थापित करने की प्रतिमाओं followere हैं और मंदिर अदालत की अवमानना ​​लेकिन जो कुछ भी नहीं है का निर्माण किया जा रहा है। इन
सभी power.Bahuth Jiyadha Paapis सांसदों, मंत्रियों और तथाकथित साधुओं और
sadhvis के लालच के लिए कर रहे हैं इसकी जनसंख्या को बढ़ाने के लिए 1%
chitpawan ब्राह्मणों असमर्थ चार बच्चों और more.The, उनमें से कई के रूप
में परिवर्तित हो गया निर्माण करने के लिए हिंदू महिलाओं को कह रहे हैं
प्रोटेस्टेंट चर्च, अस्पताल और शैक्षिक संस्थानों के बंद दस्तक और उनके
साथ उनकी जाति ले जाने से अस्पृश्यता अभ्यास किया है और अब गैर chitpawan
ब्राह्मणों राष्ट्रीय राजधानी में सही तोड़फोड़ की जा रही है और
लोकतांत्रिक संस्थाओं के हत्यारों को एक मूक दर्शक बनी हुई है के साथ चर्च
के लिए।

समय
निश्चित रूप से लोकतांत्रिक institutionst के हत्यारों की लोकतंत्र विरोधी
चालें इन शरारती विरोधी लोगों के खिलाफ शक्तिशाली विरोध में वृद्धि करने
के लिए आ गया है।
और विरोध प्रदर्शन बहुत बहुत शुरू कर दिया है सुनिश्चित करना होगा। क्षेत्र
के श्रमिकों और कर्मचारियों को लोकतांत्रिक संस्थाओं की नीतियों के
हत्यारों का विरोध कर रहे हैं के बाद क्षेत्र में किसानों के भूमि हड़पने
के आदेश और ग्रामीण गरीबों के रोजगार की गारंटी और खाद्य सुरक्षा के लिए
अपने अधिकार पर जोर दे रहे हैं के खिलाफ बाहों में उठ रहे हैं।
और अब दिल्ली विधानसभा के चुनावों में धोखाधड़ी ईवीएम गरीब और काम कर रहे
लोगों को भ्रमित और ध्यान हटाने के लिए बेवकूफ बनाने की एक और आरएसएस शाखा
है जो आप के चयनित।

आम
लोगों और संघ परिवार के सांप्रदायिक और विभाजनकारी एजेंडे पर लोकतांत्रिक
संस्था के हमले के हत्यारों का विरोध और व्यापक लोकतंत्र, समानता, भाईचारा,
स्वतंत्रता गरिमा और न्याय, लोकतांत्रिक संगठनों और व्यक्तियों को चाहिए
की एक पूरी श्रृंखला के लिए देश के लोगों की लड़ाई को मजबूत करने के लिए
एक साथ आते हैं और एक राष्ट्रीय मंच लांच करने का फैसला

मूर्ख सबूत मतदान प्रणाली के साथ उन्हें बदलने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने
आदेश दिए थे जो धोखाधड़ी ईवीएम हथियाने लोकतांत्रिक संस्थाओं के हत्यारों
बंद करो।

पूर्व मुख्य न्यायाधीश सदाशिवम क्योंकि उन्हें बदलने के लिए शामिल रुपये
1600 करोड़ रुपए की लागत के पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त संपत ने सुझाव दिया
है के रूप में चरणों में उन्हें बदलने के लिए आदेश देने से न्याय की एक
गंभीर त्रुटि के लिए प्रतिबद्ध।

सुप्रीम कोर्ट के ताजा चुनावों के लिए इन धोखाधड़ी ईवीएम और व्यवस्था के
साथ आयोजित सभी चुनावों स्क्रैप करने के लिए आदेश पारित करना होगा।

ऐसे
समय जब तक लोकतांत्रिक संस्थाओं के हत्यारों को हमारे संविधान में निहित
के रूप में लोकतंत्र, समानता, भाईचारा, स्वतंत्रता, गरिमा और न्याय को
बचाने के लिए सभी 80 दुनिया के लोकतंत्र और हमारे लोगों की पहचान नहीं हो
जाना चाहिए।


60) Classical Marathi
60) शास्त्रीय मराठी

1439 पाठ 9315 सोमवार

मोफत ई-नालंदा संशोधन आणि सराव विद्यापीठ
द्वारे चालवा
http://sarvajan.ambedkar.org

मार्च 11 2015 रोजी, “दृष्टीकोन, मूल्यमापन आणि चांगले SIEPAP2015 सामाजिक समावेशन आणि त्या का” वर राष्ट्रीय परिषद

योगी VEMANA विद्यापीठ कॉलेज: कडप्पा
Vemana Puram, कडप्पा -516 003
राज्यशास्त्र आणि सार्वजनिक प्रशासन विभाग

डॉ D.R. सतीश बाबू मोबाइल: +919440028157
समन्वयक
____________________________________________________________________

उबदार ग्रीटिंग्ज

सर / मॅडम,

नियमीत
अध्यापक (2015 या परिषदेत Academicians सहभागी होणार आहेत मार्च 11 वर:
“दृष्टीकोन, मूल्यमापन आणि चांगले SIEPAP2015 सामाजिक समावेशन आणि त्या का”
मी राज्यशास्त्र आणि सार्वजनिक प्रशासन, YVU विभागाने राष्ट्रीय परिषद
आयोजित आहे की आपण माहिती आनंद आहे
आणि
यंग संशोधन विद्वान), देश विविध भागातून, अस्पृश्यांना धोरण घेणारे,
सामाजिक काळजी कामगार, स्वयंसेवी संस्था च्या, सामाजिक कार्यकर्ते आणि इतर
भागधारक बळी.
या plat फॉर्म, शेअर करा, सादर चर्चा करण्यासाठी सेट केले आहे; सहभागी आणि खोली मध्ये दस्तऐवज आकलन, सांगड आणि victimizations द्वारे
सामाजिक समावेश व वगळताना अलीकडील ट्रेंड विकत घेतले कल्पना रेकॉर्ड.

परिषदेचे निमंत्रक म्हणून, मी नॅशनल कॉन्फरन्स सहभागी एक उबदार आपले स्वागत आहे वाढवायचे. येथे मी परिषद ब्रोशर, नोंदणी फॉर्म संलग्न आहे. तर आवश्यक फोटो कॉपी वापरले शकते. अधिक माहितीसाठी कृपया वेब साइट ला भेट द्या: हायपरलिंक “http://www.yogivemanauniversity.ac.inwww.yogivemanauniversity.ac.in.
विनम्र,
—————————————————————————————————————–

सामाजिक समावेशन आणि वर्जित: अस्पृश्यता बळी

सार

कागद हा उद्देश खांद्यावर आहे; पहिला
पेपर explores आणि सामाजिक वगळताना (कधी कधी) सामाजिक समावेश येथे धोरण
प्रयत्न आत पुनर्बांधणी जाऊ शकते क्लिष्ट मार्ग वर्णन: या देशात कोटा धोरण.
दुसरी
गोष्ट म्हणजे, कागद समावेश / वगळताना च्या connectedness एक प्रवृत्ती
खाते आणि अधिक वंचित ‘इतर’ म्हणून ‘जात’ या वगळताना च्या ‘समस्या’
टाळण्यासाठी आणि व्यवस्थापित करू शकता वगळले त्या केले कसे एक उदाहरण
उपलब्ध आहे.
कागद हा स्वतंत्र लक्ष केंद्रित students.More महत्त्वाचे अनुसूचित जाति /
अनुसूचित जमाती जात-आधारित अनुभव तंत्रज्ञान फसवणूक ईव्हीएम फेरबदल करून
लोकशाही, समता, बंधुभाव, स्वातंत्र्य आणि न्याय अपहृत आहे कसे आहे.

____________________________________________________________________

सर्वोच्च न्यायालयाने जगातील 80 democracies त्यानंतर मूर्ख पुरावा मतदान
प्रणाली ताज्या निवडणुकीत या ईव्हीएम व सुव्यवस्था माध्यमातून आयोजित सर्व
निवडणूक रद्द करण्याचे आदेश पास असणे आवश्यक आहे.

अनुसूचित जाती / जमाती / ओबीसी / अल्पसंख्याक / गरीब उच्च जाती मधील
लोकसंख्या बौद्धिक युवकांना 99% व्यतिरिक्त, या फसवणूक ईव्हीएम संबंधात
जगातील लोक जागृत करण्यासाठी इंटरनेट वापर करणे आवश्यक आहे

चालणे, रन, पोहणे, सायकल!
साठी
सर्व फसवणूक ईव्हीएम बदलण्यासाठी!
मूर्ख पुरावा मतदान प्रणाली!

पुढील
100 वर्षे Sarvajan Hitaye Sarvajan Sukhaye, म्हणजेच असणे आवश्यक आहे.,
बाबासाहेब डॉ यांनी fathered घटनेत नमूद केल्याप्रमाणे अनुसूचित जाती /
जमाती / ओबीसी / अल्पसंख्याक आणि देशातील गरीब उच्च जाती समावेश शांती,
आनंद आणि सर्व संस्था कल्याणासाठी
तितकेच समाजातील सर्व विभागांतील देशातील संपत्ती वितरीत करून BRAmbedkar.

जातीयवाद
आणि अस्पृश्यता लढले कोण पंडित Aiyothidas, महात्मा फुले, Sahuji महाराज,
नारायण गुरू, पेरियार EVRamaswamy, Ayankali, डॉ बाबासाहेब BRAmbedkar,
Manyavar Kanshiramji व श्रीमती Mayawatiji, पुढील 100 वर्ष नामवंत नेते
खेळला भूमिका त्यांच्या होणार आहे
.

लोक
जागृती सह जागे एक मुलगा व एक अनुसरण करून अंधश्रद्धा संघर्ष आणि एक बंडल
त्यांच्या भीती ठेवणे मन जास्तीत जास्त सकारात्मक एकाग्रता देणे आणि
त्यांच्या मुलांना सरकारी, खाजगी आणि स्वयं रोजगार मध्ये, नदी,
शिक्षणामध्ये आरक्षण टाकले करेल
विकासासाठी आवश्यक मुख्य गोष्टी आहेत.

“शिक्षण, संयोजित हैराण” आंबेडकर घोषणा “न्याय भीक नाही मिळत, पण घटनेत
enshrines म्हणून प्रत्येक नागरिक योग्य आहे,” आता फार वैध आहे.

अहमदाबाद Valmikis slumdwelling अस्पृश्यता बळी, अशी जीवन आवश्यक सर्वात मूलभूत सुविधा वंचित राहतील

अहमदाबाद
पाच झोपडपट्टी भागातील Thaltej, Gota, Hatkeshwar, मानव विकास आणि संशोधन
केंद्र Naranpura Lakhudi आणि Sola ब्रिज (HDRC), अहमदाबाद, जगत अनुसूचित
जाती वाल्मिकी समाज अभ्यास समुदाय हा सर्वात दुर्लक्षित विभाग राहते कसे
दिशेने पॉइंट
शहराच्या शहरी जीवन.

उतारे:

अनुसूचित जाती / जमाती गुजरातच्या टक्के लोकसंख्या 7 6 अप करा. परत इतिहास मध्ये पाहतो, तर एक अनुसूचित जाती / अनुसूचित, स्थिती, विशेषत: गावांमध्ये अत्यंत कीव होते असे आढळून आले की. बनासकांठा
जिल्ह्यातील, उदाहरणार्थ, अनुसूचित जाती / अनुसूचित जमाती ते अंतर पासून
हाती सत्ता असलेला प्रबळ castemen ओळखली जाऊ शकते की, एक विशिष्ट रंग एक
फेटा बांधावा त्यांच्या आपले मस्तक आच्छादित करणे बंधनकारक होते.
अनुसूचित
जाती / जमातीचा bridegrooms लग्न मिरवणूक दरम्यान एक घोडा घोडा करण्याची
परवानगी दिली जाणार नाही, आणि मिरवणूक त्या लागत भाग उत्सव संगीत इतकी ढोल
नृत्य विजय करण्याची परवानगी दिली जाणार नाही.
या
अनुसूचित जाती / जमातीचा समाजाच्या स्थिती निर्माण झाली असेल, तर एक
चांगले भेदभाव Valmikis, अनुसूचित जाती / जमातीचा पदानुक्रमात सर्वात
खालच्या पायरीवर काय प्रकार कल्पना नाही, तोंड द्यावे लागेल.
हाती
सत्ता असलेला प्रबळ जाती व्यक्ती की अनुसूचित जाती / अनुसूचित, विशेषत:
Valmikis, ग्रामीण भागात .it की म्हणायचे समर्पक होईल सरकारी प्राथमिक
आरोग्य केंद्रे (प्राथमिक आरोग्य केंद्राच्या) मध्ये उपचार, नाही, ताठ
पारंपारिक जात याची खात्री होईल तेव्हा एक वेळ अशी होती
वर्तन आजही सुरक्षित आहे.

व्यावसायिक पर्याय शोध, अनेक Valmikis गुजरातच्या शहरात, विशेषत: अहमदाबाद मध्ये जमिनीच्या. हे एक Valmikis मोठ्या प्रमाणात गेल्या काही काळ अहमदाबाद च्या झोपडपट्टीतला जगत आहेत पोहोचला का एक कारण आहे. येथे स्थलांतर करणारी मुले म्हणून जिवंत, ते उदरनिर्वाह संबंधित प्रमुख समस्या आहेत. ते एक अत्यंत गुदमरुन टाकणारा वातावरण राहावे लागत आहेत. ते अशा कामाच्या ठिकाणी महागाई, आणि दडपशाही शहरी अन्नात मोठ्या समस्या सहज बळी पडतात, पण याव्यतिरिक्त अस्पृश्यता बळी पडतात.

वाल्मिकी समाज प्रामुख्याने गावातील घाण स्वच्छ काम सरळ रेषेत आहे. पती आणि पत्नी आणि मुले घेतले - - स्वच्छता कामगार म्हणून काम आर्थिक लाचारी एकापेक्षा अधिक कुटुंबातील व्यक्ती करा. ते ही सरासरी 700 रुपयांनी रुपये 800 एक दिवशी कमवा. या
कुटुंब चालवण्यासाठी पुरेसे असावे असताना, खर्च ते गृहनिर्माण, वीज आणि
पाणी मुलभूत सुविधा हिरावून घेतात तेव्हा खरंच एका वेळी फार उच्च त्यांचे
प्राथमिक गरजा भागविण्यासाठी आहे धरणे आवश्यक आहे.
अनेक ठिकाणी, महिला वाल्मिकी कामगार पुरुषांच्या तुलनेत कमी वेतन दिले आहेत, म्हणून गोष्टी विशेषत: कठीण झाले.

Valmikis आपापसांत सामाजिक जागरूकता अत्यंत कमी आहे. ते साधारणपणे अधिकार असणे आवश्यक आहे विचार केलेला नाही. या एक प्रमुख कारण अनेक स्वयंसेवी संस्था अनुसूचित जाती / जमाती सक्षमीकरणासाठी काम करताना, ते Valmikis चिंता थोडे दाद देणे आहे.

Valmikis इन्कम एक प्रमुख समस्या गृहनिर्माण आहे. ते रोजगार शोधात ग्रामीण भागातील शहरात येतात म्हणून, ते अहमदाबाद च्या झोपडपट्टीतला सर्वात मोठा गट एक तयार. ठिकाणी मोठ्या प्रमाणात, ते ते त्यांच्या स्वत: च्या वर सेट तात्पुरत्या झोपड्या राहतात. तथापि, ते त्यांचे नाव या झोपड्या नोंदणी करण्यासाठी सक्षम नाही.
एक, खरं तर, अंमलबजावणी शासकीय योजना मध्ये Valmikis भेदभाव असह्य वाटणारा आहे हे पाहू शकता. प्रत्यक्ष वास्तव पूर्णपणे भिन्न आहे तरी, slumdwellers एक घर वातावरण तयार करण्यात येत आहे, जे एक झोपडपट्टी विकास धोरण आहे. एक झोपडपट्टी पुनर्वसन योजनेचा लाभ घेण्यासाठी, ते थेट त्यांच्या
जगण्यासाठी परिणाम कुठेतरी सीमा मध्ये, मुक्काम सध्याच्या ठिकाणी सोडा आणि
दूर न्या आवश्यक आहे.

हे वाल्मिकी समाजातील लोक मूलभूत सुविधा एकूण नसताना थेट जेथे आढळले आहे. अहमदाबाद येथे Valmikis झोपड्या राहण्यासाठी जागा भाड्याने राहतात. ते नाही वीज किंवा पाणी कनेक्शन आहे. त्यांना फक्त या जगणे भाड्याने देणे आवश्यक आहे, सुमारे 10,000 15,000 झोपड्या फक्त 15 वापरण्यायोग्य शौचालये आहेत. या वाल्मिकी slumdwellers आरोग्य थेट परिणाम आहे.

अहमदाबाद Valmikis तोंड आणखी एक प्रमुख मुद्दा त्यांनी काय करावे रोजगार प्रकार करणे. ग्रामीण भागात किंवा शहरी भागात आहे किंवा नाही, ते, स्वच्छता कामगार
म्हणून ते काही शिक्षण घेणे जरी अगदी नगरपालिका आणि महानगरपालिका करू
obliged आहेत काम काम करणे आवश्यक आहे.

Aslali
समिती अहवालानुसार, सरकारी शरीर काम कोणत्याही वाल्मिकी समुदाय व्यक्ती
वर्ग 8, 9 किंवा 10 पर्यंत अभ्यास केला आहे तर, ती किंवा तो एका उच्च
पातळीवर बढती करणे आवश्यक आहे.
तथापि, सरकारने शिफारस कोणत्याही लक्ष दिले नाही. जरी त्या पदवी धारक आहेत कोण अहमदाबाद कामगार साफसफाईची म्हणून काम. साफसफाईची पेक्षा रोजगार मध्ये इतर अत्यंत अडचणी, काम मात कोण, खूप काही वाल्मिकी व्यक्ती आहेत.

Valmikis त्यांच्या आरोग्य संबंधित मुख्य समस्या आहेत. घाण आणि धूळ मध्यभागी काम करीत असताना, त्यांना अनेक फार लवकर वयात क्षयरोग किंवा दमा बळी पडतात. तो सरासरी वर, त्यांच्या आयुष्य 50 ते 55 वर्षे आहे, की आढळले आहे.

Valmikis
ग्रामीण भागात म्हणून तशाच प्रकारे शहरी भागात अस्पृश्यता बळी होत नाही,
काही म्हणतात वरच्या castemen त्यांच्या दिशेने casteist वृत्ती देखणे करू.
लोकांच्या विचारसरणीतील थोडे बदल आहे आहे.

मग, एक Valmikis आपापसांत शिक्षण फार थोडे महत्त्व आहे की नाही. यात काही शंका नाही, हे कारण आपल्या समाजात हाती सत्ता असलेला प्रबळ जात विचारसरणीची, खूप, जबाबदार आहे. वाल्मिकी
मुले शाळेत दाखल करण्यात येणार आहे, तर वाल्मिकी पालक बालक नियमितपणे
पुरेशी शाळेत जातो याची खात्री करण्यासाठी सापडत नाही.
ते मुलाच्या मानसिकता वर परिणाम विपरित जे स्वच्छता नोकरी, जा तेव्हा बहुतेक वेळा पेक्षा, मुलाला पालक accompanies. भविष्यात स्वच्छता कार्यकर्ता होत मुलाला मागे कारण होते.

मग, Valmikis उपलब्ध फार काही रोजगार पर्याय आहेत. वैयक्तिक विकास आणि शब्दसंग्रह अस्तित्वात नाही, जागरूकता सारखे शब्द; उत्कृष्ट ते गरीब साक्षरतेचे प्रमाण धन्यवाद, काही चटकन न आठवणारा पडिंत्याचे स्तोम माजवणारा ज्ञान भाग आहेत. इतकेच नव्हे, तर ते एक तात्पुरती स्टोअर किंवा सायकल दुरुस्ती कार्यशाळा
किकस्टार्ट तर ते पुरेसे ग्राहकांना मिळत मध्ये यशस्वी होणार नाही असे
वाटते की ज्यायोगे हाती सत्ता असलेला प्रबळ castemen करून नकारात्मक
वृत्ती, Valmikis एक मानसिकता विकसित कारण.

खरं
तर, दिवसा घाण गोळा आणि हाती सत्ता असलेला प्रबळ जात विभाग करून हसतात
विषय असल्याने Valmikis दैनंदिन जीवनाचा अविभाज्य भाग बनले आहेत.
हे शेवटी त्यांचे आरोग्य हानी जे तंबाखू मुख्य पुरुष दारू व्यसन झाले का कारण, स्त्रिया, आहे.

पण Valmikis दरम्यान दुसर्या सामाजिक वाईट बालविवाह आहे. क्षण मुलगी लग्न आहे, तिच्या पौगंड प्रवेश करतो आणि पाचव्या किंवा सहाव्या मानक पूर्ण. महिला संभाषण दरम्यान एक मुलगी आणखी अभ्यास करण्याची झाले तर समाजातील लोक तिला एकाग्रता प्रश्न सुरू होईल, असे स्पष्ट झाले.

Valmikis मोठ्या प्रमाणात त्यांना अनेक सरकारी रोजगार बोलणे नाही, शासकीय
योजना, लाभ करण्यात अक्षम आहोत, जे एक परिणाम म्हणून, त्यामुळे अशा जन्म
प्रमाणपत्र, पत्ता पुरावा, रेशन कार्ड मूळ कागदपत्रे, आणि नाही.

संबंधित

जात संघर्ष एक हॉटस्पॉट, Kadi तालुक्यातील च्या अनुसूचित जाती / जमाती
सार्वजनिक जीवनात भेदभाव प्रतिकार, असामान्य जागरूकता दर्शविण्यास सुरुवात
केली आहे

सुप्रीम कोर्टाचे घुसमट विस्तृत प्रभाव आहे अनुसूचित जाती / जमाती ग्रामीण भागात पाणी संपर्क, सर्वेक्षण अहवालात नमूद करण्यात आले

ग्रामीण
गुजरात अनुसूचित जाती / जमाती गुजरातचे मुख्यमंत्री करण्यासाठी, पिण्याचे
पाणी वापर मध्ये भेदभाव तक्रार प्रतिनिधित्व, प्राथमिक सुविधा राष्ट्रीय
स्वयंसेवक संघाचे च्या Bahuth Jiyadha Paapis (भाजप) वाल्मिकी आता
हिंदुत्वाच्या मत बँकेच्या राजकारणात साठी RSSized केले आहे, जे रामायण
लिहिले की माहित असणे आवश्यक आहे.
Vlamiki श्री राम तयार. मंदिरे त्याच्या नायक बांधली पण त्या मंदिरात आत परवानगी नाही.

आता फसवणूक ईव्हीएम tamperable आहेत आणि म्हणून त्यांना सर्व बदलले केले जाईल, असे एक स्थायिक कायदा आहे. पण माजी CJI सदाशिवम उदा सूचित ईव्हीएम टप्प्यात बदलले जाईल फसवणूक परवानगी देऊन न्याय गंभीर त्रुटी केली. कारण रुपये 1600 कोटी खर्च मुख्य निवडणूक आयुक्त संपत त्यांना बदलून साठी समावेश असतो. लोकसंख्या chtpawan ब्राह्मण, दहशतवादी, दहशतवादी, लोकशाही संस्था (मोदी)
हिंसक, असहिष्णू, heckling चोरी हिंदुत्व निष्ठा राष्ट्रीय स्वयंसेवक
संघाचे च्या खुनी मिळवली आहे मास्टर कळ परिणाम 1% म्हणून.

उपाय सर्वोच्च न्यायालयाने जगातील 80 democracies त्यानंतर मूर्ख पुरावा
मतदान प्रणाली ताज्या निवडणुकीत या ईव्हीएम व सुव्यवस्था माध्यमातून आयोजित
सर्व निवडणूक रद्द करण्याची आज्ञा पास आवश्यक आहे.

अनुसूचित जाती / जमाती / ओबीसी / अल्पसंख्याक / गरीब उच्च जाती मधील
लोकसंख्या बौद्धिक युवकांना 99% व्यतिरिक्त, या फसवणूक ईव्हीएम संबंधात
जगातील लोक जागृत करण्यासाठी इंटरनेट वापर करणे आवश्यक आहे

चालणे, रन, पोहणे, सायकल!
साठी
सर्व फसवणूक ईव्हीएम बदलण्यासाठी!
मूर्ख पुरावा मतदान प्रणाली!

आज ते, भ्रष्टाचार तपासा, दर कमी काळा पैसा परत आणण्यासाठी एक मोठा भाग आहे.

तेलाच्या किमती जागतिक स्तरावर जात आहोत, पण आम्ही खरोखर या देशात असे मला वाटत नाही. प्रत्येक जीवनावश्यक वस्तू प्रवासी भाडे आणि वाहतुकीच्या आणि भाव जा सुरू. तेथे
काळा पैसा नाही चिन्ह वसूल केली जात आहे आणि भाजप (Bajuth Jiyadha Paapis)
अध्यक्ष अमित शहा काळा पैसा मायदेशी परतण्याची माध्यमातून 15 लाख रुपये
मिळत प्रत्येक कुटुंबातील चर्चा फक्त रिक्त मतदान वक्तृत्व यांनी म्हटले
आहे आता आहे.
याउलट, आम्ही आमच्या सार्वजनिक बँक जानेवारी-धन मी अब्ज डॉलर कर्ज अदानी
जसे ज्याला जास्त अनुकूलता दाखविली कंपन्याच्या बाहेर doled जात आहे की
नाही ते पाहा!

फसवणूक ईव्हीएम निवडले फसवणूक हे या देशाचे आणि विदेशी मूळ मोठ्या कंपन्यांना अनुकूल ठरत दिवशी जादा कामाचा मेहनताना काम करत आहे. अध्यादेश कॉर्पोरेट व्याज जमीन बळकावणे सुलभ करण्यासाठी देण्यात आला आहे. कोळसा आणि इतर खाणी व्यावसायिक खाजगी खाण सुरू केले जात आहेत. विदेशी गुंतवणूक अर्थव्यवस्थेच्या प्रत्येक क्षेत्रात ज्याला जास्त अनुकूलता दाखविली जात आहे. आणि
या देशातील अमेरिकेचे अध्यक्ष ओबामा अलीकडील भेट दरम्यान, मोदी (लोकशाही
संस्था खुनी) अक्षरशः अमेरिकन कोणत्याही अपघात बाबतीत कोणत्याही
उत्तरदायित्व, भरपाई आणि कायदेशीर कारवाई, आमच्या देशात अणुभट्ट्या पुरवठा
कंपन्या मोकळा आहे.
लोकशाही
संस्था खुनी पद्धतशीरपणे या देशातील पेटंट धोरण undermining आहेत अमेरिकन
औषध कंपन्या लोभ करण्यासाठी अशा कामातील साथीदार करण्यासाठी;
अनेक जीवन बचत औषधे देशांतर्गत उत्पादन स्टॉल आणि या देशात आणि जगभरातील सामान्य लोक त्यांच्या दर उत्तरोत्तर वाढत जाईल.

नियोजन आयोगाचे अप जखमेच्या केले आहे आणि कल्याण कार्यक्रम निधी पद्धतशीरपणे squeezed जात आहेत. नवीन
अर्थसंकल्पात सरकारने फटका बसला आरोग्य, महिला व बाल कल्याण जात, आणि
शिक्षण क्षेत्रात, कल्याण आणि सामाजिक खर्च खर्च कपात आहे.
75% ते 40% पासून अन्न सुरक्षा कव्हरेज मध्ये एक मोठी घट झाली योजना आखण्यात आली आहे. कामगार
कायदे पद्धतशीरपणे या देशातील कामगार वेतन चोरी, असुरक्षित विरुद्ध काही
कायदेशीर संकट नाकारण्याची वाइटाकडे वाहवत गेला जात आहेत स्वस्तात असताना
मोहीम ‘भारतात बनवा’ च्या नावाने, लोकशाही संस्था खुनी येईल आणि या देशातील
श्रमिक शोषण करणे विदेशी भांडवल आमंत्रित करत आहात
workplaces आणि त्रासदायक काम अटी.

Commercialisation आणि शिक्षण saffronization एक ताजे पुश दिले जात आहेत. सार्वजनिक-अनुदानीत शिक्षण शिक्षण संस्था स्वायत्तता नाचले जात आहेत,
प्रचंड बजेट चेंडू माध्यमातून weakened जात आहे, आणि obscurantism आणि
जातीय विष अभ्यासक्रम बदल आणि भेटी माध्यमातून दोन्ही प्रोत्साहन दिले जात
आहे.

आणि सामान्य लोकांचा आर्थिक हल्ला जेथील लोकशाही संस्था खुनी पाठिंबा आहे संघ परिवार च्या चावट जातीय अजेंडा आहे. प्रत्येक लहान स्थानिक वाद उडवून जात आहे किंवा पूर्ण अफवा जातीय उन्माद अप फडफडाविणे आणि मुस्लिम समुदाय लक्ष्य पसरला जात आहेत. अनुसूचित
जाती / जमाती / ओबीसी / अल्पसंख्याक / गरीब उच्च जाती, सर्व संस्था 99%
दिशेने द्वेष सरसंघचालक व मुख्य पूर्ण दहशतवादी, दहशतवादी, हिंसक,
heckling, असहिष्णू, हिंदुत्व निष्ठा 1% chitpawan ब्राह्मण Jambudvipa /
PRABUDDHA भरत हिंदु घोषित आहे
शेवटी
आहे आणि कारण attitude.There dominating 1% chitpawan ब्राम्हणांचे
न्यायालयाने अवमान करून उत्पादित होते, RSSized हिंदुत्व नाही siprituality
आहे वीर सावरकर न्यायालयाने फाशी देण्यात आले होते कोण naturam देव (SE)
दहशतवादी आणि खुनी जसे दुसर्या chitpawan ब्राह्मण
ज्या प्रतिष्ठापन पुतळे followere आहेत आणि मंदिर न्यायालयाचा अवमान पण काहीही बांधण्यात येत. या
सर्व power.Bahuth Jiyadha Paapis खासदार, मंत्री आणि तथाकथित साधू
sadhvis लोभ आहेत त्याच्या लोकसंख्या वाढ 1% chitpawan ब्राह्मण अक्षम चार
मुले आणि more.The, त्यांना अनेक रूपांतरित झाले निर्मिती हिंदू महिला
विचारत आहेत
प्रोटेस्टंट चर्च, हॉस्पिटल व शैक्षणिक संस्था बंद धावांची मजल मारली आणि
त्यांना सोबत आपल्या जातीचा पार पाडण्यासाठी करून अस्पृश्यता सराव आणि आता
नॉन-chitpawan ब्राह्मण राष्ट्रीय राजधानी योग्य तोडफोड जात आहेत आणि
लोकशाही संस्था खुनी एक मूक प्रेक्षकांचा राहते सह मंडळ्यांना.

वेळ खात्रीने लोकशाही institutionst च्या खुनी विरोधी लोकशाही यानुरूप या चावट विरोधी लोक विरुद्ध शक्तिशाली निषेध वाढ आला आहे. आणि निषेध खूप सुरु केले आहे याची खात्री करण्यासाठी. क्षेत्रातील
कामगार आणि कर्मचारी लोकशाही संस्था धोरणांवर खुनी विरोध करत आहेत नंतर
क्षेत्रात, शेतकरी जमीन-हस्तगत करण्यासाठी आणि ग्रामीण गरीब रोजगार हमी
अन्न-सुरक्षा आणि त्यांच्या उजव्या आग्रह बंड हात आहेत.
आणि आता दिल्ली विधानसभा निवडणुकीत, फसवणूक ईव्हीएम गरीब आणि काम लोक
भ्रमित आणि लक्ष उडवण्याचा मूर्ख दुसर्या राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे विंग
आहे आम आदमी निवड केली आहे.

सामान्य
लोक आणि संघ परिवार च्या जातीय आणि फुटिरतावादी विषयात लोकशाही संस्था
च्या प्राणघातक हल्ला खुनी विरोध आणि सर्वसमावेशक लोकशाही, समता, बंधुभाव,
स्वातंत्र्य प्रतिष्ठा व न्याय, लोकशाही संस्था आणि व्यक्तींचे पाहिजे एक
संपूर्ण श्रेणी देशात लोकांच्या लढाई बळकट करण्यासाठी
एकत्र येऊन राष्ट्रीय पातळीवर सुरू करण्याचा निर्णय घेतला

मूर्ख पुरावा मतदान प्रणाली त्यांना पुनर्स्थित करण्यासाठी सर्वोच्च
न्यायालयाने आदेश दिले होते जे फसवणूक ईव्हीएम मिळविण्यात लोकशाही संस्था
खुनी थांबवा.

माजी CJI सदाशिवम कारण त्यांना पुनर्स्थित सहभागी रुपये 1600 कोटी खर्च
माजी मुख्य निवडणूक आयुक्त संपत यांनी सुचवलेले म्हणून टप्प्याटप्प्याने
त्यांना पुनर्स्थित क्रम न्याय एक गंभीर त्रुटी केली.

सर्वोच्च न्यायालयाने ताज्या निवडणुकीत या फसवणूक ईव्हीएम व सुव्यवस्था आयोजित सर्व निवडणूक रद्द करण्याचे आदेश पास असणे आवश्यक आहे.

अशा
वेळी पर्यंत लोकशाही संस्था खुनी आपल्या घटनेच्या मध्ये नमूद
केल्याप्रमाणे लोकशाही, समता, बंधुभाव, स्वातंत्र्य, सन्मानाने व न्याय जतन
करण्यासाठी सर्व 80 जगातील democracies आणि आमच्या लोकांना ओळखले जाऊ नये.


63) Classical Punjabi
63) ਪੰਜਾਬੀ

1439 ਸਬਕ 9315 ਸੋਮਵਾਰ

ਮੁਫਤ ਆਨਲਾਈਨ E-ਨਾਲੰਦਾ ਖੋਜ ਅਤੇ ਪ੍ਰੈਕਟਿਸ ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ
ਦੁਆਰਾ ਚਲਾਇਆ
http://sarvajan.ambedkar.org

 ਆਪਣੇ
ਮਾਤਾ-ਬੋਲੀ ਵਿਚ ਸਹੀ ਅਨੁਵਾਦ ਦੇਣਾ ਹੈ ਅਤੇ ਹੋਰ ਸਾਰੇ ਭਾਸ਼ਾ ਤੁਹਾਨੂੰ ਇਸ Google
ਅਨੁਵਾਦ ਦੇ ਅਭਿਆਸ ਲਈ ਜਾਣਦੇ ਹਨ ਅਤੇ ਬਰਾਬਰ ਦੇ ਸਾਰੇ ਭਾਗ ਆਪਸ ਵਿੱਚ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਦੌਲਤ
ਨੂੰ ਵੰਡਣ ਲਈ ਸੰਵਿਧਾਨ ਵਿੱਚ ਰਖਿਆ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਲੋਕਤੰਤਰ, ਸਮਾਨਤਾ, ਭਾਈਚਾਰੇ,
ਆਜ਼ਾਦੀ, ਮਾਣ ਅਤੇ ਇਨਸਾਫ਼ ਨੂੰ ਬਚਾਉਣ ਕਰੋ ਜੀ
ਚੁੱਪ ਭਲਾਈ ਅਤੇ ਖ਼ੁਸ਼ੀ ਦੇ ਲਈ ਸਮਾਜ ਅਤੇ ਆਪਣੇ ਅੰਤਿਮ ਟੀਚਾ ਹੀ ਅਨਾਦਿ ਅਸੀਸ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ ਦੀ.

ਤੁਰ RUN, ਤੈਰੋ, ਚੱਕਰ!
ਲਈ
ALL ਧੋਖੇਬਾਜ਼ੀ ਵੋਟਿੰਗ ਦੇ ਬਦਲ ਦੇ!
ਮੂਰਖ ਸਬੂਤ ਵੋਟ ਸਿਸਟਮ ਦੇ ਨਾਲ!

ਦਿਨ ਦੇ ਲਈ ਇਸ ਨੂੰ, ਭ੍ਰਿਸ਼ਟਾਚਾਰ ਨੂੰ ਰੋਕਣ, ਭਾਅ ਘਟਾਉਣ ਕਾਲਾ ਧਨ ਵਾਪਸ ਲਿਆਉਣ ਲਈ ਇੱਕ ਵੱਡਾ ਹੈ ਕੋਈ.

ਮਾਰਚ 11 2015 ‘ਤੇ: “ਬੋਧ, ਆਕਲਨ ਅਤੇ ਨੁਸਖੇ SIEPAP2015 ਸੋਸ਼ਲ ਸ਼ਾਮਲ ਕਰਨ ਅਤੇ’ ‘ਤੇ ਨੈਸ਼ਨਲ ਕਾਨਫਰੰਸ

ਯੋਗੀ VEMANA ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਕਾਲਜ: ਕਡੱਪਾ
Vemana ਪੁਰਮ, ਕਡੱਪਾ -516 003
ਸਿਆਸੀ ਵਿਗਿਆਨ ਅਤੇ ਲੋਕ ਪ੍ਰਸ਼ਾਸਨ ਵਿਭਾਗ

ਡਾ D.R. ਸਤੀਸ਼ ਬਾਬੂ ਮੋਬਾਇਲ: +919440028157
ਕੋ-ਆਰਡੀਨੇਟਰ
____________________________________________________________________

ਗਰਮਜੋਸ਼ੀ ਨਾਲ ਗ੍ਰੀਟਿੰਗ

ਸਰ / ਮੈਡਮ,

ਫ਼ੈਕਲਟੀ
ਦੇ ਸਦੱਸ (2015 ਇਹ ਕਾਨਫਰੰਸ Academicians ਹਾਜ਼ਰ ਕੀਤਾ ਜਾਵੇਗਾ ਮਾਰਚ 11 ਤੇ:
“ਬੋਧ, ਆਕਲਨ ਅਤੇ ਨੁਸਖੇ SIEPAP2015 ਸੋਸ਼ਲ ਸ਼ਾਮਲ ਕਰਨ ਅਤੇ” ਮੈਨੂੰ ਪੁਲੀਟੀਕਲ
ਸਾਇੰਸ ਅਤੇ ਲੋਕ ਪ੍ਰਸ਼ਾਸਨ, YVU ਦੇ ਵਿਭਾਗ ਨੂੰ ਤੇ ਨੈਸ਼ਨਲ ਕਾਨਫਰੰਸ ਦੇ ਰਿਹਾ ਹੈ,
ਜੋ ਕਿ ਤੁਹਾਨੂੰ ਇਸ ਬਾਰੇ ਸੂਚਿਤ ਕਰਨ ਲਈ ਖੁਸ਼ am
ਅਤੇ
ਨੌਜਵਾਨ ਰਿਸਰਚ ਵਿਦਵਾਨ), ਦੇਸ਼ ਦੇ ਵੱਖ-ਵੱਖ ਹਿੱਸੇ ਤੱਕ ਅਛੂਤ, ਨੀਤੀਘਾੜੇ, ਸੋਸ਼ਲ
ਵਰਕਰ ਦੀ ਦੇਖਭਾਲ, ਸੰਸਥਾ ਦੇ, ਸੋਸ਼ਲ ਵਰਕਰ ਅਤੇ ਹੋਰ ਹਿੱਸੇਦਾਰ ਦਾ ਸ਼ਿਕਾਰ.
ਇਹ plat ਫਾਰਮ, ਸ਼ੇਅਰ, ਪੇਸ਼ ਬਾਰੇ ਚਰਚਾ ਕਰਨ ਲਈ ਸੈੱਟ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ; ਹਿੱਸਾ ਲੈਣ ਵਾਲੇ ਅਤੇ ਡੂੰਘਾਈ ਵਿੱਚ ਦਸਤਾਵੇਜ਼ ਿਨਰਧਾਰਨ, ਬੋਧ ਅਤੇ
victimizations ਦੁਆਰਾ ਸਮਾਜਿਕ ਸ਼ਾਮਲ ਕਰਨ ਅਤੇ ਹਾਲ ਹੀ ਵਿਚ ਰੁਝਾਨ ਨੇ ਹਾਸਲ ਕੀਤਾ
ਵਿਚਾਰ ਨੂੰ ਰਿਕਾਰਡ.

ਕਾਨਫਰੰਸ ਦੇ ਕਨਵੀਨਰ ਦੇ ਨਾਤੇ, ਮੈਨੂੰ ਨੈਸ਼ਨਲ ਕਾਨਫਰੰਸ ਦੇ ਭਾਗੀਦਾਰ ਦਾ ਿਨੱਘਾ ਸੁਆਗਤ ਵਧਾਉਣ. ਇੱਥੇ ਦੇ ਨਾਲ ਮੈਨੂੰ ਕਾਨਫਰੰਸ ਬਰੋਸ਼ਰ, ਰਜਿਸਟਰੇਸ਼ਨ ਫਾਰਮ ਨਾਲ ਨੱਥੀ ਹੈ. ਜੇ ਲੋੜ ਫੋਟੋ ਨਕਲ ਵਰਤਿਆ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ. ਹੋਰ ਜਾਣਕਾਰੀ ਦਿਆਲਤਾ ਦੀ ਵੈੱਬ ਸਾਈਟ ‘ਤੇ ਜਾਓ ਲਈ: ਹਾਈਪਰਲਿੰਕ’ http://www.yogivemanauniversity.ac.inwww.yogivemanauniversity.ac.in.
ਸਹਿਤ ਨਾਲ,
—————————————————————————————————————–

ਸੋਸ਼ਲ ਸ਼ਾਮਲ ਕਰਨ ਅਤੇ: ਛਾਤ ਦਾ ਸ਼ਿਕਾਰ

ਸਾਰ

ਇਸ ਨੂੰ ਕਾਗਜ਼ ਦੇ ਮਕਸਦ ਦੋ ਹੈ; ਪਹਿਲੀ
ਕਾਗਜ਼ ਦੀ ਪੜਚੋਲ ਅਤੇ ਸਮਾਜਿਕ ਬੇਦਖਲੀ (ਕਈ ਵਾਰ) ਸਮਾਜਿਕ ਸ਼ਾਮਲ ਕਰਨ ‘ਤੇ ਨੀਤੀ ਦਾ
ਕੋਸ਼ਿਸ ਨੂੰ ਦੇ ਅੰਦਰ ਦਾ ਪੁਨਰਗਠਨ ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਜਿਸ ਵਿੱਚ ਗੁੰਝਲਦਾਰ ਤਰੀਕੇ
ਬਾਰੇ ਦੱਸਿਆ ਗਿਆ ਹੈ: ਇਸ ਦੇਸ਼ ਵਿਚ ਕੋਟਾ ਨੀਤੀ ਨੂੰ.
ਦੂਜਾ,
ਕਾਗਜ਼ ਸ਼ਾਮਲ ਕਰਨ / ਬਾਹਰ ਦੇ ਜੁੜੇ ਹੋਣ ਦੇ ਇੱਕ ਸੁਣੀ ਖਾਤੇ ਅਤੇ ਹੋਰ ਵਿਸ਼ੇਸ਼
ਅਧਿਕਾਰ ‘ਹੋਰ’ ਦੇ ਤੌਰ ‘ਪਾਸ’ ਦੇ ਕੇ ਛੱਡਣ ਦੇ ‘ਸਮੱਸਿਆ ਨੂੰ’ ਬਚਣ ਅਤੇ ਪਰਬੰਧਨ ਕਰ
ਸਕਦਾ ਹੈ ਬਾਹਰ ਰਖਿਆ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਜਿਹੜੇ ਸਥਿਤੀ ਕਿਸ ਦੀ ਇਕ ਉਦਾਹਰਣ ਦਿੰਦਾ ਹੈ.
ਇਸ ਨੂੰ ਕਾਗਜ਼ ਦੇ ਠੋਸ ਫੋਕਸ students.More ਮਹੱਤਵਪੂਰਨ ਅਨੁਸੂਚਿਤ ਜਾਤੀ /
ਅਨੁਸੂਚਿਤ ਕਬੀਲੇ ਦੇ ਜਾਤੀ-ਆਧਾਰਿਤ ਅਨੁਭਵ ਦੇ ਨਾਲ ਤਕਨਾਲੋਜੀ ਧੋਖਾਧੜੀ ਵੋਟਿੰਗ
ਛੇੜਛਾੜ ਦੇ ਕੇ ਲੋਕਤੰਤਰ ਨੂੰ, ਬਰਾਬਰੀ, ਭਾਈਚਾਰੇ, ਆਜ਼ਾਦੀ ਅਤੇ ਜਸਟਿਸ ਅਗਵਾ ਕੀਤਾ ਹੈ
ਤਰੀਕਾ ਹੈ.

____________________________________________________________________

ਸੁਪਰੀਮ ਕੋਰਟ ਨੇ ਵਿਸ਼ਵ ਦੇ 80 ਲੋਕਤੰਤਰ ਦੇ ਬਾਅਦ ਮੂਰਖ ਸਬੂਤ ਵੋਟਿੰਗ ਸਿਸਟਮ ਨਾਲ
ਤਾਜ਼ਾ ਚੋਣ ਲਈ ਇਹ ਵੋਟਿੰਗ ਅਤੇ ਵਿਵਸਥਾ ਦੁਆਰਾ ਕਰਵਾਏ ਦੇ ਸਾਰੇ ਚੋਣ ਖਤਮ ਕਰਨ ਦੀ
ਹੁਕਮ ਦੇ ਪਾਸ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ.

ਐਸ.ਸੀ / STS / ਓ / ਘੱਟ ਗਿਣਤੀ / ਗਰੀਬ ਵੱਡੇ ਜਾਤੀ ਨਾਲ ਸਬੰਧਤ ਆਬਾਦੀ ਬੌਧਿਕ
ਨੌਜਵਾਨ ਦੇ 99% ਤੱਕ ਇਲਾਵਾ, ਇਹ ਧੋਖਾਧੜੀ ਦਾ ਵੋਟਿੰਗ ਦੇ ਸਬੰਧ ਵਿੱਚ ਵਿਸ਼ਵ ਦੇ ਲੋਕ
ਜਾਗਰੂਕ ਕਰਨ ਲਈ ਇੰਟਰਨੈੱਟ ਵਰਤਣ ਦੀ ਲੋੜ ਹੈ

ਤੁਰ RUN, ਤੈਰੋ, ਚੱਕਰ!
ਲਈ
ALL ਧੋਖੇਬਾਜ਼ੀ ਵੋਟਿੰਗ ਦੇ ਬਦਲ ਦੇ!
ਮੂਰਖ ਸਬੂਤ ਵੋਟ ਸਿਸਟਮ ਦੇ ਨਾਲ!

ਅੱਗੇ
100 ਸਾਲ Sarvajan Hitaye Sarvajan Sukhaye, ਭਾਵ ਲਈ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ., ਬਾਬਾ
ਡਾ ਕੇ ਪਿਤਾ ਸੰਵਿਧਾਨ ਵਿੱਚ ਰਖਿਆ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਐਸ.ਸੀ. / STS / ਓ / ਘੱਟ ਗਿਣਤੀ ਅਤੇ
ਦੇਸ਼ ‘ਚ ਗਰੀਬ ਵੱਡੇ ਜਾਤੀ, ਸਮੇਤ ਅਮਨ, ਖ਼ੁਸ਼ੀ ਅਤੇ ਸਾਰੇ ਸਮਾਜ ਦੀ ਭਲਾਈ ਲਈ
ਬਰਾਬਰ ਸਮਾਜ ਦੇ ਹਰ ਵਰਗ ਦੇ ਵਿੱਚ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਦੌਲਤ ਵੰਡ ਕੇ BRAmbedkar.

ਜਾਤੀਵਾਦ
ਅਤੇ ਛਾਤ ਲੜਨ ਵਾਲੇ ਪੰਡਿਤ Aiyothidas, ਮਹਾਤਮਾ ਫੁਲੇ, Sahuji ਮਹਾਰਾਜ, ਨਾਰਾਇਣ
ਗੁਰੂ, Periyar EVRamaswamy, Ayankali, ਡਾ ਬਾਬਾ BRAmbedkar, Manyavar
Kanshiramji ਅਤੇ ਸ਼੍ਰੀਮਤੀ Mayawatiji,, ਅਗਲੇ 100 ਸਾਲ ਵਰਗੇ ਉੱਘੇ ਆਗੂ ਦੀ
ਭੂਮਿਕਾ ਵਡਭਾਗੇ ਹੋਣ ਲਈ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ
.

ਲੋਕ
ਜਾਗਰੂਕਤਾ ਦੇ ਨਾਲ ਜਾਗਣ ਦੀ ਇਕ ਦੀ ਸਿੱਖਿਆ ਤੇ ਚੱਲ ਕੇ ਵਹਿਮ ਲੜਨ ਅਤੇ ਇੱਕ ਬੰਡਲ
ਵਿੱਚ ਆਪਣੇ ਸਾਰੇ ਡਰ ਪਾ ਲਈ ਮਨ ਦੀ ਇਕਾਗਰਤਾ ਵੱਧ ਸਕਾਰਾਤਮਕ ਦੇਣ ਅਤੇ ਆਪਣੇ ਬੱਚੇ,
ਸਰਕਾਰ, ਪ੍ਰਾਈਵੇਟ ਅਤੇ ਸਵੈ ਰੁਜ਼ਗਾਰ ਵਿੱਚ, ਨਦੀ, ਸਿੱਖਿਆ ਵਿੱਚ ਰਿਜ਼ਰਵੇਸ਼ਨ ਇਸ ਨੂੰ
ਸੁੱਟ ਦਿੱਤਾ ਜਾਵੇਗਾ, ਜੋ ਕਿ
ਵਿਕਾਸ ਲਈ ਲੋੜ ਮੁੱਖ ਕੁਝ ਹਨ.

‘ਐਜੂਕੇਟ, ਦਾ ਪ੍ਰਬੰਧ ਹੈ ਅਤੇ ਵਿਰੋਧ’ ਦੇ ਅੰਬੇਦਕਰ ਦੇ ਨਾਅਰੇ ‘ਜਸਟਿਸ ਭੀਖ ਨਾ ਗਿਆ
ਹੈ ਹੋ ਰਹੀ ਹੈ, ਪਰ ਸੰਵਿਧਾਨ ਵਿਚ ਜਿਸੁ ਹਰ ਨਾਗਰਿਕ ਦਾ ਹੱਕ ਹੈ, “ਹੁਣ ਬਹੁਤ ਹੀ ਠੀਕ
ਹੈ.

ਅਹਿਮਦਾਬਾਦ ਦੇ Valmikis slumdwelling ਛਾਤ ਦੇ ਪੀੜਤ, ਸਤਿਕਾਰਯੋਗ ਦੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਲਈ ਦੀ ਲੋੜ ਸਭ ਬੁਨਿਆਦੀ ਸਹੂਲਤ ਦੇ ਵਿਰਵਾ ਰਹਿੰਦੇ ਹਨ

ਅਹਿਮਦਾਬਾਦ
ਦੇ ਪੰਜ ਝੁੱਗੀ ਇਲਾਕੇ Thaltej, ਗੋਤਾ, Hatkeshwar, ਮਨੁੱਖੀ ਵਿਕਾਸ ਅਤੇ ਰਿਸਰਚ
Centre ਕੇ Naranpura Lakhudi ਅਤੇ Sola ਬਰਿੱਜ (HDRC), ਅਹਿਮਦਾਬਾਦ, ਵਿਚ ਰਹਿ
ਅਨੁਸੂਚਿਤ ਜਾਤੀ ਵਾਲਮੀਕਿ ਭਾਈਚਾਰੇ ਦੇ ਇਕ ਅਧਿਐਨ ਭਾਈਚਾਰੇ ਦੇ ਸਭ ਅੰਦਾਜ਼ ਭਾਗ
ਰਹਿੰਦਾ ਕਰਨਾ ਵੱਲ ਦੱਸਦਾ ਹੈ
ਸ਼ਹਿਰ ਦੇ ਸ਼ਹਿਰੀ ਜੀਵਨ ਨੂੰ.

ਅੰਸ਼:

ਅਨੁਸੂਚਿਤ / STS ਕਿ ਗੁਜਰਾਤ ਦੀ ਆਬਾਦੀ ਦਾ 7 ਫੀਸਦੀ ਕਰਨ ਲਈ 6 ਨੂੰ ਕਰ. ਇੱਕ ਨੂੰ ਵਾਪਸ ਦੇ ਇਤਿਹਾਸ ਵਿੱਚ ਵੇਖਦਾ ਹੈ, ਜੇ, ਇੱਕ ਨੂੰ ਐਸ.ਸੀ. / STS, ਦੀ ਹਾਲਤ ਖਾਸ ਕਰਕੇ ਪਿੰਡ ਵਿੱਚ, ਬਹੁਤ ਤਰਸਯੋਗ ਸੀ, ਜੋ ਕਿ ਲੱਭਦੀ. ਬਨਸਕਾਨਠਾ
ਜ਼ਿਲ੍ਹੇ ਵਿੱਚ, ਮਿਸਾਲ ਲਈ, ਐਸ.ਸੀ. / STS ਉਹ ਇੱਕ ਦੂਰੀ ਤੱਕ ਪ੍ਰਭਾਵਸ਼ਾਲੀ
castemen ਕੇ ਦੀ ਪਛਾਣ ਕੀਤੀ ਜਾ ਸਕਦੀ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਇਸ ਲਈ, ਇਸ ਨੂੰ ਇੱਕ ਖਾਸ ਰੰਗ ਦੀ
ਪੱਗ ਨਾਲ ਆਪਣੇ ਸਿਰ ਨੂੰ ਕਵਰ ਕਰਨ ਲਈ ਮਜਬੂਰ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ.
ਐਸਸੀ
/ ਐਸਟੀ ਲਾੜੇ ਨੂੰ ਵਿਆਹ ਜਲੂਸ ਦੌਰਾਨ ਇਕ ਘੋੜੇ ਦੀ ਸਵਾਰੀ ਕਰਨ ਦੀ ਇਜਾਜ਼ਤ ਨਾ
ਦਿੱਤੀ, ਅਤੇ ਜਲੂਸ ਦੇ ਜਿਹੜੇ ਹਿੱਸੇ ਨੂੰ ਬਣਾ ਜਸ਼ਨ ਵਿਚ ਸੰਗੀਤ ਦੇ ਸੁਰ ਨੂੰ ਢੋਲ ਜ
ਨਾਚ ਨਾਲ ਹਰਾਇਆ ਕਰਨ ਦੀ ਇਜਾਜ਼ਤ ਨਾ ਹੋਵੇਗੀ.
ਇਸ
ਨੂੰ ਐਸਸੀ / ਐਸਟੀ ਭਾਈਚਾਰੇ ਦੀ ਹਾਲਤ ਸੀ, ਜੇ, ਇੱਕ ਨਾਲ ਨਾਲ ਵਿਤਕਰੇ Valmikis,
ਐਸਸੀ / ਐਸਟੀ ਨੂੰ ਲੜੀ ਵਿੱਚ ਘੱਟ ਡੰਡਾ ਦੀ ਕਿਸਮ ਕਲਪਨਾ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਦਾ ਸਾਹਮਣਾ
ਕਰਨਾ ਪਵੇਗਾ.
ਪ੍ਰਮੁੱਖ
ਜਾਤੀ ਤੱਕ ਵਿਅਕਤੀ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਐਸ.ਸੀ. / STS, ਖਾਸ ਕਰਕੇ Valmikis, ਦਿਹਾਤੀ ਖੇਤਰ
ਵਿਚ ਜਦ ਦਾ ਕਹਿਣਾ ਹੈ ਕਿ ਕਰਨ ਲਈ ਜਰੂਰੀ ਹੋਵੇਗਾ ਕਿ ਸਰਕਾਰ ਨੂੰ-ਚਲਾਉਣ ਪ੍ਰਾਇਮਰੀ
ਸਿਹਤ ਦੇ ਕਦਰ (ਸੀਜ਼) ‘ਚ ਇਲਾਜ, ਪ੍ਰਾਪਤ ਨਾ ਕੀਤਾ, ਸਖ਼ਤ ਪਾਰੰਪਰਕ ਜਾਤੀ ਨੂੰ ਯਕੀਨੀ
ਬਣਾਇਆ ਜਾਵੇਗਾ, ਜਦ ਕਿ ਇੱਕ ਵਾਰ ਆਈ ਸੀ
ਵਿਵਹਾਰ ਨੂੰ ਅੱਜ ਵੀ ਬਰਕਰਾਰ ਰਹਿੰਦਾ ਹੈ.

ਕਿੱਤਾਮਈ ਚੋਣ ਦੀ ਖੋਜ ਵਿੱਚ, ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ Valmikis ਗੁਜਰਾਤ ਦੇ ਸ਼ਹਿਰ, ਖਾਸ ਕਰਕੇ ਅਹਿਮਦਾਬਾਦ ਵਿੱਚ ਜ਼ਮੀਨ. ਇਹ ਇੱਕ Valmikis ਦੀ ਇੱਕ ਵੱਡੀ ਗਿਣਤੀ ਵਿੱਚ ਕਾਫ਼ੀ ਕੁਝ ਟਾਈਮ ਲਈ ਅਹਿਮਦਾਬਾਦ ਦੇ ਸਲੱਮ ਵਿਚ ਰਹਿ ਰਹੇ ਹਨ, ਨੂੰ ਲੱਭਦੀ ਹੈ, ਇਸੇ ਦਾ ਇਕ ਕਾਰਨ ਹੈ. ਇੱਥੇ, ਪ੍ਰਵਾਸੀ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਰਹਿ ਰਹੇ ਹਨ, ਉਹ ਰੋਜ਼ੀ ਨਾਲ ਸਬੰਧਤ ਮੁੱਖ ਮੁੱਦੇ ਦਾ ਸਾਹਮਣਾ. ਉਹ ਇੱਕ ਬਹੁਤ ਹੀ stifling ਮਾਹੌਲ ਵਿਚ ਰਹਿਣ ਲਈ ਮਜਬੂਰ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ. ਉਹ ਅਜਿਹੇ ਕੰਮ ‘ਤੇ ਮਹਿੰਗਾਈ, ਅਤੇ ਜ਼ੁਲਮ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਸ਼ਹਿਰੀ ਰੋਜ਼ੀ ਦੇ ਵੱਡੇ ਮੁੱਦੇ ਦੇ ਆਸਾਨ ਸ਼ਿਕਾਰ ਬਣ ਹੋਏ, ਉਹ ਇਸ ਦੇ ਨਾਲ-ਛਾਤ ਦਾ ਸ਼ਿਕਾਰ ਬਣ.

ਵਾਲਮੀਕੀ ਭਾਈਚਾਰੇ ਮੁੱਖ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਸ਼ਹਿਰ ਦੇ ਸਾਰੇ ਹੀ ਗੰਦਗੀ ਨੂੰ ਸਫਾਈ ਦਾ ਕੰਮ ਦੇ ਨਾਲ ਰੱਖਿਆ ਗਿਆ ਹੈ. ਪਤੀ ਅਤੇ ਪਤਨੀ ਨੂੰ ਅਤੇ ਵਧਿਆ ਬੱਚੇ - - ਸਫਾਈ ਕਰਮਚਾਰੀ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਕੰਮ ਕਰਨ ਲਈ ਆਰਥਿਕ ਮਜਬੂਰੀ ਵੱਧ ਇਕ ਪਰਿਵਾਰ ਵਿਚ ਵਿਅਕਤੀ ਬਣਾ. ਉਹ ਮਿਲ ਕੇ ਇੱਕ ਔਸਤ 700 ਰੁਪਏ ਰੁਪਏ 800 ਇੱਕ ਦਿਨ ‘ਤੇ ਕਮਾਈ ਕਰਦੇ ਹਨ. ਇਸ
ਪਰਿਵਾਰ ਨੂੰ ਚਲਾਉਣ ਲਈ ਕਾਫੀ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ, ਜਦਕਿ, ਦਾ ਖਰਚਾ ਉਹ ਹਾਊਸਿੰਗ,
ਬਿਜਲੀ ਅਤੇ ਪਾਣੀ ਵਰਗੇ ਬੁਨਿਆਦੀ ਸਹੂਲਤ ਦੇ ਵਿਰਵਾ ਹੈ, ਜਦ ਇਕ ਵਾਰ ‘ਤੇ ਬਹੁਤ ਹੀ ਉੱਚ
ਆਪਣੇ ਪ੍ਰਾਇਮਰੀ ਲੋੜ ਹੈ ਨੂੰ ਪੂਰਾ ਕਰਨ ਲਈ ਰੱਖਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ.
ਕਈ ਸਥਾਨ ‘ਤੇ, ਔਰਤ ਵਾਲਮੀਕਿ ਕਾਮੇ ਆਪਣੇ ਮਰਦ ਹਮਰੁਤਬਾ ਵੱਧ ਘੱਟ ਤਨਖਾਹ ਦਾ ਭੁਗਤਾਨ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ, ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਕੁਝ ਖਾਸ ਕਰਕੇ ਮੁਸ਼ਕਲ ਬਣ.

Valmikis ਆਪਸ ਵਿੱਚ ਸੋਸ਼ਲ ਜਾਗਰੂਕਤਾ ਬਹੁਤ ਘੱਟ ਹੁੰਦੀ ਹੈ. ਉਹ ਆਮ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਅਧਿਕਾਰ ਦਿੱਤਾ ਜਾਣਾ ਕਰਨ ਦੀ ਲੋੜ ਬਾਰੇ ਸੋਚਿਆ, ਨਾ ਹੈ. ਇਸ ਦਾ ਇੱਕ ਵੱਡਾ ਕਾਰਨ ਹੈ ਕਿ ਕਈ ਸਵੈ-ਸੇਵੀ ਸੰਗਠਨ ਐਸ.ਸੀ. / STS ਦੇ ਸਸ਼ਕਤੀਕਰਨ
ਲਈ ਕੰਮ ਕਰਦੇ ਹੋਏ, ਉਹ Valmikis ਦੀ ਚਿੰਤਾ ਕਰਨ ਦੀ ਕੋਈ ਧਿਆਨ ਦਾ ਭੁਗਤਾਨ, ਹੈ.

Valmikis nagging ਇੱਕ ਮੁੱਖ ਸਮੱਸਿਆ ਨੂੰ ਹਾਊਸਿੰਗ ਦੇ, ਜੋ ਕਿ ਹੈ. ਉਹ ਰੁਜ਼ਗਾਰ ਦੀ ਭਾਲ ਵਿੱਚ ਦਿਹਾਤੀ ਖੇਤਰ ਤੱਕ ਸ਼ਹਿਰ ਨੂੰ ਆ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ, ਉਹ ਅਹਿਮਦਾਬਾਦ ਦੀ ਦਿਸ਼ਾ ਵਿੱਚ ਹੀ ਵੱਡਾ ਗਰੁੱਪ ਦੇ ਇੱਕ ਬਣਦੇ ਹਨ. ਸਥਾਨ ਦੀ ਵੱਡੀ ਗਿਣਤੀ ਹੈ ਤੇ, ਉਹ ਉਹ ਆਪਣੇ ਆਪ ਤੇ ਹੀ ਸਥਾਪਤ ਕੀਤੀ makeshift Huts ਵਿਚ ਰਹਿੰਦੇ ਹਨ. ਪਰ, ਉਹ ਆਪਣੇ ਨਾਮ ਵਿਚ ਇਹ Huts ਨੂੰ ਰਜਿਸਟਰ ਕਰਨ ਦੇ ਯੋਗ ਨਹੀ ਹੈ.
ਇਕ, ਅਸਲ ਵਿਚ, ਸਰਕਾਰ ਨੇ ਲਾਗੂ ਕਰਨ ਸਕੀਮ ਵਿੱਚ Valmikis ਵਿਰੁੱਧ ਵਿਤਕਰੇ ਖੜਦੇ ਹੁੰਦਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਦੇਖ ਸਕਦੇ. ਅਸਲ
ਅਸਲੀਅਤ ਬਿਲਕੁਲ ਵੱਖਰਾ ਹੈ, ਪਰ, slumdwellers ਲਈ ਇੱਕ livable ਮਾਹੌਲ ਬਣਾਉਣ ਲਈ
ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਕਰਦਾ, ਜੋ ਕਿ ਇੱਕ ਝੁੱਗੀ ਖੇਤਰ ਵਿਕਾਸ ਦੀ ਨੀਤੀ, ਹੁੰਦਾ ਹੈ.
ਨੂੰ ਇੱਕ ਝੁੱਗੀ ਵਸੇਬੇ ਦੀ ਸਕੀਮ ਦਾ ਲਾਭ ਲੈਣ ਲਈ, ਉਹ ਸਿੱਧੇ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਆਪਣੇ ਰੋਜ਼ੀ
ਨੂੰ ਪ੍ਰਭਾਵਿਤ ਕਰਨ, ਕਿਤੇ ਬਾਹਰਵਾਰ ਵਿੱਚ, ਰਿਹਾਇਸ਼ ਨੂੰ ਦੇ ਆਪਣੀ ਮੌਜੂਦਾ ਜਗ੍ਹਾ
ਨੂੰ ਛੱਡ ਕੇ ਜਾਣ ਅਤੇ ਦੂਰ ਦੂਰ ਜਾਣ ਦੀ ਲੋੜ ਹੈ.

ਇਹ ਵਾਲਮੀਕੀ ਭਾਈਚਾਰੇ ਦੇ ਲੋਕ ਬੁਨਿਆਦੀ ਸਹੂਲਤ ਦੀ ਕੁੱਲ ਗੈਰ ਮੌਜੂਦਗੀ ਹੈ ਉਥੇ ਰਹਿੰਦੇ ਜਿੱਥੇ ਵੀ ਹੈ ਜੋ ਕਿ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ. ਆਮੇਡਬੈਡ ਵਿੱਚ, Valmikis Huts ਵਿਚ ਰਹਿਣ ਲਈ ਸਪੇਸ ਕਿਰਾਏ `ਤੇ ਦੇ ਕੇ ਰਹਿੰਦੇ ਹਨ. ਉਹ ਕੋਈ ਵੀ ਬਿਜਲੀ ਜ ਪਾਣੀ ਕੁਨੈਕਸ਼ਨ ਹੈ. ਨਾ ਸਿਰਫ ਉਹ ਇਸ ਨੂੰ ਪਸੰਦ ਰਹਿਣ ਲਈ ਕਿਰਾਏ ਦਾ ਭੁਗਤਾਨ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ, ਦੇ ਬਾਰੇ 10,000 15,000 ਕਰਨ Huts ਲਈ ਸਿਰਫ਼ 15 ਯੋਗ ਪਖਾਨੇ ਹਨ. ਇਹ ਵਾਲਮੀਕਿ slumdwellers ਦੀ ਸਿਹਤ ‘ਤੇ ਸਿੱਧਾ ਅਸਰ ਹੁੰਦਾ ਹੈ.

ਅਹਿਮਦਾਬਾਦ Valmikis ਦਾ ਸਾਹਮਣਾ ਇਕ ਹੋਰ ਮੁੱਖ ਮੁੱਦੇ ਨੂੰ ਉਹ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ Jobs ਦੀ ਕਿਸਮ ਨਾਲ ਸਬੰਧਤ ਹੈ. ਦਿਹਾਤੀ ਖੇਤਰ ‘ਜ ਸ਼ਹਿਰੀ ਖੇਤਰ ਵਿਚ ਹੋਵੇ, ਉਹ, ਸਫਾਈ ਕਰਮਚਾਰੀ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਉਹ ਉਹ
ਕੁਝ ਸਿੱਖਿਆ ਹਾਸਲ ਕਰਨ ਲਈ ਆ ਵੀ, ਜੇ ਵੀ ਨਗਰ ਅਤੇ ਨਗਰ ਨਿਗਮ ਦਾ ਵਿਚ ਕੀ ਕਰਨ ਲਈ
ਮਜਬੂਰ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ ਇੱਕ ਕੰਮ ਲਈ ਕੰਮ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ.

Aslali
ਕਮੇਟੀ ਦੀ ਰਿਪੋਰਟ ਦੇ ਅਨੁਸਾਰ, ਇੱਕ ਸਰਕਾਰ ਨੇ ਸਰੀਰ ਵਿਚ ਕੰਮ ਕਰ ਰਹੇ ਕਿਸੇ ਵੀ
ਵਿਅਕਤੀ ਨੂੰ ਵਾਲਮੀਕਿ ਭਾਈਚਾਰੇ ਕਲਾਸ 8, 9 ਜ 10 ਤੱਕ ਦਾ ਅਧਿਐਨ ਕੀਤਾ ਹੈ, ਜੇ, ਉਸ
ਨੂੰ ਉਹ ਇੱਕ ਉੱਚ ਪੱਧਰ ਤੱਕ ਅੱਗੇ ਵਧਾਇਆ ਜਾਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ.
ਪਰ, ਸਰਕਾਰ ਨੇ ਸਿਫਾਰਸ਼ ਕਰਨ ਲਈ ਕੋਈ ਵੀ ਸਾਵਧਾਨ ਦਾ ਭੁਗਤਾਨ ਨਾ ਕੀਤਾ ਹੈ. ਵੀ ਜਿਹੜੇ ਡਿਗਰੀ ਧਾਰਕ ਹਨ, ਜੋ ਅਹਿਮਦਾਬਾਦ ‘ਚ ਕਰਮਚਾਰੀ ਸਫਾਈ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਕੰਮ ਕਰਦੇ ਹਨ. ਸਫਾਈ ਵੱਧ Jobs ਵਿਚ ਹੋਰ ਬਹੁਤ ਮੁਸ਼ਕਲ, ਕੰਮ ਕਾਬੂ ਪਾਉਣ, ਜੋ, ਬਹੁਤ ਹੀ ਕੁਝ ਵਾਲਮੀਕਿ ਲੋਕ ਹਨ.

Valmikis ਆਪਣੀ ਸਿਹਤ ਦੇ ਨਾਲ ਸਬੰਧਤ ਮੁੱਖ ਮੁੱਦੇ ਦਾ ਸਾਹਮਣਾ. ਗੰਦਗੀ ਅਤੇ ਧੂੜ ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਕੰਮ, ਨੂੰ ਦੇ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ, ਇੱਕ ਬਹੁਤ ਹੀ ਛੋਟੀ ਉਮਰ ‘ਤੇ ਟੀ ​​ਜ ਦਮੇ ਦੇ ਸ਼ਿਕਾਰ ਬਣਦੇ ਹਨ. ਇਹ ਔਸਤਨ, ਆਪਣੇ ਜੀਵਨ ਕਾਲ ਨੂੰ 50 55 ਸਾਲ ਦੀ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਪਾਇਆ ਗਿਆ ਹੈ.

Valmikis
ਦਿਹਾਤੀ ਖੇਤਰ ਵਿੱਚ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਵੀ ਉਸੇ ਤਰੀਕੇ ਨਾਲ ਸ਼ਹਿਰੀ ਖੇਤਰ ਵਿੱਚ ਛਾਤ ਦਾ
ਸ਼ਿਕਾਰ ਨਾ ਹੁੰਦੇ ਹਨ, ਪਰ, ਕੁਝ ਇਸ ਲਈ-ਕਹਿੰਦੇ ਵੱਡੇ castemen ਨੂੰ ਵੱਲ ਨੂੰ
ਜਾਤੀਵਾਦੀ ਰਵੱਈਏ ਦੀ ਪਾਲਨਾ ਕਰਦੇ ਹਨ.
ਲੋਕ ਦੇ ਮਾਨਸਿਕਤਾ ਵਿਚ ਬਹੁਤ ਘੱਟ ਹੁੰਦਾ ਹੈ, ਜਦਕਿ ਤਬਦੀਲੀ.

ਫਿਰ, ਇਕ Valmikis ਆਪਸ ਵਿੱਚ ਸਿੱਖਿਆ ਨੂੰ ਬਹੁਤ ਥੋੜ੍ਹਾ ਹੀ ਮਹੱਤਤਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਲੱਭਦੀ. ਕੋਈ ਸ਼ੱਕ, ਇਸ ਲਈ, ਸਾਡੇ ਸਮਾਜ ਦੇ ਪ੍ਰਮੁੱਖ ਜਾਤੀ ਮਾਨਸਿਕਤਾ, ਨੂੰ ਵੀ, ਜ਼ਿੰਮੇਵਾਰ ਹੈ. ਵਾਲਮੀਕੀ
ਬੱਚੇ ਸਕੂਲ ਵਿੱਚ ਦਾਖਲ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ, ਜਦਕਿ, ਵਾਲਮੀਕੀ ਮਾਪੇ ਇਸ ਨੂੰ ਜ਼ਰੂਰੀ ਬੱਚੇ
ਨੂੰ ਨਿਯਮਿਤ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਕਾਫ਼ੀ ਸਕੂਲ ਚਲਾ ਹੈ ਕਿ ਇਹ ਯਕੀਨੀ ਕਰਨ ਲਈ ਨਾ ਲੱਭੇ.
ਉਹ ਬੱਚੇ ਦੀ ਮਾਨਸਿਕਤਾ ‘ਤੇ ਅਸਰ ਬੁਰਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਸਫਾਈ ਦੀ ਨੌਕਰੀ, ਲਈ ਜਾਣ ਵੇਲੇ ਅਕਸਰ ਵੱਧ, ਬੱਚੇ ਨੂੰ ਮਾਪੇ ਨਾਲ. ਇਹ ਭਵਿੱਖ ਦੇ ਸਫਾਈ ਕਰਮਚਾਰੀ ਨੂੰ ਬਣਨ ਬੱਚੇ ਨੂੰ ਪਿੱਛੇ ਦਾ ਕਾਰਨ ਬਣਦਾ ਹੈ.

ਤਦ, Valmikis ਨੂੰ ਉਪਲੱਬਧ ਬਹੁਤ ਕੁਝ ਰੁਜ਼ਗਾਰ ਦੇ ਵਿਕਲਪ ਉਪਲਬਧ ਹਨ. ਨਿੱਜੀ ਵਿਕਾਸ ਅਤੇ ਸ਼ਬਦਾਵਲੀ ਵਿੱਚ ਮੌਜੂਦ ਨਾ ਕਰਦੇ ਜਾਗਰੂਕਤਾ ਵਰਗੇ ਸ਼ਬਦ; ‘ਤੇ ਵਧੀਆ ਉਹ ਗਰੀਬ ਦੀ ਸਾਖਰਤਾ ਦਾ ਪੱਧਰ ਦਾ ਧੰਨਵਾਦ ਹੈ, ਕੁਝ ਆਈਪੀਐਲ ਦੀ pedantic ਗਿਆਨ ਦਾ ਹਿੱਸਾ ਹਨ. ਮਾੜੀ, ਉਹ ਉਹ ਇੱਕ ਆਰਜ਼ੀ ਸਟੋਰ ਦੇ ਜ ਇੱਕ ਚੱਕਰ ਦੀ ਮੁਰੰਮਤ ਵਰਕਸ਼ਾਪ ਨੂੰ
ਕਿੱਕਸਟਾਰਟ, ਜੇ ਉਹ ਕਾਫ਼ੀ ਗਾਹਕ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ ਵਿੱਚ ਸਫਲ ਨਾ ਹੁੰਦਾ, ਜੋ ਕਿ ਸੋਚਦੇ
ਦਸੇਗਾ ਪ੍ਰਭਾਵਸ਼ਾਲੀ castemen ਕੇ ਨਕਾਰਾਤਮਕ ਰਵੱਈਏ ਦਾ, Valmikis ਨੂੰ ਇੱਕ
ਮਾਨਸਿਕਤਾ ਦਾ ਵਿਕਾਸ ਹੈ, ਕਿਉਕਿ.

ਅਸਲ
ਵਿਚ, ਦਿਨ ਵੇਲੇ ਦੇ ਦੌਰਾਨ ਮੈਲ ਨੂੰ ਇਕੱਠੇ ਕਰਨ ਅਤੇ ਪ੍ਰਭਾਵਸ਼ਾਲੀ ਜਾਤ ਭਾਗ ਕੇ
ਨਫ਼ਰਤ ਦੇ ਵਿਸ਼ੇ ਹੋਣ Valmikis ਲਈ ਰੋਜ਼ਾਨਾ ਦੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਦਾ ਹਿੱਸਾ ਬਣ ਗਏ ਹਨ.
ਇਹ ਅਖੀਰ ਵਿੱਚ ਆਪਣੀ ਸਿਹਤ ਨੂੰ ਨੁਕਸਾਨ, ਜੋ ਕਿ ਤੰਬਾਕੂ ਨੂੰ ਇੱਕ ਮੁੱਖ ਲੋਕ ਸ਼ਰਾਬ ਦੇ ਆਦੀ ਬਣ ਗਏ ਇਸੇ ਕਾਰਨ ਕਰਕੇ, ਅਤੇ ਮਹਿਲਾ ਹੈ.

ਪਰ Valmikis ਆਪਸ ਵਿੱਚ ਇਕ ਹੋਰ ਸਮਾਜਿਕ ਬੁਰਾਈ ਨੂੰ ਬਾਲ ਵਿਆਹ ਹੁੰਦਾ ਹੈ. ਪਲ ਦੀ ਕੁੜੀ ਉਸ ਨੂੰ ਬੰਦ ਦਾ ਵਿਆਹ ਹੈ, ਉਸ ਦੇ ਬੱਚੇ ਪਰਵੇਸ਼ ਕਰਦਾ ਹੈ, ਅਤੇ ਪੰਜਵ ਜ ਛੇਵੇ ਮਿਆਰੀ ਭਰਦਾ ਹੈ. ਮਹਿਲਾ ਦੇ ਨਾਲ ਗੱਲਬਾਤ ਦੇ ਦੌਰਾਨ ਇਸ ਨੂੰ ਇੱਕ ਕੁੜੀ ਹੋਰ ਦਾ ਅਧਿਐਨ ਕਰਨ ਲਈ ਬਣਾਇਆ
ਗਿਆ ਹੈ, ਜੇਕਰ, ਭਾਈਚਾਰੇ ਦੇ ਲੋਕ ਉਸ ਦੀ ਖਰਿਆਈ ਦਾ ਸਵਾਲ ਹੀ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰੇਗਾ, ਜੋ ਕਿ
ਸਪੱਸ਼ਟ ਹੋ ਗਿਆ.

Valmikis ਦੀ ਇੱਕ ਵੱਡੀ ਗਿਣਤੀ ਨੂੰ ਦੇ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਸਰਕਾਰ ਦੀ ਨੌਕਰੀ ਦੀ ਗੱਲ ਕਰਨ
ਲਈ, ਨਾ, ਸਰਕਾਰ ਨੇ ਸਕੀਮ ਦਾ ਫਾਇਦਾ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ ਲਈ ਅਸਮਰੱਥ ਹੁੰਦੇ ਹਨ, ਜਿਸ ਦੇ
ਨਤੀਜੇ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ, ਇਸ ‘ਤੇ ਅਜਿਹੇ ਜਨਮ ਸਰਟੀਫਿਕੇਟ, ਪਤਾ ਸਬੂਤ, ਰਾਸ਼ਨ ਕਾਰਡ ਦੇ ਰੂਪ
ਵਿੱਚ ਬੁਨਿਆਦੀ ਦਸਤਾਵੇਜ਼ ਹੈ, ਅਤੇ ਨਾ ਕਰੋ.

ਸੰਬੰਧਿਤ

ਜਾਤੀ ਸੰਘਰਸ਼ ਦਾ ਇੱਕ ਬਿੰਦੂ, Kadi ਤਾਲੁਕਾ ਦੇ ਐਸ.ਸੀ. / STS ਜਨਤਕ ਜੀਵਨ ਵਿਚ ਵਿਤਕਰੇ ਦਾ ਵਿਰੋਧ, ਅਸਾਧਾਰਨ ਜਾਗਰੂਕਤਾ ਦਿਖਾ ਸ਼ੁਰੂ ਕੀਤਾ ਹੈ

ਅਨੁਸੂਚਿਤ ਦੀ stigmatization ਦੇ ਵਿਆਪਕ ਫੈਲੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ / STS ਦਿਹਾਤੀ ਖੇਤਰ ਵਿੱਚ ਪਾਣੀ ਤੱਕ ਪਹੁੰਚ ਵਿਚ, ਸਰਵੇਖਣ ਦੀ ਰਿਪੋਰਟ ਕਹਿੰਦੀ ਹੈ

ਰੂਰਲ
ਗੁਜਰਾਤ ਦੇ ਐਸ.ਸੀ. / STS ਗੁਜਰਾਤ ਦੇ ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਨੂੰ, ਪੀਣ ਵਾਲੇ ਪਾਣੀ ਤੱਕ
ਪਹੁੰਚ ਵਿਚ ਵਿਤਕਰੇ ਦੀ ਸ਼ਿਕਾਇਤ ਦੀ ਨੁਮਾਇੰਦਗੀ, ਬੁਨਿਆਦੀ ਸਹੂਲਤ ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਦੇ
Bahuth Jiyadha Paapis (ਭਾਜਪਾ) ਵਾਲਮੀਕਿ ਹੁਣ ਹਿੰਦੂਤਵ ਵੋਟ Bank ਰਾਜਨੀਤੀ ਲਈ
RSSized ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ, ਜਿਸ ਨੂੰ ਐਪਿਕ ਰਾਮਾਇਣ ਨੇ ਲਿਖਿਆ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਪਤਾ ਹੋਣਾ
ਜਰੂਰੀ ਹੈ.
Vlamiki Rama ਨੂੰ ਬਣਾਇਆ. ਮੰਦਿਰ ਉਸ ਦੇ ਹੀਰੋ ਲਈ ਬਣਾਇਆ ਹੈ, ਪਰ ਜਿਹੜੇ ਮੰਦਰ ਦੇ ਅੰਦਰ ਦੀ ਇਜਾਜ਼ਤ ਨਹੀ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ.

ਹੁਣ ਇਸ ਨੂੰ ਧੋਖਾਧੜੀ ਵੋਟਿੰਗ tamperable ਹਨ ਅਤੇ ਇਸ ਲਈ ਸਭ ਨੂੰ ਦੇ ਤਬਦੀਲ ਕੀਤਾ ਜਾ ਕਰਨ ਲਈ ਸੀ, ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਇਕ ਚੰਗੀ ਕਾਨੂੰਨ ਹੈ. ਪਰ ਸਾਬਕਾ ਕਬੀਰ ਸਦਾਸ਼ਿਵਮ ex ਦੇ ਸੁਝਾਅ ਮੁਤਾਬਕ ਹੀ ਵੋਟਿੰਗ ਪੜਾਅ ਵਿੱਚ ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ਦੀ ਧੋਖਾਧੜੀ ਦੇ ਕੇ ਇਨਸਾਫ਼ ਦੀ ਕਬਰ ਗਲਤੀ ਵਚਨਬੱਧ. ਕਿਉਕਿ ਰੁਪਏ 1600 ਕਰੋੜ ਰੁਪਏ ਦੀ ਲਾਗਤ ਦੀ ਸੀਈਸੀ ਸੰਪਤ ਨੂੰ ਬਦਲਣ ਲਈ ਸ਼ਾਮਲ. ਆਬਾਦੀ chtpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ, ਅੱਤਵਾਦੀ, ਅੱਤਵਾਦੀ, ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ (ਮੋਦੀ) ਦੇ
ਹਿੰਸਕ, ਅਸਹਿਣਸ਼ੀਲ, heckling ਬਣਾਉਦੀ ਹਿੰਦੂਤਵ ਮਤ ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਦੇ ਕਤਲ ਨੂੰ ਫੜ ਲਿਆ
ਹੈ ਮਾਸਟਰ ਕੁੰਜੀ ਦੇ ਨਤੀਜੇ 1% ਹੈ.

ਹੱਲ ਹੈ ਸੁਪਰੀਮ ਕੋਰਟ ਨੇ ਵਿਸ਼ਵ ਦੇ 80 ਲੋਕਤੰਤਰ ਦੇ ਬਾਅਦ ਮੂਰਖ ਸਬੂਤ ਵੋਟਿੰਗ
ਸਿਸਟਮ ਨਾਲ ਤਾਜ਼ਾ ਚੋਣ ਲਈ ਇਹ ਵੋਟਿੰਗ ਅਤੇ ਵਿਵਸਥਾ ਦੁਆਰਾ ਕਰਵਾਏ ਦੇ ਸਾਰੇ ਚੋਣ
ਗ੍ਰਹਿਣ ਨੂੰ ਹੁਕਮ ਪਾਸ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਹੈ.

ਐਸ.ਸੀ / STS / ਓ / ਘੱਟ ਗਿਣਤੀ / ਗਰੀਬ ਵੱਡੇ ਜਾਤੀ ਨਾਲ ਸਬੰਧਤ ਆਬਾਦੀ ਬੌਧਿਕ
ਨੌਜਵਾਨ ਦੇ 99% ਤੱਕ ਇਲਾਵਾ, ਇਹ ਧੋਖਾਧੜੀ ਦਾ ਵੋਟਿੰਗ ਦੇ ਸਬੰਧ ਵਿੱਚ ਵਿਸ਼ਵ ਦੇ ਲੋਕ
ਜਾਗਰੂਕ ਕਰਨ ਲਈ ਇੰਟਰਨੈੱਟ ਵਰਤਣ ਦੀ ਲੋੜ ਹੈ

ਤੁਰ RUN, ਤੈਰੋ, ਚੱਕਰ!
ਲਈ
ALL ਧੋਖੇਬਾਜ਼ੀ ਵੋਟਿੰਗ ਦੇ ਬਦਲ ਦੇ!
ਮੂਰਖ ਸਬੂਤ ਵੋਟ ਸਿਸਟਮ ਦੇ ਨਾਲ!

ਦਿਨ ਦੇ ਲਈ ਇਸ ਨੂੰ, ਭ੍ਰਿਸ਼ਟਾਚਾਰ ਨੂੰ ਰੋਕਣ, ਭਾਅ ਘਟਾਉਣ ਕਾਲਾ ਧਨ ਵਾਪਸ ਲਿਆਉਣ ਲਈ ਇੱਕ ਵੱਡਾ ਹੈ ਕੋਈ.

ਤੇਲ ਭਾਅ ਗਲੋਬਲ ਥੱਲੇ ਜਾ ਰਹੇ ਹਨ, ਪਰ ਸਾਨੂੰ ਅਸਲ ਵਿੱਚ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਵਿਚ ਇਸ ਨੂੰ ਮਹਿਸੂਸ ਨਾ ਕਰੋ. ਨੂੰ ਹਰ ਜ਼ਰੂਰੀ ਵਸਤੂ ਦੀ ਕਰੋ ਅਤੇ ਆਵਾਜਾਈ ਦੇ ਖਰਚੇ ਅਤੇ ਭਾਅ ਨੂੰ ਜਾਣ ਲਈ ਜਾਰੀ. ਉੱਥੇ
ਕਾਲੇ ਧਨ ਦਾ ਕੋਈ ਨਿਸ਼ਾਨ ਬਰਾਮਦ ਕੀਤਾ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ ਅਤੇ ਭਾਜਪਾ (Bajuth Jiyadha
Paapis) ਦੇ ਪ੍ਰਧਾਨ ਅਮਿਤ ਸ਼ਾਹ ਕਾਲੇ ਧਨ ਦੀ ਵਾਪਸੀ ਦੇ ਦੁਆਰਾ 15 ਲੱਖ ਰੁਪਏ ਪ੍ਰਾਪਤ
ਕਰਨ ਦਾ ਹਰ ਪਰਿਵਾਰ ਦੇ ਭਾਸ਼ਣ ਦਾ ਕੇਵਲ ਖਾਲੀ ਪੋਲ ਭਾਸ਼ਣ ਸੀ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਹੁਣ ਕੀਤਾ
ਹੈ.
ਇਸ ਦੇ ਉਲਟ, ਸਾਨੂੰ ਸਾਡੇ ਜਨਤਕ ਬਕ ਦੇ ਜਨ-ਧੰਨ ਤੱਕ ਮੈਨੂੰ ਅਰਬ ਡਾਲਰ ਦਾ ਕਰਜ਼ਾ ਅਦਾਨੀ ਵਰਗੇ ਮੁਬਾਰਕ ਕਾਰਪੋਰੇਟ ਨੂੰ ਕਰਵਾਈ ਜਾ ਰਹੀ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਦੇਖੋ!

ਧੋਖਾਧੜੀ ਵੋਟਿੰਗ ਦੇ ਕੇ ਚੁਣਿਆ ਫਰਾਡ ਲੋਕ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਅਤੇ ਵਿਦੇਸ਼ੀ ਮੂਲ ਦੇ ਵੱਡੇ ਕੰਪਨੀ ਨੂੰ ਪ੍ਰਕਾਰ ‘ਤੇ ਪਾਸ ਕਰਨ ਦੀ ਓਵਰਟਾਈਮ ਕੰਮ ਕਰ ਰਿਹਾ ਹੈ. ਆਰਡੀਨੈ’ਸ ਕਾਰਪੋਰੇਟ ਹਿੱਤ ਵਿਚ ਜ਼ਮੀਨ ਹੜੱਪਣ ਨੂੰ ਤੇਜ਼ ਕਰਨ ਲਈ ਜਾਰੀ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ. ਕੋਲਾ ਅਤੇ ਹੋਰ ਖਾਣਾ ਵਪਾਰਕ ਪ੍ਰਾਈਵੇਟ ਖੁਦਾਈ ਲਈ ਖੋਲ੍ਹਿਆ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ. ਵਿਦੇਸ਼ੀ ਨਿਵੇਸ਼ ਦੀ ਆਰਥਿਕਤਾ ਦੇ ਹਰ ਖੇਤਰ ਵਿਚ ਮੁਬਾਰਕ ਕੀਤਾ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ. ਅਤੇ
ਇਸ ਦੇਸ਼ ਨੂੰ ਅਮਰੀਕਾ ਦੇ ਰਾਸ਼ਟਰਪਤੀ ਓਬਾਮਾ ਦੀ ਹਾਲ ਹੀ ਦੀ ਫੇਰੀ ਦੌਰਾਨ, ਮੋਦੀ
(ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ ਦੇ ਕਾਤਲ) ਲਗਭਗ ਸਾਨੂੰ ਕਿਸੇ ਵੀ ਹਾਦਸੇ ਦੇ ਮਾਮਲੇ ਵਿੱਚ ਕੋਈ ਵੀ
ਦੇਣਦਾਰੀ, ਮੁਆਵਜ਼ਾ ਅਤੇ ਕਾਨੂੰਨੀ ਕਾਰਵਾਈ, ਸਾਡੇ ਦੇਸ਼ ਨੂੰ ਪ੍ਰਮਾਣੂ ਰਿਐਕਟਰ ਸਪਲਾਈ
ਕੰਪਨੀ ਨੂੰ ਰਿਹਾਅ ਕੀਤਾ ਹੈ.
, ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ ਦੇ ਕਾਤਲ ਨੂੰ ਯੋਜਨਾਬੱਧ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਦੀ ਨੀਤੀ ਨੂੰ ਹਟਾ ਨੂੰ ਕਮਜ਼ੋਰ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ ਅਮਰੀਕਾ ਦੇ ਡਰੱਗ ਕੰਪਨੀ ਦੇ ਲਾਲਚ ਬਿਆਨਬਾਜ਼ੀ ਕਰਨ ਲਈ; ਜੋ ਕਿ ਕਈ ਜੀਵਨ ਨੂੰ ਬਚਾਉਣ ਲਈ ਨਸ਼ੇ ਦੇ ਘਰੇਲੂ ਉਤਪਾਦਨ ਨੂੰ ਅਚਾਨਚੱਕ ਅਤੇ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਵਿੱਚ ਅਤੇ ਸੰਸਾਰ ਭਰ ਵਿੱਚ ਆਮ ਲੋਕ ਲਈ ਆਪਣੇ ਭਾਅ ਘਟਣ ਜਾਵੇਗਾ.

ਯੋਜਨਾ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦੇ ਗਏੇ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ ਅਤੇ ਭਲਾਈ ਦੇ ਪ੍ਰੋਗਰਾਮ ਲਈ ਨਿਰਧਾਰਤ ਫੰਡ ਨੂੰ ਯੋਜਨਾਬੱਧ ਬਰ ਜਾ ਰਹੇ ਹਨ. ਤਾਜ਼ਾ ਬਜਟ ਵਿੱਚ, ਸਰਕਾਰ ਨੇ ਸਭ ਹਿੱਟ ਸਿਹਤ, ਮਹਿਲਾ ਅਤੇ ਬਾਲ ਭਲਾਈ ਹੋਣ, ਅਤੇ ਸਿੱਖਿਆ ਦੇ ਖੇਤਰ, ਭਲਾਈ ਅਤੇ ਸਮਾਜਿਕ ਖਰਚ ‘ਤੇ ਖਰਚ ਘਟਾ ਦਿੱਤਾ ਹੈ. 75% 40% ਤੱਕ ਖੁਰਾਕ ਸੁਰੱਖਿਆ ਕਵਰੇਜ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਸਖ਼ਤ ਕਮੀ ਦੀ ਯੋਜਨਾ ਬਣਾਈ ਹੈ. ਮਜ਼ਦੂਰੀ
ਦੇ ਕਾਨੂੰਨ ਨੂੰ ਯੋਜਨਾਬੱਧ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਕਾਮੇ ਤਨਖਾਹ-ਚੋਰੀ, ਅਸੁਰੱਖਿਅਤ ਵਿਰੁੱਧ ਕੋਈ
ਵੀ ਕਾਨੂੰਨੀ ਸੁਰੱਖਿਆ ਕਵਚ ਨੂੰ ਰੱਦ ਕਰਨ ਲਈ subverted ਜਾ ਰਹੇ ਹਨ, ਜਦਕਿ ਯੋਗਿਕ
ਦੀ ਮੁਹਿੰਮ ‘’ ਭਾਰਤ ਵਿਚ ਬਣਾਉ ‘ਦੇ ਨਾਮ ਵਿਚ, ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ ਦੇ ਕਾਤਲ ਆਇਆ ਹੈ ਅਤੇ
ਇਸ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਮਿਹਨਤ ਦਾ ਸ਼ੋਸ਼ਣ ਕਰਨ ਵਿਦੇਸ਼ੀ ਪੂੰਜੀ ਨੂੰ ਬੁਲਾ ਰਹੇ ਹੋ
ਕੰਮ ਅਤੇ ਜ਼ਾਲਮ ਕੰਮ ਦੇ ਹਾਲਾਤ.

Commercialisation ਅਤੇ ਸਿੱਖਿਆ ਦੇ saffronization ਇੱਕ ਤਾਜ਼ਾ ਪੁਸ਼ ਨੂੰ ਦਿੱਤਾ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ. ਪਬਲਿਕ ਫੰਡ ਕੀਤੇ ਸਿੱਖਿਆ ਸਿੱਖਿਆ ਅਦਾਰੇ ਦੇ ਖੁਦਮੁਖਤਿਆਰੀ ਉੱਤੇ ਮਿੱਧਿਆ ਕੀਤੇ ਜਾ
ਰਹੇ ਹਨ, ਵੱਡੀ ਦੇ ਬਜਟ ਕਟੌਤੀ ਦੁਆਰਾ ਕਮਜ਼ੋਰ ਕੀਤਾ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ, ਅਤੇ obscurantism
ਅਤੇ ਫਿਰਕੂ ਜ਼ਹਿਰ ਿਸਲੇਬਸ ਬਦਲਾਅ ਅਤੇ ਮੁਲਾਕਾਤ ਦੁਆਰਾ ਦੋਨੋ ਅੱਗੇ ਵਧਾਇਆ ਜਾ ਰਿਹਾ
ਹੈ.

ਅਤੇ ਆਮ ਲੋਕ ‘ਤੇ ਇਸ ਨੂੰ ਆਰਥਿਕ ਹਮਲੇ ਦੇ ਨਾਲ ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ ਦੇ ਕਾਤਲ ਦੀ ਮਦਦ ਹੈ, ਜਿਸ ਦੇ ਸੰਘ ਪਰਿਵਾਰ ਦੇ ਸ਼ਰਾਰਤੀ ਫਿਰਕੂ ਏਜੰਡਾ ਹੈ. ਹਰ ਛੋਟੇ-ਛੋਟੇ ਸਥਾਨਕ ਝਗੜੇ ਨੂੰ ਉਡਾ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ, ਜ ਪਰਤੱਖ ਰੋਮਰ ਫਿਰਕੂ ਜਨੂੰਨ ਨੂੰ ਕੁੱਟਣਗੇ ਅਤੇ ਮੁਸਲਿਮ ਭਾਈਚਾਰੇ ਨੂੰ ਨਿਸ਼ਾਨਾ ਫੈਲ ਜਾ ਰਹੇ ਹਨ. ਐਸ.ਸੀ
/ STS / ਓ / ਘੱਟ ਗਿਣਤੀ / ਗਰੀਬ ਵੱਡੇ ਜਾਤੀ ਸਮੇਤ ਸਮਾਜ ਦੇ 99% ਵੱਲ ਨਫ਼ਰਤ ਦੀ
ਸੰਘ ਦੇ ਮੁਖੀ ਪੂਰੀ ਅੱਤਵਾਦੀ, ਖਾੜਕੂ, ਹਿੰਸਕ, heckling ਨੂੰ ਕੱਟੜਵਾਦੀ, ਹਿੰਦੂਤਵ
ਮਤ 1% chitpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ Jambudvipa / PRABUDDHA BHARATH ਇੱਕ ਹਿੰਦੂ ਰਾਸ਼ਟਰ
ਦਾ ਐਲਾਨ ਕੀਤਾ ਹੈ, ਜਿਸ ਨੂੰ
ਸੰਵਿਧਾਨਕ
ਹੈ ਅਤੇ, ਕਿਉਕਿ attitude.There ਦਬਦਬਾ 1% chitpawan ਬਾਹਮਣ ਦੇ ਕੋਰਟ ਦਾ ਅਪਮਾਨ
ਨੇ ਨਿਰਮਿਤ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ, ਜਿਸ ਨੂੰ RSSized ਹਿੰਦੂਤਵ ਵਿੱਚ ਕੋਈ siprituality ਹੈ
ਵੀਰ ਸਾਵਰਕਰ ਨੂੰ ਅਦਾਲਤ ਨੇ ਫ਼ਾਹਾ ਗਿਆ ਸੀ, ਜੋ ਪਰਮੇਸ਼ੁਰ ਨੇ naturam (SE)
ਅੱਤਵਾਦੀ ਅਤੇ ਕਾਤਲ ਵਰਗੇ ਇਕ ਹੋਰ chitpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ
ਜਿਸ ਦੇ ਇੰਸਟਾਲ ਕਰਨ ਬੁੱਤ followere ਹਨ ਅਤੇ ਮੰਦਰ ਨੂੰ ਅਦਾਲਤ ਦੀ ਮਾਣਹਾਨੀ ਹੈ ਪਰ ਜਿਸ ਨੂੰ ਕੁਝ ਵੀ ਨਿਰਮਾਣ ਕੀਤਾ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ. ਇਹ
ਸਾਰੇ power.Bahuth Jiyadha Paapis ਸੰਸਦ, ਮੰਤਰੀ ਅਤੇ ਇਸ ਲਈ-ਕਹਿੰਦੇ ਸਾਧੂ ਅਤੇ
sadhvis ਦੇ ਲਾਲਚ ਲਈ ਹਨ ਇਸ ਦੇ ਆਬਾਦੀ ਨੂੰ ਵਧਾਉਣ ਲਈ 1% chitpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ
ਅਸਮਰੱਥ ਹੈ ਚਾਰ ਬੱਚੇ ਅਤੇ more.The, ਨੂੰ ਦੇ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਤਬਦੀਲ ਕਰ ਲਿਆ
ਪੈਦਾ ਕਰਨ ਲਈ ਹਿੰਦੂ ਮਹਿਲਾ ਪੁੱਛ ਰਹੇ ਹਨ
Protestants ਚਰਚ, ਹਸਪਤਾਲ ਅਤੇ ਵਿਦਿਅਕ ਅਦਾਰੇ ਬੰਦ ਦਸਤਕ ਅਤੇ ਨਾਲ-ਨਾਲ ਆਪਣੇ
ਜਾਤੀ ਲੈ ਕੇ ਛਾਤ ਦਾ ਅਭਿਆਸ ਕੀਤਾ ਅਤੇ ਹੁਣ ਨਾਨ-chitpawan ਬ੍ਰਾਹਮਣ ਨੂੰ ਕੌਮੀ
ਰਾਜਧਾਨੀ ‘ਚ ਦਾ ਹੱਕ ਭੰਨ ਕੀਤੇ ਜਾ ਰਹੇ ਹਨ ਅਤੇ ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ ਦੇ ਕਾਤਲ ਨੂੰ ਇੱਕ
ਚੁੱਪ ਦਰਸ਼ਕ ਰਹਿੰਦਾ ਨਾਲ ਕਲੀਸਿਯਾ ਨੂੰ.

ਵਾਰ
ਜ਼ਰੂਰ ਜਮਹੂਰੀ institutionst ਦੇ ਕਾਤਲ ਦੇ ਵਿਰੋਧੀ ਜਮਹੂਰੀ ਚਾਲ ਇਹ ਸ਼ਰਾਰਤੀ ਲੋਕ
ਵਿਰੋਧੀ ਵਿਰੁੱਧ ਸ਼ਕਤੀਸ਼ਾਲੀ ਵਿਰੋਧ ਵਿਚ ਵਧ ਕਰਨ ਲਈ ਆ ਗਿਆ ਹੈ.
ਅਤੇ ਰੋਸ ਬਹੁਤ ਸ਼ੁਰੂ ਕੀਤਾ ਹੈ ਇਹ ਯਕੀਨੀ ਹੋਣ ਲਈ. ਖੇਤਰ
ਦੇ ਵਰਕਰ ਅਤੇ ਕਰਮਚਾਰੀ ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ ਦੀ ਨੀਤੀ ਦਾ ਵਿਰੋਧ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ ਦੇ ਕਾਤਲ ਦੇ
ਬਾਅਦ ਖੇਤਰ ‘ਚ, ਕਿਸਾਨ ਜ਼ਮੀਨ ਹੜਪਣ ਦੀ ਵਿਵਸਥਾ ਅਤੇ ਦਿਹਾਤੀ ਗਰੀਬ ਰੁਜ਼ਗਾਰ ਗਾਰੰਟੀ
ਅਤੇ ਭੋਜਨ ਸੁਰੱਖਿਆ ਲਈ ਆਪਣੇ ਸੱਜੇ ਤੇ ਜ਼ੋਰ ਰਹੇ ਹਨ ਦੇ ਵਿਰੁੱਧ ਹਥਿਆਰ ਵਿੱਚ ਹਨ.
ਅਤੇ ਹੁਣ ਦਿੱਲੀ ਵਿਧਾਨ ਸਭਾ ਲਈ ਚੋਣ ਵਿਚ, ਧੋਖਾਧੜੀ ਵੋਟਿੰਗ ਗਰੀਬ ਅਤੇ ਕੰਮ ਕਰ ਲੋਕ
ਾਨ ਅਤੇ ਧਿਆਨ ਭਟਕਾਉਣ ਲਈ ਮੂਰਖ ਲਈ ਕਿਸੇ ਹੋਰ ਆਰ.ਐਸ.ਐਸ. ਵਿੰਗ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ‘ਆਪ
ਚੁਣਿਆ.

ਆਮ
ਲੋਕ ਅਤੇ ਸੰਘ ਪਰਿਵਾਰ ਦੇ ਫਿਰਕੂ ਅਤੇ ਵੰਡਣ ਦੇ ਏਜੰਡੇ ‘ਤੇ ਜਮਹੂਰੀ ਸੰਸਥਾ ਦੇ ਹਮਲੇ
ਦੇ ਕਾਤਲ ਦਾ ਵਿਰੋਧ ਅਤੇ ਵਧੇਰੇ ਲੋਕਤੰਤਰ, ਸਮਾਨਤਾ, ਭਰੱਪਣ, ਆਜ਼ਾਦੀ ਮਾਣ ਅਤੇ ਜਸਟਿਸ,
ਜਮਹੂਰੀ ਸੰਗਠਨ ਅਤੇ ਵਿਅਕਤੀ, ਲਾਜ਼ਮੀ ਹੈ ਦੀ ਇੱਕ ਸੀਮਾ ਹੈ, ਸਾਰੀ ਲਈ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਲੋਕ
ਦੇ ਲੜਾਈ ਨੂੰ ਮਜ਼ਬੂਤ ​​ਕਰਨ ਲਈ
ਮਿਲ ਕੇ ਆਇਆ ਹੈ ਅਤੇ ਇੱਕ ਰਾਸ਼ਟਰੀ ਪਲੇਟਫਾਰਮ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰਨ ਦਾ ਫੈਸਲਾ

ਮੂਰਖ ਸਬੂਤ ਵੋਟਿੰਗ ਸਿਸਟਮ ਨਾਲ ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ਦਾ ਸੁਪਰੀਮ ਕੋਰਟ ਨੇ ਹੁਕਮ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ
ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਧੋਖਾਧੜੀ ਵੋਟਿੰਗ ਹਥਿਆਉਣ ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ ਦੇ ਕਾਤਲ ਨੂੰ ਰੋਕੋ.

ਸਾਬਕਾ ਕਬੀਰ ਸਦਾਸ਼ਿਵਮ, ਕਿਉਕਿ ਉਹ ਨੂੰ ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ਲਈ ਸ਼ਾਮਲ ਰੁਪਏ 1600 ਕਰੋੜ ਦੀ
ਲਾਗਤ ਦੇ ਸਾਬਕਾ ਸੀਈਸੀ ਸੰਪਤ ਨੇ ਸੁਝਾਅ ਦਿੱਤਾ ਤੌਰ ਪੜਾਅ ਵਿੱਚ ਤਬਦੀਲ ਕਰਨ ਦੀ ਲਈ
ਆਦੇਸ਼ ਦੇ ਨਿਰਣੇ ਦੀ ਕਬਰ ਗਲਤੀ ਵਚਨਬੱਧ.

ਸੁਪਰੀਮ ਕੋਰਟ ਨੇ ਤਾਜ਼ਾ ਚੋਣ ਲਈ ਇਹ ਧੋਖਾਧੜੀ ਦਾ ਵੋਟਿੰਗ ਅਤੇ ਵਿਵਸਥਾ ਦੇ ਨਾਲ ਕੀਤੇ ਸਾਰੇ ਚੋਣ ਖਤਮ ਕਰਨ ਦੀ ਹੁਕਮ ਦੇ ਪਾਸ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ.

ਅਜਿਹੇ
ਵੇਲੇ ਤੱਕ ਜਮਹੂਰੀ ਅਦਾਰੇ ਦੇ ਕਾਤਲ ਸਾਡੇ ਸੰਵਿਧਾਨ ਵਿੱਚ ਰਖਿਆ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਲੋਕਤੰਤਰ,
ਸਮਾਨਤਾ, ਭਾਈਚਾਰੇ, ਆਜ਼ਾਦੀ, ਮਾਣ ਅਤੇ ਇਨਸਾਫ਼ ਨੂੰ ਬਚਾਉਣ ਲਈ ਸਾਰੇ ਸੰਸਾਰ ਦੇ 80
ਲੋਕਤੰਤਰ ਹੈ ਅਤੇ ਸਾਡੇ ਲੋਕ ਮਾਨਤਾ ਪ੍ਰਾਪਤ ਨਹੀ ਕੀਤਾ ਜਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ.

63) Classical Nepali
63) शास्त्रीय नेपाली

1439 पाठ 9315 सोमबार

फ्री अनलाइन ई-नालंदा अनुसन्धान र अभ्यास UNIVERSITY
द्वारा चलान
http://sarvajan.ambedkar.org

 आफ्नो
मातृभाषामा सही अनुवाद प्रस्तुत र अन्य सबै भाषाहरु तपाईं यस गुगल अनुवाद
अभ्यास लागि थाह र त्यति नै सबै वर्गहरु को बीच देश को धन वितरण गर्न
संविधान समाहित रूपमा लोकतन्त्र, समानता, बिरादरी, स्वतन्त्रता, मर्यादा र
न्याय बचत गर्नुहोस्
शान्ति हित र आनन्द लागि समाज र तिनीहरूको अन्तिम लक्ष्य रूपमा अनन्त Bliss प्राप्त गर्न।

हिँडाइ, संख्या, SWIM, चक्र!
लागि
सबै धोखाधडी EVMs प्रतिस्थापन!
फूल सबूत मतदान प्रणाली संग!

दिन यो, भ्रष्टाचार जाँच, मूल्य कम कालो धन फिर्ता ल्याउन एक ठूलो कुनै छ।

11 मार्च 2015 मा: “धारणा, महसुल र रकमको SIEPAP2015 सामाजिक समावेशीकरण र बहिष्करण” राष्ट्रिय सम्मेलन

योगी VEMANA विश्वविद्यालय कलेज: कडप्पा
Vemana Puram, कडप्पा -516 003
राजनीतिक विज्ञान र सार्वजनिक प्रशासन विभाग

डा D.R. सतीश Babu मोबाइल: +919440028157
सह-ordinator
____________________________________________________________________

जोशीले अभिवादन

सर / मैडम,

संकाय
सदस्य (2015. यो सम्मेलन विज्ञ उपस्थित गरिनेछ मार्च 11 औं मा: “धारणा,
महसुल र रकमको SIEPAP2015 सामाजिक समावेशीकरण र बहिष्करण” म राजनीतिक
विज्ञान र सार्वजनिक प्रशासन, YVU विभाग राष्ट्रिय सम्मेलन सञ्चालन छ कि
सूचित गर्न खुसी छु

युवा अनुसन्धान विद्वान), देश को विभिन्न भागबाट अछुत, नीति निर्माताहरु,
सामाजिक सेवा कामदारहरू, एनजीओ गरेको, सामाजिक कार्यकर्ता र अन्य
सरोकारवाला को शिकार।
यो बेनी फारम, शेयर, प्रस्तुत छलफल सेट छ; सहभागीहरूमा र गहिराई कागजातहरू आकलन, धारणा र victimizations मार्फत
सामाजिक समावेशीकरण र बहिष्करण मा हाल लहड द्वारा प्राप्त विचारै रेकर्ड
हो।

सम्मेलन को Convener, म राष्ट्रिय सम्मेलन को भागीदार गर्न न्यानो स्वागत विस्तार। यहाँ मैले सम्मेलन ब्रोशर, दर्ता फारम संलग्न छन्। भने आवश्यक फोटो प्रतिहरू प्रयोग हुन सक्छ। थप विवरण दयालु वेब साइट भ्रमण लागि: हाइपरलिंक “http://www.yogivemanauniversity.ac.inwww.yogivemanauniversity.ac.in
सम्बन्ध हो,
—————————————————————————————————————–

सामाजिक समावेशीकरण र बहिष्करण: छुवाछुत को शिकार

सार

यस कागज को उद्देश्य दुइटा छ; पहिलो
कागज पडताल र सामाजिक बहिष्करण (कहिलेकाहीं) सामाजिक समावेशीकरण मा नीति
प्रयास भित्र पुनर्गठन गर्न सकिन्छ जसमा जटिल तरिकामा वर्णन: यो देश मा
कोटा नीति।
दोस्रो,
कागज समावेशीकरण / बहिष्करण को connectedness को एक जग खाता र अधिक सुअवसर
‘अन्य’ रूपमा ‘पारित’ द्वारा बहिष्करण को ‘समस्या’ जोगिन र व्यवस्थापन
गर्न सक्छ बाहिर जाँदा ती तैनात कसरी उदाहरण प्रदान गर्दछ।
यस कागज को ठोस ध्यान students.More महत्वपूर्ण अनुसूचित जाति / अनुसूचित
जातिको जातीय-आधारित अनुभव प्रविधी संग धोखाधडी EVMs छेडछाड गरेर
लोकतन्त्र, समानता, बिरादरी, स्वतन्त्रता र न्याय अपहरण गरेको बाटो छ।

____________________________________________________________________

सर्वोच्च अदालतले संसारको 80 प्रजातन्त्र पछि मूर्ख प्रमाण मतदान प्रणाली
संग ताजा निर्वाचनको लागि यी EVMs र आदेश माध्यम सञ्चालन सबै चुनावमा
scrap गर्न आदेश पारित गर्नु पर्छ।

जाति / STs / ओबीसी / अल्पसंख्यक / गरिब माथिल्लो जातको सम्बन्धित
जनसंख्या बौद्धिक युवाहरूको 99% देखि अलग, यी धोखाधडी EVMs सन्दर्भमा
संसारको सजग इन्टरनेटको प्रयोग गर्नुपर्छ

हिँडाइ, संख्या, SWIM, चक्र!
लागि
सबै धोखाधडी EVMs प्रतिस्थापन!
फूल सबूत मतदान प्रणाली संग!

अर्को
100 वर्ष Sarvajan Hitaye Sarvajan Sukhaye, अर्थात् लागि हुनुपर्छ।,
बाबासाहेब डा द्वारा fathered संविधान समाहित रूपमा जाति / STs / ओबीसी /
अल्पसंख्यक र देश मा गरिब माथिल्लो जातको सहित शान्ति, आनन्द र सबै समाजलाई
हितको
त्यति नै समाज को सबै वर्गहरु को बीच देश को धन वितरण गरेर BRAmbedkar।

Casteism
र छुवाछुत लडे गर्ने पण्डितले Aiyothidas, महात्मा Phule, Sahuji महाराज,
नारायण गुरु, Periyar EVRamaswamy, Ayankali, डा बाबासाहेब BRAmbedkar,
Manyavar Kanshiramji र सुश्री Mayawatiji, अर्को 100 वर्ष जस्तै प्रख्यात
नेताहरूले खेलेको भूमिका तिनीहरूको हुन गइरहेको छ

मान्छे
जागरूकता संग जागृत एक को शिक्षा पछ्याएर अन्धविश्वासमा लड्न र एक बन्डल
मा सबै आफ्नो डर राख्न मन को अधिकतम सकारात्मक यातना दिन र आफ्ना
छोराछोरीलाई सरकार, निजी र स्व रोजगार मा, नदी, शिक्षा मा आरक्षण यो फाले
हुनेछ जो
विकासका लागि आवश्यक मुख्य कुरा हो।

“शिक्षित, Organise र अचम्म” को अम्बेडकर नारा “न्याय माग्दै छैन रही, तर
संविधान मा enshrines हरेक नागरिकको अधिकार हो”, अब धेरै वैध छ।

अहमदाबाद को Valmikis slumdwelling छुवाछुत को शिकार, एक सम्मानजनक जीवन लागि आवश्यक आधारभूत सुविधा वञ्चित रहन

अहमदाबाद
गरेको पाँच झुग्गी बस्ती का Thaltej, Gota, Hatkeshwar, मानव विकास र
अनुसन्धान केन्द्र द्वारा Naranpura Lakhudi र Sola पुल (HDRC), अहमदाबाद,
बस्ने अनुसूचित जाति वाल्मीकि समुदाय को एक अध्ययन समुदाय सबैभन्दा
बेवास्ता खण्ड रहन्छ कसरी तिर औंल्याउँछन्
सहरको शहरी जीवन।

अंश:

जाति / STs गुजरात जनसंख्या प्रतिशत 7 6 बनाउन। एक फिर्ता इतिहासमा देखिन्छ भने, एक जाति / STs, अवस्था विशेष गरी गाउँहरूमा, धेरै दयनीय थियो जस्तो लाग्छ। BANASKANTHA
जिल्ला उदाहरणका लागि, जाति / STs तिनीहरूले टाढैबाट प्रमुख castemen
द्वारा पहिचान हुन सकोस् भनेर, एक विशेष रंग को एक शिरपेच आफ्नो टाउको
ढाक्ने बाध्य थिए।
जाति
/ अनुसूचित bridegrooms विवाह झाँकी समयमा एक घोडा सवारी अनुमति दिएको
छैन, र पार्टी को ती बनाउन भाग उत्सव मा संगीत को धुन ड्रम वा नृत्य कुटपिट
गर्न अनुमति दिएको छैन।
यो
जाति / अनुसूचित समुदाय को अवस्था थियो भने, एक राम्रो तरिकाले भेदभाव
Valmikis, अनुसूचित जाति / अनुसूचित तहगत मा सबै भन्दा कम Rung कस्तो
प्रकारको कल्पना गर्न सक्छ, सामना गर्नुपर्ने थियो।
प्रमुख
जातजाति व्यक्तिहरूलाई कि जाति / STs, विशेष गरी Valmikis, ग्रामीण
क्षेत्रमा .It भन्न उचित हुनेछ सरकार सञ्चालन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र
(PHCs) मा उपचार, प्राप्त भएन, कठोर परम्परागत जात सुनिश्चित एक समय थियो
जब थियो
व्यवहार आज पनि बरकरार।

पेशागत विकल्प को खोज मा, धेरै Valmikis गुजरात शहरहरूले, विशेष गरी अहमदाबाद मा भूमि। यो एक Valmikis को एक ठूलो संख्या केहि समय को लागि अहमदाबाद को फोहोर बस्तीहरू बाँचिरहेका छौं पाता एउटा कारण हो। यहाँ, नेपालीमाथि रूपमा जीवित, तिनीहरूले जीविकोपार्जन संग सम्बन्धित प्रमुख विषयहरूमा सामना। तिनीहरू अत्यन्तै stifling वातावरण मा जीवन बिताउन बाध्य छन्। तिनीहरूले यस्तो कार्यस्थल मा मूल्य वृद्धि, र अत्याचार जस्ता शहरी
जीविकोपार्जन को ठूलो विषयहरूमा को सजिलो सिकार गर्दा, उनि पनि छुवाछुत
सिकार।

यस वाल्मीकि समुदाय मुख्य शहर को सबै मैला सफाई को काम संग गठबंधन छ। पति र पत्नी र हुर्केका छोराछोरीलाई - - सफाई कामदारको रूपमा काम गर्न आर्थिक बाध्यताओं एक भन्दा बढी परिवार मा व्यक्ति बनाउन। सँगै एक औसत रु 700 रुपैया 800 एक दिन मा कमा। यो
परिवार चलाउनका लागि पर्याप्त हुनु पर्छ जबकि, लागत तिनीहरूले आवास,
बिजुली र पानी जस्तै आधारभूत सुविधा वञ्चित छन् जब साँच्चै एक समय मा धेरै
उच्च आफ्नो प्राथमिक आवश्यकताहरू छ भेला लागि वहन गर्नुपर्छ।
धेरै ठाउँमा, महिला वाल्मीकि कामदारहरूको आफ्नो पुरुष पुरुषबाट भन्दा पनि
कम ज्याला भुक्तानी छन्, को रूप मा कुराहरु विशेष गरी कठिन भएको।

यो Valmikis बीच सामाजिक जागरूकता धेरै कम छ। तिनीहरूले सामान्यतया बल प्रदान गर्न आवश्यकता विचार छैन। यस को लागि एक प्रमुख कारण धेरै स्वैच्छिक संगठन जाति / STs को सशक्तिकरण
लागि काम गर्दा, तिनीहरूले Valmikis चिन्ता गर्न साना ध्यान, छ।

यो Valmikis पतिसित गनगन एक प्रमुख समस्या आवास को छ। तिनीहरूले रोजगारीको खोजीमा ग्रामीण क्षेत्रमा देखि शहर आएर, तिनीहरूले अहमदाबाद को बस्तियहरुमा सबै भन्दा ठूलो समूह को एक रूप। ठाउँमा ठूलो संख्या मा, तिनीहरूले आफ्नै मा स्थापित अस्थायी छाप्राहरू बाँचिरहेका छौं। तथापि, तिनीहरूले नाम मा यी छाप्राहरू दर्ता गर्न सकेको छैन।
एक, वास्तवमा, कार्यान्वयन सरकारी योजनाहरु मा Valmikis विरुद्ध भेदभाव स्पष्ट छ भनेर बुझ्न सक्छन्। वास्तविक
वास्तविकता बिलकुलै फरक छ तर, slumdwellers लागि एक livable वातावरण
सिर्जना गर्न खोज्ने जो एक झुग्गी बस्ती क्षेत्र विकास नीति, त्यहाँ छ।
एक झुग्गी पुनर्वास योजना फाइदा लिन, उनि सीधा आफ्नो जीविकोपार्जन
प्रभावित, कहीं सरहद मा, प्रवास को आफ्नो वर्तमान स्थान छोड्न र टाढा कदम
पर्छ।

यो वाल्मीकि समुदाय आधारभूत सुविधा को कुल अभाव छ बाँच्न कि जहाँ भएको छ। अहमदाबाद मा, Valmikis छाप्राहरू बाँचिरहेका लागि अन्तरिक्ष renting जीवन बिताउन। तिनीहरूले कुनै बिजुली वा पानीको जडान छ। मात्र तिनीहरूले यस जिउन भाडामा तिर्नैपर्छ, 10,000 15,000 छाप्राहरू लागि मात्र 15 उपयोगी शौचालय छन्। यो वाल्मीकि slumdwellers को स्वास्थ्य मा एक प्रत्यक्ष प्रभाव छ।

अहमदाबाद Valmikis सामना अर्को प्रमुख मुद्दा तिनीहरूले के गर्नुपर्छ जब प्रकार सम्बन्धित छ। ग्रामीण क्षेत्रमा वा शहरी क्षेत्रमा होस्, तिनीहरूले, सफाई कामदारको
रूपमा तिनीहरूले केही शिक्षा हासिल गर्न समेत भने पनि नगरपालिका र
नगरपालिका संघसंस्थाहरूले मा गर्न बाध्य छन् काम काम गर्नुपर्छ।

यो
Aslali समिति प्रतिवेदन अनुसार, एक सरकारी शरीर मा काम कुनै पनि वाल्मीकि
समुदाय व्यक्ति वर्ग 8th, 9th वा 10th सम्म अध्ययन गरेको भने, त्यो वा त्यो
एक उच्च स्तर पदोन्नति हुनुपर्छ।
तर, सरकारले सिफारिस गर्न कुनै पनि ध्यान भुक्तानी गरेको छैन। तैपनि ती डिग्री धारकहरुको हो जो अहमदाबाद श्रमिक सफाई रूपमा काम। सफाई भन्दा जब अन्य चरम कठिनाइ, काम पार गर्ने, धेरै केहि वाल्मीकि व्यक्तिहरू छन्।

Valmikis आफ्नो स्वास्थ्य संग सम्बन्धित प्रमुख विषयहरूमा सामना। मैला र धूलो बीचमा काम, तिनीहरूलाई थुप्रै धेरै कम उमेर मा क्षयरोग वा दम सिकार। यो एक औसत मा, आफ्नो जीवन अवधि 50 55 वर्ष छ, कि भएको छ।

Valmikis
ग्रामीण क्षेत्रमा जस्तै तरिकामा शहरी क्षेत्रमा छुवाछुत सिकार छैनन्
तापनि, केही तथाकथित माथिल्लो castemen तिनीहरूलाई तिर casteist मनोवृत्ति
पालन गर्न।
मानिसहरूको मानसिकता मा सानो परिवर्तन वहाँ छ, जबकि।

त्यसपछि, एक Valmikis बीच शिक्षा धेरै सानो महत्त्व छ जस्तो लाग्छ। कुनै शङ्का, यस लागि, हाम्रो समाज को प्रमुख जाति मानसिकता पनि जिम्मेवार छ। वाल्मीकि
छोराछोरीलाई स्कूलमा स्वीकारे गर्दै छन्, वाल्मीकि आमाबाबुले यो आवश्यक
बच्चा नियमित पर्याप्त स्कूल जान्छ भन्ने कुरा सुनिश्चित गर्न पाउँदैनन्।
तिनीहरूले बच्चाको मानसिकता मा प्रभावलाई प्रतिकूल जो सफा गर्ने काम, लागि जाने अधिक पल्ट भन्दा, बच्चा आमाबाबुले सँगसँगै। यो भविष्य सफाई कामदार बनेर बच्चा पछि कारण हुन्छ।

त्यसपछि, Valmikis उपलब्ध धेरै केहि रोजगार विकल्प हो। व्यक्तिगत विकास र शब्दावली मा अवस्थित छैन जागरूकता जस्तै शब्द; मा सबै भन्दा राम्रो तिनीहरूले गरिब साक्षरता स्तर धन्यवाद, केही पाउन सकिएको पांडित्य ज्ञान को भाग हो। त्यो भन्दा पनि नराम्रो, तिनीहरूले एक अस्थायी दोकान या एक चक्र मर्मत
कार्यशाला किकस्टार्ट भने तिनीहरूले पर्याप्त ग्राहकहरु रही सफल हुने थिएन
भन्ने सोचाइ जसबाट प्रमुख castemen गरेर नकारात्मक मनोवृत्ति को, Valmikis
एक मानसिकता विकास किनभने।

वास्तवमा, दिन समय समयमा माटो सङ्कलन र प्रमुख जाति वर्गहरु द्वारा घृणा को अधीनमा Valmikis लागि दैनिक जीवन को भाग भएका छन्। यो अन्ततः आफ्नो स्वास्थ्य नोकसान पुग्छ जो सुर्तीको एक प्रमुख मानिसहरू रक्सीको आदी बन्न किन कारण, र महिला, छ।

यद्यपि Valmikis बीचमा अर्को सामाजिक दुष्ट बाल विवाह हो। यो क्षण केटीले बन्द विवाह छ, उनको किशोर प्रवेश, र पाँचौं वा छैटौं मानक पूरा गर्छ। महिलाहरु संग कुराकानी समयमा यो एक केटी बढी अध्ययन गर्न बनेको छ भने,
समुदाय मान्छे उनको निष्ठा सोधपुछको सुरु हुनेछ, भन्ने कुरा स्पष्ट भए।

Valmikis को एक ठूलो संख्या तिनीहरूलाई थुप्रै सरकारी जब को कुरा छैन,
सरकारी योजनाहरु को लाभ प्राप्त गर्न असमर्थ छन् जो को फलस्वरूप, त्यसैले
यस्तो जन्म प्रमाणपत्र, ठेगाना प्रमाण, रासन कार्ड आधारभूत दस्तावेज, र
छैन।

सम्बन्धित

जातीय द्वन्द्व को एक हटस्पट, तलोड taluka गरेको जाति / STs सार्वजनिक जीवनमा भेदभाव विरोध, असामान्य जागरूकता देखाउने थालेका छन्

जाति को stigmatization को व्यापक प्रसार छ / STs ग्रामीण क्षेत्रमा पानी पहुँच मा, सर्वेक्षण रिपोर्ट यसो भन्छ

ग्रामीण
गुजरात जाति / STs गुजरात प्रमुख सेवा गर्न, खानेपानी पहुँच मा भेदभाव
गुनासो प्रतिनिधित्व, आधारभूत सुविधा RSS गरेको Bahuth Jiyadha Paapis
(भाजपा) वाल्मीकि अब पूर्व मतदान बैंक राजनीति लागि RSSized गरिएको छ जो
महाकाव्य रामायण लेखे ठेगाना हुनु पर्छ कि।
Vlamiki राम सृष्टि गर्नुभयो। मन्दिर आफ्नो नायक लागि निर्माण तर ती मन्दिरहरू भित्र अनुमति छैन।

अब यो धोखाधडी EVMs tamperable हो र यसैले सबै तिनीहरूलाई को प्रतिस्थापन थियो कि एक घरजम व्यवस्था छ। तर
पूर्व CJI Sathasivam पूर्व ले सुझाव दिए EVMs चरणहरु मा प्रतिस्थापन गर्न
धोखाधडी अनुमति दिएर न्याय को एक गम्भीर त्रुटि प्रतिबद्ध।
किनभने रुपैया 1600 करोड लागत को सीईसी Sampath ठाँउ लागि समावेश छन्। जनसंख्या chtpawan ब्राह्मण, आतंकवादी, उग्रवादी, लोकतान्त्रिक संस्था
(मोदी) को हिंसात्मक, असहिष्णु, heckling चुपके पूर्व गुटको RSS गरेको
हत्याराहरू समाते गरेको मास्टर प्रमुख को एक परिणाम 1% रूपमा।

समाधान सर्वोच्च अदालतले संसारको 80 प्रजातन्त्र पछि मूर्ख प्रमाण मतदान
प्रणाली संग ताजा निर्वाचनको लागि यी EVMs र आदेश माध्यम सञ्चालन सबै
चुनावमा scrap गर्न आदेश पारित हुनुपर्छ भन्ने छ।

जाति / STs / ओबीसी / अल्पसंख्यक / गरिब माथिल्लो जातको सम्बन्धित
जनसंख्या बौद्धिक युवाहरूको 99% देखि अलग, यी धोखाधडी EVMs सन्दर्भमा
संसारको सजग इन्टरनेटको प्रयोग गर्नुपर्छ

हिँडाइ, संख्या, SWIM, चक्र!
लागि
सबै धोखाधडी EVMs प्रतिस्थापन!
फूल सबूत मतदान प्रणाली संग!

दिन यो, भ्रष्टाचार जाँच, मूल्य कम कालो धन फिर्ता ल्याउन एक ठूलो कुनै छ।

तेल मूल्य विश्वव्यापी तल जाँदैछन्, तर हामी साँच्चै यो देश मा यो महसुस छैन। हरेक आवश्यक वस्तु को भाडा र यातायात शुल्क र मूल्य गएर जारी। त्यहाँ
कालो धन को कुनै संकेत बरामद भइरहेको छ र भाजपा (Bajuth Jiyadha Paapis)
राष्ट्रपति अमित शाह कालो धन स्वदेश माध्यम रुपैया 15 लाख रही हरेक परिवार
को कुरा सिर्फ खाली जनमत लफ्फाजी थियो अब छ।
यसको विपरीत, हामी हाम्रो सार्वजनिक बैंक को जनवरी-धान देखि म अर्ब डलर ऋण अदानी जस्तै इष्ट कम्पनीहरु बाहिर doled भइरहेको छ कि!

धोखाधडी EVMs द्वारा चयन जालसाजी मान्छे यो देश र विदेशी मूलका ठूलो कम्पनीहरु पक्ष मा पारित गर्न ओभरटाईमको काम गरिरहेको छ। अध्यादेश कर्पोरेट चासो जग्गा लिनु शीघ्र लागि जारी गरिएको छ। कोइला र अन्य खानीहरूमा व्यावसायिक निजी खानी लागि खोलिएको हो। विदेशी लगानी अर्थतन्त्रको हरेक क्षेत्रमा इष्ट भइरहेको छ। अनि
यो देश अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा गरेको हाल को यात्रा को समयमा, मोदी
(लोकतान्त्रिक संस्थाहरूको हत्याराहरू) लगभग हामीलाई कुनै दुर्घटना को
मामला मा कुनै पनि दायित्व, क्षतिपूर्ति र कानुनी कारबाही, हाम्रो देश अणु
रिएक्टरों आपूर्ति कम्पनीहरु मुक्त छ।
लोकतान्त्रिक संस्थाको हत्याराहरू व्यवस्थित यो देशको स्पष्ट नीति कमजोर छन् अमेरिकी दबाइ कम्पनीहरु को लोभ गर्न pander लागि; जो धेरै जीवन-बचत लागूपदार्थको घरेलु उत्पादन पुगयो र यो देश मा र दुनिया भर साधारण मान्छे को लागि आफ्नो मूल्य चर्किएको हुनेछ।

योजना आयोग घाउ छ र हितमा कार्यक्रम लागि विनियोजन गरेको रकम व्यवस्थित निचोडा भइरहेका छन्। नवीनतम बजेट, सरकारले खराब हिट स्वास्थ्य, महिला र बाल कल्याण भएर, शिक्षा क्षेत्रको हित र सामाजिक खर्च मा खर्च slashed छ। 75% 40% देखि खाद्य सुरक्षा कवरेज मा एक आमूल कमी योजना छ। श्रम
कानून व्यवस्थित यो देशको कामदारहरूको ज्यालामा-चोरी, असुरक्षित विरुद्ध
कुनै पनि कानुनी सुरक्षा इन्कार गर्न subverted भइरहेका छन् सस्ते जबकि
अभियान ‘भारत मा बनाउन’ को नाम मा, लोकतान्त्रिक संस्थाको हत्याराहरू आएको र
यो देशको श्रम शोषण गर्न विदेशी राजधानी निम्त्याउनु हो
कार्यस्थल र दमनकारी कार्य अवस्था।

व्यवसायीकरण र शिक्षा को saffronization एक ताजा धक्का पाइरहेका छन्। सार्वजनिक-पोषित शिक्षा शिक्षा संस्थाहरुलाई स्वायत्तता मा कुल्चिए
भइरहेका छन्, विशाल बजेट कटौती माध्यम कमजोर भइरहेको छ, र obscurantism र
साम्प्रदायिक विष पाठ्यक्रम परिवर्तन र भेटघाटका माध्यम दुवै बढुवा भइरहेका
छन्।


साधारण मान्छे मा यस आर्थिक आक्रमण सँगसँगै लोकतान्त्रिक संस्थाको
हत्याराहरू को समर्थन छ जो संघ Parivar को शरारती सांप्रदायिक एजेन्डा छ।
हरेक
साना स्थानीय विवाद उडा भइरहेको छ वा सरासर अफवाहहरु साम्प्रदायिक उन्माद
माथि कोडा र मुस्लिम समुदायको लक्षित फैलियो भइरहेका छन्।
जाति
/ STs / ओबीसी / अल्पसंख्यक / गरिब माथिल्लो जातको सहित सबै समाजलाई 99%
तिर घृणा को आरएसएस प्रमुख पूर्ण आतङ्ककारी, उग्रवादी, हिंसा, heckling,
असहिष्णु, पूर्व गुटको 1% chitpawan ब्राह्मण Jambudvipa / PRABUDDHA
BHARATH एक हिन्दु Rashtra घोषणा गरेको छ जो
असंवैधानिक
छ र किनभने attitude.There हावी 1% chitpawan बाहुन अदालत को एक अपहेलना
द्वारा निर्मित थियो जो RSSized पूर्व मा कुनै siprituality छ वीर savarkar
अदालत ले झुण्डाएर थियो naturam देवता (देखि) आतङ्ककारी र हत्यारा जस्तै
अर्को chitpawan ब्राह्मण
जसको स्थापना प्रतिमा followere हो र मन्दिर अदालतको अपहेलना तर जो केही निर्माण भइरहेको। यी
सबै power.Bahuth Jiyadha Paapis सांसदहरु, सेवक र तथाकथित sadhus र
sadhvis को लोभ लागि हो यसको जनसंख्या वृद्धि 1% chitpawan बाहुन असमर्थ
चार छोराछोरी र more.The, तिनीहरूलाई थुप्रै रूपमा परिवर्तित भयो उत्पादन
गर्न हिन्दु महिलाहरु सोधेर छन्
प्रोटेस्टेंट चर्च, अस्पताल र शैक्षिक संस्था बन्द दस्तक र तिनीहरूलाई
संग आफ्नो जात पूरा गरेर छुवाछुत अभ्यास र अब गैर-chitpawan बाहुन
राष्ट्रिय राजधानी सही तोडफोड भइरहेको छ र लोकतान्त्रिक संस्थाको
हत्याराहरू एक मूक दर्शक बनी संग चर्च गर्न।

समय
पक्कै लोकतान्त्रिक institutionst को हत्याराहरू को विरोधी-लोकतान्त्रिक
चाल यी शरारती विरोधी-मान्छे विरुद्ध शक्तिशाली विरोध मा वृद्धि आएको छ।
अनि विरोध धेरै थालेका छन् पक्का हुन। क्षेत्र
को कर्मचारीहरु र कर्मचारीहरु लोकतान्त्रिक संस्थाहरू नीतिका को
हत्याराहरू विरोध गरिरहेका छन् पछि क्षेत्र मा, किसानहरु भूमि-लिनु क्रम र
ग्रामीण गरिब रोजगार प्रत्याभूति र खाद्य सुरक्षा गर्न आफ्नो अधिकार जोड
छन् विरुद्ध हतियार मा हो।
अनि अहिले दिल्ली सभाको चुनावमा, धोखाधडी EVMs गरिब र काम मान्छे को भ्रमित र ध्यान हटान मूर्ख गर्न अर्को RSS पंख छ जो AAP चयन।

साधारण
मान्छे र संघ Parivar को साम्प्रदायिक र विभाजन ल्याउने एजेन्डा मा
प्रजातान्त्रिक संस्था गरेको आक्रमण को हत्याराहरू प्रतिरोध र व्यापक
लोकतन्त्र, समानता, बिरादरी, स्वतन्त्रता सम्मान र न्याय, लोकतान्त्रिक
संस्था र व्यक्तिहरू पर्दछ एक सम्पूर्ण सीमा लागि देश मानिसहरूको युद्धमा
बलियो बनाउन
सँगै आएको र राष्ट्रिय मंच सुरु गर्ने निर्णय

मूर्ख प्रमाण मतदान प्रणाली तिनीहरूलाई प्रतिस्थापन गर्न सर्वोच्च
अदालतले आदेश दिइयो जो धोखाधडी EVMs कब्जाने लोकतान्त्रिक संस्थाको
हत्याराहरू रोक्नुहोस्।

पूर्व CJI Sathasivam किनभने तिनीहरूलाई प्रतिस्थापन गर्न संलग्न रुपैया
1600 करोड लागत को पूर्व सीईसी Sampath ले सुझाव दिए चरणहरु मा उनलाई
प्रतिस्थापन गर्न आदेश दिएर न्यायको गम्भीर त्रुटि प्रतिबद्ध।

सर्वोच्च अदालत ताजा निर्वाचनको लागि यी धोखाधडी EVMs र आदेश सञ्चालन सबै चुनावमा scrap गर्न आदेश पारित गर्नु पर्छ।

यस्तो
समय सम्म लोकतान्त्रिक संस्थाको हत्याराहरू हाम्रो संविधान समाहित रूपमा
लोकतन्त्र, समानता, बिरादरी, स्वतन्त्रता, मर्यादा र न्याय बचाउन सबै 80
संसारको प्रजातन्त्र र हाम्रो मान्छे मान्यता हुँदैन।

comments (0)